लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

भारत की भाषाएँ

सूची भारत की भाषाएँ

भारत बहुत सारी भाषाओं का देश है, लेकिन सरकारी कामकाज में व्यवहार में लायी जाने वाली दो भाषायें हैं, हिन्दी और अंग्रेज़ी। वृहद भारत के भाषा परिवार .

203 संबंधों: चम्बेली भाषा, चौराही भाषा, चेंग भाषा, चोकरी भाषा, एटन भाषा, एपिक (ब्राउजर), डोगरी भाषा, तमांग भाषा, तराओ भाषा, तरुआंग भाषा, ताई नोरा भाषा, ताई फेके भाषा, ताई लॉन्ग भाषा, तिनान भाषा, तवांग भाषा, तंगम भाषा, तंग्सा भाषा, तकाहनयीलांग भाषा, तुरी भाषा, तीवा भाषा, थाडो भाषा, दर्मा भाषा, दक्पा भाषा, नरूंगमई भाषा, ना भाषा, नारोमुरार, निशि भाषा, नेईकी भाषा, नोक्टे भाषा, पदम भाषा, परजी भाषा, पादरी भाषा, पालि भाषा, पालि भाषा का साहित्य, पासी भाषा, पांगवाली भाषा, पिटे भाषा, पुरिक भाषा, पुरुम भाषा, प्राकृत, प्राकृत साहित्य, पू भाषा, पेंगो भाषा, पोचुरी भाषा, फोम भाषा, बदगा भाषा, बन्गानी भाषा, बाल्टी भाषा, बिरहोर भाषा, बघाती भाषा, ..., बुनान भाषा, ब्यांग्सी भाषा, ब्रिटिश राज, ब्रोक्शत भाषा, बेल्लारी भाषा, बॉम भाषा, बोरी भाषा, बोकर भाषा, बीएते भाषा, भद्रावही भाषा, भरमौरी भाषा, भलेसी भाषा, भारत में हिन्दू धर्म, भारत में जैन धर्म, भारत के पशुपक्षियों की बहुभाषीय सूची, भारत के प्रवेशद्वार, भारत के भाषाई परिवार, भारत की बोलियाँ, भारत की संस्कृति, भारत की जनगणना २०११, भारत की आधिकारिक भाषाओं में भारत गणराज्य के नाम, भारतीय नाम, भारतीय मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची, भारतीय रुपया, भारतीय रुपया चिह्न, भारतीय लिपियाँ, भारतीय साहित्य, भाषा, भूमजी भाषा, मन्ना डे, मरम भाषा, मरीआंग भाषा, मलयालम विकिपीडिया, महासुई भाषा, मारा भाषा, माओ भाषा, मिलांग भाषा, मिसिंग भाषा, मिजू भाषा, मिंयोंग भाषा, मंचन्द भाषा, मंडयाली भाषा, मंडा भाषा, मुन्दारी भाषा, मुओट भाषा, मैथी भाषा, मेच भाषा, मोट्यूओ मेनवा भाषा, मोयोन भाषा, मीजी भाषा, यिमचुंगगुरु भाषा, यिशी भाषा, रभा भाषा, रुगा भाषा, रेमो भाषा, रोंग्पो भाषा, लामगांग भाषा, लामोंगसे भाषा, लिप्सा भाषा, लिआंगमई भाषा, लंगरोंग भाषा, लूरो भाषा, लेपचा भाषा, लोहटा भाषा, शेरदुक्पेन भाषा, शेरपा भाषा, शोम्पेन भाषा, सानेन्यो भाषा, सांगला भाषा, सिन्धी भाषा, सिन्धी भाषा की लिपियाँ, सिमी भाषा, सिरमौदी भाषा, सिंगफ़ो भाषा, संस्कृत भाषा, संग्ताम भाषा, सुलुंग भाषा, स्पीती भाषा, स्वरचक्र, सेंटीनिली भाषा, सोरा भाषा, हन्दुरी भाषा, हमार भाषा, हरंगखोल भाषा, हिन्दुस्तानी भाषा, हिन्दी, हिन्दी विकिपीडिया, हिल मिरी भाषा, जन्ग्शुंग भाषा, जरावा भाषा, ज़ाईमे भाषा, ज़ंग्सकारी भाषा, ज़ेमे भाषा, जाद भाषा, जुआंग भाषा, जौनसारी भाषा, जैवा भाषा, ईरुला भाषा, वैन्चो भाषा, खड़िया भाषा, खम्बा भाषा, खसाली भाषा, खाम्प्टी भाषा, खांसी भाषा, खियाम्नगान भाषा, खेज़ा भाषा, खोईराओ भाषा, खोवा भाषा, गड़ाबा भाषा, गालो भाषा, गांटे भाषा, गुटोब भाषा, गेता भाषा, गोरुम भाषा, ओंगे भाषा, आदि भाषा, आओ भाषा, आइमोल भाषा, इदु भाषा, कनाशी भाषा, कबुई भाषा, कर्बी भाषा, कंचारी भाषा, कुमाउँनी भाषा, कुरुबा भाषा, कुरुख भाषा, कुर्रु भाषा, कुलुई भाषा, कुई भाषा, कुंडल शाही भाषा, कूवि भाषा, कोटा भाषा, कोडा भाषा, कोडागु भाषा, कोम भाषा, कोरागा भाषा, कोरवा भाषा, कोलामि भाषा, कोंडा भाषा, कोइरेंग भाषा, कोकबोरक भाषा, अटोंग भाषा, अनल भाषा, अनगामी भाषा, अपटनी भाषा, असमिया भाषा, असुर भाषा, अगिन भाषा, अका भाषा, अका-जेरु भाषा, उत्तराखण्ड की भाषाएँ, १२ (संख्या), ३० अगस्त सूचकांक विस्तार (153 अधिक) »

चम्बेली भाषा

चम्बेली भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: cdh .

नई!!: भारत की भाषाएँ और चम्बेली भाषा · और देखें »

चौराही भाषा

चौराही भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: cdj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और चौराही भाषा · और देखें »

चेंग भाषा

चेंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nbc .

नई!!: भारत की भाषाएँ और चेंग भाषा · और देखें »

चोकरी भाषा

चोकरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nri .

नई!!: भारत की भाषाएँ और चोकरी भाषा · और देखें »

एटन भाषा

एटन भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: aio .

नई!!: भारत की भाषाएँ और एटन भाषा · और देखें »

एपिक (ब्राउजर)

एपिक एक ब्राउजर है। इसकी खास बात यह है कि इसमें कई फीचर भारत को केंद्र में रखकर बनाए गए हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और एपिक (ब्राउजर) · और देखें »

डोगरी भाषा

डोगरी भारत के जम्मू और कश्मीर प्रान्त में बोली जाने वाली एक भाषा है। वर्ष 2004 में इसे भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया गया है। पश्चिमी पहाड़ी बोलियों के परिवार में, मध्यवर्ती पहाड़ी पट्टी की जनभाषाओं में, डोगरी, चंबयाली, मडवाली, मंडयाली, बिलासपुरी, बागडी आदि उल्लेखनीय हैं। डोगरी इस विशाल परिवार में कई कारणों से विशिष्ट जनभाषा है। इसकी पहली विशेषता यह है कि दूसरी बोलियों की अपेक्षा इसके बोलनेवालों की संख्या विशेष रूप से अधिक है। दूसरी यह कि इस परिवार में केवल डोगरी ही साहित्यिक रूप से गतिशील और सम्पन्न है। डोगरी की तीसरी विशिष्टता यह भी है कि एक समय यह भाषा कश्मीर रियासत तथा चंबा राज्य में राजकीय प्रशासन के अंदरूनी व्यवहार का माध्यम रह चुकी है। इसी भाषा के संबंध से इसके बोलने वाले डोगरे कहलाते हैं तथा डोगरी के भाषाई क्षेत्र को सामान्यतः "डुग्गर" कहा जाता है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और डोगरी भाषा · और देखें »

तमांग भाषा

तमांग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: taj, tge, tmk, tsf, tdg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तमांग भाषा · और देखें »

तराओ भाषा

तराओ भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: tro .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तराओ भाषा · और देखें »

तरुआंग भाषा

तरुआंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन और म्यांमार में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: mhu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तरुआंग भाषा · और देखें »

ताई नोरा भाषा

ताई नोरा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ताई नोरा भाषा · और देखें »

ताई फेके भाषा

ताई फेके भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: phk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ताई फेके भाषा · और देखें »

ताई लॉन्ग भाषा

ताई लॉन्ग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ताई लॉन्ग भाषा · और देखें »

तिनान भाषा

तिनान भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: lbf .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तिनान भाषा · और देखें »

तवांग भाषा

तवांग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन और भूटान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: twm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तवांग भाषा · और देखें »

तंगम भाषा

तंगम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तंगम भाषा · और देखें »

तंग्सा भाषा

तंग्सा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nst .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तंग्सा भाषा · और देखें »

तकाहनयीलांग भाषा

तकाहनयीलांग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: nik .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तकाहनयीलांग भाषा · और देखें »

तुरी भाषा

तुरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। इस भाषा का आईएसओ कोड "trd" है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तुरी भाषा · और देखें »

तीवा भाषा

तीवा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: lax .

नई!!: भारत की भाषाएँ और तीवा भाषा · और देखें »

थाडो भाषा

थाडो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: tcz .

नई!!: भारत की भाषाएँ और थाडो भाषा · और देखें »

दर्मा भाषा

दर्मा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: drd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और दर्मा भाषा · और देखें »

दक्पा भाषा

दक्पा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह भूटान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: dka .

नई!!: भारत की भाषाएँ और दक्पा भाषा · और देखें »

नरूंगमई भाषा

नरूंगमई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nbu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और नरूंगमई भाषा · और देखें »

ना भाषा

ना भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ना भाषा · और देखें »

नारोमुरार

नारोमुरार वारिसलीगंज प्रखण्ड के प्रशाशानिक क्षेत्र के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 31 से 10 KM और बिहार राजमार्ग 59 से 8 KM दूर बसा एकमात्र गाँव है जो बिहार के नवादा और नालंदा दोनों जिलों से सुगमता से अभिगम्य है। वस्तुतः नार का शाब्दिक अर्थ पानी और मुरार का शाब्दिक अर्थ कृष्ण, जिनका जन्म गरुड़ पुराण के अनुसार विष्णु के 8वें अवतार के रूप में द्वापर युग में हुआ, अर्थात नारोमुरार का शाब्दिक अर्थ विष्णुगृह - क्षीरसागर है। प्रकृति की गोद में बसा नारोमुरार गाँव, अपने अंदर असीम संस्कृति और परंपरा को समेटे हुए है। यह भारत के उन प्राचीनतम गांवो में से एक है जहाँ 400 वर्ष पूर्व निर्मित मर्यादा पुरुषोत्तम राम व् परमेश्वर शिव को समर्पित एक ठाकुर वाड़ी के साथ 1920 इसवी, भारत की स्वतंत्रता से 27 वर्ष पूर्व निर्मित राजकीयकृत मध्य विद्यालय और सन 1956 में निर्मित एक जनता पुस्तकालय भी है। पुस्तकालय का उद्घाटन श्रीकृष्ण सिंह के समय बिहार के शिक्षा मंत्री द्वारा की गयी थी। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और नारोमुरार · और देखें »

निशि भाषा

निशि भाषा, जो कि न्यिशी, निसि, निशिंग नामों से भी जानी जाती है, एक तानी शाखा की चीनी-तिब्बती भाषा है जो कि भारत के अरुणाचल प्रदेश तथा असम राज्यों में बोली जाती है। भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और निशि भाषा · और देखें »

नेईकी भाषा

नेईकी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: nit .

नई!!: भारत की भाषाएँ और नेईकी भाषा · और देखें »

नोक्टे भाषा

नोक्टे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: njb .

नई!!: भारत की भाषाएँ और नोक्टे भाषा · और देखें »

पदम भाषा

पदम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पदम भाषा · और देखें »

परजी भाषा

परजी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: pci .

नई!!: भारत की भाषाएँ और परजी भाषा · और देखें »

पादरी भाषा

पादरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: bhd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पादरी भाषा · और देखें »

पालि भाषा

ब्राह्मी तथा भाषा '''पालि''' है। पालि प्राचीन उत्तर भारत के लोगों की भाषा थी। जो पूर्व में बिहार से पश्चिम में हरियाणा-राजस्थान तक और उत्तर में नेपाल-उत्तरप्रदेश से दक्षिण में मध्यप्रदेश तक बोली जाती थी। भगवान बुद्ध भी इन्हीं प्रदेशो में विहरण करते हुए लोगों को धर्म समझाते रहे। आज इन्ही प्रदेशों में हिंदी बोली जाती है। इसलिए, पाली प्राचीन हिन्दी है। यह हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार में की एक बोली या प्राकृत है। इसको बौद्ध त्रिपिटक की भाषा के रूप में भी जाना जाता है। पाली, ब्राह्मी परिवार की लिपियों में लिखी जाती थी। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पालि भाषा · और देखें »

पालि भाषा का साहित्य

पालि साहित्य में मुख्यत: बौद्ध धर्म के संस्थापक भगवान् बुद्ध के उपदेशों का संग्रह है। किंतु इसका कोई भाग बुद्ध के जीवनकाल में व्यवस्थित या लिखित रूप धारण कर चुका था, यह कहना कठिन है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पालि भाषा का साहित्य · और देखें »

पासी भाषा

पासी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पासी भाषा · और देखें »

पांगवाली भाषा

पांगवाली भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: pgg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पांगवाली भाषा · और देखें »

पिटे भाषा

पिटे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: pck, smt .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पिटे भाषा · और देखें »

पुरिक भाषा

पुरिक भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: prx .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पुरिक भाषा · और देखें »

पुरुम भाषा

पुरुम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पुरुम भाषा · और देखें »

प्राकृत

सूर्यप्रज्ञप्तिसूत्र । इसकी रचना मूलतः तीसरी-चौथी शताब्दी ईसापूर्व में की गयी थी। भारतीय आर्यभाषा के मध्ययुग में जो अनेक प्रादेशिक भाषाएँ विकसित हुई उनका सामान्य नाम प्राकृत है और उन भाषाओं में जो ग्रंथ रचे गए उन सबको समुच्चय रूप से प्राकृत साहित्य कहा जाता है। विकास की दृष्टि से भाषावैज्ञानिकों ने भारत में आर्यभाषा के तीन स्तर नियत किए हैं - प्राचीन, मध्यकालीन और अर्वाचीन। प्राचीन स्तर की भाषाएँ वैदिक संस्कृत और संस्कृत हैं, जिनके विकास का काल अनुमानत: ई. पू.

नई!!: भारत की भाषाएँ और प्राकृत · और देखें »

प्राकृत साहित्य

मध्ययुगीन प्राकृतों का गद्य-पद्यात्मक साहित्य विशाल मात्रा में उपलब्ध है। सबसे प्राचीन वह अर्धमागधी साहित्य है जिसमें जैन धार्मिक ग्रंथ रचे गए हैं तथा जिन्हें समष्टि रूप से जैनागम या जैनश्रुतांग कहा जाता है। इस साहित्य की प्राचीन परंपरा यह है कि अंतिम जैन तीर्थंकर महावीर का विदेह प्रदेश में जन्म लगभग 600 ई. पूर्व हुआ। उन्होंने 30 वर्ष की अवस्था में मुनि दीक्षा ले ली और 12 वर्ष तप और ध्यान करके कैवल्यज्ञान प्राप्त किया। तत्पश्चात् उन्होने अपना धर्मोपदेश सर्वप्रथम राजगृह में और फिर अन्य नाना स्थानों में देकर जैन धर्म का प्रचार किया। उनके उपदेशों को उनके जीवनकाल में ही उनके शिष्यों ने 12 अंगों में संकलित किया। उनके नाम हैं- इन अंगों की भाषा वही अर्धमागधी प्राकृत है जिसमें महावीर ने अपने उपदेश दिए। संभवत: यह आगम उस समय लिपिबद्ध नहीं किया गया एवं गुरु-शिष्य परंपरा से मौखिक रूप में प्रचलित रहा और यही उसके श्रुतांग कहलाने की सार्थकता है। महावीर का निर्वाण 72 वर्ष की अवस्था में ई. पू.

नई!!: भारत की भाषाएँ और प्राकृत साहित्य · और देखें »

पू भाषा

पू भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: caq .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पू भाषा · और देखें »

पेंगो भाषा

पेंगो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: peg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पेंगो भाषा · और देखें »

पोचुरी भाषा

पोचुरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: npo .

नई!!: भारत की भाषाएँ और पोचुरी भाषा · और देखें »

फोम भाषा

फोम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nph .

नई!!: भारत की भाषाएँ और फोम भाषा · और देखें »

बदगा भाषा

बदगा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bfq .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बदगा भाषा · और देखें »

बन्गानी भाषा

बन्गानी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: gbm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बन्गानी भाषा · और देखें »

बाल्टी भाषा

बाल्टी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: bft .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बाल्टी भाषा · और देखें »

बिरहोर भाषा

बिरहोर भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: biy .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बिरहोर भाषा · और देखें »

बघाती भाषा

बघाती भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bfz .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बघाती भाषा · और देखें »

बुनान भाषा

बुनान भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bfu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बुनान भाषा · और देखें »

ब्यांग्सी भाषा

ब्यांग्सी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: bee .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ब्यांग्सी भाषा · और देखें »

ब्रिटिश राज

ब्रिटिश राज 1858 और 1947 के बीच भारतीय उपमहाद्वीप पर ब्रिटिश द्वारा शासन था। क्षेत्र जो सीधे ब्रिटेन के नियंत्रण में था जिसे आम तौर पर समकालीन उपयोग में "इंडिया" कहा जाता था‌- उसमें वो क्षेत्र शामिल थे जिन पर ब्रिटेन का सीधा प्रशासन था (समकालीन, "ब्रिटिश इंडिया") और वो रियासतें जिन पर व्यक्तिगत शासक राज करते थे पर उन पर ब्रिटिश क्राउन की सर्वोपरिता थी। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ब्रिटिश राज · और देखें »

ब्रोक्शत भाषा

ब्रोक्शत भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bkk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ब्रोक्शत भाषा · और देखें »

बेल्लारी भाषा

बेल्लारी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: brw .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बेल्लारी भाषा · और देखें »

बॉम भाषा

बॉम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह बांग्लादेश में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: bgr .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बॉम भाषा · और देखें »

बोरी भाषा

बोरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बोरी भाषा · और देखें »

बोकर भाषा

बोकर भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बोकर भाषा · और देखें »

बीएते भाषा

बीएते भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: biu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और बीएते भाषा · और देखें »

भद्रावही भाषा

भद्रावही भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: bhd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भद्रावही भाषा · और देखें »

भरमौरी भाषा

भरमौरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: gbk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भरमौरी भाषा · और देखें »

भलेसी भाषा

भलेसी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bhd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भलेसी भाषा · और देखें »

भारत में हिन्दू धर्म

हिन्दू धर्म भारत का सबसे बड़ा और मूल धार्मिक समूह है और भारत की 79.8% जनसंख्या (96.8 करोड़) इस धर्म की अनुयाई है। भारत में वैदिक संस्कृति का उद्गम २००० से १५०० ईसा पूर्व में हुआ था। जिसके फलस्वरूप हिन्दू धर्म को, वैदिक धर्म का क्रमानुयायी माना जाता है, जिसका भारतीय इतिहास पर गहन प्रभाव रहा है। स्वयं इण्डिया नाम भी यूनानी के Ἰνδία (इण्डस) से निकला है, जो स्वयं भी प्राचीन फ़ारसी शब्द हिन्दू से निकला, जो संस्कृत से सिन्धु से निकला, जो इस क्षेत्र में बहने वाली सिन्धु नदी के लिए प्रयुक्त किया गया था। भारत का एक अन्य प्रचलित नाम हिन्दुस्तान है, अर्थात "हिन्दुओं की भूमि"। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत में हिन्दू धर्म · और देखें »

भारत में जैन धर्म

भारत में जैन धर्म छटा सबसे बड़ा धर्म है और पूरे देश भर में प्रचलित है। भारत की 1.028 अरब जनसंख्या में 4,200,000 लोग जैन धर्म के अनुयायी हैं, यद्यपि जैन धर्म का प्रसार बहुत दूर तक है जो जनसंख्या से कहीं अधिक है। भारत के केन्द्र शासित प्रदेशों एवं सभी राज्यों में से ३५ में से ३४ में जैन लोग हैं, केवल लक्षद्वीप एक मात्र केन्द्र शासित प्रदेश है जिसमें जैन धर्म नहीं है। झारखण्ड जैसे छोटे राज्य में भी 16,301 जैन धर्मावलम्बी हैं और वहाँ पर शिखरजी का पवित्र तीर्थस्थल है। भारत की एक जनजाति सराक .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत में जैन धर्म · और देखें »

भारत के पशुपक्षियों की बहुभाषीय सूची

भारत के पशुपक्षियों के नाम अलग-अलग भारतीय भाषाओं में भिन्न-भिन्न हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत के पशुपक्षियों की बहुभाषीय सूची · और देखें »

भारत के प्रवेशद्वार

प्रवेशद्वार:भारत के सभि राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश १. प्रवेशद्वार:अरुणाचल प्रदेश (इटानगर) २. प्रवेशद्वार:असम (दिसपुर) ३. प्रवेशद्वार:उत्तर प्रदेश (लखनऊ) ४. प्रवेशद्वार:उत्तरांचल (देहरादून) ५. प्रवेशद्वार:उड़ीसा (भुवनेश्वर) ६. प्रवेशद्वार:अंडमान और निकोबार द्वीप* (पोर्टब्लेयर) ७. प्रवेशद्वार:आंध्र प्रदेश (हैदराबाद) ८. प्रवेशद्वार:कर्नाटक (बंगलोर) ९. प्रवेशद्वार:केरल (तिरुवनंतपुरम) १०.

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत के प्रवेशद्वार · और देखें »

भारत के भाषाई परिवार

वृहद भारत के भाषा परिवार भारत में विश्व के सबसे चार प्रमुख भाषा परिवारों की भाषाएँ बोली जाती है। सामान्यत: उत्तर भारत में बोली जाने वाली भारोपीय परि वार की भाषाओं को आर्य भाषा समूह, दक्षिण की भाषाओं को द्रविड़ भाषा समूह, ऑस्ट्रो-एशियाटिक परिवार की भाषाओं को भुंडारी भाषा समूह तथा पूर्वोत्तर में रहने वाले तिब्बती-बर्मी, नृजातीय भाषाओं को चीनी-तिब्बती (नाग भाषा समूह) के रूप में जाना जाता है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत के भाषाई परिवार · और देखें »

भारत की बोलियाँ

भारत में ‘भारतीय जनगणना 1961’ (संकेत चिह्न .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत की बोलियाँ · और देखें »

भारत की संस्कृति

कृष्णा के रूप में नृत्य करते है भारत उपमहाद्वीप की क्षेत्रीय सांस्कृतिक सीमाओं और क्षेत्रों की स्थिरता और ऐतिहासिक स्थायित्व को प्रदर्शित करता हुआ मानचित्र भारत की संस्कृति बहुआयामी है जिसमें भारत का महान इतिहास, विलक्षण भूगोल और सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान बनी और आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई, बौद्ध धर्म एवं स्वर्ण युग की शुरुआत और उसके अस्तगमन के साथ फली-फूली अपनी खुद की प्राचीन विरासत शामिल हैं। इसके साथ ही पड़ोसी देशों के रिवाज़, परम्पराओं और विचारों का भी इसमें समावेश है। पिछली पाँच सहस्राब्दियों से अधिक समय से भारत के रीति-रिवाज़, भाषाएँ, प्रथाएँ और परंपराएँ इसके एक-दूसरे से परस्पर संबंधों में महान विविधताओं का एक अद्वितीय उदाहरण देती हैं। भारत कई धार्मिक प्रणालियों, जैसे कि हिन्दू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और सिख धर्म जैसे धर्मों का जनक है। इस मिश्रण से भारत में उत्पन्न हुए विभिन्न धर्म और परम्पराओं ने विश्व के अलग-अलग हिस्सों को भी बहुत प्रभावित किया है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत की संस्कृति · और देखें »

भारत की जनगणना २०११

भारत की जनगणना 2011 भारत की जनगणना २०११, जनगणना आयुक्त सी.

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत की जनगणना २०११ · और देखें »

भारत की आधिकारिक भाषाओं में भारत गणराज्य के नाम

निम्नलिखित सूची में भारत की सभी २३ आधिकारिक भाषाओं में भारत के नाम दिए गए है।.

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारत की आधिकारिक भाषाओं में भारत गणराज्य के नाम · और देखें »

भारतीय नाम

भारतीय पारिवारिक नाम अनेक प्रकार की प्रणालियों व नामकरण पद्धतियों पर आधारित होते हैं, जो एक से दूसरे क्षेत्र के अनुसार बदलतीं रहती हैं। नामों पर धर्म व जाति का प्रभाव भी होता है और वे धर्म या महाकाव्यों से लिये हुए हो सकते हैं। भारत के लोग विविध प्रकार की भाषाएं बोलते हैं और भारत में विश्व के लगभग प्रत्येक प्रमुख धर्म के अनुयायी मौजूद हैं। यह विविधता नामों व नामकरण की शैलियों में सूक्ष्म, अक्सर भ्रामक, अंतर उत्पन्न करती है। उदाहरण के लिये, पारिवारिक नाम की अवधारणा तमिलनाडु में व्यापक रूप से मौजूद नहीं थी। कई भारतीयों के लिये, उनके जन्म का नाम, उनके औपचारिक नाम से भिन्न होता है; जन्म का नाम किसी ऐसे वर्ण से प्रारंभ होता है, जो उस व्यक्ति की जन्म-कुंडली के आधार पर उसके लिये शुभ हो। कुछ बच्चों को एक नाम दिया जाता है (दिया गया नाम).

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय नाम · और देखें »

भारतीय मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची

यह अंग्रेज़ी भाषा के उन शब्दों की सूची है जिनका मूल भारतीय भाषाएँ हैं अथवा भारतीय भाषाओं से जनित अंग्रेजी शब्दों की सूची। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची · और देखें »

भारतीय रुपया

भारतीय रुपया (प्रतीक-चिह्न: 8px; कोड: INR) भारत की राष्ट्रीय मुद्रा है। इसका बाज़ार नियामक और जारीकर्ता भारतीय रिज़र्व बैंक है। नये प्रतीक चिह्न के आने से पहले रुपये को हिन्दी में दर्शाने के लिए 'रु' और अंग्रेजी में Re.

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय रुपया · और देखें »

भारतीय रुपया चिह्न

भारतीय रुपया चिह्न भारतीय रुपया चिह्न (₹) भारतीय रुपये (भारत की आधिकारिक मुद्रा) के लिये प्रयोग किया जाने वाला मुद्रा चिह्न है। यह डिजाइन भारत सरकार द्वारा १५ जुलाई २०१० को सार्वजनिक किया गया था। अमेरिकी डॉलर, ब्रिटिश पाउण्ड, जापानी येन और यूरोपीय संघ के यूरो के बाद रुपया पाँचवी ऐसी मुद्रा बन गया है, जिसे उसके प्रतीक-चिह्न से पहचाना जाएगा। भारतीय रुपये के लिये अन्तर्राष्ट्रीय तीन अंकीय कोड (अन्तर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (ISO) मानक ISO 4217 के अनुसार) INR है। ५ मार्च २००९ को भारत सरकार ने भारतीय रुपये के लिये एक चिह्न निर्माण हेतु एक प्रतियोगिता की घोषणा की। इसके अन्तर्गत सरकार को तीन हज़ार से अधिक आवेदन प्राप्त हुए थे। यूनियन बजट २०१० के दौरान वित्त मन्त्री प्रणव मुखर्जी ने कहा कि प्रस्तावित चिह्न भारतीय संस्कृति को प्रकट करेगा। प्राप्त ३३३१ आवेदनों में से मनॉन्दिता कोरिया-मेहरोत्रा, हितेश पद्मशैली, शिबिन केक, शाहरुख जे ईरानी तथा डी उदय कुमार द्वारा निर्मित किये गये पाँच चिह्न शॉर्ट लिस्ट किये गये तथा उनमें से एक २४ जून २०१० को यूनियन कैबिनेट की मीटिंग में फाइनल किया जाना था। वित्त मन्त्री के अनुरोध पर निर्णय स्थगित किया गया, तथा १५ जुलाई २०१० की मीटिंग में निर्णय लिया गया तथा उदय कुमार द्वारा निर्मित चिह्न चुना गया। रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर की अध्यक्षता में गठित एक उच्चस्तरीय समिति ने भारतीय संस्कृति और भारतीय भाषाओं के साथ ही आधुनिक युग के बेहतर सामंजस्य वाले इस प्रतीक को अन्तिम तौर पर चयन करने की सिफारिश की थी। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय रुपया चिह्न · और देखें »

भारतीय लिपियाँ

भारत में बहुत सी भाषाएं तो हैं ही, उनके लिखने के लिये भी अलग-अलग लिपियाँ प्रयोग की जातीं हैं। किन्तु इन सभी लिपियों में बहुत ही साम्य है। ये सभी वर्णमालाएँ एक अत्यन्त तर्कपूर्ण ध्वन्यात्मक क्रम (phonetic order) में व्यवस्थित हैं। यह क्रम इतना तर्कपूर्ण है कि अन्तरराष्ट्रीय ध्वन्यात्मक संघ (IPA) ने अन्तरराष्ट्रीय ध्वन्यात्मक लिपि के निर्माण के लिये मामूली परिवर्तनों के साथ इसी क्रम को अंगीकार कर लिया। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय लिपियाँ · और देखें »

भारतीय साहित्य

भारतीय साहित्य से तात्पर्य सन् १९४७ के पहले तक भारतीय उपमहाद्वीप एवं तत्पश्चात् भारत गणराज्य में निर्मित वाचिक और लिखित साहित्य से होता है। दुनिया में सबसे पुराना वाचिक साहित्य हमें आदिवासी भाषाओं में मिलता है। इस दृष्टि से सभी साहित्य का मूल स्रोत है। भारतीय गणराज्य में 22 आधिकारिक मान्यता प्राप्त भाषाएँ है। जिनमें मात्र 2 आदिवासी भाषाओं - संथाली और बोड़ो - को ही शामिल किया गया है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भारतीय साहित्य · और देखें »

भाषा

भाषा वह साधन है जिसके द्वारा हम अपने विचारों को व्यक्त करते है और इसके लिये हम वाचिक ध्वनियों का उपयोग करते हैं। भाषा मुख से उच्चारित होनेवाले शब्दों और वाक्यों आदि का वह समूह है जिनके द्वारा मन की बात बतलाई जाती है। किसी भाषा की सभी ध्वनियों के प्रतिनिधि स्वन एक व्यवस्था में मिलकर एक सम्पूर्ण भाषा की अवधारणा बनाते हैं। व्यक्त नाद की वह समष्टि जिसकी सहायता से किसी एक समाज या देश के लोग अपने मनोगत भाव तथा विचार एक दूसरे पर प्रकट करते हैं। मुख से उच्चारित होनेवाले शब्दों और वाक्यों आदि का वह समूह जिनके द्वारा मन की बात बतलाई जाती है। बोली। जबान। वाणी। विशेष— इस समय सारे संसार में प्रायः हजारों प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं जो साधारणतः अपने भाषियों को छोड़ और लोगों की समझ में नहीं आतीं। अपने समाज या देश की भाषा तो लोग बचपन से ही अभ्यस्त होने के कारण अच्छी तरह जानते हैं, पर दूसरे देशों या समाजों की भाषा बिना अच्छी़ तरह नहीं आती। भाषाविज्ञान के ज्ञाताओं ने भाषाओं के आर्य, सेमेटिक, हेमेटिक आदि कई वर्ग स्थापित करके उनमें से प्रत्येक की अलग अलग शाखाएँ स्थापित की हैं और उन शाखाकों के भी अनेक वर्ग उपवर्ग बनाकर उनमें बड़ी बड़ी भाषाओं और उनके प्रांतीय भेदों, उपभाषाओं अथाव बोलियों को रखा है। जैसे हमारी हिंदी भाषा भाषाविज्ञान की दृष्टि से भाषाओं के आर्य वर्ग की भारतीय आर्य शाखा की एक भाषा है; और ब्रजभाषा, अवधी, बुंदेलखंडी आदि इसकी उपभाषाएँ या बोलियाँ हैं। पास पास बोली जानेवाली अनेक उपभाषाओं या बोलियों में बहुत कुछ साम्य होता है; और उसी साम्य के आधार पर उनके वर्ग या कुल स्थापित किए जाते हैं। यही बात बड़ी बड़ी भाषाओं में भी है जिनका पारस्परिक साम्य उतना अधिक तो नहीं, पर फिर भी बहुत कुछ होता है। संसार की सभी बातों की भाँति भाषा का भी मनुष्य की आदिम अवस्था के अव्यक्त नाद से अब तक बराबर विकास होता आया है; और इसी विकास के कारण भाषाओं में सदा परिवर्तन होता रहता है। भारतीय आर्यों की वैदिक भाषा से संस्कुत और प्राकृतों का, प्राकृतों से अपभ्रंशों का और अपभ्रंशों से आधुनिक भारतीय भाषाओं का विकास हुआ है। सामान्यतः भाषा को वैचारिक आदान-प्रदान का माध्यम कहा जा सकता है। भाषा आभ्यंतर अभिव्यक्ति का सर्वाधिक विश्वसनीय माध्यम है। यही नहीं वह हमारे आभ्यंतर के निर्माण, विकास, हमारी अस्मिता, सामाजिक-सांस्कृतिक पहचान का भी साधन है। भाषा के बिना मनुष्य सर्वथा अपूर्ण है और अपने इतिहास तथा परम्परा से विच्छिन्न है। इस समय सारे संसार में प्रायः हजारों प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं जो साधारणतः अपने भाषियों को छोड़ और लोगों की समझ में नहीं आतीं। अपने समाज या देश की भाषा तो लोग बचपन से ही अभ्यस्त होने के कारण अच्छी तरह जानते हैं, पर दूसरे देशों या समाजों की भाषा बिना अच्छी़ तरह सीखे नहीं आती। भाषाविज्ञान के ज्ञाताओं ने भाषाओं के आर्य, सेमेटिक, हेमेटिक आदि कई वर्ग स्थापित करके उनमें से प्रत्येक की अलग अलग शाखाएँ स्थापित की हैं और उन शाखाओं के भी अनेक वर्ग-उपवर्ग बनाकर उनमें बड़ी बड़ी भाषाओं और उनके प्रांतीय भेदों, उपभाषाओं अथाव बोलियों को रखा है। जैसे हिंदी भाषा भाषाविज्ञान की दृष्टि से भाषाओं के आर्य वर्ग की भारतीय आर्य शाखा की एक भाषा है; और ब्रजभाषा, अवधी, बुंदेलखंडी आदि इसकी उपभाषाएँ या बोलियाँ हैं। पास पास बोली जानेवाली अनेक उपभाषाओं या बोलियों में बहुत कुछ साम्य होता है; और उसी साम्य के आधार पर उनके वर्ग या कुल स्थापित किए जाते हैं। यही बात बड़ी बड़ी भाषाओं में भी है जिनका पारस्परिक साम्य उतना अधिक तो नहीं, पर फिर भी बहुत कुछ होता है। संसार की सभी बातों की भाँति भाषा का भी मनुष्य की आदिम अवस्था के अव्यक्त नाद से अब तक बराबर विकास होता आया है; और इसी विकास के कारण भाषाओं में सदा परिवर्तन होता रहता है। भारतीय आर्यों की वैदिक भाषा से संस्कृत और प्राकृतों का, प्राकृतों से अपभ्रंशों का और अपभ्रंशों से आधुनिक भारतीय भाषाओं का विकास हुआ है। प्रायः भाषा को लिखित रूप में व्यक्त करने के लिये लिपियों की सहायता लेनी पड़ती है। भाषा और लिपि, भाव व्यक्तीकरण के दो अभिन्न पहलू हैं। एक भाषा कई लिपियों में लिखी जा सकती है और दो या अधिक भाषाओं की एक ही लिपि हो सकती है। उदाहरणार्थ पंजाबी, गुरूमुखी तथा शाहमुखी दोनो में लिखी जाती है जबकि हिन्दी, मराठी, संस्कृत, नेपाली इत्यादि सभी देवनागरी में लिखी जाती है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भाषा · और देखें »

भूमजी भाषा

भूमजी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: bij .

नई!!: भारत की भाषाएँ और भूमजी भाषा · और देखें »

मन्ना डे

मन्ना डे (1 मई 1919 - 24 अक्टूबर 2013), जिन्हें प्यार से मन्ना दा के नाम से भी जाना जाता है, फिल्म जगत के एक सुप्रसिद्ध भारतीय पार्श्व गायक थे। उनका वास्तविक नाम प्रबोध चन्द्र डे था। मन्ना दा ने सन् 1942 में फ़िल्म तमन्ना से अपने फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत की और 1942 से 2013 तक लगभग 3000 से अधिक गानों को अपनी आवाज दी। मुख्यतः हिन्दी एवं बंगाली फिल्मी गानों के अलावा उन्होंने अन्य भारतीय भाषाओं में भी अपने कुछ गीत रिकॉर्ड करवाये। भारत सरकार ने उन्हें 1971 में पद्म श्री, 2005 में पद्म भूषण एवं 2007 में दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मन्ना डे · और देखें »

मरम भाषा

मरम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nma .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मरम भाषा · और देखें »

मरीआंग भाषा

मरीआंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nng .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मरीआंग भाषा · और देखें »

मलयालम विकिपीडिया

मलयालम विकिपीडिया विकिपीडिया का मलयालम भाषा का एक मुक्त संस्करण है जिस पर कोई भी सम्पादन कर सकता है और यह २१ दिसम्बर, २००२ को आरम्भ किया गया था। अन्य बहुत-सी भारतीय भाषाओं के विकिपीडियाओं कि तुलना में यह विकिपीडिया पृष्ठ गहराई, प्रति पृष्ठ सम्पादन, पंजीकृत सदस्य और सक्रिय प्रयोक्ताओं के मामले में बहुत आगे है (अस्पष्ट)। १७ जनवरी, २०१२ तक इस विकिपीडिया पर लेखों की कुल संख्या २२,१८३+ और पंजीकृत सदस्यों की संख्या ३२,००२+ है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मलयालम विकिपीडिया · और देखें »

महासुई भाषा

महासुई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bfz .

नई!!: भारत की भाषाएँ और महासुई भाषा · और देखें »

मारा भाषा

मारा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: mrh .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मारा भाषा · और देखें »

माओ भाषा

माओ भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nbi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और माओ भाषा · और देखें »

मिलांग भाषा

मिलांग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मिलांग भाषा · और देखें »

मिसिंग भाषा

मिसिंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: mrg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मिसिंग भाषा · और देखें »

मिजू भाषा

मिजू भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: mxj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मिजू भाषा · और देखें »

मिंयोंग भाषा

मिंयोंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मिंयोंग भाषा · और देखें »

मंचन्द भाषा

मंचन्द भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: lae .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मंचन्द भाषा · और देखें »

मंडयाली भाषा

मंडयाली भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: mjl .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मंडयाली भाषा · और देखें »

मंडा भाषा

मंडा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: mha .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मंडा भाषा · और देखें »

मुन्दारी भाषा

मुन्दारी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: muw .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मुन्दारी भाषा · और देखें »

मुओट भाषा

मुओट भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: ncb .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मुओट भाषा · और देखें »

मैथी भाषा

मैथी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: mni .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मैथी भाषा · और देखें »

मेच भाषा

मेच भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: brx .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मेच भाषा · और देखें »

मोट्यूओ मेनवा भाषा

मोट्यूओ मेनवा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: tsj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मोट्यूओ मेनवा भाषा · और देखें »

मोयोन भाषा

मोयोन भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: nmo .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मोयोन भाषा · और देखें »

मीजी भाषा

मीजी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और मीजी भाषा · और देखें »

यिमचुंगगुरु भाषा

यिमचुंगगुरु भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: yim .

नई!!: भारत की भाषाएँ और यिमचुंगगुरु भाषा · और देखें »

यिशी भाषा

यिशी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: dap .

नई!!: भारत की भाषाएँ और यिशी भाषा · और देखें »

रभा भाषा

रभा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: rah .

नई!!: भारत की भाषाएँ और रभा भाषा · और देखें »

रुगा भाषा

रुगा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: ruh .

नई!!: भारत की भाषाएँ और रुगा भाषा · और देखें »

रेमो भाषा

रेमो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bfw .

नई!!: भारत की भाषाएँ और रेमो भाषा · और देखें »

रोंग्पो भाषा

रोंग्पो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: rnp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और रोंग्पो भाषा · और देखें »

लामगांग भाषा

लामगांग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: lmk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लामगांग भाषा · और देखें »

लामोंगसे भाषा

लामोंगसे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: nik .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लामोंगसे भाषा · और देखें »

लिप्सा भाषा

लिप्सा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लिप्सा भाषा · और देखें »

लिआंगमई भाषा

लिआंगमई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: njn .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लिआंगमई भाषा · और देखें »

लंगरोंग भाषा

लंगरोंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लंगरोंग भाषा · और देखें »

लूरो भाषा

लूरो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: tef .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लूरो भाषा · और देखें »

लेपचा भाषा

लेपचा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह भूटान व नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: lep .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लेपचा भाषा · और देखें »

लोहटा भाषा

लोहटा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: njh .

नई!!: भारत की भाषाएँ और लोहटा भाषा · और देखें »

शेरदुक्पेन भाषा

शेरदुक्पेन भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: sdp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और शेरदुक्पेन भाषा · और देखें »

शेरपा भाषा

शेरपा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन व नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: xsr .

नई!!: भारत की भाषाएँ और शेरपा भाषा · और देखें »

शोम्पेन भाषा

शोम्पेन भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: sil .

नई!!: भारत की भाषाएँ और शोम्पेन भाषा · और देखें »

सानेन्यो भाषा

सानेन्यो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: crv .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सानेन्यो भाषा · और देखें »

सांगला भाषा

सांगला भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह भूटान और चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: tsj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सांगला भाषा · और देखें »

सिन्धी भाषा

सिंधी भारत के पश्चिमी हिस्से और मुख्य रूप से गुजरात और पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में बोली जाने वाली एक प्रमुख भाषा है। इसका संबंध भाषाई परिवार के स्तर पर आर्य भाषा परिवार से है जिसमें संस्कृत समेत हिन्दी, पंजाबी और गुजराती भाषाएँ शामिल हैं। अनेक मान्य विद्वानों के मतानुसार, आधुनिक भारतीय भाषाओं में, सिन्धी, बोली के रूप में संस्कृत के सर्वाधिक निकट है। सिन्धी के लगभग ७० प्रतिशत शब्द संस्कृत मूल के हैं। सिंधी भाषा सिंध प्रदेश की आधुनिक भारतीय-आर्य भाषा जिसका संबंध पैशाची नाम की प्राकृत और व्राचड नाम की अपभ्रंश से जोड़ा जाता है। इन दोनों नामों से विदित होता है कि सिंधी के मूल में अनार्य तत्व पहले से विद्यमान थे, भले ही वे आर्य प्रभावों के कारण गौण हो गए हों। सिंधी के पश्चिम में बलोची, उत्तर में लहँदी, पूर्व में मारवाड़ी और दक्षिण में गुजराती का क्षेत्र है। यह बात उल्लेखनीय है कि इस्लामी शासनकाल में सिंध और मुलतान (लहँदीभाषी) एक प्रांत रहा है और 1843 से 1936 ई. तक सिन्ध, बम्बई प्रांत का एक भाग होने के नाते गुजराती के विशेष संपर्क में रहा है। पाकिस्तान में सिंधी भाषा नस्तालिक (यानि अरबी लिपि) में लिखी जाती है जबकि भारत में इसके लिये देवनागरी और नस्तालिक दोनो प्रयोग किये जाते हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सिन्धी भाषा · और देखें »

सिन्धी भाषा की लिपियाँ

सिन्धी वर्णमाला तथा उसके तुल्य देवनागरी, उर्दू, तथा रोमन वर्ण एक शताब्दी से कुछ पहले तक सिन्धी लेखन के लिए चार लिपियाँ प्रचलित थीं। हिन्दू पुरुष देवनागरी का, हिंदु स्त्रियाँ प्राय: गुरुमुखी का, व्यापारी लोग (हिंदू और मुसलमान दोनों) "हटवाणिको" का (जिसे 'सिंधी लिपि' भी कहते हैं) और मुसलमान तथा सरकारी कर्मचारी अरबी-फारसी लिपि का प्रयोग करते थे। सन 1853 ई. में ईस्ट इंडिया कंपनी के निर्णयानुसार लिपि के स्थिरीकरण हेतु सिंध के कमिश्नर मिनिस्टर एलिस की अध्यक्षता में एक समिति नियुक्त की गई। इस समिति ने अरबी-फारसी-उर्दू लिपियों के आधार पर "अरबी सिंधी " लिपि की सर्जना की। सिंधी ध्वनियों के लिए सवर्ण अक्षरों में अतिरिक्त बिंदु लगाकर नए अक्षर जोड़ लिए गए। अब यह लिपि सभी वर्गों द्वारा व्यवहृत होती है। इधर भारत के सिंधी लोग नागरी लिपि को सफलतापूर्वक अपना रहे हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सिन्धी भाषा की लिपियाँ · और देखें »

सिमी भाषा

सिमी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nsm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सिमी भाषा · और देखें »

सिरमौदी भाषा

सिरमौदी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: srx .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सिरमौदी भाषा · और देखें »

सिंगफ़ो भाषा

सिंगफ़ो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: sgp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सिंगफ़ो भाषा · और देखें »

संस्कृत भाषा

संस्कृत (संस्कृतम्) भारतीय उपमहाद्वीप की एक शास्त्रीय भाषा है। इसे देववाणी अथवा सुरभारती भी कहा जाता है। यह विश्व की सबसे प्राचीन भाषा है। संस्कृत एक हिंद-आर्य भाषा हैं जो हिंद-यूरोपीय भाषा परिवार का एक शाखा हैं। आधुनिक भारतीय भाषाएँ जैसे, हिंदी, मराठी, सिन्धी, पंजाबी, नेपाली, आदि इसी से उत्पन्न हुई हैं। इन सभी भाषाओं में यूरोपीय बंजारों की रोमानी भाषा भी शामिल है। संस्कृत में वैदिक धर्म से संबंधित लगभग सभी धर्मग्रंथ लिखे गये हैं। बौद्ध धर्म (विशेषकर महायान) तथा जैन मत के भी कई महत्त्वपूर्ण ग्रंथ संस्कृत में लिखे गये हैं। आज भी हिंदू धर्म के अधिकतर यज्ञ और पूजा संस्कृत में ही होती हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और संस्कृत भाषा · और देखें »

संग्ताम भाषा

संग्ताम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nsa .

नई!!: भारत की भाषाएँ और संग्ताम भाषा · और देखें »

सुलुंग भाषा

सुलुंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: suv .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सुलुंग भाषा · और देखें »

स्पीती भाषा

स्पीती भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: spt .

नई!!: भारत की भाषाएँ और स्पीती भाषा · और देखें »

स्वरचक्र

स्वरचक्र भारतीय लिपियों में एंड्रॉइड पर लिखने में सहायक एक निःशुल्क अनुप्रयोग (अप्लिकेशन) है। यह भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुम्बई के औद्योगिक डिजाइन केन्द्र के IDID समूह द्वारा विकसित किया गया है। यह इंस्क्रिप्ट से बेहतर सिद्ध हो रहा है। सम्प्रति यह ११ भारतीय भाषाओं (हिन्दी, मराठी, गुजराती, तेलुगु, मलयालम, कन्नड, ओडिया, पंजाबी, बंगाली,कोंकणी,तमिळ) के लिये एंड्रॉयड फोनों के लिये उपलब्ध है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और स्वरचक्र · और देखें »

सेंटीनिली भाषा

सेंटीनिली भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: std .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सेंटीनिली भाषा · और देखें »

सोरा भाषा

सोरा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: srb .

नई!!: भारत की भाषाएँ और सोरा भाषा · और देखें »

हन्दुरी भाषा

हन्दुरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: hii .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हन्दुरी भाषा · और देखें »

हमार भाषा

हमार भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: hmr .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हमार भाषा · और देखें »

हरंगखोल भाषा

हरंगखोल भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: hra .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हरंगखोल भाषा · और देखें »

हिन्दुस्तानी भाषा

150px हिन्दुस्तानी (नस्तलीक़: ہندوستانی, अन्तर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक लिपि: / hindustɑːniː /) भाषा हिन्दी और उर्दू का एकीकृत रूप है। ये हिन्दी और उर्दू, दोनो के बोलचाल की भाषा है। इसमें संस्कृत के तत्सम शब्द और अरबी-फ़ारसी के उधार लिये गये शब्द, दोनों कम होते हैं। यही हिन्दी और उर्दू का वह रूप है जो भारत की जनता रोज़मर्रा के जीवन में उपयोग करती है और हिन्दी सिनेमा इसी पर आधारित है। ये हिन्द यूरोपीय भाषा परिवार की हिन्द आर्य शाखा में आती है। ये देवनागरी या फ़ारसी-अरबी, किसी भी लिपि में लिखी जा सकती है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हिन्दुस्तानी भाषा · और देखें »

हिन्दी

हिन्दी या भारतीय विश्व की एक प्रमुख भाषा है एवं भारत की राजभाषा है। केंद्रीय स्तर पर दूसरी आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है। यह हिन्दुस्तानी भाषा की एक मानकीकृत रूप है जिसमें संस्कृत के तत्सम तथा तद्भव शब्द का प्रयोग अधिक हैं और अरबी-फ़ारसी शब्द कम हैं। हिन्दी संवैधानिक रूप से भारत की प्रथम राजभाषा और भारत की सबसे अधिक बोली और समझी जाने वाली भाषा है। हालांकि, हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा नहीं है क्योंकि भारत का संविधान में कोई भी भाषा को ऐसा दर्जा नहीं दिया गया था। चीनी के बाद यह विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा भी है। विश्व आर्थिक मंच की गणना के अनुसार यह विश्व की दस शक्तिशाली भाषाओं में से एक है। हिन्दी और इसकी बोलियाँ सम्पूर्ण भारत के विविध राज्यों में बोली जाती हैं। भारत और अन्य देशों में भी लोग हिन्दी बोलते, पढ़ते और लिखते हैं। फ़िजी, मॉरिशस, गयाना, सूरीनाम की और नेपाल की जनता भी हिन्दी बोलती है।http://www.ethnologue.com/language/hin 2001 की भारतीय जनगणना में भारत में ४२ करोड़ २० लाख लोगों ने हिन्दी को अपनी मूल भाषा बताया। भारत के बाहर, हिन्दी बोलने वाले संयुक्त राज्य अमेरिका में 648,983; मॉरीशस में ६,८५,१७०; दक्षिण अफ्रीका में ८,९०,२९२; यमन में २,३२,७६०; युगांडा में १,४७,०००; सिंगापुर में ५,०००; नेपाल में ८ लाख; जर्मनी में ३०,००० हैं। न्यूजीलैंड में हिन्दी चौथी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। इसके अलावा भारत, पाकिस्तान और अन्य देशों में १४ करोड़ १० लाख लोगों द्वारा बोली जाने वाली उर्दू, मौखिक रूप से हिन्दी के काफी सामान है। लोगों का एक विशाल बहुमत हिन्दी और उर्दू दोनों को ही समझता है। भारत में हिन्दी, विभिन्न भारतीय राज्यों की १४ आधिकारिक भाषाओं और क्षेत्र की बोलियों का उपयोग करने वाले लगभग १ अरब लोगों में से अधिकांश की दूसरी भाषा है। हिंदी हिंदी बेल्ट का लिंगुआ फ़्रैंका है, और कुछ हद तक पूरे भारत (आमतौर पर एक सरल या पिज्जाइज्ड किस्म जैसे बाजार हिंदुस्तान या हाफ्लोंग हिंदी में)। भाषा विकास क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों की भविष्यवाणी हिन्दी प्रेमियों के लिए बड़ी सन्तोषजनक है कि आने वाले समय में विश्वस्तर पर अन्तर्राष्ट्रीय महत्त्व की जो चन्द भाषाएँ होंगी उनमें हिन्दी भी प्रमुख होगी। 'देशी', 'भाखा' (भाषा), 'देशना वचन' (विद्यापति), 'हिन्दवी', 'दक्खिनी', 'रेखता', 'आर्यभाषा' (स्वामी दयानन्द सरस्वती), 'हिन्दुस्तानी', 'खड़ी बोली', 'भारती' आदि हिन्दी के अन्य नाम हैं जो विभिन्न ऐतिहासिक कालखण्डों में एवं विभिन्न सन्दर्भों में प्रयुक्त हुए हैं। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हिन्दी · और देखें »

हिन्दी विकिपीडिया

हिन्दी विकिपीडिया, विकिपीडिया का हिन्दी भाषा का संस्करण है, जिसका स्वामित्व विकिमीडिया संस्थापन के पास है। हिन्दी संस्करण जुलाई २००३ में आरम्भ किया गया था और १ दिसम्बर २०१६ तक इस पर लेख और लगभग पंजीकृत सदस्य हैं। ३० अगस्त २०११ के दिन यह एक लाख लेखों का आँकड़ा पार करने वाला प्रथम भारतीय भाषा विकिपीडिया बना। यह लेखों की संख्या, सक्रिय सदस्यों, प्रयोक्ताओं की संख्या, सम्पादनों इत्यादि के आधार पर भारतीय भाषाओं में उपलब्ध विकिपीडिया का सबसे बड़ा संस्करण है और सभी संस्करणों में पचपनवाँ। और इसे मुख्यतः हिन्दी भाषी लोगों की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिया बनाया गया था। चूँकि हिन्दी विकिपीडिया इण्डिक स्क्रिप्ट (देवनागरी) का प्रयोग करता है इसलिए इसमें जटिल पाठ प्रतिपादन सहायक की आवश्यकता पड़ती है। विकिपीडिया पर ध्वन्यात्मक रोमन वर्णमाला परिवर्तक उपलब्ध है, इसलिए बिना किसी विशेष हिन्दी टाइपिंग सॉफ्टवेर डाउनलोड किये रोमन कुंजीपटल का उपयोग देवनागरी में टंकण करने के लिए किया जा सकता है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हिन्दी विकिपीडिया · और देखें »

हिल मिरी भाषा

हिल मिरी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: mrg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और हिल मिरी भाषा · और देखें »

जन्ग्शुंग भाषा

जन्ग्शुंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: jna, scu, ssk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जन्ग्शुंग भाषा · और देखें »

जरावा भाषा

जरावा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: ang .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जरावा भाषा · और देखें »

ज़ाईमे भाषा

ज़ाईमे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nme .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ज़ाईमे भाषा · और देखें »

ज़ंग्सकारी भाषा

ज़ंग्सकारी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: zau .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ज़ंग्सकारी भाषा · और देखें »

ज़ेमे भाषा

ज़ेमे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nzm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ज़ेमे भाषा · और देखें »

जाद भाषा

जाद भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: jda .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जाद भाषा · और देखें »

जुआंग भाषा

जुआंग (Juang) एक भारतीय भाषा है जो ऑस्ट्रो-एशियाई भाषाओं की मुण्डा शाखा की सदस्य है। यह उड़ीसा राज्य के जुआंग समुदाय द्वारा बोली जाती है और इसका सम्बन्ध खड़िया भाषा से बहुत समीपी है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जुआंग भाषा · और देखें »

जौनसारी भाषा

जौनसारी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: jns .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जौनसारी भाषा · और देखें »

जैवा भाषा

जैवा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: zkr .

नई!!: भारत की भाषाएँ और जैवा भाषा · और देखें »

ईरुला भाषा

ईरुला भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: iru .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ईरुला भाषा · और देखें »

वैन्चो भाषा

वैन्चो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nnp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और वैन्चो भाषा · और देखें »

खड़िया भाषा

खड़िया (Kharia) एक भारतीय भाषा है जो ऑस्ट्रो-एशियाई भाषाओं की मुण्डा शाखा की सदस्य है। भारत के पूर्वी क्षेत्रों के अलावा यह नेपाल में भी कहीं-कहीं बोली जाती है। इसका सम्बन्ध जुआंग भाषा से बहुत समीपी है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खड़िया भाषा · और देखें »

खम्बा भाषा

खम्बा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: kbg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खम्बा भाषा · और देखें »

खसाली भाषा

खसाली भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खसाली भाषा · और देखें »

खाम्प्टी भाषा

खाम्प्टी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खाम्प्टी भाषा · और देखें »

खांसी भाषा

खांसी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: kha .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खांसी भाषा · और देखें »

खियाम्नगान भाषा

खियाम्नगान भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nky .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खियाम्नगान भाषा · और देखें »

खेज़ा भाषा

खेज़ा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nkh .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खेज़ा भाषा · और देखें »

खोईराओ भाषा

खोईराओ भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nki .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खोईराओ भाषा · और देखें »

खोवा भाषा

खोवा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: bgg .

नई!!: भारत की भाषाएँ और खोवा भाषा · और देखें »

गड़ाबा भाषा

गड़ाबा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: gdb, gau .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गड़ाबा भाषा · और देखें »

गालो भाषा

गालो भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: adl .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गालो भाषा · और देखें »

गांटे भाषा

गांटे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: gnb .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गांटे भाषा · और देखें »

गुटोब भाषा

गुटोब भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: gbj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गुटोब भाषा · और देखें »

गेता भाषा

गेता भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: gaq .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गेता भाषा · और देखें »

गोरुम भाषा

गोरुम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: pcj .

नई!!: भारत की भाषाएँ और गोरुम भाषा · और देखें »

ओंगे भाषा

ओंगे भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: oon .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ओंगे भाषा · और देखें »

आदि भाषा

आदि भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: adi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और आदि भाषा · और देखें »

आओ भाषा

आओ भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: ngo .

नई!!: भारत की भाषाएँ और आओ भाषा · और देखें »

आइमोल भाषा

आइमोल भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: aim .

नई!!: भारत की भाषाएँ और आइमोल भाषा · और देखें »

इदु भाषा

इदु भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह चीन में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: clk .

नई!!: भारत की भाषाएँ और इदु भाषा · और देखें »

कनाशी भाषा

कनाशी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: xns .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कनाशी भाषा · और देखें »

कबुई भाषा

कबुई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: nkf .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कबुई भाषा · और देखें »

कर्बी भाषा

कर्बी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: mjw .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कर्बी भाषा · और देखें »

कंचारी भाषा

कंचारी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: xac .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कंचारी भाषा · और देखें »

कुमाउँनी भाषा

कुमाऊनी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह नेपाल में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: kfy .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुमाउँनी भाषा · और देखें »

कुरुबा भाषा

कुरुबा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfi .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुरुबा भाषा · और देखें »

कुरुख भाषा

कुरुख भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: kru .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुरुख भाषा · और देखें »

कुर्रु भाषा

कुर्रु भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: yeu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुर्रु भाषा · और देखें »

कुलुई भाषा

कुलुई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfx .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुलुई भाषा · और देखें »

कुई भाषा

कुई भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: kxu .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुई भाषा · और देखें »

कुंडल शाही भाषा

कुंडल शाही भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह पाकिस्तान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कुंडल शाही भाषा · और देखें »

कूवि भाषा

कूवि भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kxv .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कूवि भाषा · और देखें »

कोटा भाषा

कोटा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfe .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोटा भाषा · और देखें »

कोडा भाषा

कीर भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: name.

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोडा भाषा · और देखें »

कोडागु भाषा

कोडागु भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfa .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोडागु भाषा · और देखें »

कोम भाषा

कोम भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kmm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोम भाषा · और देखें »

कोरागा भाषा

कोरागा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोरागा भाषा · और देखें »

कोरवा भाषा

कोरवा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: kfp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोरवा भाषा · और देखें »

कोलामि भाषा

कोलामि भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfb .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोलामि भाषा · और देखें »

कोंडा भाषा

कोंडा भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: kfc .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोंडा भाषा · और देखें »

कोइरेंग भाषा

कोइरेंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: nkd .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोइरेंग भाषा · और देखें »

कोकबोरक भाषा

कोकबोरक भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। यह बांग्लादेश में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: trp .

नई!!: भारत की भाषाएँ और कोकबोरक भाषा · और देखें »

अटोंग भाषा

अटोंग भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: aot .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अटोंग भाषा · और देखें »

अनल भाषा

अनल भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: anm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अनल भाषा · और देखें »

अनगामी भाषा

अनगामी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: njm .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अनगामी भाषा · और देखें »

अपटनी भाषा

अपटनी भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: apt .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अपटनी भाषा · और देखें »

असमिया भाषा

आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं की शृंखला में पूर्वी सीमा पर अवस्थित असम की भाषा को असमी, असमिया अथवा आसामी कहा जाता है। असमिया भारत के असम प्रांत की आधिकारिक भाषा तथा असम में बोली जाने वाली प्रमुख भाषा है। इसको बोलने वालों की संख्या डेढ़ करोड़ से अधिक है। भाषाई परिवार की दृष्टि से इसका संबंध आर्य भाषा परिवार से है और बांग्ला, मैथिली, उड़िया और नेपाली से इसका निकट का संबंध है। गियर्सन के वर्गीकरण की दृष्टि से यह बाहरी उपशाखा के पूर्वी समुदाय की भाषा है, पर सुनीतिकुमार चटर्जी के वर्गीकरण में प्राच्य समुदाय में इसका स्थान है। उड़िया तथा बंगला की भांति असमी की भी उत्पत्ति प्राकृत तथा अपभ्रंश से भी हुई है। यद्यपि असमिया भाषा की उत्पत्ति सत्रहवीं शताब्दी से मानी जाती है किंतु साहित्यिक अभिरुचियों का प्रदर्शन तेरहवीं शताब्दी में रुद्र कंदलि के द्रोण पर्व (महाभारत) तथा माधव कंदलि के रामायण से प्रारंभ हुआ। वैष्णवी आंदोलन ने प्रांतीय साहित्य को बल दिया। शंकर देव (१४४९-१५६८) ने अपनी लंबी जीवन-यात्रा में इस आंदोलन को स्वरचित काव्य, नाट्य व गीतों से जीवित रखा। सीमा की दृष्टि से असमिया क्षेत्र के पश्चिम में बंगला है। अन्य दिशाओं में कई विभिन्न परिवारों की भाषाएँ बोली जाती हैं। इनमें से तिब्बती, बर्मी तथा खासी प्रमुख हैं। इन सीमावर्ती भाषाओं का गहरा प्रभाव असमिया की मूल प्रकृति में देखा जा सकता है। अपने प्रदेश में भी असमिया एकमात्र बोली नहीं हैं। यह प्रमुखतः मैदानों की भाषा है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और असमिया भाषा · और देखें »

असुर भाषा

असुर भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: asr .

नई!!: भारत की भाषाएँ और असुर भाषा · और देखें »

अगिन भाषा

अगिन भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह भेद्य(खतरे से आशंकित) है। आईएसओ कोड: .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अगिन भाषा · और देखें »

अका भाषा

अका भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह निश्चित रूप से खतरे में है। यह सूडान में भी बोली जाती है। आईएसओ कोड: hru .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अका भाषा · और देखें »

अका-जेरु भाषा

अका-जेरु भाषा भारत की संकटग्रस्त भाषाओं में से एक है। यह अत्यधिक गंभीर रूप से खतरे में है। आईएसओ कोड: ak .

नई!!: भारत की भाषाएँ और अका-जेरु भाषा · और देखें »

उत्तराखण्ड की भाषाएँ

उत्तराखण्ड की भाषाएँ पहाड़ी भाषाओं की श्रेणी में आती हैं। उत्तराखण्ड में बोली जाने वाली भाषाओं को दो प्रमुख समूहों में विभाजित किया जा सकता है: कुमाऊँनी और गढ़वाली जो क्रमशः राज्य कुमाऊँ और गढ़वाल मण्डलों में बोली जातीं हैं। इन दोनों भाषाओं में संस्कृत के अनेकों शब्दों की उपलब्धता से इन्हे संस्कृत से विकसित समझा जाता है। जौनसारी और भोटिया दो अन्य बोलियाँ, जनजाति समुदायों द्वारा क्रमशः पश्चिम और उत्तर में बोली जाती हैं। लेकिन राज्य की सबसे प्रमुख भाषा हिन्दी है। यह राज्य की आधिकारिक और कामकाज की भाषा होने के साथ-साथ अन्तरसमूहों के मध्य संवाद की भाषा भी है। राज्य की दूसरी प्रमुख राजभाषा संस्कृत है। उत्तराखंड में संस्कृत को द्वितीय राजभाषा का दर्जा प्राप्त है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और उत्तराखण्ड की भाषाएँ · और देखें »

१२ (संख्या)

१२ ((उच्चारण: बारह) एक प्राकृतिक संख्या है। इससे पूर्व ११ और इसके पश्चात् १३ आता है अर्थात् ग्यारह ११ से एक अधिक होता है एवं १३ में से एक कम करने पर बारह प्राप्त होता है। इसे शब्दों में बारह से लिखा जाता है। छः और पुनः छः का योग बारह होता है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और १२ (संख्या) · और देखें »

३० अगस्त

30 अगस्त ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का 242वॉ (लीप वर्ष मे 243 वॉ) दिन है। साल मे अभी और 123 दिन बाकी है। .

नई!!: भारत की भाषाएँ और ३० अगस्त · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

भारत में आधिकारिक भाषाएं, भारत की भाषाए, भारत की भाषाये, भारत की भाषायेँ, भारतीय भाषा, भारतीय भाषाएँ

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »