लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

भारतीय साहित्य अकादमी

सूची भारतीय साहित्य अकादमी

भारत की साहित्य अकादमी भारतीय साहित्य के विकास के लिये सक्रिय कार्य करने वाली राष्ट्रीय संस्था है। इसका गठन १२ मार्च १९५४ को भारत सरकार द्वारा किया गया था। इसका उद्देश्य उच्च साहित्यिक मानदंड स्थापित करना, भारतीय भाषाओं और भारत में होनेवाली साहित्यिक गतिविधियों का पोषण और समन्वय करना है। .

2030 संबंधों: ऊणींदा वर्तमान, चतुर्वेदी बद्रीनाथ, चदुरंग, चन्दना गोस्वामी, चन्द्र प्रकाश देवल, चन्नवीर कणवी, चमन नाहल, चलत्-चित्रव्‍यूह, चलदूरवाणी, चलन्ति ठाकुर, चश्मदीठ गवाह, चानन घन गछिया, चायुव नारकालि, चार नगरातले माझे विश्‍व, चालीह–चोरासी, चांफेल्ली सांज, चिटिप्रोलु कृष्णमूर्ति, चित्रगळु पत्रगळु, चित्रकाव्य कौतुकम्, चिदंबर रहस्य, चिनु मोदी, चिन्तयामि मनसा, चिन्तानदी, चिनेह जोरिर गांथी, चिरंतनानंद स्वामी, चिंतामणि राव कोल्हटकर, चंदा बोन्‍गा, चंद्रनाथ मिश्र अमर, चंद्रप्रसाद सइकीया, चंद्रभानु सिंह, चंद्रशेखर रथ, चंद्रकांत टोपीवाला, चंद्रकांत टी. शेठ, चंद्रकांत केणी, चंपा शर्मा, चक्रवर्ति तिरुमगन, चुका भी हूँ नहीं मैं, चौथा आसमान, चौथी कूट, चौरंग, चूवन्न चिन्नङळ, चेत रे चिकायेना, चेतन स्वामी, चेतें दियाँ ग’लियां, चेतें दी चितकबरी, चेतें दी र्होल, चेम्मीन, चेरमान कादली, चेरुशेरी नम्बूतिरी, चेकुरी रामाराव, ..., चेक्ला पाइखरबंदा, चीख़, चीङलोन अमदगी अमदा, टांडाणा (अंधेरी रात में), टिम–टिम करदे तारे, टिक्कोडियन (पी. के. नायर), ट्राईंग टू से गुडबाइ, ट्रैपफ़ाल्स इन द स्काई, टोळा आवाज़ घोंघाट, टी. पद्मनाभन्, टी. जानकीरामन्, टी. वी. सरदेशमुख, टी. गोपीचंद, टी. आर. सुब्बाराव, टी.एम.सी. रघुनाथन्, टी.एस. शेजवलकर, टीका स्वयंवर, ए न्यू वर्ल्ड, ए हिस्ट्री ऑफ़ द्वैत स्कूल ऑफ़ वेदांत एंड इट्स लिटरेचर, ए. चित्रेश्वर शर्मा, ए. एन. मूर्तिराव, ए. माधवन, ए. मीनकेतन सिंह, ए. रहमान राही, ए. श्रीनिवासन राघवन्, ए. सेतुमाधवन (सेतु), ए. आर. देशपांडे अनिल, ए. आर. कृष्ण शास्त्री, ए.ए. अंसारी, ए.एस. ज्ञानसंबंदन, एच. तिप्पेरुद्रस्वामी, एच. सी. भायाणी, एच. गुनो सिंह, एच. आर. विश्वास, एच. आई. सदारंगाणी, एच.एस. शिवप्रकाश, एधानी माहीर हाँहि, एन आतश, एन आर्टिस्ट इन लाइफ़, एन. पी. मुहम्मद, एन. शिवदास, एन. जी. देशपांडे, एन. जी. कालेलकर, एन. ईबोबी सिंह, एन. वी. कृष्ण वारियर, एन. गोपी, एन. कुंजमोहन सिंह, एन. कृष्ण पिळ्ळै, एन. के. पंड्या उषनस, एम एम गुरुङ, एम एंड द बिग हूम, एम. एम. गुरुंग, एम. एस. अणे, एम. नबकिशोर सिंह, एम. पी. शङकुण्णि नायर, एम. फ़ारूक़ नाज़की, एम. मुकुंदन, एम. यू. मलकाणी, एम. रामलिंगम्, एम. लीलावती, एम. शिवराम, एम. सुकुमारन, एम. वी. वेंकटराम, एम. कमल, एम.टी. वासुदेवन् नायर, एम.एन्. पालूर, एम.पी. वीरेन्द्र कुमार, एम.के. सानू, एल. समरेन्द्र सिंह, एल.एस. शेषगिरि राव, एस. एन. पेंडसे, एस. एन. बनहट्टी, एस. एल. भैरप्प, एस. एस. भुसनूरमठ, एस. श्रीनिवास शर्मा, एस. सुजान सिंह, एस. वी. रंगण्णा, एस. वी. जोगाराव, एस. गुप्तन नायर, एस. गोपाल, एस. आर. एक्कुण्डि, एस. के. पोट्टेक्काट, एस. अब्दुल रहमान, एस.बी. जोशी, एस्थर डेविड, एस्से, एहो हमारा जीवणा, एई अनुरागी एई उदास, एक चादर मैली–सी, एक झाड आणि दोन पक्षी, एक दुनिया म्हारी, एका मुंगीचे महाभारत, एकान्तवास, एकूण कविता–1, झनां दी रात, झोंबी, ठाकुरघर, डांगोरा : एका नगरीचा, डिसऑर्डरली वुमेन, डॉ. पारसमणिको जीवनयात्रा, डॉ. केतकर, डॉम मोरेस, डॉ॰ नगेन्द्र, डोलाराय आर. मांकड, डी. एन. गोखले, डी. नवीन, डी. बालगंगाधर तिलक, डी. सेल्वराज, डी. वी. कृष्ण शास्त्री, डी. आर. नागराज, डी. के. सुखठणकर, ढलदी धुप्पै दा सेक, ढाई घर, ढोलण राही, तट्टकम, तणकट, तत्त्वमसि (गुजराती उपन्यास), तत्ती तवी दा सच्च, तत्खवा पुन्सी–लैपुल, तदेव गगनं सैवधरा, तन मार्गम्, तनक़ीदी अफ़कार, तन्मय धूलि, तपस्वी ओ तरंगिणी, तमिरम् तो समरम्, तमिल इंबम, तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी, तलेदंड, तसव्‍वुफ और भक्ति (तनकीदी और तकाबुली मुतलीया), तहक़ीक़ एन तनक़ीद, ताप के ताये हुए दिन, तामरतोनि, ताम्रपट, तारतम्य, तारा मीरचंदाणी, तारा सिंह कामिल, तारा स्मैलपुरी, ताराशंकर बंद्योपाध्याय, तारीख़–ए–अदब–ए–उर्दू, ताल बेताल, तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि, तिरुक्कुरल नीधि इलक्कियम्, तिरेञ्जेडूंत प्रबंधगळ, तिस्ता पारेर वृत्तांत, तज़किरा–इ–मुआसिरीन, तव स्पर्शे स्पर्शे, तंत्रनाथ झा, तंरगां, तक तोर, तुम्मल सीताराममूर्ति, तुलसी बहादुर क्षेत्री अपतन, तुलसी राम शर्मा कश्यप, तुकाराम दर्शन, तुकाराम रामा शेट, त्रिपुरसुंदरी लक्ष्मी, त्रिप–त्रिप चेते, त्रिवेणी, त्रैलोक्यनाथ गोस्वामी, तौशाली दी हंसो, तृकोट्टूर नोवल्लकळ, तेमसुला आओ, तेरु, तेरेद बागिलु, तोप्पिल मोहम्मद मीरान, तोल, तीर्थ यात्रा, तीर्थ वसंत, तीर्थनाथ शर्मा, थरोशंबी, थापि धर्मराव, थाङ्जम इबोपिशक सिंह, थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम, द ट्राइबल वर्ल्ड ऑफ़ वेरियर एल्विन, द ट्रॉटरनामा, द एलज़ेब्रा ऑफ़ इनफिनिट जस्टिस, द पेरिशैबल एंपायर : एस्सेज़ ऑन इंडियन राइटिंग इन इंगलिश, द महाभारत : एन इंक्वायरी इन ह्यूमन कंडिशन, द मैमरीज़ ऑफ़ द वेलफेयर स्टेट, द लास्ट लेबिरिंथ, द शैडो लाइन्स, द सर्पेण्ट एंड द रोप, द साड़ी शॉप, द गोल्डन गेट, द कलेक्टेड पोएम्स ऑफ़.ए.के. रामानुजन, द कीपर ऑफ़ द डेड, दत्ता दामोदर नायक, दत्तात्रेय रामचंद्र बेन्द्रे, दमयंती बेश्रा, दर्शन दर्शी, दर्शन परिषद, दर्शन बुट्टर, दर्शन अने चिंतन, दशपदी, दाटु, दाशरथि, दाइनि?, दिनेश पंचाल, दिलीप बोरकार, दिव्येन्दु पालित, दिका, दु पत्र, दुमफावनि फिथा, दुर्गा भागवत, दुर्गास्तमान, द्यावा पृथ्वी, द्रोह, द्वा सुपर्णा, द्वैपायन ह्रदेर धारे, दैट लांग साइलेन्स, दैवत्तिण्टे विकृतिकळ, दैवत्तिण्टे कण्णु, देलफिनि अन्‍थाह मोदाइ आरो गुबुन गुबुन खन्‍थाह, देशबंधु डोगरा नूतन, देवनूर महादेव, देविदास रा. कदम, देवुडु नरसिंह शास्त्री, देवेन्द्रनाथ आचार्य, देवेश राय, देवोनी घाटी, देओ लाङ्खुइ, दो चट्टानें, दो पंक्तियों के बीच, दो गज़ ज़मीन, दोर्या गाज़ोता, दोहा सतसई, दीनानाथ नादिम, दीनू भाई पंत, दीज़ एरर्स आर करेक्ट, धरमजुद्ध, धर्ती–अ–जो–साद, धर्मशास्त्र का इतिहास (पुस्तक), धु्रव प्रबोधराय भट्ट, ध्रुव ज्योति बोरा, ध्रुवपुत्र, ध्वस्त होइत शांति स्तूप, ध्‍यान सिंह, धूँधभरी खींण, धूलमणि पगलियो, धीरूबेन पटेल, धीरेन्द्र महेता, न हन्यते, न छ़ाय न अक्स, नट सम्राट, नए इलाक़े में, नन्‍द हाङखिम, नय छे नालान, नया क्षितिजको खोज, नरसिंह देव जम्वाल, नरहर रघुनाथ फाटक, नरेन्द्र खजूरिया, नरेन्द्रपाल सिंह, नरेश गुहा, नसीम शफाई, ना धुप्पे ना छावें, ना. पार्थसारथी, नाटक त्रुचे, नाट्य गठरियाँ, नाट्यशास्त्रमु, नाट्याचार्य देवल, नातीक पत्रक उत्तर, नाबोङखाउ, नामदेव ताराचंदाणी, नामदेव धोंडो महानोर, नामदेव कांबळे, नारहैत्युन कज़ल वनस, नारायण श्याम, नारायण सिंह भाटी, नाज़ी मुनव्वर, नागार्जुन, नागेश करमली, नांजिल नाडन, नाओरेम विद्यासागर सिंह, नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह, नि:शब्द, नित्यांनद महापात्र, निदा फ़ाज़ली, नियति, निराला की साहित्य साधना, निरवाण, निरंजन सिंह तसनीम, निरुपमा बरगोहाइँ, निर्झरिणी, निर्मल वर्मा, निर्मलाप्रभा बारदोलोइ, निशि–कुटुंब, निष़लान, निसंस्मरण, निघे रंग, निङोम्बम सुनिता, नज़र और नज़रिया, नई आरपारि, नवनीता, नवनीता देव सेन, नवाए–आवारा, नवारुण भट्टाचार्य, नवें युग दे वारिस, नवें लोक, नगेन सइकीया, नगेन्द्रमणि प्रधान, नगीनदास पारीख, नंद भारद्वाज, नंगबु ङाइबदा, नंगा रुख, नक्षत्रांचे देणे, नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि, नौरोज़–ए–सबा, नृसिंह राजपुरोहित, नैनमल जैन, नैका बनिजारा, नूंगशिबी ग्रीस, नेपाली उपन्यास का आधारहरू, नेमनारायण जोशी, नॉथोम्बम बीरेन सिंह, नोडदी तरक–खिदरे, नीरद चंद्र चौधरी, नीरजा रेणु (कामाख्या देवी), नीरेन्द्रनाथ चक्रवर्ती, नील पद्मनाभन, नील शैल, नीलमणि फूकन (वरिष्ठ), नीलमणि फूकन (कनिष्ठ), नीला चाँद, नीला अंबर काले बादल, नीलाभ अश्क, नीलवीर शर्मा शास्त्री, नीलकंठ दास, नीळें नीळें ब्र्रह्म, नीहाररंजन राय, पठानी पट्टनायक, पणजी आतम म्हातारी जाल्या, पत्थर फेंक रहा हूँ, पद्मावत : संजीवनी व्याख्या, पब्बी, पयस्विनी, पय्यनकथकळ, परतविस्तान, परम ए. अबीचंदाणी, परशुराम (राजशेखर बोस), परिन्दों भरा आसमान, परछामें दी लोऽ, पर्यवेक्षण, परीघ, पल पल जो परलाओ, पसिझैत पाथर, पाचा मेहताई, पाटदेई, पाटकाईर ईपारे मोर देश, पाणिनीय प्रद्योतम्, पाताल भैरवी (असमिया उपन्यास), पानझड, पारसी खातिर, पागल लोक, पागली तोमार संगे, पागी, पांडुरंग राजाराम शनै मांगी, पांडुरंग वामन काणे, पांगल शोनबी ऐशे, पिचिरान्दयार, पिता–पुत्र (असमिया उपन्यास), पिया मन भाबे, पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा, पिछले मौसम का फूल, पखेरू, पगफेरो, पगरवा, पंचाशटि गल्प, पंडित परमेश्वर शास्त्री वीलुनामा, पंढरीनाथाचार्य गलगली, पंदरां क्हानियां, पक्खी, पु. ति. नरसिम्हाचार, पुदिय दरिशनंगळ, पुदिय उरइ नडइ, पुदुकवितयिन तोट्ट्रमुम् वलर्चियुम, पुनत्तिल कुंञ्जब्दुल्ला, पुन्सीगी मरुद्यान, पुन–ते–पाप, पुरसां, पुरवी बरमुदै, पुरुषोत्तमुडु, पुलां तों पार, पुष्पलाल उपाध्याय, पुवियरसु, पुंडलीक नारायण नायक, प्यार जी प्यास, प्रतानिनी, प्रतिपात्रम भाषणभेदम्, प्रतिभा शतपथी, प्रतिज्ञा पांडव, प्रद्युम्न सिंह जिन्द्राहिया, प्रदीप बिहारी, प्रपंचन, प्रफुल्ल राय, प्रफुल्ल कुमार मोहांती, प्रभास कुमार चौधुरी, प्रभासक कथा, प्रभाकर पाध्ये, प्रभाकर वामन ऊर्ध्वेरेषे, प्रभजोत कौर, प्रमोद कुमार मोहांती, प्रल्लयगी मेरि रक्तगी, प्रशस्यमित्र शास्त्री, प्रियकांत मणियार, प्रकाश दामोदर पाडगाँवकर, प्रकाश प्रेमी, प्रकृतिचो पास, प्रेम प्रधान, प्रेम प्रकाश, प्रेमचंद : क़लम का सिपाही, प्रेमानंद मोसाहारी, प्रेमजी प्रेम, प्रेमेन्द्र मित्र, प्रीतम सिंह सफ़ीर, पृथ्वीवीर असुख, पैस, पूमणि, पूर्णमिदम्, पूर्णिमा वर्मन, पेद्दीबोटला सुब्बरामय्या कथाळु, पॉल ज़करिया, पोणांगी श्रीराम अप्पारावु, पोन्नीलन (कंदेश्वर भक्तवत्सलम्), पोपटी आर. हीरानंदाणी, पी. नारायणाचार्य, पी. पद्मराजु, पी. बी. पंडित, पी. लंकेश, पी. श्रीरामचंद्रुडु, पी. श्रीआचार्य, पी. सुब्बरामय्या, पी. सी. कुट्टिकृष्णन उरूब, पी. वाई. देशपाण्डे, पी. कुण्हिरमन नायर, पी. के. नारायण पिळ्ळै, पी. केशवदेव, पी.सी. देवसिया, पीसोलिम, फटफटियुं, फनि मोहांती, फ़ायर एरिया, फ़ायर ऑन द माउंटेन, फ़ाजिल कश्मीरी (ग़ुलाम अहमद फ़ाजिल), फ़ाइनल सॉल्यूशन्स एंड अदर प्लेज़, फ़िराक़ गोरखपुरी, फिनिक्सच्या राखेतून उठला मोर, फुल्ल बिना डाली, बच्चूलाल अवस्थी, बदनामी दी छां, बदुकु, बद्दली कलावे, बने आज कनचेर्टो, बबुआजी झा अज्ञात, बरसण रा देगोडा डूंगर लाँघिया, बर्फ जो ठहेयलु, बर’ खन्थाय, बलराज कोमल, बलिवड कांता राव, बलिवड कांता राव कतलु, बलवंत गार्गी, बशीर : एकांत वीधिपिले अवधूतन, बशीर भद्रवाही, बहुरूपी, बा मुलाहज़ा होशिआर, बाँका ओर सीधा, बाणी बसु, बातां री फुलवारी, बादल हेम्ब्रम, बादे सबा का इंतिज़ार, बानप्रस्‍थ, बाबरेर प्रार्थना, बायदि देंखो बायदि गाब, बारोमास, बालनथ्रापु रजनीकांत राव, बालिदर्शनम्, बालकृष्ण भौरा, बाहि जा वारिस, बाज़याफ़त, बाज़गोयी, बाजि उठल मुरली, बाघे टापुर राति, बाउल फकिर कथा, बिचित्रवर्णा, बिद्यासागर नार्जारी, बिनय मजूमदार, बिन्दु भट्ट, बिन्द्या सुब्बा, बिपन्न समय, बिपुल दिगन्‍त, बिमल कर, बिरगोस्रिनि थुंग्रि, बिरंचिकुमार बरुआ, बिसिरयाको संस्कृति, बखरे–बखरे सच्च, बंचाओ लरहाई, बंडाय, बंधु शर्मा, बंगाली कादंबरीकार बंकिमचंद्र, बकुल बनर कविता, बकुलद हूवुगळु, बुड्ढ सुहागन, बुद्ध धर्म–दर्शन, बुद्धविजय काव्यम्, बुनी हुई रस्सी, बुलुस वेंकटेश्वरुलु, बुक ऑफ़ रैचल, ब्रह्मपुत्रप इत्यादि पद्य, ब्रह्मपुत्रका छेउ–छाउ, ब्रजकिशोर वर्मा मणिपद्म, ब्रजेन्‍द्र कुमार ब्रह्म, बृहत–पिंगल, बैकुंठनाथ पटनायक, बेदनार उल्का, बेद्दन धरती दी, बेनुधर शर्मा, बेसोख रूह, बोल भारमली, बी. एम. माइस्नाम्बा, बी. एस. मर्ढेकर, बी. एस. रमय्या, बी. पुट्टस्वामय्या, बी. सी. रामचंद्र शर्मा, बी. जी. एल. स्वामी, बी.एन. कृष्णमूर्ति शर्मा, बीरासन, बीरेश्वर बरुआ, बीसौं शताब्दीकी मोनालिसा, भट्ट मथुरानाथ शास्त्री, भरत ओळा, भानुजी राव, भाबना, भारत भूषण अग्रवाल, भारतभूषण अग्रवाल, भारतायनम्, भारतेर शक्ति–साधना ओ शाक्त–साहित्य, भारती : कालमुम करुत्तुम, भारतीदासन, भारतीय तत्त्वशास्त्रमु, भारतीय प्रेस परिषद्, भारतीय साहित्य शास्त्र, भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता, भार्गवीयम्, भाषा : इतिहास आणि भूगोल, भाषा सम्मान पुरस्कार, भाषा साहित्य चरित्रम्, भास्कराचार्य त्रिपाठी, भांगरसाळ, भितोरमें तूफान, भिजकी वही, भवानी भट्टाचार्य, भवेन बरुआ, भवेन्द्रनाथ सइकीया, भगत, भगवती चरण वर्मा, भगवती कुमार शर्मा, भगवतीलाल व्यास, भुयंचाफीं, भुवनद भाग्य, भूत अमसुङमाखुम, भूले बिसरे चित्र, भोलाभाई पटेल, भोज श्रृंगार प्रकाश, भोगदंड, भोगला सोरेन, भीम दाहाल, भीमनाथ झा, भीष्म साहनी, भीष्मचरितम्, म. पो. शिवज्ञानम, मचामा, मँहगी मुर्क, मणि मधुकर, मणिप्रसाद राइ, मणिप्रवाळमु, मणिमहेश, मणिक्कोडि कालम, मति नंदी, मतिम्मुरैक्ल पेट्टिकळ, मत्स्येन्द्र प्रधान, मथओ कनवा डि एन ए, मधु आचार्य आशावादी, मधुपुर–बहुदूर, मधुरम् निन्टे जीवितम्, मधुरांतकम राजाराम, मधुरांतकम् राजाराम कथळु, मधुरेश, मधुकर वासुदेव धोंड, मध्य एशिया का इतिहास, मन मंथन, मनप्रसाद सुब्बा, मनबहादुर प्रधान, मनमोतयां, मनमोहन, मनमोहन झा, मना नवलाललु - मना कथानिकलु, मनका लहर र रहरहरू, मनुश्‍यानु ओरु आमुखम, मनोरंजन दास, मनोरंजन लाहारी, मनोहर सरदेसाई, मनोज (डोगरी साहित्यकार), मनोज बसु, मनोजदासक कथा ओ काहिनी, मनींद्र गुप्ता, मपाल नाइदबसिदा ऐ, मब्बीन हागे कनीवेयासी, ममांग लीकाई थंबाल शातले, ममाङ्थोङ् लोल्लबदि मीनथोङ्दा लाक्उदना, मयाई कारबा शामु, मरन्नुवेचावास्तुक्कळ, मरमी करात, मरियम आस्टिन अथबा हीरा बरुआ, मरग़ूब बानिहाली, मरु–मंगल, मर्ढेकरांची कविता : स्वरूप आणि संदर्भ, मलय रॉय चौधुरी, महत ऐहिह्य, महर्षी विट्ठल रामजी शिंदे : जीवन व कार्य, महा कंबनी, महात्मा विदुर, महात्मा कथा, महात्मार परा रुपकोनारलोइ, महादेव भाईनी डायरी, महादेवी वर्मा, महादेवी वर्मा का जीवन परिचय, महापात्र नीलमणि साहू, महाबलेश्वर सैल, महाभारत (राजगोपालाचारी), महारथी, महावीर प्रसाद जोशी, महाक्षत्रिय, महिन्दर सिंह सरना, महिमा बरा, महिषासुर मुहन, महजूद शिनासी, महेश दत्तानी, माटी री महक, माणिक सीताराम गोघाटे ग्रेस, मात लोक, माधव बोरकर, मानमि, मानसर, मानव जमीन, मानुह अनुकूले, मानी पुनव, मामरे धरा तरोवाल अरु दुखन उपन्यास, माया राही, मायानंद मिश्र, मार्ताण्ड वर्मा (उपन्यास), मार्निंग फ़ेस, मार्ग–4, मार्कण्डेय प्रवासी, मालती चंदूर, मालती राव, माला मुदम, मालिक राम, माखनलाल कंवल, माखोनमनि मोङसाबा, मिट्टी की बारात, मिटीअ खां मिट्टीअ तार्इं, मित्तर पिआर, मित्र सैन मीत, मिथिला प्रसाद त्रिपाठी, मिथिला वैभव, मिन्सारप्पू, मिर्जा जी. एच. बेग आरिफ़, मिलजुल मन, मिश्रमंजरी, मिशॉल सुल्तानपुरी, मख़मूर सईदी, मगही, मंचलेखा, मंतलु मानवुडु, मंत्रपुत्र, मंत्रेश्वर झा, मंथन, मंदाक्रांता सेन, मंश-नगरी, मंगत बादल, मंगलसिं हाजवारि, मंगलेश डबराल, मंगेश के. पाडगाँवकर, मंगी इसेई, मआल और मशीअत, मआसिर तनक़ीदी रवय्ये, मक़ालात, मु. मेहता, मु. वरदराजन, मुझे चाँद चाहिए, मुतश्शी, मुदलिल इरवु वरुम, मुनिपल्ले राजू, मुनव्वर राना, मुहम्मद यूसुफ़ टैंग, मुहीजी हयाती–आ–जा सोना रोपा वर्क, मुक्तिबोध (उपन्यास), म्हारो गाँव, म्हारी कवितावां, मौन होंठ मुखर हृदय, मौलो, मृदुला गर्ग, मृगतृष्णा, मृगया, मैत्रेयी देवी, मैथिली पत्रकारिता का इतिहास, मैथिली भाषा, मैं मेले रा जानू, मैं वक़्त के हूँ सामने, मून दी अख, मूलचंद प्राणेश, मे ममगेरा बुद्धि ममगेरा, मेदिनी शर्मा, मेमोरीज़ ऑफ़ रेन, मेरा साइया जिओ, मेरे डोगरी गीत, मेरो सिज, मेरी तेरी उसकी बात, मेरी हदीस–ए–उम्र–ए–गुरेज़ाँ, मेरी कविता मेरे गीत, मेलणमई पोन्नुसामी, मेल्विन रोड्रीगस, मेवै रा रूंख, मो जीबन संग्राम, मो काहाणी, मो. ज़मान आज़ुर्दा, मोती प्रकाश, मोतीलाल केमु, मोर जे किमान हेपाह, मोहन दास, मोहन परमार, मोहन गेहाणी, मोहन आलोक, मोहन कल्पना, मोहनलाल सपोलिया, मोहना! ओ मोहना!, मोहम्मद इदरीस अंबर बहराइची, मोहम्मद अल्वी, मोहिउद्दीन हाजिनी, मोहिउद्दीन गौहर, मोही-उद-दीन रेशी, मोइराङ्थेम बरकन्या, मीनाक्षी मुखर्जी, मीर ग़ुलाम रसूल नाज़की, मीरां, मील पत्थर, यथ मिआनी जोए, यथ राज़दाने, यथ आंग्नस मंज़, यश शर्मा, यशवंत चित्ताल, यशोधर झा, याद हिक प्यार जी, याद आसमानां हिन्ज़, यादवेन्द्र शर्मा चंद्र, यार्लगड्डा लक्ष्मी प्रसाद, यज्ञम तो तोम्मिदी, यक्षगान बायलाट, युसूफ़ हुसैन ख़ाँ, युगसंध्या, यू.ए. खादर, यूमलेम्बम इबोमचा सिंह, यूसुफ़ शेख, येली फ़ोल गाश, येसे दरजे थोंगछी, रचना अने संरचना, रणजीत देसाई, रतन लाल शांत, रतिलाल अनिल, रथचक्र, रफ़ीक़ राज़, रबिलाल टुडू, रमणलाल जोशी, रमा मेहता, रमानंद रेणु, रमेश पारीख, रमेश भगवंत वेळुस्कर, रमेशचन्‍द्र शाह, रशीद नाज़की, रशीद अहमद सिद्दीक़ी, रस सिद्धांत (विवेचना), रसप्रिया–विभावनम्, रसिक बिहारी जोशी, रसिक शाह, रसिकलाल सी. पारीख, रहमत तरिकेरे, राचपालेम चन्‍द्रशेखर रेड्डी, राचमल्लु रामचंद्र रेड्डी, रातु दा चानन, रात्रिमष़, राधा विरह, राधामोहन गडनायक, राधारमण मित्र, राधावल्लभ त्रिपाठी, राधाकान्‍त ठाकुर, राम पंजवाणी, राम प्रसाद 'बिस्मिल', रामचंद्र चिन्तामण ढेरे, रामचंद्र नारायण दांडेकर, रामचंद्र बेहेरा, रामचंद्र मुर्मू, रामचंद्र गिरि, रामदेव झा, रामधारी सिंह 'दिनकर', रामनारायण पाठक, रामपाल सिंह राजपुरोहित, रामरूप पाठक, रामलाल, रामलाल शर्मा, रामलाल अधिकारी, रामशंकर अवस्‍थी, रामायण (राजगोपालाचारी), रामजी ठाकुर, रामविलास शर्मा, रामवृक्ष बेनीपुरी, रामकरण मिश्र, रामेश्वर दयाल श्रीमाली, रास्ता और मैं, राही रांवाक् काना, राजन गवस, राजनगर, राजम कृष्णन्, राजमोहन झा, राजमोहन गाँधी, राजस्थानी के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेताओं की सूची, राजा जी : ए लाइफ़, राजकुमार भुवनस्ना, राजकुमार मणि सिंह, राजेन्द्र शुक्ल, राजेन्द्र के. पंडा, राजेश्वर झा, राघववेळ, राघवेन्द्र पाटील, रावूरि भारद्वाज, रागदरबारी, रिच लाइक अस, रिलेशनशिप, रिश्तन जी सियासत, रिजवान ज़हीर उस्मान, रिख:, रघु लैशाङथेम, रवि पटनायक, रवीन्द्र केलकर, रंगनाथ पठारे, रंगबिन्नप, रुजुवात, रूपा बाजवा, रेत पर खेमा, रेहन पर रग्घू, रेवतदान चारण कल्पित, रेवाप्रसाद द्विवेदी, लद्युपद्यप्रबन्धत्रयी, लबरनम फ़ॉर माइ हेड, लमबम वीरमणि सिंह, ललित नारायण मिश्र, ललित मगोत्रा, ललित कला अकादमी, ललितांबिका अंतर्जनम्, लसल्लतिका, लहू के फूल, ला. स. रामामृतम्, लाभशंकर ठाकर, लाल पुष्प, लालसा, लांथेङ्नरिब लान्मी, लाइतोंजम प्रेमचाँद सिंह, लिलेरो ढल, लिली रे, लवह ते प्रवाह, लखमी खिलाणी, लक्ष्मण दुबे, लक्ष्मण भाटिया कोमल, लक्ष्मण माने, लक्ष्मण शास्त्री जोशी, लक्ष्मण श्रीमल, लक्ष्मणराव सरदेसाई, लक्ष्मीनाथ फूकन, लक्ष्मीनारायण रंगा, लक्खीदेवी सुंदास, लौक्ङला, लैटर–डे साम्स, लैइ खरा पुंसि खरा, लूणा, लेपाकले, लेखराज किशनचंद अज़ीज़, लोली वेतसर, लोग भूल गए हैं, लीलटांस, लीलाधर जगूड़ी, शफ़ी शौक़, शफ़ी शैदा, शब्दतरंगिणी, शब्दर आकाश, शब्दांत, शमशेर बहादुर सिंह, शमीम तारिक, शरत कुमार मोहांती, शरतचंद थियम, शरतचंद्र शेणै, शरद क्षेत्री, शर्विलक, शशांक सीताराम, शशिभूषण दासगुप्ता, शहर ते ग्रां, शाद रमज़ान, शान्तनुकुलनन्दन, शान्ति संदेह, शान्तिनाथ कुबेरप्पा देसाई, शामला सदाशिव, शाय साहेंद, शाह जो रिसालो मुजामिल, शाहदाबा, शाहजादा दाराशुकोह, शांत कोलाहल, शांतनु कुमार आचार्य, शांति भारद्वाज राकेश, शांतिभिक्षु शास्त्री, शांब, शिरीष जे. पंचाल, शिल नेरंगळिल शिल मणितर्कळ, शिहिल कुल, शिव कुमार बटालवी, शिव कुमार राई, शिव के. कुमार, शिवदेव सिंह सुशील, शिवराम दीप, शिवकुमार राई, शिकस्ता बुतों के दरमियाँ, शंकर मोकाशी पुणेकर, शंकर रामानी, शंकरीप्रसाद बसु, शइचर पथार मानुह, शक्ति चट्टोपाध्याय, शक्ति वैदियम, श्याम मनोहर, श्याम जयसिंघाणी, श्यामदेव पाराशर, श्यामल गंगोपाध्याय, श्रृंखल, श्रेष्ठ कविता, श्री राधाचरित महाकाव्यम्, श्री रामानुजर, श्री शिव छत्रपति, श्री शंबुलिंगेश्वर विजयचंपू, श्री श्री, श्री श्री साहित्यमु, श्री विट्ठल : एक महासमन्वय, श्री गुरुगोविन्दसिंहचरितम्, श्रीचंद्रशेखरेन्द्रसरस्वतीविजयम्, श्रीनाथ एस. हसूरकर, श्रीनिवास बी. वैद्य, श्रीनिवास रथ, श्रीमत्प्रतापराणायनं महाकाव्यम्, श्रीमद्भगवद्गीता तात्पर्य अथवा जीवन धर्मयोग, श्रीराधापंचशती, श्रीरामायण दर्शनम्, श्रीरामंटे कथाकळ, श्रीरामकृष्णानि जीवित चरित्र, श्रीलाल शुक्ल, श्रीशिवपराज्योदयम्, श्रीवत्स विकल, श्रीकृष्ण चंद्रोदयमु, शैडो फ्रॉम लद्दाख़, शैल कल्प, शैलेन्‍द्र सिंह, शून्यसंपादनेय परामर्शे, शेफालिका वर्मा, शेष नमस्कार, शोनो जवाफुल, शीन ते वतपोद, शीन काफ़ निज़ाम, शीर्षेन्दु मुखोपाध्याय, शीलभद्र (राबती मोहन दत्त चौधुरी), शीला कोळम्बकार, शीशे–जा घर, सण्ण कथेगलु, सत्तांतर, सत्यनारायण राजगुरु, सत्यप्रकाश जोशी, सत्‍ता ग्रहण, सतीश रोहरा, सतीश काळसेकर, सदा ति समन्दर, सदानंद नामदेवराव देशमुख, सदानंद श्रीधर मोरे, सन्दीपन चट्टोपाध्याय, सपनफलां, सप्तम ऋतु, सबुठारु दीर्घराति, समयका प्रतिविम्‍बहरू, समरेन्द्र सेनगुप्त, समरेश बसु कालकूट, समरेश मजूमदार, समाज दर्पण, समकालीन भारतीय साहित्य (पत्रिका), समुदाय वीधि, समुद्र स्नान, समीरण क्षेत्री प्रियदर्शी, सरोकार, सलाम, सलाम बिन रज़ाक, सलाहुद्दीन परवेज़, ससया, सहसमुखी चौक पर, सा. कंदासामी, सात पगलां आकाशमां, सादा खाम, सानमोखांआरि लामाजों, सानु लामा, सामाक पौती, सारा जोसेफ़, साहित्य कथन, साहित्य के कुछ अन्तर्विषयक संदर्भ, साहित्य अकादमी पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार डोगरी, साहित्य अकादमी पुरस्कार तमिल, साहित्य अकादमी पुरस्कार तेलुगू, साहित्य अकादमी पुरस्कार नेपाली, साहित्य अकादमी पुरस्कार पंजाबी, साहित्य अकादमी पुरस्कार बंगाली, साहित्य अकादमी पुरस्कार बोड़ो, साहित्य अकादमी पुरस्कार मणिपुरी, साहित्य अकादमी पुरस्कार मराठी, साहित्य अकादमी पुरस्कार मलयालम, साहित्य अकादमी पुरस्कार मैथिली, साहित्य अकादमी पुरस्कार सिन्धी, साहित्य अकादमी पुरस्कार संथाली, साहित्य अकादमी पुरस्कार संस्कृत, साहित्य अकादमी पुरस्कार हिन्दी, साहित्य अकादमी पुरस्कार गुजराती, साहित्य अकादमी पुरस्कार ओड़िया, साहित्य अकादमी पुरस्कार कन्नड़, साहित्य अकादमी पुरस्कार कश्मीरी, साहित्य अकादमी पुरस्कार कोंकणी, साहित्य अकादमी पुरस्कार असमिया, साहित्य अकादमी पुरस्कार अंग्रेज़ी, साहित्य अकादमी पुरस्कार उर्दू, साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप, साहित्‍यआकाशमलो सगम, सावुलगोरी, साख्तियात पस–साख्तियात और मशरीक़ी शेरियात, सागर थेके फेरा, सागोलसेम लनचेनबा मीतै, सांझी धरती बखले मानु, सांम्ही खुलतौ मारग, सांवर दइया, साइरस मिस्‍त्री, साक्रेटीज़, साक्षीभास्य, साकेतानंद (एस.एन. सिंह), सिन्धु कन्या, सिन्धी नस्र जी तारीख़, सिमरण, सिरिसंपिगे, सिर्पी बालसुब्रह्मण्यम्, सिजा अज्ञान बुकु, सजूद सैलानी, सगलोरी पीडा स्वातमेघ, संतसिंह सेखों, संतोष मायामोहन, संतोष कुमार घोष, संतोख सिंह, संतोख सिंह धीर, संदीपन चट्टोपाध्याय, संधानम्, संप्रति, संशयात्मा, संस्कृति के चार अध्याय, संघर्ष आ सेहन्‍ता, संगीत नाटक अकादमी, सु. समुत्तिरम्, सु. वेंकटेशन, सुतिन्दर सिंह नूर, सुतंतिर दाकम, सुदीर्घ दिन अरु ऋतु, सुधार घर, सुधांशु शेखर चौधुरी, सुधीर चक्रवर्ती, सुधीर नाउरेइबम, सुन्‍दर नैण सुधा, सुनेत्रा गुप्त, सुनेत्रा गुप्ता, सुनीति कुमार चटर्जी, सुबिमल बसाक, सुब्रत मुखोपाध्याय, सुबोध सरकार, सुभद्र झा, सुभद्रा सेन गुप्‍ता, सुभाष चन्‍द्रन, सुमन शाह, सुमरन, सुमित्रानन्दन पन्त, सुमेर सिंह शेखावत, सुय्या, सुराही, सुरिन्दर प्रकाश, सुरवरम् प्रताप रेड्डी, सुरेन्द्र झा सुमन, सुरेन्द्र वर्मा, सुरेश दलाल, सुरेश जोशी, सुरेश्‍वर झा, सुजना (एस. नारायण शेट्टी), सुख संहिता, सुखपाल वीर सिंह हसरत, सुगत कुमारी, सुंदरम (त्रिभुवन दास पी. लुहार), सुंदरिकालुम सुंदरनमारुम, सुंदरी ए. उत्तमचंदाणी, सुकुमार अष़ीक्कोड, स्टेच्यू, स्नेह देवी, स्नेहदेवीर एकुकि गल्प, स्पंदमापिनिकले नंदि, स्मरणगाथा, स्मारक सिलाकल, स्मृति सत्ता भविष्यत्, स्मृति किणांकम, स्वप्न लिपि, स्वप्न सारस्वत, स्वयं प्रकाश, स्वर लयालु, स्वर्णकमलालु, स्वातंत्र्यसंभवम्, स्कॉलर एक्स्ट्राऑर्डिनरी, सौन्दर्य मीमांसा, सौन्दर्य आणि साहित्य, सौन्दर्यनी नदी नर्मदा, सौन्दर्यानुभाव, सौभाग्य सिंह शेखावत, सौभाग्यकुमार मिश्र, सौरभ कुमार चालिहा, सौरीन भट्टाचार्य, सृजन जो संकट ऐं सिन्धी कहाणी, सैयद मसूद हसन रिज़वी, सैयद मुस्तफ़ा सिराज, सैयद मुहम्मद अशरफ़, सैयद रसूल पोम्पुर, सैयद सलीम, सूडिय पू सूडर्क, सूनाखारी, सूरज ते कहकशां, सूर्य ओ अंधकार, सूर्यनारायण दास, सूर्यस्नात, सूखी टहनी पर हरियल, से सभ सांध्यम साह सें, सेरेंडिप, सेई समय, सोच जूं सूरतूं, सोदोबनि सोलेर, सोध समुंदरें दी, सोनाली जहाज, सोमनाथ जुत्शी, सोमु (मी. पा. सोमसुंदरम), सोहणसिंह शीतल, सोहनसिंह मीशा, सोंशयाचे कान, सी राधाकृष्णन, सी. टी. खानोलकर (आरती प्रभु), सी. एस. चेल्लप्पा, सी. राधाकृष्णन्, सी. सी. मेहता, सी. वी. श्रीरामन, सी. गोविन्द पिशारिटि चेरुकाट, सी.एन. रामचन्‍द्रन, सीता जोस्यम, सीतायन, सीताराम सपोलिया, सीतांशु यशश्चंद्र, सीर रो घर, सी॰ नारायण रेड्डी, हठयोगी, हन्व मोनिस अश्वत्थामो, हनेरे विच सुलगदी वरणमाला, हम जो देखते हैं, हमीदी कश्मीरी, हयातुल्लाह अंसारी, हयाती, हरचरण सिंह, हरप्रसाद दास, हरबर्ट, हरभजन सिंह हलवारवी, हरि दरयाणी दिलगीर, हरि मोटवाणी, हरिदत्त शर्मा, हरिनारायण दीक्षित, हरिन्दर सिंह महबूब, हरिमोहन झा, हरिकान्त जेठवाणी, हरिकृष्ण कौल, हरवलेले दिवस, हर्षचरित–मंजरी, हर्षदेव माधव, हरेकृष्ण डेका, हरेकृष्ण शतपथी, हरीन्द्र दवे, हरीश वासवाणी, हळ्ळा बन्तु हळ्ळा, हसुरू होन्नु, हा. मा. नायक, हाफिज़ और इक़बाल, हायमन दास राई किरात, हाशिये पर, हासपाताले लेखा कवितागुच्छ, हास्यरसर नाटक, हि नङबू होन्देदा, हिपोक्रिट चाँप–गुराँस र अन्य कविता, हिमतरंगिनी, हिमालयांत, हिमांशी शेलत, हिंदी प्रकाशक सूची, हवा में हस्ताक्षर, हंस दमयंति मत्तु इतर रूपकगळु, हुनजे आतम जो मौत, हृदयनेत्री, हैमवतभूविल, हेमा नायक, होमेन बरगोहाइँ, होसतु होसतु, हीरेन भट्टाचार्य, हीरेन गोहार्इं, हीरेन्द्र नाथ दत्त, हीरो ठाकुर, हीरो शेवकाणी, जत दुरेई जाई, जतीन्द्र मोहन मोहांती, जतीन्द्रनाथ दुवेरा, जदुमणि बेसरा, जनप्रिय रामायण, जमादार किस्‍कू, जमारो, जमिस त कशीरी मंज कशीर नातिया अदबुक तवारिख, जय गोस्वामी, जयप्रकाश पंड्या ज्योतिपुंज, जयमंत मिश्र, जयंत परमार, जयंत पाठक, जयंत पवार, जयंत महापात्र, जयंत विष्‍णु नारळीकर, जयंत कोठारी, जयंतिका, जयंती नायक, जस योञ्जन प्यासी, जसविन्‍दर, जसविन्‍दर सिंह, जसवंत दीद, जसवंत सिंह नेकी, जसवंत सिंह कँवल, ज़फ़र हुसैन ख़ाँ, ज़लज़लों, ज़िन्द कौल, ज़िन्दगीनामा - ज़िन्दा रुख़, ज़करियायुटे कथकळ, जापाने, जाप्पाण पुकयिला, जाय काय जूय?, जितेन्द्र शर्मा, जितेन्द्र उधमपुरी, जिक्र–ओ–फिक्र, जिउनि मोगथां बिसम्बि आरो आर’ज, जवाहर लाल नेहरू (1889–1947), जगत दर्शनरे जगन्नाथ, जगदीश जोशी, जगन्नाथ पाठक, जगन्नाथ प्रसाद दास, जग्गु वकुलभूषण, जंगम, जुग बदल गिआ, जुगनू दीवा ते दरिया, ज्ञान पुजारी, ज्ञान सिंह पगोच, ज्ञान सिंह शातिर, ज्ञानचंद जैन, ज्ञानेश्वरीतील लौकिक सृष्टि, जूण–जातरा, जे बी मोरायश, जे.बी. मोरेस, जेते पारि किन्तु केनो जाबो, जेरी पिन्टो, जेव्हा माणूस जागा होतो, जॅस फेर्नांडिस, जॉन बैप्टिस्ट सिक्वेरा, जो तेरे मन–चित्त लग्गी जा, जोध छी. सनसम, जोबा मुर्मु, जोसेफ़ मेकवान, जोगेश दास, जी. टी. देशपाण्डे, जी. ए. कुलकर्णी, जी. एन. दांडेकर, जी. एस. शिवरुद्रप्पा, जी. एस. अमुर, जी. तिलकवती, जी. पी. मोहांती, जी. शंकर कुरुप, जी. सी. तोम्ब्रा, जी. जोशुआ, जी. वी. सुब्रह्मण्यम्, जी. वी. काक्कनाडन, जी. आर. संतोष, जी. अलगिरिसामी, जी.एच. नायक, जीत थाइल, जीबनर चलपथे, जीव री जात, जीवध्वनि, जीवन नामदुंग, जीवन लैह्रां, जीवन समरम्, जीवन गोरेटोमा, जीवनानंद दास, जीवन–यात्रा, जीवन–व्यवस्था, जीवितप्पाता, जी–आ–झरोको, ई बतहा संसार, ई. दिनमणि सिंह, ई. नीलकांत सिंह, ई. रजनीकांत सिंह, ई. सोनामणि सिंह, ईशा, ईश्वर आँचल, घणाघाय नियतीचे, घरडीह, घराणो, घरे फेरार दिन, वड्डा वेला, वनदेवी, वमल ना वन, वर्षा एम. अडालजा, वल्लतोलिंटे काव्यशिल्पम, वल्लमपट्टि वेंकट सुब्बय्या, वल्ललार कण्ड ओरुमैप्पाडु, वल्लिकण्णन, वसंत आबाजी डहाके, वहरात, वहाब अशरफी, वा. चे. कुलंदैसामि, वाचणारयाची रोजनिशी, वात आपणा विवेचननी, वानम वसप्पडुम, वार्याने हलते रान, वारी–अ–भर्यो पलांदु, वाळुम वळ्ळुवम्, वासदेव मोही, वासु आचार्य, वासुदेव निर्मल, वासुदेव शरण अग्रवाल, वांक–देखां विवेचनो, वितान सुद बीज, विनय मजुमदार, विनायक, विनोदचंद्र नायक, विभूति पट्टनायक, विभूति आनंद, विमुक्‍त, विलासिनी (एम. के. मेनन), विलोपिल्लिल श्रीधर मेनन, विश्राम बेडेकर, विश्वदर्शनम्, विश्वनाथ त्रिपाठी, विश्वनाथ प्रसाद तिवारी, विश्वनाथ मध्यक्कारलु, विश्वनारायण शास्त्री, विश्वभानु, विश्वुक गवाक्ष्य, विष्णु दे, विष्णु नारायणन् नंपूतिरि, विष्णु वामन शिरवाडकर, विसारणै कमीशन, विजय विलासुम : हृदयोल्लास व्याख्या, विजया राजाध्यक्ष, विजूं वसण आयूं, विविधा, विवेचननी प्रक्रिया, विवेकानंद ठाकुर, विवेकानंद ओ समकालीन भारतवर्ष, विवेकी राय, विकलांग श्रद्धा का दौर, विक्रमवीर थापा, विछोरो, वंशकुळाचें देणें, वंगइन मैंधन, व्यासराय बल्लाल, व्यंकटेश माडगूळकर, व्यक्ति आणि वल्ली, व्हंकल पावणी, वैदिक संस्कृतिचा विकास, वैदिक विज्ञान और भारतीय संस्कृति, वैद्यनाथ मल्लिक विधु, वैदेही (कन्नड़ साहित्यकार), वैरामुत्तु, वैकम मुहम्मद बशीर, वेणुधर शर्मा, वेण्णिकुलम् गोपाल कुरुप, वेरिल पष़ुत पळा, वेरुक्कु नीर, वेळ्ळै परवई, वोल्गा (तेलुगु साहित्यकार), वोंत, वी. एन. तिवारी, वी. सुब्रह्मण्य शास्त्री, वी. सीतारमैया, वी. आर. त्रिवेदी, वी. आर. नार्ला, वी. के. एन. (तिरुविल्वलम), वीणापाणि मोहांती, वीनेश अंताणी, वीर टीकेन्द्रजित रोड, वीर जातिको अमर कहानी, वीरर उलगम, वीरेन डंगवाल, वीरेन्द्र केसर, खना मिहिरेर ढिपि, खबरी, खलील मामून, खहरे, खारां ज़रण, खिस्तुभागवतम्, खिस्‍सा, खुँजते खुँजते एत दूर, खुमनथेम प्रकाश सिंह, खुङ्गङ् अमसुङ् रिफ्यूजि, ख्रुंगङी चिठि, खूँटियों पर टँगे लोग, खून गाठी, खेरवाल सोरेन, खोया हुआ–सा कुछ, खोङजि मखोल, गणनायक, गणेश नारायण दास देवी, गमले दे कैक्टस, गराज तों फुटपाथ तक, गर्भरेशीम, ग़ालिब की शख़सियत और शायरी, ग़ुलाम नबी टाक नाजिर, ग़ुलाम नबी फिराक़, ग़ुलाम रब्बानी ताबाँ, गाँधी मनिष, गालिवाना, गाशीर मुनार, गां मजलिस, गा–गीत, गिरधर शर्मा चतुर्वेदी, गिर्मी शेर्पा, गिरीन्द्रमोहन मिश्र, गजल संहिता, गजेन्द्र कुमार मित्र, गवाचे अरथ, गवाड़, गंगा–पुत्र, गंगेश गुंजन, गु. नबी आतश, गुडिसेलु कालिपोतुन्नै, गुणेश्वर मोसाहारी, गुणो सामताणी, गुप्‍त प्रधान, गुफ़ा जे हुन पार, गुमशुदा दैर की गूंजती घंटियाँ, गुमानसिंह चामलिंग, गुरबचन सिंह भुल्लर, गुरमुख सिंह मुसाफिर, गुरसागरम्, गुरजाड गुरुपीठम, गुरु गोमके पंडित रघुनाथ मुर्मू, गुरुचरण पटनायक, गुर्फ–ए–ग़ैब, गुलाम नबी ख़याल, गुलाम नबी गौहर, गुलज़ार सिंह संधू, गुल–ए–नग़मा, गुजराती भाषानूं ध्वनि स्वरूप अने ध्वनि परिवर्तन, गुजराती साहित्य पूर्वार्ध–उत्तरार्ध, गुंटूर शेषेन्द्र शर्मा, गौरहरि दास, गैरीगाउँकी चमेली, गो. मा. पवार, गोदावरी परुलेकर, गोदावरीश महापात्र, गोपपुर, गोपल्लपुरत्त मक्कळ्, गोपाल सिंह नेपाली, गोपाल छोटराय, गोपालकृष्ण पै, गोपालकृष्ण अडिग, गोपालकृष्‍ण रथ, गोपे कमल, गोपीनारायण प्रधान, गोमांचल ते हिमालय, गोरुरू रामास्वामी आनंद, गोलाम, गोस्वामी हरिकृष्ण शास्त्री, गोवरघंटे यात्राकळ्, गोवर्धन महबूबाणी भारती, गोविन्द चन्द्र पाण्डेय, गोविन्द झा, गोविन्द माल्ही, गोविन्द मिश्र, गोविन्दचंद्र उद्गाता, गीत सरोवर, गीता नागभूषण, ऑन द मदर, ओ अंधगली, ओ. एन. वी. कुरुप, ओ. पी. शर्मा सारथी, ओ. वी. विजयन्, ओम विद्यार्थी, ओम् णमो, ओम्प्रकाश पाण्डेय, ओरु देशतिण्टे तथा, ओरु गिरामत्तु नदी, ओरु कावेरियइ पोला, ओळप्पमण्ण सुब्रह्मण्यन नंपूतिरिपाद, ओळूंरी अखियातां, ओकिम ग्विन, आचार्य रायप्रोलु सुब्बाराव, आटानो सूरज, आटूर रवि वर्मा, आटूर रवि वर्मायुटे कविताकळ, आँख हींयै रा हरियल सपना, आँगन के पार द्वार, आझो, आतमजीत, आतिशे गुल, आतिशे–चिनार, आत्मजीवनी, आदर्श भारत–सेवक, आदित्य कुमार मांडी, आदिम बस्ती, आदिल जस्‍सावाला, आदवन सुंदरम, आधुनिक गल्प साहित्य, आधुनिकता ओ रवीन्द्रनाथ, आन एजन, आनंद (पी. सच्चिदानंदन), आनंद चंद्र बरुआ, आनंद रतन यादव, आनंद खेमानी, आनंदीबाई इत्यादि गल्प, आफ़ाक़ की तरफ़, आफ़्टर ऐम्नीसिया : ट्रेडिशन एंड चेंज इन इंडियन लिटरेरी क्रिटिसिज़्म, आमा, आमार समय अल्प, आमि ओ बनबिहारी, आर. एस. मुगली, आर. नारायण पणिक्कर, आर. पी. लामा, आर. बी. पाटणकर, आर. रामचंद्रन, आर. रामचंद्रंटे कविताकळ, आर. वी. पंडित, आर. के. मधुबीर, आर.एन. जो डी क्रूज, आर.पी.सेतु पिळ्ळै, आरसी प्रसाद सिंह, आरसी–आ–आडो, आरुद्र, आरोग्य निकेतन, आलापनै, आल्हायुडे पेन्नमाक्कल, आलै–ओसै, आलूरि बैरागी, आले, आले अहमद सुरूर, आलोचना री आंख सूं, आलोक पर्व, आलोक सरकार, आलोकरंजन दासगुप्ता, आशा बगे, आशा मिश्र, आशीर्वादर रंग, आस, आहत अनुभूति, आह्निक, आई. ऍलन सीली, आई. सरस्वती देवी, आई. सी. चाको, आईदान सिंह भाटी, आवारा सजदे, आवाज़–इ–दोस्त, आख्यानवल्लरी, आख्‍यान-व्‍याख्‍यान, आग की हँसी, आगंतुक, आगेटि परीक्षित शर्मा, आंथ्‍योई नहीं दिन हाल, आंधारत निजरमुख, आंध्र साहित्य विमर्श आंग्ल प्रभावम्, आंध्र वाग्येयकार चित्रमु, आंध्रलु सांधिक चरित्रमु, आंगळियात, आइ काल्हि परसू, आइडेण्टिटी कार्ड, आकयतुक्कु अडुत्तवीडु, आकाशर छबि आरु अन्‍यान्‍य गल्‍प, आकाशले पनि ठाउँ खोजिरहेछ, आछर त्संगे, इडस्सेरी गोविन्दन नायर, इदु निङ्थौ, इनसाइड द हवेली, इन्हीं हथियारों से, इमासि नुराबी, इमागी फनेक मचेत, इम्तियाज़ अली अर्शी, इयारुइंगम, इलयास अहमद गद्दी, इलिसा आमागी महाओ, इलक्कियतुक्क ओरु इयक्कम, इलक्किया सुवडुकळ, इलै उदीर कालम, इश्क’ बाझ नमाज़ दा हज नाही, इंदरा वासवाणी, इंदिरा संत, इंद्र सुंदास, इंद्रबहादुर राई, इंफ़ाल अमासुङ मागी नुङशित्की फिबम इशिंग, इंग्लिश साहित्य चरित्रे, इक मिआन दो तलवारां, इक शहर यादें दा, इक छिट् चानण दी, इक़बाल की नज़री–ओ–अमली शेरियात, इक्षुगंधा, कच दे वस्तर, कँवर, कत्तियंचिन दारि, कतेयादळु हुडुगि, कतेक डारिपर, कतेक रास बात, कथा रत्नामकर, कथा शिल्पम, कथायिल्‍लतेवन्‍टे कथा, कन्नड साहित्य चरित्रे, कपूर सिंह घुम्मन, कबीर फुकन, कमल दास, कमल किशोर गोयनका, कमलेश्वर, कमंडल, करणीदान बारहठ, करफ्यू, करानिकल ऑफ ए कार्पस बीरर, करुणा दी छों तों मगरों, कर्ण पर्व, कर्णाटक संस्कृति समीक्षे, कर्णाटक संस्कृतिया पूर्वपीठिके, कर्णगी ममा अमसुङ्कर्णगी अरोइबा याहिप, कर्ण–कुंती, कर्तार सिंह दुग्गल, कल सुनना मुझे, कल अज ते भलक, कलमरम, कला प्रकाश, कला जीवितम तन्ने, कलानाथ शास्त्री, कलिकाता दर्पण, कलि–कथा : वाया बाइपास, कल्पना कुमारी देवी, कल्याण बी– आडवाणी, कल्लु करगुवा समय, कलेक्टेड पोएम्स, कहकशाँ, कहीं नहीं वहीं, क़ौमी तहज़ीब का मसला, क़ैदी, का. ना. सुब्रह्मण्यम्, काञ्चीनाथ झा किरण, काठ, कातिन्द्र सोरगियारि, कात्‍यायनी विद्यमहे, कादुगळ्, कान्ता ओ अन्यान्य गल्प, कान्हूचरण मोहांती, कापिशायनी, कामसुरभि, कार्मेलिन, काल रेखा, कालबेला, कालम, कालरेखलु, कालान्नि निद्र पोनीव्वनु, कालिकाप्रसाद शुक्ल, कालुतुन्ना पूलातोटा, कालेनथगी लीपकलेई, कालीचरण पटनायक, कालीपटनम रामाराव, काशिनाथ शांबा लोलयेंकार, काशुर सरमाये, काशीनाथ मिश्र, काशीकांत मिश्र मधुप, काषिज्ञ कालम, काजलमाया, कावल कोत्तम, कावळ्याचें स्राद्ध, काविले पाट्टु, काव्यशिल्पी गंगाधर, काव्यसूत्र, काव्यार्थ चिन्तन, कांग्रचर कांचियालिरदात, काका देउतार हार, काका कालेलकर, कि. राजनारायणन्, कितने पाकिस्तान, किरवंट, किशन स्मैलपुरी, किशोरीचरण दास, किस्तूरी मिरग, किस्त–किस्त जीवन, किछु देखल किछु सुनल, कविता दी भूमिका, कविता खाँ कविता तार्इं, कविता कुसुमांजलि, कविता के नये प्रतिमान, कविताध्वनि, कविता–1962, कविनी श्रद्धा, कविराज मार्ग मत्तु कन्नड जगत्तु, कंबन पुदिय पारवई, कंकू कबंध, कुट्रालकुरिञ्जी, कुँवर वियोगी, कुझ अनकहा वी, कुप्पाली वी गौड़ा पुटप्पा, कुबेर नाथ राय, कुमाच, कुरुति पुनल, कुरुक्षेत्र, कुल सेइकिया, कुलकथाओ, कुसुमबाले, कुं. वीरभद्रप्पा, कुंदन माली, कुंदनिका कापडीआ, कुंदुर्ति आंजनेयुलु, कुंदुर्ति कृतुलु, कुंभार चक्र, कुंजबिहारी दास, क्याप, क्रान्तिकाल, क्रान्ति–कल्याण, क्रौंच पक्षिगळु, क्रीष्टु चरित्र, क्षेत्रि वीर, क्षेत्री राजन, कृशिन राही, कृशिन खटवाणी, कृष्ण शर्मा, कृष्ण शास्त्री कृतुल, कृष्ण कुमार तूर, कृष्णसिंह मोक्तान, कृष्णा सोबती, कृष्णकांत हांदिकी, कृष्णकांत हांदिकी रचना संभार, कृष्ण–चरित, कैयोप्पम, कैज़ राथ, कूवो, के शिवा रेड्डी, के. टी. तिरुनावंक्करसु, के. एन. एषुत्तचन, के. एम. कुट्टिकृष्णन मारार, के. एस. नरसिंह स्वामी, के. पी. पूर्णचंद्र तेजस्वी, के. पी. केशव मेनन, के. शिवा रेड्डी, के. सच्चिदानंदन, के. जी. शंकर पिळ्ळै, के. जी. शंकर पिळ्ळैयुडे कविताकळ, के. वी. जगन्नाथन्, के. गोकुलदास प्रभु, के. आर. श्रीनिवास आयंगर, के. अय्यप्प पणिक्कर, के.पी. अप्पन, के.वी. तिरुमलेश, के.आर. मीरा, केतु विश्वनाथ रेड्डी कथलु, केनो आमरा रवीन्द्रनाथके चाइ एवं कीभावे, केरलोदय:, केशदा महंत, केशव महंत, केशवचंद्र दाश, केहरि सिंह मधुकर, केही नमिलेका रेखाहरू, केंह नतु केंह, केकी एन. दारुवाला, कॅकॅल्ड, को वै रस:, कोरकई, कोरे काकल कोरियां तलियां, कोरे काकुद पुश्‍रिथ गोने, कोलकातार काछेई, कोहरे में कैद रंग, कोई दूसरा नहीं, कोवि. मणिशेखरन, कोविलन (वी. वी. अय्यप्पन), कीरत बाबाणी, कीर्तिनाथ कुर्तकोटि, कीर्तिनारायण मिश्र, कीशम प्रियकुमार, अचिन बासभूमि, अञा याद आहे, अँधेरो रोशन थिये, अडयाळंगळ, अणसार, अणहद नाद, अतुल कनक, अतुलचंद्र हज़ारिका, अतुलानंद गोस्वामी, अतीत, अतीन बंद्योपाध्याय, अथाह, अथांग, अधचानणी रात, अधूरा सुपना, अनबलिप्पु, अनभीप्सितम्, अनामिकाची चिन्तनिका, अनिल बर, अनिल कुमार ब्रह्म, अनिल अवचट, अनिक विसथार, अनंत पटनायक, अनंतराय एम. रावल, अनुवाद समस्यालु, अन्नदाशंकर राय, अन्नाराम सुदामा, अनेक मानुह अनेक ठाई आरु निर्जनता, अनोखा अज़मूदा, अपनी डफली अपना राग, अपक्ष, अप्पाविन सिनेहिदर, अपूर्व शर्मा, अपूर्वा, अबुल कलाम क़ासमी, अब्दुल वहीद कमल, अब्दुल ख़ालिक टाक जैनगेरी, अब्दुस्समद, अब्बूरि छाया देवी, अबू सईद अय्यूब, अभिनवानो रसविचार, अभिमन्यु अनत, अभिशप्त गंधर्व, अभिशाप, अभिजात्री, अभिव्यक्ति (पत्रिका), अमर मित्र, अमर कथा, अमरेश पटनायक, अमार, अमित चौधुरी, अमिताव घोष, अमिय चक्रवर्ती, अमियभूषण मजूमदार, अम्बिकादत्‍त, अमृत राय, अमृत और विष, अमृतम् कुरिसिना रात्रि, अमृतर संतान, अमृतलाल वेगड, अमृतस्य पुत्री, अमृता प्रीतम, अमेरिकादल्ली गोरुरू, अमीन कामिल, अयलक्कार, अय्यप्प पणिक्करुडे कृतिकळ 1969, अयोधिया, अरण्य फ़सल, अरण्या, अरण्येर अधिकार, अरमने, अरलु बरलु, अरलु–मरलु, अराचार, अराम्बम ओंबी मेमचौबी, अरांबम बीरेन सिंह, अरांबम समरेन्द्र सिंह, अरविन्द एन. मांब्रो, अरविन्द उजीर, अरंगुकाणात्त, अरुण मित्र, अरुण शर्मा (असमिया साहित्यकार), अरुण साखरदांडे, अरुण जोशी, अरुण खोपकर, अरुण कोलटकर, अर्द्धनारीश्वर, अर्जन मीरचंदाणी शाद, अर्जन हासिद, अर्जुन चरण हेम्‍ब्रम, अरूपा पतंगीया कलिता, अली मोहम्मद लोण, अलीक मानुष, अश्विन महेता, अशैबगी नित्याइपोद, अशोक एस. कामत, अशोक मित्र, अशोक रा. केळकर, अशोकपुरी गोस्वामी, अशीं अस्लिम ल्हाराँ, अष्टावक्र (महाकाव्य), असमय, असमर लोक–संस्कृति, असमिया जातीय जीवंत महापुरुषीय परंपरा, असमीया रामायणी साहित्य, असरंती अणसर, असित राइ, अस्तित्त्वनदम आवली तीराना, असूर्यलोक, अहिङना येकशिल्लिबा मङ, अजमेर सिंह औलख, अजित बरुवा, अजंता (पी. वी. शास्त्री), अज्ञेय, अघरी आत्मार काहिनी, अवधेश्वरी, अवहट्ठ : उद्भव ओ विकास, अवांतर, अविनाशि, अवकासिकाळ, अखाफोरनि दैमा, अखिलमोहन पटनायक, अखंड ज़ालर बागे, अखेपातर, अगनी कलस, अगम गीति, अगरबत्‍ती, अगल विळक्कु, अगस्त्यायिनी, अग्निसाक्षी, अग्निकुंडमां उगेलुं गुलाब, अंचळो, अंतरनाद, अंतरआयामी, अंते आरंभ, अंधारी गलीमां सफ़ेद टपकां, अंधो दूहों, अंबिकागिरि रायचौधुरी, अंजाडि, अकाल में सारस, अक्षय काव्‍य, अक्षरम्, अक्करै चीमय्यिल, अक्कितम अच्युतन नंपूतिरि, अॅवर ट्रीज़ स्टिल ग्रो इन देहरा, उचाट, उचित वक्ता, उड जा रे सुआ, उतना वह सूरज है, उत्पल सत्यनारायणाचार्य, उत्सुकतेने मी झोपलो, उत्‍तरार्द्ध, उदय चंद्र झा विनोद, उदय थुलुङ, उदय भेंब्रे, उदासीन रूखहरू, उदांनिफ्राय गिदिंफिन्‍नानै, उपमन्यु चटर्जी, उपरा, उपरवास कथात्रयी, उपायन, उपेन्द्र ठाकुर मोहन, उपेन्द्रनाथ झा, उमानाथ झा, उमाप्रसाद मुखोपाध्याय, उरिया नालगे, उरवरपार, उर्दू ड्रामा और स्टेज, उर्खाव गोरा ब्रह्म, उलंग राजा, उल्लंघन, उषा मंजरी, उहा शाम, उज्जयिनियिले राप्पकलुकळ, उछालो, ऋतंभरा, छत्रवुं चामरवुं, छबि भीतरनी, छय्न, छावणी, छंदोबद्ध उपन्यास, ...त ख्वाबनि जो छा थींदो सूचकांक विस्तार (1980 अधिक) »

ऊणींदा वर्तमान

ऊणींदा वर्तमान पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार मनजीत टिवाणा द्वारा रचित एक कविता–संकलन है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ऊणींदा वर्तमान · और देखें »

चतुर्वेदी बद्रीनाथ

चतुर्वेदी बद्रीनाथ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचनात्मक अध्ययन द महाभारत: एन इंक्वायरी इन ह्यूमन कंडिशन के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। आपका जन्म सन 1933 में मैनपुरी में हुआ। आपके पिता श्री जंगबहादुर मिश्र(चतुर्वेदी) मैनपुरी में ज़िला अधिकारी थे। आपकी माता का नाम श्रीमती लक्ष्मी देवी था। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चतुर्वेदी बद्रीनाथ · और देखें »

चदुरंग

चदुरंग कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास वैशाख के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चदुरंग · और देखें »

चन्दना गोस्वामी

चन्दना गोस्वामी असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास पाटकाईर ईपारे मोर देश के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चन्दना गोस्वामी · और देखें »

चन्द्र प्रकाश देवल

डॉ॰ चन्द्र प्रकाश देवल (अथवा चंद्र प्रकाश देवल) प्रसिद्ध राजस्थानी कवि और अनुवादक हैं। वो राजस्थानी साहित्य अकादमी सलाहकार परिषद के संयोजक भी हैं। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चन्द्र प्रकाश देवल · और देखें »

चन्नवीर कणवी

चन्नवीर कणवी कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह जीवध्वनि के लिये उन्हें सन् 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चन्नवीर कणवी · और देखें »

चमन नाहल

चमन नाहल अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास आज़ादी के लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चमन नाहल · और देखें »

चलत्-चित्रव्‍यूह

चलत्-चित्रव्‍यूह मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरुण खोपकर द्वारा रचित एक संस्‍मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चलत्-चित्रव्‍यूह · और देखें »

चलदूरवाणी

चलदूरवाणी विख्यात संस्कृत साहित्यकार राधाकान्‍त ठाकुर द्वारा रचित एक कविता-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चलदूरवाणी · और देखें »

चलन्ति ठाकुर

चलन्ति ठाकुर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार शांतनु कुमार आचार्य द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चलन्ति ठाकुर · और देखें »

चश्मदीठ गवाह

चश्मदीठ गवाह राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार मूलचंद ‘प्राणेश’ द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चश्मदीठ गवाह · और देखें »

चानन घन गछिया

चानन घन गछिया मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार विवेकानंद ठाकुर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चानन घन गछिया · और देखें »

चायुव नारकालि

चायुव नारकालि तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार तोप्पिल मोहम्मद मीरान द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चायुव नारकालि · और देखें »

चार नगरातले माझे विश्‍व

चार नगरातले माझे विश्‍व मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार जयंत विष्‍णु नारळीकर द्वारा रचित एक आत्‍मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चार नगरातले माझे विश्‍व · और देखें »

चालीह–चोरासी

चालीह–चोरासी सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हरीश वासवाणी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चालीह–चोरासी · और देखें »

चांफेल्ली सांज

चांफेल्ली सांज कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार पांडुरंग राजाराम शनै मांगी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चांफेल्ली सांज · और देखें »

चिटिप्रोलु कृष्णमूर्ति

चिटिप्रोलु कृष्णमूर्ति तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पुरुषोत्तमुडु के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिटिप्रोलु कृष्णमूर्ति · और देखें »

चित्रगळु पत्रगळु

चित्रगळु पत्रगळु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. एन. मूर्तिराव द्वारा रचित एक संस्मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चित्रगळु पत्रगळु · और देखें »

चित्रकाव्य कौतुकम्

चित्रकाव्य कौतुकम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार रामरूप पाठक द्वारा रचित एक काव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1967 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चित्रकाव्य कौतुकम् · और देखें »

चिदंबर रहस्य

चिदंबर रहस्य कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार के. पी. पूर्णचंद्र तेजस्वी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिदंबर रहस्य · और देखें »

चिनु मोदी

चिनु मोदी गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता-संग्रह खारां ज़रण के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिनु मोदी · और देखें »

चिन्तयामि मनसा

चिन्तयामि मनसा गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार सुरेश जोशी द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिन्तयामि मनसा · और देखें »

चिन्तानदी

चिन्तानदी तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार ला. स. रामामृतम् द्वारा रचित एक संस्मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिन्तानदी · और देखें »

चिनेह जोरिर गांथी

चिनेह जोरिर गांथी असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार अतुलानंद गोस्वामी द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिनेह जोरिर गांथी · और देखें »

चिरंतनानंद स्वामी

चिरंतनानंद स्वामी तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनी श्रीरामकृष्णानि जीवित चरित्र के लिये उन्हें सन् 1957 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिरंतनानंद स्वामी · और देखें »

चिंतामणि राव कोल्हटकर

चिंतामणि राव कोल्हटकर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा बहुरूपी के लिये उन्हें सन् 1958 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चिंतामणि राव कोल्हटकर · और देखें »

चंदा बोन्‍गा

चंदा बोन्‍गा संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार अर्जुन चरण हेम्‍ब्रम द्वारा रचित एक कविता-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में संताली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंदा बोन्‍गा · और देखें »

चंद्रनाथ मिश्र अमर

चंद्रनाथ मिश्र अमर मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक सर्वेक्षण मैथिली पत्रकारिता का इतिहास के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रनाथ मिश्र अमर · और देखें »

चंद्रप्रसाद सइकीया

चंद्रप्रसाद सइकीया असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास महारथी के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रप्रसाद सइकीया · और देखें »

चंद्रभानु सिंह

चंद्रभानु सिंह मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य शकुन्तला के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रभानु सिंह · और देखें »

चंद्रशेखर रथ

चंद्रशेखर रथ ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह सबुठारु दीर्घराति के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रशेखर रथ · और देखें »

चंद्रकांत टोपीवाला

चंद्रकांत टोपीवाला गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना साक्षीभास्य के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रकांत टोपीवाला · और देखें »

चंद्रकांत टी. शेठ

चंद्रकांत टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रकांत टी. शेठ · और देखें »

चंद्रकांत केणी

चंद्रकांत केणी कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह व्हंकल पावणी के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंद्रकांत केणी · और देखें »

चंपा शर्मा

चंपा शर्मा डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह चेतें दी र्होल के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चंपा शर्मा · और देखें »

चक्रवर्ति तिरुमगन

चक्रवर्ति तिरुमगन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार सी. राजगोपालचारी द्वारा रचित एक गद्य में रामायण कथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1958 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चक्रवर्ति तिरुमगन · और देखें »

चुका भी हूँ नहीं मैं

चुका भी हूँ नहीं मैं हिन्दी के विख्यात साहित्यकार शमशेर बहादुर सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चुका भी हूँ नहीं मैं · और देखें »

चौथा आसमान

चौथा आसमान उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार मोहम्मद अल्वी द्वारा रचित एक कविता–संकलन है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चौथा आसमान · और देखें »

चौथी कूट

चौथी कूट पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार वरियाम सिंह संधू द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चौथी कूट · और देखें »

चौरंग

चौरंग कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार पुंडलीक नारायण नायक द्वारा रचित एक एकांकी है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चौरंग · और देखें »

चूवन्न चिन्नङळ

चूवन्न चिन्नङळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. सुकुमारन द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चूवन्न चिन्नङळ · और देखें »

चेत रे चिकायेना

चेत रे चिकायेना संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार खेरवाल सोरेन द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में संताली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेत रे चिकायेना · और देखें »

चेतन स्वामी

चेतन स्वामी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह किस्तूरी मिरग के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेतन स्वामी · और देखें »

चेतें दियाँ ग’लियां

चेतें दियाँ ग’लियां डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ललित मगोत्रा द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेतें दियाँ ग’लियां · और देखें »

चेतें दी चितकबरी

चेतें दी चितकबरी डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार शिवनाथ द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेतें दी चितकबरी · और देखें »

चेतें दी र्होल

चेतें दी र्होल डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार चंपा शर्मा द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेतें दी र्होल · और देखें »

चेम्मीन

चेम्मीन मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार तकष़ी शिवशंकर पिळ्ळै द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1957 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेम्मीन · और देखें »

चेरमान कादली

चेरमान कादली तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार कण्णदासन द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेरमान कादली · और देखें »

चेरुशेरी नम्बूतिरी

चेरुशेरी नम्बूतिरी (१३७५-१४७५) कृष्ण गाधा के लेखक है। इस महाकाव्य को मलयालम महीने के दौरान कृष्ण की पूजा के एक अधिनियम के रूप में भारत में किया जाता है। चेरुशेरी नम्बूतिरी १३७५ और १४७५ ए.डी के बीच रहता करते है। चेरुशेरी उनका पैतृक इल्लम का नाम है।। उनका जन्म कन्नूर जिले उत्तर मलबार के कोलत्तुनाडु के कानत्तूर ग्राम में हुए। अनेक विद्वानों का राय यह है की वो पूनत्तिल नम्बूतिरी के अलावा अन्य कोई नही है। वह एक अदालत कवी और कोलत्तुनाडु की उदयवर्मा राजा के आश्रित थे। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेरुशेरी नम्बूतिरी · और देखें »

चेकुरी रामाराव

चेकुरी रामाराव तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह स्मृति किणांकम के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेकुरी रामाराव · और देखें »

चेक्ला पाइखरबंदा

चेक्ला पाइखरबंदा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार लमबम वीरमणि सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चेक्ला पाइखरबंदा · और देखें »

चीख़

चीख़ सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार एच. आई. सदारंगाणी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चीख़ · और देखें »

चीङलोन अमदगी अमदा

चीङलोन अमदगी अमदा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार माखोनमनि मोङसाबा द्वारा रचित एक यात्रा-वृत्‍तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और चीङलोन अमदगी अमदा · और देखें »

टांडाणा (अंधेरी रात में)

टांडाणा (अंधेरी रात में) सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार ईश्वर आँचल द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टांडाणा (अंधेरी रात में) · और देखें »

टिम–टिम करदे तारे

टिम–टिम करदे तारे डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार बालकृष्ण भौरा द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में डोगरी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टिम–टिम करदे तारे · और देखें »

टिक्कोडियन (पी. के. नायर)

टिक्कोडियन (पी. के. नायर) मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा अरंगुकाणात्त के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टिक्कोडियन (पी. के. नायर) · और देखें »

ट्राईंग टू से गुडबाइ

ट्राईंग टू से गुडबाइ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार आदिल जस्‍सावाला द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ट्राईंग टू से गुडबाइ · और देखें »

ट्रैपफ़ाल्स इन द स्काई

ट्रैपफ़ाल्स इन द स्काई अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार शिव के. कुमार द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ट्रैपफ़ाल्स इन द स्काई · और देखें »

टोळा आवाज़ घोंघाट

टोळा आवाज़ घोंघाट गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार लाभशंकर ठाकर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टोळा आवाज़ घोंघाट · और देखें »

टी. पद्मनाभन्

टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी. पद्मनाभन् · और देखें »

टी. जानकीरामन्

टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी. जानकीरामन् · और देखें »

टी. वी. सरदेशमुख

टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी. वी. सरदेशमुख · और देखें »

टी. गोपीचंद

टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी. गोपीचंद · और देखें »

टी. आर. सुब्बाराव

टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी. आर. सुब्बाराव · और देखें »

टी.एम.सी. रघुनाथन्

टी.एम.सी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी.एम.सी. रघुनाथन् · और देखें »

टी.एस. शेजवलकर

टी.एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टी.एस. शेजवलकर · और देखें »

टीका स्वयंवर

टीका स्वयंवर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार भालचंद्र नेमाडे द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और टीका स्वयंवर · और देखें »

ए न्यू वर्ल्ड

ए न्यू वर्ल्ड अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अमित चौधुरी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए न्यू वर्ल्ड · और देखें »

ए हिस्ट्री ऑफ़ द्वैत स्कूल ऑफ़ वेदांत एंड इट्स लिटरेचर

ए हिस्ट्री ऑफ़ द्वैत स्कूल ऑफ़ वेदांत एंड इट्स लिटरेचर विख्यात संस्कृत साहित्यकार बी.एन. कृष्णमूर्ति शर्मा द्वारा रचित एक शोध है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए हिस्ट्री ऑफ़ द्वैत स्कूल ऑफ़ वेदांत एंड इट्स लिटरेचर · और देखें »

ए. चित्रेश्वर शर्मा

ए. चित्रेश्वर शर्मा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास थरोशंबी के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. चित्रेश्वर शर्मा · और देखें »

ए. एन. मूर्तिराव

ए. एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. एन. मूर्तिराव · और देखें »

ए. माधवन

ए. माधवन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध इलक्किया सुवडुकळ के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. माधवन · और देखें »

ए. मीनकेतन सिंह

ए. मीनकेतन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अशैबगी नित्याइपोद के लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. मीनकेतन सिंह · और देखें »

ए. रहमान राही

ए. रहमान राही कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह नौरोज़–ए–सबा के लिये उन्हें सन् 1961 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. रहमान राही · और देखें »

ए. श्रीनिवासन राघवन्

ए. श्रीनिवासन राघवन् तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह वेळ्ळै परवई के लिये उन्हें सन् 1968 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. श्रीनिवासन राघवन् · और देखें »

ए. सेतुमाधवन (सेतु)

ए. सेतुमाधवन (सेतु) मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अडयाळंगळ के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. सेतुमाधवन (सेतु) · और देखें »

ए. आर. देशपांडे अनिल

ए. आर.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. आर. देशपांडे अनिल · और देखें »

ए. आर. कृष्ण शास्त्री

ए. आर.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए. आर. कृष्ण शास्त्री · और देखें »

ए.ए. अंसारी

ए.ए. अंसारी उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना इक़बाल की तेरह नजमें के लिये उन्हें सन् १९८० में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए.ए. अंसारी · और देखें »

ए.एस. ज्ञानसंबंदन

ए.एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ए.एस. ज्ञानसंबंदन · और देखें »

एच. तिप्पेरुद्रस्वामी

एच.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच. तिप्पेरुद्रस्वामी · और देखें »

एच. सी. भायाणी

एच.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच. सी. भायाणी · और देखें »

एच. गुनो सिंह

एच.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच. गुनो सिंह · और देखें »

एच. आर. विश्वास

एच.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच. आर. विश्वास · और देखें »

एच. आई. सदारंगाणी

एच.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच. आई. सदारंगाणी · और देखें »

एच.एस. शिवप्रकाश

एच.एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एच.एस. शिवप्रकाश · और देखें »

एधानी माहीर हाँहि

एधानी माहीर हाँहि असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार महिमा बरा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एधानी माहीर हाँहि · और देखें »

एन आतश

एन आतश कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मोही-उद-दीन रेशी द्वारा रचित एक कहानी-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन आतश · और देखें »

एन आर्टिस्ट इन लाइफ़

एन आर्टिस्ट इन लाइफ़ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार नीहाररंजन राय द्वारा रचित एक रवीन्द्रनाथ का अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन आर्टिस्ट इन लाइफ़ · और देखें »

एन. पी. मुहम्मद

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. पी. मुहम्मद · और देखें »

एन. शिवदास

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. शिवदास · और देखें »

एन. जी. देशपांडे

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. जी. देशपांडे · और देखें »

एन. जी. कालेलकर

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. जी. कालेलकर · और देखें »

एन. ईबोबी सिंह

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. ईबोबी सिंह · और देखें »

एन. वी. कृष्ण वारियर

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. वी. कृष्ण वारियर · और देखें »

एन. गोपी

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. गोपी · और देखें »

एन. कुंजमोहन सिंह

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. कुंजमोहन सिंह · और देखें »

एन. कृष्ण पिळ्ळै

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. कृष्ण पिळ्ळै · और देखें »

एन. के. पंड्या उषनस

एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एन. के. पंड्या उषनस · और देखें »

एम एम गुरुङ

नेपाली साहित्य के मूर्धन्य भारतीय कथाकार और निबंधकर। 'बिर्सिए को संस्कृति' के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार। कहानी संग्रह 'तीस्ता ब्ग्छ संघे जस्तो' से चर्चित। फिलहाल साहित्य अकादमी की कार्यकारिणी समिति के सदस्य और नेपाली सलहकर परिषद के सायोंजक। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम एम गुरुङ · और देखें »

एम एंड द बिग हूम

एम एंड द बिग हूम अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार जेरी पिन्टो द्वारा रचित एक उपन्यास है। इनके लिये उन्हें सन् २०१६ में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम एंड द बिग हूम · और देखें »

एम. एम. गुरुंग

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. एम. गुरुंग · और देखें »

एम. एस. अणे

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. एस. अणे · और देखें »

एम. नबकिशोर सिंह

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. नबकिशोर सिंह · और देखें »

एम. पी. शङकुण्णि नायर

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. पी. शङकुण्णि नायर · और देखें »

एम. फ़ारूक़ नाज़की

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. फ़ारूक़ नाज़की · और देखें »

एम. मुकुंदन

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. मुकुंदन · और देखें »

एम. यू. मलकाणी

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. यू. मलकाणी · और देखें »

एम. रामलिंगम्

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. रामलिंगम् · और देखें »

एम. लीलावती

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. लीलावती · और देखें »

एम. शिवराम

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. शिवराम · और देखें »

एम. सुकुमारन

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. सुकुमारन · और देखें »

एम. वी. वेंकटराम

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. वी. वेंकटराम · और देखें »

एम. कमल

एम.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम. कमल · और देखें »

एम.टी. वासुदेवन् नायर

एम.टी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम.टी. वासुदेवन् नायर · और देखें »

एम.एन्. पालूर

एम.एन्.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम.एन्. पालूर · और देखें »

एम.पी. वीरेन्द्र कुमार

एम.पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम.पी. वीरेन्द्र कुमार · और देखें »

एम.के. सानू

एम.के.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एम.के. सानू · और देखें »

एल. समरेन्द्र सिंह

एल.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एल. समरेन्द्र सिंह · और देखें »

एल.एस. शेषगिरि राव

एल.एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एल.एस. शेषगिरि राव · और देखें »

एस. एन. पेंडसे

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. एन. पेंडसे · और देखें »

एस. एन. बनहट्टी

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. एन. बनहट्टी · और देखें »

एस. एल. भैरप्प

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. एल. भैरप्प · और देखें »

एस. एस. भुसनूरमठ

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. एस. भुसनूरमठ · और देखें »

एस. श्रीनिवास शर्मा

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. श्रीनिवास शर्मा · और देखें »

एस. सुजान सिंह

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. सुजान सिंह · और देखें »

एस. वी. रंगण्णा

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. वी. रंगण्णा · और देखें »

एस. वी. जोगाराव

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. वी. जोगाराव · और देखें »

एस. गुप्तन नायर

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. गुप्तन नायर · और देखें »

एस. गोपाल

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. गोपाल · और देखें »

एस. आर. एक्कुण्डि

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. आर. एक्कुण्डि · और देखें »

एस. के. पोट्टेक्काट

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. के. पोट्टेक्काट · और देखें »

एस. अब्दुल रहमान

एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस. अब्दुल रहमान · और देखें »

एस.बी. जोशी

एस.बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस.बी. जोशी · और देखें »

एस्थर डेविड

एस्थर डेविड अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास बुक ऑफ़ रैचल के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस्थर डेविड · और देखें »

एस्से

एस्से कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मो. ज़मान आज़ुर्दा द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एस्से · और देखें »

एहो हमारा जीवणा

एहो हमारा जीवणा पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार दलीप कौर टिवाणा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1971 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एहो हमारा जीवणा · और देखें »

एई अनुरागी एई उदास

एई अनुरागी एई उदास असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार कबीर फुकन द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में असमिया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एई अनुरागी एई उदास · और देखें »

एक चादर मैली–सी

एक चादर मैली–सी उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार राजिन्दर सिंह बेदी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1965 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एक चादर मैली–सी · और देखें »

एक झाड आणि दोन पक्षी

एक झाड आणि दोन पक्षी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार विश्राम बेडेकर द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एक झाड आणि दोन पक्षी · और देखें »

एक दुनिया म्हारी

एक दुनिया म्हारी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार साँवर दइया द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एक दुनिया म्हारी · और देखें »

एका मुंगीचे महाभारत

एका मुंगीचे महाभारत मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार गंगाधर गाडगीळ द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एका मुंगीचे महाभारत · और देखें »

एकान्तवास

एकान्तवास नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार उदय थुलुङ द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एकान्तवास · और देखें »

एकूण कविता–1

एकूण कविता–1 मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार दिलीप चित्रे द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और एकूण कविता–1 · और देखें »

झनां दी रात

झनां दी रात पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हरिन्दर सिंह महबूब द्वारा रचित एक कविता–संकलन है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और झनां दी रात · और देखें »

झोंबी

झोंबी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार आनंद रतन यादव द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और झोंबी · और देखें »

ठाकुरघर

ठाकुरघर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार किशोरीचरण दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ठाकुरघर · और देखें »

डांगोरा : एका नगरीचा

डांगोरा: एका नगरीचा मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार टी. वी. सरदेशमुख द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डांगोरा : एका नगरीचा · और देखें »

डिसऑर्डरली वुमेन

डिसऑर्डरली वुमेन अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार मालती राव द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डिसऑर्डरली वुमेन · और देखें »

डॉ. पारसमणिको जीवनयात्रा

डॉ॰ पारसमणिको जीवनयात्रा नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार नगेन्द्रमणि प्रधान द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1995 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डॉ. पारसमणिको जीवनयात्रा · और देखें »

डॉ. केतकर

डॉ॰ केतकर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार डी. एन. गोखले द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1961 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डॉ. केतकर · और देखें »

डॉम मोरेस

डॉम मोरेस अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सेरेंडिप के लिये उन्हें सन् 1994 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डॉम मोरेस · और देखें »

डॉ॰ नगेन्द्र

डॉ॰ नगेन्द्र (जन्म: 9 मार्च 1915 अलीगढ़, मृत्यु: 27 अक्टूबर 1999 नई दिल्ली) हिन्दी के प्रमुख आधुनिक आलोचकों में थे। वे एक सुलझे हुए विचारक और गहरे विश्लेषक थे। अपनी सूझ-बूझ तथा पकड़ के कारण वे गहराई में पैठकर केवल विश्लेषण ही नहीं करते, बल्कि नयी उद्भावनाओं से अपने विवेचन को विचारोत्तेजक भी बना देते थे। उलझन उनमें कहीं नहीं थी। 'साधारणीकरण' सम्बन्धी उनकी उद्भावनाओं से लोग असहमत भले ही रहे हों, पर उसके कारण लोगों को उस सम्बन्ध में नये ढंग से विचार अवश्य करना पड़ा है। 'भारतीय काव्य-शास्त्र' (1955ई.) की विद्वत्तापूर्ण भूमिका प्रस्तुत करके उन्होंने हिन्दी में एक बड़े अभाव की पूर्ति की। उन्होंने 'पाश्चात्य काव्यशास्त्र: सिद्धांत और वाद' नामक आलोचनात्मक कृति में अपनी सूक्ष्म विवेचन-क्षमता का परिचय भी दिया। अरस्तू के काव्यशास्त्र की भूमिका-अंश उनका सूक्ष्म पकड़, बारीक विश्लेषण और अध्यवसाय का परिचायक है। बीच-बीच में भारतीय काव्य-शास्त्र से तुलना करके उन्होंने उसे और भी उपयोगी बना दिया है। उन्होंने हिंदी मिथक को भी परिभाषित किया है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डॉ॰ नगेन्द्र · और देखें »

डोलाराय आर. मांकड

डोलाराय आर.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डोलाराय आर. मांकड · और देखें »

डी. एन. गोखले

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. एन. गोखले · और देखें »

डी. नवीन

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. नवीन · और देखें »

डी. बालगंगाधर तिलक

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. बालगंगाधर तिलक · और देखें »

डी. सेल्वराज

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. सेल्वराज · और देखें »

डी. वी. कृष्ण शास्त्री

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. वी. कृष्ण शास्त्री · और देखें »

डी. आर. नागराज

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. आर. नागराज · और देखें »

डी. के. सुखठणकर

डी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और डी. के. सुखठणकर · और देखें »

ढलदी धुप्पै दा सेक

ढलदी धुप्पै दा सेक डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार कृष्ण शर्मा द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ढलदी धुप्पै दा सेक · और देखें »

ढाई घर

ढाई घर हिन्दी के विख्यात साहित्यकार गिरिराज किशोर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ढाई घर · और देखें »

ढोलण राही

ढोलण राही सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अँधेरो रोशन थिये के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ढोलण राही · और देखें »

तट्टकम

तट्टकम मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार कोविलन (वी. वी. अय्यप्पन) द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तट्टकम · और देखें »

तणकट

तणकट मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार राजन गवस द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तणकट · और देखें »

तत्त्वमसि (गुजराती उपन्यास)

तत्त्वमसि गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार धु्रव प्रबोधराय भट्ट द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तत्त्वमसि (गुजराती उपन्यास) · और देखें »

तत्ती तवी दा सच्च

तत्ती तवी दा सच्च पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार आतमजीत द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तत्ती तवी दा सच्च · और देखें »

तत्खवा पुन्सी–लैपुल

तत्खवा पुन्सी–लैपुल मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नीलवीर शर्मा शास्त्री द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तत्खवा पुन्सी–लैपुल · और देखें »

तदेव गगनं सैवधरा

तदेव गगनं सैवधरा विख्यात संस्कृत साहित्यकार श्रीनिवास रथ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तदेव गगनं सैवधरा · और देखें »

तन मार्गम्

तन मार्गम् तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार अब्बूरि छाया देवी द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तन मार्गम् · और देखें »

तनक़ीदी अफ़कार

तनक़ीदी अफ़कार उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार शम्शुर्रहमान फारूक़ी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तनक़ीदी अफ़कार · और देखें »

तन्मय धूलि

तन्मय धूलि ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रतिभा शतपथी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तन्मय धूलि · और देखें »

तपस्वी ओ तरंगिणी

तपस्वी ओ तरंगिणी बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार बुद्धदेव बोस द्वारा रचित एक काव्य–नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1967 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तपस्वी ओ तरंगिणी · और देखें »

तमिरम् तो समरम्

तमिरम् तो समरम् तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार दाशरथि द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तमिरम् तो समरम् · और देखें »

तमिल इंबम

तमिल इंबम तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार आर.पी.सेतु पिळ्ळै द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1955 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तमिल इंबम · और देखें »

तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी

तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक सांस्कृतिक इतिहास वैदिक संस्कृतिचा विकास के लिये उन्हें सन् 1955 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी · और देखें »

तलेदंड

तलेदंड कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार गिरीश कार्नाड द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तलेदंड · और देखें »

तसव्‍वुफ और भक्ति (तनकीदी और तकाबुली मुतलीया)

तसव्‍वुफ और भक्ति (तनकीदी और तकाबुली मुतलीया) उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार शमीम तारिक द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तसव्‍वुफ और भक्ति (तनकीदी और तकाबुली मुतलीया) · और देखें »

तहक़ीक़ एन तनक़ीद

तहक़ीक़ एन तनक़ीद सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हीरो ठाकुर द्वारा रचित एक निबंध है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तहक़ीक़ एन तनक़ीद · और देखें »

ताप के ताये हुए दिन

ताप के ताये हुए दिन हिन्दी के विख्यात साहित्यकार त्रिलोचन द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ताप के ताये हुए दिन · और देखें »

तामरतोनि

तामरतोनि मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार पी. कुण्हिरमन नायर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1967 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तामरतोनि · और देखें »

ताम्रपट

ताम्रपट मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार रंगनाथ पठारे द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ताम्रपट · और देखें »

तारतम्य

तारतम्य गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार अनंतराय एम. रावल द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तारतम्य · और देखें »

तारा मीरचंदाणी

तारा मीरचंदाणी सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास हठयोगी के लिये उन्हें सन् 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तारा मीरचंदाणी · और देखें »

तारा सिंह कामिल

तारा सिंह कामिल पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संकलन कहकशाँ के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तारा सिंह कामिल · और देखें »

तारा स्मैलपुरी

तारा स्मैलपुरी डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह जीवन लैह्रां के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तारा स्मैलपुरी · और देखें »

ताराशंकर बंद्योपाध्याय

ताराशंकर बंद्योपाध्याय बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास आरोग्य निकेतन के लिये उन्हें सन् 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ताराशंकर बंद्योपाध्याय · और देखें »

तारीख़–ए–अदब–ए–उर्दू

तारीख़–ए–अदब–ए–उर्दू उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार वहाब अशरफी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तारीख़–ए–अदब–ए–उर्दू · और देखें »

ताल बेताल

ताल बेताल बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार अशोक मित्र द्वारा रचित एक निबंध है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ताल बेताल · और देखें »

तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि

तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि विख्यात संस्कृत साहित्यकार महामहोपाध्याय गोपीनाथ कविराज द्वारा रचित एक शोध है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि · और देखें »

तिरुक्कुरल नीधि इलक्कियम्

तिरुक्कुरल नीधि इलक्कियम् तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार के. टी. तिरुनावंक्करसु द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तिरुक्कुरल नीधि इलक्कियम् · और देखें »

तिरेञ्जेडूंत प्रबंधगळ

तिरेंजेडूंत प्रबंधगळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. गुप्तन नायर द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तिरेञ्जेडूंत प्रबंधगळ · और देखें »

तिस्ता पारेर वृत्तांत

तिस्ता पारेर वृत्तांत बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार देवेश राय द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तिस्ता पारेर वृत्तांत · और देखें »

तज़किरा–इ–मुआसिरीन

तज़किरा–इ–मुआसिरीन उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार मालिक राम द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तज़किरा–इ–मुआसिरीन · और देखें »

तव स्पर्शे स्पर्शे

तव स्पर्शे स्पर्शे विख्यात संस्कृत साहित्यकार हर्षदेव माधव द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तव स्पर्शे स्पर्शे · और देखें »

तंत्रनाथ झा

तंत्रनाथ झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कृष्ण–चरित के लिये उन्हें सन् 1979 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तंत्रनाथ झा · और देखें »

तंरगां

तंरगां कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार महाबलेश्वर सैल द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तंरगां · और देखें »

तक तोर

तक तौर सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार परम ए. अबीचंदाणी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तक तोर · और देखें »

तुम्मल सीताराममूर्ति

तुम्मल सीताराममूर्ति तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक काव्य महात्मा कथा के लिये उन्हें सन् 1969 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तुम्मल सीताराममूर्ति · और देखें »

तुलसी बहादुर क्षेत्री अपतन

तुलसी बहादुर क्षेत्री अपतन नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य कर्ण–कुंती के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तुलसी बहादुर क्षेत्री अपतन · और देखें »

तुलसी राम शर्मा कश्यप

तुलसी राम शर्मा कश्यप नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य आमा के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तुलसी राम शर्मा कश्यप · और देखें »

तुकाराम दर्शन

तुकाराम दर्शन मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार सदानंद श्रीधर मोरे द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तुकाराम दर्शन · और देखें »

तुकाराम रामा शेट

तुकाराम रामा शेट कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध-संग्रह मनमोतयां के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तुकाराम रामा शेट · और देखें »

त्रिपुरसुंदरी लक्ष्मी

त्रिपुरसुंदरी लक्ष्मी तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास ओरु कावेरियइ पोला के लिये उन्हें सन् 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और त्रिपुरसुंदरी लक्ष्मी · और देखें »

त्रिप–त्रिप चेते

त्रिप–त्रिप चेते डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ओम विद्यार्थी द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और त्रिप–त्रिप चेते · और देखें »

त्रिवेणी

त्रिवेणी संस्कृत भाषा के विख्यात साहित्यकार श्यामदेव पाराशर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में संस्कृत भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और त्रिवेणी · और देखें »

त्रैलोक्यनाथ गोस्वामी

त्रैलोक्यनाथ गोस्वामी असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना आधुनिक गल्प साहित्य के लिये उन्हें सन् 1967 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और त्रैलोक्यनाथ गोस्वामी · और देखें »

तौशाली दी हंसो

तौशाली दी हंसो पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार जसवंत सिंह कँवल द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तौशाली दी हंसो · और देखें »

तृकोट्टूर नोवल्लकळ

तृकोट्टूर नोवल्लकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार यू.ए. खादर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तृकोट्टूर नोवल्लकळ · और देखें »

तेमसुला आओ

तेमसुला आओ या तेमसुला अओ अंग्रेज़ी भाषा की एक जानी-मानी कवयित्री, कथाकार और वाचिक संग्रहकर्ता (एथनोग्राफर) हैं। वे नॉर्थ ईस्टर्न हिल युनिवर्सिटी (एनईएचयू) से अंग्रेजी की सेवानिवृत्त प्रोफेसर हैं, जहां उन्होंने 1975 में अध्यापकीय जीवन शुरू किया था। 2013 में साहित्य अकादमी ने उनके अंग्रेजी कहानी संग्रह लबरनम फ़ॉर माइ हेड को अकादमी पुरस्कार से नवाजा है। वर्तमान में वे नागालैंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष भी हैं। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तेमसुला आओ · और देखें »

तेरु

तेरु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार राघवेन्द्र पाटील द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तेरु · और देखें »

तेरेद बागिलु

तेरेद बागिलु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार के. एस. नरसिंह स्वामी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तेरेद बागिलु · और देखें »

तोप्पिल मोहम्मद मीरान

तोप्पिल मोहम्मद मीरान तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास चायुव नारकालि के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तोप्पिल मोहम्मद मीरान · और देखें »

तोल

तोल तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार डी. सेल्वराज द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तोल · और देखें »

तीर्थ यात्रा

तीर्थ यात्रा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ई. नीलकांत सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तीर्थ यात्रा · और देखें »

तीर्थ वसंत

तीर्थ वसंत सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनी कँवर के लिये उन्हें सन् 1959 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तीर्थ वसंत · और देखें »

तीर्थनाथ शर्मा

तीर्थनाथ शर्मा असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनी वेणुधर शर्मा के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और तीर्थनाथ शर्मा · और देखें »

थरोशंबी

थरोशंबी मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. चित्रेश्वर शर्मा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और थरोशंबी · और देखें »

थापि धर्मराव

थापि धर्मराव तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक टीका विजय विलासुम: हृदयोल्लास व्याख्या के लिये उन्हें सन् 1971 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और थापि धर्मराव · और देखें »

थाङ्जम इबोपिशक सिंह

थांजम इबोपिशक सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह भूत अमसुङमाखुम के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और थाङ्जम इबोपिशक सिंह · और देखें »

थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम

थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम (टी. पी. मीनाक्षीसुंदरम, १९०१ - १९८०) तमिल भाषा और अंग्रेजी भाषा के साहित्य के प्रसिद्ध साहित्यकार थे। वे मदुराई कामराज विश्वविद्यालय के कुलपति रह चुके थे। मीनाक्षीसुंदरम ने तमिल भाषा में प्राचीन काव्य तिरुक्कुरल का अंग्रेजी अनुवाद किया जो की प्रसिद्ध है। इन्हे साहित्य अकादमी ने १९७५ में साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप से सम्मानित किया थे। और भारत सरकार ने १९७७ में इन्हे पद्म भूषण से सम्मानित किया थे। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम · और देखें »

द ट्राइबल वर्ल्ड ऑफ़ वेरियर एल्विन

द ट्राइबल वर्ल्ड ऑफ़ वेरियर एल्विन अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार वेरियर एल्विन द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1965 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द ट्राइबल वर्ल्ड ऑफ़ वेरियर एल्विन · और देखें »

द ट्रॉटरनामा

द ट्रॉटरनामा अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार आई. ऍलन सीली द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द ट्रॉटरनामा · और देखें »

द एलज़ेब्रा ऑफ़ इनफिनिट जस्टिस

द एलज़ेब्रा ऑफ़ इनफिनिट जस्टिस अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरुंधती राय द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द एलज़ेब्रा ऑफ़ इनफिनिट जस्टिस · और देखें »

द पेरिशैबल एंपायर : एस्सेज़ ऑन इंडियन राइटिंग इन इंगलिश

द पेरिशैबल एंपायर: एस्सेज़ ऑन इंडियन राइटिंग इन इंगलिश अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार मीनाक्षी मुखर्जी द्वारा रचित एक निबंध है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द पेरिशैबल एंपायर : एस्सेज़ ऑन इंडियन राइटिंग इन इंगलिश · और देखें »

द महाभारत : एन इंक्वायरी इन ह्यूमन कंडिशन

द महाभारत: एन इंक्वायरी इन ह्यूमन कंडिशन अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार चतुर्वेदी बद्रीनाथ द्वारा रचित एक समालोचनात्मक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द महाभारत : एन इंक्वायरी इन ह्यूमन कंडिशन · और देखें »

द मैमरीज़ ऑफ़ द वेलफेयर स्टेट

द मैमरीज़ ऑफ़ द वेलफेयर स्टेट अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार उपमन्यु चटर्जी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द मैमरीज़ ऑफ़ द वेलफेयर स्टेट · और देखें »

द लास्ट लेबिरिंथ

द लास्ट लेबिरिंथ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरुण जोशी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द लास्ट लेबिरिंथ · और देखें »

द शैडो लाइन्स

द शैडो लाइन्स अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अमिताव घोष द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द शैडो लाइन्स · और देखें »

द सर्पेण्ट एंड द रोप

द सर्पेण्ट एंड द रोप अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार राजा राव द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द सर्पेण्ट एंड द रोप · और देखें »

द साड़ी शॉप

द साड़ी शॉप अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार रूपा बाजवा द्वारा रचित एक उपन्यास है। ये लेखिका बाजवा का प्रथम उपन्यास जो २००४ मे प्रकाशीत हुआ। इनके लिये उन्हें सन् २००६ में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द साड़ी शॉप · और देखें »

द गोल्डन गेट

द गोल्डन गेट अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार विक्रम सेठ द्वारा रचित एक छंदोबद्ध उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1988 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द गोल्डन गेट · और देखें »

द कलेक्टेड पोएम्स ऑफ़.ए.के. रामानुजन

द कलेक्टेड पोएम्स ऑफ़.ए.के.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द कलेक्टेड पोएम्स ऑफ़.ए.के. रामानुजन · और देखें »

द कीपर ऑफ़ द डेड

द कीपर ऑफ़ द डेड अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार केकी एन. दारुवाला द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द कीपर ऑफ़ द डेड · और देखें »

दत्ता दामोदर नायक

दत्ता दामोदर नायक कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह जाय काय जूय? के लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दत्ता दामोदर नायक · और देखें »

दत्तात्रेय रामचंद्र बेन्द्रे

दत्तात्रेय रामचंद्र बेन्द्रे (31 जनवरी 1896 – 26 अक्टूबर 1981) एक कन्नड साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अरलु–मरलु के लिये उन्हें सन् १९५८ में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इन्हें १९७३ में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दत्तात्रेय रामचंद्र बेन्द्रे · और देखें »

दमयंती बेश्रा

दमयंती बेश्रा संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह शाय साहेंद के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दमयंती बेश्रा · और देखें »

दर्शन दर्शी

दर्शन दर्शी डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कोरे काकल कोरियां तलियां के लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दर्शन दर्शी · और देखें »

दर्शन परिषद

दर्शन परिषद् भारत हिन्दी एवं अन्य भारतीय भाषाओं के माध्यम से मौलिक चिन्तन को बढ़ावा देने वाली एक संस्था है। इसका आरम्भ १९५४ में हुआ। इसका पूर्व नाम 'अखिल भारतीय दर्शन परिषद्' था। साहित्य के अतिरिक्त किसी अन्य विधा या विज्ञान के क्षेत्र में, हिन्दी या किसी अन्य भारतीय भाषा को माध्यम बनाने वाली यह अप्रतिम संस्था है। यह 'दार्शनिक' नामक एक त्रैमासिक पत्रिका का प्रकाशन भी करती है। परिषद् का पंजीयन 23 अगस्त 1956 को लखनऊ में स्टॉक कंपनीज़ के संयुक्त-पंजीयक ने किया। इसका पंजीयन क्रमांक हैः 1194/17304/ 211/1956। कालक्रम में उसका नवीनीकरण नहीं हो सका। अतः पंजीयन की नई नियमावली के अनुसार परिषद् का पंजीयन जबलपुर में दिनांक 12.07.2010 को ‘‘दर्शन-परिषद्’’ के नाम से सम्पन्न हुआ। इसका पंजीयनक्रमांक 04/14/01/12087/10 है। अद्यावधि परिषद् में 1500 से अधिक आजीवन सदस्य हैं तथा वर्तमान में यह देश में दर्शनशास्त्र के सर्वाधिक आजीवन सदस्यों की संस्था है। परिषद् को प्रारंभिक दिनों में प्रेरणा तथा सहयोग देने वालों में आचार्य नरेन्द्र देव, सुप्रसिद्ध साहित्यकार तथा तत्कालीन साहित्य अकादमी के उपसचिव श्री प्रभाकर माचवे तथा राजनयिक मनीषी डॉ॰ संपूर्णानन्द के नाम उल्लेखनीय हैं। परिषद् प्रारंभ से ही जनाधार एवं राष्ट्रभाषा में दार्शनिक चिंतन के उत्कर्ष को महत्वपूर्ण मानती रही है तथा शासकीय या अर्धशासकीय आलंबनों को अनावश्यक महत्व नहीं दिया गया। आज परिषद् को आर्थिक दृष्टि से सर्वाधिक सहयोग भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद् प्रदान करती है। परिषद् आज विश्व स्तर पर दर्शनशास्त्र के अंतर्राष्ट्रिय संगठन फिस्प (Federation of International Societies of Philosophy) से नवंबर, 1993 से संबद्ध है। इसके पंचवार्षिक अंतर्राष्ट्रिय अधिवेशनों में परिषद् की भागीदारी होती है। परिषद् से क्षेत्रीय दर्शनशास्त्र की कुछ संस्थायें भी सम्बद्ध हैं, यथा- बिहार दर्शन-परिषद्, मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ दर्शन-परिषद् तथा झारखण्ड दर्शन-परिषद्। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दर्शन परिषद · और देखें »

दर्शन बुट्टर

दर्शन बुट्टर पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह महा कंबनी के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दर्शन बुट्टर · और देखें »

दर्शन अने चिंतन

दर्शन अने चिंतन गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार पंडित सुखलाल द्वारा रचित एक दार्शनिक निबंध है जिसके लिये उन्हें सन् 1958 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दर्शन अने चिंतन · और देखें »

दशपदी

दशपदी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. आर. देशपांडे ‘अनिल’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दशपदी · और देखें »

दाटु

दाटु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. एल. भैरप्प द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1975 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दाटु · और देखें »

दाशरथि

दाशरथि तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह तमिरम् तो समरम् के लिये उन्हें सन् 1974 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दाशरथि · और देखें »

दाइनि?

दाइनि? बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार *मनोरंजन लाहारी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में बोडो भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दाइनि? · और देखें »

दिनेश पंचाल

दिनेश पंचाल राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह पगरवा के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दिनेश पंचाल · और देखें »

दिलीप बोरकार

दिलीप बोरकार कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत गोमांचल ते हिमालय के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दिलीप बोरकार · और देखें »

दिव्येन्दु पालित

दिव्येन्दु पालित बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अनुभव के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दिव्येन्दु पालित · और देखें »

दिका

दिका कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार देविदास रा. कदम द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दिका · और देखें »

दु पत्र

दु पत्र मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार उपेन्द्रनाथ झा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दु पत्र · और देखें »

दुमफावनि फिथा

दुमफावनि फिथा बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार अनिल कुमार ब्रह्म द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में बोडो भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दुमफावनि फिथा · और देखें »

दुर्गा भागवत

दुर्गा भागवत मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह पैस के लिये उन्हें सन् 1971 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दुर्गा भागवत · और देखें »

दुर्गास्तमान

दुर्गास्तमान कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार टी. आर. सुब्बाराव (ता. रा. सु.) द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में कन्नड़ भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दुर्गास्तमान · और देखें »

द्यावा पृथ्वी

द्यावा पृथ्वी कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार विनायक़ (वी. के. गोकाक) द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1960 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द्यावा पृथ्वी · और देखें »

द्रोह

द्रोह नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार भीम दाहाल द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द्रोह · और देखें »

द्वा सुपर्णा

द्वा सुपर्णा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सौभाग्यकुमार मिश्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द्वा सुपर्णा · और देखें »

द्वैपायन ह्रदेर धारे

द्वैपायन ह्रदेर धारे बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार सुबोध सरकार द्वारा रचित एक कविता-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और द्वैपायन ह्रदेर धारे · और देखें »

दैट लांग साइलेन्स

दैट लांग साइलेन्स अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार शशि देशपांडे द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दैट लांग साइलेन्स · और देखें »

दैवत्तिण्टे विकृतिकळ

दैवत्तिण्टे विकृतिकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. मुकुंदन द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दैवत्तिण्टे विकृतिकळ · और देखें »

दैवत्तिण्टे कण्णु

दैवत्तिण्टे कण्णु मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. पी. मुहम्मद द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दैवत्तिण्टे कण्णु · और देखें »

देलफिनि अन्‍थाह मोदाइ आरो गुबुन गुबुन खन्‍थाह

देलफिनि अन्‍थाह मोदाइ आरो गुबुन गुबुन खन्‍थाह बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार अनिल बर' द्वारा रचित एक कविता-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में बोडो भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देलफिनि अन्‍थाह मोदाइ आरो गुबुन गुबुन खन्‍थाह · और देखें »

देशबंधु डोगरा नूतन

देशबंधु डोगरा नूतन डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास क़ैदी के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देशबंधु डोगरा नूतन · और देखें »

देवनूर महादेव

देवनूर महादेव (१९४८) कन्नड़ के सुप्रसिद्ध साहित्यकार हैं। उनका जन्म कर्नाटक में नंजगुड़ा तालुक के देवनूर ग्राम में हुआ था। उनका पहला कहानी संग्रह द्यावानूरु १९७३ में प्रकाशित हुआ। १९८१ में प्रकाशित उनके उपन्यास औडालाला को भारतीय भाषा परिषद द्वारा तथा कर्नाटक सरकार द्वारा राज्योत्सव प्रशस्ति से सम्मानित किया गया है। उनके लघु उपन्यास कुसुमबाले को साहित्य अकादमी का पुरस्कार प्राप्त हुआ है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देवनूर महादेव · और देखें »

देविदास रा. कदम

देविदास रा.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देविदास रा. कदम · और देखें »

देवुडु नरसिंह शास्त्री

देवुडु नरसिंह शास्त्री कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास महाक्षत्रिय के लिये उन्हें सन् 1962 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देवुडु नरसिंह शास्त्री · और देखें »

देवेन्द्रनाथ आचार्य

देवेन्द्रनाथ आचार्य असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास जंगम के लिये उन्हें सन् 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देवेन्द्रनाथ आचार्य · और देखें »

देवेश राय

देवेश राय बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास तिस्ता पारेर वृत्तांत के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देवेश राय · और देखें »

देवोनी घाटी

देवोनी घाटी गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार भोलाभाई पटेल द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देवोनी घाटी · और देखें »

देओ लाङ्खुइ

देओ लांखुइ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार रीता चौधुरी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और देओ लाङ्खुइ · और देखें »

दो चट्टानें

दो चट्टानें हिन्दी के विख्यात साहित्यकार हरिवंश राय ‘बच्चन’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1968 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दो चट्टानें · और देखें »

दो पंक्तियों के बीच

दो पंक्तियों के बीच हिन्दी के विख्यात साहित्यकार राजेश जोशी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दो पंक्तियों के बीच · और देखें »

दो गज़ ज़मीन

दो गज़ ज़मीन उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार अब्दुस्समद द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दो गज़ ज़मीन · और देखें »

दोर्या गाज़ोता

दोर्या गाज़ोता कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. वी. पंडित द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दोर्या गाज़ोता · और देखें »

दोहा सतसई

दोहा सतसई डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार सीताराम सपोलिया द्वारा रचित एक कविता-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दोहा सतसई · और देखें »

दीनानाथ नादिम

दीनानाथ नादिम कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनका जन्म 18 मार्च 1916, श्रीनगर में हुआ एवं 7 अप्रैल 1988 को इनकी मृत्यु हुई। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह शिहिल कुल के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दीनानाथ नादिम · और देखें »

दीनू भाई पंत

दीनू भाई पंत डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक अयोधिया के लिये उन्हें सन् 1985 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दीनू भाई पंत · और देखें »

दीज़ एरर्स आर करेक्ट

दीज़ एरर्स आर करेक्ट अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार जीत थाइल द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और दीज़ एरर्स आर करेक्ट · और देखें »

धरमजुद्ध

धरमजुद्ध राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार अर्जुनदेव चारण द्वारा रचित एक नाटक–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धरमजुद्ध · और देखें »

धर्ती–अ–जो–साद

धर्ती–अ–जो–साद सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार कीरत बाबाणी द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धर्ती–अ–जो–साद · और देखें »

धर्मशास्त्र का इतिहास (पुस्तक)

धर्मशास्त्र का इतिहास (हिस्ट्री ऑफ धर्मशास्त्र) भारतरत्न पांडुरंग वामन काणे द्वारा रचित हिन्दू धर्मशास्त्र से सम्बद्ध एक इतिहास ग्रन्थ है, जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पाँच खण्डों में विभाजित एक बृहत् ग्रन्थ है। साहित्य अकादमी पुरस्कार दिये जाने तक अंग्रेजी में इसके 4 भाग ही प्रकाशित हुए थे (1953 तक)। 1963 में डॉ० पांडुरंग वामन काणे को भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारतरत्न से सम्मानित किया गया। अंतिम भाग (पंचम खंड) का लेखन 1965 में पूरा हुआ। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धर्मशास्त्र का इतिहास (पुस्तक) · और देखें »

धु्रव प्रबोधराय भट्ट

धु्रव प्रबोधराय भट्ट गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास तत्त्वमसि के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धु्रव प्रबोधराय भट्ट · और देखें »

ध्रुव ज्योति बोरा

ध्रुव ज्योति बोरा असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास कथा रत्नामकर के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ध्रुव ज्योति बोरा · और देखें »

ध्रुवपुत्र

ध्रुवपुत्र बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार अमर मित्र द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ध्रुवपुत्र · और देखें »

ध्वस्त होइत शांति स्तूप

ध्वस्त होइत शांति स्तूप मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार कीर्तिनारायण मिश्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ध्वस्त होइत शांति स्तूप · और देखें »

ध्‍यान सिंह

ध्‍यान सिंह डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता परछामें दी लोऽ के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ध्‍यान सिंह · और देखें »

धूँधभरी खींण

धूँधभरी खींण गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार वीनेश अंताणी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धूँधभरी खींण · और देखें »

धूलमणि पगलियो

धूलमणि पगलियो गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार चंद्रकांत टी. शेठ द्वारा रचित एक संस्मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धूलमणि पगलियो · और देखें »

धीरूबेन पटेल

धीरूबेन पटेल गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास आगंतुक के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धीरूबेन पटेल · और देखें »

धीरेन्द्र महेता

धीरेन्द्र महेता गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास छावणी के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और धीरेन्द्र महेता · और देखें »

न हन्यते

न हन्यते बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार मैत्रेयी देवी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और न हन्यते · और देखें »

न छ़ाय न अक्स

न छ़ाय न अक्स कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नसीम शफाई द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और न छ़ाय न अक्स · और देखें »

नट सम्राट

नट सम्राट मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार विष्णु वामन शिरवाडकर द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नट सम्राट · और देखें »

नए इलाक़े में

नए इलाक़े में हिन्दी के विख्यात साहित्यकार अरुण कमल द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नए इलाक़े में · और देखें »

नन्‍द हाङखिम

नन्‍द हाङखिम नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी सत्‍ता ग्रहण के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नन्‍द हाङखिम · और देखें »

नय छे नालान

नय छे नालान कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार रफ़ीक़ राज़ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नय छे नालान · और देखें »

नया क्षितिजको खोज

नया क्षितिजको खोज नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार असित राइ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नया क्षितिजको खोज · और देखें »

नरसिंह देव जम्वाल

नरसिंह देव जम्वाल डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास सांझी धरती बखले मानु के लिये उन्हें सन् 1978 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नरसिंह देव जम्वाल · और देखें »

नरहर रघुनाथ फाटक

नरहर रघुनाथ फाटक मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवन–चरित आदर्श भारत–सेवक के लिये उन्हें सन् 1970 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नरहर रघुनाथ फाटक · और देखें »

नरेन्द्र खजूरिया

नरेन्द्र खजूरिया डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह नीला अंबर काले बादल के लिये उन्हें सन् 1970 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नरेन्द्र खजूरिया · और देखें »

नरेन्द्रपाल सिंह

नरेन्द्रपाल सिंह पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास बा मुलाहज़ा होशिआर के लिये उन्हें सन् 1976 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नरेन्द्रपाल सिंह · और देखें »

नरेश गुहा

नरेश गुहा बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कविता संग्रह के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नरेश गुहा · और देखें »

नसीम शफाई

नसीम शफाई कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह न छ़ाय न अक्स के लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नसीम शफाई · और देखें »

ना धुप्पे ना छावें

ना धुप्पे ना छावें पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हरभजन सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ना धुप्पे ना छावें · और देखें »

ना. पार्थसारथी

ना.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ना. पार्थसारथी · और देखें »

नाटक त्रुचे

नाटक त्रुचे कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मोतीलाल केमु द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाटक त्रुचे · और देखें »

नाट्य गठरियाँ

नाट्य गठरियाँ गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार सी. सी. मेहता द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 1971 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाट्य गठरियाँ · और देखें »

नाट्यशास्त्रमु

नाट्यशास्त्रमु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार पोणांगी श्रीराम अप्पारावु द्वारा रचित एक टीका है जिसके लिये उन्हें सन् 1960 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाट्यशास्त्रमु · और देखें »

नाट्याचार्य देवल

नाट्याचार्य देवल मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. एन. बनहट्टी द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाट्याचार्य देवल · और देखें »

नातीक पत्रक उत्तर

नातीक पत्रक उत्तर मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार सुभद्र झा द्वारा रचित एक रम्य रचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नातीक पत्रक उत्तर · और देखें »

नाबोङखाउ

नाबोङखाउ मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. सी. तोम्ब्रा द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाबोङखाउ · और देखें »

नामदेव ताराचंदाणी

नामदेव ताराचंदाणी सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता-संग्रह मंश-नगरी के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नामदेव ताराचंदाणी · और देखें »

नामदेव धोंडो महानोर

नामदेव धोंडो महानोर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पानझड के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नामदेव धोंडो महानोर · और देखें »

नामदेव कांबळे

नामदेव कांबळे मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास राघववेळ के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नामदेव कांबळे · और देखें »

नारहैत्युन कज़ल वनस

नारहैत्युन कज़ल वनस कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. फ़ारूक़ नाज़की द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1995 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नारहैत्युन कज़ल वनस · और देखें »

नारायण श्याम

नारायण श्याम सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह वारी–अ–भर्यो पलांदु के लिये उन्हें सन् 1970 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नारायण श्याम · और देखें »

नारायण सिंह भाटी

नारायण सिंह भाटी (1930–2004) पुलिस अधीक्षक तथा राजस्थानी भाषा के साहित्यकार थे। 1970 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। वे 1976 से 1980 तक अजमेर के पुलिस अधीक्षक रहे। उन्हें चार बार राष्ट्रपति पुलिस पदक और 6 बार गैलेंट्री अवार्ड भी मिले। 1965 के भारत-पाक युद्ध में भी उन्होंने भाग लिया। आजादी से पहले वह जैसलमेर के कनोट के हाकम भी रहे। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नारायण सिंह भाटी · और देखें »

नाज़ी मुनव्वर

नाज़ी मुनव्वर कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना पुरसां के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाज़ी मुनव्वर · और देखें »

नागार्जुन

नागार्जुन (३० जून १९११-५ नवंबर १९९८) हिन्दी और मैथिली के अप्रतिम लेखक और कवि थे। अनेक भाषाओं के ज्ञाता तथा प्रगतिशील विचारधारा के साहित्यकार नागार्जुन ने हिन्दी के अतिरिक्त मैथिली संस्कृत एवं बाङ्ला में मौलिक रचनाएँ भी कीं तथा संस्कृत, मैथिली एवं बाङ्ला से अनुवाद कार्य भी किया। साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित नागार्जुन ने मैथिली में यात्री उपनाम से लिखा तथा यह उपनाम उनके मूल नाम वैद्यनाथ मिश्र के साथ मिलकर एकमेक हो गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नागार्जुन · और देखें »

नागेश करमली

नागेश करमली कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह वंशकुळाचें देणें के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नागेश करमली · और देखें »

नांजिल नाडन

नांजिल नाडन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह सूडिय पू सूडर्क के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नांजिल नाडन · और देखें »

नाओरेम विद्यासागर सिंह

नाओरेम विद्यासागर सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता-संग्रह खुंगं अमसुं रिफ्यूजि के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाओरेम विद्यासागर सिंह · और देखें »

नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह

नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह लांथेंनरिब लान्मी के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह · और देखें »

नि:शब्द

नि:शब्द नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार मोहन ठकुरी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नि:शब्द · और देखें »

नित्यांनद महापात्र

नित्यांनद महापात्र ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास घरडीह के लिये उन्हें सन् 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नित्यांनद महापात्र · और देखें »

निदा फ़ाज़ली

मुक़्तदा हसन निदा फ़ाज़ली या मात्र निदा फ़ाज़ली (ندا فاضلی.) हिन्दी और उर्दू के मशहूर शायर थे इनका निधन ०८ फ़रवरी २०१६ को मुम्बई में निधन हो गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निदा फ़ाज़ली · और देखें »

नियति

नियति नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार इंद्र सुंदास द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नियति · और देखें »

निराला की साहित्य साधना

निराला की साहित्य साधना हिन्दी के विख्यात साहित्यकार रामविलास शर्मा द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1970 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निराला की साहित्य साधना · और देखें »

निरवाण

निरवाण पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार मनमोहन द्वारा रचित एक उपन्‍यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निरवाण · और देखें »

निरंजन सिंह तसनीम

निरंजन सिंह तसनीम पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास गवाचे अरथ के लिये उन्हें सन् 1999 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निरंजन सिंह तसनीम · और देखें »

निरुपमा बरगोहाइँ

निरुपमा बरगोहाइँ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अभिजात्री के लिये उन्हें सन् 1996 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निरुपमा बरगोहाइँ · और देखें »

निर्झरिणी

निर्झरिणी विख्यात संस्कृत साहित्यकार भास्कराचार्य त्रिपाठी द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निर्झरिणी · और देखें »

निर्मल वर्मा

निर्मल वर्मा निर्मल वर्मा (३ अप्रैल १९२९- २५ अक्तूबर २००५) हिन्दी के आधुनिक कथाकारों में एक मूर्धन्य कथाकार और पत्रकार थे। शिमला में जन्मे निर्मल वर्मा को मूर्तिदेवी पुरस्कार (१९९५), साहित्य अकादमी पुरस्कार (१९८५) उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान पुरस्कार और ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। परिंदे (१९५८) से प्रसिद्धि पाने वाले निर्मल वर्मा की कहानियां अभिव्यक्ति और शिल्प की दृष्टि से बेजोड़ समझी जाती हैं। ब्रिटिश भारत सरकार के रक्षा विभाग में एक उच्च पदाधिकारी श्री नंद कुमार वर्मा के घर जन्म लेने वाले आठ भाई बहनों में से पांचवें निर्मल वर्मा की संवेदनात्मक बुनावट पर हिमांचल की पहाड़ी छायाएं दूर तक पहचानी जा सकती हैं। हिन्दी कहानी में आधुनिक-बोध लाने वाले कहानीकारों में निर्मल वर्मा का अग्रणी स्थान है। उन्होंने कम लिखा है परंतु जितना लिखा है उतने से ही वे बहुत ख्याति पाने में सफल हुए हैं। उन्होंने कहानी की प्रचलित कला में तो संशोधन किया ही, प्रत्यक्ष यथार्थ को भेदकर उसके भीतर पहुंचने का भी प्रयत्न किया है। हिन्दी के महान साहित्यकारों में से अज्ञेय और निर्मल वर्मा जैसे कुछ ही साहित्यकार ऐसे रहे हैं जिन्होंने अपने प्रत्यक्ष अनुभवों के आधार पर भारतीय और पश्चिम की संस्कृतियों के अंतर्द्वन्द्व पर गहनता एवं व्यापकता से विचार किया है।। सृजन शिल्पी। ७ अक्टूबर २००६ .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निर्मल वर्मा · और देखें »

निर्मलाप्रभा बारदोलोइ

निर्मलाप्रभा बारदोलोइ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सुदीर्घ दिन अरु ऋतु के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निर्मलाप्रभा बारदोलोइ · और देखें »

निशि–कुटुंब

निशि–कुटुंब बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार मनोज बसु द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निशि–कुटुंब · और देखें »

निष़लान

निष़लान मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ओळप्पमण्ण सुब्रह्मण्यन नंपूतिरिपाद द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निष़लान · और देखें »

निसंस्मरण

निसंस्मरण नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार रामलाल अधिकारी द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निसंस्मरण · और देखें »

निघे रंग

निघे रंग डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार वीरेन्द्र केसर द्वारा रचित एक ग़ज़ल–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निघे रंग · और देखें »

निङोम्बम सुनिता

निङोम्बम सुनिता मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह खोङजि मखोल के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और निङोम्बम सुनिता · और देखें »

नज़र और नज़रिया

नज़र और नज़रिया उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार आले अहमद सुरूर द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नज़र और नज़रिया · और देखें »

नई आरपारि

नई आरपारि ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार भानुजी राव द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नई आरपारि · और देखें »

नवनीता

नवनीता बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार नवनीता देव सेन द्वारा रचित एक काव्य और कथा–साहित्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवनीता · और देखें »

नवनीता देव सेन

नवनीता देव सेन बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक काव्य और कथा–साहित्य नवनीता के लिये उन्हें सन् 1999 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवनीता देव सेन · और देखें »

नवाए–आवारा

नवाए–आवारा उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार ग़ुलाम रब्बानी ताबाँ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवाए–आवारा · और देखें »

नवारुण भट्टाचार्य

नवारुण भट्टाचार्य बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास हरबर्ट के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवारुण भट्टाचार्य · और देखें »

नवें युग दे वारिस

नवें युग दे वारिस पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार महिन्दर सिंह सरना द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवें युग दे वारिस · और देखें »

नवें लोक

नवें लोक पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार कुलवंत सिंह विर्क द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1968 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नवें लोक · और देखें »

नगेन सइकीया

नगेन सइकीया असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह आंधारत निजरमुख के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नगेन सइकीया · और देखें »

नगेन्द्रमणि प्रधान

नगेन्द्रमणि प्रधान नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनी डॉ॰ पारसमणिको जीवनयात्रा के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नगेन्द्रमणि प्रधान · और देखें »

नगीनदास पारीख

नगीनदास पारीख गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना अभिनवानो रसविचार के लिये उन्हें सन् 1970 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नगीनदास पारीख · और देखें »

नंद भारद्वाज

नंद भारद्वाज राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास सांम्ही खुलतौ मारग के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नंद भारद्वाज · और देखें »

नंगबु ङाइबदा

नंगबु ङाइबदा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार क्षेत्रि वीर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नंगबु ङाइबदा · और देखें »

नंगा रुख

नंगा रुख डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ओ. पी. शर्मा ‘सारथी’ द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नंगा रुख · और देखें »

नक्षत्रांचे देणे

नक्षत्रांचे देणे मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार सी. टी. खानोलकर (आरती प्रभु) द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नक्षत्रांचे देणे · और देखें »

नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि

नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार यूमलेम्बम इबोमचा सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि · और देखें »

नौरोज़–ए–सबा

नौरोज़–ए–सबा कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. रहमान राही द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1961 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नौरोज़–ए–सबा · और देखें »

नृसिंह राजपुरोहित

नृसिंह राजपुरोहित राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह अधूरा सुपना के लिये उन्हें सन् 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नृसिंह राजपुरोहित · और देखें »

नैनमल जैन

नैनमल जैन राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सगलोरी पीडा स्वातमेघ के लिये उन्हें सन् 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नैनमल जैन · और देखें »

नैका बनिजारा

नैका बनिजारा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार ब्रजकिशोर वर्मा ‘मणिपद्म’ द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1973 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नैका बनिजारा · और देखें »

नूंगशिबी ग्रीस

नूंगशिबी ग्रीस मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार शरतचंद थियम द्वारा रचित एक यात्रा–संस्मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नूंगशिबी ग्रीस · और देखें »

नेपाली उपन्यास का आधारहरू

नेपाली उपन्यास का आधारहरू नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार इंद्रबहादुर राई द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नेपाली उपन्यास का आधारहरू · और देखें »

नेमनारायण जोशी

नेमनारायण जोशी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक संस्मरण ओळूंरी अखियातां के लिये उन्हें सन् 1996 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नेमनारायण जोशी · और देखें »

नॉथोम्बम बीरेन सिंह

नॉथोम्बम बीरेन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह मपाल नाइदबसिदा ऐ के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नॉथोम्बम बीरेन सिंह · और देखें »

नोडदी तरक–खिदरे

नोडदी तरक–खिदरे मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार कीशम प्रियकुमार द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नोडदी तरक–खिदरे · और देखें »

नीरद चंद्र चौधरी

नीरद चंद्र चौधुरी (बंगला: নীরদ চন্দ্র চৌধুরী नीरदचन्द्र चौधुरी; 23 नवम्बर 1897 – 1 अगस्त 1999) बंगाल के एक विद्वान एवं अंग्रेजी-लेखक थे। इनके द्वारा रचित एक जीवनी स्कॉलर एक्स्ट्राऑर्डिनरी के लिये उन्हें सन् 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीरद चंद्र चौधरी · और देखें »

नीरजा रेणु (कामाख्या देवी)

नीरजा रेणु (कामाख्या देवी) मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह ऋतंभरा के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीरजा रेणु (कामाख्या देवी) · और देखें »

नीरेन्द्रनाथ चक्रवर्ती

नीरेन्द्रनाथ चक्रवर्ती (जन्म १९ अक्टूबर १९२४) बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह उलंग राजा के लिये उन्हें सन् १९७४ में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हे २०१६ में साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीरेन्द्रनाथ चक्रवर्ती · और देखें »

नील पद्मनाभन

नील पद्मनाभन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास इलै उदीर कालम के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नील पद्मनाभन · और देखें »

नील शैल

नील शैल ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सुरेन्द्र मोहांती द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नील शैल · और देखें »

नीलमणि फूकन (वरिष्ठ)

नीलमणि फूकन (१८७९ - १९७८) एक असमिया लेखक, कवि और स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्हे १९७३ में साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप प्रदान हुई, जो भारत के साहित्य अकादमी द्वारा प्रदान किया जानेवाला सर्वोच्च सम्मान है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीलमणि फूकन (वरिष्ठ) · और देखें »

नीलमणि फूकन (कनिष्ठ)

नीलमणि फूकन (कनिष्ठ) असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कविता के लिये उन्हें सन् 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीलमणि फूकन (कनिष्ठ) · और देखें »

नीला चाँद

नीला चाँद हिन्दी के विख्यात साहित्यकार शिवप्रसाद सिंह द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीला चाँद · और देखें »

नीला अंबर काले बादल

नीला अंबर काले बादल डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नरेन्द्र खजूरिया द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1970 में डोगरी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीला अंबर काले बादल · और देखें »

नीलाभ अश्क

नीलाभ अश्क (१६ अगस्त १९४५ - २३ जुलाई २०१६) एक भारतीय हिंदी कवि, पत्रकार और अनुवादक थे। उन्होंने विभिन्न कविता संग्रह प्रकाशित किए। वह कई उल्लेखनीय लेखकों के साहित्य के अनुवाद के लिए जाने जाते हैं, जैसे की अरुंधति राय, सलमान रुश्दी, विलियम शेक्सपीयर, बर्तोल्त ब्रेख्त, और मिखाइल लर्मोन्टोव। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीलाभ अश्क · और देखें »

नीलवीर शर्मा शास्त्री

नीलवीर शर्मा शास्त्री मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह तत्खवा पुन्सी–लैपुल के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीलवीर शर्मा शास्त्री · और देखें »

नीलकंठ दास

नीलकंठ दास ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा आत्मजीवनी के लिये उन्हें सन् 1964 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीलकंठ दास · और देखें »

नीळें नीळें ब्र्रह्म

नीळें नीळें ब्र्रह्म कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार शंकर रामानी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीळें नीळें ब्र्रह्म · और देखें »

नीहाररंजन राय

नीहाररंजन राय अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक रवीन्द्रनाथ का अध्ययन एन आर्टिस्ट इन लाइफ़ के लिये उन्हें सन् 1969 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और नीहाररंजन राय · और देखें »

पठानी पट्टनायक

पठानी पट्टनायक ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा जीबनर चलपथे के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पठानी पट्टनायक · और देखें »

पणजी आतम म्हातारी जाल्या

पणजी आतम म्हातारी जाल्या कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरविन्द एन. मांब्रो द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पणजी आतम म्हातारी जाल्या · और देखें »

पत्थर फेंक रहा हूँ

पत्थर फेंक रहा हूँ हिन्दी के विख्यात साहित्यकार चंद्रकांत देवताले द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पत्थर फेंक रहा हूँ · और देखें »

पद्मावत : संजीवनी व्याख्या

पद्मावत: संजीवनी व्याख्या हिन्दी के विख्यात साहित्यकार वासुदेवशरण अग्रवाल द्वारा रचित एक टीका है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पद्मावत : संजीवनी व्याख्या · और देखें »

पब्बी

पब्बी पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रभजोत कौर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पब्बी · और देखें »

पयस्विनी

पयस्विनी मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार सुरेन्द्र झा ‘सुमन’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1971 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पयस्विनी · और देखें »

पय्यनकथकळ

पय्यनकथकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार वी. के. एन. (तिरुविल्वलम) द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पय्यनकथकळ · और देखें »

परतविस्तान

परतविस्तान कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मरग़ूब बानिहाली द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परतविस्तान · और देखें »

परम ए. अबीचंदाणी

परम ए. अबीचंदाणी सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना तक तोर के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परम ए. अबीचंदाणी · और देखें »

परशुराम (राजशेखर बोस)

परशुराम (राजशेखर बोस) बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह आनंदीबाई इत्यादि गल्प के लिये उन्हें सन् 1958 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परशुराम (राजशेखर बोस) · और देखें »

परिन्दों भरा आसमान

परिन्दों भरा आसमान उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार बलराज कोमल द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परिन्दों भरा आसमान · और देखें »

परछामें दी लोऽ

परछामें दी लोऽ डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ध्‍यान सिंह द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परछामें दी लोऽ · और देखें »

पर्यवेक्षण

पर्यवेक्षण नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार जीवन नामदुंग द्वारा रचित एक साहित्य–समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पर्यवेक्षण · और देखें »

परीघ

परीघ कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार शशांक सीताराम द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में कोंकणी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और परीघ · और देखें »

पल पल जो परलाओ

पल पल जो परलाओ सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार हरि दरयाणी ‘दिलगीर’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पल पल जो परलाओ · और देखें »

पसिझैत पाथर

पसिझैत पाथर मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार रामदेव झा द्वारा रचित एक नाटक–संकलन है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पसिझैत पाथर · और देखें »

पाचा मेहताई

पाचा मेहताई मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास इंफ़ाल अमासुङ मागी नुङशित्की फिबम इशिंग के लिये उन्हें सन् 1973 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पाचा मेहताई · और देखें »

पाटदेई

पाटदेई ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार वीणापाणि मोहांती द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पाटदेई · और देखें »

पाटकाईर ईपारे मोर देश

पाटकाईर ईपारे मोर देश असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार चन्दना गोस्वामी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पाटकाईर ईपारे मोर देश · और देखें »

पाणिनीय प्रद्योतम्

पाणिनीय प्रद्योतम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार *आई. सी. चाको द्वारा रचित एक टीका है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में मलयालम भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पाणिनीय प्रद्योतम् · और देखें »

पाताल भैरवी (असमिया उपन्यास)

पाताल भैरवी असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार लक्ष्मीनंदन बोरा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1988 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पाताल भैरवी (असमिया उपन्यास) · और देखें »

पानझड

पानझड मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार नामदेव धोंडो महानोर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पानझड · और देखें »

पारसी खातिर

पारसी खातिर संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार रबिलाल टुडू द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में संताली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पारसी खातिर · और देखें »

पागल लोक

पागल लोक पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार कपूर सिंह घुम्मन द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पागल लोक · और देखें »

पागली तोमार संगे

पागली तोमार संगे बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार जय गोस्वामी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पागली तोमार संगे · और देखें »

पागी

पागी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार चंद्रप्रकाश देवल द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पागी · और देखें »

पांडुरंग राजाराम शनै मांगी

पांडुरंग राजाराम शनै मांगी कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह चांफेल्ली सांज के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पांडुरंग राजाराम शनै मांगी · और देखें »

पांडुरंग वामन काणे

पांडुरंग वामन काणे (७ मई १८८०, दापोली, रत्नागिरि - १९७२) संस्कृत के एक विद्वान्‌ एवं प्राच्यविद्याविशारद थे। उन्हें १९६३ में भारत रत्न से सम्मानित किया गया। काणे ने अपने विद्यार्थी जीवन के दौरान संस्कृत में नैपुण्य एवं विशेषता के लिए सात स्वर्णपदक प्राप्त किए और संस्कृत में एम.एस.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पांडुरंग वामन काणे · और देखें »

पांगल शोनबी ऐशे

पांगल शोनबी ऐशे मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. नबकिशोर सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पांगल शोनबी ऐशे · और देखें »

पिचिरान्दयार

पिचिरान्दयार तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार भारतीदासन द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में तमिल भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पिचिरान्दयार · और देखें »

पिता–पुत्र (असमिया उपन्यास)

पिता–पुत्र (असमिया उपन्यास) असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार होमेन बरगोहाइँ द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पिता–पुत्र (असमिया उपन्यास) · और देखें »

पिया मन भाबे

पिया मन भाबे बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार उत्‍पल कुमार बसु द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पिया मन भाबे · और देखें »

पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा

पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ई. दिनमणि सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा · और देखें »

पिछले मौसम का फूल

पिछले मौसम का फूल उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार मज़हर इमाम द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पिछले मौसम का फूल · और देखें »

पखेरू

पखेरू उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार रामलाल द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पखेरू · और देखें »

पगफेरो

पगफेरो राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार मणि मधुकर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1975 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पगफेरो · और देखें »

पगरवा

पगरवा राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार दिनेश पंचाल द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पगरवा · और देखें »

पंचाशटि गल्प

पंचाशटि गल्प बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार अतीन बंद्योपाध्याय द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पंचाशटि गल्प · और देखें »

पंडित परमेश्वर शास्त्री वीलुनामा

पंडित परमेश्वर शास्त्री वीलुनामा तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार टी. गोपीचंद द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पंडित परमेश्वर शास्त्री वीलुनामा · और देखें »

पंढरीनाथाचार्य गलगली

पंढरीनाथाचार्य गलगली संस्कृत भाषा के प्रतिष्ठित साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनी श्री शंबुलिंगेश्वर विजयचंपू के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पंढरीनाथाचार्य गलगली · और देखें »

पंदरां क्हानियां

पंदरां क्हानियां डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मनोज द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2010 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पंदरां क्हानियां · और देखें »

पक्खी

पक्खी पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार संतोख सिंह धीर द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पक्खी · और देखें »

पु. ति. नरसिम्हाचार

पु.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पु. ति. नरसिम्हाचार · और देखें »

पुदिय दरिशनंगळ

पुदिय दरिशनंगळ तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार पोन्नीलन (कंदेश्वर भक्तवत्सलम्) द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुदिय दरिशनंगळ · और देखें »

पुदिय उरइ नडइ

पुदिय उरइ नडइ तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. रामलिंगम् द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुदिय उरइ नडइ · और देखें »

पुदुकवितयिन तोट्ट्रमुम् वलर्चियुम

पुदुकवितयिन तोट्ट्रमुम् वलर्चियुम तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार वल्लिकण्णन द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुदुकवितयिन तोट्ट्रमुम् वलर्चियुम · और देखें »

पुनत्तिल कुंञ्जब्दुल्ला

पुनत्तिल कुंंजब्दुल्ला मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास स्मारक सिलाकल के लिये उन्हें सन् 1980 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुनत्तिल कुंञ्जब्दुल्ला · और देखें »

पुन्सीगी मरुद्यान

पुन्सीगी मरुद्यान मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरांबम बीरेन सिंह द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुन्सीगी मरुद्यान · और देखें »

पुन–ते–पाप

पुन–ते–पाप कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार गुलाम नबी गौहर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1988 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुन–ते–पाप · और देखें »

पुरसां

पुरसां कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नाज़ी मुनव्वर द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुरसां · और देखें »

पुरवी बरमुदै

पुरवी बरमुदै असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास शान्तनुकुलनन्दन के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुरवी बरमुदै · और देखें »

पुरुषोत्तमुडु

पुरुषोत्तमुडु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार चिटिप्रोलु कृष्णमूर्ति द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुरुषोत्तमुडु · और देखें »

पुलां तों पार

पुलां तों पार पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हरभजन सिंह हलवारवी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुलां तों पार · और देखें »

पुष्पलाल उपाध्याय

पुष्पलाल उपाध्याय नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह उषा मंजरी के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुष्पलाल उपाध्याय · और देखें »

पुवियरसु

पुवियरसु तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कैयोप्पम के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुवियरसु · और देखें »

पुंडलीक नारायण नायक

पुंडलीक नारायण नायक कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक एकांकी चौरंग के लिये उन्हें सन् 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पुंडलीक नारायण नायक · और देखें »

प्यार जी प्यास

प्यार जी प्यास सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार गोविन्द माल्ही द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1973 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्यार जी प्यास · और देखें »

प्रतानिनी

प्रतानिनी विख्यात संस्कृत साहित्यकार बच्चूलाल अवस्थी द्वारा रचित एक कविता–संकलन है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रतानिनी · और देखें »

प्रतिपात्रम भाषणभेदम्

प्रतिपात्रम भाषणभेदम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. कृष्ण पिळ्ळै द्वारा रचित एक समालोचनात्मक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रतिपात्रम भाषणभेदम् · और देखें »

प्रतिभा शतपथी

प्रतिभा शतपथी ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह तन्मय धूलि के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रतिभा शतपथी · और देखें »

प्रतिज्ञा पांडव

प्रतिज्ञा पांडव मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार बबुआजी झा ‘अज्ञात’ द्वारा रचित एक प्रबंधकाव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में मैथिली भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रतिज्ञा पांडव · और देखें »

प्रद्युम्न सिंह जिन्द्राहिया

प्रद्युम्न सिंह जिन्द्राहिया डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह गीत सरोवर के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रद्युम्न सिंह जिन्द्राहिया · और देखें »

प्रदीप बिहारी

प्रदीप बिहारी मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह सरोकार के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रदीप बिहारी · और देखें »

प्रपंचन

प्रपंचन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास वानम वसप्पडुम के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रपंचन · और देखें »

प्रफुल्ल राय

प्रफुल्ल राय बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास क्रान्तिकाल के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रफुल्ल राय · और देखें »

प्रफुल्ल कुमार मोहांती

प्रफुल्ल कुमार मोहांती ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रफुल्ल कुमार मोहांती · और देखें »

प्रभास कुमार चौधुरी

प्रभास कुमार चौधुरी मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह प्रभासक कथा के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रभास कुमार चौधुरी · और देखें »

प्रभासक कथा

प्रभासक कथा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रभास कुमार चौधुरी द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रभासक कथा · और देखें »

प्रभाकर पाध्ये

प्रभाकर पाध्ये मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना सौन्दर्यानुभाव के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रभाकर पाध्ये · और देखें »

प्रभाकर वामन ऊर्ध्वेरेषे

प्रभाकर वामन ऊर्ध्वेरेषे मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा हरवलेले दिवस के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रभाकर वामन ऊर्ध्वेरेषे · और देखें »

प्रभजोत कौर

प्रभजोत कौर पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पब्बी के लिये उन्हें सन् 1964 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रभजोत कौर · और देखें »

प्रमोद कुमार मोहांती

प्रमोद कुमार मोहांती ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह असरंती अणसर के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रमोद कुमार मोहांती · और देखें »

प्रल्लयगी मेरि रक्तगी

प्रल्लयगी मेरि रक्तगी मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. के. मधुबीर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रल्लयगी मेरि रक्तगी · और देखें »

प्रशस्यमित्र शास्त्री

प्रशस्यमित्र शास्त्री संस्कृत भाषा के प्रतिष्ठित साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह अनभीप्सितम् के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रशस्यमित्र शास्त्री · और देखें »

प्रियकांत मणियार

प्रियकांत मणियार गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह लिलेरो ढल के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रियकांत मणियार · और देखें »

प्रकाश दामोदर पाडगाँवकर

प्रकाश दामोदर पाडगाँवकर कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह हन्व मोनिस अश्वत्थामो के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रकाश दामोदर पाडगाँवकर · और देखें »

प्रकाश प्रेमी

प्रकाश प्रेमी डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य बेद्दन धरती दी के लिये उन्हें सन् 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रकाश प्रेमी · और देखें »

प्रकृतिचो पास

प्रकृतिचो पास कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार मेल्विन रोड्रीगस द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रकृतिचो पास · और देखें »

प्रेम प्रधान

प्रेम प्रधान नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास उदासीन रूखहरू के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेम प्रधान · और देखें »

प्रेम प्रकाश

प्रेम प्रकाश पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह कुझ अनकहा वी के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेम प्रकाश · और देखें »

प्रेमचंद : क़लम का सिपाही

प्रेमचंद: क़लम का सिपाही हिन्दी के विख्यात साहित्यकार अमृत राय द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेमचंद : क़लम का सिपाही · और देखें »

प्रेमानंद मोसाहारी

प्रेमानंद मोसाहारी बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अखाफोरनि दैमा के लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेमानंद मोसाहारी · और देखें »

प्रेमजी प्रेम

प्रेमजी प्रेम राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संकलन म्हारी कवितावां के लिये उन्हें सन् 1991 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेमजी प्रेम · और देखें »

प्रेमेन्द्र मित्र

प्रेमेन्द्र मित्र बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सागर थेके फेरा के लिये उन्हें सन् 1957 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रेमेन्द्र मित्र · और देखें »

प्रीतम सिंह सफ़ीर

प्रीतम सिंह सफ़ीर पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अनिक विसथार के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और प्रीतम सिंह सफ़ीर · और देखें »

पृथ्वीवीर असुख

पृथ्वीवीर असुख असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार जोगेश दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पृथ्वीवीर असुख · और देखें »

पैस

पैस मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार दुर्गा भागवत द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1971 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पैस · और देखें »

पूमणि

पूमणि तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्‍यास अंजाडि के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पूमणि · और देखें »

पूर्णमिदम्

पूर्णमिदम् राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार लक्ष्मीनारायण रंगा द्वारा रचित एक रंग–नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पूर्णमिदम् · और देखें »

पूर्णिमा वर्मन

पूर्णिमा वर्मन (जन्म २७ जून १९५५, पीलीभीत, उत्तर प्रदेश), जाल-पत्रिका अभिव्यक्ति और अनुभूति की संपादक है। पत्रकार के रूप में अपना कार्यजीवन प्रारंभ करने वाली पूर्णिमा का नाम वेब पर हिंदी की स्थापना करने वालों में अग्रगण्य है। उन्होंने प्रवासी तथा विदेशी हिंदी लेखकों को प्रकाशित करने तथा अभिव्यक्ति में उन्हें एक साझा मंच प्रदान करने का महत्वपूर्ण काम किया है। माइक्रोसॉफ़्ट का यूनिकोडित हिंदी फॉण्ट आने से बहुत पहले हर्ष कुमार द्वारा निर्मित सुशा फॉण्ट द्वारा उनकी जाल पत्रिकाएँ अभिव्यक्ति तथा अनुभूति अंतर्जाल पर प्रतिष्ठित होकर लोकप्रियता प्राप्त कर चुकी थीं। वेब पर हिंदी को लोकप्रिय बनाने के अपने प्रयत्नों के लिए उन्हें २००६ में भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, साहित्य अकादमी तथा अक्षरम के संयुक्त अलंकरण अक्षरम प्रवासी मीडिया सम्मान, २००८ में रायपुर छत्तीसगढ़ की संस्था सृजन सम्मान द्वारा हिंदी गौरव सम्मान, दिल्ली की संस्था जयजयवंती द्वारा जयजयवंती सम्मान तथा केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के पद्मभूषण डॉ॰ मोटूरि सत्यनारायण पुरस्कारसे विभूषित किया जा चुका है। उनके तीन कविता संग्रह "पूर्वा", "वक्त के साथ" और "चोंच में आकाश" नाम से प्रकाशित हुए हैं। संप्रति शारजाह, संयुक्त अरब इमारात में निवास करने वाली पूर्णिमा वर्मन हिंदी के अंतरराष्ट्रीय विकास के अनेक कार्यों से जुड़ी हुई हैं। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पूर्णिमा वर्मन · और देखें »

पेद्दीबोटला सुब्बरामय्या कथाळु

पेद्दीबोटला सुब्बरामय्या कथाळु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार पी. सुब्बरामय्या द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पेद्दीबोटला सुब्बरामय्या कथाळु · और देखें »

पॉल ज़करिया

पॉल ज़करिया मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह ज़करियायुटे कथकळ के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पॉल ज़करिया · और देखें »

पोणांगी श्रीराम अप्पारावु

पोणांगी श्रीराम अप्पारावु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक टीका नाट्यशास्त्रमु के लिये उन्हें सन् 1960 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पोणांगी श्रीराम अप्पारावु · और देखें »

पोन्नीलन (कंदेश्वर भक्तवत्सलम्)

पोन्नीलन (कंदेश्वर भक्तवत्सलम्) तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास पुदिय दरिशनंगळ के लिये उन्हें सन् 1994 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पोन्नीलन (कंदेश्वर भक्तवत्सलम्) · और देखें »

पोपटी आर. हीरानंदाणी

पोपटी आर.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पोपटी आर. हीरानंदाणी · और देखें »

पी. नारायणाचार्य

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. नारायणाचार्य · और देखें »

पी. पद्मराजु

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. पद्मराजु · और देखें »

पी. बी. पंडित

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. बी. पंडित · और देखें »

पी. लंकेश

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. लंकेश · और देखें »

पी. श्रीरामचंद्रुडु

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. श्रीरामचंद्रुडु · और देखें »

पी. श्रीआचार्य

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. श्रीआचार्य · और देखें »

पी. सुब्बरामय्या

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. सुब्बरामय्या · और देखें »

पी. सी. कुट्टिकृष्णन उरूब

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. सी. कुट्टिकृष्णन उरूब · और देखें »

पी. वाई. देशपाण्डे

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. वाई. देशपाण्डे · और देखें »

पी. कुण्हिरमन नायर

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. कुण्हिरमन नायर · और देखें »

पी. के. नारायण पिळ्ळै

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. के. नारायण पिळ्ळै · और देखें »

पी. केशवदेव

पी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी. केशवदेव · और देखें »

पी.सी. देवसिया

पी.सी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पी.सी. देवसिया · और देखें »

पीसोलिम

पीसोलिम कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार मनोहर सरदेसाई द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और पीसोलिम · और देखें »

फटफटियुं

फटफटियुं गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार सुमन शाह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में गुजराती भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फटफटियुं · और देखें »

फनि मोहांती

फनि मोहांती ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह मृगया के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फनि मोहांती · और देखें »

फ़ायर एरिया

फ़ायर एरिया उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार इलयास अहमद गद्दी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फ़ायर एरिया · और देखें »

फ़ायर ऑन द माउंटेन

फ़ायर ऑन द माउंटेन अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अनीता देसाई द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फ़ायर ऑन द माउंटेन · और देखें »

फ़ाजिल कश्मीरी (ग़ुलाम अहमद फ़ाजिल)

फ़ाजिल कश्मीरी (ग़ुलाम अहमद फ़ाजिल) कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह काशुर सरमाये के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फ़ाजिल कश्मीरी (ग़ुलाम अहमद फ़ाजिल) · और देखें »

फ़ाइनल सॉल्यूशन्स एंड अदर प्लेज़

फ़ाइनल सॉल्यूशन्स एंड अदर प्लेज़ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार महेश दत्तानी द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फ़ाइनल सॉल्यूशन्स एंड अदर प्लेज़ · और देखें »

फ़िराक़ गोरखपुरी

फिराक गोरखपुरी (मूल नाम रघुपति सहाय) (२८ अगस्त १८९६ - ३ मार्च १९८२) उर्दू भाषा के प्रसिद्ध रचनाकार है। उनका जन्म गोरखपुर, उत्तर प्रदेश में कायस्थ परिवार में हुआ। इनका मूल नाम रघुपति सहाय था। रामकृष्ण की कहानियों से शुरुआत के बाद की शिक्षा अरबी, फारसी और अंग्रेजी में हुई। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फ़िराक़ गोरखपुरी · और देखें »

फिनिक्सच्या राखेतून उठला मोर

फिनिक्सच्या राखेतून उठला मोर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार जयंत पवार द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फिनिक्सच्या राखेतून उठला मोर · और देखें »

फुल्ल बिना डाली

फुल्ल बिना डाली डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार श्रीवत्स विकल द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1972 में डोगरी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और फुल्ल बिना डाली · और देखें »

बच्चूलाल अवस्थी

बच्चूलाल अवस्थी संस्कृत भाषा के प्रतिष्ठित साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संकलन प्रतानिनी के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बच्चूलाल अवस्थी · और देखें »

बदनामी दी छां

बदनामी दी छां डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार रामनाथ शास्त्री द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बदनामी दी छां · और देखें »

बदुकु

बदुकु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार गीता नागभूषण द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बदुकु · और देखें »

बद्दली कलावे

बद्दली कलावे डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ज्ञानेश्वर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बद्दली कलावे · और देखें »

बने आज कनचेर्टो

बने आज कनचेर्टो बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार मनींद्र गुप्ता द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बने आज कनचेर्टो · और देखें »

बबुआजी झा अज्ञात

बबुआजी झा अज्ञात मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक प्रबंधकाव्य प्रतिज्ञा पांडव के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बबुआजी झा अज्ञात · और देखें »

बरसण रा देगोडा डूंगर लाँघिया

बरसण रा देगोडा डूंगर लाँघिया राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार नारायण सिंह भाटी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बरसण रा देगोडा डूंगर लाँघिया · और देखें »

बर्फ जो ठहेयलु

बर्फ जो ठहेयलु सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार वासदेव मोही द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बर्फ जो ठहेयलु · और देखें »

बर’ खन्थाय

बर’ खन्थाय बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार गुणेश्वर मोसाहारी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में बोडो भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बर’ खन्थाय · और देखें »

बलराज कोमल

राज कोमल उर्दू के एक प्रसिद्ध शायर थे। उनका जन्म 25 सितंबर 1928 को सियालकोट (वर्तमान में पाकिस्तान) में हुआ था। देश के विभाजन के बाद उन्होंने दिल्ली को ही अपना निवास स्थल और कर्म भूमि बनाया था। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बलराज कोमल · और देखें »

बलिवड कांता राव

बलिवड कांता राव तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह बलिवड कांता राव कतलु के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बलिवड कांता राव · और देखें »

बलिवड कांता राव कतलु

बलिवड कांता राव कतलु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार बलिवड कांता राव द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बलिवड कांता राव कतलु · और देखें »

बलवंत गार्गी

बलवंत गार्गी पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक भारतीय रंगमंच का उद्भव और विकास रंगमंच के लिये उन्हें सन् 1962 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बलवंत गार्गी · और देखें »

बशीर : एकांत वीधिपिले अवधूतन

बशीर: एकांत वीधिपिले अवधूतन मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम.के. सानू द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बशीर : एकांत वीधिपिले अवधूतन · और देखें »

बशीर भद्रवाही

बशीर भद्रवाही कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना जमिस त कशीरी मंज कशीर नातिया अदबुक तवारिख के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बशीर भद्रवाही · और देखें »

बहुरूपी

बहुरूपी मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार चिंतामणि राव कोल्हटकर द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1958 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बहुरूपी · और देखें »

बा मुलाहज़ा होशिआर

बा मुलाहज़ा होशिआर पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार नरेन्द्रपाल सिंह द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में पंजाबी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बा मुलाहज़ा होशिआर · और देखें »

बाँका ओर सीधा

बाँका ओर सीधा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार *गोदावरीश महापात्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में ओड़िया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाँका ओर सीधा · और देखें »

बाणी बसु

बाणी बसु बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास खना मिहिरेर ढिपि के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाणी बसु · और देखें »

बातां री फुलवारी

बातां री फुलवारी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार विजयदान देथा द्वारा रचित एक लोककथाएँ है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बातां री फुलवारी · और देखें »

बादल हेम्ब्रम

बादल हेम्ब्रम संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह मानमि के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बादल हेम्ब्रम · और देखें »

बादे सबा का इंतिज़ार

बादे सबा का इंतिज़ार उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार सैयद मुहम्मद अशरफ़ द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बादे सबा का इंतिज़ार · और देखें »

बानप्रस्‍थ

बानप्रस्‍थ ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार विजय मिश्र द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बानप्रस्‍थ · और देखें »

बाबरेर प्रार्थना

बाबरेर प्रार्थना बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार शंख घोष द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाबरेर प्रार्थना · और देखें »

बायदि देंखो बायदि गाब

बायदि देंखो बायदि गाब बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार ब्रजेन्‍द्र कुमार ब्रह्म द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में बोडो भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बायदि देंखो बायदि गाब · और देखें »

बारोमास

बारोमास मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार सदानंद नामदेवराव देशमुख द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बारोमास · और देखें »

बालनथ्रापु रजनीकांत राव

बालनथ्रापु रजनीकांत राव तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक तेलुगु गीतकारों की जीवनियाँ आंध्र वाग्येयकार चित्रमु के लिये उन्हें सन् 1961 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बालनथ्रापु रजनीकांत राव · और देखें »

बालिदर्शनम्

बालिदर्शनम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार अक्कितम अच्युतन नंपूतिरि द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1973 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बालिदर्शनम् · और देखें »

बालकृष्ण भौरा

बालकृष्ण भौरा डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह टिम–टिम करदे तारे के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बालकृष्ण भौरा · और देखें »

बाहि जा वारिस

बाहि जा वारिस सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. कमल द्वारा रचित एक ग़ज़ल–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाहि जा वारिस · और देखें »

बाज़याफ़त

बाज़याफ़त कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार गुलाम नबी आतश द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाज़याफ़त · और देखें »

बाज़गोयी

बाज़गोयी उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार सुरिन्दर प्रकाश द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में उर्दू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाज़गोयी · और देखें »

बाजि उठल मुरली

बाजि उठल मुरली मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार उपेन्द्र ठाकुर ‘मोहन’ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में मैथिली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाजि उठल मुरली · और देखें »

बाघे टापुर राति

बाघे टापुर राति असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार अपूर्व शर्मा द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाघे टापुर राति · और देखें »

बाउल फकिर कथा

बाउल फकिर कथा बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार सुधीर चक्रवर्ती द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बाउल फकिर कथा · और देखें »

बिचित्रवर्णा

बिचित्रवर्णा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार रवि पटनायक द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में ओड़िया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिचित्रवर्णा · और देखें »

बिद्यासागर नार्जारी

बिद्यासागर नार्जारी बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास बिरगोस्रिनि थुंग्रि के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिद्यासागर नार्जारी · और देखें »

बिनय मजूमदार

बिनय मजूमदार बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह हासपाताले लेखा कवितागुच्छ के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिनय मजूमदार · और देखें »

बिन्दु भट्ट

बिन्दु भट्ट गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अखेपातर के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिन्दु भट्ट · और देखें »

बिन्द्या सुब्बा

बिन्द्या सुब्बा नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अथाह के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिन्द्या सुब्बा · और देखें »

बिपन्न समय

बिपन्न समय असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार मेदिनी शर्मा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिपन्न समय · और देखें »

बिपुल दिगन्‍त

बिपुल दिगन्‍त ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गोपालकृष्‍ण रथ द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिपुल दिगन्‍त · और देखें »

बिमल कर

बिमल कर बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास असमय के लिये उन्हें सन् 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिमल कर · और देखें »

बिरगोस्रिनि थुंग्रि

बिरगोस्रिनि थुंग्रि बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार बिद्यासागर नार्जारी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में बोडो भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिरगोस्रिनि थुंग्रि · और देखें »

बिरंचिकुमार बरुआ

बिरंचिकुमार बरुआ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक लोक–संस्कृति का अध्ययन असमर लोक–संस्कृति के लिये उन्हें सन् 1964 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिरंचिकुमार बरुआ · और देखें »

बिसिरयाको संस्कृति

बिसिरयाको संस्कृति नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. एम. गुरुंग द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बिसिरयाको संस्कृति · और देखें »

बखरे–बखरे सच्च

बखरे–बखरे सच्च डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार शिवदेव सिंह सुशील द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बखरे–बखरे सच्च · और देखें »

बंचाओ लरहाई

बंचाओ लरहाई संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार आदित्य कुमार मांडी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में संताली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बंचाओ लरहाई · और देखें »

बंडाय

बंडाय कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार व्यासराय बल्लाल द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बंडाय · और देखें »

बंधु शर्मा

बंधु शर्मा डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह मील पत्थर के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बंधु शर्मा · और देखें »

बंगाली कादंबरीकार बंकिमचंद्र

बंगाली कादंबरीकार बंकिमचंद्र कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. आर. कृष्ण शास्त्री द्वारा रचित एक एक आलोचनात्मक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1961 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बंगाली कादंबरीकार बंकिमचंद्र · और देखें »

बकुल बनर कविता

बकुल बनर कविता असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार आनंद चंद्र बरुआ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बकुल बनर कविता · और देखें »

बकुलद हूवुगळु

बकुलद हूवुगळु कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. आर. एक्कुण्डि द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बकुलद हूवुगळु · और देखें »

बुड्ढ सुहागन

बुड्ढ सुहागन डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जितेन्द्र शर्मा द्वारा रचित एक एकांकी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुड्ढ सुहागन · और देखें »

बुद्ध धर्म–दर्शन

बुद्ध धर्म–दर्शन हिन्दी के विख्यात साहित्यकार आचार्य नरेन्द्रदेव द्वारा रचित एक दर्शन है जिसके लिये उन्हें सन् 1957 में मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुद्ध धर्म–दर्शन · और देखें »

बुद्धविजय काव्यम्

बुद्धविजय काव्यम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार शांतिभिक्षु शास्त्री द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुद्धविजय काव्यम् · और देखें »

बुनी हुई रस्सी

बुनी हुई रस्सी हिन्दी के विख्यात साहित्यकार भवानीप्रसाद मिश्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1972 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुनी हुई रस्सी · और देखें »

बुलुस वेंकटेश्वरुलु

बुलुस वेंकटेश्वरुलु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक डॉ॰ राधाकृष्णन की हिस्ट्री ऑफ़ इंडियन फिलॉसफ़ी का अनुवाद भारतीय तत्त्वशास्त्रमु के लिये उन्हें सन् 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुलुस वेंकटेश्वरुलु · और देखें »

बुक ऑफ़ रैचल

बुक ऑफ़ रैचल अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार एस्थर डेविड द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2010 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बुक ऑफ़ रैचल · और देखें »

ब्रह्मपुत्रप इत्यादि पद्य

ब्रह्मपुत्रप इत्यादि पद्य असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार अजित बरुआ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ब्रह्मपुत्रप इत्यादि पद्य · और देखें »

ब्रह्मपुत्रका छेउ–छाउ

ब्रह्मपुत्रका छेउ–छाउ नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार लील बहादुर क्षेत्री द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ब्रह्मपुत्रका छेउ–छाउ · और देखें »

ब्रजकिशोर वर्मा मणिपद्म

ब्रजकिशोर वर्मा मणिपद्म मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास नैका बनिजारा के लिये उन्हें सन् 1973 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ब्रजकिशोर वर्मा मणिपद्म · और देखें »

ब्रजेन्‍द्र कुमार ब्रह्म

ब्रजेन्‍द्र कुमार ब्रह्म बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता बायदि देंखो बायदि गाब के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और ब्रजेन्‍द्र कुमार ब्रह्म · और देखें »

बृहत–पिंगल

बृहत–पिंगल गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार रामनारायण पाठक द्वारा रचित एक छंद शास्त्र है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में गुजराती भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बृहत–पिंगल · और देखें »

बैकुंठनाथ पटनायक

बैकुंठनाथ पटनायक ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह उत्तरायण के लिये उन्हें सन् 1965 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बैकुंठनाथ पटनायक · और देखें »

बेदनार उल्का

बेदनार उल्का असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार अंबिकागिरि रायचौधुरी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बेदनार उल्का · और देखें »

बेद्दन धरती दी

बेद्दन धरती दी डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रकाश प्रेमी द्वारा रचित एक महाकाव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में डोगरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बेद्दन धरती दी · और देखें »

बेनुधर शर्मा

बेनुधर शर्मा को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम से हैं। उनके लिखे संस्मरण कांग्रचर कांचियालिरदात को १९६० में साहित्य अकादमी पुरस्कार असमिया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बेनुधर शर्मा · और देखें »

बेसोख रूह

बेसोख रूह कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. आर. संतोष द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बेसोख रूह · और देखें »

बोल भारमली

बोल भारमली राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार सत्यप्रकाश जोशी द्वारा रचित एक काव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में राजस्थानी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बोल भारमली · और देखें »

बी. एम. माइस्नाम्बा

बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. एम. माइस्नाम्बा · और देखें »

बी. एस. मर्ढेकर

बाळ सीताराम मर्ढेकर (१ दिसंबर १९०९ - २० मार्च १९५६) मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा सौन्दर्यशास्त्र के अध्ययन पर रचित एक किताब सौन्दर्य आणि साहित्य के लिये उन्हें सन् १९५६ में साहित्य अकादमी पुरस्कार के मराठी-भाषा श्रेणी से मरणोपरांत सम्मानित किया गया। मर्ढेकर की कविताओं पर लिखे आलोचना मर्ढेकरांची कविता: स्वरूप आणि संदर्भ के लिये विजया राजाध्यक्ष को भी १९९३ मे मराठी का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला हैं। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. एस. मर्ढेकर · और देखें »

बी. एस. रमय्या

बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. एस. रमय्या · और देखें »

बी. पुट्टस्वामय्या

बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. पुट्टस्वामय्या · और देखें »

बी. सी. रामचंद्र शर्मा

बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. सी. रामचंद्र शर्मा · और देखें »

बी. जी. एल. स्वामी

बी.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी. जी. एल. स्वामी · और देखें »

बी.एन. कृष्णमूर्ति शर्मा

बी.एन.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बी.एन. कृष्णमूर्ति शर्मा · और देखें »

बीरासन

बीरासन बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार सुब्रत मुखोपाध्याय द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बीरासन · और देखें »

बीरेश्वर बरुआ

बीरेश्वर बरुआ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अनेक मानुह अनेक ठाई आरु निर्जनता के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बीरेश्वर बरुआ · और देखें »

बीसौं शताब्दीकी मोनालिसा

बीसौं शताब्दीकी मोनालिसा नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार विक्रमवीर थापा द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और बीसौं शताब्दीकी मोनालिसा · और देखें »

भट्ट मथुरानाथ शास्त्री

कवि शिरोमणि भट्ट श्री मथुरानाथ शास्त्री कविशिरोमणि भट्ट मथुरानाथ शास्त्री (23 मार्च 1889 - 4 जून 1964) बीसवीं सदी पूर्वार्द्ध के प्रख्यात संस्कृत कवि, मूर्धन्य विद्वान, संस्कृत सौन्दर्यशास्त्र के प्रतिपादक और युगपुरुष थे। उनका जन्म 23 मार्च 1889 (विक्रम संवत 1946 की आषाढ़ कृष्ण सप्तमी) को आंध्र के कृष्णयजुर्वेद की तैत्तरीय शाखा अनुयायी वेल्लनाडु ब्राह्मण विद्वानों के प्रसिद्ध देवर्षि परिवार में हुआ, जिन्हें सवाई जयसिंह द्वितीय ने ‘गुलाबी नगर’ जयपुर शहर की स्थापना के समय यहीं बसने के लिए आमंत्रित किया था। आपके पिता का नाम देवर्षि द्वारकानाथ, माता का नाम जानकी देवी, अग्रज का नाम देवर्षि रमानाथ शास्त्री और पितामह का नाम देवर्षि लक्ष्मीनाथ था। श्रीकृष्ण भट्ट कविकलानिधि, द्वारकानाथ भट्ट, जगदीश भट्ट, वासुदेव भट्ट, मण्डन भट्ट आदि प्रकाण्ड विद्वानों की इसी वंश परम्परा में भट्ट मथुरानाथ शास्त्री ने अपने विपुल साहित्य सर्जन की आभा से संस्कृत जगत् को प्रकाशमान किया। हिन्दी में जिस तरह भारतेन्दु हरिश्चंद्र युग, जयशंकर प्रसाद युग और महावीर प्रसाद द्विवेदी युग हैं, आधुनिक संस्कृत साहित्य के विकास के भी तीन युग - अप्पा शास्त्री राशिवडेकर युग (1890-1930), भट्ट मथुरानाथ शास्त्री युग (1930-1960) और वेंकट राघवन युग (1960-1980) माने जाते हैं। उनके द्वारा प्रणीत साहित्य एवं रचनात्मक संस्कृत लेखन इतना विपुल है कि इसका समुचित आकलन भी नहीं हो पाया है। अनुमानतः यह एक लाख पृष्ठों से भी अधिक है। राष्ट्रिय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली जैसे कई संस्थानों द्वारा उनके ग्रंथों का पुनः प्रकाशन किया गया है तथा कई अनुपलब्ध ग्रंथों का पुनर्मुद्रण भी हुआ है। भट्ट मथुरानाथ शास्त्री का देहावसान 75 वर्ष की आयु में हृदयाघात के कारण 4 जून 1964 को जयपुर में हुआ। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भट्ट मथुरानाथ शास्त्री · और देखें »

भरत ओळा

भरत ओळा राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह जीव री जात के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भरत ओळा · और देखें »

भानुजी राव

भानुजी राव ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह नई आरपारि के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भानुजी राव · और देखें »

भाबना

भाबना संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार जदुमणि बेसरा द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में संताली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भाबना · और देखें »

भारत भूषण अग्रवाल

भारत भूषण अग्रवाल हिन्दी के प्रतिष्ठित साहित्यकार थे। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह उतना वह सूरज है के लिये उन्हें सन् 1978 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारत भूषण अग्रवाल · और देखें »

भारतभूषण अग्रवाल

भारतभूषण अग्रवाल छायावादोत्तर हिंदी कविता के एक सशक्त हस्ताक्षर हैं। वे अज्ञेय द्वारा संपादित तारसप्तक के महत्वपूर्ण कवि हैं। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतभूषण अग्रवाल · और देखें »

भारतायनम्

भारतायनम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार हरेकृष्ण शतपथी द्वारा रचित एक महाकाव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतायनम् · और देखें »

भारतेर शक्ति–साधना ओ शाक्त–साहित्य

भारतेर शक्ति–साधना ओ शाक्त–साहित्य बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार शशिभूषण दासगुप्ता द्वारा रचित एक शाक्त सम्प्रदाय का अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1961 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतेर शक्ति–साधना ओ शाक्त–साहित्य · और देखें »

भारती : कालमुम करुत्तुम

भारती: कालमुम करुत्तुम तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार टी.एम.सी. रघुनाथन् द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारती : कालमुम करुत्तुम · और देखें »

भारतीदासन

भारतीदासन तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक पिचिरान्दयार के लिये उन्हें सन् 1969 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतीदासन · और देखें »

भारतीय तत्त्वशास्त्रमु

भारतीय तत्त्वशास्त्रमु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार बुलुस वेंकटेश्वरुलु द्वारा रचित एक डॉ॰ राधाकृष्णन की हिस्ट्री ऑफ़ इंडियन फिलॉसफ़ी का अनुवाद है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतीय तत्त्वशास्त्रमु · और देखें »

भारतीय प्रेस परिषद्

भारतीय प्रेस परिषद (Press Council of India; PCI) एक संविघिक स्वायत्तशासी संगठन है जो प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा करने व उसे बनाए रखने, जन अभिरूचि का उच्च मानक सुनिश्चित करने से और नागरिकों के अघिकारों व दायित्वों के प्रति उचित भावना उत्पन्न करने का दायित्व निबाहता है। सर्वप्रथम इसकी स्थापना ४ जुलाई सन् १९६६ को हुई थी। अध्यक्ष परिषद का प्रमुख होता है जिसे राज्यसभा के सभापति, लोकसभा अघ्यक्ष और प्रेस परिषद के सदस्यों में चुना गया एक व्यक्ति मिलकर नामजद करते हैं। परिषद के अघिकांश सदस्य पत्रकार बिरादरी से होते हैं लेकिन इनमें से तीन सदस्य विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, बार कांउसिल ऑफ इंडिया और साहित्य अकादमी से जुड़े होते हैं तथा पांच सदस्य राज्यसभा व लोकसभा से नामजद किए जाते हैं - राज्य सभा से दो और लोकसभा से तीन। प्रेस परिषद, प्रेस से प्राप्त या प्रेस के विरूद्ध प्राप्त शिकायतों पर विचार करती है। परिषद को सरकार सहित किसी समाचारपत्र, समाचार एजेंसी, सम्पादक या पत्रकार को चेतावनी दे सकती है या भर्त्सना कर सकती है या निंदा कर सकती है या किसी सम्पादक या पत्रकार के आचरण को गलत ठहरा सकती है। परिषद के निर्णय को किसी भी न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती। काफी मात्रा में सरकार से घन प्राप्त करने के बावजूद इस परिषद को काम करने की पूरी स्वतंत्रता है तथा इसके संविघिक दायित्वों के निर्वहन पर सरकार का किसी भी प्रकार का नियंत्रण नहीं है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतीय प्रेस परिषद् · और देखें »

भारतीय साहित्य शास्त्र

भारतीय साहित्य शास्त्र मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. टी. देशपाण्डे द्वारा रचित एक काव्य–शास्त्र–विवेचन है जिसके लिये उन्हें सन् 1959 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतीय साहित्य शास्त्र · और देखें »

भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता

भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रफुल्ल कुमार मोहांती द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता · और देखें »

भार्गवीयम्

भार्गवीयम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार मिथिला प्रसाद त्रिपाठी द्वारा रचित एक महाकाव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भार्गवीयम् · और देखें »

भाषा : इतिहास आणि भूगोल

भाषा: इतिहास आणि भूगोल मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. जी. कालेलकर द्वारा रचित एक भाषाशास्त्रीय अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1967 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भाषा : इतिहास आणि भूगोल · और देखें »

भाषा सम्मान पुरस्कार

भाषा सम्मान पुरस्कार एक भारतीय साहित्यिक पुरस्कार जो हर साल प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार के वितरण का प्रारंभ साहित्य अकादमी ने १९९६ से किया। साहित्य अकादमी मान्यता-प्राप्त २४ भारतीय भाषाओं में साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान करती है। इसलिए भाषा सम्मान पुरस्कार को गैर-मान्यता प्राप्त भाषाओं में साहित्यिक रचनात्मकता के साथ ही शैक्षिक अनुसंधान को स्वीकार और बढ़ावा देने के लिए स्थापित किया गया था। यह लेखकों, विद्वानों, संपादकों, संग्रहकर्ताओं, कलाकारों या अनुवादकों को प्रस्तुत किया जाता है जिन्होंने संबंधित भाषाओं के प्रचार, आधुनिकीकरण या संवर्धन में काफी योगदान दिया है। सन्मान में एक पुरस्कार पट्टिका के साथ १ लाख रुपये दिये जाते है। १९९६ में पुरस्कार की धनराशी रुपये २५,००० थी। ये सन २००१ में बढ कर रुपये ४०,०००, सन २००३ में रुपये ५०,०००, और सन २००९ में १ लाख रुपये हुई। यह सम्मन प्रत्येक वर्ष ३-४ व्यक्तियों को विभिन्न भाषाओं में दिए जाते हैं जो कि विशेषज्ञों की समितियों की सिफारिश के आधार पर होता है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भाषा सम्मान पुरस्कार · और देखें »

भाषा साहित्य चरित्रम्

भाषा साहित्य चरित्रम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. नारायण पणिक्कर द्वारा रचित एक साहित्येतिहास है जिसके लिये उन्हें सन् 1955 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भाषा साहित्य चरित्रम् · और देखें »

भास्कराचार्य त्रिपाठी

भास्कराचार्य त्रिपाठी संस्कृत भाषा के प्रतिष्ठित साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता निर्झरिणी के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भास्कराचार्य त्रिपाठी · और देखें »

भांगरसाळ

भांगरसाळ कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. शिवदास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भांगरसाळ · और देखें »

भितोरमें तूफान

भितोरमें तूफान कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार जे.बी. मोरेस द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भितोरमें तूफान · और देखें »

भिजकी वही

भिजकी वही मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरुण कोलटकर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भिजकी वही · और देखें »

भवानी भट्टाचार्य

भवानी भट्टाचार्य अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास शैडो फ्रॉम लद्दाख़ के लिये उन्हें सन् 1967 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भवानी भट्टाचार्य · और देखें »

भवेन बरुआ

भवेन बरुआ असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सोनाली जहाज के लिये उन्हें सन् 1979 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भवेन बरुआ · और देखें »

भवेन्द्रनाथ सइकीया

भवेन्द्रनाथ सइकीया असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह श्रृंखल के लिये उन्हें सन् 1976 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भवेन्द्रनाथ सइकीया · और देखें »

भगत

भगत सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रेम प्रकाश द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भगत · और देखें »

भगवती चरण वर्मा

भगवती चरण वर्मा (३० अगस्त १९०३ - ५ अक्टूबर १९८८) हिन्दी के साहित्यकार थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भगवती चरण वर्मा · और देखें »

भगवती कुमार शर्मा

भगवती कुमार शर्मा गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास असूर्यलोक के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भगवती कुमार शर्मा · और देखें »

भगवतीलाल व्यास

भगवतीलाल व्यास राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अणहद नाद के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भगवतीलाल व्यास · और देखें »

भुयंचाफीं

भुयंचाफीं कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार शीला कोळम्बकार द्वारा रचित एक रेखाचित्र है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भुयंचाफीं · और देखें »

भुवनद भाग्य

भुवनद भाग्य कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. एस. अमुर द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भुवनद भाग्य · और देखें »

भूत अमसुङमाखुम

भूत अमसुङमाखुम मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार थांजम इबोपिशक सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भूत अमसुङमाखुम · और देखें »

भूले बिसरे चित्र

भूले बिसरे चित्र हिन्दी के विख्यात साहित्यकार भगवतीचरण वर्मा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1961 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भूले बिसरे चित्र · और देखें »

भोलाभाई पटेल

भोलाभाई पटेल गुजराती भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत देवोनी घाटी के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भोलाभाई पटेल · और देखें »

भोज श्रृंगार प्रकाश

भोज श्रृंगार प्रकाश विख्यात संस्कृत साहित्यकार वे. राघवन द्वारा रचित एक सौन्दर्यशास्त्र है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भोज श्रृंगार प्रकाश · और देखें »

भोगदंड

भोगदंड कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हेमा नायक द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भोगदंड · और देखें »

भोगला सोरेन

भोगला सोरेन संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक राही रांवाक् काना के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमीपुरस्कार से सम्मानित किया गया। इनकी प्रमुख कृतियां है- राही रांवाक काना (नाटक), सूडा साकोम (नाटक), राही चेतान ते (नाटक), खोबोर कागोज (नाटक), सोसनो: (नाटक), बिटलाहा (नाटक), मान दिसोम पोरान परायनी (नाटक), उपाल (उपन्यास), चापोय (उपन्यास) एवं संताली भाषा लिपि और साहित्य का विकास (लेख)। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भोगला सोरेन · और देखें »

भीम दाहाल

भीम दाहाल नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास द्रोह के लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भीम दाहाल · और देखें »

भीमनाथ झा

भीमनाथ झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह विविधा के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भीमनाथ झा · और देखें »

भीष्म साहनी

रावलपिंडी पाकिस्तान में जन्मे भीष्म साहनी (८ अगस्त १९१५- ११ जुलाई २००३) आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रमुख स्तंभों में से थे। १९३७ में लाहौर गवर्नमेन्ट कॉलेज, लाहौर से अंग्रेजी साहित्य में एम ए करने के बाद साहनी ने १९५८ में पंजाब विश्वविद्यालय से पीएचडी की उपाधि हासिल की। भारत पाकिस्तान विभाजन के पूर्व अवैतनिक शिक्षक होने के साथ-साथ ये व्यापार भी करते थे। विभाजन के बाद उन्होंने भारत आकर समाचारपत्रों में लिखने का काम किया। बाद में भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) से जा मिले। इसके पश्चात अंबाला और अमृतसर में भी अध्यापक रहने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय में साहित्य के प्रोफेसर बने। १९५७ से १९६३ तक मास्को में विदेशी भाषा प्रकाशन गृह (फॉरेन लॅग्वेजेस पब्लिकेशन हाउस) में अनुवादक के काम में कार्यरत रहे। यहां उन्होंने करीब दो दर्जन रूसी किताबें जैसे टालस्टॉय आस्ट्रोवस्की इत्यादि लेखकों की किताबों का हिंदी में रूपांतर किया। १९६५ से १९६७ तक दो सालों में उन्होंने नयी कहानियां नामक पात्रिका का सम्पादन किया। वे प्रगतिशील लेखक संघ और अफ्रो-एशियायी लेखक संघ (एफ्रो एशियन राइटर्स असोसिएशन) से भी जुड़े रहे। १९९३ से ९७ तक वे साहित्य अकादमी के कार्यकारी समीति के सदस्य रहे। भीष्म साहनी को हिन्दी साहित्य में प्रेमचंद की परंपरा का अग्रणी लेखक माना जाता है। वे मानवीय मूल्यों के लिए हिमायती रहे और उन्होंने विचारधारा को अपने ऊपर कभी हावी नहीं होने दिया। वामपंथी विचारधारा के साथ जुड़े होने के साथ-साथ वे मानवीय मूल्यों को कभी आंखो से ओझल नहीं करते थे। आपाधापी और उठापटक के युग में भीष्म साहनी का व्यक्तित्व बिल्कुल अलग था। उन्हें उनके लेखन के लिए तो स्मरण किया ही जाएगा लेकिन अपनी सहृदयता के लिए वे चिरस्मरणीय रहेंगे। भीष्म साहनी हिन्दी फ़िल्मों के जाने माने अभिनेता बलराज साहनी के छोटे भाई थे। उन्हें १९७५ में तमस के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार, १९७५ में शिरोमणि लेखक अवार्ड (पंजाब सरकार), १९८० में एफ्रो एशियन राइटर्स असोसिएशन का लोटस अवार्ड, १९८३ में सोवियत लैंड नेहरू अवार्ड तथा १९९८ में भारत सरकार के पद्मभूषण अलंकरण से विभूषित किया गया। उनके उपन्यास तमस पर १९८६ में एक फिल्म का निर्माण भी किया गया था। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भीष्म साहनी · और देखें »

भीष्मचरितम्

भीष्मचरितम् विख्यात संस्कृत साहित्यकार हरिनारायण दीक्षित द्वारा रचित एक महाकाव्य है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और भीष्मचरितम् · और देखें »

म. पो. शिवज्ञानम

म. पो.

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और म. पो. शिवज्ञानम · और देखें »

मचामा

मचामा कश्मीरी भाषा के विख्यात साहित्यकार पुष्कर भान द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में कश्मीरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मचामा · और देखें »

मँहगी मुर्क

मँहगी मुर्क सिन्धी भाषा के विख्यात साहित्यकार माया राही द्वारा रचित एक कहानी है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में सिन्धी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मँहगी मुर्क · और देखें »

मणि मधुकर

मणि मधुकर राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पगफेरो के लिये उन्हें सन् 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मणि मधुकर · और देखें »

मणिप्रसाद राइ

मणिप्रसाद राइ नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक जीवनीपरक निबंध–संग्रह वीर जातिको अमर कहानी के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मणिप्रसाद राइ · और देखें »

मणिप्रवाळमु

मणिप्रवाळमु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. वी. जोगाराव द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मणिप्रवाळमु · और देखें »

मणिमहेश

मणिमहेश बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार उमाप्रसाद मुखोपाध्याय द्वारा रचित एक यात्रा–वृत्तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 1971 में बंगाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मणिमहेश · और देखें »

मणिक्कोडि कालम

मणिक्कोडि कालम तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार बी. एस. रमय्या द्वारा रचित एक साहित्येतिहास है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मणिक्कोडि कालम · और देखें »

मति नंदी

मति नंदी बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास सादा खाम के लिये उन्हें सन् 1991 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मति नंदी · और देखें »

मतिम्मुरैक्ल पेट्टिकळ

मतिम्मुरैक्ल पेट्टिकळ तमिल भाषा के विख्यात साहित्यकार ति.क. शिवशंकरन द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में तमिल भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मतिम्मुरैक्ल पेट्टिकळ · और देखें »

मत्स्येन्द्र प्रधान

मत्स्येन्द्र प्रधान नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास नीलकंठ के लिये उन्हें सन् 1985 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मत्स्येन्द्र प्रधान · और देखें »

मथओ कनवा डि एन ए

मथओ कनवा डि एन ए मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जोध छी. सनसम द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मथओ कनवा डि एन ए · और देखें »

मधु आचार्य आशावादी

मधु आचार्य आशावादी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्‍यास गवाड़ के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधु आचार्य आशावादी · और देखें »

मधुपुर–बहुदूर

मधुपुर–बहुदूर असमिया भाषा के विख्यात साहित्यकार शीलभद्र (राबती मोहन दत्त चौधुरी) द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में असमिया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुपुर–बहुदूर · और देखें »

मधुरम् निन्टे जीवितम्

मधुरम् निन्टे जीवितम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के.पी. अप्पन द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में मलयालम भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुरम् निन्टे जीवितम् · और देखें »

मधुरांतकम राजाराम

मधुरांतकम राजाराम तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह मधुरांतकम् राजाराम कथळु के लिये उन्हें सन् 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुरांतकम राजाराम · और देखें »

मधुरांतकम् राजाराम कथळु

मधुरांतकम् राजाराम कथळु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार मधुरांतकम राजाराम द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुरांतकम् राजाराम कथळु · और देखें »

मधुरेश

मधुरेश (जन्म: 10 जनवरी, 1939) हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में मुख्यतः कथालोचक के रूप में प्रख्यात हैं। आरंभ से ही हिन्दी कहानी एवं हिन्दी उपन्यास दोनों की समीक्षा से जुड़े मधुरेश के लेखन की मुख्य विशेषता प्रायः उनका संतुलित दृष्टिकोण, विवाद-रहित विश्लेषण तथा सहज संप्रेषणीय शैली रही है। अपेक्षाकृत बाद के लेखन में उन्होंने कहानी-समीक्षा से दूर हटकर कुछ विवादित आलोचनात्मक लेखन भी किया है। मौलिक लेखन के अतिरिक्त उनके द्वारा संपादित पुस्तकों की भी एक लम्बी शृंखला मौजूद है। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुरेश · और देखें »

मधुकर वासुदेव धोंड

मधुकर वासुदेव धोंड मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना ज्ञानेश्वरीतील लौकिक सृष्टि के लिये उन्हें सन् 1997 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मधुकर वासुदेव धोंड · और देखें »

मध्य एशिया का इतिहास

मध्य एशिया का इतिहास हिन्दी के विख्यात साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन द्वारा रचित एक इतिहास है जिसके लिये उन्हें सन् 1958 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।6 .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मध्य एशिया का इतिहास · और देखें »

मन मंथन

मन मंथन कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. शिवराम द्वारा रचित एक मनोवैज्ञानिक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में कन्नड़ भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मन मंथन · और देखें »

मनप्रसाद सुब्बा

मनप्रसाद सुब्बा नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह आदिम बस्ती के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनप्रसाद सुब्बा · और देखें »

मनबहादुर प्रधान

मनबहादुर प्रधान नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक यात्रा-वृत्‍तांत मनका लहर र रहरहरू के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनबहादुर प्रधान · और देखें »

मनमोतयां

मनमोतयां कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार तुकाराम रामा शेट द्वारा रचित एक निबंध-संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में कोंकणी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनमोतयां · और देखें »

मनमोहन

मनमोहन पंजाबी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्‍यास निरवाण के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनमोहन · और देखें »

मनमोहन झा

मनमोहन झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह गंगा–पुत्र के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनमोहन झा · और देखें »

मना नवलाललु - मना कथानिकलु

मना नवलाललु - मना कथानिकलु तेलुगू भाषा के विख्यात साहित्यकार राचपालेम चन्‍द्रशेखर रेड्डी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में तेलुगू भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मना नवलाललु - मना कथानिकलु · और देखें »

मनका लहर र रहरहरू

मनका लहर र रहरहरू नेपाली भाषा के विख्यात साहित्यकार मनबहादुर प्रधान द्वारा रचित एक यात्रा-वृत्‍तांत है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में नेपाली भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनका लहर र रहरहरू · और देखें »

मनुश्‍यानु ओरु आमुखम

मनुश्‍यानु ओरु आमुखम मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार सुभाष चन्‍द्रन द्वारा रचित एक उपन्‍यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनुश्‍यानु ओरु आमुखम · और देखें »

मनोरंजन दास

मनोरंजन दास ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक अरण्य फ़सल के लिये उन्हें सन् 1971 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोरंजन दास · और देखें »

मनोरंजन लाहारी

मनोरंजन लाहारी बोडो भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास दाइनि? के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित(मरणोपरांत) किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोरंजन लाहारी · और देखें »

मनोहर सरदेसाई

मनोहर सरदेसाई कोंकणी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पीसोलिम के लिये उन्हें सन् 1980 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोहर सरदेसाई · और देखें »

मनोज (डोगरी साहित्यकार)

मनोज डोगरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह पंदरां क्हानियां के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोज (डोगरी साहित्यकार) · और देखें »

मनोज बसु

मनोज बसु बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास निशि–कुटुंब के लिये उन्हें सन् 1966 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोज बसु · और देखें »

मनोजदासक कथा ओ काहिनी

मनोजदासक कथा ओ काहिनी ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार मनोज दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1972 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनोजदासक कथा ओ काहिनी · और देखें »

मनींद्र गुप्ता

मनींद्र गुप्ता बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह बने आज कनचेर्टो के लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: भारतीय साहित्य अकादमी और मनींद्र गुप्ता · और देखें »

मपाल नाइदबसिदा ऐ

मपाल नाइदबसिदा ऐ मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नॉथोम्बम बीरेन सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में मणिपुरी भाषा के लिए स