लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

बंगलौर

सूची बंगलौर

कर्नाटक का उच्च न्यायालय बंगलौर (अन्य वर्तनी: बेंगलुरु) (कन्नड़: ಬೆಂಗಳೂರು; उच्चारण) भारत के राज्य कर्नाटक की राजधानी है। बेंगलुरु शहर की जनसंख्या ८४ लाख है और इसके महानगरीय क्षेत्र की जनसंख्या ८९ लाख है, और यह भारत गणराज्य का तीसरा सबसे बड़ा शहर और पांचवा सबसे बड़ा महानगरीय क्षेत्र है। दक्षिण भारत में दक्कन के पठारीय क्षेत्र में ९०० मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित यह नगर अपने साल भर के सुहाने मौसम के लिए जाना जाता है। भारत के मुख्य शहरों में इसकी ऊंचाई सबसे ज़्यादा है। वर्ष २००६ में बेंगलूर के स्थानीय निकाय बृहत् बेंगलूर महानगर पालिकबी बी एम पी) ने एक प्रस्ताव के माध्यम से शहर के नाम की अंग्रेज़ी भाषा की वर्तनी को Bangalore से Bengaluru में परिवर्तित करने का निवेदन राज्य सरकार को भेजा। राज्य और केंद्रीय सरकार की स्वीकृति मिलने के बाद यह बदलाव १ नवंबर २०१४ से प्रभावी हो गया है। .

593 संबंधों: चन्द्रशेखर वेंकटरमन, चन्नपट्न रामस्वामि सिंह, चामाराजानगर जिला, चित्तूर, चित्रदुर्ग, चित्रा मंडल, चिलमकूरु (कडप), चक्रवर्ती राजगोपालाचारी, चेन्नई, चेन्नई में यातायात, ट क टुकोल, टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टाइटन कप 1996-97, टिम पैन, ट्रेंट (वेस्टसाइड), टेरी - ऊर्जा और संसाधन संस्थान, टोयोटा ईटिओस, टीना देसाई, टीपू सुल्तान का सुमेर महल, एच ए एल बंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, एचएएल ध्रुव, एन आर नारायणमूर्ति, एपिक (ब्राउजर), एम चिन्नास्वामी स्टेडियम, एम टी वी आचार्य, एमटीवी रोडीस, एयर कोस्टा, एयरबस, एस एम कृष्णा, एस आर रंगनाथन, एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन, एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के कीर्तिमानों की सूची, एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय के एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की सूची, एक दीवाना था, एकदिवसीय क्रिकेट के दोहरे शतक, एक्सेंट्रिक पेंडुलम, ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम, डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस, डेविड वॉर्नर (क्रिकेटर), डॉ शरण शिवराज पाटिल, डी राजेन्द्र बाबू, डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड, डीडी चंदना, डी॰ के॰ रवि, तमिल नाडु, ताराघर, ताज होटल्स रिसॉर्ट्स एंड पैलेसेज, तिरुवन्नमलई, द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया, ..., द हिन्दू, द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स, दयानंद सागर कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, दसलाखी नगर, दिलीप ट्रॉफी, दक्षिण एशिया, दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन, दक्षिण भारत, दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1999-00, दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2005-06, दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2015-16, दक्षिणेश्वर काली मन्दिर, दुरन्त एक्सप्रेस, द्रव नोदन प्रणाली केंद्र, देवनहल्ली, देविका रानी, देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, दीपिका पादुकोण, धनबाद, धारवाड़, नदियों पर बसे भारतीय शहर, नन्दन नीलेकणि, नफीसा जोसेफ, नयनतारा, नाथन लायन, नारायण हृदयालय, नागपुर, नित्या मेनन, नित्यानन्द, निधि अग्रवाल, निरुपमा राव, निशा मिलेट, नंदी हिल, न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1988-89, न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1995-96, न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11, न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012, नौतम भट्ट, नृत्य ग्राम, नेल्सन वांग, नीरज कयाल, पटना के पर्यटन स्थल, परिकल्पना सम्मान, पलाश, पलक मुच्छल, पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची, पार्क होटल नई दिल्ली, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1979-80, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1983-84, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1986-87, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08, पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012-13, पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन, पुणे अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, पुलिस महानिदेशक, प्रतिलिपि (प्रकाशक), प्रभु लाल भटनागर, प्रमिला भट्ट, प्रमोद मुथालिक, प्रसिद्ध कृष्णा, प्रियामणि, प्रो रेस्लिंग लीग, प्रो कबड्डी लीग, प्रोतिमा बेदी, प्रोद्दटूरू, पैराशूट रेजिमेंट, पूर्णिमा सिन्हा, पेप्सी इंडिपेंडेंस कप 1997, पोकिरी (2006 फ़िल्म), फिलिप्स, फ्लिपकार्ट, बड़वानी ज़िला, बलजिन्दर सिंह, बसव, बायोकॉन, बासप्पा दनप्पा जत्ती, बासवांगुडी मंदिर, बाङ्ला भाषा, बिन्नी बंसल, बिग एफएम (रेडियो), बंगलुरु मेट्रो, बंगलौर सिटी जंक्शन रेलवे स्टेशन, बंगलौर विश्वविद्यालय, बंगलौर-मैसूर द्रुतगति मार्ग, बंगलोर जिला, बृजेश पटेल, बैरी जॉन, बैंगलोर में पर्यटकों के आकर्षण की सूची, बेंगलोर पैलेस, बेंगलोर महानगर परिवहन निगम, बीएमएस इंजीनियरिंग कॉलेज, बीजापुर, भद्रावती (कर्नाटक), भारत, भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची, भारत में पर्यटन, भारत में पर्यावरणीय समस्याएं, भारत में प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों की सूची, भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार, भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची, भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची, भारत में संचार, भारत में सैन्य अकादमियाँ, भारत में विश्वविद्यालयों की सूची, भारत में आतंकवाद, भारत में कार्यरत बैंकों की सूची, भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत, भारत में कॉफी उत्पादन, भारत स्थित संस्कृत विश्वविद्यालयों की सूची, भारत इलैक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत का भूगोल, भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर, भारत के प्रमुख हिन्दू तीर्थ, भारत के प्रमुख अस्पताल, भारत के प्रशासनिक विभाग, भारत के प्रवेशद्वार, भारत के महानगरों की सूची, भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार, भारत के राष्ट्रीय उद्यान, भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश, भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ, भारत के शहरों की सूची, भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची, भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, भारत के हवाई अड्डे, भारत के उच्च न्यायालयों की सूची, भारत की घरेलू विमान सेवा कंपनियाँ, भारत की इंटरनेट प्रदाता कंपनियां, भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड, भारती भवन, भारतीय ताराभौतिकी संस्थान, भारतीय थलसेना, भारतीय नाम, भारतीय नेपाली, भारतीय पुनर्नामकरण विवाद, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय प्रबन्धन संस्थान, भारतीय प्रबंध संस्थान बेंगलूर, भारतीय महिला क्रिकेट टीम, भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम, भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्षों की सूची, भारतीय रिज़र्व बैंक, भारतीय शिक्षा का इतिहास, भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, भारतीय सांख्यिकी संस्थान, भारतीय सिन्धी, भारतीय सिनेमा, भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष, भारतीय वानिकी, भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद, भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण, भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का इतिहास, भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, भारतीय विज्ञान संस्थान, भारतीय विज्ञान अकादमी, भारतीय वृहत उद्योग समूह, भारतीय कंपनियों की सूची, भारतीय क्रिकेट टीम, भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, भावना कंठ, भूमिगत रेल, मणिपाल विश्वविद्यालय, मदुरई, मद्दूर वड़ा, मनजोत कालरा, मन्ना डे, मनोविज्ञान का इतिहास तथा शाखाएँ, ममता माबेन, ममता मोहनदास, मयंक अग्रवाल, मयीलाडूतुरै, मलाथी कृष्णामूर्ति हॉला, महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर, महानगरीय क्षेत्र, महाराजा अग्रसेन अस्पताल, बैंगलोर, महिलाओं से छेड़छाड़, मार्गरेट अल्वा, मास्ती वेंकटेश अयंगार, मिताली मुखर्जी, मिकोयान मिग-35, मंजू बिष्ट, मंजू बंसल, मुंबई समाचार, मुंबई इंडियंस, मैसूर, मैसूर में पर्यटक आकर्षण, मूनफ़्रॉग, मेट्टुपालयम, कोयंबटूर, मेलकोट, मोतीलाल बनारसीदास, मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या, मीडिटेक प्राइवेट लिमिटेड, यशवंतपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन, युज़वेंद्र चहल, यूडी एसएलएफ, यूबी समूह, येलहंका, येलहंका विमानक्षेत्र, रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए 2017-18, राँची, राधिका वाज़, रानी चेन्नम्मा, रामन अनुसन्धान संस्थान, रामा गोविंदराजन, रामकृष्णानन्द, राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला, राष्ट्रीय प्रगत अध्ययन संस्थान, राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान, राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान, राष्ट्रीय मानसिक जाँच एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान, राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद, राष्ट्रीय राजमार्ग (भारत), राष्ट्रीय राजमार्ग ४४ (भारत), राष्ट्रीय राजमार्ग ७, राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद, राष्ट्रीय वांतरिक्ष प्रयोगशालाएं, राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान, राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, दिल्ली, राहुल बोस, राहील आज़म, राजधानी एक्स्प्रेस, राजभवन (कर्णाटक), राजस्थान पत्रिका, राजेश्वरी चटर्जी, राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, राघवेंद्र गडगकर, रागिनी द्विवेदी, रिपब्लिक टीवी, रजनीकान्त, रघु दीक्षित, रवि रामपॉल, रेडियो मिर्ची, रेडियो सिटी, रेमो डीसूजा, रेखा भारद्वाज, रेखा राजू, रॉबर्ट वाड्रा, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर, रोहन बोपन्ना, रोहिणी बालाकृष्णन, रोहिणी गोडबोले, रोहित शर्मा, रोहित शर्मा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची, लाल बाग, लाइव इंडिया, लखनऊ, लखनऊ की अर्थ व्यवस्था, लगोरी, लेपाक्षि (अनंतपुर), लेमन ट्री होटल्स, लेकर हम दीवाना दिल, शताब्दी एक्स्प्रेस, शर्मिला निकोललेट, शशि देशपांडे, शिव राजकुमार, शिवगंगे, शिवकाशी, शकुन्तला देवी, श्रवणबेलगोला, श्रुतकेवली, श्रेयस गोपाल, श्रीनाथ अरविंद, श्रीरंगम, श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1982-83, श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1993-94, शॉपिंग मॉल, सचिन तेंदुलकर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची, सत्यम कम्प्यूटर सर्विसेज़, सत्यात्म तीर्थ, सत्यव्रत सिद्धांतालंकार, सदानन्द विश्वनाथ, सनराइजर्स हैदराबाद, सबसे बड़े शहरों की सूची, सबसे सघन आबादी वाले शहर, सबीर भाटिया, समीर दत्तानी, सरस्वती विश्वेश्वरैया, सार्क शिखर सम्मेलन की सूची, साईं बाबा का आश्रम, सावनदुर्ग, सिटी केबल, सिद्दारमैया, सविता भाभी, संदीप उन्नीकृष्णन, संध्या श्रीकांत विश्वेश्वरीया, संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा, संस्कृत भाषा, संजय ख़ान, संगणक नेटवर्क, सुदीप, सुधा मूर्ति, सुधाकर चतुर्वेदी, सुधाकर राव, सुनील गावस्कर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची, सुभाष चन्द्र बोस, सुमन रंगनाथन, सुमिता मिश्रा, सुशील कुमार मोदी, सुजाता रामदोरै, सुंदरम रवि, स्टुअर्ट बिन्नी, स्ट्राइड्स आर्कोलैब, स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर, स्नातक अभियांत्रिकी अभिरुचि परीक्षा, स्नेहा कपूर, स्पिरिट एअर (भारत), स्पोर्ट्सकीड़ा, स्मिता हरिकृष्ण, सौन्दर्या, सैप एजी, सूरतकल, सेण्टर फ़ॉर इंटरनेट एण्ड सोसाइटी (इण्डिया), सेंटर फॉर डवलेपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स, सोनाली कुलकर्णी (व्यापार-जगत से जुड़ी महिला), सी-डैक, सी॰ एन॰ आर॰ राव, हरिद्वार जिला, हरीश चंद्र, हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद, हिन्दुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड, हिन्दुस्तान मशीन टूल्स, हिन्दी से सम्बन्धित प्रथम, हिंदुजा समूह, हैदराबाद, हेच -1बी वीज़ा, होन्नामाना केरे, होसूर, हो॰ वे॰ शेषाद्री, हीरो कप 1993-94, जनपद लोक, जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर, जयचमराजा वोडेयार बहादुर, जयललिता, जगदीश शेट्टार, ज्ञानचन्द्र घोष, जेट कनेक्ट, जेनपैक्ट, जोधपुर, जोश टॉक्स, जोगिंदर शर्मा, जीएमआर समूह, जीनोम परियोजना, जी॰ परमेश्वर, ईशा शरवानी, वाराणसी, वाई एस जगनमोहन रेड्डी, वाइल्डक्राफ़्ट, विट्ठल माल्या, विधान सभा, विधान सौध, विनीता बाली, विप्रो, विभिन्न उद्योगों का भारत में विकास, विश्व संवाद केन्द्र, विश्वविद्यालय, विश्वेश्वरय्या प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, विश्वेश्वरैया औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय, विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (भारत), विजय माल्या, विजय हजारे ट्रॉफी ग्रुप ए 2018, विजय कुमार सारस्वत, विव रिचर्ड्स, विक्रांत शेट्टी, वंडरला, वंदना शिवा, वृंदावन चन्द्रोदय मंदिर, वैमानिक विकास अभिकरण, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद, वेरोनिका रॉड्रिक्स, वेल्लोर, वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1974-75, वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1978-79, वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15, वेंकटरमन राधाकृष्णन, वी पी मेनोन, वीके मूर्ति, वी॰ एस॰ रमादेवी, वी॰ शान्ताकुमारी, खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग, गल्फ़ एयर, गाँधी प्रौद्योगिकी एवं प्रबन्धन संस्थान, गांधी भवन, गिरीश नागराजेगौड़ा, गुब्बी तोट्दप्पा, गुरबचन सिंह सलारिया, गुरु दत्त, गुर्रम कोंडा, गुलबर्ग किला, गौतम गंभीर, गोएयर, गोरखपुर, गोवा, ऑफ़शोरिंग, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1997-98, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2000-01, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2008-09, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2013-14, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2017, ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2016-17, ओतावियो क्वात्रोची, ओबेरॉय होटल एंड रिसॉर्ट्स, आधिकारिक आवास, आईएनजी वैश्य बैंक, आईसीसी अवॉर्ड्स, आईगेट (IGATE), इलाहाबाद, इसरो नौवहन केन्‍द्र, इसरो उपग्रह केंद्र, इंडियन टेलीफोन इंडस्ट्रीज, इंडियन प्रीमियर लीग, इंडिया'ज़ रॉ स्टार, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र, इंदु मल्होत्रा, इंफोसिस, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1963-64, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1976-77, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1981-82, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1992-93, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2001-02, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2008-09, इंग्लैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा २०१६–१७, कन्नड साहित्य परिषद, कन्नड साहित्य सम्मेलन, कपिल मिश्रा, कब्बन पार्क और संग्रहालय, कमल हासन, कम्मा (जाति), करण कपूर, कर्नाटक, कर्नाटक एक्स्प्रेस, कर्नाटक प्रीमियर लीग, कर्नाटक में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची, कर्नाटक सरकार, कर्नाटक विधानसभा, कर्नाटक क्रिकेट टीम, कर्नाटक की जनसांख्यिकी, कर्नाटक उच्च न्यायालय, कर्नाटक/आलेख, कर्नाटका प्रीमियर लीग, करू जैन, कामिनी ए.राव, कारवार, काशीनाथ, कांथी सुरेश, किरण राव, किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना, किंगफिशर रेड, कुन्नूर, कुप्पम, कुर्नूल जिला, कुशीनगर, कुसल राजेंद्रन, क्राइस्ट विश्वविद्यालय, क्रिकेट विश्व कप में भारत, क्रेगलिस्ट, क्रोमा, कृति खरबंदा, कृति करंत, कृष्णप्पा गौतम, कृष्णराज वोडेयार चतुर्थ, कृष्णराजसागर, के एल राहुल, के आई ओ सी एल लिमिटेड, केनरा बैंक, केन्द्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन, केन्द्रीय सरकार स्वास्थ्य योजना, केन्द्रीय विद्युत अनुसंधान संस्थान, केन्द्रीय व्यवसायिक क्षेत्रों की सूची, केन्द्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान, केम्पेगोडा प्रथम, केम्पेगोडा अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र, केम्मनगुंडी, केरला एक्सप्रेस, कॉलिन काउड्रे, कॉल्विन तालुकेदार्स कालेज, कॉग्निजेंट (Cognizant), कोच्चि, कोच्चोसेफ चिट्टिलपिल्लि, कोटागिरी, कोदगानुर एस. गोपीनाथ, कोलार जिला, कोका कोला त्रिकोणी सीरीज 1998, अडोबी सिस्टम्स, अदिति अशोक, अनिरुद्ध जोशी, अनिर्वण लाहिड़ी, अनिल कुंबले, अनंत कुमार, अनुपमा निरंजना, अनुराधा टी. के., अनुराधा टी॰ के॰, अन्नापुर्नी सुब्रमण्यम, अपूर्व असरानी, अफगानिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा २०१८, अमिताभ बच्चन, अमेठी, अरविन्द अडिग, अरुण बालाकृष्णन, अश्विनी पोनप्पा, अश्विनी अकुंजी, अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, अखिल अय्यर, अगरबत्ती, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2013-14, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2014-15, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2015, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2015-16, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2016-17, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट 2017-18, अंतरिक्ष विभाग, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, अंजली जय, अंजू चड्ढा, अंजू बॉबी जॉर्ज, अक्षय पात्र फाउण्डेशन, अक्षांश पर शहर, उडिपी रामचंद्र राव, उदयवाणी, उषा विजयाराघवन, छवि राजावत, १९९६ क्रिकेट विश्व कप, २०११ क्रिकेट विश्व कप, २०१४ इंडियन प्रीमियर लीग, २०१६ आईसीसी विश्व ट्वेन्टी २०, २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग, २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग फाइनल, २०१७ इंडियन प्रीमियर लीग, २०१८ इंडियन प्रीमियर लीग, २०१८ इंडियन प्रीमियर लीग के खिलाड़ियों के परिवर्तन की सूची, २५ जुलाई २००८ बंगलोर बम विस्फोट, 1987 क्रिकेट विश्व कप, 2011 इंडियन प्रीमियर लीग, 2012 दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामला, 2015 इंडियन प्रीमियर लीग, 2017 इंडियन प्रीमियर लीग के कर्मियों में परिवर्तन की सूची सूचकांक विस्तार (543 अधिक) »

चन्द्रशेखर वेंकटरमन

सीवी रमन (तमिल: சந்திரசேகர வெங்கடராமன்) (७ नवंबर, १८८८ - २१ नवंबर, १९७०) भारतीय भौतिक-शास्त्री थे। प्रकाश के प्रकीर्णन पर उत्कृष्ट कार्य के लिये वर्ष १९३० में उन्हें भौतिकी का प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार दिया गया। उनका आविष्कार उनके ही नाम पर रामन प्रभाव के नाम से जाना जाता है। १९५४ ई. में उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत रत्न की उपाधि से विभूषित किया गया तथा १९५७ में लेनिन शान्ति पुरस्कार प्रदान किया था। .

नई!!: बंगलौर और चन्द्रशेखर वेंकटरमन · और देखें »

चन्नपट्न रामस्वामि सिंह

चन्नपट्न रामस्वामि सिंह (ಚನ್ನಪಟ್ನ ರಾಮಸ್ವಾಮಿ ಸಿಂಹ), जिन्हें मुख्यतः सी॰आर॰ सिंह (ಸಿ.) के नाम से जाना जाता है (16 जून 1942 – 28 फ़रवरी 2014), भारतीय अभिनेता, फ़िल्म निर्देशक और नाटककार थे। उन्हें मुख्यतः कन्नड़ फ़िल्मों और स्टेज शो में उनके योगदानों के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपना कैरियर बंगलौर स्थित एक रंगमंच से किया था। २८ फ़रवरी २०१४ को बंगलौर के एक निजी अस्पताल में उनका निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और चन्नपट्न रामस्वामि सिंह · और देखें »

चामाराजानगर जिला

चामाराजानगर भारतीय राज्य कर्नाटक का दक्षिणी जिला है जिसकी सीमाएं तमिलनाडु तथा केरल से मिलती हैं। यह बंगलोर के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है और इसे १९९८ में मैसूरु जिले से अलग कर बनाया गया था। यहाँ बर वनवासी जातियों की अधिकता है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: बंगलौर और चामाराजानगर जिला · और देखें »

चित्तूर

चित्तूर: (तेलुगु:చిత్తూరు) चित्तूर जिले का जिला केन्द्र है। यह् एक् नगरपालिका शहर है ओर चित्तूर जिले का जिला केंद्र भी है। ये शहर नेशनल हैवे ४ पर है जो बेंगलुरू और चेन्नई शहरों को जोडता है। इस शेहर की जनसंख्या 153,766 और आस पास की जनसंख्या मिला कर कुल 175,640 है।(2011 census) .

नई!!: बंगलौर और चित्तूर · और देखें »

चित्रदुर्ग

चित्रदुर्ग, भारत के कर्नाटक प्रदेश का एक नगर एवं जिला मुख्यालय है। इसे 'दुर्ग' नाम से भी जाना जाता है। यह कर्नाटक के दक्षिणी भाग से बहने वाली वेदवती नदी की घाटी में स्थित है। चित्रदुर्ग, कर्नाटक की राजधानोई बंगलुरु से २०० किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह कर्नाटक का सबसे छोटा नगर है। चित्रदुर्ग का विहंगम दृष्य .

नई!!: बंगलौर और चित्रदुर्ग · और देखें »

चित्रा मंडल

चित्रा मंडल जैव-आणविक के क्षेत्र में एक रासायनिक जीवविज्ञानी है और स्वास्थ्य और रोगों में उनका आवेदन है। वह वर्तमान में सीएसआईआर के निदेशक हैं - भारतीय कोलकाता में रसायन जीव विज्ञान संस्थान, भारत। .

नई!!: बंगलौर और चित्रा मंडल · और देखें »

चिलमकूरु (कडप)

आन्ध्रप्रदेश के जिले चिलमाकुर भारतीय आंध्र प्रदेश के कडप जिले का एक गांव है, यह कडप राजस्व प्रभाग के येर्रागुंटला मंडल में स्थित है। चिलमाकुर कडापा जिले के औद्योगिक क्षेत्र में से एक है। श्री अगास्थेश्वर स्वामी मंदिर चिलमाकुर में सबसे पुराना मंदिर है जो भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा उल्लेख किया जाता है। जनसंख्या (2011) - कुल 11,239 - पुरुषों की संख्या 5,601 - महिलाओं की संख्या 5,638 - घरों की संख्या 2,743 .

नई!!: बंगलौर और चिलमकूरु (कडप) · और देखें »

चक्रवर्ती राजगोपालाचारी

चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (तमिल: சக்ரவர்தி ராஜகோபாலாச்சாரி) (दिसम्बर १०, १८७८ - दिसम्बर २५, १९७२), राजाजी नाम से भी जाने जाते हैं। वे वकील, लेखक, राजनीतिज्ञ और दार्शनिक थे। वे स्वतन्त्र भारत के द्वितीय गवर्नर जनरल और प्रथम भारतीय गवर्नर जनरल थे। १० अप्रैल १९५२ से १३ अप्रैल १९५४ तक वे मद्रास प्रांत के मुख्यमंत्री रहे। वे दक्षिण भारत के कांग्रेस के प्रमुख नेता थे, किन्तु बाद में वे कांग्रेस के प्रखर विरोधी बन गए तथा स्वतंत्र पार्टी की स्थापना की। वे गांधीजी के समधी थे। (राजाजी की पुत्री लक्ष्मी का विवाह गांधीजी के सबसे छोटे पुत्र देवदास गांधी से हुआ था।) उन्होंने दक्षिण भारत में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए बहुत कार्य किया। .

नई!!: बंगलौर और चक्रवर्ती राजगोपालाचारी · और देखें »

चेन्नई

चेन्नई (पूर्व नाम मद्रास) भारतीय राज्य तमिलनाडु की राजधानी है। बंगाल की खाड़ी से कोरोमंडल तट पर स्थित यह दक्षिण भारत के सबसे बड़े सांस्कृतिक, आर्थिक और शैक्षिक केंद्रों में से एक है। 2011 की भारतीय जनगणना (चेन्नई शहर की नई सीमाओं के लिए समायोजित) के अनुसार, यह चौथा सबसे बड़ा शहर है और भारत में चौथा सबसे अधिक आबादी वाला शहरी ढांचा है। आस-पास के क्षेत्रों के साथ शहर चेन्नई मेट्रोपॉलिटन एरिया है, जो दुनिया की जनसंख्या के अनुसार 36 वां सबसे बड़ा शहरी क्षेत्र है। चेन्नई विदेशी पर्यटकों द्वारा सबसे ज्यादा जाने-माने भारतीय शहरों में से एक है यह वर्ष 2015 के लिए दुनिया में 43 वें सबसे अधिक का दौरा किया गया था। लिविंग सर्वेक्षण की गुणवत्ता ने चेन्नई को भारत में सबसे सुरक्षित शहर के रूप में दर्जा दिया। चेन्नई भारत में आने वाले 45 प्रतिशत स्वास्थ्य पर्यटकों और 30 से 40 प्रतिशत घरेलू स्वास्थ्य पर्यटकों को आकर्षित करती है। जैसे, इसे "भारत का स्वास्थ्य पूंजी" कहा जाता है एक विकासशील देश में बढ़ते महानगरीय शहर के रूप में, चेन्नई पर्याप्त प्रदूषण और अन्य सैन्य और सामाजिक-आर्थिक समस्याओं का सामना करता है। चेन्नई में भारत में तीसरी सबसे बड़ी प्रवासी जनसंख्या 2009 में 35,000 थी, 2011 में 82,7 9 0 थी और 2016 तक 100,000 से अधिक का अनुमान है। 2015 में यात्रा करने के लिए पर्यटन गाइड प्रकाशक लोनली प्लैनेट ने चेन्नई को दुनिया के शीर्ष दस शहरों में से एक का नाम दिया है। चेन्नई को ग्लोबल सिटीज इंडेक्स में एक बीटा स्तरीय शहर के रूप में स्थान दिया गया है और भारत का 2014 का वार्षिक भारतीय सर्वेक्षण में भारत टुडे द्वारा भारत का सबसे अच्छा शहर रहा। 2015 में, चेन्नई को आधुनिक और पारंपरिक दोनों मूल्यों के मिश्रण का हवाला देते हुए, बीबीसी द्वारा "सबसे गर्म" शहर (मूल्य का दौरा किया, और दीर्घकालिक रहने के लिए) का नाम दिया गया। नेशनल ज्योग्राफिक ने चेन्नई के भोजन को दुनिया में दूसरा सबसे अच्छा स्थान दिया है; यह सूची में शामिल होने वाला एकमात्र भारतीय शहर था। लोनाली प्लैनेट द्वारा चेन्नई को दुनिया का नौवां सबसे अच्छा महानगरीय शहर भी नामित किया गया था। चेन्नई मेट्रोपॉलिटन एरिया भारत की सबसे बड़ी शहर अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। चेन्नई को "भारत का डेट्रोइट" नाम दिया गया है, जो शहर में स्थित भारत के ऑटोमोबाइल उद्योग का एक-तिहाई से भी अधिक है। जनवरी 2015 में, प्रति व्यक्ति जीडीपी के संदर्भ में यह तीसरा स्थान था। चेन्नई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्मार्ट सिटीज मिशन के तहत एक स्मार्ट शहर के रूप में विकसित किए जाने वाले 100 भारतीय शहरों में से एक के रूप में चुना गया है। विषय वस्तु 1 व्युत्पत्ति 2 इतिहास 3 पर्यावरण 3.1 भूगोल 3.2 भूविज्ञान 3.3 वनस्पति और जीव 3.4 पर्यावरण संरक्षण 3.5 जलवायु 4 प्रशासन 4.1 कानून और व्यवस्था 4.2 राजनीति 4.3 उपयोगिता सेवाएं 5 वास्तुकला 6 जनसांख्यिकी 7 आवास 8 कला और संस्कृति 8.1 संग्रहालय और कला दीर्घाओं 8.2 संगीत और कला प्रदर्शन 9 सिटीस्केप 9.1 पर्यटन और आतिथ्य 9.2 मनोरंजन 9.3 मनोरंजन 9.4 शॉपिंग 10 अर्थव्यवस्था 10.1 संचार 10.2 पावर 10.3 बैंकिंग 10.4 स्वास्थ्य देखभाल 10.5 अपशिष्ट प्रबंधन 11 परिवहन 11.1 एयर 11.2 रेल 11.3 मेट्रो रेल 11.4 रोड 11.5 सागर 12 मीडिया 13 शिक्षा 14 खेल और मनोरंजन 14.1 शहर आधारित टीम 15 अंतर्राष्ट्रीय संबंध 15.1 विदेशी मिशन 15.2 जुड़वां कस्बों - बहन शहरों 16 भी देखें 17 सन्दर्भ 18 बाहरी लिंक व्युत्पत्ति इन्हें भी देखें: विभिन्न भाषाओं में चेन्नई के नाम भारत में ब्रिटिश उपस्थिति स्थापित होने से पहले ही मद्रास का जन्म हुआ। माना जाता है कि मद्रास नामक पुर्तगाली वाक्यांश "मैए डी डीस" से उत्पन्न हुआ है, जिसका अर्थ है "भगवान की मां", बंदरगाह शहर पर पुर्तगाली प्रभाव के कारण। कुछ स्रोतों के अनुसार, मद्रास को फोर्ट सेंट जॉर्ज के उत्तर में एक मछली पकड़ने वाले गांव मद्रासपट्टिनम से लिया गया था। हालांकि, यह अनिश्चित है कि क्या नाम यूरोपियों के आने से पहले उपयोग में था। ब्रिटिश सैन्य मानचित्रकों का मानना ​​था कि मद्रास मूल रूप से मुंदिर-राज या मुंदिरराज थे। वर्ष 1367 में एक विजयनगर युग शिलालेख जो कि मादरसन पट्टणम बंदरगाह का उल्लेख करता है, पूर्व तट पर अन्य छोटे बंदरगाहों के साथ 2015 में खोजा गया था और यह अनुमान लगाया गया था कि उपरोक्त बंदरगाह रोयापुरम का मछली पकड़ने का बंदरगाह है। चेन्नई नाम की जन्मजात, तेलुगू मूल का होना स्पष्ट रूप से इतिहासकारों द्वारा साबित हुई है। यह एक तेलुगू शासक दमारला चेन्नाप्पा नायकुडू के नाम से प्राप्त हुआ था, जो कि नायक शासक एक दमनदार वेंकटपति नायक था, जो विजयनगर साम्राज्य के वेंकट III के तहत सामान्य रूप में काम करता था, जहां से ब्रिटिश ने शहर को 1639 में हासिल किया था। चेन्नई नाम का पहला आधिकारिक उपयोग, 8 अगस्त 1639 को, ईस्ट इंडिया कंपनी के फ्रांसिस डे से पहले, सेन्नेकेसु पेरुमल मंदिर 1646 में बनाया गया था। 1 99 6 में, तमिलनाडु सरकार ने आधिकारिक तौर पर मद्रास से चेन्नई का नाम बदल दिया। उस समय कई भारतीय शहरों में नाम बदल गया था। हालांकि, मद्रास का नाम शहर के लिए कभी-कभी उपयोग में जारी है, साथ ही साथ शहर के नाम पर स्थानों जैसे मद्रास विश्वविद्यालय, आईआईटी मद्रास, मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास मेडिकल कॉलेज, मद्रास पशु चिकित्सा कॉलेज, मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज। चेन्नई (तमिल: சென்னை), भारत में बंगाल की खाड़ी के कोरोमंडल तट पर स्थित तमिलनाडु की राजधानी, भारत का पाँचवा बड़ा नगर तथा तीसरा सबसे बड़ा बन्दरगाह है। इसकी जनसंख्या ४३ लाख ४० हजार है। यह शहर अपनी संस्कृति एवं परंपरा के लिए प्रसिद्ध है। ब्रिटिश लोगों ने १७वीं शताब्दी में एक छोटी-सी बस्ती मद्रासपट्ट्नम का विस्तार करके इस शहर का निर्माण किया था। उन्होंने इसे एक प्रधान शहर एवं नौसैनिक अड्डे के रूप में विकसित किया। बीसवीं शताब्दी तक यह मद्रास प्रेसिडेंसी की राजधानी एवं एक प्रमुख प्रशासनिक केन्द्र बन चुका था। चेन्नई में ऑटोमोबाइल, प्रौद्योगिकी, हार्डवेयर उत्पादन और स्वास्थ्य सम्बंधी उद्योग हैं। यह नगर सॉफ्टवेयर, सूचना प्रौद्योगिकी सम्बंधी उत्पादों में भारत का दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक शहर है। चेन्नई एवं इसके उपनगरीय क्षेत्र में ऑटोमोबाइल उद्योग विकसित है। चेन्नई मंडल तमिलानाडु के जीडीपी का ३९% का और देश के ऑटोमोटिव निर्यात में ६०% का भागीदार है। इसी कारण इसे दक्षिण एशिया का डेट्रॉएट भी कहा जाता है। चेन्नई सांस्कृतिक रूप से समृद्ध है, यहाँ वार्षिक मद्रास म्यूज़िक सीज़न में सैंकड़ॊ कलाकार भाग लेते हैं। चेन्नई में रंगशाला संस्कृति भी अच्छे स्तर पर है और यह भरतनाट्यम का एक महत्त्वपूर्ण केन्द्र है। यहाँ का तमिल चलचित्र उद्योग, जिसे कॉलीवुड भी कहते हैं, भारत का द्वितीय सबसे बड़ा फिल्म उद्योग केन्द्र है। .

नई!!: बंगलौर और चेन्नई · और देखें »

चेन्नई में यातायात

चेन्नई में आई.टी हाइवे, जिसके शिरोपरि एम आर टी एस (चेन्नई) निकलता हुआ दिखाई दे रहा है चेन्नई दक्षिण भारत के प्रवेशद्वार की भांति प्रतीत होता है, जिसमें अन्ना अन्तर्राष्ट्रीय टर्मिनल एवं कामराज अन्तर्देशीय टार्मिनल सहित चेन्नई अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा भारत का तीसरा व्यस्ततम विमानक्षेत्र है। चेन्नई शहर दक्षिण एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, पूर्वी एशिया, मध्य पूर्व, यूरोप एवं उत्तरी अमरीका के प्रधान बिन्दुओं पर ३० से अधिक राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय विमान सेवाओं से जुड़ा हुआ है। यह विमानक्षेत्र देश का दूसरा व्यस्ततम कार्गो टार्मिनस है। वर्तमान विमानक्षेत्र में अधिक आधुनिकिकरण और विस्तार कार्य प्रगति पर हैं। इसके अलावा श्रीपेरंबुदूर में नया ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट लगभग २००० करोड़ रु.

नई!!: बंगलौर और चेन्नई में यातायात · और देखें »

ट क टुकोल

चेतावनी: का उपयोग कर पृष्ठ साँचा:Infobox officeholder के साथ अज्ञात पैरामीटर "फ़ील्ड" (इस संदेश को दिखाया गया है केवल पूर्वावलोकन में).

नई!!: बंगलौर और ट क टुकोल · और देखें »

टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान

टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान (Tata Institute of Fundamental Research, TIFR) उच्च शिक्षा की महानतम् भारतीय संस्थाओं में से एक है। यहां मुख्यतः प्राकृतिक विज्ञान, गणित और कम्प्यूटर विज्ञान में अनुसंधान कार्य किया जा रहा है। यह मुम्बई के कोलाबा क्षेत्र में समुद्र के किनारे स्थित है। यहां का स्नातक कार्यक्रम अधोलिखित सभी विषयों में डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी (पी एच डी) की उपाधि प्रदान करता है। यह संस्थान होमी भाभा के निर्देशन में सन् १९४५ में स्थापित हुआ। इसे जून २००२ में समविश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त हुआ। .

नई!!: बंगलौर और टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान · और देखें »

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस लिमिटेड (टीसीएस) एक भारतीयबहुराष्ट्रीय कम्पनी सॉफ्टवेर सर्विसेस एवं कंसल्टिंग कंपनी है। यह दुनिया की सबसे बड़ी सूचना तकनीकी तथा बिज़नस प्रोसेस आउटसोर्सिंग सेवा प्रदाता कंपनियों में से है। साल २००७ में, इसे एशिया की सबसे बड़ी सूचना प्रोद्योगिकी कंपनी आँका गया। भारतीय आई टी कंपनियों की तुलना में टीसीएस के पास सबसे अधिक कर्मचारी हैं। टीसीएस के ४४ देशों में २,५४,००० कर्मचारी हैं। ३१ मार्च २०१२ को ख़त्म होने वाले वित्तीय वर्ष में कंपनी ने १०.१७ अरब अमेरिकी डॉलर का समेकित राजस्व हासिल किया। टीसीएस भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज तथा बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कंपनी है। टीसीएस एशिया की सबसे बड़ी कंपनी समूह में से एक टाटा समूह का एक हिस्सा है। टाटा समूह ऊर्जा, दूरसंचार, वित्तीय सेवाओं, निर्माण, रसायन, इंजीनियरिंग एवं कई तरह के उत्पाद बनाता है। वित्त वर्ष 2009-10 में कंपनी का मुनाफा 33.19% बढ़कर 7,000.64 करोड़ रुपये हो गया। इस दौरान कंपनी की आमदनी करीब 8% बढ़कर 30,028.92 करोड़ रुपये हो गयी। अप्रैल 2018 में, टीसीएस बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में अपनी एम-कैप 6,79,332.81 करोड़ रुपये (102.6 अरब डॉलर) के बाद 100 अरब डॉलर के बाजार पूंजीकरण करने वाली पहली भारतीय आईटी कंपनी बन गई, और दूसरी भारतीय कंपनी (रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 2007 में इसे हासिल करने के बाद)। .

नई!!: बंगलौर और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज · और देखें »

टाइटन कप 1996-97

टाइटन कप 17 अक्टूबर और 6 नवंबर, 1996 के बीच भारत में आयोजित त्रिकोणीय एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट था। इसमें दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीमों को शामिल किया गया था। हालांकि दक्षिण अफ्रीका ने अपने सभी राउंड-रोबिन मैचों को जीता था, लेकिन यह फाइनल में भारत से हार गया। टूर्नामेंट प्रायोजित टाइटन इंडस्ट्रीज के नाम पर रखा गया था। .

नई!!: बंगलौर और टाइटन कप 1996-97 · और देखें »

टिम पैन

टिमोथी डेविड (Timothy David) जिन्हें अभी ज्यादातर टिम पैन के नाम से जाना जाता है। इनका जन्म ८ दिसम्बर १९८४ को ऑस्ट्रेलिया के होबार्ट शहर के तस्मानिया नामक शहर में हुआ था। ये एक ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के क्रिकेट खिलाड़ी है जो घरेलू क्रिकेट तस्मानिया टाइगर्स और होबार्ट हरिकेन्स नामक टीमों की ओर से खेलते हैं पैन मुख्य रूप से एक बल्लेबाज और साथ ही विकेटकीपर के लिए भी जाने है। ये आईपीएल में एक सीजन में पुणे वॉरियर्स इंडिया के लिए खेले थे। .

नई!!: बंगलौर और टिम पैन · और देखें »

ट्रेंट (वेस्टसाइड)

ट्रेंट, टाटा समूह की खुदरा कारोबार शाखा है। 1998 में आरंभ ट्रेंट, वेस्टसाइड नामक खुदरा श्रृंखला का संचालन करती है जो भारत में बढ़ रही कई खुदरा श्रृंखलाओं में से एक है। ट्रेंट का मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और ट्रेंट (वेस्टसाइड) · और देखें »

टेरी - ऊर्जा और संसाधन संस्थान

ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान, जो आमतौर पर टेरी के नाम से जाना जाता है (पूर्व में टाटा ऊर्जा अनुसंधान संस्थान), १९७४ में स्थापित, ऊर्जा, पर्यावरण और टिकाऊ विकास के क्षेत्रों में अनुसंधान गतिविधियों पर केंद्रित नई दिल्ली में आधारित शोध संस्थान है। .

नई!!: बंगलौर और टेरी - ऊर्जा और संसाधन संस्थान · और देखें »

टोयोटा ईटिओस

टोयोटा ईटिओस, भारत के ऑटोमोबाइल (वाहन) बाजार के लिए टोयोटा द्वारा विकसित एक कार है। कार को भारत में आधिकारिक तौर पर जनवरी 2010 में एक ऑटो शो के दौरान पेश किया गया था। कार को दिसम्बर 2010 में बाज़ार में उतारा जाएगा। कार हैचबैक और सीडान दोनों संस्करणों में उपलब्ध होगी। ईटिओस को भारत के बंगलौर स्थित संयंत्र एक में निर्मित किया जाएगा। भारत में टोयोटा की यह अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है। .

नई!!: बंगलौर और टोयोटा ईटिओस · और देखें »

टीना देसाई

टीना देसाई (जन्म:24 फरवरी 1987) एक भारतीय अभिनेत्री है। इन्होने अपने अभिनय की शुरुआत 2011 में बनी फ़िल्म ये फ़ासले से किया। इन्होने 2012 में एक अंग्रेजी फ़िल्म द बेस्ट एक्सोटिक मेरीगोल्ड होटल में भी कार्य किया। .

नई!!: बंगलौर और टीना देसाई · और देखें »

टीपू सुल्तान का सुमेर महल

टीपू का सम्मर पेलेस, भारत के शहर बेंगलूर के क़िले में एक महल है जिसे मैसूर के सुल्तान हैदर अली ने बनवाना शुरू किया और टीपू सुल्तान ने उसको 1791 में पूरा किया। टीपू सुल्तान की मृत्यू के बाद ब्रिटिश सरकार के हाथों में यह महल आया। आज कल इसे कर्नाटक सरकार देख भाल कर रही है। यह पर्याटकों और संदर्शकों से भरा रहता है। यह महल शहर बेंगलूर के बीच क़िले के अंदर है, जो कलासिपालेम बस स्टांड ए क़रीब है। इस महल में रखे गये चित्र में फ़ारसे भाशा में लिखे कविता में इसका वर्णन किया गया है। जिस में इस महल को "रष्क-ए-जन्नत" कहा गया। .

नई!!: बंगलौर और टीपू सुल्तान का सुमेर महल · और देखें »

एच ए एल बंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

एच ए एल बंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र कर्नाटक, बंगलोर स्थित पुराना हवाईअड्डा है जो मार्च २००९ से बंद हो गया है। इसके स्थान पर बेंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र खोला गया है। श्रेणी:भारत में विमानक्षेत्र.

नई!!: बंगलौर और एच ए एल बंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र · और देखें »

एचएएल ध्रुव

ध्रुव हैलीकॉप्टर हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा विकसित और निर्मित भारत का एक बहूद्देशीय हैलीकॉप्टर है। इसकी भारतीय सशस्त्र बलों को आपूर्ति की जा रही है और एक नागरिक संस्करण भी उपलब्ध है। इसे पहले नेपाल और इज़रायल को निर्यात किया गया था फिर सैन्य और वाणिज्यिक उपयोग के लिए कई अन्य देशों द्वारा मंगाया गया है। सैन्य संस्करण परिवहन, उपयोगिता, टोही और चिकित्सा निकास भूमिकाओं में उत्पादित किये जा रहे हैं। ध्रुव मंच के आधार पर, एच ए एल हल्का लड़ाकू हेलीकाप्टर, एक लड़ाकू हेलीकाप्टर और एचएएल लाइट अवलोकन हेलीकाप्टर, एक उपयोगिता और प्रेक्षण हेलिकॉप्टर विकसित किए गए है। .

नई!!: बंगलौर और एचएएल ध्रुव · और देखें »

एन आर नारायणमूर्ति

नागवार रामाराव नारायणमूर्ति (जन्म: २० अगस्त १९४६) भारत की प्रसिद्ध सॉफ़्टवेयर कंपनी इन्फोसिस टेक्नोलॉजीज के संस्थापक और जानेमाने उद्योगपति हैं। उनका जन्म मैसूर में हुआ। आई आई टी में पढ़ने के लिए वे मैसूर से बैंगलौर आए, जहाँ १९६७ में इन्होंने मैसूर विश्वविद्यालय से बैचलर ऑफ इन्जीनियरिंग की उपाधि और १९६९ में आई आई टी कानपुर से मास्टर ऑफ टैक्नोलाजी (M.Tech) की उपाधि प्राप्त की। नारायणमूर्ति आर्थिक स्थिति सुदृढ़ न होने के कारण इंजीनियरिंग की पढ़ाई का खर्च उठाने में असमर्थ थे। उनके उन दिनों के सबसे प्रिय शिक्षक मैसूर विशवविद्यालय के डॉ॰ कृष्णमूर्ति ने नारायण मूर्ति की प्रतिभा को पहचान कर उनको हर तरह से मदद की। बाद में आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो जाने पर नारायणमूर्ति ने डॉ॰ कृष्णमूर्ति के नाम पर एक छात्रवृत्ति प्रारंभ कर के इस कर्ज़ को चुकाया। .

नई!!: बंगलौर और एन आर नारायणमूर्ति · और देखें »

एपिक (ब्राउजर)

एपिक एक ब्राउजर है। इसकी खास बात यह है कि इसमें कई फीचर भारत को केंद्र में रखकर बनाए गए हैं। .

नई!!: बंगलौर और एपिक (ब्राउजर) · और देखें »

एम चिन्नास्वामी स्टेडियम

एम चिन्नास्वामी स्टेडियम बेंगलूरु के एक प्रसिद्ध क्रिकेट का मैदान हैं। .

नई!!: बंगलौर और एम चिन्नास्वामी स्टेडियम · और देखें »

एम टी वी आचार्य

एम टी वी आचार्य (1920-1992) एक चित्रकार, बाल पुस्तकों के चित्रकार और कला के शिक्षक थे। लोकप्रिय भारतीय बच्चों की पत्रिका चंदामामा के लिए आज उन्हें याद किया जाता है। आचार्य ने मैसूर दशेहरा प्रदर्शनी में अपने छात्र जीवन के दौरान अपनी चित्रकारी के लिए पुरस्कार जीता था। प्रारंभ में उन्होंने बंगलौर में हिंदुस्तान विमान के साथ काम किया। अपनी पहली चित्र प्रदर्शनी 1945 में चेन्नई में थे। उन्होंने 1947 में तमिल बाल पत्रिका चंदामामा में शामिल हो गए और बाद में कन्नड़ संस्करण के संपादक बने। उन्होंने चंदामामा के लिए कई कवर चित्रित किया। 1963 और 1965 के बीच वे कन्नड़ दैनिक तैनादु के कला निर्देशक रहे। बाद में उनहोंने बंगलौर में अपने खुद के कला विद्यालय की स्थापना की, जिसे आचार्य चित्रकला भवन का नाम दिया जिससे कि पेंटिंग में पत्राचार के माध्यम से सबक और प्रशिक्षण प्रदान किया जाता था। .

नई!!: बंगलौर और एम टी वी आचार्य · और देखें »

एमटीवी रोडीस

MTV रोडीस, MTV भारत पर प्रसारित एक युवाओं पर आधारित लोकप्रिय रिएलिटी टैलिविज़न शो है। शो के बारे में जब कार्यकारी निर्माता रघु राम से पूछा गया तो उन्होंने कहा रोडीस में यात्रा, साहसिक कार्य, नाटक, कामदर्शिता की झलक होती है।" .

नई!!: बंगलौर और एमटीवी रोडीस · और देखें »

एयर कोस्टा

एयर कोस्टा, भारत की एक क्षेत्रीय एयरलाइन है जो विजयवाड़ा, आंध्र प्रदेश में स्थित है। इसने अपनी पहली उड़ान अक्तूबर 2013 से चेन्नई से प्रारम्भ किया जो इसके मुख्य संचालन और रखरखाव के केन्द्रों में से एक है। यह एल ई पी एल समूह का हिस्सा है जो विजयवाड़ा में स्थित है। इसने अपनी अनुसूचित आपरेशन (उड़ान का प्रारम्भ) अक्टूबर 2013 में दो एमब्रेयर ई -170 विमान का उपयोग कर,300 कर्मचारियों के साथ की, जिसमे प्रवासी पायलटों और इंजीनियरों सम्मिलित थे। एयरलाइन, भारत में टियर टू और थ्री शहरों के बीच हवाई सम्पर्क व यातायात में सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित करने की योजना बना रही है और इसने 2015 तक 1.5 करोड़ डॉलर के निवेश की घोषणा की है। इस एयरलाइन्स की 2015 तक विजयवाड़ा हवाई अड्डे पर एक विमान रखरखाव, मरम्मत और ओवरहाल (एमआरओ) सुविधा स्थापित करने की योजना है। वर्तमान में चेन्नई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर इस एयरलाइन के रखरखाव केंद्र है। .

नई!!: बंगलौर और एयर कोस्टा · और देखें »

एयरबस

एयरबस SAS (अंग्रेज़ी मेंचित्र:ltspkr.png, फ़्रांसीसी में /ɛʁbys/ और जर्मन में) एक यूरोपीय अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी कम्पनी EADS की एक वायुयान निर्माण सहायक कम्पनी है। ब्लैगनैक, फ़्रांस में ट्युलाउज़ के पास स्थित और पूरे यूरोप में महत्वपूर्ण गतिविधि वाली यह कम्पनी समस्त विश्व के जेट विमानों की कुल संख्या के लगभग आधे का उत्पादन करती है। एयरबस की शुरुआत अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी उत्पादकों के एक संघ के रूप में हुई। सदी के अंत के दौरान यूरोपीय सैन्य और अंतरिक्ष अनुसंधान कम्पनियों के एकीकरण ने 2001 में सरलीकृत संयुक्त स्टॉक कंपनी की स्थापना की अनुमति दी, जिसका स्वामित्व EADS (80%) और BAE सिस्टम्स (20%) के पास था। एक लंबी विक्रय प्रक्रिया के बाद 13 अक्टूबर 2006 को BAE ने अपनी हिस्सेदारी EADS को बेच दी। यूरोपीय संघ के चार देशों: जर्मनी, फ़्रांस, यूनाइटेड किंगडम और स्पेन, के सोलह स्थानों पर एयरबस के लगभग 57,000 कर्मचारी कार्य करते हैं। अंतिम असेम्बली उत्पादन ट्युलाउज़ (फ़्रांस), हैम्बर्ग (जर्मनी), सेविल (स्पेन) और, 2009 से, तियान्जिन (चीन) में होता है। संयुक्त राज्य अमरीका, जापान, चीन और भारत में एयरबस की सहायक कम्पनियां कार्यरत हैं। यह कम्पनी वाणिज्यिक रूप से व्यवहार्य पहले फ़्लाइ-बाइ-वायर (fly-by-wire) वायुयानों के उत्पादन और विपणन के लिये जानी जाती है। .

नई!!: बंगलौर और एयरबस · और देखें »

एस एम कृष्णा

एस एम कृष्णा, जन्म1932, पूरा नाम- सोमनाहल्ली मल्लैया कृष्णा, वर्ष1999 से 2004 कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे और वर्ष 2004 से 2008 तक महाराष्ट्र के राज्यपाल रहे। 22 मई 2009 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कृष्णा को केंद्रीय कैबिनेट में शामिल किया गया और 23 मई 2009 विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी .

नई!!: बंगलौर और एस एम कृष्णा · और देखें »

एस आर रंगनाथन

यस आर रंगनाथन भारत के गणितज्ञ तथा पुस्तकालय जगत के जनक थे जिन्होने कोलन वर्गीकरण तथा क्लासिफाइड केटलाग कोड बनाया। पुस्तकालय विज्ञान को महत्व प्रदान करने तथा भारत में इसका प्रचार प्रसार करने में इनका सक्रिय योगदान था।http://publications.drdo.gov.in/gsdl/collect/dbit/index/assoc/HASH5351.dir/dbit1205003.pdf .

नई!!: बंगलौर और एस आर रंगनाथन · और देखें »

एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन

एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन भारत की अंतरिक्ष व्यापार कंपनी है।http://economictimes.indiatimes.com/news/politics-and-nation/India-figures-out-science-of-rocket-dollars/articleshow/37562454.cms यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) की वाणिज्यिक शाखा (कमर्शियल ब्रांच) है। .

नई!!: बंगलौर और एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन · और देखें »

एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के कीर्तिमानों की सूची

एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जिसे अंग्रेजी में (वनडे/ODI) के नाम से जाना जाता है। इस प्रारूप में प्रायः पूर्ण सदस्यता वाली राष्ट्रीय क्रिकेट टीमें खेलती हैं। एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वर्तमान में 50 ओवर रखे गए गए हैं हालांकि पूर्व में 55 तथा 60 ओवरों के मैच खेले जाते थे जो बाद में 50 ओवरों के कर दिए गए। एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला मैच ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड के बीच जनवरी १९७१ को खेला गया था। वनडे क्रिकेट अर्थात एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक तथा सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के नाम है, सचिन ने कुल  १८,४२६ बनाए है। जबकि सबसे ज्यादा विकेट लेने का श्रेय श्रीलंका क्रिकेट टीम के मुथैया मुरलीधरन को जाता है। इनके अलावा सबसे ज्यादा लगातार मैच जीतने का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का है जिन्होंने लगातार २१ मैच जीते थे और लगातार सबसे हारने वाली टीम बांग्लादेश है जो लगातार २७ मैच हारी थी। व्यक्तिगत कीर्तिमानों में सचिन तेंदुलकर और मुथैया मुरलीधरन के अलावा रोहित शर्मा का नाम भी आता है जिन्होंने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट २ दोहरे शतक लगाए तथा एक मैच में सबसे ज्यादा रन भी इन्होंने ने ही बनाए है जो २६४ रन बनाए थे। गेंदबाजी में श्रीलंका क्रिकेट टीम के चमिंडा वास ने १९ रन देकर ०८ विकेट लिए थे। एक ओवर में सबसे ज्यादा रन दक्षिण अफ्रीका के हर्शल गिब्स ने ३६ रन बनाए है तथा सबसे तेज शतक एबी डी विलियर्स ने मात्र ३१ गेंदों पर बनाया है। .

नई!!: बंगलौर और एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के कीर्तिमानों की सूची · और देखें »

एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय के एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की सूची

एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में जो आईसीसी की पूर्ण सदस्य टीम है उनमें भारतीय क्रिकेट टीम के रोहित शर्मा का सर्वश्रेष्ठ स्कोर है रोहित के नाम २६४ रन है जो श्रीलंका क्रिकेट टीम के खिलाफ बनाया था। .

नई!!: बंगलौर और एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय के एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की सूची · और देखें »

एक दीवाना था

एक दीवाना था २०१२ में बनी भारतीय रोमांस ड्रामा फिल्म है, जो गौतम मेनन द्वारा लिखी और निर्देशित की गयी है। इसमें फिल्मी सितारे प्रतीक बब्बर और एमी जैक्सन प्रमुख भूमिकाओं में है। .

नई!!: बंगलौर और एक दीवाना था · और देखें »

एकदिवसीय क्रिकेट के दोहरे शतक

एकदिवसीय क्रिकेट में अब तक ७ दोहरे शतक लग चुके हैं। पहला दोहरा शतक सचिन तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ २०० रन बनाए वो भी नाबाद रहते हुए। वर्तमान में रोहित शर्मा उच्च स्कोरर है जिन्होंने श्रीलंका के खिलाफ २६४ रन बनाए थे। .

नई!!: बंगलौर और एकदिवसीय क्रिकेट के दोहरे शतक · और देखें »

एक्सेंट्रिक पेंडुलम

एक्सेंट्रिक पेंडुलम (Eccentric Pendulum) नवंबर, 2008 में गठित भारत का 'हेवी मेटल' बैंड है। उन्होने एक स्टूडियो एलबम और एक ईपी जारी किया है। .

नई!!: बंगलौर और एक्सेंट्रिक पेंडुलम · और देखें »

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम

अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम अथवा ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम (A P J Abdul Kalam), (15 अक्टूबर 1931 - 27 जुलाई 2015) जिन्हें मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और अभियंता (इंजीनियर) के रूप में विख्यात थे। इन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) संभाला व भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी शामिल रहे। इन्हें बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास के कार्यों के लिए भारत में मिसाइल मैन के रूप में जाना जाने लगा। इन्होंने 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में भारत के पोखरान-द्वितीय परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाई। कलाम सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी व विपक्षी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दोनों के समर्थन के साथ 2002 में भारत के राष्ट्रपति चुने गए। पांच वर्ष की अवधि की सेवा के बाद, वह शिक्षा, लेखन और सार्वजनिक सेवा के अपने नागरिक जीवन में लौट आए। इन्होंने भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किये। .

नई!!: बंगलौर और ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम · और देखें »

डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस

डेली न्यूज एंड एनालिसिस (Daily News and Analysis) (डीएनए) एक भारतीय व्यापकपर्ण अंरेज़ी भाषा समाचार पत्र है इसकी संस्थापना 2005 में मुम्बई, अहमदाबाद, पुणे, जयपुर, बंगलोर और इन्दौर से आरम्भ हुई। यह अंग्रेज़ी में प्रकशित भारतीय अखबारों में प्रथम है जिसके सभी पृष्ठ रंगीन होते हैं। .

नई!!: बंगलौर और डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस · और देखें »

डेविड वॉर्नर (क्रिकेटर)

डेविड एंड्रयू वार्नर (जन्म: 23 अक्टूबर 1986) एक ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर हैं। तेज़ी से रन बनाने वाले बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज वार्नर,क्रिकेट इतिहास सालों ऐसे पहले क्रिकेटर हैं जिन्होंने ब्रिसबेन में शतक बनाया उससे पहले सर डाॅन ब्रेडमैन ने अपने आखिरी मैच में 80 रन बनाए थे। वाॅर्नर न्यू साउथ वेल्स, डरहम, हैदराबाद और सिडनी सिक्सर्स के लिए खेलते हैं। .

नई!!: बंगलौर और डेविड वॉर्नर (क्रिकेटर) · और देखें »

डॉ शरण शिवराज पाटिल

शरण शिवराज पाटिल भारत के एक मानवातावादी और ऑर्थोपेडिक सर्जन हैं। .

नई!!: बंगलौर और डॉ शरण शिवराज पाटिल · और देखें »

डी राजेन्द्र बाबू

डी राजेन्द्र बाबू (ರಾಜೇಂದ್ರ ಬಾಬು) (30 मार्च 1951 – 3 नवम्बर 2013) कन्नड़ फ़िल्म निर्माता एवं पटकथा लेखक थे। उन्होंने विभिन्न विधाओं में ५० से अधिक फ़िल्मों का निर्माण किया, जिनमें से अधिकतर भावुक फ़िल्में हैं। उन्होंने कई फ़िल्मों का लेखन और निर्देशन का कार्य किया, यद्यपि उनमें से कई पुनर्निर्मित फ़िल्में थी। कन्नड़ फ़िल्मों के अलावा उन्होंने मलयाली और हिन्दी के साथ-साथ तेलुगू फ़िल्मों का भी निर्देशन किया है। वो कन्नड़ सिनेमा के एक जाने-माने निर्देशक थे। 3 नवम्बर 2013 को उनका निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और डी राजेन्द्र बाबू · और देखें »

डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड

डीएलएफ सेंटर, डीएलएफ मुख्यालय, नई दिल्ली डीएलएफ लिमिटेड (DLF Limited) या डीएलएफ (मूल रूप से जिसका नाम दिल्ली लैंड एण्ड फाइनेंस था), भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित सबसे बड़ी भारतीय अचल संपत्ति विकासक (रीयल एस्टेट डेवेलपर) कंपनी है। डीएलएफ ग्रुप की स्थापना 1946 में रघुवेंद्र सिंह द्वारा की गई थी। डीएलएफ ने दिल्ली में शिवाजी पार्क (जो वास्तव में इसका पहला निर्माण था), राजौरी गार्डन, कृष्णा नगर, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, कैलाश कॉलोनी और हौज़ खास जैसी आवासीय कॉलोनियों का विकास किया। 1957 में दिल्ली विकास अधिनियम के पारित होने के साथ स्थानीय सरकार ने दिल्ली में अचल संपत्ति के विकास को अपने हाथ में ले लिया और निजी अचल संपत्ति विकासक कंपनियों को ऐसा करने से प्रतिबंधित कर दिया। परिणामस्वरूप डीएलएफ ने दिल्ली विकास प्राधिकरण के नियंत्रण क्षेत्र से बाहर और इससे सटे हरियाणा राज्य के गुड़गांव जिले में अपेक्षाकृत कम लागत वाली जमीन पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया। 1970 के दशक के मध्य में कंपनी ने गुड़गांव में डीएलएफ सिटी परियोजना को विकसित करना शुरू किया। इसकी आगामी योजनाओं में होटल, बुनियादी ढांचे और विशेष आर्थिक क्षेत्र संबंधी विकास परियोजनाएं शामिल हैं। फ़िलहाल इस कंपनी का नेतृत्व बुलंद शहर के एक जाट और भारतीय अरबपति कुशल पाल सिंह द्वारा किया जा रहा है। फोर्ब्स की 2009 की सबसे अमीर अरबपतियों की सूची के अनुसार कुशल पाल सिंह अब दुनिया के 98वें सबसे अमीर व्यक्ति और दुनिया के सबसे अमीर संपत्ति विकासक हैं। जुलाई 2007 में कंपनी का 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला आईपीओ भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ रहा है। जुलाई 2007 में डीएलएफ ने 30 जून 2007 को समाप्त होने वाले अपने पहले तिमाही परिणामों की घोषणा की। कंपनी ने 3,120.98 करोड़ रूपए के कारोबार और 1,515.48 करोड़ रूपए के पीएटी (PAT) की घोषणा की। .

नई!!: बंगलौर और डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड · और देखें »

डीडी चंदना

डीडी चंदना एक कन्नड़ टीवी चैनल है। यह एक सरकारी चैनल है। .

नई!!: बंगलौर और डीडी चंदना · और देखें »

डी॰ के॰ रवि

डी॰ के॰ रवि (पूरा नाम दोड्डकोप्पलू करियप्पा रवि, १० जून १९७९ - १६ मार्च २०१५) भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी थे। वे भारतीय प्रशासनिक सेवा के कर्नाटक कैडर के २००९ समूह के अधिकारी थे। ज़ी न्यूज़ (Zee News), १७ मार्च २०१५ एक कर्मठ और ईमानदार प्रशासक के रूप में उन्हें तब जनता के बीच में पहचान मिली जब कोलार ज़िले के उपायुक्त के रूप में कार्य करते हुए उन्होंने ज़िले में सरकारी भूमि पर किये गए अतिक्रमण और बेरोकटोक रूप से चल रहे अवैध रेत खनन के विरुद्ध अभियान चलाया। कोलार ज़िले में लगभग चौदह माह के कार्यकाल के बाद अक्टूबर २०१४ में कर्नाटक सरकार द्वारा उन्हें बंगलौर में वाणिज्य कर (प्रवर्तन) के अतिरिक्त आयुक्त के पद पर स्थानान्तरित कर दिया गया। राजस्थान पत्रिका, १७ मार्च २०१५ अतिरिक्त आयुक्त के रूप में पांच माह तक कार्य करते हुए वे १६ मार्च २०१५ को अपने आवास पर संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाए गए। अपने पांच माह के इस छोटे कार्यकाल में ही उनके द्वारा बीस से अधिक कर चोरी कर रही कम्पनियों, फर्मों और बिल्डरों पर की गयी छापेमारी, और इनसे की गयी करोड़ों रूपये की कर उगाही ने उनकी अचानक मृत्यु को संदेहास्पद बना दिया। राजस्थान पत्रिका, १८ मार्च २०१५ .

नई!!: बंगलौर और डी॰ के॰ रवि · और देखें »

तमिल नाडु

तमिल नाडु (तमिल:, तमिऴ् नाडु) भारत का एक दक्षिणी राज्य है। तमिल नाडु की राजधानी चेन्नई (चेऩ्ऩै) है। तमिल नाडु के अन्य महत्त्वपूर्ण नगर मदुरै, त्रिचि (तिरुच्चि), कोयम्बतूर (कोऽयम्बुत्तूर), सेलम (सेऽलम), तिरूनेलवेली (तिरुनेल्वेऽली) हैं। इसके पड़ोसी राज्य आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल हैं। तमिल नाडु में बोली जाने वाली प्रमुख भाषा तमिल है। तमिल नाडु के वर्तमान मुख्यमन्त्री एडाप्पडी  पलानिस्वामी  और राज्यपाल विद्यासागर राव हैं। .

नई!!: बंगलौर और तमिल नाडु · और देखें »

ताराघर

---- नेहरू ताराघर, मुंबई ताराघर (अंग्रेज़ी में प्लेनेटेरियम) या तारामण्डल या नक्षत्रालय एक ऐसा भवन होता है जहाँ खगोलिकी व नाइट स्काई विषयक ज्ञानवर्धक व मनोरंजक कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाते हैं। ताराघर की पहचान अक्सर उसकी विशाल गुंबदनुमा प्रोजेक्शन स्क्रीन होती है। भारत में ३० ताराघर हैं। इनमें से चार, जो क्रमशः मुंबई, नई दिल्ली, बंगलौर व इलाहाबाद में स्थित हैं, जवाहरलाल नेहरू के नाम से जाने जाते हैं। चार ताराघर बिड़ला घराने द्वारा पोषित हैं जो कोलकाता, चैन्नई, हैदराबाद व जयपुर में हैं। सितंबर १९६२ में प्रारंभ कोलकाता स्थित एम पी बिड़ला ताराघर देश का पहला ताराघर है। .

नई!!: बंगलौर और ताराघर · और देखें »

ताज होटल्स रिसॉर्ट्स एंड पैलेसेज

इंडियन होटेल्स कंपनी लिमिटेड - जिसे ताज ग्रूप के ब्रांड नेम से जाना जाता है - कि स्थापना टाटा ग्रूप के संस्थापक जमशेदजी टाटा द्वारा साल १९०३ मे की गयी थी। होटेल्स और रिज़ॉर्ट्स की विस्तृत शृंखला वाली इस कंपनी का मुख्य कार्यालय ऑक्स्फर्ड हाउस, मुंबई मे है। यह कंपनी भारत के सबसे बड़े व्यापारिक संस्थानो मे से एक टाटा ग्रुप का हिस्सा है। २०१५ की जानकारी के अनुसार ताज ग्रूप पूरे भारत मे फैले १०८ होटेल्स और यू.

नई!!: बंगलौर और ताज होटल्स रिसॉर्ट्स एंड पैलेसेज · और देखें »

तिरुवन्नमलई

भारत के तमिलनाडु राज्य स्थित तिरुवन्नमलई जिले में बसा तिरुवन्नमलई एक तीर्थ शहर और नगरपालिका है। यह तिरुवन्नमलई जिले का मुख्यालय भी है। अन्नमलईयर मंदिर इसी तिरुवन्नमलई में बसा हुआ है, जो कि अन्नमलई पहाड़ की तराई में स्थित है और यह मंदिर तमिलनाडु में भगवान शिव के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। लम्बे समय से तिरुवन्नमलई कई योगियों और सिद्धों से जुड़ा रहा है, और सबसे हाल के समय की बात करें तो अरुणाचल की पहाड़ियां, जहां 20वीं सदी के गुरु रमण महर्षि रहते थे, वह एक प्रसिद्ध आध्यात्मिक पर्यटन स्थल के रूप में चर्चित हो चुका है। .

नई!!: बंगलौर और तिरुवन्नमलई · और देखें »

द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया

द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया (The Times of India, TOI के रूप में संक्षेपाक्षरित) भारत में प्रकाशित एक अंग्रेज़ी भाषा का दैनिक समाचार पत्र है। इसका प्रबन्धन और स्वामित्व बेनेट कोलेमन एंड कम्पनी लिमिटेड के द्वारा किया जाता है। दुनिया में सभी अंग्रेजी भाषा के व्यापक पत्रों में इस अखबार की प्रसार संख्या सर्वाधिक है। 2005 में, अखबार ने रिपोर्ट दी कि (24 लाख से अधिक प्रसार के साथ) इसे ऑडिट बुरो ऑफ़ सर्क्युलेशन के द्वारा दुनिया के सबसे ज्यादा बिकने वाले अंग्रेजी भाषा के सामान्य समाचार पत्र के रूप में प्रमाणित किया गया है। इसके वावजूद भारत के भाषायी समाचार पत्रों (विशेषत: हिन्दी के अखबारों) की तुलना में इसका प्रसार बहुत कम है। टाइम्स ऑफ इंडिया को मीडिया समूह बेनेट, कोलेमन एंड कम्पनी लिमिटेड के द्वारा प्रकाशित किया जाता है, इसे टाइम्स समूह के रूप में जाना जाता है, यह समूह इकॉनॉमिक टाइम्स, मुंबई मिरर, नवभारत टाइम्स (एक हिंदी भाषा का दैनिक), दी महाराष्ट्र टाइम्स (एक मराठी भाषा का दैनिक) का भी प्रकाशन करता है। .

नई!!: बंगलौर और द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया · और देखें »

द हिन्दू

द हिन्दू (द हिन्दू) भारत में प्रकाशित होने वाला एक दैनिक अंग्रेज़ी समाचार पत्र है। इसका मुख्यालय चेन्नई में है और इसका साप्ताहिक पत्रिका के रूप में प्रकाशन वर्ष 1878 में आरम्भ हुआ। यह दैनिक के रूप में वर्ष 1889 में आरम्भ हुआ। यह भारत के शीर्ष दैनिक अंग्रेज़ी समाचार पत्रों में से एक है। भारतीय पाठक सर्वेक्षण के 2014 के अनुसार यह भारत में पढ़े जाने वाले अंग्रेज़ी समाचार पत्रों में तीसरे स्थान पर है। पहले दो स्थानों पर द टाइम्स ऑफ़ इंडिया और हिन्दुस्तान टाइम्स पाये गये। द हिन्दू मुख्य रूप से दक्षिण भारत में पढ़ा जाता है और केरल एवं तमिलनाडु में सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला अंग्रेज़ी दैनिक समाचार पत्र है। वर्ष २०१० के आँकड़ों के अनुसार इस उद्यम में 1,600 से अधिक लोगों को काम दिया गया है और इसकी वार्षिक आय $200 मिलियन से अधिक है। इसकी आय के मुख्य स्रोतों में अंशदान और विज्ञापन प्रमुख हैं। वर्ष 1995 में अपना ऑनलाइन संस्करण उपलब्ध करवाने वाला, द हिन्दू प्रथम भारतीय समाचार पत्र है। नवम्बर 2015 के अनुसार, यह भारत के नौ राज्यों में 18 स्थानों से प्रकाशित होता है: बंगलौर, चेन्नई, हैदराबाद, तिरुवनन्तपुरम, विजयवाड़ा, कोलकाता, मुम्बई, कोयंबतूर, मदुरै, नोएडा, विशाखपट्नम, कोच्चि, मैंगलूर, तिरुचिरापल्ली, हुबली, मोहाली, लखनऊ, इलाहाबाद और मलप्पुरम। .

नई!!: बंगलौर और द हिन्दू · और देखें »

द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स

गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स दक्षिण एशिया का एक अत्याधुनिक, पूर्ण सेवा प्रदान करने मध्य बाजार होटल और रिजॉर्ट श्रृंखला है। गेटवे होटल्स का स्वामित्व इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड के पास हैं और यह टाटा समूह का एक हिस्सा है। .

नई!!: बंगलौर और द गेटवे होटल्स एंड रिसॉर्ट्स · और देखें »

दयानंद सागर कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग

दयानन्द सागर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग बंगलुरु स्थित एक इंजीनियरिंग महाविद्यालय है। यह 1979 में आर दयानंद सागर द्वारा स्थापित किया गया था और महात्मा गांधी विद्यापीठ ट्रस्ट द्वारा चलाया जाता है। यह कुमारस्वामी लेआउट में एक पहाड़ी पर 28 एकड़ (110,000 वर्गमीटर) भूमि पर है। .

नई!!: बंगलौर और दयानंद सागर कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग · और देखें »

दसलाखी नगर

जो शहर मोटे अक्षरों में लिखे हैं वो अपने राज्य या केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी भी हैं .

नई!!: बंगलौर और दसलाखी नगर · और देखें »

दिलीप ट्रॉफी

दिलीप ट्राफी (क्रिकेट) भारत की एक घरेलू क्रिकेट प्रतियोगिता है। दिलीप ट्रॉफी में एक घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट प्रतियोगिता में भारत की भौगोलिक क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाले टीमों के बीच भारत में खेला जाता है। प्रतियोगिता नवानगर के कुमार श्री दिलीपसिंहजी (भी "दिलीप" जाना जाता है) के नाम पर है। सेंट्रल जॉन मौजूदा चैंपियन हैं। .

नई!!: बंगलौर और दिलीप ट्रॉफी · और देखें »

दक्षिण एशिया

thumb दक्षिण एशिया एक अनौपचारिक शब्दावली है जिसका प्रयोग एशिया महाद्वीप के दक्षिणी हिस्से के लिये किया जाता है। सामान्यतः इस शब्द से आशय हिमालय के दक्षिणवर्ती देशों से होता है जिनमें कुछ अन्य अगल-बगल के देश भी जोड़ लिये जाते हैं। भारत, पाकिस्तान, श्री लंका और बांग्लादेश को दक्षिण एशिया के देश या भारतीय उपमहाद्वीप के देश कहा जाता है जिसमें नेपाल और भूटान को भी शामिल कर लिया जाता है। कभी कभी इसमें अफगानिस्तान और म्याँमार को भी जोड़ लेते हैं। दक्षिण एशिया के देशों का एक संगठन सार्क भी है जिसके सदस्य देश निम्नवत हैं.

नई!!: बंगलौर और दक्षिण एशिया · और देखें »

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) दक्षिण एशिया के आठ देशों का आर्थिक और राजनीतिक संगठन है। संगठन के सदस्य देशों की जनसंख्या (लगभग 1.5 अरब) को देखा जाए तो यह किसी भी क्षेत्रीय संगठन की तुलना में ज्यादा प्रभावशाली है। इसकी स्थापना ८ दिसम्बर १९८५ को भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, मालदीव और भूटान द्वारा मिलकर की गई थी। अप्रैल २००७ में संघ के 14 वें शिखर सम्मेलन में अफ़ग़ानिस्तान इसका आठवा सदस्य बन गया। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन · और देखें »

दक्षिण भारत

भारत के दक्षिणी भाग को दक्षिण भारत भी कहते हैं। अपनी संस्कृति, इतिहास तथा प्रजातीय मूल की भिन्नता के कारण यह शेष भारत से अलग पहचान बना चुका है। हलांकि इतना भिन्न होकर भी यह भारत की विविधता का एक अंगमात्र है। दक्षिण भारतीय लोग मुख्यतः द्रविड़ भाषा जैसे तेलुगू,तमिल, कन्नड़ और मलयालम बोलते हैं और मुख्यतः द्रविड़ मूल के हैं। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिण भारत · और देखें »

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1999-00

दक्षिण अफ्रीका की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 2 टेस्ट मैच श्रृंखला और 5 मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला के लिए 2000 में भारत का दौरा किया। दक्षिण अफ्रीका ने भारत को टेस्ट सीरीज़ में सफाया कर दिया जबकि भारत ने एकदिवसीय श्रृंखला जीती। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1999-00 · और देखें »

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2005-06

दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम ने 2005-06 के सीजन में क्रिकेट मैचों के लिए भारत का दौरा किया। सभी मैच एक दिवसीय मैच थे, जिसमें पांच एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय और हैदराबाद से टीम के खिलाफ एक टूर मैच था। दोनों पक्ष श्रृंखला जीत से बाहर आ रहे थे, भारत ने श्रीलंका को घर में 6-1 से हराया जबकि दक्षिण अफ्रीका ने न्यूजीलैंड पर 4-0 से जीत हासिल की थी। श्रृंखला से पहले, बीबीसी स्पोर्ट वेबसाइट का एक पूर्वावलोकन था जिसने तर्क दिया कि भारत और दक्षिण अफ्रीका विश्व चैंपियंस की रक्षा के रूप में "ऑस्ट्रेलिया के मुकुट के लिए अधिक गंभीर चुनौती" थे, और यह कि "कुछ गंभीरता से अच्छे क्रिकेट के लिए हो सकता है" यह एक करीबी श्रृंखला थी - किसी भी दर पर दक्षिण अफ्रीका ने श्रृंखला में दो बार लीड पर कब्जा कर लिया था, लेकिन वह नहीं रोक सके और एमए ए चिदंबरम स्टेडियम में तीसरे एकदिवसीय मैच में बारिश हुई, श्रृंखला 2-2 से बनी थी। मैन ऑफ द सीरीज़ पुरस्कार भी दक्षिण अफ्रीका के ग्रीम स्मिथ और भारत के युवराज सिंह के बीच साझा किया गया, जिन्होंने 209 रनों के साथ अपनी टीम की बल्लेबाजी औसत में शीर्ष पर रहा। गेंदबाजी की ओर से, शॉन पोलॉक ने सात विकेट और नौ मैडन ओवरों के साथ योगदान दिया, लेकिन अंतिम ओडीआई में 5.5 एक ओवर के लिए गया, जब भारत 50 ओवर में जीत के लिए 222 रन बना। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2005-06 · और देखें »

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2015-16

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम ने 29 सितंबर से 7 दिसंबर 2015 तक भारत का दौरा किया। इस दौरे में चार टेस्ट मैच, पांच एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) और तीन ट्वेंटी-20 इंटरनेशनल (टी20ई) मैच शामिल थे। यह पहली बार था कि भारत में दो देशों के बीच चार मैचों की एक टेस्ट सीरीज़ खेली गई है और पहली बार दक्षिण अफ्रीका ने भारत में भारत के खिलाफ टी20ई मैच खेला था। भारत ने टेस्ट श्रृंखला जीती जबकि दक्षिण अफ्रीका ने एकदिवसीय और टी20ई श्रृंखला दोनों जीती। इस श्रृंखला के साथ, भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच सभी द्विपक्षीय यात्राओं को महात्मा गांधी-नेल्सन मंडेला श्रृंखला बुलाया गया था, जिनके साथ ही फ़्रीडम ट्रॉफी के लिए खेल रहे टीमों के साथ। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2015-16 · और देखें »

दक्षिणेश्वर काली मन्दिर

दक्षिणेश्वर काली मन्दिर(দক্ষিণেশ্বর কালীবাড়ি; उच्चारण:दॊख्खिनॆश्शॉर कालिबाड़ी), उत्तर कोलकाता में, बैरकपुर में, विवेकानन्द सेतु के कोलकाता छोर के निकट, हुगली नदी के किनारे स्थित एक ऐतिहासिक हिन्दू मन्दिर है। इस मंदिर की मुख्य देवी, भवतारिणी है, जोकि मान्यतानुसार हिन्दू देवी काली का एक रूप है। यह कलकत्ता के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है, और कई मायनों में, कालीघाट मन्दिर के बाद, सबसे प्रसिद्ध काली मंदिर है। इसे वर्ष १८५४ में जान बाजार की रानी रासमणि ने बनवाया था। यह मन्दिर, प्रख्यात दार्शनिक एवं धर्मगुरु, स्वामी रामकृष्ण परमहंस की कर्मभूमि रही है, जोकि बंगाली अथवा हिन्दू नवजागरण के प्रमुख सूत्रधारों में से एक, दार्शनिक, धर्मगुरु, तथा रामकृष्ण मिशन के संस्थापक, स्वामी विवेकानंद के गुरु थे। वर्ष १८५७-६८ के बीच, स्वामी रामकृष्ण इस मंदिर के प्रधान पुरोहित रहे। तत्पश्चात उन्होंने इस मन्दिर को ही अपना साधनास्थली बना लिया। कई मायनों में, इस मन्दिर की प्रतिष्ठा और ख्याति का प्रमुख कारण है, स्वामी रामकृष्ण परमहंस से इसका जुड़ाव। मंदिर के मुख्य प्रांगण के उत्तर पश्चिमी कोने में रामकृष्ण परमहंस का कक्ष आज भी उनकी ऐतिहासिक स्मृतिक के रूप में संरक्षित करके रखा गया है, जिसमें श्रद्धालु व अन्य आगन्तुक प्रवेश कर सकते हैं। .

नई!!: बंगलौर और दक्षिणेश्वर काली मन्दिर · और देखें »

दुरन्त एक्सप्रेस

दुरन्त एक्सप्रेस (बांग्ला: দুরন্ত "तुरंत"), भारतीय रेल की लंबी दूरी की गाड़ियों का एक वर्ग है। इन गाड़ियों की विशेषता यह है कि, तकनीकी विरामों को छोड़कर यह स्रोत से गंतव्य तक का सफर बिना रुके (अविराम) तय करती हैं। सभी दुरन्त एक्सप्रेस गाड़ियों को आसानी से उनके विशेष पीले हरे रंग के यात्री डिब्बों (परिच्छद) द्वारा पहचाना जा सकता है। कई दुरन्त एक्सप्रेस सेवायें भारत के महानगरों और प्रमुख राज्यों की राजधानियों के बीच संचालित होती। अधिकतर समय, किन्हीं दो शहरो के बीच दुरन्त एक्सप्रेस गाड़ियां सबसे तेज परिवहन उपलब्ध कराती हैं, हालांकि यह जरूरी नहीं कि यह तथ्य सभी सेवाओं के लिए सच हो। .

नई!!: बंगलौर और दुरन्त एक्सप्रेस · और देखें »

द्रव नोदन प्रणाली केंद्र

द्रव नोदन प्रणाली केंद्र भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का एक महत्वपूर्ण केंद्र है। यह केंद्र तीन स्थानों में स्थित है, पहला तिरुवनंतपुरम के वलियमला में, दूसरा तिरुनेलवेली के महेंद्रगिरि पहाड़ियों में और तीसरा बेंगलुरु में स्थित है। इन केंद्रों में मुख्यतः द्रव एवं क्रयोजेनिक राकेट ईंधनो पर कार्य होता है। .

नई!!: बंगलौर और द्रव नोदन प्रणाली केंद्र · और देखें »

देवनहल्ली

देवनहल्ली (कन्नड़: ದೇವನಹಳ್ಳಿ) जिसे पूर्व में देवनदोड्डी, देवनपुरा, या यूसुफ़ाबाद भी कहते थे दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित क्षेत्र है। यह शहर रआजधानी बंगलुरु से बाहर पर स्थित है। यहीं नवनिर्मित बेंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र है। यह विमानक्षेत्र भारत का दूसरा सबसे बड़ा विमानक्षेत्र है। इसके पड़ोस में ही दो देवनहल्ली व्यापार पार्क भी निर्माणाधीन हैं जो हवाई-अड्डे से दूरी पर हैं। साथ ही एक एयरोस्पेस पार्क, विज्ञान पार्क एवं एक १००० करोड़ वित्तीय नगर (फ़ाईनेन्शियल सिटी) भी प्रक्रिया में है। एक नयी उपग्रहीय रिंग मार्ग सड़क शहर को दोड्डबल्लपुर से जोड़ेगी। इसके निकटवर्ती ही $२२ बिलियन, का ब्याल आईटी निवेश क्षेत्र निर्माणाधीन है, जो भारत में सूचना प्रौद्योगिकी का सबसे बड़ा क्षेत्र होगा। क्षेत्र में आगामी २ वर्षों में कुल अवसंरचना विकास अनुमानित $३० बिलियन से अधिक अपेक्षित है। क्षेत्र में महत्वपूर्ण वाणिज्यिक और आवासीय विकास के साथ, अचल संपत्ति में उच्च मांग में है देवनहल्ली दुर्ग का प्रवेशद्वार विख्यात शासक टीपू सुल्तान का जन्म देवनहल्ली में ही १७५० में हुआ था। देवनहल्ली दुर्ग का बाहरी परकोटा .

नई!!: बंगलौर और देवनहल्ली · और देखें »

देविका रानी

देविका रानी (जन्म: 30 मार्च, 1908 निधन: 8 मार्च, 1994) हिन्दी फ़िल्मों की एक अभिनेत्री हैं। निःसंदेह भारतीय सिनेमा के लिये देविका रानी का योगदान अपूर्व रहा है और यह हमेशा हमेशा याद रखा जायेगा। जिस जमाने में भारत की महिलायें घर की चारदीवारी के भीतर भी घूंघट में मुँह छुपाये रहती थीं, देविका रानी ने चलचित्रों में काम करके अदम्य साहस का प्रदर्शन किया था। उन्हें उनके अद्वितीय सुंदरता के लिये भी याद किया जाता रहेगा। .

नई!!: बंगलौर और देविका रानी · और देखें »

देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

इंदौर विमानक्षेत्र इंदौर में स्थित है। इसका ICAO कोडहै VAID और IATA कोड है IDR। यह एक नागरिक हवाई अड्डा है। यहां कस्टम्स विभाग उपस्थित नहीं है। इसका रनवे पेव्ड है। इसकी प्रणाली यांत्रिक हाँ है। इसकी उड़ान पट्टी की लंबाई 7500 फी.

नई!!: बंगलौर और देवी अहिल्याबाई होल्कर अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र · और देखें »

दीपिका पादुकोण

दीपिका पादुकोण (कोंकणी: दीपिका पडुकोण, कन्नड: ದೀಪಿಕಾ ಪಡುಕೋಣ್) एक भारतीय अभिनेत्री हैं, जिनका जन्म 5 जनवरी 1986 को हुआ और जो बॉलीवुड सिनेमा में एक नायिका के रूप में उभरी हैं। .

नई!!: बंगलौर और दीपिका पादुकोण · और देखें »

धनबाद

धनबाद भारत के झारखंड में स्थित एक शहर है जो कोयले की खानों के लिये मशहूर है। यह शहर भारत में कोयला व खनन में सबसे अमीर है। पुर्व मैं यह मानभुम जिला के अधीन था। यहां कई ख्याति प्राप्त औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य संस्थान हैं। यह नगर कोयला खनन के क्षेत्र में भारत में सबसे प्रसिद्ध है। कई ख्याति प्राप्त औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य संसथान यहाँ पाए जाते हैं। यहां का वाणिज्य बहुत व्यापक है। झारखंड में स्थित धनबाद को भारत की कोयला राजधानी के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर कोयले की अनेक खदानें देखी जा सकती हैं। कोयले के अलावा इन खदानों में विभिन्न प्रकार के खनिज भी पाए जाते हैं। खदानों के लिए धनबाद पूरे विश्‍व में प्रसिद्ध है। यह खदानें धनबाद की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। पर्यटन के लिहाज से भी यह खदानें काफी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि पर्यटक बड़ी संख्या में इन खदानों को देखने आते हैं। खदानों के अलावा भी यहां पर अनेक पर्यटक स्थल हैं जो पर्यटकों को बहुत पसंद आते हैं। इसके प्रमुख पर्यटक स्थलों में पानर्रा, चारक, तोपचांची और मैथन प्रमुख हैं। पर्यटकों को यह पर्यटक स्थल और खदानें बहुत पसंद आती है और वह इनके खूबसूरत दृश्यों को अपने कैमरों में कैद करके ले जाते हैं। कम्बाइन्ड बिल्डिंग चौक .

नई!!: बंगलौर और धनबाद · और देखें »

धारवाड़

धारवाड़ कर्नाटक का एक नगर है। यह धारवाड़ जिले का मुख्यालय है। १९६१ में इसे हुबली के साथ मिला दिया गया जिससे हुबली-धारवाड नामक जुड़वा नगर बने। इसका क्षेत्रफल लगभग २०० वर्ग किमी है। यह बंगलुरु से ४२५ किमी उत्तर-पश्चिम में राष्ट्रीय राजमार्ग ४ पर बंगलुरु और पुणे के बीच स्थित है। यहाँ का दुर्ग ऊँची नीची भूमि पर स्थित है। कपास, इमारती लकड़ी और अनाज का व्यापार होता है। यहाँ वस्त्र बनाने के कारखाने हैं। बीड़ी, सुगंधित पदार्थ और चूड़ियों के कुटीर उद्योग हैं। कर्नाटक कालेज एवं वन-प्रशिक्षण-महाविद्यालय नामक शिक्षा सस्थाएँ उल्लेखनीय हैं।.

नई!!: बंगलौर और धारवाड़ · और देखें »

नदियों पर बसे भारतीय शहर

नदियों के तट पर बसे भारतीय शहरों की सूची श्रेणी:भारत के नगर.

नई!!: बंगलौर और नदियों पर बसे भारतीय शहर · और देखें »

नन्दन नीलेकणि

नंदन नीलेकणि इन्फोसिस के सह अध्यक्ष और संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। भारत सरकार ने देश के हर नागरिक को एक विशिष्ट पहचान संख्या या यूनिक आइडेंटीफिकेशन नम्बर प्रदान करने के लिए प्रस्तावित यूआईडी प्राधिकरण अथवा विशिष्ट पहचान प्राधिकरण गठित करने को मंजूरी दे दी है और नंदन नीलकेणी इसके पहले अध्यक्ष होंगे। नीलकेणी का रैंक कैबिनेट स्तर का होगा। यह प्राधिकरण एक डाटा बेस तैयार करेगा और प्रत्येक नागरिक के लिए एक विशिष्ट पहचान संख्या प्रदान करेगा। इस नम्बर के आधार पर उस नागरिक की पूरी जानकारी सरकार के पास उपलब्ध होगी। इन्हें भारत सरकार द्वारा सन् २००६ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: बंगलौर और नन्दन नीलेकणि · और देखें »

नफीसा जोसेफ

नफीसा जोसेफ (28 मार्च 1979 - 29 जुलाई 2004) एक भारतीय मॉडल और एमटीवी (MTV) वीडियो जॉकी थीं। वे 1997 के मिस इंडिया यूनिवर्स की विजेता रही और मिस यूनिवर्स सौंदर्य स्पर्धा में सेमी-फाइनल तक पहुंची.

नई!!: बंगलौर और नफीसा जोसेफ · और देखें »

नयनतारा

नयनतारा (जन्म:18 नवंबर 1984 को डायना मरियम कुरियन के रूप में) केरल से भारतीय अभिनेत्री है जो दक्षिण भारत की फ़िल्मों में दिखती है। उन्होनें 2003 की मलयालम फिल्म मनासीनाकाड़े से अपने अभिनय कैरियर की शुरुआत की और विस्मयाथुमबाथू (2004) के करने के बाद तमिल सिनेमा और तेलुगू सिनेमा में चली गई। उन्होनें अय्या के साथ 2005 में तमिल सिनेमा में अपनी शुरुआत की और उसके बाद तेलुगू फ़िल्म लक्ष्मी, जिसके बाद उन्होनें कई व्यावसायिक रूप से सफल तमिल और तेलुगू फिल्मों में महिला नेतृत्व का किरदार निभाया। जिससे उन्होनें खुद को तमिल और तेलुगू सिनेमा में सबसे ज़्यादा मांग वाली अभिनेत्रियों के रूप में स्थापित किया। 2010 में उन्होनें फिल्म सुपर के माध्यम से कन्नड़ फिल्म में शुरुआत की। श्री राम राज्यम (2011) में सीता के चित्रण के लिये उन्होनें सर्वश्रेष्ठ तेलुगू अभिनेत्री का फिल्म फेयर पुरस्कार और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए नंदी पुरस्कार अर्जित किया। 2011 में उन्होनें चेन्नई में ईसाई धर्म को छोड़कर आर्य समाज मंदिर में हिंदू धर्म अपना लिया और उनका मंचीय नाम नयनतारा उनका आधिकारिक नाम बन गया। .

नई!!: बंगलौर और नयनतारा · और देखें »

नाथन लायन

नाथन माइकल लायन (Nathan Michael Lyon) (जन्म: २० नवम्बर १९८७, योंग, न्यू साउथ वेल्स, ऑस्ट्रेलिया) ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट खिलाड़ी है। ये ऑस्ट्रेलियाई टीम की ओर से ऑफ़-स्पिनर होते हुए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी है। इनसे पहले सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड हग ट्रम्बल है जिन्होंने २०१५ तक १४१ विकेट लिए थे। इन्हें कई उपनामों से जाना जाता है। .

नई!!: बंगलौर और नाथन लायन · और देखें »

नारायण हृदयालय

नारायण हृदयालय (ನಾರಾಯಣ ಹೃದಯಾಲಯ), भारत के राज्य कर्नाटक के शहर बैंगलोर में स्थित हृदय और बालरोगों से संबंधित विश्व के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक है। यह अस्पताल विश्व प्रसिद्ध हृदयरोग विशेषज्ञ, डॉ देवी शेट्ठी की प्रेरणा है। नारायण हृदयालय में ईलाज के लिए विदेशों से मरीज आते हैं और इसने पच्चीस देशों के 15000 लोगों का ऑपरेशन करने का रिकॉर्ड बनाया है। यह टेलीमेडिसीन सेवा भी मुहैया कराता है और वो मुफ्त में सेवा मुहैया कराता है। .

नई!!: बंगलौर और नारायण हृदयालय · और देखें »

नागपुर

नागपुर (अंग्रेज़ी: Nagpur, मराठी: नागपूर) महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख शहर है। नागपुर भारत के मध्य में स्थित है। महाराष्ट्र की इस उपराजधानी की जनसंख्या २४ लाख (१९९८ जनगणना के अनुसार) है। नागपुर भारत का १३वा व विश्व का ११४ वां सबसे बड़ा शहर हैं। यह नगर संतरों के लिये काफी मशहूर है। इसलिए इसे लोग संतरों की नगरी भी कहते हैं। हाल ही में इस शहर को देश के सबसे स्वच्छ व सुदंर शहर का इनाम मिला है। नागपुर भारत देश का दूसरे नंबर का ग्रीनेस्ट (हरित शहर) शहर माना जाता है। बढ़ते इन्फ्रास्ट्रकचर की वजह से नागपुर की गिनती जल्द ही महानगरों में की जायेगी। नागपुर, एक जिला है व ऐतिहासिक विदर्भ (पूर्व महाराष्ट्र का भाग) का एक प्रमुख शहर भी। नागपुर शहर की स्थापना गोण्ड राज्य ने की थी। फिर वह राजा भोसले के उपरान्त मराठा साम्राज्य में शामिल हो गया। १९वी सदी मैं अंग्रेज़ी हुकुमत ने उसे मध्य प्रान्त व बेरार की राजधानी बना दिया। आज़ादी के बाद राज्य पुनर्रचना ने नागपुर को महाराष्ट्र की उपराजधानी बना दिया। नागपुर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद जैसी राष्ट्रवादी संघटनाओ का एक प्रमुख केंद्र है। .

नई!!: बंगलौर और नागपुर · और देखें »

नित्या मेनन

नित्या मेनन बैंगलोर, कर्नाटक से एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री और पार्श्व गायक है। उसने कन्नड़, मलयालम, तेलुगूऔर तमिल में अभिनय किया है। उसने तेलुगू फिल्मों ''गुंडे जारी गलांथीयंड'' और मल्ली मल्ली इधी  रानी रोजू के लिए 2 फिल्मफेयर पुरस्कार जीते हैं। .

नई!!: बंगलौर और नित्या मेनन · और देखें »

नित्यानन्द

नित्यानन्द का अर्थ हो सकता है.

नई!!: बंगलौर और नित्यानन्द · और देखें »

निधि अग्रवाल

निधि अग्रवाल एक भारतीय मॉडल, नर्तकी और अभिनेत्री हैं। जिन्होंने २०१७ की फ़िल्म मुन्ना माइकल से टाइगर श्रॉफ के साथ बॉलीवुड में प्रवेश किया है।निधि मूल्य रूप से बंगलौर से है। .

नई!!: बंगलौर और निधि अग्रवाल · और देखें »

निरुपमा राव

निरुपमा मेनन राव (जन्म 6 दिसम्बर 1950) भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) की एक अधिकारी हैं, जिन्होने 31 जुलाई 2009 से 31 जुलाई 2011 तक विदेश मंत्रालय में भारतीय विदेश सचिव के रूप में कार्य कर चुकी हैं। भारतीय विदेश सेवा का इस सर्वोच्च पद पर पहुँचने वाली चोकिला अय्यर के बाद वे दूसरी महिला हैं। वे 1 अगस्त 2011 से 5 नवम्बर 2013 तक संयुक्त राज्य अमेरिका में भारत की राजदूत रह चुकी हैं। अपने करियर में वे कई पदों पर कार्य कर चुकी हैं जिनमे शामिल हैं - वॉशिंगटन में प्रेस मामलों की मंत्री, मास्को में मिशन की उप प्रमुख, विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्व एशिया), (बाहरी प्रचार) जिसने उन्हें विदेश मंत्रालय की पहली महिला प्रवक्ता बनाया, कार्मिक प्रमुख, पेरू और चीन की राजदूत और श्रीलंका की उच्चायुक्त.

नई!!: बंगलौर और निरुपमा राव · और देखें »

निशा मिलेट

निशा मिलेट बैंगलोर-कर्नाटक, भारत से एक तैराक है। वह भारत के लिए २००० सिडनी ओलंपिक तैराकी टीम में अर्जुन अवार्ड जीतने वाली एकमात्र महिला थी। निशा को ५ साल की उम्र में डूबने का अनुभव था, जिसके बाद उनके पिता ने उन्हें अपने डर से उबरने के लिए तेराकी सीखने का दबाव दिया। १९९१ में निशा ने अपने पिता के मार्गदर्शन में, ऑबरे शेनयायनगर क्लब, चेन्नई से तैरने का तरीका सीखा। और १९९२ में उन्होंने चेन्नई में ५०मीटर फ्री स्टाइल में अपना पहला राज्य स्तर का पदक जीता था। १९९४ में उन्होंने हांगकांग के एशियाई आयु समूह चैंपियनशिप में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय पदक जीता यह उनके शासनकाल की शुरुआत थी। वह १९९९ में राष्ट्रीय खेलों में १४ स्वर्ण पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय एथलीट थीं। उन्होंने अपने कैरियर की उचाई पर २०० सी फ्री स्टाइल में २००० सिडनी ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया था जहां उन्होंने शुरुआत में अच्छा किया परन्तु सेमीफाइनल तक ना पहुंच पाई। निशा ने १०० मीटर फ्री स्टाइल में एक मिनट के बाधा को तोड़ने वाला पहला भारतीय तैराक होने का गौरव भी हासिल किया था। उन्होंने बहुत से सम्मान भी हासिल किए अपने करियर में.

नई!!: बंगलौर और निशा मिलेट · और देखें »

नंदी हिल

नंदी दुर्ग (अंग्रेज़ी:नंदी हिल्स) कर्नाटक राज्य के चिकबलपुर जिला में चिकबलपुर शहर से मात्र १० कि.मी और बंगलुरू से लगभग ४५ कि॰मी॰ पर स्थित पहाड़ी कर्बा है। यह समुद्रतल से लगभग १४५० मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। बंगलुरू से हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या ७ (NH-7) पर लगभग ४० किलोमीटर चलने के बाद यहाँ के लिए रास्ता अलग होता है। यहाँ जाने के लिए सरकारी बसें भी उपलब्ध हैं। यह अपेक्षाकृत कम विकसित पर्यटन स्थल है इसलिए ऊपर खाने पीने के लिए कम विकल्प हैं। कम विकसित होने के कारण यहां प्रायः भीड़ नहीं होती है। यह टीपू सुल्तान का ग्रीष्मावकाश निवास स्थल था और आस पास कुछ पुरानी इमारतें तथा वाटिकाएं हैं। इसे नंदी दुर्ग भी कहते हैं। इसके निकटवर्ती कस्बे हैं मुद्देनहल्ली और कनिवेनारायणपुरम। इस क्षेत्र में ५० वर्ग कि.मी भाग, आने वाले २२ बिलियन के ब्याल आईटी निवेश क्षेत्र की स्थली है। ये कर्नाटक की मूल संरचना इतिहास की अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है। इसी पहाड़ी से अर्कवती, पेन्नार, पोन्नैयार और पलार नदियां निकलती हैं।http://horticulture.kar.nic.in/nandi.htm File:Source of Palar.jpg|Source of Palar at Nandi Hills File:Source of Arkavathy River.jpg|Source of Arkavathy River .

नई!!: बंगलौर और नंदी हिल · और देखें »

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1988-89

न्यूज़ीलैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 1988-89 के मौसम में भारत का दौरा किया और तीन टेस्ट मैच और पांच वनडे खेले। भारत ने 3 टेस्ट मैचों की सीरीज 2-1 और 5 मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला 4-0 से जीती (बिना गेंद के बिना 5 वां वनडे छोड़ दिया गया था)। .

नई!!: बंगलौर और न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1988-89 · और देखें »

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1995-96

न्यूजीलैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 1995-96 के सीजन में तीन टेस्ट मैचेस और छह एकदिवसीय मैच खेलने के लिए भारत का दौरा किया। भारत ने 3 टेस्ट मैचों की टेस्ट सीरीज 1-0 से जीत ली और 5 मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला 3 (5 वां वनडे गेंद को बिना गेंद पर छोड़ दिया गया)। 1995 के भारत चक्रवात से तीसरे टेस्ट पर भारी असर पड़ा। .

नई!!: बंगलौर और न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1995-96 · और देखें »

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11

न्यूजीलैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम भारत दौरा कर रही है, 4 नवंबर और 10 दिसंबर 2010 के बीच तीन टेस्ट मैचों और पांच वनडे खेले। .

नई!!: बंगलौर और न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11 · और देखें »

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012

श्रीलंका में सितंबर में आईसीसी विश्व टी 20 में उनकी तैयारी के तहत न्यूजीलैंड ने भारत में दो टेस्ट मैचों और दो ट्वेंटी 20 अंतरराष्ट्रीय (टी20ई) खेले। श्रृंखला 23 अगस्त 2012 को एक टेस्ट मैच के साथ शुरू हुई थी और 11 सितंबर 2012 को टी20ई के साथ समाप्त हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012 · और देखें »

नौतम भट्ट

भारतीय विज्ञान डॉ नौतम भट्ट (१९०९ - २००५) भारत के एक रक्षा वैज्ञानिक थे। उन्होने भारत को रक्षा-सामग्री के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अग्‍नि, पृथ्वी, त्रिशूल, नाग, ब्रह्मोस, धनुष, तेजस, ध्रुव, पिनाका, अर्जुन, लक्ष्य, निशान्त, इन्द्र, अभय, राजेन्द्र, भीम, मैसूर, विभुति, कोरा, सूर्य आदि भारतीय शस्त्रों के विकास में उनका अद्वितीय योगदान रहा। उन्हें भारत के रक्षा अनुसंधान की नीव रखने वाला वैज्ञानिक माना जाता है। .

नई!!: बंगलौर और नौतम भट्ट · और देखें »

नृत्य ग्राम

नृत्य ग्राम नामक प्रसिद्ध नृत्यशाला बंगलोर से ३० किलो मीटर पश्चिम में बंगलोर-पुणे मुख्य-मार्ग पर स्थित है। ओडिसी जैसी महान नृत्य शैली के प्रसार के लिए परीक्षण के तौर पर इस स्कूल की स्थापना भारत की सर्वश्रेष्ठ ओडिसी नृत्यांगनाओं में से एक प्रोतिमा गौरी द्वारा की गई थी। पारंपरिक ओडिसी नृत्य सीखने के लिए पूरे भारत से विद्यार्थी यहाँ आते हैं। बंगलोर के दर्शनीय स्थल.

नई!!: बंगलौर और नृत्य ग्राम · और देखें »

नेल्सन वांग

नेल्सन वांग (जन्म 1950) चीनी मूल के भारतीय रेस्तोरां और मुम्बई के केम्प्स कॉर्नर इलाके में स्थित प्रसिद्ध चाइना गार्डन रेस्तरां के संस्थापक हैं। विभिन्न स्रोतों के अनुसार वो भारतीय/चीनी व्यंजन "चिकन मंचूरियन के आविष्कारक हैं। .

नई!!: बंगलौर और नेल्सन वांग · और देखें »

नीरज कयाल

नीरज कयाल एक भारतीय संगणक वैज्ञानिक है। उन्होंने मणीन्द्र अग्रवाल और नितिन सक्सेना के साथ मिलकर ऐकेएस पराएमीलिटी टेस्ट का प्रस्ताव रखा। इस अनुसंधान ने दुनिया भर में ध्यान आकर्षित किया। इसी कार्य के लिए, अपने सह लेखकों के साथ, उन्हें प्रतिष्ठित गोडेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। .

नई!!: बंगलौर और नीरज कयाल · और देखें »

पटना के पर्यटन स्थल

वर्तमान बिहार राज्य की राजधानी पटना को ३००० वर्ष से लेकर अबतक भारत का गौरवशाली शहर होने का दर्जा प्राप्त है। यह प्राचीन नगर पवित्र गंगानदी के किनारे सोन और गंडक के संगम पर लंबी पट्टी के रूप में बसा हुआ है। इस शहर को ऐतिहासिक इमारतों के लिए भी जाना जाता है। पटना का इतिहास पाटलीपुत्र के नाम से छठी सदी ईसापूर्व में शुरू होता है। तीसरी सदी ईसापूर्व में पटना शक्तिशाली मगध राज्य की राजधानी बना। अजातशत्रु, चन्द्रगुप्त मौर्य, सम्राट अशोक, चंद्रगुप्त द्वितीय, समुद्रगुप्त यहाँ के महान शासक हुए। सम्राट अशोक के शासनकाल को भारत के इतिहास में अद्वितीय स्‍थान प्राप्‍त है। पटना एक ओर जहाँ शक्तिशाली राजवंशों के लिए जाना जाता है, वहीं दूसरी ओर ज्ञान और अध्‍यात्‍म के कारण भी यह काफी लोकप्रिय रहा है। यह शहर कई प्रबुद्ध यात्रियों जैसे मेगास्थनिज, फाह्यान, ह्वेनसांग के आगमन का भी साक्षी है। महानतम कूटनीतिज्ञ कौटिल्‍यने अर्थशास्‍त्र तथा विष्णुशर्मा ने पंचतंत्र की यहीं पर रचना की थी। वाणिज्यिक रूप से भी यह मौर्य-गुप्तकाल, मुगलों तथा अंग्रेजों के समय बिहार का एक प्रमुख शहर रहा है। बंगाल विभाजन के बाद 1912 में पटना संयुक्त बिहार-उड़ीसा तथा आजादी मिलने के बाद बिहार राज्‍य की राजधानी बना। शहर का बसाव को ऐतिहासिक क्रम के अनुसार तीन खंडों में बाँटा जा सकता है- मध्य-पूर्व भाग में कुम्रहार के आसपास मौर्य-गुप्त सम्राटाँ का महल, पूर्वी भाग में पटना सिटी के आसपास शेरशाह तथा मुगलों के काल का नगरक्षेत्र तथा बाँकीपुर और उसके पश्चिम में ब्रतानी हुकूमत के दौरान बसायी गयी नई राजधानी। पटना का भारतीय पर्यटन मानचित्र पर प्रमुख स्‍थान है। महात्‍मा गाँधी सेतु पटना को उत्तर बिहार तथा नेपाल के अन्‍य पर्यटन स्‍थल को सड़क माध्‍यम से जोड़ता है। पटना से चूँकि वैशाली, राजगीर, नालंदा, बोधगया, पावापुरी और वाराणसी के लिए मार्ग जाता है, इसलिए यह शहर हिंदू, बौद्ध और जैन धर्मावलंबियों के लिए पर्यटन गेटवे' के रूप में भी जाना जाता है। ईसाई धर्मावलंबियों के लिए भी पटना अतिमहत्वपूर्ण है। पटना सिटी में हरमंदिर, पादरी की हवेली, शेरशाह की मस्जिद, जलान म्यूजियम, अगमकुँआ, पटनदेवी; मध्यभाग में कुम्‍हरार परिसर, पत्थर की मस्जिद, गोलघर, पटना संग्रहालय तथा पश्चिमी भाग में जैविक उद्यान, सदाकत आश्रम आदि यहां के प्रमुख दर्शनीय स्‍थल हैं। मुख्य पर्यटन स्थलों इस प्रकार हैं: .

नई!!: बंगलौर और पटना के पर्यटन स्थल · और देखें »

परिकल्पना सम्मान

परिकल्पना सम्मान हिन्दी ब्लॉगिंग का एक ऐसा वृहद सम्मान है, जिसे बहुचर्चित तकनीकी ब्लॉगर रवि रतलामी ने हिन्दी ब्लॉगिंग का ऑस्कर कहा है। यह सम्मान प्रत्येक वर्ष आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में देशविदेश से आए हिन्दी के चिरपरिचित ब्लॉगर्स की उपस्थिति में प्रदान किया जाता है। .

नई!!: बंगलौर और परिकल्पना सम्मान · और देखें »

पलाश

कोलकाता पश्चिम बंगाल में ढाक के पेड़ की पत्तियां पलाश (पलास,छूल,परसा, ढाक, टेसू, किंशुक, केसू) एक वृक्ष है जिसके फूल बहुत ही आकर्षक होते हैं। इसके आकर्षक फूलो के कारण इसे "जंगल की आग" भी कहा जाता है। प्राचीन काल से ही होली के रंग इसके फूलो से तैयार किये जाते रहे है। भारत भर मे इसे जाना जाता है। एक "लता पलाश" भी होता है। लता पलाश दो प्रकार का होता है। एक तो लाल पुष्पो वाला और दूसरा सफेद पुष्पो वाला। लाल फूलो वाले पलाश का वैज्ञानिक नाम ब्यूटिया मोनोस्पर्मा है। सफेद पुष्पो वाले लता पलाश को औषधीय दृष्टिकोण से अधिक उपयोगी माना जाता है। वैज्ञानिक दस्तावेजो मे दोनो ही प्रकार के लता पलाश का वर्णन मिलता है। सफेद फूलो वाले लता पलाश का वैज्ञानिक नाम ब्यूटिया पार्वीफ्लोरा है जबकि लाल फूलो वाले को ब्यूटिया सुपरबा कहा जाता है। एक पीले पुष्पों वाला पलाश भी होता है। .

नई!!: बंगलौर और पलाश · और देखें »

पलक मुच्छल

पलक मुच्छल (जन्म तारीख़: 30 मार्च 1992) एक भारतीय पार्श्व गायिका हैं। वे और उनके छोटे भाई पलाश मुच्छल भारत तथा विदेशो में सार्वजनिक मंच पर गाने गाकर ह्रदय पीड़ित छोटे बच्चो के इलाज के लिए चंदा इकट्ठा करते है। उन्होने मई 2013 तक ढाई करोड रुपयो का चंदा इकट्ठा कर 572 बच्चो की जान बचाने के लिये वित्तीय सहायता प्रदान की है। पलक के इस समाज सेवा में योगदान के लिये उनका नाम गिनीज़ बुक ऑफ रिकॉर्ड्स तथा लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में भी दर्ज है। भारत सरकार और विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया है। सन 2011 में पलक ने हिन्दी फिल्मों में पार्श्व गायिका के रूप में गाना शुरु किया। उनके खासकर एक था टाइगर और आशिकी 2 फिल्मों के गानों की काफी सराहना हुई। .

नई!!: बंगलौर और पलक मुच्छल · और देखें »

पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची

यह भारतीय पाठक सर्वेक्षण (आई॰आर॰एस॰) पर आधारित पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की एक सूची है। .

नई!!: बंगलौर और पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची · और देखें »

पार्क होटल नई दिल्ली

होटल पार्क नई दिल्ली, शहर के सबसे प्रसिद्ध लग्ज़री 5 सितारा होटलों में से एक है। इस होटल का स्वामित्व एपीजे सुरेंद्र ग्रुप के पास हैं जिसका मुख्यालय कोलकाता मे हैं। इस समूह के अन्य होटल बैंगलोर, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई, विशाखापट्टनम और गोवा में स्थित हैं। भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित होने के चलते इस होटल का एक अपना अलग ही महत्व हैं। .

नई!!: बंगलौर और पार्क होटल नई दिल्ली · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1979-80

पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 1979-80 सीजन में भारत का दौरा किया। दोनों टीमों ने छह टेस्ट खेले। भारत ने 4 टेस्ट ड्रॉ के साथ टेस्ट सीरीज़ 2-0 से जीता। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1979-80 · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1983-84

पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 1983-84 के मौसम में भारत का दौरा किया। दोनों टीमों ने तीन टेस्ट खेले। सभी टेस्ट मैच ड्रॉ थे। दोनों टीमें भी 2 वनडे खेले, भारत ने दोनों मैचों को जीता। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1983-84 · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1986-87

पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 1986-87 के मौसम में पांच टेस्ट मैचों और छह वनडे मैचों के लिए भारत का दौरा किया। उन्होंने तीन प्रथम श्रेणी के मैच भी खेले। श्रृंखला के अंतिम मैच में पाकिस्तानी टीम 16 टेस्ट से जीत के बाद 1-0 से टेस्ट सीरीज जीती थी, पिछले चार मैचों की श्रृंखला ड्रॉ की गई थी। इमरान खान ने पाकिस्तान की कप्तानी की थी, जिसे "मैन ऑफ द सीरीज" वोट दिया गया था। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1986-87 · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05

पाकिस्तानी क्रिकेट टीम ने 8 मार्च से 17 अप्रैल 2005 तक भारत का दौरा किया। इस दौरे में छह एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय (वनडे) और तीन टेस्ट मैच शामिल थे। टेस्ट सीरीज़ 1-1 से ड्रॉ बना था जबकि पाकिस्तान ने एकदिवसीय श्रृंखला 4-2 जीती थी। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05 · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08

पाकिस्तान क्रिकेट टीम ने नवंबर 2007 में भारत का दौरा किया और 6 नवंबर और 12 दिसंबर के बीच 5 एकदिवसीय और 3 टेस्ट मैच खेले। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08 · और देखें »

पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012-13

पाकिस्तान क्रिकेट टीम ने 25 दिसंबर 2012 से 6 जनवरी 2013 तक भारत का दौरा किया। इस दौरे में तीन एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय, और दो ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच शामिल थे। यह पांच साल में पाकिस्तान का पहला क्रिकेट दौरा था। भारत में बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट के विवाद के बाद गेटी इमेजस सहित कई फोटोग्राफी एजेंसियों को चित्र लेने से रोक दिया गया है। ट्वेंटी-20 श्रृंखला 1-1 से ड्रॉ हुई, पाकिस्तान ने वनडे श्रृंखला 2-1 से जीती। .

नई!!: बंगलौर और पाकिस्तान क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2012-13 · और देखें »

पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन

पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन पुणे शहर का रेलवे स्टेशन है। याहासे उत्त्तर भारत, राजस्थान, गुजरात के लिये गादिया निकलती है। मुम्बई से दक्षिण भारत जानेवाली सारी गाडिया याहापे रुखती है। आनेवाले कुच सालोमे पुणे से अहमदाबाद जने वाली बुलेट ट्रन भी होगी। इस स्टेशनको ६ प्लटफोर्म है और २ फूटब्रिज है। देक्कन ओडीसी बोलके एक पर्यटन गाडी भी इस स्टेशन पे एक दिन केलिए रुखती है। पुणे से लोनावला लोकल सेवा है। याहासे अहमदाबाद, दिल्ली और हावडा को दुरोनतो गाडिया जाती है। करनाटक समपर्क क्रान्ती ये गाडि पुणे को दिल्ली और बंगलौर से जोडती है। पुणे से सिकंदराबाद जानेवाली शताबदी भी इस साल सुरु होगी। .

नई!!: बंगलौर और पुणे जंक्शन रेलवे स्टेशन · और देखें »

पुणे अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र

पुणे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (पुणे आंतरराष्ट्रीय विमानतळ, लोहेगांव), भारत के महाराष्ट्र राज्य के पुणे से लगभग उत्तर-पूर्व में स्थित है। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा संचालित यह हवाई अड्डा लोहेगांव वायु केन्द्र के साथ अपने रनवे को साझा करता है। एयर इंडिया द्वारा पुणे से दुबई के बीच सीधी उड़ान शुरू करने और इंडियन एयरलाइंस द्वारा सिंगापुर की उड़ानें शुरू करने के साथ अब यह अंतरराष्ट्रीय स्तर का हो गया है। पुणे हवाई अड्डा पुणे को दिल्ली, मुंबई, बैंगलोर और हैदराबाद जैसे प्रमुख भारतीय शहरों से जोड़ने के लिए घरेलू उड़ानों को संचालित करने वाले इंडियन एयरलाइंस, जेट लाइट और जेट एयरवेज को भी सेवाएं प्रदान करने के साथ साथ स्पाइसजेट, इंडिगो, गोएयर जैसी सस्ती सेवाओं तथा लुफ्थैन्सा द्वारा फ्रैंकफर्ट तक की सीधी उड़ान भी प्रदान करता है। .

नई!!: बंगलौर और पुणे अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र · और देखें »

पुलिस महानिदेशक

पुलिस महानिदेशक राज्य के पुलिस बल का मुखिया होता है। प्रशानिक दृष्टि से प्रत्येक राज्य को क्षेत्रीय मंडलों में बांटा जाता है, जिसे रेंज कहते है। और प्रत्येक पुलिस रेंज,पुलिस महानिरीक्षक के प्रशासनिक नियंत्रण में होता है। एक रेंज में अनेक जिले हो सकते हैं। जिला पुलिस को मुख्यतः पुलिस डिवीजन, सर्कलों और थानों में विभाजित किया जाता है। नागरिक पुलिस के अलावा राज्य के पास अपनी स्वयं की सशस्त्र पुलिस रखने का अधिकार भी हैं और उनमें अलग से गुप्तचर शाखायें, अपराध शाखायें आदि का प्रावधान भी होता हैं। दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई, बैंगलोर,हैदराबाद, अहमदाबाद, नागपुर,पुणे, भुवनेश्वर,कटक जैसे बड़े महानगरों में पुलिस व्यवस्था का मुखिया,प्रत्यक्ष रूप से पुलिस आयुक्त होता है। विभिन्न राज्यों में उच्च पुलिस अधिकारी पदों पर भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) द्वारा भर्ती की जाती है, जिसकी भर्ती परीक्षा में पूरे भारत के अभ्यर्थी शामिल होते हैं। .

नई!!: बंगलौर और पुलिस महानिदेशक · और देखें »

प्रतिलिपि (प्रकाशक)

प्रतिलिपि, बंगलुरु से कार्य करने वाला एक स्वयं-प्रकाशन पोर्टल है। यह ८ भारतीय भाषाओं में सामग्री उपलब्ध कराता है। ये भाषाएं ये हैं- हिन्दी, गुजराती, बांग्ला, मराठी, मलयालम, तमिल, कन्नड और तेलुगु। श्रेणी:भारतीय प्रकाशक.

नई!!: बंगलौर और प्रतिलिपि (प्रकाशक) · और देखें »

प्रभु लाल भटनागर

प्रभुलाल भटनागर, (8 अगस्त, 1912 - 5 अक्टूबर, 1976) विश्वप्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ थे। इन्हें गणित के लैटिस-बोल्ट्ज़मैन मैथड में प्रयोग किये गए भटनागर-ग्रॉस-क्रूक (बी.जी.के) कोलीज़न मॉडल के लिये जाना जाता है।। इंडियन मैथ सोसायटी। ऑब्सोल्यूट एस्ट्रॉनोमी .

नई!!: बंगलौर और प्रभु लाल भटनागर · और देखें »

प्रमिला भट्ट

प्रमिला भट्ट (Pramila Bhat) (जन्म;१६ सितम्बर १९७९,बैंगलोर,कर्नाटक,भारत) एक पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी है जो घरेलू क्रिकेट बैंगलोर के लिए खेलती थीं। इन्होंने १९९० से १९९६ तक भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए ५ टेस्ट मैच खेले थे जबकि१९९३ से १९९८ तक २२ एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी हिसा रही थीं। प्रमिला जो कि हरफनमौला खिलाड़ी है जिन्होंने भारतीय टीम के लिए १ टेस्ट और ७ वनडे मैचों में कप्तानी भी की थी। .

नई!!: बंगलौर और प्रमिला भट्ट · और देखें »

प्रमोद मुथालिक

प्रमोद मुथालिक (जन्म: १९६३) श्री राम सेना नमक हिन्दूवादी संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। .

नई!!: बंगलौर और प्रमोद मुथालिक · और देखें »

प्रसिद्ध कृष्णा

प्रसिद्ध मुरली कृष्णा (जन्म १९ फरवरी १९९६) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो कर्नाटक क्रिकेट टीम के लिए खेलते है। ये दाहिने हाथ से बल्लेबाजी करते है और दाहिने ही हाथ से मध्यम तेज गति से गेंदबाजी करते है। इन्हें २०१८ इंडियन प्रीमियर लीग की नीलामी में किसी भी टीम ने नहीं खरीदा था लेकिन जब कोलकाता नाइट राइडर्स के तेज गेंदबाज कमलेश नागरकोटी चोटिल हुए तो इन्हें उनकी जगह शामिल गया जिन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। .

नई!!: बंगलौर और प्रसिद्ध कृष्णा · और देखें »

प्रियामणि

प्रियामणि (जन्म:4 जून 1984) भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री और मॉडल है जो मुख्य रूप से दक्षिण भारत के सिनेमा में काम करती है। प्रियामणि का जन्म एक तमिल ब्राहमण परिवार में हुआ था जिनकी जड़े पालक्काड़ में है। उनका पालन पोषण बेंगलूरू में हुआ। सबसे पहली फ़िल्म उनकी तेलुगू सिनेमा की एवारे अतागाडू थी। उन्होनें 2004 में क्रमशः फिल्में कंगालाल कैधू सेई और सत्यम् के साथ तमिल सिनेमा और मलयालम सिनेमा में पर्दापर्ण किया। 2006 की तेलुगू फ़िल्म पेल्लैना कोठालो उनकी पहली सफल फ़िल्म थी। 2007 की तमिल फ़िल्म पारुथीवीरन से उन्हें व्यापक पहचान मिली, जिसके लिये उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इसी साल तेलुगू फ़िल्म यमडोंग से उन्हें वाणिज्यिक सफलता मिली। 2010 की रावण और रावणन से उन्होनें हिन्दी फ़िल्मों में आगाज़ किया। 2012 की चारुलता जिसमें उन्होनें जुड़ी हुई जुड़वा बहनों का किरदार निभाया था के लिये उन्हें आलोचनात्मक प्रशंसा मिली। चेन्नई एक्सप्रेस फ़िल्म में उन्होनें आइटम नम्बर भी किया था। वो विद्या बालन की बहन है। .

नई!!: बंगलौर और प्रियामणि · और देखें »

प्रो रेस्लिंग लीग

प्रो रेस्लिंग लीग (PWL) कार्तिकेय शर्मा की प्रो स्पोर्टिफाई द्वारा शुरु की गई एक पेशेवर कुश्ती प्रतियोगिता है जिसका आयोजन दिसम्बर २०१५ में भारत में हुआ। इस श्रृंखला का पहला संस्करण १०-२७ दिसम्बर २०१५ तक भारत के ६ शहरों की टीमों के बीच खेला गया। इन ६ टीमों से दुनिया भर के ६६ पहलवानों ने भाग लिया। तीन बार की महिला विश्व विजेता अमेरिका की ऐडेलिन ग्रे ने कहा की "अंतरराष्ट्रीय कुश्ती में इतना ज्यादा पुरस्कार राशि दांव पर लगाकर इस खेल को दुनिया में प्रसिद्ध बनाने का यह एक ऐतिहासिक और हिम्मत भरा कदम है।" डाबर च्यवनप्राश इस प्रतियोगिता का प्रमुख और शीर्षक का प्रायोजक है। इस प्रतियोगिता का पहला संस्करण भारत में बहुत लोकप्रिय हुआ। पहले संस्करण का विजेता मुम्बई गरुड़ा की टीम रही। .

नई!!: बंगलौर और प्रो रेस्लिंग लीग · और देखें »

प्रो कबड्डी लीग

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) भारत में एक पेशेवर कबड्डी लीग, इंडियन प्रीमियर लीग टी -20 क्रिकेट टूर्नामेंट के प्रारूप पर आधारित है। यह प्रायोजन कारणों के लिए के रूप में स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी में जाना जाता है। टूर्नामेंट के पहले संस्करण में भारत के विभिन्न शहरों का प्रतिनिधित्व करने वाले आठ फ्रेंचाइजी के साथ 2014 में खेला गया था। यह वर्तमान में मशाल स्पोर्ट्स द्वारा प्रबंधित किया जाता है। .

नई!!: बंगलौर और प्रो कबड्डी लीग · और देखें »

प्रोतिमा बेदी

प्रोतिमा गौरी बेदी (12 अक्टूबर 1948 - 18 अगस्त 1998) एक भारतीय मॉडल थी जो बाद में भारतीय शास्त्रीय नृत्य, ओडिसी की व्याख्याता बनी, तथा जिन्होनें 1990 में बैंगलोर के पास एक नृत्य गांव 'नृत्यग्राम' की स्थापना की.

नई!!: बंगलौर और प्रोतिमा बेदी · और देखें »

प्रोद्दटूरू

प्रोद्दटूरू आंध्र प्रदेश राज्य के कडपा जिला में एक शहर है। यह पेन्ना नदी के तट पर स्थित है। यह शहर एक नगर पालिका है और प्रोद्दटूरू मंडल का मंडल मुख्यालय भी है । यह क्षेत्र के एतेबार से सबसे छोटा नगरपालिका है, लेकिन जनसंख्या के मामले में राज्य में 14 वें स्थान पर है। .

नई!!: बंगलौर और प्रोद्दटूरू · और देखें »

पैराशूट रेजिमेंट

पैराशूट रेजिमेंट भारतीय सेना की हवाई (एयरबॉर्न) इंफेंट्री रेजिमेंट है। .

नई!!: बंगलौर और पैराशूट रेजिमेंट · और देखें »

पूर्णिमा सिन्हा

पूर्णिमा सिन्हा एक भारतीय भौतिक विज्ञानी थी। वह भौतिक विज्ञान में डॉक्टरेट प्राप्त करने वाली पहली बंगाली महिला थी। उनका जन्म १२ अक्टूबर १९२७ को हुआ था। वह डॉ. नरेश चंद्रा सेन-गुप्ता की सबसे छोटी बेटी, जो एक संवैधानिक वकील और एक प्रगतिशील लेखक थे, जिन्होंने बंगाली और अंग्रेजी में ६५ पुस्तकों और कई निबंधों पर लिखे है। .

नई!!: बंगलौर और पूर्णिमा सिन्हा · और देखें »

पेप्सी इंडिपेंडेंस कप 1997

1997 पेप्सी इंडिपेंडेंस कप भारत की स्वतंत्रता की 50 वीं वर्षगांठ की स्मृति में आयोजित एक चौथाई ओडीआई क्रिकेट टूर्नामेंट था। इसमें न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, श्रीलंका और मेजबान भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीमों को शामिल किया गया। टूर्नामेंट श्रीलंका ने जीता था, जिसने पाकिस्तान के तीनों फाइनल में सर्वश्रेष्ठ को हराया था। .

नई!!: बंगलौर और पेप्सी इंडिपेंडेंस कप 1997 · और देखें »

पोकिरी (2006 फ़िल्म)

पोकिरी (तेलुगु: పోకిరి, Rogue/Goon) 2006 एक हिट तेलुगु फिल्म है जिसका निर्देशन, लेखन और निर्माण पुरी जगन्नाध ने किया है। महेश बाबू ने मुख्य भूमिका निभायी है और एलेना डि'क्रूज़, प्रकाश राज, सयाजी शिंदे एवं आशीष विद्यार्थी ने सहायक भूमिकाएं अदा की हैं। मणि शर्मा संगीत निर्देशक थे, श्याम के.

नई!!: बंगलौर और पोकिरी (2006 फ़िल्म) · और देखें »

फिलिप्स

एम्स्टर्डम में फिलिप्स मुख्यालय कोनिंक्लिजके फिलिप्स इलेक्ट्रॉनिक्स एनवी (रॉयल फिलिप्स इलेक्ट्रॉनिक्स इंक.) जिसे आम तौर पर सबसे अधिक फिलिप्स के रूप में जाना जाता है, एक डच इलेक्ट्रोनिक्स कॉर्पोरेशन है। फिलिप्स दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों में से एक है। 2009 में, इसकी बिक्री € 23.18 बिलियन थी। कंपनी 60 से अधिक देशों में 123,800 लोगों को रोजगार देती है। फिलिप्स अनेक क्षेत्रों में सुव्यवस्थित है: फिलिप्स कंज्यूमर लाइफस्टाइल्स (पूर्व में फिलिप्स कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स और फिलिप्स डोमेस्टिक एप्लायंसेज तथा पर्सनल केयर), फिलिप्स लाइटिंग और फिलिप्स हैल्थकेयर (पूर्व में फिलिप्स मेडिकल सिस्टम्स).

नई!!: बंगलौर और फिलिप्स · और देखें »

फ्लिपकार्ट

फ्लिपकार्ट (Flipkart) भारत की एक ई-कॉमर्स कम्पनी है। इसका मुख्यालय बंगलौर में स्थित है। इसकी स्थापना सन् 2007 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली के स्नातक सचिन बंसल और बिनी बंसल द्वारा की गई थी। मूलतः पुस्तकों की ऑनलाइन खरीद-बिक्री लिए बनी यह वेबसाइट अब अपने ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और अन्य वस्तुएं खरीदने का विकल्प भी देती है। फ्लिपकार्ट पर क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग, ई-गिफ्ट वाउचर और सुपुर्दगी पर नकद अदायगी (कैश ऑन डिलीवरी) के ज़रिये भुगतान किया जा सकता है। फ्लिपकार्ड ने अपने उत्पाद 'डिजिफ्लिप' (DigiFlip) नाम से बेचना शुरू किया है जिसमें कैमरा-बैग, पेन-ड्राइव,कम्प्यूटर तथा हेडफोन के सामान आदि हैं। ०९ मई २०१८ को अमेरिका की बहुराष्ट्रीय खुदरा कंपनी वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77 फीसदी हिस्सेदारी, 1.07 लाख करोड़ रूपये में खरीद कर उसका अधिग्रहण कर लिया है। साउथ अफ्रीका की इंटरनेट और एंटरटेनमेंट कंपनी नैसपर्स ने भी फ्लिपकार्ट में अपनी कुल 11.18 फीसदी हिस्सेदारी को वॉलमार्ट को बेच दिया है। नैसपर्स ने यह सौदा 14,740 करोड़ रुपये में किया है। .

नई!!: बंगलौर और फ्लिपकार्ट · और देखें »

बड़वानी ज़िला

बड़वानी ज़िला भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। ज़िला मुख्यालय बड़वानी में है। ज़िले का क्षेत्रफल 5,427 किमी² तथा जनसंख्या 1,385,881 (2011 जनगणना) है। यह ज़िला मध्य प्रदेश के दक्षिण पश्चिम में स्थित है, नर्मदा नदी इसकी उत्तरी सीमा बनाती है। सेंधवा इसका प्रसिद्ध नगर है। यह कपास के लिये प्रसिद्ध है। यह एक तहसील भी है। जिले का सर्वाधिक जनसंख्या वाला नगर है यहाँ के किले का ऐतिहासिक महत्व है। बड़वानी नगर से 8 किलोमीटर दूर सतपुड़ा की पहाड़ियों में भगवान ऋषभदेव की 84 फ़ीट की एक पत्थर से निर्मित प्रतिमा पहाड़ों से निकली है। जो बावनगजा के नाम से प्रसिद्ध है। तथा यहाँ पर धान उद्यान केंद्र है बड़वानी ज़िले की तहसील:- 1.

नई!!: बंगलौर और बड़वानी ज़िला · और देखें »

बलजिन्दर सिंह

बलजिन्दर सिंह (अंग्रेजी:Baljinder Singh) (जन्म १८ सितम्बर १९८६) एक भारतीय खिलाड़ी है जो २० किलोमीटर दौड़ के भागीदार है। इन्होंने २०१२ में ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों में २० किलोमीटर दौड़ के पुरुष वर्ग में क़्वालीफाई किया था जो की लन्दन में हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और बलजिन्दर सिंह · और देखें »

बसव

150px गुरु बसव अथवा गुरु बसव (ಬಸವಣ್ಣ) या बसवेश्वर (ಬಸವೇಶ್ವರ), (११३४-११९६)) एक दार्शनिक और सामाजिक सुधारक थे। उन्होने हिंदू धर्म में जाति व्यवस्था और अनुष्ठान के विरुद्ध संघर्ष किया। उन्हें विश्व गुरु और भक्ति भंडारी भी कहा जाता है। अपनी शिक्षाओं और preachings सभी सीमाओं से परे जाना और कर रहे हैं सार्वभौमिक और अनन्त है। वह एक महान मानवीय था। गुरु बसवन्नाजिसमें परमात्मा अनुभव जीवन लिंग, जाति और सामाजिक स्थिति की परवाह किए बिना सभी उम्मीदवारों को समान अवसर देने का केंद्र था जीवन की एक नई तरह की वकालत की। अपने आंदोलन के पीछे आधारशिला परमेश्वर के एक सार्वभौमिक अवधारणा में दृढ़ विश्वास था। गुरु बसवन्नाmonotheistic निराकार भगवान की अवधारणा के एक समर्थक है।M. R. Sakhare, History and Philosophy of the Lingayat Religion, Prasaranga, Karnataka University, Dharwad एक सच्चे दूरदर्शी अपने समय से आगे विचारों के साथ, वह एक है कि विकास के चरम पर एक और सब को समृद्ध समाज के अनुरूप। एक महान रहस्यवादी जा रहा है, के अलावा गुरु बसवन्नाप्रधानमंत्री ने दक्षिणी Kalachuri साम्राज्य दक्षिण भारत में गया था और एक साहित्यिक क्रांति Vachana साहित्य शुरू करने से उत्पन्न। गुरु बसवन्नास्वभाव, विकल्प, पेशे से एक राजनेता, स्वाद, सहानुभूति द्वारा एक मानवतावादी और सजा से एक सामाजिक सुधारक द्वारा पत्र की एक आदमी एक आदर्शवादी द्वारा एक फकीर किया गया है करने के लिए कहा जाता है। कई महान योगियों और समय के रहस्यवादी यह कि भगवान है और जीवन में देखने का एक नया तरीका को परिभाषित Vachanas (Lit.

नई!!: बंगलौर और बसव · और देखें »

बायोकॉन

बायोकॉन लिमिटेड (Biocon Limited; BSE: 532523) बंगलोर में स्थित एक भारतीय जैवभेषज (biopharmaceutical) कम्पनी है। .

नई!!: बंगलौर और बायोकॉन · और देखें »

बासप्पा दनप्पा जत्ती

बी डी जत्ती (१० सितंबर १९१३ – ७ जून २००२) भारत के उपराष्ट्रपति थे। उनका कार्यकाल ३१ अगस्त १९७४ से ३० अगस्त १९७९ तक पाच सालोंका रहा। १९७७ में राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद के निधन के बाद छह माह (११ फरवरी से २५ जुलाई) तक जत्ती भारत के कार्यवाहक राष्ट्रपति थे। ७ जून २००२ को बंगलोर में उनकि मृत्यु हो गई जब वे ८८ साल के थे। .

नई!!: बंगलौर और बासप्पा दनप्पा जत्ती · और देखें »

बासवांगुडी मंदिर

बासवांगुडी मंदिरसुंदर बगले पहाड़ी पर स्थित इस मंदिर का निर्माण बंगलोर के संस्थापक कैंपे गौड़ा द्वारा कराया गया था। यहां नंदी बैल की विशाल प्रतिमा है जो ५०० वर्ष से अधिक पुरानी है। यह मूर्ति ५ मी.

नई!!: बंगलौर और बासवांगुडी मंदिर · और देखें »

बाङ्ला भाषा

बाङ्ला भाषा अथवा बंगाली भाषा (बाङ्ला लिपि में: বাংলা ভাষা / बाङ्ला), बांग्लादेश और भारत के पश्चिम बंगाल और उत्तर-पूर्वी भारत के त्रिपुरा तथा असम राज्यों के कुछ प्रान्तों में बोली जानेवाली एक प्रमुख भाषा है। भाषाई परिवार की दृष्टि से यह हिन्द यूरोपीय भाषा परिवार का सदस्य है। इस परिवार की अन्य प्रमुख भाषाओं में हिन्दी, नेपाली, पंजाबी, गुजराती, असमिया, ओड़िया, मैथिली इत्यादी भाषाएँ हैं। बंगाली बोलने वालों की सँख्या लगभग २३ करोड़ है और यह विश्व की छठी सबसे बड़ी भाषा है। इसके बोलने वाले बांग्लादेश और भारत के अलावा विश्व के बहुत से अन्य देशों में भी फ़ैले हैं। .

नई!!: बंगलौर और बाङ्ला भाषा · और देखें »

बिन्नी बंसल

बिन्नी बंसल एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर, इन्टरनेट उद्यमी और भारत के बड़े ई-कॉमर्स औद्योगिक संस्था फ्लिपकार्ट के सह-संस्थापक हैं। बिन्नी बंसल ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में स्नातक किया। वर्तमान में बिन्नी बैंगलोर में रहते हैं। .

नई!!: बंगलौर और बिन्नी बंसल · और देखें »

बिग एफएम (रेडियो)

150px बिग एफएम (रेडियो), एक राष्ट्रव्यापी निजी एफएम रेडियो स्टेशन है। इस रेडियो स्टेशन के मालिक प्रसिद्द भारतीय व्यवसायी अनिल अम्बानी हैं। यह रेडियो स्टेशन ९२.७ मेगाहर्ट्स एफएम बैंड फ्रिकुएंसी पर प्रसारित होता है। वर्तमान में यह स्टेशन ४४ विभिन्न शहरों में प्रसारित होता है। यह एकमात्र ऐसा रेडियो स्टेशन है जो कि जम्मू और कश्मीर में भी प्रसारित होता है। १ जुलाई २००८ से बिग एफएम सिंगापूर में भी अपना प्रसारण शुरू कर दिया। सिंगापूर में यह सुबह ५ बजे से रत ८ बजे तक हर रोज़ ९६.३ मेगाहर्ट्स पर प्रसारित होता है। बिग एफएम रेडियो का टैगलाइन है - "सुनो सुनाओ, लाइफ बनाओ" .

नई!!: बंगलौर और बिग एफएम (रेडियो) · और देखें »

बंगलुरु मेट्रो

नम्मा मेट्रो (ನಮ್ಮ ಮೆಟ್ರೊ "हमारी मेट्रो ") जिसे बेंगलूरु मेट्रो (ಬೆಂಗಳೂರು ಮೆಟ್ರೊ) भी कहते हैं, भारत के कर्नाटक राज्य की राजधानी बेंगलूरु के लिये एक त्वरित यातायात सेवा है। इसके निर्माण हेतु निर्धारित संस्था बेंगलुरु मेट्रो रेल कार्पोरेशन (बीएमआरसीएल) है। इसका उद्घाटन २० अक्टूबर २०११ को हुआ था। प्रथम लाइन बयप्पनहल्ली से महात्मा गाँधी मार्ग (एम.जी.रोड) के बीच बनी है। इस मेट्रो से भविष्य में मैजेस्टिक (कैम्पेगौड़ा बस अड्डा एवं बेंगलुरु सिटी रेलवे स्टेशन), सैम्पीज रोड, हडसन सर्किल एवं एम.जी.रोड जैसे क्षेत्रों की यातायात मात्रा में कटौती होने की संभावना है। .

नई!!: बंगलौर और बंगलुरु मेट्रो · और देखें »

बंगलौर सिटी जंक्शन रेलवे स्टेशन

बंगलौर सिटी जंक्शन रेलवे स्टेशन बंगलौर शहर का रेलवे स्टेशन है। श्रेणी:कर्नाटक के रेलवे स्टेशन श्रेणी:रेलवे स्टेशन.

नई!!: बंगलौर और बंगलौर सिटी जंक्शन रेलवे स्टेशन · और देखें »

बंगलौर विश्वविद्यालय

बैंगलोर विश्वविद्यालय (BU) एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है, जो कर्नाटक राज्य, भारत के बैंगलोर शहर में स्थित है। यह विश्वविद्यालय भारत के पुराने विश्वविद्यालयों में से एक है जिसकी स्थापना सन 1886 में हुई थी तथा यह भारत के अग्रणी बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है। विश्वविद्यालय, भारतीय विश्वविद्यालयों के संघ (AIU) का एक भाग है तथा 'उत्कृष्टता के लिये संभावित' (Potential for Excellence) की प्रतिष्ठा के नजदीक है जो कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के दिशा निर्देशों के अनुसार भारत के 10 शीर्ष विश्वविद्यालयों के लिये आरक्षित है। विश्वविद्यालय, प्रतिष्ठित विदेशी तथा स्थानीय विश्वविद्यालयों, संगठनों तथा संस्थाओं के साथ एमओयू के द्वारा शोध कार्य में संलग्न है। इसके कई विभाग उत्कृष्टता के केन्द्र के रूप में UGC द्वारा चिन्हित किये गये हैं। .

नई!!: बंगलौर और बंगलौर विश्वविद्यालय · और देखें »

बंगलौर-मैसूर द्रुतगति मार्ग

बंगलौर-मैसूर द्रुतगति मार्ग १११ किलोमीटर लम्बा चार से छह लेन का एक निजी टोल-टैक्स युक्त द्रुतगति मार्ग है जो भारत के कर्णाटक राज्य के दो प्रमुख नगरों बंगलौर और मैसूर को जोड़ता है। इसका निर्माण नन्दी इन्फ़्रास्ट्रक्चर कॉरिडोर ऐण्टरप्राइज़ेस द्वारा किया जा रहा है जो इसे बिल्ड (निर्माण)-ओन (स्वामित्व)-ऑपरेट (संचालन)-ट्रान्स्फ़र (हस्तान्तरण) आधार पर बनाया जा रहा है। .

नई!!: बंगलौर और बंगलौर-मैसूर द्रुतगति मार्ग · और देखें »

बंगलोर जिला

बंगलोर(कन्नड: ಬೆಂಗಳೂರು, बेन्गळूरु) भारतीय राज्य कर्नाटक का एक जिला है। इसका मुख्यालय बंगलोर नगर है जो राज्य की राजधानी है तथा देश एवं दुनिया के बङे नगरों में गिना जाता है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: बंगलौर और बंगलोर जिला · और देखें »

बृजेश पटेल

बृजेश पटेल (Brijesh Patel) (जन्म २४ नवम्बर १९५२) बैंगलोर में पले बढ़े एक पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो दाएं हाथ से बल्लेबाजी करते तथा राइट आर्म ऑफ़ ब्रेक गेंदबाजी करते थे। इन्होंने अपने कैरियर में कुल २१ टेस्ट तथा १० वनडे मैच खेले थे तथा ये १९७५ क्रिकेट विश्व कप के भी हिस्सा थे। .

नई!!: बंगलौर और बृजेश पटेल · और देखें »

बैरी जॉन

बैरी जॉन (जन्म: १९४४) (Barry John) ब्रिटेन में जन्मे एक भारतीय थियेटर निर्देशक और शिक्षक हैं, जो कि दिल्ली में स्थित शुरुआती थियेटर समूहों में से एक, थिएटर एक्शन ग्रुप (टीएजी) (१९७३) के संस्थापक-निदेशक रह चुके हैं। १९९७ में उन्होंने संजय सुगितभ के साथ मिलकर दिल्ली में इमागो मीडिया कंपनी और इमागो एक्टिंग स्कूल खोला था; दोनों ही मार्च २००७ में मुंबई स्थानांतरित कर दिए गए। इस स्कूल से उन्हें काफी प्रसिद्धि मिली, क्योंकि उनके कुछ छात्र आगे चलकर बॉलीवुड अभिनेता बने, जिनमें शाहरुख खान, मनोज वाजपेयी, समीर सोनी, शाइनी आहूजा, और फ्रीडा पिंटो प्रमुख हैं। १९९३ में उन्हें संगीत नाटक अकादमी द्वारा साहित्य कला परिषद पुरस्कार और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वह १९६९ के बाद से ही भारत में रह रहे हैं। मुंबई के अंधेरी में उनका एक अभिनय स्कूल स्थित है, जिसका नाम 'द बैरी जॉन एक्टिंग स्टूडियो' है। .

नई!!: बंगलौर और बैरी जॉन · और देखें »

बैंगलोर में पर्यटकों के आकर्षण की सूची

बेंगलुरु भारतीय राज्य कर्नाटक की राजधानी है। इस शहर को "गार्डन सिटी ऑफ इंडिया" के रूप में जाना जाता था। बेंगलुरु कर्नाटक राज्य के सबसे महत्वपूर्ण पर्यटन केन्द्रों में से एक था। बेंगलुरू के मुख्य व्यापार केंद्र में एमजी रोड, ब्रिगेड रोड, वाणिज्यिक स्ट्रीट इत्यादि शामिल हैं। बेंगलुरू में कई झील और पार्क हैं। बीएमटीसी बेंगलुरू में दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए विशेष बसों की सुविधा प्रदान करता है, जिसमें कोवेरी शामिल है – जो एक डबल डेकर खुली छत वाली बस हैं। .

नई!!: बंगलौर और बैंगलोर में पर्यटकों के आकर्षण की सूची · और देखें »

बेंगलोर पैलेस

200px बेंगलोर पैलेस बंगलोर विधान सौध के उत्तर-पश्चिम में ऊंचे स्थान पर यह एक सुंदर बगीचे के बीच में स्थित है। यह लंदन के विंडसर-कैसल की झलक देता है।owner is the queen of Mysore.

नई!!: बंगलौर और बेंगलोर पैलेस · और देखें »

बेंगलोर महानगर परिवहन निगम

बेंगलुरु महानगर परिवहन निगम (BMTC) वह एजेन्सी है जो भारत के बंगलुरु में सार्वजनिक परिवहन की बस सेवा को संचालित करती है। जनवरी 2006 में भारत में अंतरशहर वोल्वो B7RLE बसों का प्रारंभ करने वाला भारत का पहला सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम होने के कारण यह बहुत प्रसिद्ध है। सन् 2009 में जून की पहली तारीख को अपनी पहली वर्षगांठ मनाने के लिए कर्नाटक सरकार और बैंगलोर महानगर परिवहन निगम ने गरीबों के लिए अटल सारिगे नामक बस सेवा शुरू की। इस सेवा का उद्देश्य समाज के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों को नजदीकी मुख्य बस केंद्र तक कम लागत संयोजकता (कनेक्टिविटी) प्रदान करना है। .

नई!!: बंगलौर और बेंगलोर महानगर परिवहन निगम · और देखें »

बीएमएस इंजीनियरिंग कॉलेज

बीएमएस इंजीनियरिंग कॉलेज बेंगलूरू में स्थित एक स्वायत्त इंजीनियरिंग कॉलेज है। बी.एम.

नई!!: बंगलौर और बीएमएस इंजीनियरिंग कॉलेज · और देखें »

बीजापुर

बीजापुर कर्नाटक प्रान्त का एक शहर है। यह आदिलशाही बीजापुर सल्तनत की राजधान भी रहा है। बहमनी सल्तनत के अन्दर बीजापुर एक प्रान्त था। बंगलौर के उत्तर पश्चिम में स्थित बीजापुर कर्नाटक का प्राचीन नगर है। .

नई!!: बंगलौर और बीजापुर · और देखें »

भद्रावती (कर्नाटक)

भद्रावती भारत में कर्नाटक राज्य के शिवमोगा जिले का एक नगर है। यह शिवमोगा से २० किमी तथा बंगलुरु से २५५ किमी दूरी पर स्थित है। लोहा इस्पात के कारखाने के कारण नगर की काफी प्रसिद्धि है। बाबाबूदन की पहाड़ियों से लोहा तथा गुड्डा से चूना मंडी प्राप्त किया जाता है। लोहे इस्पात के अतिरिक्त अल्कतरा, अमोनियम सल्फेट, सीमेंट आदि पदार्थो का उत्पादन भी होता है। श्रेणी:कर्नाटक के शहर.

नई!!: बंगलौर और भद्रावती (कर्नाटक) · और देखें »

भारत

भारत (आधिकारिक नाम: भारत गणराज्य, Republic of India) दक्षिण एशिया में स्थित भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। पूर्ण रूप से उत्तरी गोलार्ध में स्थित भारत, भौगोलिक दृष्टि से विश्व में सातवाँ सबसे बड़ा और जनसंख्या के दृष्टिकोण से दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, उत्तर-पूर्व में चीन, नेपाल और भूटान, पूर्व में बांग्लादेश और म्यान्मार स्थित हैं। हिन्द महासागर में इसके दक्षिण पश्चिम में मालदीव, दक्षिण में श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व में इंडोनेशिया से भारत की सामुद्रिक सीमा लगती है। इसके उत्तर की भौतिक सीमा हिमालय पर्वत से और दक्षिण में हिन्द महासागर से लगी हुई है। पूर्व में बंगाल की खाड़ी है तथा पश्चिम में अरब सागर हैं। प्राचीन सिन्धु घाटी सभ्यता, व्यापार मार्गों और बड़े-बड़े साम्राज्यों का विकास-स्थान रहे भारतीय उपमहाद्वीप को इसके सांस्कृतिक और आर्थिक सफलता के लंबे इतिहास के लिये जाना जाता रहा है। चार प्रमुख संप्रदायों: हिंदू, बौद्ध, जैन और सिख धर्मों का यहां उदय हुआ, पारसी, यहूदी, ईसाई, और मुस्लिम धर्म प्रथम सहस्राब्दी में यहां पहुचे और यहां की विविध संस्कृति को नया रूप दिया। क्रमिक विजयों के परिणामस्वरूप ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कंपनी ने १८वीं और १९वीं सदी में भारत के ज़्यादतर हिस्सों को अपने राज्य में मिला लिया। १८५७ के विफल विद्रोह के बाद भारत के प्रशासन का भार ब्रिटिश सरकार ने अपने ऊपर ले लिया। ब्रिटिश भारत के रूप में ब्रिटिश साम्राज्य के प्रमुख अंग भारत ने महात्मा गांधी के नेतृत्व में एक लम्बे और मुख्य रूप से अहिंसक स्वतन्त्रता संग्राम के बाद १५ अगस्त १९४७ को आज़ादी पाई। १९५० में लागू हुए नये संविधान में इसे सार्वजनिक वयस्क मताधिकार के आधार पर स्थापित संवैधानिक लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित कर दिया गया और युनाईटेड किंगडम की तर्ज़ पर वेस्टमिंस्टर शैली की संसदीय सरकार स्थापित की गयी। एक संघीय राष्ट्र, भारत को २९ राज्यों और ७ संघ शासित प्रदेशों में गठित किया गया है। लम्बे समय तक समाजवादी आर्थिक नीतियों का पालन करने के बाद 1991 के पश्चात् भारत ने उदारीकरण और वैश्वीकरण की नयी नीतियों के आधार पर सार्थक आर्थिक और सामाजिक प्रगति की है। ३३ लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के साथ भारत भौगोलिक क्षेत्रफल के आधार पर विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा राष्ट्र है। वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था क्रय शक्ति समता के आधार पर विश्व की तीसरी और मानक मूल्यों के आधार पर विश्व की दसवीं सबसे बडी अर्थव्यवस्था है। १९९१ के बाज़ार-आधारित सुधारों के बाद भारत विश्व की सबसे तेज़ विकसित होती बड़ी अर्थ-व्यवस्थाओं में से एक हो गया है और इसे एक नव-औद्योगिकृत राष्ट्र माना जाता है। परंतु भारत के सामने अभी भी गरीबी, भ्रष्टाचार, कुपोषण, अपर्याप्त सार्वजनिक स्वास्थ्य-सेवा और आतंकवाद की चुनौतियां हैं। आज भारत एक विविध, बहुभाषी, और बहु-जातीय समाज है और भारतीय सेना एक क्षेत्रीय शक्ति है। .

नई!!: बंगलौर और भारत · और देखें »

भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची

भारत दक्षिण एशिया में एक देश है। भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार, वह सातवाँ सबसे बड़ा देश है, और १.२ अरब से अधिक लोगों के साथ, वह दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। भारत में उनतीस राज्य और सात संघ राज्यक्षेत्र हैं। वह विश्व की जनसंख्या के १७.५ प्रतिशत का घर हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारत में दशलक्ष-अधिक शहरी संकुलनों की सूची · और देखें »

भारत में पर्यटन

हर साल, 3 मिलियन से अधिक पर्यटक आगरा में ताज महल देखने आते हैं। भारत में पर्यटन सबसे बड़ा सेवा उद्योग है, जहां इसका राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 6.23% और भारत के कुल रोज़गार में 8.78% योगदान है। भारत में वार्षिक तौर पर 5 मिलियन विदेशी पर्यटकों का आगमन और 562 मिलियन घरेलू पर्यटकों द्वारा भ्रमण परिलक्षित होता है। 2008 में भारत के पर्यटन उद्योग ने लगभग US$100 बिलियन जनित किया और 2018 तक 9.4% की वार्षिक वृद्धि दर के साथ, इसके US$275.5 बिलियन तक बढ़ने की उम्मीद है। भारत में पर्यटन के विकास और उसे बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्रालय नोडल एजेंसी है और "अतुल्य भारत" अभियान की देख-रेख करता है। विश्व यात्रा और पर्यटन परिषद के अनुसार, भारत, सर्वाधिक 10 वर्षीय विकास क्षमता के साथ, 2009-2018 से पर्यटन का आकर्षण केंद्र बन जाएगा.

नई!!: बंगलौर और भारत में पर्यटन · और देखें »

भारत में पर्यावरणीय समस्याएं

गंगा बेसिन के ऊपर मोटी धुंध और धुआं. तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या व आर्थिक विकास के कारण भारत में कई पर्यावरणीय समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं और इसके पीछे शहरीकरण व औद्योगीकरण में अनियंत्रित वृद्धि, बड़े पैमाने पर कृषि का विस्तार तथा तीव्रीकरण, तथा जंगलों का नष्ट होना है। प्रमुख पर्यावरणीय मुद्दों में वन और कृषि-भूमिक्षरण, संसाधन रिक्तीकरण (पानी, खनिज, वन, रेत, पत्थर आदि), पर्यावरण क्षरण, सार्वजनिक स्वास्थ्य, जैव विविधता में कमी, पारिस्थितिकी प्रणालियों में लचीलेपन की कमी, गरीबों के लिए आजीविका सुरक्षा शामिल हैं। यह अनुमान है कि देश की जनसंख्या वर्ष 2018 तक 1.26 अरब तक बढ़ जाएगी.

नई!!: बंगलौर और भारत में पर्यावरणीय समस्याएं · और देखें »

भारत में प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों की सूची

भारत में प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों की सूची। भारत ने सर्वाधिक हिंदी भाषा के समाचार पत्र सर्कुलेट होते हैं उसके बाद इंग्लिश और उर्दू समाचारपत्रों का स्थान है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों की सूची · और देखें »

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों का संजाल भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची भारतीय राजमार्ग के क्षेत्र में एक व्यापक सूची देता है, द्वारा अनुरक्षित सड़कों के एक वर्ग भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण। ये लंबे मुख्य में दूरी roadways हैं भारत और के अत्यधिक उपयोग का मतलब है एक परिवहन भारत में। वे में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा भारतीय अर्थव्यवस्था। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 laned (प्रत्येक दिशा में एक), के बारे में 65,000 किमी की एक कुल, जिनमें से 5,840 किमी बदल सकता है गठन में "स्वर्ण Chathuspatha" या स्वर्णिम चतुर्भुज, एक प्रतिष्ठित परियोजना राजग सरकार द्वारा शुरू की श्री अटल बिहारी वाजपेयी.

नई!!: बंगलौर और भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - प्रदेश अनुसार · और देखें »

भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची

शिकोहाबाद तहसील के ग्राम नगला भाट में श्री मुकुट सिंह यादव जो ग्राम पंचायत रूपसपुर से प्रधान भी रहे हैं उनके तीन पुत्र हैं गजेंद्र यादव नगेन्द्र यादव पुष्पेंद्र यादव प्रधान जी का जन्म सन १९५० में हुआ था उन्होंने अपना सारा जीवन ग़रीबों के लिए क़ुर्बान कर दिया था और वो ५ भाईओ में सबसे छोटे थे और अपने परिवार को बाँधे रखा ११ मार्च २०१५ को उनका देहावसान हो गया ! वो आज भी हमारे दिलों में ज़िंदा हैं इस लेख में भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची है। भारत में रेलवे स्टेशनों की कुल संख्या 7,000 और 8,500 के बीच अनुमानित है। भारतीय रेलवे एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार देने के साथ दुनिया में चौथा सबसे बड़ा नियोक्ता है। सूची तस्वीर गैलरी निम्नानुसार है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची · और देखें »

भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची

इस लेख में भारत के सर्वोच्च सौ महानगरीय क्षेत्रों की सूची (२००८ अनुसार) है। इन सौ महानगरों की संयुक्त जनसंख्या राष्ट्र की कुल जनसंख्या का सातवां भाग बनाती है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची · और देखें »

भारत में संचार

भारतीय दूरसंचार उद्योग दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता दूरसंचार उद्योग है, जिसके पास अगस्त 2010http://www.trai.gov.in/WriteReadData/trai/upload/PressReleases/767/August_Press_release.pdf तक 706.37 मिलियन टेलीफोन (लैंडलाइन्स और मोबाइल) ग्राहक तथा 670.60 मिलियन मोबाइल फोन कनेक्शन्स हैं। वायरलेस कनेक्शन्स की संख्या के आधार पर यह दूरसंचार नेटवर्क मुहैया करने वाले देशों में चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारतीय मोबाइल ग्राहक आधार आकार में कारक के रूप में एक सौ से अधिक बढ़ी है, 2001 में देश में ग्राहकों की संख्या लगभग 5 मिलियन थी, जो अगस्त 2010 में बढ़कर 670.60 मिलियन हो गयी है। चूंकि दूरसंचार उद्योग दुनिया में तेजी से बढ़ रहा है, इसलिए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि 2013 तक भारत में 1.159 बिलियन मोबाइल उपभोक्ता हो जायेंगे.

नई!!: बंगलौर और भारत में संचार · और देखें »

भारत में सैन्य अकादमियाँ

भारतीय सैन्य सेवा ने पेशेवर सैनिकों को नई पीढ़ी के सैन्य विज्ञान, युद्ध कमान तथा रणनीति और सम्बंधित प्रौद्योगिकियों में प्रशिक्षण देने के उद्देश्य से भारत के विभिन्न हिस्सों में कई प्रतिष्ठित अकादमियों और स्टाफ कॉलेजों की स्थापना की है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में सैन्य अकादमियाँ · और देखें »

भारत में विश्वविद्यालयों की सूची

यहाँ भारत में विश्वविद्यालयों की सूची दी गई है। भारत में सार्वजनिक और निजी, दोनों विश्वविद्यालय हैं जिनमें से कई भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा समर्थित हैं। इनके अलावा निजी विश्वविद्यालय भी मौजूद हैं, जो विभिन्न निकायों और समितियों द्वारा समर्थित हैं। शीर्ष दक्षिण एशियाई विश्वविद्यालयों के तहत सूचीबद्ध विश्वविद्यालयों में से अधिकांश भारत में स्थित हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारत में विश्वविद्यालयों की सूची · और देखें »

भारत में आतंकवाद

भारत बहुत समय से आतंकवाद का शिकार हो रहा है। भारत के काश्मीर, नागालैंड, पंजाब, असम, बिहार आदि विशेषरूप से आतंक से प्रभावित रहे हैं। यहाँ कई प्रकार के आतंकवादी जैसे पाकिस्तानी, इस्लामी, माओवादी, नक्सली, सिख, ईसाई आदि हैं। जो क्षेत्र आज आतंकवादी गतिविधियों से लम्बे समय से जुड़े हुए हैं उनमें जम्मू-कश्मीर, मुंबई, मध्य भारत (नक्सलवाद) और सात बहन राज्य (उत्तर पूर्व के सात राज्य) (स्वतंत्रता और स्वायत्तता के मामले में) शामिल हैं। अतीत में पंजाब में पनपे उग्रवाद में आंतकवादी गतिविधियां शामिल हो गयीं जो भारत देश के पंजाब राज्य और देश की राजधानी दिल्ली तक फैली हुई थीं। 2006 में देश के 608 जिलों में से कम से कम 232 जिले विभिन्न तीव्रता स्तर के विभिन्न विद्रोही और आतंकवादी गतिविधियों से पीड़ित थे। अगस्त 2008 में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम.के.

नई!!: बंगलौर और भारत में आतंकवाद · और देखें »

भारत में कार्यरत बैंकों की सूची

यहाँ सहकारी बैंको को छोड़कर भारत में कार्यरत अन्य बैंकों की सूची दी गयी है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में कार्यरत बैंकों की सूची · और देखें »

भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत

भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत सन १९५२ में भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता से हुई थी। सन १९५२ में आई एस आई में एक एनालोंग कंप्यूटर की स्थापना की गई थी जो भारत का प्रथम कंप्यूटर था। यह कंप्यूटर १० X १० की मैट्रिक्स को हल कर सकता था। इसी समय भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलूर में भी एक एनालोग कंप्यूटर स्थापित किया गया था जिसका प्रयोग अवकलन विश्लेषक के रूप में किया जाता था। लेकिन इन सब के बाद भी भारत में कंप्यूटर युग की वास्तविक रूप से शुरुआत हुई सन १९५६ में, जब आई एस आई कोलकाता में भारत का प्रथम इलेक्ट्रोनिक डिजिटल कंप्यूटर HEC - 2M स्थापित किया गया। यह कंप्यूटर केवल भारत का प्रथम इलेक्ट्रोनिक कंप्यूटर होने के कारण ख़ास नहीं था बल्कि इसलिए भी ख़ास था क्योंकि इसकी स्थापना के साथ ही भारत जापान के बाद एशिया का दूसरा ऐसा देश बन गया था जिसने कंप्यूटर तकनीक को अपनाया था। वास्तव में HEC - 2M का निर्माण भारत में न होकर इंग्लेंड में हुआ था। जहां से इसे आयात करके आई एस आई में स्थापित किया गया था। इसका विकास एंड्रयू डोनाल्ड बूथ द्वारा किया गया था जो उस समय लंदन के बर्कबैक कोलेज में कार्यरत प्रोफ़ेसर थे | यह कंप्यूटर १०२४ शब्द की ड्रम मेमोरी युक्त एक १६ बिट का कंप्यूटर था जिसका संचालन करने के लिए मशीन भाषा का प्रयोग किया जाता था तथा इनपुट और आउटपुट के लिए पंच कार्ड्स का प्रयोग किया जाता था लेकिन बाद में इसमे प्रिंटर भी जोड़ दिया गया | चूँकि यह देश का प्रथम डिजिटल कंप्यूटर था इसलिए सम्पूर्ण देश से विभिन्न प्रकार की वैज्ञानिक समस्याओं का समाधान इस कंप्यूटर से किया जाता था जैसे सुरक्षा विभाग तथा प्रयोगशालाओं से सम्बंधित समस्याएँ विभिन्न प्रकार के विश्लेषक आदि | लेकिन यह विकास गाथा यही समाप्त नहीं होती है | सन १९५८ में आई एस आई में युआरएएल नामक एक अन्य कंप्यूटर स्थापित किया गया जो आकार में HEC - 2 M से भी बड़ा था। इस कंप्यूटर को रूस से खरीदा गया था। यह नाम वास्तव में रूस की एक पर्वत श्रृंखला का नाम है और चूँकि यह कंप्यूटर भी रूस से खरीदा गया था, इस कारण से इस कंप्यूटर को यह नाम दिया गया | यह कंप्यूटर क्षेतिक मैग्नेटिक टेप युक्त एक ३२ बिट कंप्यूटर था, जिसमे इनपुट के रूप में पंच कार्ड्स तथा आउटपुट के रूप में प्रिंटर का प्रयोग किया जाता था। सन १९६४ में इन दोनों कंप्यूटर को तब विराम दे दिया गया जब आईबीएम ने आई एस आई में अपना कंप्यूटर १४०१ स्थापित किया | आईबीएम १४०१, १४०० श्रृंखला का पहला कंप्यूटर था जिसे आईबीएम द्वारा सन १९५९ में विकसित किया गया था जो की एक डाटा प्रोसेसिंग सिस्टम कंप्यूटर था। इस कंप्यूटर में मुख्य रूप से १४०१ प्रोसेसिंग यूनिट थी जो एक मिनट में १,९३,३०० योग की गणनाएं कर सकती थी | साथ ही साथ इस कंप्यूटर में इनपुट के लिए पंच कार्ड्स के साथ साथ मैग्नेटिक टेप तथा आउटपुट के लिए आईबीएम १४०३ प्रिंटर का प्रयोग किया जाता था। इन सभी कंप्यूटर में जो एक समानता थी वह यह थी कि ये सभी कंप्यूटर भारत में विकसित नहीं हुए थे बल्कि इन्हें दूसरे देशों से खरीदा गया था। भारत में विकसित किया गया पहला कंप्यूटर था ISIJU, इस कंप्यूटर का विकास सन १९६६ में दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा किया गया था। जिस कारण इसे ISIJU नाम दिया गया | HEC - 2M तथा URAL दोनों ही वैक्यूम ट्यूब युक्त कंप्यूटर थे जबकि ISIJU एक ट्रांजिस्टर युक्त कंप्यूटर था। इस कंप्यूटर का विकास भारतीय कंप्यूटर तकनीक के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण था, यद्यपि यह कंप्यूटर व्यवसायिक कम्प्यूटिंग आवश्यकताओं को पूर्ण नहीं करता था जिस कारण से इसके द्वारा कोई विशिष्ट कार्य नहीं किया गया | भारत में कम्प्यूटिंग विकास में सबसे महत्वपूर्ण चरण आया ९० के दशक में जब पुणे में स्थित प्रगत संगणन विकास केंद्र में भारत का प्रथम सुपर कंप्यूटर ' परम ८००० ' का विकास किया गया | परम का अर्थ है parallel machine जो कि आज सुपर कंप्यूटर की एक श्रृंखला है | परम का प्रयोग विभिन्न क्षेत्रो में किया जाता है जैसे बायोइन्फ़ोर्मेटिक्स के क्षेत्र में, मौसम विज्ञान के क्षेत्र में, रसायन शास्त्र के क्षेत्र में आदि | यद्यपि पर्सनल कंप्यूटर के आ जाने के कारण आज भारत के कई हजारों घरों में, कार्यालयों में कंप्यूटर तकनीक पैर पसार रही है लेकिन इन सभी एनालोग, मेनफ्रेम तथा सुपरकंप्यूटर ने भारत को एक विकासशील देश बनाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है | .

नई!!: बंगलौर और भारत में कंप्यूटर युग की शुरुआत · और देखें »

भारत में कॉफी उत्पादन

भारत में कॉफी वन भारत में कॉफी बागान भारत में कॉफ़ी का उत्पादन मुख्य रूप से दक्षिण भारतीय राज्यों के पहाड़ी क्षेत्रों में होता है। यहां कुल 8200 टन कॉफ़ी का उत्पादन होता है जिसमें से कर्नाटक राज्य में अधिकतम 53 प्रतिशत, केरल में 28 प्रतिशत और तमिलनाडु में 11 प्रतिशत उत्पादन होता है। भारतीय कॉफी दुनिया भर की सबसे अच्छी गुणवत्ता की कॉफ़ी मानी जाती है, क्योंकि इसे छाया में उगाया जाता है, इसके बजाय दुनिया भर के अन्य स्थानों में कॉफ़ी को सीधे सूर्य के प्रकाश में उगाया जाता है। भारत में लगभग 250000 लोग कॉफ़ी उगाते हैं; इनमें से 98 प्रतिशत छोटे उत्पादक हैं। 2009 में, भारत का कॉफ़ी उत्पादन दुनिया के कुल उत्पादन का केवल 4.5% था। भारत में उत्पादन की जाने वाली कॉफ़ी का लगभग 80 प्रतिशत हिस्सा निर्यात कर दिया जाता है। निर्यात किये जाने वाले हिस्से का 70 प्रतिशत हिस्सा जर्मनी, रूस संघ, स्पेन, बेल्जियम, स्लोवेनिया, संयुक्त राज्य, जापान, ग्रीस, नीदरलैंड्स और फ्रांस को भेजा जाता है। इटली को कुल निर्यात का 29 प्रतिशत हिस्सा भेजा जाता है। अधिकांश निर्यात स्वेज़ नहर के माध्यम से किया जाता है। कॉफी भारत के तीन क्षेत्रों में उगाई जाती है। कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु दक्षिणी भारत के पारम्परिक कॉफ़ी उत्पादक क्षेत्र हैं। इसके बाद देश के पूर्वी तट में उड़ीसा और आंध्र प्रदेश के गैर पारम्परिक क्षेत्रों में नए कॉफ़ी उत्पादक क्षेत्रों का विकास हुआ है। तीसरे क्षेत्र में उत्तर पूर्वी भारत के अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, त्रिपुरा, मिजोरम, मेघालय, मणिपुर और आसाम के राज्य शामिल हैं, इन्हें भारत के "सात बन्धु राज्यों" के रूप में जाना जाता है। भारतीय कॉफी, जिसे अधिकतर दक्षिणी भारत में मानसूनी वर्षा में उगाया जाता है, को "भारतीय मानसून कॉफ़ी" भी कहा जाता है। इसके स्वाद "सर्वश्रेष्ठ भारतीय कॉफ़ी के रूप में परिभाषित किया जाता है, पेसिफिक हाउस का फ्लेवर इसकी विशेषता है, लेकिन यह एक साधारण और नीरस ब्रांड है।" कॉफ़ी की चार ज्ञात किस्में हैं अरेबिका, रोबस्टा, पहली किस्म जिसे 17 वीं शताब्दी में कर्नाटक के बाबा बुदान पहाड़ी क्षेत्र में शुरू किया गया, का विपणन कई सालों से केंट और S.795 ब्रांड नामों के तहत किया जाता है। .

नई!!: बंगलौर और भारत में कॉफी उत्पादन · और देखें »

भारत स्थित संस्कृत विश्वविद्यालयों की सूची

भारत तथा के संस्कृत विश्वविद्यालयों की सूची नीचे दी गयी है-.

नई!!: बंगलौर और भारत स्थित संस्कृत विश्वविद्यालयों की सूची · और देखें »

भारत इलैक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अधीन एक सैन्य एवं नागरिक उपकरण एवं संयंत्र निर्माणी है। भारत सरकार द्वारा सन १९५४ में सैन्य क्षेत्र की विशेष चुनौतीपूर्ण आवश्यकताऐं पूरी करने हेतु रक्षा मन्त्रालय के अधीन इसकी स्थापना की गई थी। इलेक्ट्रानिक उपकरण व प्रणालियों का विकास तथा उत्पादन देश में ही करने के उद्देश्य से इसका पहला कारखाना बंगलुरू में लगाया गया था, किन्तु आज यह अपनी नौ उत्पादन इकाईयों, कई क्षेत्रीय कार्यालय तथा अनुसन्धान व विकास प्रयोगशालाओं से युक्त सार्वजनिक क्षेत्र का एक विशाल उपक्रम है, जिसे अपने व्यावसायिक प्रदर्शन के फलस्वरूप भारत सरकार से नवरत्न उद्योग का स्तर प्राप्त हुआ है। .

नई!!: बंगलौर और भारत इलैक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड · और देखें »

भारत का भूगोल

भारत का भूगोल या भारत का भौगोलिक स्वरूप से आशय भारत में भौगोलिक तत्वों के वितरण और इसके प्रतिरूप से है जो लगभग हर दृष्टि से काफ़ी विविधतापूर्ण है। दक्षिण एशिया के तीन प्रायद्वीपों में से मध्यवर्ती प्रायद्वीप पर स्थित यह देश अपने ३२,८७,२६३ वर्ग किमी क्षेत्रफल के साथ विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा देश है। साथ ही लगभग १.३ अरब जनसंख्या के साथ यह पूरे विश्व में चीन के बाद दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भी है। भारत की भौगोलिक संरचना में लगभग सभी प्रकार के स्थलरूप पाए जाते हैं। एक ओर इसके उत्तर में विशाल हिमालय की पर्वतमालायें हैं तो दूसरी ओर और दक्षिण में विस्तृत हिंद महासागर, एक ओर ऊँचा-नीचा और कटा-फटा दक्कन का पठार है तो वहीं विशाल और समतल सिन्धु-गंगा-ब्रह्मपुत्र का मैदान भी, थार के विस्तृत मरुस्थल में जहाँ विविध मरुस्थलीय स्थलरुप पाए जाते हैं तो दूसरी ओर समुद्र तटीय भाग भी हैं। कर्क रेखा इसके लगभग बीच से गुजरती है और यहाँ लगभग हर प्रकार की जलवायु भी पायी जाती है। मिट्टी, वनस्पति और प्राकृतिक संसाधनो की दृष्टि से भी भारत में काफ़ी भौगोलिक विविधता है। प्राकृतिक विविधता ने यहाँ की नृजातीय विविधता और जनसंख्या के असमान वितरण के साथ मिलकर इसे आर्थिक, सामजिक और सांस्कृतिक विविधता प्रदान की है। इन सबके बावजूद यहाँ की ऐतिहासिक-सांस्कृतिक एकता इसे एक राष्ट्र के रूप में परिभाषित करती है। हिमालय द्वारा उत्तर में सुरक्षित और लगभग ७ हज़ार किलोमीटर लम्बी समुद्री सीमा के साथ हिन्द महासागर के उत्तरी शीर्ष पर स्थित भारत का भू-राजनैतिक महत्व भी बहुत बढ़ जाता है और इसे एक प्रमुख क्षेत्रीय शक्ति के रूप में स्थापित करता है। .

नई!!: बंगलौर और भारत का भूगोल · और देखें »

भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर

* अमृतसर.

नई!!: बंगलौर और भारत के दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगर · और देखें »

भारत के प्रमुख हिन्दू तीर्थ

भारत अनादि काल से संस्कृति, आस्था, आस्तिकता और धर्म का महादेश रहा है। इसके हर भाग और प्रान्त में विभिन्न देवी-देवताओं से सम्बद्ध कुछ ऐसे अनेकानेक प्राचीन और (अपेक्षाकृत नए) धार्मिक स्थान (तीर्थ) हैं, जिनकी यात्रा के प्रति एक आम भारतीय नागरिक पर्यटन और धर्म-अध्यात्म दोनों ही आकर्षणों से बंधा इन तीर्थस्थलों की यात्रा के लिए सदैव से उत्सुक रहा है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के प्रमुख हिन्दू तीर्थ · और देखें »

भारत के प्रमुख अस्पताल

भारत के प्रत्येक मुख्य नगर में सरकार तथा दानी सज्जनों द्वारा स्थापित अनेक अस्पताल हैं। नीचे केवल कुछ प्रमुख तथा विशिष्ट रोगों से पीड़ितों के लिए अस्पतालों के नाम दिए जाते हैं:-- अमृतसर (पंजाब) - पंजाव मेंटल हास्पिटल (केवल मानसिक रोगों की चिकित्सा के लिए); पंजाब डेंटल हास्पिटल (केवल दंतरोग का चिकित्सा स्थान)। इंदौर (मध्यप्रदेश): इन्फ़ेक्शस डिज़ीज़ेज़ हास्पिटल (संक्रामक रोगों की चिकित्सा के लिए); कल्याणमल नर्सिग होम (रोगियों की देखभाल और उपचार के लिए विशिष्ट संस्था); लेपर असाइलम (कुष्ठरोगियों के लिए); मेंटल हास्पिटल (मानसिक रोगों का चिकित्सालय); टी.बी.

नई!!: बंगलौर और भारत के प्रमुख अस्पताल · और देखें »

भारत के प्रशासनिक विभाग

प्रशासनिक दृष्टि से भारत राज्यों या प्रान्तों में विभक्त है; राज्य, जनपदों (या जिलों) में विभक्त हैं, जिले तहसील (तालुक या मण्डल) में विभक्त हैं। यह विभाजन और नीचे तक गया है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के प्रशासनिक विभाग · और देखें »

भारत के प्रवेशद्वार

प्रवेशद्वार:भारत के सभि राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश १. प्रवेशद्वार:अरुणाचल प्रदेश (इटानगर) २. प्रवेशद्वार:असम (दिसपुर) ३. प्रवेशद्वार:उत्तर प्रदेश (लखनऊ) ४. प्रवेशद्वार:उत्तरांचल (देहरादून) ५. प्रवेशद्वार:उड़ीसा (भुवनेश्वर) ६. प्रवेशद्वार:अंडमान और निकोबार द्वीप* (पोर्टब्लेयर) ७. प्रवेशद्वार:आंध्र प्रदेश (हैदराबाद) ८. प्रवेशद्वार:कर्नाटक (बंगलोर) ९. प्रवेशद्वार:केरल (तिरुवनंतपुरम) १०.

नई!!: बंगलौर और भारत के प्रवेशद्वार · और देखें »

भारत के महानगरों की सूची

भारत के महानगरों की सूची.

नई!!: बंगलौर और भारत के महानगरों की सूची · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची (संख्या के क्रम में) भारत के राजमार्गो की एक सूची है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय उद्यान

नीचे दी गयी सूची भारत के राष्ट्रीय उद्यानों की है। 1936 में भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान था- हेली नेशनल पार्क, जिसे अब जिम कोर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के रूप में जाना जाता है। १९७० तक भारत में केवल ५ राष्ट्रीय उद्यान थे। १९८० के दशक में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम और प्रोजेक्ट टाइगर योजना के अलावा वन्य जीवों की सुरक्षार्थ कई अन्य वैधानिक प्रावधान लागू हुए.

नई!!: बंगलौर और भारत के राष्ट्रीय उद्यान · और देखें »

भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश

भारत राज्यों का एक संघ है। इसमें उन्तीस राज्य और सात केन्द्र शासित प्रदेश हैं। ये राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश पुनः जिलों और अन्य क्षेत्रों में बांटे गए हैं।.

नई!!: बंगलौर और भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश · और देखें »

भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की राजधानियों की है। भारत में कुल 29 राज्य और 7 केन्द्र-शासित प्रदेश हैं। सभी राज्यों और दो केन्द्र-शासित प्रदेशों, दिल्ली और पौण्डिचेरी, में चुनी हुई सरकारें और विधानसभाएँ होती हैं, जो वॅस्टमिन्स्टर प्रतिमान पर आधारित हैं। अन्य पाँच केन्द्र-शासित प्रदेशों पर देश की केन्द्र सरकार का शासन होता है। 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम के अन्तर्गत राज्यों का निर्माण भाषाई आधार पर किया गया था, और तबसे यह व्यवस्था लगभग अपरिवर्तित रही है। प्रत्येक राज्य और केन्द्र-शासित प्रदेश प्रशासनिक इकाईयों में बँटा होता है। नीचे दी गई सूची में राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की विभिन्न प्रकार की राजधानियाँ सूचीबद्ध हैं। प्रशासनिक राजधानी वह होती है जहाँ कार्यकारी सरकार के कार्यालय स्थित होते हैं, वैधानिक राजधानी वह है जहाँ से राज्य विधानसभा संचालित होती है, और न्यायपालिका राजधानी वह है जहाँ उस राज्य या राज्यक्षेत्र का उच्च न्यायालय स्थित होता है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ · और देखें »

भारत के शहरों की सूची

कोई विवरण नहीं।

नई!!: बंगलौर और भारत के शहरों की सूची · और देखें »

भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची

यह सूचियों भारत के सबसे बड़े शहरों पर है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची · और देखें »

भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम

कोई विवरण नहीं।

नई!!: बंगलौर और भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम · और देखें »

भारत के हवाई अड्डे

यह सूची भारत के हवाई यातायात है। .

नई!!: बंगलौर और भारत के हवाई अड्डे · और देखें »

भारत के उच्च न्यायालयों की सूची

भारतीय उच्च न्यायालय भारत के उच्च न्यायालय हैं। भारत में कुल २४ उच्च न्यायालय है जिनका अधिकार क्षेत्र कोई राज्य विशेष या राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के एक समूह होता हैं। उदाहरण के लिए, पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय, पंजाब और हरियाणा राज्यों के साथ केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ को भी अपने अधिकार क्षेत्र में रखता हैं। उच्च न्यायालय भारतीय संविधान के अनुच्छेद २१४, अध्याय ५ भाग ६ के अंतर्गत स्थापित किए गए हैं। न्यायिक प्रणाली के भाग के रूप में, उच्च न्यायालय राज्य विधायिकाओं और अधिकारी के संस्था से स्वतंत्र हैं .

नई!!: बंगलौर और भारत के उच्च न्यायालयों की सूची · और देखें »

भारत की घरेलू विमान सेवा कंपनियाँ

कोई विवरण नहीं।

नई!!: बंगलौर और भारत की घरेलू विमान सेवा कंपनियाँ · और देखें »

भारत की इंटरनेट प्रदाता कंपनियां

यह भारत में इंटरनेट प्रदाता कंपनियों की सूची है। भारत में १४२ इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) हैं जो ३० जून २०१६ के अनुसार ब्रोडबैण्ड और नैरोबैण्ड सेवायें प्रदान करते हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारत की इंटरनेट प्रदाता कंपनियां · और देखें »

भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग

निम्नलिखित भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग हैं: .

नई!!: बंगलौर और भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग · और देखें »

भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड

भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल) एक भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम है। इसका मुख्यालय बंगलौर में है। .

नई!!: बंगलौर और भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड · और देखें »

भारती भवन

भारती भवन एक शैक्षणिक प्रकाशन संस्थान है जिसकी शुरुआत पटना में सन् १९४३ में हुई थी। इस समूह ने विद्यालयों और प्रतियोगिताओं के लिए कई पुस्तकें छापी हैं। आज इसके कार्यालय पटना के अलावे दिल्ली, राँची, बेंगलुरु जैसी जगहों पर हैं। प्रसिद्ध प्रोफ़ेसर एच सी वर्मा की 'कॉन्सेप्ट्स ऑफ फिजिक्स' इस प्रकाशन की सबसे प्रसिद्ध पुस्तकों में से एक है। इनकी पुस्कें अंग्रेज़ी और हिन्दी में होती हैं। पंडित तोताराम सनाढ्य की पुस्तक फिजी द्वीप में मेरे इक्कीश वर्ष भारती भवन द्वारा प्रकाशित कराकर भवन की ख्याति को बढाया। जिनका जन्म 1876 में हिरनगाँव फ़िरोज़ाबाद में हुआ था। .

नई!!: बंगलौर और भारती भवन · और देखें »

भारतीय ताराभौतिकी संस्थान

भारतीय ताराभौतिकी संस्थान (आईआईए, Indian Institute of Astrophysics) भारत का एक प्रमुख अनुसंधान संस्थान है, जो खगोल शास्त्र, ताराभौतिकी एवं संबंधित भौतिकी में शोधकार्य को समर्पित है। इसका मुख्यालय बेंगलूर में है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अवलंब से संचालित यह संस्थान आज देश में खगोल एवं भौतिकी में शोध एवं शिक्षा का एक प्रमुख केन्द्र बन गया है। संस्थान की प्रमुख प्रेक्षण सुविधायें कोडैकनाल, कावलूर, गौरीबिदनूर एवं हान्ले में स्थापित हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय ताराभौतिकी संस्थान · और देखें »

भारतीय थलसेना

भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है। भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है, और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार-सितारा जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं। पांच-सितारा रैंक के साथ फील्ड मार्शल की रैंक भारतीय सेना में श्रेष्ठतम सम्मान की औपचारिक स्थिति है, आजतक मात्र दो अधिकारियों को इससे सम्मानित किया गया है। भारतीय सेना का उद्भव ईस्ट इण्डिया कम्पनी, जो कि ब्रिटिश भारतीय सेना के रूप में परिवर्तित हुई थी, और भारतीय राज्यों की सेना से हुआ, जो स्वतंत्रता के पश्चात राष्ट्रीय सेना के रूप में परिणत हुई। भारतीय सेना की टुकड़ी और रेजिमेंट का विविध इतिहास रहा हैं इसने दुनिया भर में कई लड़ाई और अभियानों में हिस्सा लिया है, तथा आजादी से पहले और बाद में बड़ी संख्या में युद्ध सम्मान अर्जित किये। भारतीय सेना का प्राथमिक उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रवाद की एकता सुनिश्चित करना, राष्ट्र को बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों से बचाव, और अपनी सीमाओं पर शांति और सुरक्षा को बनाए रखना हैं। यह प्राकृतिक आपदाओं और अन्य गड़बड़ी के दौरान मानवीय बचाव अभियान भी चलाते है, जैसे ऑपरेशन सूर्य आशा, और आंतरिक खतरों से निपटने के लिए सरकार द्वारा भी सहायता हेतु अनुरोध किया जा सकता है। यह भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना के साथ राष्ट्रीय शक्ति का एक प्रमुख अंग है। सेना अब तक पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ चार युद्धों तथा चीन के साथ एक युद्ध लड़ चुकी है। सेना द्वारा किए गए अन्य प्रमुख अभियानों में ऑपरेशन विजय, ऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन कैक्टस शामिल हैं। संघर्षों के अलावा, सेना ने शांति के समय कई बड़े अभियानों, जैसे ऑपरेशन ब्रासस्टैक्स और युद्ध-अभ्यास शूरवीर का संचालन किया है। सेना ने कई देशो में संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में एक सक्रिय प्रतिभागी भी रहा है जिनमे साइप्रस, लेबनान, कांगो, अंगोला, कंबोडिया, वियतनाम, नामीबिया, एल साल्वाडोर, लाइबेरिया, मोज़ाम्बिक और सोमालिया आदि सम्मलित हैं। भारतीय सेना में एक सैन्य-दल (रेजिमेंट) प्रणाली है, लेकिन यह बुनियादी क्षेत्र गठन विभाजन के साथ संचालन और भौगोलिक रूप से सात कमान में विभाजित है। यह एक सर्व-स्वयंसेवी बल है और इसमें देश के सक्रिय रक्षा कर्मियों का 80% से अधिक हिस्सा है। यह 1,200,255 सक्रिय सैनिकों और 909,60 आरक्षित सैनिकों के साथ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्थायी सेना है। सेना ने सैनिको के आधुनिकीकरण कार्यक्रम की शुरुआत की है, जिसे "फ्यूचरिस्टिक इन्फैंट्री सैनिक एक प्रणाली के रूप में" के नाम से जाना जाता है इसके साथ ही यह अपने बख़्तरबंद, तोपखाने और उड्डयन शाखाओं के लिए नए संसाधनों का संग्रह एवं सुधार भी कर रहा है।.

नई!!: बंगलौर और भारतीय थलसेना · और देखें »

भारतीय नाम

भारतीय पारिवारिक नाम अनेक प्रकार की प्रणालियों व नामकरण पद्धतियों पर आधारित होते हैं, जो एक से दूसरे क्षेत्र के अनुसार बदलतीं रहती हैं। नामों पर धर्म व जाति का प्रभाव भी होता है और वे धर्म या महाकाव्यों से लिये हुए हो सकते हैं। भारत के लोग विविध प्रकार की भाषाएं बोलते हैं और भारत में विश्व के लगभग प्रत्येक प्रमुख धर्म के अनुयायी मौजूद हैं। यह विविधता नामों व नामकरण की शैलियों में सूक्ष्म, अक्सर भ्रामक, अंतर उत्पन्न करती है। उदाहरण के लिये, पारिवारिक नाम की अवधारणा तमिलनाडु में व्यापक रूप से मौजूद नहीं थी। कई भारतीयों के लिये, उनके जन्म का नाम, उनके औपचारिक नाम से भिन्न होता है; जन्म का नाम किसी ऐसे वर्ण से प्रारंभ होता है, जो उस व्यक्ति की जन्म-कुंडली के आधार पर उसके लिये शुभ हो। कुछ बच्चों को एक नाम दिया जाता है (दिया गया नाम).

नई!!: बंगलौर और भारतीय नाम · और देखें »

भारतीय नेपाली

भारतीय नेपाली या भारतीय गोरखा वह लोग हैं जो नेपाली मूल के लोग हैं लेकिन भारत में रहते आ रहें हैं, जिन्हें भारतीय नागरिकता प्राप्त है। वह लोग नेपाली भाषा के अलावा भी कई भाषाएं बोलते हैं, नेपाली भाषा भारत के कार्यालयी भाषाओं में से एक है, इतिहास में नेपाल अधिराज्य के वह भाग जो ब्रिटिश राज के समय भारत में आ गये जैसे, पश्चिम बंगाल का दार्जीलिंग जिला जो सिक्किम का भू-भाग था और कुछ समय के लिए नेपाल का भी भू-भाग रहा, सिक्किम-एक मात्र ऐसा राज्य है जहाँ मुख्य रूप से नेपाली रहते हैं जो 1975 में भारत का हिस्सा बना। दूसरे राज्य जहाँ नेपालीयों कि बहुलता है वह हैं:- उत्तराखण्ड, असम, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर और मेघालय। भारत के कई बड़े शहरों में भी नेपालीयों कि बहुलता पाई जाती है, मुख्यत: दिल्ली, कोलकाता, बैंगलोर, मुम्बई, चेन्नई, हैदराबाद और विशाखापटनम। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय नेपाली · और देखें »

भारतीय पुनर्नामकरण विवाद

भारत के शहरों का पुनर्नामकरण, स्न 1947 में, अंग्रेज़ोंके भारत छोड़ कर जाने के बाद आरंभ हुआ था, जो आज तक जारी है। कई पुनर्नामकरणों में राजनैतिक विवाद भी हुए हैं। सभी प्रस्ताव लागू भी नहीं हुए हैं। प्रत्येक शहर पुनर्नामकरण को केन्द्रीय सरकार द्वारा अनुमोदित होना चाहिये। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पुनर्नामांकित हुए, मुख्य शहरों में हैं: तिरुवनंतपुरम (पूर्व त्रिवेंद्रम), मुंबई (पूर्व बंबई, या बॉम्बे), चेन्नई (पूर्व मद्रास), कोलकाता (पूर्व कलकत्ता), पुणे (पूर्व पूना) एवं बेंगलुरु (पूर्व बंगलौर)। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय पुनर्नामकरण विवाद · और देखें »

भारतीय पुलिस सेवा

भारतीय पुलिस सेवा, जिसे आम बोलचाल में भारतीय पुलिस या आईपीएस, के नाम से भी जाना जाता है, भारत सरकार के अखिल भारतीय सेवा के एक अंग के रूप में कार्य करता है, जिसके अन्य दो अंग भारतीय प्रशासनिक सेवा या आईएएस और भारतीय वन सेवा या आईएफएस हैं जो ब्रिटिश प्रशासन के अंतर्गत इंपीरियल पुलिस के नाम से जाना जाता था। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय पुलिस सेवा · और देखें »

भारतीय प्रबन्धन संस्थान

भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आई आई एम) भारत के सर्वोत्तम प्रबंधन संस्थान हैं। प्रबन्धन की शिक्षा के अतिरिक्त ये अनुसंधान व सलाह (कांसल्टेंसी) का कार्य भी करते हैं। वर्तमान में ६ भारतीय प्रबन्धन संस्थान हैं जो बंगलुरू, अहमदाबाद, कोलकाता, लखनऊ, इन्दौर तथा कोझीकोड में स्थित हैं। ये प्रबन्धन में पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा की उपाधि प्रदान करते हैं जो एम बी ए के समतुल्य है। इन संस्थानों में प्रवेश अखिल भारतीय स्तर पर होने वाली प्रवेश परीक्षा कामन ऐडमिशन टेस्ट (सी ए टी) के आधार पर होता है। यह परीक्षा दुनिया की सर्वाधिक प्रतिस्पर्धी परिक्षाओं में से है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय प्रबन्धन संस्थान · और देखें »

भारतीय प्रबंध संस्थान बेंगलूर

भारतीय प्रबंधन संस्थान, बंगलौर भारत का प्रमुख प्रबंध संस्थान है। यह संपूर्ण पत्थर की इमारत, हरे-भरे परिसर एवं भूदृश्य-पूर्ण उद्यान सहित दक्षिण बेंगलूर में 100 एकड़ के भू-भाग में स्थित है। इसकी स्थापना सन 1973 में हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय प्रबंध संस्थान बेंगलूर · और देखें »

भारतीय महिला क्रिकेट टीम

भारतीय महिला क्रिकेट टीम (India women's national cricket team) जो विमन इन ब्लू के नाम से भी जानी जाती है एक भारतीय राष्ट्रीय महिला क्रिकेट टीम है। जिसका संचालन बीसीसीआई करती है। भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने पहला टेस्ट क्रिकेट मैच ३१ अक्तूबर १९७६ को बैंगलोर में वेस्टइंडीज महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ खेला था जबकि पहला एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय १ जनवरी १९७८ को कलकत्ता में इंग्लैंड महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ खेला था और पहला ट्वेन्टी-ट्वेन्टी मैच ५ अगस्त २००६ को डर्बी में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय महिला क्रिकेट टीम · और देखें »

भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम

भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ के द्वारा शासित है। 1948 से अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ फीफा द्वारा संबद्ध हो गयी। 1948 से भारतीय फुटबॉल महासंघ एशियाई फुटबॉल महासंघ के संस्थापक सदस्यों में है। भारतीय फुटबॉल टीम ने पहली और अंतिम बार 1950 में फीफा विश्व कप किया था परन्तु कुछ कारणों से वह इस प्रतियोगिता में हिस्सा न ले पाई। भारतीय टीम ने अब तक दो एशियाई खेलों में स्वर्ण तथा एएफसी एशिया कप में एक बार रजत जीता है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम · और देखें »

भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय

भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (अंग्रेज़ी:नेश्नल लॉ स्कूल ऑफ इण्डिया युनिवर्सिटी, NLSIU या NLS) विधि संकाय में अंडर ग्रेजुएट और स्नातकोत्तर शिक्षा के लिए एक शैक्षणीक संस्था है। यह कर्नाटक राज्य की राजधानी बंगलुरु के पश्चिमी उपशहरी क्षेत्र नागरभावी के निकटस्थ है। इसकी स्थापना १९८७ में एक की स्थापना के उपरांत हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय · और देखें »

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्षों की सूची

१९३८ के हरिपुरा सम्मेलन में (बाएं से दाएं) महात्मा गांधी, राजेन्द्र प्रसाद, सुभाष चन्द्र बोस और वल्लभ भाई पटेल। गले में फीता पहने बोस इस सम्मेलन के अध्यक्ष थे। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस स्वतंत्र भारत का प्रमुख राजनीतिक दल है और इस की स्थापना स्वतंत्रता से पूर्व १८८५ में हुई थी। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष दल के चुने हुए प्रमुख होते है जो आम जनता के साथ दल के रिश्ते को प्रबंधित करने के लिए जिम्मेदार होते है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्षों की सूची · और देखें »

भारतीय रिज़र्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) भारत का केन्द्रीय बैंक है। यह भारत के सभी बैंकों का संचालक है। रिजर्व बैक भारत की अर्थव्यवस्था को नियन्त्रित करता है। इसकी स्थापना १ अप्रैल सन १९३५ को रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया ऐक्ट १९३४ के अनुसार हुई। बाबासाहेब डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में अहम भूमिका निभाई हैं, उनके द्वारा प्रदान किये गए दिशा-निर्देशों या निर्देशक सिद्धांत के आधार पर भारतीय रिजर्व बैंक बनाई गई थी। बैंक कि कार्यपद्धती या काम करने शैली और उसका दृष्टिकोण बाबासाहेब ने हिल्टन यंग कमीशन के सामने रखा था, जब 1926 में ये कमीशन भारत में रॉयल कमीशन ऑन इंडियन करेंसी एंड फिनांस के नाम से आया था तब इसके सभी सदस्यों ने बाबासाहेब ने लिखे हुए ग्रंथ दी प्राब्लम ऑफ दी रुपी - इट्स ओरीजन एंड इट्स सोल्यूशन (रुपया की समस्या - इसके मूल और इसके समाधान) की जोरदार वकालात की, उसकी पृष्टि की। ब्रिटिशों की वैधानिक सभा (लेसिजलेटिव असेम्बली) ने इसे कानून का स्वरूप देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम 1934 का नाम दिया गया। प्रारम्भ में इसका केन्द्रीय कार्यालय कोलकाता में था जो सन १९३७ में मुम्बई आ गया। पहले यह एक निजी बैंक था किन्तु सन १९४९ से यह भारत सरकार का उपक्रम बन गया है। उर्जित पटेल भारतीय रिजर्व बैंक के वर्तमान गवर्नर हैं, जिन्होंने ४ सितम्बर २०१६ को पदभार ग्रहण किया। पूरे भारत में रिज़र्व बैंक के कुल 22 क्षेत्रीय कार्यालय हैं जिनमें से अधिकांश राज्यों की राजधानियों में स्थित हैं। मुद्रा परिचालन एवं काले धन की दोषपूर्ण अर्थव्यवस्था को नियन्त्रित करने के लिये रिज़र्व बैंक ऑफ इण्डिया ने ३१ मार्च २०१४ तक सन् २००५ से पूर्व जारी किये गये सभी सरकारी नोटों को वापस लेने का निर्णय लिया है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय रिज़र्व बैंक · और देखें »

भारतीय शिक्षा का इतिहास

शिक्षा का केन्द्र: तक्षशिला का बौद्ध मठ भारतीय शिक्षा का इतिहास भारतीय सभ्यता का भी इतिहास है। भारतीय समाज के विकास और उसमें होने वाले परिवर्तनों की रूपरेखा में शिक्षा की जगह और उसकी भूमिका को भी निरंतर विकासशील पाते हैं। सूत्रकाल तथा लोकायत के बीच शिक्षा की सार्वजनिक प्रणाली के पश्चात हम बौद्धकालीन शिक्षा को निरंतर भौतिक तथा सामाजिक प्रतिबद्धता से परिपूर्ण होते देखते हैं। बौद्धकाल में स्त्रियों और शूद्रों को भी शिक्षा की मुख्य धारा में सम्मिलित किया गया। प्राचीन भारत में जिस शिक्षा व्यवस्था का निर्माण किया गया था वह समकालीन विश्व की शिक्षा व्यवस्था से समुन्नत व उत्कृष्ट थी लेकिन कालान्तर में भारतीय शिक्षा का व्यवस्था ह्रास हुआ। विदेशियों ने यहाँ की शिक्षा व्यवस्था को उस अनुपात में विकसित नहीं किया, जिस अनुपात में होना चाहिये था। अपने संक्रमण काल में भारतीय शिक्षा को कई चुनौतियों व समस्याओं का सामना करना पड़ा। आज भी ये चुनौतियाँ व समस्याएँ हमारे सामने हैं जिनसे दो-दो हाथ करना है। १८५० तक भारत में गुरुकुल की प्रथा चलती आ रही थी परन्तु मकोले द्वारा अंग्रेजी शिक्षा के संक्रमण के कारण भारत की प्राचीन शिक्षा व्यवस्था का अंत हुआ और भारत में कई गुरुकुल तोड़े गए और उनके स्थान पर कान्वेंट और पब्लिक स्कूल खोले गए। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय शिक्षा का इतिहास · और देखें »

भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद

भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद का प्रतीक चिह्न भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (इंडियन काउंसिल फॉर कल्चरल रिलेशंस - आईसीसीआर) भारत सरकार का स्वतंत्र संगठन है जिसकी स्थापना १९५० में हुई थी। इस संस्था का मुख्यालय आजा भवन, नई दिल्ली में है। इस संगठन के क्षेत्रीय कार्यालय बंगलौर, कलकत्ता, चंडीगढ़, चेन्नई, जकार्ता, मॉस्को, बर्लिन, कैरो, लंदन, ताशकंद, अलमाटी, जोहान्सबर्ग, डरबन, पोर्ट ऑफ़ स्पेन और कोलंबो में हैं। यह संस्था भारत की संस्कृति और शिक्षा के विकास के अनेक कार्यों में संलग्न है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद · और देखें »

भारतीय सांख्यिकी संस्थान

भारतीय सांख्यिकी संस्थान (आई. एस. आई) कोलकाता के उत्तर उपनगरी बरानगर में स्थित एक शोध संस्थान और विश्वविद्यालय  है। इसकी स्थापना सन् १९३१ में प्राध्यापक प्रशान्त चन्द्र महलनोबिस ने की थी। इसका कार्य सांख्यिकी का शिक्षण, सांख्यिकी में अनुसंधान तथा अन्य वैज्ञानिक व सामाजिक विधाओं में सांख्यिकी का अनुप्रयोग करना है। इसको सन् १९५९ में भारतीय संसद के एक विधेयक द्वारा 'राष्ट्रीय महत्व की संस्था' का गौरव प्राप्त है। इसका मुख्यालय कोलकोता में है। इसके अतिरिक्त इसके दो उपकेन्द्र दिल्ली और बंगलुरू में स्थित हैं। शिक्षण का कार्य कोलकोता, दिल्ली और बंगलुरू में होता है जबकि भारत के अन्य सात शहरों में स्थित इसकी शाखायें 'स्टैटिस्टिकल क्वालिटी कन्ट्रोल' तथा 'आपरेशन्स् रिसर्च' के क्षेत्र में सलाह प्रदान करतीं हैं। वर्तमान  निदेशक प्रोफेसर बिमल रॉय कुमार और अध्ययन के डीन प्रोफेसर भबानी प्रसाद सिन्हा है (2010 से)। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय सांख्यिकी संस्थान · और देखें »

भारतीय सिन्धी

सिन्धी (सिन्धी: سنڌي‎) उन लोगों को कहते हैं जिनका मूल सिन्ध है। वर्तमान समय में सिन्ध, पाकिस्तान का एक प्रान्त है किन्तु अंग्रेजों के काल में तथा उससे हजारों वर्ष पूर्व सिन्ध नाम का भौगोलिक क्षेत्र प्रसिद्ध था। १९४७ में भारत एवं पाकिस्तान के अलग होने पर सिन्ध के अधिकांश हिन्दुओं को सिन्ध छोड़कर भारत आना पड़ा। ये लोग भारत के विभिन्न भागों में बस गये। कुछ सिन्धी विश्व के अन्य देशों में जाकर बस गये। भारत में सिन्धी लोगों की प्रसिद्ध बस्तियाँ इन स्थानों पर हैं-.

नई!!: बंगलौर और भारतीय सिन्धी · और देखें »

भारतीय सिनेमा

भारतीय सिनेमा के अन्तर्गत भारत के विभिन्न भागों और भाषाओं में बनने वाली फिल्में आती हैं जिनमें आंध्र प्रदेश और तेलंगाना, असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, जम्मू एवं कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और बॉलीवुड शामिल हैं। भारतीय सिनेमा ने २०वीं सदी की शुरुआत से ही विश्व के चलचित्र जगत पर गहरा प्रभाव छोड़ा है।। भारतीय फिल्मों का अनुकरण पूरे दक्षिणी एशिया, ग्रेटर मध्य पूर्व, दक्षिण पूर्व एशिया और पूर्व सोवियत संघ में भी होता है। भारतीय प्रवासियों की बढ़ती संख्या की वजह से अब संयुक्त राज्य अमरीका और यूनाइटेड किंगडम भी भारतीय फिल्मों के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार बन गए हैं। एक माध्यम(परिवर्तन) के रूप में सिनेमा ने देश में अभूतपूर्व लोकप्रियता हासिल की और सिनेमा की लोकप्रियता का इसी से अन्दाजा लगाया जा सकता है कि यहाँ सभी भाषाओं में मिलाकर प्रति वर्ष 1,600 तक फिल्में बनी हैं। दादा साहेब फाल्के भारतीय सिनेमा के जनक के रूप में जाना जाते हैं। दादा साहब फाल्के के भारतीय सिनेमा में आजीवन योगदान के प्रतीक स्वरुप और 1969 में दादा साहब के जन्म शताब्दी वर्ष में भारत सरकार द्वारा दादा साहेब फाल्के पुरस्कार की स्थापना उनके सम्मान में की गयी। आज यह भारतीय सिनेमा का सबसे प्रतिष्ठित और वांछित पुरस्कार हो गया है। २०वीं सदी में भारतीय सिनेमा, संयुक्त राज्य अमरीका का सिनेमा हॉलीवुड तथा चीनी फिल्म उद्योग के साथ एक वैश्विक उद्योग बन गया।Khanna, 155 2013 में भारत वार्षिक फिल्म निर्माण में पहले स्थान पर था इसके बाद नाइजीरिया सिनेमा, हॉलीवुड और चीन के सिनेमा का स्थान आता है। वर्ष 2012 में भारत में 1602 फ़िल्मों का निर्माण हुआ जिसमें तमिल सिनेमा अग्रणी रहा जिसके बाद तेलुगु और बॉलीवुड का स्थान आता है। भारतीय फ़िल्म उद्योग की वर्ष 2011 में कुल आय $1.86 अरब (₹ 93 अरब) की रही। जिसके वर्ष 2016 तक $3 अरब (₹ 150 अरब) तक पहुँचने का अनुमान है। बढ़ती हुई तकनीक और ग्लोबल प्रभाव ने भारतीय सिनेमा का चेहरा बदला है। अब सुपर हीरो तथा विज्ञानं कल्प जैसी फ़िल्में न केवल बन रही हैं बल्कि ऐसी कई फिल्में एंथीरन, रा.वन, ईगा और कृष 3 ब्लॉकबस्टर फिल्मों के रूप में सफल हुई है। भारतीय सिनेमा ने 90 से ज़्यादा देशों में बाजार पाया है जहाँ भारतीय फिल्मे प्रदर्शित होती हैं। Khanna, 158 सत्यजीत रे, ऋत्विक घटक, मृणाल सेन, अडूर गोपालकृष्णन, बुद्धदेव दासगुप्ता, जी अरविंदन, अपर्णा सेन, शाजी एन करुण, और गिरीश कासरावल्ली जैसे निर्देशकों ने समानांतर सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और वैश्विक प्रशंसा जीती है। शेखर कपूर, मीरा नायर और दीपा मेहता सरीखे फिल्म निर्माताओं ने विदेशों में भी सफलता पाई है। 100% प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के प्रावधान से 20वीं सेंचुरी फॉक्स, सोनी पिक्चर्स, वॉल्ट डिज्नी पिक्चर्स और वार्नर ब्रदर्स आदि विदेशी उद्यमों के लिए भारतीय फिल्म बाजार को आकर्षक बना दिया है। Khanna, 156 एवीएम प्रोडक्शंस, प्रसाद समूह, सन पिक्चर्स, पीवीपी सिनेमा,जी, यूटीवी, सुरेश प्रोडक्शंस, इरोज फिल्म्स, अयनगर्न इंटरनेशनल, पिरामिड साइमिरा, आस्कार फिल्म्स पीवीआर सिनेमा यशराज फिल्म्स धर्मा प्रोडक्शन्स और एडलैब्स आदि भारतीय उद्यमों ने भी फिल्म उत्पादन और वितरण में सफलता पाई। मल्टीप्लेक्स के लिए कर में छूट से भारत में मल्टीप्लेक्सों की संख्या बढ़ी है और फिल्म दर्शकों के लिए सुविधा भी। 2003 तक फिल्म निर्माण / वितरण / प्रदर्शन से सम्बंधित 30 से ज़्यादा कम्पनियां भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध की गयी थी जो फिल्म माध्यम के बढ़ते वाणिज्यिक प्रभाव और व्यसायिकरण का सबूत हैं। दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग दक्षिण भारत की चार फिल्म संस्कृतियों को एक इकाई के रूप में परिभाषित करता है। ये कन्नड़ सिनेमा, मलयालम सिनेमा, तेलुगू सिनेमा और तमिल सिनेमा हैं। हालाँकि ये स्वतंत्र रूप से विकसित हुए हैं लेकिन इनमे फिल्म कलाकारों और तकनीशियनों के आदान-प्रदान और वैष्वीकरण ने इस नई पहचान के जन्म में मदद की। भारत से बाहर निवास कर रहे प्रवासी भारतीय जिनकी संख्या आज लाखों में हैं, उनके लिए भारतीय फिल्में डीवीडी या व्यावसायिक रूप से संभव जगहों में स्क्रीनिंग के माध्यम से प्रदर्शित होती हैं। Potts, 74 इस विदेशी बाजार का भारतीय फिल्मों की आय में 12% तक का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। इसके अलावा भारतीय सिनेमा में संगीत भी राजस्व का एक साधन है। फिल्मों के संगीत अधिकार एक फिल्म की 4 -5 % शुद्ध आय का साधन हो सकते हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय सिनेमा · और देखें »

भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष

3 मई 2013 (शुक्रवार) को भारतीय सिनेमा पूरे सौ साल का हो गया। किसी भी देश में बनने वाली फिल्में वहां के सामाजिक जीवन और रीति-रिवाज का दर्पण होती हैं। भारतीय सिनेमा के सौ वर्षों के इतिहास में हम भारतीय समाज के विभिन्न चरणों का अक्स देख सकते हैं।उल्लेखनीय है कि इसी तिथि को भारत की पहली फीचर फ़िल्म “राजा हरिश्चंद्र” का रुपहले परदे पर पदार्पण हुआ था। इस फ़िल्म के निर्माता भारतीय सिनेमा के जनक दादासाहब फालके थे। एक सौ वर्षों की लम्बी यात्रा में हिन्दी सिनेमा ने न केवल बेशुमार कला प्रतिभाएं दीं बल्कि भारतीय समाज और चरित्र को गढ़ने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष · और देखें »

भारतीय वानिकी

तेंदू पत्ता संग्रहण भारत में वानिकी एक प्रमुख ग्रामीण आर्थिक क्रिया, जनजातीय लोगों के जीवन से जुड़ा एक महत्वपूर्ण पहलू और एक ज्वलंत पर्यावरणीय और सामाजिक-राजनैतिक मुद्दा होने के साथ ही पर्यावरणीय प्रबंधन और धारणीय विकास हेतु अवसर उपलब्ध करने वाला क्षेत्र भी है। - इण्डिया वाटर पोर्टल खाद्य एवं कृषि संगठन (एफ॰ए॰ओ॰) के अनुसार वर्ष २००२ में भारत में वनों का क्षेत्रफल ६४ मिलियन हेक्टेयर था जो कुल क्षेत्रफल का लगभग १९% था FAO और मौजूदा आंकलनों के अनुसार भारत में वन और वृक्ष क्षेत्र 78.29 मिलियन हेक्टेयर है, जो देश के भैगोलिक क्षेत्र का 23.81 प्रतिशत है और 2009 के आंकलनों की तुलना में, व्याख्यात्मक बदलावों को ध्यान में रखने के पश्चात देश के वन क्षेत्र में 367 वर्ग कि॰मी॰ की कमी दर्ज की गई है।, पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार उपरोक्त आँकड़ों के आधार पर भारत विश्व के दस सर्वाधिक वन क्षेत्र वाले देशों में से एक है लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था में वनों का योगदान काफी कम है और राष्ट्रीय आय में वनों का योगदान २००२ में मात्र १.७% था। साथ ही जनसंख्या के अनुपात में देखा जाए तो स्थिति और खराब नजर आती है क्योंकि भारत में इसी समय के आंकड़ों के अनुसार प्रति व्यक्ति वन क्षेत्र ०.०८ हेक्टेयर था जो विकासशील देशों के लिये औसत ०.५ हेक्टेयर है और पूरे विश्व के लिये ०.६४ हेक्टेयर है। आर्थिक योगदान के अलावा वन संसाधनों का महत्व इसलिए भी है कि ये हमें बहुत से प्राकृतिक सुविधाएँ प्रदान करते हैं जिनके लिये हम कोई मूल्य नहीं प्रदान करते और इसीलिए इन्हें गणना में नहीं रखते। उदाहरण के लिये हवा को शुद्ध करना और सांस लेने योग्य बनाना एक ऐसी प्राकृतिक सेवा है जो वन हमें मुफ़्त उपलब्ध करते हैं और जिसका कोई कृत्रिम विकल्प इतनी बड़ी जनसंख्या के लिये नहीं है। वनों के क्षय से जनजातियों और आदिवासियों का जीवन प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित होता है और बाकी लोगों का अप्रत्यक्ष रूप से क्योंकि भारत में जनजातियों की पूरी जीवन शैली वनों पर आश्रित है। वनोपजों में सबसे निचले स्तर पर जलाने के लिये लकड़ी, औषधियाँ, लाख, गोंद और विविध फल इत्यादि आते हैं जिनका एकत्रण स्थानीय लोग करते हैं। उच्च स्तर के उपयोगों में इमारती लकड़ी या कागज उद्द्योग के लिये लकड़ी की व्यावसायिक और यांत्रिक कटाई आती है। एफ॰ए॰ओ॰ के अनुसार भारत जलावन की लकड़ी का विश्व में सबसे बड़ा उपयोगकर्ता है और यह वनों में लकड़ी के धारणीय पुनर्स्थापन के पाँच गुना अधिक है। वहीं भारतीय कागज़ उद्योग प्रतिवर्ष ३ मिलियन टन कागज का उत्पादन करता है जिसमें कितना कच्चा माल वनों से लकड़ी और बाँस के रूप में आता है यह ज्ञात नहीं। वानिकी के वर्तमान परिदृश्य जनजातियों और स्थानीय लोगों के जीवन, पर्यावरणीय सुरक्षा, संसाधन संरक्षण और विविध सामजिक राजनीतिक सरोकारों से जुड़े हुए हैं। चिपको आंदोलन से लेकर जल, जंगल और जमीन तथा वर्तमान में महान वनों को लेकर चलाया जा रहा आंदोलन इसी राजनैतिक और सामजिक संघर्ष का हिस्सा हैं जो वानिकी और उसकी नीतियों से जुड़ा हुआ है। वानिकी को भारत में एक संवेदनशील और रोचक अध्ययन क्षेत्र के रूप में भी देखा जा रहा है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय वानिकी · और देखें »

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्, भारत की वानिकी अनुसंधान तंत्र में एक शीर्ष संस्था है। यह वानिकी के सभी पहलुओं पर अनुसंधान, शिक्षा और विस्तार की आवश्यकता आधारित आयोजना, प्रोत्साहन, संचालन एवं समन्वयन करके वानिकी अनुसंधान का वास्तविक विकास कर रही है। परिषद् विश्व चिंताओं जैसे जलवायु परिवर्तन, जैवविविधता का संरक्षण, रेगिस्तानीकरण को रोकना और संसाधनों का पोषणीय प्रबंध एवं विकास सहित इस सेक्टर में उभर रहे विषयों के अनुरूप समाधान आधारित वानिकी अनुसंधान करती है। परिषद् द्वारा सामयिक अनुसंधान प्राकृतिक संसाधन प्रबंध से संबंधित चुनौतियों का सफलतापूर्वक संचालन करने के लिए, वन प्रबंधकों एवं शोधार्थियों की क्षमता में लोगों के विश्वास को बढ़ाता है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद · और देखें »

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण

भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण (Unique Identification Authority of India) सन २००९ में गठित भारत सरकार का एक प्राधिकरण है जिसका गठन भारत के प्रत्येक नागरिक को एक बहुउद्देश्यीय राष्ट्रीय पहचान पत्र उपलब्ध करवाने की भारत सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना के अन्तर्गत किया गया। भारत के प्रत्येक निवासियों को प्रारंभिक चरण में पहचान प्रदान करने एवं प्राथमिक तौर पर प्रभावशाली जनहित सेवाऐं उपलब्ध कराना इस परियोजना का प्रमुख उद्देश्य था। इस बहुउद्देश्यीय राष्ट्रीय पहचान पत्र (Multipurpose National Identity Card) का नाम "आधार" रखा गया। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण · और देखें »

भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का इतिहास

भारत की विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की विकास-यात्रा प्रागैतिहासिक काल से आरम्भ होती है। भारत का अतीत ज्ञान से परिपूर्ण था और भारतीय संसार का नेतृत्व करते थे। सबसे प्राचीन वैज्ञानिक एवं तकनीकी मानवीय क्रियाकलाप मेहरगढ़ में पाये गये हैं जो अब पाकिस्तान में है। सिन्धु घाटी की सभ्यता से होते हुए यह यात्रा राज्यों एवं साम्राज्यों तक आती है। यह यात्रा मध्यकालीन भारत में भी आगे बढ़ती रही; ब्रिटिश राज में भी भारत में विज्ञान एवं तकनीकी की पर्याप्त प्रगति हुई तथा स्वतंत्रता की प्राप्ति के बाद भारत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के सभी क्षेत्रों में तेजी से प्रगति कर रहा है। सन् २००९ में चन्द्रमा पर यान भेजकर एवं वहाँ पानी की प्राप्ति का नया खोज करके इस क्षेत्र में भारत ने अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज की है। चार शताब्दियों पूर्व प्रारंभ हुई पश्चिमी विज्ञान व प्रौद्योगिकी संबंधी क्रांति में भारत क्यों शामिल नहीं हो पाया ? इसके अनेक कारणों में मौखिक शिक्षा पद्धति, लिखित पांडुलिपियों का अभाव आदि हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का इतिहास · और देखें »

भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान

भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (यानी, आई. आई. एस. ई. आर.) भारत के प्रमुख विज्ञान संस्थान हैं। यह संस्थान कोलकाता, पुणे, मोहाली, भोपाल एवं तिरुवनंतपुरम में स्थित हैं। इन संस्थानों की स्थापना भारत में विज्ञान अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए की गई है। यह संस्थान भारत सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा प्रायोजित हैं। प्रत्येक आई.

नई!!: बंगलौर और भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान · और देखें »

भारतीय विज्ञान संस्थान

भारतीय विज्ञान संस्थान का प्रशासकीय भवन भारतीय विज्ञान संस्थान (Indian Institute of Science) भारत का वैज्ञानिक अनुसंधान और उच्च शिक्षा के लिये अग्रगण्य शिक्षा संस्थान है। यह बंगलुरु में स्थित है। इस संस्थान की गणना भारत के इस तरह के उष्कृष्टतम संस्थानों में होती है। संस्थान ने प्रगत संगणन, अंतरिक्ष, तथा नाभिकीय प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान किया है।  2016 तक यह संस्थान दुनिया के सर्वश्रेष्ठ 250 संस्थानों में से एक था .

नई!!: बंगलौर और भारतीय विज्ञान संस्थान · और देखें »

भारतीय विज्ञान अकादमी

भारतीय विज्ञान अकादमी, बंगलुरू (The Indian Academy of Sciences, Bangalore) की स्थापना चंद्रशेखर वेंकट रमन ने की थी। यह एक सोसायटी के रूप में २४ अप्रैल १९३४ को पंजीकृत हुई और ६५ संस्थापक फेलों के साथ ३१ जुलई, १९३४ को आरम्भ हुई। यह अकादमी बंगलुरू में स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय विज्ञान अकादमी · और देखें »

भारतीय वृहत उद्योग समूह

यह भारत के प्रमुख वृहत उद्योग समूहों की सूचि है|.

नई!!: बंगलौर और भारतीय वृहत उद्योग समूह · और देखें »

भारतीय कंपनियों की सूची

यह सूची भारत में स्थित बड़ी कंपनियों की सूची है। ध्यात्व्य है की यह सूची अपूर्ण है और इसमें हर आकार-प्रकार की कंपनियों का समावेश नहीं हुआ है। कंपनियों के बारे में जानकारी दिये गये कड़ियों (जालस्थल के पता) से ली जा सकती है। राजस्व अर्जित करने की दृष्टि से भारत की सबसे बड़ी कंपनियाँ: .

नई!!: बंगलौर और भारतीय कंपनियों की सूची · और देखें »

भारतीय क्रिकेट टीम

भारतीय क्रिकेट टीम भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम है। भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा संचालित भारतीय क्रिकेट टीम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की पूर्णकालिक सदस्य है। भारतीय टीम दो बार क्रिकेट विश्वकप (१९८३ और २०११) अपने नाम कर चुकी है। वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री हैं। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय क्रिकेट टीम · और देखें »

भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम

भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम डॉ विक्रम साराभाई की संकल्पना है, जिन्हें भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम का जनक कहा गया है। वे वैज्ञानिक कल्पना एवं राष्ट्र-नायक के रूप में जाने गए। वर्तमान प्रारूप में इस कार्यक्रम की कमान भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के हाथों में है। .

नई!!: बंगलौर और भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम · और देखें »

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, (संक्षेप में- इसरो) (Indian Space Research Organisation, ISRO) भारत का राष्ट्रीय अंतरिक्ष संस्थान है जिसका मुख्यालय बेंगलुरू कर्नाटक में है। संस्थान में लगभग सत्रह हजार कर्मचारी एवं वैज्ञानिक कार्यरत हैं। संस्थान का मुख्य कार्य भारत के लिये अंतरिक्ष संबधी तकनीक उपलब्ध करवाना है। अन्तरिक्ष कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्यों में उपग्रहों, प्रमोचक यानों, परिज्ञापी राकेटों और भू-प्रणालियों का विकास शामिल है। 1969 में स्थापित, इसरो अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए तत्कालीन भारतीय राष्ट्रीय समिति (INCOSPAR) स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और उनके करीबी सहयोगी और वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के प्रयासों से 1962 में स्थापित किया गया। भारत का पहला उपग्रह, आर्यभट्ट, जो 19 अप्रैल 1975 सोवियत संघ द्वारा शुरू किया गया था यह गणितज्ञ आर्यभट्ट के नाम पर रखा गया था बनाया।इसने 5 दिन बाद काम करना बंद कर दिया था। लेकिन ये अपने आप में भारत के लिये एक बड़ी उपलब्धि थी। 7 जून 1979 को भारत ने दूसरा उपग्रह भास्कर 445 किलो का था, पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया गया। 1980 में रोहिणी उपग्रह पहला भारतीय-निर्मित प्रक्षेपण यान एसएलवी -3 बन गया जिस्से कक्षा में स्थापित किया गया। इसरो ने बाद में दो अन्य रॉकेट विकसित किये। ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान उपग्रहों शुरू करने के लिए ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी),भूस्थिर कक्षा में उपग्रहों को रखने के लिए ध्रुवीय कक्षाओं और भूस्थिर उपग्रह प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी) भूस्थिर उपग्रह प्रक्षेपण यान। ये रॉकेट कई संचार उपग्रहों और पृथ्वी अवलोकन गगन और आईआरएनएसएस तरह सैटेलाइट नेविगेशन सिस्टम तैनात किया उपग्रह का शुभारंभ किया।जनवरी 2014 में इसरो सफलतापूर्वक जीसैट -14 का एक जीएसएलवी-डी 5 प्रक्षेपण में एक स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन का इस्तेमाल किया गया। इसरो के वर्तमान निदेशक ए एस किरण कुमार हैं। आज भारत न सिर्फ अपने अंतरिक्ष संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सक्षम है बल्कि दुनिया के बहुत से देशों को अपनी अंतरिक्ष क्षमता से व्यापारिक और अन्य स्तरों पर सहयोग कर रहा है। इसरो एक चंद्रमा की परिक्रमा, चंद्रयान -1 भेजा, 22 अक्टूबर 2008 और एक मंगल ग्रह की परिक्रमा, मंगलयान (मंगल आर्बिटर मिशन) है, जो सफलतापूर्वक मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश पर 24 सितंबर 2014 को भारत ने अपने पहले ही प्रयास में सफल होने के लिए पहला राष्ट्र बना। दुनिया के साथ ही एशिया में पहली बार अंतरिक्ष एजेंसी में एजेंसी को सफलतापूर्वक मंगल ग्रह की कक्षा तक पहुंचने के लिए इसरो चौथे स्थान पर रहा। भविष्य की योजनाओं मे शामिल जीएसएलवी एमके III के विकास (भारी उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए) ULV, एक पुन: प्रयोज्य प्रक्षेपण यान, मानव अंतरिक्ष, आगे चंद्र अन्वेषण, ग्रहों के बीच जांच, एक सौर मिशन अंतरिक्ष यान के विकास आदि। इसरो को शांति, निरस्त्रीकरण और विकास के लिए साल 2014 के इंदिरा गांधी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मंगलयान के सफल प्रक्षेपण के लगभग एक वर्ष बाद इसने 29 सितंबर 2015 को एस्ट्रोसैट के रूप में भारत की पहली अंतरिक्ष वेधशाला स्थापित किया। जून 2016 तक इसरो लगभग 20 अलग-अलग देशों के 57 उपग्रहों को लॉन्च कर चुका है, और इसके द्वारा उसने अब तक 10 करोड़ अमेरिकी डॉलर कमाए हैं।http://khabar.ndtv.com/news/file-facts/in-record-launch-isro-flies-20-satellites-into-space-10-facts-1421899?pfrom.

नई!!: बंगलौर और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन · और देखें »

भावना कंठ

भावना कंठ पहली महिला सेनानी पायलट है (मोहन सिंह और अवनी चतुर्वेदी के साथ)। भारतीय वायु सेना में पहली बार महिला युद्ध पायलटों को शामिल किया गया (१८ जून २०१६), मोहन सिंह, भावना कंठ और अवनी चतुर्वेदी को। भावना का जन्म १ दिसंबर १९९२ को बरौनी में हुआ था। उनके पिता इंडियन ऑयल कंपनी में इंजीनियर हैं। 'मेधा पुरस्कार' भावना को मिला आईओसीएल से १०वीं कक्षा में अपनी परीक्षा में ९०% से जादा अंक लेने पर। भारतीय वायु सेना में एक पायलट बनने का बचपन का सपना था भावना का जो पूरा हो गया। बेगुसराय के बरौनी रिफ़ाइनरी टाउनशिप में डीएवी विद्यालय में उनकी पढ़ाई हुई और वह राजस्थान में कोटा चली गई इंजीनियरिंग प्रवेश द्वार के लिए तैयार करने। बिहार के पटना में उन इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में से एक के दौरान भावना ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) के लिए जाने की इच्छा व्यक्त हुए थी पर उस समय महिलाएं एनडीए के लिए अयोग्य थी। तो उसने बेंगलुरु में बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स स्ट्रीम में अपनी इंजीनियरिंग करने का फैसला किया। फिर उसने भारतीय वायु सेना परीक्षा दी और सफल हुई। जल्द ही भारत की पहली महिला लड़ाकू पायलटों में से एक बन गई। .

नई!!: बंगलौर और भावना कंठ · और देखें »

भूमिगत रेल

भूमि की सतह के नीचे सुरंग बनाकर उसके अन्दर रेल की पटरी बिछाकर जो रेलगाड़ी चलायी जाती है उसे भूमिगत रेल कहते हैं। इन्हें मेट्रो रेल, मेट्रो, सब-वे अथवा त्वरित रेल (रैपिड रेल) भी कहा जाता है। .

नई!!: बंगलौर और भूमिगत रेल · और देखें »

मणिपाल विश्वविद्यालय

मणिपाल उच्च शिक्षा अकादमी भारत का एक समविश्वविद्यालय है। यह 'मणिपाल विश्वविद्यालय' के नाम से अधिक प्रसिद्ध है। यह कर्नाटक के मणिपाल में स्थित है। इसमें ५४ देशों के लगभग २६००० विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। इस विश्वविद्यालय की शाखाएँ बंगलुरु, मंगलोर सिक्किम, जयपुर, दुबई, मलेशिया तथा एण्टीगुआ में हैं। यह कॉमनवेल्थ विश्वविद्यालय संघ का एक सदस्य है। श्रेणी:भारत के विश्वविद्यालय.

नई!!: बंगलौर और मणिपाल विश्वविद्यालय · और देखें »

मदुरई

मदुरै या मदुरई (மதுரை एवं), दक्षिण भारत के तमिल नाडु राज्य के मदुरई जिले का मुख्यालय नगर है। यह भारतीय प्रायद्वीप के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक है।फ्रॉमर्स इण्डिया, द्वारा: पिप्पा देब्र्यून, कीथ बैन, नीलोफर वेंकटरमन, शोनार जोशी इस शहर को अपने प्राचीन मंदिरों के लिये जाना जाता है। इस शहर को कई अन्य नामों से बुलाते हैं, जैसे कूडल मानगर, तुंगानगर (कभी ना सोने वाली नगरी), मल्लिगई मानगर (मोगरे की नगरी) था पूर्व का एथेंस। यह वैगई नदी के किनारे स्थित है। लगभग २५०० वर्ष पुराना यह स्थान तमिल नाडु राज्य का एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक और व्यावसायिक केंद्र है। यहां का मुख्य आकर्षण मीनाक्षी मंदिर है जिसके ऊंचे गोपुरम और दुर्लभ मूर्तिशिल्प श्रद्धालुओं और सैलानियों को आकर्षित करते हैं। इस कारणं इसे मंदिरों का शहर भी कहते हैं। मदुरै एक समय में तमिल शिक्षा का मुख्य केंद्र था और आज भी यहां शुद्ध तमिल बोली जाती है। यहाँ शिक्षा का प्रबंध उत्तम है। यह नगर जिले का व्यापारिक, औद्योगिक तथा धार्मिक केंद्र है। उद्योगों में सूत कातने, रँगने, मलमल बुनने, लकड़ी पर खुदाई का काम तथा पीतल का काम होता है। यहाँ की जनसंख्या ११ लाख ८ हजार ७५५ (२००४ अनुमानित) है। आधुनिक युग में यह प्रगति के पथ पर अग्रसर है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पाने में प्रयासरत है, किंतु अपनी समृद्ध परंपरा और संस्कृति को भी संरक्षित किए हुए है। इस शहर के प्राचीन यूनान एवं रोम की सभ्यताओं से ५५० ई.पू.

नई!!: बंगलौर और मदुरई · और देखें »

मद्दूर वड़ा

मद्दूर वड़ा (ಮದ್ದೂರು ವಡೆ) एक प्रकार का वड़ा होता है और केवल कर्नाटक राज्य विशेष के खानपान में आता है। इस अल्पाहार का नाम कर्नाटक राज्य के मांड्या जिला के मद्दूर कस्बे से आया है। यह शहर बंगलुरु एवं मैसूर शहरों के बीच बसा हुआ है और मद्दूर वड़े इन दोनों के बीच रेल मार्ग एवं सड़क मार्ग पर बसों व रेलों में बेचा जाता है। यह चावल के आटे, सूची एवं मैदा से बनता है। इसमें कड़ी पत्ता, कसा हुआ नारियल, हींग एवं बारीक कटी प्याज भी पड़ती है। सभी चीजों को तेल में हल्का छौंक लगा कर भूना जाटा है और फिर कुछ पानी के साथ मिलाकर गूंधा जाता है। तब इसके बड़े बनाये जाते हैं और सुनहरे भूरे रंग होने तक तेल में तले जाते हैं। .

नई!!: बंगलौर और मद्दूर वड़ा · और देखें »

मनजोत कालरा

मनजोत कालरा (जन्म १५ जनवरी १९९९) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है। ये 2018 आईसीसी अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप में भारतीय अंडर-१९ क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे। ये बाएं हाथ से बल्लेबाजी करते है। इन्होंने ३ फरवरी २०१८ को खेले गए अंडर-१९ क्रिकेट विश्व कप के फाइनल मैच में भारत के लिए मैच जीताऊ पारी खेलते हुआ नाबाद १०१ रन बनाये और भारतीय अंडर-१९ क्रिकेट टीम ने चौथी बार खिताब जीता है। ये एक सलामी बल्लेबाज है जो पारी की शुरुआत करते है। २७ और २८ जनवरी को बैंगलोर में हुई नीलामी में इन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स ने बेस प्राइस २० लाख में खरीदा है। .

नई!!: बंगलौर और मनजोत कालरा · और देखें »

मन्ना डे

मन्ना डे (1 मई 1919 - 24 अक्टूबर 2013), जिन्हें प्यार से मन्ना दा के नाम से भी जाना जाता है, फिल्म जगत के एक सुप्रसिद्ध भारतीय पार्श्व गायक थे। उनका वास्तविक नाम प्रबोध चन्द्र डे था। मन्ना दा ने सन् 1942 में फ़िल्म तमन्ना से अपने फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत की और 1942 से 2013 तक लगभग 3000 से अधिक गानों को अपनी आवाज दी। मुख्यतः हिन्दी एवं बंगाली फिल्मी गानों के अलावा उन्होंने अन्य भारतीय भाषाओं में भी अपने कुछ गीत रिकॉर्ड करवाये। भारत सरकार ने उन्हें 1971 में पद्म श्री, 2005 में पद्म भूषण एवं 2007 में दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। .

नई!!: बंगलौर और मन्ना डे · और देखें »

मनोविज्ञान का इतिहास तथा शाखाएँ

आधुनिक मनोविज्ञान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में इसके दो सुनिश्चित रूप दृष्टिगोचर होते हैं। एक तो वैज्ञानिक अनुसंधानों तथा आविष्कारों द्वारा प्रभावित वैज्ञानिक मनोविज्ञान तथा दूसरा दर्शनशास्त्र द्वारा प्रभावित दर्शन मनोविज्ञान। वैज्ञानिक मनोविज्ञान 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध से आरंभ हुआ है। सन् 1860 ई में फेक्नर (1801-1887) ने जर्मन भाषा में "एलिमेंट्स आव साइकोफ़िज़िक्स" (इसका अंग्रेजी अनुवाद भी उपलब्ध है) नामक पुस्तक प्रकाशित की, जिसमें कि उन्होंने मनोवैज्ञानिक समस्याओं को वैज्ञानिक पद्धति के परिवेश में अध्ययन करने की तीन विशेष प्रणालियों का विधिवत् वर्णन किया: मध्य त्रुटि विधि, न्यूनतम परिवर्तन विधि तथा स्थिर उत्तेजक भेद विधि। आज भी मनोवैज्ञानिक प्रयोगशालाओं में इन्हीं प्रणालियों के आधार पर अनेक महत्वपूर्ण अनुसंधान किए जाते हैं। वैज्ञानिक मनोविज्ञान में फेक्नर के बाद दो अन्य महत्वपूर्ण नाम है: हेल्मोलत्स (1821-1894) तथा विल्हेम वुण्ट (1832-1920) हेल्मोलत्स ने अनेक प्रयोगों द्वारा दृष्टीर्द्रिय विषयक महत्वपूर्ण नियमों का प्रतिपादन किया। इस संदर्भ में उन्होंने प्रत्यक्षीकरण पर अनुसंधान कार्य द्वारा मनोविज्ञान का वैज्ञानिक अस्तित्व ऊपर उठाया। वुंट का नाम मनोविज्ञान में विशेष रूप से उल्लेखनीय है। उन्होंने सन् 1879 ई में लाइपज़िग (जर्मनी) में मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला स्थापित की। मनोविज्ञान का औपचारिक रूप परिभाषित किया। मनोविज्ञान अनुभव का विज्ञान है, इसका उद्देश्य चेतनावस्था की प्रक्रिया के तत्त्वों का विश्लेषण, उनके परस्पर संबंधों का स्वरूप तथा उन्हें निर्धारित करनेवाले नियमों का पता लगाना है। लाइपज़िग की प्रयोगशाला में वुंट तथा उनके सहयोगियों ने मनोविज्ञान की विभिन्न समस्याओं पर उल्लेखनीय प्रयोग किए, जिसमें समयअभिक्रिया विषयक प्रयोग विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं। क्रियाविज्ञान के विद्वान् हेरिंग (1834-1918), भौतिकी के विद्वान् मैख (1838-1916) तथा जी ई. म्यूलर (1850 से 1934) के नाम भी उल्लेखनीय हैं। हेरिंग घटना-क्रिया-विज्ञान के प्रमुख प्रवर्तकों में से थे और इस प्रवृत्ति का मनोविज्ञान पर प्रभाव डालने का काफी श्रेय उन्हें दिया जा सकता है। मैख ने शारीरिक परिभ्रमण के प्रत्यक्षीकरण पर अत्यंत प्रभावशाली प्रयोगात्मक अनुसंधान किए। उन्होंने साथ ही साथ आधुनिक प्रत्यक्षवाद की बुनियाद भी डाली। जीदृ ई. म्यूलर वास्तव में दर्शन तथा इतिहास के विद्यार्थी थे किंतु फेक्नर के साथ पत्रव्यवहार के फलस्वरूप उनका ध्यान मनोदैहिक समस्याओं की ओर गया। उन्होंने स्मृति तथा दृष्टींद्रिय के क्षेत्र में मनोदैहिकी विधियों द्वारा अनुसंधान कार्य किया। इसी संदर्भ में उन्होंने "जास्ट नियम" का भी पता लगाया अर्थात् अगर समान शक्ति के दो साहचर्य हों तो दुहराने के फलस्वरूप पुराना साहचर्य नए की अपेक्षा अधिक दृढ़ हो जाएगा ("जास्ट नियम" म्यूलर के एक विद्यार्थी एडाल्फ जास्ट के नाम पर है)। मनोविज्ञान पर वैज्ञानिक प्रवृत्ति के साथ साथ दर्शनशास्त्र का भी बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है। वास्तव में वैज्ञानिक परंपरा बाद में आरंभ हुई। पहले तो प्रयोग या पर्यवेक्षण के स्थान पर विचारविनिमय तथा चिंतन समस्याओं को सुलझाने की सर्वमान्य विधियाँ थीं। मनोवैज्ञानिक समस्याओं को दर्शन के परिवेश में प्रतिपादित करनेवाले विद्वानों में से कुछ के नाम उल्लेखनीय हैं। डेकार्ट (1596-1650) ने मनुष्य तथा पशुओं में भेद करते हुए बताया कि मनुष्यों में आत्मा होती है जबकि पशु केवल मशीन की भाँति काम करते हैं। आत्मा के कारण मनुष्य में इच्छाशक्ति होती है। पिट्यूटरी ग्रंथि पर शरीर तथा आत्मा परस्पर एक दूसरे को प्रभावित करते हैं। डेकार्ट के मतानुसार मनुष्य के कुछ विचार ऐसे होते हैं जिन्हे जन्मजात कहा जा सकता है। उनका अनुभव से कोई संबंध नहीं होता। लायबनीत्स (1646-1716) के मतानुसार संपूर्ण पदार्थ "मोनैड" इकाई से मिलकर बना है। उन्होंने चेतनावस्था को विभिन्न मात्राओं में विभाजित करके लगभग दो सौ वर्ष बाद आनेवाले फ्रायड के विचारों के लिये एक बुनियाद तैयार की। लॉक (1632-1704) का अनुमान था कि मनुष्य के स्वभाव को समझने के लिये विचारों के स्रोत के विषय में जानना आवश्यक है। उन्होंने विचारों के परस्पर संबंध विषयक सिद्धांत प्रतिपादित करते हुए बताया कि विचार एक तत्व की तरह होते हैं और मस्तिष्क उनका विश्लेषण करता है। उनका कहना था कि प्रत्येक वस्तु में प्राथमिक गुण स्वयं वस्तु में निहित होते हैं। गौण गुण वस्तु में निहित नहीं होते वरन् वस्तु विशेष के द्वारा उनका बोध अवश्य होता है। बर्कले (1685-1753) ने कहा कि वास्तविकता की अनुभूति पदार्थ के रूप में नहीं वरन् प्रत्यय के रूप में होती है। उन्होंने दूरी की संवेदनाके विषय में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि अभिबिंदुता धुँधलेपन तथा स्वत: समायोजन की सहायता से हमें दूरी की संवेदना होती है। मस्तिष्क और पदार्थ के परस्पर संबंध के विषय में लॉक का कथन था कि पदार्थ द्वारा मस्तिष्क का बोध होता है। ह्यूम (1711-1776) ने मुख्य रूप से "विचार" तथा "अनुमान" में भेद करते हुए कहा कि विचारों की तुलना में अनुमान अधिक उत्तेजनापूर्ण तथा प्रभावशाली होते हैं। विचारों को अनुमान की प्रतिलिपि माना जा सकता है। ह्यूम ने कार्य-कारण-सिद्धांत के विषय में अपने विचार स्पष्ट करते हुए आधुनिक मनोविज्ञान को वैज्ञानिक पद्धति के निकट पहुँचाने में उल्लेखनीय सहायता प्रदान की। हार्टले (1705-1757) का नाम दैहिक मनोवैज्ञानिक दार्शनिकों में रखा जा सकता है। उनके अनुसार स्नायु-तंतुओं में हुए कंपन के आधार पर संवेदना होती है। इस विचार की पृष्ठभूमि में न्यूटन के द्वारा प्रतिपादित तथ्य थे जिनमें कहा गया था कि उत्तेजक के हटा लेने के बाद भी संवेदना होती रहती है। हार्टले ने साहचर्य विषयक नियम बताते हुए सान्निध्य के सिद्धांत पर अधिक जोर दिया। हार्टले के बाद लगभग 70 वर्ष तक साहचर्यवाद के क्षेत्र में कोई उल्लेखनीय कार्य नहीं हुआ। इस बीच स्काटलैंड में रीड (1710-1796) ने वस्तुओं के प्रत्यक्षीकरण का वर्णन करते हुए बताया कि प्रत्यक्षीकरण तथा संवेदना में भेद करना आवश्यक है। किसी वस्तु विशेष के गुणों की संवेदना होती है जबकि उस संपूर्ण वस्तु का प्रत्यक्षीकरण होता है। संवेदना केवल किसी वस्तु के गुणों तक ही सीमित रहती है, किंतु प्रत्यक्षीकरण द्वारा हमें उस पूरी वस्तु का ज्ञान होता है। इसी बीच फ्रांस में कांडिलैक (1715-1780) ने अनुभववाद तथा ला मेट्री ने भौतिकवाद की प्रवृत्तियों की बुनियाद डाली। कांडिलैंक का कहना था कि संवेदन ही संपूर्ण ज्ञान का "मूल स्त्रोत" है। उन्होंने लॉक द्वारा बताए गए विचारों अथवा अनुभवों को बिल्कुल आवश्यक नहीं समझा। ला मेट्री (1709-1751) ने कहा कि विचार की उत्पत्ति मस्तिष्क तथा स्नायुमंडल के परस्पर प्रभाव के फलस्वरूप होती है। डेकार्ट की ही भाँति उन्होंने भी मनुष्य को एक मशीन की तरह माना। उनका कहना था कि शरीर तथा मस्तिष्क की भाँति आत्मा भी नाशवान् है। आधुनिक मनोविज्ञान में प्रेरकों की बुनियाद डालते हुए ला मेट्री ने बताया कि सुखप्राप्ति ही जीवन का चरम लक्ष्य है। जेम्स मिल (1773-1836) तथा बाद में उनके पुत्र जान स्टुअर्ट मिल (1806-1873) ने मानसिक रसायनी का विकास किया। इन दोनों विद्वानों ने साहचर्यवाद की प्रवृत्ति को औपचारिक रूप प्रदान किया और वुंट के लिये उपयुक्त पृष्ठभूमि तैयार की। बेन (1818-1903) के बारे में यही बात लागू होती है। कांट समस्याओं के समाधान में व्यक्तिनिष्ठावाद की विधि अपनाई कि बाह्य जगत् के प्रत्यक्षीकरण के सिद्धांत में जन्मजातवाद का समर्थन किया। हरबार्ट (1776-1841) ने मनोविज्ञान को एक स्वरूप प्रदान करने में महत्वपूण्र योगदान किया। उनके मतानुसार मनोविज्ञान अनुभववाद पर आधारित एक तात्विक, मात्रात्मक तथा विश्लेषात्मक विज्ञान है। उन्होंने मनोविज्ञान को तात्विक के स्थान पर भौतिक आधार प्रदान किया और लॉत्से (1817-1881) ने इसी दिशा में ओर आगे प्रगति की। मनोवैज्ञानिक समस्याओं के वैज्ञानिक अध्ययन का शुभारंभ उनके औपचारिक स्वरूप आने के बाद पहले से हो चुका था। सन् 1834 में वेबर ने स्पर्शेन्द्रिय संबंधी अपने प्रयोगात्मक शोधकार्य को एक पुस्तक रूप में प्रकाशित किया। सन् 1831 में फेक्नर स्वयं एकदिश धारा विद्युत् के मापन के विषय पर एक अत्यंत महत्वपूर्ण लेख प्रकाशित कर चुके थे। कुछ वर्षों बाद सन् 1847 में हेल्मो ने ऊर्जा सरंक्षण पर अपना वैज्ञानिक लेख लोगों के सामने रखा। इसके बाद सन् 1856 ई., 1860 ई. तथा 1866 ई. में उन्होंने "आप्टिक" नामक पुस्तक तीन भागों में प्रकाशित की। सन् 1851 ई. तथा सन् 1860 ई. में फेक्नर ने भी मनोवैज्ञानिक दृष्टि से दो महत्वपूर्ण ग्रंथ ('ज़ेंड आवेस्टा' तथा 'एलिमेंटे डेयर साईकोफ़िजिक') प्रकाशित किए। सन् 1858 ई में वुंट हाइडलवर्ग विश्वविद्यालय में चिकित्सा विज्ञान में डाक्टर की उपधि प्राप्त कर चुके थे और सहकारी पद पर क्रियाविज्ञान के क्षेत्र में कार्य कर रहे थे। उसी वर्ष वहाँ बॉन से हेल्मोल्त्स भी आ गए। वुंट के लिये यह संपर्क अत्यंत महत्वपूर्ण था क्योंकि इसी के बाद उन्होंने क्रियाविज्ञान छोड़कर मनोविज्ञान को अपना कार्यक्षेत्र बनाया। वुंट ने अनगिनत वैज्ञानिक लेख तथा अनेक महत्वपूर्ण पुस्तक प्रकाशित करके मनोविज्ञान को एक धुँधले एवं अस्पष्ट दार्शनिक वातावरण से बाहर निकाला। उसने केवल मनोवैज्ञानिक समस्याओं को वैज्ञानिक परिवेश में रखा और उनपर नए दृष्टिकोण से विचार एवं प्रयोग करने की प्रवृत्ति का उद्घाटन किया। उसके बाद से मनोविज्ञान को एक विज्ञान माना जाने लगा। तदनंतर जैसे जैसे मरीज वैज्ञानिक प्रक्रियाओं पर प्रयोग किए गए वैसे वैसे नई नई समस्याएँ सामने आईं। व्यवहार विषयक नियमों की खोज ही मनोविज्ञान का मुख्य ध्येय था। सैद्धांतिक स्तर पर विभिन्न दृष्टिकोण प्रस्तुत किए गए। सन् 1912 ई. के आसपास मनोविज्ञान के क्षेत्र में संरचनावाद, क्रियावाद, व्यवहारवाद, गेस्टाल्टवाद तथा मनोविश्लेषण आदि मुख्य मुख्य शाखाओं का विकास हुआ। इन सभी वादों के प्रवर्तक इस विषय में एकमत थे कि मनुष्य के व्यवहार का वैज्ञानिक अध्ययन ही मनोविज्ञान का उद्देश्य है। उनमें परस्पर मतभेद का विषय था कि इस उद्देश्य को प्राप्त करने का सबसे अच्छा ढंग कौन सा है। सरंचनावाद के अनुयायियों का मत था कि व्यवहार की व्याख्या के लिये उन शारीरिक संरचनाओं को समझना आवश्यक है जिनके द्वारा व्यवहार संभव होता है। क्रियावाद के माननेवालों का कहना था कि शारीरिक संरचना के स्थान पर प्रेक्षण योग्य तथा दृश्यमान व्यवहार पर अधिक जोर होना चाहिए। इसी आधार पर बाद में वाटसन ने व्यवहारवाद की स्थापना की। गेस्टाल्टवादियों ने प्रत्यक्षीकरण को व्यवहारविषयक समस्याओं का मूल आधार माना। व्यवहार में सुसंगठित रूप से व्यवस्था प्राप्त करने की प्रवृत्ति मुख्य है, ऐसा उनका मत था। फ्रायड ने मनोविश्लेषणवाद की स्थापना द्वारा यह बताने का प्रयास किया कि हमारे व्यवहार के अधिकांश कारण अचेतन प्रक्रियाओं द्वारा निर्धारित होते हैं। आधुनिक मनोविज्ञान में इन सभी "वादों" का अब एकमात्र ऐतिहासिक महत्व रह गया है। इनके स्थान पर मनोविज्ञान में अध्ययन की सुविधा के लिये विभिन्न शाखाओं का विभाजन हो गया है। प्रयोगात्मक मनोविज्ञान में मुख्य रूप से उन्हीं समस्याओं का मनोवैज्ञानिक विधि से अध्ययन किया जाने लगा जिन्हें दार्शनिक पहले चिंतन अथवा विचारविमर्श द्वारा सुलझाते थे। अर्थात् संवेदन तथा प्रत्यक्षीकरण। बाद में इसके अंतर्गत सीखने की प्रक्रियाओं का अध्ययन भी होने लगा। प्रयोगात्मक मनोविज्ञान आधुनिक मनोविज्ञान की प्राचीनतम शाखा है। मनुष्य की अपेक्षा पशुओं को अधिक नियंत्रित परिस्थितियों में रखा जा सकता है, साथ ही साथ पशुओं की शारीरिक रचना भी मनुष्य की भाँति जटिल नहीं होती। पशुओं पर प्रयोग करके व्यवहार संबंधी नियमों का ज्ञान सुगमता से हो सकता है। सन् 1912 ई. के लगभग थॉर्नडाइक ने पशुओं पर प्रयोग करके तुलनात्मक अथवा पशु मनोविज्ञान का विकास किया। किंतु पशुओं पर प्राप्त किए गए परिणाम कहाँ तक मनुष्यों के विषय में लागू हो सकते हैं, यह जानने के लिये विकासात्मक क्रम का ज्ञान भी आवश्यक था। इसके अतिरिक्त व्यवहार के नियमों का प्रतिपादन उसी दशा में संभव हो सकता है जब कि मनुष्य अथवा पशुओं के विकास का पूर्ण एवं उचित ज्ञान हो। इस संदर्भ को ध्यान में रखते हुए विकासात्मक मनोविज्ञान का जन्म हुआ। सन् 1912 ई. के कुछ ही बाद मैक्डूगल (1871-1938) के प्रयत्नों के फलस्वरूप समाज मनोविज्ञान की स्थापना हुई, यद्यपि इसकी बुनियाद समाज वैज्ञानिक हरबर्ट स्पेंसर (1820-1903) द्वारा बहुत पहले रखी जा चुकी थी। धीरे-धीरे ज्ञान की विभिन्न शाखाओं पर मनोविज्ञान का प्रभाव अनुभव किया जाने लगा। आशा व्यक्त की गई कि मनोविज्ञान अन्य विषयों की समस्याएँ सुलझाने में उपयोगी हो सकता है। साथ ही साथ, अध्ययन की जानेवाली समस्याओं के विभिन्न पक्ष सामने आए। परिणामस्वरूप मनोविज्ञान की नई नई शाखाओं का विकास होता गया। आज मनोविज्ञान की लगभग 12 शाखाएँ हैं। इनमें से कुछ ने अभी हाल में ही जन्म लिया है, जिनमें प्रेरक मनोविज्ञान, सत्तात्मक मनोविज्ञान, गणितीय मनोविज्ञान विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। आजकल रूस में अनुकूलन तथा अंतरिक्ष मनोविज्ञान में काफी काम हो रहा है। अमरीका में लगभग सभी क्षेत्रों में शोधकार्य हो रहा है। संमोहन तथा प्रेरक मनोविज्ञान में अपेक्षाकृत कुछ अधिक काम किया जा रहा है। परा-इंद्रीय प्रत्यक्षीकरण की तरफ मनोवैज्ञानिकों के सामान्य दृष्टिकोण में कोई उल्लेखनीय परिवर्तन नहीं हुआ है। आज भी इस क्षेत्र में पर्याप्त वैज्ञानिक तथ्यों एवं प्रमाणों का अभाव है। किंतु ड्यूक विश्वविद्यालय (अमरीका) में डा राईन के निदेशन में इस क्षेत्र में बराबर काम हो रहा है। एशिया में जापान मनोविज्ञान के क्षेत्र में सबसे आगे बढ़ा हुआ है। समाज मनोविज्ञान तथा प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के साथ साथ वहाँ ज़ेन बुद्धवाद का प्रभाव भी दृष्टिगोचर होता है। .

नई!!: बंगलौर और मनोविज्ञान का इतिहास तथा शाखाएँ · और देखें »

ममता माबेन

ममता माबेन (Mamatha Maben) (जन्म;१५ नवम्बर १९७०, बैंगलोर, कर्नाटक) एक पूर्व भारतीय महिला वनडे क्रिकेट खिलाड़ी है। इन्होंने भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए ४ टेस्ट क्रिकेट मैच और ४० एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले थे। ममता माबेन १९९३ महिला क्रिकेट विश्व कप का भी हिस्सा रही थी और बाद में संन्यास लेने के बाद बांग्लादेश महिला क्रिकेट टीम की कोच बनी थी। .

नई!!: बंगलौर और ममता माबेन · और देखें »

ममता मोहनदास

ममता मोहनदास (मलयालम: മംമ്ത മോഹന്ദാസ്) (14 नवम्बर 1985 -), एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री, पार्श्व गायिका और मॉडल है। कुछ तेलुगु और तमिल निर्माण और एक कन्नड़ फिल्म के अलावा, उन्होंने मुख्य रूप से मलयालम फिल्मों में अभिनय किया है। उन्होंने दो फिल्मफेयर पुरस्कार जीता है - 2006 में सर्वश्रेष्ठ तेलुगु पार्श्व गायिका के लिए और 2010 में सर्वश्रेष्ठ मलयालम अभिनेत्री के लिए। .

नई!!: बंगलौर और ममता मोहनदास · और देखें »

मयंक अग्रवाल

मयंक अग्रवाल (जन्म १६ फरवरी १९९१) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है। ये बिशप कॉटन बॉयज़ स्कूल और बैंगलोर में जैन विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र हैं। ये एक सलामी बल्लेबाज है जो कर्नाटक के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलते है। इन्होंने भारतीय क्रिकेट के घरेलू सत्र में २०१७-१८ में सचिन तेंदुलकर के बाद सबसे ज्यादा २२५३ रन बनाये और नया कीर्तिमान अपने नाम किया था। २०१० के आईसीसी अंडर-१९ क्रिकेट विश्व कप में तो साल २००८-०९ में अंडर-१९ कूच बिहार ट्रॉफी में अपने प्रदर्शन के साथ प्रमुखता में आए, जिसमें वह भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बने थे। उन्हें २०१० में कर्नाटक प्रीमियर लीग में श्रृंखला का मैन भी चुना गया था, इस दौरान इन्होंने उस टूर्नामेंट में शतक भी बनाया था। .

नई!!: बंगलौर और मयंक अग्रवाल · और देखें »

मयीलाडूतुरै

माइलादुत्रयी भारत के तमिलनाडु राज्य के नागपट्टिनम जिले में एक शहर और एक नगर पालिका है। माइलादुत्रयी एक प्रसिद्ध रेलवे जंक्शन है और शहर क्षेत्र के प्रमुख शहरों जैसे तिरुचिरापल्ली, तंजावुर, कुंभकोणम और तिरुवरुर से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। .

नई!!: बंगलौर और मयीलाडूतुरै · और देखें »

मलाथी कृष्णामूर्ति हॉला

मलाथी कृष्णामूर्ति हॉला भारत की एक परा एथलीट है। अपनी उपलब्धियों के लिए उन्हें पद्मश्री व अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है। .

नई!!: बंगलौर और मलाथी कृष्णामूर्ति हॉला · और देखें »

महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर

महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर भारत का एक प्रमुख विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना १९८७ में हुई थी। 'नेशनल असेसमेण्ट ऐण्ड एक्रेडिशन काउन्सिल बंगलुरु' ने २००४ में इसे बी++ ग्रेड दिया था। लगभग २०० से अधिक महाविद्यालय इससे सम्बद्ध हैं। .

नई!!: बंगलौर और महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर · और देखें »

महानगरीय क्षेत्र

ग्रेटर टोक्यो एरिया, विश्व का सबसे घनी आबादी वाला महानगरीय क्षेत्र है, जिसकी जनसंख्या ३ करोड़ पचास लाख है। महानगरीय क्षेत्र एक विशाल जनसंख्या केंद्र और उसके पड़ोसी क्षेत्र को मिलाकर होता है। इसमें एकदम निकटता से जुड़े शहर एवं अन्य प्रभावित क्षेत्र भी गिने जा सकते हैं। इसमें सबसे बड़े शहर के नाम से ही इस क्षेत्र के नाम को जाना जाता है। .

नई!!: बंगलौर और महानगरीय क्षेत्र · और देखें »

महाराजा अग्रसेन अस्पताल, बैंगलोर

महाराजा अग्रसेन अस्पताल बैंगलोर में १५ मेन, १७ क्रॉस पद्मनाभनगर, साउथ बैंगलोर में स्थित एक स्वास्थ्य केंद्र (अस्पताल) हैं। यह अस्पताल का नाम अग्रोहा के एक महान दानवीर राजा अग्रसेन के नाम पर रखा गया हैं, जो जिनके राज्य में शिक्षा और स्वास्थ्य संबंधी सुविधाए सभी के लिए निशुल्क थी। दिसंबर २००५ में, अस्पताल ने मुफ्त डायबिटीज कैंप आयोजित किया था। .

नई!!: बंगलौर और महाराजा अग्रसेन अस्पताल, बैंगलोर · और देखें »

महिलाओं से छेड़छाड़

महिलाओं से छेड़छाड़ भारत में और कभी-कभी पाकिस्तान और बांग्लादेश ज्योति पुरी द्वारा वुमन, बॉडी, डिज़ायर इन पोस्ट-कलोनियल इंडिया: नरेटिव्ज़ ऑफ़ जेंडर एंड सेक्शुआलिटी.

नई!!: बंगलौर और महिलाओं से छेड़छाड़ · और देखें »

मार्गरेट अल्वा

मार्गरेट अल्वा (जन्मः 14 अप्रैल 1942), भारत के राजस्थान राज्य की राज्यपाल रही हैं। उन्होंने 6 अगस्त 2009 से 14 मई 2012 तक उत्तराखण्ड की पहली महिला राज्यपाल के रूप में कार्य किया। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की एक वरिष्ठ सदस्य और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की आम सचिव हैं। वे मर्सी रवि अवॉर्ड से सम्मानित हैं। .

नई!!: बंगलौर और मार्गरेट अल्वा · और देखें »

मास्ती वेंकटेश अयंगार

मास्ती वेंकटेश अयंगार (६ जून १८९१ - ६ जून १९८६) कन्नड भाषा के एक जाने माने साहित्यकार थे। वे भारत के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किये गये हैं। यह सम्मान पाने वाले वे कर्नाटक के चौथे लेखक थे। 'चिक्कवीरा राजेंद्र' नामक कथा के लिये उनको सन् १९८३ में ज्ञानपीठ पंचाट से प्रशंसित किया गया था। मास्तीजी ने कुल मिलाकर १३७ पुस्तकें लिखीं जिसमे से १२० कन्नड भाषा में थीं तथा शेष अंग्रेज़ी में। उनके ग्रन्थ सामाजिक, दार्शनिक, सौंदर्यात्मक विषयों पर आधारित हैं। कन्नड भाषा के लोकप्रिय साहित्यिक संचलन, "नवोदया" में वे एक प्रमुख लेखक थे। वे अपनी क्षुद्र कहानियों के लिये बहुत प्रसिद्ध थे। वे अपनी सारी रचनाओं को 'श्रीनिवास' उपनाम से लिखते थे। मास्तीजी को प्यार से मास्ती कन्नडदा आस्ती कहा नजाता था, क्योंकि उनको कर्नाटक के एक अनमोल रत्न माना जाता था। मैसूर के माहाराजा नलवाडी कृष्णराजा वडियर ने उनको राजसेवासकता के पदवी से सम्मानित किया था।। .

नई!!: बंगलौर और मास्ती वेंकटेश अयंगार · और देखें »

मिताली मुखर्जी

  मित्तीय मुखर्जी, मानव जीनोमिक्स के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि के साथ सीएसआईआर इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स और इंटिग्रेटिव बायोलॉजी में एक सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट हैं। वह "आयुरजीनोमिक्स" नामक एक अभिनव अध्ययन में भी शामिल है, जो कि जीनोमिक्स के साथ पारंपरिक भारतीय चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद का मिश्रण है। मेडिकल साइंसेज के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए उन्हें 2010 में प्रतिष्ठित शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार प्राप्त हुआ। .

नई!!: बंगलौर और मिताली मुखर्जी · और देखें »

मिकोयान मिग-35

मिकोयान मिग-35 (Микоян МиГ-35., नाटो (NATO) द्वारा सूचित नाम: फल्क्रम-F) मिग-29M/M2 और मिग-29K/KUB प्रौद्योगिकी का एक अग्रवर्ती विकास है। इसके निर्माताओं द्वारा इसे एक 4++ पीढ़ी लड़ाकू जेट फाइटर के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसका पहला नमूना (प्रोटोटाइप) पहले ही सेवा में नियुक्त मिग-29M2 के प्रदर्शित मॉडल का ही एक संशोधन था। अब तक 10 आदर्श नमूनों का निर्माण किया गया है और मौजूदा समय में व्यापक मैदानी परीक्षणों के अधीन हैं। मिग-35 को अब एक मध्यम वजन के विमान के रूप में वर्गीकृत किया गया है, क्योंकि इसकी उड़ान का अधिकतम आरंभिक वजन 30 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है जो इसके वर्गीकरण के अपने पिछले मापदंड से अधिक की वृद्धि है। मिग कॉर्पोरेशन (MiG Corporation) ने पहली बार आधिकारिक तौर पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मिग-35 को ही एयरो इंडिया 2007 के एयर शो के दौरान प्रस्तुत किया। आधिकारिक तौर पर मिग-35 का अनावरण उस समय किया गया था जब रूसी रक्षा मंत्री, सेर्गेई इवानोव ने, लुखोवित्सकी मशीन बिल्डिंग प्लांट "मापो-मिग" (MAPO-MIG) का दौरा किया। एक सीट वाले संस्करण का नामकरण मिग-35 किया गया है और दो सीट वाला संस्करण मिग-35D नामित है। इस लड़ाकू विमान की वैमानिकी एवं हथियार प्रणालियों में व्यापक सुधार किया गया है, विशेष रूप से नए AESA रडार और (अनोखे डिजाइन वाले ऑप्टिकल लोकेटर सिस्टम (OLS) में जो विमान को (जमीन-नियंत्रित अंतरग्रहण (GCI) प्रणाली पर भरोसा तथा, एवं इसे स्वतंत्र रूप से बहु-भूमिका मिशन के निष्पादन में सक्षम बनाता है। .

नई!!: बंगलौर और मिकोयान मिग-35 · और देखें »

मंजू बिष्ट

यत्र नार्यस्तु पुज्यन्ते रम्न्ते तत्र देवता: का उधगोश करने वाली हमारी भारतीय संस्कृतित मे प्राचीन काल से ही स्त्रियो को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। गार्मी, लोपामुद्रा, जीजाबाई, लक्ष्मीबाई, सरोजनी नायडू, इंद्रा गाँधी जैसे स्वानामन्ध्य विभूतियो को आज कौन नही जानता है। बात चाहे शिक्षा की हो, राजनीति, कला या फिर खेलो की हो आज भारतीय नारी हर क्षेत्र मे पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर देश के विकास मे अपनी महत्वपूर्ण बुमिका निभा रही है। आज पी॰टी॰ उषा, साईनी विलसन, करणम मलेश्वरी जेसे अनगिनत खेल प्रतिभाओ ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने महाकाव्य प्रदर्शन से हर भारतीय का माथा गर्व से उँचा कर रखा है। देवभूमि उत्तराखंड की पुण्य धरती ने भी ऐसी ही अनेक खेल प्रतिभाओ को जनम दिया है, जीनो ने देश तथा विदेश मे भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा अर्जित कर अपनी माटी के नाम देवभूमि को ध्न्य किया है। ऐसी ही एक खेल प्रहतिभा है मंजू बिष्ट। .

नई!!: बंगलौर और मंजू बिष्ट · और देखें »

मंजू बंसल

मंजू बंसल (जन्म. 1 दिसंबर, 1950) आण्विक बायोफिज़िक्स के क्षेत्र में माहिर हैं और वर्तमान में  वह भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलौर के आणविक बायोफिज़िक्स इकाई में सैद्धांतिक बायोफिज़िक्स समूह  की प्रोफेसर हैं। वह जैविक सूचना विज्ञान और अनुप्रयुक्त जैव प्रौद्योगिकी, बैंगलोर संस्थान की संस्थापक निर्देशक हैं। .

नई!!: बंगलौर और मंजू बंसल · और देखें »

मुंबई समाचार

मुंबई समाचार (Gujarati:મુંબઈ સમાચાર) भारत में प्रकाशित होने वाला गुजराती भाषा का एशिया के सब से पुराने वर्तमानपत्रों में से एक और गुजराती का प्रथम समाचार पत्र (अखबार) है। इसका मुख्यालय मुंबई में है। इस्वीसन १८२२ में इसके प्रकाशन की शरुआत हुई थी। अहमदाबाद, वड़ोदरा, बंगलौर और नयी दिल्ली में इसकी शाखाएँ हैं। ये भारत सरकार के समाचारपत्रों के पंजीयक कार्यालय द्वारा आरएनआई क्रमांक से पंजीकृत है। .

नई!!: बंगलौर और मुंबई समाचार · और देखें »

मुंबई इंडियंस

मुंबई इंडियंस, इंडियन प्रीमियर लीग में एक क्रिकेट टीम है। इस टीम का नेतृत्व रोहित शर्मा करते हैं, जो इस टीम के आइकॉन प्लेयर भी हैं। यह टीम रॉबिन सिंह द्वारा प्रशिक्षित है और इसका स्वामित्व इंडियाविन स्पोर्ट्स (IndiaWin Sports) में 100% हिस्सेदारी के द्वारा भारत के सबसे बड़े समूह, रिलायंस इंडस्ट्रीज, के पास है। .

नई!!: बंगलौर और मुंबई इंडियंस · और देखें »

मैसूर

मैसूर भारत के कर्नाटक प्रान्त का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। यह प्रदेश की राजधानी बंगलौर से लगभग डेढ़ सौ किलोमीटर दक्षिण में तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और मैसूर · और देखें »

मैसूर में पर्यटक आकर्षण

मैसूर पहले कर्नाटक (भारत) की राजधानी थी। यह मैसूर जिले और मैसूर क्षेत्र का मुख्यालय है और कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू के 140 किमी (87 मील) दक्षिण पश्चिम में स्थित है।  मैसूर शहर का क्षेत्रफल 128.42 वर्ग किमी (50 वर्ग मील) का क्षेत्र शामिल है और यह चामुंडी हिल्स के आधार पर स्थित है। मैसूर भारत के सबसे प्रमुख पर्यटन क्षेत्रों में से एक है। मैसूर को पैलेस सिटी ऑफ इंडिया के रूप में भी जाना जाता है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने हाल ही में मैसूर को लगातार दुसरे साल के लिए पृथ्वी पर जरूर देखे जाने वाले 31 स्थानों में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया है।  .

नई!!: बंगलौर और मैसूर में पर्यटक आकर्षण · और देखें »

मूनफ़्रॉग

मूनफ़्रॉग (Moonfrog Labs) एक भारतीय गेम निर्माता गंपनी है जो मोबाईल उपकरणों के लिए गेम बनाती है। इसकी स्थापना २०१२ में आईआईटी खड़गपुर के तीन छात्रों ने की थी, इसका मुख्यालय मध्य बेंगलूरु के उल्सूर इलाक़े में है। .

नई!!: बंगलौर और मूनफ़्रॉग · और देखें »

मेट्टुपालयम, कोयंबटूर

मेट्टुपालयम, भारत के तमिल नाडु राज्य के कोयंबटूर जिले का एक शहर तथा नगरपालिका (म्युनिसिपैलिटी) है। .

नई!!: बंगलौर और मेट्टुपालयम, कोयंबटूर · और देखें »

मेलकोट

मेलकोट (ಮೇಲುಕೋಟೆ) या मेलुकोट कर्नाटक के मांड्या जिला के पांडवपुरा ताल्लुके का एक तीर्थ स्थान है। इस स्थान को तिरुनारायणपुरम् भी कहा जाता है। यहां कावेरी नदी के समक्ष एक पथरीली पहाड़ी है जिसे यदुगिरि या यादवगिरि कहा जाता है। यह मैसूर से लगभग ५१ कि.मी और बंगलुरु से १३३ कि.मी दूर है। .

नई!!: बंगलौर और मेलकोट · और देखें »

मोतीलाल बनारसीदास

मोतीलाल बनारसीदास (MLBD) भारत का प्रसिद्ध प्रकाशन समूह है। यह संस्कृत तथा भारतविद्या से सम्बन्धित स्तरीय पुस्तकों के प्रकाशन के लिये विख्यात है। इसका आरम्भ सन् १९०३ से हुआ। दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता, चेन्नै, बंगलुरू, पटना, वाराणसी और पुणे में इनका प्रकाशन-कार्य संस्थित है। अब तक इस समूह ने ५००० से अधिक पुस्तकों का प्रकाशन किया है। .

नई!!: बंगलौर और मोतीलाल बनारसीदास · और देखें »

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या

सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (15 सितम्बर 1861 - 14 अप्रैल 1962) (तेलुगु में: శ్రీ మోక్షగుండం విశ్వేశ్వరయ్య) भारत के महान अभियन्ता एवं राजनयिक थे। उन्हें सन १९५५ में भारत के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से विभूषित किया गया था। भारत में उनका जन्मदिन अभियन्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है। .

नई!!: बंगलौर और मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या · और देखें »

मीडिटेक प्राइवेट लिमिटेड

Television Studio मीडिटेक प्राइवेट लिमिटेड गुड़गाँव, मुम्बई और बंगलौर में स्थित भारतीय टेलीविजन निर्माता कंपनी है। इसकी स्थापना सन् १९९२ में दो भाइयों निरेट अल्वा और निखिल अल्वा ने की। वर्तमान में यह ₹ ५०-करोड़ टेलीविजन सॉफ्टवेयर की कंपनी और एशिया की सबसे अग्रणी स्वतंत्र निर्माता कंपनी है। कंपनी टेलीविजन के लिए वृत्तचित्र और कार्यक्रम तैयार करती है। .

नई!!: बंगलौर और मीडिटेक प्राइवेट लिमिटेड · और देखें »

यशवंतपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन

यशवंतपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन बंगलुरु शहर का एक रेलवे स्टेशन है। श्रेणी:कर्नाटक के रेलवे स्टेशन.

नई!!: बंगलौर और यशवंतपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन · और देखें »

युज़वेंद्र चहल

यूज़वेन्द्र चहल (अंग्रेजी:Yuzvendra Chahal) (जन्म २३ जुलाई १९९० जींद,हरियाणा) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो घरेलू क्रिकेट में हरियाणा टीम की ओर से खेलते हैं। ये एक लेग ब्रेक गेंदबाज है। इनके अलावा यूज़वेन्द्र इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की तरफ से भी खेलते है। भारत - ज़िम्बाब्वे श्रृंखला २०१६ में इन्हें १५ सदस्य टीम में चयन किया गया। इस कारण इन्होंने अपने एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत ११ जून २०१६ को ज़िम्बाब्वे क्रिकेट टीम के खिलाफ हरारे स्पोर्ट्स क्लब में की। साथ ही श्रृंखला के दुसरे ही मैच में चहलने ३ विकेट भी लिए थे। साथ ही १८ जून २०१६ को हरारे स्पोर्ट्स क्लब में ही ज़िम्बाब्वे के खिलाफ अपने ट्वेन्टी-ट्वेन्टी कैरियर की भी शुरुआत कर दी। युज़वेन्द्र चहल श्रीलंका क्रिकेट टीम के अजंता मेंडिस के बाद दुनिया के इकलौते ऐसे क्रिकेट खिलाड़ी है जिन्होंने ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट में एक मैच में ६ विकेट लिए हो। चहल ने यह कारनामा इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ ०१ फरवरी २०१७ को बैंगलोर में किया था, उस मैच में इन्होंने ४ ओवरों में २५ इन देकर ६ विकेट लिए थे। .

नई!!: बंगलौर और युज़वेंद्र चहल · और देखें »

यूडी एसएलएफ

यूडी एसएलएफ एक बस मॉडल है 2015 में शुरू होने वाले बैंगलोर में काम करना शुरू कर दिया .

नई!!: बंगलौर और यूडी एसएलएफ · और देखें »

यूबी समूह

गोवा में किंगफिशर बीयर का एक विज्ञापन किंगफिशर प्रीमियम लार्ज बीयर की एक बोतल बैंगलौर में स्थित, युनाइटेड ब्रूअरीज़ समूह या यूबी (UB) समूह, शराब (बीयर) और मादक पेय उद्योग पर विशेष ध्यान देने वाली कई अलग-अलग कंपनियों का एक विस्तृत समूह है। यह कंपनी अपने अधिकाँश बीयर किंगफिशर ब्रांड के तहत बाज़ार में बेचती है और यह कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस भी चलाती है, जो भारत की एक प्रमुख एयरलाइन सेवा है, जिसमें हाल ही में अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू की गयी हैं। युनाइटेड ब्रूअरीज़ भारत की सबसे बड़ी बीयर निर्माता कंपनी है, जिसकी बिक्री के आधार पर बाज़ार में हिस्सेदारी 48% के आसपास है। समूह का नेतृत्व डॉ॰ विजय माल्या के हाथों में है जो भारतीय संसद के एक सदस्य भी हैं। युनाइटेड ब्रूअरीज़ के पास अब भारतीय मादक पेय बाज़ार की 40% से अधिक हिस्सेदारी है जिसकी दुनिया भर में 79 डिस्टीलरीज़ और बॉटलिंग इकाइयां हैं। हाल ही में यूबी (UB) समूह ने भारत के स्पिरिट्स कारोबार का अधिकाँश हिस्सा देकर अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनी शॉ-वालेस के स्पिरिट्स कारोबार के अधिग्रहण को वित्तपोषित किया। समूह के पास संयुक्त राज्य अमेरिका में मेंडोसिनो ब्रूइंग कंपनी (Mendocino Brewing Company) का स्वामित्व है। .

नई!!: बंगलौर और यूबी समूह · और देखें »

येलहंका

येलहंका (Yelahanka) एक उपनगर है जो भारत के कर्नाटक राज्य के बैंगलोर ज़िले में स्थित है। यह एक उपनगर है। येलहंका में येलहंका विमानक्षेत्र भी है। .

नई!!: बंगलौर और येलहंका · और देखें »

येलहंका विमानक्षेत्र

येलहंका विमानक्षेत्र भारत के येलहंका शहर में स्थित हवाई अड्डा है। इसका ICAO कोड VOYK है। यह सैन्य हवाई अड्डा है। यहाँ कस्टम विभाग नहीं है। यहाँ की उड़ान पट्टी पेव्ड है, यहाँ की अवतरण प्रणाली यांत्रिक नहीं है। श्रेणी:भारत में विमानक्षेत्र.

नई!!: बंगलौर और येलहंका विमानक्षेत्र · और देखें »

रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए 2017-18

रणजी ट्रॉफी 2017-18 भारत की प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी का 84 वां सत्र है। यह 28 टीमों द्वारा चार समूहों में विभाजित किया जा रहा है, जिनमें से प्रत्येक में सात टीम हैं। .

नई!!: बंगलौर और रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए 2017-18 · और देखें »

राँची

राँची भारत का एक प्रमुख नगर और झारखंड प्रदेश की राजधानी है। यह झारखंड का तीसरा सबसे प्रसिद्ध शहर है। इसे झरनों का शहर भी कहा जाता है। पहले जब यह बिहार राज्य का भाग था तब गर्मियों में अपने अपेक्षाकृत ठंडे मौसम के कारण प्रदेश की राजधानी हुआ करती थी। झारखंड आंदोलन के दौरान राँची इसका केन्द्र हुआ करता था। राँची एक प्रमुख औद्योगिक केन्द्र भी है। जहाँ मुख्य रूप से एच ई सी (हेवी इंजिनियरिंग कारपोरेशन), भारतीय इस्पात प्राधिकरण, मेकन इत्यादि के कारखाने हैं। राँची के साथ साथ जमशेदपुर और बोकारो इस प्रांत के दो अन्य प्रमुख औद्योगिक केन्द्र हैं। राँची को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्मार्ट सिटीज मिशन के अन्तर्गत एक स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किये जाने वाले सौ भारतीय शहरों में से एक के रूप में चुना गया है। राँची भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का गृहनगर होने के लिए प्रसिद्ध है। झारखंड की राजधानी राँची में प्रकृति ने अपने सौंदर्य को खुलकर लुटाया है। प्राकृतिक सुन्दरता के अलावा राँची ने अपने खूबसूरत पर्यटक स्थलों के दम पर विश्व के पर्यटक मानचित्र पर भी पुख्ता पहचान बनाई है। गोंडा हिल और रॉक गार्डन, मछली घर, बिरसा जैविक उद्यान, टैगोर हिल, मैक क्लुस्किगंज और आदिवासी संग्राहलय इसके प्रमुख पर्यटक स्थल हैं। इन पर्यटक स्थलों की सैर करने के अलावा यहां पर प्रकृति की बहुमूल्य देन झरनों के पास बेहतरीन पिकनिक भी मना सकते हैं। राँची के झरनों में पांच गाघ झरना सबसे खूबसूरत है क्योंकि यह पांच धाराओं में गिरता है। यह झरने और पर्यटक स्थल मिलकर राँची को पर्यटन का स्वर्ग बनाते हैं और पर्यटक शानदार छुट्टियां बिताने के लिए हर वर्ष यहां आते हैं। राँची का नाम उराँव गांव के पिछले नाम से एक ही स्थान पर, राची के नाम से लिया गया है। "राँची" उराँव शब्द 'रअयची' से निकला है जिसका मतलब है रहने दो। पौराणिक कथाओं के अनुसार, आत्मा के साथ विवाद के बाद,एक किसान ने अपने बांस के साथ आत्मा को हराया। आत्मा ने रअयची रअयची चिल्लाया और गायब हो गया। रअयची राची बन गई, जो राँची बन गई। राची के ऐतिहासिक रूप से एक महत्वपूर्ण पड़ोस में डोरांडा (दुरन "दुरङ" का अर्थ है गीत और दाह "दएः" का अर्थ मुंदारी भाषा में जल है)। डोरांडा हीनू (भुसूर) और हरमू नदियों के बीच स्थित है, जहां ब्रिटिश राज द्वारा स्थापित सिविल स्टेशन, ट्रेजरी और चर्च सिपाही विद्रोह के दौरान विद्रोही बलों द्वारा नष्ट किए गए थे। .

नई!!: बंगलौर और राँची · और देखें »

राधिका वाज़

राधिका वाज़ (जन्म १९७३) एक भारतीय कॉमेडियन और लेखक हैं। उनका जन्म मुंबई मे हुआ था। वाज़ ने चेन्नई में एक विज्ञापन अधिकारी के रूप में काम किया है। उन्होंने स्यराकुस विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क से विज्ञापन में मास्टर्स की। वह ग्राउंडलिंग स्कूल (लॉस एंजिल्स) और इम्प्रोविजन (न्यूयॉर्क) में प्रशिक्षित हुई। २०१४ में, उन्होंने न्यूयॉर्क में और मुंबई, बेंगलुरु, कोच्चि, गुड़गांव और दिल्ली के भारतीय शहरों में सितंबर में अपने कार्य को पुराना करने के लिए प्रदर्शन किया था। .

नई!!: बंगलौर और राधिका वाज़ · और देखें »

रानी चेन्नम्मा

रानी चेनम्मा की अश्वारोही प्रतिमा रानी चेनम्मा (कन्नड: ಕಿತ್ತೂರು ರಾಣಿ ಚೆನ್ನಮ್ಮ) (१७७८ - १८२९) भारत के कर्नाटक के कित्तूर राज्य की रानी थीं। सन् १८२४ में (सन् १८५७ के भारत के स्वतंत्रता के प्रथम संग्राम से भी ३३ वर्ष पूर्व) उन्होने हड़प नीति (डॉक्ट्रिन ऑफ लेप्स) के विरुद्ध अंग्रेजों से सशस्त्र संघर्ष किया था। संघर्ष में वह वीरगति को प्राप्त हुईं। भारत में उन्हें भारत की स्वतंत्रता के लिये संघर्ष करने वाले सबसे पहले शासकों में उनका नाम लिया जाता है। रानी चेनम्मा के साहस एवं उनकी वीरता के कारण देश के विभिन्न हिस्सों खासकर कर्नाटक में उन्हें विशेष सम्मान हासिल है और उनका नाम आदर के साथ लिया जाता है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के संघर्ष के पहले ही रानी चेनम्मा ने युद्ध में अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए थे। हालांकि उन्हें युद्ध में कामयाबी नहीं मिली और उन्हें कैद कर लिया गया। अंग्रेजों के कैद में ही रानी चेनम्मा का निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और रानी चेन्नम्मा · और देखें »

रामन अनुसन्धान संस्थान

वैज्ञानिक अनुसन्धान संस्थान-रामन अनुसन्धान संस्थान रामन अनुसन्धान संस्थान (Raman Research Institute (RRI)) भारत का एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक अनुसंधान संस्थान है। यह बंगलुरु में स्थित है। इसकी स्थापना नोबेल पुरस्कार से सम्मानित भारतीय वैज्ञानिक चन्द्रशेखर वेंकट रामन ने की थी। यह संस्थान सी वी रामन के निजी शोध संस्थान के रूप में आरम्भ हुआ किन्तु आजकल यह भारत सरकार द्वारा वित्तपोषित है। रामन अनुसंधान संस्थान अब एक स्वायत्त अनुसंधान संस्थान है, जो आधारभूत विज्ञान के अनुसंधान में कार्यरत / निरत है। भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग से निधि प्राप्त करने हेतु सन् 1972 में, आर.आर.आई को सहायता प्राप्त स्वायत्त अनुसंधान के रूप में पुनर्गठित किया गया। इसके प्रशासन और प्रबंधन के लिए विनियमों और उपविधियों का एक निर्धारित किया गया। आज संस्थान में अनुसंधान के प्रमुख क्षेत्र हैं - खगोल विज्ञान एवं ताराभौतिकी, प्रकाश एवं पदार्थ भौतिकी, मृदु संघनित पदार्थ तथा सैद्धांतिक भौतिकी। अनुसंधान गतिविधियों में रसायन विज्ञान, द्रव स्फटिक, जैविक विज्ञान में भौतिकी और संकेत प्रक्रमण, प्रतिबिंबन एवं उपकरण-विन्यास सम्मिलित हैं। .

नई!!: बंगलौर और रामन अनुसन्धान संस्थान · और देखें »

रामा गोविंदराजन

राम गोविंदराजन, एक भारतीय वैज्ञानिक है जो द्रव डायनेमिक्स के क्षेत्र में विशेष है। वह पूर्व में इंजीनियरिंग मैकेनिक्स यूनिट जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च में काम कर रहे थे और अब टीआईएफआर हैदराबाद में एक प्रोफेसर है। .

नई!!: बंगलौर और रामा गोविंदराजन · और देखें »

रामकृष्णानन्द

स्वामी रामकृष्णानन्द स्वामी रामकृष्णानन्द (1863-1911) रामकृष्ण के प्रमुख शिष्यों में से एक थे। उनका पूर्व नाम शशिभूषण चक्रबर्ती था। वे मद्रास और बैंगलोर में स्थित रामकृष्ण मठ के संस्थापक थे।.

नई!!: बंगलौर और रामकृष्णानन्द · और देखें »

राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला

एन ए एल सारस - भारत में निर्मित प्रथम नागरिक बहुउद्देश्यीय विमान राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला एन ए एल भारत की दूसरी सबसे बड़ी एयरोस्पेस कंपनी है। यह वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद द्वारा १९५९ मे दिल्ली में स्थापित किया गया था और इसका मुख्यालय १९६० में बंगलौर ले जाया गया। यह फर्म एचएएल, डीआरडीओ और इसरो के साथ मिलकर काम करती है और असैनिक विमानों के विकास के लिये जिम्मेदार है। एनएएल एक उच्च प्रौद्योगिकी उन्मुख संस्था है जो एयरोस्पेस और संबंधित उन्नत विषयों पर ध्यान केंद्रित करती है। यह मूल रूप से राष्ट्रीय वैमानिकी प्रयोगशाला के रूप में शुरू किया था और बाद मे नाम बदलकर राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला कर दिया गया जो इसकी भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में भागीदारी, अपने बहुविधा गतिविधियों और ग्लोबल पोजीशनिंग क्षेत्र मे अनुसंधान को प्रतिबिंबित करती है। यह भारत की अकेली असैनिक एयरोस्पेस प्रयोगशाला है जिसकी उच्च स्तरीय क्षमता और उसके वैज्ञानिकों की विशेषज्ञता को विश्व स्तर पर स्वीकार किया गया है। एनएएल मे १३०० कर्मचारी है जिसमे ३५० पूर्ण रूप से अनुसंधान और विकास के लिये है। एनएएल नीलकंठन पवन सुरंग केन्द्र और एक कम्प्यूटरीकृत थकान परीक्षण जैसी सुविधाओ से सुसज्जित है। एनएएल मे एयरोस्पेस विफलताओं और दुर्घटनाओं की जांच के लिए सुविधाएं हैं। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशाला · और देखें »

राष्ट्रीय प्रगत अध्ययन संस्थान

राष्ट्रीय प्रगत अध्ययन संस्थान (National Institute of Advanced Studies / NIAS) बंगलुरु में स्थित अन्तरविषयी एवं बहुविषयी अनुसंधान में संलग्न एक उच्च शिक्षा का केन्द्र है।.

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय प्रगत अध्ययन संस्थान · और देखें »

राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान

राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान (National Institute of fashion Technology / NIFT) भारत में फैशन डिजाइन, प्रबंधन और तकनीकी के क्षेत्र में एक प्रमुख संस्थान हैं। वर्ष 1986 में भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय के तत्वावधान में राष्ट्रीय फैशन टैक्नालॉजी संस्थान की एक शीर्ष निकाय के रूप में स्थापना की गई थी। भारत की संसद द्वारा पारित निफ्ट अधिनियम 2006 के माध्यम से निफ्ट को अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों की भांति फैशन प्रौद्योगिकी में शिक्षा के विकास और अनुसंधान के लिए सांविधिक दर्जा प्रदान किया गया है जिससे यह संस्थान अपने विद्यार्थियों को डिग्री और अन्य शैक्षिक प्रमाण पत्र प्रदान कर सकेगा। इस संस्थान ने भारतीय फैशन उद्योग को विश्व के उत्कृष्ट निपुण डिजाइनरों, प्रबंधन और विनिर्माण प्रौद्योगिकी की जानकारी दी है। इस संस्थान ने शिक्षा प्राप्त करने का वातावरण तैयार किया है इससे नवीनता, संरचनात्मक और श्रेष्ठता प्राप्त करने में प्रोत्साहन मिलता है। निफ्ट एक बहुशिक्षा प्रदान करने का बहुआयामी संस्थान है, जो निरंतर पथप्रदर्शक की भूमिका अदा करता है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय फैशन टेक्नालॉजी संस्थान · और देखें »

राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान

राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान, ०९ से १६ वर्ष के आयु वर्ग के रचनात्मक बच्चों के लिए भारत सरकार द्वारा प्रदत्त सम्मान है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय (भारत सरकार) के स्वायत्त निकाय द्वारा राष्ट्रीय बाल भवन द्वारा दिए जाने वाले सम्मान में एक पट्टिका, एक प्रमाण पत्र शैक्षिक संसाधन और नकद पुरस्कार सम्मिलित हैं। राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान प्रायः नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। बालश्री सम्मान भारत के ३ राष्ट्रपति पुरस्कारों में से एक है, बाल श्री देश का सर्वोच्च बाल पुरस्कार हैं। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान · और देखें »

राष्ट्रीय मानसिक जाँच एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान

राष्ट्रीय मानसिक जाँच एवं स्नायु विज्ञान संस्थान(अंग्रेज़ी:नेशनल इंस्टिटयूट ऑफ मेण्टल हेल्थ एण्ड न्यूरो साइंसेस) बंगलुरु स्थित एशिया के सम्मानित मानसिक संस्थानों में से एक है। नेशनल मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो (निमहांस), मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका तंत्र के क्षेत्र में एक बहुकषेत्रीय संस्थान है। दिनांक २७ दिसंबर, १९७४ को पूर्व मानसिक अस्पताल और अखिल भारतीय मानसिक स्वास्थ्य संस्थान के एकीकरण का परिणाम यह संसथान था। १४ नवंबर, १९९४ को संस्थान को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की धारा-३ १९५६ के तहत, मानित विश्वविद्यालय का स्तर प्राप्त हुआ था। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय मानसिक जाँच एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान · और देखें »

राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद

राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (National Assessment and Accreditation Council) (NAAC, नैक) एक संस्थान है जो भारत के उच्च शिक्षा संस्थानों का आकलन तथा प्रत्यायन (मान्यता) का कार्य करती है। इसकी स्थापना १९९४ में की गयी थी। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग (भारत)

भारत के राजमार्ग भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग, भारत की केन्द्रीय सरकार द्वारा संस्थापित और सम्भाले जानी वाली लंबी दूरी की सड़के है। मुख्यतः यह सड़के 2 पंक्तियो की है, प्रत्येक दिशा में जाने के लिए एक पंक्ति। भारत के राजमार्गो की कुल दूरी लगभग 58,000 किमी है, जिसमे से केवल 4,885 किमी की सड़को के मध्य पक्का विभाजन बनाया गया है। राजमार्गो की लंबाई भारत के सड़को का मात्र 2% है, लेकिन यह कुल यातायात का लगभग 40% भार उठाते है। 1995 में पास संसदीय विदेहक के तहत इन राजमार्गो को बनाने और रख-रखाव के लिए निजी संस्थानो की हिस्सेदारी को मंजूरी दी गई। हाल के समय में इन राजमार्गो का तेजी से विकास हुआ जिनके तहत भारत के शहर और कस्बो के बीच यातायात के समय में गिरावट आई। कुछ शहरो के बीच 4 और 6 पंक्तियों के राजमार्गो का भी विकास हुआ। भारत का सबसे बड़ा राजमार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग ७ (NH7) है, जो उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर को भारत के दक्षिणी कोने, तमिलनाडु के कन्याकुमारी शहर के साथ जोड़ता है। इसकी लंबाई 2369 किमी है। सबसे छोटा राजमार्ग 5 किलोमीटर लंबा राष्ट्रीय राजमार्ग NH71B (NH71B) है,। काफ़ी सारे राजमार्गों का अभी भी विकास हो रहा है। ज्यादतर राजमार्गों को कंक्रीट का नहीं बनाया गया है। मुम्बई पुणे एक्सप्रेस-वे इसका एक अपवाद है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय राजमार्ग (भारत) · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ४४ (भारत)

राष्ट्रीय राजमार्ग ४४ (National Highway 44, NH 44) भारत का सबसे लम्बा राजमार्ग है। यह उत्तर में श्रीनगर से आरम्भ होकर दक्षिण में कन्याकुमारी में समाप्त होता है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय राजमार्ग ४४ (भारत) · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ७

यह भारत का सबसे बड़ा राजमार्ग है, जो उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर को भारत के दक्षिणी कोने, तमिलनाडु के कन्याकुमारी शहर के साथ जोड़ता है। इसकी लंबाई 2369 किमी है। इसका रूट वाराणसी - मंगावन – रीवा - जबलपुर – लख्नादों - नागपुर – हैदराबाद – कुरनूल - बैंगलोर – कृश्णागिरि - सलेम – डिंडीगुल – मदुरई – तिरुनावली - कन्याकुमारी है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय राजमार्ग ७ · और देखें »

राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद

राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (अंग्रेज़ी:नेशनल काउन्सिल ऑफ टीचर्स एड्युकेशन, लघु:NCTE) भारत सरकार की एक संस्था है, जिसकी स्थापना राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद अधिनियम, १९९३ (#७३, १९९३) के अन्तर्गत १७ अगस्त, १९९५ में की गई थी। इसका उत्तरदायित्व भारतीय शिक्षा प्रणाली के मानक, प्रक्रियाएं एवं धाराओं की स्थापना एवं निरीक्षण करना है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद · और देखें »

राष्ट्रीय वांतरिक्ष प्रयोगशालाएं

राष्‍ट्रीय वांतरिक्ष प्रयोगशालाएं (अंग्रेज़ी:नेशनल एरोस्पेस लैबोरेटरीज़, एनएएल) वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद का एक संघटक है, जो वैमानिकी एवं सम्‍बद्ध क्षेत्र में भारत का सर्वश्रेष्‍ठ नागर अनुसंधान एवं विकास संस्‍थापन है एनएएल की स्‍थापना 1959 में दिल्‍ली में हुई थी फिर 1960 में इसे बेंगलूर लाया गया। एनएएल का मुख्‍य उद्देश्‍य है सुदृढ विज्ञान द्वारा वांतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास तथा उडा़न यानों के अभिकल्‍प एवं निर्माण में इनका प्रयोगात्‍मक प्रयोग सामान्‍य औद्योगिक अनुप्रयोगों में आधारभूत वांतरिक्ष प्रौद्योगिकियों का प्रयोग करना भी एनएएल का उद्देश्‍य है। 1959 में जब एनएएल की स्‍थापना हुई (1993 तक राष्‍ट्रीय वैमानिकी प्रयोगशालाएं कहता था) वैमानिकी क्षेत्र में उच्‍च स्‍तरीय अनुसंधान एवं विकास और राष्‍ट्रीय वांतरिक्ष कार्यक्रमों केलिए अत्‍याधुनिक सुवधिाएं उपलब्‍ध कराना ही इसका प्रमुख उद्देश्‍य था जैसे अपने दृश्‍य वक्‍तव्‍य में दर्शाया है, एनएएल का मुख्‍य उद्देश्‍य है सुदृढ विज्ञान द्वारा वांतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास तथा उडा़न यानों के अभिकल्‍प एवं निर्माण में इनका प्रयोगात्‍मक प्रयोग सामान्‍य औद्योगिक अनुप्रयोगों में आधारभूत वांतरिक्ष प्रौद्योगिकियों का प्रयोग करना भी एनएएल का उद्देश्‍य है। वांतरिक्ष क्षेत्र में एनएएल का कार्य पूर्ण व्‍यापी है कुछ ही सालों में, एनएएल ने भारतीय वांतरिक्ष कार्यक्रमों के लिए महत्‍वपूर्ण योगदान प्रदान किया है, कभी कभी इन कार्यक्रमों के लिए राष्‍ट्रीय एजेण्‍डा भी बना दिया है पिछले दशक के दौरान एनएएल ने नागर क्षेत्र हेतु छोटे व मध्‍यम आकारवाले वायुयान के अभिकल्‍प एवं विकास पर किए गए प्रयासों में भी अग्र रहा है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय वांतरिक्ष प्रयोगशालाएं · और देखें »

राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान

राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान (National Power Training Institute (NPTI)) विद्युत क्षेत्र में मानव संसाधन विकास एवं प्रशिक्षण के लिए भारत का राष्ट्रीय शीर्ष निकाय है। यह एक ISO 9001 तथा ISO 14001 संगठन है। यह भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के अन्तर्गत एक स्वायत्त संस्था है। इसका कारपोरेट कार्यालय फरीदाबाद में है। इसके अलावा भारत के विभिन्न विद्युत क्षेत्रों में इसकी इकाइयाँ हैं, जैसे नेवेली (1965), दुर्गापुर (1968), बदरपुर, नई दिल्ली (1974), नागपुर (1975), बंगलौर, गुवाहाटी, नांगल आदि। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण प्रतिष्ठान · और देखें »

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, दिल्ली

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय की दिल्ली में इंडिया गेट के निकट स्थित इमारत। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, या नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट नई दिल्ली में इंडिया गेट के पास स्थित है। इसकी आवश्यकता सन 1949 में कोलकाता के कला-सम्मेलन में महसूस की गई, जिसके परिणामस्वरूप 29 मार्च,1954 में इसकी स्थापना जयपुर हाउस में, की गई। यह कला दीर्घा भारत में अपने आप में ऐसा अद्भुत संग्रहालय है, जिसमें सोलह हज़ार से भि अधिक कलाकृतियों का संग्रह है, तथा इसमें लगातार वृद्धि हो रही है। यह संग्रहालय संस्कृति मंत्रालय द्वारा अधीनस्थ संस्था रूप में प्रशासित एवं संचालित है। इस संग्रहालय की दो और शाखाएं हैं: -एक मुंबई में व –एक बंगलौर में। देश का यह संग्रहालय पिछले 150 वर्षों की सांस्कृतिक व समकालीन ललितकला का भंडार समेटे हुए है। इसमें सन 1857 से आरंभ करते हुए दृश्य एवं शिल्पकला को समय के साथ बदलते हुए स्वरूपों में दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत किया गया है। .

नई!!: बंगलौर और राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, दिल्ली · और देखें »

राहुल बोस

राहुल बोस (রাহূল বোস) एक हिन्दी फिल्म अभिनेता हैं। इनका जन्म 27 जुलाई 1967 को रुपेन और कुमुद बोस के यहाँ हुआ था। राहुल बोस ने अपना बचपन बंगलौर में गुजारा और बाद में अपने परिवार के साथ मुंबई, महाराष्ट्र आ गए। .

नई!!: बंगलौर और राहुल बोस · और देखें »

राहील आज़म

राहील आज़म एक भारतीय अभिनेता हैं। यह मुख्य रूप से स्टार प्लस के धारावाहिक हातिम के कारण जाने जाते हैं। .

नई!!: बंगलौर और राहील आज़म · और देखें »

राजधानी एक्स्प्रेस

राजधानी एक्सप्रेस भारतीय रेल की एक पैसेंजर रेल सेवा है जो भारत की राजधानी दिल्ली को देश के विभिन्न राज्यों की राजधानी को जोड़ता है। .

नई!!: बंगलौर और राजधानी एक्स्प्रेस · और देखें »

राजभवन (कर्णाटक)

राजभवन बंगलौर भारत के कर्णाटक राज्य के राज्यपाल का आधिकारिक आवास है। यह राज्य की राजधानी बंगलौर में स्थित है। हन्सराज भारद्वाज कर्णाटक के वर्तमान राज्यपाल हैं। .

नई!!: बंगलौर और राजभवन (कर्णाटक) · और देखें »

राजस्थान पत्रिका

राजस्थान पत्रिका हिन्दी भाषा में प्रकाशित होने वाला एक भारतीय समाचार पत्र है। यह अखबार भारत के सात राज्यों से प्रकाशित हो रहा है। यह जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, कोटा और सीकर सहित कई अन्य क्षेत्रों से राजस्थान से प्रकाशित होता है और राजस्थान के अलावा भोपाल, इन्दौर, जबलपुर, रायपुर, अहमदाबाद, ग्वालियर, कोलकाता, चेन्नई, नई दिल्ली और बंगलौर से प्रकाशित होता है। .

नई!!: बंगलौर और राजस्थान पत्रिका · और देखें »

राजेश्वरी चटर्जी

राजेश्वरी चटर्जी (२४ जनवरी १९२२- ३ सितम्बर २०१०) एक भारतीय वैज्ञानिक और एक शिक्षिका थी। वह कर्नाटक से पहली महिला इंजीनियर थी। भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी), बंगलौर में उसके कार्यकाल के दौरान, चटर्जी एक प्रोफेसर थी और फिर बाद में इलेक्ट्रो-संचार इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष थी। .

नई!!: बंगलौर और राजेश्वरी चटर्जी · और देखें »

राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय

राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (अंग्रेज़ी:Rajiv Gandhi University of Health Sciences), कर्नाटक की राजधानी बंगलुरु में स्थित एक विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना १९९६ में कर्नाटक सरकार द्वारा की गई थी। .

नई!!: बंगलौर और राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय · और देखें »

राघवेंद्र गडगकर

प्रो॰ राघवेंद्र गडगकर (अँग्रेजी:Raghavendra Gadagkar, जन्म: 28 जून 1953), एक भारतीय जैवविज्ञानी हैं और बंगलुरू स्थित भारतीय विज्ञान अकादमी के सेंटर फॉर इकोलॉजिकल ऑफ सांइस में प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं। वे भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने भारत और जर्मनी के बीच अनुसंधान सहयोग को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्हें विगत 7 अगस्त, 2015 को जर्मनी के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘द क्रास ऑफ द ऑर्डर ऑफ मेरिट’ से बंगलुरू स्थित जर्मनी वाणिज्य दूतावास में सम्मानित किया गया। उन्हें यह सम्मान व्यवहार पारिस्थितिकी और समाज जीव-विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रदान किया गया है। .

नई!!: बंगलौर और राघवेंद्र गडगकर · और देखें »

रागिनी द्विवेदी

रागिनी द्विवेदी (जन्म:24 मई 1990) भारतीय मॉडल और फ़िल्म अभिनेत्री है जो दक्षिण भारतीय फ़िल्मों में काम करती है पर मुख्य तौर पर कन्नड़ फ़िल्मों में। एक मॉडल के रूप में, वह 2008 फेमिना मिस इंडिया प्रतियोगिता की उपविजेता रही थी और 2009 पैंटालून फेमिना मिस इंडिया प्रतियोगिता में फेमिना मिस ब्यूटीफुल हेयर का पुरस्कार जीता था। वीर मदकरी (2009) नामक फ़िल्म उनकी पहली फ़िल्म थी। उन्होनें कई सफल कन्नड़ भाषा की फिल्मों में अभिनय करके प्रसिद्धि प्राप्त की, केम्पे गौड़ा (2011), शिव (2012), बंगारी (2013) और रागिनी आईपीएस (2014), इस प्रकार उन्होनें खुद को कन्नड़ सिनेमा में अग्रणी अभिनेत्रियों में से एक के रूप में स्थापित किया है। .

नई!!: बंगलौर और रागिनी द्विवेदी · और देखें »

रिपब्लिक टीवी

रिपब्लिक टीवी (Republic TV) भारत का अंग्रेजी भाषा का एक समाचार एवं समसामयिक घटनाओं का टीवी चैनेल है। इसका आधार मुम्बई और बंगलुरु में है। यह स्वतंत्र चैनेल ६ मई २०१७ को १० बजे सुबह आरम्भ हुआ। .

नई!!: बंगलौर और रिपब्लिक टीवी · और देखें »

रजनीकान्त

रजनीकान्त;(मराठी:शिवाजीराव गायकवाड) एक तमिल एवं हिन्दी फिल्म अभिनेता हैं। इन्‍हे दक्षिण भारत मे भगवान की तरह पूजा जाता है। उन्होने अभिनेता के रूप में अपनी शुरुआत राष्ट्रीय फ़िल्म अवार्ड विजेता फ़िल्म अपूर्व रागंगल (१९७५) से की, जिसके निर्देशक के.

नई!!: बंगलौर और रजनीकान्त · और देखें »

रघु दीक्षित

रघु दीक्षित (कन्नड़: ರಘು ದೀಕ್ಷಿತ್; जन्म ११ नवम्बर १९७४) एक भारत के रॉक संगीत गायक हैं। रघु का गाना "नो मैन विल एवर लव यू" आई टूयन पर बहुत डाउनलोड होने वाला गानों की सूची में शामिल हो गया है। वह मानते हैं कि संगीत में पारंगत होने की हर किसी की इच्छा होती है चाहे उसके लिये तालीम ली हो या नहीं। उन्होंने हाल ही में यशराज फिल्म की मुक्षसे फ्रैंडशिप करोगे के लिये संगीत निर्देशन किया है। इससे पहले भी वह कन्नड फिल्म जगत में अपना नाम बना चुके हैं। .

नई!!: बंगलौर और रघु दीक्षित · और देखें »

रवि रामपॉल

रवींद्रनाथ रामपॉल (Ravindranath Rampaul) (जन्म; १५ अक्टूबर १९८४, प्रेयसाल, त्रिनिदाद और टोबैगो) एक वेस्टइंडीज के क्रिकेट खिलाड़ी है। ये भारतीय मूल के पहले ऐसे तेज गेंदबाज है जो वेस्टइंडीज के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलते हो। ये वेस्टइंडीज टीम के लिए टेस्ट, वनडे क्रिकेट और साथ ही टी २० क्रिकेट भी खेलते है। रवि रामपॉल आईपीएल में बैंगलोर की फ्रैंचाइज के लिए २०१३ के सीजन में खेले थे। रामपॉल वेस्टइंडीज टीम के लिए दाहिने हाथ से तेज गेंदबाजी और बाएं हाथ से बल्लेबाजी भी करते है ये मुख्य रूप से गेंदबाजी के लिए जाने जाते है। .

नई!!: बंगलौर और रवि रामपॉल · और देखें »

रेडियो मिर्ची

रेडियो मिर्ची भारत का एक लोकप्रिय गैर सरकारी एफ.

नई!!: बंगलौर और रेडियो मिर्ची · और देखें »

रेडियो सिटी

150px रेडियो सिटी भारत का एक गैर शासकीय रेडियो स्टेशन है। इसका प्रसारण ९१.१ मेगाहर्ट्ज़ पर होता है। इस रेडियो स्टेशन कि शुरुआत सबसे पहले मुंबई से २००४ में हुई। अब यह भारत के कई शहरों और महानगरों में एक प्रचलित रेडियो स्टेशन है। इसकीं मुख्य कार्यकारी अधिकारी मिस.

नई!!: बंगलौर और रेडियो सिटी · और देखें »

रेमो डीसूजा

रेमो डीसूजा (जन्म: रमेश गोपी 2 अप्रैल 1974) एक भारतीय नृत्यांगना, कोरियोग्राफर, अभिनेता और फिल्म निर्देशक है। हालांकि वह नृत्यकला में मुख्य रूप से शामिल है। उन्होने ज्यादतर मुख्य रूप से बंगाली सिनेमा फिल्म उद्योग मे योगदान दिया है। वह एक रियलिटी डांस शो डांस इंडिया डांस तीन जजो में से एक है। वे 2010 में शो झलक दिखला जा में जज के रूप में भारतीय अभिनेत्रियों माधुरी दीक्षित और मलाइका अरोड़ा खान के साथ साथ थे। वह वर्तमान में डांस इंडिया डांस (सीज़न 1 और 2) के प्रतियोगियो के साथ भारत की पहली 3D नृत्य मूवी बनाने के लिए काम कर रहे है। .

नई!!: बंगलौर और रेमो डीसूजा · और देखें »

रेखा भारद्वाज

रेखा भारद्वाज एक विख्यात भारतीय पार्श्वगायिका हैं। वे बॉलीवुड में अपने अनूठे लहज़े, गायन शैली एवं गीतों के चुनाव के लिए जानी जाती हैं। उन्होंने एक पाकिस्तानी धारावाहिक हमनशीं के लिए एक गाना "कभी आशना कभी अजनबी" रिकॉर्ड किया था जिसके लिए उन्हें "हम अवार्ड फॉर बेस्ट ओरिजिनल साउंडट्रैक" के लिए मनोनीत किया गया था। भारद्वाज ने फ़िल्मी उद्योग में खुद को एक सफ़ल गायिका के तौर पर स्थापित किया है। उन्हें अब तक दो फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार और एक राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार मिल चुके हैं। .

नई!!: बंगलौर और रेखा भारद्वाज · और देखें »

रेखा राजू

रेखा राजू एक भारतीय शास्त्रीय नृत्य कलाकार और शिक्षक हैं जो की बैंगलोर, कर्नाटक से है।The New Indian Express News on 27 May 2013 उनका जन्म केरल के पलक्कड़ जिले में, थियेटर कलाकार श्री एम.आर.राजू और श्रीमती जयलक्ष्मी राघवन के घर हुआ था। उन्होंने चार साल की उम्र में शास्त्रीय नृत्य सीखना शुरू कर दिया था। और उन्होंने विभिन्न गुरुओं के तहत प्रख्यात प्रशिक्षित किया, जिनमें प्रसिद्ध गुरु श्रीमती कलामंदलम उषा दातार, गुरु श्री राजू दातार, गुरु श्रीमती गोपीका वर्मा और गुरु प्रो जनार्दनन शामिल हैं। वह भरतनाट्यम और मोहिनीअट्टम जैसे नृत्य रूपों में माहिर हैं। २००३ में उन्होंने बैंगलोर के रवींद्र कालक्षेत्र में अपना पहला अर्नाग्राम किया।Website of Alliance Farncaise उन्होंने चार साल की उम्र से भारत और विदेश में विभिन्न चरणों में प्रदर्शन कर रही है और भारतीय सांस्कृतिक संबंधों के लिए भारतीय परिषद में कार्यक्रम, कन्नड़ संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित युवा सौभा सहित, भारत में कई सम्मानित नृत्य संस्थानों के लिए एक एकल कलाकार के रूप में प्रदर्शन कर रही है, विश्व संस्कृति संस्थान, दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय महोत्सव, पूना डांस महोत्सव, काजुराहो नृत्य महोत्सव, कोनार्क नृत्य महोत्सव, पुराना किला, चेन्नई मौसमी नृत्य महोत्सव, चिदंबरम नृत्य महोत्सव, बेलगांव में विश्व कन्नड़ सम्मेलन, आंध्र संगीत और नृत्य महोत्सव आदि। राजू ने तंजौर नृत्य महोत्सव में भाग लिया जहां १००० नर्तकियों ने लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में प्रवेश किया था। उन्हें भारतीय कला के प्रचार के लिए सर्वश्रेष्ठ युवा नर्तक के रूप में बैंगलोर तमिल संगाम द्वारा सम्मानित किया गया है। और कलहल्ली मंदिर ट्रस्ट द्वारा स्वर्ण मुखी का सम्मान भी दिया गया है। .

नई!!: बंगलौर और रेखा राजू · और देखें »

रॉबर्ट वाड्रा

रॉबर्ट वाड्रा (जन्म-18 मई 1969) भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की सुपुत्री प्रियंका के पति हैं। .

नई!!: बंगलौर और रॉबर्ट वाड्रा · और देखें »

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर (लघु:RCB) बैंगलोर आधारित इंडियन प्रीमियर लीग की एक टीम है। यह टीम भारतीय उद्योगपति विजय माल्या के स्वामित्व वाली है। इसके सी.ई.ओ. हैं बृजेश पटेल एवं कप्तान विराट कोहली है कोहली की कप्तानी में २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग में ये फाइनल तक गए परन्तु सनराइजर्स हैदराबाद से मात खानी पड़ी। .

नई!!: बंगलौर और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर · और देखें »

रोहन बोपन्ना

रोहन बोपन्ना (जन्म: 4 मार्च 1980) एक भारतीय पेशेवर टेनिस खिलाड़ी है। .

नई!!: बंगलौर और रोहन बोपन्ना · और देखें »

रोहिणी बालाकृष्णन

रोहिणी बालाकृष्णन भारतीय विज्ञान संस्थान में एक वरिष्ठ प्रोफेसर और पारिस्थिकी वैज्ञानिक हैं। वह पशु संचार और बायोएकॉस्टिक के क्षेत्र में विशेषज्ञ हैं। प्रसिद्ध शोधकर्ताओं द्वारा प्रकाशित अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित उनके शोध को भारतीय समाचार पत्रों में भी सभी का ध्यान केन्द्रित किया गया। .

नई!!: बंगलौर और रोहिणी बालाकृष्णन · और देखें »

रोहिणी गोडबोले

रोहिणी गोडबोले एक भारतीय भौतिक विज्ञानी और अकादमिक है। वह उच्च ऊर्जा भौतिकी, भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर के केंद्र में प्रोफेसर हैं। वह भारत के विज्ञान के तीनों अकादमियों और विकासशील विश्व के विज्ञान अकादमी (टीयूएएस) के निर्वाचित साथी हैं। रोहिणी गोडबोले ने अपनी बीएससी सर परशुरामभाऊ कॉलेज, पुणे विश्वविद्यालय से प्राप्त कि और एमएससी, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई से की। स्टॉनी ब्रुक में स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क के सैद्धांतिक कण भौतिकी में पीएचडी की उन्होंने। .

नई!!: बंगलौर और रोहिणी गोडबोले · और देखें »

रोहित शर्मा

रोहित गुरूनाथ शर्मा (Rohit Sharma) (जन्म: ३० अप्रैल १९८७) एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी है। इनका जन्म नागपुर, महाराष्ट्र में हुआ था। रोहित मुख्य रूप से सलामी बल्लेबाज के रूप में जाने जाते हैं। रोहित टेस्ट क्रिकेट, वनडे और ट्वेन्टी-ट्वेन्टी के अलावा इंडियन प्रीमियर लीग में भी खेलते है इसके अतिरिक्त मुम्बई इंडियन्स टीम के कप्तान भी है। वर्तमान में वे भारतीय वनडे टीम के उप कप्तान भी है। उन्होंने अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के खिलाफ ०९ नवम्बर २०१३ को कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर खेलकर की थी उस मैच में रोहित ने १७७ रनों की पारी खेली थी, उन्होंने १०८ वनडे मैचों के बाद टेस्ट मैच खेला था। जबकि एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर की शुरुआत २३ जून २००७ को आयरलैण्ड क्रिकेट टीम के खिलाफ की थी। इनके अलावा रोहित ने अपने ट्वेन्टी-ट्वेन्टी में अपना पहला मैच १९ सितम्बर २००७ को इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ खेला था। १३ नवम्बर २०१४ को कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर श्रीलंकाई टीम के खिलाफ बल्लेबाजी करते हुए २६४ रनों की पारी खेलकर एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक मैच में सबसे ज्यादा रन अर्थात सर्वोच्च स्कोर बनाकर नया कीर्तिमान कायम किया है। रोहित शर्मा एक दिवसीय क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी है। इन्होंने वनडे में तीन दोहरे शतक लगाये है जो अभी तक किसी बल्लेबाज ने नहीं लगाए है। फ़ोर्ब्स इंडिया २०१५ के भारत के १०० शीर्ष प्रसिद्ध व्यक्तियों में शर्मा को ८वाँ स्थान मिला। महेंद्र सिंह धोनी और गौतम गंभीर के बाद अपनी टीम को आईपीएल खिताब दिलाने वाले तीसरे कप्तान हैं। .

नई!!: बंगलौर और रोहित शर्मा · और देखें »

रोहित शर्मा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची

रोहित शर्मा एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो शीर्ष क्रम में दाईने हाथ से बल्लेबाजी करते है। रोहित शर्मा क्रिकेट इतिहास के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीन बार दोहरे शतक लगाए हैं। इन्होंने अब तक २२ शतक लगाए है जिसमें १७ वनडे शतक है जबकि ३टेस्ट क्रिकेट में शतक है तथा २ ट्वेन्टी-ट्वेन्टी में भी शतक है। रोहित ने अपना पहला वनडे मैच आयरलैण्ड क्रिकेट टीम के खिलाफ जून २००७ में किया था जबकि पहला शतक ज़िम्बाब्वे के खिलाफ २०१० में बनाया था,उस मैच में ११४ रन बनाए थे। इन्होंने अपने टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत २०१३ में वेस्ट इंडीज़ के खिलाफ की थी। उस मैच में इन्होंने 177 रनों की पारी खेली थी। १३ नवम्बर २०१४ को इन्होंने श्रीलंका क्रिकेट टीम के खिलाफ कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर वनडे मैच में २६४ रन बनाकर एक नया रिकॉर्ड बनाया था। ०२ अक्तूबर २०१५ को रोहित शर्मा ने टी२० में शतक लगाकर दूसरे भारतीय खिलाड़ी बन गए जिन्होंने टी२० में शतक लगाया। .

नई!!: बंगलौर और रोहित शर्मा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची · और देखें »

लाल बाग

लाल बाग कर्णाटक की राजधानी बंगलोर में स्थित एक उद्यान है। यहाँ कई एकड़ क्षेत्र में फैले घास के लॉन, दूर तक फैली हरियाली, सैंकड़ों वर्ष पुराने पेड़, सुंदर झीलें, कमल के तालाब, गुलाबों की क्यारियाँ, दुर्लभ समशीतोष्ण और शीतोष्ण पौधे, सजावटी फूल हैं। यह स्थान बंगलोर में लाल बाग बॉटनिकल गार्डन, या लाल बाग वनस्पति उद्यान के नाम से भी जाना जाता है। इसका विस्तार २४० एकड़ क्षेत्र में है तथा १७६० में इसकी नींव हैदर अली ने रखी और टीपू सुल्तान ने इसका विकास किया। लालबाग के बीचोंबीच एक बड़ा ग्लास-हाउस है जहां वर्ष में दो बार, जनवरी और अगस्त में पुष्प प्रदर्शनी का आयोजन किया जाता है। पार्क के भीतर ही एक डीयर- एंक्लेव भी है। इस उद्यान में बहुत सी भारतीय फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। .

नई!!: बंगलौर और लाल बाग · और देखें »

लाइव इंडिया

लाइव इंडिया, जिसे पहले जनमत नाम से जाना जाता था, एक भारतीय हिन्दी समाचार चैनल है। जिसके प्रधान संपादक सतीश के सिंह है। लाइव इंडिया ग्रुप डेली अखबार औऱ मैगजीन का भी संचालन करता है। इसने अगस्त 2007 में अहमदाबाद, लखनऊ, श्रीनगर, चंडीगढ़, भोपाल, हैदराबाद, बैंगलोर, चेन्नई, भुवनेश्वर, कोलकाता और गुवाहाटी में अपने विभाग खोले। इससे पहले इनका कार्यालय मुंबई और दिल्ली में था। .

नई!!: बंगलौर और लाइव इंडिया · और देखें »

लखनऊ

लखनऊ (भारत के सर्वाधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी है। इस शहर में लखनऊ जिले और लखनऊ मंडल के प्रशासनिक मुख्यालय भी स्थित हैं। लखनऊ शहर अपनी खास नज़ाकत और तहजीब वाली बहुसांस्कृतिक खूबी, दशहरी आम के बाग़ों तथा चिकन की कढ़ाई के काम के लिये जाना जाता है। २००६ मे इसकी जनसंख्या २,५४१,१०१ तथा साक्षरता दर ६८.६३% थी। भारत सरकार की २००१ की जनगणना, सामाजिक आर्थिक सूचकांक और बुनियादी सुविधा सूचकांक संबंधी आंकड़ों के अनुसार, लखनऊ जिला अल्पसंख्यकों की घनी आबादी वाला जिला है। कानपुर के बाद यह शहर उत्तर-प्रदेश का सबसे बड़ा शहरी क्षेत्र है। शहर के बीच से गोमती नदी बहती है, जो लखनऊ की संस्कृति का हिस्सा है। लखनऊ उस क्ष्रेत्र मे स्थित है जिसे ऐतिहासिक रूप से अवध क्षेत्र के नाम से जाना जाता था। लखनऊ हमेशा से एक बहुसांस्कृतिक शहर रहा है। यहाँ के शिया नवाबों द्वारा शिष्टाचार, खूबसूरत उद्यानों, कविता, संगीत और बढ़िया व्यंजनों को हमेशा संरक्षण दिया गया। लखनऊ को नवाबों के शहर के रूप में भी जाना जाता है। इसे पूर्व की स्वर्ण नगर (गोल्डन सिटी) और शिराज-ए-हिंद के रूप में जाना जाता है। आज का लखनऊ एक जीवंत शहर है जिसमे एक आर्थिक विकास दिखता है और यह भारत के तेजी से बढ़ रहे गैर-महानगरों के शीर्ष पंद्रह में से एक है। यह हिंदी और उर्दू साहित्य के केंद्रों में से एक है। यहां अधिकांश लोग हिन्दी बोलते हैं। यहां की हिन्दी में लखनवी अंदाज़ है, जो विश्वप्रसिद्ध है। इसके अलावा यहाँ उर्दू और अंग्रेज़ी भी बोली जाती हैं। .

नई!!: बंगलौर और लखनऊ · और देखें »

लखनऊ की अर्थ व्यवस्था

लखनऊ उत्तरी भारत का एक प्रमुख बाजार एवं वाणिज्यिक नगर ही नहीं, बल्कि उत्पाद एवं सेवाओं का उभरता हुआ केन्द्र भी बनता जा रहा है। उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी होने के कारण यहां सरकारी विभाग एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम ही यहां मध्यम-वर्गीय वेतनभोगियों के नियोक्ता हैं। सरकार की उदारीकरण नीति के चलते यहां व्यवसाय एवं नौकरियों तथा स्व-रोजगारियों के लिए बहुत से अवसर खोल दिये हैं। इस कारण यहां नौकरी पेशे वालों की संख्या निरंतर बढ़ती रहती है। लखनऊ निकटवर्ती नोएडा एवं गुड़गांव के लिए सूचना प्रौद्योगिकी एवं बीपीओ कंपनियों के लिए श्रमशक्ति भी जुटाता है। यहां के सू.प्रौद्योगिकी क्षेत्र के लोग बंगलुरु एवं हैदराबाद में भी बहुतायत में मिलते हैं। शहर में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (एसआईडीबीआई) तथा प्रादेशिक औद्योगिक एवं इन्वेस्टमेंट निगम, उत्तर प्रदेश (पिकप) के मुख्यालय भी स्थित हैं। उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास निगम का क्षेत्रीय कार्यालय भी यहीं स्थित है। यहां अन्य व्यावसायिक विकास में उन्मत्त संस्थानों में कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) एवं एन्टरप्रेन्योर डवलपमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (ईडीआईआई) हैं। .

नई!!: बंगलौर और लखनऊ की अर्थ व्यवस्था · और देखें »

लगोरी

लगोरी (अंग्रेजी:Lagori, dikori or lagoori) (राजस्थानी: सतोळ एक खेल है जो ज्यादातर १० से ज्यादा उम्र वाले ही खेलते हैं। लगोरी राजस्थान में तथा बैंगलोर,चेन्नई में काफी प्रसिद्ध है। राजस्थानी भाषा में इसे सतोळ या सतोलिया के नाम से जाना जाता है। इस खेल में ७ पत्थर के टुकड़े लिए जाते हैं।. .

नई!!: बंगलौर और लगोरी · और देखें »

लेपाक्षि (अनंतपुर)

लेपाक्षि (अनंतपुर) में भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य के अन्तर्गत के अनंतपुर जिले का एक गाँव है। यह हिन्दुपुर से १५ किमी पूर्व में तथा बंगलुरु से १२० किमी उत्तर में स्थित है। यह स्थान सांस्कृतिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। यहाँ विजयनगर साम्राज्य के काल (1336–1646) में निर्मित शिव, विष्णु एवं वीरभद्र के कई मन्दिर हैं। .

नई!!: बंगलौर और लेपाक्षि (अनंतपुर) · और देखें »

लेमन ट्री होटल्स

कोई विवरण नहीं।

नई!!: बंगलौर और लेमन ट्री होटल्स · और देखें »

लेकर हम दीवाना दिल

लेकर हम दीवाना दिल एक भारतीय बॉलीवुड फिल्म है। जिसका निर्देशन आरिफ़ अली और निर्माण दिनेश विजन व सैफ़ अली ख़ान ने किया है। यह फ़िल्म 4 जुलाई 2014 में प्रदर्शित हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और लेकर हम दीवाना दिल · और देखें »

शताब्दी एक्स्प्रेस

सवारी यान (पैसेंजर कार) के अंदर का एक दृश्य शताब्दी एक्सप्रेस रेलगाड़ियाँ तेज चलने वाली सवारी गाड़ियों की एक शृंखला है जिसका परिचालन भारतीय रेल करती है जो भारत के बड़े, महत्वपूर्ण एवं व्यवसायिक शहरों को आपस में जोड़ती है। शताब्दी एक्सप्रेस का परिचालन दिन के समय होता है एवं ये अपने मूलस्थान एवं गंत्व्य की यात्रा एक दिन में ही पूरी कर लेती हैं। .

नई!!: बंगलौर और शताब्दी एक्स्प्रेस · और देखें »

शर्मिला निकोललेट

शर्मिला निकोललेट (जन्म-१२ मार्च,१९९१) एक बंगलोर की इंडो-फ्रेंच पेशेवर गोल्फर हैं। .

नई!!: बंगलौर और शर्मिला निकोललेट · और देखें »

शशि देशपांडे

शशि देशपांडे (जन्म 1938 धारवाड़, कर्नाटक, भारत में), एक पुरस्कार विजेता भारतीय उपन्यासकार है। वह मशहूर कन्नड़ नाटककार और लेखक सरीरंगा की दूसरी बेटी है। वह कर्नाटक में पैदा हुई थी और बॉम्बे (अब मुंबई) और बंगलौर में शिक्षित थीं। देशपांडे की अर्थशास्त्र और कानून में डिग्री है। मुंबई में, उन्होंने भारतीय विद्या भवन में पत्रकारिता का अध्ययन किया और पत्रिका 'ऑनलुक्र' के एक पत्रकार के रूप में कुछ महीने काम किया। उस ने 1978 में लघु कथाओं का पहला संग्रह प्रकाशित किया, और 1980 में उस का पहला उपन्यास "द डार्क होल्ड्स नो टेरर" प्रकाशित किया। उस ने 1990 में दैट लोंग सिलेन्स के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार और 2009 में पद्म श्री पुरस्कार जीता।.

नई!!: बंगलौर और शशि देशपांडे · और देखें »

शिव राजकुमार

पुट्ट स्वामी, जिसे अपना स्क्रिन नाम शिव राजकुमार से जाना जाति है, एक भारतीय अभिनेता, निर्माता, गायक और टेलीविजन प्रस्तोता है जिसे कन्नड फिल्मों में काम करने से जाना जाति है।.

नई!!: बंगलौर और शिव राजकुमार · और देखें »

शिवगंगे

शिवगंगे, कर्नाटक के तुमकुर जिले में स्थित एक पर्वत शिखर है जिसकी ऊँचाई 1368 मीटर है। यह एक हिन्दू तीर्थ स्थल भी है। यह बंगलुरु ग्रामीण जिले में दोब्बसपेट के पास स्थित है। तुमकुर से इसकी दूरी २० किमी तथा बंगलुरु से ५४ किमी है। .

नई!!: बंगलौर और शिवगंगे · और देखें »

शिवकाशी

---- शिवकाशी भारत के राज्य तमिलनाडु के विरुधुनगर जिले में स्थित एक सक्रिय शहर और नगरपालिका है। यह भारत के पटाखा उद्योग की राजधानी है जहाँ लगभग 8,000 बड़े और छोटे कारखाने हैं जिनमें कुल मिलाकर 90 प्रतिशत पटाखों का उत्पादन होता है। आंतरिक स्टुडियो एवं कलाकारों के साथ शिवकाशी के विशाल प्रिंटिंग प्रेस लाखों भारतीयों के लिए तेजी से बदलती हुई रंगीन व भड़कीले पोस्टरों तथा कैलेंडरों की श्रेणी का उत्पादन करते हैं। यह शहर अपने पटाखों के कारखानों के लिए पूरे भारत में मशहूर है। इस औद्योगिक शहर में लगभग 400 उत्पादक मौजूद हैं। यह शहर अपने शक्तिशाली छपाई उद्योग और माचिस-निर्माण उद्योगों के लिए भी जाना जाता है। जवाहरलाल नेहरू ने इसे "कुट्टी जापान" (अंग्रेजी में मिनी जापान) का नाम दिया था। इसके आसपास के शहर हैं श्रीविल्लीपुत्तूर, सत्तूर और थिरुथंगल। .

नई!!: बंगलौर और शिवकाशी · और देखें »

शकुन्तला देवी

शकुन्तला देवी (4 नवम्बर 1929 - 21 अप्रैल 2013) जिन्हें आम तौर पर "मानव कम्प्यूटर" के रूप में जाना जाता है, बचपन से ही अद्भुत प्रतिभा की धनी एवं मानसिक परिकलित्र (गणितज्ञ) थीं। उनकी प्रतिभा को देखते हुए उनका नाम 1982 में ‘गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ में भी शामिल किया गया। .

नई!!: बंगलौर और शकुन्तला देवी · और देखें »

श्रवणबेलगोला

श्रवणवेलगोल (कन्नड: ಶ್ರವಣಬೆಳಗೊಳ) हासन जिला में स्थित एक शहर है। यह बंगलुरु से १५८ कि॰मी॰ दूर स्थित है। यह एक प्रसिद्ध जैन तीर्थ है। कन्नड़ में 'वेल' का अर्थ होता है श्वेत, 'गोल' का अर्थ होता है सरोवर। शहर के मध्य में एक सुंदर श्वेत सरोवर के कारण यहां का नाम बेलगोला और फ़िर श्रवणबेलगोला पड़ा। यह स्थान विंध्यगिरि और चंद्रगिरि के मध्य स्थित है। विंध्यगिरि पर 7 तथा चंद्रगिरि पर 14 जैन मंदिर हैं। एक श्री बाहुबली स्वामी का मंदिर है। चित्र:Gomateswara.jpg|गोमतेश्वर की प्रतिमा ९७८-९९३ ई. File:Jain Inscription.jpg|अंतिम श्रुतकेवाली भद्रबाहु स्वामी और सम्राट चंद्रगुप्त का आगमन दर्शाता शिलालेख (श्रवणबेलगोला) चंद्रगुप्त के विस्तृत राज्य की जानकारी तो हमे तमिल ग्रंथ अहनानूर तथा मुरनानूर से भी प्राप्त होती है .

नई!!: बंगलौर और श्रवणबेलगोला · और देखें »

श्रुतकेवली

श्रुतकेवली, श्रुतज्ञान अर्थात् शास्त्रों के पूर्ण ज्ञाता होते हैं। श्रुतकेवली और केवली, ज्ञान की दृष्टि से दोनों समान हैं, लेकिन श्रुतज्ञान परोक्ष और केवल ज्ञान प्रत्यक्ष होता है। केवलियों को जितना ज्ञान होता है उसके अतनवें भाग का वे प्ररूपण कर सकते हैं और जितना वे प्ररूपण करते हैं उसका अनंतवाँ भाग शास्त्रों में संकलित किया जाता है। इसलिए केवलज्ञान से श्रुतज्ञान अनंतवें भाग का भी अनंतवाँ भाग है। श्रुतकेवली १४ पूर्वों के पाठी होते हैं। महावीर स्वामी के निर्वाण के पश्चात् गौतम, सुधर्मा और जंबूस्वामी, ये तीन केवली हुए। जंबूस्वामी के बाद दिगंबर परंपरा के अनुसार विष्णु, नंदि, अपराजित, गोवर्धन और भद्रबहु तथा श्वेतांबर परंपरा के अनुसार प्रभव, शय्यंभव, वशोभद्र, सभूतविजय, भद्रबाहु और स्थूलभद्र नाम के छह श्रुतकेवली हुए। स्थूलभद्र को श्रुतकेवलियों में न गिनने से श्वेतांबर संप्रदाय के अनुसार पांच ही श्रुतकेवली माने गए हैं। .

नई!!: बंगलौर और श्रुतकेवली · और देखें »

श्रेयस गोपाल

रामास्वामी श्रेयस गोपाल (Ramaswamy Shreyas Gopal) (जन्म; ०४ सितम्बर १९९३, बैंगलोर, कर्नाटक, भारत) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो कर्नाटक के लिए घरेलू क्रिकेट खेलते हैं। ये बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में ही अच्छा प्रदर्शन करते हैं इसलिए ये एक हरफनमौला खिलाड़ी है। श्रेयस गोपाल कर्नाटक के घरेलू क्रिकेट में कई प्रारूपों में कप्तान भी रह चुके हैंजैसे अंडर १३, अंडर १५, अंडर १६ और अंडर १९ में भी। ये २०१४ से इंडियन प्रीमियर लीग में मुम्बई इंडियन्स के लिए खेलते हैं। .

नई!!: बंगलौर और श्रेयस गोपाल · और देखें »

श्रीनाथ अरविंद

श्रीनाथ अरविन्द (Arvind Sreenath/ಅರವಿಂದ್ ಶ್ರಿನಾಥ್) (जन्म ०८ अप्रैल १९८४, बैंगलोर, कर्नाटक) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो इंडियन प्रीमियर लीग में २०११ से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम के लिए खेलते हैं\ ये मुख्य रूप से गेंदबाजी की भूमिका निभाते हैं इन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए अपना पहला ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट मैच दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के ख़िलाफ़ ०२ अक्टूबर २०१५ को खेला था .

नई!!: बंगलौर और श्रीनाथ अरविंद · और देखें »

श्रीरंगम

श्रीरंगम, जिसका वास्तविक तमिल नाम तिरुवरंगम है, दक्षिण भारत के तिरुचिरापल्ली शहर (जिसे त्रिची या तिरुची के नाम से भी जाना जाता है) का एक क्षेत्र और एक द्वीप है। श्रीरंगम, एक तरफ कावेरी नदी से और दूसरी तरफ कावेरी शाखा कोलिदम (कोलेरून) से घिरा हुआ है। श्रीरंगम, वैष्णवों (भगवान विष्णु के अनुयायी, हिन्दू देवताओं के त्रिमूर्ति में से एक, अन्य दो भगवान शिव, विनाशक और भगवान ब्रह्मा या ब्रह्मदेव, रचयिता) की एक व्यापक आबादी का घर है। .

नई!!: बंगलौर और श्रीरंगम · और देखें »

श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1982-83

1982-83 के क्रिकेट सीज़न में, श्रीलंका की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट टीम को खेलने के लिए भारत का दौरा करती थी। दौरे में एक टेस्ट मैच भी शामिल था। वह मैच ड्रॉ था। तीन खिलाड़ियों ने शतक लगाए; श्रीलंका के दोनों पारी में दुलीप मेंडिस ने 105 रन बनाए और सुनील गावस्कर और संदीप पाटिल ने क्रमश: 155 और 144 रन बनाए। तीन खिलाड़ियों ने खेल में पांच विकेट लिए हैं; दिलीप दोशी ने श्रीलंका की पहली पारी में 85 रनों के लिए पांच विकेट लिए। कपिल देव ने 110 रनों में पांच विकेट लिए और पांचवें विकेट के लिए अश्थला डे मेल ने 68 रन बनाये। श्रृंखला में तीन मैच एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय (वनडे) सीरीज भी शामिल थी। पहला वनडे, गांधी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स ग्राउंड, अमृतसर में, भारत ने 78 रनों के अंतर से जीत दर्ज की थी। मैच का पुरुष दिलीप दोशी था, जो चार विकेट लेकर चवालीस रन के दस ओवर थे। दूसरा वनडे फिरोज शाह कोटला, दिल्ली में था। यह मैच भारत द्वारा छह विकेट से जीता था, साथ ही भारतीय खिलाड़ी क्रिस श्रीकांत ने 95 रन बनाकर मैच के सम्मान में जीत हासिल की थी। कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में आयोजित तीसरा और अंतिम एकदिवसीय, बैंगलोर में भारत द्वारा छह विकेट से हराया था। श्रीकांत ने 92 रनों का योगदान दिया, इसलिए उन्हें भारत के द्वारा एक श्रृंखला में व्हाइट वॉश पूरा करने वाले मैच में श्रृंखला के लिए मैच का दूसरा व्यक्ति प्राप्त हुआ। श्रृंखला में शीर्ष स्कोरर श्रीलंकाई रॉय डायस ने किया था, जिन्होंने एक श्रृंखला में दो शतक जमाए थे और उनके देश ने मैच नहीं जीत लिया था। शीर्ष विकेट लेने वाले दिलीप दोशी, जिन्होंने छह विकेट लिए। शीर्ष चार उच्चतम विकेट लेने वाले सभी भारतीय थे, दोशी 6 लेने के साथ; कपिल देव और मदन लाल पांच ले गए; और रोजर बिन्नी चार ले गए। तीन श्रीलंका ने तीन विकेट लिए; बंडुला वर्णापुरा, अजीत डी सिल्वा और अश्था डे मेल। .

नई!!: बंगलौर और श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1982-83 · और देखें »

श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1993-94

श्रीलंका की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम को तीन टेस्ट मैचेस और तीन वन-डे अंतरराष्ट्रीय (वनडे) खेलने के लिए जनवरी और फरवरी 1994 में भारत का दौरा किया गया। यह दौरा 1993 में हीरो कप में श्रीलंका की भागीदारी के बाद हुआ, जहां वे सेमीफाइनल तक पहुंचे और विवाद से घिरे हुए थे। पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए श्रीलंका से केवल भारत का दौरा किया। श्रीलंका के टीम मैनेजर, बंडुला वर्णापरा, जैसा कुछ ही महीने पहले हीरो कप में हुआ था, ने खराब अंपायरिंग फैसले पर पहले दो टेस्ट मैचों की बल्लेबाजी विफलताओं को दोषी ठहराया। श्रृंखला को स्पिन-मैत्रीपूर्ण पिचों पर खेला गया जिस पर भारत ने एक शानदार रिकॉर्ड बनाया है। 1990-91 में श्रीलंका की हार के बाद भारत ने अपना आठवें सीधे जीत हासिल किया और 1992-93 में इंग्लैंड को हराकर उनकी लगातार दूसरी श्रृंखला का सफाया किया। उस समय के लोकप्रिय मान्यताओं के विपरीत जो भारत में टेस्ट मैचों में उबाऊ ड्रॉ का उत्पादन करता है, इस श्रृंखला का मतलब है कि 1987-88 में मद्रास से पिछले 12 टेस्ट के परिणामस्वरूप भारत के लिए 11 जीत हासिल हुई थी। अजहरुद्दीन ने मंसूर अली खान पतौडी और सुनील गावस्कर को भारत के सबसे सफल कप्तान के रूप में शामिल किया, जिसमें से प्रत्येक ने 9 जीत दर्ज की। भारत के लिए उत्सव के लिए आगे आने के बाद कपिल देव ने टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी रिचर्ड हैडली के 431 के स्कोर को पार कर, जो साढ़े तीन साल तक खड़ा था। .

नई!!: बंगलौर और श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1993-94 · और देखें »

शॉपिंग मॉल

टोरंटो, ओन्टारियो, कनाडा के टोरोंटो ईटॉन सेंटर का आंतरिक भाग. मॉल में प्रयुक्त ट्राली की कतार शॉपिंग मॉल, शॉपिंग सेंटर या शॉपिंग परिसर एक या अधिक ऐसे भवन हैं जो व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले दुकानों के कॉम्पलेक्स का रूप धारण करते हैं, जिसमें पार्किंग क्षेत्र के साथ एक इकाई से दूसरी इकाई में आसानी से चल कर जाने के लिए रास्ते होते हैं - पारंपरिक बाज़ार का एक आधुनिक, भीतरी (इनडोर) संस्करण.

नई!!: बंगलौर और शॉपिंग मॉल · और देखें »

सचिन तेंदुलकर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची

सचिन तेंदुलकर ने अन्य किसी भी क्रिकेट खिलाड़ी से अधिक एकदिवसीय और टेस्ट शतक बनाये हैं। सचिन तेंदुलकर भारतीय सेवानिवृत क्रिकेट खिलाड़ी और पूर्व कप्तान हैं। वो अपनी पीढी के क्रिकेट खिलाड़ियों में महानतम खिलाड़ियों के रूप में जाने जाते हैं और वो सबसे अधिक अन्तरराष्ट्रीय रन बनाने वाले क्रिकेट खिलाड़ी भी हैं। तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद द्वारा आयोजित टेस्ट मैचों और एकदिवसीय मैचों में शतक (१०० या इससे अधिक रन) बनाये। उन्होंने अपना अन्तिम शतक मार्च २०१२ में बांग्लादेश के विरुद्ध बनाया। इस मैच में उन्होंने ११४ रन बनाकर अपने अन्तरराष्ट्रीय शतकों का शतक पूर्ण किया, ऐसा शतक बनाने वाले वो दुनिया के प्रथम और एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं। .

नई!!: बंगलौर और सचिन तेंदुलकर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची · और देखें »

सत्यम कम्प्यूटर सर्विसेज़

सत्यम कम्प्युटर सर्विसिस लि एक परामर्शदाता और सूचना प्रौद्योगिकी सेवाओं की कम्पनी है, जो हैदराबाद, भारत में स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और सत्यम कम्प्यूटर सर्विसेज़ · और देखें »

सत्यात्म तीर्थ

श्री Satyatma तीर्थ के माध्यम से, Uttaradi गणित, प्रोत्साहित किया, जल संरक्षण और प्रबंधन विशेषज्ञ, डांडी के भारत और रेमन मैगसेसे पुरस्कार विजेता राजेंद्र सिंह को देने के लिए व्याख्यान पर जल संरक्षण और अन्य विषयों.

नई!!: बंगलौर और सत्यात्म तीर्थ · और देखें »

सत्यव्रत सिद्धांतालंकार

सत्यव्रत सिद्धांतालंकार (1898-1992) भारत के शिक्षाशास्त्री तथा सांसद थे। वे उपनिषदों के एक मूर्धन्य ज्ञाता थे। वे गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के उपकुलपति रहे तथा उन्होने शिक्षाशास्त्र एवं समाजशास्त्र पर कई पुस्तकें लिखीं। इन्होने स्वाधीनता अान्दोलन के दौरान सत्याग्रह में भाग लिया और कुछ समय जेल में भी रहे। उन्होंने ब्रह्मचर्य संदेश जैसी पुस्तकें लिखी और एकादशोपनिषद उनका सबसे प्रसिद्ध ग्रंथ है जिसमें उन्होने मुख्य उपनिषदों का सुगम हिन्दी भाष्य लिखा है। वे पेशे से एक होम्योपैथी डॉक्टर थे। दूसरे राष्ट्रपति राधाकृष्णन ने, जो ख़ुद उपनिषदों की टीका लिख चुके थे, आपकी किताब के लिए प्राक्कथन लिखा था और आपको राज्यसभा के लिए मनोनीत भी किया था। १९६४ से १९६८ तक वे राज्य सभा के सदस्य रहे। .

नई!!: बंगलौर और सत्यव्रत सिद्धांतालंकार · और देखें »

सदानन्द विश्वनाथ

सदानन्द विश्वनाथ (Sadanand Vishvanath) (जन्म; २८ नवम्बर १९६२ बैंगलोर,कर्नाटक,भारत) एक भारतीय पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी है जो भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए खेलते थे। विश्वनाथ मुख्य रूप से विकेट-कीपर थे जो विकेटों के पीछे विकेटकीपिंग किया करते थे इन्होंने २२ एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मुकाबलों में तथा ३ टेस्ट मैचों में विकेट कीपिंग की थी साथ ही ये बल्लेबाजी के लिए भी जाने जाते थे। .

नई!!: बंगलौर और सदानन्द विश्वनाथ · और देखें »

सनराइजर्स हैदराबाद

सनराइजर्स हैदराबाद (SRH भी कहते हैं) इंडियन प्रीमियर लीग की हैदराबाद फ्रैन्चाइज़ी है। इस टीम के कप्तान केन विलियमसन और कोच टॉम मूडी हैं। सनराइजर्स हैदराबाद फ्रैंचाइज़ी के मालिक सन नेटवर्क के मालिक कलानिधि मारन है। टीम का वर्तमान में घरेलू मैदान राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम है। २०१८ इंडियन प्रीमियर लीग के लिए पहले टीम का कप्तान डेविड वॉर्नर बनाया गया था लेकिन गेंद के साथ छेड़छाड़ मामले में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उनके ऊपर एक साल का प्रतिबंध लगा दिया जिसके कारण कप्तान बदलना। .

नई!!: बंगलौर और सनराइजर्स हैदराबाद · और देखें »

सबसे बड़े शहरों की सूची

दुनिया के सबसे बड़े शहरों का निर्धारण करने हेतु यह देखा जाना जरुरी की वह किस परिभाषा का उपयोग कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र एक शहर का गठन करने वाली तीन परिभाषाओं का उपयोग करता है, लेकिन सभी शहरों को उसी मापदंड का उपयोग करके वर्गीकृत नहीं किया जा सकता है। शहरों को शहरी क्षेत्र, उनके शहरी क्षेत्र की सीमा या उनके महानगरीय क्षेत्र कि जनसंख्या के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। .

नई!!: बंगलौर और सबसे बड़े शहरों की सूची · और देखें »

सबसे सघन आबादी वाले शहर

FE-India-Map-2014.jpg भारत के घनी आबादी वाले शहरों भारत के सबसे घनी आबादी वाले शहरों की सूची .

नई!!: बंगलौर और सबसे सघन आबादी वाले शहर · और देखें »

सबीर भाटिया

सबीर भाटिया (पंजाबी: ਸਬੀਰ ਭਾਟਿਯਾ हिन्दी: सबीर भाटिया (जन्म 30 दिसम्बर 1968) एक भारतीय अमेरिकी उद्यमी हैं जो हॉटमेल ईमेल सेवा के सह-स्थापक हैं। भाटिया के पास 200 मिलियन अमरीकी डालर की संपत्ति है। .

नई!!: बंगलौर और सबीर भाटिया · और देखें »

समीर दत्तानी

समीर दत्तानी (ಸಮೀರ್ ದತ್ತನಿ) एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता हैं। .

नई!!: बंगलौर और समीर दत्तानी · और देखें »

सरस्वती विश्वेश्वरैया

सरस्वती विश्वेश्वरैया एक जीवभौतिकीवेत्ता है। वह भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर में आणविक बायोफिज़िक्स यूनिट में प्रोफेसर हैं। वह कम्प्यूटेशनल जीव विज्ञान पर काम करती है और उनका शोध मुख्य रूप से जैविक प्रणालियों में संरचना-समारोह संबंधों को स्पष्ट करने पर केंद्रित है। उन्होंने स्नातकोत्तर (एमएससी) शिक्षा बंगलौर विश्वविद्यालय से प्राप्त की और उन्होंने अपनी पीएचडी डेविड बेवरिज के मार्गदर्शन में सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यूयॉर्क से पूरी की। उनकी डॉक्टरेट क्वांटम केमिस्ट्री में थी। उन्होंने डॉक्टर की उपाधि के बाद विश्वेश्वरा कार्नेगी मेलॉन विश्वविद्यालय, पिट्सबर्ग में एक पोस्ट-डॉक्टरेटी साथी के रूप मे शामिल हो गई। .

नई!!: बंगलौर और सरस्वती विश्वेश्वरैया · और देखें »

सार्क शिखर सम्मेलन की सूची

यह दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के सम्मेलन की एक सूची है। हालांकि सार्क चार्टर अनुसार राज्य या सरकार के प्रमुखों को वर्ष में एक बार मिलने की आवश्यकता होती है, शिखर सम्मेलन आम तौर पर लगभग हर अठारह महीने में होते हैं। .

नई!!: बंगलौर और सार्क शिखर सम्मेलन की सूची · और देखें »

साईं बाबा का आश्रम

साईं बाबा का आश्रम आश्रम बंगलोर से १६ कि॰मी॰ दूर चेन्नई रोड पर व्हाइटफील्ड में स्थित है। साईं बाबा का मुख्य आश्रम आंध्र प्रदेश में पुत्तापार्थी में है, जहां उन्होंने अपने जीवन का अधिकांश समय व्यतीत किया था।.

नई!!: बंगलौर और साईं बाबा का आश्रम · और देखें »

सावनदुर्ग

उत्तरी ओर से सावनदुर्ग सावनदुर्ग क्षेत्र का मानचित्र सावनदुर्ग भारत में स्थित एक पहाड़ी है जो बैंगलोर (कर्नाटक, भारत) से 33 किलोमीटर पश्चिम की ओर मगदी रोड पर स्थित है। यह पहाड़ी एक मंदिर के लिए प्रसिद्ध है और यह दुनिया में पहली, सबसे विशाल एकल पत्थर पहाड़ी होने के लिए जानी जाती है। यह पहाड़ी मध्य समुद्र के स्तर से 1226 मीटर ऊंची है और यह दक्षिणी पठार का एक हिस्सा है। यह प्रायद्वीपीय शैल, ग्रेनाइट, बुनियादी डाइक्स और लैटराइट्स से गठित है। अर्कावती नदी थिप्पगोंदानाहल्ली जलाशय के पास से गुजरती है और मंचानाबेले बांध की ओर जाती है। .

नई!!: बंगलौर और सावनदुर्ग · और देखें »

सिटी केबल

सिटी केबल (पूर्व में वायर एंड वायरलेस (इंडिया) लिमिटेड (WWIL) के रूप में) भारत की एक मल्टी सिस्टम ऑपरेटर (एमएसओ) है जो सुभाष चंद्रा के स्वामित्व में है। यह भारत के प्रमुख शहरों जैसे:दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, बंगलौर, हैदराबाद, विजयवाड़ा, इंदौर, पटना आदि में डिजिटल केबल टीवी सेवाएं देती है। इस कंपनी का प्रधान कार्यालय नोएडा में है। .

नई!!: बंगलौर और सिटी केबल · और देखें »

सिद्दारमैया

सिद्दारमैया (जन्म 12 अगस्त 1948) एक भारतीय राजनेता हैं जो कि 2013 से कर्नाटक के मुख्यमंत्री हैं। वह वर्तमान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता है, इससे पहले वह बहुत सी जनता परिवार वाली दलों के सदस्य रह चुके हैं। जनता दल (सेकुलर) के सदस्य के तौर पर वे दो बार कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री भी रह चुके है। 13 मई 2013 को वे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने। .

नई!!: बंगलौर और सिद्दारमैया · और देखें »

सविता भाभी

कॉमिक्स की मुख्य पात्र सविता सविता भाभी भारत में एक प्रसिद्ध या कहें कि एक बदनाम कार्टून पॉर्नोग्राफी वेबसाइट है, जिसमें सविता नामक एक आरम्भ में कार्टून स्ट्रिप को नि:शुल्‍क देखा जा सकता था। लेकिन प्रतिबन्ध के पश्चात, कार्टून स्ट्रिप kirtu.com पर चली गयी तथा देखने के लिए सदस्‍यता शुल्‍क चुकाना पड़ता है। पुराने संस्करण आज भी नि:शुल्‍क देखे जा सकते हैं। .

नई!!: बंगलौर और सविता भाभी · और देखें »

संदीप उन्नीकृष्णन

संदीप उन्नीकृष्णन (സന്ദീപ് ഉണ്ണിക്കൃഷ്ണന്‍, ಸಂದೀಪ್ ಉನ್ನೀಕೃಷ್ಣನ್, संदीप उन्नीकृष्णन) (15 मार्च 1977 -28 नवम्बर 2008) भारतीय सेना में एक मेजर थे, जिन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड्स (एनएसजी) के कुलीन विशेष कार्य समूह में काम किया। वे नवम्बर 2008 में मुंबई के हमलों में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए। उनकी बहादुरी के लिए उन्हें 26 जनवरी 2009 को भारत के सर्वोच्च शांति समय बहादुरी पुरस्कार, अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। "उपर मत आना, मैं उन्हें संभाल लूंगा", ये संभवतया ऑपरेशन ब्लैक टोरनेडो के दौरान उनके द्वारा आदमियों को कहे गए अंतिम शब्द थे। ऐसा कहते ही वे मुंबई के ताज होटल के अन्दर सशस्त्र आतंकवादियों की गोलियों का शिकार हो गए। बाद में, एनएसजी के सूत्रों ने स्पष्ट किया कि जब ऑपरेशन के दौरान एक कमांडो घायल हो गया, मेजर उन्नीकृष्णन ने उसे बाहर निकालने की व्यवस्था की और खुद ही आतंकवादियों से निपटना शुरू कर दिया.

नई!!: बंगलौर और संदीप उन्नीकृष्णन · और देखें »

संध्या श्रीकांत विश्वेश्वरीया

संध्या श्रीकांत विश्वेश्वरिया भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर में एक वैज्ञानिक और शिक्षक हैं। वह वर्तमान में आणविक प्रजनन विभाग, विकास और आनुवंशिकी विभाग के अध्यक्ष हैं और बायोसिस्टम्स साइंस एंड इंजीनियरिंगआणविक की सह-अध्यक्ष है। .

नई!!: बंगलौर और संध्या श्रीकांत विश्वेश्वरीया · और देखें »

संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा

संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा (CLAT / क्लेट) राष्ट्रीय विधि विद्यालयों तथा विधि विश्वविद्यालयो के विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों (एल.एल.बी एवं एल.एल.एम) में प्रवेश के लिए भारत भर में स्थापित किये गये 15 स्कूल/विश्वविद्यालयों द्वारा बारी–बारी से आयोजित की जाती है। प्रथम संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा के समय गठित की गई 7 राष्ट्रीय लॉ विश्वविद्यालयों के उपकुलाधिपति की मुख्य समिति ने निर्णय लिया था कि सभी विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के क्रम में बारी-बारी से इस परीक्षा को आयोजित करेंगे। इसके अनुसार प्रथम संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा का आयोजन 2008 में राष्ट्रीय लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बंगलुरु द्वारा किया गया था। आगामी सत्र के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन डॉ राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, लखनऊ द्वारा किया जाना है। .

नई!!: बंगलौर और संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा · और देखें »

संस्कृत भाषा

संस्कृत (संस्कृतम्) भारतीय उपमहाद्वीप की एक शास्त्रीय भाषा है। इसे देववाणी अथवा सुरभारती भी कहा जाता है। यह विश्व की सबसे प्राचीन भाषा है। संस्कृत एक हिंद-आर्य भाषा हैं जो हिंद-यूरोपीय भाषा परिवार का एक शाखा हैं। आधुनिक भारतीय भाषाएँ जैसे, हिंदी, मराठी, सिन्धी, पंजाबी, नेपाली, आदि इसी से उत्पन्न हुई हैं। इन सभी भाषाओं में यूरोपीय बंजारों की रोमानी भाषा भी शामिल है। संस्कृत में वैदिक धर्म से संबंधित लगभग सभी धर्मग्रंथ लिखे गये हैं। बौद्ध धर्म (विशेषकर महायान) तथा जैन मत के भी कई महत्त्वपूर्ण ग्रंथ संस्कृत में लिखे गये हैं। आज भी हिंदू धर्म के अधिकतर यज्ञ और पूजा संस्कृत में ही होती हैं। .

नई!!: बंगलौर और संस्कृत भाषा · और देखें »

संजय ख़ान

संजय ख़ान हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता हैं। .

नई!!: बंगलौर और संजय ख़ान · और देखें »

संगणक नेटवर्क

एक कम्प्यूटर नेटवर्क का योजनामूलक चित्र आर-जे-४५ कनेक्टर दो या दो से अधिक परस्पर जुड़े हुए कम्प्यूटर या अन्य डिजिटल युक्तियों और उन्हें जोडने वाली व्यवस्था को कंप्यूटर नेटवर्क कहते हैं। ये कम्प्यूटर आपस में इलेक्ट्रोनिक सूचना का आदान-प्रदान क‍र सकते हैं और आपस में तार या बेतार से जुडे रहते हैं। सूचना का यह आवागमन खास परिपाटी से होता है, जिसे प्रोटोकॉल कहते हैं और नेटवर्क के प्रत्येक कम्प्यूटर को इसका पालन करना पड़ता है। कई नेटवर्क जब एक साथ जुड़ते हैं तो इसे इंटरनेटवर्क कहते हैं जिसका संक्षिप्त रूप इन्टरनेट (अंतर्जाल, अंग्रेज़ी में Internet) काफ़ी प्रचलित है। अलग अलग प्रकार की सूचनाओं के कार्यकुशल आदान-प्रदान के लिये विशेष प्रोटोकॉल हैं। सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए एनालॉग तथा डिजिटल विधियों का प्रयोग होता है। नेटवर्क के उपादानों में तार, हब, स्विच, राउटर आदि उपकरणों का नाम लिया जा सकता है। स्थानीय कम्प्यूटर नेटवर्किंग में बेतार नेटवर्क का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। .

नई!!: बंगलौर और संगणक नेटवर्क · और देखें »

सुदीप

सुदीप (जन्म:2 सितम्बर 1973, शिमोगा, कर्नाटक; ಸುದೀಪ್) भारतीय फ़िल्म निर्देशक, अभिनेता और निर्माता है। वो मुख्य तौर पर कन्नड़ भाषा की फ़िल्मों में काम करते हैं। उनकी कुछ मुख्य फ़िल्में है: स्पर्श, नंदी, स्वाति मुत्थू, बच्चन। सुदीप कन्नड़ फिल्मों स्पार्शी (2000), हचचा (2001), नंदी (2002), कीचा (2003), स्वथी मुथु (2003), माय ऑटोग्राफ (2006), मुसांजामातु (2008), वीरा मदारी (2009), बस माथ महाथली (2010), केपे गौड़ा (2011) और तेलुगू-तमिल द्विभाषी एगा ​​(2012), आदि। उन्होंने अपनी फिल्म हचचा, नंदी और स्वाती मुथु के लिए लगातार तीन वर्षों तक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता - कन्नड़ के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार जीता। 2013 के बाद से, वे बिग बॉस के कन्नड़ वर्जन, बिग बॉस, टेलीविजन रियलिटी शो की मेजबानी कर रहे हैं। .

नई!!: बंगलौर और सुदीप · और देखें »

सुधा मूर्ति

सुधा मूर्ति (19 अगस्त 1950) भारत की एक परोपकारिणी, तथा कन्नड और अंग्रेजी लेखिका हैं। वे प्रसिद्ध उद्योगपति नारायणमूर्ति की पत्नी हैं। .

नई!!: बंगलौर और सुधा मूर्ति · और देखें »

सुधाकर चतुर्वेदी

सुधाकर चतुर्वेदी भारत के एक वेदज्ञ, भारतविद्, तथा कथित रूप से सौ वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति हैं। उनका कहना है कि वे २० अप्रैल १८९७ में जन्मे थे। .

नई!!: बंगलौर और सुधाकर चतुर्वेदी · और देखें »

सुधाकर राव

रामचंद्र सुधाकर राव (Ramchandra Sudhakar Rao) (ರಾಮಚಂದ್ರ ಸುಧಾಕರ ರಾವ್‌) (जन्म;०८ अगस्त १९५२, बंगलौर, कर्नाटक, भारत) एक पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी है जो भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए खेलते थे। ये घरेलू क्रिकेट कर्नाटक के लिए खेलते थे जबकि इन्होंने एक मात्र एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम के खिलाफ १९७६ में खेला था। .

नई!!: बंगलौर और सुधाकर राव · और देखें »

सुनील गावस्कर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची

alt.

नई!!: बंगलौर और सुनील गावस्कर के अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट शतकों की सूची · और देखें »

सुभाष चन्द्र बोस

सुभाष चन्द्र बोस (बांग्ला: সুভাষ চন্দ্র বসু उच्चारण: शुभाष चॉन्द्रो बोशु, जन्म: 23 जनवरी 1897, मृत्यु: 18 अगस्त 1945) जो नेता जी के नाम से भी जाने जाते हैं, भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी नेता थे। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके द्वारा दिया गया जय हिन्द का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा" का नारा भी उनका था जो उस समय अत्यधिक प्रचलन में आया। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि जब नेता जी ने जापान और जर्मनी से मदद लेने की कोशिश की थी तो ब्रिटिश सरकार ने अपने गुप्तचरों को 1941 में उन्हें ख़त्म करने का आदेश दिया था। नेता जी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर के टाउन हाल के सामने 'सुप्रीम कमाण्डर' के रूप में सेना को सम्बोधित करते हुए "दिल्ली चलो!" का नारा दिया और जापानी सेना के साथ मिलकर ब्रिटिश व कामनवेल्थ सेना से बर्मा सहित इम्फाल और कोहिमा में एक साथ जमकर मोर्चा लिया। 21 अक्टूबर 1943 को सुभाष बोस ने आजाद हिन्द फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से स्वतन्त्र भारत की अस्थायी सरकार बनायी जिसे जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड ने मान्यता दी। जापान ने अंडमान व निकोबार द्वीप इस अस्थायी सरकार को दे दिये। सुभाष उन द्वीपों में गये और उनका नया नामकरण किया। 1944 को आजाद हिन्द फौज ने अंग्रेजों पर दोबारा आक्रमण किया और कुछ भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त भी करा लिया। कोहिमा का युद्ध 4 अप्रैल 1944 से 22 जून 1944 तक लड़ा गया एक भयंकर युद्ध था। इस युद्ध में जापानी सेना को पीछे हटना पड़ा था और यही एक महत्वपूर्ण मोड़ सिद्ध हुआ। 6 जुलाई 1944 को उन्होंने रंगून रेडियो स्टेशन से महात्मा गांधी के नाम एक प्रसारण जारी किया जिसमें उन्होंने इस निर्णायक युद्ध में विजय के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनायें माँगीं। नेताजी की मृत्यु को लेकर आज भी विवाद है। जहाँ जापान में प्रतिवर्ष 18 अगस्त को उनका शहीद दिवस धूमधाम से मनाया जाता है वहीं भारत में रहने वाले उनके परिवार के लोगों का आज भी यह मानना है कि सुभाष की मौत 1945 में नहीं हुई। वे उसके बाद रूस में नज़रबन्द थे। यदि ऐसा नहीं है तो भारत सरकार ने उनकी मृत्यु से सम्बंधित दस्तावेज़ अब तक सार्वजनिक क्यों नहीं किये? 16 जनवरी 2014 (गुरुवार) को कलकत्ता हाई कोर्ट ने नेताजी के लापता होने के रहस्य से जुड़े खुफिया दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की माँग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई के लिये स्पेशल बेंच के गठन का आदेश दिया। .

नई!!: बंगलौर और सुभाष चन्द्र बोस · और देखें »

सुमन रंगनाथन

सुमन रंगनाथन (ಸುಮನ್ ರಂಗನಾಥನ್; जन्म 26 जुलाई 1974) भारतीय मॉडल और फ़िल्म अभिनेत्री हैं। .

नई!!: बंगलौर और सुमन रंगनाथन · और देखें »

सुमिता मिश्रा

सुमिता मिश्रा (जन्म: ३० जनवरी, १९६७; चंडीगढ, हरियाणा) एक भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी, साहित्यकार एवं प्रसिद्द कवियित्री हैं। इनकी तीन कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। .

नई!!: बंगलौर और सुमिता मिश्रा · और देखें »

सुशील कुमार मोदी

सुशील कुमार मोदी (जन्म 5 जनवरी 1952) भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिज्ञ और बिहार के तीसरे उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं। वे बिहार के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं। .

नई!!: बंगलौर और सुशील कुमार मोदी · और देखें »

सुजाता रामदोरै

सुजाता रामदोरई टीआईएफआर, मुंबई में गणित की प्राध्यापक है। वर्तमान में ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय, कनाडा के साथ जुडी हुए हैं। वह २००६ में प्रतिष्ठित आईसीटीपी रामानुजन पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय हैं। २००४ में शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार के विजेता रही। वह गोनीत सोरा के सलाहकार बोर्ड में भी हैं। उन्होंने १९८२ में सेंट जोसेफ कॉलेज, बैंगलोर में अपनी बी.एस.सी.

नई!!: बंगलौर और सुजाता रामदोरै · और देखें »

सुंदरम रवि

सुंदरम रवि (एस॰ रवि) (अंग्रेजी: S. Ravi) (जन्म: २२ अप्रैल १९६६) एक भारतीय क्रिकेट (अंपायर) है जो टेस्ट क्रिकेट,एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय तथा ट्वेन्टी ट्वेन्टी क्रिकेट मैचों में अम्पायरिंग करते हैं। एस॰ रवि का जन्म बैंगलोर में हुआ था। इनको २०१५ क्रिकेट विश्व कप में २० अम्पायरों में चुना गया था तथा २०१६ आईसीसी विश्व ट्वेन्टी २० में भी चयन किया गया।.

नई!!: बंगलौर और सुंदरम रवि · और देखें »

स्टुअर्ट बिन्नी

स्टुअर्ट टेरेंस रोजर बिन्नी(जन्म 3 जून 1984) एक भारतीय क्रिकेटर है जो घरेलू रणजी ट्रॉफीमैच कर्नाटक की ओर से खेलते है। बिन्नी दाएँ हाथ से बल्लेबाजी तथा मध्यम गति की गेंदबाजी करते है। .

नई!!: बंगलौर और स्टुअर्ट बिन्नी · और देखें »

स्ट्राइड्स आर्कोलैब

श्रेणी:भारत की दवा कंपनियां.

नई!!: बंगलौर और स्ट्राइड्स आर्कोलैब · और देखें »

स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर

स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर भारतीय स्टेट बैंक का एक सहयोगी बैंक है। स्टेट बैंक ऑफ मैसूर भारत में एक राष्ट्रीयकृत बैंक था, जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में था। यह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पांच सहयोगी बैंकों में से एक था। स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की स्थापना १९१३ में महाराज कृष्ण राजा वाडीयार चतुर्थ के संरक्षण में बैंक ऑफ मैसूर लिमिटेड ने बैंकिंग समिति के महान इंजीनियर-स्टेटमैन की अध्यक्षता में, भारत रत्न सर एम। विश्वावरय के रूप में की थी। १९५३ के दौरान, "मैसूर बैंक" को सरकारी व्यवसाय और ट्रेजरी परिचालन करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के एजेंट के रूप में नियुक्त किया गया था और मार्च १९६० में, यह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(सहायक बैंक)के तहत भारतीय स्टेट बैंक की सहायक कंपनी बन गई थी। अधिनियम १९५९। अब बैंक स्टेट बैंक समूह के अधीन एक एसोसिएट बैंक है और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में ९२।३३ प्रेतिशत शेयर हैं। बैंक के शेयरों को बेंगलुरु, चेन्नई और मुंबई स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध किया गया है। श्रेणी:भारतीय बैंक भारतीय स्टेट बैंक .

नई!!: बंगलौर और स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर · और देखें »

स्नातक अभियांत्रिकी अभिरुचि परीक्षा

स्नातक अभियांत्रिकी अभिरुचि परीक्षा (ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग / गेट) एक अखिल भारतीय परीक्षा है जो मास्टर डिग्री की पढ़ाई के लिए इंजीनियरिंग के सभी विषयों की होती है। इसका आयोजन भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलुरु, भारत की आईआईटी (IIT), नेशनल कोर्डिनेसन बोर्ड, गेट डिपार्टमेंट ऑफ़ हायर एजुकेशन, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और भारत सरकार मिलकर करती है। यह परीक्षा सभी चुनौतीपूर्ण परीक्षाओं में से एक है। .

नई!!: बंगलौर और स्नातक अभियांत्रिकी अभिरुचि परीक्षा · और देखें »

स्नेहा कपूर

स्नेहा कपूर एक भारतीय साल्सा नर्तक, कोरियोग्राफर और प्रशिक्षक हैं। जिनका जन्म १८ अप्रैल १९८६ में बैंगलोर, कर्नाटक में हुआ था। वह "भारतीय साल्सा राजकुमारी" के रूप में लोकप्रिय है। अब वह मुंबई में रहती है, उन्होंने बैंगलोर में एक नृत्य कंपनी के साथ अपने करियर को शुरू किया था। कैरियर की शुरुआत में उन्होंने साल्सा, बाचाता, मेरेंग्यू, जिव, हिप-हॉप, एडियजीओ और बॉलीवुड जैसे विभिन्न नृत्य के रूपों को गले लगाया गया था। .

नई!!: बंगलौर और स्नेहा कपूर · और देखें »

स्पिरिट एअर (भारत)

स्पिरिट एअर (भारत) एक चार्टर एयरलाइन है जो संचालन बेंगलुरु और कोलकाता से करती है। यह फिलहाल बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा मे सेवाएँ प्रदान करती है। यह दक्षिण भारत मे विस्तार करना चाहती है। यह संचालन के लिए सेसस्ना 172 विमान का उपयोग करती है। .

नई!!: बंगलौर और स्पिरिट एअर (भारत) · और देखें »

स्पोर्ट्सकीड़ा

स्पोर्ट्सकीड़ा (अंग्रेज़ी:Sportskeeda) यह एक बैंगलोर भारत में स्थित अनेक खेलों पर आधारित एक जालस्थल है। .

नई!!: बंगलौर और स्पोर्ट्सकीड़ा · और देखें »

स्मिता हरिकृष्ण

स्मिथा हरिकृष्ण (Smitha Harikrishna) (जन्म; ०६ नवम्बर १९७३, बैंगलोर, कर्नाटक) एक पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी है जो भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला करती थी।यह मुख्य रूप से बल्लेबाजी करती थी जबकि दाएं हाथ से गेंदबाजी भी करती थी। इन्होंने भारतीय टीम के लिए २२ वनडे मैच खेले थे जिसमें २३१ रन बनाए थे और २२ विकेट भी लिए थे। .

नई!!: बंगलौर और स्मिता हरिकृष्ण · और देखें »

सौन्दर्या

सौन्दर्या रघु (जन्म: सौम्या सत्यनारायण) (18 जुलाई 1972 - 17 अप्रैल 2004) भारतीय फिल्म अभिनेत्री और निर्माता थीं। यह मुख्यतः तेलुगू फिल्मों में नजर आती थीं, इसके अलावा इन्होंने कुछ कन्नड़, तमिल, मलयालम, और हिन्दी फिल्मों में भी कार्य किया है। वर्ष 2002 में इन्हें कन्नड़ फिल्म द्वीपा के लिए श्रेष्ठ फिल्म का निर्माता के रूप में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इन्हें दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राज्य फिल्म पुरस्कार भी मिल चुका है। इसके अलावा इन्हें फिल्मफेयर और नंदी पुरस्कार भी मिला। यह पुरस्कार अम्मोरु (1994), अंथपुरम (1998), राजा (1999), द्वीपा (2002) और आप्टामित्र (2004) फिल्मों के लिए मिला था। लेकिन इसके बाद 17 अप्रैल 2004 को आंध्र प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के प्रचार हेतु जाते समय बैंगलोर में विमान हादसे के कारण इनका निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और सौन्दर्या · और देखें »

सैप एजी

SAP AG यूरोप का सबसे बड़ा सॉफ़्टवेयर उद्यम है, जिसका मुख्यालय वाल्डोर्फ जर्मनी में है। यह अपने SAP ERP इंटरप्राईस रिसोर्स प्लानिंग सॉफ्टवेयर के लिए जाना जाता है। .

नई!!: बंगलौर और सैप एजी · और देखें »

सूरतकल

सूरतकल (तुलु: ಸುರತ್ಕಲ್) मंगलौर नगर निगम के अधीन एक क्षेत्र है। यह दक्षिण कन्नड़ जिला, कर्नाटक में स्थित है। यहां भारत का एक बेहतरीन तकनीकी संस्थान राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान (एन.आई.टी.के) स्थापित है। इसे पूर्व में कर्नाटक रीजनल इंजीनियरिंग कालिज कहा जाता था। सूरतकल मंगलौर शहर का उपनगरीय क्षेत्र है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग - 17 पर पड़ता है। सूरतकल सागरतट .

नई!!: बंगलौर और सूरतकल · और देखें »

सेण्टर फ़ॉर इंटरनेट एण्ड सोसाइटी (इण्डिया)

द सेण्टर फ़ॉर इण्टरनेट एण्ड सोसाइटी (सी.आई.एस/CIS) एक बंगलौर आधारित संगठन है जो बहुक्षेत्रीय अनुसंधान एवं पक्षपोषण पर दृष्टि रखता है।.

नई!!: बंगलौर और सेण्टर फ़ॉर इंटरनेट एण्ड सोसाइटी (इण्डिया) · और देखें »

सेंटर फॉर डवलेपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स

सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमेटिक्स (सी-डॉट) भारत सरकार का दूरसंचार प्रौद्योगिकी विकास केंद्र है। इसकी स्थापना एक स्वायत्त संस्था के रूप में अगस्त 1984 में की गयी थी। इसे भारतीय दूरसंचार नेटवर्क की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अत्याधुनिक दूर संचार प्रौद्योगिकी विकसित करने का संपूर्ण अधिकार तथा पूर्ण स्वतंत्रता दी गयी। इसका मुख्य उद्देश्य दूर संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उत्कृष्ट केंद्र की स्थापना करना है। 1984 में सी-डॉट का काम प्रारंभ में मुख्य रूप से डिजिटल एक्सचेंजों की डिजाइनिंग और विकास करना तथा भारतीय उद्योग द्वारा इसके व्यापक स्तरीय विनिर्माण को सुकर बनाना था। बाद में, 1989 में संचार उपकरणों का विकास भी इसके कार्य क्षेत्र में जोड़ दिया गया। .

नई!!: बंगलौर और सेंटर फॉर डवलेपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स · और देखें »

सोनाली कुलकर्णी (व्यापार-जगत से जुड़ी महिला)

सोनाली कुलकर्णी फ़नूक इंडिया की अध्यक्षा और मुख्य अधिकारी हैं। यह जापानी रोबॉट निर्माता की स्थानीय इकाई है। अपने इस रोल में वह सभी सामग्री जैसे कि सी०एन०सी, रोबॉट, रोबो-मशीन और प्रणालि-एकिकरण (System Integration) के विपनन और बिकरी से जुड़ी गतिविधियों को देखती हैं। कुलकर्णी को वर्ष 2014 की सबसे शक्तिशालि महिला खिताब दिया गया है। .

नई!!: बंगलौर और सोनाली कुलकर्णी (व्यापार-जगत से जुड़ी महिला) · और देखें »

सी-डैक

प्रगत संगणन विकास केन्द्र (Centre for Development of Advanced Computing अथवा सी-डैक) भारत की एक अर्धसरकारी सॉफ्टवेयर कम्पनी है। सी-डैक का शुरुआत में मुख्य उद्देश्य स्वदेशी महासंगणक बनाना था। वर्तमान में यह सॉफ्टवेयर एवं इलैक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में एक नामी कम्पनी है। हिन्दीजगत में यह मुख्य रूप से भाषाई कम्प्यूटिंग सम्बंधी विकास कार्यों के लिये जानी जाती है। .

नई!!: बंगलौर और सी-डैक · और देखें »

सी॰ एन॰ आर॰ राव

चिंतामणि नागेश रामचंद्र राव (कन्नड़: ಚಿಂತಾಮಣಿ ನಾಗೇಶ ರಾಮಚಂದ್ರ ರಾವ್) जिन्हें सी॰ एन॰ आर॰ राव के नाम से भी जाना जाता है, एक भारतीय रसायनज्ञ हैं जिन्होंने घन-अवस्था और संरचनात्मक रसायन शास्त्र के क्षेत्र में मुख्य रूप से काम किया है। वर्तमान में वह भारत के प्रधानमंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार परिषद के प्रमुख के रूप में सेवा कर रहे हैं। डॉ॰ राव को दुनिया भर के 60 विश्वविद्यालयों से मानद डॉक्टरेट प्राप्त है। उन्होंने लगभग 1500 शोध पत्र और 45 वैज्ञानिक पुस्तकें लिखी हैं। वर्ष 2013 में भारत सरकार ने उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया। सी वी रमण और ए पी जे अब्दुल कलाम के बाद इस पुरस्कार से सम्मानित किये जाने वाले वे तीसरे ऐसे वैज्ञानिक हैं। .

नई!!: बंगलौर और सी॰ एन॰ आर॰ राव · और देखें »

हरिद्वार जिला

हरिद्वार, जिसे हरद्वार भी कहा जाता है, भारतीय राज्य उत्तराखण्ड का एक जिला है, जिसके मुख्यालय हरिद्वार नगर में स्थित हैं। इस जिले के उत्तर में देहरादून जिला, पूर्व में पौड़ी गढ़वाल जिला, पश्चिम में उत्तर प्रदेश राज्य का सहारनपुर जिला तथा दक्षिण में उत्तर प्रदेश राज्य के ही मुजफ्फरनगर तथा बिजनौर जिले हैं। हरिद्वार जिले की स्थापना २८ दिसंबर १९८८ को उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर मण्डल के अंतर्गत सहारनपुर जिले की हरिद्वार और रुड़की तहसीलों, मुजफ्फरनगर जिले की सदर तहसील के ५३ गांवों और बिजनौर जिले की नजीबाबाद तहसील के २५ गांवों को मिलाकर हुई थी। ९ नवंबर २००० को हरिद्वार नवगठित उत्तराखण्ड राज्य का हिस्सा बन गया। २०११ में १८,९०,४२२ की जनसंख्या के साथ यह उत्तराखण्ड का सबसे अधिक जनसंख्या वाला जिला है। हरिद्वार, भेल रानीपुर, रुड़की, मंगलाौर, धन्देरा, झबरेड़ा, लक्सर, लन्ढौरा और मोहनपुर-मोहम्मदपुर जिले के महत्वपूर्ण शहर हैं। .

नई!!: बंगलौर और हरिद्वार जिला · और देखें »

हरीश चंद्र

---- हरीश चंद्र महरोत्रा (११ अक्टूबर १९२३ - १६ अक्टूबर १९८३) भारत के महान गणितज्ञ थे। वह उन्नीसवीं शदाब्दी के प्रमुख गणितज्ञों में से एक थे। इलाहाबाद में गणित एवं भौतिक शास्त्र का प्रसिद्ध केन्द्र "मेहता रिसर्च इन्सटिट्यूट" का नाम बदलकर अब उनके नाम पर हरीशचंद्र अनुसंधान संस्थान कर दिया गया है। 'हरीश चंद्र महरोत्रा' को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: बंगलौर और हरीश चंद्र · और देखें »

हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद

हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद भारत सरकार की एक संस्था है, यह भारत के हस्तशिल्प निर्यातकों को प्रोत्साहन तथा हस्तशिल्प निर्यात से सम्बन्धित जानकारियाँ तथा सुविधाऐं मुहैया कराती है। .

नई!!: बंगलौर और हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद · और देखें »

हिन्दुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड

हिन्दुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड, भारत का एक सार्वजनिक प्रतिष्ठान है, जो हवाई संयन्त्र निर्माण करता है। इसका मुख्यालय बंगलुरु में है। दिसम्बर, १९४० में भूतपूर्व मैसूर राजसी राज्य एवं असाधारण दूरद्रष्टा उद्यमी श्री सेठ वालचन्द हीराचन्द के सहयोग से बेंगलूर में शुरु हुआ। एच ए एल की आपूर्तियाँ / सेवाएँ प्रमुख रूप से भारतीय रक्षा सेनाओं, तटरक्षक तथा सीमा सुरक्षा बल के लिए हैं। भारतीय विमान - वाहकों तथा राज्य सरकारों को भी परिवहन विमानों तथा हेलिकाप्टरों की पूर्ति की गयी है। कंपनी ने गुणवत्ता एवं किफायती दरों के माध्यम से ३० से अधिक देशों में निर्यात क्षेत्र में पदार्पण किया है। आज भारत भर में एच ए एल की १६ उत्पादन इकाइयाँ एवं ९ अनुसंधान व विकास केन्द्र हैं। इसके उत्पाद-क्रम में देशीय अनुसंधान व विकास के अधीन १२ प्रकार के विमान एवं लाइसेंस के अधीन १३ प्रकार के विमान हैं। एच ए एल द्वारा अब तक ३३०० से भी अधिक विमानों, ३४०० से अधिक विमान-इंजनों का उत्पादन तथा ७७०० से अधिक विमानों एवं २६,००० से अधिक इंजनों का ओवरहाल किया गया है। एच ए एल को अनुसंधान व विकास, प्रौद्योगिकी, प्रबंधकीय निष्पादन, निर्यात, ऊर्जा की बचत, गुणवत्ता एवं सामाजिक दायित्वों के निर्वहण में अनेक अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं। गुणवत्ता एवं दक्षता में कारपोरेट उपलब्धि के लिए अंतर्राष्ट्रीय सूचना एवं विपणन केन्द्र (आई आई एम सी) ने मेसर्स ग्लोबल रेटिंग, युनाइटेड किंगडम के संयोजन से मेसर्स हिन्दुस्तान एरोनाटिक्स लिमिटेड को अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन (वैश्विक मूल्यांकन नेता २००३), लंदन, यू.के.

नई!!: बंगलौर और हिन्दुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड · और देखें »

हिन्दुस्तान मशीन टूल्स

हिन्दुस्तान मशीन टूल्स भारत की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी है। इसकी स्थापना १९५३ में भारत सरकार द्वारा यन्त्र उपकरण निर्माण उद्योग के रूप में की थी| इस समय कंपनी घड़ी, ट्रैक्टर, मुद्रण यन्त्र समूह, धातु अभिरूपण साँचे, रूपदा संचकन (die casting) एवं प्‍लास्टिक प्रसंस्करण यन्त्र समूह आदि के विनिर्माण क्षेत्र में कार्यरत है | हिन्दुस्तान मशीन टूल्स की, देश भर में, नौ स्थानों पर विनिर्माण ईकाईयां हैं| हिन्दुस्तान मशीन टूल्स के अंतर्गत पांच अनुषंगी कंपनियां हैं, जो एक नियंत्रक कंपनी के नियंत्रण क्षेत्र में आती हैं| यह नियंत्रक कंपनी ट्रैक्टर व्यापार का भी सीधे नियंत्रण करती है| .

नई!!: बंगलौर और हिन्दुस्तान मशीन टूल्स · और देखें »

हिन्दी से सम्बन्धित प्रथम

यहाँ पर हिन्दी से सम्बन्धित सबसे पहले साहित्यकारों, पुस्तकों, स्थानों आदि के नाम दिये गये हैं।.

नई!!: बंगलौर और हिन्दी से सम्बन्धित प्रथम · और देखें »

हिंदुजा समूह

हिंदुजा समूह के मालिक श्रीचंद हिंदुजा और उनके भाई गोपीचंद हिंदुजा हैं, जिन्हें संक्षेप में हिंदुजा भाइयों के रूप में जाना जाता है.

नई!!: बंगलौर और हिंदुजा समूह · और देखें »

हैदराबाद

हैदराबाद (तेलुगु: హైదరాబాదు,उर्दू: حیدر آباد) भारत के राज्य तेलंगाना तथा आन्ध्र प्रदेश की संयुक्त राजधानी है, जो दक्कन के पठार पर मूसी नदी के किनारे स्थित है। प्राचीन काल के दस्तावेजों के अनुसार इसे भाग्यनगर के नाम से जाना जाता था। आज भी यह प्राचीन नाम अत्यन्त ही लोकप्रिय है। कहा जाता है कि किसी समय में इस ख़ूबसूरत शहर को क़ुतुबशाही परम्परा के पाँचवें शासक मुहम्मद कुली क़ुतुबशाह ने अपनी प्रेमिका भागमती को उपहार स्वरूप भेंट किया था, उस समय यह शहर भागनगर के नाम से जाना जाता था। भागनगर समय के साथ हैदराबाद के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इसे 'निज़ामों का शहर' तथा 'मोतियों का शहर' भी कहा जाता है। यह भारत के सर्वाधिक विकसित नगरों में से एक है और भारत में सूचना प्रौधोगिकी एवं जैव प्रौद्यौगिकी का केन्द्र बनता जा रहा है। हुसैन सागर से विभाजित, हैदराबाद और सिकंदराबाद जुड़वां शहर हैं। हुसैन सागर का निर्माण सन १५६२ में इब्राहीम कुतुब शाह के शासन काल में हुआ था और यह एक मानव निर्मित झील है। चारमीनार, इस क्षेत्र में प्लेग महामारी के अंत की यादगार के तौर पर मुहम्मद कुली कुतुब शाह ने १५९१ में, शहर के बीचों बीच बनवाया था। गोलकुंडा के क़ुतुबशाही सुल्तानों द्वारा बसाया गया यह शहर ख़ूबसूरत इमारतों, निज़ामी शानो-शौक़त और लजीज खाने के कारण मशहूर है और भारत के मानचित्र पर एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में अपनी अलग अहमियत रखता है। निज़ामों के इस शहर में आज भी हिन्दू-मुस्लिम सांप्रदायिक सौहार्द्र से एक-दूसरे के साथ रहकर उनकी खुशियों में शरीक होते हैं। अपने उन्नत इतिहास, संस्कृति, उत्तर तथा दक्षिण भारत के स्थापत्य के मौलिक संगम, तथा अपनी बहुभाषी संस्कृति के लिये भौगोलिक तथा सांस्कृतिक दोनों रूपों में जाना जाता है। यह वह स्थान रहा है जहां हिन्दू और मुसलमान शांतिपूर्वक शताब्दियों से साथ साथ रह रहे हैं। निजामी ठाठ-बाट के इस शहर का मुख्य आकर्षण चारमीनार, हुसैन सागर झील, बिड़ला मंदिर, सालारजंग संग्रहालय आदि है, जो देश-विदेश इस शहर को एक अलग पहचान देते हैं। यह भारतीय महानगर बंगलौर से 574 किलोमीटर दक्षिण में, मुंबई से 750 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में तथा चेन्नई से 700 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में स्थित है। किसी समय नवाबी परम्परा के इस शहर में शाही हवेलियाँ और निज़ामों की संस्कृति के बीच हीरे जवाहरात का रंग उभर कर सामने आया तो कभी स्वादिष्ट नवाबी भोजन का स्वाद। इस शहर के ऐतिहासिक गोलकुंडा दुर्ग की प्रसिद्धि पार-द्वार तक पहुँची और इसे उत्तर भारत और दक्षिणांचल के बीच संवाद का अवसर सालाजार संग्रहालय तथा चारमीनार ने प्रदान किया है। वर्ष २०११ की जनगणना के अनुसार इस महानगर की जनसंख्या ६८ लाख से अधिक है। .

नई!!: बंगलौर और हैदराबाद · और देखें »

हेच -1बी वीज़ा

एच-1बी इमीग्रेशन एण्ड नैशनॅलिटी ऐक्ट (Immigration and Nationality Act) की धारा 101 (ए)(15)(एच) के अंतर्गत संयुक्त राज्य अमरीका में एक गैर-आप्रवासी वीज़ा है। यह अमरीकी नियोक्ताओं को विशेषतापूर्ण व्यवसायों में अस्थायी तौर पर विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने की अनुमति देता है। यदि एच-1बी दर्जे वाला कोई विदेशी कर्मचारी नौकरी छोड़ देता है या उसे उसके प्रायोजक नियोक्ता द्वारा निलंबित कर दिया जाता है, तो कर्मचारी को या तो किसी अन्य गैर-आप्रवासी दर्जे में परिवर्तन के लिये आवेदन करना चाहिये व इसकी अनुमति प्राप्त करनी चाहिये, किसी अन्य नियोक्ता को ढूंढना चाहिये (दर्जे तथा/या वीज़ा के परिवर्तन के समायोजन के आवेदन के आधार पर), अथवा संयुक्त राज्य अमरीका से बाहर चले जाना चाहिये.

नई!!: बंगलौर और हेच -1बी वीज़ा · और देखें »

होन्नामाना केरे

होन्नामाना केरे होन्नामाना केरे(कन्नड़: ಹೊನ್ನಮ್ಮನ ಕೆರೆ) कुर्ग का सबसे बड़ी झील सोम्वर्पेत तलुक्, कुर्ग जिला, कर्नाटक में है। होन्नामाना केरे एक पर्यटक जगह है। शोम्वर्पेत से 6 किमी दूर दोद्दमल्थे गांव मे है। झील कॉफी सम्पदा और चट्टानों सहित सुंदर परिदृश्य से घिरा हुआ है। गोरि पर्व पर हर वर्ष विशेष पूजा होति है। .

नई!!: बंगलौर और होन्नामाना केरे · और देखें »

होसूर

होसूर (तमिळ - ஓசூர், ओसूर्) भारतीय राज्य तमिल नाडु का एक प्रमुख औद्योगिक नगर है जो कृष्णागिरि जिले में अवस्थित है। कर्नाटक की राजधानी बंगलौर से यह महज 40 कि॰मी॰ दक्षिण में स्थित है। यहाँ अशोक लेलैंड, टाइटन वॉच और टी वी एस मोटर समेत कई उद्योग प्रतिष्ठान हैं। 2001 की जनगणना के मुताबिक यहाँ की आबादी 84,310 थी। .

नई!!: बंगलौर और होसूर · और देखें »

हो॰ वे॰ शेषाद्री

हो०वे० शेषाद्री का चित्र होन्गासान्द्रा वेण्कटरमइया शेषाद्री (अंग्रेजी: Hongasandra Venkataramaiah Sheshadri, कन्नड: ಹ. ವ. ಸೇಶದ್ರಿ, जन्म: 1926 - मृत्यु: 2005) एक भारतीय लेखक व समाजसेवी थे। उनका जन्म बंगलौर में हुआ था। बंगलौर विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र में स्नातकोत्तर उपाधि लेने के बाद वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सिद्धान्तों से प्रभावित हुए और अपना पूरा जीवन संघ की विचारधारा के संवर्धन हेतु समर्पित कर दिया। .

नई!!: बंगलौर और हो॰ वे॰ शेषाद्री · और देखें »

हीरो कप 1993-94

हीरो कप 1993 में बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन की स्मृति में भारत में खेले जाने वाले एक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट था। भारत, श्रीलंका, वेस्ट इंडीज, दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्वे ने बहु-राष्ट्र टूर्नामेंट में भाग लिया। भारत ने हीरो कप जीतने के लिए टूर्नामेंट के फाइनल में वेस्टइंडीज को हराया। हीरो कप, हीरो होंडा द्वारा प्रायोजित पहला क्रिकेट आयोजन था। .

नई!!: बंगलौर और हीरो कप 1993-94 · और देखें »

जनपद लोक

जनपद लोक या "लोक दुनिया" कर्नाटक के ग्रामीण लोक संस्कृति के संरक्षण और का प्रचार-प्रसार के लिए समर्पित है कि एक संस्था है। यह कर्नाटक जनपद परिशद का एक हिस्सा है और बंगलौर - मैसूर राजमार्ग पर रमणगरा जिले में स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और जनपद लोक · और देखें »

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय (जेईसी), जिसे पहले शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के नाम से जाना जाता था, जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत में स्थित एक संस्थान है। यह भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान, शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के रूप में स्थापित किया गया था और यह भारत का १५ वां सबसे पुराना अभियांत्रिकी संस्थान है। यह भारत का पहला संस्थान है जिसने देश में इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार अभियांत्रिकी की शिक्षा शुरू की और यह भारत में ब्रिटिश द्वारा स्थापित अंतिम शैक्षिक संस्थान भी है। संस्थान अभियांत्रिकी अनुप्रयुक्त विज्ञान में स्नातक, स्नाकोत्तर और डॉक्टरेट उपाधि प्रदान करता है। संस्थान ने मार्च २०१३ में एक घोषणा की, कि वह अभियांत्रिकी में नए पाठ्यक्रम शुरू कर रहा है जैसे प्रबंधन, रचना विज्ञान, वास्तुकला, नगर नियोजन, भेषज विज्ञान, साइबर और व्यवसाय और कानून में स्नाकोत्तर आदि। .

नई!!: बंगलौर और जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर · और देखें »

जयचमराजा वोडेयार बहादुर

जयचमराजा वोडेयार बहादुर (18 जुलाई 1919 - 23 सितंबर 1974) मैसूर की शाही रियासत के 25वें और अंतिम महाराजा थे, जो 1940 से 1950 तक पदासीन रहे.

नई!!: बंगलौर और जयचमराजा वोडेयार बहादुर · और देखें »

जयललिता

जयललिता जयराम (तमिल: ஜெ. ஜெயலலிதா; 24 फ़रवरी 1948 – 5 दिसम्बर 2016) भारतीय राजनीतिज्ञ तथा तमिल नाडु की मुख्यमंत्री थीं। वो दक्षिण भारतीय राजनैतिक दल ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्ना द्रमुक) की महासचिव थीं। इससे पूर्व वो 1991 से 1996, 2001 में, 2002 से 2006 तक और 201 से 2014 तक तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं। राजनीति में आने से पहले वो अभिनेत्री थीं और उन्होंने तमिल के अलावा तेलुगू, कन्नड और एक हिंदी तथा एक अँग्रेजी फिल्म में भी काम किया है। जब वे स्कूल में पढ़ रही थीं तभी उन्होंने 'एपिसल' नाम की अंग्रेजी फिल्म में काम किया। वे 15 वर्ष की आयु में कन्नड फिल्मों में मुख्‍य अभिनेत्री की भूमिकाएं करने लगी थीं। इसके बाद वे तमिल फिल्मों में काम करने लगीं। 1965 से 1972 के दौर में उन्होंने अधिकतर फिल्में एमजी रामचंद्रन के साथ की। फिल्मी करियर के बाद उन्होने एम॰जी॰ रामचंद्रन के साथ 1982 में राजनीतिक करियर की शुरुआत की। उन्होंने 1984 से 1989 के दौरान तमिलनाडु से राज्यसभा के लिए राज्य का प्रतिनिधित्व भी किया। वर्ष 1987 में रामचंद्रन का निधन के बाद उन्होने खुद को रामचंद्रन की विरासत का उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। वे 24 जून 1991 से 12 मई 1996 तक राज्य की पहली निर्वाचित मुख्‍यमंत्री और राज्य की सबसे कम उम्र की मुख्यमंत्री रहीं। अप्रैल 2011 में जब 11 दलों के गठबंधन ने 14वीं राज्य विधानसभा में बहुमत हासिल किया तो वे तीसरी बार मुख्यमंत्री बनीं। उन्होंने 16 मई 2011 को मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लीं और तब से वे राज्य की मुख्यमंत्री पद पर रहीं। राजनीति में उनके समर्थक उन्हें अम्मा (मां) और कभी कभी पुरातची तलाईवी ('क्रांतिकारी नेता') कहकर बुलाते हैं। 5 दिसम्बर 2016 को रात 11:30 बजे (आईएसटी) इनका निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और जयललिता · और देखें »

जगदीश शेट्टार

जगदीश शिवप्पा शेट्टार (ಜಗದೀಶ್ ಶಿವಪ್ಪ ಶೆಟ್ಟರ್; जन्म: १७ दिसम्बर १९५५) भारत के कर्नाटक राज्य के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे। वे राजनैतिक दल भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में कर्नाटक विधानसभा की हुबली ग्रामीण सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। इससे पहले वह सन् २००८-२००९ के दौरान कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष थे। .

नई!!: बंगलौर और जगदीश शेट्टार · और देखें »

ज्ञानचन्द्र घोष

ज्ञानचंद्र घोष (1894 - 1959 ई) भारत के एक अग्रगण्य वैज्ञानिक थे। .

नई!!: बंगलौर और ज्ञानचन्द्र घोष · और देखें »

जेट कनेक्ट

जेट कनेक्ट के रूप में संचालित जेटलाइट (पूर्व नाम: एयर सहारा) मुंबई, भारत में आधारित एक वायुसेवा थी। रीडिफ.कॉम, 16 अप्रैल 2007 इसे पहले जेट एयर वेज़ कनेक्ट के नाम से जाना जाता था, जेट लाईट इंडिया लिमिटेड का एक व्यावसायिक नाम है। यह मुंबई में स्थित एक विमानन सेवा है जिस पर की जेट एयरवेज का मालिकाना हक़ है। यह विमान सेवा भारत के सभी मेट्रोपोल शहरों को जोड़ने के लिए नियमित उड़ान सेवाएँ प्रदान करती है। .

नई!!: बंगलौर और जेट कनेक्ट · और देखें »

जेनपैक्ट

डालियान केंद्र, चीन. 2-3,000 लोग यहां काम करते हैं, जो डालियान सॉफ्टवेयर पार्क में स्थित है। जेनपैक्ट NYSE) एक भारतीय बिज़नेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग और आईटी कंपनी है। यह पूर्व में GE के स्वामित्व वाली कंपनी थी, जिसे GE कैपिटल इंटरनेशनल सर्विसेज या GECIS कहा जाता था। यह भारत, चीन, गुआटेमाला, हंगरी, मैक्सिको, मोरक्को, फिलीपींस, पोलैंड, नीदरलैंड, रोमानिया, स्पेन, दक्षिण अफ्रीका और संयुक्त राज्य अमेरिका से संचालित होती है। प्रमोद भसीन जेनपैक्ट के अध्यक्ष और सीईओ हैं। वर्तमान में विभिन्न स्थानों में इसमें 37,000 लोगों को रोजगार मिला है और यह 24/7 आधार पर 30 भाषाओं में सेवाएं प्रदान कर रही है। इसकी सेवाओं मेंवित्तीय सेवाएं, बिक्री और विपणन,विश्लेषिकी,आपूर्ति श्रृंखला,कलेक्शंस, ग्राहक सेवा, सूचना प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य और शिक्षा तथा कंटेंट प्रबंधन जैसे क्षेत्र शामिल हैं। .

नई!!: बंगलौर और जेनपैक्ट · और देखें »

जोधपुर

जोधपुर भारत के राज्य राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर है। इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान का दूसरा "महानगर " घोषित कर दिया गया था। यह यहां के ऐतिहासिक रजवाड़े मारवाड़ की इसी नाम की राजधानी भी हुआ करता था। जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने ढेरों शानदार महलों, दुर्गों और मन्दिरों वाला प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है। वर्ष पर्यन्त चमकते सूर्य वाले मौसम के कारण इसे "सूर्य नगरी" भी कहा जाता है। यहां स्थित मेहरानगढ़ दुर्ग को घेरे हुए हजारों नीले मकानों के कारण इसे "नीली नगरी" के नाम से भी जाना जाता था। यहां के पुराने शहर का अधिकांश भाग इस दुर्ग को घेरे हुए बसा है, जिसकी प्रहरी दीवार में कई द्वार बने हुए हैं, हालांकि पिछले कुछ दशकों में इस दीवार के बाहर भी नगर का वृहत प्रसार हुआ है। जोधपुर की भौगोलिक स्थिति राजस्थान के भौगोलिक केन्द्र के निकट ही है, जिसके कारण ये नगर पर्यटकों के लिये राज्य भर में भ्रमण के लिये उपयुक्त आधार केन्द्र का कार्य करता है। वर्ष २०१४ के विश्व के अति विशेष आवास स्थानों (मोस्ट एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी प्लेसेज़ ऑफ़ द वर्ल्ड) की सूची में प्रथम स्थान पाया था। एक तमिल फ़िल्म, आई, जो कि अब तक की भारतीय सिनेमा की सबसे महंगी फ़िल्मशोगी, की शूटिंग भी यहां हुई थी। .

नई!!: बंगलौर और जोधपुर · और देखें »

जोश टॉक्स

जोश टॉक्स एक भारतीय मीडिया कंपनी है जिसका मुख्यालय गुड़गांव, हरियाणा में है। यह उन वक्ताओं के साथ भारत भर में सम्मेलन आयोजित करता है जो दर्शकों, मुख्य रूप से युवा लोगों को प्रेरक वार्ता प्रदान करते हैं। इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा कंपनी को २०१७ के लिए "भारत के शीर्ष ५० स्टार्टअप" की सूची में नामित किया गया था। यह २०१८ के लिए फ़ोर्ब्स पत्रिका में 'एशिया ३० अंडर ३०' सूची में भी शामिल है। .

नई!!: बंगलौर और जोश टॉक्स · और देखें »

जोगिंदर शर्मा

जोगिंदर नाथ शर्मा (Joginder Sharma) (इनका जन्म;२३ अक्टूबर १९८३, रोहतक, हरियाणा, भारत) में हुआ था। ये एक भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के क्रिकेट खिलाड़ी है तथा वर्तमान में हरियाणा में पुलिस अधिकारी है। ये घरेलू क्रिकेट हरियाणा क्रिकेट टीम के लिए खेलते थे। .

नई!!: बंगलौर और जोगिंदर शर्मा · और देखें »

जीएमआर समूह

जीएमआर समूह का प्रतीक चिह्न जीएमआर समूह (GMR Group) भारत में अधोसंरचना विकास की प्रमुख कम्पनी है। इसका मुख्यालय बंगलुरू में है। इसकी संस्थापना सन् १९७८ में हुई थी। यह समूह हवाई अड्डों का निर्माण, ऊर्जा, सड़क, कृषि एवं उड्ड्यन क्षेत्र में सक्रिय है। यह समूह कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत सामुदायिक विकास में योगदान देता है और अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को निभाने में भी अग्रणी है। .

नई!!: बंगलौर और जीएमआर समूह · और देखें »

जीनोम परियोजना

जीनोमिक्स का चित्रण जीनोम परियोजना वह वैज्ञानिक परियोजना है, जिसका लक्ष्य किसी प्राणी के संपूर्ण जीनोम अनुक्रम का पता करना है। जीन हमारे जीवन की कुंजी है। हम वैसे ही दिखते या करते हैं, जो काफी अंश तक हमारे देह में छिपे सूक्ष्म जीन तय करते हैं। यही नहीं, जीन मानव इतिहास और भविष्य की ओर भी संकेत करते हैं। जीन वैज्ञानिकों का मानना है, कि यदि एक बार मानव जाति के समस्त जीनों की संरचना का पता लग जये, तो मनुष्य की जीन-कुण्डली के आधार पर, उसके जीवन की समस्त जैविक घटनाओं और दैहिक लक्षणों की भविष्यवाणी करना संभव हो जायेगा। यद्यपि यह कोई आसान काम नहीं है, क्योंकि मानव शरीर में हजारों लाखों जीवित कोशिकएं होतीं हैं। जीनों के इस विशाल समूह को जीनोम कहते हैं। आज से लगभग 136 वर्ष पूर्व, बोहेमियन भिक्षुक ग्रेगर जॉन मेंडल ने मटर के दानों पर किये अपने प्रयोगों को प्रकाशित किया था, जिसमें अनुवांशिकी के अध्ययन का एक नया युग आरंभ हुआ था। इन्हीं लेखों से कालांतर में आनुवांशिकी के नियम बनाए गए। उन्होंने इसमें एक नयी अनुवांशिकीय इकाई का नाम जीन रखा, तथा इसके पृथक होने के नियमों का गठन किया। थॉमस हंट मॉर्गन ने १९१० में ड्रोसोफिला (फलमक्खी) के ऊपर शोधकार्य करते हुए, यह सिद्ध किया, कि जीन गुणसूत्र में, एक सीधी पंक्ति में सजे हुए रहते हैं, तथा कौन सा जीन गुणसूत्र में किस जगह पर है, इसका भी पता लगाया जा सकता है। हर्मन मुलर ने १९२६ में खोज की, कि ड्रोसोफिला के जीन में एक्सरे से अनुवांशिकीय परिवर्तन हो जाता है, जिसे उत्परिवर्तन भी कहते हैं। सन १९४४ में यह प्रमाणित हुआ कि प्रोटीन नहीं, वरन डी एन ए ही जीन होता है। सन १९५३ में वॉटसन और क्रिक ने डी एन ए की संरचना का पता लगाया और बतया, कि यह दो तंतुओं से बना हुआ घुमावदार सीढ़ीनुमा, या दोहरी कुंडलिनी के आकार का होता है। .

नई!!: बंगलौर और जीनोम परियोजना · और देखें »

जी॰ परमेश्वर

परमेश्वर गंगाधरैया (जन्म 6 अगस्त 1951), जो कि जी॰ परमेश्वर के नाम से भी जाने जाते हैं, एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो कि कर्नाटक के आठवें तथा वर्तमान उपमुख्यमंत्री हैं। वर्तमान में वे कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष भी हैं। वे 2015 से 2017 के मध्य कर्नाटक के गृह मंत्री भी रह चुके हैं। वे बौद्ध धर्म एवं दर्शन के अनुयायी हैं। .

नई!!: बंगलौर और जी॰ परमेश्वर · और देखें »

ईशा शरवानी

ईशा शरवानी (जन्म: 29 सितंबर 1985) हिन्दी फ़िल्मों की अभिनेत्री और भारतीय समकालीन डांसर हैं। .

नई!!: बंगलौर और ईशा शरवानी · और देखें »

वाराणसी

वाराणसी (अंग्रेज़ी: Vārāṇasī) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का प्रसिद्ध नगर है। इसे 'बनारस' और 'काशी' भी कहते हैं। इसे हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र नगरों में से एक माना जाता है और इसे अविमुक्त क्षेत्र कहा जाता है। इसके अलावा बौद्ध एवं जैन धर्म में भी इसे पवित्र माना जाता है। यह संसार के प्राचीनतम बसे शहरों में से एक और भारत का प्राचीनतम बसा शहर है। काशी नरेश (काशी के महाराजा) वाराणसी शहर के मुख्य सांस्कृतिक संरक्षक एवं सभी धार्मिक क्रिया-कलापों के अभिन्न अंग हैं। वाराणसी की संस्कृति का गंगा नदी एवं इसके धार्मिक महत्त्व से अटूट रिश्ता है। ये शहर सहस्रों वर्षों से भारत का, विशेषकर उत्तर भारत का सांस्कृतिक एवं धार्मिक केन्द्र रहा है। हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत का बनारस घराना वाराणसी में ही जन्मा एवं विकसित हुआ है। भारत के कई दार्शनिक, कवि, लेखक, संगीतज्ञ वाराणसी में रहे हैं, जिनमें कबीर, वल्लभाचार्य, रविदास, स्वामी रामानंद, त्रैलंग स्वामी, शिवानन्द गोस्वामी, मुंशी प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, आचार्य रामचंद्र शुक्ल, पंडित रवि शंकर, गिरिजा देवी, पंडित हरि प्रसाद चौरसिया एवं उस्ताद बिस्मिल्लाह खां आदि कुछ हैं। गोस्वामी तुलसीदास ने हिन्दू धर्म का परम-पूज्य ग्रंथ रामचरितमानस यहीं लिखा था और गौतम बुद्ध ने अपना प्रथम प्रवचन यहीं निकट ही सारनाथ में दिया था। वाराणसी में चार बड़े विश्वविद्यालय स्थित हैं: बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइयर टिबेटियन स्टडीज़ और संपूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय। यहां के निवासी मुख्यतः काशिका भोजपुरी बोलते हैं, जो हिन्दी की ही एक बोली है। वाराणसी को प्रायः 'मंदिरों का शहर', 'भारत की धार्मिक राजधानी', 'भगवान शिव की नगरी', 'दीपों का शहर', 'ज्ञान नगरी' आदि विशेषणों से संबोधित किया जाता है। प्रसिद्ध अमरीकी लेखक मार्क ट्वेन लिखते हैं: "बनारस इतिहास से भी पुरातन है, परंपराओं से पुराना है, किंवदंतियों (लीजेन्ड्स) से भी प्राचीन है और जब इन सबको एकत्र कर दें, तो उस संग्रह से भी दोगुना प्राचीन है।" .

नई!!: बंगलौर और वाराणसी · और देखें »

वाई एस जगनमोहन रेड्डी

वाइ॰एस॰ जगनमोहन रेड्डी: (येदुगूरी संदिंटि जगन्मोहन रेड्डी) (तेलुगु: యెదుగూరి సందింటి జగన్మోహన్ రెడ్డి) (जन्म 21 दिसंबर 1972) इन को भी जगन कहते हैं कि वे जून 2004 से वाई एस आर कांग्रेस पार्टी के एक भारतीय राजनीतिज्ञ और आंध्र प्रदेश विधान सभा में विपक्ष के नेता हैं। वह आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, वाईएस के बेटे हैं। राजशेखर रेड्डी उन्होंने कडप्पा जिले में 2004 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी के लिए अभियान चलाया और 2009 के चुनावों में उन्हें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य के रूप में कडपा निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य चुने गए। .

नई!!: बंगलौर और वाई एस जगनमोहन रेड्डी · और देखें »

वाइल्डक्राफ़्ट

वाइल्डक्राफ़्ट(WildCraft) बेंगलूर स्थित एक बैग निर्माता कंपनी है जो स्कूल, लैपटौप और स्पोर्ट्स कार्यों के लिए बैग बनाती है। श्रेणी: भारतीय बैग निर्माता.

नई!!: बंगलौर और वाइल्डक्राफ़्ट · और देखें »

विट्ठल माल्या

विट्ठल माल्या (1924 - 1983) भारतीय उद्योगपति थे। यह यूबी समूह के पूर्व अध्यक्ष भी थे। .

नई!!: बंगलौर और विट्ठल माल्या · और देखें »

विधान सभा

विधान सभा या वैधानिक सभा जिसे भारत के विभिन्न राज्यों में निचला सदन(द्विसदनीय राज्यों में) या सोल हाउस (एक सदनीय राज्यों में) भी कहा जाता है। दिल्ली व पुडुचेरी नामक दो केंद्र शासित राज्यों में भी इसी नाम का प्रयोग निचले सदन के लिए किया जाता है। 7 द्विसदनीय राज्यों में ऊपरी सदन को विधान परिषद कहा जाता है। विधान सभा के सदस्य राज्यों के लोगों के प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होते हैं क्योंकि उन्हें किसी एक राज्य के 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के नागरिकों द्वारा सीधे तौर पर चुना जाता है। इसके अधिकतम आकार को भारत के संविधान के द्वारा निर्धारित किया गया है जिसमें 500 से अधिक व् 60 से कम सदस्य नहीं हो सकते। हालाँकि विधान सभा का आकार 60 सदस्यों से कम हो सकता है संसद के एक अधिनियम के द्वारा: जैसे गोवा, सिक्किम, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी। कुछ राज्यों में राज्यपाल 1 सदस्य को अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए नियुक्त कर सकता है, उदा० ऐंग्लो इंडियन समुदाय अगर उसे लगता है कि सदन में अल्पसंख्यकों को उचित प्रतिनिधित्व नहीं मिला है। राज्यपाल के द्वारा चुने गए या नियुक्त को विधान सभा सदस्य या MLA कहा जाता है। प्रत्येक विधान सभा का कार्यकाल पाँच वर्षों का होता है जिसके बाद पुनः चुनाव होता है। आपातकाल के दौरान, इसके सत्र को बढ़ाया जा सकता है या इसे भंग किया जा सकता है। विधान सभा का एक सत्र वैसे तो पाँच वर्षों का होता है पर लेकिन मुख्यमंत्री के अनुरोध पर राज्यपाल द्वारा इसे पाँच साल से पहले भी भंग किया जा सकता है। विधानसभा का सत्र आपातकाल के दौरान बढ़ाया जा सकता है लेकिन एक समय में केवल छः महीनों के लिए। विधान सभा को बहुमत प्राप्त या गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित हो जाने पर भी भंग किया जा सकता है। .

नई!!: बंगलौर और विधान सभा · और देखें »

विधान सौध

१९५८ में निर्मित बेंगलुरु का विधान सौध, कर्नाटक सरकार के सचिवालय और राज्य की विधान सभा के कार्यस्थल के रूप में उपयोग में लाया जाता है। बेंगलुरु ग्रेनाइट से नव-द्रविड़ शैली में बनी यह इमारत भारतीय स्थापत्य कला का शानदार उदाहरण है। इसे रविवार रात्रि के समय कृत्रिम प्रकाश में देखना सुखद अनुभव है। .

नई!!: बंगलौर और विधान सौध · और देखें »

विनीता बाली

विनीता बाली एक भारतीय महिला उद्यमी हैं, जो ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड के प्रबंध निदेशक हैं। .

नई!!: बंगलौर और विनीता बाली · और देखें »

विप्रो

विप्रो लिमिटेड, भारत की तीसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी है, जिसका मुख्यालय बेंगलूर में है। इसकी स्थापना १९६६ में एक व्यवसायी के पुत्र अज़ीम प्रेमजी ने किया था। आज इसकी आय कोई 350 अरब रुपये प्रतिवर्ष है और मुनाफ़ा कोई 70 अरब रुपये। यह सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की सेवा कंपनी है। १९७७ में जनता सरकार के समय विदेशी कंपनियों (जैसे IBM) के भारत छोड़ने के आदेश के बाद इसके व्यवसाय में असरदार इजाफ़ा हुआ था। आज यह एक बहु व्यवसाय तथा बहु स्थान कंपनी के रूप में उभरी है। इसका व्यसाय उपभोक्ता उत्पादों, अधोसरंचना यांत्रिकी से विशिष्ट सूचना प्रौद्योगिकी उत्पादों और सेवाओं तक विस्तारीत है। कंपनी की आंतरिक कार्यप्रणाली अन्य सॉफ्टवेर कंपनियों के मुकाबले अधिक सख़्त है। .

नई!!: बंगलौर और विप्रो · और देखें »

विभिन्न उद्योगों का भारत में विकास

90 के शुरुआती वर्शो तक इस उद्योग मे सरकारी कम्पनियों - इंडियन एयर्लाइंस और एयर इंडिया का एकाधिकार था। फिर मैदान मे आये सहारा और जैट। सरकारी एकाधिकार टूटा और भारत मे पह्ली बार इस उद्योग मे कोइ प्रतिस्पर्धा देखने को मिली। ये वोह समय था जब कि विमान मे उडान भरना रहीसी का प्रतीक और मध्यम वर्ग का सपना था। '00 के दशक मे डेक्कन एयर्वेज़, स्पाइस जैट, किंगफिशर एयरलाईन्स, गो एयर्वेज़, इंडिगो, जैसी कयी कम्पनियाँ शुरू हुई। दूसरे उद्योगो की तरह यहाँ भी प्रतिस्पर्धा के बढने से किराये मे भारी गिरावट आयी। बैंगलोर से दिल्ली का किराया जहान 2001 मे 9000 रुपये से ले के 13,000 रुपये तक होता था, वही 2006 मे सस्ती विमान सेवाओं मे ये 3000 रुपये रह गया। इस उद्योग मे बहुत सारे नये रोज़्गार बने। 4 साल मे विमान यात्रा करने वलों की संख्या इस कदर बढ गयी कि हवायीअड्डों पे जगह की कमी पड गयी। आज्कल बैंगलोर और हैदराबाद समेत कयी दूसरे शहरों मे नये हवायी अड्डों का निर्माण चल रहा है। भारत के दूसरे उद्योगों के बारे मे लिख के इस लेख को बढाने में विकिपीडिया की मदद करें श्रेणी:अर्थशास्त्र.

नई!!: बंगलौर और विभिन्न उद्योगों का भारत में विकास · और देखें »

विश्व संवाद केन्द्र

विश्व संवाद केन्द्र, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, (आरएसएस) का आधिकारिक मीडिया केंद्र है। इसका प्रधान कार्यालय बेंगलूर में है। विश्व संचार केंद्र मीडिया के क्षेत्र में काम कर रहा एक माध्यम है जो दोनों प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक शामिल-संबंधित बहुआयामी गतिविधियों के क्षेत्र में काम करता है। समेकित घटनाओं का विश्लेषण, सामाजिक नेताओं और विचारकों की साक्षात्कार, प्रतिष्ठित स्तंभ लेखकों द्वारा लेख प्रस्तुत करने, युवा पत्रकारों के लिए पुनर्रचना कार्यक्रम आयोजित करने, संगोष्ठियों का आयोजन करने और समाचारों को प्रसारित करने के अलावा, संपादक की मेल के लिए पत्र लिखने की कला में दिलचस्पी रखने वालों और टीवी दर्शकों के मंच बनाने में आपकी जानकारी के लिए कुछ गतिविधियों का उल्लेख करने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करना है । .

नई!!: बंगलौर और विश्व संवाद केन्द्र · और देखें »

विश्वविद्यालय

विश्वविद्यालय (युनिवर्सिटी) वह संस्था है जिसमें सभी प्रकार की विद्याओं की उच्च कोटि की शिक्षा दी जाती हो, परीक्षा ली जाती हो तथा लोगों को विद्या संबंधी उपाधियाँ आदि प्रदान की जाती हों। इसके अंतर्गत विश्वविद्यालय के मैदान, भवन, प्रभाग, तथा विद्यार्थियों का संगठन आदि भी सम्मिलित हैं। .

नई!!: बंगलौर और विश्वविद्यालय · और देखें »

विश्वेश्वरय्या प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय

विश्वेश्वरय्या प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (वीटीयू) कर्नाटक राज्य में स्थित एक विश्वविद्यालय है। यह कर्नाटक सरकार द्वारा 1 अप्रैल 1998 को वीटीयू अधिनियम 1994 के अनुसार, राज्य में तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए स्थापित किया गया था। वीटीयू के पास कुछ अपवादो को छो़ड़ कर्नाटक राज्य का पूरा अधिकार है। कर्नाटक राज्य में इंजीनियरिंग या प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में शिक्षा प्रादान करने वाले हर कॉलेज को वीटीयू के तहत होना अनीवार्य है।http://vtu.ac.in/pdf/academic/publicnotice.pdf इस विश्वविद्यालय का नाम मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या के नाम पर रखा गया है। वे एकलौते इंजीनियर है जिन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया है। ज्ञान संगम, बेलगाम वीटीयू का मुख्यालय है। साथ ही विश्वविद्यालय का तीन क्षेत्रीय केंद्र बंगलौर, गुलबर्ग और मैसूर में स्थित है। ६७१०० पूर्वस्नातक और १२६६६ स्नातक शिक्षको का सेवन करने की क्षमता रखते हुए यह भारत में सबसे बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है। २०८ कॉलेज इसके तहत है। यह विश्वविद्यालय ३० पूर्वस्नातक और १७ स्नातक पाठ्यक्रम प्रादान करता है। विश्वविद्यालय में लगभग 1800 पीएचडी के उम्मीदवार है। वर्तमान में, वीटीयू के पास १३ क्यूआईपी केंद्र और 17 विस्तार केन्द्र है। यह भारत के उन चंद विश्वविद्यालयों में से है जिसके तहत १६ कॉलेजो को विश्व बैंक के टीईक्यूआईपी (टेक्निकल एड़यूकेषन कॉलिटी इम्प्रूवमेंट प्रोग्राम, भारत सरकार की पहल) कार्यक्रम के तहत कला प्रयोगशालाओं, परिसर में सुविधाओं और अनुसंधान केंद्रों को स्थापित करने में सहायता प्राप्त करने के लिए चुना गया है। विश्वविद्यालय मे न्याय-प्रशासन के लिए सदस्य शैक्षिक समुदाय और सरकारी अधिकारियों मे से चुने जते है। विश्वविद्यालय के वर्तमान चांसलर श्री एच् हंसराज भारद्वाज हैं। इस विश्वविद्यालय ने कई बहुराष्ट्रीय निगमो, जैसे, आईबीएम, इंटेल एशिया इलेक्ट्रॉनिक्स इंक, इंगरसोल रैंड (इंडिया) लिमिटेड, बंगलौर, नोकिया, बॉश रेक्सरोत और माइक्रोसॉफ्ट, के साथ सम्बन्ध बनाए है जिस्से छात्रों और शिक्षकों दोनों के उद्योग बातचीत में सुधार होगा। वीटीयू असोसिएशन ऑफ इंडियन यूनीवर्सिटी और असोसिएशन ऑफ कॉमनवेल्थ यूनीवर्सिटी का सदस्य है। .

नई!!: बंगलौर और विश्वेश्वरय्या प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय · और देखें »

विश्वेश्वरैया औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय

विश्वेश्वरैया औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय बंगलुरू स्थित भारत का औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय है। .

नई!!: बंगलौर और विश्वेश्वरैया औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकीय संग्रहालय · और देखें »

विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (भारत)

आयोग की स्थापना के समय मौलाना आजाद एवं डॉ॰सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत का विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (अंग्रेज़ी:University Grants Commission, लघु:UGC) केन्द्रीय सरकार का एक उपक्रम है जो सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को अनुदान प्रदान करता है। यही आयोग विश्वविद्यालयों को मान्यता भी देता है। इसका मुख्यालय नयी दिल्ली में है और इसके छः क्षेत्रीय कार्यालय पुणे, भोपाल, कोलकाता, हैदराबाद, गुवाहाटी एवं बंगलुरु में हैं।। हिन्दुस्तान लाइव। २२ फ़रवरी २०१० .

नई!!: बंगलौर और विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (भारत) · और देखें »

विजय माल्या

subhash singh (जन्म 18 दिसम्बर, 1955) एक भारतीय व्यापारी और राज्य सभा से सांसद भी हैं। वे यूबी समूह और किंगफिशर एयरलाइंस के अध्यक्ष व उद्योगपति विट्ठल माल्या के बेटे हैं। वर्ष 2008 में लगभग ₹72 अरब रुपये के संपत्ति के साथ यह विश्व के 962वें सबसे धनी लोगों में शामिल हुए। इसी समय इनका भारत में सबसे धनी लोगों में 42वां स्थान था। विजय माल्या ने देश की बैंको से करीब 9000 करोड़ रुपये धोखाधड़ी से चुराए। आजकल भारत सरकार ने विभिन्न भारतीय बैंको के 9000 करोड हड़पकर भाग जाने के कारण विजय माल्या को भगोड़ा घोषित किया है। भगोड़ा विजय माल्या पैसे न लौटाने औऱ कार्यवाही से भयभीत होकर ब्रिटेन में जा छुपा है। .

नई!!: बंगलौर और विजय माल्या · और देखें »

विजय हजारे ट्रॉफी ग्रुप ए 2018

2017-18 विजय हजारे ट्राफी को विजय हजारे ट्रॉफी के 16 वें सत्र का आयोजन करना है, जो कि भारत में लिस्ट ए क्रिकेट टूर्नामेंट है। यह भारत की 28 घरेलू क्रिकेट टीमों द्वारा मुकाबला होगा। ग्रुप ए में निम्नलिखित सात टीम तैयार की गई: असम, बड़ौदा, हरियाणा, कर्नाटक, ओडिशा, पंजाब और रेलवे। दिसंबर 2017 में, खिलाड़ियों को इंडियन प्रीमियर लीग 2018 से पहले खिलाड़ियों को अभ्यास करने की अनुमति देने के लिए आगे लाया गया। .

नई!!: बंगलौर और विजय हजारे ट्रॉफी ग्रुप ए 2018 · और देखें »

विजय कुमार सारस्वत

विजय कुमार सारस्वत भारतीय वैज्ञानिक है। सारस्वत ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन में महाप्रबंधक के रूप में और रक्षा मंत्रालय में वैज्ञानिक सलाहकार के सेवा की और वर्ष 2013 में सेवा निवृत्त हो गए। वर्तमान में नीति आयोग के सदस्य हैं।http://niti.gov.in/team-niti/shri-vk-saraswat .

नई!!: बंगलौर और विजय कुमार सारस्वत · और देखें »

विव रिचर्ड्स

विव रिचर्ड्स' कैरियर ग्राफ प्रदर्शन. सर इसाक विवियन एलेक्जेंडर रिचर्ड्स, केजीएन, ओबीई (जन्म - 7 मार्च 1952 सेंट जॉन, एंटीगुआ) वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर हैं। क्रिकेट जगत में इनके दूसरे नाम विवियन या, विव और किंग विव के रूप अधिक लोकप्रिय नाम से जाना जाता है, रिचर्ड्स को 100 सदस्यों के विशेषज्ञ पैनल ने बीसवीं शताब्दी के पांच महान खिलाड़ियों की सूची में शामिल किया है, इस सूची में विवियन रिचर्ड्स के अलावा सर डोनाल्ड ब्रेडमैन, सर गैरीफील्ड सोबर्स, सर जैक हॉब्स और महान लेग स्पिनर शेन वार्न का नाम भी शामिल है। फरवरी 2002 में क्रिकेट की बाइबल कही जाने वाली क्रिकेट पत्रिका विजडन द्वारा विवियन रिचर्ड्स की एक पारी को वन डे अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट (ओडीआई) की सर्वश्रेष्ठ इनिंग घोषित किया गया। इसी वर्ष दिसंबर में विज़डन ने उन्हे वन डे क्रिकेट का सर्वकालीन और टेस्ट क्रिकेट के तीन महान बल्लेबाज़ों में से एक घोषित किया, सवा सौ साल के क्रिकेट इतिहास में सिर्फ दो बल्लेबाज़ सर डान ब्रेडमैन और भारत के सचिन तेंदुलकर का स्थान ही उनसे ऊपर आंका गया है। .

नई!!: बंगलौर और विव रिचर्ड्स · और देखें »

विक्रांत शेट्टी

विक्रांत शेट्टी (Vikrant Shetty) एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट खिलाड़ी है जो संयुक्त अरब अमीरात की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के लिए क्रिकेट खेलते हैं। ये एक हरफनमौला खिलाड़ी है इन्होंने अपनी टीम संयुक्त अरब अमीरात क्रिकेट टीम के लिए पहला मैच २०१४ में खेला था। .

नई!!: बंगलौर और विक्रांत शेट्टी · और देखें »

वंडरला

वंडरला एक मनोरंजन पार्क है, जो बिदडी के निकट स्थित है, जो बंगलौर से २८ किलोमीटर (१७ मील) के दूरी मे है। यह मनोरंजन पार्क ८२ एकड़ (33 हेक्टेयर) ज़मीन पर फैली है यह कोचीन, केरल में स्थित वि गार्ड इंडस्ट्रीज लिमिटेड, द्वारा पदोन्नत किया गया है। इस्को अक्टूबर 2005 के बाद से परिचालन किया गया है। यह 1.5 बिलियन के कुल निवेश के साथ स्थापित किया गया था। .

नई!!: बंगलौर और वंडरला · और देखें »

वंदना शिवा

वंदना शिवा (जन्म. 5 नवम्बर 1952, देहरादून, उत्तराखंड, भारत), एक दार्शनिक, पर्यावरण कार्यकर्ता, पर्यावरण संबंधी नारी अधिकारवादी एवं कई पुस्तकों की लेखिका हैं। वर्तमान में दिल्ली में स्थित, शिवा अग्रणी वैज्ञानिक और तकनीकी पत्रिकाओं में 300 से अधिक लेखों की रचनाकार हैं। उन्होंने 1978 में डॉक्टरी शोध निबंध: "" के साथ पश्चिमी ओंटेरियो विश्वविद्यालय, कनाडा से अपनी पीएच.डी.

नई!!: बंगलौर और वंदना शिवा · और देखें »

वृंदावन चन्द्रोदय मंदिर

वृंदावन चन्द्रोदय मंदिर उत्तर प्रदेश के वृन्दावन में भगवान कृष्ण को समर्पित एक मंदिर है जो अभी निर्माणाधीन है। इसे इस्काॅन की बैंगलोर इकाई के संकल्पतः कुल ₹३०० करोड़ की लागत से निर्मित किया जा रहा है। इस मंदिर के मुख्य आराध्य देव भगवान कृष्ण होंगे। इस मंदिर का सबसे विशिष्ट आकर्षण यह है कि योजनानुसार इस अतिभव्य मंदिर की कुल ऊंचाई करीब ७०० फुट यानी २१३ मीटर (जो किसी ७०-मंजिला इमारत जितना ऊंचा है) होगी जिस के कारण पूर्ण होने पर, यह विश्व का सबसे ऊंचा मंदिर बन जाएगा। इसके गगनचुम्बी शिखर के अलावा इस मंदिर की दूसरी विशेष आकर्षण यह है की मंदिर परिसर में २६ एकड़ के भूभाग पर चारों ओर १२ कृत्रिम वन बनाए जाएंगे, जो मनमोहक हरेभरे फूलों और फलों से लदे वृक्षों, रसीले वनस्पति उद्यानों, हरी लंबी चराईयों, हरे घास के मैदानों, फलों का असर पेड़ों की सुंदर खा़काओं, पक्षी गीत द्वारा स्तुतिगान फूल लादी लताओं, कमल और लिली से भरे साफ पानी के पोखरों एवं छोटी कृत्रिम पहाड़ियों और झरनों से भरे होंगें, जिन्हें विशेश रूप से पूरी तरह हूबहू श्रीमद्भागवत एवं अन्य शास्त्रों में दिये गए, कृष्णकाल के ब्रजमंडल के १२ वनों (द्वादशकानन) के विवरण के अनुसार ही बनाया जाएगा ताकी आगंतुकों (श्रद्धालुओं) को कृष्णकाल के ब्रज का आभास कराया जा सके। ५ एकड़ के पदछाप वाला यह मंदिर कुल ६२ एकड़ की भूमि पर बन रहा है, जिसमें १२ एकड़ पर कार-पार्किंग सुविधा होगी, और एक हेलीपैड भी होगा। .

नई!!: बंगलौर और वृंदावन चन्द्रोदय मंदिर · और देखें »

वैमानिक विकास अभिकरण

वैमानिक विकास अभिकरण (Aeronautical Development Agency; एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (ADA)) की स्थापना भारत में हल्के लड़ाकू विमान (LCA) के निर्माण की देखरेख करने के लिये १९८४ में की गयी। यह भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के अन्तर्गत आता है और इसका मुख्यालय बंगलुरु में है। .

नई!!: बंगलौर और वैमानिक विकास अभिकरण · और देखें »

वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद

वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद भारत का सबसे बड़ा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर अनुसंधान एवं विकास संबंधी संस्थान है। इसकी स्थापना १९४२ में हुई थी। इसकी ३९ प्रयोगशालाएं एवं ५० फील्ड स्टेशन भारत पर्यन्त फैले हुए हैं। इसमें १७,००० से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। आधिकारिक जालस्थल हालांकि इसकी वित्त प्रबंध भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा होता है, फिर भी ये एक स्वायत्त संस्था है। इसका पंजीकरण भारतीय सोसायटी पंजीकरण धारा १८६० के अंतर्गत हुआ है। वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं/संस्थानों का एक बहुस्थानिक नेटवर्क है जिसका मैंडेट विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों में अनुप्रयुक्त अनुसंधान तथा उसके परिणामों के उपयोग पर बल देते हुए अनुसंधान एवं विकास परियोजनाएं प्रारंभ करना है। वतर्मान में ३९ अनुसंधान संस्थान हैं जिनमें पाँच क्षेत्रीय अनुसंधान प्रयोगशालाएं शामिल हैं। इनमें से कुछेक संस्थानों ने अपने अनुसंधान क्रियाकलापों को और गति प्रदान करने के लिए प्रायोगिक, सर्वेक्षण क्षेत्रीय केन्द्रों की भी स्थापना की है तथा वतर्मान में 16 प्रयोगशालाओं से सम्बद्ध ऐसे 39 केन्द्र कायर्रत हैं। सीएसआईआर की गिनती विश्‍व में इस प्रकार के 2740 संस्‍थानों में 81वें स्‍थान पर होती है।(सितंबर २०१४) .

नई!!: बंगलौर और वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद · और देखें »

वेरोनिका रॉड्रिक्स

वेरोनिका फिलोमेना रॉड्रिक्स (1953-2010) एक केन्याई जन्मी भारतीय जीवविज्ञानी थीं। वेरोनिका ने बीए आनर्ज़ सूक्ष्म जीव विज्ञान में की। प्रो.ओबैद सिद्दीकी और उसनके सह कार्यकर्ताओं के काम से प्रेरित होकर, वह स्थानांतरित करके पीएच.

नई!!: बंगलौर और वेरोनिका रॉड्रिक्स · और देखें »

वेल्लोर

वेल्लोर (வேலூர்,ਵੇਲੂਰ) एक शहर एवं भारत के राज्य तमिलनाडु के वेल्लोर जिले का मुख्यालय है। तमिलनाडु में 1 अगस्त 2009 को नगर परिषद को नगर निगम का ताज पहनाया गया। वेल्लोर राज्य का नौवां कॉर्पोरशन है। इस सबसे बड़े कॉर्पोरशन का उद्घाटन तमिलनाडु के मुख्यमंत्री श्री के.करूणानिधि के हाथों किया गया। इसे दक्षिण भारत के प्राचीनतम शहरों में से एक माना जाता है। यह शहर वेल्लोर किले के पास स्थित पलार नदी के किनारे बसा है। यह शहर चेन्नई और बैंगलोर तथा मंदिरों के शहर थिरुवन्नमलाई एवं तिरुपति के बीच स्थित है। .

नई!!: बंगलौर और वेल्लोर · और देखें »

वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1974-75

वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम की कप्तानी द्वारा क्लाइव लॉयड, का दौरा किया था भारत, श्रीलंका और पाकिस्तान से नवंबर 1974 मार्च और 1975 निभाई पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला के खिलाफ भारत राष्ट्रीय क्रिकेट टीम द्वारा पीछा किया एक दो मैचों की श्रृंखला के खिलाफ पाकिस्तान राष्ट्रीय क्रिकेट टीम। वेस्टइंडीज ने भारत को 3-2 से श्रृंखला में जीत दर्ज की और पाकिस्तान में श्रृंखला ड्रॉ हो गया था 0-0। श्रीलंका में वेस्टइंडीज खेला श्रीलंका की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम है जो तब टेस्ट दर्जा हासिल नहीं था के खिलाफ दो मैचों; इसलिए, अंतरराष्ट्रीय कोलंबो क्रिकेट क्लब ग्राउंड और पैकीअसोथी सरावनामुत्तु स्टेडियम में खेला जाता है, दोनों कोलंबो में, प्रथम श्रेणी के मैचों के रूप में वर्गीकृत कर रहे हैं। भारत मंसूर अली खान पटौदी, इंतिखाब आलम, पाकिस्तान और श्रीलंका रंजीब टेनकूं द्वारा की कप्तानी कर रहे थे। .

नई!!: बंगलौर और वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1974-75 · और देखें »

वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1978-79

एल्विन कालीचरण द्वारा कैप्टन वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम ने नवंबर 1978 से फरवरी 1979 तक भारत और श्रीलंका का दौरा किया और भारत की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के खिलाफ छह मैचों की टेस्ट सीरीज़ खेली। भारत ने सीरीज 1-0 जीती। श्रीलंका में, वेस्टइंडीज ने श्रीलंका की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के खिलाफ दो अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जो तब टेस्ट की स्थिति हासिल नहीं कर पाये थे; इसलिए, कोलंबिया में दोनों पैकिआओथोथी सरवानमुत्तु स्टेडियम और सिंहली स्पोर्ट्स क्लब ग्राउंड में खेला जाने वाला अंतरराष्ट्रीय मैच प्रथम श्रेणी के मैचों के रूप में वर्गीकृत किया गया है। भारत की ओर से सुनील गावस्कर और श्रीलंका ने अनरा टेन्नकून द्वारा कप्तानी की थी। .

नई!!: बंगलौर और वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1978-79 · और देखें »

वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15

वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम ने अक्टूबर 2014 में भारत का दौरा किया। यह दौरा मूल रूप से तीन टेस्ट मैचों, पांच वनडे अंतर्राष्ट्रीय मैच और एक ट्वेंटी-20 इंटरनेशनल मैच से होने वाला था। चक्रवात हुदहुद के कारण तीसरे मैच को रद्द करने के बाद एकदिवसीय श्रृंखला को पांच मैचों से चार तक घटा दिया गया था। श्रृंखला के प्रारंभ के दिन, वेस्ट इंडीज के खिलाड़ियों ने धमकी दी कि जब तक वे डब्लूआईसीबी द्वारा अपनी देय राशि का भुगतान नहीं कर देते तब तक मैदान पर नहीं आना चाहिए। बीसीसीआई हस्तक्षेप के बाद, डब्ल्यूआईसीबी ने अपने खिलाड़ियों का भुगतान करने का वादा किया और श्रृंखला शुरू हुई। 17 अक्टूबर 2014 को, टॉस टाइम में, वेस्ट इंडीज के एकदिवसीय कप्तान ड्वेन ब्रावो ने पूरी टीम उनके साथ लायी और घोषणा की कि वे बाकी के दौरे को छोड़ रहे हैं क्योंकि उन्हें डब्लूआईसीबी से अपना वादा किया गया भुगतान नहीं मिला। बाद में बीसीसीआई ने पुष्टि की कि वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों, वेस्ट इंडीज क्रिकेट बोर्ड और खिलाड़ियों के बीच चल रहे वेतन के चलते चौथा एकदिवसीय खेल के बाद दौरे के शेष जुड़ने को रद्द कर दिया गया था। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने विकास की पुष्टि करते हुए कहा कि वेस्टइंडीज टीम प्रबंधन ने अपने निर्णय के बोर्ड को पहले दिन में सूचित किया था। श्रीलंका ने भारत में नवंबर में वेस्टइंडीज के मैचों को छोड़ने के बाद नवंबर में पांच एकदिवसीय मैच खेलने के लिए प्रिंसिपल पर सहमति जताई है। इसके बाद बीसीसीआई ने घोषणा की कि वह अगले नोटिस तक वेस्ट इंडीज के सभी योजनाबद्ध दौरे को निलंबित कर देगी, और भारत दौरे के अंत से समाप्त होने के लिए डब्ल्यूआईसीबी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा। जून 2016 में, भारत ने पुष्टि की कि वे अपने दौरे का वेस्ट इंडीज़ का सम्मान करेंगे, जो कि अगले महीने होने का आयोजन किया जाएगा। .

नई!!: बंगलौर और वेस्ट इंडीज क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15 · और देखें »

वेंकटरमन राधाकृष्णन

वेंकटरमन राधाकृष्णन (जन्म 18 मई 1929) एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध अंतरिक्ष वैज्ञानिक और रॉयल स्वीडिश अकादमी ऑफ साइंसेस के सदस्य हैं। वे भारत के बंगलौर में स्थित रमन रिसर्च इंस्टिट्यूट में अवकाशप्राप्त प्रोफेसर रह चुके हैं जहां वे 1972 से 1994 तक निदेशक रहे थे। प्रोफेसर राधाकृष्णन क़ा जन्म मद्रास के एक उपनगर, टोंडारीपेट में हुआ था। उनकी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा मद्रास में हुई थी। उन्होंने श्रीमती फ्रांसिस-डोमिनिक राधाकृष्णन से विवाह की थी। प्रोफेसर राधाकृष्णन ने विभिन्न समितियों में विभिन्न क्षमताओं में सेवा प्रदान की है। 1988-1994 के दौरान वे अंतरराष्ट्रीय खगोलीय संघ (इंटरनेशनल एस्ट्रोनोमिकल यूनियन) के उपाध्यक्ष रहे थे। उन्होंने इंटरनेशनल यूनियन ऑफ रेडियो साइंसेस के कमीशन जे (रेडियो एस्ट्रोनोमी) के अध्यक्ष (1981-1984) के रूप में काम किया है। राधाकृष्णन आज दुनिया के सबसे सम्मानित रेडियो खगोलविदों में से एक हैं, इस मामले में वे दुनिया की सबसे बड़ी रेडियो दूरबीनों के साथ विभिन्न क्षमताओं में जुड़े रहे हैं। वे नीदरलैंड फाउंडेशन फॉर रेडियो एस्ट्रोनोमी की विदेशी सलाहकार समिति, ऑस्ट्रेलिया टेलीस्कोप नेशनल फैसिलिटी, सीएसआईआरओ, ऑस्ट्रेलिया, ग्रीन बैंक रेडियो टेलीस्कोप की सलाहकार समिति, नेशनल रेडियो एस्ट्रोनोमी ऑब्जरवेटरी, अमेरिका के सदस्य रहे हैं। वे गवर्निंग काउन्सिल ऑफ डा फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी, अहमदाबाद और इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनोमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स की साइंटिफिक एडवाइजरी कमिटी के सदस्य भी रहे हैं। 1973-1981 की अवधि के दौरान वे इंडियन नेशनल कमिटी फॉर एस्ट्रोनोमी के एक सदस्य रहे थे। राधाकृष्णन को विभिन्न वैज्ञानिक संस्थाओं, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों के लिए चुना गया है। वह रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस और यू.एस.

नई!!: बंगलौर और वेंकटरमन राधाकृष्णन · और देखें »

वी पी मेनोन

राउ बहादुर वाप्पला पंगुन्नि मेनोन (३० सितंबर १८९३ - ३१ दिसंबर १९६५) एक भारतीय प्रशासनिक सेवक थे जो भारत के अन्तिम तीन वाइसरायों के संविधानिक सलाहकार एवं राजनीतिक सुधार आयुक्त भी थे। भारत के विभाजन के काल में तथा उसके बाद भारत के राजनीतिक एकीकरण में उनकी महती भूमिका रही। बाद में वे स्वतंत्र पार्टी के सदस्य बन गये थे। .

नई!!: बंगलौर और वी पी मेनोन · और देखें »

वीके मूर्ति

वेंकटरामा पंडित कृष्णमूर्ति (ವಿ.)(ವೆಂಕಟರಾಮಾ ಪಂಡಿತ್ ಕೃಷ್ಣಮೂರ್ತಿ) (२६ नवम्बर १९२३ - ०७ अप्रैल २०१४) दादा साहब फाल्के सम्मान प्राप्त करने वाले प्रथम सिनेमाटोग्राफर (चलचित्रकार) थे। ७ अप्रैल २०१४ को उनका निधन हो गया। .

नई!!: बंगलौर और वीके मूर्ति · और देखें »

वी॰ एस॰ रमादेवी

वी॰ एस॰ रमादेवी (जन्म 15 जनवरी 1934 – 17 अप्रैल 2013) एमए, एलएलएम, २६ नवम्बर १९९० से ११ दिसम्बर १९९० तक भारत की मुख्य चुनाव आयुक्त रहीं। वो प्रथम महिला थी जिन्होंने भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार सम्भाला। उनके बाद टी एन शेषन मुख्य चुनाव आयुक्त बने। .

नई!!: बंगलौर और वी॰ एस॰ रमादेवी · और देखें »

वी॰ शान्ताकुमारी

वेंकटरमैया शांताकुमारी (उपाख्य 'शान्ताक्का'; जन्म ०५ फरवरी १९५२) राष्ट्र सेविका समिति की वर्तमान अखिल भारतीय प्रमुख संचालिका हैं। भारत की स्त्रियों की एक संस्था है जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ही दर्शन के अनुरूप कार्य करती है और इसकी समानान्तर संस्थाओं में से एक है। वे वर्ष २०१२ से इसकी प्रमुख संचालिका हैं। वे कई वर्षों तक भारतीय विद्या भवन बेंगलुरू में अध्यापिका रही। समिति के कार्य के लिए 1995 में स्वेच्छा निवृत्ति ले लीं और अपना पूरा समय समिति के विस्तार एवं विकास के लिए दे रही हैं। इनका केन्द्र नागपुर है। .

नई!!: बंगलौर और वी॰ शान्ताकुमारी · और देखें »

खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी)(Khadi and Village Industries Commission), संसद के 'खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग अधिनियम 1956' के तहत भारत सरकार द्वारा निर्मित एक वैधानिक निकाय है। यह भारत में खादी और ग्रामोद्योग से संबंधित सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय (भारत सरकार) के अन्दर आने वाली एक शीर्ष संस्था है, जिसका मुख्य उद्देश्य है - "ग्रामीण इलाकों में खादी एवं ग्रामोद्योगों की स्थापना और विकास करने के लिए योजना बनाना, प्रचार करना, सुविधाएं और सहायता प्रदान करना है, जिसमें वह आवश्यकतानुसार ग्रामीण विकास के क्षेत्र में कार्यरत अन्य एजेंसियों की सहायता भी ले सकती है।".

नई!!: बंगलौर और खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग · और देखें »

गल्फ़ एयर

गल्फ़ एयर (طيران الخليج तयरां अल-खलीज) बहरीन राजशाही की प्रधान ध्वजवाहक वायुसेवा है। मुहर्रक में इसका मुख्यालय आधारित, है जो बहरीन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र के निकटस्थ, है। यह वायुसेवा अफ़्रीका, यूरोप और एशिया में ३० देशों में ४१ गंतव्यों में सेवा प्रदान करती है। कंपनी का मुख्य आधार बहरीन अन्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र में स्थित है वFlight International 3 अप्रैल 2007 इसके प्रधान गंतव्यों में लंदन, पैरिस, रोम, फ़्रैंकफ़र्ट, दुबई, कराची, मुंबई, बंगलुरु एवं नई दिल्ली हैं। .

नई!!: बंगलौर और गल्फ़ एयर · और देखें »

गाँधी प्रौद्योगिकी एवं प्रबन्धन संस्थान

गाँधी प्रौद्योगिकी एवं प्रबन्धन संस्थान (Gandhi Institute of Technology and Management/ GITAM) भारत का एक मानद विश्वविद्यालय है।) पहले यह 'गीतम महाविद्यालय' के नाम से ख्यात था और आंध्र विश्वविद्यालय से सम्बद्ध था। इसकी स्थापना १९८० में हुई थी तथा २००७ में मानद विश्वविद्यालय की श्रेणी में रखा गया। यह आन्ध्र प्रदेश का पहला संस्थान था जिसे मानद विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान किया गया। इस विश्वविद्यालय के तीन प्रांगण (कैम्पस) हैं- मुख्य कैम्पस विशाखापट्टनम में है, इसके अतिरिक्त हैदराबाद और बंगलुरु में इसके प्रांगण हैं। .

नई!!: बंगलौर और गाँधी प्रौद्योगिकी एवं प्रबन्धन संस्थान · और देखें »

गांधी भवन

गांधी भवन बंगलोर यह कुमार कृपा रोड पर स्थित है। गांधी भवन देखने पर भारत के राष्ट्रपिता के महान दूरदर्शी व्यक्ति के जीवन की सादगी के दर्शन होते हैं। इस भवन में उनके फोटोग्राफ, लकड़ी के खड़ाऊ, मिट्टी के प्याले और रूज़वेल्ट, नेहरू और टॉल्सटॉय को लिखे गए पत्रों का संग्रह है।.

नई!!: बंगलौर और गांधी भवन · और देखें »

गिरीश नागराजेगौड़ा

गिरीश होसानगरा नागराजेगौड़ा (ಗಿರೀಶ ಹೊಸನಗರ ನಾಗರಾಜೇಗೌಡ) एक भारतीय एथलीट है जिन्होंने २०१२ लंदन पैरालिम्पिक खेलों में पुरुषों की ऊँची कूद स्पर्धा के एफ४२ वर्ग में रजत पदक प्राप्त किया। सिजर्स तकनीक की मदद से फाइनल में १.७४ मीटर ऊँची कूद लगाकर पैरालिम्पिक खेलों में पदक जीतने वाले वह आठवें भारतीय है। २४ वर्षीय नागराजेगौड़ा कर्नाटक राज्य के हासन जिले में स्थित वसनगरा गाँव से है। वह सन् २००८ के पश्चात् से विकलांग व्यक्तियों की सहायता के लिए बंगलौर आधारित एक गैर-सरकारी संगठन समर्थनम द्वारा प्रायोजित है। पैरालिम्पिक खेलों की तैयारी हेतु उन्होंने बासिलडन खेल गाँव में हुए तीन सप्ताह के प्रशिक्षण शिविर में भी हिस्सा लिया था। .

नई!!: बंगलौर और गिरीश नागराजेगौड़ा · और देखें »

गुब्बी तोट्दप्पा

राव बहादुर "धर्मप्रवर्थ" गुब्बी तोट्दप्पा (कन्नड़:ರಾವ್ ಬಹದ್ದೂರ್ ಧರ್ಮಪ್ರವರ್ತ), (१८३८ - १९१०) एक भारतीय व्यापारी और परोपकारी थे। उन्होंने देश भर के पर्यटकों के लिए "तोट्दप्पा छत्र" नामक एक मुफ्त आवास स्थान की स्थापना की। उन्हें ब्रिटिश सरकार द्वारा "राव बहादुर" और मैसूर के महाराजा कृष्णराज वोडेयार चतुर्थ द्वारा "धर्मप्रवर्थ" शीर्षक से सम्मानित किया था। .

नई!!: बंगलौर और गुब्बी तोट्दप्पा · और देखें »

गुरबचन सिंह सलारिया

कैप्टन गुरबचन सिंह सलारिया परमवीर चक्र (29 नवंबर 1935 - 5 दिसंबर 1961) एक भारतीय सैन्य अधिकारी और संयुक्त राष्ट्र शांति अभियान के सदस्य थे। वह परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले एकमात्र संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक हैं। वह किंग जॉर्ज के रॉयल मिलिट्री कॉलेज और राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र थे। इन्हें यह सम्मान सन 1962 में मरणोपरांत मिला। दिसंबर 1961 में कांगो में संयुक्त राष्ट्र के ऑपरेशन के तहत कांगो गणराज्य में तैनात भारतीय सैनिकों में सलारिया भी शामिल थे। 5 दिसंबर को सलारिया की बटालियन को दो बख्तरबंद कारों पर सवार पृथकतावादी राज्य कातांगा के 150 सशस्त्र पृथकतावादियों द्वारा एलिज़ाबेविले हवाई अड्डे के मार्ग के अवरुद्धीकरण को हटाने का कार्य सौंपा गया। उनकी रॉकेट लांचर टीम ने कातांगा की बख्तरबंद कारों पर हमला किया और नष्ट कर दिया। इस अप्रत्याशित कदम ने सशस्त्र पृथकतावादियों को भ्रमित कर दिया, और सलारिया ने महसूस किया कि इससे पहले कि वे पुनर्गठित हो जाएं, उन पर हमला करना सबसे अच्छा होगा। हालांकि उनकी सेना की स्थिति अच्छी नहीं थी फिर भी उन्होंने पृथकतावादियों पर हमला करवा दिया और 40 लोगों को कुकरियों से हमले में मार गिराया। हमले के दौरान सलारिया को गले में दो बार गोली मार दी और वह वीर गति को प्राप्त हो गए। बाकी बचे पृथकतावादी अपने घायल और मरे हुए साथियों को छोड़ कर भाग खड़े हुए और इस प्रकार मार्ग अवरुद्धीकरण को साफ़ कर दिया गया। अपने कर्तव्य और साहस के लिए और युद्ध के दौरान अपनी सुरक्षा की उपेक्षा करते हुए कर्तव्य करने के कारण सलारिया को भारत सरकार द्वारा वर्ष 1962 में मरणोपरांत परम वीर चक्र से सम्मानित किया गया। .

नई!!: बंगलौर और गुरबचन सिंह सलारिया · और देखें »

गुरु दत्त

गुरु दत्त (वास्तविक नाम: वसन्त कुमार शिवशंकर पादुकोणे, जन्म: 9 जुलाई, 1925 बैंगलौर, निधन: 10 अक्टूबर, 1964 बम्बई) हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता,निर्देशक एवं फ़िल्म निर्माता थे। उन्होंने 1950वें और 1960वें दशक में कई उत्कृष्ट फ़िल्में बनाईं जैसे प्यासा,कागज़ के फूल,साहिब बीबी और ग़ुलाम और चौदहवीं का चाँद। विशेष रूप से, प्यासा और काग़ज़ के फूल को टाइम पत्रिका के 100 सर्वश्रेष्ठ फ़िल्मों की सूचि में शामिल किया गया है और साइट एन्ड साउंड आलोचकों और निर्देशकों के सर्वेक्षण द्वारा, दत्त खुद भी सबसे बड़े फ़िल्म निर्देशकों की सूचि में शामिल हैं। उन्हें कभी कभी "भारत का ऑर्सन वेल्स" (Orson Welles) ‍‍ भी कहा जाता है। 2010 में, उनका नाम सीएनएन के "सर्व श्रेष्ठ 25 एशियाई अभिनेताओं" के सूचि में भी शामिल किया गया। गुरु दत्त 1950वें दशक के लोकप्रिय सिनेमा के प्रसंग में, काव्यात्मक और कलात्मक फ़िल्मों के व्यावसायिक चलन को विकसित करने के लिए प्रसिद्ध हैं। उनकी फ़िल्मों को जर्मनी, फ्रांस और जापान में अब भी प्रकाशित करने पर सराहा जाता है। .

नई!!: बंगलौर और गुरु दत्त · और देखें »

गुर्रम कोंडा

गुर्रम कोंडा: भारत के राज्य आंध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले में एक तहसील / मंडल है। यह गाँव, शहर बंगलूर और कडपा के मार्ग में है। टीपू सुल्तान के समय में शहर कड़पा जिले में था।अब जिला चित्तूर में है। इस शहर का प्राचीन नाम "ज़फ़राबाद" था। आज इस का नाम गुर्रम कोंडा है। तेलुगु भाषा में गुर्रम का अर्थ घोड़ा, और कोंडा का अर्थ पहाड है। गुर्रम कोंडा अर्थात "घोड़ा-पहाड" या "घोडे का पहाड" है। यहाँ का क़िला बहुत पुराना है। .

नई!!: बंगलौर और गुर्रम कोंडा · और देखें »

गुलबर्ग किला

गुलबर्ग किला उत्तर कर्नाटक के गुलबर्ग जिले में गुलबर्ग शहर में स्थित है। मूल रूप से इसका निर्माण वारंगल राजवंश के राज में राजा गुलचंद ने करवाया था। इसके बाद सन् 1347 में बहमनी राजवंश के अलाउद्दीन बहमन शाह ने दिल्ली सल्तनत के साथ संबंधों को तोड़ने के बाद इसे काफ़ी बड़ा करवाया था। बाद में किले के भीतर मस्जिदों, महलों, कब्रों जैसे इस्लामी स्मारकों और अन्य संरचनाओं का निर्माण हुआ। 1367 में किले के भीतर बनाया गया सभी ओर से बंद जामा मस्जिद मनोहर गुंबदों और मेहराबदार स्तंभों सहित फ़ारसी वास्तु शैली में निर्मित एक अद्वितीय संरचना है। यह 1327 से 1424 के बीच गुलबर्ग किले पर बहमनी शासन की स्थापना के उपलक्ष्य में बनाया गया था। यह 1424 तक बहमनी राज्य की राजधानी रहा, जिसके बाद बेहतर जलवायु परिस्थितियों के कारण राजधानी बीदर किले में ले जाई गयी। .

नई!!: बंगलौर और गुलबर्ग किला · और देखें »

गौतम गंभीर

गौतम गंभीर भारत के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं। बायें हाथ के सलामी बल्लेबाज गौतम दिल्ली से घरेलू क्रिकेट खेलते हैं। इंडियन प्रीमियर लीग में दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेलते हैं। भारत सरकार ने 2008 में गंभीर को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया। .

नई!!: बंगलौर और गौतम गंभीर · और देखें »

गोएयर

गो-एयर(GoAir) भारत की कम कीमत वाली विमान सेवा है। मई २०१३ के शेयर गणना के अनुसार यह भारत की पांचवी सबसे बड़ी विमानन सेवा है। इस सेवा का प्रारंभ नवम्बर २००५ से शुरू हुआ। यह २१ शहरों में दिन भर की १०० तथा सप्ताह की ७५० उड़ानों द्वारा घरेलू विमानन सेवा प्रदान करता है। इस पर वाडिया समूह का स्वामित्व है। .

नई!!: बंगलौर और गोएयर · और देखें »

गोरखपुर

300px गोरखपुर उत्तर प्रदेश राज्य के पूर्वी भाग में नेपाल के साथ सीमा के पास स्थित भारत का एक प्रसिद्ध शहर है। यह गोरखपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यह एक धार्मिक केन्द्र के रूप में मशहूर है जो बौद्ध, हिन्दू, मुस्लिम, जैन और सिख सन्तों की साधनास्थली रहा। किन्तु मध्ययुगीन सर्वमान्य सन्त गोरखनाथ के बाद उनके ही नाम पर इसका वर्तमान नाम गोरखपुर रखा गया। यहाँ का प्रसिद्ध गोरखनाथ मन्दिर अभी भी नाथ सम्प्रदाय की पीठ है। यह महान सन्त परमहंस योगानन्द का जन्म स्थान भी है। इस शहर में और भी कई ऐतिहासिक स्थल हैं जैसे, बौद्धों के घर, इमामबाड़ा, 18वीं सदी की दरगाह और हिन्दू धार्मिक ग्रन्थों का प्रमुख प्रकाशन संस्थान गीता प्रेस। 20वीं सदी में, गोरखपुर भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का एक केन्द्र बिन्दु था और आज यह शहर एक प्रमुख व्यापार केन्द्र बन चुका है। पूर्वोत्तर रेलवे का मुख्यालय, जो ब्रिटिश काल में 'बंगाल नागपुर रेलवे' के रूप में जाना जाता था, यहीं स्थित है। अब इसे एक औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित करने के लिये गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा/GIDA) की स्थापना पुराने शहर से 15 किमी दूर की गयी है। .

नई!!: बंगलौर और गोरखपुर · और देखें »

गोवा

right गोवा या गोआ (कोंकणी: गोंय), क्षेत्रफल के हिसाब से भारत का सबसे छोटा और जनसंख्या के हिसाब से चौथा सबसे छोटा राज्य है। पूरी दुनिया में गोवा अपने खूबसूरत समुंदर के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिये जाना जाता है। गोवा पहले पुर्तगाल का एक उपनिवेश था। पुर्तगालियों ने गोवा पर लगभग 450 सालों तक शासन किया और दिसंबर 1961 में यह भारतीय प्रशासन को सौंपा गया। .

नई!!: बंगलौर और गोवा · और देखें »

ऑफ़शोरिंग

ऑफ़शोरिंग, एक कंपनी द्वारा व्यापारिक प्रक्रिया को एक देश से दूसरे देश में स्थानान्तरित करने को वर्णित करता है - आम तौर पर परिचलनात्मक प्रक्रिया को, जैसे विनिर्माण, या सहयोगी प्रक्रियाओं को, जैसे लेखांकन.

नई!!: बंगलौर और ऑफ़शोरिंग · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1997-98

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने भारत से फरवरी से अप्रैल 1998 तक तीन टेस्ट सीरीज और ऑस्ट्रेलिया, भारत और जिम्बाब्वे की एक ओडीआई त्रिकोणीय सीरीज़ का दौरा किया। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 1997-98 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2000-01

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने फरवरी से अप्रैल 2001 तक तीन टेस्ट सीरीज और पांच मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला के लिए भारत का दौरा किया। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2000-01 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05

ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 2004-05 के सीजन में भारत का दौरा किया और भारत के खिलाफ अक्टूबर और नवंबर 2004 में चार मैचों की टेस्ट सीरीज़ खेली, ऑस्ट्रेलिया ने श्रृंखला में 2-1 जीतकर एक ड्रॉ मैच खेले, भारत की मिट्टी पर अपनी पहली श्रृंखला जीत उनके 1969-70 दौरे के बाद से जीत दर्ज की। भविष्य के ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने पहली पारी में 151 रन बनाने के पहले मैच में अपना पहला टेस्ट शतक मैच खेला। श्रृंखला के चौथे मैच में, क्लार्क ने दूसरी पारी में 9 रन के लिए 6 विकेट लिए। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2004-05 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने 29 सितंबर से 20 अक्टूबर 2007 तक भारत का दौरा किया। 29 सितंबर से 17 अक्टूबर तक सात वनडे खेला गया। श्रृंखला में 20 अक्टूबर को मुम्बई में एक ट्वेंटी-20 इंटरनेशनल मैच भी शामिल था। ऑस्ट्रेलिया ने एकदिवसीय श्रृंखला 4-2 से जीती, भारत ने ट्वेंटी-20 मैच जीता। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2007-08 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2008-09

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने 9 अक्टूबर से 10 नवंबर 2008 तक भारत का दौरा किया और बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के लिए चार टेस्ट मैचों में खेले। दूसरे टेस्ट मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट क्रिकेट में 12,000 रन बनाने वाले पहले व्यक्ति बने, ब्रायन लारा के 11,953 रन का रिकॉर्ड तोड़ा। सचिन ने कहा, "जिस दिन उन्होंने रिकॉर्ड हासिल किया था, उस दिन" यह निश्चित रूप से मेरे कैरियर के 19 वर्षों में सबसे बड़ी उपलब्धि है "। दूसरे टेस्ट मैच में भारत की 320 रन की जीत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रनों के मुकाबले उनकी सबसे बड़ी जीत थी, जो मेलबर्न में 1977 में हुई 222 रनों की जीत थी और रनों के मामले में उनकी सबसे बड़ी जीत थी। तीसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में, गौतम गंभीर और वी वी एस लक्ष्मण एक टेस्ट पारी में दोहरा शतक बनाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने। इस श्रृंखला में दो भारतीय क्रिकेटरों - अनिल कुंबले और सौरव गांगुली के अंतिम टेस्ट भी देखे गए। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2008-09 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने भारत का दौरा किया, 1 से 24 अक्टूबर 2010 के बीच तीन एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और दो टेस्ट मैच खेले। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2010-11 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2013-14

ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम ने 10 अक्टूबर से 2 नवंबर 2013 के बीच भारत का दौरा किया, जिसमें ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच और भारत के खिलाफ सात मैचों की एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय श्रृंखला थी। चल रहे पीठ की चोट के कारण, ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर माइकल क्लार्क को कैलम फर्ग्यूसन ने स्थान दिया और जॉर्ज बेली ने टीम का नेतृत्व किया। दूसरे एकदिवसीय मैच के दौरान, पहले पांच आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने पचास या उससे ज्यादा अंक हासिल किए, एक ऐसी उपलब्धि जो कि कोई भी टीम पहले कभी नहीं कर पाई थी। दूसरे मैच में, भारत ने 360 रनों का लक्ष्य जीतने का पीछा किया, जिससे यह एक वनडे मैच जीतने के लिए दूसरे सबसे ज्यादा रन का पीछा कर रहा था। दो हफ्ते बाद छठे मैच में, भारत ने ऑस्ट्रेलिया के कुल 350 रनों का पीछा करते हुए एक गेम जीतने के लिए तीसरे सबसे अधिक रन-का पीछा करने का प्रयास किया। यह एक संयोग है कि ऑस्ट्रेलिया के लिए एक ही टीम के खिलाफ सभी तीन उच्चतम रनों का सामना किया गया है। सातवें और अंतिम मैच में, भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा एकदिवसीय क्रिकेट में दोहरे शतक बनाने वाले तीसरे खिलाड़ी बने, जब उन्होंने 158 गेंदों में 209 रन बनाए। उनकी पारी में 16 छक्के शामिल थे, जिसने ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर शेन वॉटसन के 15 रनों के पिछले रिकॉर्ड को हराया था। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2013-14 · और देखें »

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2017

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम सितंबर और अक्टूबर 2017 में भारत का दौरा करने के लिए पांच एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) और तीन ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय (टी20ई) मैचों खेलने के लिए निर्धारित है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सितंबर 2017 में पूर्ण तिथियों की पुष्टि की। एकदिवसीय के आगे, ऑस्ट्रेलिया ने भारत के बोर्ड अध्यक्ष इलेवन के खिलाफ 50-ओवर वार्म-अप मैच खेले, साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने 103 रन बनाकर जीत दर्ज की। भारत ने एकदिवसीय श्रृंखला 4-1 जीती और आईसीसी वनडे चैम्पियनशिप के शीर्ष पर लौट आया। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की नई खेल स्थितियों के अनुसार, इस श्रृंखला में टी20ई मैच में पहली बार अंपायर डिसिजन रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) का इस्तेमाल किया गया था। ट्वेंटी-20 श्रृंखला 1-1 से ड्रॉ की गई थी, जिसके कारण बारिश और गीला आउटफील्ड के कारण तीसरे मैच को बुलाया गया था। .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2017 · और देखें »

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2016-17

भारत और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के बीच चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला २३ फ़रवरी से २९ मार्च तक रखी गयी जिसका पहला मुकाबला २३ फरवरी को पुणे में खेला गया था।भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने अक्टूबर २०१६ में दौरे की तारीखों की पुष्टि की थी।  .

नई!!: बंगलौर और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2016-17 · और देखें »

ओतावियो क्वात्रोची

ओतावियो क्वात्रोकी (Ottavio Quattrocchi) एक इतालवी व्यवासायी थे जिसकी वर्ष 2009 के शुरुआती महीनों तक भारत को आपराधिक मामलों में तलाश थी। क्वात्रोची पर बोफोर्स घाटाले में दलाली के जरिए घूस खाने का आरोप था। 28 अप्रैल 2009 को सीबीआई ने क्वोत्रोची को क्लीनचिट देते हुए इंटरपोल से उस जारी रेडकॉर्नर नोटिस को हटा लेने की अपील की। सीबीआई की अपील पर इंटरपोल ने क्वात्रोची पर से रेडकॉर्नर हटा लिया गया। 13 जुलाई 2013 को मिलानो, इटली में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। क्वात्रोची की बोफोर्स कांड में भूमिका और गांधी-नेहरू परिवार से कथित संबंध 1989 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की हार का कारण बना। दस वर्ष बाद 1999 में सीबीआई ने बोफोर्स मामले में क्वात्रोची के खिलाफ आरोप पत्र तैयार किया। 2003 में उसके विरुद्ध मामला उस समय और गंभीर हो गया, जब इंटरपोल ने लंदन के एक बैंक में क्वात्रोकी और उसकी पत्नी के खाते में जमा चालीस लाख पाउंड यूरो का खुलासा किया। एक नौकरी-पेशा व्यक्ति के खाते में इतनी राशि बहुत अधिक मानी जाती है। 2003 क्वात्रोची के दोनों बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगा दी गई। लेकिन 2006 में सीबीआई को जानकारी दिए बिना विधि मंत्रालय ने क्वात्रोची के खातों पर लगी रोक को हटा दी। 6 फ़रवरी 2007 को अर्जेंटीना पुलिस ने इंटरपोल के वारंट पर क्वात्रोची को गिरफ्तार कर लिया। लेकिन सीबीआई पूरे घटनाक्रम के प्रति उदासीन बना रहा और क्वात्रोची का प्रत्यर्पण नहीं हो सका। अदालत ने उचित दस्तावेज के अभाव में क्वात्रोची को बरी कर दिया। साथ ही, क्वात्रोची की कानूनी खर्च भी भारत को ही उठाना पड़ा। इस पूरे प्रकरण में सीबीआई की काफी किरकिरी हुई। क्वात्रोची का पुत्र मासिमो क्वात्रोची, सोनिया गांधी के पुत्र राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ बड़ा हुआ। मासिमो इस समय लक्जमबर्ग स्थित कंपनी क्लबइनवेस्ट का सलाहकार है, जो भारत में कंपनी के लिए संभावित अवसरों सलाह देता है। वह बार-बार भारत के दौरे पर आता है। उसका बैंगलोर में ऑफिस भी है। जब अर्जेटीना में क्वात्रोची गिरफ्तार हुआ, तब मोसिमो भारत में ही था। कयास लगाए जा रहे हैं कि उस समय उसने प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी। .

नई!!: बंगलौर और ओतावियो क्वात्रोची · और देखें »

ओबेरॉय होटल एंड रिसॉर्ट्स

ओबेरॉय ग्रूप एक होटल कंपनी है जिस्का प्रधान कार्यालय दिल्ली में स्थापित है। ओबेराय की स्थापना १९३४ में किया गया और पांच देशों में३० होटल और तीन जहाज़ चला रही है। यह दुनिया में सबसे सजाया होटल चेनों में से एक माना जाता है और यात्रा + आराम, कोंडे नास्ट ट्रैवलर, फोर्ब्स और गैलीलियो से विभिन्न पुरस्कार प्राप्त किया है। .

नई!!: बंगलौर और ओबेरॉय होटल एंड रिसॉर्ट्स · और देखें »

आधिकारिक आवास

सामान्य रूप में आधिकारिक आवास किसी अधिकार या पद के साथ मिलनेवाले आवास को कहते है। लेकिन सार्वभौमिक रूप से, किसी देश के राष्ट्रप्रमुख, शासनप्रमुख, राज्यपाल या अन्य वरिष्ठ पद के निवासस्थान को "आधिकारिक आवास" कहते है। निम्नलिखित दुनिया के आधिकारिक आवासों की सूची है। सूची का प्रारूप इस प्रकार है.

नई!!: बंगलौर और आधिकारिक आवास · और देखें »

आईएनजी वैश्य बैंक

आई। एन.जी वैश्य बैंक लि., (कन्नड़: ಐ.ಎನ್.ಜಿ ವೈಶ್ಯ ಬ್ಯಾಂಕ್ ಲಿಮಿಟೆಡ್, अंग्रेज़ी:ING Vysya Bank Limited) एक भारतीय खुदरा बैंक था। यह आई। एन.जी समूह के वैश्य बैंक में ४४% अंश लेने के उपरांत अक्टूबर २००२ को अस्तित्त्व में आया था। 1 अप्रैल 2015 से इसका विलय कोटक महिंद्रा बैंक में हो गया। http://www.rbi.org.in/hindi/Scripts/PressReleases.aspx?ID.

नई!!: बंगलौर और आईएनजी वैश्य बैंक · और देखें »

आईसीसी अवॉर्ड्स

Mr Skym urf Yuvraj Kashyap has you known gaddi nasheen Yuvraj Shah ji he is about (d.o.b:-1998 08 15) he is father's gaddi nasheen Shri bodh Raj ji and mother nilam .

नई!!: बंगलौर और आईसीसी अवॉर्ड्स · और देखें »

आईगेट (IGATE)

आईगेट कॉर्पोरेशन (iGATE Corporation) कैलिफोर्निया के फ्रेमोंट में स्थापित और आधारित एक अमेरिकी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी है जिसका संचालन मुख्यालय पेनसिल्वेनिया के पिट्सबर्ग में है। यह कंपनी व्यावसायिक डेटा प्रोसेसिंग में माहिर है और ग्राहकों की मांग को पूरा करने के लिए यह आईटॉप्स (इंटीग्रेटेड टेक्नोलॉजी एण्ड ऑपरेशंस सिस्टम्स) नामक एक संरचना का इस्तेमाल करती है। इसके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में शामिल हैं: आईटी परामर्श; अनुप्रयोग विकास, डेटा भण्डारण, व्यावसायिक ख़ुफ़िया समाधान, ईआरपी/उद्यम समाधान, बीपीओ/व्यावसायिक सेवा प्रावधानीकरण, बुनियादी ढांचे का प्रबंधन, परीक्षण/स्वतंत्र सत्यापन और मान्यकरण एवं संपर्क केन्द्र सेवाएं.

नई!!: बंगलौर और आईगेट (IGATE) · और देखें »

इलाहाबाद

इलाहाबाद उत्तर भारत के उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में स्थित एक नगर एवं इलाहाबाद जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है। इसका प्राचीन नाम प्रयाग है। इसे 'तीर्थराज' (तीर्थों का राजा) भी कहते हैं। इलाहाबाद भारत का दूसरा प्राचीनतम बसा नगर है। हिन्दू मान्यता अनुसार, यहां सृष्टिकर्ता ब्रह्मा ने सृष्टि कार्य पूर्ण होने के बाद प्रथम यज्ञ किया था। इसी प्रथम यज्ञ के प्र और याग अर्थात यज्ञ से मिलकर प्रयाग बना और उस स्थान का नाम प्रयाग पड़ा जहाँ भगवान श्री ब्रम्हा जी ने सृष्टि का सबसे पहला यज्ञ सम्पन्न किया था। इस पावन नगरी के अधिष्ठाता भगवान श्री विष्णु स्वयं हैं और वे यहाँ माधव रूप में विराजमान हैं। भगवान के यहाँ बारह स्वरूप विध्यमान हैं। जिन्हें द्वा