लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

रायपुर

सूची रायपुर

रायपुर छत्तीसगढ की राजधानी है। यह देश का २६ वां राज्य है। ०१ नवम्बर २००० को मध्यप्रदेश से विभाजित छत्तीसगढ़ का निर्माण किया गया। .

157 संबंधों: चितावरी देवी मंदिर,धोबनी,रायपुर, चित्रकूट, चौदहवीं लोकसभा, चोकिला अय्यर, ठाकुर प्यारेलाल सिंह, तिल्दा, त्र्यम्बक शर्मा, द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स, दसलाखी नगर, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर, दक्षिणपूर्व मध्य रेलवे, देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, देओभोग, धमतरी, नवभारत (पत्र), नगरघड़ी, नुआपाड़ा, पचमढ़ी, पदुमलाल पन्नालाल बख्शी, परिकल्पना सम्मान, पिपरिया, कबीरधाम, पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना, प्रस्तर, प्राचीन शिव मंदिर,डमरू,रायपुर, प्राचीन ईंटों का मंदिर,नवागाँव,रायपुर, प्रवीर चंद्र भंज देव, फणिकेश्वर महादेव मंदिर,फिंगेश्वर,रायपुर, फाउंडेशन प्रयास, फिंगेश्वर, बलोदा बाजार, बस्तर जिला, बिलाईगड़, भारत, भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची, भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार, भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची, भारत में स्मार्ट नगर, भारत में विश्वविद्यालयों की सूची, भारत में कृषि, भारत का भूगोल, भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर, भारत के प्रवेशद्वार, भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार, भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश, भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ, भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची, भारत २०१०, भारतीय प्रबन्धन संस्थान, भारतीय प्रबंधन संस्थान, रायपुर, ..., भारतीय रिज़र्व बैंक, भोरमदेव, महानदी, महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय, रायपुर, माँ पीताम्बरा बगलामुखी मंदिर (अमलेश्वर), माणिकचंद्र वाजपेयी, माधवराव सप्रे, माय एफएम, मायाराम सुरजन, मावली देवी मंदिर,तरपोंगा,रायपुर, मैट्स विश्वविद्यालय, मैनपुर, रणजी ट्रॉफी 2016-17, रणजी ट्रॉफी 2016-17 ग्रुप ए, रणजी ट्रॉफी ग्रुप डी 2017-18, रतनपुर, छत्तीसगढ़, राधेलाल हरदेव रिछारिया, रामशंकर अग्निहोत्री, रायपुर जिला, रायपुर विमानक्षेत्र, रायपुर विकास प्राधिकरण, रायपुर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रायपुर, राष्ट्रीय राजमार्ग १२ए, राष्ट्रीय राजमार्ग २१७, राष्ट्रीय राजमार्ग ६, राजनांदगाँव, राजभवन (छत्तीसगढ़), राजस्थान पत्रिका, राजा भोज विमानक्षेत्र, राजिम (फ़िन्गेश्वर), रविशंकर शुक्ल, रेडियो मिर्ची, लखीराम अग्रवाल, लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर, शिव मंदिर,चंदखुरी,रायपुर, शिव मंदिर,गिरौद,रायपुर, शिवरी नारायण, श्रीधर व्यंकटेश केतकर, श्रीकांत वर्मा, शेखर सेन, सिद्धेश्वर मंदिर, पलारी, रायपुर, सिम्गा, सिहावा, संचित, संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा, सुन्दरलाल शर्मा, स्वदेश (हिन्दी समाचारपत्र), स्वामी विवेकानन्द, सृजन सम्मान, हबीब तनवीर, हरि ठाकुर, हरिभूमि, हरिसिंह गौर, हरगोविन्द खुराना, हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, हिन्दी की साहित्यिक पत्रिकायें, हिंदी की विभिन्न बोलियाँ और उनका साहित्य, हुदहुद (चक्रवात), हेमू कालाणी, जनसत्ता, जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर, जमशेदपुर, ज़ोनल टी-20 लीग 2018, जेट कनेक्ट, वल्लभाचार्य, विधान सभा, विमानक्षेत्रों की सूची ICAO कोड अनुसार: V, वैकुण्ठ, खुडिया बांध, गरियाबंध, गंगा नारायण सिंह, गुरू घासीदास, गीदम, आधिकारिक आवास, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, कबीर पंथ, कबीरधाम जिला, कम्मा (जाति), कार्टून वाच, कुलेश्वर मंदिर,राजिम,रायपुर, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, के एस सुदर्शन, केयूर भूषण, अभनपुर, अलका क्रिप्लानी, अजीत जोगी, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, उत्तर भारत, उर्मिला सिंह, छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमिटी, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल, रायपुर, छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग, छत्तीसगढ़ विधान सभा, छत्तीसगढ़ आयुष एवं स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ के धार्मिक स्थल, छत्तीसगढ़ के राज्य संरक्षित स्थल, छत्तीसगढ़ के राज्यपालों की सूची, छत्तीसगढ़ के छत्तीस गढ़, छत्तीसगढ़ी भाषा और साहित्य, छुरा (तहसील), २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग, 2015 इंडियन प्रीमियर लीग सूचकांक विस्तार (107 अधिक) »

चितावरी देवी मंदिर,धोबनी,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक चितावरी देवी मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में रायपुर-बिलासपुर रोड पर रायपुर नगर से ५७ कि॰मी॰ दूर स्थित दामाखेड़ा नामक प्रसिद्ध स्थल (जहां पर कबीर पंथी गुरूओं की गद्दी स्थापित है) से २ किलोमीटर की दूरी पर धोबनी नामक गांव में तालाब के किनारे प्रस्तर और ईंट से निर्मित है। ऊंची जगती पर निर्मित यह मंदिर मूलत: शिव मंदिर था जिसके गर्भगृह का परवर्ती मध्यकाल में जीर्णोद्धार किया गया। मंदिर के गर्भगृह में रखी विरुपित प्रतिमा चितावरी देवी के रूप में पूजित है। ईंटनिर्मित ताराकृति वाले मंदिरों का यह सुन्दर उदाहरण है जो ८-९वीं शती ईस्वी में निर्मित है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और चितावरी देवी मंदिर,धोबनी,रायपुर · और देखें »

चित्रकूट

चित्रकूट धाम मंदाकिनी नदी के किनारे पर बसा भारत के सबसे प्राचीन तीर्थस्थलों में एक है। उत्तर प्रदेश में 38.2 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला शांत और सुन्दर चित्रकूट प्रकृति और ईश्वर की अनुपम देन है। चारों ओर से विन्ध्य पर्वत श्रृंखलाओं और वनों से घिरे चित्रकूट को अनेक आश्चर्यो की पहाड़ी कहा जाता है। मंदाकिनी नदी के किनार बने अनेक घाट और मंदिर में पूरे साल श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहता है। माना जाता है कि भगवान राम ने सीता और लक्ष्मण के साथ अपने वनवास के चौदह वर्षो में ग्यारह वर्ष चित्रकूट में ही बिताए थे। इसी स्थान पर ऋषि अत्रि और सती अनसुइया ने ध्यान लगाया था। ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने चित्रकूट में ही सती अनसुइया के घर जन्म लिया था। .

नई!!: रायपुर और चित्रकूट · और देखें »

चौदहवीं लोकसभा

भारत में चौदहवीं लोकसभा का गठन अप्रैल-मई 2004 में होनेवाले आमचुनावोंके बाद हुआ था। .

नई!!: रायपुर और चौदहवीं लोकसभा · और देखें »

चोकिला अय्यर

चोकिला अय्यर भारत की पहली महिला विदेश सचिव रह चुकी हैं। वे 1964 बैच की आई एफ एस अधिकारी हैं। उन्होने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों के लिए राष्‍ट्रीय आयोग के उपाध्‍यक्ष एवं संघ लोक सेवा आयोग की सदस्‍य के रूप में भी काम किया है।http://www.outlookindia.com/peoplehome3.aspx?author.

नई!!: रायपुर और चोकिला अय्यर · और देखें »

ठाकुर प्यारेलाल सिंह

ठाकुर प्यारेलाल सिंह छत्तीसगढ़ में श्रमिक आंदोलन के सूत्रधार तथा सहकारिता आंदोलन के प्रणेता थे। उनका जन्म 21 दिसम्बर 1891 को राजनांदगांव जिले के दैहान ग्राम में हुआ। पिता का नाम दीनदयाल सिंह तथा माता का नाम नर्मदा देवी था। आपकी शिक्षा राजनांदगांव तथा रायपुर में हुई। नागपुर तथा जबलपुर में आपने उच्च शिक्षा प्राप्त कर 1916 में वकालत की परीक्षा उत्तीर्ण की। बाल्यकाल से ही आप मेधावी तथा राष्ट्रीय विचारधारा से ओत-प्रोत थे। 1906 में बंगाल के क्रांतिकारियों के संपर्क में आकर क्रांतिकारी साहित्य के प्रचार आरंभ किया और विद्यार्थियों को संगठित कर जुलूस के समय वन्देमातरम् का नारा लगवाते थे। 1909 में सरस्वती पुस्तकालय की स्थापना की। 1920 में राजनांदगांव में मिल-मालिकों के शोषण के विरुद्ध आवाज उठाई, जिसमें मजदूरों की जीत हुई। आपने स्थानीय आंदोलनों और राष्ट्रीय आंदोलन के लिए जन-सामान्य को जागृत किया। 1925 से आप रायपुर में निवास करने लगे। आपने छत्तीसगढ़ में शराब की दुकानों में पिकेटिंग, हिन्दू-मुस्लिम एकता, नमक कानून तोड़ना, दलित उत्थान जैसे अनेक कार्यो का संचालन किया। देश सेवा करते हुए आप अनेक बार जेल गए। मनोबल तोड़ने के लिए आपके घर छापा मारकर सारा सामान कुर्क कर दिया गया, परन्तु आप नहीं डिगे। राजनैतिक झंझावातों के बीच 1937 में रायपुर नगरपालिका के अध्यक्ष चुने गए। 1945 में छत्तीसगढ़ के बुनकरों को संगठित करने के लिए आपके नेतृत्व में छत्तीसगढ़ बुनकर सहकारी संघ की स्थापना हुई। प्रवासी छत्तीसगढ़ियों को शोषण एवं अत्याचार से मुक्त कराने की दिशा में भी आप सक्रिय रहे। वैचारिक मतभेदों के कारण सत्ता पक्ष को छोड़कर आप आचार्य कृपलानी की किसान मजदूर पार्टी में शामिल हुए। 1952 में रायपुर से विधानसभा के लिए चुने गए तथा विरोधी दल के नेता बने। विनोबा भावे के भूदान एवं सर्वोदय आंदोलन को आपने छत्तीसगढ़ में विस्तारित किया। 20 अक्टूबर 1954 को भूदान यात्रा के समय अस्वस्थ हो जाने से आपका निधन हो गया। छत्तीसगढ़ शासन ने उनकी स्मृति में सहकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए ठाकुर प्यारेलाल सिंह सम्मान स्थापित किया है। .

नई!!: रायपुर और ठाकुर प्यारेलाल सिंह · और देखें »

तिल्दा

तिल्दा रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और तिल्दा · और देखें »

त्र्यम्बक शर्मा

त्र्यम्बक शर्मा त्र्यम्बक शर्मा (५ सितम्बर १९७०) भारत के युवा कार्टूनिस्ट हैं। उन्हें विशेष रूप से कार्टून आधारित एकमात्र मासिक पत्रिका कार्टून वाच के संस्थापक के रूप में जाना जाता है। शंकर्स वीकली के बाद भारत में कार्टून पत्रिका प्रारंभ करने वाले त्र्यम्बक शर्मा का जन्म छत्तीसगढ़ में और शिक्षा दुर्ग-भिलाई और रायपुर में हुई। भिलाई के कल्याण महाविद्यालय से विज्ञान में स्नातक होने के बाद त्र्यम्बक ने रायपुर से पत्रकारिता में स्नातक डिग्री प्राप्त की। कार्टून वाच पत्रिका के प्रकाशन के चलते वे सपरिवार रायपुर में ही बस गए। त्र्यम्बक कार्टूनिस्ट की नज़र से उन्होंने तीन वर्ष रायपुर के सुप्रसिद्ध अंग्रेज़ी दैनिक़ द हितवाद मे तथा एक वर्ष हिंदी दैनिक देशबंधु में मे बतौर संवाददाता कार्य भी किया। रायपुर में दैनिक नवभारत में काम करते हुए उन्होंने १९९१ में दैनिक कार्टून बनाना प्रारंभ किया। १९९२ से उनके कार्टून दैनिक भास्कर के रायपुर संस्करण में प्रथम पृष्ठ पर प्रकाशित होना प्रारंभ हुए। १९९६ में उन्होंने दैनिक भास्कर की नौकरी छोड़कर मासिक पत्रिका कार्टून वाच का प्रकाशन रायपुर से आरम्भ किया। कार्टून वाच राजनीतिक और सामाजिक कार्टूनों पर आधारित भारत की एक मात्र हिंदी कार्टून मासिक पत्रिका है। यह पत्रिका जहाँ पुराने कार्टूनिस्टों के कार्टूनों का पुनः प्रकाशन करती है वहीं नए कार्टूनिस्टों की प्रतिभा को सामने लाने का लिए भी मंच प्रदान करती है। देश-विदेश में अपनी प्रदर्शनियाँ करने वाले त्र्यंबक रायपुर में एक कार्टून संग्रहालय बनाने में लगे हैं। .

नई!!: रायपुर और त्र्यम्बक शर्मा · और देखें »

द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स

गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स दक्षिण एशिया का एक अत्याधुनिक, पूर्ण सेवा प्रदान करने मध्य बाजार होटल और रिजॉर्ट श्रृंखला है। गेटवे होटल्स का स्वामित्व इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड के पास हैं और यह टाटा समूह का एक हिस्सा है। .

नई!!: रायपुर और द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स · और देखें »

दसलाखी नगर

जो शहर मोटे अक्षरों में लिखे हैं वो अपने राज्य या केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी भी हैं .

नई!!: रायपुर और दसलाखी नगर · और देखें »

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर

दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे, बिलासपुर, भारत के सत्रह रेलवे जोन मुख्यालयों में से एक है जिसका मुख्यालय बिलासपुर, छत्तीसगढ़ में स्थित है। इसके कार्यक्षेत्र में बिलासपुर, रायपुर तथा नागपुर मंडल आतें हैं। दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे, बिलासपुर भारत के सभी १७ रेलवे जोनों में सबसे अधिक आय अर्जित करने वाला ज़ोन मुख्यालय है। इसके पूर्व बिलासपुर तथा रायपुर रेल मंडल दक्षिण-पूर्व रेलवे, कोलकता से संचालित होते थे तथा नागपुर मंडल मध्य रेलवे से.

नई!!: रायपुर और दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर · और देखें »

दक्षिणपूर्व मध्य रेलवे

दक्षिणपूर्व मध्य रेलवे भारतीय रेल की का एक रेल क्षेत्र है। इसे लघुरूप में दपूमरे कहा जाता है। इसकी स्थापना 1 अप्रैल 2003 में हुई थी। इसका मुख्यालय बिलासपुर में स्थित है। .

नई!!: रायपुर और दक्षिणपूर्व मध्य रेलवे · और देखें »

देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

इंदौर विमानक्षेत्र इंदौर में स्थित है। इसका ICAO कोडहै VAID और IATA कोड है IDR। यह एक नागरिक हवाई अड्डा है। यहां कस्टम्स विभाग उपस्थित नहीं है। इसका रनवे पेव्ड है। इसकी प्रणाली यांत्रिक हाँ है। इसकी उड़ान पट्टी की लंबाई 7500 फी.

नई!!: रायपुर और देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र · और देखें »

देओभोग

देओभोग रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और देओभोग · और देखें »

धमतरी

धमतरी भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के धमतरी जिले में स्थित एक नगर है। यह धमतरी जिले का मुख्यालय भी है। यह 6 जुलाई 1998 में बना। यह महानदी के समीप रायपुर से ५५ किमी दक्षिण में स्थित है। यह रेलवे का अंतिम स्टेशन है। इसके समीपवर्ती क्षेत्रों में नहरों द्वारा सिंचाई होती है, जिससे कृषिक्षेत्र का यह केंद्र है। इसके अतिरिक्त समीपवर्ती जंगलों से इमारती लकड़ी, लाख तथा हरीतकी या हर्रा का व्यापार होता है। यहाँ धान कूटने, आटा पीसने और लाख बनाने के अनेक कारखानें हैं। यह शिक्षा का केंद्र भी है। यहाँ एक औद्योगिक स्कूल है। दक्षिण-पश्चिम में सीसे की खानें हैं। .

नई!!: रायपुर और धमतरी · और देखें »

नवभारत (पत्र)

नवभारत हिन्दी का एक समाचार पत्र है। रामगोपाल माहेश्वरी ने नागपुर से `नवभारत' दैनिक पत्र का प्रकाशन १९३८ में किया। इसके पाँच संस्करण प्रकाशित हो रहे हैं- नागपुर (१९३०), जबलपुर (१९५०), भोपाल (१९५६), रायपुर (१९५९) तथा इन्दौर (१९६०)। रामगोपाल माहेश्वरी इसके प्रधान सम्पादक रहे हैं। उनके बाद कालिकाप्रसाद दीक्षित, मदनलाल माहश्वरी इसके प्रधान सम्पादक रहे हैं। छत्तीसगढ़ और ओडिशा के प्रधान संपादक समीर माहेश्वरी हैं, जबकि संपादन का कार्यभार रुचिर गर्ग के जिम्मे है। .

नई!!: रायपुर और नवभारत (पत्र) · और देखें »

नगरघड़ी

रायपुर स्थित नगरघड़ी छत्तीसगढ़ लोक संस्कृति की पहचान है। इसे 1995 में नगर के मध्य स्थित पं रविशंकर शुक्ला उद्यान में स्थापित किया गया था। कांक्रीट से बने लगभग 50 फुट ऊँचे इसके स्तंभ के चारो ओर छह फुट व्यास की मैकेनिकल घड़ी लगाई गई थी। घड़ी में हर घंटे के बाद इसके बुर्ज में लगा घंटा बजता था। वर्ष 2007 में मैकेनिकल घड़ी में लगातार आ रही तकनीकी खराबी के कारण रायपुर विकास प्राधिकरण ने इसे बदलने का निर्णय लिया। घड़ी को बदल कर जी.पी.एस प्रणाली वाली नई प्रणाली की घड़ी लगाने का फैसला लिया गया। जी.पी.एस. प्रणाली पर आधारित घड़ी सही समय बताती है। यह प्रणाली भारतीय सेना और भारतीय रेल द्वारा उपयोग की जा रही है। रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री श्याम बैस ने छत्तीसगढ़ की लोकधुनों को लोकप्रिय बनाने के लिए नगरघड़ी में हर घंटे के बाद बजने वाले घंटे की आवाज के पहले छत्तीसगढ़ की लोकधुनों को संयोजित करने का निर्णय लिया ताकि इससे आम आदमी भी छत्तीसगढ़ की लोकधुनों से परिचित हो सके। 26 जनवरी 2008 को नई घड़ी लगने के बाद से हर दिन हर घंटे छत्तीसगढ़ी धुनें बजती हैं। इन धुनों का चयन प्रदेश के लोक कलाकारों की विशेषज्ञ समिति के द्वारा किया गया है जिसमें लोक संगीत को पुरोधा माने जाने वाले श्री खुमानलाल साव, लोक गायिका श्रीमती ममता चन्द्राकर, छत्तीसगढ़ी फिल्म निर्देशक श्री मोहन सुन्दरानी, लोक कला के ज्ञाता श्री शिव कुमार तिवारी और लोक कलाकार श्री राकेश तिवारी शामिल थे। समिति की अनुशंसा के फलस्वरुप श्री राकेश तिवारी ने विशेष रूप से लोकधुनें तैयार की है। सुबह चार बजे से हर घंटे के बाद लगभग 30 सेकेण्ड की यह धुनें नगरघड़ी में बजती हुई छत्तीसगढ़ की लोकधुनों से आम आदमी का परिचय कराती है। रायपुर की नगरघड़ी में चौबीस घंटे चौबीस धुनें बजती है। सुबह 4 बजे से प्रारंभ कर के इन धुनों के नाम इस प्रकार हैं- 4:00 बजे – जसगीत, 5:00 बजे – रामधुनी, 6:00 बजे – भोजली, 7:00 बजे - पंथी नाचा, 8:00 बजे – ददरिया, 9:00 बजे – देवार, 10:00 बजे – करमा, 11:00 बजे – भड़ौनी, दोपहर 12:00 बजे - सुआ गीत, 1:00 बजे – भरथरी, 2:00 बजे - डंडा नृत्य, 3:00 बजे – चंदैनी, 4:00 बजे – पंडवानी, सांयः 5:00 बजे - राऊत नाचा, 6:00 बजे – सरहुल, 7:00 बजे – आल्हा, रात 8:00 बजे - गौरा गीत, 9:00 बजे - गौर नृत्य, 10:00 बजे – धनकुल, 11:00 बजे – नाचा, 12:00 बजे - बांस गीत, 1:00 बजे - कमार गीत, 2:00 बजे - फाग गीत और 3:00 बजे - सोहर गीत की धुनें नगरघड़ी से सुनी जा सकती है। छत्तीसगढ़ की लोकधुन सुनाने की अवधारणा के कारण नगरघड़ी को लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स और इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स में शामिल किया गया है। श्रेणी:रायपुर के पर्यटन स्थल श्रेणी:चित्र जोड़ें.

नई!!: रायपुर और नगरघड़ी · और देखें »

नुआपाड़ा

नुआपाड़ा भारत के ओड़ीसा प्रान्त का एक शहर है। यह नुआपाड़ा जिला मुख्यालय है। पश्चिमी ओड़ीसा का नुआपाडा जिला मध्य प्रदेश के रायपुर और ओड़ीसा के बरगढ़, बलंगीर व कालाहांडी जिलों से घिरा हुआ है। 3407.05 वर्ग किलोमीटर में फैला यह जिला 1993 तक कालाहांडी का हिस्सा था, लेकिन प्रशासनिक सुविधा के लिहाज से इसे कालाहांडी से अलग एक नए जिले के रूप में गठित कर दिया गया। पतोरा जोगेश्वर मंदिर, राजीव उद्यान, पातालगंगा, योगीमठ, बूढ़ीकोमना, खरीयार, गौधस जलप्रताप आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। .

नई!!: रायपुर और नुआपाड़ा · और देखें »

पचमढ़ी

पचमढ़ी की पांडव गुफ़ाएँमध्यप्रदेश के एकमात्र पर्वतीय स्थल होशंगाबाद जिले में स्थित पचमढ़ी समुद्र तल से १,०६७ मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। सतपुड़ा श्रेणियों के बीच स्थित होने और अपने सुंदर स्थलों के कारण इसे सतपुड़ा की रानी भी कहा जाता है। यहाँ घने जंगल, कलकल करते जलप्रपात और तालाब हैं। सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान का भाग होने के कारण यहाँ आसपास बहुत घने जंगल हैं। यहाँ के जंगलों में शेर, तेंदुआ, सांभर, चीतल, गौर, चिंकारा, भालू, भैंसा तथा कई अन्य जंगली जानवर मिलते हैं। यहाँ की गुफाएँ पुरातात्विक महत्व की हैं क्योंकि यहाँ गुफाओं में शैलचित्र भी मिले हैं। .

नई!!: रायपुर और पचमढ़ी · और देखें »

पदुमलाल पन्नालाल बख्शी

डॉ॰ पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी (27 मई 1894-28 दिसम्बर 1971) जिन्हें ‘मास्टरजी’ के नाम से भी जाना जाता है, हिंदी के निबंधकार थे। वे राजनंदगांव की हिंदी त्रिवेणी की तीन धाराओं में से एक हैं।। राजनांदगांव के त्रिवेणी परिसर में इनके सम्मान में मूर्तियों की स्थापना की गई है। .

नई!!: रायपुर और पदुमलाल पन्नालाल बख्शी · और देखें »

परिकल्पना सम्मान

परिकल्पना सम्मान हिन्दी ब्लॉगिंग का एक ऐसा वृहद सम्मान है, जिसे बहुचर्चित तकनीकी ब्लॉगर रवि रतलामी ने हिन्दी ब्लॉगिंग का ऑस्कर कहा है। यह सम्मान प्रत्येक वर्ष आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में देशविदेश से आए हिन्दी के चिरपरिचित ब्लॉगर्स की उपस्थिति में प्रदान किया जाता है। .

नई!!: रायपुर और परिकल्पना सम्मान · और देखें »

पिपरिया, कबीरधाम

पिपरिया, छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले की एक नगर पंचायत है। यह राजधानी रायपुर से 103 किलोमीटर पश्चिम की ओर एवं जिला कबीरधाम से 13 किलोमीटर दूर पूर्व की ओर स्थित एक सुरम्य नगर है। पिपरिया शहर सन् 2008 में नगर पंचायत के रूप में अस्तित्व में आया । यह नगर सकरी नदी के किनारे स्थित है । श्रेणी:छत्तीसगढ़ के नगर.

नई!!: रायपुर और पिपरिया, कबीरधाम · और देखें »

पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय

पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में स्थित विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना १९६४ में हुई थी। इसका नामकरण अविभाजित मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री पं॰ रविशंकर शुक्ल के नाम पर किया गया है। यह एक मई १९६४ को अस्तित्व में आया और १ जून १९६४ से ४६ संबद्ध महाविद्यालयों, ५ विश्वविद्यालय शिक्षण विभाग (यूटीडी) और ३४ हजार छात्रों के साथ काम करना शुरू किया। तत्कालीन सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने २ जून १९६४ को विश्चविद्यालय के पांच स्नातकोत्तर विभागों का शुभारंभ किया। दुर्ग में दुर्ग विश्वविद्यालय के नाम से नए विश्वविद्यालय की स्थापना के साथ पं रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कार्यक्षेत्र में पांच जिले-रायपुर, बलौदाबाजार-भाटापारा, धमतरी, महासमुंद और गरियाबंद के ४० सरकारी तथा ८४ गैर सरकारी कॉलेज शामिल रह गए हैं, इस तरह से संबद्ध महाविद्यालयों की संख्या घटकर १२४ रह गई है। .

नई!!: रायपुर और पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय · और देखें »

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना

'प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना एक योजना है इसका उद्देश्य देश के विभिन्न भागों में स्वास्थ्य सुविधाओं को सभी के लिए सामान रूप से उपलब्ध करवाना है ' इस योजना के अंतर्गत देश के पिछड़े राज्यों में चिकित्सा शिक्षा को बेहतर करने हेतु सुविधाएँ उपलब्ध करवाने का लक्ष्य निर्धारित है। इस योजना को मार्च 2006 में मंजूरी दी गई थी। .

नई!!: रायपुर और प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना · और देखें »

प्रस्तर

प्रस्तर का अर्थ होता है पत्थर। .

नई!!: रायपुर और प्रस्तर · और देखें »

प्राचीन शिव मंदिर,डमरू,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक प्राचीन शिव मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में डमरू नगर में स्थित है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और प्राचीन शिव मंदिर,डमरू,रायपुर · और देखें »

प्राचीन ईंटों का मंदिर,नवागाँव,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक प्राचीन ईंटों का मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में नागपुर-संबलपुर राष्ट्रीय मार्ग पर रायपुर से १९ कि॰मी॰ पर स्थित नवागांव में तालाब की मेड़ पर स्थित है। ऊंचे चबूतरे पर विद्यमान इस पूर्वाभिमुखी मंदिर में गर्भगृह, अन्तराल एवं मण्डप तीन अंग हैं। अब इस मंदिर का गर्भगृह रिक्त है। संभवत: यह मंदिर शिव मंदिर था, इस मंदिर के गर्भगृह का शिवलिंग इसके पास ग्रामीणों द्वारा निर्मित नये शिवमंदिर में पूर्व में स्थानांतरित कर दिया गया है। गर्भगृह की प्रस्तर निर्मित द्वार चौखट एवं मण्डप के स्तंभ मंदिर की दीवारों एवं शिखर से अधिक प्राचीन मालूम पड़ते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि इस मंदिर का निर्माण १६-१७ वीं शती ईस्वी में हुआ तथा १२-१३ वीं शती में निर्मित हुए किसी ध्वस्त मंदिर की द्वारचौखट एवं स्तंभ इसमें प्रयुक्त हुए हैं। छत्तीसगढ़ में प्राप्त समकालीन ईंटनिर्मित मंदिर-वास्तु का अच्छा उदाहरण है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और प्राचीन ईंटों का मंदिर,नवागाँव,रायपुर · और देखें »

प्रवीर चंद्र भंज देव

प्रवीर चंद्र भंज देव (२५ जून १९२९ -- २५ मार्च १९६६) प्रथम ओड़िया शासक तथा बस्तर के २०वें महाराजा थे। वे जनजातीय लोगों के कल्याण के लिए संघर्ष करते रहे। १९६६ में मध्य प्रदेश की सरकार ने उन्हें मार डाला । अविभाजित मध्य प्रदेश में वे १९५७ में जगदलपुर विधान सभा से चुने गये थे। राजा प्रवीर चंद भंजदेव का ग्रामीणों से आत्मीय संबंध था, इसलिए आज भी ग्रामीण उनकी तस्वीरों को अपने घरों में मां दंतेश्वरी के साथ रखना पसंद करते हैं। वे बस्तर के अन्तिम काकतीय राजा थे। उनकी शिक्षा रायपुर के राजकुमार महाविद्यालय में हुई थी। २८ अक्टूबर १९३६ को उनका राज्याभिषेक हुआ था। .

नई!!: रायपुर और प्रवीर चंद्र भंज देव · और देखें »

फणिकेश्वर महादेव मंदिर,फिंगेश्वर,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक फणिकेश्वर महादेव मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में फिंगेश्वर नगर में स्थित है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और फणिकेश्वर महादेव मंदिर,फिंगेश्वर,रायपुर · और देखें »

फाउंडेशन प्रयास

फाउंडेशन प्रयास संस्थान .

नई!!: रायपुर और फाउंडेशन प्रयास · और देखें »

फिंगेश्वर

फिगेश्वर नगरी एक पुरातात्विक महत्व की नगरी है। यह छतीसगढ़ के छत्तीस गढों में से एक स्वतंत्र गढ रहा है। यह नगर अभी छ्त्तीसगढ के नवीन जिला गरियाबन्द के 5 विकासखण्डो में से एक है। यहाँ फणिकेश्वरनाथ महादेव का प्राचीन मन्दिर है। मन्दिर में प्राचीन शैल प्रतिमायें विद्मान हैं। .

नई!!: रायपुर और फिंगेश्वर · और देखें »

बलोदा बाजार

बलोदा बाजार रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और बलोदा बाजार · और देखें »

बस्तर जिला

बस्तर भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ का एक जिला है। जिले का प्रशासनीक मुख्यालय जगदलपुर है। यहां की कुल आबादी का लगभग 70% भाग जनजातीय है। इसके उत्तर में दुर्ग, उत्तर-पूर्व में रायपुर, पश्चिम में चांदा, पूर्व में कोरापुट तथा दक्षिण में पूर्वी गोदावरी जिले हैं। यह पहले एक देशी रियासत था। इसका अधिकांश भाग कृषि के अयोग्य है। यहाँ जंगल अधिक हैं जिनमें गोंड एवं अन्य आदिवासी जातियाँ निवास करती हैं। जगंलों में टीक तथा साल के पेड़ प्रमुख हैं। यहाँ की स्थानांतरित कृषि में धान तथा कुछ मात्रा में ज्वार, बाजरा पैदा कर लिया जाता है। इंद्रावती यहाँ की प्रमुख नदी है। चित्राकट में कई झरने भी हैं। जगदलपुर, बीजापुर, कांकेर, कोंडागाँव, भानु प्रतापपुर आदि प्रमुख नगर हैं। यहाँ के आदिवासी जंगलों में लकड़ियाँ, लाख, मोम, शहद, चमड़ा साफ करने तथा रँगने के पदार्थ आदि इकट्ठे करते रहते हैं। खनिज पदार्थों में लोहा, अभ्रक महत्वपूर्ण हैं। .

नई!!: रायपुर और बस्तर जिला · और देखें »

बिलाईगड़

बिलाईगड़ रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और बिलाईगड़ · और देखें »

भारत

भारत (आधिकारिक नाम: भारत गणराज्य, Republic of India) दक्षिण एशिया में स्थित भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। पूर्ण रूप से उत्तरी गोलार्ध में स्थित भारत, भौगोलिक दृष्टि से विश्व में सातवाँ सबसे बड़ा और जनसंख्या के दृष्टिकोण से दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, उत्तर-पूर्व में चीन, नेपाल और भूटान, पूर्व में बांग्लादेश और म्यान्मार स्थित हैं। हिन्द महासागर में इसके दक्षिण पश्चिम में मालदीव, दक्षिण में श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व में इंडोनेशिया से भारत की सामुद्रिक सीमा लगती है। इसके उत्तर की भौतिक सीमा हिमालय पर्वत से और दक्षिण में हिन्द महासागर से लगी हुई है। पूर्व में बंगाल की खाड़ी है तथा पश्चिम में अरब सागर हैं। प्राचीन सिन्धु घाटी सभ्यता, व्यापार मार्गों और बड़े-बड़े साम्राज्यों का विकास-स्थान रहे भारतीय उपमहाद्वीप को इसके सांस्कृतिक और आर्थिक सफलता के लंबे इतिहास के लिये जाना जाता रहा है। चार प्रमुख संप्रदायों: हिंदू, बौद्ध, जैन और सिख धर्मों का यहां उदय हुआ, पारसी, यहूदी, ईसाई, और मुस्लिम धर्म प्रथम सहस्राब्दी में यहां पहुचे और यहां की विविध संस्कृति को नया रूप दिया। क्रमिक विजयों के परिणामस्वरूप ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कंपनी ने १८वीं और १९वीं सदी में भारत के ज़्यादतर हिस्सों को अपने राज्य में मिला लिया। १८५७ के विफल विद्रोह के बाद भारत के प्रशासन का भार ब्रिटिश सरकार ने अपने ऊपर ले लिया। ब्रिटिश भारत के रूप में ब्रिटिश साम्राज्य के प्रमुख अंग भारत ने महात्मा गांधी के नेतृत्व में एक लम्बे और मुख्य रूप से अहिंसक स्वतन्त्रता संग्राम के बाद १५ अगस्त १९४७ को आज़ादी पाई। १९५० में लागू हुए नये संविधान में इसे सार्वजनिक वयस्क मताधिकार के आधार पर स्थापित संवैधानिक लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित कर दिया गया और युनाईटेड किंगडम की तर्ज़ पर वेस्टमिंस्टर शैली की संसदीय सरकार स्थापित की गयी। एक संघीय राष्ट्र, भारत को २९ राज्यों और ७ संघ शासित प्रदेशों में गठित किया गया है। लम्बे समय तक समाजवादी आर्थिक नीतियों का पालन करने के बाद 1991 के पश्चात् भारत ने उदारीकरण और वैश्वीकरण की नयी नीतियों के आधार पर सार्थक आर्थिक और सामाजिक प्रगति की है। ३३ लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के साथ भारत भौगोलिक क्षेत्रफल के आधार पर विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा राष्ट्र है। वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था क्रय शक्ति समता के आधार पर विश्व की तीसरी और मानक मूल्यों के आधार पर विश्व की दसवीं सबसे बडी अर्थव्यवस्था है। १९९१ के बाज़ार-आधारित सुधारों के बाद भारत विश्व की सबसे तेज़ विकसित होती बड़ी अर्थ-व्यवस्थाओं में से एक हो गया है और इसे एक नव-औद्योगिकृत राष्ट्र माना जाता है। परंतु भारत के सामने अभी भी गरीबी, भ्रष्टाचार, कुपोषण, अपर्याप्त सार्वजनिक स्वास्थ्य-सेवा और आतंकवाद की चुनौतियां हैं। आज भारत एक विविध, बहुभाषी, और बहु-जातीय समाज है और भारतीय सेना एक क्षेत्रीय शक्ति है। .

नई!!: रायपुर और भारत · और देखें »

भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची

भारत दक्षिण एशिया में एक देश है। भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार, वह सातवाँ सबसे बड़ा देश है, और १.२ अरब से अधिक लोगों के साथ, वह दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। भारत में उनतीस राज्य और सात संघ राज्यक्षेत्र हैं। वह विश्व की जनसंख्या के १७.५ प्रतिशत का घर हैं। .

नई!!: रायपुर और भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची · और देखें »

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों का संजाल भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची भारतीय राजमार्ग के क्षेत्र में एक व्यापक सूची देता है, द्वारा अनुरक्षित सड़कों के एक वर्ग भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण। ये लंबे मुख्य में दूरी roadways हैं भारत और के अत्यधिक उपयोग का मतलब है एक परिवहन भारत में। वे में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा भारतीय अर्थव्यवस्था। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 laned (प्रत्येक दिशा में एक), के बारे में 65,000 किमी की एक कुल, जिनमें से 5,840 किमी बदल सकता है गठन में "स्वर्ण Chathuspatha" या स्वर्णिम चतुर्भुज, एक प्रतिष्ठित परियोजना राजग सरकार द्वारा शुरू की श्री अटल बिहारी वाजपेयी.

नई!!: रायपुर और भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार · और देखें »

भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची

इस लेख में भारत के सर्वोच्च सौ महानगरीय क्षेत्रों की सूची (२००८ अनुसार) है। इन सौ महानगरों की संयुक्त जनसंख्या राष्ट्र की कुल जनसंख्या का सातवां भाग बनाती है। .

नई!!: रायपुर और भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची · और देखें »

भारत में स्मार्ट नगर

भारत में स्मार्ट नगर की कल्पना प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की है जिन्होंने देश के १०० नगरों को स्मार्ट नगरों के रूप में विकसित करने का संकल्प किया है। सरकार ने २७ अगस्त २०१५ को ९८ प्रस्तावित स्मार्ट नगरों की सूची जारी कर दी। .

नई!!: रायपुर और भारत में स्मार्ट नगर · और देखें »

भारत में विश्वविद्यालयों की सूची

यहाँ भारत में विश्वविद्यालयों की सूची दी गई है। भारत में सार्वजनिक और निजी, दोनों विश्वविद्यालय हैं जिनमें से कई भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा समर्थित हैं। इनके अलावा निजी विश्वविद्यालय भी मौजूद हैं, जो विभिन्न निकायों और समितियों द्वारा समर्थित हैं। शीर्ष दक्षिण एशियाई विश्वविद्यालयों के तहत सूचीबद्ध विश्वविद्यालयों में से अधिकांश भारत में स्थित हैं। .

नई!!: रायपुर और भारत में विश्वविद्यालयों की सूची · और देखें »

भारत में कृषि

भारत के अधिकांश उत्सव सीधे कृषि से जुड़े हुए हैं। होली खेलते बच्चे कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। भारत में कृषि सिंधु घाटी सभ्यता के दौर से की जाती रही है। १९६० के बाद कृषि के क्षेत्र में हरित क्रांति के साथ नया दौर आया। सन् २००७ में भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि एवं सम्बन्धित कार्यों (जैसे वानिकी) का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में हिस्सा 16.6% था। उस समय सम्पूर्ण कार्य करने वालों का 52% कृषि में लगा हुआ था। .

नई!!: रायपुर और भारत में कृषि · और देखें »

भारत का भूगोल

भारत का भूगोल या भारत का भौगोलिक स्वरूप से आशय भारत में भौगोलिक तत्वों के वितरण और इसके प्रतिरूप से है जो लगभग हर दृष्टि से काफ़ी विविधतापूर्ण है। दक्षिण एशिया के तीन प्रायद्वीपों में से मध्यवर्ती प्रायद्वीप पर स्थित यह देश अपने ३२,८७,२६३ वर्ग किमी क्षेत्रफल के साथ विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा देश है। साथ ही लगभग १.३ अरब जनसंख्या के साथ यह पूरे विश्व में चीन के बाद दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भी है। भारत की भौगोलिक संरचना में लगभग सभी प्रकार के स्थलरूप पाए जाते हैं। एक ओर इसके उत्तर में विशाल हिमालय की पर्वतमालायें हैं तो दूसरी ओर और दक्षिण में विस्तृत हिंद महासागर, एक ओर ऊँचा-नीचा और कटा-फटा दक्कन का पठार है तो वहीं विशाल और समतल सिन्धु-गंगा-ब्रह्मपुत्र का मैदान भी, थार के विस्तृत मरुस्थल में जहाँ विविध मरुस्थलीय स्थलरुप पाए जाते हैं तो दूसरी ओर समुद्र तटीय भाग भी हैं। कर्क रेखा इसके लगभग बीच से गुजरती है और यहाँ लगभग हर प्रकार की जलवायु भी पायी जाती है। मिट्टी, वनस्पति और प्राकृतिक संसाधनो की दृष्टि से भी भारत में काफ़ी भौगोलिक विविधता है। प्राकृतिक विविधता ने यहाँ की नृजातीय विविधता और जनसंख्या के असमान वितरण के साथ मिलकर इसे आर्थिक, सामजिक और सांस्कृतिक विविधता प्रदान की है। इन सबके बावजूद यहाँ की ऐतिहासिक-सांस्कृतिक एकता इसे एक राष्ट्र के रूप में परिभाषित करती है। हिमालय द्वारा उत्तर में सुरक्षित और लगभग ७ हज़ार किलोमीटर लम्बी समुद्री सीमा के साथ हिन्द महासागर के उत्तरी शीर्ष पर स्थित भारत का भू-राजनैतिक महत्व भी बहुत बढ़ जाता है और इसे एक प्रमुख क्षेत्रीय शक्ति के रूप में स्थापित करता है। .

नई!!: रायपुर और भारत का भूगोल · और देखें »

भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर

* अमृतसर.

नई!!: रायपुर और भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर · और देखें »

भारत के प्रवेशद्वार

प्रवेशद्वार:भारत के सभि राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश १. प्रवेशद्वार:अरुणाचल प्रदेश (इटानगर) २. प्रवेशद्वार:असम (दिसपुर) ३. प्रवेशद्वार:उत्तर प्रदेश (लखनऊ) ४. प्रवेशद्वार:उत्तरांचल (देहरादून) ५. प्रवेशद्वार:उड़ीसा (भुवनेश्वर) ६. प्रवेशद्वार:अंडमान और निकोबार द्वीप* (पोर्टब्लेयर) ७. प्रवेशद्वार:आंध्र प्रदेश (हैदराबाद) ८. प्रवेशद्वार:कर्नाटक (बंगलोर) ९. प्रवेशद्वार:केरल (तिरुवनंतपुरम) १०.

नई!!: रायपुर और भारत के प्रवेशद्वार · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची (संख्या के क्रम में) भारत के राजमार्गो की एक सूची है। .

नई!!: रायपुर और भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार · और देखें »

भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश

भारत राज्यों का एक संघ है। इसमें उन्तीस राज्य और सात केन्द्र शासित प्रदेश हैं। ये राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश पुनः जिलों और अन्य क्षेत्रों में बांटे गए हैं।.

नई!!: रायपुर और भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश · और देखें »

भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की राजधानियों की है। भारत में कुल 29 राज्य और 7 केन्द्र-शासित प्रदेश हैं। सभी राज्यों और दो केन्द्र-शासित प्रदेशों, दिल्ली और पौण्डिचेरी, में चुनी हुई सरकारें और विधानसभाएँ होती हैं, जो वॅस्टमिन्स्टर प्रतिमान पर आधारित हैं। अन्य पाँच केन्द्र-शासित प्रदेशों पर देश की केन्द्र सरकार का शासन होता है। 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम के अन्तर्गत राज्यों का निर्माण भाषाई आधार पर किया गया था, और तबसे यह व्यवस्था लगभग अपरिवर्तित रही है। प्रत्येक राज्य और केन्द्र-शासित प्रदेश प्रशासनिक इकाईयों में बँटा होता है। नीचे दी गई सूची में राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की विभिन्न प्रकार की राजधानियाँ सूचीबद्ध हैं। प्रशासनिक राजधानी वह होती है जहाँ कार्यकारी सरकार के कार्यालय स्थित होते हैं, वैधानिक राजधानी वह है जहाँ से राज्य विधानसभा संचालित होती है, और न्यायपालिका राजधानी वह है जहाँ उस राज्य या राज्यक्षेत्र का उच्च न्यायालय स्थित होता है। .

नई!!: रायपुर और भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ · और देखें »

भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची

यह सूचियों भारत के सबसे बड़े शहरों पर है। .

नई!!: रायपुर और भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची · और देखें »

भारत २०१०

इन्हें भी देखें 2014 भारत 2014 विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी 2014 साहित्य संगीत कला 2014 खेल जगत 2014 .

नई!!: रायपुर और भारत २०१० · और देखें »

भारतीय प्रबन्धन संस्थान

भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आई आई एम) भारत के सर्वोत्तम प्रबंधन संस्थान हैं। प्रबन्धन की शिक्षा के अतिरिक्त ये अनुसंधान व सलाह (कांसल्टेंसी) का कार्य भी करते हैं। वर्तमान में ६ भारतीय प्रबन्धन संस्थान हैं जो बंगलुरू, अहमदाबाद, कोलकाता, लखनऊ, इन्दौर तथा कोझीकोड में स्थित हैं। ये प्रबन्धन में पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा की उपाधि प्रदान करते हैं जो एम बी ए के समतुल्य है। इन संस्थानों में प्रवेश अखिल भारतीय स्तर पर होने वाली प्रवेश परीक्षा कामन ऐडमिशन टेस्ट (सी ए टी) के आधार पर होता है। यह परीक्षा दुनिया की सर्वाधिक प्रतिस्पर्धी परिक्षाओं में से है। .

नई!!: रायपुर और भारतीय प्रबन्धन संस्थान · और देखें »

भारतीय प्रबंधन संस्थान, रायपुर

भारतीय प्रबंधन संस्थान, रायपुर के अलावा बीस अन्य स्थानों में स्थित है। यह प्रबंधन शिक्षा का उच्च श्रेणी का संस्थान है। इन्हें सम्मिलित रूप से भारतीय प्रबंधन संस्थान कहा जाता है। श्रेणी:भारतीय प्रबंधन संस्थान श्रेणी:रायपुर.

नई!!: रायपुर और भारतीय प्रबंधन संस्थान, रायपुर · और देखें »

भारतीय रिज़र्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) भारत का केन्द्रीय बैंक है। यह भारत के सभी बैंकों का संचालक है। रिजर्व बैक भारत की अर्थव्यवस्था को नियन्त्रित करता है। इसकी स्थापना १ अप्रैल सन १९३५ को रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया ऐक्ट १९३४ के अनुसार हुई। बाबासाहेब डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में अहम भूमिका निभाई हैं, उनके द्वारा प्रदान किये गए दिशा-निर्देशों या निर्देशक सिद्धांत के आधार पर भारतीय रिजर्व बैंक बनाई गई थी। बैंक कि कार्यपद्धती या काम करने शैली और उसका दृष्टिकोण बाबासाहेब ने हिल्टन यंग कमीशन के सामने रखा था, जब 1926 में ये कमीशन भारत में रॉयल कमीशन ऑन इंडियन करेंसी एंड फिनांस के नाम से आया था तब इसके सभी सदस्यों ने बाबासाहेब ने लिखे हुए ग्रंथ दी प्राब्लम ऑफ दी रुपी - इट्स ओरीजन एंड इट्स सोल्यूशन (रुपया की समस्या - इसके मूल और इसके समाधान) की जोरदार वकालात की, उसकी पृष्टि की। ब्रिटिशों की वैधानिक सभा (लेसिजलेटिव असेम्बली) ने इसे कानून का स्वरूप देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम 1934 का नाम दिया गया। प्रारम्भ में इसका केन्द्रीय कार्यालय कोलकाता में था जो सन १९३७ में मुम्बई आ गया। पहले यह एक निजी बैंक था किन्तु सन १९४९ से यह भारत सरकार का उपक्रम बन गया है। उर्जित पटेल भारतीय रिजर्व बैंक के वर्तमान गवर्नर हैं, जिन्होंने ४ सितम्बर २०१६ को पदभार ग्रहण किया। पूरे भारत में रिज़र्व बैंक के कुल 22 क्षेत्रीय कार्यालय हैं जिनमें से अधिकांश राज्यों की राजधानियों में स्थित हैं। मुद्रा परिचालन एवं काले धन की दोषपूर्ण अर्थव्यवस्था को नियन्त्रित करने के लिये रिज़र्व बैंक ऑफ इण्डिया ने ३१ मार्च २०१४ तक सन् २००५ से पूर्व जारी किये गये सभी सरकारी नोटों को वापस लेने का निर्णय लिया है। .

नई!!: रायपुर और भारतीय रिज़र्व बैंक · और देखें »

भोरमदेव

भोरमदेव मंदिर छत्तीसगढ के कबीरधाम जिले में कबीरधाम से 18 कि॰मी॰ दूर तथा रायपुर से 125 कि॰मी॰ दूर चौरागाँव में एक हजार वर्ष पुराना मंदिर है। मंदिर के चारो ओर मैकल पर्वतसमूह है जिनके मध्य हरी भरी घाटी में यह मंदिर है। मंदिर के सामने एक सुंदर तालाब भी है। इस मंदिर की बनावट खजुराहो तथा कोणार्क के मंदिर के समान है जिसके कारण लोग इस मंदिर को 'छत्तीसगढ का खजुराहो' भी कहते हैं। यह मंदिर एक एतिहासिक मंदिर है। इस मंदिर को 11वीं शताब्दी में नागवंशी राजा देवराय ने बनवाया था। ऐसा कहा जाता है कि गोड राजाओं के देवता भोरमदेव थे जो कि शिवजी का ही एक नाम है, जिसके कारण इस मंदिर का नाम भोरमदेव पडा। .

नई!!: रायपुर और भोरमदेव · और देखें »

महानदी

छत्तीसगढ़ तथा उड़ीसा अंचल की सबसे बड़ी नदी है। प्राचीनकाल में महानदी का नाम चित्रोत्पला था। महानन्दा एवं नीलोत्पला भी महानदी के ही नाम हैं। महानदी का उद्गम रायपुर के समीप धमतरी जिले में स्थित सिहावा नामक पर्वत श्रेणी से हुआ है। महानदी का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की तरफ है। सिहावा से निकलकर राजिम में यह जब पैरी और सोढुल नदियों के जल को ग्रहण करती है तब तक विशाल रूप धारण कर चुकी होती है। ऐतिहासिक नगरी आरंग और उसके बाद सिरपुर में वह विकसित होकर शिवरीनारायण में अपने नाम के अनुरुप महानदी बन जाती है। महानदी की धारा इस धार्मिक स्थल से मुड़ जाती है और दक्षिण से उत्तर के बजाय यह पूर्व दिशा में बहने लगती है। संबलपुर में जिले में प्रवेश लेकर महानदी छ्त्तीसगढ़ से बिदा ले लेती है। अपनी पूरी यात्रा का आधे से अधिक भाग वह छत्तीसगढ़ में बिताती है। सिहावा से निकलकर बंगाल की खाड़ी में गिरने तक महानदी लगभग ८५५ कि॰मी॰ की दूरी तय करती है। छत्तीसगढ़ में महानदी के तट पर धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम, चम्पारण, आरंग, सिरपुर, शिवरी नारायण और उड़ीसा में सम्बलपुर, बलांगीर, कटक आदि स्थान हैं तथा पैरी, सोंढुर, शिवनाथ, हसदेव, अरपा, जोंक, तेल आदि महानदी की प्रमुख सहायक नदियाँ हैं। महानदी का डेल्टा कटक नगर से लगभग सात मील पहले से शुरू होता है। यहाँ से यह कई धाराओं में विभक्त हो जाती है तथा बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। इस पर बने प्रमुख बाँध हैं- रुद्री, गंगरेल तथा हीराकुंड। यह नदी पूर्वी मध्यप्रदेश और उड़ीसा की सीमाओं को भी निर्धारित करती है। .

नई!!: रायपुर और महानदी · और देखें »

महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय, रायपुर

महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय भारत में छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर में स्थित है। यह एक पुरातात्विक संग्रहालय है। इसे 1875 में राजा महंत घासीदास ने बनवाया था। वर्ष 1953 में रानी ज्योति और उनके पुत्र दिग्विजय ने इस भवन का पुनर्निर्माण करवाया था। इस संग्रहालय में हथियारों के नमूने, प्रावीन सिक्कें, मूर्तियाँ और नक्काशी आदि प्रदर्शित किए गए हैं, साथ ही क्षेत्रीय आदिवासी जनजातीय परम्पराओ को प्रदर्शित करने वाले कई प्रादर्श यहाँ रखे गए है।सन 1953 को इस संग्रहालय भवन का लोकार्पण गणतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ.

नई!!: रायपुर और महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय, रायपुर · और देखें »

माँ पीताम्बरा बगलामुखी मंदिर (अमलेश्वर)

माँ पीताम्बरा बगलामुखी मन्दिर छत्तीसगढ की राजधानी रायपुर में स्थित एक हिन्दू मंदिर है। बगलामुखी दसमहाविद्या में आठवीं महाविद्या हैं। इन्हें पीताम्बरा भी कहते हैं। मंदिर रायपुर हवाईअड्डे से १५, रायपुर रेलवे स्टेशन से ५ और दुर्ग शहर से लगभग २५ किलोमीटर पर महादेव घाट से पाटन-दुर्ग सड़क पर स्थित है। इस मंदिर में बगलामुखी के साथ-साथ भैरव और शिव-शक्ति की प्रतिमाएँ भी हैं। मंदिर का निर्माण पीताम्बरा पीठाधीश्वर युधिष्ठिर महाराज द्वारा १६ मई २००५ में करवाया गया था। .

नई!!: रायपुर और माँ पीताम्बरा बगलामुखी मंदिर (अमलेश्वर) · और देखें »

माणिकचंद्र वाजपेयी

माणिकचन्द्र वाजपेयी (7 अक्टूबर 1919 - 27 दिसम्बर 2005) भारत के राष्ट्रवादी एवं ध्येयनिष्ठ पत्रकार थे। मध्यप्रदेश शासन द्वारा ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता और मूल्याधारित पत्रकारिता के लिये स्व.

नई!!: रायपुर और माणिकचंद्र वाजपेयी · और देखें »

माधवराव सप्रे

माधवराव सप्रे माधवराव सप्रे (जून १८७१ - २६ अप्रैल १९२६) हिन्दी के आरंभिक कहानीकारों में से एक, सुप्रसिद्ध अनुवादक एवं हिन्दी के आरंभिक संपादकों में प्रमुख स्थान रखने वाले हैं। वे हिन्दी के प्रथम कहानी लेखक के रूप में जाने जाते हैं। .

नई!!: रायपुर और माधवराव सप्रे · और देखें »

माय एफएम

150px माय एफएम, एक राष्ट्रव्यापी निजी एफएम रेडियो स्टेशन है| यह रेडियो दैनिक भास्कर समूह द्वारा चलाया जा रहा है | यह रेडियो स्टेशन ९४.३ मेगाहर्ट्स एफएम बैंड फ्रिकुएंसी पर प्रसारित होता है| वर्तमान में यह स्टेशन १७ विभिन्न शहरों में प्रसारित होता है | माय एफएम का टैगलाइन है - "जियो दिल से" | .

नई!!: रायपुर और माय एफएम · और देखें »

मायाराम सुरजन

मायाराम सुरजन (29 मार्च 1923 - ३१ दिसम्बर १९९४) भारत के एक पत्रकार थे। वे `नवभारत' के प्रथम सम्पादक थे। उन्होंने 'देशबन्धु' नामक समाचार पत्र आरम्भ किया।। पत्रकारिता जगत के मध्यप्रदेश राज्य के मार्गदर्शक के रूप में ख्यात श्री मायाराम सुरजन सही मायनों में स्वप्नदृष्टा और कर्मनिष्ठ तथा अपने बलबूते सिद्ध एक आदर्श पुरुष थे। वे बहुपठित और जनप्रिय राजनैतिक टिप्पणीकार थे और अनेक कृतियों के लेखक भी। उन्हें पूरे साठ वर्ष (१९४४-१९९४) की पत्रकारिता का अनुभव रहा। वे अनेक सामाजिक और साहित्यिक संस्थाओं के साथ-साथ मध्यप्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन से भी वे जुड़े रहे, जिसके वे १८ वर्ष तक अध्यक्ष रहे। .

नई!!: रायपुर और मायाराम सुरजन · और देखें »

मावली देवी मंदिर,तरपोंगा,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक मवाली देवी मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में यह मंदिर रायपुर से ६२ किलोमीटर तथा रायपुर-बिलासपुर रोड पर स्थित विश्रामपुर से ३ कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित तरपोंगा ग्राम में शिवनाथ नदी के दक्षिण तट पर स्थित है। वास्तव में यह प्राचीन ध्वस्त मंदिर स्थली है जहां पर ग्रामीणों ने नया मंदिर निर्मित कर दिया है एवं पुरानी द्वार चौखट और कुछ मूर्तियों को मण्डप में दीवारों से जड़ दिया है। वर्तमान में यह मंदिर 'मावली देवी' अथवा 'मावली माता' के मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। महिषासुरमर्दिनी की प्रतिमा यहां मावली माता के रूप में पूजित है। मावली माता का यह स्वरूप छत्तीसगढ़ में अधिक लोकप्रिय है। इस मंदिर की प्राचीन द्वार चौखट अलंकृत है। इसकी बायीं द्वारशाखा पर नदी देवी यमुना एवं दायीं द्वार शाखा पर नदी देवी गंगा खड़ी है। दीवार पर जड़ी हुई प्रतिमाओं में चतुर्भुजी विष्णु, महिषासुर मर्दिनी एवं उमा महेश्वर की प्रतिमायें महत्वपूर्ण है। शिवलिंग, नन्दी प्रतिमाएं, सती स्तंभों एवं योध्दा प्रतिमाओं का यहां पर अच्छा संग्रह देखा जा सकता है। इस मंदिर की द्वार चौखट एवं मंडप की प्रतिमायें ११-१२वीं शती ईस्वी की है किन्तु शेष योद्धा प्रतिमायें एवं अन्य वास्तुखण्ड जो मंदिर की बाह्य भित्ति के सहारे टिकाकर रखे गये हैं, वे १६-१७वीं शती ईस्वी के हैं। पुरातत्वीय दृष्टि से यह संग्रह महत्वपूर्ण है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और मावली देवी मंदिर,तरपोंगा,रायपुर · और देखें »

मैट्स विश्वविद्यालय

मैट्स विश्वविद्यालय रायपुर में स्थित एक निजी विश्वविद्यालय है। .

नई!!: रायपुर और मैट्स विश्वविद्यालय · और देखें »

मैनपुर

मैनपुर रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और मैनपुर · और देखें »

रणजी ट्रॉफी 2016-17

रणजी ट्राफी 2016-17 रणजी ट्रॉफी, भारत में प्रमुख प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट के 83 वें सीजन है। पिछले सीजन के विपरीत, 2016-17 टूर्नामेंट तटस्थ स्थानों पर खेले जाएंगे। कप्तान और कोच परिवर्तन के सहायक थे। छत्तीसगढ़ क्रिकेट टीम प्रतियोगिता में अपनी पहली फिल्म बनाने के लिए रणजी ट्रॉफी के इस संस्करण में प्रतिस्पर्धा करने के लिए 28 टीम बनने वाली हैं। सितंबर 2016 में बीसीसीआई ने प्रतियोगिता के लिए दिनांक, समूहों और जुड़नार की घोषणा। गुलाबी गेंद टूर्नामेंट में इस्तेमाल किया जाएगा, मदद करने के लिए बीसीसीआई के एक दिन/रात खेलने पर एक निर्णय करने के टेस्ट मैच। मुंबई गत चैम्पियन हैं। .

नई!!: रायपुर और रणजी ट्रॉफी 2016-17 · और देखें »

रणजी ट्रॉफी 2016-17 ग्रुप ए

रणजी ट्रॉफी 2016-17 रणजी ट्रॉफी, की भारत में प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट के 83 वें मौसम है। यह तीन समूहों में विभाजित 28 टीमों ने चुनाव लड़ा जा रहा है। ग्रुप ए और बी नौ टीमों का समावेश है और ग्रुप सी दस टीमों के शामिल हैं। .

नई!!: रायपुर और रणजी ट्रॉफी 2016-17 ग्रुप ए · और देखें »

रणजी ट्रॉफी ग्रुप डी 2017-18

रणजी ट्रॉफी 2017-18 भारत की प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी का 84 वां सत्र है। यह 28 टीमों द्वारा चार समूहों में विभाजित किया जा रहा है, जिनमें से प्रत्येक में सात टीम हैं। .

नई!!: रायपुर और रणजी ट्रॉफी ग्रुप डी 2017-18 · और देखें »

रतनपुर, छत्तीसगढ़

रतनपुर दुर्ग रतनपुर छत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर जिले की एक नगर पंचायत है। .

नई!!: रायपुर और रतनपुर, छत्तीसगढ़ · और देखें »

राधेलाल हरदेव रिछारिया

डॉ राधेलाल हरदेव रिछारिया (१९०९ - १९९६) छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक थे। वे केन्द्रीय चावल अनुसंधान संस्थान, कटक (CRRI) के निदेशक (१९५९ में) भी रहे। वे भारत में धान पर अग्रणी विशेषज्ञों में से एक थे। उन्‍होने अपने कैरियर के दौरान एक चावल की 19,000 प्रजातियाँ एकत्र की थी। उनका अनुमान था कि भारत में चावल की 200,000 प्रजातियाँ होंगी। उन्होने जीवन भर छोटे किसानों को बड़े व्यापारिक कम्पनियों से बचाने एवं उनकी विरासत को बचाने के लिये कार्य किया। .

नई!!: रायपुर और राधेलाल हरदेव रिछारिया · और देखें »

रामशंकर अग्निहोत्री

श्री रामशंकर अग्निहोत्री भारत के प्रखर चिन्तक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक तथा वरिष्ठ पत्रकार हैं। उन्हें सन् २००८ के लिये माणिकचन्द्र वाजपेयी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार के लिये चुना गया है। .

नई!!: रायपुर और रामशंकर अग्निहोत्री · और देखें »

रायपुर जिला

रायपुर भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ का एक जिला है। जिले का मुख्यालय रायपुर है। क्षेत्रफल - 15,190.62 वर्ग कि.मी.

नई!!: रायपुर और रायपुर जिला · और देखें »

रायपुर विमानक्षेत्र

रायपुर विमानक्षेत्र भारत के रायपुर शहर में स्थित हवाई अड्डा है। इसका ICAO कोड है: VARP और IATA कोड है: RPR। यह नागरिक हवाई अड्डा है। यहाँ कस्टम विभाग नहीं है। यहाँ की उड़ान पट्टी पेव्ड है, इसकी लंबाई ६४०० फुट है और यहाँ अवतरण प्रणाली यांत्रिक है। श्रेणी:भारत में विमानक्षेत्र.

नई!!: रायपुर और रायपुर विमानक्षेत्र · और देखें »

रायपुर विकास प्राधिकरण

रायपुर विकास प्राधिकरण (आरडीए/ राविप्रा) - नगर विकास के लिए 1963 में नगर सुधार न्यास के नाम से मध्यप्रदेश शासन व्दारा गठित किया गया था। 1977 में नगर सुधार न्यास का दर्जा बढ़ा कर राज्य शासन ने इसे रायपुर विकास प्राधिकरण के रूप में अपग्रेड किया। सन् 2002 में रायपुर विकास प्राधिकरण को नगर पालिक निगम रायपुर में विलय कर दिया गया। 28 अक्टूबर 2004 को पुनः रायपुर विकास प्राधिकरण का पुनर्गठन किया गया। रायपुर विकास प्राधिकरण व्दारा 1995 में निर्मित नगरघड़ी पूरे विश्व में अपने आप में एक अनूठी नगरघड़ी है। हर घंटे छत्तीसगढ़ का लोकसंगीत सुनाने वाली यह विश्व की इकलौती नगरघड़ी है। लोकधुन सुनाने की इस अवधारणा के कारण इसे वर्ष 2009 में लिम्का बुक ऑफ रिकार्डस तथा इंडिया बुक ऑफ रिकार्डस में शामिल किया गया है। इस संस्था का नारा है विकास हमारा उद्देश्य निर्माण हमारा लक्ष्य वर्तमान में श्री संजय श्रीवास्तव अध्यक्ष, श्री एम.डी.

नई!!: रायपुर और रायपुर विकास प्राधिकरण · और देखें »

रायपुर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम

रायपुर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम भारत में दूसरा और विश्व का चौथा सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम है। इसमें कुल 65,000 लोगों के बैठने की जगह है। 2010 में यहाँ पहला मैच खेला गया था। इस दौरान कनाडा के राष्ट्रीय टीम यहाँ पर आ के छत्तीसगढ़ राज्य टीम के साथ अभ्यास मैच खेलने के लिए आए थे। .

नई!!: रायपुर और रायपुर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम · और देखें »

राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल

राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईटीटीटीआर), भोपाल स्थित एक शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान है। एनआईटीटीटीआर मुख्य रूप से मांग आधारित गुणवत्ता प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से सक्षम मानव संसाधन के विकास, शोध अध्ययन, अधिगम संसाधन का विकास, तकनीकी संस्थाओं, उद्योग एवं कम्युनिटी के लिए मांग आधारित पाठ्‌यक्रम के विकास के लिए जिम्मेदार है। यह संस्थान इन तकनीकी संस्थाओं के शिक्षकों और स्टॉफ के सदस्यों के उत्थान के लिए एवं तकनीकी शिक्षकों को मजबूती प्रदान करने के लिए निरन्तर कार्यरत है। इस प्रकार एन.आई.टी.टी.टी.आर.

नई!!: रायपुर और राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान, भोपाल · और देखें »

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रायपुर

राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, रायपुर, छत्तीसगढ़ को दिनांक १ दिसम्बर २००५ से केन्द्रीय सरकार के पूर्णत: वित्तपोषित संस्थान के रूप में अधिग्रहित किया गया और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान का दर्जा प्रदान किया गया। वर्तमान में संस्थान अवर स्नातक स्तर पर १२ पाठयक्रम और ६ स्नातकोत्तर पाठयक्रम संचालित कर रहा है। संस्थान में दूरस्थ शिक्षा प्रदान करने की सुविधा है। संस्थान में ८२ प्रयोगशालाएँ हैं जो बहुत बड़ी हैं। कॉलेज में एक बालिका छात्रावास सहित ६ छात्रावास हैं। इस संस्थान में एक सुसज्जित पुस्तकालय हैं। .

नई!!: रायपुर और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रायपुर · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग १२ए

२८० किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग जबलपुर से निकलकर सिमगा (रायपुर के पास) तक जाता है। इसका रूट जबलपुर - माँडला - चिल्पी - बेमेतरा - सिमगा है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: रायपुर और राष्ट्रीय राजमार्ग १२ए · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २१७

५०८ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग रायपुर को गोपालपुर से जोड़ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: रायपुर और राष्ट्रीय राजमार्ग २१७ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ६

१९४९ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग हजीरा से निकलकर पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकत्ता तक जाता है। इसका रूट हजीरा - धुले - नागपुर - रायपुर - संबलपुर - बहाराघोड़ा - कोलकत्ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: रायपुर और राष्ट्रीय राजमार्ग ६ · और देखें »

राजनांदगाँव

राजनंदगांव भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के राजनंदगाँव जिले का मुख्य शहर है। 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसँख्या 1,63,122 है। यह दक्षिण-पूर्वी रेलवे के मुंबई-हावड़ा मार्ग पर स्थित है। राष्ट्रीय राजमार्ग 6 राजनंदगाँव से होकर गुजरती है। यहाँ से निकटतम हवाई अड्डा लगभग 70 किमी दूर माना (रायपुर) में स्थित है। 9 तहसील 9 विकासखंड जिले मे है राज्य का सबसे बड़ा जिला है .

नई!!: रायपुर और राजनांदगाँव · और देखें »

राजभवन (छत्तीसगढ़)

राजभवन रायपुर भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के राज्यपाल का आधिकारिक आवास है। यह राज्य की राजधानी रायपुर में स्थित है। छत्तीसगढ़ के वर्तमान राज्यपाल बलराम दास जी टन्डन हैं। .

नई!!: रायपुर और राजभवन (छत्तीसगढ़) · और देखें »

राजस्थान पत्रिका

राजस्थान पत्रिका हिन्दी भाषा में प्रकाशित होने वाला एक भारतीय समाचार पत्र है। यह अखबार भारत के सात राज्यों से प्रकाशित हो रहा है। यह जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, कोटा और सीकर सहित कई अन्य क्षेत्रों से राजस्थान से प्रकाशित होता है और राजस्थान के अलावा भोपाल, इन्दौर, जबलपुर, रायपुर, अहमदाबाद, ग्वालियर, कोलकाता, चेन्नई, नई दिल्ली और बंगलौर से प्रकाशित होता है। .

नई!!: रायपुर और राजस्थान पत्रिका · और देखें »

राजा भोज विमानक्षेत्र

राजा भोज विमानक्षेत्र(भोपाल विमानक्षेत्र) मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित है। यह एक नागरिक हवाई अड्डा है। यह राजधानी भोपाल को वायु सेवा प्रदान करने वाला प्राथमिक विमानक्षेत्र है। हवाई अड्डा शहर के गांधीनगर क्षेत्र में मुख्य शहर के केन्द्र से लगभग उत्तर-पश्चिमी छोर पर स्थित है राष्ट्रीय राजमार्ग १२ पर स्थित है। यह राज्य का दूसरे स्थान पर व्यस्ततम हवाई अड्डा है, जहाम सबसे व्यस्त देवी अहिल्याबाई होल्कर विमानक्षेत्र, इंदौर में है। भोपाल विमानक्षेत्र का नाम १०वीं शताब्दी के प्रसिद्ध परमार वंश के राजा भोज के नाम पर रखा गया है। इन्हीं राजा भोज के नाम पर राजधानी भोपाल का नाम भी भोजपाल से बिगड़कर भोपाल हो गया है। .

नई!!: रायपुर और राजा भोज विमानक्षेत्र · और देखें »

राजिम (फ़िन्गेश्वर)

राजिम (फ़िन्गेश्वर) रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और राजिम (फ़िन्गेश्वर) · और देखें »

रविशंकर शुक्ल

रविशंकर शुक्ल (जन्म २ अगस्त १८७७ सागर,मध्यप्रदेश—मृत्यु ३१ दिसंबर १९५६ दिल्ली) एक वरिष्ठ कांग्रेसी, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, २७ अप्रेल १९४६ से १४ अगस्त १९४७ तक सीपी और बेरार (CP & Berar) के प्रमुख, १५ अगस्त १९४७ से ३१ अक्टुबर १९५६ तक सीपी और बेरार के प्रथम मुख्यमंत्री और १ नवम्बर १९५६ को अस्तित्व में आये नये राज्य मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री थे। अपने कार्यकाल के दौरान ३१ दिसम्बर १९५६ को आप का स्वर्गवास हो गया। .

नई!!: रायपुर और रविशंकर शुक्ल · और देखें »

रेडियो मिर्ची

रेडियो मिर्ची भारत का एक लोकप्रिय गैर सरकारी एफ.

नई!!: रायपुर और रेडियो मिर्ची · और देखें »

लखीराम अग्रवाल

लखीराम अग्रवाल (13 फरवरी 1932 – 24 जनवरी 2009) भारत के एक राजनेता थे। वे १९९० से २००२ तक राज्यसभा के सदस्य रहे, पहले मध्य प्रदेश से और बाद में छत्तीसगढ़ से। १९९० से २०० तक वे मध्य प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष रहे। छत्तीसगढ बनने के बाद वे छत्तीसगढ भाजपा के अध्यक्ष बने। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लखीराम अग्रवाल को याद करना सही मायने में राजनीति की उस परंपरा का स्मरण है जो आज के समय में दुर्लभ हो गयी है। वे सही मायने में हमारे समय के एक ऐसे नायक हैं जिसने अपने मन, वाणी और कर्म से जिस विचारधारा का साथ किया, उसे ताजिंदगी निभाया। यह प्रतिबद्धता भी आज के युग में असाधारण नहीं है। .

नई!!: रायपुर और लखीराम अग्रवाल · और देखें »

लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर

लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से १२० कि॰मी॰ तथा संस्कारधानी शिवरीनारायण से ३ कि॰मी॰ की दूरी पर बसे खरौद नगर में स्थित है। यह नगर प्राचीन छत्तीसगढ़ के पाँच ललित कला केन्द्रों में से एक हैं और मोक्षदायी नगर माना जाने के कारण इसे छत्तीसगढ़ की काशी भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि यहाँ रामायण कालीन शबरी उद्धार और लंका विजय के निमित्त भ्राता लक्ष्मण की विनती पर श्रीराम ने खर और दूषण की मुक्ति के पश्चात 'लक्ष्मणेश्वर महादेव' की स्थापना की थी। यह मंदिर नगर के प्रमुख देव के रूप में पश्चिम दिशा में पूर्वाभिमुख स्थित है। मंदिर में चारों ओर पत्थर की मजबूत दीवार है। इस दीवार के अंदर ११० फीट लंबा और ४८ फीट चौड़ा चबूतरा है जिसके ऊपर ४८ फुट ऊँचा और ३० फुट गोलाई लिए मंदिर स्थित है। मंदिर के अवलोकन से पता चलता है कि पहले इस चबूतरे में बृहदाकार मंदिर के निर्माण की योजना थी, क्योंकि इसके अधोभाग स्पष्टत: मंदिर की आकृति में निर्मित है। चबूतरे के ऊपरी भाग को परिक्रमा कहते हैं। मंदिर के गर्भगृह में एक विशिष्ट शिवलिंग की स्थापना है। इस शिवलिंग की सबसे बडी विशेषता यह है कि शिवलिंग में एक लाख छिद्र है इसीलिये इसका नाम लक्षलिंग भी है। सभा मंडप के सामने के भाग में सत्यनारायण मंडप, नन्दी मंडप और भोगशाला हैं। मंदिर के मुख्य द्वार में प्रवेश करते ही सभा मंडप मिलता है। इसके दक्षिण तथा वाम भाग में एक-एक शिलालेख दीवार में लगा है। दक्षिण भाग के शिलालेख की भाषा अस्पष्ट है अत: इसे पढ़ा नहीं जा सकता। उसके अनुसार इस लेख में आठवी शताब्दी के इन्द्रबल तथा ईशानदेव नामक शासकों का उल्लेख हुआ है। मंदिर के वाम भाग का शिलालेख संस्कृत भाषा में है। इसमें ४४ श्लोक है। चन्द्रवंशी हैहयवंश में रत्नपुर के राजाओं का जन्म हुआ था। इनके द्वारा अनेक मंदिर, मठ और तालाब आदि निर्मित कराने का उल्लेख इस शिलालेख में है। तदनुसार रत्नदेव तृतीय की राल्हा और पद्मा नाम की दो रानियाँ थीं। राल्हा से सम्प्रद और जीजाक नामक पुत्र हुए। पद्मा से सिंहतुल्य पराक्रमी पुत्र खड्गदेव हुए जो रत्नपुर के राजा भी हुए जिसने लक्ष्मणेश्वर मंदिर का जीर्णोद्धार कराया। इससे पता चलता है कि मंदिर आठवीं शताब्दी तक जीर्ण हो चुका था जिसके उद्धार की आवश्यकता पड़ी। इस आधार पर कुछ विद्वान इसको छठी शताब्दी का मानते हैं लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर में स्थित शिवलिंग मूल मंदिर के प्रवेश द्वार के उभय पार्श्व में कलाकृति से सुसज्जित दो पाषाण स्तम्भ हैं। इनमें से एक स्तम्भ में रावण द्वारा कैलासोत्तालन तथा अर्द्धनारीश्वर के दृश्य खुदे हैं। इसी प्रकार दूसरे स्तम्भ में राम चरित्र से सम्बंधित दृश्य जैसे राम-सुग्रीव मित्रता, बाली का वध, शिव तांडव और सामान्य जीवन से सम्बंधित एक बालक के साथ स्त्री-पुरूष और दंडधरी पुरुष खुदे हैं। प्रवेश द्वार पर गंगा-यमुना की मूर्ति स्थित है। मूर्तियों में मकर और कच्छप वाहन स्पष्ट दिखाई देते हैं। उनके पार्श्व में दो नारी प्रतिमाएँ हैं। इसके नीचे प्रत्येक पार्श्व में द्वारपाल जय और विजय की मूर्ति है। लक्ष्मणेश्वर महादेव के इस मंदिर में सावन मास में श्रावणी और महाशिवरात्रि में मेला लगता है। .

नई!!: रायपुर और लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर · और देखें »

शिव मंदिर,चंदखुरी,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक शिव मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में राष्ट्रीय राज मार्ग क्रमांक ०६ नागपुर-सम्बलपुर रोड पर १६ कि॰मी॰ पर स्थित मंदिर हसौद से १२ किलोमीटर दूर चंदखुरी गांव में अवस्थित है। इस मंदिर का निर्माण १०-११ वीं शती ईस्वी में हुआ था किन्तु इस मंदिर का अलंकृत प्रवेशद्वार शायद किसी विनष्ट हुए सोमवंशी मंदिर (काल-८वीं शती ईस्वी) से संग्रहीत कर पुनर्निमित किया गया है। इसकी द्वार शाखाओं पर गंगा एवं यमुना नदियों के देवी रूप का अंकन है। सिरदल पर ललाट बिम्ब में गजलक्ष्मी बैठी हुई हैं जिसके एक ओर बालि-सुग्रीव के मल्लयुध्द एवं मृतबालि का सिर गोद पर रखकर विलाप करती हुई तारा का करूण दृश्य प्रदर्शित है। नागर शैली में निर्मित यह पंचरथ मंदिर है। इसका मण्डप विनष्ट हो चुका है। यह मंदिर परवर्ती काल की स्थापत्य कला का अच्छा उदाहरण है। इसे छत्तीसगढ़ शासन द्वारा संरक्षित स्मारकों की श्रेणी में रखा गया है।.

नई!!: रायपुर और शिव मंदिर,चंदखुरी,रायपुर · और देखें »

शिव मंदिर,गिरौद,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक शिव मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में गिरौद नगर में स्थित है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है। जो धरसीवां विकास खंड मे आता है यह रायपुर शहर के पास स्थित है जो छत्तीसगढ़ के आदर्श ग्राम मे सम्मिलित है यह ग्राम औद्योगिक नगर मे स्थित है इस ग्राम मे २६ जनवरी को मंडाई मनाया जाता है। .

नई!!: रायपुर और शिव मंदिर,गिरौद,रायपुर · और देखें »

शिवरी नारायण

शिवरी नारायण महानदी, शिवनाथ और जोंक नदी के त्रिधारा संगम के तट पर स्थित प्राचीन, प्राकृतिक छटा से परिपूर्ण और छत्तीसगढ़ की जगन्नाथपुरी`` के नाम से विख्यात कस्बा है। यह छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिला के अन्तर्गत आता है। यह बिलासपुर से ६४ कि.

नई!!: रायपुर और शिवरी नारायण · और देखें »

श्रीधर व्यंकटेश केतकर

डॉ॰ श्रीधर व्यंकटेश केतकर (०२ फ़रवरी १८८४ - १० अप्रैल १९३७) मराठी भाषा के प्रथम ज्ञानकोश (महाराष्ट्रीय ज्ञानकोश) के सुविख्यात जनक-संपादक, समाजशास्त्रज्ञ, कादंबरीकार, इतिहास-संशोधक व विचारक थे। मराठी ज्ञानकोश के महनीय कार्य के कारण उन्हें 'ज्ञानकोशकार केतकर' नाम से जाना जाता है। .

नई!!: रायपुर और श्रीधर व्यंकटेश केतकर · और देखें »

श्रीकांत वर्मा

श्रीकांत वर्मा (Shrikant verma) (१८ नवंबर १९३१- १९८६) का जन्म बिलासपुर (bilaspur), मध्य प्रदेश में हुआ। वे गीतकार, कथाकार तथा समीक्षक के रूप में जाने जाते हैं। ये राजनीति से भी जुडे थे तथा लोकसभा के सदस्य रहे। १९५७ में प्रकाशित भटका मेघ, १९६७ में प्रकाशित मायादर्पण और दिनारम्भ, १९७३ में प्रकाशित जलसाघर और १९८४ में प्रकाशित मगध इनकी काव्य-कृतियाँ हैं। 'झाडियाँ तथा 'संवाद इनके कहानी-संग्रह है। 'बीसवीं शताब्दी के अंधेरे में एक आलोचनात्मक ग्रंथ है। उनकी प्रारंभिक शिक्षा बिलासपुर(bilaspur) तथा रायपुर(raipur) में हुई तथा नागपुर विश्वविद्यालय से १९५६ में उन्होंने हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की। इसके बाद वे दिल्ली चले गए और वहाँ विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में लगभग एक दशक तक पत्रकार के रूप में कार्य किया। १९६६ से १९७७ तक वे दिनमान के विशेष संवाददाता रहे। १९७६ में काँग्रेस के के टिकट पर चुनाव जीतकर वे राज्य सभा के सदस्य बने। और सत्तरवें दशक के उत्तरार्ध से ८०वें दशक के पूर्वार्ध तक पार्टी के प्रवक्ता के रूप में कार्य करते रहे। १९८० में वे इंदिरा गांधी के राष्ट्रीय चुनाव अभियान के प्रमुख प्रबंधक रहे और १९८४ में राजीव गांधी के परामर्शदाता तथा राजनीतिक विश्लेषक के रूप में कार्य करते रहे। कांग्रेस को अपना "गरीबी हटाओ" का अमर स्लोगन दिया.

नई!!: रायपुर और श्रीकांत वर्मा · और देखें »

शेखर सेन

शेखर सेन हिन्दी नाट्य जगत के गायक, संगीतकार, गीतकार एवं अभिनेता हैं। वे अपने एक पात्रीय प्रस्तुतियों "तुलसी", "कबीर", "विवेकानन्द" और "साहेब" के लिये जाने जाते हैं। वे संगीत नाटक अकादमी के वर्तमान अध्यक्ष हैं। .

नई!!: रायपुर और शेखर सेन · और देखें »

सिद्धेश्वर मंदिर, पलारी, रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक सिद्धेश्वर मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में रायपुर से बलोदाबाजार रोड पर ७० कि॰मी॰ दूर स्थित पलारी ग्राम में बालसमुंद तालाब के तटबंध पर यह शिव मंदिर स्थित है। इस मंदिर का निर्माण लगभग ७-८वीं शती ईस्वी में हुआ था। ईंट निर्मित यह मंदिर पश्चिमाभिमुखी है। मंदिर की द्वार शाखा पर नदी देवी गंगा एवं यमुना त्रिभंगमुद्रा में प्रदर्शित हुई हैं। द्वार के सिरदल पर त्रिदेवों का अंकन है। प्रवेश द्वार स्थित सिरदल पर शिव विवाह का दृश्य सुन्दर ढंग से उकेरा गया है एवं द्वार शाखा पर अष्ट दिक्पालों का अंकन है। गर्भगृह में सिध्देश्वर नामक शिवलिंग प्रतिष्ठापित है। इस मंदिर का शिखर भाग कीर्तिमुख, गजमुख एवं व्याल की आकृतियों से अलंकृत है जो चैत्य गवाक्ष के भीतर निर्मित हैं। विद्यमान छत्तीसगढ़ के ईंट निर्मित मंदिरों का यह उत्तम नमूना है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है।.

नई!!: रायपुर और सिद्धेश्वर मंदिर, पलारी, रायपुर · और देखें »

सिम्गा

सिम्गा रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और सिम्गा · और देखें »

सिहावा

सिहावा रायपुर के समीप धमतरी जिले में स्थित एक पर्वत श्रेणी है। यहीं से महानदी का उद्गम होता है। श्रेणी:महानदी श्रेणी:धमतरी.

नई!!: रायपुर और सिहावा · और देखें »

संचित

संचित का अर्थ होता है इकट्ठा किया हुआ। .

नई!!: रायपुर और संचित · और देखें »

संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा

संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा (CLAT / क्लेट) राष्ट्रीय विधि विद्यालयों तथा विधि विश्वविद्यालयो के विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों (एल.एल.बी एवं एल.एल.एम) में प्रवेश के लिए भारत भर में स्थापित किये गये 15 स्कूल/विश्वविद्यालयों द्वारा बारी–बारी से आयोजित की जाती है। प्रथम संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा के समय गठित की गई 7 राष्ट्रीय लॉ विश्वविद्यालयों के उपकुलाधिपति की मुख्य समिति ने निर्णय लिया था कि सभी विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के क्रम में बारी-बारी से इस परीक्षा को आयोजित करेंगे। इसके अनुसार प्रथम संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा का आयोजन 2008 में राष्ट्रीय लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बंगलुरु द्वारा किया गया था। आगामी सत्र के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन डॉ राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, लखनऊ द्वारा किया जाना है। .

नई!!: रायपुर और संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा · और देखें »

सुन्दरलाल शर्मा

00chrm.jpg पंडित सुंदरलाल शर्मा (२१ दिसम्बर १८८१ - १९४०), छत्तीसगढ़ में जन जागरण तथा सामाजिक क्रांति के अग्रदूत थे। वे कवि, सामाजिक कार्यकर्ता, समाजसेवक, इतिहासकार, स्वतंत्रता-संग्राम सेनानी तथा बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उन्हें 'छत्तीसगढ़ का गांधी' कहा जाता है। उनके सम्मान में उनके नाम पर पण्डित सुन्दरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ की स्थापना की गई है। .

नई!!: रायपुर और सुन्दरलाल शर्मा · और देखें »

स्वदेश (हिन्दी समाचारपत्र)

स्वदेश राष्ट्रीय भावनाओं से ओत-प्रोत हिन्दी का दैनिक समाचार पत्र है। यह इन्दौर, ग्वालियर, भोपाल सहित कई नगरों से प्रकाशित होता है। ग्वालियर से प्रकाशन शुरू करने वाले 'दैनिक स्वदेश' छत्तीसगढ़ के रायपुर, बिलासपुर; मध्य प्रदेश के इन्दौर, भोपाल, सागर, जबलपुर, सतना; महाराष्ट्र के नागपुर संस्करण अभी प्रकाशित हो रहे हैं। अखबार को गुजरात की राजधानी अहमदाबाद से शुभारम्भ करने की सभी तैयारियां लगभग पूरी कर ली गयी हैं। .

नई!!: रायपुर और स्वदेश (हिन्दी समाचारपत्र) · और देखें »

स्वामी विवेकानन्द

स्वामी विवेकानन्द(স্বামী বিবেকানন্দ) (जन्म: १२ जनवरी,१८६३ - मृत्यु: ४ जुलाई,१९०२) वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् १८९३ में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण वेदान्त दर्शन अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द की वक्तृता के कारण ही पहुँचा। उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी जो आज भी अपना काम कर रहा है। वे रामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य शिष्य थे। उन्हें प्रमुख रूप से उनके भाषण की शुरुआत "मेरे अमरीकी भाइयो एवं बहनों" के साथ करने के लिये जाना जाता है। उनके संबोधन के इस प्रथम वाक्य ने सबका दिल जीत लिया था। कलकत्ता के एक कुलीन बंगाली परिवार में जन्मे विवेकानंद आध्यात्मिकता की ओर झुके हुए थे। वे अपने गुरु रामकृष्ण देव से काफी प्रभावित थे जिनसे उन्होंने सीखा कि सारे जीव स्वयं परमात्मा का ही एक अवतार हैं; इसलिए मानव जाति की सेवा द्वारा परमात्मा की भी सेवा की जा सकती है। रामकृष्ण की मृत्यु के बाद विवेकानंद ने बड़े पैमाने पर भारतीय उपमहाद्वीप का दौरा किया और ब्रिटिश भारत में मौजूदा स्थितियों का पहले हाथ ज्ञान हासिल किया। बाद में विश्व धर्म संसद 1893 में भारत का प्रतिनिधित्व करने, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए कूच की। विवेकानंद के संयुक्त राज्य अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप में हिंदू दर्शन के सिद्धांतों का प्रसार किया, सैकड़ों सार्वजनिक और निजी व्याख्यानों का आयोजन किया। भारत में, विवेकानंद को एक देशभक्त संत के रूप में माना जाता है और इनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। .

नई!!: रायपुर और स्वामी विवेकानन्द · और देखें »

सृजन सम्मान

सृजन-सम्मान का गठन सृजनात्मकता और मौलिक लेखन की साधना को अक्षुण्ण बनाए रखने के उद्देश्य से स्व.

नई!!: रायपुर और सृजन सम्मान · और देखें »

हबीब तनवीर

हबीब तनवीर चित्र में दाहिने हबीब तनवीर (जन्म: 1 सितंबर 1923) भारत के मशहूर पटकथा लेखक, नाट्य निर्देशक, कवि और अभिनेता थे। हबीब तनवीर का जन्म छत्तीसगढ़ के रायपुर में हुआ था, जबकि निधन 8 जून,2009 को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हुआ। उनकी प्रमुख कृतियों में आगरा बाजार (1954) चरणदास चोर (1975) शामिल है। उन्होंने 1959 में दिल्ली में नया थियेटर कंपनी स्थापित किया था। .

नई!!: रायपुर और हबीब तनवीर · और देखें »

हरि ठाकुर

हरि_ठाकुर हरि ठाकुर का जन्मः १६ अगस्त १९२७, में रायपुर में हुआ उन्होंने बी.ए., एल एल.

नई!!: रायपुर और हरि ठाकुर · और देखें »

हरिभूमि

हरिभूमि हिन्दी भाषा में प्रकाशित होने वाला एक दैनिक समाचार पत्र है जो भारत में हरियाणा, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में प्रकाशित होता है। इसकी स्थापना १९९६ में हुई जो वर्तमान में हरियाणा में रोहतक से, छत्तीसगढ़ में बिलासपुर, रायपुर एवं रायगढ़ से, मध्य प्रदेश में जबलपुर से और दिल्ली से प्रकाशित होता है। हरिभूमि ग्रुप की शुरुआत 5 सितंबर 1996 को साप्ताहिक हिंदी पत्रिका के रूप में हुई थी। बाद में नवंबर 1997 में यह दैनिक हिंदी अखबार के रूप में हरियाणा से रोहतक एडिशन के रूप में लांच किया गया। रोहतक एडिशन के जरिए पूरे हरियाणा राज्य की खबरें प्रकाशित की जाने लगीं। अप्रैल 1998 में हरिभूमि मीडिया ग्रुप ने दिल्ली संस्करण की शुरूआत की और दिल्ली के साथ फरीदाबाद और गुड़गांव की खबरें प्रकाशित की जाने लगीं। मार्च 2001 में हरिभूमि ग्रुप ने छत्तीसगढ़ में प्रवेश किया और बिलासपुर एडिशन की शुरूआत की। जून 2002 में बिलासपुर औऱ रायपुर में ग्रुप के ऑफिस शुरू किए गए। रायपुर एडिशन ने उड़ीसा के भी काफी क्षेत्र की खबरें प्रकाशित करनी शुरू कीं। अक्टूबर 2008 में मध्य प्रदेश से हरिभूमि जबलपुर की शुरूआत की गई। इसी साल छत्तीसगढ़ में रायगढ़ एडीशन की भी शुरूआत की गई। .

नई!!: रायपुर और हरिभूमि · और देखें »

हरिसिंह गौर

सागर विश्वविद्यालय के संस्थापक '''डॉ हरिसिंह गौर''' डॉ॰ हरिसिंह गौर, (२६ नवम्बर १८७० - २५ दिसम्बर १९४९) सागर विश्वविद्यालय के संस्थापक, शिक्षाशास्त्री, ख्यति प्राप्त विधिवेत्ता, न्यायविद्, समाज सुधारक, साहित्यकार (कवि, उपन्यासकार) तथा महान दानी एवं देशभक्त थे। वह बीसवीं शताब्दी के सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मनीषियों में से थे। वे दिल्ली विश्वविद्यालय तथा नागपुर विश्वविद्यालय के उपकुलपति रहे। वे भारतीय संविधान सभा के उपसभापति, साइमन कमीशन के सदस्य तथा रायल सोसायटी फार लिटरेचर के फेल्लो भी रहे थे।उन्होने कानून शिक्षा, साहित्य, समाज सुधार, संस्कृति, राष्ट्रीय आंदोलन, संविधान निर्माण आदि में भी योगदान दिया। उन्होने अपनी गाढ़ी कमाई से 20 लाख रुपये की धनराशि से 18 जुलाई 1946 को अपनी जन्मभूमि सागर में सागर विश्वविद्यालय की स्थापना की तथा वसीयत द्वारा अपनी पैतृक सपत्ति से 2 करोड़ रुपये दान भी दिया था। इस विश्वविद्यालय के संस्थापक, उपकुलपति तो थे ही वे अपने जीवन के आखिरी समय (२५ दिसम्बर १९४९) तक इसके विकास व सहेजने के प्रति संकल्पित रहे। उनका स्वप्न था कि सागर विश्वविद्यालय, कैम्ब्रिज तथा ऑक्सफोर्ड जैसी मान्यता हासिल करे। उन्होंने ढाई वर्ष तक इसका लालन-पालन भी किया। डॉ॰ सर हरीसिंह गौर एक ऐसा विश्वस्तरीय अनूठा विश्वविद्यालय है, जिसकी स्थापना एक शिक्षाविद् के द्वारा दान द्वारा की गई थी। .

नई!!: रायपुर और हरिसिंह गौर · और देखें »

हरगोविन्द खुराना

हरगोविंद खुराना (जन्म: ९ जनवरी १९२२ मृत्यु ९ नवंबर २०११) एक नोबेल पुरस्कार से सम्मानित भारतीय वैज्ञानिक थे। हरगोविंद खुराना एक भारतीय अमेरिकी जैव रसायनज्ञ थे। विस्कॉन्सिन विश्वविद्यालय,अमरीका में अनुसन्धान करते हुए, उन्हें १९६८ में मार्शल डब्ल्यू निरेनबर्ग और रॉबर्ट डब्ल्यू होली के साथ फिजियोलॉजी या मेडिसिन के लिए नोबेल पुरस्कार सयुक्त रूप से मिला,उनके द्वारा न्यूक्लिक एसिड में न्यूक्लियोटाइड का क्रम खोजा गया, जिसमें कोशिका के अनुवांशिक कोड होते हैं और प्रोटीन के सेल के संश्लेषण को नियंत्रित करता है । हरगोविंद खुराना और निरेनबर्ग को उसी वर्ष कोलंबिया विश्वविद्यालय से लुइसा ग्रॉस हॉर्वित्ज़ पुरस्कार भी दिया गया था। ब्रिटिश भारत में पैदा हुए, हरगोविंद खुराना ने उत्तरी अमेरिका में तीन विश्वविद्यालयों के संकाय में कार्य किया। वह १९६६ में संयुक्त राज्य अमेरिका के नागरिक बन गए और १९८७ में विज्ञान का राष्ट्रीय पदक प्राप्त किया। .

नई!!: रायपुर और हरगोविन्द खुराना · और देखें »

हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय

हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (Hidayatullah National Law University) भारत के पहले मुस्लिम मुख्य न्यायाधीश मुहम्मद हिदायतुल्लाह के नाम पर छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में वर्ष २००३ में की गई। यह विधि विश्वविद्यालय विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा यूजीसी अधिनियम १९५६ के सेक्शन २(एफ) के तहत अनुदान प्रदान करने वाले विश्वविद्यालय की सूची में शामिल है। विश्वविद्यालय को बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्रदान की गई है। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस नवीन सिन्हा विश्वविद्यालय के कुलाधिपति और प्रो.

नई!!: रायपुर और हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय · और देखें »

हिन्दी की साहित्यिक पत्रिकायें

हिंदी की साहित्यिक पत्रिकाएँ, हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं के विकास और संवर्द्धन में उल्लेखनीय भूमिका निभाती रहीं हैं। कविता, कहानी, उपन्यास, निबंध, नाटक, आलोचना, यात्रावृत्तांत, जीवनी, आत्मकथा तथा शोध से संबंधित आलेखों का नियमित तौर पर प्रकाशन इनका मूल उद्देश्य है। अधिकांश पत्रिकाओं का संपादन कार्य अवैतनिक होता है। भाषा, साहित्य तथा संस्कृति अध्ययन के क्षेत्र में साहित्यिक पत्रिकाओं का उल्लेखनीय योगदान रहा है। वर्तमान में प्रकाशित कुछ प्रमुख पत्रिकाओं की सूची निम्नवत है: .

नई!!: रायपुर और हिन्दी की साहित्यिक पत्रिकायें · और देखें »

हिंदी की विभिन्न बोलियाँ और उनका साहित्य

हिन्दी की अनेक बोलियाँ (उपभाषाएँ) हैं, जिनमें अवधी, ब्रजभाषा, कन्नौजी, बुंदेली, बघेली, भोजपुरी, हरयाणवी, राजस्थानी, छत्तीसगढ़ी, मालवी, झारखंडी, कुमाउँनी, मगही आदि प्रमुख हैं। इनमें से कुछ में अत्यंत उच्च श्रेणी के साहित्य की रचना हुई है। ऐसी बोलियों में ब्रजभाषा और अवधी प्रमुख हैं। यह बोलियाँ हिन्दी की विविधता हैं और उसकी शक्ति भी। वे हिन्दी की जड़ों को गहरा बनाती हैं। हिन्दी की बोलियाँ और उन बोलियों की उपबोलियाँ हैं जो न केवल अपने में एक बड़ी परंपरा, इतिहास, सभ्यता को समेटे हुए हैं वरन स्वतंत्रता संग्राम, जनसंघर्ष, वर्तमान के बाजारवाद के खिलाफ भी उसका रचना संसार सचेत है। मोटे तौर पर हिंद (भारत) की किसी भाषा को 'हिंदी' कहा जा सकता है। अंग्रेजी शासन के पूर्व इसका प्रयोग इसी अर्थ में किया जाता था। पर वर्तमानकाल में सामान्यतः इसका व्यवहार उस विस्तृत भूखंड को भाषा के लिए होता है जो पश्चिम में जैसलमेर, उत्तर पश्चिम में अंबाला, उत्तर में शिमला से लेकर नेपाल की तराई, पूर्व में भागलपुर, दक्षिण पूर्व में रायपुर तथा दक्षिण-पश्चिम में खंडवा तक फैली हुई है। हिंदी के मुख्य दो भेद हैं - पश्चिमी हिंदी तथा पूर्वी हिंदी। .

नई!!: रायपुर और हिंदी की विभिन्न बोलियाँ और उनका साहित्य · और देखें »

हुदहुद (चक्रवात)

हुदहुद एक उष्णकटिबंधीय चक्रवाती तूफान है। यह उत्तरी हिंद महासागर में बना २०१४ का अब तक का सबसे ताकतवर तूफान है। इसका नाम हुदहुद नामक एक पक्षी के नाम से लिया गया है। इसके नाम का सुझाव ओमान ने दिया। .

नई!!: रायपुर और हुदहुद (चक्रवात) · और देखें »

हेमू कालाणी

हेमू कालाणी हेमू कालाणी (Hemu Kalani) भारत के एक क्रान्तिकारी एवं स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी थे। अंग्रेजी शासन ने उन्हें फांसी पर लटका दिया था। .

नई!!: रायपुर और हेमू कालाणी · और देखें »

जनसत्ता

जनसत्ता हिन्दी का प्रमुख दैनिक समाचार पत्र है। .

नई!!: रायपुर और जनसत्ता · और देखें »

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय (जेईसी), जिसे पहले शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के नाम से जाना जाता था, जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत में स्थित एक संस्थान है। यह भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान, शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के रूप में स्थापित किया गया था और यह भारत का १५ वां सबसे पुराना अभियांत्रिकी संस्थान है। यह भारत का पहला संस्थान है जिसने देश में इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार अभियांत्रिकी की शिक्षा शुरू की और यह भारत में ब्रिटिश द्वारा स्थापित अंतिम शैक्षिक संस्थान भी है। संस्थान अभियांत्रिकी अनुप्रयुक्त विज्ञान में स्नातक, स्नाकोत्तर और डॉक्टरेट उपाधि प्रदान करता है। संस्थान ने मार्च २०१३ में एक घोषणा की, कि वह अभियांत्रिकी में नए पाठ्यक्रम शुरू कर रहा है जैसे प्रबंधन, रचना विज्ञान, वास्तुकला, नगर नियोजन, भेषज विज्ञान, साइबर और व्यवसाय और कानून में स्नाकोत्तर आदि। .

नई!!: रायपुर और जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर · और देखें »

जमशेदपुर

जमशेदपुर जिसका दूसरा नाम टाटानगर भी है, भारत के झारखंड राज्य का एक शहर है। यह झारखंड के दक्षिणी हिस्से में स्थित पूर्वी सिंहभूम जिले का हिस्सा है। जमशेदपुर की स्थापना को पारसी व्यवसायी जमशेदजी नौशरवान जी टाटा के नाम से जोड़ा जाता है। १९०७ में टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना से इस शहर की बुनियाद पड़ी। इससे पहले यह साकची नामक एक आदिवासी गाँव हुआ करता था। यहाँ की मिट्टी काली होने के कारण यहाँ पहला रेलवे-स्टेशन कालीमाटी के नाम से बना जिसे बाद में बदलकर टाटानगर कर दिया गया। खनिज पदार्थों की प्रचुर मात्रा में उपलब्धता और खड़कई तथा सुवर्णरेखा नदी के आसानी से उपलब्ध पानी, तथा कोलकाता से नजदीकी के कारण यहाँ आज के आधुनिक शहर का पहला बीज बोया गया। जमशेदपुर आज भारत के सबसे प्रगतिशील औद्योगिक नगरों में से एक है। टाटा घराने की कई कंपनियों के उत्पादन इकाई जैसे टिस्को, टाटा मोटर्स, टिस्कॉन, टिन्पलेट, टिमकन, ट्यूब डिवीजन, इत्यादि यहाँ कार्यरत है। .

नई!!: रायपुर और जमशेदपुर · और देखें »

ज़ोनल टी-20 लीग 2018

2017-18 ज़ोनल टी-20 लीग भारत में एक आगामी ट्वेंटी 20 क्रिकेट प्रतियोगिता है यह 7 से 16 जनवरी 2018 तक खेला जाने वाला है। जनवरी और फरवरी 2017 में आयोजित 2016-17 इंटर स्टेट ट्वेंटी-20 टूर्नामेंट के बाद यह टूर्नामेंट का दूसरा संस्करण होगा। .

नई!!: रायपुर और ज़ोनल टी-20 लीग 2018 · और देखें »

जेट कनेक्ट

जेट कनेक्ट के रूप में संचालित जेटलाइट (पूर्व नाम: एयर सहारा) मुंबई, भारत में आधारित एक वायुसेवा थी। रीडिफ.कॉम, 16 अप्रैल 2007 इसे पहले जेट एयर वेज़ कनेक्ट के नाम से जाना जाता था, जेट लाईट इंडिया लिमिटेड का एक व्यावसायिक नाम है। यह मुंबई में स्थित एक विमानन सेवा है जिस पर की जेट एयरवेज का मालिकाना हक़ है। यह विमान सेवा भारत के सभी मेट्रोपोल शहरों को जोड़ने के लिए नियमित उड़ान सेवाएँ प्रदान करती है। .

नई!!: रायपुर और जेट कनेक्ट · और देखें »

वल्लभाचार्य

श्रीवल्लभाचार्यजी (1479-1531) भक्तिकालीन सगुणधारा की कृष्णभक्ति शाखा के आधारस्तंभ एवं पुष्टिमार्ग के प्रणेता थे। उनका प्रादुर्भाव विक्रम संवत् 1535, वैशाख कृष्ण एकादशी को दक्षिण भारत के कांकरवाड ग्रामवासी तैलंग ब्राह्मण श्रीलक्ष्मणभट्टजी की पत्नी इलम्मागारू के गर्भ से हुआ। यह स्थान वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर के निकट चम्पारण्य है। उन्हें वैश्वानरावतार (अग्नि का अवतार) कहा गया है। वे वेदशास्त्र में पारंगत थे। महाप्रभु वल्लभाचार्य के सम्मान में भारत सरकार ने सन 1977 में एक रुपये मूल्य का एक डाक टिकट जारी किया था। .

नई!!: रायपुर और वल्लभाचार्य · और देखें »

विधान सभा

विधान सभा या वैधानिक सभा जिसे भारत के विभिन्न राज्यों में निचला सदन(द्विसदनीय राज्यों में) या सोल हाउस (एक सदनीय राज्यों में) भी कहा जाता है। दिल्ली व पुडुचेरी नामक दो केंद्र शासित राज्यों में भी इसी नाम का प्रयोग निचले सदन के लिए किया जाता है। 7 द्विसदनीय राज्यों में ऊपरी सदन को विधान परिषद कहा जाता है। विधान सभा के सदस्य राज्यों के लोगों के प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होते हैं क्योंकि उन्हें किसी एक राज्य के 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के नागरिकों द्वारा सीधे तौर पर चुना जाता है। इसके अधिकतम आकार को भारत के संविधान के द्वारा निर्धारित किया गया है जिसमें 500 से अधिक व् 60 से कम सदस्य नहीं हो सकते। हालाँकि विधान सभा का आकार 60 सदस्यों से कम हो सकता है संसद के एक अधिनियम के द्वारा: जैसे गोवा, सिक्किम, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी। कुछ राज्यों में राज्यपाल 1 सदस्य को अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए नियुक्त कर सकता है, उदा० ऐंग्लो इंडियन समुदाय अगर उसे लगता है कि सदन में अल्पसंख्यकों को उचित प्रतिनिधित्व नहीं मिला है। राज्यपाल के द्वारा चुने गए या नियुक्त को विधान सभा सदस्य या MLA कहा जाता है। प्रत्येक विधान सभा का कार्यकाल पाँच वर्षों का होता है जिसके बाद पुनः चुनाव होता है। आपातकाल के दौरान, इसके सत्र को बढ़ाया जा सकता है या इसे भंग किया जा सकता है। विधान सभा का एक सत्र वैसे तो पाँच वर्षों का होता है पर लेकिन मुख्यमंत्री के अनुरोध पर राज्यपाल द्वारा इसे पाँच साल से पहले भी भंग किया जा सकता है। विधानसभा का सत्र आपातकाल के दौरान बढ़ाया जा सकता है लेकिन एक समय में केवल छः महीनों के लिए। विधान सभा को बहुमत प्राप्त या गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित हो जाने पर भी भंग किया जा सकता है। .

नई!!: रायपुर और विधान सभा · और देखें »

विमानक्षेत्रों की सूची ICAO कोड अनुसार: V

प्रविष्टियों का प्रारूप है.

नई!!: रायपुर और विमानक्षेत्रों की सूची ICAO कोड अनुसार: V · और देखें »

वैकुण्ठ

बैंकुण्ठ  भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ की छोटी योजनाबद्ध बस्ती है। यह रायपुर-बिलासपुर रेल-लाइन से 40 किलोमीटर (25 मील) दूर स्थित है। यह सेंचुरी सीमेंट विनिर्माण संयंत्र के कर्मचारियों के निवास के लिए बनाया गया, जो 1970 के दशक के शुरुआत में परिचालन में आया। यह बी॰के॰ बिड़ला समूह की कंपनियों के अधीन है। .

नई!!: रायपुर और वैकुण्ठ · और देखें »

खुडिया बांध

खुड़िया बांध छत्तीसगढ़ में मुंगेली जिले के लोरमी विकासखण्ड में स्थित है और मुंगेली से तकरीबन 45 किलोमीटर दूर है। इसका आधिकारिक नाम संजयगांधी जलाशय है। यह एक रमणीय स्थल है जो चारो ओर से वनाच्छाादित है तथा इसके उत्तर पश्चिम दिशा में पर्वत श्रृखला है यह बांध मनियारी नदी पर अंग्रेजो के शासनकाल में तैयार की गई है। तथा यहां पर रेस्ट हाउस भी उपलब्ध है। यहां जाने के लिए हम छत्तीसगढ के राजधानी रायपुर से सीधे बस के माध्यम से जा सकते है। निकटतम रेलवे स्टेशन कोटा व बिलासपुर हैं। बाँध के दक्षिण भाग से एक नहर निकलता है, जो पुरे लोरमी क्षेत्र को सिन्चित करता है आज के दिनों में वो अपने में बहोत बडा उपलब्धि है | यह प्राकृतिक सौन्दर्य का अपार खजाना है | बांध के पूर्वी भाग में थोड़ी उचाई में रेस्ट हॉउस है, जिसमे दार्शनिक बड़े आनंद के साथ मनोरंजन करते है | उसके नीचे में खुडिया की पूरी बस्ती बसी है .

नई!!: रायपुर और खुडिया बांध · और देखें »

गरियाबंध

गरियाबंध रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और गरियाबंध · और देखें »

गंगा नारायण सिंह

अमर शहीद वीर गंगा नारायण सिंह, भूमिज विद्रोह के महानायक कहे जाते हैं। 1767 ईस्वी से 1833 ईस्वी तक, 60 से ज्यादा वर्षों में भूमिज मुंडाओं द्वारा अंग्रेजों के विरूद्ध किए गए विद्रोह को भूमिज विद्रोह कहा गया है। अंग्रेजों ने इसे 'गंगा नारायण का हंगामा' कहा है जबकि इतिहासकारों ने इसे चुआड विद्रोह के नाम से लिखा है। 1765 ईस्वी में दिल्ली के बादशाह, शाह आलम ने बंगाल, बिहार, उडीसा की दीवानी ईस्ट इंडिया कंपनी को दी थी। इससे आदिवासियों का शोषण होने लगा तो भूमिज मुंडाओं ने विद्रोह कर दिया। चुआड का अर्थ वस्तुत: Robbers होता है। कई इतिहासकारों ने जैसे कि J.C.Jha,E.T.Dalton, W.W.Hunter,H.H.Risley, J.C.price,S.C.Roy, Bimla Sharan, Surojit Sinha आदि ने भूमिज को ही चुआड कहा है। भूमिज काफी वीर तथा बहादुर होते हैं। भूमिजों ने हमेशा ही अन्याय के विरूद्ध आवाज उठाई है, तथा संघर्ष किया है। .

नई!!: रायपुर और गंगा नारायण सिंह · और देखें »

गुरू घासीदास

गुरू घासीदास (1756 – अंतर्ध्यान अज्ञात) ग्राम गिरौदपुरी तहसिल बलौदाबाजार जिला रायपुर में पिता महंगुदास जी एवं माता अमरौतिन के यहाँ अवतरित हुये थे गुरूजी सतनाम सतनाम धर्म जिसे आम बोल चाल में सतनामी धर्म के प्रवर्तक कहा जाता है, गुरूजी भंडारपुरी को अपना धार्मिक स्थल के रूप में संत समाज को प्रमाणित सत्य के शक्ति के साथ दिये वहाँ गुरूजी के पूर्वज आज भी निवासरत है। उन्होंने अपने समय की सामाजिक आर्थिक विषमता, शोषण तथा जातिभेद को समाप्त करके मानव-मानव एक समान का संदेश दिये। .

नई!!: रायपुर और गुरू घासीदास · और देखें »

गीदम

गीदम जनगणना छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में स्थित है और 15 किमी के आसपास स्थित है शहर है। दंतेवाड़ा, जिला मुख्यालय के उत्तर में.

नई!!: रायपुर और गीदम · और देखें »

आधिकारिक आवास

सामान्य रूप में आधिकारिक आवास किसी अधिकार या पद के साथ मिलनेवाले आवास को कहते है। लेकिन सार्वभौमिक रूप से, किसी देश के राष्ट्रप्रमुख, शासनप्रमुख, राज्यपाल या अन्य वरिष्ठ पद के निवासस्थान को "आधिकारिक आवास" कहते है। निम्नलिखित दुनिया के आधिकारिक आवासों की सूची है। सूची का प्रारूप इस प्रकार है.

नई!!: रायपुर और आधिकारिक आवास · और देखें »

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ रायपुर में स्थित कृषि विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना २० जनवरी १९८७ को हुई थी। .

नई!!: रायपुर और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय · और देखें »

कबीर पंथ

संत कबीर कबीर पंथ या सतगुरु कबीर पंथ भारत के भक्तिकालीन कवि कबीर की शिक्षाओं पर आधारित एक संप्रदाय है। कबीर के शिष्य धर्मदास ने उनके निधन के लगभग सौ साल बाद इस पंथ की शुरुआत की थी। प्रारंभ में दार्शनिक और नैतिक शिक्षा पर आधारित यह पंथ कालांतर में धार्मिक संप्रदाय में परिवर्तित हो गया। कबीर पंथ के अनुयायियों में हिंदू, मुसलमान, बौद्ध और जैन सभी धर्मों के लोग शामिल हैं। इनमें बहुतायत हिंदुओं की है। कबीर की रचनाओं का संग्रह बीजक इस पंथ के दार्शनिक और आध्यात्मिक चिंतन का आधार ग्रंथ है। अपने काव्य में कबीर ने पंथ को महत्त्वहीन बताते हुए उसका उपहास उड़ाया है। "ऐसा जोग न देखा भाई। भूला फिरै लिए गफिलाई॥ महादेव को पंथ चलावै। ऐसो बड़ो महंथ कहावै॥" कबीर पंथ का अध्ययन करने वाले केदारनाथ द्विवेदी के अनुसार इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है कि पंथ की स्थापना कबीर ने स्वयं की। कबीर की मृत्यु के पश्चात उनके शिष्यों ने यह कार्य किया। .

नई!!: रायपुर और कबीर पंथ · और देखें »

कबीरधाम जिला

कबीरधाम जिला (पुराना नाम कवर्धा जिला) भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ का एक जिला है। जिले का मुख्यालय कवर्धा है। रायपुर से 120 कि॰मी॰ और बिलासपुर से 114 कि॰मी॰ कि दूरि पर स्थित है यह पुण्य नगरी। मुख्यमन्त्री रमन सिंह के गृहनगर होने के साथ साथ कइ महत्वपूर्ण लोगों कि कर्यस्थली भी है। खजुराहो के समकालिक भोरमदेव का प्रसिध मन्दिर जिले के महत्वपूर्ण आकर्षणों में से है। .

नई!!: रायपुर और कबीरधाम जिला · और देखें »

कम्मा (जाति)

कम्मा కమ్మ या कम्मावारु एक सामाजिक समुदाय है जो ज्यादातर दक्षिण भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और कर्नाटक में पाया जाता है। वर्ष 1881 में कम्मा जाति की जनसंख्या 795,732 थी। 1921 की जनगणना के अनुसार आंध्रप्रदेश की जनसंख्या में उनका हिस्सा 4.0% का था और तमिलनाडु एवं कर्नाटक में वे एक बड़ी संख्या में मौजूद थे। पिछली सदी के अंतिम दशकों में इनकी एक बड़ी तादाद दुनिया के अन्य हिस्सों विशेषकर अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में प्रवासित हो गयी। .

नई!!: रायपुर और कम्मा (जाति) · और देखें »

कार्टून वाच

कार्टून वाच के प्रथम अंक का आवरण मात्र हिन्दी कार्टून मासिक पत्रिका है। इसका प्रकाशन ५ दिसम्बर १९९६ को रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रारम्भ हुआ। युवा कार्टूनिस्ट त्र्यम्बक शर्मा ने इस पत्रिका की नींव रखी। कार्टून वाच ने शंकर्स वीकली के बंद होने के बाद उपजे शून्य को समाप्त किया और आज यह पत्रिका सम्पूर्ण भारत के कार्टूनिस्टों का मुख-पत्र बन गई है। यह पत्रिका गुम हो चुके कार्टूनिस्टों को चर्चा में लाने के साथ-साथ नए कार्टूनिस्टों को भी मंच प्रदान करती है। कार्टून वाच द्बारा गत वर्ष (२००८) में लन्दन के नेहरु सेंटर में दो सप्ताह की कार्टून प्रदर्शनी आयोजित की थी जिसे काफी सराहा गया। .

नई!!: रायपुर और कार्टून वाच · और देखें »

कुलेश्वर मंदिर,राजिम,रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य के संरक्षित स्मारक कुलेश्वर मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर जिले में राजिम नगर में स्थित है। यह स्मारक छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा संरक्षित है। पुरातत्वीय धार्मिक एवं सांस्कृति महत्व का स्थल राजिम रायपुर से 48 कि॰मी॰ दक्षिण में महानदी के दक्षिण तट पर स्थित है जहां पैरी एवं सोंढूर नदी का महानदी से संगम होता है। इसका प्राचीन नाम 'कमल क्षेत्र' एवं 'पद्मपुर' था। इसे 'छत्तीसगढ़ का प्रयाग' माना जाता है। राजिम कें राजीव लोचन देवालय में विष्णु भगवान की पूजा होती है। राजेश्वर, दानेश्वर एवं रामचन्द्र मंदिर इस समूह के अन्य महत्वपूर्ण मंदिर है। कुलेश्वर शिव मंदिर संगम स्थली पर ऊंची जगती पर निर्मित है। नवीं शती ई. में निर्मित यह मंदिर पूर्वाभिमुखी है। इस मंदिर में गर्भगृह, अन्तराल एवं मण्डप है। मण्डप की भित्ति में आठ पंक्तियों का क्षरित-अस्पष्ट प्रस्तर अभिलेख जड़ा हुआ है। यहां क्षेत्रीय कला एवं स्थापत्य से संबंधी दुर्लभ कलात्मक प्रतिमाएं मण्डप में दर्शनीय हैं।.

नई!!: रायपुर और कुलेश्वर मंदिर,राजिम,रायपुर · और देखें »

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ का पहला व देश का दूसरा पत्रकारिता विश्वविद्यालय है। इस विश्वविद्यालय की नींव सन् २००४ में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने रखी थी। यहां पत्रकारिता से संबंधित पाठ्यक्रम एम जे, एम एस सी इलेक्ट्रानिक मीडिया, एम ए एपीआर एवं एम ए एम सी सहित डिप्लोमा कोर्स संचालित है। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ॰ एमएस परमार नियुक्त किए गए हैं। श्रेणी:छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालय श्रेणी:भारत के विश्वविद्यालय.

नई!!: रायपुर और कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय · और देखें »

के एस सुदर्शन

श्री कुप्पाहाली सीतारमय्या सुदर्शन (१८ जून १९३१-१५ सितंबर २०१२) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पाँचवें सरसंघचालक थे। मार्च २००९ में श्री मोहन भागवत को छठवाँ सरसंघचालक नियुक्त कर स्वेच्छा से पदमुक्त हो गये। 15 सितम्बर 2012 को अपने जन्मस्थान रायपुर में 81 वर्ष की अवस्था में इनका निधन हो गया। .

नई!!: रायपुर और के एस सुदर्शन · और देखें »

केयूर भूषण

केयूर भूषण (१९२८ -- २०१८) भारत के स्वतन्त्रता सेनानी एवं छत्तीसगढ़ी साहित्यकार थे। भूषण का जन्म १ मार्च १९२८ को छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले के जांता गांव में हुआ था। उन्होंने महात्मा गांधी के आह्वान पर अंग्रेजी सरकार के विरुद्ध १९४२ के असहयोग आन्दोलन में भाग लिया और गिरफ्तार हुए। उस समय वह रायपुर केन्द्रीय जेल में सबसे कम उम्र के राजनीतिक बंदी थे। भूषण ने वर्ष 1980 से 1990 तक सांसद के रूप में लोकसभा में रायपुर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था। छत्तीसगढ़ सरकार ने वर्ष 2001 में राज्योत्सव के अवसर पर उन्हें पंडित रविशंकर शुक्ल सद्भावना पुरस्कार से सम्मानित किया था। .

नई!!: रायपुर और केयूर भूषण · और देखें »

अभनपुर

अभनपुर रायपुर जिले की एक तहसील है। अभनपुर अभनपुर श्रेणी:चित्र जोड़ें.

नई!!: रायपुर और अभनपुर · और देखें »

अलका क्रिप्लानी

अलका क्रिप्लानी एक भारतीय स्त्री रोग विशेषज्ञ है, चिकित्सा लेखक और शैक्षणिक, प्रजननशील एंडोक्रिनोलॉजी और गायनोकोलोजी एंडोस्कोपी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए जानी जाती हैं। वह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली में प्रोफेसर और गायनोकोलॉजी और प्रसूतिशास्त्र विभाग की प्रमुख हैं। उन्हें २०१५ में भारत सरकार द्वारा पद्म श्री, चौथे उच्चतम भारतीय नागरिक पुरस्कार के साथ सम्मानित किया गया था। .

नई!!: रायपुर और अलका क्रिप्लानी · और देखें »

अजीत जोगी

अजीत प्रमोद कुमार जोगी एक भारतीय राजनेता है तथा प्रथम छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बिलासपुर के पेंड्रा में जन्में अजीत जोगी ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद पहले भारतीय पुलिस सेवा और फिर भारतीय प्रशासनिक की नौकरी की। बाद में वे मध्यप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह के सुझाव पर राजनीति में आये। वे विधायक और सांसद भी रहे। बाद में 1 नवंबर 2000 को जब छत्तीसगढ़ बना तो राज्य का पहला मुख्यमंत्री अजीत जोगी को बनाया गया। .

नई!!: रायपुर और अजीत जोगी · और देखें »

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान या एम्स (AIIMS) सार्वजनिक आयुर्विज्ञान महाविद्यालय का समूह है। इस समूह में नई दिल्ली स्थित भारत का सबसे पुराना उत्कृष्ट एम्स संस्थान है। इसकी आधारशिला 1952 में रखी गयी और इसका सृजन 1956 में संसद के एक अधिनियम के माध्‍यम से एक स्‍वायत्त संस्‍थान के रूप में स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल के सभी पक्षों में उत्कृष्‍टता को पोषण देने के केन्‍द्र के रूप में कार्य करने हेतु किया गया। एम्स चौक दिल्ली के रिंग रोड पर पड़ने वाला चौराहा है, इसे अरविन्द मार्ग काटता है। सन् 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी श्रंखला में 6 अन्य एम्स संस्थान पूरे भारत में स्थापित किये गये। ताकि दूर दराज के लोगों को बेहतर इलाज की सुविधायें पाई जा सके! 2022 तक हर राज्य में एक AIIMS खोलने का विचार है। .

नई!!: रायपुर और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान · और देखें »

उत्तर भारत

उत्तरी भारत में अनेक भौगोलिक क्षेत्र आते हैं। इसमें मैदान, पर्वत, मरुस्थल आदि सभी मिलते हैं। यह भारत का उत्तरी क्षेत्र है। प्रधान भौगोलिक अंगों में गंगा के मैदान और हिमालय पर्वतमाला आती है। यही पर्वतमाला भारत को तिब्बत और मध्य एशिया के भागों से पृथक करती है। उत्तरी भारत मौर्य, गुप्त, मुगल एवं ब्रिटिश साम्राज्यों का ऐतिहासिक केन्द्र रहा है। यहां बहुत से हिन्दू तीर्थ जैसे पर्वतों में गंगोत्री से लेकर मैदानों में वाराणासी तक हैं, तो मुस्लिम तीर्थ जैसे अजमेर.

नई!!: रायपुर और उत्तर भारत · और देखें »

उर्मिला सिंह

उर्मिला सिंह (जन्म: 6 अगस्त 1946) ये मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी की पूर्व अध्‍यक्ष भी रह चुकी हैं। .

नई!!: रायपुर और उर्मिला सिंह · और देखें »

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ भारत का एक राज्य है। छत्तीसगढ़ राज्य का गठन १ नवम्बर २००० को हुआ था। यह भारत का २६वां राज्य है। भारत में दो क्षेत्र ऐसे हैं जिनका नाम विशेष कारणों से बदल गया - एक तो 'मगध' जो बौद्ध विहारों की अधिकता के कारण "बिहार" बन गया और दूसरा 'दक्षिण कौशल' जो छत्तीस गढ़ों को अपने में समाहित रखने के कारण "छत्तीसगढ़" बन गया। किन्तु ये दोनों ही क्षेत्र अत्यन्त प्राचीन काल से ही भारत को गौरवान्वित करते रहे हैं। "छत्तीसगढ़" तो वैदिक और पौराणिक काल से ही विभिन्न संस्कृतियों के विकास का केन्द्र रहा है। यहाँ के प्राचीन मन्दिर तथा उनके भग्नावशेष इंगित करते हैं कि यहाँ पर वैष्णव, शैव, शाक्त, बौद्ध संस्कृतियों का विभिन्न कालों में प्रभाव रहा है। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ · और देखें »

छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस

छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस बहुत ही सुप्रसिद्ध एक्सप्रेस है जो की बिलासपुर और अमृतसर को जोड़ती है। इसे छतीसगढ़ एक्सप्रेस के नाम से इसलिए जाना जाता है क्यूंकि यह ट्रेन इस स्थान का प्रतिनिधित्व करती है। इसकी शुरुआत सबसे पहले १९७७ में भोपाल – बिलासपुर छत्तीसगढ़ आँचल एक्सप्रेस के रूप में हुई थी तथा यह बिलासपुर एवं हबीबगंज के बीच चला करती थी। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस · और देखें »

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमिटी

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कांग्रेस कमेटी या (छत्तीसगढ़ कांग्रेस), भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) की प्रदेश कांग्रेस कमेटी (स्टेट विंग) छत्तीसगढ़ में है । छत्तीसगढ़ कांग्रेस के वर्तमान अध्यक्ष भूपेश बघेल है। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमिटी · और देखें »

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल, रायपुर

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल, रायपुर वर्तमान में छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा अधिनियम 1965 (क्र.- २३ सन्‌ 1965) द्वारा शासित एक स्वायत्तशासी निगमित निकाय है। मण्डल का कार्य संचालन माध्यमिक शिक्षा मण्डल, विनियम 1965 के प्रावधानों के अनुसार होता है। छ.ग. माध्यमिक शिक्षा मण्डल का गठन 20 जुलाई 2001 को हुआ था। मुख्यालय - छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल, पेंशनबाड़ा रायपुर संभागीय कार्यालय -1.

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल, रायपुर · और देखें »

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की स्थापना छत्तीसगढ़ में लोक सेवा में नियुक्तियों तथा सिविल सेवा से संबंधित सभी विषयों पर शासन को परामर्श देने हेतु की गई है। आयोग की स्थापना भारत के संविधान के अनुच्छेद 315 के तहत छत्तीसगढ़ शासन दिनांक 23 मई 2001 को की गई है। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग का कार्यालय, शंकर नगर, रायपुर में भगतसिंह चौंक के पास स्थित है। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग · और देखें »

छत्तीसगढ़ विधान सभा

छत्तीसगढ़ विधान सभा भारत के छत्तीसगढ़ राज्य की विधायिका हैं | .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ विधान सभा · और देखें »

छत्तीसगढ़ आयुष एवं स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय

छत्तीसगढ़ आयुष एवं स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय की स्थापना 2008 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा की गई थी। विश्वविद्यालय के कुलपति डा जी बी गुप्ता हैं। विश्वविद्यालय से पं॰ जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कालेज, सीजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (सिम्स) व सीएम मेडिकल कालेज, दुर्ग संबद्ध है। विश्वविद्यालय में १५० एमबीबीएम व ७१ एमडी-एमएस मेडिकल कोर्स में प्रवेश प्रदान किया जाता है। इसके अलावा बीएसपी (मेडिकल टेक्नालाजी), रेडियोग्राफी, नर्सिंग व मेडिकल लेबोरेटरी इन सर्विस ट्रेनिंग में डिप्लोमा कोर्स संचालित किया जाता है। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ आयुष एवं स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय · और देखें »

छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय

छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के अंजोरा में स्थित पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय है जिसकी स्थापना छत्तीसगढ़ के राज्यपाल द्वारा छत्तीसगढ़ कामधेनु अधिनियम २०११ की घोषणा के साथ ११ अप्रैल २०१२ को की गई। छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय से वर्तमान में प्रदेश के तीन कालेज - कालेज ऑफ वेटनरी साइंस एंड एनीमल हसबेंड्री, अंजोरा, दुर्ग, कालेज ऑफ डेयरी टेक्नालाजी, रायपुर और कालेज ऑफ फिशरिज, कवर्धा संबद्ध हैंं। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय · और देखें »

छत्तीसगढ़ के धार्मिक स्थल

छत्तीसगढ़ में बहुत से पर्यटन स्थल हैं। इनमें ढ़ेरों धार्मिक महत्व के हैं। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ के धार्मिक स्थल · और देखें »

छत्तीसगढ़ के राज्य संरक्षित स्थल

शिव मंदिर,बस्तर,छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ में अनेकों संरक्षित स्मारक स्थल हैं। इनमें से कई राज्य सरकार द्वारा संरक्षित है, कई भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्थल, व कुछ विश्व धरोहर स्थल घोषित हैं। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ के राज्य संरक्षित स्थल · और देखें »

छत्तीसगढ़ के राज्यपालों की सूची

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल नामक इस सूची में छत्तीसगढ़ के राज्यपालों के नाम हैं। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल का आधिकारिक निवास राजभवन है जो राज्य की राजधानी रायपुर में स्थित है। .

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ के राज्यपालों की सूची · और देखें »

छत्तीसगढ़ के छत्तीस गढ़

श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ के छत्तीस गढ़ · और देखें »

छत्तीसगढ़ी भाषा और साहित्य

छत्तीसगढ़ी पूर्वी हिंदी की तीन विभाषाओं में से एक है। यह रायगढ़, सरगुजा, विलासपुर, रायपुर, दुर्ग, जबलपुर तथा बस्तर आदि में बोली जाती है। कहते हैं किसी समय इस क्षेत्र में 36 गढ़ थे, इसीलिये इसका नाम छत्तीसगढ़ पड़ा। किंतु गढ़ों की संख्या में वृद्धि हो जाने पर भी नाम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ। डॉ॰ हीरालाल के मतानुसार छत्तीसगढ़ चेदीशगढ़ का अपभ्रंश हो सकता है। संभलपुर में तथा उसके आसपास छत्तीसगढ़ी लरिया कहलाती है। छत्तीसगढ़ी, मराठी तथा उड़िया भाषाओं से प्रभावित हुई है। छत्तीसगढ़ी साहित्य में भारतीय संस्कृति के तत्व वर्तमान हैं। इस साहित्य में अनेक लोककथाएँ हैं जिनके मूल भाव भारत की अन्य भाषाओं में भी सामान्य रूप से पाए जाते हैं। कहीं कहीं स्थानीय तथा सामयिक ढंग से इन कथाओं की रोचकता बढ़ गई है। छत्तीसगढ़ी पँवाड़ों के प्रबंधगीत किसी न किसी कहानी पर आधारित हैं। पँवाड़ों के केंद्रविंदु बहुधा ऐतिहासिक है। वीरगाथाओं में राजा वीरसिंह की गाथा प्रसिद्ध है। इसमें मध्यकालीन विश्वासों की प्रचुरता है। कुछ गीतों में देवता के पराक्रम का वर्णन है। श्रवणकुमार संबंधी "सरवन" के गीत तथा "सरवन" की गाथा प्रसिद्ध है। छत्तीसगढ़ी में ऋतुगीत, नृत्यगीत, संस्कारगीत, धार्मिक गीत, बालकगीत तथा अन्य प्रकार के विविध गीत पाए जाते हैं। लोकोक्तियों तथा पहेलियों की भी कमी नहीं है। श्रेणी:साहित्य श्रेणी:हिन्दी की बोलियाँ.

नई!!: रायपुर और छत्तीसगढ़ी भाषा और साहित्य · और देखें »

छुरा (तहसील)

छुरा रायपुर जिले की एक तहसील है। श्रेणी:रायपुर श्रेणी:छत्तीसगढ़.

नई!!: रायपुर और छुरा (तहसील) · और देखें »

२०१६ इंडियन प्रीमियर लीग

इंडियन प्रीमियर लीग के २०१६ का सीज़न जो कि आईपीएल ९ या विवो आईपीएल २०१६ के नाम से भी जाना जाता है। इंडियन प्रीमियर लीग जिसका कर्ताधर्ता बीसीसीआई है इनकी शुरुआत २००७ में की थी और यह आईपीएल का ९वाँ सीज़न है। यह आईपीएल ०८ अप्रैल २०१६ को प्रारम्भ होगा तथा २९ मई २०१६ को फाइनल होगा। .

नई!!: रायपुर और २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग · और देखें »

2015 इंडियन प्रीमियर लीग

2015 इंडियन प्रीमियर लीग का सीजन पेप्सी ने प्रायोजित किया था। आईपीएल के सातवें सीजन में कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम विजेता बनी थी। 2015 आईपीएल के सभी मैच भारत में खेले गए। टूर्नामेंट की शुरूआत ०८ अप्रैल को हुई थी तथा फाइनल २४ मई को खेला गया। इस सीजन में ८ टीमों ने भाग लिया था तथा ६० मैच खेले गए। .

नई!!: रायपुर और 2015 इंडियन प्रीमियर लीग · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

रायपुर, छत्तीसगढ़, रायपुर, छत्तीसगढ़, भारत

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »