लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

मातृवंश समूह टी

सूची मातृवंश समूह टी

आयरलैंड के बहुत से लोग मातृवंश समूह टी के वंशज होते हैं मनुष्यों की आनुवंशिकी (यानि जॅनॅटिक्स) में मातृवंश समूह टी या माइटोकांड्रिया-डी॰एन॰ए॰ हैपलोग्रुप T एक मातृवंश समूह है। भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिम के लोग और मध्य पूर्व और यूरोप के लोग अक्सर इसके वंशज होते हैं। यूरोप के १०% से थोड़े कम लोग इसके वंशज पाए गए हैं, लेकिन आयरलैंड में यह संख्या अधिक है।, The Genographic Project वैज्ञानिकों की मान्यता है के जिस स्त्री के साथ इस मातृवंश की शुरुआत हुई वह आज से क़रीब १०,००० से १२,००० साल पहले इराक़, तुर्की, सीरिया या उन्ही के आस-पास कहीं रहती थी। .

3 संबंधों: मनुष्य मातृवंश समूह, मातृवंश समूह जेटी, कज़ाख़ लोग

मनुष्य मातृवंश समूह

मनुष्यों की आनुवंशिकी (यानि जॅनॅटिक्स) में मातृवंश समूह उस वंश समूह या हैपलोग्रुप को कहते हैं जिसका किसी भी व्यक्ति (स्त्री या महिला) के माइटोकांड्रिया के गुण सूत्र पर स्थित डी॰एन॰ए॰ की जांच से पता चलता है। अगर दो व्यक्तियों का मातृवंश समूह मिलता हो तो इसका अर्थ होता है के उनकी हजारों साल पूर्व एक ही महिला पूर्वज रही है, चाहे आधुनिक युग में यह दोनों व्यक्ति अलग-अलग जातियों से सम्बंधित ही क्यों न हों। .

नई!!: मातृवंश समूह टी और मनुष्य मातृवंश समूह · और देखें »

मातृवंश समूह जेटी

मनुष्यों की आनुवंशिकी (यानि जॅनॅटिक्स) में मातृवंश समूह जेटी या माइटोकांड्रिया-डी॰एन॰ए॰ हैपलोग्रुप JT एक मातृवंश समूह है। इसकी दो शाखाएँ - मातृवंश समूह जे और मातृवंश समूह टी - यूरोप और मध्य पूर्व में काफ़ी फैली हुई हैं। अनुमान है के जिस स्त्री से यह मातृवंश शुरू हुआ वह आज से लगभग ५०,३०० वर्ष पहले दक्षिण पश्चिमी एशिया में रहती थी। .

नई!!: मातृवंश समूह टी और मातृवंश समूह जेटी · और देखें »

कज़ाख़ लोग

चीन के शिनजियांग प्रांत में एक कज़ाख़ परिवार कज़ाख़ मध्य एशिया के उत्तरी भाग में बसने वाली एक तुर्की-भाषी जाति का नाम है। कज़ाख़स्तान की अधिकाँश आबादी इसी नस्ल की है, हालाँकि कज़ाख़ समुदाय बहुत से अन्य देशों में भी मिलते हैं, जैसे कि उज़बेकिस्तान, मंगोलिया, रूस और चीन के शिनजियांग प्रान्त में। विश्व भर में १.३ से लेकर १.५ करोड़ कज़ाख़ लोग हैं और इनमें से अधिकतर की मातृभाषा कज़ाख़ भाषा है। कज़ाख़ लोग बहुत से प्राचीन तुर्की जातियों के वंशज हैं, जैसे कि अरग़िन, ख़ज़र, कारलुक, किपचक और कुमन। माना जाता है कि इनमें कुछ हद तक मध्य एशिया की कुछ ईरानी भाषाएँ बोलने वाली जातियाँ (जैसे कि शक, स्किथाई और सरमती) भी शामिल हो गई। कज़ाख़ लोग साइबेरिया से लेकर कृष्ण सागर तक फैले हुए थे और जब इस क्षेत्र में तुर्की-मंगोल लोगों का राज चला तब भी वे मध्य एशिया में ही बसे रहे। .

नई!!: मातृवंश समूह टी और कज़ाख़ लोग · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »