लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

मुल्ताई

सूची मुल्ताई

मुलताई भारत के मध्य प्रदेश राज्य में बैतूल जिले का एक शहर है मुल्ताई पुण्य सलिला मां ताप्ती नदी का उद्गम स्थल है इसके निकट प्रभात पट्टन और बेतुल प्रमुख शहर है। यह मुल्ताई मध्य-प्रदेश.

2 संबंधों: ताप्ती नदी, प्रभात पट्टन

ताप्ती नदी

ताप्ती (संस्कृत: तापी, मराठी: तापी; गुजराती: તાપ્તી) पश्चिमी भारत की प्रसिद्ध नदी है। यह मध्य प्रदेश राज्य के बैतूल जिले के मुलताई से निकलकर सतपुड़ा पर्वतप्रक्षेपों के मध्य से पश्चिम की ओर बहती हुई महाराष्ट्र के खानदेश के पठार एवं सूरत के मैदान को पार करती और अरब सागर में गिरती है। नदी का उद्गगम् स्थल मुल्ताई है। यह भारत की उन मुख्य नदियों में है जो पूर्व से पश्चिम की तरफ बहती हैं, अन्य दो हैं - नर्मदा नदी और माही नदी। यह नदी पूर्व से पश्चिम की ओर लगभग 740 किलोमीटर की दूरी तक बहती है और खम्बात की खाड़ी में जाकर मिलती है। सूरत बन्दरगाह इसी नदी के मुहाने पर स्थित है। इसकी प्रधान उपनदी का नाम पूर्णा है। इस नदी को सूर्यपुत्री भी कहा जाता है।   समुद्र के समीप इसकी ३२ मील की लंबाई में ज्वार आता है, किंतु छोटे जहाज इसमें चल सकते हैं। पुर्तगालियों एवं अंग्रेजों के इतिहास में इसके मुहाने पर स्थित स्वाली बंदरगाह का बड़ा महत्व है। गाद जमने के कारण अब यह बंदरगाह उजाड़ हो गया है। .

नई!!: मुल्ताई और ताप्ती नदी · और देखें »

प्रभात पट्टन

प्रभात पट्टन भारत के मध्य प्रदेश राज्य के बैतूल जिले की प्रमुख तहसील है। इसका प्राचीन नाम प्रबलपुर है। इसके उत्तर में ताप्ती नदी का पवित्र उद्गम स्थल मुलताई है एवं दक्षिण में महाराष्ट्र राज्य का अमरावती जिले की वरूड तहसील स्थित है एवं पूर्व में पांडुरना तहसील स्थित है। यह प्राचीन काल से ही कला एवं संस्कृति का प्रमुख केंद्र रहा है। यहां की कुल आबादी 20000 है। यहां पर अनेक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी होने के कारण इसे वीरों की नगरी भी कहा जाता है। यहां हिंदू तथा मुस्लिम धर्म के प्रमुख सांस्कृतिक एवं धार्मिक स्थल है। यहां बैतूल जिले की प्रमुख शिक्षा केंद्र डाइट एवं जवाहर नवोदय विद्यालय स्थित है। .

नई!!: मुल्ताई और प्रभात पट्टन · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

मुलताई

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »