लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

पुरुष

सूची पुरुष

पुरुष शब्द का प्रयोग वैदिक साहित्य में कई जगह मिलता है। जीवात्मा (आत्मा) को कपिल मुनि कृत सांख्य शास्त्र में पुरुष कहा गया है - ध्यान दीजिये इसमें यह लिंग द्योतक न होकर आत्मा द्योतक है। वेदों में नर के लिए पुम् (पुंस, और पुमान) मूलों का इस्तेमाल मिलता है। इसके अलावे बृहदारण्यक उपनिषत में ईश्वर के लिए पुरुष शब्द का इस्तेमाल मिलता है। .

107 संबंधों: चांडाल, टोडा, टीकमगढ़, एस.एच. रज़ा, डुमराँव, डेगाना, डीघ, तत्वों की सूची (प्रतीक के क्रम में), तरावड़ी, दमन, देहरादून जिला, देवघर, धनतुलसी, धर्मटम्, धारा, धुरी, नट, नर, नरेश चन्द्रा, नाडोल, नारलाई, नवयान, नोआमुंडी, नोकिया के उत्पादों की सूची, पट्टुक्कोटै, पारनेर तालुक, प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश, प्राचीन मिस्र, प्रकृति, प्रकृति (धर्म), फरीदकोट, बहपुरा, बारडोली, बांसवाड़ा, बिसौरी, बंगाराम, बुलन्दशहर, भारत की संस्कृति, भाई, भीमुनिपट्टनम, भीलवाड़ा, मटिया, ममुआरा, महमूदाबाद, मानव प्रतिरूपण, मालकानगिरि जिला, मांडलगढ़, मिकी माउस, मंडीद्वीप, भोपाल, मुण्डा, ..., रौनापार, रेवाडी शहर, लिंगानुपात, लुधियाना जिला, शामली, श्योपुर, शेरपुर, सम्भोग, सरदार शहर, सात्विक गुण, सांडेराव, सांख्य दर्शन, सिकंदरा, सिक्किम, संत रविदास नगर जिला, संयोगिता चौहान, सेरछिप, सेंधवा, हाथरस, हावड़ा, हिन्दू दर्शन, हिन्दू देवी देवताओं की सूची, हुरूहुरी, हेतल दवे, होंठ, जज़िया, ज्वारासुर, जौनपुर, घाटशिला, वारिसलिगंज, वाइपर द्वीप, वैदिक धर्म, वॉल-ई, वीर्य स्खलन, खरसिया, गद्दोपुर, गांधीधाम, गंगापुर सिटी, गुण (भारतीय संस्कृति), गुम्मावाला, ग्राम पंचायत झोंपड़ा, सवाई माधोपुर, गौरीगंज, गोठांव, आदिपुर, इटहरा, कटकड़ गांव, कप्तान जैक स्पैरो, कलायत, केशवरायपाटन, कोच्चि, कोट कासिम, अहमदनगर, अविवाहित, अव्यय, अइज़ोल, अकबरपुर, उदवाड़ा सूचकांक विस्तार (57 अधिक) »

चांडाल

चांडाल भारत में व्यक्तियों का एक ऐसा वर्ग है, जिसे सामान्यत: जाति से बाहर तथा अछूत माना जाता है। यह एक प्राचीन अन्त्यज, नीच और बर्बर जाति है। इसे श्मशान पाल, डोम, अंतवासी, थाप, श्मशान कर्मी, अंत्यज, चांडालनी, पुक्कश, गवाशन, चूडा, दीवाकीर्ति, मातंग, श्वपच आदि नामों से भी पुकारा जाता है। भगवान गौतमबुद्ध ने सुत्तनिपात में चांडाल का जिकर किया है। खत्तिये ब्राह्मणे वेस्से, सुद्दे चण्डालपुक्कु से। न कि ंचि परिवज्जेति, सब्बमेवाभिमद्दति।। मृतुराज क्षत्रिय, ब्राह्मण, वैश्य,शूद्र और चंडाल - किसी को कोभी नहीं छोड़ता, सबको कुचल डालता है। .

नई!!: पुरुष और चांडाल · और देखें »

टोडा

श्रेणी:भारत की जनजातियाँ श्रेणी:केरल की जनजातियां टोडा जनजाति भारत की निलगिरी पहाड़ियों की सबसे प्राचीन और असामान्य जनजाति है। टोडा को कई नामों से जाना जाता है जैसे टूदास, टूडावनस और टोडर। टोडा नाम 'टुड' शब्द, टोड जनजाति के पवित्र टुड पेड़ से लिया गया माना जाता है। टोडा लोगो की अपनी भाषा है और उनके पास गुप्त रीति-रिवाजों और अपाना नियम हैं। टोड के लोगा प्रकृति ओर पहाड़ी देवताओं की पूजा करते हे, जैसे भगवान अमोद और देवी टीकीरजी। .

नई!!: पुरुष और टोडा · और देखें »

टीकमगढ़

टीकमगढ़जिला मुख्यालय टीकमगढ़ है। शहर का मूल नाम 'टेहरी' था, जो अब पुरानी टेहरी के नाम से जाना जाता है। 1783 ई विक्रमजीत (1776 - 1817 CE के शासक) ने ओरछा से अपनी राजधानी टेहरी जिला टीकमगढ़ में स्थानांतरित कर दी थी। टीकमगढ़ टीकम (श्री कृष्ण का एक नाम)से टीकमगढ़ पड़ा। टीकमगढ़ जिला बुंदेलखंड क्षेत्र का एक हिस्सा है। यह और की एक सहायक नदी के बीच बुंदेलखंड पठार पर है। इस जिले के अंतर्गत क्षेत्र ओरछा के सामंती राज्य के भारतीय संघ के साथ अपने विलय तक हिस्सा था। ओरछा राज्य रुद्र प्रताप द्वारा 1501 में स्थापित किया गया था। विलय के बाद, यह 1948 में विंध्य प्रदेश के आठ जिलों में से एक बन गया। 1 नवम्बर को राज्यों के पुनर्गठन के बाद, 1956 यह नए नक्काशीदार मध्य प्रदेश राज्य के एक जिले में बन गया। मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में स्थित एक गाँव है। इस गाँव का नाम यहां स्थित प्रसिद्ध दुर्ग (या गढ़) के नाम पर गढ़-कुंडार पढ़ा है। गढ कुण्डार का प्राचीन नाम गढ कुरार है। गढ़-कुंडार किला उस काल की न केवल बेजोड़ शिल्पकला का नमूना है बल्कि ऐतिहासिक समृद्धि का प्रतीक भी है। गढ़कुंडार किले का सम्बन्ध चंदेल और खंगार नरेशों से रहा है, परंतु इसके पुनर्निर्माण और इसे नई पहचान देने का श्रेय खंगारों को जाता है। वर्तमान में खंगार क्षत्रिय समाज के परिवार गुजरात, महाराष्ट्र के अलावा उत्तर प्रदेश में निवास करते हैं। 12वीं शताब्दी में पृथ्वीराज चौहान के प्रमुख सामंत खेतसिंह खंगार ने परमार वंश के गढ़पति शिवा को हराकर इस दुर्ग पर कब्जा करने के बाद खंगार राज्य की नींव डाली थी। छोटी देवी जी(नन्ही भुवानी) टीकमगढ़। शहर के बीचों बीच श्री श्री 1008 श्री जानकी रमण मंदिर(श्री ठाकुर गोविंद जू विराजमान) छोटी देवी के अंदर टीकमगढ़ में स्थित हैं। यह मंदिर टीकमगढ़ में पपौरा चौराहा के समीप बुख़ारिया जी की गली में है। छोटी देवी मंदिर में प्रत्येक नवरात्रि में नो दिनों के लिये भव्य मेला लगाया जाता हैं। .

नई!!: पुरुष और टीकमगढ़ · और देखें »

एस.एच. रज़ा

सैयद हैदर रज़ा उर्फ़ एस.एच.

नई!!: पुरुष और एस.एच. रज़ा · और देखें »

डुमराँव

डुमराँव (अंग्रेजी: Dumraon, دُمراوں) पहले भोजपुर रियासत का एक प्रसिद्ध गाँव हुआ करता था। बिहार के नये परिसीमन के अनुसार अब यह गाँव बक्सर जिले में पड़ता है। अब यह गाँव न रहकर बक्सर जिले का एक प्रसिद्ध शहर बन चुका है जिसकी अपनी नगरपालिका है। हिन्दुस्तान के मशहूर शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्ला ख़ाँ का जन्म इसी गाँव की भिरंग राउत की गली में 21 मार्च 1916 को हुआ था। .

नई!!: पुरुष और डुमराँव · और देखें »

डेगाना

डेगाना भारत के राजस्थान राज्य में नागौर जिले का एक प्रमुख शहर है। .

नई!!: पुरुष और डेगाना · और देखें »

डीघ

डीघ मंडल उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर जिला मे स्थित है। श्रेणी:संत रविदास नगर जिला.

नई!!: पुरुष और डीघ · और देखें »

तत्वों की सूची (प्रतीक के क्रम में)

तत्वों की आवर्त सारणी ये सूची रासायनिक तत्त्वों के रासायनिक चिह्न अनुसार है: .

नई!!: पुरुष और तत्वों की सूची (प्रतीक के क्रम में) · और देखें »

तरावड़ी

तरावड़ी (एतिहासिक नाम-तराइन) हरियाणा का एक शहर है जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-१ पर कुरूक्षेत्र व करनाल के मध्य स्थित है। यहां पर बासमती चावलों की खेती की जाती है। इन चावलों का निर्यात विदेशों में किया जाता है। .

नई!!: पुरुष और तरावड़ी · और देखें »

दमन

दमन भारतीय केन्द्रशासित प्रदेश दमन और दीव के दमन जिले का एक नगरपालिका क्षेत्र और नगर है। दमन दमन गंगा नदी द्वारा दो भागों में विभाजित है – नानी-दमन (नानी का अर्थ यहाँ छोटा है) और मोटी-दमन (मोटी मतलब बड़ा)। विडम्बना यह है कि नानी-दमन बड़ा है। नगर में अस्पताल, बड़े बाजार और बड़े निवास स्थान स्थित हैं। मोटी-दमन मुख्यतः पुराना नगर है। .

नई!!: पुरुष और दमन · और देखें »

देहरादून जिला

यह लेख देहरादून जिले के विषय में है। नगर हेतु देखें देहरादून। देहरादून, भारत के उत्तराखंड राज्य की राजधानी है इसका मुख्यालय देहरादून नगर में है। इस जिले में ६ तहसीलें, ६ सामुदायिक विकास खंड, १७ शहर और ७६४ आबाद गाँव हैं। इसके अतिरिक्त यहाँ १८ गाँव ऐसे भी हैं जहाँ कोई नहीं रहता। देश की राजधानी से २३० किलोमीटर दूर स्थित इस नगर का गौरवशाली पौराणिक इतिहास है। प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह नगर अनेक प्रसिद्ध शिक्षा संस्थानों के कारण भी जाना जाता है। यहाँ तेल एवं प्राकृतिक गैस आयोग, सर्वे ऑफ इंडिया, भारतीय पेट्रोलियम संस्थान आदि जैसे कई राष्ट्रीय संस्थान स्थित हैं। देहरादून में वन अनुसंधान संस्थान, भारतीय राष्ट्रीय मिलिटरी कालेज और इंडियन मिलिटरी एकेडमी जैसे कई शिक्षण संस्थान हैं। यह एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। अपनी सुंदर दृश्यवाली के कारण देहरादून पर्यटकों, तीर्थयात्रियों और विभिन्न क्षेत्र के उत्साही व्यक्तियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। विशिष्ट बासमती चावल, चाय और लीची के बाग इसकी प्रसिद्धि को और बढ़ाते हैं तथा शहर को सुंदरता प्रदान करते हैं। देहरादून दो शब्दों देहरा और दून से मिलकर बना है। इसमें देहरा शब्द को डेरा का अपभ्रंश माना गया है। जब सिख गुरु हर राय के पुत्र रामराय इस क्षेत्र में आए तो अपने तथा अनुयायियों के रहने के लिए उन्होंने यहाँ अपना डेरा स्थापित किया। www.sikhiwiki.org.

नई!!: पुरुष और देहरादून जिला · और देखें »

देवघर

देवघर भारत के झारखंड राज्य का एक शहर है। देवघर का मुख्य बाजार सिमरा है।यह शहर हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ-स्थल है। इस शहर को बाबाधाम नाम से भी जाना जाता है क्योंकि शिव पुराण में देवघर को बारह जोतिर्लिंगों में से एक माना गया है। यहाँ भगवान शिव का एक अत्यंत प्राचीन मंदिर स्थित है। हर सावन में यहाँ लाखों शिव भक्तों की भीड़ उमड़ती है जो देश के विभिन्न हिस्सों सहित विदेशों से भी यहाँ आते हैं। इन भक्तों को काँवरिया कहा जाता है। ये शिव भक्त बिहार में सुल्तानगंज से गंगा नदी से गंगाजल लेकर 105 किलोमीटर की दूरी पैदल तय कर देवघर में भगवान शिव को जल अर्पित करते हैं। झारखंड कुछ प्रमुख तीर्थस्थानों का केंद्र है जिनका ऐतिहासिक दृष्टि से बहुत महत्व है। इन्हीं में से एक स्थान है देवघर। यह स्थान संथाल परगना के अंतर्गत आता है। देवघर शांति और भाईचारे का प्रतीक है। यह एक प्रसिद्ध हेल्थ रिजॉर्ट है। लेकिन इसकी पहचान हिंदु तीर्थस्थान के रूप में की जाती है। यहां बाबा बैद्यनाथ का ऐतिहासिक मंदिर है जो भारत के बारह ज्योतिर्लिगों में से एक है। माना जाता है कि भगवान शिव को लंका ले जाने के दौरान उनकी स्थापना यहां हुई थी। प्रतिवर्ष श्रावण मास में श्रद्धालु 100 किलोमीटर लंबी पैदल यात्रा करके सुल्तानगंज से पवित्र जल लाते हैं जिससे बाबा बैद्यनाथ का अभिषेक किया जाता है। देवघर की यह यात्रा बासुकीनाथ के दर्शन के साथ सम्पन्न होती है। बैद्यनाथ धाम के अलावा भी यहां कई मंदिर और पर्वत हैं जहां दर्शन कर अपनी इच्छापूर्ति की कामना की जा सकती है। .

नई!!: पुरुष और देवघर · और देखें »

धनतुलसी

धनतुलसी उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर जिला के डीघ मंडल मे स्थित एक गांव है। .

नई!!: पुरुष और धनतुलसी · और देखें »

धर्मटम्

धर्मटम् (मलयालम: ധർമ്മടം / धर्म्मटं), केरल के कन्नूर जिले का एक कस्बा है। श्रेणी:केरल के नगर.

नई!!: पुरुष और धर्मटम् · और देखें »

धारा

धारा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के एटा जिले के अलीगंज प्रखण्ड का एक गाँव है। धारा एक मध्यम आकार का गांव है जो उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले में स्थित है, जिसमें कुल ३१५ परिवार रहते हैं। धरारा गांव की आबादी १८६० है, जिसमें ९६५ पुरुष हैं जबकि ८९५ जनसंख्या जनगणना २०११ के अनुसार महिलाएं हैं। धरारा गांव में ०-६ साल के बच्चों की जनसंख्या ३५० है जो गांव की कुल आबादी का १८।८२ प्रतिशत है। धारा गांव का औसत लिंग अनुपात ९२७ है जो उत्तर प्रदेश राज्य की औसत ९१२ से अधिक है। जनगणना के अनुसार धारा के लिए बाल लिंग अनुपात ७२४ है, उत्तर प्रदेश की औसत ९०२ से कम है। धरारा गांव में उत्तर प्रदेश की तुलना में कम साक्षरता दर है। २०११ में, उत्तर प्रदेश के ६७।६८ प्रतिशत की तुलना में धारा गांव की साक्षरता दर ६५।५० प्रतिशत थी। धारा पुरुष साक्षरता में ७७।९५ प्रतिशत है जबकि महिला साक्षरता दर ५२।८१ प्रतिशत है। भारत और पंचायत राज अधिनियम के संविधान के अनुसार, धरा गांव को सरपंच (ग्राम प्रमुख) द्वारा प्रशासित किया जाता है, जो गांव के प्रतिनिधि चुने जाते हैं। .

नई!!: पुरुष और धारा · और देखें »

धुरी

धुरी घूर्णी चक्र अथवा गियर अथवा पहिये का मध्य भाग (शैफ्ट) होता है। पहिये वाले वाहनों में धुरी वाहनों के साथ स्थिर की हुई होती है। श्रेणी:संरचना श्रेणी:यान्त्रिकी श्रेणी:वाहन अंश.

नई!!: पुरुष और धुरी · और देखें »

नट

नट (अंग्रेजी: Nat caste) उत्तर भारत में हिन्दू धर्म को मानने वाली एक जाति है जिसके पुरुष लोग प्राय: बाज़ीगरी या कलाबाज़ी और गाने-बजाने का कार्य करते हैं तथा उनकी स्त्रियाँ नाचने व गाने का कार्य करती हैं। इस जाति को भारत सरकार ने संविधान में अनुसूचित जाति के अन्तर्गत शामिल कर लिया है ताकि समाज के अन्दर उन्हें शिक्षा आदि के विशेष अधिकार देकर आगे बढाया जा सके। नट शब्द का एक अर्थ नृत्य या नाटक (अभिनय) करना भी है। सम्भवत: इस जाति के लोगों की इसी विशेषता के कारण उन्हें समाज में यह नाम दिया गया होगा। कहीं कहीं इन्हें बाज़ीगर या कलाबाज़ भी कहते हैं। शरीर के अंग-प्रत्यंग को लचीला बनाकर भिन्न मुद्राओं में प्रदर्शित करते हुए जनता का मनोरंजन करना ही इनका मुख्य पेशा है। इनकी स्त्रियाँ खूबसूरत होने के साथ साथ हाव-भाव प्रदर्शन करके नृत्य व गायन में काफी प्रवीण होती हैं। नटों में प्रमुख रूप से दो उपजातियाँ हैं-बजनिया नट और ब्रजवासी नट। बजनिया नट प्राय: बाज़ीगरी या कलाबाज़ी और गाने-बजाने का कार्य करते हैं जबकि ब्रजवासी नटों में स्त्रियाँ नर्तकी के रूप में नाचने-गाने का कार्य करती हैं और उनके पुरुष या पति उनके साथ साजिन्दे (वाद्य यन्त्र बजाने) का कार्य करते हैं। .

नई!!: पुरुष और नट · और देखें »

नर

मानव के नरों को पुरुष (♂) कहा जाता है। एक जीव का लिंग है जो की छोटे मोबाइल गमेट्स पैदा करता हैं जिसे की स्पर्म या शुक्राणु भी कहते हैं। हर एक शुक्राणु एक मादा अंडे के साथ क्रिया कर एक गर्भ के रूप में विकास कर सकता हैं। हर कोई प्रजाति इस पुरुष और स्त्री के पहचान से नहीं जानी जा सकती है। इंसानों और जानवरों में लिंग जहाँ लिंग (अंग) से बताया जा सकता हैं वही अन्य जीवो में यह कई अन्य बातों पर निर्भर करता हैं। .

नई!!: पुरुष और नर · और देखें »

नरेश चन्द्रा

नरेश चन्द्रा (जन्म 1934) पूर्व भारतीय सिविल सेवक हैं जो केबिनेट सचिव (1990–92) और संयुक्त राज्य अमेरिका में भारतीय राजदूत (1996–2001) रह चुके हैं। उन्हें २००७ में भारत के द्वितीय सर्वोच्य नागरीक सम्मान पद्म विभूषण से नव़ाज़ा गया। .

नई!!: पुरुष और नरेश चन्द्रा · और देखें »

नाडोल

नाडोल राजस्थान के पाली जिले की देसूरी तहसील का एक नगर है। यहाँ स्थित आशापुरा माता के मंदिर में देशभर से श्रद्धालु आते हैं। .

नई!!: पुरुष और नाडोल · और देखें »

नारलाई

नारलाई भारतीय राज्य राजस्थान के पाली ज़िले की देसुरी तहसील का एक गाँव है। यह रणकपपुर से ३६ किमी दूरी पर स्थित है। यहाँ पर विभिन्न हिन्दू और जैन मन्दिर हैं। यहाँ के आदिनाथ (जैन) और भगवान शिव के मन्दिर महत्वपूर्ण रूप से प्रसिद्ध मन्दिर हैं। इन मंदिरों की छत को भित्ति चित्रों के साथ सजाया गया है। .

नई!!: पुरुष और नारलाई · और देखें »

नवयान

नवयान भारत का बौद्ध धर्म का सम्प्रदाय हैं। नवयान का अर्थ है– नव .

नई!!: पुरुष और नवयान · और देखें »

नोआमुंडी

नोआमुंडी झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिला में स्थित है। प्रशासनिक इकाई के रूप में यह एक प्रखंड है.

नई!!: पुरुष और नोआमुंडी · और देखें »

नोकिया के उत्पादों की सूची

नोकिया का लोगो यहां नोकिया के उत्पादों की आंशिक सूची दी जा रही है। यह सूची नोकिया के आधुनिक फ़ोन व मोबाइल उत्पादों पर केंद्रित है। नोकिया अन्य विधूत उपकरण जैसे की टेलीविजन वगरह भी बनाता है। .

नई!!: पुरुष और नोकिया के उत्पादों की सूची · और देखें »

पट्टुक्कोटै

पट्टुकोट्टै तमिलनाडु के तंजावुर जिले का एक छोटा नगर है। यह तिरुच्चिराप्पल्लि नगर से सड़क द्वारा ५० किमी दूर है। श्रेणी:तमिलनाडु के नगर.

नई!!: पुरुष और पट्टुक्कोटै · और देखें »

पारनेर तालुक

पारनेर तहसील (पारनेर तालुका) भारत के महाराष्ट्र राज्य के अहमदनगर जिले की एक तहसील है। .

नई!!: पुरुष और पारनेर तालुक · और देखें »

प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश

प्रतापगढ़ भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला है, इसे लोग बेल्हा भी कहते हैं, क्योंकि यहां बेल्हा देवी मंदिर है जो कि सई नदी के किनारे बना है। इस जिले को ऐतिहासिक दृष्टिकोण से काफी अहम माना जाता है। यहां के विधानसभा क्षेत्र पट्टी से ही देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं॰ जवाहर लाल नेहरू ने पदयात्रा के माध्यम से अपना राजनैतिक करियर शुरू किया था। इस धरती को रीतिकाल के श्रेष्ठ कवि आचार्य भिखारीदास और राष्ट्रीय कवि हरिवंश राय बच्चन की जन्मस्थली के नाम से भी जाना जाता है। यह जिला धर्मसम्राट स्वामी करपात्री जी कि जन्मभूमि और महात्मा बुद्ध की तपोस्थली है। .

नई!!: पुरुष और प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश · और देखें »

प्राचीन मिस्र

गीज़ा के पिरामिड, प्राचीन मिस्र की सभ्यता के सबसे ज़्यादा पहचाने जाने वाले प्रतीकों में से एक हैं। प्राचीन मिस्र का मानचित्र, प्रमुख शहरों और राजवंशीय अवधि के स्थलों को दर्शाता हुआ। (करीब 3150 ईसा पूर्व से 30 ई.पू.) प्राचीन मिस्र, नील नदी के निचले हिस्से के किनारे केन्द्रित पूर्व उत्तरी अफ्रीका की एक प्राचीन सभ्यता थी, जो अब आधुनिक देश मिस्र है। यह सभ्यता 3150 ई.पू.

नई!!: पुरुष और प्राचीन मिस्र · और देखें »

प्रकृति

प्रकृति, व्यापकतम अर्थ में, प्राकृतिक, भौतिक या पदार्थिक जगत या ब्रह्माण्ड हैं। "प्रकृति" का सन्दर्भ भौतिक जगत के दृग्विषय से हो सकता हैं, और सामन्यतः जीवन से भी हो सकता हैं। प्रकृति का अध्ययन, विज्ञान के अध्ययन का बड़ा हिस्सा हैं। यद्यपि मानव प्रकृति का हिस्सा हैं, मानवी क्रिया को प्रायः अन्य प्राकृतिक दृग्विषय से अलग श्रेणी के रूप में समझा जाता हैं। .

नई!!: पुरुष और प्रकृति · और देखें »

प्रकृति (धर्म)

अनेकों भारतीय दर्शनों में प्रकृति की चर्चा हुई है। प्रकृति मूल कारण, स्वभाव या रूप। सांख्य दर्शन में सत्कार्यवाद के अनुसार कार्य अपने कारण में उत्पत्ति के पूर्व भी वर्तमान रहता है। कारण सूक्ष्म कार्य है तथा कार्य, कारण का स्थूल रूप है। तत्वत: कार्य और कारण में भेद नहीं है। कारण का परिणाम होने से कार्य की अवस्था आती है। संसार मे जो कुछ चेतनाविहीन पदार्थ है वह सुख, दु:ख या मोह का कारण है। अत: ये जड़ पदार्थ किसी ऐसे एक कारण के परिणाम हैं जिसमें सुख, दु:ख और मोह को उत्पन्न करनेवाले गुण वर्तमान हैं। यह कारण सबका मूल होगा और इसका दूसरा कोई कारण न होगा। यह कारण एक और अविभाज्य होगा। इसमें तीनों गुण अपनी साम्यावस्था में स्थित होंगे। ये तीन गुण क्रमश: सत्व, रजस् ओर तमस् कहे गए हैं। इनकी साम्यावस्था ही मूल प्रकृति कही जाती है। यह किसी का विकार नहीं है पर सभी जड़ पदार्थ इसके विकार हैं। पुरुष की सन्निधि से प्रकृति में रजोगुण का परिस्पंद होने से क्रिया उत्पन्न होती हैं। रजोगुण क्रिया का मूल है परन्तु प्रकृति में चेतना न होने से यह क्रिया स्वयंचालित है, किसी चेतन द्वारा चालित नहीं है। गुणों की साम्यावस्था में विक्षोभ होने से बुद्धि या महत् की उत्पत्ति होती है। महत् से अहंकार की, अहंकार से पाँच ज्ञानेंद्रियों, पाँच कर्मेन्द्रियों, मन और पाँच तन्मात्राओं की उत्पत्ति होती है। तन्मात्रों से पंचभूतों की उत्पत्ति मानी गई है। यही प्रकृति का विस्तार है। .

नई!!: पुरुष और प्रकृति (धर्म) · और देखें »

फरीदकोट

फरीदकोट भारतीय पंजाब के दक्षिण-पश्चिमी भाग में स्थित एक नगर है। यह फरीदकोट जिले का मुख्यालय है। श्रेणी:पंजाब के नगर.

नई!!: पुरुष और फरीदकोट · और देखें »

बहपुरा

बहपुरा उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर जिला के डीघ मंडल में स्थित एक गांव है।n .

नई!!: पुरुष और बहपुरा · और देखें »

बारडोली

बारडोली (બારડોલી) भारत के गुजरात राज्य का एक शहर है। .

नई!!: पुरुष और बारडोली · और देखें »

बांसवाड़ा

बांसवाड़ा भारतीय राज्य राजस्थान के दक्षिणी भाग में स्थित एक शहर है। यह गुजरात और मध्य प्रदेश दोनों राज्यों की सीमा के निकट है। बांसवाड़ा की स्‍थापना वाहिया चरपोटा ने की थी, जो एक भील राजा था। वाहिया को बांसिया के नाम से भी जाना जाता हैा बांसवाडा के राजा बां‍सिया के नाम पर ही इसका नाम बांसवाड़ा पड़ा। इसे "सौ द्वीपों का नगर" भी कहते हैं क्योंकि यहाँ से होकर बहने वाली माही नदी में अनेकानेक से द्वीप हैं। बांसवाड़ा के आसपास का क्षेत्र अन्य क्षेत्रों की तुलना में समतल और उपजाऊ है, माही बांसवाड़ा की प्रमुख नदी है। मक्का, गेहूँ और चना बांसवाड़ा की प्रमुख फ़सलें हैं। बांसवाड़ा में लोह-अयस्क, सीसा, जस्ता, चांदी और मैंगनीज पाया जाता है। इस क्षेत्र का गठन 1530 में बांसवाड़ा रजवाड़े के रूप में किया गया था और बांसवाड़ा शहर इसकी राजधानी था। 1948 में राजस्थान राज्य में विलय होने से पहले यह मूल डूंगरपुर राज्य का एक भाग था। .

नई!!: पुरुष और बांसवाड़ा · और देखें »

बिसौरी

बिसौरी उत्तरी भारत में जौनपुर जिला का एक गांव है जिसकी आबादी लगभग 1000 है। बिसौरी वाराणसी डिवीजन और जौनपुर जिला प्रशासन के अंतर्गत आता है। यह जौनपुर शहर से 49 किमी पूर्व, और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से 306 किमी की दूर पर स्थित है। बिसौरी का पोस्टल इंडेक्स नंबर है और पोस्ट ऑफिस पतरहीं है और प्रधान डाक कार्यालय शहर में स्थित है। बिसौरी एक ग्राम पंचायत है, इस पंचायत में दो गांव हैं जिसमे पहला गांव बिसौरी तथा दूसरा गांव तिवारीपुर है। .

नई!!: पुरुष और बिसौरी · और देखें »

बंगाराम

बंगाराम (ബങ്കാരം) लक्षद्वीप द्वीप-समूह का एक अडल (atoll) है। .

नई!!: पुरुष और बंगाराम · और देखें »

बुलन्दशहर

बुलंदशहर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है। बुलंदशहर, अनूपशहर, खुर्जा, स्याना, डिबाई, सिकंदराबाद व शिकारपुर इसके प्रमुख नगर हैं व बुलन्दशहर नगर इस जनपद का मुख्यालय है। बुलंदशहर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दिल्ली से ६४ किलोमीटर की दूरी पर बसा शहर है। साथ ही बहती है काली नदी। यह शहर मुखयतः सड़कों से मेरठ, अलीगढ़, खैर, बदायूं, गौतम बुद्ध नगर व गाजियाबाद से जुडा हुआ है। बुलंदशहर जनपद के नरौरा में गंगा के किनारे भारत वर्ष में विद्यमान परमाणु विद्युत संयंत्र में से एक विद्युत ताप गृह स्थापित व सुचारू रूप से प्रयोग में है। .

नई!!: पुरुष और बुलन्दशहर · और देखें »

भारत की संस्कृति

कृष्णा के रूप में नृत्य करते है भारत उपमहाद्वीप की क्षेत्रीय सांस्कृतिक सीमाओं और क्षेत्रों की स्थिरता और ऐतिहासिक स्थायित्व को प्रदर्शित करता हुआ मानचित्र भारत की संस्कृति बहुआयामी है जिसमें भारत का महान इतिहास, विलक्षण भूगोल और सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान बनी और आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई, बौद्ध धर्म एवं स्वर्ण युग की शुरुआत और उसके अस्तगमन के साथ फली-फूली अपनी खुद की प्राचीन विरासत शामिल हैं। इसके साथ ही पड़ोसी देशों के रिवाज़, परम्पराओं और विचारों का भी इसमें समावेश है। पिछली पाँच सहस्राब्दियों से अधिक समय से भारत के रीति-रिवाज़, भाषाएँ, प्रथाएँ और परंपराएँ इसके एक-दूसरे से परस्पर संबंधों में महान विविधताओं का एक अद्वितीय उदाहरण देती हैं। भारत कई धार्मिक प्रणालियों, जैसे कि हिन्दू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और सिख धर्म जैसे धर्मों का जनक है। इस मिश्रण से भारत में उत्पन्न हुए विभिन्न धर्म और परम्पराओं ने विश्व के अलग-अलग हिस्सों को भी बहुत प्रभावित किया है। .

नई!!: पुरुष और भारत की संस्कृति · और देखें »

भाई

भाई एक पुरुष या पुल्लिंग सहोदर है। अगर आप किसी को अपना भाई कह कर संबोधित करते हैं तो उस पुरुष के एवं आपके माता या पिता या दोनों एक ही हैं। .

नई!!: पुरुष और भाई · और देखें »

भीमुनिपट्टनम

भीमुनिपट्टनम आन्ध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम जिले का एक छोटा सा नगर है। .

नई!!: पुरुष और भीमुनिपट्टनम · और देखें »

भीलवाड़ा

भीलवाड़ा सिटी, राजस्थान का एक नगर है। .

नई!!: पुरुष और भीलवाड़ा · और देखें »

मटिया

मटिया (Matiya) एक गांव है, जो कि भारत के बिहार राज्य के वैशाली जिले में स्थित है। यह बिहार के चार जिले से घिरा हुआ है, इसके पूर्व में समस्तीपुर, पश्चिम में सारण, उत्तर में मुजफ्फरपुर और दक्षिण में पटना है। इसके निकटतम शहर हाजीपुर यहां से लगभग 23 किमी (ट्रेन के माध्यम से) और 31 किमी (सड़क के माध्यम से) दूर है। यहां से निकटतम रेलवे स्टेशन पश्चिम में देसरी (लगभग 2 किमी) और पूर्व में सहदेई बुजुर्ग (लगभग 3 किमी) दूर है। .

नई!!: पुरुष और मटिया · और देखें »

ममुआरा

ममुआरा (गुजराती भाषा: મમુઆરા) भारतीय राज्य गुजरात के कच्छ जिले के भुज तालुका का एक गाँव है। यह भुज से पूर्व में तथा कच्छ से दक्षिण में स्थित है। श्रेणी:गुजरात के गाँव.

नई!!: पुरुष और ममुआरा · और देखें »

महमूदाबाद

महमूदाबाद भारत के उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले का एक तहसील है। इसे महमूदाबाद अवध के नाम से भी जाना जाता है। .

नई!!: पुरुष और महमूदाबाद · और देखें »

मानव प्रतिरूपण

मानव प्रतिरूपों की काल्पनिक तस्वीर मानव प्रतिरूपण किसी जीवित अथवा पूर्व में जीवित मानव की जेनेटिक रूप से समान प्रतिलिपि का निर्माण करना को कहा जाता है। सामान्यतः इस शब्द का उल्लेख कृत्रिम मानव प्रतिरूपण के रूप में किया जाता है; समरूप जुड़वां (Identical Twins) के रूप में मानव प्रतिरूपण सामान्य रूप से पाए जाते हैं, जिनमें प्रतिरूपण प्रजनन की प्राकृतिक प्रक्रिया के दौरान होता है। परंतू यहाँ, "प्रतिरूपण" शब्दावली का उपयोग प्राकृतिक प्रतिरूपण के लिये नहीं किया जा रहा है। यह मूलतः कृत्रिम तौर पर मानव प्रतिरूप या मानव कोशिकाओं के प्रतिरूपण को कहा जाता बै। कृत्रिम मानव तैयार करने की यह संकल्पना व संभावना, एक विवादास्पक मुद्दा है एवं धार्मिक एवं नैतिक मूल्यों के आधार पर "कृत्रिम मानव" के निर्माण को अस्पष्ट भी ठहराया जाता रहा है। इन्हीं कारणवष कई देशों में मानव प्रतिरूपण से संबंधित नियमों एवं कानूनों को पारित किया गया है, एवं परस्पर हर देश में, कृत्रिम तौर पर मानव निर्माण गौरकानूकी है एवं मानव प्रतिरूपण केवल उपचारात्मक प्रतिरूपण ही कानूनन मान्य है। मानव प्रतिरूपण के दो प्रकारों की अक्सर चर्चा की जाती है: उपचारात्मक प्रतिरूपण और प्रजननीय प्रतिरूपण। उपचारात्मक प्रतिरूपण में चिकित्सा में इस्तेमाल के लिए वयस्क कोशिकाओं का प्रतिरूपण करना शामिल है और यह अनुसंधान का एक सक्रिय क्षेत्र है। प्रजनन प्रतिरूपण में प्रतिरूपित मानवों का निर्माण शामिल होगा। एक तीसरे प्रकार का प्रतिरूपण, जिसे प्रतिस्थापन प्रतिरूपण (Replacement Cloning) कहते हैं, एक सैद्धांतिक संभावना है और यह उपचारात्मक व प्रजननीय प्रतिरूपण का एक संयोजन होगा। प्रतिस्थापन प्रतिरूपण में प्रतिरूपण के द्वारा किसी अत्यधिक क्षतिग्रस्त, विफल या कमजोर शरीर का प्रतिस्थापन शामिल होगा, जिसके बाद पूर्ण या आंशिक मस्तिष्क प्रत्यारोपण किया जाएगा। .

नई!!: पुरुष और मानव प्रतिरूपण · और देखें »

मालकानगिरि जिला

मालकानगिरि भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय मालकानगिरि है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: पुरुष और मालकानगिरि जिला · और देखें »

मांडलगढ़

मांडलगढ़ एक भारत के राजस्थान राज्य के भीलवाड़ा जिले का एक नगर है | .

नई!!: पुरुष और मांडलगढ़ · और देखें »

मिकी माउस

मिकी माउस वाल्ट डिज़्नी का एक कार्टून पात्र है। मिकी माउस एक चूहा है। मिकी के पात्र का सर्जन वॉल्ट डिज़नी और यूबी इवेर्क्स द्वारा १९२८ में वॉल्ट डिज़नी स्टूडियो में किया गया था। मिकी एक एंथ्रोपोमोर्फिक माउस है जो आमतौर पर लाल शॉर्ट्स, बड़े पीले जूते और सफेद दस्ताने पहनता है। प्लूटो नामक कुत्ता उसका दोस्त है। मिकी वाल्ट डिज़्नी का बनाया हुआ सब्से पहला और सबसे लोकप्रिय कार्टून है। स्टीमबोट विली मिकी की पहली फिल्म थी। मिकी पहली छोटी शॉर्ट प्लेन क्रेज़ी में दिखाई दी, जो कि पहली ध्वनि कार्टून में से एक, लघु फिल्म स्टीमबोट विली (1928) में सार्वजनिक रूप से शुरू हुई थी। वह द बैंड कॉन्सर्ट (1935), ब्रेव लिटिल टेलर (1938), और फंतासिया (1940) समेत 130 से अधिक फिल्मों में शामिल होने के लिए आगे बढ़े। मिकी मुख्य रूप से लघु फिल्मों में दिखाई दिया, लेकिन कभी-कभी फीचर-लेंथ फिल्मों में भी। मिकी के कार्टूनों में से दस सर्वश्रेष्ठ एनिमेटेड शॉर्ट फिल्म के लिए अकादमी पुरस्कार के लिए नामित किए गए थे, जिनमें से एक, लैंड ए Paw ने 1942 में पुरस्कार जीता था। 1978 में, मिकी हॉलीवुड वॉक ऑफ़ फेम पर एक स्टार रखने वाले पहले कार्टून चरित्र बन गए। 1930 की शुरुआत में, मिकी को कॉमिक स्ट्रिप चरित्र के रूप में व्यापक रूप से दिखाया गया है। मुख्य रूप से फ़्लॉइड गॉटफ्रेडसन द्वारा खींचा गया उनका स्वयं-शीर्षक अख़बार स्ट्रिप, 45 वर्षों तक चला। मिकी ने डिज़नी इटली के टॉपोलिनो, एमएम मिकी माउस मिस्ट्री मैगज़ीन, और विज़ार्ड्स ऑफ मिकी जैसी कॉमिक किताबों में और मिकी माउस क्लब (1955-1996) और अन्य जैसे टेलीविजन श्रृंखला में भी दिखाई दिया है। वह अन्य मीडिया जैसे वीडियो गेम के साथ-साथ मर्चेंडाइजिंग में भी दिखाई देता है और डिज्नी पार्क में एक सुखद चरित्र है। मिकी आम तौर पर अपनी प्रेमिका मिनी माउस, उनके पालतू कुत्ते प्लूटो, उनके दोस्तों डोनाल्ड डक और गूफी और उनकी दासता पीट के साथ दिखाई देती है, दूसरों के बीच (मिकी माउस ब्रह्मांड देखें)। यद्यपि मूल रूप से एक शरारती एंथिरो के रूप में चित्रित किया गया था, मिकी को समय के साथ एक हर आदमी के रूप में पुन: ब्रांड किया गया था, जिसे आम तौर पर एक दोषपूर्ण, लेकिन साहसी नायक के रूप में देखा जाता था। 200 9 में, डिज्नी ने अपने सुखद, हंसमुख पक्ष पर कम जोर देकर और वीडियो गेम एपिक मिकी के साथ शुरुआत में अपने व्यक्तित्व के अधिक शरारती और साहसी पक्षों को पुन: पेश करके चरित्र को दोबारा शुरू करना शुरू कर दिया। .

नई!!: पुरुष और मिकी माउस · और देखें »

मंडीद्वीप, भोपाल

मंडीद्वीप भारत के राज्य मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के गौहरगंज उप-जिले में स्थित एक कस्बा है। मंडीद्वीप राजधानी भोपाल से २३ किमी दूर स्थित एक औद्योगिक कस्बा है, जो १९७० के दशक के अंतिम वर्षों में स्थापित किया गया था। .

नई!!: पुरुष और मंडीद्वीप, भोपाल · और देखें »

मुण्डा

मुंडा एक भारतीय आदिवासी समुदाय है, जो मुख्य रूप से झारखण्ड के छोटा नागपुर क्षेत्र में निवास करता है| झारखण्ड के अलावा ये बिहार, पश्चिम बंगाल, ओड़िसा आदि भारतीय राज्यों में भी रहते हैं| इनकी भाषा मुंडारी आस्ट्रो-एशियाटिक भाषा परिवार की एक प्रमुख भाषा है| उनका भोजन मुख्य रूप से धान, मड़ूआ, मक्का, जंगल के फल-फूल और कंध-मूल हैं | वे सूत्ती वस्त्र पहनते हैं | महिलाओं के लिए विशेष प्रकार की साड़ी होती है, जिसे बारह हथिया (बारकी लिजा) कहते हैं | पुरुष साधारण-सा धोती का प्रयोग करते हैं, जिसे तोलोंग कहते हैं | मुण्डा, भारत की एक प्रमुख जनजाति हैं | २० वीं सदी के अनुसार उनकी संख्या लगभग ९,०००,००० थी |Munda http://global.britannica.com/EBchecked/topic/397427/Munda .

नई!!: पुरुष और मुण्डा · और देखें »

रौनापार

रौनापार आजमगढ़ जिले की सगड़ी तहसील का एक बड़ा गांव है। सन 2011 में हुई जनगणना के मुताबिक इस गांव में कुल 688 परिवार निवास करते हैं। इस गांव की कुल जनसंख्या 4847 है, जिसमें महिलाओं की आबादी 2335 है जबकि पुरुषों की कुल संख्या 2512 है। .

नई!!: पुरुष और रौनापार · और देखें »

रेवाडी शहर

रेवाड़ी भारत के हरियाणा प्रान्त के समनामक रेवाड़ी जिले का प्रशासकीय केंद्र है। .

नई!!: पुरुष और रेवाडी शहर · और देखें »

लिंगानुपात

लिंगानुपात या लिंग का अनुपात से तात्पर्य किसी क्षेत्र विशेष में पुरुष एवं स्त्री की संख्या के अनुपात को कहते हैं। प्राय: किसी भौगोलिक क्षेत्र में प्रति हजार पुरुषों के मुकाबले स्त्रियों की संख्या को इसका मानक माना जाता है। श्रेणी:मानव विज्ञान श्रेणी:तकनीकी शब्दावली.

नई!!: पुरुष और लिंगानुपात · और देखें »

लुधियाना जिला

लुधियाना भारतीय राज्य पंजाब का एक जिला है। जिले का मुख्यालय लुधियाना है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: पुरुष और लुधियाना जिला · और देखें »

शामली

शामली उत्तर प्रदेश का एक शहर है और यह नए बनाए गए जिले का मुख्यालय है। यह जाट, गुर्जर संस्कृति का केन्द्र हैं। शामली को सितम्बर २०११ में जिले का दर्जा मिला। यह दिल्ली-सहारनपुर राजमार्ग पर स्थित हैं। यह दिल्ली से ९८ कि.

नई!!: पुरुष और शामली · और देखें »

श्योपुर

श्योपुर, मध्य प्रदेश का एक नगर तथा श्योपुर जिले का मुख्यालय है। यह नगर छोटी लाइन की रेलवे द्वारा ग्वालियर से जुड़ा है। श्योपुर लकड़ी की नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है। चम्बल नदी यहाँ से केवल २५ किमी की दूरी पर बहती है तथा राजस्थान और मध्यप्रदेश की सीमा बनाती है। .

नई!!: पुरुष और श्योपुर · और देखें »

शेरपुर

शेरपुर उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर जिले के डीघ मंडल का एक छोटा सा किन्तु महत्वपूर्ण गाँव है। .

नई!!: पुरुष और शेरपुर · और देखें »

सम्भोग

सम्भोग (अंग्रेजी: Sexual intercourse या सेक्सुअल इन्टरकोर्स) मैथुन या सेक्स की उस क्रिया को कहते हैं जिसमे नर का लिंग मादा की योनि में प्रवेश करता हैं। सम्भोग अलग अलग जीवित प्रजातियों के हिसाब से अलग अलग प्रकार से हो सकता हैं। सम्भोग को योनि मैथुन, काम-क्रीड़ा, रति-क्रीड़ा भी कहते हैं। संभोग की क्रिया केवल पति-पत्नी के बीच ही हो सकती है । यदि कोई महिला या पुरुष अपने पति-पत्नी के अलावा किसी और से संबंध बनाता है । तो वह अपराध की श्रेणी में आता है। इस अपराध की सजा भारत मे 30 साल की उम्रकैद है। यदि कोई स्त्री पुरुष अपने पति पत्नी को छोड़कर किसी अन्य से संबंध बनाता बनाती है । तो उस स्त्री अथवा पुरुष का उसकी पति अथवा पत्नी से तलाक हो जाता है । तथा उस स्त्री अथवा पुरुष को 30 साल की जेल होती है। विवाह से पूर्व संभोग करने भी अपराध की श्रेणी में आता है । इसकी दज यह है कि उस उन दोनों का विवाह करना अनिवार्य हो जाता है । तथा वे एक-दूसरे से जीवन भर तलाक नही ले सकते है । और किसी अन्य से संभोग भी नही कर सकते है । सृष्टि में आदि काल से सम्भोग का मुख्य काम वंश को आगे चलाना व बच्चे पैदा करना है। जहाँ कई जानवर व पक्षी सिर्फ अपने बच्चे पैदा करने के लिए उपयुक्त मौसम में ही सम्भोग करते हैं वहीं इंसानों में सम्भोग इस वजह के बिना भी हो सकता हैं। सम्भोग इंसानों में सुख प्राप्ति या प्यार या जज्बात दिखाने का भी एक रूप हैं। सम्भोग अथवा मैथुन से पूर्व की क्रिया, जजिसे अंग्रेजी में फ़ोर प्ले कहते हैं, के दौरान हर प्राणी के शरीर से कुछ विशेष प्रकार की गन्ध (फ़ीरोमंस) उत्सर्जित होती है जो विषमलिंगी को मैथुन के लिये अभिप्रेरित व उत्तेजित करती है। कुछ प्राणियों में यह मौसम के अनुसार भी पाया जाता है। वस्तुत: फ़ोर प्ले से लेकर चरमोत्कर्ष की प्राप्ति तक की सम्पूर्ण प्रक्रिया ही सम्भोग कहलाती है बशर्ते कि लिंग व्यवहार का यह कार्य विषमलिंगियों के बीच हो रहा हो। कई ऐसे प्रकार के सम्भोग भी हैं जिसमें लिंग का उपयोग नर और मादा के बीच नहीं होता जैसे मुख मैथुन, हस्तमैथुन अथवा गुदा मैथुन उन्हें मैथुन तो कहा जा सकता है परन्तु सम्भोग कदापि नहीं। उपरोक्त प्रकार के मैथुन अस्वाभाविक अथवा अप्राकृतिक व्यवहार के अन्तर्गत आते हैं या फिर सम्भोग के साधनों के अभाव में उन्हें केवल मनुष्य की स्वाभाविक आत्मतुष्टि का उपाय ही कहा जा सकता है, सम्भोग नहीं। .

नई!!: पुरुष और सम्भोग · और देखें »

सरदार शहर

सरदारशहर राजस्थान के चुरू जिले का एक कस्बा है। यह बीकानेर से ८५ मील पूर्वोत्तर में बसा है। महाराजा सरदार सिंह ने सिंहासनारुढ़ होने के पूर्व ही यहां पर एक किला बनवाया था। शहर के चारों तरफ टीलें हैं, जिससे इसका सौंदर्य बहुत बढ़ गया है। ऐतिहासिक दृष्टि से महत्व रखने वाली एक छतरी भी है। यहाँ का गाँधी विद्या मंदिर प्रसिद्ध है। तथा यहां इच्छापुरन बालाजी मन्दिर भी प्रसिद्ध है इस के अलावा यहाँ घंटाघर भी प्रसिद्ध है और गांव बायला में माता जी (बाया जी) मन्दिर की ख्याति भी दूर दूर फैली हुई है। सरदारशहर तहसिल चुरू जिले की सबसे बी बड़ी तहसिल है। यह क्षेत्र चूरू लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अन्तरगत आता है। यहां से मोहन लाल शर्मा, हजारीमल सारण,अशोक पींचा,केसरा बोहरा भी विधायक रह चुके है और वर्तमान विधायक भंवर लाल शर्मा है और ये 6 बार यहां से विधायक है। सरदार शहर से चन्दन मल वैद और भंवर लाल शर्मा केबिनेट मंत्री रह चुके हैं। .

नई!!: पुरुष और सरदार शहर · और देखें »

सात्विक गुण

सात्विक गुण, प्रकृति के तीन गुणों में एक है। यह गुण हल्का या लघु और प्रकाश करने वाला है। प्रकृति से पुरुष का संबंध इसी गुण से होता है। बुद्धिगत सत्य में पुरुष अपना बिम्ब देखकर अपने को कर्ता मानने लगता है। सत्वगत मलिनता आदि का अपने में आरोप करने लगता है। सत्व की मलिनता या शुद्धता के अनुसार व्यक्ति की बुद्धि मलिन या शुद्ध होती है। अत: योग और सांख्य दर्शनों में सत्व शुद्धि पर जोर दिया गया है। जिन वस्तुओं से बुद्धि निर्मल होती है उन्हें सात्विक कहते हैं-- आहार, व्यवहार, विचार आदि पवित्र हों तो सत्व गुण की अभिवृद्धि होती है जिससे बुद्धि निर्मल होती है। अत्यंत निर्मल बुद्धि में पड़े प्रतिबिंब से पुरुष को अपने असली केवल, निरंजन रूप का ज्ञान हो जाता है और वह मुक्त हो जाता है। श्रेणी:भारतीय दर्शन.

नई!!: पुरुष और सात्विक गुण · और देखें »

सांडेराव

सांडेराव भारत के राजस्थान राज्य के पाली ज़िले का एक गांव है,जो बाली कस्बे से १६ किलोमीटर की दूरी पर है ' इस गांव की स्थापना ९वीं शताब्दी में यशोभद्रा की थी यह ५००० हजार साल पहले का एक तीर्थस्थल था ' यहां पर उदयपुर के सिसोदिया राजवंश ने शासन किया था ' वर्तमान में यह एक महत्वपूर्ण जंक्शन साबित हो रहा है यहां कई बड़े-बड़े स्टेशन है ' .

नई!!: पुरुष और सांडेराव · और देखें »

सांख्य दर्शन

भारतीय दर्शन के छः प्रकारों में से सांख्य भी एक है जो प्राचीनकाल में अत्यंत लोकप्रिय तथा प्रथित हुआ था। यह अद्वैत वेदान्त से सर्वथा विपरीत मान्यताएँ रखने वाला दर्शन है। इसकी स्थापना करने वाले मूल व्यक्ति कपिल कहे जाते हैं। 'सांख्य' का शाब्दिक अर्थ है - 'संख्या सम्बंधी' या विश्लेषण। इसकी सबसे प्रमुख धारणा सृष्टि के प्रकृति-पुरुष से बनी होने की है, यहाँ प्रकृति (यानि पंचमहाभूतों से बनी) जड़ है और पुरुष (यानि जीवात्मा) चेतन। योग शास्त्रों के ऊर्जा स्रोत (ईडा-पिंगला), शाक्तों के शिव-शक्ति के सिद्धांत इसके समानान्तर दीखते हैं। भारतीय संस्कृति में किसी समय सांख्य दर्शन का अत्यंत ऊँचा स्थान था। देश के उदात्त मस्तिष्क सांख्य की विचार पद्धति से सोचते थे। महाभारतकार ने यहाँ तक कहा है कि ज्ञानं च लोके यदिहास्ति किंचित् सांख्यागतं तच्च महन्महात्मन् (शांति पर्व 301.109)। वस्तुत: महाभारत में दार्शनिक विचारों की जो पृष्ठभूमि है, उसमें सांख्यशास्त्र का महत्वपूर्ण स्थान है। शान्ति पर्व के कई स्थलों पर सांख्य दर्शन के विचारों का बड़े काव्यमय और रोचक ढंग से उल्लेख किया गया है। सांख्य दर्शन का प्रभाव गीता में प्रतिपादित दार्शनिक पृष्ठभूमि पर पर्याप्त रूप से विद्यमान है। इसकी लोकप्रियता का कारण एक यह अवश्य रहा है कि इस दर्शन ने जीवन में दिखाई पड़ने वाले वैषम्य का समाधान त्रिगुणात्मक प्रकृति की सर्वकारण रूप में प्रतिष्ठा करके बड़े सुंदर ढंग से किया। सांख्याचार्यों के इस प्रकृति-कारण-वाद का महान गुण यह है कि पृथक्-पृथक् धर्म वाले सत्, रजस् तथा तमस् तत्वों के आधार पर जगत् की विषमता का किया गया समाधान बड़ा बुद्धिगम्य प्रतीत होता है। किसी लौकिक समस्या को ईश्वर का नियम न मानकर इन प्रकृतियों के तालमेल बिगड़ने और जीवों के पुरुषार्थ न करने को कारण बताया गया है। यानि, सांख्य दर्शन की सबसे बड़ी महानता यह है कि इसमें सृष्टि की उत्पत्ति भगवान के द्वारा नहीं मानी गयी है बल्कि इसे एक विकासात्मक प्रक्रिया के रूप में समझा गया है और माना गया है कि सृष्टि अनेक अनेक अवस्थाओं (phases) से होकर गुजरने के बाद अपने वर्तमान स्वरूप को प्राप्त हुई है। कपिलाचार्य को कई अनीश्वरवादी मानते हैं पर भग्वदगीता और सत्यार्थप्रकाश जैसे ग्रंथों में इस धारणा का निषेध किया गया है। .

नई!!: पुरुष और सांख्य दर्शन · और देखें »

सिकंदरा

सिकन्दरा उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जिले का एक कस्बा है। यह कस्बा तहसील मुख्यालय है। .

नई!!: पुरुष और सिकंदरा · और देखें »

सिक्किम

(या, सिखिम) भारत पूर्वोत्तर भाग में स्थित एक पर्वतीय राज्य है। अंगूठे के आकार का यह राज्य पश्चिम में नेपाल, उत्तर तथा पूर्व में चीनी तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र तथा दक्षिण-पूर्व में भूटान से लगा हुआ है। भारत का पश्चिम बंगाल राज्य इसके दक्षिण में है। अंग्रेजी, नेपाली, लेप्चा, भूटिया, लिंबू तथा हिन्दी आधिकारिक भाषाएँ हैं परन्तु लिखित व्यवहार में अंग्रेजी का ही उपयोग होता है। हिन्दू तथा बज्रयान बौद्ध धर्म सिक्किम के प्रमुख धर्म हैं। गंगटोक राजधानी तथा सबसे बड़ा शहर है। सिक्किम नाम ग्याल राजतन्त्र द्वारा शासित एक स्वतन्त्र राज्य था, परन्तु प्रशासनिक समस्यायों के चलते तथा भारत से विलय के जनमत के कारण १९७५ में एक जनमत-संग्रह के अनुसार भारत में विलीन हो गया। उसी जनमत संग्रह के पश्चात राजतन्त्र का अन्त तथा भारतीय संविधान की नियम-प्रणाली के ढाचें में प्रजातन्त्र का उदय हुआ। सिक्किम की जनसंख्या भारत के राज्यों में न्यूनतम तथा क्षेत्रफल गोआ के पश्चात न्यूनतम है। अपने छोटे आकार के बावजूद सिक्किम भौगोलिक दृष्टि से काफ़ी विविधतापूर्ण है। कंचनजंगा जो कि दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची चोटी है, सिक्किम के उत्तरी पश्चिमी भाग में नेपाल की सीमा पर है और इस पर्वत चोटी चको प्रदेश के कई भागो से आसानी से देखा जा सकता है। साफ सुथरा होना, प्राकृतिक सुंदरता पुची एवं राजनीतिक स्थिरता आदि विशेषताओं के कारण सिक्किम भारत में पर्यटन का प्रमुख केन्द्र है। .

नई!!: पुरुष और सिक्किम · और देखें »

संत रविदास नगर जिला

भदोही ज़िला भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक ज़िला है। जिले का मुख्यालय ज्ञानपुर में है। पहले यह वाराणसी जिले में था।भदोही ज़िला इलाहाबाद और वाराणसी के बीच मे स्थित है| यहा का कालीन उद्योग विश्व प्रसिद्ध है और कृषी के बाद दूसरा प्रमुख रोजगार का श्रोत है| .

नई!!: पुरुष और संत रविदास नगर जिला · और देखें »

संयोगिता चौहान

संयोगिता (संयोगिता चौहान, Sanyogita Chauhan) पृथ्वीराजतृतीय की पत्नी थी। पृथ्वीराज के साथ गान्धर्वविवाह कर के वें पृथ्वीराज की अर्धांगिनी बनी थी। भारत के इतिहास की महत्त्वपूर्ण घटनाओं में संयोगिताहरण गिना जाता है। पृथ्वीराज की तेरह राज्ञीओं में से संयोगिता अति रूपवती थी। संयोगिता को तिलोत्तमा, कान्तिमती, संजुक्ता इत्यादि नामों से भी जाना जाते थे। उनके पिता कन्नौज के राजा जयचन्द थे। जिन्होंने पृथ्वीराज के विरद्ध घोरी को युद्ध में सहायता की थी। .

नई!!: पुरुष और संयोगिता चौहान · और देखें »

सेरछिप

सेरछिप भारतीय राज्य मिज़ोरम के सेरछिप ज़िले तथा सेरछिप सदर तहसील का मुख्यालय है। यह कस्बा राजधानी अइज़ोल से ११२ किमी दूर है। .

नई!!: पुरुष और सेरछिप · और देखें »

सेंधवा

सेन्धवा, मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले का एक नगर है। यह सेन्धवा तहसील का मुख्यालय भी है। 'सेन्धवा' शब्द, 'सेन्धव' से आया है जो होलकरों के समय यहाँ के शासक हुआ करते थे। .

नई!!: पुरुष और सेंधवा · और देखें »

हाथरस

हाथरस भारत के उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। .

नई!!: पुरुष और हाथरस · और देखें »

हावड़ा

हावड़ा(अंग्रेज़ी: Howrah, बांग्ला: হাওড়া), भारत के पश्चिम बंगाल राज्य का एक औद्योगिक शहर, पश्चिम बंगाल का दूसरा सबसे बड़ा शहर एवं हावड़ा जिला एवं हावड़ सदर का मुख्यालय है। हुगली नदी के दाहिने तट पर स्थित, यह शहर कलकत्ता, के जुड़वा के रूप में जाना जाता है, जो किसी ज़माने में भारत की अंग्रेज़ी सरकार की राजधानी और भारत एवं विश्व के सबसे प्रभावशाली एवं धनी नगरों में से एक हुआ करता था। रवीन्द्र सेतु, विवेकानन्द सेतु, निवेदिता सेतु एवं विद्यासागर सेतु इसे हुगली नदी के पूर्वी किनारे पर स्थित पश्चिम बंगाल की राजधानी, कोलकाता से जोड़ते हैं। आज भी हावड़, कोलकाता के जुड़वा के रूप में जाना जाता है, समानताएं होने के बावजूद हावड़ा नगर की भिन्न पहचान है इसकी अधिकांशतः हिंदी भाषी आबादी, जोकि कोलकाता से इसे थोड़ी अलग पहचान देती है। समुद्रतल से मात्र 12 मीटर ऊँचा यह शहर रेलमार्ग एवं सड़क मार्गों द्वारा सम्पूर्ण भारत से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यहाँ का सबसे प्रमुख रेलवे स्टेशन हावड़ा जंक्शन रेलवे स्टेशन है। हावड़ा स्टेशन पूर्व रेलवे तथा दक्षिणपूर्व रेलवे का मुख्यालय है। हावड़ स्टेशन के अलावा हावड़ा नगर क्षेत्र मैं और 6 रेलवे स्टेशन हैं तथा एक और टर्मिनल शालीमार रेलवे टर्मिनल भी स्थित है। राष्ट्रीय राजमार्ग 2 एवं राष्ट्रीय राजमार्ग 6 इसे दिल्ली व मुम्बई से जोड़ते हैं। हावड़ा नगर के अंतर्गत सिबपुर, घुसुरी, लिलुआ, सलखिया तथा रामकृष्णपुर उपनगर सम्मिलित हैं। .

नई!!: पुरुष और हावड़ा · और देखें »

हिन्दू दर्शन

हिन्दू धर्म में दर्शन अत्यन्त प्राचीन परम्परा रही है। वैदिक दर्शनों में षड्दर्शन अधिक प्रसिद्ध और प्राचीन हैं। .

नई!!: पुरुष और हिन्दू दर्शन · और देखें »

हिन्दू देवी देवताओं की सूची

यह हिन्दू देवी देवताओं की सूची है। हिन्दू लेखों के अनुसार, धर्म में तैंतीस कोटि (कोटि के अर्थ-प्रकार और करोड़) देवी-देवता बताये गये हैं। इनमें स्थानीय व क्षेत्रीय देवी-देवता भी शामिल हैं)। वे सभी तो यहां सम्मिलित नहीं किये जा सकते हैं। फिर भी इस सूची में तीन सौ से अधिक संख्या सम्मिलित है। .

नई!!: पुरुष और हिन्दू देवी देवताओं की सूची · और देखें »

हुरूहुरी

हुरुहुरी उत्तरी भारत में जौनपुर जिला का एक गांव है जिसकी आबादी लगभग 2000 है। हुरुहुरी वाराणसी मंडल और जौनपुर जिला प्रशासन के अंतर्गत आता है। यह जौनपुर शहर से 25 किमी पूर्व, और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से 274 किमी की दूर पर स्थित है। हुरुहुरी का पोस्टल इंडेक्स नंबर २२२१४२ है शाखा डाकघर जयगोपालगंज तथा उपडाकघर केराकत हैं| यह गांव गोमती नदी से लगभग 2 कम उत्तर दिशा में केराकत तहसील में स्थित है|यह गांव राजमार्ग संख्या ३६ (सैदपुर-खजुरहट सड़क)से लगा हुआ है| .

नई!!: पुरुष और हुरूहुरी · और देखें »

हेतल दवे

हेतल दवे भारत की पहली और इकलौती महिला सूमो पहलवान है। ये मुंबई की रहने वाली है। इनकी उम्र 27 वर्ष है। वर्ष 2008 में इनका नाम लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में दर्ज किया गया। उन्होंने 2009 में ताइवान में आयोजित विश्व सूमो कुश्ती प्रतियोगिता में पांचवां स्थान हासिल किया था। .

नई!!: पुरुष और हेतल दवे · और देखें »

होंठ

होंठ या ओंठ मनुष्य तथा कई अन्य जंतुओं के मुँह का बाहरी दिखने वाला भाग होता है। होंठ कोमल, लचीले तथा चलायमान होते हैं और आहार ग्रहण छिद्र (मुँह) का द्वार होते हैं। इसके अलावा वह ध्वनि का उच्चारण करने में मदद भी करते हैं जिसकी वजह से मनुष्य गले से निकली ध्वनि को वार्तालाप में परिवर्तित कर पाने में सक्षम हो सका है। मनुष्यों में होंठ स्पर्श संवेदी अंग होता तथा पुरुष तथा नारी के अंतरंग समय में कामुकता बढ़ाने का काम भी करता है। .

नई!!: पुरुष और होंठ · और देखें »

जज़िया

इस्लामी कानून के तहत, जज़िया एक प्रतिव्यक्ति कर है, जिसे एक इस्लामिक राष्ट्र द्वारा इसके गैर मुस्लिम पुरुष नागरिकों पर जो कुछ मानदंडों को पूरा करते हों, पर लगाया जाता है। यह कर उन गैर मुस्लिम योग्य या स्वस्थ शरीर वाले वयस्क पुरुषों पर लगाया जाता है/था जिनकी आयु सेना मे काम करने लायक हो/होती थी साथ ही वो इसे वहन करने मे सक्षम हों/होते थे। कुछ अपवादों को छोड़कर,Shahid Alam, Articulating Group Differences: A Variety of Autocentrisms, Journal of Science and Society, 2003Ali (1990), pg.

नई!!: पुरुष और जज़िया · और देखें »

ज्वारासुर

हिंदू पौराणिक कथाओं अनुसार, ज्वारासुर बुखार के दानव और शीतला देवी का जीवनसाथी है। .

नई!!: पुरुष और ज्वारासुर · और देखें »

जौनपुर

जौनपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर है। मध्यकालीन भारत में शर्की शासकों की राजधानी रहा जौनपुर वाराणसी से 58 किलोमीटर और इलाहाबाद से 100 किलोमीटर दूर उत्तर दिशा में गोमती नदी के तट पर बसा है। मध्यकालीन भारत में जौनपुर सल्तनत (1394 और 1479 के बीच) उत्तरी भारत का एक स्वतंत्र राज्य था I वर्तमान राज्य उत्तर प्रदेश जौनपुर सल्तनत के अंतर्गत आता था, जिसपर शर्की शासक जौनपुर से शासन करते थे I .

नई!!: पुरुष और जौनपुर · और देखें »

घाटशिला

घाटशिला झारखंड में जमशेदपुर के पास स्थित एक छोटा शहर है जो अपने यूरेनियम, ताँबा और अन्य खनिजों की खान के लिये प्रसिद्ध है। यहीं पास में भारतीय यूरेनियम निगम का कारखाना स्थित है जो पूरे देश के यूरेनियम की जरूरत पूरी करता है। .

नई!!: पुरुष और घाटशिला · और देखें »

वारिसलिगंज

वारिसलीगंज भारतीय राज्य बिहार के नवादा जिले का एक छोटा सा लेकिन घना बाजार और नगर पंचायत है। यहाँ यातायात कि सुविधा कुछ जगहों से बेहतर है। यहाँ, रेलवे लाइन, सङक कई बङी शहरों से जोङती हैँ। यहाँ एक चीनीमील है, जो कई सालों पहले बंद हो गई थी। यहाँ कि बहुत सारे खाने-पीने की चीजें मशहूर है। तिलकुट, रसकदम, अनरसे। इस शहर के गाँवों की खेती कि प्रमुख समस्या पानी है। यहाँ सकरी नामक नदी कि एक नहर भी है, जो गर्मियों में सुख जाती है, किसान खेतों मैं जनरेटर से सिंचाई करते हैं। .

नई!!: पुरुष और वारिसलिगंज · और देखें »

वाइपर द्वीप

वाइपर द्वीप का दृश्य जिसमें स्मारक भी दृश्य हैं वाइपर द्वीप (viper island) भारत के केंद्र शासित प्रदेश अंदमान एवं निकोबार द्वीप समूह के अनेकों द्वीपों में से है। यह अंदमान एवं निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी अंदमान जिले का भाग है। यह पोर्ट ब्लेयर से ४ किलोमीटर पश्चिम में स्थित है। ब्रिटिश काल में भारत के अन्य भागों से लाये गये 'खतरनाक' बन्दियों बंदियों को इसी द्वीप पर उतारा जाता था। अब यह द्वीप एक पिकनिक स्थल के रूप में विकसित हो चुका है। यहां के टूटे-फूटे फांसी के फंदे निर्मम अतीत के साक्षी बनकर खड़े हैं। .

नई!!: पुरुष और वाइपर द्वीप · और देखें »

वैदिक धर्म

वैदिक रीति से होता यज्ञ वैदिक धर्म वैदिक सभ्यता का मूल धर्म था, जो भारतीय उपमहाद्वीप और मध्य एशिया में हज़ारों वर्षों से चलता आ रहा है। वैदिक सनातन वर्णाश्रम धर्म अथवा आधुनिक हिन्दू धर्म इसी धार्मिक व्यवस्था पर आधारित हैं। वैदिक संस्कृत में लिखे चार वेद इसकी धार्मिक किताबें हैं। हिन्दू मान्यता के अनुसार ऋग्वेद और अन्य वेदों के मन्त्र ईश्वर द्वारा ऋषियों को प्रकट किये गए थे। इसलिए वेदों को 'श्रुति' (यानि, 'जो सुना गया है') कहा जाता है, जबकि श्रुतिग्रन्थौके अनुशरण कर वेदज्ञद्वारा रचा गया वेदांगादि सूत्र ग्रन्थ स्मृति कहलाता है। वेदांग अन्तर्गत के धर्मसूत्र पर ही आधार करके वेदज्ञ मनु,अत्रि,याज्ञावल्क्य आदि द्वारा रचित अनुस्मतिृको भी स्मृति ही माना जाता है।ईसके वाद वेद-वेदांगौंके व्याखाके रुपमे रामायण महाभारतरुपमे ईतिहासखण्ड और पुराणखण्डको वाल्मीकि और वेदव्यासद्वारा रचागया जिसके नीब पर वैदिक सनातन वर्णाश्रम धर्म,विभिन्न वैष्णवादि मतसम्बद्ध हिन्दूधर्म,और अर्वाचीन वैदिक मत आर्यसमाजी,आदि सभीका व्यवहार का आधार रहा है। कहा जाता है। वेदों को 'अपौरुषय' (यानि 'जीवपुरुषकृत नहीं') भी कहा जाता है, जिसका तात्पर्य है कि उनकी कृति दिव्य है। अतःश्रुति मानवसम्बद्ध प्रमादादि दोषमुक्त है।"प्राचीन वैदिक सनातन वर्णाश्रम धर्म"का सारा धार्मिक व्यवहार विभन्न वेद शाखा सम्बद्ध कल्पसूत्र,श्रौतसूत्र,गृह्यसूत्र,धर्मसूत्र आदि ग्रन्थौंके आधारमे चलता है। इसके अलावा अर्वाचीन वैदिक (आर्य समाज) केवल वेदौंके संहिताखण्डको ही वेद स्वीकारते है। यही इन् दोनोमें विसंगति है। वैदिक धर्म और सभ्यता की जड़ में सन्सारके सभी सभ्यता किसी न किसी रूपमे दिखाई देता है। आदिम हिन्द-ईरानी धर्म और उस से भी प्राचीन आदिम हिन्द-यूरोपीय धर्म तक पहुँचती हैं, जिनके कारण बहुत से वैदिक देवी-देवता यूरोप, मध्य एशिया और ईरान के प्राचीन धर्मों में भी किसी-न-किसी रूप में मान्य थे, जैसे ब्रह्मयज्ञमे जिनका आदर कीया जाता है उन ब्रह्मा,विष्णु,रुद्र,सविता,मित्र, वरुण,और बृहस्पति (द्यौस-पितृ), वायु-वात, सरस्वती,आदि। इसी तरह बहुत से वैदिकशब्दों के प्रभाव सजातीय शब्द पारसी धर्म और प्राचीन यूरोपीय धर्मों में पाए जाते हैं, जैसे कि सोम (फ़ारसी: होम), यज्ञ (फ़ारसी: यस्न), पितर- फादर,मातर-मादर,भ्रातर-ब्रदर स्वासार-स्विष्टर नक्त-नाइट् इत्यादि।, Forgotten Books, ISBN 978-1-4400-8579-6 .

नई!!: पुरुष और वैदिक धर्म · और देखें »

वॉल-ई

WALL-E (वॉल-ई) का प्रचार एक मध्य बिंदु (इंटरपंक्ट) के साथ WALL•E के रूप में किया गया, जो 2008 में बनायी गयी एक कंप्यूटर-एनीमेटेड विज्ञान कथा फिल्म है, जिसका निर्माण पिक्सर एनीमेशन स्टुडियोज ने किया और जिसके निर्देशक एंड्रयू स्टैनटॉन तथा सह-निर्देशक ली अन्क्रीच हैं। कहानी WALL-E नामक एक रोबोट की है, जिसे भविष्य में कूड़े-कचरे से भरी पृथ्वी की सफाई के लिए बनाया गया है। अंततः वह EVE नामक एक अन्य रोबोट के साथ प्रेम करने लगता है और एक साहसिक अभियान में वह उसका अनुसरण करता हुआ बाहरी अंतरिक्ष में चला जाता है, जिससे उसके स्वभाव और मनुष्यत्व - दोनों की नियति में परिवर्तन आ जाता है। फाइंडिंग नेमो का निर्देशन करने के बाद स्टैंटन ने महसूस किया कि पिक्सर ने पानी के नीचे की प्रकृति का विश्वसनीय अनुकरण किया है और वे अंतरिक्ष के सेट पर एक फिल्म निर्देशित करने की सोचने लगे। अधिकांश पात्रों की आवाज वास्तविक मानव की नहीं है, बल्कि इसके बजाय भाव-भंगिमाओं और रोबोट की ध्वनियां हैं, जो आवाज के सदृश हैं, जिसे बेन बर्ट द्वारा डिजाइन किया गया है, जो आवाज़ के सदृश है। इसके अलावा, यह पिक्सर द्वारा पहली एनीमेटेड फीचर है जिसमें एक खंड में पात्र लाइव-एक्शन करते नजर आते हैं। वॉल्ट डिज़्नी पिक्चर्स (Walt Disney Pictures) ने इसे संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में 27 जून 2008 को रिलीज किया। फिल्म ने पहले दिन कुल 23.1 मिलियन अमेरिकी डॉलर कमाया और पहले सप्ताहांत के दौरान 3,992 थिएटरों से 63 मिलियन डॉलर कमा कर बॉक्स ऑफिस में इसका रैंक #1 रहा। 31 मई 2009 तक पिक्सर फिल्म के लिए अब तक का यह चौथा सर्वोच्च पहले सप्ताहांत का रैंक है। थिएटरों में इसे रिलीज करने के लिए पिक्सर की परंपरा का अनुसरण करते हुए WALL-E के साथ एक लघु फिल्म प्रेस्टो को भी रखा गया। समीक्षकों ने WALL-E जबरदस्त सकारात्मक समालोचना की, इसे समूहक राटन टमैटोज की समीक्षा में 96% रेटिंग का अनुमोदन मिला। दुनिया भर से इसने 534 डॉलर कमाया, 2008 में इसने सर्वश्रेष्ठ एनीमेटेड फीचर फिल्म के लिए गोल्डेन ग्लोब अवार्ड मिला, 2009 में बेस्ट ड्रामैटिक प्रेजेंटेशन के लिए हुगो अवार्ड, लौंग फोरम, सर्वश्रेष्ठ एनीमेटेड फीचर का ऐकडमी अवार्ड के साथ ही साथ 81वें ऐकडमी अवार्ड में अन्य पांच ऐकडमी अवार्ड मिले। WALL-E को पहली बार TIME का दशक का सर्वश्रेष्ठ सिनेमा का खिताब मिला। .

नई!!: पुरुष और वॉल-ई · और देखें »

वीर्य स्खलन

यौन संगम या हस्त मैथुन के समय जब पुरुष के शिश्न (पुरुष जननांग या लिंग) में यौन उत्तेजना होती है और यौन-उत्तेजना के चरम बिन्दु पर शिश्न से वीर्य निकलता है, इसे ही वीर्यपात या वीर्यस्खलन (ejaculation) कहते हैं। वीर्यपात के समय पुरुष को चरमानन्द प्राप्त होता है। स्खलन शूरू होने की उम्र क्या है? सामान्यतः 10 से 15 वर्ष की आयु में बच्चा प्रथम बार हस्त मैथुन करता है। स्खलन में वीर्य की मात्रा 5ml से 20ml तक होती है। .

नई!!: पुरुष और वीर्य स्खलन · और देखें »

खरसिया

खरसिया छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले का एक कस्बा व नगरपालिका है। .

नई!!: पुरुष और खरसिया · और देखें »

गद्दोपुर

गद्दोपुर उत्तर प्रदेश में स्थित एक स्थान है। .

नई!!: पुरुष और गद्दोपुर · और देखें »

गांधीधाम

गांधीधाम, गुजरात के कच्छ जिले का एक नगर है। इस नगर की स्थापना १९५० में सिन्ध से आये हुए शरणार्थियों को बसाने के लिये की गयी थी। यह नगर कच्छ जनपद की आर्थिक राजधानी है और गुजरात में तेजी से विकसित हो रहा नगर है। यह गुजरात का १८वाँ सबसे बड़ा नगर है। श्रेणी:गुजरात के नगर.

नई!!: पुरुष और गांधीधाम · और देखें »

गंगापुर सिटी

गंगापुर सिटी (अंग्रेजी:Gangapur City), राजस्‍थान के सवाई माधोपुर जिले की सबसे बडी तहसील व उपकेन्‍द्र है। यह दिल्‍ली-मुंबई रेलमार्ग पर स्थित है। यहां राजस्‍थान की बडी अनाज मंडी है। शिक्षा का अच्‍छा माहौल है। यह एक स्‍वतंत्र विधानसभा क्षेत्र है तथा सवाई माधोपुर-टोंक लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। जनसंख्या के मामले में, यह राजस्थान में 18वा सबसे बड़ा शहर है। श्रेणी:सवाई माधोपुर जिले के शहर श्रेणी:सवाई माधोपुर जिले की तहसीलें.

नई!!: पुरुष और गंगापुर सिटी · और देखें »

गुण (भारतीय संस्कृति)

गुण शब्द का कई अर्थों में व्यवहार होता है। सामान्य बोलचाल की भाषा में वस्तु की उत्कर्षाधायक विशेषता को गुण कहते हैं। प्रधान के विपरीत अर्थ में ('गौण' के अर्थ में) भी गुण शब्द का प्रयोग होता है। रस्सी को भी गुण कहते हैं। .

नई!!: पुरुष और गुण (भारतीय संस्कृति) · और देखें »

गुम्मावाला

गुम्मावाला गाँव रुडकी तहसील का एक छोटा सा गाँव है। प्रकृति की गोद में बसा एक सुन्दर गाँव गुम्मावाला है। चारो ओर से पेड-पौधो बडे-बडे वृक्षो से घिरा गाँव है। .

नई!!: पुरुष और गुम्मावाला · और देखें »

ग्राम पंचायत झोंपड़ा, सवाई माधोपुर

झोंपड़ा गाँव राजस्थान राज्य के सवाई माधोपुर जिले की चौथ का बरवाड़ा तहसील में आने वाली प्रमुख ग्राम पंचायत है ! ग्राम पंचायत का सबसे बड़ा गाँव झोंपड़ा है जिसमें मीणा जनजाति का नारेड़ा गोत्र मुख्य रूप से निवास करता हैं। ग्राम पंचायत में झोंपड़ा, बगीना, सिरोही, नाहीखुर्द एवं झड़कुंड गाँव शामिल है। झोंपड़ा ग्राम पंचायत की कुल जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार 5184 है और ग्राम पंचायत में कुल घरों की संख्या 1080 है। ग्राम पंचायत की सबसे बड़ी नदी बनास नदी है वहीं पंचायत की सबसे लम्बी घाटी चढ़ाई बगीना गाँव में बनास नदी पर पड़ती है। ग्राम पंचायत का सबसे विशाल एवं प्राचीन वृक्ष धंड की पीपली है जो झोंपड़ा, बगीना एवं जगमोंदा गाँवों से लगभग बराबर दूरी पर पड़ती है। .

नई!!: पुरुष और ग्राम पंचायत झोंपड़ा, सवाई माधोपुर · और देखें »

गौरीगंज

गौरीगंज उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले का जिला मुख्यालय एवं एक प्रमुख तहसील है। अमेठी जिले के रूप में गठन से पूर्व यह सुल्तानपुर जिले का भाग था। गौरीगंज में बहुत से दर्शनीय स्थल भी हैं। गौरीगंज का लोधी बाबा धाम एक प्रसिद्ध मंदिर है। गौरीगंज तहसील के अंतर्गत भवन शाहपुर गांव के पास में स्थित मां दुर्गा भवानी का दिव्य मंदिर बहुत ही सुप्रसिद्ध है यहां पर 1 साल में दो बार नवरात्रि के मेले लगते हैं। माता जी के दर्शन करने के लिए बहुत दूर-दूर से भक्तगण यहां पर आते हैं। हर सोमवार के दिन यहां पर मेला भी लगता है। मंदिर के बगल में स्थित दिव्य सागर कुंड में स्नान करके भक्तगण मां दुर्गा के आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। गौरीगंज कस्बे के मध्य में जिलाधिकारी निवास स्थित है। उसी के बगल में ही पुलिस स्टेशन भी स्थित है। कस्बे के पश्चिमी छोर पर तहसील स्थित है। यहां का सरकारी अस्पताल अमेठी रोड पर असैदापुर गांव के पास स्थित है। श्रेणी:उत्तर प्रदेश के नगर.

नई!!: पुरुष और गौरीगंज · और देखें »

गोठांव

संक्षिप परिचय राजस्व ग्राम/नगर "गोठांव" (Gothawn), पूर्वांचल के आज़मगढ़ जनपद के मार्टीनगंज तहसील में स्थित है। यह ग्राम/नगर गम्भीरपुर-मार्टीनगंज मार्ग पर स्थित है। यह ग्राम/नगर जनपद आज़मगढ़ मुख्यालय से लगभग 34 किमी० दूरी पर है। इस ग्राम/नगर में कुल 14 वार्ड तथा लगभग 10 मुहल्ले (भटपुरा, डिहवा, केवटाना, रेउड़िया, पुरवा, भरउटी, मड़इया, बकराबाद, आदि) हैं। यह स्थान पूर्वी उत्तर प्रदेश के बौद्धों का प्रमुख केंद्र है। इसी स्थान पर बौद्ध आचार्य चन्द्रजीत गौतम का जन्म हुआ। यहां आचार्य चन्द्रजीत गौतम द्वारा स्थापित एक बुद्ध विहार (अंतर्राष्ट्रीय बुद्ध विहार) है। आचार्य चन्द्रजीत गौतम ने धार्मिक एवं सामाजिक क्षेत्र में अतुलनीय कार्य किया है। आचार्य के व्यक्तिगत स्वभाव और निष्ठावान व्यक्तित्व के कारण इस स्थान पर अनेक विदेशी भी आते हैं उदाहरण के लिए वर्मा, थाईलैंड, श्रीलंका, कोरिया आदि देशों के बौद्ध भिक्खु/उपासक आदि अपनी गरिमामय उपस्थिति दे चुके हैं। इस स्थान पर शिक्षा की ज्योति जलाने का पुनीत कार्य मा० सूबेदार सिंह जी ने किया। सबसे पहले इन्होंने ही यहां पर अस्पृश्यों के लिए भी शिक्षा का द्वार खोला। इस कार्य के कारण कुछ लोगों ने उनके घर तक को जला दिया फिर भी आप पीछे नहीं हटे। मा० सत्यनारायण सिंह जी एवं मा० राजनारायण सिंह जी ने भी शिक्षा में विशेष योगदान दिया। इस क्षेत्र के स्व० राम प्रकाश यादव उर्फ़ राम पलट यादव का नाम स्वतन्त्रता सेनानी के साथ-साथ प्रसिद्ध चिकित्सक एवं समाजसेवी के रूप में अमर है। उनके सुपुत्र डॉ० सुनील कुमार यादव भी प्रसिद्ध चिकित्सक के साथ समाज सेवा का भी कार्य कर रहे हैं। इस क्षेत्र के विकास में ग्राम प्रधानों का विशेष योगदान रहा। इस क्षेत्र के विद्युतीकरण में विशेष योगदान पूर्व प्रधान लालजीत राजभर जी का रहा। .

नई!!: पुरुष और गोठांव · और देखें »

आदिपुर

आदिपुर, गुजरात के कच्छ जिले का एक कस्बा है। यह गांधीधाम से ५ किमी दूरी पर स्थित है। श्रेणी:गुजरात के नगर.

नई!!: पुरुष और आदिपुर · और देखें »

इटहरा

इटहरा एक गाँव है और ये उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर जिला के डीघ मंडल में स्थित है यह जिला मुख्यालय से करीब ३५ किलोमीटर दूर है, ये गाँव गंगा नदी से तीनो दिशाओं से घिरी हुई है। प्रसिद्ध मंदिर बाबा गंगेश्वरनाथ धाम इसी गाँव में है। ये गाँव बहुत ही विकसित गाँव था। कोनिया क्षेत्र में मात्र इसी गाँव में बाजार हुआ करता था, कोनिया क्षेत्र के लोग यही से खरीदारी करते थे। इसे आज भी सरकारी तौर पर ग्रामीण बाजार का दर्जा प्राप्त है। धीरे धीरे गाँव की जनसँख्या में वृद्धि हुई और लोग रोजगार की तलाश में बाहर जाने लगे जैसे मुंबई, दिल्ली, कोलकाता,सूरत और बचे हुए लोग भी गाँव की पुरानी बस्ती से बाहर अपना घर बनाने लगे जिससे इस गाँव का दायरा लगभग ३ किलोमीटर से ज्यादा हो गया। आज ये गाँव ३ किलोमीटर के दायरे से ज्यादा में बसा हुआ है। इस गाँव में सबसे बड़ी संख्या में बिसेन राजपूत है क्योंकि ये गाँव इन्ही के द्वारा बसाया गया था। उसके बाद बड़ी संख्या में क्रमश: ब्राह्मण, पासी, चमार,यादव मौजूद है। कायस्थ, बनिया, नाई, कुम्हार, कहार, मुसलमान, पुष्पाकर (माली), चौरसिया (बरई),धोबी, तेली (गुप्ता),मुसहर जाति ये जातियां भी इस गाँव में मौजूद है। सामाजिक तौर पर ये गाँव आज भी काफी विकसित है। इस गाँव में एक इंटर कॉलेज और एक महिला महाविद्यालय भी है। "गंग सकल मुद मंगल मुला। गाँव इटहरा सुर सरि तिरा।।" .

नई!!: पुरुष और इटहरा · और देखें »

कटकड़ गांव

कटकड़ (Katkad) राजस्थान के करौली जिले की हिण्डौन तहसील से 15 किलोमीटर दूर एक गांव है। Category:राजस्थान के गाँव.

नई!!: पुरुष और कटकड़ गांव · और देखें »

कप्तान जैक स्पैरो

कैप्टेन जैक स्पैरो पटकथा लेखकों टेड इलियट और टेरी रोज़ियो द्वारा रचित एवं जॉनी डेप द्वारा अभिनीत एक काल्पनिक पात्र है। उन्हें फिल्म Pirates of the Caribbean: The Curse of the Black Pearl (2003) में पहली बार पेश किया गया है। वे डेड मैन्स चेस्ट (2006) और ऐट वर्ल्ड्स एंड (2007) सिक्वलों में दिखाई दिए और आगामी फिल्म ऑन स्ट्रेंजर टाइड्स (2011) में दिखाई देंगे। शुरुआत में जैक स्पैरो की कल्पना इलियट और रोज़ियो द्वारा एक सहायक पात्र के रूप में की गयी थी लेकिन फिल्मों में जैक एक मुख्य नायक की तरह काम करता है। उसे अभिनेता जॉनी डेप ने जीवंत किया जिन्होंने उसके चरित्र चित्रण का आधार रोलिंग स्टोन्स के गिटारवादक कीथ रिचर्ड्स को बनाया। पाइरेट्स ऑफ द कैरेबियन श्रृंखला एक डिज्नी थीम पार्क की सवारी से प्रेरित थी और 2006 में जब इस सवारी का पुनरोद्धार किया गया, तब जैक स्पैरो के पात्र को इसमें पेश किया गया। जैक स्पैरो बच्चों की एक पुस्तक श्रृंखला Pirates of the Caribbean: Jack Sparrow का भी विषय है, जो अपनी किशोरावस्था के वर्षों के बारे में बताता है और यह पात्र कई वीडियो गेमों में भी दिखाई देता है। फिल्मों के सन्दर्भ में स्पैरो सेवन सीज के पाइरेट लॉर्ड्स, ब्रेदर्न कोर्ट में से एक है। वह विश्वासघाती हो सकता है, लेकिन हथियार या सेना के बजाय ज्यादातर बुद्धि और बातचीत का उपयोग करके बचता रहता है, वह अत्यंत खतरनाक परिस्थितियों में बचकर भाग निकलना पसंद करता है और जब आवश्यक हो तभी लड़ाई लड़ता है। स्पैरो को उसके जहाज, ब्लैक पर्ल को उसके पहले विद्रोही साथी हेक्टर बारबोसा से वापस पाने की कोशिश करते हुए पेश किया गया है और वह ईस्ट इंडिया ट्रेडिंग कंपनी से लड़ते हुए महानतम डेवी जोन्स के खून का कर्ज चुकाने से बचने की कोशिश करता है। .

नई!!: पुरुष और कप्तान जैक स्पैरो · और देखें »

कलायत

कलायत, भारत के हरियाणा राज्य के कैथल जिले का एक ऐतिहासिक शहर है। यहाँ महाभारत काल के दो ऐतिहासिक मंदिर हैं जो ब्रिक टेम्पल (Bricks Temple) के नाम से मशहूर है। प्राचीन ग्रंथों में इस स्थान का नाम "कपिलायत" अथवा "कपिलायतन" मिलता है जो कि ऋषि कपिल के नाम पर है। .

नई!!: पुरुष और कलायत · और देखें »

केशवरायपाटन

केशवरायपाटन राजस्थान के बूँदी जिले का एक कस्बा है। .

नई!!: पुरुष और केशवरायपाटन · और देखें »

कोच्चि

कोच्चि, जिसे कोचीन भी कहा जाता था, लक्षद्वीप सागर के दक्षिण-पश्चिम तटरेखा पर स्थित एक बड़ा बंदरगाह शहर है, जो भारतीय राज्य केरल के एर्नाकुलम जिले का एक भाग है। कोच्चि को काफ़ी समय से प्रायः एर्नाकुलम भी कहा जाता है, जिसका अर्थ नगर का मुख्यभूमि भाग इंगित करता है। कोच्चि नगर निगम के अधीनस्थ (जनसंख्या ६,०१,५७४) ये राज्य का दूसरा सर्वाधिक जनसंख्या वाला शहर है। ये कोच्चि महानगरीय क्षेत्र के विस्तार सहित (जनसंख्या २१ लाख) केरल राज्य का सबसे बड़ा शहरी आबादी क्षेत्र है। कोच्चि नगर ग्रेटर कोच्चि क्षेत्र का ही एक भाग है, और इसे भारत सरकार द्वारा द्वितीय दर्जे वाला शहर वर्गीकृत किया गया है। नगर की देख-रेख व अनुरक्षण दायित्त्व १९६७ में स्थापित हुआ कोच्चि नगर निगम देखता है। इसके अलावा पूरे क्षेत्र के सर्वांगीण विकास का भार ग्रेटर कोचीन डवलपमेंट अथॉरिटी (GCDA) एवं गोश्री आईलैण्ड डवलपमेंट अथॉरिटी (GIDA) पर है। कोच्चि १४वीं शताब्दी से ही भारत की पश्चिमी तटरेखा का मसालों का व्यापार केन्द्र रहा है और इसे अरब सागर की रानी के नाम से जाना जाता था। १५०३ में यहां पुर्तगालियों का आधिपत्य हुआ और यह उपनिवेशीय भारत की प्रथम यूरोपीय कालोनी बना और १५३० में गोवा के चुने जाने तक ये पुर्तगालियों का यहां का प्रधान शक्ति केन्द्र रहा था।क्कालांतर में कोच्चि राज्य के रजवाड़े में परिवर्तित होने के क्साथ ही ये डच एवं ब्रिटिश के नियन्त्रण में आ गया। आज केरल में कुल अन्तर्देशीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटकों के आगमन संख्या में प्रथम स्थान बनाये हुए है। नीलसन कम्पनी के आउटलुक ट्रैवलर पत्रिका के लिये किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार कोच्चि आज भी भारत के सर्वश्रेष्ठ पर्यटक आकर्षणों में छठवें स्थान पर बना हुआ है। मैकिन्से ग्लोबल संस्थान द्वारा किये गए एक शोध के अनुसार, कोच्चि २०२५ तक के विश्व के सकल घरेलु उत्पाद में ५०% योगदान देने वाले ४४० उभरते हुए शहरों में से एक था। भारतीय नौसेना के दक्षिणी नौसैनिक कमान का केन्द्र तथा भारतीय तटरक्षक का राज्य मुख्यालय भी इसी शहर में स्थित है, जिसमें एयर स्क्वैड्रन ७४७ नाम की एक वायु टुकड़ी भी जुड़ी है। नगर के वाणिज्यिक सागरीय गतिविधियों से सम्बन्धित सुविधाओं में कोच्चि बंदरगाह, अन्तर्राष्ट्रीय कण्टेनर ट्रांस्शिपमेण्ट टर्मिनल, कोचीन शिपयार्ड, कोच्चि रिफ़ाइनरीज़ का अपतटीय (ऑफ़शोर) सिंगल बॉय मूरिंग (एस.पी.एम), एवं कोच्चि मैरीना भी हैं। कोच्चि में ही कोचीन विनिमय एक्स्चेंज, इंटरनेशनल पॅपर एक्स्चेंज भी स्थित हैं, तथा हिन्दुस्तान मशीन टूल्स (एच.एम.टी), सायबर सिटी, एवं किन्फ़्रा हाई-टेक पाक एवं बड़ी रासायनिक निर्माणियां जैसे फ़र्टिलाइज़र्स एण्ड कैमिकल्स त्रावणकौर (फ़ैक्ट), त्रावणकौर कोचीन कैमिकल्स (टीसीसी), इण्डियन रेयर अर्थ्स लिमिटेड (आई.आर.ई.एल), हिन्दुस्तान ऑर्गैनिक कैमिकल्स लिमिटेड (एच.ओ.सी.एल) कोच्चि रिफ़ाइनरीज़ के साथ साथ ही कई विद्युत कंपनियां जैसे टी.ई.एल.के एवं औद्योगिक पार्क भी बने हैं जिनमें कोचीन एपेशल इकॉनोमिक ज़ोन एवं इन्फ़ोपार्क कोच्चि प्रमुख हैं। कोच्चि में ही प्रमुख राज्य न्यायपीठ केरल एवं लक्षद्वीप उच्च न्यायालय एवं कोचीन युनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी भी स्थापित हैं। इसी नगर में केरल का नेशनल लॉ स्कूल, नेशनल युनिवर्सिटी ऑफ़ एडवांस्ड लीगल स्टडीज़ को भी स्थान मिला है। .

नई!!: पुरुष और कोच्चि · और देखें »

कोट कासिम

कोट कासिम भारतीय राज्य राजस्थान के अलवर जिले का एक कस्बा है। यह एक तहसिल भी है। इसका मूल नाम कोट क़ासिम (क़ासिम का किला) है लेकिन वर्तमान में इसे कोट कासिम उच्चारित किया जाता है। कोटकासिम अहिरवाल में आता है और यहाँ पर अधिकतर अहिर हैं। .

नई!!: पुरुष और कोट कासिम · और देखें »

अहमदनगर

अहमदनगर महाराष्ट्र का एक शहर है। अहमदनगर महाराष्ट्र का सबसे बडा जिला है। .

नई!!: पुरुष और अहमदनगर · और देखें »

अविवाहित

अविवाहित किसी भी पुरुष अथवा महिला के जीवन की वह स्थिति होती है जब तक उसका विवाह नहीं हुआ होता। वह विवाह सामाजिक अथवा कानूनी कोई भी हो सकता है। वैसे वर्तमान नियमानुसार भारत में हर विवाहित पुरुष और स्त्री के पास विवाह के पंजीकरण के तौर पर प्रमाण पत्र होना आवश्यक है। कुछ लोग जीवन भर अविवाहित रहते हैं। उनके जीवन का उद्देश्य होता है किसी विशेष कार्य के लिये स्वयं को पूर्णत: समर्पित कर देना। श्रेणी:समाज.

नई!!: पुरुष और अविवाहित · और देखें »

अव्यय

किसी भी भाषा के वे शब्द अव्यय (Indeclinable या inflexible) कहलाते हैं जिनके रूप में लिंग, वचन, पुरुष, कारक, काल इत्यादि के कारण कोई विकार उत्पत्र नहीं होता। ऐसे शब्द हर स्थिति में अपने मूलरूप में बने रहते है। चूँकि अव्यय का रूपान्तर नहीं होता, इसलिए ऐसे शब्द अविकारी होते हैं। अव्यय का शाब्दिक अर्थ है- 'जो व्यय न हो।'; उदाहरण .

नई!!: पुरुष और अव्यय · और देखें »

अइज़ोल

अइज़ोल (Aizawl) भारत के मिज़ोरम प्रान्त की राजधानी है। यहाँ की जनसंख्या २९३,४१६ है, जिसके कारण यह मिज़ोरम का सबसे बड़ा नगर है। यहाँ पर राज्य के सभी प्रशासनिक भवन जैसे महत्वपूर्ण सरकारी भवन, विधानसभा तथा सचिवालय स्थित है। .

नई!!: पुरुष और अइज़ोल · और देखें »

अकबरपुर

अकबरपुर उत्तर प्रदेश प्रान्त का एक शहर है। वर्तमान समय यह अम्बेडकर नगर का जिला मुख्यालय है। पावन सरयू नदी इस जनपद का मुख्य आकर्षण है। यह भूमि प्रभु श्री राम की लीला स्थली होने के कारण तीर्थ भूमि है। यहां के भव्य प्राचीन मन्दिर यवनो के आक्रमण में ध्वस्त कर दिये गये। यह स्वतंत्रता सेनानी डॉ. राम मनोहर लोहिया की जन्म स्थली भी है। यह एक नगर पालिका परिषद है। तमसा नदी शहर को अकबरपुर व शहज़ाद पुर में विभाजित करती है। राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज यहाँ से 4 किलोमीटर की दूरी फैजाबाद मार्ग पर स्थित है। यही पर प्रसिद्ध शिव बाबा मंन्दिर हैं, यहाँ से 5किलोमीटर दक्षिणा दिशा में श्रावण धाम मन्दिर है रामायण के अनुसार राजा दशरथ ने शिकार करते समय यही पर श्रावण की तीर लगाने से मृत्यु हुई थी, यहाँ टांडा में मेडिकल कालेज भी है। टांडा कस्बे से 2 किलोमीटर पर NTPC थरमाल पवार कि एक इकाई भी लगी हुई हैं जो बिजली उत्पाद का कार्य करती है। यहाँ टांडा, अकबरपुर औऱ जलालपुर कई छोटे लुम के कारखाने हैं, जिस में टेरीकाट औऱ सूती कपड़े,लुन्गी(ताहबन) गमछा आदि तैयार होते हैं। यह शहर रेलवे साधन से जुड़ा हुआ है यहां से राजधानी लखनऊ की दूरी लगभग 189 किलोमीटर है। कानपुर यहां से रेलवे मार्ग से 263 किलोमीटर की दूरी पर है। सड़क मार्ग से दूरी में कुछ अन्तर है। राजेसुल्तानपुर, टान्डा, जलालपुर, बसखारी, कटेहरी अम्बेडकर नगर जिले का प्रमुख कस्बा है। श्रेणी:उत्तर प्रदेश के नगर श्रेणी:अंबेडकर नगर जिले के शहर श्रेणी:चित्र जोड़ें.

नई!!: पुरुष और अकबरपुर · और देखें »

उदवाड़ा

उदवाड़ा, गुजरात का एक नगर है जहाँ स्थित पारसियों का आतश बहराम प्रसिद्ध है। .

नई!!: पुरुष और उदवाड़ा · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

Male

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »