लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

रतन नवल टाटा

सूची रतन नवल टाटा

रतन नवल टाटा (28 दिसंबर 1937, को मुम्बई, में जन्मे) टाटा समुह के वर्तमान अध्यक्ष, जो भारत की सबसे बड़ी व्यापारिक समूह है, जिसकी स्थापना जमशेदजी टाटा ने की और उनके परिवार की पीढियों ने इसका विस्तार किया और इसे दृढ़ बनाया। 1971 में रतन टाटा को राष्ट्रीय रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड (नेल्को) का डाईरेक्टर-इन-चार्ज नियुक्त किया गया, एक कंपनी जो कि सख्त वित्तीय कठिनाई की स्थिति में थी। रतन ने सुझाव दिया कि कम्पनी को उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स के बजाय उच्च-प्रौद्योगिकी उत्पादों के विकास में निवेश करना चाहिए जेआरडी नेल्को के ऐतिहासिक वित्तीय प्रदर्शन की वजह से अनिच्छुक थे, क्यों कि इसने पहले कभी नियमित रूप से लाभांश का भुगतान नहीं किया था। इसके अलावा, जब रतन ने कार्य भार संभाला, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स नेल्को की बाज़ार में हिस्सेदारी २% थी और घाटा बिक्री का ४०% था। फिर भी, जेआरडी ने रतन के सुझाव का अनुसरण किया। 1972 से 1975 तक, अंततः नेल्को ने अपनी बाज़ार में हिस्सेदारी २०% तक बढ़ा ली और अपना घाटा भी पूरा कर लिया। लेकिन 1975 में, भारत की प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने आपात स्थिति घोषित कर दी, जिसकी वजह से आर्थिक मंदी आ गई। इसके बाद 1977 में यूनियन की समस्यायें हुईं, इसलिए मांग के बढ़ जाने पर भी उत्पादन में सुधार नहीं हो पाया। अंततः, टाटा ने यूनियन की हड़ताल का सामना किया, सात माह के लिए तालाबंदी (lockout) कर दी गई। रतन ने हमेशा नेल्को की मौलिक दृढ़ता में विश्वास रखा, लेकिन उद्यम आगे और न रह सका। 1977 में रतन को Empress Mills सोंपा गया, यह टाटा नियंत्रित कपड़ा मिल थी। जब उन्होंने कम्पनी का कार्य भार संभाला, यह टाटा समुह की बीमार इकाइयों में से एक थी। रतन ने इसे संभाला और यहाँ तक की एक लाभांश की घोषणा कर दी। चूँकि कम श्रम गहन उद्यमों की प्रतियोगिता ने इम्प्रेस जैसी कई उन कंपनियों को अलाभकारी बना दिया, जिनकी श्रमिक संख्या बहुत ज्यादा थी और जिन्होंने आधुनिकीकरण पर बहुत कम खर्च किया था रतन के आग्रह पर, कुछ निवेश किया गया, लेकिन यह पर्याप्त नहीं था। चूंकि मोटे और मध्यम सूती कपड़े के लिए बाजार प्रतिकूल था (जो कि एम्प्रेस का कुल उत्पादन था), एम्प्रेस को भारी नुकसान होने लगा। बॉम्बे हाउस, टाटा मुख्यालय, अन्य ग्रुप कंपनिओं से फंड को हटाकर ऐसे उपक्रम में लगाने का इच्छुक नहीं था, जिसे लंबे समय तक देखभाल की आवश्यकता हो। इसलिए, कुछ टाटा निर्देशकों, मुख्यतः नानी पालखीवाला (Nani Palkhivala) ने ये फैसला लिया कि टाटा को मिल समाप्त कर देनी चाहिए, जिसे अंत में 1986 में बंद कर दिया गया। रतन इस फैसले से बेहद निराश थे और बाद में हिन्दुस्तान टाईम्स के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने दावा किया कि एम्प्रेस को मिल जारी रखने के लिए सिर्फ़ ५० लाख रुपये की जरुरत थी। वर्ष 1981 में, रतन टाटा इंडस्ट्री््ज और समूह की अन्य होल्डिंग कंपनियों के अध्यक्ष बनाए गए, जहाँ वे समूह के कार्यनीतिक विचार समूह को रूपांतरित करने के लिए उत्तरदायी तथा उच्च प्रौद्योगिकी व्यापारों में नए उद्यमों के प्रवर्तक थे। 1991 में उन्होंने जेआरडी से ग्रुप चेयर मेन का कार्य भार संभाला.

20 संबंधों: टाटा चिकित्सा केन्द्र, टाटा टेलिसर्विसेज, टाटा नैनो, टाटा परिवार, ताजमहल पैलेस एंड टॉवर, दिसम्बर, नोएल टाटा, पद्म विभूषण धारकों की सूची, पलौंजी मिस्त्री, पुरस्कार/सम्मान-2012, बिहार के महत्वपूर्ण लोगों की सूची, महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार, रामकृष्ण गोपाल भांडारकर, सायरस मिस्त्री, सिमोन टाटा, सीएनएन-आईबीएन इंडियन ऑफ़ द इयर, कुलाबा, उद्योगपति, २००० में पद्म भूषण धारक, २८ दिसम्बर

टाटा चिकित्सा केन्द्र

टाटा चिकित्सा केन्द्र (टाटा मेडिकल सेंटर), भारत में कोलकाता स्थित कैंसर के शोध, निदान और उपचार का एक अत्याधुनिक केंद्र है। टाटा मेडिकल सेंटर (टीएमसी) का उद्घाटन 16 मई, 2011 को रतन टाटा द्वारा किया गया था। यह विशेषकर पूर्वी एवं पूर्वोत्तर भारत और बांग्लादेश के कैंसर रोगियों की मदद करने के लिए लक्षित एक परोपकारी पहल है। इस केन्द्र का नेतृत्व इसके निदेशक डॉ मेमन चांडी द्वारा किया जाता है। टीएमसी एक गुणवत्तापूर्ण कैंसर-देखभाल फैसिलिटी है जो पूरी तरह से नहीं लेकिन विशेष रूप से क्षेत्र के गरीबों की आवश्यकताओं को पूरा करता है। कोलकाता के बाहरी इलाके राजारघाट में स्थित इस संस्थान तक कोलकाता शहर और शहर के हवाई अड्डे से आसानी से पहुँचा जा सकता है। केंद्र में जल्दी ही प्रेमाश्रय नामक एक आश्रय घर होगा, जो मरीजों और उनके रिश्तेदारों के लिए मुफ्त आवास एवं भोजन प्रदान करेगा। .

नई!!: रतन नवल टाटा और टाटा चिकित्सा केन्द्र · और देखें »

टाटा टेलिसर्विसेज

टाटा टेलीसर्विसेज लिमिटेड (TTSL) भारतीय व्यवसायी टाटा समूह की कंपनियों का एक हिस्सा है। यह भारत के विभिन्न दूरसंचार क्षेत्रों में टाटा इंडिकॉम के ब्रांड नाम के तहत दूरसंचार सेवायें प्रदान करती है। नवम्बर २००८ में, जापानी दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी एनटीटी डोकोमो ने इसकी २६ प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी १३,०७० करोड़ रुपए (२.७ अरब डॉलर) या उद्यम मूल्य ५०,२६९ करोड़ रुपए (५८१ अरब रुपये) में खरीद लिया। फ़रवरी २००८ में, टाटा टेलिसर्विसेज ने घोषणा की कि वह वर्जिन समूह के सहयोग से एक फ्रेंचाइजी मॉडल के आधार पर विशेषकर युवाओं के लिए सीडीएमए मोबाइल सेवाएं प्रदान करेगा। टाटा टेलीसर्विसेज निम्न ३ ब्रांडनामों के तहत मोबाइल सेवा प्रदान करती है;.

नई!!: रतन नवल टाटा और टाटा टेलिसर्विसेज · और देखें »

टाटा नैनो

टाटा नैनो टाटा मोटर्स के द्वारा निर्मित सबसे नवीन कार है। यह विश्व की सबसे सस्ती कार है जिसका दाम १ लाख भारतीय रुपये है। मीडिया ने इसे लखटकिया कार नाम से ज़्यादातर संबोधित किया। इसकी बिक्री जून २००८ से प्रारंभ होगी। रतन टाटा ने जनता की कार ‘ नैनो ’ को पेश करते हुए आश्वासन दिया कि इस कार की कीमत वादे के मुताबिक एक लाख रुपए ही होगी साथ ही यह सभी प्रकार के सुरक्षा और प्रदूषण स्तरों को पूरा करती है। टाटा ने मारुति ८०० को अपनी परियोजना के लिए निशाना बनाया जिसने करीब दो दशक तक भारतीय बाजार पर राज किया और उन्होंने ऐसी कार बनाई जो लंबाई में आठ फीसदी छोटी लेकिन अंदर से २१ फीसदी ज़्यादा जगह वाली है। .

नई!!: रतन नवल टाटा और टाटा नैनो · और देखें »

टाटा परिवार

टाटा भारत का एक अमीर पारसी परिवार है। मूल रूप से नवसारी में एक पुरोहित परिवार, वे उद्योग और परोपकार में सक्रिय रूप से उन्नीसवीं सदी के बाद से सक्रिय है। टाटा समूह, जमशेदजी टाटा द्वारा स्थापित, भारत में एक सबसे बड़ा निजी नियोक्ता है। .

नई!!: रतन नवल टाटा और टाटा परिवार · और देखें »

ताजमहल पैलेस एंड टॉवर

ताज महल पैलेस का एक दृश्य ्ताजमहल पैलेस का रात्रि अवलोकन मुंबई की कोलाबा नमक जगह पर स्थित ताज महल पैलेस होटल पांच सितारा होटल है जो कि गेटवे ऑफ़ इंडिया के पास है। ‘ताज होटल, रिसॉर्ट्स एंड पैलेस’ का एक हिस्सा, यह इमारत इस समूह की प्रमुख संपत्ति मानी जाती है, जिसमे ५६० कमरे एवं ४४ सुइट्स हैं। ताज महल होटल १०५ साल पुरानी इमारत है। मुंबई की पहचान बन चुकी इस इमारत में महानगर के अमीर और संभ्रांत लोग आते-जाते रहते हैं। विदेशी पर्यटकों में भी गेटवे ऑफ़ इंडिया के पास स्थित ताज महल होटल काफ़ी लोकप्रिय है। ताज महल होटल से समुद्र का दृश्य दिखाई देता है। २६ नवम्बर २००८ मुंबई में श्रेणीबद्ध गोलीबारी के समय यह होटल लगभग ६० घंटों तक आतंकवादियों ने अपने कब्ज़े में कर रखा था। .

नई!!: रतन नवल टाटा और ताजमहल पैलेस एंड टॉवर · और देखें »

दिसम्बर

दिसंबर ग्रेगोरियन कैलेंडर के हिसाब से वर्ष का बारहवां और आखिरी महीना है, साथ ही यह उन सात ग्रेगोरी महीनो में से एक है जिनमे 31 दिन होते हैं। लैटिन में, दिसेम (decem) का मतलब "दस" होता है। दिसम्बर भी रोमन कैलेंडर का दसवां महीना था जब तक कि मासविहीन सर्दियों की अवधि को जनवरी और फरवरी के बीच विभाजित नहीं कर दिया गया। दिसंबर से संबंधित फूल हॉली या नारसीसस है। दिसंबर के रत्न फीरोज़ा, लापीस लाजुली, जि़रकॉन, पुखराज (नीला), या टैन्जानाईट रहे हैं। दिसंबर माह में उत्तरी गोलार्द्ध में दिन के (सूर्य की रोशनी का समय) सबसे कम और दक्षिणी गोलार्द्ध में सबसे अधिक घंटे होते हैं। दिसंबर और सितम्बर सप्ताह के एक ही दिन से शुरू होते हैं। .

नई!!: रतन नवल टाटा और दिसम्बर · और देखें »

नोएल टाटा

नोएल टाटा एक भारतीय व्यवसायी है, जो ट्रेंट लिमिटेड के अध्यक्ष हैं। नोएल टाटा नवल टाटा और सिमोन टाटा के बेटे है। उन्होने पलौंजी मिस्त्री जो टाटा संस (टाटा ग्रुप की होल्डिंग कंपनी) के सबसे बड़े शेयरधारक है, की बेटी आलू मिस्त्री से शादी की है। वे टाटा समूह के वर्तमान अध्यक्ष रतन टाटा के आधे भाई है। नोएल टाटा ने टाटा इंटरनेशनल में अपना कैरियर शुरू किया जो विदेश में उत्पादों और सेवाओं के लिए टाटा समूह का प्रमुख अंग है। जून १९९९ में, वे समूह की खुदरा इकाई ट्रेंट के प्रबंध निदेशक बने, जो उनकी माँ के द्वारा स्थापित की गई थी। इस समय तक, ट्रेंट ने डिपार्टमेंट स्टोर लिटिलवुडस इंटरनेशनल का अधिग्रहण कर लिया और इसका नाम बदलकर वेस्टसाइड हो गया। टाटा ने वेस्टसाइड को विकसित किया और यह एक लाभदायक उद्यम बन गया। २००३ में, नोएल टाटा टाइटन इंडस्ट्रीज और वोल्टास के निर्देशक के रूप में नियुक्त किया गए। २०१० में, यह घोषणा की गई कि वे टाटा इंटरनेशनल के प्रबंध निदेशक के रूप में समूह के ७० अरब डॉलर के विदेशी व्यापार का प्रभार लेंगे जिससे ये अटकलें लगाई जा रही है कि उन्हे रतन टाटा के बाद टाटा समूह के प्रमुख के लिये तैयार किया जा रहा है। .

नई!!: रतन नवल टाटा और नोएल टाटा · और देखें »

पद्म विभूषण धारकों की सूची

यह भारत सरकार द्वारा पद्म विभूषण से अलंकृत किए गए लोगों की सूची है: .

नई!!: रतन नवल टाटा और पद्म विभूषण धारकों की सूची · और देखें »

पलौंजी मिस्त्री

पलौंजी शपूर्जी मिस्त्री एक आयरिश-पारसी निर्माण टाइकून है। टाटा संस में 18.5% की हिस्सेदारी के साथ, वह भारत के सबसे बड़े निजी समूह टाटा समूह में अकेले सबसे बड़े शेयरधारक है। वे शपूर्जी पलौंजी समूह के अध्यक्ष भी है जिसके माध्यम से वह शपूर्जी पलौंजी निर्माण लिमिटेड, फोर्ब्स कपड़ा और यूरेका फोर्ब्स लिमिटेड के मालिक है। वे एसोसिएटेड सीमेंट कंपनी (एसीसी) के पूर्व अध्यक्ष हैं। 2010 में, फोर्ब्स के अनुसार उनकी कुल अनुमानित भाग्य मूल्य 5.8 अरब डॉलर है। 2007 में उन्होने आयरिश नागरिकता को अपनाने के बाद अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ दी और दुनिया में शॉन कुइन के पीछे दूसरे सबसे अमीर आयरिश नागरिक है। टाटा समूह में उनके सहयोगियों द्वारा उन्हे "बॉम्बे हाउस का फैंटम" उपनाम दिया गया है। भारत में सबसे सफल व्यवसायियों में से एक होने के बावजूद, उन्हे मीडिया से दूरी के लिए जाना जाता है और वे शायद ही कभी सार्वजनिक रूप से प्रकट होते है। मिस्त्री की एक छोटी जीवनी मनोज नांबुरु द्वारा 2008 में एक पुस्तक मे लिखी गई थी - " रियल एस्टेट के मोगुल्स "। .

नई!!: रतन नवल टाटा और पलौंजी मिस्त्री · और देखें »

पुरस्कार/सम्मान-2012

वर्ष-2012 में अनेक शख़्सियतों को सम्मानित किया गया, जिसका क्रमवार विवरण निम्न है: पंडित रविशंकर चंद्रकांत देवताले गोपाल दास नीरज दिलीप कुमार उदय प्रकाश कुलदीप नैयर पूर्णिमा वर्मन रवीन्द्र प्रभात हेमा मालिनी गुलज़ार अमिताभ बच्चन शाहरुख खान सचिन तेंदुलकर श्याम बेनेगल भुपेन हजारिका .

नई!!: रतन नवल टाटा और पुरस्कार/सम्मान-2012 · और देखें »

बिहार के महत्वपूर्ण लोगों की सूची

बिहार के महत्वपूर्ण लोगों की सूची .

नई!!: रतन नवल टाटा और बिहार के महत्वपूर्ण लोगों की सूची · और देखें »

महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार

महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार महाराष्ट्र सरकार द्वारा दिया जाने वाला सबसे बड़ा पुरस्कार है। जब १९९५ में शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी की संयुक्त सरकार थी तब इसे पहली बार स्वरुप दिया गया। पहला महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार १९९६ को दिया गया। यह पुरस्कार निम्नलिखित क्षेत्रो में विशेष योगदान के लिए दिया जाता है;.

नई!!: रतन नवल टाटा और महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार · और देखें »

रामकृष्ण गोपाल भांडारकर

रामकृष्ण गोपाल भांडारकर रामकृष्ण गोपाल भांडारकर (6 जुलाई 1837 – 24 अगस्त 1925) भारत के विद्वान, पूर्वात्य इतिहासकार एवं समाजसुधारक थे। वे भारत के पहले आधुनिक स्वदेशी इतिहासकार थे। दादाभाई नौरोज़ी के शुरुआती शिष्यों में प्रमुख भण्डारकर ने पाश्चात्य चिंतकों के आभामण्डल से अप्रभावित रहते हुए अपनी ऐतिहासिक कृतियों, लेखों और पर्चों में हिंदू धर्म और उसके दर्शन की विशिष्टताएँ इंगित करने वाले प्रमाणिक तर्कों को आधार बनाया। उन्होंने उन्नीसवीं सदी के मध्य भारतीय परिदृश्य में उठ रहे पुनरुत्थानवादी सोच को एक स्थिर और मज़बूत ज़मीन प्रदान की। भण्डारकर यद्यपि अंग्रेज़ों के विरोधी नहीं थे, पर वे राष्ट्रवादी चेतना के धनी थे। वे ऐसे प्रथम स्वदेशी इतिहासकार थे जिन्होंने भारतीय सभ्यता पर विदेशी प्रभावों के सिद्धांत का पुरज़ोर और तार्किक विरोध किया। अपने तर्कनिष्ठ और वस्तुनिष्ठ रवैये और नवीन स्रोतों के एकत्रण की अन्वेषणशीलता के बदौलत भण्डारकर ने सातवाहनों के दक्षिण के साथ-साथ वैष्णव एवं अन्य सम्प्रदायों के इतिहास की पुनर्रचना की। ऑल इण्डिया सोशल कांफ़्रेंस (अखिल भारतीय सामाजिक सम्मलेन) के सक्रिय सदस्य रहे भण्डारकर ने अपने समय के सामाजिक आंदोलनों में अहम भूमिका निभाते हुए अपने शोध आधारित निष्कर्षों के आधार पर विधवा विवाह का समर्थन किया। साथ ही उन्होंने जाति-प्रथा एवं बाल विवाह की कुप्रथा का खण्डन भी किया। प्राचीन संस्कृत साहित्य के विद्वान की हैसियत से भण्डारकर ने संस्कृत की प्रथम पुस्तक और संस्कृत की द्वितीय पुस्तक की रचना भी की, जो अंग्रेज़ी माध्यम से संस्कृत सीखने की सबसे आरम्भिक पुस्तकों में से एक हैं। .

नई!!: रतन नवल टाटा और रामकृष्ण गोपाल भांडारकर · और देखें »

सायरस मिस्त्री

सायरस पलोनजी मिस्त्री को टाटा समूह का नया चेयरमैन घोषित किया गया है, जो रतन टाटा की जगह लेगें। रतन टाटा 75 वर्ष की आयु में दिसम्बर 2012 में चेयरमैन पद से सेवानिवृत होंगे। सायरस मिस्त्री दिसम्बर 2012 में चेयरमैन पद को सँभालेंगे। श्रेणी:भारतीय उद्योगपति.

नई!!: रतन नवल टाटा और सायरस मिस्त्री · और देखें »

सिमोन टाटा

सिमोन टाटा नी डुनोयर, वर्तमान मे ट्रेंट लिमिटेड की अध्यक्षा और एक भारतीय व्यवसायी है। जन्म से फ्रांसीसी और स्विट्जरलैंड में शिक्षित, वह १९५५ में भारत आई और १९६१ में प्रबंध निदेशक के रूप में लक्मे में शामिल हुईं एवं १९८२ में उसकी अध्यक्षा बन गई। टाटा ऑयल मिल्स की एक छोटी सहायक कंपनी, भारत की अग्रणी कॉस्मेटिक कंपनियों में से एक बन गई। लक्मे के अध्यक्ष के रूप में, वह भारतीय मीडिया में "भारत के प्रसाधन सामग्री की जा़रिना" के रूप में जानी जाती थीं। १९८९ में उन्हे टाटा इंडस्ट्रीज के बोर्ड में नियुक्त किया गया। खुदरा क्षेत्र में विकास को देखते हुये, १९९६ में टाटा ने लक्मे को हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड (एचएलएल) को बेच दिया और बिक्री के माध्यम से बनाऐ पैसे से ट्रेंट बनाया गया। लक्मे के सभी शेयरधारकों को ट्रेंट में बराबर का हिस्सा दिया गया। वेस्टसाइड ब्रांड और दुकाने ट्रेंट के अंतर्गत आते है। सिमोन टाटा नवल एच. टाटा की पत्नी थी और टाटा समूह के वर्तमान अध्यक्ष श्री रतन नवल टाटा की सौतेली माँ है। .

नई!!: रतन नवल टाटा और सिमोन टाटा · और देखें »

सीएनएन-आईबीएन इंडियन ऑफ़ द इयर

सीएनएन-आईबीएन इंडियन ऑफ़ द इयर सीएनएन आईबीएन द्वारा प्रतिवर्ष खेल, व्यापार, मनोरंजन, लोक सेवा एवं राजनीति के क्षेत्रों में योगदान करने वाले भारतीयों को दिया जाने वाला एक पुरस्कार है। इस पुरस्कार की स्थापना साल 2006 में की गयी थी। .

नई!!: रतन नवल टाटा और सीएनएन-आईबीएन इंडियन ऑफ़ द इयर · और देखें »

कुलाबा

कोलाबा या कुलाबा मुंबई का दक्षिणी क्षेत्र है। १६वीं सदी के पुर्तगाली साम्राज्य के दौरान इस द्वीप को कैण्डिल के नाम से जाना जाता था। बाद में १७वीं सदी में ब्रितानी अधिकार क्षेत्र में आने के कारण इसे क्षेत्र को 'कोलियो' के नाम से जाना जाने लगा। .

नई!!: रतन नवल टाटा और कुलाबा · और देखें »

उद्योगपति

बड़े उद्योगों को स्थापित करने वाले व्यक्ति। स्थापना ना भी की हो, तो स्वामित्व सहित संचालन करने वाले व्यक्ति। उदाहरणतः भारत में:-.

नई!!: रतन नवल टाटा और उद्योगपति · और देखें »

२००० में पद्म भूषण धारक

श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: रतन नवल टाटा और २००० में पद्म भूषण धारक · और देखें »

२८ दिसम्बर

28 दिसंबर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 362वॉ (लीप वर्ष मे 363 वॉ) दिन है। साल में अभी और 3 दिन बाकी है। .

नई!!: रतन नवल टाटा और २८ दिसम्बर · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

रतन टाटा

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »