लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

१९७७

सूची १९७७

1977 ग्रेगोरी कैलंडर का एक साधारण वर्ष है। .

225 संबंधों: चला मुरारी हीरो बनने (1977 फ़िल्म), चाचा भतीजा (1977 फ़िल्म), चाँदी सोना (1977 फ़िल्म), चक्कचन वीडु कृष्णन नायर, चक्कर पे चक्कर (1977 फ़िल्म), चुका भी हूँ नहीं मैं, चोर सिपाही (1977 फ़िल्म), टैक्सी टैक्सी (1977 फ़िल्म), एलेक्स फर्ग्यूसन, एक ही रास्ता (1977 फ़िल्म), झारखण्ड के मुख्यमन्त्रियों की सूची, झंडा दिवस (अमेरिका), डिएगो माराडोना, ड्रीम गर्ल, डैनवर नगेट्स, तमिल नाडु के राज्यपालों की सूची, तमिल ईलम के मुक्ति बाघ, त्याग (1977 फ़िल्म), तेरेद बागिलु, द रेस्क्यूअर्स, द रेस्क्यूअर्स डाउन अंडर, दरिन्दा (1977 फ़िल्म), दशपदी, दिन अमादेर (1977 फ़िल्म), दिल और पत्थर (1977 फ़िल्म), दिलदार (1977 फ़िल्म), दुधवा राष्ट्रीय उद्यान, दूसरा आदमी (1977 फ़िल्म), दो अनजाने (1976 फ़िल्म), धूप छाँव (१९७७ चलचित्र), निर्मल वर्मा, नेपाली उपन्यास का आधारहरू, नोआम चाम्सकी, पद्म भूषण, परमसुख जे पांड्या, परवरिश (1977 फ़िल्म), पापी (1977 फ़िल्म), पाकिस्तानी संविधान का सातवाँ संशोधन, प्रायश्चित (1977 फ़िल्म), प्रियतमा (1977 फ़िल्म), प्रेम चोपड़ा, प्रेमचंद, पेरुगु शिवा रेड्डी, पॉल न्युमैन, फरिश्ता या कातिल (1977 फ़िल्म), फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार, फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार, फ़ॉर्मूला वन, फिलिप वारेन एन्डरसन, फूलरेनु गुहा, ..., फेरारी, बर्मा के प्रधानमंत्री, बाबरेर प्रार्थना, बाबा पृथ्वी सिंह आजाद, बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति, बांग्लादेश के राष्ट्रपति, बांग्लादेश के राष्ट्रपतिगण की सूची, बिलबाओ ललित कला संग्रहालय, बिहार के मुख्यमंत्रियों की सूची, बकुल बनर कविता, बुद्धविजय काव्यम्, ब्योन बोर्ग, बेनज़ीर भुट्टो, बोल भारमली, बीसवीं शताब्दी, भारत के प्रधान मंत्रियों की सूची, भारत के अभयारण्य, मर्गेरित युर्स्नर्, मलिक मेराज ख़ालिद, मस्तान दादा (1977 फ़िल्म), महा बदमाश (1977 फ़िल्म), महाराष्ट्र के राज्यपालों की सूची, मिखाइल कोर्नियेंको, मृत्युदंड, मैनचेस्टर यूनाइटेड एफ़.सी., मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास, मैं मेले रा जानू, मैक्स मिर्नयी, मोरारजी देसाई, मोहम्मद रफ़ी, यही है ज़िन्दगी (1977 फ़िल्म), यारों का यार, यासर शाह, युसुफ हुसैन खान, रतन नवल टाटा, राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली, राजभवन (अरुणाचल प्रदेश), राखी गुलज़ार, रिचर्ड गेयर, रंग पट्टिकाओं की सूची, रुक्मिणी देवी अरुंडेल, रेमिंग्टन 1100 (बन्दूक), रॉबर्ट निप्लोप्ट, रॉस्को टैनर, लॉस एंजेल्स लेकर्स, शतरंज के खिलाड़ी (१९७७ फ़िल्म), शमशेर बहादुर सिंह, शान्ति भूषण, शिबू सोरेन, शिरडी के साईं बाबा (1977 फ़िल्म), श्रीलंकाई गृहयुद्ध का इतिहास, श्रीकांत वर्मा, शैलेश मटियानी, सचिन पायलट, सत श्री अकाल (1977 फ़िल्म), सत्यजित राय, सत्येन्द्र नारायण सिन्हा, सफेद झूठ (1977 फ़िल्म), सफेद हाथी (1977 फ़िल्म), साधना शिवदासानी, साहेब बहादुर (1977 फ़िल्म), सिंडरेला, सिंध के राज्यपाल, संजीव कुमार, सुनीति कुमार चटर्जी, सुमित्रानन्दन पन्त, स्वामी (1977 फ़िल्म), हत्यारा (1977 फ़िल्म), हम किसी से कम नहीं, हरीश चंद्र, हावर्ड हॉक्स, हिमालयांत, ह्यूस्टन रॉकेट्स, हीरा और पत्थर (1977 फ़िल्म), जय विजय (1977 फ़िल्म), जयप्रकाश नारायण, जलियाँ वाला बाग़ (1977 फ़िल्म), ज़मानत (1977 फ़िल्म), जादू टोना (1977 फ़िल्म), जिबूती, जग मोहन, जगत मेहता, ज्ञानी जी (1977 फ़िल्म), जेराल्ड फ़ोर्ड, जी८, घरौंदा (1977 फ़िल्म), विटास जेरुलाटिस, विद्याधर सूरजप्रसाद नैपाल, विश्वासघात (1977 फ़िल्म), विजय तेंडुलकर, वॉयेजर द्वितीय, वॉयेजर प्रथम, खय्याम, ख़ान मोहम्मद आतिफ़, खून पसीना (1977 फ़िल्म), खेल खिलाड़ी का (1977 फ़िल्म), गायत्री (1977 फ़िल्म), गायत्री जोशी, गुलाम मुस्तफ़ा जतोई, गुजरात के मुख्यमंत्रियों की सूची, ग्रैंड स्लैम टेनिस विजेताओं की सूची, गोपीनाथ अमन, ऑपरेशन ब्लू स्टार, ओड़िशा का इतिहास, ओडिआ चलचित्र सूची, ओक्साना फ़ेदरोवा, आधा दिन आधी रात (1977 फ़िल्म), आनंद आश्रम (1977 फ़िल्म), आन्दोलन (1977 फ़िल्म), आप की खातिर (1977 फ़िल्म), आशिक हूँ बहारों का (1977 फ़िल्म), आखिरी गोली (1977 फ़िल्म), इंकार (1977 फ़िल्म), कच दे वस्तर, कन्वेंशन ड्यू मेत्रे, कभी कभी (1976 फ़िल्म), कर्म (1977 फ़िल्म), कश्मीर का इतिहास, कसम कानून की (1977 फ़िल्म), किनारा (1977 फ़िल्म), किस्सा कुर्सी का (1977 फ़िल्म), कुदुवायूर शिवराम नारायण स्वामी, कुमार गंधर्व, कुरुति पुनल, कुलवधू (1977 फ़िल्म), कुंदुर्ति कृतुलु, कुंभार चक्र, कैलाशनाथ कौल, केरल के मुख्यमंत्रियों की सूची, कोतवाल साब (1977 फ़िल्म), कोलकाता, अटल बिहारी वाजपेयी, अनुरोध (1977 फ़िल्म), अन्नपूर्णा देवी, अन्वेषणों की समय-रेखा, अपनापन (1977 फ़िल्म), अब क्या होगा (1977 फ़िल्म), अमर अकबर एन्थोनी (1977 फ़िल्म), अमर अकबर एंथनी, अमेरिकी ओपन टेनिस के पुरुष एकल विजेताओं की सूची, अर्जुन पंडित (1976 फ़िल्म), अल्ताफ़ टायरवाला, अल्बर्ट गोर, अशैबगी नित्याइपोद, अजीत आगरकर, अवहट्ठ : उद्भव ओ विकास, अग्निसाक्षी, उपरवास कथात्रयी, छलिया बाबू (1977 फ़िल्म), १ फ़रवरी, १३ जुलाई, १५ जून, १५ अप्रैल, १६ सितम्बर, १९ अगस्त, १९००, २ मार्च, २० मई, २० जुलाई, २० अगस्त, २२ मई, २३ नवम्बर, २४ जुलाई, २५ जून, २५ अप्रैल, २५ अगस्त, २६ सितम्बर, २६ अगस्त, २८ सितंबर, ३ दिसम्बर, ४ दिसम्बर, ४ फ़रवरी, ५०० होम रन दल, ६ जनवरी, ६ जून सूचकांक विस्तार (175 अधिक) »

चला मुरारी हीरो बनने (1977 फ़िल्म)

चला मुरारी हीरो बनने १९७७ में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और चला मुरारी हीरो बनने (1977 फ़िल्म) · और देखें »

चाचा भतीजा (1977 फ़िल्म)

चाचा भतीजा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और चाचा भतीजा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

चाँदी सोना (1977 फ़िल्म)

चाँदी सोना 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और चाँदी सोना (1977 फ़िल्म) · और देखें »

चक्कचन वीडु कृष्णन नायर

चक्कचन वीडु कृष्णन नायर को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: १९७७ और चक्कचन वीडु कृष्णन नायर · और देखें »

चक्कर पे चक्कर (1977 फ़िल्म)

चक्कर पे चक्कर 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और चक्कर पे चक्कर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

चुका भी हूँ नहीं मैं

चुका भी हूँ नहीं मैं हिन्दी के विख्यात साहित्यकार शमशेर बहादुर सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और चुका भी हूँ नहीं मैं · और देखें »

चोर सिपाही (1977 फ़िल्म)

चोर सिपाही 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और चोर सिपाही (1977 फ़िल्म) · और देखें »

टैक्सी टैक्सी (1977 फ़िल्म)

टैक्सी टैक्सी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और टैक्सी टैक्सी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

एलेक्स फर्ग्यूसन

सर अलेक्जेंडर चेपमैन "एलेक्स" फर्ग्यूसन, KT, CBE, जो सर एलेक्स या फर्जी के नाम से विख्यात हैं (31 दिसम्बर 1941 को ग्लासगो के गोवन में जन्म), एक स्कॉटिश फुटबॉल प्रबंधक और पूर्व खिलाड़ी हैं जो संप्रति मैनचेस्टर यूनाइटेड के प्रबंधक हैं और 1986 से इसके प्रभारी हैं। एबर्डीन के प्रबंधक के रूप में अत्यधिक सफल अवधि से पहले फर्ग्यूसन इस्ट स्टर्लिंगशायर और सेंट मिरेन के प्रबंधक थे। जॉक स्टेन की मौत के कारण हासिल अस्थायी विस्तार के चलते - कुछ समय के लिए स्कॉटलैंड राष्ट्रीय टीम के प्रबंधक रहे - और उन्हें नवम्बर 1986 में मैनचेस्टर यूनाइटेड का प्रबंधक नियुक्त किया गया। मैनचेस्टर यूनाइटेड के प्रबंधकों के इतिहास में सर मैट बस्बी के बाद वे एक ऐसे दूसरे प्रबंधक हैं जिन्होंने 23 वर्षों तक टीम के प्रबंधक के रूप में सेवा की है, जबकि सारे वर्तमान लीग प्रबंधकों में उनका कार्यकाल सबसे लंबा है। अपने प्रबंधन के दौरान, फर्ग्यूसन ने कई पुरस्कार जीते हैं और कई रिकॉर्ड स्थापित किए हैं जिसमें ब्रिटिश फुटबॉल इतिहास में सर्वाधिक वर्ष का सर्वश्रेष्ठ प्रबंधक पुरस्कार भी शामिल है। 2008 में वे तीसरे ब्रिटिश प्रबंधक बने जिन्होंने एकाधिक अवसर पर यूरोपियन कप जीता.

नई!!: १९७७ और एलेक्स फर्ग्यूसन · और देखें »

एक ही रास्ता (1977 फ़िल्म)

एक ही रास्ता 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और एक ही रास्ता (1977 फ़िल्म) · और देखें »

झारखण्ड के मुख्यमन्त्रियों की सूची

झारखण्ड पूर्वी भारत का एक राज्य है जिसकी स्थापना 15 नवम्बर 2000 को हुई और इसके प्रथमा मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी बने। .

नई!!: १९७७ और झारखण्ड के मुख्यमन्त्रियों की सूची · और देखें »

झंडा दिवस (अमेरिका)

यह सन् 1977 में फिलाडेल्फिया काँग्रेस में अमरिकियों द्वारा अपना झंडा अपनाए जाने के उपलक्ष्य में अमेरिका में मनाया जाने वाला उत्सव है। इस अवसर पर स्कूली बच्चों का परेड आयोजित किया जाता है। .

नई!!: १९७७ और झंडा दिवस (अमेरिका) · और देखें »

डिएगो माराडोना

डिएगो आर्मैन्ड़ो माराडोना (30 अक्टूबर 1960 को लानुस, ब्यूनस आयर्स में जन्म) अर्जेन्टीना के एक पूर्व फ़ुटबॉल खिलाड़ी और अर्जेन्टीना के राष्ट्रीय टीम के वर्तमान प्रबंधक हैं। उन्हें व्यापक रूप से आज तक का सबसे बेहतरीन फ़ुटबॉल खिलाड़ी माना जाता है। FIFA प्लेयर ऑफ़ दी सेंचुरी पुरस्कार के लिए उन्हें इंटरनेट मतदान में सर्वप्रथम स्थान मिला और उन्होंने पेले के साथ पुरस्कार में साझेदारी की। अंतिम बार 30 मई 2006 को पुनः प्राप्त अपने पेशेवर क्लब कॅरियर के दौरान माराडोना ने अर्जेंटिनोस जूनियर, बोका जूनियर्स, बार्सिलोना, सेविला, नेवेल्स ओल्ड बॉय और नापोली के लिए खेलते हुए अनुबंध शुल्क लेने में विश्व रिकोर्ड कायम किया। अपने अंतर्राष्ट्रीय कॅरियर में, अर्जेन्टीना के लिए खेलते हुए, उन्होंने 91 कैप्स अर्जित किए और 34 गोल किए। उन्होंने चार FIFA विश्व कप टूर्नामेंटों में खेला, जिसमें 1986 का विश्व कप शामिल था, इसमें उन्होंने अर्जेन्टीना की कप्तानी की और टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ट खिलाड़ी होने का गोल्डन बॉल पुरस्कार जीता और निर्णायक मुकाबले में वेस्ट जर्मनी पर जीत हासिल की। उसी टूर्नामेंट के क्वार्टर-फाइनल दौर में उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ़ 2-1 की जीत में 2 गोल दागे, जो फ़ुटबॉल के इतिहास में दर्ज हो गए, हालांकि दो बिल्कुल ही अलग कारणों के लिए। पहला गोल एक दंड मुक्त हैंडबॉल था जिसे "हैंड ऑफ़ गॉड" के नाम से जाना जाता है, जबकि दूसरा गोल एक शानदार 6 मीटर की दूरी से और छह इंग्लैंड के खिलाड़ियों के बीच से निकाला गया एक गोल था, जो आम तौर पर "दी गोल ऑफ़ दी सेंचुरी" के नाम से जाना जाता है। विभिन्न कारणों से, माराडोना को खेल जगत का एक सर्वाधिक विवादास्पद और समाचार-योग्य व्यक्तित्व माना जाता है। इटली में कोकीन के लिए डोपिंग परीक्षण में विफल होने के कारण 1991 में उन्हें 15 महीनों के लिए निलंबित कर दिया गया और USA में चल रहे 1994 के वर्ल्ड कप के दौरान एफेड्रीन का उपयोग करने के कारण उन्हें घर भेज दिया गया। 1997 में अपने 37वें जन्मदिन पर खेल से रिटायर होने के बाद www.vivadiego.com.

नई!!: १९७७ और डिएगो माराडोना · और देखें »

ड्रीम गर्ल

ड्रीम गर्ल १९७७ की हिन्दी फ़िल्म है जिसे प्रमोद चक्रवर्ती ने निर्देशित किया था। इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार धर्मेन्द्र, हेमामालिनी, अशोक कुमार और प्रेम चोपड़ा हैं। .

नई!!: १९७७ और ड्रीम गर्ल · और देखें »

डैनवर नगेट्स

श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन.

नई!!: १९७७ और डैनवर नगेट्स · और देखें »

तमिल नाडु के राज्यपालों की सूची

यह सूची सन् १९४६ से भारत के तमिल नाडु राज्य के राज्यपालों की है। तमिल नाडु के राज्यपाल का आधिकारिक आवास राजभवन राज्य की राजधानी चेन्नई में है। .

नई!!: १९७७ और तमिल नाडु के राज्यपालों की सूची · और देखें »

तमिल ईलम के मुक्ति बाघ

|ideology .

नई!!: १९७७ और तमिल ईलम के मुक्ति बाघ · और देखें »

त्याग (1977 फ़िल्म)

त्याग 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और त्याग (1977 फ़िल्म) · और देखें »

तेरेद बागिलु

तेरेद बागिलु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार के. एस. नरसिंह स्वामी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और तेरेद बागिलु · और देखें »

द रेस्क्यूअर्स

द रेस्क्यूअर्स (The Rescuers) १९७७ की एक अमेरिकी एनीमेटेड फिल्म है। इसका अगला भाग द रेस्क्यूअर्स डाउन अंडर १६ नवम्बर १९९० को रिलीज़ किया गया। .

नई!!: १९७७ और द रेस्क्यूअर्स · और देखें »

द रेस्क्यूअर्स डाउन अंडर

द रेस्क्यूअर्स डाउन अंडर (The Rescuers Down Under) १९९० की एक अमेरिकी एनीमेटेड फिल्म है जिसका निर्माण वॉल्ट डिज्नी फिचर एनिमेशन द्वारा किया गया था। नवंबर १६, १९९० को जारी की गई यह फिल्म वॉल्ट डिज़्नी की एनिमेटेड क्लासिक्स श्रृंखलाओं की 29वीं एनिमेटेड फिल्म है और १९७७ की फ़िल्म द रेस्क्यूअर्स के लिए अगली कड़ी है। .

नई!!: १९७७ और द रेस्क्यूअर्स डाउन अंडर · और देखें »

दरिन्दा (1977 फ़िल्म)

दरिन्दा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दरिन्दा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

दशपदी

दशपदी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. आर. देशपांडे ‘अनिल’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और दशपदी · और देखें »

दिन अमादेर (1977 फ़िल्म)

दिन अमादेर 1977 में बनी बंगाली भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दिन अमादेर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

दिल और पत्थर (1977 फ़िल्म)

दिल और पत्थर 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दिल और पत्थर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

दिलदार (1977 फ़िल्म)

दिलदार 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दिलदार (1977 फ़िल्म) · और देखें »

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान उत्तर प्रदेश (भारत) के खीरी जनपद में स्थित संरक्षित वन क्षेत्र है। यह भारत और नेपाल की सीमाओं से लगे विशाल वन क्षेत्र में फैला है। यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा एवं समृद्ध जैव विविधता वाला क्षेत्र है। यह राष्ट्रीय उद्यान बाघों और बारहसिंगा के लिए विश्व प्रसिद्ध है। .

नई!!: १९७७ और दुधवा राष्ट्रीय उद्यान · और देखें »

दूसरा आदमी (1977 फ़िल्म)

दूसरा आदमी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दूसरा आदमी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

दो अनजाने (1976 फ़िल्म)

दो अनजाने 1976 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और दो अनजाने (1976 फ़िल्म) · और देखें »

धूप छाँव (१९७७ चलचित्र)

धूप छाँव 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और धूप छाँव (१९७७ चलचित्र) · और देखें »

निर्मल वर्मा

निर्मल वर्मा निर्मल वर्मा (३ अप्रैल १९२९- २५ अक्तूबर २००५) हिन्दी के आधुनिक कथाकारों में एक मूर्धन्य कथाकार और पत्रकार थे। शिमला में जन्मे निर्मल वर्मा को मूर्तिदेवी पुरस्कार (१९९५), साहित्य अकादमी पुरस्कार (१९८५) उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान पुरस्कार और ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। परिंदे (१९५८) से प्रसिद्धि पाने वाले निर्मल वर्मा की कहानियां अभिव्यक्ति और शिल्प की दृष्टि से बेजोड़ समझी जाती हैं। ब्रिटिश भारत सरकार के रक्षा विभाग में एक उच्च पदाधिकारी श्री नंद कुमार वर्मा के घर जन्म लेने वाले आठ भाई बहनों में से पांचवें निर्मल वर्मा की संवेदनात्मक बुनावट पर हिमांचल की पहाड़ी छायाएं दूर तक पहचानी जा सकती हैं। हिन्दी कहानी में आधुनिक-बोध लाने वाले कहानीकारों में निर्मल वर्मा का अग्रणी स्थान है। उन्होंने कम लिखा है परंतु जितना लिखा है उतने से ही वे बहुत ख्याति पाने में सफल हुए हैं। उन्होंने कहानी की प्रचलित कला में तो संशोधन किया ही, प्रत्यक्ष यथार्थ को भेदकर उसके भीतर पहुंचने का भी प्रयत्न किया है। हिन्दी के महान साहित्यकारों में से अज्ञेय और निर्मल वर्मा जैसे कुछ ही साहित्यकार ऐसे रहे हैं जिन्होंने अपने प्रत्यक्ष अनुभवों के आधार पर भारतीय और पश्चिम की संस्कृतियों के अंतर्द्वन्द्व पर गहनता एवं व्यापकता से विचार किया है।। सृजन शिल्पी। ७ अक्टूबर २००६ .

नई!!: १९७७ और निर्मल वर्मा · और देखें »

नेपाली उपन्यास का आधारहरू

नेपाली उपन्यास का आधारहरू नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार इंद्रबहादुर राई द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और नेपाली उपन्यास का आधारहरू · और देखें »

नोआम चाम्सकी

एवरम नोम चोम्स्की (हीब्रू: אברם נועם חומסקי) (जन्म 7 दिसंबर, 1928) एक प्रमुख भाषावैज्ञानिक, दार्शनिक, by Zoltán Gendler Szabó, in Dictionary of Modern American Philosophers, 1860–1960, ed.

नई!!: १९७७ और नोआम चाम्सकी · और देखें »

पद्म भूषण

पद्म भूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है। भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कारों में भारत रत्न, पद्म विभूषण और पद्मश्री का नाम लिया जा सकता है। पद्म भूषण रिबन .

नई!!: १९७७ और पद्म भूषण · और देखें »

परमसुख जे पांड्या

परमसुख जे पांड्या को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: १९७७ और परमसुख जे पांड्या · और देखें »

परवरिश (1977 फ़िल्म)

परवरिश 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और परवरिश (1977 फ़िल्म) · और देखें »

पापी (1977 फ़िल्म)

पापी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और पापी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

पाकिस्तानी संविधान का सातवाँ संशोधन

पाकिस्तानी संविधान का सातवें संपादित 1977 में पारित हुआ। उसकी तहत प्रधानमंत्री को यह अधिकार दिया गया कि वह राष्ट्रपति पाकिस्तान की अनुमति से एक राष्ट्रीय जनमत संग्रह के कृीिे देश में जनता से विश्वास मत ले सकते थे। .

नई!!: १९७७ और पाकिस्तानी संविधान का सातवाँ संशोधन · और देखें »

प्रायश्चित (1977 फ़िल्म)

प्रायश्चित 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और प्रायश्चित (1977 फ़िल्म) · और देखें »

प्रियतमा (1977 फ़िल्म)

प्रियतमा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और प्रियतमा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

प्रेम चोपड़ा

प्रेम चोपड़ा हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता हैं। .

नई!!: १९७७ और प्रेम चोपड़ा · और देखें »

प्रेमचंद

प्रेमचंद (३१ जुलाई १८८० – ८ अक्टूबर १९३६) हिन्दी और उर्दू के महानतम भारतीय लेखकों में से एक हैं। मूल नाम धनपत राय प्रेमचंद को नवाब राय और मुंशी प्रेमचंद के नाम से भी जाना जाता है। उपन्यास के क्षेत्र में उनके योगदान को देखकर बंगाल के विख्यात उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय ने उन्हें उपन्यास सम्राट कहकर संबोधित किया था। प्रेमचंद ने हिन्दी कहानी और उपन्यास की एक ऐसी परंपरा का विकास किया जिसने पूरी सदी के साहित्य का मार्गदर्शन किया। आगामी एक पूरी पीढ़ी को गहराई तक प्रभावित कर प्रेमचंद ने साहित्य की यथार्थवादी परंपरा की नींव रखी। उनका लेखन हिन्दी साहित्य की एक ऐसी विरासत है जिसके बिना हिन्दी के विकास का अध्ययन अधूरा होगा। वे एक संवेदनशील लेखक, सचेत नागरिक, कुशल वक्ता तथा सुधी (विद्वान) संपादक थे। बीसवीं शती के पूर्वार्द्ध में, जब हिन्दी में तकनीकी सुविधाओं का अभाव था, उनका योगदान अतुलनीय है। प्रेमचंद के बाद जिन लोगों ने साहित्‍य को सामाजिक सरोकारों और प्रगतिशील मूल्‍यों के साथ आगे बढ़ाने का काम किया, उनमें यशपाल से लेकर मुक्तिबोध तक शामिल हैं। .

नई!!: १९७७ और प्रेमचंद · और देखें »

पेरुगु शिवा रेड्डी

पेरुगु शिवा रेड्डी को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। .

नई!!: १९७७ और पेरुगु शिवा रेड्डी · और देखें »

पॉल न्युमैन

पॉल लियोनार्ड न्युमैन (26 जनवरी 1925 - 26 सितंबर 2008) एक अमेरिकी अभिनेता, फिल्म निर्देशक, उद्यमी, मानवतावादी और ऑटो रेसिंग के शौक़ीन व्यक्ति थे। उन्होंने कई पुरस्कार जीते, जिनमें 1986 की मार्टिन स्कौर्सेसे की फिल्म द कलर ऑफ मनी में उनके अभिनय के लिए दिया गया सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का अकादमी पुरस्कार और आठ अन्य नामांकन, तीन गोल्डन ग्लोब पुरस्कार, एक बाफ्टा (BAFTA) पुरस्कार, एक स्क्रीन एक्टर्स गिल्ड पुरस्कार, एक कान फिल्म समारोह पुरस्कार, एक एमी पुरस्कार और कई मानद पुरस्कार शामिल थे। उन्होंने स्पोर्ट्स कार क्लब ऑफ अमेरिका की रोड रेसिंग में एक ड्राइवर के रूप में कई राष्ट्रीय चैंपियनशिप भी जीते और उनकी रेसिंग टीमों ने ओपन व्हील इंडीकार रेसिंग में कई प्रतियोगिताओं में जीत हासिल की। न्युमैन अपनी खुद की एक फ़ूड कंपनी के सह-संस्थापक भी थे, जहां से उन्होंने अपने समस्त कर पश्चात लाभ एवं रॉयल्टी चैरिटी को दान कर दिया। Newman's Own.com.

नई!!: १९७७ और पॉल न्युमैन · और देखें »

फरिश्ता या कातिल (1977 फ़िल्म)

फरिश्ता या कातिल 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और फरिश्ता या कातिल (1977 फ़िल्म) · और देखें »

फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार

फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर पत्रिका द्वारा प्रति वर्ष दिया जाने वाला पुरस्कार है। .

नई!!: १९७७ और फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार · और देखें »

फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार

फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार फ़िल्मफ़ेयर पत्रिका द्वारा प्रति वर्ष दिया जाने वाला पुरस्कार है। .

नई!!: १९७७ और फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार · और देखें »

फ़ॉर्मूला वन

The formula was defined in 1946; the first Formula One race was in 1947; the first World Championship season was 1950.

नई!!: १९७७ और फ़ॉर्मूला वन · और देखें »

फिलिप वारेन एन्डरसन

फिलिप वारेन एन्डरसन अमेरिका के प्रसिद्द वैज्ञानिक हैं। 1977 में इन्हें भौतिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। .

नई!!: १९७७ और फिलिप वारेन एन्डरसन · और देखें »

फूलरेनु गुहा

फूलरेनु गुहा को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: १९७७ और फूलरेनु गुहा · और देखें »

फेरारी

फेरारी S.p. A., इटली के मैरानेलो स्थित एक स्पोर्ट्स कार निर्माता है। इसकी स्थापना, 1929 में स्क्यूडेरिया फेरारी के रूप में एंज़ो फेरारी द्वारा की गई। 1947 में फेरारी S.p. के रूप में कानूनी तौर पर चलने वाले वाहनों का उत्पादन करने से पहले इस कंपनी ने चालकों को प्रायोजित किया और दौड़ में भाग लेने वाली गाड़ियों का उत्पादन किया।A. अपने सम्पूर्ण इतिहास के दौरान,दौड़ प्रतियोगिता, खास करके फ़ॉर्मूला वन Formula One में अपनी निरंतर भागीदारी के लिए यह कंपनी प्रसिद्ध रहा है जहां इसे अपार सफलता मिली.

नई!!: १९७७ और फेरारी · और देखें »

बर्मा के प्रधानमंत्री

प्रधान मंत्री बर्मा की सरकार का सर्वोच्च पद है। १९४८ से बर्मा के १० प्रधान मंत्री हो चुके है। बर्मा के सैन्य इतिहास के कारण इस पद पर कई बार सैन्य अधिकारी आसीन हुए है। .

नई!!: १९७७ और बर्मा के प्रधानमंत्री · और देखें »

बाबरेर प्रार्थना

बाबरेर प्रार्थना बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार शंख घोष द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और बाबरेर प्रार्थना · और देखें »

बाबा पृथ्वी सिंह आजाद

बाबा पृथ्वी सिंह आजाद को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: १९७७ और बाबा पृथ्वी सिंह आजाद · और देखें »

बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति

बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। उसका पत्नी इंदिरा राममूर्ती प्रसिद्ध आब्सेट्रीसियन और गैनकालजिस्ट थे। .

नई!!: १९७७ और बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति · और देखें »

बांग्लादेश के राष्ट्रपति

बांग्लादेश के राष्ट्रपति का पद गणप्रजातंत्री बांग्लादेश का सर्वोच्च संवैधानिक पद है। वर्तमान नियमों के अनुसार, राष्ट्रपति को बांग्लादेश की राष्ट्रीय संसद द्वारा, खुले चुनाव प्रक्रिया द्वारा निर्वाचित होते हैं। राष्ट्रपति, बांग्लादेश की कार्यपालिका न्यायपालिका एवं विधानपालिका के सर्व शाखाओं के, पारंपरिक, प्रमुख एवं बांग्लादेश के सारे सशस्त्र बलों के सर्वादिनायक हैं। इस पद पर नियुक्त प्रत्येक राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्ष होता है। संसदीय बहुमत द्वारा निर्वाचित होने के कारण इस पद पर साधारण तौर पर शासक दल के प्रतिनिधि ही चुने जाते हैं। हालाँकि, एक बार निर्वाचित हो चुके पदाधिकारी चुनाव में पुनः खड़े होने के लिए मुक्त होते हैं। वर्ष 1991 में संसदीय गणतंत्र की शुरुआत से पूर्व, राष्ट्रपति का चुनाव जनता के मतों द्वारा होता था। संसदीय प्रणाली के पुनर्स्थापन के पश्चात से यह पद मूलतः एक पारंपरिक पद रह गया है, जिसकी, विशेषतः कोई सार्थक कार्यकारी शक्तियाँ नहीं हैं। प्रत्येक संसदीय साधारण चुनाव के पश्चात संसद की प्रथम अधिवेशन में राष्ट्रपति अपना उद्घाधाटनी अभिभाषण देते हैं। प्रत्येक वर्ष के प्रथम संसदीय अधिवेशन में भी राष्ट्रपति अपना उद्घाटनी अभिभाषण देते हैं। इसके अतिरिक्त, संसद में पारित हुई किसी भी अधिनियम को कानून बनने के लिए राष्ट्रपति की स्वीकृति प्राप्त करना आवश्यक होता है। इसके अलावा राष्ट्रपति अपने विवेक पर क्षमादान भी दे सकते हैं। सन 1956 में संसद में नए कानून पारित किए, जिनके द्वारा राष्ट्रपति की, संसद के भंग होने के बाद की कार्यकारी शक्तियों को, संवैधानिक प्रावधानों के अंतर्गत बढ़ाया गया था। बांग्लादेश के राष्ट्रपति आधिकारिक तौर पर ढाका के बंगभवन में निवास करते हैं। कार्यकाल समाप्त होने के बाद भी वह अपने पद पर तब तक विराजमान रहते हैं जब तक उनका उत्तराधिकारी पद पर स्थापित नहीं हो जाता। .

नई!!: १९७७ और बांग्लादेश के राष्ट्रपति · और देखें »

बांग्लादेश के राष्ट्रपतिगण की सूची

बांग्लादेश के राष्ट्रपतियों की सूची .

नई!!: १९७७ और बांग्लादेश के राष्ट्रपतिगण की सूची · और देखें »

बिलबाओ ललित कला संग्रहालय

बिलबाओ ललित कला संग्रहालय (स्पेनिश: Museo de Bellas Artes de Bilbao, बास्क: Bilboko Arte Ederren Museoa) एक कला संग्रहालय है। यह स्पेन के शहर बिलबाओ में स्थित है। संग्रहालय की इमारत पूरी तरह से शहर के दोन्या कासिल्दा इतुर्रिज़र पार्क (Doña Casilda Iturrizar park) के अंदर स्थित है। यह बास्क क्षेत्र में दूसरा सबसे बड़ा और सबसे का दौरा किया जाने वाला संग्रहालय है। .

नई!!: १९७७ और बिलबाओ ललित कला संग्रहालय · और देखें »

बिहार के मुख्यमंत्रियों की सूची

कोई विवरण नहीं।

नई!!: १९७७ और बिहार के मुख्यमंत्रियों की सूची · और देखें »

बकुल बनर कविता

बकुल बनर कविता असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार आनंद चंद्र बरुआ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और बकुल बनर कविता · और देखें »

बुद्धविजय काव्यम्

बुद्धविजय काव्यम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार शांतिभिक्षु शास्त्री द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और बुद्धविजय काव्यम् · और देखें »

ब्योन बोर्ग

श्रेणी:टेनिस खिलाड़ी श्रेणी:पुरुष टेनिस खिलाड़ी श्रेणी:टेनिस ग्रैंड स्लैम विजेता.

नई!!: १९७७ और ब्योन बोर्ग · और देखें »

बेनज़ीर भुट्टो

बेनज़ीर भुट्टो(उर्दू: بینظیر بھٹو) (जन्म 21 जून 1953,कराची- मृत्यु 27 दिसम्बर 2007,रावलपिंडी) पाकिस्तान की १२वीं (1988 में) व १६वीं (1993 में) प्रधानमंत्री थीं। रावलपिंडी में एक राजनैतिक रैली के बाद आत्मघाती बम और गोलीबारी से दोहरा अक्रमण कर, उनकी हत्या कर दी गई। पूरब की बेटी के नाम से जानी जाने वाली बेनज़ीर किसी भी मुसलिम देश की पहली महिला प्रधानमंत्री तथा दो बार चुनी जाने वाली पाकिस्तान की पहली प्रधानमंत्री थीं। वे पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की प्रतिनिधि तथा मुसलिम धर्म की शिया शाखा की अनुयायी थीं। .

नई!!: १९७७ और बेनज़ीर भुट्टो · और देखें »

बोल भारमली

बोल भारमली राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार सत्यप्रकाश जोशी द्वारा रचित एक काव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और बोल भारमली · और देखें »

बीसवीं शताब्दी

ग्रेगरी पंचांग (कलेंडर) के अनुसार ईसा की बीसवीं शताब्दी 1 जनवरी 1901 से 31 दिसम्बर 2000 तक मानी जाती है। कुछ इतिहासवेत्ता 1914 से 1992 तक को संक्षिप्त बीसवीं शती का नाम भी देते हैं। (उन्नीसवी शताब्दी - बीसवी शताब्दी - इक्कीसवी शताब्दी - और शताब्दियाँ) दशक: १९०० का दशक १९१० का दशक १९२० का दशक १९३० का दशक १९४० का दशक १९५० का दशक १९६० का दशक १९७० का दशक १९८० का दशक १९९० का दशक ---- समय के गुज़रने को रेकोर्ड करने के हिसाब से देखा जाये तो बीसवी शताब्दी वह शताब्दी थी जो १९०१ - २००० तक चली थी। मनुष्य जाति के जीवन का लगभग हर पहलू बीसवी शताब्दी में बदल गया।.

नई!!: १९७७ और बीसवीं शताब्दी · और देखें »

भारत के प्रधान मंत्रियों की सूची

भारत के प्रधानमंत्री भारत गणराज्य की सरकार के मुखिया हैं। भारत के प्रधानमंत्री, का पद, भारत के शासनप्रमुख (शासनाध्यक्ष) का पद है। संविधान के अनुसार, वह भारत सरकार के मुखिया, भारत के राष्ट्रपति, का मुख्य सलाहकार, मंत्रिपरिषद का मुखिया, तथा लोकसभा में बहुमत वाले दल का नेता होता है। वह भारत सरकार के कार्यपालिका का नेतृत्व करता है। भारत की राजनैतिक प्रणाली में, प्रधानमंत्री, मंत्रिमंडल में का वरिष्ठ सदस्य होता है। .

नई!!: १९७७ और भारत के प्रधान मंत्रियों की सूची · और देखें »

भारत के अभयारण्य

भारत में 500 से अधिक प्राणी अभयारण्य हैं, जिन्हें वन्य जीवन अभयारण्य (IUCN श्रेणी IV सुरक्षित क्षेत्र) कहा जाता है। इनमें से 28 बाघ अभयारण्य बाघ परियोजना द्वारा संचालित हैं, जो बाघ-संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण हैं। कुछ वन्य अभयारण्यों को पक्षी-अभयारण्य कहा जाता रहा है, (जैसे केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान) जब तक कि उन्हें राष्ट्रीय उद्यान का दर्ज़ा नहीं मिल गया। कई राष्ट्रीय उद्यान पहले वन्य जीवन अभयारण्य ही थे। कुछ वन्य जीवन अभयारण्य संरक्षण हेतु राष्ट्रीय महत्व रखते हैं, अपनी कुछ मुख्य प्राणी प्रजातियों के कारण। अतः उन्हें राष्ट्रीय वन्य जीवन अभयारण्य कहा जाता है, जैसे.

नई!!: १९७७ और भारत के अभयारण्य · और देखें »

मर्गेरित युर्स्नर्

मर्गेरित युर्स्नर् (फ़्रांसीसी भाषा,Marguerite Cleenewerck de Crayencour, Marguerite Yourcenar, बेल्जियम, ८ जून १९०३-संयुक्त राज्य अमेरिका, १७ दिसंबर १९८७) बेल्जियम के लेखक.

नई!!: १९७७ और मर्गेरित युर्स्नर् · और देखें »

मलिक मेराज ख़ालिद

मालिक मेराज ख़ालिद, एक पाकिस्तानी राजनीतिज्ञ और अंतरिम दौर में कार्यवाहक प्रधानमंत्री थे। तथा वे मई १९७२ से नवंबर १९७३ तक पाकिस्तान के प्रांत पंजाब के मुख्यमंत्री भी थे। वे पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के सदस्य थे। .

नई!!: १९७७ और मलिक मेराज ख़ालिद · और देखें »

मस्तान दादा (1977 फ़िल्म)

मस्तान दादा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और मस्तान दादा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

महा बदमाश (1977 फ़िल्म)

महा बदमाश 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और महा बदमाश (1977 फ़िल्म) · और देखें »

महाराष्ट्र के राज्यपालों की सूची

यह सूची भारत के भूतपूर्व बॉम्बे राज्य और वर्तमान महाराष्ट्र राज्य के राज्यपालों की है। राज्यपाल का आधिकारिक आवास राजभवन है जो राजधानी मुम्बई में स्थित है। .

नई!!: १९७७ और महाराष्ट्र के राज्यपालों की सूची · और देखें »

मिखाइल कोर्नियेंको

मिखाइल बोरिसोविच कोर्नियेंको एक रूसी अंतरिक्ष यात्री हैं जो अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में लगभग एक वर्ष रहने के लिए जाने जाते हैं। .

नई!!: १९७७ और मिखाइल कोर्नियेंको · और देखें »

मृत्युदंड

एशियाई विश्व में सबसे प्रचलित मृत्युदंड का रूप है फांसी मृत्युदण्ड (अंग्रेज़ी:''कैपिटल पनिश्मैन्ट''), किसी व्यक्ति को कानूनी तौर पर न्यायिक प्रक्रिया के फलस्वरूप किसी अपराध के परिणाम में प्राणांत का दण्ड देने को कहते हैं। अंग्रेज़ी में इसके लिये प्रयुक्त कैपिटल शब्द लैटिन के कैपिटलिस शब्द से आया है, जिसका शाब्दिक अर्थ है "सिर के संबंध में या से संबंधित" (लैटिन कैपुट)। इसके मूल में आरंभिक रूप में दिये जाने वाले मृत्युदण्ड का स्वरूप सिर को धड़ से अलग कर देने की प्रक्रिया में है। वर्तमान समय में एमनेस्टी इंटरनेशनल के आंकड़ों के अनुसार विश्व के 58 देशों में अभी मृत्युदंड दिया जाता है, जबकि अन्य देशों में या तो इस पर रोक लगा दी गई है, या गत दस वर्षो से किसी को फांसी नहीं दी गई है। यूरोपियाई संघ के सदस्य देशों में,चार्टर ऑफ फ़्ण्डामेण्टल राइट्स ऑफ द यूरोपियन यूनियन की धारा-2 मृत्युदण्ड को निषेध करती है। .

नई!!: १९७७ और मृत्युदंड · और देखें »

मैनचेस्टर यूनाइटेड एफ़.सी.

मैनचेस्टर युनाइटेड फुटबॉल क्लब ग्रेटर मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफोर्ड में स्थित एक इंग्लिश फुटबॉल क्लब है जो दुनिया में सबसे अधिक लोकप्रिय फुटबॉल क्लबों में से एक है। क्लब 1992 में प्रीमियर लीग का एक संस्थापक सदस्य था और सिवाए 1974-75 के सत्र के, 1938 के बाद से ही, इंग्लिश फुटबॉल की शीर्ष श्रेणी में खेलता रहा है। 1964-65 के बाद से ही सभी छह सत्रों के दौरान क्लब में दर्शकों की औसत उपस्थिति इंग्लिश फुटबॉल की किसी भी अन्य टीम के मुकाबले अधिक रही है। 2008-09 प्रीमियर लीग और 2008 फीफा क्लब विश्व कप जीतने के साथ ही मैनचेस्टर युनाइटेड इंग्लिश चैंपियन और क्लब विश्व कप के श्रेष्ठ धारक बन गये हैं। क्लब इंग्लिश फुटबॉल क्लब के इतिहास में सबसे सफल क्लबों में से एक है और नवंबर 1986 में एलेक्स फर्ग्यूसन के मैनेजर बनने के बाद इसने 22 बड़े पुरस्कार अर्जित किये हैं। सन् 1968 में बेन्फिका को 4-1 से हरा कर यूरोपीय कप जीतने वाला यह पहला इंग्लिश क्लब बना.

नई!!: १९७७ और मैनचेस्टर यूनाइटेड एफ़.सी. · और देखें »

मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास

मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास (1916-1999) भारत के सुप्रसिद्ध समाजशास्त्री थे। उन्होने दक्षिण भारत में जाति तथा जाति प्रथा, सामाजिक स्तरीकरण, सांस्कृतीकरण तथा पश्चिमीकरण पर कार्य किया। उन्होने 'प्रबल जाति' (Dominant Caste) की अवधारण प्रस्तुत की। 'मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास' को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: १९७७ और मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास · और देखें »

मैं मेले रा जानू

मैं मेले रा जानू डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार केहरि सिंह ‘मधुकर’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और मैं मेले रा जानू · और देखें »

मैक्स मिर्नयी

मैक्स मिरन्यी (जन्म: 6 जुलाई, 1977) बेलारूस के एक टेनिस खिलाड़ी हैं। .

नई!!: १९७७ और मैक्स मिर्नयी · और देखें »

मोरारजी देसाई

मोरारजी देसाई (29 फ़रवरी 1896 – 10 अप्रैल 1995) (गुजराती: મોરારજી રણછોડજી દેસાઈ) भारत के स्वाधीनता सेनानी और देश के छ्ठे प्रधानमंत्री (सन् 1977 से 79) थे। वह प्रथम प्रधानमंत्री थे जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बजाय अन्य दल से थे। वही एकमात्र व्यक्ति हैं जिन्हें भारत के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न एवं पाकिस्तान के सर्वोच्च सम्मान निशान-ए-पाकिस्तान से सम्मानित किया गया है। वह 81 वर्ष की आयु में प्रधानमंत्री बने थे। इसके पूर्व कई बार उन्होंने प्रधानमंत्री बनने की कोशिश की परंतु असफल रहे। लेकिन ऐसा नहीं हैं कि मोरारजी प्रधानमंत्री बनने के क़ाबिल नहीं थे। वस्तुत: वह दुर्भाग्यशाली रहे कि वरिष्ठतम नेता होने के बावज़ूद उन्हें पंडित नेहरू और लालबहादुर शास्त्री के निधन के बाद भी प्रधानमंत्री नहीं बनाया गया। मोरारजी देसाई मार्च 1977 में देश के प्रधानमंत्री बने लेकिन प्रधानमंत्री के रूप में इनका कार्यकाल पूर्ण नहीं हो पाया। चौधरी चरण सिंह से मतभेदों के चलते उन्हें प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ा। .

नई!!: १९७७ और मोरारजी देसाई · और देखें »

मोहम्मद रफ़ी

कोई विवरण नहीं।

नई!!: १९७७ और मोहम्मद रफ़ी · और देखें »

यही है ज़िन्दगी (1977 फ़िल्म)

यही है ज़िन्दगी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और यही है ज़िन्दगी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

यारों का यार

कोई विवरण नहीं।

नई!!: १९७७ और यारों का यार · और देखें »

यासर शाह

यासर शाह,भारत के उत्तर प्रदेश की सोलहवीं विधानसभा सभा में विधायक रहे। 2012 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश की मटेरा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र (निर्वाचन संख्या-284)से चुनाव जीता। .

नई!!: १९७७ और यासर शाह · और देखें »

युसुफ हुसैन खान

युसुफ हुसैन खान को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: १९७७ और युसुफ हुसैन खान · और देखें »

रतन नवल टाटा

रतन नवल टाटा (28 दिसंबर 1937, को मुम्बई, में जन्मे) टाटा समुह के वर्तमान अध्यक्ष, जो भारत की सबसे बड़ी व्यापारिक समूह है, जिसकी स्थापना जमशेदजी टाटा ने की और उनके परिवार की पीढियों ने इसका विस्तार किया और इसे दृढ़ बनाया। 1971 में रतन टाटा को राष्ट्रीय रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड (नेल्को) का डाईरेक्टर-इन-चार्ज नियुक्त किया गया, एक कंपनी जो कि सख्त वित्तीय कठिनाई की स्थिति में थी। रतन ने सुझाव दिया कि कम्पनी को उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स के बजाय उच्च-प्रौद्योगिकी उत्पादों के विकास में निवेश करना चाहिए जेआरडी नेल्को के ऐतिहासिक वित्तीय प्रदर्शन की वजह से अनिच्छुक थे, क्यों कि इसने पहले कभी नियमित रूप से लाभांश का भुगतान नहीं किया था। इसके अलावा, जब रतन ने कार्य भार संभाला, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स नेल्को की बाज़ार में हिस्सेदारी २% थी और घाटा बिक्री का ४०% था। फिर भी, जेआरडी ने रतन के सुझाव का अनुसरण किया। 1972 से 1975 तक, अंततः नेल्को ने अपनी बाज़ार में हिस्सेदारी २०% तक बढ़ा ली और अपना घाटा भी पूरा कर लिया। लेकिन 1975 में, भारत की प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने आपात स्थिति घोषित कर दी, जिसकी वजह से आर्थिक मंदी आ गई। इसके बाद 1977 में यूनियन की समस्यायें हुईं, इसलिए मांग के बढ़ जाने पर भी उत्पादन में सुधार नहीं हो पाया। अंततः, टाटा ने यूनियन की हड़ताल का सामना किया, सात माह के लिए तालाबंदी (lockout) कर दी गई। रतन ने हमेशा नेल्को की मौलिक दृढ़ता में विश्वास रखा, लेकिन उद्यम आगे और न रह सका। 1977 में रतन को Empress Mills सोंपा गया, यह टाटा नियंत्रित कपड़ा मिल थी। जब उन्होंने कम्पनी का कार्य भार संभाला, यह टाटा समुह की बीमार इकाइयों में से एक थी। रतन ने इसे संभाला और यहाँ तक की एक लाभांश की घोषणा कर दी। चूँकि कम श्रम गहन उद्यमों की प्रतियोगिता ने इम्प्रेस जैसी कई उन कंपनियों को अलाभकारी बना दिया, जिनकी श्रमिक संख्या बहुत ज्यादा थी और जिन्होंने आधुनिकीकरण पर बहुत कम खर्च किया था रतन के आग्रह पर, कुछ निवेश किया गया, लेकिन यह पर्याप्त नहीं था। चूंकि मोटे और मध्यम सूती कपड़े के लिए बाजार प्रतिकूल था (जो कि एम्प्रेस का कुल उत्पादन था), एम्प्रेस को भारी नुकसान होने लगा। बॉम्बे हाउस, टाटा मुख्यालय, अन्य ग्रुप कंपनिओं से फंड को हटाकर ऐसे उपक्रम में लगाने का इच्छुक नहीं था, जिसे लंबे समय तक देखभाल की आवश्यकता हो। इसलिए, कुछ टाटा निर्देशकों, मुख्यतः नानी पालखीवाला (Nani Palkhivala) ने ये फैसला लिया कि टाटा को मिल समाप्त कर देनी चाहिए, जिसे अंत में 1986 में बंद कर दिया गया। रतन इस फैसले से बेहद निराश थे और बाद में हिन्दुस्तान टाईम्स के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने दावा किया कि एम्प्रेस को मिल जारी रखने के लिए सिर्फ़ ५० लाख रुपये की जरुरत थी। वर्ष 1981 में, रतन टाटा इंडस्ट्री््ज और समूह की अन्य होल्डिंग कंपनियों के अध्यक्ष बनाए गए, जहाँ वे समूह के कार्यनीतिक विचार समूह को रूपांतरित करने के लिए उत्तरदायी तथा उच्च प्रौद्योगिकी व्यापारों में नए उद्यमों के प्रवर्तक थे। 1991 में उन्होंने जेआरडी से ग्रुप चेयर मेन का कार्य भार संभाला.

नई!!: १९७७ और रतन नवल टाटा · और देखें »

राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली

राष्ट्रीय रेल परिवहन संग्रहालय नई दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित एक संग्रहालय है, जो भारत की रेल धरोहर पर ध्यानाकर्षण करता है और 140 साल के इतिहास की झलक प्रस्तुत करता है। इसकी स्थापना १ फरवरी, १९७७ को की गई थी। यह लगभग के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस भवन के अंदर और बाहर, दोनो ही प्रकार की रेल धरोहरें सुरक्षित हैं। विभिन्न प्रकार के रेल इंजनों को देखने के लिए देश भर से लाखों पर्यटक यहां आते हैं। यहां पर रेल इंजनों के अनेक मॉडल और कोच हैं जिसमें भारत की पहली रेल का मॉडल और इंजन भी शामिल हैं। इसका निर्माण ब्रिटिश वास्तुकार एम जी सेटो ने 1957 में किया था। यहां एक छोटी रेलगाड़ी भी चलती है, जो कि संग्रहालय में पूरा चक्कर लगवाती है। इस संग्रहालय में विश्व की प्राचीनतम चालू हालत की रेलगाड़ी भी है, जिसका इंजन सन १८५५ में निर्मित हुआ था। ये फ़ेयरी क्वीन गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स सेप प्रमाणित है। इसके अलावा यहां रेस्टोरेंट और बुक स्टॉल है। तिब्बती हस्तशिल्प का प्रदर्शन भी यहां किया गया है। .

नई!!: १९७७ और राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली · और देखें »

राजभवन (अरुणाचल प्रदेश)

राजभवन ईटानगर भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य के राज्यपाल का आधिकारिक आवास है। यह राज्य की राजधानी ईटानगर में स्थित है। अरुणाचल प्रदेश के वर्तमान राज्यपाल ज्योति प्रसाद खोवा हैं। .

नई!!: १९७७ और राजभवन (अरुणाचल प्रदेश) · और देखें »

राखी गुलज़ार

रक्षाबंधन त्योहार के लिये यहाँ क्लिक करें राखी गुलज़ार (जन्म: 15 अगस्त, 1947) हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री हैं। .

नई!!: १९७७ और राखी गुलज़ार · और देखें »

रिचर्ड गेयर

रिचर्ड टिफेनी गेयर (जन्म - 31 अगस्त,1949) एक अमेरिकी अभिनेता हैं। उन्होंने अपने अभिनय की शुरुआत 1970 के दशक में की और अमेरिकन जिगोलो ' नामक फ़िल्म में अपने किरदार से 1980 में वे प्रमुखता में आये, जिसने उन्हें एक अग्रणी अभिनेता और एक यौन प्रतीक के रूप में स्थापित किया। इसके बाद उन्होंने ऍन ऑफिसर एंड अ जेंटलमैन, प्रीटी वुमन, प्राइमल फियर तथा शिकागो आदि कई सफल फ़िल्मों में अभिनय किया, जिनके लिए उन्होंने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में एक गोल्डेन ग्लोब अवार्ड तथा साथ ही सर्वश्रेष्ठ कास्ट के हिस्से के रूप में स्क्रीन एक्टर्स गिल्ड अवार्ड जीता.

नई!!: १९७७ और रिचर्ड गेयर · और देखें »

रंग पट्टिकाओं की सूची

यह एक लेख है, जो कम्प्यूटर ग्राफिक्स्, टर्मिनल एवं वीडियो गेम्स के प्रदर्शकों हेतु बना है। रंग पट्टिका, जिसे रंग पैलेट भी कहते हैं, उसका केवल मात्र एक एक नमूना ही यहाँ दिया है। नमूना परिक्षण सारणी, दी गई है। |- || चित्र:RGB 24bits palette sample image.jpg || चित्र:RGB 24bits palette color test chart.png | .

नई!!: १९७७ और रंग पट्टिकाओं की सूची · और देखें »

रुक्मिणी देवी अरुंडेल

रुक्मिणी देवी अरुंडेल रुक्मिणी देवी अरुंडेल (२९ फरवरी १९०४- २४ फरवरी १९८६) प्रसिद्ध भारतीय नृत्यांगना थीं। इन्होंने भरतनाट्यम में भक्तिभाव भरा तथा नृत्य की एक अपनी परंपरा आरम्भ की। इनको कला के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 1920 के दशक में जब भरतनाट्यम को अच्छी नृत्य शैली नहीं माना जाता था और लोग इसका विरोध करते थे, तब भी उन्होंने न केवल इसका समर्थन किया बल्कि इस कला को अपनाया भी। नृत्य सीखने के साथ-साथ उन्होंने तमाम विरोधों के बावजूद इसे मंच पर प्रस्तुत भी किया। .

नई!!: १९७७ और रुक्मिणी देवी अरुंडेल · और देखें »

रेमिंग्टन 1100 (बन्दूक)

रेमिंग्टन 1100 (बन्दूक) (अंग्रेजी: Remington Model 1100) यूनाइटेड स्टेट्स की शस्त्र निर्माता कम्पनी रेमिंग्टन आर्म्स द्वारा बनायी गयी 12 बोर की एक नाल वाली अर्द्ध स्वचालित बन्दूक है। इसकी आन्तरिक नलीनुमा मैगज़ीन में 10 और 1 चैम्बर में यानी 11 कारतूस एक के बाद एक फायर किये जा सकते हैं। 12 बोर के अलावा अब यह बन्दूक 16, 20, 28 और.410 के गेज़ (बोर व्यास) में भी बनने लगी है। यह वजन में काफी हल्की है और इससे फायर करना भी बहुत आसान है। इसका उत्पादन सन् 1963 में प्रारम्भ हुआ था तब से अब तक इस बन्दूक के कई मॉडल बाजार में आ चुके हैं और अभी भी आ रहे हैं। .

नई!!: १९७७ और रेमिंग्टन 1100 (बन्दूक) · और देखें »

रॉबर्ट निप्लोप्ट

रॉबर्ट निप्लोप्ट (Robert Nippoldt; जन्म:1977) क्रेनेनबर्ग, जर्मनी में पैदा हुए एक जर्मन चित्रकार, ग्राफ़िक डिज़ाइनर और पुस्तक डिज़ाइनर हैं। उन्होंने मुन्स्टर में यूनिवर्सिटी ऑफ़ अप्लाइड साइंसेज़ में ग्राफ़िक डिज़ाइन और चित्रकारी का अध्‍ययन किया। “गैंगस्टर.

नई!!: १९७७ और रॉबर्ट निप्लोप्ट · और देखें »

रॉस्को टैनर

श्रेणी:टेनिस खिलाड़ी श्रेणी:पुरुष टेनिस खिलाड़ी श्रेणी:टेनिस ग्रैंड स्लैम विजेता.

नई!!: १९७७ और रॉस्को टैनर · और देखें »

लॉस एंजेल्स लेकर्स

श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन - पैसिफिक डिवीज़न श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन - पश्चिमी कांफ्रेंस श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन.

नई!!: १९७७ और लॉस एंजेल्स लेकर्स · और देखें »

शतरंज के खिलाड़ी (१९७७ फ़िल्म)

शतरंज के खिलाड़ी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसी नाम से मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखी गई कहानी पर आधारित इस फिल्म के निर्देशक थे प्रसिद्ध बांग्ला फिल्मकार सत्यजित रे। इसकी कहानी १८५६ के अवध नवाब वाजिद अली शाह के दो अमीरों के इर्द-गिर्द घूमती है। ये दोनों खिलाड़ी शतरंज खेलने में इतने व्यस्त रहते हैं कि उन्हें अपने शासन तथा परिवार की भी फ़िक्र नहीं रहती। इसी की पृष्ठभूमि में अंग्रेज़ों की सेना अवध पर चढ़ाई करती है। फिल्म का अंत अंग्रेज़ों के अवध पर अधिपत्य के बाद के एक दृश्य से होता है जिसमें दोनों खिलाड़ी शतरंज अपने पुराने देशी अंदाज की बजाय अंग्रेज़ी शैली में खेलने लगते हैं जिसमें राजा एक दूसरे के आमने सामने नहीं होते। इस फिल्म को फिल्मकारों तथा इतिहासकारों दोनों की समालोचना मिली थी। फ़िल्म को तीन फिल्मपेयर अवार्ड मिले थे जिसमें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार भी शामिल था। .

नई!!: १९७७ और शतरंज के खिलाड़ी (१९७७ फ़िल्म) · और देखें »

शमशेर बहादुर सिंह

शमशेर बहादुर सिंह 13 जनवरी 1911- 12 मई 1993 आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के एक स्तंभ हैं। हिंदी कविता में अनूठे माँसल एंद्रीए बिंबों के रचयिता शमशेर आजीवन प्रगतिवादी विचारधारा से जुड़े रहे। तार सप्तक से शुरुआत कर चुका भी नहीं हूँ मैं के लिए साहित्य अकादमी सम्मान पाने वाले शमशेर ने कविता के अलावा डायरी लिखी और हिंदी उर्दू शब्दकोश का संपादन भी किया। .

नई!!: १९७७ और शमशेर बहादुर सिंह · और देखें »

शान्ति भूषण

शान्ति भूषण (जन्म ११ नवम्बर १९२५ इलाहाबाद) भारत के भूतपूर्व विधिमन्त्री एवं सर्वोच्च न्यायालय में वरिष्ठ अधिवक्ता हैं। वे मोरारजी देसाई सरकार में विधि, न्याय एवं कम्पनी कार्य मन्त्री थे। सन् २००९ में इंडियन एक्सप्रेस द्वारा उन्हें विश्व के सबसे शक्तिशाली भारतीय लोगों की सूची में ७४वें स्थान पर रखा गया था। वे भारत में भ्रष्टाचार के विरुद्ध संघर्ष करने वालों में अग्रणी हैं। .

नई!!: १९७७ और शान्ति भूषण · और देखें »

शिबू सोरेन

शिबू सोरेन (जन्म ११ जनवरी, १९४४) एक भारतीय राजनेता है। वे झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष है। २००४ में मनमोहन सिंह की सरकार में वे कोयला मंत्री बने लेकिन चिरूडीह कांड जिसमें 11 लोगों की ह्त्या हुई थी के सिलसिले में गिरफ़्तारी का वारंट जारी होने के बाद उन्हें केन्द्रीय मंत्रीमंडल से 24 जुलाई 2004 को इस्तीफ़ा देना पड़ा। आजकल वे झारखंड के दुमका लोकसभा सीट से छठी बार सांसद चुने गये हैं। शिबू का जन्म पुराने बिहार के हजारीबाग जिले में नामरा गाँव में हुआ था। उनकी स्कूली शिक्षा भी यहीं हुई। स्कूली शिक्षा समाप्त करने के बाद ही उनका विवाह हो गया और उन्होंने पिता को खेती के काम में मदद करने का निर्णय लिया। उनके राजनैतिक जीवन की शुरुआत 1970 में हुई। उन्होंने 23 जनवरी, 1975 को उन्होंने तथाकथित रूप से जामताड़ा जिले के चिरूडीह गाँव में "बाहरी" लोगों (आदिवासी जिन्हें "दिकू" नाम से बुलाते हैं) को खदेड़ने के लिये एक हिंसक भीड़ का नेतृत्व किया था। इस घटना में 11 लोग मारे गये थे। उन्हें 68 अन्य लोगों के साथ हत्या का अभियुक्त बनाया गया। शिबू पहली बार 1977 में लोकसभा के लिये चुनाव में खड़े हुये लेकिन उन्हें पराजय का मुँह देखना पड़ा। उनका यह सपना 1986 में पूरा हुआ। इसके बाद क्रमश: 1986, 1989, 1991, 1996 में भी चुनाव जीते। 2002 वे भाजपा की सहायता से राज्यसभा के लिये चुने गये। 2004 में वे दुमका से लोकसभा के लिये चुने गये और राज्यसभा की सीट से त्यागपत्र दे दिया। सन 2005 में झारखंड विधानसभा चुनावों के पश्चात वे विवादस्पद तरीक़े से झारखंड के मुख्यमंत्री बने, परंतु बहुमत साबित न कर सकने के कारण कुछ दिन पश्चात ही उन्हें इस्तीफ़ा देना पड़ा। .

नई!!: १९७७ और शिबू सोरेन · और देखें »

शिरडी के साईं बाबा (1977 फ़िल्म)

शिरडी के साईं बाबा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और शिरडी के साईं बाबा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

श्रीलंकाई गृहयुद्ध का इतिहास

श्रीलंकाई गृहयुद्ध श्रीलंका में बहुसंख्यक सिंहला और अल्पसंख्यक तमिलो के बीच २३ जुलाई, १९८३ से आरंभ हुआ गृहयुद्ध है। मुख्यतः यह श्रीलंकाई सरकार और अलगाववादी गुट लिट्टे के बीच लड़ा जाने वाला युद्ध है। ३० महीनों के सैन्य अभियान के बाद मई २००९ में श्रीलंकाई सरकार ने लिट्टे को परास्त कर दिया। लगभग २५ वर्षों तक चले इस गृहयुद्ध में दोनों ओर से बड़ी संख्या में लोग मारे गए और यह युद्ध द्वीपीय राष्ट्र की अर्थव्यस्था और पर्यावरण के लिए घातक सिद्ध हुआ। लिट्टे द्वारा अपनाई गई युद्ध-नीतियों के चलते ३२ देशों ने इसे आतंकवादी गुटो की श्रेणी में रखा जिनमें भारत, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, यूरोपीय संघ के बहुत से सदस्य राष्ट्र और अन्य कई देश हैं। एक-चौथाई सदी तक चले इस जातीय संघर्ष में सरकारी आँकड़ों के अनुसार ही लगभग ८०,००० लोग मारे गए हैं। .

नई!!: १९७७ और श्रीलंकाई गृहयुद्ध का इतिहास · और देखें »

श्रीकांत वर्मा

श्रीकांत वर्मा (Shrikant verma) (१८ नवंबर १९३१- १९८६) का जन्म बिलासपुर (bilaspur), मध्य प्रदेश में हुआ। वे गीतकार, कथाकार तथा समीक्षक के रूप में जाने जाते हैं। ये राजनीति से भी जुडे थे तथा लोकसभा के सदस्य रहे। १९५७ में प्रकाशित भटका मेघ, १९६७ में प्रकाशित मायादर्पण और दिनारम्भ, १९७३ में प्रकाशित जलसाघर और १९८४ में प्रकाशित मगध इनकी काव्य-कृतियाँ हैं। 'झाडियाँ तथा 'संवाद इनके कहानी-संग्रह है। 'बीसवीं शताब्दी के अंधेरे में एक आलोचनात्मक ग्रंथ है। उनकी प्रारंभिक शिक्षा बिलासपुर(bilaspur) तथा रायपुर(raipur) में हुई तथा नागपुर विश्वविद्यालय से १९५६ में उन्होंने हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की। इसके बाद वे दिल्ली चले गए और वहाँ विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में लगभग एक दशक तक पत्रकार के रूप में कार्य किया। १९६६ से १९७७ तक वे दिनमान के विशेष संवाददाता रहे। १९७६ में काँग्रेस के के टिकट पर चुनाव जीतकर वे राज्य सभा के सदस्य बने। और सत्तरवें दशक के उत्तरार्ध से ८०वें दशक के पूर्वार्ध तक पार्टी के प्रवक्ता के रूप में कार्य करते रहे। १९८० में वे इंदिरा गांधी के राष्ट्रीय चुनाव अभियान के प्रमुख प्रबंधक रहे और १९८४ में राजीव गांधी के परामर्शदाता तथा राजनीतिक विश्लेषक के रूप में कार्य करते रहे। कांग्रेस को अपना "गरीबी हटाओ" का अमर स्लोगन दिया.

नई!!: १९७७ और श्रीकांत वर्मा · और देखें »

शैलेश मटियानी

शैलेश मटियानी (१४ अक्टूबर १९३१ - २४ अप्रैल २००१) आधुनिक हिन्दी साहित्य-जगत् में नयी कहानी आन्दोलन के दौर के कहानीकार एवं प्रसिद्ध गद्यकार थे। उन्होंने 'बोरीवली से बोरीबन्दर' तथा 'मुठभेड़', जैसे उपन्यास, चील, अर्धांगिनी जैसी कहानियों के साथ ही अनेक निबंध तथा प्रेरणादायक संस्मरण भी लिखे हैं। उनके हिन्दी साहित्य के प्रति प्रेरणादायक समर्पण व उत्कृष्ट रचनाओं के फलस्वरूप आज भी उत्तराखण्ड सरकार द्वारा उत्तराखण्ड राज्य में पुरस्कार का वितरण होता है। .

नई!!: १९७७ और शैलेश मटियानी · और देखें »

सचिन पायलट

लेफ्टिनेंट सचिन पायलट (जन्म ७ सितंबर १९७७) एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा भारत सरकार की पंद्रहवीं लोकसभा के मंत्रीमंडलमें संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री में मंत्री रहे है। ये चौदहवीं लोकसभा में राजस्थान के दौसा लोकसभा क्षेत्र का भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर से प्रतिनिधित्व करते हैं। .

नई!!: १९७७ और सचिन पायलट · और देखें »

सत श्री अकाल (1977 फ़िल्म)

सत श्री अकाल 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और सत श्री अकाल (1977 फ़िल्म) · और देखें »

सत्यजित राय

सत्यजित राय (बंगाली: शॉत्तोजित् राय्) (२ मई १९२१–२३ अप्रैल १९९२) एक भारतीय फ़िल्म निर्देशक थे, जिन्हें २०वीं शताब्दी के सर्वोत्तम फ़िल्म निर्देशकों में गिना जाता है। इनका जन्म कला और साहित्य के जगत में जाने-माने कोलकाता (तब कलकत्ता) के एक बंगाली परिवार में हुआ था। इनकी शिक्षा प्रेसिडेंसी कॉलेज और विश्व-भारती विश्वविद्यालय में हुई। इन्होने अपने कैरियर की शुरुआत पेशेवर चित्रकार की तरह की। फ़्रांसिसी फ़िल्म निर्देशक ज़ाँ रन्वार से मिलने पर और लंदन में इतालवी फ़िल्म लाद्री दी बिसिक्लेत (Ladri di biciclette, बाइसिकल चोर) देखने के बाद फ़िल्म निर्देशन की ओर इनका रुझान हुआ। राय ने अपने जीवन में ३७ फ़िल्मों का निर्देशन किया, जिनमें फ़ीचर फ़िल्में, वृत्त चित्र और लघु फ़िल्में शामिल हैं। इनकी पहली फ़िल्म पथेर पांचाली (পথের পাঁচালী, पथ का गीत) को कान फ़िल्मोत्सव में मिले “सर्वोत्तम मानवीय प्रलेख” पुरस्कार को मिलाकर कुल ग्यारह अन्तरराष्ट्रीय पुरस्कार मिले। यह फ़िल्म अपराजितो (অপরাজিত) और अपुर संसार (অপুর সংসার, अपु का संसार) के साथ इनकी प्रसिद्ध अपु त्रयी में शामिल है। राय फ़िल्म निर्माण से सम्बन्धित कई काम ख़ुद ही करते थे — पटकथा लिखना, अभिनेता ढूंढना, पार्श्व संगीत लिखना, चलचित्रण, कला निर्देशन, संपादन और प्रचार सामग्री की रचना करना। फ़िल्में बनाने के अतिरिक्त वे कहानीकार, प्रकाशक, चित्रकार और फ़िल्म आलोचक भी थे। राय को जीवन में कई पुरस्कार मिले जिनमें अकादमी मानद पुरस्कार और भारत रत्न शामिल हैं। .

नई!!: १९७७ और सत्यजित राय · और देखें »

सत्येन्द्र नारायण सिन्हा

सत्येन्द्र नारायण सिन्हा (12 जुलाई 1917 – 4 सितम्बर 2006) एक भारतीय राजनेता थे। वे बिहार के मुख्यमंत्री रहे। प्यार से लोग उन्हें छोटे साहब कहते थे। वे भारत के स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ,सांसद, शिक्षामंत्री, जेपी आंदोलन के स्तम्भ तथा बिहार राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं। .

नई!!: १९७७ और सत्येन्द्र नारायण सिन्हा · और देखें »

सफेद झूठ (1977 फ़िल्म)

सफेद झूठ 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और सफेद झूठ (1977 फ़िल्म) · और देखें »

सफेद हाथी (1977 फ़िल्म)

सफेद हाथी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और सफेद हाथी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

साधना शिवदासानी

साधना (२ सितम्बर, १९४१ को कराची, सिन्ध, पाकिस्तान - 25 दिसंबर 2015) एक प्रसिद्ध भारतीय सिने तारिका थी। हरि शिवदासानी जो अभिनेत्री बबीता के पिता हैं, उनके पिता के भाई हैं। .

नई!!: १९७७ और साधना शिवदासानी · और देखें »

साहेब बहादुर (1977 फ़िल्म)

साहेब बहादुर 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और साहेब बहादुर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

सिंडरेला

सिंडरेला या, द लिटिल ग्लास स्लिपर (फ्रांसीसी: सेनड्रीलॉन, ओऊ ला पेटाईट पैनटोफल डी वेरे) एक विख्यात पारंपरिक लोक कथा है, जिसमें अन्याय का दमन/विजय रुपी एक मिथक तत्व का वर्णन है। दुनिया भर में इसके हज़ारों मित प्रचलित हैं। इसकी मुख्य चरित्र दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियों में रहती एक युवा लड़की है, जिसकी किस्मत का सितारा अचानक बदल जाता है। "सिंडरेला" शब्द का तात्पर्य सादृश्य के आधार पर उस व्यक्ति से है जिसकी विशेषताओं को कोई मोल नहीं देता या वह जो एक अवधि तक दुःख और उपेक्षा भरा जीवन बिताने के बाद अनपेक्षित रूप से पहचान या सफलता हासिल कर लेती है। सिंडरेला की यह लोकप्रिय कहानी अभी भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रिय संस्कृतियों को प्रभावित करती है और विभिन्न प्रकार की मीडिया को कथानक के तत्व, प्रसंग, संकेत आदि उधार देती है। .

नई!!: १९७७ और सिंडरेला · और देखें »

सिंध के राज्यपाल

सिंध के राज्यपाल पाकिस्तान के प्रांत, सिंध की प्रांतीय सरकार का प्रमुख होते हैं। इनकी नियुक्ति पाकिस्तान के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री की परामर्श पर करते हैं और, पाकिस्तान के अन्य प्रांतीय राज्यपाल पदों के समान ही, आमतौर पर यह भी एक औपचारिक पद है, यानी राज्यपाल पास बहुत अधिक अधिकार नहीं होते हैं। हालाँकि इतिहास में कई बार ऐसे अवसर आए हैं जब प्रांतीय गवर्नरों को अतिरिक्त व पूर्ण कार्याधिकार मिला है, खासकर इस मामले में जब प्रांतीय विधायिका भंग कर दी गई हो, तब प्रशासनिक विकल्प सीधे राज्यपाल के अधिकार-अंतर्गत आ जाते हैं। 1958 से 1972 और 1977 से 1985 तक सैन्य शासन और 1999 से 2002 के राज्यपाल शासन के दौरान राज्यपालों को जबरदस्त प्रशासनिक शक्ति मिलते रहे हैं। सिंध में दो बार सीधे राज्यपाल शासन रहा है जिनके दौरान 1951 से 1953 के दौरान मियां अमीन दीन और 1988 में रहीम दीन खान राज्यपाल थे। .

नई!!: १९७७ और सिंध के राज्यपाल · और देखें »

संजीव कुमार

संजीव कुमार (मूल नाम: हरीभाई जरीवाला; जन्म: 9 जुलाई 1938, मृत्यु: 6 नवम्बर 1985) हिन्दी फ़िल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता थे। उनका पूरा नाम हरीभाई जरीवाला था। वे मूल रूप से गुजराती थे। इस महान कलाकार का नाम फ़िल्मजगत की आकाशगंगा में एक ऐसे धुव्रतारे की तरह याद किया जाता है जिनके बेमिसाल अभिनय से सुसज्जित फ़िल्मों की रोशनी से बॉलीवुड हमेशा जगमगाता रहेगा। उन्होंने नया दिन नयी रात फ़िल्म में नौ रोल किये थे। कोशिश फ़िल्म में उन्होंने गूँगे बहरे व्यक्ति का शानदार अभिनय किया था। शोले फ़िल्म में ठाकुर का चरित्र उनके अभिनय से अमर हो गया। उन्हें श्रेष्ठ अभिनेता के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार के अलावा फ़िल्मफ़ेयर क सर्वश्रेष्ठ अभिनेता व सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार दिया गया। वे आजीवन कुँवारे रहे और मात्र 47 वर्ष की आयु में सन् 1984 में हृदय गति रुक जाने से बम्बई में उनकी मृत्यु हो गयी। 1960 से 1984 तक पूरे पच्चीस साल तक वे लगातार फ़िल्मों में सक्रिय रहे। उन्हें उनके शिष्ट व्यवहार व विशिष्ट अभिनय शैली के लिये फ़िल्मजगत में हमेशा याद किया जायेगा। .

नई!!: १९७७ और संजीव कुमार · और देखें »

सुनीति कुमार चटर्जी

सुनीति कुमार चटर्जी (बांग्ला: সুনীতি কুমার চ্যাটার্জী) (26 अक्टूबर, 1890 - 29 मई, 1977) भारत के जानेमाने भाषाविद्, साहित्यकार तथा भारतविद् के रूप में विश्वविख्यात व्यक्तित्व थे। वे एक लोकप्रिय कला-प्रेमी भी थे। .

नई!!: १९७७ और सुनीति कुमार चटर्जी · और देखें »

सुमित्रानन्दन पन्त

सुमित्रानंदन पंत (२० मई १९०० - २९ दिसम्बर १९७७) हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' और रामकुमार वर्मा जैसे कवियों का युग कहा जाता है। उनका जन्म कौसानी बागेश्वर में हुआ था। झरना, बर्फ, पुष्प, लता, भ्रमर-गुंजन, उषा-किरण, शीतल पवन, तारों की चुनरी ओढ़े गगन से उतरती संध्या ये सब तो सहज रूप से काव्य का उपादान बने। निसर्ग के उपादानों का प्रतीक व बिम्ब के रूप में प्रयोग उनके काव्य की विशेषता रही। उनका व्यक्तित्व भी आकर्षण का केंद्र बिंदु था। गौर वर्ण, सुंदर सौम्य मुखाकृति, लंबे घुंघराले बाल, सुगठित शारीरिक सौष्ठव उन्हें सभी से अलग मुखरित करता था। .

नई!!: १९७७ और सुमित्रानन्दन पन्त · और देखें »

स्वामी (1977 फ़िल्म)

स्वामी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और स्वामी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

हत्यारा (1977 फ़िल्म)

हत्यारा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और हत्यारा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

हम किसी से कम नहीं

हम किसी से कम नहीं 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और हम किसी से कम नहीं · और देखें »

हरीश चंद्र

---- हरीश चंद्र महरोत्रा (११ अक्टूबर १९२३ - १६ अक्टूबर १९८३) भारत के महान गणितज्ञ थे। वह उन्नीसवीं शदाब्दी के प्रमुख गणितज्ञों में से एक थे। इलाहाबाद में गणित एवं भौतिक शास्त्र का प्रसिद्ध केन्द्र "मेहता रिसर्च इन्सटिट्यूट" का नाम बदलकर अब उनके नाम पर हरीशचंद्र अनुसंधान संस्थान कर दिया गया है। 'हरीश चंद्र महरोत्रा' को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: १९७७ और हरीश चंद्र · और देखें »

हावर्ड हॉक्स

हावर्ड हॉक्स (अंग्रेज़ी: Howard Hawks हॅव़र्ड् हॉक्स्, 30 मई, 1896 - 26 दिसंबर, 1977) एक अमरीकी उत्कृष्ट हॉलीवुड काल का फ़िल्म निर्देशक, उत्पादक और लेखक था। वह अमरीकी कैलिफ़ोर्निया के पाम स्प्रिंग्स में निधन गया। .

नई!!: १९७७ और हावर्ड हॉक्स · और देखें »

हिमालयांत

हिमालयांत कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार रवीन्द्र केळेकार द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और हिमालयांत · और देखें »

ह्यूस्टन रॉकेट्स

श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन - दक्षिण पश्चिम डिवीज़न श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन - पश्चिमी कांफ्रेंस श्रेणी:नेशनल बास्केटबॉल असोसिएशन.

नई!!: १९७७ और ह्यूस्टन रॉकेट्स · और देखें »

हीरा और पत्थर (1977 फ़िल्म)

हीरा और पत्थर 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और हीरा और पत्थर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

जय विजय (1977 फ़िल्म)

जय विजय 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और जय विजय (1977 फ़िल्म) · और देखें »

जयप्रकाश नारायण

जयप्रकाश नारायण (11 अक्टूबर, 1902 - 8 अक्टूबर, 1979) (संक्षेप में जेपी) भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता थे। उन्हें 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। इन्दिरा गांधी को पदच्युत करने के लिये उन्होने 'सम्पूर्ण क्रांति' नामक आन्दोलन चलाया। वे समाज-सेवक थे, जिन्हें 'लोकनायक' के नाम से भी जाना जाता है। 1999 में उन्हें मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मनित किया गया। इसके अतिरिक्त उन्हें समाजसेवा के लिए १९६५ में मैगससे पुरस्कार प्रदान किया गया था। पटना के हवाई अड्डे का नाम उनके नाम पर रखा गया है। दिल्ली सरकार का सबसे बड़ा अस्पताल 'लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल' भी उनके नाम पर है। .

नई!!: १९७७ और जयप्रकाश नारायण · और देखें »

जलियाँ वाला बाग़ (1977 फ़िल्म)

जलियाँ वाला बाग़ 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और जलियाँ वाला बाग़ (1977 फ़िल्म) · और देखें »

ज़मानत (1977 फ़िल्म)

ज़मानत 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और ज़मानत (1977 फ़िल्म) · और देखें »

जादू टोना (1977 फ़िल्म)

जादू टोना 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और जादू टोना (1977 फ़िल्म) · और देखें »

जिबूती

जिबूती पूर्वी अफ्रीका में बसा एक देश है, जिसकी सीमाएं उत्तर में इरीट्रिया से, पश्चिम और दक्षिण में इथियोपिया से और दक्षिण पूर्व में सोमालिया से मिलती है। इसके अलावा लाल सागर और गल्फ ऑफ अदन से मिलती देश की सीमाएं हैं। महज 23 हजार वर्ग किमी में फैले इस देश की आबादी पांच लाख से कुछ ज्यादा है। इसकी राजधानी जिबूती है। देश की आबादी का पांचवा हिस्सा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गरीबी रेखा के लिए तय 1.25 डालर प्रति दिन से कम आय अर्जित करता है। .

नई!!: १९७७ और जिबूती · और देखें »

जग मोहन

जगमोहन मल्होत्रा (जन्म: 25 सितम्बर, 1927) भारतीय सिविल सेवा के भूतपूर्व नौकरशाह तथा भारतीय जनता पार्टी के राजनेता हैं। उन्हें प्रायः केवल 'जगमोहन' नाम से पुकारा जाता है। वे दिल्ली तथा गोवा के उपराज्यपाल तथा जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल रहे। वे लोकसभा में भी निर्वाचित हुए थे तथा नगरीय विकास मंत्री तथा पर्यटन मंत्री रहे। उन्हे सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: १९७७ और जग मोहन · और देखें »

जगत मेहता

जगत मेहता एक प्रबुद्ध समाजकर्मी और सेवानिवृत्त भारतीय विदेश सेवा अधिकारी थे। 17 जुलाई 1922 को प्रख्यात शिक्षाविद् डॉ॰ मोहन सिंह मेहता तथा विद्यादेवी के घर जन्मे जगत मेहता की प्रारंभिक शिक्षा विद्या भवन स्कूल में हुई। मेहता की उच्च शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय तथा कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में हुई। मेहता मार्च 1947 में भारतीय विदेश सेवा में चयनित हुए तथा विदेश नीति आयोजना विभाग के पहले प्रमुख बने। इससे पूर्व, जगत सिंह मेहता इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्राध्यापक तथा भारतीय नौसेना में भी कार्यरत रहे थे। जगत मेहता की 1960 में भारत चीन सीमा-विवाद सुलझाने, 1975 में युगाण्डा से निकाले गये भारतीयों के मुद्दे का निराकरण करने, 1976 में पाकिस्तान के साथ सामान्य संबंधों की बहाली, भारत पाकिस्तान के मध्य 1976 में सलाल बांध एवं 1977 में फरक्का बांध विवाद निपटाने तथा नेपाल के साथ 1978 में व्यापारिक रिश्तों संबंधी समझौतों में ऐतिहासिक भूमिका रही। जगत मेहता ने अपने विदेश सेवा काल में 50 से अधिक देशों के साथ भारत के बहुपक्षीय संबंधों पर नेतृत्व किया। कॉमनवैल्थ प्रधानमंत्रियों तथा संयुक्त राष्ट्र संघ के विभिन्न सम्मेलनों व बैठकों में मेहता की उपस्थिति व योगदान भारत की वैदेशिक कूटनीति के इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जगत मेहता 1976 से 1979 के मध्य, देश के विदेश-सचिव रहे। वे टेक्सास विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर भी रहे। जगत सिंह मेहता अपने पिता द्वारा संस्थापित संस्था सेवा मन्दिर से पूरी उम्र जुड़े रहे तथा समाज-कार्यों के माध्यम से इन्होंने उदयपुर के लगभग 400 गांवों के समेकित विकास में प्रमुख भूमिका निभाई। 1985 से 94 तक वे सेवा मन्दिर के अध्यक्ष भी रहे तथा 1993 से 2000 तक उदयपुर की ही एक प्रतिष्ठित शिक्षण संस्था विद्या भवन के अध्यक्ष रहे। 1985 से अंत तक डॉ॰ मोहन सिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट के प्रन्यासी भी रहे। जगत मेहता उदयपुर स्थित झील संरक्षण समिति के अध्यक्ष भी थे तथा उदयपुर की झीलों के लिये चिंता करते रहे। उनके परिवार में तीन पुत्र विक्रम मेहता, अजय मेहता तथा उदय मेहता एवं एक पुत्री विजया हैं। विदेश नीति के क्षेत्र में सम्पूर्ण विश्व में विशिष्ट पहचान रखने वाले तथा प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से लेकर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तक को विदेश नीति के मसलों पर सारगर्भित सलाह देने वाले, पूर्व विदेश सचिव पद्मभूषण जगत मेहता का 6 मार्च 2014 गुरूवार को उदयपुर में निधन हुआ। .

नई!!: १९७७ और जगत मेहता · और देखें »

ज्ञानी जी (1977 फ़िल्म)

ज्ञानी जी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और ज्ञानी जी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

जेराल्ड फ़ोर्ड

गेराल्ड रुडोल्फ फोर्ड जूनियर संयुक्त राज्य अमरीका के राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल १९७४ से १९७७ तक था। ये रिपब्लिकन पार्टी से थे। श्रेणी:अमेरिका के राष्ट्रपति श्रेणी:1913 में जन्मे लोग.

नई!!: १९७७ और जेराल्ड फ़ोर्ड · और देखें »

जी८

आठ का समूह समूह-8 (अंग्रेजी: Group of Eight .

नई!!: १९७७ और जी८ · और देखें »

घरौंदा (1977 फ़िल्म)

घरौंदा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और घरौंदा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

विटास जेरुलाटिस

विटास जेरुलाटिस (26 जुलाई 1954 – 17 सितंबर 1994) एक अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी एवं भूतपूर्व ऑस्ट्रेलियाई ओपन पुरुष एकल विजेता हैं। .

नई!!: १९७७ और विटास जेरुलाटिस · और देखें »

विद्याधर सूरजप्रसाद नैपाल

वी एस नाइपॉल या विद्याधर सूरजप्रसाद नैपालका जन्म १७ अगस्त सन १९३२ को ट्रिनिडाड के चगवानस (Chaguanas) में हुआ। उनहे नुतन अंग्रेज़ी छंद का गुरु कहा जाता है। वे कई साहित्यिक पुरस्कार से सम्मानित किये जा चुके हे, इनमे जोन लिलवेलीन रीज पुरस्कार (१९५८), दी सोमरसेट मोगम अवाङँ (१९८०), दी होवथोरडन पुरस्कार (1964), दी डबलु एच स्मिथ साहित्यिक अवाङँ (१९६८), दी बुकर पुरस्कार (१९७१), तथा दी डेविड कोहेन पुरस्कार (१९९३) ब्रिटिश साहित्य मे जीवन परयंत कायँ के लिए, प्रमुख है। वी एस नैपाल को २००१ मे साहित्य मे नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। २००८ मे दी टाईम्स ने वी एस नैपाल को अपनी ५० महान ब्रिटिश साहित्यकारो की सुची मे सातवां स्थान दिया। .

नई!!: १९७७ और विद्याधर सूरजप्रसाद नैपाल · और देखें »

विश्वासघात (1977 फ़िल्म)

विश्वासघात 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और विश्वासघात (1977 फ़िल्म) · और देखें »

विजय तेंडुलकर

विजय तेंडुलकर विजय तेंडुलकर (६ जनवरी १९२८ - १९ मई २००८) प्रसिद्ध मराठी नाटककार, लेखक, निबंधकार, फिल्म व टीवी पठकथालेखक, राजनैतिक पत्रकार और सामाजिक टीपकार थे। भारतीय नाट्य व साहित्य जगत में उनका उच्च स्थान रहा है। वे सिनेमा और टेलीविजन की दुनिया में पटकथा लेखक के रूप में भी पहचाने जाते हैं। .

नई!!: १९७७ और विजय तेंडुलकर · और देखें »

वॉयेजर द्वितीय

वायेजर द्वितीय एक अमरीकी मानव रहित अंतरग्रहीय शोध यान था जिसे वायेजर १ से पहले २० अगस्त १९७७ को अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा प्रक्षेपित किया गया था। यह काफी कुछ अपने पूर्व संस्करण यान वायेजर १ के समान ही था, किन्तु उससे अलग इसका यात्रा पथ कुछ धीमा है। इसे धीमा रखने का कारण था इसका पथ युरेनस और नेपचून तक पहुंचने के लिये अनुकूल बनाना। इसके पथ में जब शनि ग्रह आया, तब उसके गुरुत्वाकर्षण के कारण यह युरेनस की ओर अग्रसर हुआ था और इस कारण यह भी वायेजर १ के समान ही बृहस्पति के चन्द्रमा टाईटन का अवलोकन नहीं कर पाया था। किन्तु फिर भी यह युरेनस और नेपच्युन तक पहुंचने वाला प्रथम यान था। इसकी यात्रा में एक विशेष ग्रहीय परिस्थिति का लाभ उठाया गया था जिसमे सभी ग्रह एक सरल रेखा मे आ जाते है। यह विशेष स्थिति प्रत्येक १७६ वर्ष पश्चात ही आती है। इस कारण इसकी ऊर्जा में बड़ी बचत हुई और इसने ग्रहों के गुरुत्व का प्रयोग किया था। .

नई!!: १९७७ और वॉयेजर द्वितीय · और देखें »

वॉयेजर प्रथम

वोयेजर प्रथम अंतरिक्ष यान एक ७२२ कि.ग्रा का रोबोटिक अंतरिक्ष प्रोब था। इसे ५ सितंबर, १९७७ को लॉन्च किया गया था। वायेजर १ अंतरिक्ष शोध यान एक ८१५ कि.ग्रा वजन का मानव रहित यान है जिसे हमारे सौर मंडल और उसके बाहर की खोज के लिये प्रक्षेपित किया गया था। यह अभी भी (मार्च २००७) कार्य कर रहा है। यह नासा का सबसे लम्बा अभियान है। इस यान ने गुरू और शनि ग्रहों की यात्रा की है और यह यान इन महाकाय ग्रहों के चन्द्रमा की तस्वीरें भेजने वाला पहला शोध यान है। वायेजर १ मानव निर्मित सबसे दूरी पर स्थित वस्तु है और यह पृथ्वी और सूर्य दोनों से दूर अनंत अंतरिक्ष में अभी भी गतिशील है। न्यू हॉराइज़ंस शोध यान जो इसके बाद छोड़ा गया था, वायेजर १ की तुलना में कम गति से चल रहा है इसलिये वह कभी भी वायेजर १ को पीछे नहीं छोड़ पायेगा। .

नई!!: १९७७ और वॉयेजर प्रथम · और देखें »

खय्याम

मोहम्मद ज़हुर "खय्याम" हाशमी भारतीय फ़िल्मों के प्रसिद्ध संगीतकार हैं। .

नई!!: १९७७ और खय्याम · और देखें »

ख़ान मोहम्मद आतिफ़

ख़ान मोहम्मद आतिफ़ उत्तर प्रदेश की  विधानसभा में सभा रहे। 1977 उत्तर प्रदेश सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिला के बहराइच (विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र) से जनता पार्टी से चुनाव में हिस्सा लिया था। .

नई!!: १९७७ और ख़ान मोहम्मद आतिफ़ · और देखें »

खून पसीना (1977 फ़िल्म)

खून पसीना 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और खून पसीना (1977 फ़िल्म) · और देखें »

खेल खिलाड़ी का (1977 फ़िल्म)

खेल खिलाड़ी का 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और खेल खिलाड़ी का (1977 फ़िल्म) · और देखें »

गायत्री (1977 फ़िल्म)

गायत्री 1977 में बनी तमिल भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और गायत्री (1977 फ़िल्म) · और देखें »

गायत्री जोशी

गायत्री जोशी (जन्म 20 मार्च 1977) हिन्दी फिल्मों की एक अभिनेत्री हैं। .

नई!!: १९७७ और गायत्री जोशी · और देखें »

गुलाम मुस्तफ़ा जतोई

गुलाम मुस्तफा जितोय गुलाम मुस्तफा जतोई पाकिस्तान राजनीतिज्ञ और पूर्व कार्यवाहक प्रधानमंत्री, नेशनल पीपल्स पार्टी के प्रमुख और प्रसिद्ध राजनेता गुलाम मुस्तफा जितोई 14 अगस्त 1931 को सिंध के जिला नवाब शाह क्षेत्र न्यू जितोई में पैदा हुए और लम्बी बीमारी के बाद 78 साल की उम्र में 20 नवंबर 2009 को लंदन में निधन हुए। .

नई!!: १९७७ और गुलाम मुस्तफ़ा जतोई · और देखें »

गुजरात के मुख्यमंत्रियों की सूची

गुजरात के मुख्यमंत्रियों की क्रमवार सूची ** resumed office श्रेणी:गुजरात की राजनीति श्रेणी:गुजरात श्रेणी:मुख्यमंत्री श्रेणी:भारतीय राज्यों के मुख्यमंत्रियों की सूचियाँ.

नई!!: १९७७ और गुजरात के मुख्यमंत्रियों की सूची · और देखें »

ग्रैंड स्लैम टेनिस विजेताओं की सूची

List of Men's Singles Grand Slam tournaments tennis champions: .

नई!!: १९७७ और ग्रैंड स्लैम टेनिस विजेताओं की सूची · और देखें »

गोपीनाथ अमन

गोपीनाथ अमन को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: १९७७ और गोपीनाथ अमन · और देखें »

ऑपरेशन ब्लू स्टार

आपरेशन ब्लू स्टार भारतीय सेना द्वारा 3 से 6 जून 1984 को अमृतसर (पंजाब, भारत) स्थित हरिमंदिर साहिब परिसर को ख़ालिस्तान समर्थक जनरैल सिंह भिंडरावाले और उनके समर्थकों से मुक्त कराने के लिए चलाया गया अभियान था। पंजाब में भिंडरावाले के नेतृत्व में अलगाववादी ताकतें सशक्त हो रही थीं जिन्हें पाकिस्तान से समर्थन मिल रहा था। .

नई!!: १९७७ और ऑपरेशन ब्लू स्टार · और देखें »

ओड़िशा का इतिहास

प्राचीन काल से मध्यकाल तक ओडिशा राज्य को कलिंग, उत्कल, उत्करात, ओड्र, ओद्र, ओड्रदेश, ओड, ओड्रराष्ट्र, त्रिकलिंग, दक्षिण कोशल, कंगोद, तोषाली, छेदि तथा मत्स आदि नामों से जाना जाता था। परन्तु इनमें से कोई भी नाम सम्पूर्ण ओडिशा को इंगित नहीं करता था। अपितु यह नाम समय-समय पर ओडिशा राज्य के कुछ भाग को ही प्रस्तुत करते थे। वर्तमान नाम ओडिशा से पूर्व इस राज्य को मध्यकाल से 'उड़ीसा' नाम से जाना जाता था, जिसे अधिकारिक रूप से 04 नवम्बर, 2011 को 'ओडिशा' नाम में परिवर्तित कर दिया गया। ओडिशा नाम की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द 'ओड्र' से हुई है। इस राज्य की स्थापना भागीरथ वंश के राजा ओड ने की थी, जिन्होने अपने नाम के आधार पर नवीन ओड-वंश व ओड्र राज्य की स्थापना की। समय विचरण के साथ तीसरी सदी ई०पू० से ओड्र राज्य पर महामेघवाहन वंश, माठर वंश, नल वंश, विग्रह एवं मुदगल वंश, शैलोदभव वंश, भौमकर वंश, नंदोद्भव वंश, सोम वंश, गंग वंश व सूर्य वंश आदि सल्तनतों का आधिपत्य भी रहा। प्राचीन काल में ओडिशा राज्य का वृहद भाग कलिंग नाम से जाना जाता था। सम्राट अशोक ने 261 ई०पू० कलिंग पर चढ़ाई कर विजय प्राप्त की। कर्मकाण्ड से क्षुब्द हो सम्राट अशोक ने युद्ध त्यागकर बौद्ध मत को अपनाया व उनका प्रचार व प्रसार किया। बौद्ध धर्म के साथ ही सम्राट अशोक ने विभिन्न स्थानों पर शिलालेख गुदवाये तथा धौली व जगौदा गुफाओं (ओडिशा) में धार्मिक सिद्धान्तों से सम्बन्धित लेखों को गुदवाया। सम्राट अशोक, कला के माध्यम से बौद्ध धर्म का प्रचार करना चाहते थे इसलिए सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म को और अधिक विकसित करने हेतु ललितगिरि, उदयगिरि, रत्नागिरि व लगुन्डी (ओडिशा) में बोधिसत्व व अवलोकेतेश्वर की मूर्तियाँ बहुतायत में बनवायीं। 232 ई०पू० सम्राट अशोक की मृत्यु के पश्चात् कुछ समय तक मौर्य साम्राज्य स्थापित रहा परन्तु 185 ई०पू० से कलिंग पर चेदि वंश का आधिपत्य हो गया था। चेदि वंश के तृतीय शासक राजा खारवेल 49 ई० में राजगद्दी पर बैठा तथा अपने शासन काल में जैन धर्म को विभिन्न माध्यमों से विस्तृत किया, जिसमें से एक ओडिशा की उदयगिरि व खण्डगिरि गुफाऐं भी हैं। इसमें जैन धर्म से सम्बन्धित मूर्तियाँ व शिलालेख प्राप्त हुए हैं। चेदि वंश के पश्चात् ओडिशा (कलिंग) पर सातवाहन राजाओं ने राज्य किया। 498 ई० में माठर वंश ने कलिंग पर अपना राज्य कर लिया था। माठर वंश के बाद 500 ई० में नल वंश का शासन आरम्भ हो गया। नल वंश के दौरान भगवान विष्णु को अधिक पूजा जाता था इसलिए नल वंश के राजा व विष्णुपूजक स्कन्दवर्मन ने ओडिशा में पोडागोड़ा स्थान पर विष्णुविहार का निर्माण करवाया। नल वंश के बाद विग्रह एवं मुदगल वंश, शैलोद्भव वंश और भौमकर वंश ने कलिंग पर राज्य किया। भौमकर वंश के सम्राट शिवाकर देव द्वितीय की रानी मोहिनी देवी ने भुवनेश्वर में मोहिनी मन्दिर का निर्माण करवाया। वहीं शिवाकर देव द्वितीय के भाई शान्तिकर प्रथम के शासन काल में उदयगिरी-खण्डगिरी पहाड़ियों पर स्थित गणेश गुफा (उदयगिरी) को पुनः निर्मित कराया गया तथा साथ ही धौलिगिरी पहाड़ियों पर अर्द्यकवर्ती मठ (बौद्ध मठ) को निर्मित करवाया। यही नहीं, राजा शान्तिकर प्रथम की रानी हीरा महादेवी द्वारा 8वीं ई० हीरापुर नामक स्थान पर चौंसठ योगनियों का मन्दिर निर्मित करवाया गया। 6वीं-7वीं शती कलिंग राज्य में स्थापत्य कला के लिए उत्कृष्ट मानी गयी। चूँकि इस सदी के दौरान राजाओं ने समय-समय पर स्वर्णाजलेश्वर, रामेश्वर, लक्ष्मणेश्वर, भरतेश्वर व शत्रुघनेश्वर मन्दिरों (6वीं सदी) व परशुरामेश्वर (7वीं सदी) में निर्माण करवाया। मध्यकाल के प्रारम्भ होने से कलिंग पर सोमवंशी राजा महाशिव गुप्त ययाति द्वितीय सन् 931 ई० में गद्दी पर बैठा तथा कलिंग के इतिहास को गौरवमयी बनाने हेतु ओडिशा में भगवान जगन्नाथ के मुक्तेश्वर, सिद्धेश्वर, वरूणेश्वर, केदारेश्वर, वेताल, सिसरेश्वर, मारकण्डेश्वर, बराही व खिच्चाकेश्वरी आदि मन्दिरों सहित कुल 38 मन्दिरों का निर्माण करवाया। 15वीं शती के अन्त तक जो गंग वंश हल्का पड़ने लगा था उसने सन् 1038 ई० में सोमवंशीयों को हराकर पुनः कलिंग पर वर्चस्व स्थापित कर लिया तथा 11वीं शती में लिंगराज मन्दिर, राजारानी मन्दिर, ब्रह्मेश्वर, लोकनाथ व गुन्डिचा सहित कई छोटे व बड़े मन्दिरों का निर्माण करवाया। गंग वंश ने तीन शताब्दियों तक कलिंग पर अपना राज्य किया तथा राजकाल के दौरान 12वीं-13वीं शती में भास्करेश्वर, मेघेश्वर, यमेश्वर, कोटी तीर्थेश्वर, सारी देउल, अनन्त वासुदेव, चित्रकर्णी, निआली माधव, सोभनेश्वर, दक्क्षा-प्रजापति, सोमनाथ, जगन्नाथ, सूर्य (काष्ठ मन्दिर) बिराजा आदि मन्दिरों को निर्मित करवाया जो कि वास्तव में कलिंग के स्थापत्य इतिहास में अहम भूमिका का निर्वाह करते हैं। गंग वंश के शासन काल पश्चात् 1361 ई० में तुगलक सुल्तान फिरोजशाह तुगलक ने कलिंग पर राज्य किया। यह वह दौर था जब कलिंग में कला का वर्चस्व कम होते-होते लगभग समाप्त ही हो चुका था। चूँकि तुगलक शासक कला-विरोधी रहे इसलिए किसी भी प्रकार के मन्दिर या मठ का निर्माण नहीं हुअा। 18वीं शती के आधुनिक काल में ईस्ट इण्डिया कम्पनी का सम्पूर्ण भारत पर अधिकार हो गया था परन्तु 20वीं शती के मध्य में अंग्रेजों के निगमन से भारत देश स्वतन्त्र हुआ। जिसके फलस्वरूप सम्पूर्ण भारत कई राज्यों में विभक्त हो गया, जिसमें से भारत के पूर्व में स्थित ओडिशा (पूर्व कलिंग) भी एक राज्य बना। .

नई!!: १९७७ और ओड़िशा का इतिहास · और देखें »

ओडिआ चलचित्र सूची

ओड़िआ चलचित्र की सारणी ओड़िआ भाषा .

नई!!: १९७७ और ओडिआ चलचित्र सूची · और देखें »

ओक्साना फ़ेदरोवा

ओक्साना फ़ेदरोवा ओक्साना फ़ेदरोवा (जन्म 17 दिसंबर 1977) वर्ष २००२ की मिस यूनीवर्स बनीं किंतु उनसे यह पदवी बाद में छीन ली गई एवं पनामा की जस्टिन पासेक को दे दी गई। वह रूस की रहने वाली हैं और वह पहली मिस रूस थीं जो मिस यूनीवर्स बनीं। उन्होंने अपना कैरियर एक मौडल के रूप में शुरु किया। १९९९ में वह मिस सेंट पीटर्सबर्ग बनीं और २००१ में मिस रूस। .

नई!!: १९७७ और ओक्साना फ़ेदरोवा · और देखें »

आधा दिन आधी रात (1977 फ़िल्म)

आधा दिन आधी रात 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और आधा दिन आधी रात (1977 फ़िल्म) · और देखें »

आनंद आश्रम (1977 फ़िल्म)

आनंद आश्रम 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और आनंद आश्रम (1977 फ़िल्म) · और देखें »

आन्दोलन (1977 फ़िल्म)

आन्दोलन (1977 फ़िल्म) एक हिन्दी फ़िल्म है। यद्यपि इसका निर्माण 30 नवम्बर 1976 को ही पूर्ण हो गया था किन्तु पूरे भारत में यह फ़िल्म सन् 1977 में ही प्रदर्शित हो सकी। नीतू सिंह और राकेश पाण्डे जैसे कलाकारों को लेकर बनी इस फ़िल्म का निर्देशन लेख टण्डन ने किया था। इसमें भक्तिकाल की कवियत्री मीराबाई से लेकर स्वतन्त्रता आन्दोलन के अग्रणी सेनानी रामप्रसाद 'बिस्मिल' तक के गीतों को सुप्रसिद्ध संगीतकार जयदेव ने स्वरबद्ध किया था। सामाजिक सरोकारों को लेकर बनायी गयी एक साफ सुथरी फ़िल्म थी। .

नई!!: १९७७ और आन्दोलन (1977 फ़िल्म) · और देखें »

आप की खातिर (1977 फ़िल्म)

आप की खातिर 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और आप की खातिर (1977 फ़िल्म) · और देखें »

आशिक हूँ बहारों का (1977 फ़िल्म)

आशिक हूँ बहारों का 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और आशिक हूँ बहारों का (1977 फ़िल्म) · और देखें »

आखिरी गोली (1977 फ़िल्म)

आखिरी गोली 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और आखिरी गोली (1977 फ़िल्म) · और देखें »

इंकार (1977 फ़िल्म)

इंकार 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और इंकार (1977 फ़िल्म) · और देखें »

कच दे वस्तर

कच दे वस्तर पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार सोहनसिंह मीशा द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और कच दे वस्तर · और देखें »

कन्वेंशन ड्यू मेत्रे

कन्वेंशन ड्यू मेत या फ्रेंच में Convention du Mètre 20 मई, 1875 को हुई एन अन्तर्राष्ट्रीय संधि थी, जिसमें मीट्रिक मानकों पर नजर रखने हेतु तीन संगठनों की स्थापना की गयी थी। यह फ़्रेंच भाषा में लिखी गयी है और इसे अंग्रेजी भाषा में Metre Convention या मीटर सम्मेलन कहा जाता है। संयुक्त राज्य में इसे मीटर की संधि भी कहते हैं। इसे 1921 में छठी CGPM में पुनरावलोकित किया गया था। इस सम्मेलन में तीन संगठनों का प्रादुर्भाव हुआ थ। वे हैं.

नई!!: १९७७ और कन्वेंशन ड्यू मेत्रे · और देखें »

कभी कभी (1976 फ़िल्म)

कभी कभी 1976 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और कभी कभी (1976 फ़िल्म) · और देखें »

कर्म (1977 फ़िल्म)

कर्म 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और कर्म (1977 फ़िल्म) · और देखें »

कश्मीर का इतिहास

भारत के उत्तरतम राज्य जम्मू और कश्मीर का इतिहास अति प्राचीन काल से आरंभ होता है। राजधानी में डल झील में एक शिकारे से दृश्य .

नई!!: १९७७ और कश्मीर का इतिहास · और देखें »

कसम कानून की (1977 फ़िल्म)

कसम कानून की 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और कसम कानून की (1977 फ़िल्म) · और देखें »

किनारा (1977 फ़िल्म)

किनारा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और किनारा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

किस्सा कुर्सी का (1977 फ़िल्म)

किस्सा कुर्सी का 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और किस्सा कुर्सी का (1977 फ़िल्म) · और देखें »

कुदुवायूर शिवराम नारायण स्वामी

कुदुवायूर शिवराम नारायण स्वामी को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: १९७७ और कुदुवायूर शिवराम नारायण स्वामी · और देखें »

कुमार गंधर्व

कुमार गंधर्व के नाम से प्रसिद्ध शिवपुत्र सिद्धराम कोमकाली को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। वह मध्य प्रदेश से हैं। .

नई!!: १९७७ और कुमार गंधर्व · और देखें »

कुरुति पुनल

कुरुति पुनल तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार इंदिरा पार्थसारथी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और कुरुति पुनल · और देखें »

कुलवधू (1977 फ़िल्म)

कुलवधू 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और कुलवधू (1977 फ़िल्म) · और देखें »

कुंदुर्ति कृतुलु

कुंदुर्ति कृतुलु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार कुंदुर्ति आंजनेयुलु द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और कुंदुर्ति कृतुलु · और देखें »

कुंभार चक्र

कुंभार चक्र ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार कालीचरण पटनायक द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और कुंभार चक्र · और देखें »

कैलाशनाथ कौल

प्रोफेसर कैलाश नाथ कौल (1905 - 1983) भारत के प्रख्यात वनस्पतिशास्त्री, कृषिवैज्ञानिक, उद्यानविज्ञानी, औषधि माहिर एवं प्रकृतिविज्ञानी थे। उन्हें सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। .

नई!!: १९७७ और कैलाशनाथ कौल · और देखें »

केरल के मुख्यमंत्रियों की सूची

केरल के मुख्यमंत्रियों की सूची के अंतर्गत भारत के केरल राज्य के इतिहास में सन् १९५६ के बाद से हुई विभिन्न सरकारों के प्रमुख के आते हैं। वर्तमान केरल राज्य १९५६ में ही अस्तित्व में आया जब तत्कालीन त्रावणकोर-कोचीन राज्य का पुनर्गठन किया गया। .

नई!!: १९७७ और केरल के मुख्यमंत्रियों की सूची · और देखें »

कोतवाल साब (1977 फ़िल्म)

कोतवाल साब 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और कोतवाल साब (1977 फ़िल्म) · और देखें »

कोलकाता

बंगाल की खाड़ी के शीर्ष तट से १८० किलोमीटर दूर हुगली नदी के बायें किनारे पर स्थित कोलकाता (बंगाली: কলকাতা, पूर्व नाम: कलकत्ता) पश्चिम बंगाल की राजधानी है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर तथा पाँचवा सबसे बड़ा बन्दरगाह है। यहाँ की जनसंख्या २ करोड २९ लाख है। इस शहर का इतिहास अत्यंत प्राचीन है। इसके आधुनिक स्वरूप का विकास अंग्रेजो एवं फ्रांस के उपनिवेशवाद के इतिहास से जुड़ा है। आज का कोलकाता आधुनिक भारत के इतिहास की कई गाथाएँ अपने आप में समेटे हुए है। शहर को जहाँ भारत के शैक्षिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तनों के प्रारम्भिक केन्द्र बिन्दु के रूप में पहचान मिली है वहीं दूसरी ओर इसे भारत में साम्यवाद आंदोलन के गढ़ के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। महलों के इस शहर को 'सिटी ऑफ़ जॉय' के नाम से भी जाना जाता है। अपनी उत्तम अवस्थिति के कारण कोलकाता को 'पूर्वी भारत का प्रवेश द्वार' भी कहा जाता है। यह रेलमार्गों, वायुमार्गों तथा सड़क मार्गों द्वारा देश के विभिन्न भागों से जुड़ा हुआ है। यह प्रमुख यातायात का केन्द्र, विस्तृत बाजार वितरण केन्द्र, शिक्षा केन्द्र, औद्योगिक केन्द्र तथा व्यापार का केन्द्र है। अजायबघर, चिड़ियाखाना, बिरला तारमंडल, हावड़ा पुल, कालीघाट, फोर्ट विलियम, विक्टोरिया मेमोरियल, विज्ञान नगरी आदि मुख्य दर्शनीय स्थान हैं। कोलकाता के निकट हुगली नदी के दोनों किनारों पर भारतवर्ष के प्रायः अधिकांश जूट के कारखाने अवस्थित हैं। इसके अलावा मोटरगाड़ी तैयार करने का कारखाना, सूती-वस्त्र उद्योग, कागज-उद्योग, विभिन्न प्रकार के इंजीनियरिंग उद्योग, जूता तैयार करने का कारखाना, होजरी उद्योग एवं चाय विक्रय केन्द्र आदि अवस्थित हैं। पूर्वांचल एवं सम्पूर्ण भारतवर्ष का प्रमुख वाणिज्यिक केन्द्र के रूप में कोलकाता का महत्त्व अधिक है। .

नई!!: १९७७ और कोलकाता · और देखें »

अटल बिहारी वाजपेयी

अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpeyee), (जन्म: २५ दिसंबर, १९२४) भारत के पूर्व प्रधानमंत्री हैं। वे पहले १६ मई से १ जून १९९६ तथा फिर १९ मार्च १९९८ से २२ मई २००४ तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। वे हिन्दी कवि, पत्रकार व प्रखर वक्ता भी हैं। वे भारतीय जनसंघ की स्थापना करने वाले महापुरुषों में से एक हैं और १९६८ से १९७३ तक उसके अध्यक्ष भी रहे। वे जीवन भर भारतीय राजनीति में सक्रिय रहे। उन्होंने लम्बे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन भी किया। उन्होंने अपना जीवन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के रूप में आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लेकर प्रारम्भ किया था और देश के सर्वोच्च पद पर पहुँचने तक उस संकल्प को पूरी निष्ठा से निभाया। वाजपेयी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पहले प्रधानमन्त्री थे जिन्होंने गैर काँग्रेसी प्रधानमन्त्री पद के 5 साल बिना किसी समस्या के पूरे किए। उन्होंने 24 दलों के गठबंधन से सरकार बनाई थी जिसमें 81 मन्त्री थे। कभी किसी दल ने आनाकानी नहीं की। इससे उनकी नेतृत्व क्षमता का पता चलता है। सम्प्रति वे राजनीति से संन्यास ले चुके हैं और नई दिल्ली में ६-ए कृष्णामेनन मार्ग स्थित सरकारी आवास में रहते हैं। .

नई!!: १९७७ और अटल बिहारी वाजपेयी · और देखें »

अनुरोध (1977 फ़िल्म)

अनुरोध 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और अनुरोध (1977 फ़िल्म) · और देखें »

अन्नपूर्णा देवी

---- अन्नपूर्णा देवी (जन्म: २३ अप्रैल, १९२७) भारत की एक प्रमुख संगीतकार हैं। वे अलाउद्दीन खान की बेटी और शिष्या हैं। उनको को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। १९४१ से १९६२ तक उनका विवाह पण्डित रवि शंकर से हुआ था जो स्वयं उनके पिता के शिष्य थे। विवाह-विच्छेद के पश्चात उन्होने सार्वजनिक रूप से कभी भी अपने संगीत का प्रदर्शन नहीं किया, मुम्बई आकर वे वहाँ शिक्षण कार्य करने लगीं। उनके प्रमुख शिष्य हैं-हरिप्रसाद चौरसिया, निखिल बनर्जी, अमित भट्टाचार्य, प्रदीप बरोत, सरस्वती शाह (सितार)। .

नई!!: १९७७ और अन्नपूर्णा देवी · और देखें »

अन्वेषणों की समय-रेखा

यहाँ ऐतिहासिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण तकनीकी खोजों की समय के सापेक्ष सूची दी गयी है। .

नई!!: १९७७ और अन्वेषणों की समय-रेखा · और देखें »

अपनापन (1977 फ़िल्म)

अपनापन १९७७ में बनी एक हिन्दी भाषा की फिल्म है। इस फिल्म की कहानी में नायक दिल्ली में नया आता है व उसका एक महिला के साथ प्यार हो जाता है। बाद में नायिका को पता चलता है की नायक पहले से शादीशुदा है व उसके एक बच्चा भी है। .

नई!!: १९७७ और अपनापन (1977 फ़िल्म) · और देखें »

अब क्या होगा (1977 फ़िल्म)

अब क्या होगा 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और अब क्या होगा (1977 फ़िल्म) · और देखें »

अमर अकबर एन्थोनी (1977 फ़िल्म)

अमर अकबर एन्थोनी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और अमर अकबर एन्थोनी (1977 फ़िल्म) · और देखें »

अमर अकबर एंथनी

अमर अकबर एंथनी 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और अमर अकबर एंथनी · और देखें »

अमेरिकी ओपन टेनिस के पुरुष एकल विजेताओं की सूची

* 1881 - रिचर्ड सीअर्स.

नई!!: १९७७ और अमेरिकी ओपन टेनिस के पुरुष एकल विजेताओं की सूची · और देखें »

अर्जुन पंडित (1976 फ़िल्म)

अर्जुन पंडित 1976 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और अर्जुन पंडित (1976 फ़िल्म) · और देखें »

अल्ताफ़ टायरवाला

अल्ताफ़ टायरवाला (जन्म जनवरी 1977) डैलस स्थित एक भारतीय अंग्रेजी उपन्यासकार हैं। उनका जन्म मुम्बई में भायखला के एक खोजा इस्माइली परिवार में हुआ। वे न्यूयॉर्क से बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन से स्नातक हैं। उनके पहले ही उपन्यास नो गॉड इन साईट को काफी सराहा गया। 2012 में उनके उपन्यास मिनिस्ट्री ऑफ हर्ट सेंटीमेंट्स और 2014 में लघुकथा संकलन इंग्गलिश्श का प्रकाशन हुआ। .

नई!!: १९७७ और अल्ताफ़ टायरवाला · और देखें »

अल्बर्ट गोर

अल गोरअल्बर्ट आर्नल्ड "अल" गोर, जूनियर (जन्म: 31 मार्च, 1948) अमरीका के 45वें उपराष्ट्रपति थे जिनका राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के तहत कार्यकाल रहा 1993 से 2001 तक। गोर इसके पहले अमरीकी हाउस ऑफ रिप्रेसेंटेटिव 1977-1978 तथा अमरीकी सेनेट 1985-1993 में टेनेसी प्रांत के प्रतिनिधि के रूप में कार्य कर चुके हैं। एक प्रखर पर्यावरणवादी के रूप में उन्हें 2007 का प्रतिष्ठित नोबल शांति पुरस्कार इंटरगवर्मेंटल पैनल आन क्लाईमेट चैंज के साथ संयुक्त रूप से नवाज़ा गया। गोर 2000 के अमरीकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में अग्रणी डेमोक्रैट प्रत्याशी थे पर लोकप्रिय वोट जीतने के बाद भी अंततः रिपब्लिकन प्रत्याशी जार्ज बुश से चुनाव हार गये थे। इस चुनाव के दौरान फ्लोरिडा प्राँत में हुये वोट की पुनर्गणना पर कानूनी विवाद, जिस पर सर्वोच्च न्यायालय ने बुश के हक में निर्णय दिया था, के कारण यह चुनाव अमरीकी इतिहास में सबसे ज्यादा विवादास्पद माना जाता है। .

नई!!: १९७७ और अल्बर्ट गोर · और देखें »

अशैबगी नित्याइपोद

अशैबगी नित्याइपोद मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. मीनकेतन सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और अशैबगी नित्याइपोद · और देखें »

अजीत आगरकर

अजित भालचंद्र आगरकर (मराठी:अजित भालचंद्र आगरकर) (जन्म 4 दिसंबर, 1977 मुंबई में) भारतीय टीम के एक क्रिकेट खिलाड़ी हैं। .

नई!!: १९७७ और अजीत आगरकर · और देखें »

अवहट्ठ : उद्भव ओ विकास

अवहट्ठ: उद्भव ओ विकास मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार राजेश्वर झा द्वारा रचित एक साहित्येतिहास है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मैथिली भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और अवहट्ठ : उद्भव ओ विकास · और देखें »

अग्निसाक्षी

अग्निसाक्षी मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ललितांबिका अंतर्जनम् द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और अग्निसाक्षी · और देखें »

उपरवास कथात्रयी

उपरवास कथात्रयी गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार रघुवीर चौधुरी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: १९७७ और उपरवास कथात्रयी · और देखें »

छलिया बाबू (1977 फ़िल्म)

छलिया बाबू 1977 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: १९७७ और छलिया बाबू (1977 फ़िल्म) · और देखें »

१ फ़रवरी

1 फरवरी ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 32वां दिन है। साल मे अभी और 333 दिन बाकी है (लीप वर्ष मे 334)। .

नई!!: १९७७ और १ फ़रवरी · और देखें »

१३ जुलाई

१३ जुलाई ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का १९४वॉ (लीप वर्ष में १९५ वॉ) दिन है। साल में अभी और १७१ दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और १३ जुलाई · और देखें »

१५ जून

15 जून ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 166वाँ (लीप वर्ष में 167 वाँ) दिन है। साल में अभी और 199 दिन बाकी हैं। .

नई!!: १९७७ और १५ जून · और देखें »

१५ अप्रैल

15 अप्रैल ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 105वॉ (लीप वर्ष मे 106 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 260 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और १५ अप्रैल · और देखें »

१६ सितम्बर

16 सितंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 259वां (लीप वर्ष मे 260 वां) दिन है। साल मे अभी और 106 दिन बाकी है।.

नई!!: १९७७ और १६ सितम्बर · और देखें »

१९ अगस्त

19 अगस्त ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 231वॉ (लीप वर्ष मे 232 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 134 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और १९ अगस्त · और देखें »

१९००

१९०० ग्रेगोरी कैलंडर का एक साधारण वर्ष है, जो सोमवार से प्रारंभ हुआ था। .

नई!!: १९७७ और १९०० · और देखें »

२ मार्च

2 मार्च ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 61वॉ (लीप वर्ष में 62 वॉ) दिन है। साल में अभी और 304 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २ मार्च · और देखें »

२० मई

20 मई ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 140वॉ (लीप वर्ष मे 141 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 225 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २० मई · और देखें »

२० जुलाई

२० जुलाई ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का २०१वॉ (लीप वर्ष में २०२ वॉ) दिन है। साल में अभी और १६४ दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २० जुलाई · और देखें »

२० अगस्त

20 अगस्त ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 232वॉ (लीप वर्ष में 233 वॉ) दिन है। साल में अभी और 133 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २० अगस्त · और देखें »

२२ मई

बछेंद्री पाल ने दुनिया के सबसे ऊंची पर्वत एवेरेस्ट को २२ मई १९८४ को फतह किया था। 22 मई ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 142वॉ (लीप वर्ष मे 143 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 223 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २२ मई · और देखें »

२३ नवम्बर

२३ नवंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३२७वॉ (लीप वर्ष में ३२८ वॉ) दिन है। साल में अभी और 38 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २३ नवम्बर · और देखें »

२४ जुलाई

२४ जुलाई ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का २०५वॉ (लीप वर्ष में २०६ वॉ) दिन है। साल में अभी और १६० दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २४ जुलाई · और देखें »

२५ जून

25 जून ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 176वाँ (लीप वर्ष में 177 वाँ) दिन है। साल में अभी और 189 दिन बाकी हैं। .

नई!!: १९७७ और २५ जून · और देखें »

२५ अप्रैल

25 अप्रैल ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 115वॉ (लीप वर्ष मे 116 वॉ) दिन है। साल मे अभी8709700431और 250 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २५ अप्रैल · और देखें »

२५ अगस्त

25 अगस्त ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 237वॉ (लीप वर्ष मे 238 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 128 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २५ अगस्त · और देखें »

२६ सितम्बर

26 सितंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 269वॉ (लीप वर्ष में 270 वॉ) दिन है। साल में अभी और 96 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २६ सितम्बर · और देखें »

२६ अगस्त

26 अगस्त ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 238वॉ (लीप वर्ष में 239 वॉ) दिन है। साल में अभी और 127 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २६ अगस्त · और देखें »

२८ सितंबर

28 सितंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 281वॉ (लीप वर्ष में 282 वॉ) दिन है। साल में अभी और 94 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और २८ सितंबर · और देखें »

३ दिसम्बर

3 दिसंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 337वॉ (लीप वर्ष में 338 वॉ) दिन है। साल में अभी और 28 दिन बाकी है। १२३४५६७८९ .

नई!!: १९७७ और ३ दिसम्बर · और देखें »

४ दिसम्बर

4 दिसंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 338वॉ (लीप वर्ष में 339 वॉ) दिन है। साल में अभी और 27 दिन बाकी है। .

नई!!: १९७७ और ४ दिसम्बर · और देखें »

४ फ़रवरी

4 फरवरी ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 35वॉ दिन है। साल मे अभी और 330 दिन बाकी है (लीप वर्ष मे 331)। इस दिन श्रीलंका में स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। .

नई!!: १९७७ और ४ फ़रवरी · और देखें »

५०० होम रन दल

In मेजर लीग बेसबॉल, the ५०० होम रन क्लब is an informal term applied to the group of players who have hit 500 or more career home runs.

नई!!: १९७७ और ५०० होम रन दल · और देखें »

६ जनवरी

6 जनवरी ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 6वाँ दिन है। साल में अभी और 359 दिन बाकी हैं (लीप वर्ष में 360)।.

नई!!: १९७७ और ६ जनवरी · और देखें »

६ जून

6 जून ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 157वाँ (लीप वर्ष में 158 वाँ) दिन है। साल में अभी और 208 दिन बाकी हैं।.

नई!!: १९७७ और ६ जून · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

1977

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »