लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

P-श्रेणी क्षुद्रग्रह

सूची P-श्रेणी क्षुद्रग्रह

७६ फ़्राएया (76 Freia) एक P-श्रेणी का क्षुद्रग्रह है P-श्रेणी क्षुद्रग्रह (P-type asteroid) क्षुद्रग्रहों की एक श्रेणी है जिसके सदस्यों का ऐल्बीडो (चमकीलापन) बहुत कम (०.१ से कम) होता है और जिनका उत्सर्जन वर्णक्रम (एमिशन स्पेक्ट्रम) बिना किसी ख़ास अवशोषण बैंड (absorption band) के सिर्फ़ एक लालिमा दिखाता है। यह हमारे सौर मंडल की सबसे काली वस्तुओं में से हैं। वैज्ञानिक अनुमान लगाते हैं कि P-श्रेणी क्षुद्रग्रह कार्बनिक-युक्त (ओरगैनिक) सिलिकेट, जल-रहित सिलिकेट और कार्बन की सतह रखते हैं और उनका अंदरूनी भाग पानी की बर्फ़ का बना होता है। कुल मिलाकर ३३ P-श्रेणी के क्षुद्रग्रह ज्ञात हैं और यह क्षुद्रग्रह घेरे (ऐस्टेरोयड बेल्ट) के बाहरी हिस्से में स्थित हैं। .

2 संबंधों: क्षुद्रग्रह वर्णक्रम श्रेणियाँ, T-श्रेणी क्षुद्रग्रह

क्षुद्रग्रह वर्णक्रम श्रेणियाँ

क्षुद्रग्रहों की वर्णक्रम-श्रेणियाँ (Asteroid spectral types) उनके उत्सर्जन वर्णक्रम (एमिशन स्पेक्ट्रम), रंग और कभी-कभी ऐल्बीडो (चमकीलेपन) के आधार पर निर्धारित होती हैं। बहुत हद तक यह क्षुद्रग्रहों की सतहों पर मौजूद सामग्रियों का भी संकेत देती हैं। छोटे क्षुद्रग्रहों में क्षुद्रग्रह की ऊपर की सतह और अंदरूनी रचना में कोई अंतर नहीं होता जबकि ४ वेस्टा जैसे बड़े क्षुद्रग्रहों की भीतरी संरचना बाहरी परत से काफ़ी भिन्न हो सकती है। .

नई!!: P-श्रेणी क्षुद्रग्रह और क्षुद्रग्रह वर्णक्रम श्रेणियाँ · और देखें »

T-श्रेणी क्षुद्रग्रह

T-श्रेणी क्षुद्रग्रह (T-type asteroid) क्षुद्रग्रहों की एक श्रेणी है जो संख्या में बहुत कम हैं और क्षुद्रग्रह घेरे के भीतरी भाग में मिलते हैं। इनकी बनावट अज्ञात है। इनका उत्सर्जन वर्णक्रम (एमिशन स्पेक्ट्रम) केवल एक ०.८५ माइक्रोमीटर के पास का अवशोषण बैंड (absorption band) दिखाता है, जिसके अलावा केवल एक लालिमा दिखती है। वैज्ञानिको का अनुमान है कि यह जल-रहित होते हैं। सम्भव है कि यह P-श्रेणी क्षुद्रग्रह या D-श्रेणी क्षुद्रग्रह से सम्बन्धित हो, या फिर एक बहुत ही परिवर्तित प्रकार के C-श्रेणी क्षुद्रग्रह हो। .

नई!!: P-श्रेणी क्षुद्रग्रह और T-श्रेणी क्षुद्रग्रह · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »