लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

पद्म भूषण

सूची पद्म भूषण

पद्म भूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है। भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कारों में भारत रत्न, पद्म विभूषण और पद्मश्री का नाम लिया जा सकता है। पद्म भूषण रिबन .

1067 संबंधों: चितरंजन सिंह राणावत, चिंतामणि कर, चिंतामन रघुनाथ व्यास, चिंतामन गोविंद पंडित, चिंजिरेड्डी नारायण रेड्डी, चंडीप्रसाद भट्ट, चंद्र प्रसाद साइकिया, चंद्रशेखर शंकर धर्माधिकारी, चंद्रिका प्रसाद श्रीवास्तव, चंदू बोर्डे, चक्कचन वीडु कृष्णन नायर, चेन्नमनेनी हनुमंत राव, टी ए पाइ, टी एन श्रीनिवासन, टी एम पूनमबलम महादेवन, टी एस रामास्वामी अइयर, टी एस अविनाशीलिंगम चेट्टियार, टी नारायणध्वज रामचंद्रन, टी पुरुषोत्तमदास लूहर सुंदरम, ए पटवर्धन ढुंढिराज, ए रामचंद्रन, ए.लक्षमणस्वामी मुदलियार, एन एम वागले, एन एस रामानुज ताताचार्य, एन एस राजहंस बालगंधर्व, एन एस रंगस्वामी, एन महालिंगम, एन राजम, एन आर मलकानी, एन्नकल चांडी जॉ्ज सुदर्शन, एम एल वसंतकुमारी, एम पी पेरियास्वामी तूरन, एम भारद्वाज रामचंद्र राव, एम मनुकोंडा चलपति राव, एम वी पायली, एम गोविंद कुमार मेनन, एम आर ब्राह्मण, एम॰ एस॰ सुब्बुलक्ष्मी, एम॰ एस॰ स्वामीनाथन, एयर मार्शल एच सी दीवान, एयर मार्शल एम एम इंजीनियर, एयर कोमोडोर जसजीत सिंह, एल ए कृष्ण अइयर, एल ऐयर वेंकटकृष्णन अइयर, एलिस मार्ग्युराइट बोनर, एस ढिल्लों रिप्ले, एस बालाचंद्र, एस रामदुरई, एस श्रीनिवासन, एस आर शंकरन, ..., एस के मिश्र, एस अइयर पद्मावती, एस.एच. रज़ा, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, एकनाथ वसंत चिटनिस, एअर चीफ पी चंद्र लाल, एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम, ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम, ऐशेज़ प्रसाद मित्रा, झबर मल शर्मा, डुसान ज़्बेविटेल, डी पी राय चौधरी, डी सी किज़ाकेमुरी, डी जयकांतन, तपन राय चौधरी, तपीश्वर नारायण रैना, तरलोचन सिंह कलेर, तरलोक सिंह, तरुन दास, तलत मंजूर अहमद, तारा चेरियन, ताराबाई मोदक, ताराशंकर बंधोपाध्याय, तालियादिपरंबिल विटप्पा रामचंद्र शिनॉय, तिरुपत्तुर आर वेंकटाचलमूर्ति, तिरुवडि साम्बशिव वेंकटरमण, तिरुवलंगदु वेम्बु अइयर शंकरनारायणन, तिरुवेंगदम लक्ष्मण शंकर, तकाज़ी शिवशंकर पिल्लै, तुप्पूर सीतापति सदाशिवन, तुमकुर रमैया सतीश चंद्रन, तुलसिदास, तुषारकांति घोष, त्तुर रंगस्वामी वेंकटाचारी, त्रिचूर वैद्यनाथ रामचंद्रन, त्रिदेवनाथ बैनर्जी, त्रिप्पुनितुरा नारायण कृष्णन, त्रिभुवनदास कृषिभाई पटेल, त्रिलोचन प्रधान, त्रिलोकीनाथ खोशू, त्रिवेंकटे राजेंद्र शेषाद्रि, त्रिगुण सेन, तैयब मेहता, तेन्जिंग नॉरगे, तीजनबाई, थायिल जॉन चेरियन, थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम, थोप्पिल वर्घीज़ एन्टोनी, थोमस कैलाथ, दत्तात्रेय यशवंत फड़के, दत्तो वामन पोतदार, दलसुख दह्याभाई मलवानिया, दलवीर भंडारी, दादासाहेब चिंतामणि पावते, दारा नुसूरवानजी खुरोडी, दाराब जहांगीर जुस्सवालिया, दाराशा नौशेरवां वाडिया, दिनकर बलवंत देवधर, दिनेश नंदिनी डाल्मिया, दिलबाग सिंह अठवाल, दुर्गा दास बसु, दुखन राम, दौलत सिंह कोठारी, देव आनन्द, देवचंद छगनलाल शाह, देवव्रत चौधरी, देवकी जैन, देवुलपल्ली वेंकट के शास्त्री, देवेंद्र सेन, देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय, दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर, दीपक पारेख, धनवंती आर रामाराव, धनंजय कीर, धर्मनाथ प्रसाद कोहली, धर्मस्थल वीरेंद्र हेगड़े, ध्यानचंद सिंह, धीरेंद्रनाथ गांगुली, नटेसन रंगभाष्यम, नतेसगनबडिगल रामास्वामी अइयर, नन्दन नीलेकणि, नरसिंह नारायण गोडबोले, नरसिंहन राम, नरसिंहैया शेषगिरि, नरिंदर सिंह रणधावा, नरेश कुमार त्रेहन, नरेंद्रनाथ बेरी, नारायण चतुर्वेदी, नारायण भीकाजी पारुलकर, नारायण श्रीधर बेंद्रे, नारायण सादोबा कजरोलकर, नारायण सिंह मानकलाओ, नारायण सुब्बाराव हार्दिकर, नारायण सीताराम फड़के, नारायणन श्रीनिवासन, नारोजी फीरोजा गोदरेज, नालापत बालमणि अम्मा, नागनाथ नायकवाडी, नागेंद्र, नितीश चंद्र लाहिड़ी, नियाज़ मुहम्मद फतेहपुरी, निरंजन राय, निरंजनदास गुलाटी, निर्मल वर्मा, निर्मल कुमार सिद्धांत, निसार हुसैन खान, निखिल रंजन बैनर्जी, निखिल घोष, नवल होरमसजी टाटा, नवाब ज़ैन यार जंग, नवांग गोम्बू, नवकांत बरुआ, न्यायमूर्ति सआदत अबुल मसूद, न्यायमूर्ति के टी थोमस, नौशाद अली वाहिद अली, नूरुद्दीन अहमद, नूरी गोपाल कृष्णमूर्ति, नीलकांत दास, पण्डित जसराज, पद्म पुरस्कार, पद्म श्री, पद्म सम्मान, पद्म विभूषण, पद्मा देसाई, पद्मा सुब्राह्मण्यम, पम्मल संबंद मुदलियार, परमसुख जे पांड्या, परमेश्वरी लाल वर्मा, पल्ले रामा राव, पापनाशन रमैया शिवम, पाराशरन केशव अयंगार, पालिवई भानुमति रामकृष्ण, पालघाट टीएस मणि अ इयर, पावागड वेंकट इंदिरेसन, पांडुरंग वासुदेव सुखराम, पांड्याल सत्यनारायण राव, पिच सांबमूर्ति, पंचेति कोटेस्वरम, पंडित बुद्धदेव दासगुप्ता, पंजाब रेजिमेंट, पक्कीरिस्वामी चंद्र शेखरन, पुतेन जोसफ, पुपुल जयकर, पुरुषोत्तम लाल, पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे, पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर, पुलियर सुब्रह्मण्यम नारायणस्वामी, पुलियुर कृष्णस्वामी दुरई, पुष्पमित्र भार्गव, पुष्पलता दास, पुष्पालता दास, पुष्पावती जनार्दनराय मेहता, प्रताप चंद्र रेड्डी, प्रताप सी रेड्डी, प्रतुल चंद्र गुप्ता, प्रतूरी तिरुमला राव, प्रफुल्ल बी रघुभाई देसाई, प्रफुल्ल कुमार सेन, प्रभात कुमार मुखर्जी, प्रभु लाल भटनागर, प्राण (अभिनेता), प्राण कृष्ण पारिजा, प्राणनाथ लूथरा, प्राणनाथ छुटानी, प्रवीनचंद्र वरजीवन गाँधी, प्रकाश नारायण टंडन, प्रेम नज़ीर, प्रेमचंद ढांढा, प्रेमनाथ वाही, पृथ्वीराज कपूर, पृथीपाल सिंह मैनी, पूर्णिमा अरविंद पाकवास, पूला तिरुपति राजु, पेरुगु शिवा रेड्डी, पोइपिल्ली कुंजु कुरुप, पी तिरुविल्वमलै शेषन एम अइयर, पी पी राव, पी आर्देशिर नारियलवाला, पी कृष्णगोपाल आयंगार, पीएस अप्पू, पीतांबर पंत, फरोख ड्राच उद्वाडिया, फरीद ज़कारिया, फ़तेह चंद बधवार, फ़िराक़ गोरखपुरी, फादर गैब्रियल, फाली सैम नरीमन, फकीरचंद कोहली, फ्रैंक पल्लोन, फूलरेनु गुहा, फील्ड मार्शल (भारत), बडनवल वेंकट श्रीकांतन, बड़े ग़ुलाम अली ख़ान, बदरीनाथ टंडन, बद्रीनाथ प्रसाद, बद्रीनारायण रामूलाल बारवाले, बनारसीदास चतुर्वेदी, बर्नार्ड पीटर्स, बलदेव राज चोपड़ा, बलदेव सिंह, बलदेव उपाध्याय, बलराज पुरी, बसवराज राजगुरु, बानू जहाँगीर कोयाजी, बाबा पृथ्वी सिंह आजाद, बाबा आमटे, बाबूभाई मानिकलाल चिनाय, बाल दत्तात्रेय तिलक, बालमणि अम्मा की काव्यगत विशेषताएँ, बालराम नंदा, बालसुब्रह्मण्य राजम अइयर, बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति, बालासरस्वती, बालासाहेब शिवराम भरडे, बालाइ चंद मुखोपाध्याय, बालकइष्ण गोयल, बालकृष्ण शर्मा नवीन, बिनय शुषन घोष, बिन्देश्वर पाठक, बिमल कुमार बछावत, बिमल कृष्ण माटीलाल, बिली अर्जन सिंह, बिशप जॉन रिचर्डसन, बिजौय नंदन शाही, बिजॉय चंद्र भगवती, बगीचासिंह मिन्हास, बंगश, बुद्धदेव बोस, ब्रह्म प्रकाश, ब्रिगेडियर कोट्ट सत्चिदानंद मूर्ति, ब्रजवासी लाल, बृहस्पति देव त्रिगुण, बृजमोहन लाल मुंजाल, बृजेम्द्र कुमार राव, बैरप्पा सरोजा देवी श्री हर्षा, बेनुधर शर्मा, बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराज अयंगार, बेगम ज़ोहरा अली यावर जंग, बेगम कुदसिया ऐजाज़ रसूल, बेग़म अख़्तर, बेंजामिन प्यारे पाल, बोसी सेन, बोई भीमन्ना, बी एन सरकार, बी नरसिंह रेड्डी, बीरेंद्रनाथ गांगुली, भटनागर, भरत राम, भारत रत्‍न, भारत के थलसेनाध्यक्ष, भारत की सम्मान प्रणाली, भारतीय लेखकों की सूची, भारतीय सिनेमा, भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष, भारतीय सेना के युद्ध सम्मान, भार्गवराम विट्ठल वारेरकर, भालचंद्र दिगंबर गरवारे, भालचंद्र नीलकांत पुरंदरे, भालचंद्र साबाजी दीक्षित, भालचंद्र उदगांवकर, भाई जोध सिंह, भाई वीरसिंह, भावेश चंद्र सान्याल, भाउराव पायगोंडा पाटिल, भवानी चरन मुखर्जी, भगवती चरण वर्मा, भगवान सहाय, भगवंतराव अन्नाभाउ मंडलोइ, भक्त बी रथ, भुपेन हजारिका, भूपति मोहन सेन, भूपतिराजु विस्सम राजु, भोलेनाथ मलिक, भोगीलाल पांड्या, भीमसेन जोशी, भीष्म साहनी, भीखू पारेख, मणिभाई जे पटेल, मणींद्रनाथ चक्रवर्ती, मदथ ठेकेपत वासुदेवन नायर, मदन मोहन सिंह, मदुरई तिरुमलय नंबी शेषगोपालन, मदुरई नारायण कृष्णन, मद्पति हनुमंत राव, मनमोहन शर्मा, मनसुखलाल आत्माराम मास्टर, मनाली वैनू बापू, मनुभाई राजाराम पंचोली, मन्नतु पद्मनाभन, मन्ना डे, मनोहर लाल छिब्बर, ममिदिपुडी वेंकटाअरंगया, मल्लिकार्जुन बी मंसूर, मलूर रामास्वामी श्रीनिवासन, महादेव अइयर गणपति, महादेवी वर्मा, महाराज कुमार पाल्देन टी नाम्ग्याल, महाराज कृष्ण रसगोत्रा, महाराजपुरम सीताराम कृष्णन, महेश प्रसाद मैहरे, महेश्वर दयाल, महेंद्र सिंह धोनी, माणिक्यलाल वर्मा, माधव सदशिव गोरे, माधव विट्ठल कामत, माधव गाडगिल, माधवराव खंडाराव बागल, मानेकलाल सकलचंद ठाकर, मारियादास रुथनास्वामी, मारियो डे मिरांडा, मारियो मिरांडा, मार्तंड सिंह, मार्तंड वर्मा शंकरन वलियानाथन, मार्क टली, मालुर श्रीनिवास तिरुमलै अयंगार, माखनलाल चतुर्वेदी, माइकल फरेरा, मिठान जमशेद लाम, मिनोरु हारा, मिहिर कुमार सेन, मंबलिकलातिल शारदा मेनन, मंगतुराम जयपुरिया, मकबूल फ़िदा हुसैन, मुडुंबई शेषचालु नरसिंहन, मुत्तु कृष्ण मणि, मुत्तुलक्ष्मी रेड्डी, मुरुगप्पा चेन्नवीरप्पा मोदी, मुल्कराज चोपड़ा, मुल्कराज आनंद, मुहम्मद मुजीब, मुहम्मद युसुफ खान, मुहम्मद हयात, मुहम्मद खलीलुल्लाह, मुहम्मद अब्दुल हाय, मुहम्मब युनुस, मुकुट बिहारी माथुर, मौलाना हुसैन अहमद मदनी, मौलाना अब्दुल करीम पारेख, मृणाल मीरि, मृणाल सेन, मृणालदत्त चौधरी, मृणालिनी साराभाई, मैथिलीशरण गुप्त, मैरी सेतों, मैरी क्लबवाला जाधव, मैल्कम सत्यनाथन आदिशेशैया, मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास, मैसूर कन्कन्हहल्ली वासुदेवाचारी, मेखला झा, मोटूरि सत्यनारायण, मोती चंद्र, मोहन सिंह ओबराय, मोहन सिंह कोहली, मोहनलाल लालूभाई दांतवाला, मोहनलाल सोनी, मोहिंदर सिंह रणधावा, मोगुभाई कुर्दीकर, यश चोपड़ा, यशपाल, यशपाल (वैज्ञानिक), यशवंत दिनकर पेंढरकर, यशोधरा दसप्पल, यामिनी कृष्णमूर्ति, यवगेनी पेत्रोविच चेलीशेव, युसुफ हुसैन खान, युसुफ ख्वाजा हमीद, योशिरो मोरी, योशो सकुरांची, रतन नवल टाटा, रतन शास्त्री, रतनलाल जोशी, रफीउद्दीन अहमद, रमण महादेवन नायर, रमणलाल गोकुलदास सरैया, रमणकुट्टी नायर, रमन विश्वनाथन, रमनलाल सी मेहता, रमाकांत महेश्वर मजूमदार, रमाकांत रथ, रमेश कुमार, रशीद जहाँ, रस्किन बॉण्ड, रहीम-उद्दीन खान डागर, राधा रेड्डी, राधा कमल मुखर्जी, राधा कुमुद मुखर्जी, राधा कृष्ण गुप्ता, राधानाथ रथ, राधिका रमण प्रसाद सिन्हा, रानी गाइदिन्ल्यू, राम नारायण चक्रवर्ती, राम नारायण मल्होत्रा, राम मेहता, राम कुमार वर्मा, राम कुमार कारोली, रामचंद्र दत्तात्रेय प्रधान, रामचंद्र दत्तात्रेय लेले, रामचंद्र नारायण दांडेकर, रामनाथन कृष्णन, रामनारायण अग्रवाल, रामप्रकाश बंबा, रामबदन सिंह, रामानुज वरदराज पेरुमल, रामाराव माधवराव देशमुख, रामकिंकर बैज, रामकिंकर उपाध्याय, रामकृष्ण त्रिवेदी, रामेश्वरी नेहरू, रायबहादुर गूजर मल मोदी, राहुल बजाज, राहुल सांकृत्यायन, राज रेड्डी, राज कपूर, राज कुमार खन्ना, राजन एवं साजन मिश्र, राजराजेश्वर दत्त शास्त्री द्रविड़, राजशेखर बोस, राजा एम अन्नामलाई मुत्तैया चेट्टियार, राजा भालेंद्र सिंह, राजा रमन्ना, राजा राव, राजा रेड्डी, राजिन्दर कुमार, राजेंद्र कुमार पचौरी, राजीव सेठी, राव राजा हनुत सिंह, रजत शर्मा, रजनीकान्त, रजनीकांत शंकरराव अरोल, रईस अहमद, रघुनाथ मोहपात्रा, रघुनाथ शरन, रघुनाथ अनंत माशेलकर, रवि शंकर, रविंद्र नाथ चौधरी, रवीन्द्र केलकर, रंजन रॉय डेनियल, रुस्तम जाल वकील, रुस्तमजी बोम्मनजी बिल्लीमोरिया, रुस्तमजी होमसजी मोदी, रुक्मिणी देवी अरुंडेल, रेणुका राय, रोद्दम नरसिंहा, ललित मोहन बैनर्जी, लाला अमरनाथ, लालगुडी जयरामन, लालगुडी गोपालइयर जयरमण, लखनऊ विश्वविद्यालय, लक्षमणगुडि कृष्णमूर्ति दुरइस्वामी, लक्ष्मण शास्त्री जोशी, लक्ष्मण सिंह (स्काउटिंग), लक्ष्मी नंदन मेनन, लक्ष्मी प्रसाद सिहरे, लक्ष्मीनारायण सुब्रह्मण्यम, लक्ष्मीमल्ल सिंघवी, लक्खुमल हीरानंद हीरानंदानी, लेज़ली डेनिस स्विंडेल, लॉर्ड फेनर ब्रोकवे, लोकेश चंद्र, शन्नो खुराना, शमशाद बेगम, शमाप्रसाद रूपशंकर वसवदा, शरण रानी, शशि भूषण, शशि कपूर, शान्ताराम बलवन्त मजुमदार, शान्ति स्वरूप भटनागर, शामद यार खान निज़ामी सागर, शारदा प्रसाद वर्मा, शारदा सिन्हा, शांतनु लक्ष्मण किर्लोस्कर, शांता धनंजय, शांतिदेव घोष, शांतिलाल सी सेठ, शांतिलाल जमनादास मेहता, शांतु जवाहरमल साहनी, शिशिर कुमार भादुड़ी, शिशिर कुमार मित्रा, शिव नाडार, शिव राव बेनेगल, शिव शर्मा मलिक, शिव कुमार सरीन, शिवप्रसाद चटर्जी, शिवपूजन सहाय, शिवमंगल सिंह 'सुमन', शिवरामकृष्ण अय्यर पद्मावती, शिवरामकॄष्णन चंद्रशेखर, शिवराज रामाशीषन, शिखन लाल अत्रेय, शकुंतला परांजपे, शुभिंद्रनाथ मुखर्जी, श्याम बेनेगल, श्यामनंदन सहाय, श्रीनारायण चतुर्वेदी, श्रीनिवास आनंदराम, श्रीनिवास कृष्णन, श्रीनिवासन वरदराजन, श्रीपाद दामोदर सतवलेकर, श्रीपाद पिनाकपाणि, श्रीलाल शुक्ल, श्रीलाल शुक्ला, श्रीजांस प्रसाद जैन, श्रीकृष्ण एन रतनजानकर, शेख अबदुल्लाह, शेखर गुप्ता, शोभा गुर्टू, सत्तैयप्पा दंडपाणि देसीकर, सत्यदेव दुबे, सत्यनारायण शास्त्री, सत्यनारायण गोयनका, सत्यपाल वाही, सत्यजित राय, सत्यजित राय को मिले सम्मान, सतीश धवन, सतीश नाम्बियार, समता प्रसाद, सर रिचर्ड सैम्युअल एट्टेनबरो, सरताज सिंह, सरताज सिंह साही, सरदार अंजुम, सरदारा सिंह जोहल, सर्वज्ञ सिंह कटियार, सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक, सरोज घोष, सरोजिनी वरदप्पन, साबरी खान, सालिम अली, सितारा देवी, सिद्धेश्वर वर्मा, सिंगनल्लूर पुट्टस्वामैया मुत्तुराज राजकुमार, सई परांजपे, सगत सिंह, संतोष कुमार मुखर्जी, संतोष कुमार सेन, संस्कृत आयोग, सुदांशु शोभन मैत्रा, सुधीर रंजन सेनगुप्ता, सुधीर कृष्ण मुखर्जी, सुनीता विलियम्स, सुनील भारती मित्तल, सुनील गावस्कर, सुब्रह्मण्यम वासन श्रीनिवासन, सुबोधचंद्र सेनगुप्ता, सुभाष मुखोपाध्याय, सुमित्रानन्दन पन्त, सुमंत मूलगांवकर, सुरिंदर सिंह बेदी, सुरिंदर सिंह गिल, सुरिंदर कुमार डे, सुरेश चंद्र रॉय, सुरेश शंकर नाडकर्णी, सुशांतकुमार भट्टाचार्य, सुजय भूषण रॉय, सुख देव, सुखलालजी सांघवी, सुंदर दास खुंगर, सुंदरम रामकृष्ण, सुकुमार सेन, सुकुमार सेन (भारतीय मुख्य चुनाव आयुक्त), स्टैला क्रैमरिश, स्व. गुंतर ग्रूजर, स्व.पी लीला, स्वदेश चटर्जी, स्वप्नसुंदरी, स्वराज पाउल, स्वराज पॉल, स्वामी कल्याणदेव, स्वेतोस्लैव रोएरिख, सौमित्र चटर्जी, सौंदरम रामचंद्रन, सैम पित्रोडा, सैम मानेकशॉ, सैयद मीर कासिम, सैयद हुसैन ज़हीर, सैयद हैदर रज़ा, सैयद ज़हूर कासिम, सैयद अब्दुल मलिक, सैयद अब्दुल लतीफ, सूरज प्रकाश मल्होत्रा, सूरज भान, सूर्य नारायण व्यास, सेठ गोविंद दास, सेतु माधव राव पगड़ी, सेंगमेदु श्रीनिवास बद्रीनाथ, सोनम ग्यात्सो, सोनल मानसिंह, सोमनाथ होरे, सोमांगुडी राधा के श्रीनिवास अइयर, सोहराब फिरोजशाह गोदरेज, सोंभु मित्रा, सी वैद्यनाथ भगवतार, सी वेंकटरमण सुंदरम, सी के प्रह्लाद, सी कोटियथ लक्षमणन, सीताराम सेकसरिया, सीताकांत महापात्र, सी॰ के॰ नायडू, सी॰पी॰ कृष्णन नायर, हनुमंतप्पा नर्सिंहैया, हबीब उर रहमान, हरनारायण सिंह, हरबर्ट फिशर, हरबख्श सिंह, हरबंस सिंह वज़ीर, हरि मोहन, हरि शंकर सिंघानिया, हरिदास सिद्धांत वागीश, हरिदेव शौरी, हरिपल सिंह अहलुवालिया, हरिप्रसाद चौरसिया, हरिवंश राय बच्चन, हर्बर्ट एलेक्जेंड्रोविच येफ्रेमोव, हरीश चंद्र, हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय, हारुन खान शेरवानी, हजारी प्रसाद द्विवेदी, हंस जीवराज मनुभाई मेहता, हंसमुख ठाकुरदास पारेख, हंसमुख धीरजलाल सांकलिया, हंसराज गुप्ता, हंसा मेहता, हकीम सैयद मुहम्मद शर्फ़ुद्दीन कादरी, हकीम अब्दुल हमीद, हैनिंग होल्क लार्सन, हेमलता गुप्ता, हेस्नाम कन्हाईलाल, होरेस एलेक्ज़ेंडर, होलेनर्सीपुर योगनरसिंहम प्रसाद शारदा, हीरा लाल सिब्बल, हीराभाई बादोडेकर, हीरेंद्रनाथ मुखर्जी, जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर, जमशेद नारोजी गोदरेज, जमशेद जे ईरानी, जय कृष्ण, जयदेव सिंह, जयन्त विष्णु नार्लीकर, जयवीर अग्रवाल, जयंत पांडुरंग नायक, जल मिनोचर मेहता, जसदेव सिंह, जसबीर सिंह बजाज, जसराज, जहाँगीर घांडी, ज़ाकिर हुसैन (संगीतकार), ज़ुबिन मेहता, जाफर अली खान, जामिनी राय, जाल रतनजी पटेल, जग मोहन, जगत मेहता, जगप्रवेश चंद्र, जगजीत सिंह, जगजीत सिंह अरोड़ा, ज्ञानप्रकाश घोष, ज्ञानेन्द्रनाथ मुखर्जी, ज्ञानेश चंद्र चटर्जी, ज्योतिष चंद्र राय, जैनेंद्र कुमार जैन, जैफ़्रे डी सैच्स, जैकब चाँडी, जैकब चेरियन, जूलियस सिल्वरमैन, जूलियो फ्रांसिस रिबेरो, जे भुधारदास भोजक, जॉर्ज सुदर्शन, जॉर्ज जोसफ, जोधपुर के लोगों की सूची, जोश मलिहाबादी, जोगिंदर सिंह ढिल्लों, जोगेश चंद्र डे, जोगेशचंद्र बैनर्जी, जी माधवन नायर, जी शिवरामकृष्णमूर्ति, जीन रिबाउंड, जीवन सिंह उमरानंगल, ईश्वरी प्रसाद, वर्घिस क्यूरियन, वलागिमन सुब्रह्मण्यम राममूर्ति, वल्लभ्दास श्रीविट्ठलदास शाह, वल्लाठोल नारायण मेनन, वसंत रामजी खनोलकर, वसंत शंकर एस हज़ूरबाजार, वसंत गोवारिकर, वसंतराव बांदुजी पाटिल, वहीदा रहमान, वाटक कुरुपत नारायण मेनन, वामन बापूजी मैत्रे, वासुदेव विष्णु मिराशी, वासुदेव कालकुंते आत्रेय, वाइस नीलकांत कृष्णन, वाइस सुरिंदरनाथ कोहली, विट्ठल नागेश शिरोडकर, विट्ठल लक्ष्मण फड़के, विट्ठलभाई कांताभाई झवेरी, विद्यानिवास मिश्र, विनायक सीताराम सर्वते, विनायकराव पटवर्धन, विनालकांति राघवैया, विलयनूर रामचंद्रन, विल्लुपुरम चिन्नैया गणेशन, विश्वनाथ सत्यनारायण, विश्वनाथन आनंद, विष्णु प्रभाकर, विष्णु सखाराम खांडेकर, विष्णु गोविंद जोग, विष्णुपद मुखोपादध्याय, विष्णू वामन शिरवाडकर, विजय तेंडुलकर, विजय भटकर, विजय शंकर व्यास, विजय कुमार सारस्वत, विजयपत सिंघानिया, विजयशंकर व्यास, विवेकानंद मुखोपाध्याय, विंध्येश्वरी प्रसाद वर्मा, विंग्स ऑफ़ फ़ायर: एन ऑटोबायोग्राफी, विक्रम पण्डित, विक्रम अंबालाल साराभाई, वंगलमपलायम चेल्लप्पागुंडर कुलंडैस्वामी, वुप्पुलुरी शिवशंकर शास्त्री, वुलिमिरि रामालिंगेस्वामी, वृंदावनलाल वर्मा, वैद्य देवेंद्र त्रिगुण, वैद्य बृहस्पतिदेव त्रिगुण, वैद्य श्रीराम शर्मा, वैद्यनाथन गणपति स्थपति, वैविलाला गोपालकृष्णैया, वेणि शंकर झा, वेदरतन मोहन, वेंकटरमण राघवन, वेंकटरमण कृष्णमूर्ति, वेंकटराम रामालिंगम पिल्लै, वेंकटरामा राघवन, वी एल मेहता, वी दुरैस्वामी अयंगार, वी नरहरि राव, वी पी धनंजय, वी मोहिनी गिरि, वी शांता, वी श्रीनिवास राघवन अरुणाचलम, वीनू हिम्मतलाल माँकड़, वीरेन्दर लाल चोपड़ा, वीरेंद्र दयाल, खय्याम, खालिद हमीद, खुशवन्त सिंह, खुश्वंत लाल विग, खुसरो फारामर्ज़ रुस्तमजी, ख्वाजा गुलाम सैयदियां, खेम करण सिंह, खेमसिंह गिल, गार्ड ब्रिगेड, गिरिलाल जैन, गिरिजा देवी, गिरीश कर्नाड, गिरीशचंद्र सक्सेना, गवाशॉ पेमास्टर, गगनविहारी लालुभाई मेहता, गंडा सिंह, गंगा प्रसाद बिरला, गुरचरण सिंह कलकट, गुरदीप सिंह रणधावा, गुरबख्श सिंह, गुरवचन सिंह तालिब, गुरुशरणप्रसाद तलवार, गुर्रम जाशुवा, गुरी इवानोविच मारचुक, गुलशन लाल टंडन, गुलाम मुस्तफ़ा खान, गुलाम याज़दान, गुलिस्तान रुस्तम बिल्लीमोरिया, गुलज़ार (गीतकार), ग्यानेन्दु नरसिंह राव, ग्रेस एल मैक कैन मोर्ली, ग्रेगोरी बोंगार्ड लेविन, गैरी एकड़मैन, गोटिपति ब्रमैया, गोपाल रामानुजम, गोपाल गुरुनाथ बेवूर, गोपालदास नीरज, गोपालन नरसिंहन, गोपीचंद नारंग, गोपीचेट्टीपालयम वेंकटरमण ऐयर रामकृष्ण, गोपीनाथ मोहंती, गोपीनाथ अमन, गोरो कोयमा, गोसास्प मानेकजी सोराबजी, गोविन्द शंकर कुरुप, गोविंद बिहारी लाल, गोविंद सखाराम सरदेसाई, गोविंदराजन पद्मनाभन, गोकुलभाई भट्ट, ओ पी डन्न, ओ सुज़ुकी, ओट्टुपुलक्कल वेलुकुट्टी विजयन, ओम प्रकाश बहल, ओमेयो कुमार दास, आचार्य पी एन पट्टभिराम शास्त्री, आचार्य विश्वबंधु, आत्म प्रकाश, आदि एम सेठना, आदिनाथ लाहिड़ी, आदुसुमल्ली राधाकृष्णन, आद्य रंगाचार्य, आनंद शंकर राय, आनंद कृष्ण, आबिद हुसैन (राजनयिक), आबिद हुसैन (लेखक), आर आर हांडा, आर कार्लटन विवियन पिदादे नोरोन्हा, आर कृष्णस्वामी नारायण, आर के लक्ष्मण, आर अलगप्पा चेट्टियार, आरकॉट रामचंद्रन, आर्नी श्रीनिवासन रामकृष्णन, आले अहमद सुरूर, आशिमा चटर्जी, आशीष दत्ता, आसफ अली असगर फैज़ी, आंद्रे बेटियेले, आंद्रे बेते, इब्राहिम अल्काज़ी, इब्राहीम अलकाजी, इरफान हबीब, इला रमेश भट्ट, इला गाँधी, इशर जज अहलुवालिया, इस्माइल मर्चेंट, इंदर मोहन, इंदरजीत कौर, इंदरजीत कौर बरठाकुर, इंदिरा नुई, इंद्रजीत सिंह गिल, कटिंगरी कृष्ण हेब्बर, कदूर वेंकटलक्षमण, कन्दाथील मम्मेन चेरियन, कपिलदेव, कमल जयसिंह रणदिवे, कमला (तमिल), कमलादेवी चट्टोपाध्याय, कमलेश्वर, कमलेश्वर प्रसाद सक्सेना, कमलेंदुमति शाह, कयलाथ पोथेन फिलिप, करतार सिंह दुग्गल, करमशी जेठाभाई सोमैया, करिमपुमन्निल माताइ जॉर्ज, कर्नल महाकाली सीताराम राव, कर्नल रामस्वामी दुरइस्वामी अय्यर, कर्नल गुरबख्श सिंह ढिल्लों, कर्नाटक, कर्नाटक/आलेख, कलानिधि नारायणन, कल्याणजी विट्ठलभाई मेहता, कल्यामपुड़ी राधाकृष्ण राव, कश्मीर सिंह कटोच, कस्तूरभाई लालभाई, कस्तूरी लाल विज, कस्तूरी श्रीनिवासन, कस्तूरीस्वामी श्रीस्वामी श्रीनिवासन, कामिल बुल्के, कालपति रामकृष्ण रामनाथन, कालिंदी चरण पाणिग्रही, कालंबुर शिवरामामूर्ति, काज़ी नज़रुल इस्लाम, कांतिलाल हस्तीमल संचेती, कांजिवरम श्रीरंगचारी शेषाद्रि, किरीट शांतिलाल पारिख, किशोरी रविंद्र अमोनकर, कंवर नटवर सिंह, कुँवर नारायण, कुँवर सैन, कुतूर रामकृष्णन श्रीनिवासह, कुदुवायूर शिवराम नारायण स्वामी, कुप्पाली वी गौड़ा पुटप्पा, कुमार पद्म शिव शंकर मेनन, कुमार सुरेंदर सैनी, कुमार गंधर्व, कुर्रतुलैन हैदर, कुशोक बाकुला, कुंजुरामन सुकुमारन, कुंजीलाल दूबे, कुंवरसिंह नेगी, क्लोज़पेट दासप्पा नरसिंहैया, कृपाल सिंह नारंग, कृष्ण चंदर, कृष्ण रामचंद कृपलानी, कृष्णमूर्ति संथानम, कृष्णराव शंकर पण्डित, कृष्णस्वामी बालसुब्रह्मण्यम अय्यर, कृष्णस्वामी रमैया, कृष्णस्वामी श्रीनिवास संजीवी, कृष्णस्वामी स्वामिनाथन, कृष्णस्वामी वेंकटरमण, कृष्णा श्रीनिवास, कृष्णा जोशी, कृष्णाराव शंकर पंडित, कृष्णाराव गणेश फुलंबरीकर, कृष्णास्वामी कस्तूरीरंगन, कृष्णकांत हन्दीक, कैप्टन एल ज़ैड सायलो, कैलाशनाथ कौल, कैखुशरु रतनजी पी श्रॉफ, के ए नीलकांत शास्त्री, के एल राव, के एस थिमैया, के एस करात, के एस कृष्णन, के पी पी नाम्बियार, के पी कंडेथ, के पी केशव मेनन, के शंकर पिल्लई, के शंकरन नायर, के जी सुब्रह्मण्यम, के गोपालैयर रामानाथन, के कोविलागम कुट्टी एट्टन राजा, के.वी. कामथ, के.के. हेब्बार, केदारनाथ मुखर्जी, केर्शाप तेह्मूरास्प सतारवाला, केलुचरण महापात्र, केशव प्रसाद गोयंका, केशवराव कृष्णराव दांते, केसरबाई केरकर, केवल कृष्ण तलवार, के॰ जे॰ येशुदास, के॰ जी॰ सुब्रमण्यम, कोट्टयन कटंकोट वेणुगोपाल, कोडुरु ईश्वर वरप्रसाद रेड्डी, कोनिडाला चिरंजीवी, कोमल कोठारी, कोलुथर गोपालन, कोल्ली श्रीनाथ रेड्डी, कोवलम नारायण पणिकर, कोंगर जगैया, अनलजीत सिंह, अनिल बंधु गुहा, अनिल मणिभाई नायक, अनिल काकोदकर, अनिल कुमार अग्रवाल, अनिल कोहली, अनंतराव वासुदेव सहस्रबुधे, अनुकूलचंद्र मुखर्जी, अन्नपूर्णा देवी, अन्ना राजम मल्होत्रा, अन्ना हजारे, अनीता देसाई, अबाबाई बोमनजी वाडिया, अब्दुल हलीम जाफ़र खान, अभिनव बिंद्रा, अमरनाथ झा, अमरजीत सिंह, अमला शंकर, अमिताभ बच्चन, अमजद अली ख़ान, अम्मानूर माधव चक्यार, अमृतलाल नागर, अमृता पटेल, अमृति वी मोदी, अमीय चक्रवर्ती, अय्यदेवर कालेश्वर राव, अय्यगिरी साम्बशिव राव, अयोध्यानाथ खोसला, अरातिल सी नारायण नाम्बियार, अरुण नेत्रावली, अरुण पुरी, अरुण शौरी, अरुण कुमार शर्मा, अरुणाचल श्रीनिवासन, अर्चना शर्मा, अर्चना शर्मा (वनस्पतिशास्त्री), अर्देशिर रुत्तनजी वाडिया, अरैकुडी रामानुज अयंगार, अलपत्त श्रीधर मेनन, अलप्पत श्रीधर मेनन, अलारमेल वल्ली, अली यावर जंग, अली अहमद सुरूर, अश्विनी कुमार (प्रशासकीय अधिकारी), अशोक देसाई, अशोक शेखर गांगुली, अशोक सेन, अशोक कुमार (अभिनेता), अशोक कुमार सरकार, असद अली खान, अहमद जान थिरकवा खान, अज़ीम प्रेमजी, अजीत राम वर्मा, अंडाल वेंकटसुब्बा राव, अकबर अली खान, अक्षय कुमार जैन, अक्किनेनी नागेश्वर राव, उडिपी रामचंद्र राव, उदय शंकर, उद्योग एवं व्यापार, उबैद सिद्दिकी, उमयलपुरम काशीविश्वनाथ शिवरमण, उमराव सिंह, उमराव सिंह यादव, उमा शर्मा, उस्ताद नसीर अमीनुद्दीन डागर, उस्ताद मुश्ताक हुसैन खान, उस्ताद हाफिज़ अली खाँ, उस्ताद खादिम हुसैन खां, उस्ताद अमीर खान, उस्ताद अलाउद्दीन खान, १० दिसम्बर, १० अक्टूबर, १९वें कुशक बकुला रिनपोछे, १९९४, २०११, २०१३ में निधन, २०१५ में पद्म भूषण धारक, २०१६ में पद्म भूषण धारक, २०१७ में पद्म भूषण धारक, २८ जनवरी सूचकांक विस्तार (1017 अधिक) »

चितरंजन सिंह राणावत

चितरंजन सिंह राणावत को सन २००१ में भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चितरंजन सिंह राणावत · और देखें »

चिंतामणि कर

चिंतामणि कर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चिंतामणि कर · और देखें »

चिंतामन रघुनाथ व्यास

चिंतामन रघुनाथ व्यास भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चिंतामन रघुनाथ व्यास · और देखें »

चिंतामन गोविंद पंडित

चिंतामन गोविंद पंडित को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चिंतामन गोविंद पंडित · और देखें »

चिंजिरेड्डी नारायण रेड्डी

चिंजिरेड्डी नारायण रेड्डी भारत सरकार ने १९९२ में साहित्य के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चिंजिरेड्डी नारायण रेड्डी · और देखें »

चंडीप्रसाद भट्ट

चंडीप्रसाद भट्ट (जन्म: सन् १९३४) भारत के गांधीवादी पर्यावरणवादी और समाजिक कार्यकर्ता हैं। उन्होने सन् १९६४ में गोपेश्वर में 'दशोली ग्राम स्वराज्य संघ' की स्थापना की जो कालान्तर में चिपको आंदोलन की मातृ-संस्था बनी। वे इस कार्य के लिये वे १९८२ में रेमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित हुए तथा वर्ष २००५ में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मभूषण पुरस्कार दिया गया।भारत सरकार द्वारा साल २०१३ में उन्हें गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। अद्भुत जीवट को समर्पित चंडी प्रसाद भट्ट गांधी के विचार को व्यावहारिक रूप में आगे बढ़ाने में एक सफल जन नेता के रूप में उभरे हैं। ‘चिपको आंदोलन’ के रूप में सौम्यतम अहिंसक प्रतिकार के द्वारा वृक्षों एवं पर्यावरण के अंतर्संबंधों को सशक्तता से उभार कर उन्होंने संपूर्ण विश्व को जहां एक ओर पर्यावरण के प्रति सचेत एवं संवेदनशील बनाने का अभिनव प्रयोग किया, वहीं प्रतिकार की सौम्यतम पद्धति को सफलता पूर्वक व्यवहार में उतार कर दिखाया भी है। ‘पर्वत पर्वत, बस्ती बस्ती’ चंडी प्रसाद भट्ट की बेहतरीन यात्राओं का संग्रह है। .

नई!!: पद्म भूषण और चंडीप्रसाद भट्ट · और देखें »

चंद्र प्रसाद साइकिया

चंद्र प्रसाद साइकिया को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और चंद्र प्रसाद साइकिया · और देखें »

चंद्रशेखर शंकर धर्माधिकारी

चंद्रशेखर शंकर धर्माधिकारी को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चंद्रशेखर शंकर धर्माधिकारी · और देखें »

चंद्रिका प्रसाद श्रीवास्तव

चंद्रिका प्रसाद श्रीवास्तव को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1920 में जन्मे लोग श्रेणी:२०१३ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और चंद्रिका प्रसाद श्रीवास्तव · और देखें »

चंदू बोर्डे

चंदू बोर्डे एक क्रिकेट के खिलाड़ी है जो 1958 और 1970 के बीच में भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य थे। उन्हे सन 2002 में भारत सरकार द्वारा खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और चंदू बोर्डे · और देखें »

चक्कचन वीडु कृष्णन नायर

चक्कचन वीडु कृष्णन नायर को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चक्कचन वीडु कृष्णन नायर · और देखें »

चेन्नमनेनी हनुमंत राव

चेन्नमनेनी हनुमंत राव को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और चेन्नमनेनी हनुमंत राव · और देखें »

टी ए पाइ

टी ए पाइ को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1898 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७९ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और टी ए पाइ · और देखें »

टी एन श्रीनिवासन

टी एन श्रीनिवासन को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और टी एन श्रीनिवासन · और देखें »

टी एम पूनमबलम महादेवन

टी एम पूनमबलम महादेवन को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और टी एम पूनमबलम महादेवन · और देखें »

टी एस रामास्वामी अइयर

टी एस रामास्वामी अइयर को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और टी एस रामास्वामी अइयर · और देखें »

टी एस अविनाशीलिंगम चेट्टियार

टी एस अविनाशीलिंगम चेट्टियार को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से थे। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1903 में जन्मे लोग श्रेणी:१९९१ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और टी एस अविनाशीलिंगम चेट्टियार · और देखें »

टी नारायणध्वज रामचंद्रन

टी नारायणध्वज रामचंद्रन को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और टी नारायणध्वज रामचंद्रन · और देखें »

टी पुरुषोत्तमदास लूहर सुंदरम

टी पुरुषोत्तमदास लूहर सुंदरम को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये Puducherry से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और टी पुरुषोत्तमदास लूहर सुंदरम · और देखें »

ए पटवर्धन ढुंढिराज

ए पटवर्धन ढुंढिराज को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ए पटवर्धन ढुंढिराज · और देखें »

ए रामचंद्रन

ए रामचंद्रन को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ए रामचंद्रन · और देखें »

ए.लक्षमणस्वामी मुदलियार

ए.लक्षमणस्वामी मुदलियार को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ए.लक्षमणस्वामी मुदलियार · और देखें »

एन एम वागले

एन एम वागले को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एन एम वागले · और देखें »

एन एस रामानुज ताताचार्य

डा॰ एन् एस् रामानुज ताताचार्य (जन्म) आधुनिक काल के संस्कृत के प्रसिद्ध विद्वान हैं। भारत सरकार ने वर्ष २०१६ में उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और एन एस रामानुज ताताचार्य · और देखें »

एन एस राजहंस बालगंधर्व

एन एस राजहंस बालगंधर्व को कला के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एन एस राजहंस बालगंधर्व · और देखें »

एन एस रंगस्वामी

एन एस रंगस्वामी को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और एन एस रंगस्वामी · और देखें »

एन महालिंगम

एन॰ महालिंगम (२१ मार्च १९२३ - २ अक्टूबर २०१४) को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से थे। २ अक्टूबर २०१४ को लम्बी बिमारी के बाद उनका निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और एन महालिंगम · और देखें »

एन राजम

एन राजम को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एन राजम · और देखें »

एन आर मलकानी

एन आर मलकानी को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण श्रेणी:1890 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और एन आर मलकानी · और देखें »

एन्नकल चांडी जॉ्ज सुदर्शन

एन्नकल चांडी जॉ्ज सुदर्शन को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एन्नकल चांडी जॉ्ज सुदर्शन · और देखें »

एम एल वसंतकुमारी

एम एल वसंतकुमारी को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एम एल वसंतकुमारी · और देखें »

एम पी पेरियास्वामी तूरन

एम पी पेरियास्वामी तूरन को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एम पी पेरियास्वामी तूरन · और देखें »

एम भारद्वाज रामचंद्र राव

एम भारद्वाज रामचंद्र राव को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एम भारद्वाज रामचंद्र राव · और देखें »

एम मनुकोंडा चलपति राव

एम मनुकोंडा चलपति राव को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एम मनुकोंडा चलपति राव · और देखें »

एम वी पायली

एम वी पायली को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और एम वी पायली · और देखें »

एम गोविंद कुमार मेनन

एम गोविंद कुमार मेनन को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण श्रेणी:1928 में जन्मे लोग श्रेणी:२०१६ में निधन श्रेणी:पद्मश्री प्राप्तकर्ता श्रेणी:पद्म भूषण सम्मान प्राप्तकर्ता.

नई!!: पद्म भूषण और एम गोविंद कुमार मेनन · और देखें »

एम आर ब्राह्मण

एम आर ब्राह्मण को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एम आर ब्राह्मण · और देखें »

एम॰ एस॰ सुब्बुलक्ष्मी

श्रीमती मदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी (16 सितंबर, 1916-2004) कर्णाटक संगीत की मशहूर संगीतकार थीं। आप शास्तीय संगीत की दुनिया में एम.

नई!!: पद्म भूषण और एम॰ एस॰ सुब्बुलक्ष्मी · और देखें »

एम॰ एस॰ स्वामीनाथन

एम एस स्वामिनाथन (जन्म: 7 अगस्त 1925, कुम्भकोणम, तमिलनाडु) पौधों के जेनेटिक वैज्ञानिक हैं जिन्हें भारत की हरित क्रांति का जनक माना जाता है। उन्होंने १९६६ में मैक्सिको के बीजों को पंजाब की घरेलू किस्मों के साथ मिश्रित करके उच्च उत्पादकता वाले गेहूं के संकर बीज विकिसित किए। उन्हें विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। 'हरित क्रांति' कार्यक्रम के तहत ज़्यादा उपज देने वाले गेहूं और चावल के बीज ग़रीब किसानों के खेतों में लगाए गए थे। इस क्रांति ने भारत को दुनिया में खाद्यान्न की सर्वाधिक कमी वाले देश के कलंक से उबारकर 25 वर्ष से कम समय में आत्मनिर्भर बना दिया था। उस समय से भारत के कृषि पुनर्जागरण ने स्वामीनाथन को 'कृषि क्रांति आंदोलन' के वैज्ञानिक नेता के रूप में ख्याति दिलाई। उनके द्वारा सदाबाहर क्रांति की ओर उन्मुख अवलंबनीय कृषि की वकालत ने उन्हें अवलंबनीय खाद्य सुरक्षा के क्षेत्र में विश्व नेता का दर्जा दिलाया। एम.

नई!!: पद्म भूषण और एम॰ एस॰ स्वामीनाथन · और देखें »

एयर मार्शल एच सी दीवान

एयर मार्शल एच सी दीवान को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1921 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और एयर मार्शल एच सी दीवान · और देखें »

एयर मार्शल एम एम इंजीनियर

एयर मार्शल एम एम इंजीनियर को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1921 में जन्मे लोग श्रेणी:१९९७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और एयर मार्शल एम एम इंजीनियर · और देखें »

एयर कोमोडोर जसजीत सिंह

एयर कोमोडोर जसजीत सिंह को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में रक्षा एवाएं के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये हरियाणा से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और एयर कोमोडोर जसजीत सिंह · और देखें »

एल ए कृष्ण अइयर

एल ए कृष्ण अइयर को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एल ए कृष्ण अइयर · और देखें »

एल ऐयर वेंकटकृष्णन अइयर

एल ऐयर वेंकटकृष्णन अइयर को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एल ऐयर वेंकटकृष्णन अइयर · और देखें »

एलिस मार्ग्युराइट बोनर

एलिस मार्ग्युराइट बोनर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये इटली से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एलिस मार्ग्युराइट बोनर · और देखें »

एस ढिल्लों रिप्ले

सिडनी ढिल्लों रिप्ले द्वितीय (२० सितम्बर १९१३ – १२ मार्च २००१) को भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से थे। .

नई!!: पद्म भूषण और एस ढिल्लों रिप्ले · और देखें »

एस बालाचंद्र

एस बालाचंद्र को भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में सन १९८२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९८२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एस बालाचंद्र · और देखें »

एस रामदुरई

एस रामदुरई को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और एस रामदुरई · और देखें »

एस श्रीनिवासन

एस श्रीनिवासन को सन २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये केरल राज्य से थे। १८ मई २०१४ को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और एस श्रीनिवासन · और देखें »

एस आर शंकरन

एस आर शंकरन को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये हैदराबाद राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एस आर शंकरन · और देखें »

एस के मिश्र

एस के मिश्र को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये हरियाणा राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और एस के मिश्र · और देखें »

एस अइयर पद्मावती

एस अइयर पद्मावती को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एस अइयर पद्मावती · और देखें »

एस.एच. रज़ा

सैयद हैदर रज़ा उर्फ़ एस.एच.

नई!!: पद्म भूषण और एस.एच. रज़ा · और देखें »

एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम

श्रीपति पण्डितराध्युल बालसुब्रमण्यम (तेलुगु: శ్రీపతి పండితారాధ్యుల బాలసుబ్రహ్మణ్యం; अंग्रेज़ी: S. P. Balasubrahmanyam; जन्म 4 जून 1946) एक भारतीय पार्श्वगायक, अभिनेता, संगीत निर्देशक, गायक और फ़िल्म निर्माता हैं। उन्हें कभी-कभी एसपीबी अथवा बालु के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने छः बार सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और आन्ध्र प्रदेश सरकार द्वारा २५ बार तेलुगू सिनेमा में नन्दी पुरस्कार भी जीता। .

नई!!: पद्म भूषण और एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम · और देखें »

एकनाथ वसंत चिटनिस

एकनाथ वसंत चिटनिस को भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एकनाथ वसंत चिटनिस · और देखें »

एअर चीफ पी चंद्र लाल

एअर चीफ पी चंद्र लाल को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एअर चीफ पी चंद्र लाल · और देखें »

एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम

एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम · और देखें »

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम

अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम अथवा ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम (A P J Abdul Kalam), (15 अक्टूबर 1931 - 27 जुलाई 2015) जिन्हें मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जानेमाने वैज्ञानिक और अभियंता (इंजीनियर) के रूप में विख्यात थे। इन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) संभाला व भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी शामिल रहे। इन्हें बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास के कार्यों के लिए भारत में मिसाइल मैन के रूप में जाना जाने लगा। इन्होंने 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में भारत के पोखरान-द्वितीय परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाई। कलाम सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी व विपक्षी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दोनों के समर्थन के साथ 2002 में भारत के राष्ट्रपति चुने गए। पांच वर्ष की अवधि की सेवा के बाद, वह शिक्षा, लेखन और सार्वजनिक सेवा के अपने नागरिक जीवन में लौट आए। इन्होंने भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किये। .

नई!!: पद्म भूषण और ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम · और देखें »

ऐशेज़ प्रसाद मित्रा

ऐशेज़ प्रसाद मित्रा को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। मित्रा, ऐशेज़ प्रसाद.

नई!!: पद्म भूषण और ऐशेज़ प्रसाद मित्रा · और देखें »

झबर मल शर्मा

झबर मल शर्मा को भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९८२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और झबर मल शर्मा · और देखें »

डुसान ज़्बेविटेल

डुसान ज़्बेविटेल को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चेक गणराज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और डुसान ज़्बेविटेल · और देखें »

डी पी राय चौधरी

डी पी राय चौधरी को कला के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और डी पी राय चौधरी · और देखें »

डी सी किज़ाकेमुरी

डी सी किज़ाकेमुरी को सन १९९९ में भारत सरकार ने साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये केरल राज्य से हैं। श्रेणी:१९९९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और डी सी किज़ाकेमुरी · और देखें »

डी जयकांतन

डी जयकांतन को सन् २००९ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और डी जयकांतन · और देखें »

तपन राय चौधरी

तपन राय चौधरी (8 मई 1926 - 26 नवंबर 2014) एक भारतीय इतिहासकार थे। तपन राय चौधरी को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और तपन राय चौधरी · और देखें »

तपीश्वर नारायण रैना

जनरल तापेश्वर नारायण रैना 'पद्म भूषण, महावीर चक्र (1 9 21 और 1 9 मई 1 9 80)भारतीय सेना के पूर्व सेना प्रमुख,भारत के थलसेनाध्यक्ष, उनका कार्यकाल 1 9 75 और 1 9 78 के बीच रहा। बाद में, उन्होंने कनाडा के उच्चायुक्त के रूप में कार्य किया। वह भारत के तीसरे उच्चतम नागरिक सम्मान, पद्म भूषण के प्राप्तकर्ता थे। .

नई!!: पद्म भूषण और तपीश्वर नारायण रैना · और देखें »

तरलोचन सिंह कलेर

तरलोचन सिंह कलेर को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तरलोचन सिंह कलेर · और देखें »

तरलोक सिंह

तरलोक सिंह को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तरलोक सिंह · और देखें »

तरुन दास

तरुन दास को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये हरियाणा से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और तरुन दास · और देखें »

तलत मंजूर अहमद

तलत मंजूर अहमद भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तलत मंजूर अहमद · और देखें »

तारा चेरियन

तारा चेरियन को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तारा चेरियन · और देखें »

ताराबाई मोदक

ताराबाई मोदक को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ताराबाई मोदक · और देखें »

ताराशंकर बंधोपाध्याय

ताराशंकर बंधोपाध्याय एक बांग्ला साहित्यकार हैं। इन्हें गणदेवता के लिए १९६६ में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। ताराशंकर बंधोपाध्याय को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और ताराशंकर बंधोपाध्याय · और देखें »

तालियादिपरंबिल विटप्पा रामचंद्र शिनॉय

तालियादिपरंबिल विटप्पा रामचंद्र शिनॉय को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा अन्य के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तालियादिपरंबिल विटप्पा रामचंद्र शिनॉय · और देखें »

तिरुपत्तुर आर वेंकटाचलमूर्ति

तिरुपत्तुर आर वेंकटाचलमूर्ति को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तिरुपत्तुर आर वेंकटाचलमूर्ति · और देखें »

तिरुवडि साम्बशिव वेंकटरमण

तिरुवडि साम्बशिव वेंकटरमण को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तिरुवडि साम्बशिव वेंकटरमण · और देखें »

तिरुवलंगदु वेम्बु अइयर शंकरनारायणन

तिरुवलंगदु वेम्बु अइयर शंकरनारायणन को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तिरुवलंगदु वेम्बु अइयर शंकरनारायणन · और देखें »

तिरुवेंगदम लक्ष्मण शंकर

तिरुवेंगदम लक्ष्मण शंकर को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तिरुवेंगदम लक्ष्मण शंकर · और देखें »

तकाज़ी शिवशंकर पिल्लै

तकाज़ी शिवशंकर पिल्लै को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तकाज़ी शिवशंकर पिल्लै · और देखें »

तुप्पूर सीतापति सदाशिवन

तुप्पूर सीतापति सदाशिवन को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण श्रेणी:शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार विजेता.

नई!!: पद्म भूषण और तुप्पूर सीतापति सदाशिवन · और देखें »

तुमकुर रमैया सतीश चंद्रन

तुमकुर रमैया सतीश चंद्रन को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तुमकुर रमैया सतीश चंद्रन · और देखें »

तुलसिदास

तुलसिदास को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तुलसिदास · और देखें »

तुषारकांति घोष

तुषारकांति घोष को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और तुषारकांति घोष · और देखें »

त्तुर रंगस्वामी वेंकटाचारी

त्तुर रंगस्वामी वेंकटाचारी को प्रशासकीय सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्तुर रंगस्वामी वेंकटाचारी · और देखें »

त्रिचूर वैद्यनाथ रामचंद्रन

त्रिचूर वैद्यनाथ रामचंद्रन को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिचूर वैद्यनाथ रामचंद्रन · और देखें »

त्रिदेवनाथ बैनर्जी

त्रिदेवनाथ बैनर्जी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिदेवनाथ बैनर्जी · और देखें »

त्रिप्पुनितुरा नारायण कृष्णन

त्रिप्पुनितुरा नारायण कृष्णन टी एन कृष्णन भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिप्पुनितुरा नारायण कृष्णन · और देखें »

त्रिभुवनदास कृषिभाई पटेल

त्रिभुवनदास कृषिभाई पटेल को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये गुजरात राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और त्रिभुवनदास कृषिभाई पटेल · और देखें »

त्रिलोचन प्रधान

त्रिलोचन प्रधान को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिलोचन प्रधान · और देखें »

त्रिलोकीनाथ खोशू

त्रिलोकीनाथ खोशू भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिलोकीनाथ खोशू · और देखें »

त्रिवेंकटे राजेंद्र शेषाद्रि

त्रिवेंकटे राजेंद्र शेषाद्रि को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिवेंकटे राजेंद्र शेषाद्रि · और देखें »

त्रिगुण सेन

त्रिगुण सेन को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और त्रिगुण सेन · और देखें »

तैयब मेहता

तैयब मेहता को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और तैयब मेहता · और देखें »

तेन्जिंग नॉरगे

तेन्जिंग नॉरगे (29 मई 1914- 9 मई 1986) एक नेपाली पर्वतारोही थे जिन्होंने एवरेस्ट और केदारनाथ के प्रथम मानव चढ़ाई के लिए जाना जाता है। न्यूजीलैंड एडमंड हिलेरी के साथ वे पहले व्यक्ति हैं जिसने माउंट एवरेस्ट की चोटी पर पहला मानव कदम रखा। इसके पहले पर्वतारोहण के सिलसिले में वो चित्राल और नेपाल में रहे थे। नोरगे को नोरके भी कहा जाता है। इनका मूल नाम नांगयाल वंगड़ी है, जिसका अभिप्राय होता है धर्म का समृद्ध भाग्यवान अनुयायी। .

नई!!: पद्म भूषण और तेन्जिंग नॉरगे · और देखें »

तीजनबाई

तीजनबाई (जन्म- २४ अप्रैल १९५६) भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के पंडवानी लोक गीत-नाट्य की पहली महिला कलाकार हैं। देश-विदेश में अपनी कला का प्रदर्शन करने वाली तीजनबाई को बिलासपुर विश्वविद्यालय द्वारा डी लिट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया है। वे सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री और २००३ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से अलंकृत की गयीं। उन्हें १९९५ में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार तथा २००७ में नृत्य शिरोमणि से भी सम्मानित किया जा चुका है। भिलाई के गाँव गनियारी में जन्मी इस कलाकार के पिता का नाम हुनुकलाल परधा और माता का नाम सुखवती था। नन्हीं तीजन अपने नाना ब्रजलाल को महाभारत की कहानियाँ गाते सुनाते देखतीं और धीरे धीरे उन्हें ये कहानियाँ याद होने लगीं। उनकी अद्भुत लगन और प्रतिभा को देखकर उमेद सिंह देशमुख ने उन्हें अनौपचारिक प्रशिक्षण भी दिया। १३ वर्ष की उम्र में उन्होंने अपना पहला मंच प्रदर्शन किया। उस समय में महिला पंडवानी गायिकाएँ केवल बैठकर गा सकती थीं जिसे वेदमती शैली कहा जाता है। पुरुष खड़े होकर कापालिक शैली में गाते थे। तीजनबाई वे पहली महिला थीं जो जिन्होंने कापालिक शैली में पंडवानी का प्रदर्शन किया।। देशबन्धु।६ अक्टूबर, २००९ एक दिन ऐसा भी आया जब प्रसिद्ध रंगकर्मी हबीब तनवीर ने उन्हें सुना और तबसे तीजनबाई का जीवन बदल गया। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी से लेकर अनेक अतिविशिष्ट लोगों के सामने देश-विदेश में उन्होंने अपनी कला का प्रदर्शन किया। प्रदेश और देश की सरकारी व गैरसरकारी अनेक संस्थाओं द्वारा पुरस्कृत तीजनबाई मंच पर सम्मोहित कर देनेवाले अद्भुत नृत्य नाट्य का प्रदर्शन करती हैं। ज्यों ही प्रदर्शन आरंभ होता है, उनका रंगीन फुँदनों वाला तानपूरा अभिव्यक्ति के अलग अलग रूप ले लेता है। कभी दुःशासन की बाँह, कभी अर्जुन का रथ, कभी भीम की गदा तो कभी द्रौपदी के बाल में बदलकर यह तानपूरा श्रोताओं को इतिहास के उस समय में पहुँचा देता है जहाँ वे तीजन के साथ-साथ जोश, होश, क्रोध, दर्द, उत्साह, उमंग और छल-कपट की ऐतिहासिक संवेदना को महसूस करते हैं। उनकी ठोस लोकनाट्य वाली आवाज़ और अभिनय, नृत्य और संवाद उनकी कला के विशेष अंग हैं। भारत भवन भोपाल में पंडवानी प्रस्तुति के दौरान .

नई!!: पद्म भूषण और तीजनबाई · और देखें »

थायिल जॉन चेरियन

थायिल जॉन चेरियन भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और थायिल जॉन चेरियन · और देखें »

थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम

थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम (टी. पी. मीनाक्षीसुंदरम, १९०१ - १९८०) तमिल भाषा और अंग्रेजी भाषा के साहित्य के प्रसिद्ध साहित्यकार थे। वे मदुराई कामराज विश्वविद्यालय के कुलपति रह चुके थे। मीनाक्षीसुंदरम ने तमिल भाषा में प्राचीन काव्य तिरुक्कुरल का अंग्रेजी अनुवाद किया जो की प्रसिद्ध है। इन्हे साहित्य अकादमी ने १९७५ में साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप से सम्मानित किया थे। और भारत सरकार ने १९७७ में इन्हे पद्म भूषण से सम्मानित किया थे। .

नई!!: पद्म भूषण और थेन्नपट्टिनम पोन्नुस्वामी मीनाक्षी सुंदरम · और देखें »

थोप्पिल वर्घीज़ एन्टोनी

थोप्पिल वर्घीज़ एन्टोनी को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और थोप्पिल वर्घीज़ एन्टोनी · और देखें »

थोमस कैलाथ

थोमस कैलाथ को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और थोमस कैलाथ · और देखें »

दत्तात्रेय यशवंत फड़के

दत्तात्रेय यशवंत फड़के को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दत्तात्रेय यशवंत फड़के · और देखें »

दत्तो वामन पोतदार

दत्तो वामन पोतदार दत्तो वामन पोतदार (5 अगस्त 1890 – 6 अक्टूबर 1979)) साहित्यकार-समाजसेवी थे। हिंदी को महाराष्ट्र की दूसरी सबसे बड़ी भाषा बनाने का श्रेय उनको ही है। उन्हें महाराष्ट्र का साहित्यिक भीष्म कहा जाता हैं। इस कार्य के लिए उन्होंने आजीवन अविवाहित रहकर सेवा करने का दृढ़ निर्णय लिया। उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उनका जन्म 5 अगस्त 1890 को महाराष्ट्र के बीरबंडी नामक कसबे में हुआ था। उन्होंने ‘भारतीय इतिहास संशोधक मंडल’ की स्थापना भी की, जो कि आज एक महत्वपूर्ण स्थापना के रूप में इतिहास के शोध पर उपलब्धिया लेकर एक शीर्ष स्थापना मानी जाती हैं। मराठी भाषा में उन्होनें सैकड़ों लेख, किताबें लिखीं, जिन्हें मान्यता प्राप्त है। उन्होनें पूना विश्वविद्यालय के कुलपति के नाते भी बड़ी जिम्मेदारी निभाई, पर उनकी सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि हैं- राष्ट्रभाषा हिंदी की सेवा। पूरे महाराष्ट्र में अनेक शिक्षण संस्थाए उन्होंने स्थापित की। पूना शहर में आप पुस्तकालय तथा वाचनालयों का जो जाल फेला दिखाई देता हैं, उसमें प्रत्येक में पोतदार जी को श्रेय जाता हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण श्रेणी:हिंदीसेवी श्रेणी:साहित्यकार.

नई!!: पद्म भूषण और दत्तो वामन पोतदार · और देखें »

दलसुख दह्याभाई मलवानिया

दलसुख दह्याभाई मलवानिया भारत सरकार ने १९९२ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये गुजरात से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दलसुख दह्याभाई मलवानिया · और देखें »

दलवीर भंडारी

दलवीर भंडारी वर्तमान में अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश हैं। भारत की ओर से वे अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में न्यायाधीश के तौर पर 27 अप्रैल 2012 को निर्वाचित हुए थे। नवम्बर 2017 में वे इस पद पर दूसरे कार्यकाल के लिए भी चुन लिए गये हैं। न्यायमूर्ति दलवीर भंडारी वर्ष 2005 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बने थे। .

नई!!: पद्म भूषण और दलवीर भंडारी · और देखें »

दादासाहेब चिंतामणि पावते

दादासाहेब चिंतामणि पावते को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दादासाहेब चिंतामणि पावते · और देखें »

दारा नुसूरवानजी खुरोडी

दारा नुसूरवानजी खुरोडी (२ जनवरी १९०६ - १ जनवरी १९८३) एक भारतीय उद्यमी थे जो दुग्ध उद्योग में उनके योगदान के लिए जाने जाते है। उन्होंने अपने व्यवसाय की शुरुआत में कई निजी और सरकारी संगठनों में काम किया और बाद में सरकारी आधिकारिक पदों पर भी रहे। वह १९४६ से १९५२ तक बॉम्बे (अब मुंबई) के दूध आयुक्त थे। उन्होंने १९६३ में वर्गीज कुरियन और त्रिभुवनदास कृषिभाई पटेल के साथ मिलकर रेमन मैगसेसे पुरस्कार प्राप्त किया। उन्हें उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किय गया। .

नई!!: पद्म भूषण और दारा नुसूरवानजी खुरोडी · और देखें »

दाराब जहांगीर जुस्सवालिया

दाराब जहांगीर जुस्सवालिया को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दाराब जहांगीर जुस्सवालिया · और देखें »

दाराशा नौशेरवां वाडिया

प्रोफेसर दाराशा नौशेरवां वाडिया (Darashaw Nosherwan Wadia FRS; 25 अक्तूबर 1883 – 15 जून 1969) भारत के अग्रगण्य भूवैज्ञानिक थे। वे भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण में कार्य करने वाले पहले कुछ वैज्ञानिकों में शामिल थे। वे हिमालय की स्तरिकी पर विशेष कार्य के लिये प्रसिद्ध हैं। उन्होने भारत में भूवैज्ञानिक अध्ययन तथा अनुसंधान स्थापित करने में सहायता की। उनकी स्मृति में 'हिमालयी भूविज्ञान संस्थान' का नाम बदलकर १९७६ में 'वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्‍थान' कर दिया गया। उनके द्वारा रचित १९१९ में पहली बार प्रकाशित 'भारत का भूविज्ञान' (Geology of India) अब भी प्रयोग में बना हुआ है। .

नई!!: पद्म भूषण और दाराशा नौशेरवां वाडिया · और देखें »

दिनकर बलवंत देवधर

दिनकर बलवंत देवधर को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दिनकर बलवंत देवधर · और देखें »

दिनेश नंदिनी डाल्मिया

दिनेश नंदिनी डाल्मिया हिन्दी साहित्यकार थीं। उनको भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और दिनेश नंदिनी डाल्मिया · और देखें »

दिलबाग सिंह अठवाल

दिलबाग सिंह अठवाल को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दिलबाग सिंह अठवाल · और देखें »

दुर्गा दास बसु

दुर्गा दास बसु को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दुर्गा दास बसु · और देखें »

दुखन राम

दुखन राम को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं। दुखन राम को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और दुखन राम · और देखें »

दौलत सिंह कोठारी

भारत के महान रक्षावैज्ञानिक '''श्री दौलत सिंह कोठारी''' दौलत सिंह कोठारी (1905–1993) भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक थे। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की विज्ञान नीति में जो लोग शामिल थे उनमें डॉ॰ कोठारी, होमी भाभा, डॉ॰ मेघनाथ साहा और सी.वी.

नई!!: पद्म भूषण और दौलत सिंह कोठारी · और देखें »

देव आनन्द

देव आनन्द उर्फ़ धरमदेव पिशोरीमल आनंद (जन्म २६ सितंबर १९२३- मृत्यु ३ दिसम्बर २०११) हिन्दी फ़िल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता थे। .

नई!!: पद्म भूषण और देव आनन्द · और देखें »

देवचंद छगनलाल शाह

देवचंद छगनलाल शाह को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और देवचंद छगनलाल शाह · और देखें »

देवव्रत चौधरी

देवव्रत चौधरी भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और देवव्रत चौधरी · और देखें »

देवकी जैन

देवकी जैन को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और देवकी जैन · और देखें »

देवुलपल्ली वेंकट के शास्त्री

देवुलपल्ली वेंकट के शास्त्री को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और देवुलपल्ली वेंकट के शास्त्री · और देखें »

देवेंद्र सेन

देवेंद्र सेन को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और देवेंद्र सेन · और देखें »

देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय

देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय (19 नवम्बर 1918 – 8 मई 1993) भारत के गणमान्य मार्क्सवादी दार्शनिक तथा इतिहासकार थे। उन्होने प्राचीन भारतीय दर्शन में भौतिकवादी संस्कृति की गवेषणा में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होने प्राचीन भारतीय लोकायत दर्शन पर बहुत काम किया। प्राचीन भारतीय विज्ञान के इतिहास तथा प्राचीन भारत में वैज्ञानिक विधि के विषय में उनके कार्य भी बहुत महत्वपूर्ण हैं, विशेष रूप से प्राचीन भारत के चिकित्साशास्त्रियों चरक तथा सुश्रुत पर उनका अनुसंधान कार्य उच्च कोटि का है। उनको साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९९८ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और देवीप्रसाद चट्टोपाध्याय · और देखें »

दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर

दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर (1909–1971) एक भारतीय लेखक और वृत्तचित्र निर्माता थे। उन्हें मुख्यतः महात्मा: लाइफ़ ऑफ़ मोहनदास कर्मचन्द गाँधी (अंग्रेज़ी में) नाम से महात्मा गाँधी की आठ खण्डों में लिखी जीवनी के लिए जाना जाता है। .

नई!!: पद्म भूषण और दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर · और देखें »

दीपक पारेख

दीपक पारेख को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और दीपक पारेख · और देखें »

धनवंती आर रामाराव

धनवंती आर रामाराव को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और धनवंती आर रामाराव · और देखें »

धनंजय कीर

ए विट्ठल धनंजय कीर को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण श्रेणी:1913 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और धनंजय कीर · और देखें »

धर्मनाथ प्रसाद कोहली

धर्मनाथ प्रसाद कोहली को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और धर्मनाथ प्रसाद कोहली · और देखें »

धर्मस्थल वीरेंद्र हेगड़े

धर्मस्थल वीरेंद्र हेगड़े को सन २००० में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और धर्मस्थल वीरेंद्र हेगड़े · और देखें »

ध्यानचंद सिंह

मेजर ध्यानचंद सिंह (२९ अगस्त, १९०५ -३ दिसंबर, १९७९) भारतीय फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाड़ी एवं कप्तान थे। भारत एवं विश्व हॉकी के सर्वश्रेष्ठ खिलाडड़ियों में उनकी गिनती होती है। वे तीन बार ओलम्पिक के स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के सदस्य रहे (जिनमें १९२८ का एम्सटर्डम ओलोम्पिक, १९३२ का लॉस एंजेल्स ओलोम्पिक एवं १९३६ का बर्लिन ओलम्पिक)। उनकी जन्मतिथि को भारत में "राष्ट्रीय खेल दिवस" के के रूप में मनाया जाता है। children.co.in/india/festivals/national-sports-day.htm उनके छोटे भाई रूप सिंह भी अच्छे हॉकी खिलाड़ी थे जिन्होने ओलम्पिक में कई गोल दागे थे। उन्हें हॉकी का जादूगर ही कहा जाता है। उन्होंने अपने खेल जीवन में 1000 से अधिक गोल दागे। जब वो मैदान में खेलने को उतरते थे तो गेंद मानों उनकी हॉकी स्टिक से चिपक सी जाती थी। उन्हें १९५६ में भारत के प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा बहुत से संगठन और प्रसिद्ध लोग समय-समय पर उन्हे 'भारतरत्न' से सम्मानित करने की माँग करते रहे हैं किन्तु अब केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने से उन्हे यह सम्मान प्रदान किये जाने की सम्भावना बहुत बढ़ गयी है। .

नई!!: पद्म भूषण और ध्यानचंद सिंह · और देखें »

धीरेंद्रनाथ गांगुली

धीरेंद्रनाथ गांगुली को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और धीरेंद्रनाथ गांगुली · और देखें »

नटेसन रंगभाष्यम

नटेसन रंगभाष्यम को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नटेसन रंगभाष्यम · और देखें »

नतेसगनबडिगल रामास्वामी अइयर

नतेसगनबडिगल रामास्वामी अइयर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नतेसगनबडिगल रामास्वामी अइयर · और देखें »

नन्दन नीलेकणि

नंदन नीलेकणि इन्फोसिस के सह अध्यक्ष और संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। भारत सरकार ने देश के हर नागरिक को एक विशिष्ट पहचान संख्या या यूनिक आइडेंटीफिकेशन नम्बर प्रदान करने के लिए प्रस्तावित यूआईडी प्राधिकरण अथवा विशिष्ट पहचान प्राधिकरण गठित करने को मंजूरी दे दी है और नंदन नीलकेणी इसके पहले अध्यक्ष होंगे। नीलकेणी का रैंक कैबिनेट स्तर का होगा। यह प्राधिकरण एक डाटा बेस तैयार करेगा और प्रत्येक नागरिक के लिए एक विशिष्ट पहचान संख्या प्रदान करेगा। इस नम्बर के आधार पर उस नागरिक की पूरी जानकारी सरकार के पास उपलब्ध होगी। इन्हें भारत सरकार द्वारा सन् २००६ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और नन्दन नीलेकणि · और देखें »

नरसिंह नारायण गोडबोले

नरसिंह नारायण गोडबोले को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरसिंह नारायण गोडबोले · और देखें »

नरसिंहन राम

नरसिंहन राम को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरसिंहन राम · और देखें »

नरसिंहैया शेषगिरि

नरसिंहैया शेषगिरि को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरसिंहैया शेषगिरि · और देखें »

नरिंदर सिंह रणधावा

नरिंदर सिंह रणधावा को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरिंदर सिंह रणधावा · और देखें »

नरेश कुमार त्रेहन

नरेश कुमार त्रेहन को सन २००१ में भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरेश कुमार त्रेहन · और देखें »

नरेंद्रनाथ बेरी

नरेंद्रनाथ बेरी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नरेंद्रनाथ बेरी · और देखें »

नारायण चतुर्वेदी

नारायण चतुर्वेदी को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण चतुर्वेदी · और देखें »

नारायण भीकाजी पारुलकर

नारायण भीकाजी पारुलकर को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण भीकाजी पारुलकर · और देखें »

नारायण श्रीधर बेंद्रे

नारायण श्रीधर बेंद्रे को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण श्रीधर बेंद्रे · और देखें »

नारायण सादोबा कजरोलकर

नारायण सादोबा कजरोलकर को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण सादोबा कजरोलकर · और देखें »

नारायण सिंह मानकलाओ

नारायण सिंह मानकलाओ को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण सिंह मानकलाओ · और देखें »

नारायण सुब्बाराव हार्दिकर

नारायण सुब्बाराव हार्दिकर को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९५८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायण सुब्बाराव हार्दिकर · और देखें »

नारायण सीताराम फड़के

नारायण सीताराम फड़के (1894 - 1978) मराठी के साहित्यकार (उपन्यासकार, कहानीकार एवं नाटककार) थे। उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और नारायण सीताराम फड़के · और देखें »

नारायणन श्रीनिवासन

नारायणन श्रीनिवासन को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारायणन श्रीनिवासन · और देखें »

नारोजी फीरोजा गोदरेज

नारोजी फीरोजा गोदरेज को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नारोजी फीरोजा गोदरेज · और देखें »

नालापत बालमणि अम्मा

नालापत बालमणि अम्मा (मलयालम: എൻ. ബാലാമണിയമ്മ; 19 जुलाई 1909 – 29 सितम्बर 2004) भारत से मलयालम भाषा की प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक थीं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक महादेवी वर्मा की समकालीन थीं। उन्होंने 500 से अधिक कविताएँ लिखीं। उनकी गणना बीसवीं शताब्दी की चर्चित व प्रतिष्ठित मलयालम कवयित्रियों में की जाती है। उनकी रचनाएँ एक ऐसे अनुभूति मंडल का साक्षात्कार कराती हैं जो मलयालम में अदृष्टपूर्व है। आधुनिक मलयालम की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें मलयालम साहित्य की दादी कहा जाता है। अम्मा के साहित्य और जीवन पर गांधी जी के विचारों और आदर्शों का स्पष्ट प्रभाव रहा। उनकी प्रमुख कृतियों में अम्मा, मुथास्सी, मज़्हुवींट कथाआदि हैं। उन्होंने मलयालम कविता में उस कोमल शब्दावली का विकास किया जो अभी तक केवल संस्कृत में ही संभव मानी जाती थी। इसके लिए उन्होंने अपने समय के अनुकूल संस्कृत के कोमल शब्दों को चुनकर मलयालम का जामा पहनाया। उनकी कविताओं का नाद-सौंदर्य और पैनी उक्तियों की व्यंजना शैली अन्यत्र दुर्लभ है। वे प्रतिभावान कवयित्री के साथ-साथ बाल कथा लेखिका और सृजनात्मक अनुवादक भी थीं। अपने पति वी॰एम॰ नायर के साथ मिलकर उन्होने अपनी कई कृतियों का अन्य भाषाओं में अनुवाद किया। अम्मा मलयालम भाषा के प्रखर लेखक एन॰ नारायण मेनन की भांजी थी। उनसे प्राप्त शिक्षा-दीक्षा और उनकी लिखी पुस्तकों का अम्मा पर गहरा प्रभाव पड़ा था। अपने मामा से प्राप्त प्रेरणा ने उन्हें एक कुशल कवयित्री बनने में मदद की। नालापत हाउस की आलमारियों से प्राप्त पुस्तक चयन के क्रम में उन्हें मलयालम भाषा के महान कवि वी॰ नारायण मेनन की पुस्तकों से परिचित होने का अवसर मिला। उनकी शैली और सृजनधर्मिता से वे इस तरह प्रभावित हुई कि देखते ही देखते वे अम्मा के प्रिय कवि बन गए। अँग्रेजी भाषा की भारतीय लेखिका कमला दास उनकी सुपुत्री थीं, जिनके लेखन पर उनका खासा असर पड़ा था। अम्मा को मलयालम साहित्य के सभी महत्त्वपूर्ण पुरस्कार प्राप्त करने का गौरव प्राप्त है। गत शताब्दी की सर्वाधिक लोकप्रिय मलयालम महिला साहित्यकार के रूप में वे जीवन भर पूजनीय बनी रहीं। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार, सरस्वती सम्मान और 'एज्हुथाचन पुरस्कार' सहित कई उल्लेखनीय पुरस्कार व सम्मान प्राप्त हुए। उन्हें 1987 में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। वर्ष 2009, उनकी जन्म शताब्दी के रूप में मनाया गया। .

नई!!: पद्म भूषण और नालापत बालमणि अम्मा · और देखें »

नागनाथ नायकवाडी

नागनाथ नायकवाडी को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और नागनाथ नायकवाडी · और देखें »

नागेंद्र

नागेंद्र को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नागेंद्र · और देखें »

नितीश चंद्र लाहिड़ी

नितीश चंद्र लाहिड़ी को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नितीश चंद्र लाहिड़ी · और देखें »

नियाज़ मुहम्मद फतेहपुरी

नियाज़ मुहम्मद फतेहपुरी को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नियाज़ मुहम्मद फतेहपुरी · और देखें »

निरंजन राय

निरंजन राय को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और निरंजन राय · और देखें »

निरंजनदास गुलाटी

निरंजनदास गुलाटी को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और निरंजनदास गुलाटी · और देखें »

निर्मल वर्मा

निर्मल वर्मा निर्मल वर्मा (३ अप्रैल १९२९- २५ अक्तूबर २००५) हिन्दी के आधुनिक कथाकारों में एक मूर्धन्य कथाकार और पत्रकार थे। शिमला में जन्मे निर्मल वर्मा को मूर्तिदेवी पुरस्कार (१९९५), साहित्य अकादमी पुरस्कार (१९८५) उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान पुरस्कार और ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। परिंदे (१९५८) से प्रसिद्धि पाने वाले निर्मल वर्मा की कहानियां अभिव्यक्ति और शिल्प की दृष्टि से बेजोड़ समझी जाती हैं। ब्रिटिश भारत सरकार के रक्षा विभाग में एक उच्च पदाधिकारी श्री नंद कुमार वर्मा के घर जन्म लेने वाले आठ भाई बहनों में से पांचवें निर्मल वर्मा की संवेदनात्मक बुनावट पर हिमांचल की पहाड़ी छायाएं दूर तक पहचानी जा सकती हैं। हिन्दी कहानी में आधुनिक-बोध लाने वाले कहानीकारों में निर्मल वर्मा का अग्रणी स्थान है। उन्होंने कम लिखा है परंतु जितना लिखा है उतने से ही वे बहुत ख्याति पाने में सफल हुए हैं। उन्होंने कहानी की प्रचलित कला में तो संशोधन किया ही, प्रत्यक्ष यथार्थ को भेदकर उसके भीतर पहुंचने का भी प्रयत्न किया है। हिन्दी के महान साहित्यकारों में से अज्ञेय और निर्मल वर्मा जैसे कुछ ही साहित्यकार ऐसे रहे हैं जिन्होंने अपने प्रत्यक्ष अनुभवों के आधार पर भारतीय और पश्चिम की संस्कृतियों के अंतर्द्वन्द्व पर गहनता एवं व्यापकता से विचार किया है।। सृजन शिल्पी। ७ अक्टूबर २००६ .

नई!!: पद्म भूषण और निर्मल वर्मा · और देखें »

निर्मल कुमार सिद्धांत

निर्मल कुमार सिद्धांत को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और निर्मल कुमार सिद्धांत · और देखें »

निसार हुसैन खान

निसार हुसैन खान को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और निसार हुसैन खान · और देखें »

निखिल रंजन बैनर्जी

निखिल रंजन बैनर्जी (নিখিল রঞ্জন ব্যানার্জী; १४ अक्टूबर १९३१ – २७ जनवरी १९८६) को १९८७ में भारत सरकार ने कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये भारत के पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ में निधन श्रेणी:1931 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और निखिल रंजन बैनर्जी · और देखें »

निखिल घोष

निखिल घोष को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और निखिल घोष · और देखें »

नवल होरमसजी टाटा

नवल होरमसजी टाटा को समाज सेवा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नवल होरमसजी टाटा · और देखें »

नवाब ज़ैन यार जंग

नवाब ज़ैन यार जंग को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नवाब ज़ैन यार जंग · और देखें »

नवांग गोम्बू

नवांग गोम्बू को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नवांग गोम्बू · और देखें »

नवकांत बरुआ

नवकांत बरुआ को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नवकांत बरुआ · और देखें »

न्यायमूर्ति सआदत अबुल मसूद

न्यायमूर्ति सआदत अबुल मसूद को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और न्यायमूर्ति सआदत अबुल मसूद · और देखें »

न्यायमूर्ति के टी थोमस

न्यायमूर्ति के टी थोमस को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और न्यायमूर्ति के टी थोमस · और देखें »

नौशाद अली वाहिद अली

नौशाद अली वाहिद अली भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नौशाद अली वाहिद अली · और देखें »

नूरुद्दीन अहमद

नूरुद्दीन अहमद को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नूरुद्दीन अहमद · और देखें »

नूरी गोपाल कृष्णमूर्ति

नूरी गोपाल कृष्णमूर्ति को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नूरी गोपाल कृष्णमूर्ति · और देखें »

नीलकांत दास

नीलकांत दास को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा राज्य से थे। श्रेणी:१९६० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और नीलकांत दास · और देखें »

पण्डित जसराज

पण्डित जसराज (जन्म - २८ जनवरी १९३०) भारत के सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायकों में से एक हैं। पण्डितजी का संबंध मेवाती घराने से है। जब जसराज काफी छोटे थे तभी उनके पिता श्री पण्डित मोतीरामजी का देहान्त हो गया था और उनका पालन पोषण बड़े भाई पण्डित मणीरामजी के संरक्षण में हुआ। .

नई!!: पद्म भूषण और पण्डित जसराज · और देखें »

पद्म पुरस्कार

पद्म पुरस्कार भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक हैं। ये पुरस्कार, विभिन्न क्षेत्रों जैसे कला, समाज सेवा, लोक-कार्य, विज्ञान और इंजीनियरी, व्यापार और उद्योग, चिकित्सा, साहित्य और शिक्षा, खेल-कूद, सिविल सेवा इत्यादि के संबंध में प्रदान किए जाते हैं। ये पुरस्कार प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस के अवसर पर उद्घोषित किये जाते हैं तथा सामान्यतः मार्च/अप्रैल माह में राष्ट्रपति भवन में आयोजित किये जाने वाले सम्मान समारोहों में भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किये जाते हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पद्म पुरस्कार · और देखें »

पद्म श्री

पद्म श्री या पद्मश्री, भारत सरकार द्वारा आम तौर पर सिर्फ भारतीय नागरिकों को दिया जाने वाला सम्मान है जो जीवन के विभिन्न क्षेत्रों जैसे कि, कला, शिक्षा, उद्योग, साहित्य, विज्ञान, खेल, चिकित्सा, समाज सेवा और सार्वजनिक जीवन आदि में उनके विशिष्ट योगदान को मान्यता प्रदान करने के लिए दिया जाता है। भारत के नागरिक पुरस्कारों के पदानुक्रम में यह चौथा पुरस्कार है इससे पहले क्रमश: भारत रत्न, पद्म विभूषण और पद्म भूषण का स्थान है। इसके अग्रभाग पर, "पद्म" और "श्री" शब्द देवनागरी लिपि में अंकित रहते हैं। 2010 (आजतक) तक, 2336 व्यक्ति इस पुरस्कार को प्राप्त कर चुके हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पद्म श्री · और देखें »

पद्म सम्मान

विशिष्ट सेवा के लिए दिया हुआ प्र्धान पुरस्कारे पद्म सम्मान भारत सरकार द्वारा शासकीय सेवकों व अन्य भारतीयों को किसी भी क्षेत्र में असाधारण और विशिष्ट सेवा के लिए पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री नामक पद्म सम्मान (पुरस्कार) प्रदान किए जाते हैं। पद्म पुरस्कारों की सिफारिशें राज्य सरकारों/संघ राज्य प्रशासनों, केन्द्रीय मंत्रालयों/विभागों, उत्कृष्टता संस्थानों आदि से प्राप्त की जाती हैं, जिन पर पुरस्कार समिति द्वारा विचार किया जाता है। पुरस्कार समिति की सिफारिश के आधार पर और प्रधानमंत्री, गृहमंत्री तथा राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर इन पद्म सम्मानों की घोषणा की जाती है। परन्तु इस बार सामान्य नागरिकों को ये सम्मान देने की प्रक्रिया में कुछ बदलाव किया गया है। प्रकार: नागरिकश्रेणी: सामान्यस्थापना: 1954 |- | पद्म भूषण | चित्र: pb1.jpg | चित्र: pb2.jpg | प्रदाता: भारत सरकारप्रकार: नागरिकश्रेणी: सामान्यस्थापना: 1954 |- | पद्म श्री | चित्र: ps2n.jpg | चित्र: ps1n.jpg | प्रदाता: भारत सरकारप्रकार: नागरिकश्रेणी: सामान्यस्थापना: 1954 |- |--> .

नई!!: पद्म भूषण और पद्म सम्मान · और देखें »

पद्म विभूषण

पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा उच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिये असैनिक क्षेत्रों में बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है। यह सम्मान भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में की गयी थी। भारत रत्‍न के बाद यह दूसरा प्रतिष्ठित सम्मान है। पद्म विभूषण के बाद तीसरा नागरिक सम्मान पद्म भूषण है। यह सम्मान किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट और उल्लेखनीय सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। इसमें सरकारी कर्मचारियों द्वारा की गई सेवाएं भी शामिल हैं। श्रेणी:सम्मान श्रेणी:पद्म विभूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पद्म विभूषण · और देखें »

पद्मा देसाई

पद्मा देसाई को सन २००८ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये संयुक्त राज्य से हैं। श्रेणी:२००८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पद्मा देसाई · और देखें »

पद्मा सुब्राह्मण्यम

पद्मा सुब्राह्मण्यम को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पद्मा सुब्राह्मण्यम · और देखें »

पम्मल संबंद मुदलियार

पम्मल संबंद मुदलियार को कला के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पम्मल संबंद मुदलियार · और देखें »

परमसुख जे पांड्या

परमसुख जे पांड्या को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और परमसुख जे पांड्या · और देखें »

परमेश्वरी लाल वर्मा

परमेश्वरी लाल वर्मा को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और परमेश्वरी लाल वर्मा · और देखें »

पल्ले रामा राव

पल्ले रामा राव को सन २००१ में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पल्ले रामा राव · और देखें »

पापनाशन रमैया शिवम

पापनाशन रमैया शिवम को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पापनाशन रमैया शिवम · और देखें »

पाराशरन केशव अयंगार

पाराशरन केशव अयंगार को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पाराशरन केशव अयंगार · और देखें »

पालिवई भानुमति रामकृष्ण

पालिवई भानुमति रामकृष्ण को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पालिवई भानुमति रामकृष्ण · और देखें »

पालघाट टीएस मणि अ इयर

पालघाट टीएस मणि अइयर को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पालघाट टीएस मणि अ इयर · और देखें »

पावागड वेंकट इंदिरेसन

पावागड वेंकट इंदिरेसन को सन २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पावागड वेंकट इंदिरेसन · और देखें »

पांडुरंग वासुदेव सुखराम

पांडुरंग वासुदेव सुखराम को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण श्रेणी:1911 में जन्मे लोग श्रेणी:१९९७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और पांडुरंग वासुदेव सुखराम · और देखें »

पांड्याल सत्यनारायण राव

पांड्याल सत्यनारायण राव को प्रशासकीय सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पांड्याल सत्यनारायण राव · और देखें »

पिच सांबमूर्ति

पिच सांबमूर्ति को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पिच सांबमूर्ति · और देखें »

पंचेति कोटेस्वरम

पंचेति कोटेस्वरम को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पंचेति कोटेस्वरम · और देखें »

पंडित बुद्धदेव दासगुप्ता

पद्मभूषण बुद्धदेव दासगुप्ता (1 फरवरी 1933 – 15 जनवरी 2018), एक भारतीय शास्त्रीय संगीतकार और सरोदवादक थे। उन्होंने पंडित राधिका मोहन माइत्रा से सरोद वादन सीखा था। भारत सरकार द्वारा उन्हें वर्ष 2012 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। इसके पूर्व उन्हें वर्ष 2015 में संगीत महासम्मान और बंगाल विभूषण से सम्मानित किया गया था। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2011 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री की पेशकश की गई थी, लेकिन उन्होंने इसे "बहुत देर हो चुकी है" कहकर लौटा दिया था। तत्पश्चात उन्हें जनवरी 2012 में, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।15 जनवरी, 2018 को हृदयगति रुक जाने के कारण उनका कोलकाता में निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और पंडित बुद्धदेव दासगुप्ता · और देखें »

पंजाब रेजिमेंट

पंजाब रेजीमेण्ट भारतीय सेना का एक सैन्य-दल है। श्रेणी:भारतीय सेना श्रेणी:भारतीय सेना के सैन्य-दल श्रेणी:भारतीय सेना की रेजिमेंट.

नई!!: पद्म भूषण और पंजाब रेजिमेंट · और देखें »

पक्कीरिस्वामी चंद्र शेखरन

पक्कीरिस्वामी चंद्र शेखरन को सन २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पक्कीरिस्वामी चंद्र शेखरन · और देखें »

पुतेन जोसफ

पुतेन जोसफ को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुतेन जोसफ · और देखें »

पुपुल जयकर

पुपुल जयकर को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुपुल जयकर · और देखें »

पुरुषोत्तम लाल

पुरुषोत्तम लाल को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुरुषोत्तम लाल · और देखें »

पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे

पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे पुरुषोत्तम लक्षमण देशपांडे (८ नवम्बर १९१९ – १२ जून २०००) लोकप्रिय मराठी लेखक, नाटककार, हास्यकार, अभिनेता, कथाकार व पटकथाकार, फिल्म निर्देशक और संगीतकार एवं गायक थे। उन्हें "महाराष्ट्राचे लाडके व्यक्तिमत्त्व" (महाराष्ट्र का लाड़ला व्यक्तित्व) कहा जाता है। महाराष्ट्र में उन्हें प्रेम से पु.

नई!!: पद्म भूषण और पुरुषोत्तम लक्ष्मण देशपांडे · और देखें »

पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर

पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से थे। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1909 में जन्मे लोग श्रेणी:१९९० में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर · और देखें »

पुलियर सुब्रह्मण्यम नारायणस्वामी

पुलियर सुब्रह्मण्यम नारायणस्वामी को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुलियर सुब्रह्मण्यम नारायणस्वामी · और देखें »

पुलियुर कृष्णस्वामी दुरई

पुलियुर कृष्णस्वामी दुरई को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुलियुर कृष्णस्वामी दुरई · और देखें »

पुष्पमित्र भार्गव

पुष्पमित्र भार्गव को भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुष्पमित्र भार्गव · और देखें »

पुष्पलता दास

पुष्पलता दास (1915-2003) उत्तर-पूर्वी भारतीय राज्य असम एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता, गांधीवादी और विधायक थी। वह 1951 से 1961 तक एक राज्य सभा सदस्य, असम विधान सभा की सदस्य और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की कार्य समिति की सदस्य थी। उसने कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट और खादी और ग्रामोद्योग आयोग के असम के अध्यायों के अध्यक्ष के रूप में सेवा की।  समाज के लिए उसके योगदान के लिए भारत सरकार ने 1999 में उसे तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और पुष्पलता दास · और देखें »

पुष्पालता दास

पुष्पालता दास को सन १९९९ में भारत सरकार ने समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये असम राज्य से हैं। श्रेणी:१९९९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुष्पालता दास · और देखें »

पुष्पावती जनार्दनराय मेहता

पुष्पावती जनार्दनराय मेहता को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पुष्पावती जनार्दनराय मेहता · और देखें »

प्रताप चंद्र रेड्डी

प्रताप चंद्र रेड्डी को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रताप चंद्र रेड्डी · और देखें »

प्रताप सी रेड्डी

प्रताप चंद्र रेड्डी (एरेग्रोडा में १९३३ में जन्में) एक भारतीय उद्यमीऔर हृदय रोग विशेषज्ञ है, जिन्होंने भारत में अस्पतालों की पहली कॉर्पोरेट श्रृंखला - अपोलो हॉस्पिटल समूह की स्थापना की। इंडिया टुडे पत्रिका ने २०१७ की सूची के भारत के 50 सबसे शक्तिशाली लोगों में उन्हें #४८ वें स्थान दिया। .

नई!!: पद्म भूषण और प्रताप सी रेड्डी · और देखें »

प्रतुल चंद्र गुप्ता

प्रतुल चंद्र गुप्ता को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रतुल चंद्र गुप्ता · और देखें »

प्रतूरी तिरुमला राव

प्रतूरी तिरुमला राव को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रतूरी तिरुमला राव · और देखें »

प्रफुल्ल बी रघुभाई देसाई

प्रफिल्ल बी रघुभाई देसाई को भारत सरकार द्वारा १९८१ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रफुल्ल बी रघुभाई देसाई · और देखें »

प्रफुल्ल कुमार सेन

प्रफुल्ल कुमार सेन को चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रफुल्ल कुमार सेन · और देखें »

प्रभात कुमार मुखर्जी

प्रभात कुमार मुखर्जी को भारत सरकार द्वारा १९८१ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रभात कुमार मुखर्जी · और देखें »

प्रभु लाल भटनागर

प्रभुलाल भटनागर, (8 अगस्त, 1912 - 5 अक्टूबर, 1976) विश्वप्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ थे। इन्हें गणित के लैटिस-बोल्ट्ज़मैन मैथड में प्रयोग किये गए भटनागर-ग्रॉस-क्रूक (बी.जी.के) कोलीज़न मॉडल के लिये जाना जाता है।। इंडियन मैथ सोसायटी। ऑब्सोल्यूट एस्ट्रॉनोमी .

नई!!: पद्म भूषण और प्रभु लाल भटनागर · और देखें »

प्राण (अभिनेता)

प्राण (जन्म: 12 फ़रवरी 1920; मृत्यु: 12 जुलाई 2013) हिन्दी फ़िल्मों के एक प्रमुख चरित्र अभिनेता थे जो मुख्यतः अपनी खलनायक की भूमिका के लिये जाने जाते हैं। कई बार फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार तथा बंगाली फ़िल्म जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन अवार्ड्स जीतने वाले इस भारतीय अभिनेता ने हिन्दी सिनेमा में 1940 से 1990 के दशक तक दमदार खलनायक और नायक का अभिनय किया। उन्होंने प्रारम्भ में 1940 से 1947 तक नायक के रूप में फ़िल्मों में अभिनय किया। इसके अलावा खलनायक की भूमिका में अभिनय 1942 से 1991 तक जारी रखा। उन्होंने 1948 से 2007 तक सहायक अभिनेता की तर्ज पर भी काम किया। अपने उर्वर अभिनय काल के दौरान उन्होंने 350 से अधिक फ़िल्मों में काम किया। उन्होंने खानदान (1942), पिलपिली साहेब (1954) और हलाकू (1956) जैसी फ़िल्मों में मुख्य अभिनेता की भूमिका निभायी। उनका सर्वश्रेष्ठ अभिनय मधुमती (1958), जिस देश में गंगा बहती है (1960), उपकार (1967), शहीद (1965), आँसू बन गये फूल (1969), जॉनी मेरा नाम (1970), विक्टोरिया नम्बर २०३ (1972), बे-ईमान (1972), ज़ंजीर (1973), डॉन (1978) और दुनिया (1984) फ़िल्मों में माना जाता है। प्राण ने अपने कैरियर के दौरान विभिन्न पुरस्कार और सम्मान अपने नाम किये। उन्होंने 1967, 1969 और 1972 में फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार और 1997 में फ़िल्मफेयर लाइफटाइम एचीवमेंट अवार्ड जीता। उन्हें सन् 2000 में स्टारडस्ट द्वारा 'मिलेनियम के खलनायक' द्वारा पुरस्कृत किया गया। 2001 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया और भारतीय सिनेमा में योगदान के लिये 2013 में दादा साहब फाल्के सम्मान से नवाजा गया। 2010 में सीएनएन की सर्वश्रेष्ठ 25 सर्वकालिक एशियाई अभिनेताओं में चुना गया। .

नई!!: पद्म भूषण और प्राण (अभिनेता) · और देखें »

प्राण कृष्ण पारिजा

प्राण कृष्ण पारिजा को साहित्य एवं शिक्षा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्राण कृष्ण पारिजा · और देखें »

प्राणनाथ लूथरा

प्राणनाथ लूथरा को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्राणनाथ लूथरा · और देखें »

प्राणनाथ छुटानी

प्राणनाथ छुटानी को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्राणनाथ छुटानी · और देखें »

प्रवीनचंद्र वरजीवन गाँधी

प्रवीनचंद्र वरजीवन गाँधी को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रवीनचंद्र वरजीवन गाँधी · और देखें »

प्रकाश नारायण टंडन

प्रकाश नारायण टंडन को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र मंं पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रकाश नारायण टंडन · और देखें »

प्रेम नज़ीर

अब्दुल खादिर (7 अप्रैल 1926 - 16 जनवरी 1989), जिन्हें उनके सिनेमाई नाम प्रेम नज़ीर (मलयालम: നസീര് പ്രേം) से बेहतर जाना जाता है, एक भारतीय फिल्म अभिनेता थे। इन्हें मलयालम सिनेमा के सबसे बड़े सितारों में से एक माना जाता है, साथ ही इन्हें नित्य हरित नायकन यानि सदाबहार नायक कह कर भी पुकारा जाता है। नज़ीर के नाम चार गिनीज रिकॉर्ड दर्ज है; पहला: 610 फिल्मों में नायक की भूमिका निभाने का कीर्तिमान, दूसरा: 107 फिल्मों में एक ही नायिका (शीला के साथ) नायक की भूमिका निभाने का कीर्तिमान, तीसरा: एक साल में प्रदर्शित अधिकतम फिल्मों का कीर्तिमान (1979 में उनतालीस फिल्में) और चौथा: 80 नायिकाओं के साथ नायक की भूमिका निभाने का कीर्तिमान। इन्हें भारतीय सिनेमा के सबसे सफल अभिनेताओं में से एक माना जाता है। भारत सरकार द्वारा नज़ीर को उनके भारतीय सिनेमा में योगदान को देखते हुए तीसरे और चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान क्रमशः पद्म भूषण और पद्म श्री से सम्मानित किया गया है। .

नई!!: पद्म भूषण और प्रेम नज़ीर · और देखें »

प्रेमचंद ढांढा

प्रेमचंद ढांढा को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रेमचंद ढांढा · और देखें »

प्रेमनाथ वाही

प्रेमनाथ वाही को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और प्रेमनाथ वाही · और देखें »

पृथ्वीराज कपूर

पृथ्वीराज कपूर (3 नवंबर 1901 - 29 मई 1972) हिंदी सिनेमा जगत एवं भारतीय रंगमंच के प्रमुख स्तंभों में गिने जाते हैं। पृथ्वीराज ने बतौर अभिनेता मूक फ़िल्मो से अपना करियर शुरू किया। उन्हें भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) के संस्थापक सदस्यों में से एक होने का भी गौरव हासिल है। पृथ्वीराज ने सन् 1944 में मुंबई में पृथ्वी थिएटर की स्थापना की, जो देश भर में घूम-घूमकर नाटकों का प्रदर्शन करता था। इन्हीं से कपूर ख़ानदान की भी शुरुआत भारतीय सिनेमा जगत में होती है। 1972 में उनकी मृत्यु के पश्चात उन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी नवाज़ा गया। पृथ्वीराज कपूर को कला क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। पृथ्वीराज ने पेशावर पाकिस्तान के एडवर्ड कालेज से स्नातक की शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने एक साल तक कानून की शिक्षा भी प्राप्त की जिसके बाद उनका थियेटर की दुनिया में प्रवेश हुआ। 1928 में उनका मुंबई आगमन हुआ। कुछ एक मूक फ़िल्मों में काम करने के बाद उन्होंने भारत की पहली बोलनेवाली फ़िल्म आलम आरा में मुख्य भूमिका निभाई। .

नई!!: पद्म भूषण और पृथ्वीराज कपूर · और देखें »

पृथीपाल सिंह मैनी

प्तोतपाल सिंह मैनी को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पृथीपाल सिंह मैनी · और देखें »

पूर्णिमा अरविंद पाकवास

पूर्णिमा अरविंद पाकवास को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पूर्णिमा अरविंद पाकवास · और देखें »

पूला तिरुपति राजु

पूला तिरुपति राजु को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान राज्य से हैं। श्रेणी:१९५८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पूला तिरुपति राजु · और देखें »

पेरुगु शिवा रेड्डी

पेरुगु शिवा रेड्डी को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पेरुगु शिवा रेड्डी · और देखें »

पोइपिल्ली कुंजु कुरुप

पोइपिल्ली कुंजु कुरुप को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल राज्य से थे। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण श्रेणी:1881 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७० में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और पोइपिल्ली कुंजु कुरुप · और देखें »

पी तिरुविल्वमलै शेषन एम अइयर

पी तिरुविल्वमलै शेषन एम अइयर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से थे। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण श्रेणी:1912 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८१ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और पी तिरुविल्वमलै शेषन एम अइयर · और देखें »

पी पी राव

पी पी राव को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और पी पी राव · और देखें »

पी आर्देशिर नारियलवाला

पी आर्देशिर नारियलवाला को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पी आर्देशिर नारियलवाला · और देखें »

पी कृष्णगोपाल आयंगार

पी कृष्णगोपाल आयंगार को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पी कृष्णगोपाल आयंगार · और देखें »

पीएस अप्पू

पीएस अप्पू(1929-28 मार्च 2012) एक भारतीय सिविल सेवक थे जो लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी (ला॰ब॰शा॰रा॰प्र॰अ॰) के निर्देशक पद से सेवानिवृत्त हुए। अप्पू ने अपना करियर १९५१ में भारतीय प्रशासनिक सेवा के बिहार कैडर से आरम्भ किया। इस राज्य में उन्होंने दरभंगा जिले का कलेक्टर, वित्त सचिव और मुख्य सचिव के रूप में अपनी सेवाएँ दी। राज्य से संघीय सरकार में प्रतिनियुक्ति पर उन्होंने १९७० से १९७५ तक कृषि और योजना आयोग मंत्रालय में भूमि सुधार आयुक्त के रूप में कार्य किया। ला॰ब॰शा॰रा॰प्र॰अ॰ के निर्देशक नियुक्त हो जाने के बाद १९८२ में उन्होंने उपरोक्त सेवा को स्वेच्छा से सेवानिवृत्ति के लिए चुना। उनके कई तरह के विशेषण नाम भी थे, यथा "विकास अर्थशास्त्री"। ऐसा इंसान जिसे नेताओं से अपनी बात साफ़ साफ़ कहने में कोई गुरेज़ नहीं था, "ऐसा शख़्स जिसे दस्तूर की कोई फ़िक्र नहीं थी। पीएस अप्पू को २००६ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और पीएस अप्पू · और देखें »

पीतांबर पंत

पीतांबर पंत को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और पीतांबर पंत · और देखें »

फरोख ड्राच उद्वाडिया

फरोख ड्राच उद्वाडिया को १९८६ में भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और फरोख ड्राच उद्वाडिया · और देखें »

फरीद ज़कारिया

फरीद रफीक ज़कारिया (फ़रीद राफ़िक़ ज़कारिया, فرید رفیق زکریا,; जन्म 20 जनवरी 1964) एक भारतीय मूल के अमेरिकी पत्रकार और लेखक हैं। न्यूजवीक में स्तंभकार और न्यूज़वीक इंटरनेशनल के संपादक के रूप में लंबे समय के कैरियर के बाद हाल ही में उन्हें टाइम के एडिटर-एट-लार्ज के रूप में घोषित किया गया। वे सीएनएन के फरीद ज़कारिया जीपीएस के होस्ट भी हैं और अंतरराष्ट्रीय संबंधों, व्यापार और अमेरिकी विदेश नीति से संबंधित मुद्दों के एक सतत आलोचक और लेखक हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और फरीद ज़कारिया · और देखें »

फ़तेह चंद बधवार

फ़तेह चंद बधवार (OBE)(१९०० - १० अक्तूबर १९९५) को प्रशासकीय सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और फ़तेह चंद बधवार · और देखें »

फ़िराक़ गोरखपुरी

फिराक गोरखपुरी (मूल नाम रघुपति सहाय) (२८ अगस्त १८९६ - ३ मार्च १९८२) उर्दू भाषा के प्रसिद्ध रचनाकार है। उनका जन्म गोरखपुर, उत्तर प्रदेश में कायस्थ परिवार में हुआ। इनका मूल नाम रघुपति सहाय था। रामकृष्ण की कहानियों से शुरुआत के बाद की शिक्षा अरबी, फारसी और अंग्रेजी में हुई। .

नई!!: पद्म भूषण और फ़िराक़ गोरखपुरी · और देखें »

फादर गैब्रियल

फादर गैब्रियल को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और फादर गैब्रियल · और देखें »

फाली सैम नरीमन

फाली सैम नरीमन को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और फाली सैम नरीमन · और देखें »

फकीरचंद कोहली

फकीरचंद कोहली को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और फकीरचंद कोहली · और देखें »

फ्रैंक पल्लोन

फ्रैंक पल्लोन को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और फ्रैंक पल्लोन · और देखें »

फूलरेनु गुहा

फूलरेनु गुहा को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और फूलरेनु गुहा · और देखें »

फील्ड मार्शल (भारत)

भारतीय फील्ड मार्शल का स्कन्ध अधिचिह्न भारतीय सेना में फील्ड मार्शल (FM) एक पंच-सितारा जनरल ऑफिसर रैंक है जो भारतीय थलसेना सर्वोच्च रैंक है। अभी तक केवल २ लोगों को यह रैंक प्रदान की गयी है। .

नई!!: पद्म भूषण और फील्ड मार्शल (भारत) · और देखें »

बडनवल वेंकट श्रीकांतन

बडनवल वेंकट श्रीकांतन को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बडनवल वेंकट श्रीकांतन · और देखें »

बड़े ग़ुलाम अली ख़ान

बड़े गुलाम अली खां उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां (२ अप्रैल १९०२- २३ अप्रैल १९६८) हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के पटियाला घराने के गायक थे। उनकी गणना भारत के महानतम गायकों व संगीतज्ञों में की जाती है। इनका जन्म लाहौर के निकट कसूर नामक स्थान पर पाकिस्तान में हुआ था, पर इन्होने अपना जीवन अलग समयों पर लाहौर, बम्बई, कोलकाता और हैदराबाद में व्यतीत किया। प्रसिद्ध ग़जल गायक गुलाम अली इनके शिष्य थे। इनका परिवार संगीतज्ञों का परिवार था। बड़े गुलाम अली खां की संगीत की दुनिया का प्रारंभ सारंगी वादक के रूप में हुआ बाद में उन्होंने अपने पिता अली बख्श खां, चाचा काले खां और बाबा शिंदे खां से संगीत के गुर सीखे। इनके पिता महाराजा कश्मीर के दरबारी गायक थे और वह घराना "कश्मीरी घराना" कहलाता था। जब ये लोग पटियाला जाकर रहने लगे तो यह घराना "पटियाला घराना" के नाम से जाना जाने लगा। अपने सधे हुए कंठ के कारण बड़े गुलाम अली खां ने बहुत प्रसिद्ध पाई। सन १९१९ के लाहौर संगीत सम्मेलन में बड़े गुलाम अली खां ने अपनी कला का पहली बार सार्वजनिक प्रदर्शन किया। इसके कोलकाता और इलाहाबाद के संगीत सम्मेलनों ने उन्हें देशव्यापी ख्याति दिलाई। उन्होंने अपनी बेहद सुरीली और लोचदार आवाज तथा अभिनव शैली के बूते ठुमरी को एकदम नये अंदाज में ढाला जिसमें लोक संगीत की मिठास और ताजगी दोनों मौजूद थी। संगीत समीक्षकों के अनुसार उस्ताद खां ने अपने प्रयोगधर्मी संगीत की बदौलत ठुमरी की बोल बनाव शैली से परे जाकर उसमें एक नयी ताजगी भर दी। उनकी इस शैली को ठुमरी के पंजाब अंग के रूप में जाना जाता है। वे अपने खयाल गायन में ध्रुपद, ग्वालियर घराने और जयपुर घराने की शैलियों का खूबसूरत संयोजन करते थे। बड़े गुलाम अली खां के मुँह से एक बार "राधेश्याम बोल" भजन सुनकर महात्मा गाँधी बहुत प्रभावित हुए थे। मुगले आजम फिल्म में तानसेन पात्र के लिए उन्होंने ही अपनी आवाज़ दी थी। भारत सरकार ने १९६२ ई. में उन्हें "पद्मभूषण" से सम्मानित किया था। २३ अप्रैल १९६८ ई. को बड़े गुलाम अली खां का देहावसान हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और बड़े ग़ुलाम अली ख़ान · और देखें »

बदरीनाथ टंडन

बदरीनाथ टंडन को भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बदरीनाथ टंडन · और देखें »

बद्रीनाथ प्रसाद

बद्रीनाथ प्रसाद (१२ जनवरी १८९९ - १८ जनवरी १९६६) भारत के सुप्रसिद्ध गणितज्ञ एवं शिक्षाशास्त्री थे। उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और बद्रीनाथ प्रसाद · और देखें »

बद्रीनारायण रामूलाल बारवाले

बद्रीनारायण रामूलाल बारवाले को सन २००१ में भारत सरकार ने उद्योग एवं व्यापार क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बद्रीनारायण रामूलाल बारवाले · और देखें »

बनारसीदास चतुर्वेदी

पण्डित बनारसीदास चतुर्वेदी (२४ दिसम्बर, १८९२ -- २ मई, १९८५) प्रसिद्ध हिन्दी लेखक एवं पत्रकार थे। वे राज्यसभा के सांसद भी रहे। उनके सम्पादकत्व में हिन्दी में कोलकाता से 'विशाल भारत' नामक हिन्दी मासिक निकला। पं॰ बनारसीदास चतुर्वेदी जैसे सुधी चिंतक ने ही साक्षात्कार की विधा को पुष्पित एवं पल्लवित करने के लिए सर्वप्रथम सार्थक कदम बढ़ाया था। उनकी साहित्यिक सेवाओं के लिए उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। वे अपने समय का अग्रगण्य संपादक थे तथा अपनी विशिष्ट और स्वतंत्र वृत्ति के लिए जाने जाते हैं। उनके जैसा शहीदों की स्मृति का पुरस्कर्ता (सामने लाने वाला) और छायावाद का विरोधी समूचे हिंदी साहित्य में कोई और नहीं हुआ। उनकी स्मृति में बनारसीदास चतुर्वेदी सम्मान दिया जाता है। कहते हैं कि वे किसी भी नई सामाजिक, सांस्कृतिक, साहित्यिक या राष्ट्रीय मुहिम से जुड़ने, नए काम में हाथ डालने या नई रचना में प्रवृत्त होने से पहले स्वयं से एक ही प्रश्न पूछते थे कि उससे देश, समाज, उसकी भाषाओं और साहित्यों, विशेषकर हिंदी का कुछ भला होगा या मानव जीवन के किसी भी क्षेत्र में उच्चतर मूल्यों की प्रतिष्ठा होगी या नहीं? .

नई!!: पद्म भूषण और बनारसीदास चतुर्वेदी · और देखें »

बर्नार्ड पीटर्स

बर्नार्ड पीटर्स को भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये डेनमार्क से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बर्नार्ड पीटर्स · और देखें »

बलदेव राज चोपड़ा

बी आर चोपड़ा (22 अप्रैल 1914 – 5 नवम्बर 2008) हिन्दी फ़िल्मों के एक निर्देशक थे। .

नई!!: पद्म भूषण और बलदेव राज चोपड़ा · और देखें »

बलदेव सिंह

बलदेव सिंह को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बलदेव सिंह · और देखें »

बलदेव उपाध्याय

आचार्य बलदेव उपाध्याय (१० अक्टूबर १८९९ - १० अगस्त १९९९) हिन्दी और संस्कृत के सुप्रसिद्ध विद्वान, साहित्येतिहासकार, निबन्धकार तथा समालोचक थे। उन्होने अनेकों ग्रन्थों की रचना की, निबन्धों का संग्रह प्रकाशित किया तथा संस्कृत वाङ्मय का इतिहास लिखा। वे संस्कृत साहित्य की हिन्दी में चर्चा के लिए जाने जाते हैं। उनके पूर्व संस्कृत साहित्य से सम्बन्धित अधिकांश पुस्तकें संस्कृत में हैं या अंग्रेजी में। आचार्य बलदेव उपाध्याय को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और बलदेव उपाध्याय · और देखें »

बलराज पुरी

बलराज पुरी को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये जम्मू और कश्मीर राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बलराज पुरी · और देखें »

बसवराज राजगुरु

बसवराज राजगुरु को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण श्रेणी:कर्नाटक के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और बसवराज राजगुरु · और देखें »

बानू जहाँगीर कोयाजी

बानू जहाँगीर कोयाजी (22 अगस्त 1918 – 15 जुलाई 2004) भारतीय चिकित्सा वैज्ञानिक थीं। इन्होंने परिवार नियोजन और जनसंख्या नियंत्रण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया था। वह किंग एडवर्ड मेमोरियल अस्पताल, पुणे की निर्देशिका थीं। उन्होंने समुदाय के स्वास्थकर्मियों के माध्यम से महाराष्ट्र के देही इलाक़ों के लिये कई कार्यक्रम प्रारंभ किये थे। वह अपनी कार्यकुशलता की वजह से केन्द्र सरकार की स्वास्थ सलाकार बन गईं थीं और विश्वस्तर पर अपने कार्यक्षेत्र में प्रसिद्ध थीं। कोयाजी को कई पुरस्कार प्राप्त हुए थे जिनमें १९८९ में पद्मभूषण और सार्वजनिक सेवा के लिये १९९३ में रेमन मैगसेसे पुरस्कार मुख्य रूप से शामिल हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और बानू जहाँगीर कोयाजी · और देखें »

बाबा पृथ्वी सिंह आजाद

बाबा पृथ्वी सिंह आजाद को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बाबा पृथ्वी सिंह आजाद · और देखें »

बाबा आमटे

डॉ॰ मुरलीधर देवीदास आमटे (26 दिसंबर, 1914 - 9 फरवरी, 2008), जो कि बाबा आमटे के नाम से ख्यात हैं, भारत के प्रमुख व सम्मानित समाजसेवी थे। समाज से परित्यक्त लोगों और कुष्ठ रोगियों के लिये उन्होंने अनेक आश्रमों और समुदायों की स्थापना की। इनमें चन्द्रपुर, महाराष्ट्र स्थित आनंदवन का नाम प्रसिद्ध है। इसके अतिरिक्त आमटे ने अनेक अन्य सामाजिक कार्यों, जिनमें वन्य जीवन संरक्षण तथा नर्मदा बचाओ आंदोलन प्रमुख हैं, के लिये अपना जीवन समर्पित कर दिया। 9 फ़रवरी 2008 को बाबा का 94 साल की आयु में चन्द्रपुर जिले के वड़ोरा स्थित अपने निवास में निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और बाबा आमटे · और देखें »

बाबूभाई मानिकलाल चिनाय

बाबूभाई मानिकलाल चिनाय को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बाबूभाई मानिकलाल चिनाय · और देखें »

बाल दत्तात्रेय तिलक

बाल दत्तात्रेय तिलक को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। 1963 में इन्हें शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। .

नई!!: पद्म भूषण और बाल दत्तात्रेय तिलक · और देखें »

बालमणि अम्मा की काव्यगत विशेषताएँ

बालमणि अम्मा की पेंटिंग बालमणि अम्मा केरल की राष्ट्रवादी कवयित्री थीं। उन्होंने राष्ट्रीय उद्बोधन वाली कविताओं की रचना की। वे मुख्यतः वात्सल्य, ममता, मानवता के कोमल भाव की कवयित्री के रूप में विख्यात हैं। फिर भी स्वतंत्रतारूपी दीपक की उष्ण लौ से भी वे अछूती नहीं रहीं। सन् 1929-39 के बीच लिखी उनकी कविताओं में देशभक्ति, गाँधी का प्रभाव, स्वतंत्रता की चाह स्पष्ट परिलक्षित होती है। इसके बाद भी उनकी रचनाएँ प्रकाशित होती रहीं। अपने सृजन से वे भारतीय आजादी में अनोखा कार्य किया। वर्ष 1928 में अम्मा का विवाह वी॰ एम॰ नायर के साथ हुआ और वे उनके साथ कलकत्ता में रहने लगीं। कलकत्ता- वास के अनुभवों ने उनकी काव्य चेतना को प्रभावित किया। अपनी प्रथम प्रकाशित और चर्चित कविता 'कलकत्ते का काला कुटिया'उन्होने अपने पतिदेव के अनुरोध पर लिखी थी, जबकि अंतररतमा की प्रेरणा से लिखी गई उनकी पहली कविता 'मातृचुंबन' है। उनकी प्रारंभिक कविताओं में से एक 'गौरैया' शीर्षक कविता उस दौर में अत्यंत लोकप्रिय हुई। इसे केरल राज्य की पाठ्य-पुस्तकों में सम्मिलित किया गया। बाद में उन्होने गर्भधारण, प्रसव और शिशु पोषण के स्त्रीजनित अनुभवों को अपनी कविताओं में पिरोया। उनकी प्रारंभिक कविताओं में से एक 'गौरैया' शीर्षक कविता उस दौर में अत्यंत लोकप्रिय हुई। इसे केरल राज्य की पाठ्य-पुस्तकों में सम्मिलित किया गया। बाद में उन्होने गर्भधारण, प्रसव और शिशु पोषण के स्त्रीजनित अनुभवों को अपनी कविताओं में पिरोया। इसके एक दशक बाद उन्होने घर और परिवार की सीमाओं से निकलकर अध्यात्मिकता के क्षेत्र में दस्तक दी। तब तक यह क्षेत्र उनके लिए अपरिचित जैसा था। थियोसाफ़ी का प्रारंभिक ज्ञान उनके मामा से उन्हें मिला। हिन्दू शास्त्रों का सहज ज्ञान उन्हें पहले से ही था। इसलिए थियोसाफ़ी और हिन्दू मनीषा का संयोजित स्वरूप ही उनके विचारों के रूप में लेखन में उतरा। अम्मा के दो दर्जन से अधिक काव्य-संकलन, कई गद्य-संकलन और अनुवाद प्रकाशित हुए हैं। उन्होंने छोटी अवस्था से ही कविताएँ लिखना शुरू कर दिया था। उनकी पहला कविता संग्रह "कूप्पुकई" 1930 में प्रकाशित हुआ था। उन्हें सर्वप्रथम कोचीन ब्रिटिश राज के पूर्व शासक राम वर्मा परीक्षित थंपूरन के द्वारा "साहित्य निपुण पुरस्कारम" प्रदान किया गया। 1987 में प्रकाशित "निवेद्यम" उनकी कविताओं का चर्चित संग्रह है। कवि एन॰ एन॰ मेनन की मौत पर शोकगीत के रूप में उनका एक संग्रह "लोकांठरांगलील" नाम से आया था। उनकी कविताएँ दार्शनिक विचारों एवं मानवता के प्रति अगाध प्रेम की अभिव्यक्ति होती हैं। बच्चों के प्रति प्रेम-पगी कविताओं के कारण मलयालम-कविता में वे "अम्मा" और "दादी" के नाम से समादृत हैं। केरल साहित्य अकादमी, अखितम अच्युतन नंबूथरी में एक यादगार वक्तव्य के दौरान उन्हें "मानव महिमा के नबी" के रूप में वर्णित किया गया था और कविताओं की प्रेरणास्त्रोत कहा गया था।उन्हें 1987 में भारत सरकार ने साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। .

नई!!: पद्म भूषण और बालमणि अम्मा की काव्यगत विशेषताएँ · और देखें »

बालराम नंदा

बालराम नंदा को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बालराम नंदा · और देखें »

बालसुब्रह्मण्य राजम अइयर

बालसुब्रह्मण्य राजम अइयर को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बालसुब्रह्मण्य राजम अइयर · और देखें »

बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति

बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। उसका पत्नी इंदिरा राममूर्ती प्रसिद्ध आब्सेट्रीसियन और गैनकालजिस्ट थे। .

नई!!: पद्म भूषण और बालसुब्रह्मण्यम रामामूर्ति · और देखें »

बालासरस्वती

तंजौर बालासरस्वती एक भारतीय नर्तक है जो भरतनाट्यम, शास्त्रीय नृत्य के लिए जानी जाती है। १९५७ में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया और १९७७ में पद्म विभूषण, भारत सरकार द्वारा दिए गए तीसरे और दूसरे उच्चतम नागरिक सम्मान से सम्मानीत किया। १९८१ में उन्हें भारतीय फाइन आर्ट्स सोसाइटी, चेन्नई के संगीता कलासिखमनी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। .

नई!!: पद्म भूषण और बालासरस्वती · और देखें »

बालासाहेब शिवराम भरडे

बालासाहेब शिवराम भरडे को सन २००१ में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बालासाहेब शिवराम भरडे · और देखें »

बालाइ चंद मुखोपाध्याय

बालाइ चंद मुखोपाध्याय को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बालाइ चंद मुखोपाध्याय · और देखें »

बालकइष्ण गोयल

बालकइष्ण गोयल को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:महाराष्ट्र के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और बालकइष्ण गोयल · और देखें »

बालकृष्ण शर्मा नवीन

बालकृष्ण शर्मा नवीन (१८९७ - १९६० ई०) हिन्दी कवि थे। वे परम्परा और समकालीनता के कवि हैं। उनकी कविता में स्वच्छन्दतावादी धारा के प्रतिनिधि स्वर के साथ-साथ राष्ट्रीय आंदोलन की चेतना, गांधी दर्शन और संवेदनाओं की झंकृतियां समान ऊर्जा और उठान के साथ सुनी जा सकती हैं। आधुनिक हिन्दी कविता के विकास में उनका स्थान अविस्मरणीय है। वे जीवनभर पत्रकारिता और राष्ट्रीय आंदोलन से जुड़े रहे। नवीन जी द्विवेदी युग के कवि हैं। इनकी कविताओं में भक्ति-भावना, राष्ट्र-प्रेम तथा विद्रोह का स्वर प्रमुखता से आया है। आपने ब्रजभाषा के प्रभाव से युक्त खड़ी बोली हिन्दी में काव्य रचना की। उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६० में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और बालकृष्ण शर्मा नवीन · और देखें »

बिनय शुषन घोष

बिनय शुषन घोष को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बिनय शुषन घोष · और देखें »

बिन्देश्वर पाठक

डॉ बिन्देश्वरी पाठक (जन्म: ०२ अप्रैल १९४३) विश्वविख्यात भारतीय समाजिक कार्यकर्ता एवं उद्यमी हैं। उन्होने सन १९७० मे सुलभ इन्टरनेशनल की स्थापना की। सुलभ इंटरनेशनल मुख्यतः मानव अधिकार, पर्यावरणीय स्वच्छता, ऊर्जा के गैर पारंपरिक स्रोतों और शिक्षा द्वारा सामाजिक परिवर्तन आदि क्षेत्रों में कार्य करने वाली एक अग्रणी संस्था है। श्री पाठक का कार्य स्वच्छता और स्वास्थ्य के क्षेत्र में अग्रणी माना जाता है। इनके द्वारा किए गए कार्यों की राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है और पुरस्कृत किया गया है। .

नई!!: पद्म भूषण और बिन्देश्वर पाठक · और देखें »

बिमल कुमार बछावत

बिमल कुमार बछावत को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार विजेता.

नई!!: पद्म भूषण और बिमल कुमार बछावत · और देखें »

बिमल कृष्ण माटीलाल

बिमल कृष्ण माटीलाल (१९३५-१९९१) भारत के एक दार्शनिक थे जिनकी कृतियों में इस बात का खुलासा किया गया है कि भारतीय दार्शनिक परम्परा भी उन्हीं मुद्दों पर केन्द्रित है जिन पर आधुनिक यूरोपीय दर्शन विचार करता है। उनको भारत सरकार द्वारा सन १९९० में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। सन् १९७७ से १९९१ तक वे आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पूर्वात्य धर्म एवं नीतिशास्त्र के प्राध्यापक (Spalding Professor) रहे। .

नई!!: पद्म भूषण और बिमल कृष्ण माटीलाल · और देखें »

बिली अर्जन सिंह

कुँवर बिली अर्जन सिंह (१५ अगस्त १९१७ – १ जनवरी २०१०) विश्वप्रसिद्ध बाघ सरंक्षक एंव पर्यावरणविद् थे। दुधवा नेशनल पार्क के संस्थापक, बाघ एंव तेन्दुओं के पुनर्वासन कार्यक्रम के जनक बिली जीवन पर्यन्त खीरी जनपद के जंगलों के सरंक्षण व सवंर्धन में संघर्षरत रहे। ब्रिटिश-इंडिया में उत्तर-खीरी वन-प्रभाग के समीप सुहेली नदी पर निवास बनाकर वन्य जीवों की सुरक्षा में शिकारियों एंव भ्रष्ट सरकारी तन्त्र से लड़ाइया लड़ते रहे। वन्य जीवन के क्षेत्र में पूरी दुनिया में इनके प्रयोगों की चर्चा रही और आज के बाघ सरंक्षक इनके कार्यों से प्रेरणा लेते आ रहे हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और बिली अर्जन सिंह · और देखें »

बिशप जॉन रिचर्डसन

बिशप जॉन रिचर्डसन को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये अंदमान और निकोबार द्वीप समूह से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बिशप जॉन रिचर्डसन · और देखें »

बिजौय नंदन शाही

बिजौय नंदन शाही को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और बिजौय नंदन शाही · और देखें »

बिजॉय चंद्र भगवती

बिजॉय चंद्र भगवती भारत सरकार ने १९९२ में उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये असम से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बिजॉय चंद्र भगवती · और देखें »

बगीचासिंह मिन्हास

बगीचासिंह मिन्हास को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बगीचासिंह मिन्हास · और देखें »

बंगश

भारत के पद्म भूषण-सम्मानित मशहूर सरोद वादक अमजद अली ख़ान एक बंगश पश्तून हैं बंगश (पश्तो:, अंग्रेज़ी: Bangash) एक प्रमुख पश्तून क़बीले का नाम है। बंगश लोग पाकिस्तान के संघ-शासित क़बाईली क्षेत्र की कुर्रम एजेंसी और ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रान्त के हन्गू, कोहाट और पेशावर इलाक़ों में पाए जाते हैं। भारत में कुछ बंगश लोग उत्तर प्रदेश के फ़र्रूख़ाबाद ज़िले में भी बसे हुए हैं। फ़र्रूख़ाबाद के नवाबों ने वहाँ एक अलग अफ़्ग़ान मोहल्ला भी स्थापित किया हुआ था।, D. H. A. Kolff, Om Prakash, Brill, 2003, ISBN 978-90-04-13155-2,...

नई!!: पद्म भूषण और बंगश · और देखें »

बुद्धदेव बोस

बुद्धदेव बोस को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से थे। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1908 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और बुद्धदेव बोस · और देखें »

ब्रह्म प्रकाश

ब्रह्म प्रकाश को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण श्रेणी:1912 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और ब्रह्म प्रकाश · और देखें »

ब्रिगेडियर कोट्ट सत्चिदानंद मूर्ति

ब्रिगेडियर कोट्ट सत्चिदानंद मूर्ति को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ब्रिगेडियर कोट्ट सत्चिदानंद मूर्ति · और देखें »

ब्रजवासी लाल

ब्रजवासी लाल को सन २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और ब्रजवासी लाल · और देखें »

बृहस्पति देव त्रिगुण

बृहस्पति देव त्रिगुण (1920 - 2013) एक वैद्य अथवा आयुर्वेदिक चिकित्सक थे। वो पल्स निदान के विशेषज्ञ और पल्स निदान के आयुर्वेदिक तकनिज्ञ थे। उन्हें १९९२ में पद्म भूषण और २००३ में भारत सरकार का द्वितीय सर्वश्रेष्ठ नागरीक सम्मान पद्म विभूषण मिला। .

नई!!: पद्म भूषण और बृहस्पति देव त्रिगुण · और देखें »

बृजमोहन लाल मुंजाल

बृजमोहन लाल मुंजाल (पंजाबी:ਬ੍ਰਿਜਮੋਹਨ ਲਾਲ ਮੁੰਜਾਲ; 1 जुलाई 1925 – 1 नवंबर 2015) भारत के विख्यात औद्योगिक घराने हीरो समूह के संस्थापक व चेयरमैन थे। वे भारत के ३० सबसे धनी व्यक्तियों में से एक थे। .

नई!!: पद्म भूषण और बृजमोहन लाल मुंजाल · और देखें »

बृजेम्द्र कुमार राव

बृजेम्द्र कुमार राव को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और बृजेम्द्र कुमार राव · और देखें »

बैरप्पा सरोजा देवी श्री हर्षा

बैरप्पा सरोजा देवी श्री हर्षा भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बैरप्पा सरोजा देवी श्री हर्षा · और देखें »

बेनुधर शर्मा

बेनुधर शर्मा को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम से हैं। उनके लिखे संस्मरण कांग्रचर कांचियालिरदात को १९६० में साहित्य अकादमी पुरस्कार असमिया। .

नई!!: पद्म भूषण और बेनुधर शर्मा · और देखें »

बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराज अयंगार

वी के एस अयंगार बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराज अयंगार (अंग्रेज़ी: Bellur Krishnamachar Sundararaja Iyengar; १४ दिसम्बर १९१८ – २० अगस्त २०१४) भारत के अग्रणी योग गुरु थे। उन्होंने अयंगारयोग की स्थापना की तथा इसे सम्पूर्ण विश्व में मशहूर बनाया। सन २००२ में भारत सरकार द्वारा उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से तथा 2014 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। 'टाइम' पत्रिका ने 2004 में दुनिया के सबसे प्रभावशाली 100 लोगों की सूची में उनका नाम शामिल किया था। अंयगार ने जिन लोगों को योग सिखाया, उनमें जिद्दू कृष्णमूर्ति, जयप्रकाश नारायण, येहुदी मेनुहिन जैसे नाम सम्मिलित हैं। आधुनिक ऋषि के रूप में विख्यात अयंगार ने विभिन्न देशों में अपने संस्थान की 100 से अधिक शाखाएं स्थापित की। यूरोप में योग फैलाने में वे सबसे आगे थे। .

नई!!: पद्म भूषण और बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराज अयंगार · और देखें »

बेगम ज़ोहरा अली यावर जंग

बेगम ज़ोहरा अली यावर जंग को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बेगम ज़ोहरा अली यावर जंग · और देखें »

बेगम कुदसिया ऐजाज़ रसूल

बेगम कुदसिया ऐजाज़ रसूल को सन २००० में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और बेगम कुदसिया ऐजाज़ रसूल · और देखें »

बेग़म अख़्तर

बेगम अख़्तर के नाम से प्रसिद्ध, अख़्तरी बाई फ़ैज़ाबादी (७ अक्टूबर १९१४- ३० अक्टूबर १९७४) भारत की प्रसिद्ध गायिका थीं, जिन्हें दादरा, ठुमरी व ग़ज़ल में महारत हासिल थी। उन्हें कला के क्षेत्र में भारत सरकार पहले पद्म श्री तथा सन १९७५ में मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उन्हें "मल्लिका-ए-ग़ज़ल" के ख़िताब से नवाज़ा गया था। २०१४ की फ़िल्म डेढ़ इश्क़िया में विशाल भारद्वाज ने बेगम अख़्तर की प्रसिद्ध ठुमरी हमरी अटरिया पे का आधुनिक रीमिक्स रेखा भारद्वाज की आवाज में प्रस्तुत किया। .

नई!!: पद्म भूषण और बेग़म अख़्तर · और देखें »

बेंजामिन प्यारे पाल

बेंजामिन प्यारे पाल को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बेंजामिन प्यारे पाल · और देखें »

बोसी सेन

बोसी सेन को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बोसी सेन · और देखें »

बोई भीमन्ना

बोई भीमन्ना को सन २००१ में भारत सरकार ने साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बोई भीमन्ना · और देखें »

बी एन सरकार

बी एन सरकार को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1901 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८० में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और बी एन सरकार · और देखें »

बी नरसिंह रेड्डी

बी नरसिंह रेड्डी को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बी नरसिंह रेड्डी · और देखें »

बीरेंद्रनाथ गांगुली

बीरेंद्रनाथ गांगुली को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और बीरेंद्रनाथ गांगुली · और देखें »

भटनागर

महाराज चित्रगुप्त के परिवार में भटनागरों का स्थान भटनागर उत्तर भारत में प्रयुक्त होने वाला एक जातिनाम है, जो कि हिन्दुओं की कायस्थ जाति में आते है। इनका प्रादुर्भाव यमराज, मृत्यु के देवता, के पप पुण्य के अभिलेखक, श्री चित्रगुप्त जी की प्रथम पत्नी दक्षिणा नंदिनी के द्वितीय पुत्र विभानु के वंश से हुआ है। विभानु को चित्राक्ष नाम से भी जाना जाता है। महाराज चित्रगुप्त ने इन्हें भट्ट देश में मालवा क्षेत्र में भट नदी के पास भेजा था। इन्होंने वहां चित्तौर और चित्रकूट बसाये। ये वहीं बस गये और इनका वंश भटनागर कहलाया। .

नई!!: पद्म भूषण और भटनागर · और देखें »

भरत राम

भरत राम को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1914 में जन्मे लोग श्रेणी:२००७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और भरत राम · और देखें »

भारत रत्‍न

भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी। अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को भी नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता। प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान 1955 में बाद में जोड़ा गया। तत्पश्चात् 13 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया। सुभाष चन्द्र बोस को घोषित सम्मान वापस लिए जाने के उपरान्त मरणोपरान्त सम्मान पाने वालों की संख्या 12 मानी जा सकती है। एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है। उल्लेखनीय योगदान के लिए भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले सम्मानों में भारत रत्न के पश्चात् क्रमशः पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और भारत रत्‍न · और देखें »

भारत के थलसेनाध्यक्ष

भारत के थलसेनाध्यक्ष (चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ) भारत की थलसेना के सेनापति होते हैं। इस पद पर सामान्यतः जनरल पद के अधिकारी होते हैं। वर्तमान में जनरल बिपिन रावत इस पद पर आसीन हैं, जिन्होंने 31 दिसंबर 2016 को यह पद संभाला। .

नई!!: पद्म भूषण और भारत के थलसेनाध्यक्ष · और देखें »

भारत की सम्मान प्रणाली

भारत की सम्मान प्रणाली, भारतीय गणराज्य द्वारा दिए जाने वाले सम्मानों हेतु प्रयोग की जाने वाली प्रणाली है। निन्मलिखित अनेक प्रकार के पुरस्कार/ सम्मान हैं जो अलग-अलग भिन्न कारणों व परिस्थितियों के अनुसार दिए जाते हैं। भारत रत्न,परम वीर चक्र,पद्म सम्‍मान,शौर्य चक्र,अशोक चक्र इनमें से प्रमुख हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और भारत की सम्मान प्रणाली · और देखें »

भारतीय लेखकों की सूची

यहां भारतीय लेखकों (किसी भी भाषा के साहित्यकार) की सूची दी गयी है। .

नई!!: पद्म भूषण और भारतीय लेखकों की सूची · और देखें »

भारतीय सिनेमा

भारतीय सिनेमा के अन्तर्गत भारत के विभिन्न भागों और भाषाओं में बनने वाली फिल्में आती हैं जिनमें आंध्र प्रदेश और तेलंगाना, असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, जम्मू एवं कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और बॉलीवुड शामिल हैं। भारतीय सिनेमा ने २०वीं सदी की शुरुआत से ही विश्व के चलचित्र जगत पर गहरा प्रभाव छोड़ा है।। भारतीय फिल्मों का अनुकरण पूरे दक्षिणी एशिया, ग्रेटर मध्य पूर्व, दक्षिण पूर्व एशिया और पूर्व सोवियत संघ में भी होता है। भारतीय प्रवासियों की बढ़ती संख्या की वजह से अब संयुक्त राज्य अमरीका और यूनाइटेड किंगडम भी भारतीय फिल्मों के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार बन गए हैं। एक माध्यम(परिवर्तन) के रूप में सिनेमा ने देश में अभूतपूर्व लोकप्रियता हासिल की और सिनेमा की लोकप्रियता का इसी से अन्दाजा लगाया जा सकता है कि यहाँ सभी भाषाओं में मिलाकर प्रति वर्ष 1,600 तक फिल्में बनी हैं। दादा साहेब फाल्के भारतीय सिनेमा के जनक के रूप में जाना जाते हैं। दादा साहब फाल्के के भारतीय सिनेमा में आजीवन योगदान के प्रतीक स्वरुप और 1969 में दादा साहब के जन्म शताब्दी वर्ष में भारत सरकार द्वारा दादा साहेब फाल्के पुरस्कार की स्थापना उनके सम्मान में की गयी। आज यह भारतीय सिनेमा का सबसे प्रतिष्ठित और वांछित पुरस्कार हो गया है। २०वीं सदी में भारतीय सिनेमा, संयुक्त राज्य अमरीका का सिनेमा हॉलीवुड तथा चीनी फिल्म उद्योग के साथ एक वैश्विक उद्योग बन गया।Khanna, 155 2013 में भारत वार्षिक फिल्म निर्माण में पहले स्थान पर था इसके बाद नाइजीरिया सिनेमा, हॉलीवुड और चीन के सिनेमा का स्थान आता है। वर्ष 2012 में भारत में 1602 फ़िल्मों का निर्माण हुआ जिसमें तमिल सिनेमा अग्रणी रहा जिसके बाद तेलुगु और बॉलीवुड का स्थान आता है। भारतीय फ़िल्म उद्योग की वर्ष 2011 में कुल आय $1.86 अरब (₹ 93 अरब) की रही। जिसके वर्ष 2016 तक $3 अरब (₹ 150 अरब) तक पहुँचने का अनुमान है। बढ़ती हुई तकनीक और ग्लोबल प्रभाव ने भारतीय सिनेमा का चेहरा बदला है। अब सुपर हीरो तथा विज्ञानं कल्प जैसी फ़िल्में न केवल बन रही हैं बल्कि ऐसी कई फिल्में एंथीरन, रा.वन, ईगा और कृष 3 ब्लॉकबस्टर फिल्मों के रूप में सफल हुई है। भारतीय सिनेमा ने 90 से ज़्यादा देशों में बाजार पाया है जहाँ भारतीय फिल्मे प्रदर्शित होती हैं। Khanna, 158 सत्यजीत रे, ऋत्विक घटक, मृणाल सेन, अडूर गोपालकृष्णन, बुद्धदेव दासगुप्ता, जी अरविंदन, अपर्णा सेन, शाजी एन करुण, और गिरीश कासरावल्ली जैसे निर्देशकों ने समानांतर सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और वैश्विक प्रशंसा जीती है। शेखर कपूर, मीरा नायर और दीपा मेहता सरीखे फिल्म निर्माताओं ने विदेशों में भी सफलता पाई है। 100% प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के प्रावधान से 20वीं सेंचुरी फॉक्स, सोनी पिक्चर्स, वॉल्ट डिज्नी पिक्चर्स और वार्नर ब्रदर्स आदि विदेशी उद्यमों के लिए भारतीय फिल्म बाजार को आकर्षक बना दिया है। Khanna, 156 एवीएम प्रोडक्शंस, प्रसाद समूह, सन पिक्चर्स, पीवीपी सिनेमा,जी, यूटीवी, सुरेश प्रोडक्शंस, इरोज फिल्म्स, अयनगर्न इंटरनेशनल, पिरामिड साइमिरा, आस्कार फिल्म्स पीवीआर सिनेमा यशराज फिल्म्स धर्मा प्रोडक्शन्स और एडलैब्स आदि भारतीय उद्यमों ने भी फिल्म उत्पादन और वितरण में सफलता पाई। मल्टीप्लेक्स के लिए कर में छूट से भारत में मल्टीप्लेक्सों की संख्या बढ़ी है और फिल्म दर्शकों के लिए सुविधा भी। 2003 तक फिल्म निर्माण / वितरण / प्रदर्शन से सम्बंधित 30 से ज़्यादा कम्पनियां भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध की गयी थी जो फिल्म माध्यम के बढ़ते वाणिज्यिक प्रभाव और व्यसायिकरण का सबूत हैं। दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग दक्षिण भारत की चार फिल्म संस्कृतियों को एक इकाई के रूप में परिभाषित करता है। ये कन्नड़ सिनेमा, मलयालम सिनेमा, तेलुगू सिनेमा और तमिल सिनेमा हैं। हालाँकि ये स्वतंत्र रूप से विकसित हुए हैं लेकिन इनमे फिल्म कलाकारों और तकनीशियनों के आदान-प्रदान और वैष्वीकरण ने इस नई पहचान के जन्म में मदद की। भारत से बाहर निवास कर रहे प्रवासी भारतीय जिनकी संख्या आज लाखों में हैं, उनके लिए भारतीय फिल्में डीवीडी या व्यावसायिक रूप से संभव जगहों में स्क्रीनिंग के माध्यम से प्रदर्शित होती हैं। Potts, 74 इस विदेशी बाजार का भारतीय फिल्मों की आय में 12% तक का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। इसके अलावा भारतीय सिनेमा में संगीत भी राजस्व का एक साधन है। फिल्मों के संगीत अधिकार एक फिल्म की 4 -5 % शुद्ध आय का साधन हो सकते हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और भारतीय सिनेमा · और देखें »

भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष

3 मई 2013 (शुक्रवार) को भारतीय सिनेमा पूरे सौ साल का हो गया। किसी भी देश में बनने वाली फिल्में वहां के सामाजिक जीवन और रीति-रिवाज का दर्पण होती हैं। भारतीय सिनेमा के सौ वर्षों के इतिहास में हम भारतीय समाज के विभिन्न चरणों का अक्स देख सकते हैं।उल्लेखनीय है कि इसी तिथि को भारत की पहली फीचर फ़िल्म “राजा हरिश्चंद्र” का रुपहले परदे पर पदार्पण हुआ था। इस फ़िल्म के निर्माता भारतीय सिनेमा के जनक दादासाहब फालके थे। एक सौ वर्षों की लम्बी यात्रा में हिन्दी सिनेमा ने न केवल बेशुमार कला प्रतिभाएं दीं बल्कि भारतीय समाज और चरित्र को गढ़ने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। .

नई!!: पद्म भूषण और भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष · और देखें »

भारतीय सेना के युद्ध सम्मान

भारतीय सेना के युद्ध सम्मान उन उल्लेखनीय सेवा देने वाले सैनिको को दिए जाते है जिन्होंने शांति अथवा युद्ध काल में अपनी विशेष सेवाए दी। भारतीय सशस्‍त्र सेनाएँ सैन्य सम्मान के असंख्य पदको की पात्र हैं। असाधारण बहादुरी और साहस के लिए इन्हें सम्मानित किया जाता है, साथ ही साथ युद्ध और शांति के दौरान अनेको सेवा और अभियान पदक से सम्मानित किया गया है। .

नई!!: पद्म भूषण और भारतीय सेना के युद्ध सम्मान · और देखें »

भार्गवराम विट्ठल वारेरकर

भार्गवराम विट्ठल वारेरकर को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भार्गवराम विट्ठल वारेरकर · और देखें »

भालचंद्र दिगंबर गरवारे

भालचंद्र दिगंबर गरवारे को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भालचंद्र दिगंबर गरवारे · और देखें »

भालचंद्र नीलकांत पुरंदरे

भालचंद्र नीलकांत पुरंदरे को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भालचंद्र नीलकांत पुरंदरे · और देखें »

भालचंद्र साबाजी दीक्षित

भालचंद्र साबाजी दीक्षित को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भालचंद्र साबाजी दीक्षित · और देखें »

भालचंद्र उदगांवकर

भालचंद्र उदगांवकर को भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भालचंद्र उदगांवकर · और देखें »

भाई जोध सिंह

भाई जोध सिंह को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भाई जोध सिंह · और देखें »

भाई वीरसिंह

भाई वीरसिंह (1872-1957 ई.) आधुनिक पंजाबी साहित्य के प्रवर्तक; नाटककार, उपन्यासकार, निबंधलेखक, जीवनीलेखक तथा कवि। इन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में 1956 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और भाई वीरसिंह · और देखें »

भावेश चंद्र सान्याल

भावेश चंद्र सान्याल को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये मध्य प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भावेश चंद्र सान्याल · और देखें »

भाउराव पायगोंडा पाटिल

भाउराव पायगोंडा पाटिल को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भाउराव पायगोंडा पाटिल · और देखें »

भवानी चरन मुखर्जी

भवानी चरन मुखर्जी को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भवानी चरन मुखर्जी · और देखें »

भगवती चरण वर्मा

भगवती चरण वर्मा (३० अगस्त १९०३ - ५ अक्टूबर १९८८) हिन्दी के साहित्यकार थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और भगवती चरण वर्मा · और देखें »

भगवान सहाय

भगवान सहाय को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण श्रेणी:जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल.

नई!!: पद्म भूषण और भगवान सहाय · और देखें »

भगवंतराव अन्नाभाउ मंडलोइ

भगवंंतराव मंंडलोई (१८९२-१९७७) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनेता एवं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उन्हें १९७० में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1892 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और भगवंतराव अन्नाभाउ मंडलोइ · और देखें »

भक्त बी रथ

भक्त बी रथ को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और भक्त बी रथ · और देखें »

भुपेन हजारिका

भुपेन हजारिका (ভূপেন হাজৰিকা भूपेन हाजोरिका) (8 सितंबर, 1926- ५ नवम्बर २०११) भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम से एक बहुमुखी प्रतिभा के गीतकार, संगीतकार और गायक थे। इसके अलावा वे असमिया भाषा के कवि, फिल्म निर्माता, लेखक और असम की संस्कृति और संगीत के अच्छे जानकार भी रहे थे। वे भारत के ऐसे विलक्षण कलाकार थे जो अपने गीत खुद लिखते थे, संगीतबद्ध करते थे और गाते थे। उन्हें दक्षिण एशिया के श्रेष्ठतम जीवित सांस्कृतिक दूतों में से एक माना जाता है। उन्होंने कविता लेखन, पत्रकारिता, गायन, फिल्म निर्माण आदि अनेक क्षेत्रों में काम किया। भूपेन हजारिका के गीतों ने लाखों दिलों को छुआ। हजारिका की असरदार आवाज में जिस किसी ने उनके गीत "दिल हूम हूम करे" और "ओ गंगा तू बहती है क्यों" सुना वह इससे इंकार नहीं कर सकता कि उसके दिल पर भूपेन दा का जादू नहीं चला। अपनी मूल भाषा असमिया के अलावा भूपेन हजारिका हिंदी, बंगला समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं में गाना गाते रहे थे। उनहोने फिल्म "गांधी टू हिटलर" में महात्मा गांधी का पसंदीदा भजन "वैष्णव जन" गाया था। उन्हें पद्मभूषण सम्मान से भी सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और भुपेन हजारिका · और देखें »

भूपति मोहन सेन

भूपति मोहन सेन को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भूपति मोहन सेन · और देखें »

भूपतिराजु विस्सम राजु

भूपतिराजु विस्सम राजु को सन २००१ में भारत सरकार ने उद्योग एवं व्यापार क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भूपतिराजु विस्सम राजु · और देखें »

भोलेनाथ मलिक

भोलेनाथ मलिक को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भोलेनाथ मलिक · और देखें »

भोगीलाल पांड्या

भोगीलाल पांड्या को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और भोगीलाल पांड्या · और देखें »

भीमसेन जोशी

पंडित भीमसेन गुरुराज जोशी (ಪಂಡಿತ ಭೀಮಸೇನ ಗುರುರಾಜ ಜೋಷಿ, जन्म: फरवरी ०४, १९२२) शास्त्रीय संगीत के हिन्दुस्तानी संगीत शैली के सबसे प्रमुख गायकों में से एक है। .

नई!!: पद्म भूषण और भीमसेन जोशी · और देखें »

भीष्म साहनी

रावलपिंडी पाकिस्तान में जन्मे भीष्म साहनी (८ अगस्त १९१५- ११ जुलाई २००३) आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रमुख स्तंभों में से थे। १९३७ में लाहौर गवर्नमेन्ट कॉलेज, लाहौर से अंग्रेजी साहित्य में एम ए करने के बाद साहनी ने १९५८ में पंजाब विश्वविद्यालय से पीएचडी की उपाधि हासिल की। भारत पाकिस्तान विभाजन के पूर्व अवैतनिक शिक्षक होने के साथ-साथ ये व्यापार भी करते थे। विभाजन के बाद उन्होंने भारत आकर समाचारपत्रों में लिखने का काम किया। बाद में भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) से जा मिले। इसके पश्चात अंबाला और अमृतसर में भी अध्यापक रहने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय में साहित्य के प्रोफेसर बने। १९५७ से १९६३ तक मास्को में विदेशी भाषा प्रकाशन गृह (फॉरेन लॅग्वेजेस पब्लिकेशन हाउस) में अनुवादक के काम में कार्यरत रहे। यहां उन्होंने करीब दो दर्जन रूसी किताबें जैसे टालस्टॉय आस्ट्रोवस्की इत्यादि लेखकों की किताबों का हिंदी में रूपांतर किया। १९६५ से १९६७ तक दो सालों में उन्होंने नयी कहानियां नामक पात्रिका का सम्पादन किया। वे प्रगतिशील लेखक संघ और अफ्रो-एशियायी लेखक संघ (एफ्रो एशियन राइटर्स असोसिएशन) से भी जुड़े रहे। १९९३ से ९७ तक वे साहित्य अकादमी के कार्यकारी समीति के सदस्य रहे। भीष्म साहनी को हिन्दी साहित्य में प्रेमचंद की परंपरा का अग्रणी लेखक माना जाता है। वे मानवीय मूल्यों के लिए हिमायती रहे और उन्होंने विचारधारा को अपने ऊपर कभी हावी नहीं होने दिया। वामपंथी विचारधारा के साथ जुड़े होने के साथ-साथ वे मानवीय मूल्यों को कभी आंखो से ओझल नहीं करते थे। आपाधापी और उठापटक के युग में भीष्म साहनी का व्यक्तित्व बिल्कुल अलग था। उन्हें उनके लेखन के लिए तो स्मरण किया ही जाएगा लेकिन अपनी सहृदयता के लिए वे चिरस्मरणीय रहेंगे। भीष्म साहनी हिन्दी फ़िल्मों के जाने माने अभिनेता बलराज साहनी के छोटे भाई थे। उन्हें १९७५ में तमस के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार, १९७५ में शिरोमणि लेखक अवार्ड (पंजाब सरकार), १९८० में एफ्रो एशियन राइटर्स असोसिएशन का लोटस अवार्ड, १९८३ में सोवियत लैंड नेहरू अवार्ड तथा १९९८ में भारत सरकार के पद्मभूषण अलंकरण से विभूषित किया गया। उनके उपन्यास तमस पर १९८६ में एक फिल्म का निर्माण भी किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और भीष्म साहनी · और देखें »

भीखू पारेख

भीखू पारेख को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और भीखू पारेख · और देखें »

मणिभाई जे पटेल

मणिभाई जे पटेल को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये मध्य प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मणिभाई जे पटेल · और देखें »

मणींद्रनाथ चक्रवर्ती

मणींद्रनाथ चक्रवर्ती को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मणींद्रनाथ चक्रवर्ती · और देखें »

मदथ ठेकेपत वासुदेवन नायर

मदथ ठेकेपत वासुदेवन नायर को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये केरल राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मदथ ठेकेपत वासुदेवन नायर · और देखें »

मदन मोहन सिंह

मदन मोहन सिंह को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मदन मोहन सिंह · और देखें »

मदुरई तिरुमलय नंबी शेषगोपालन

मदुरई तिरुमलय नंबी शेषगोपालन को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मदुरई तिरुमलय नंबी शेषगोपालन · और देखें »

मदुरई नारायण कृष्णन

मदुरई नारायण कृष्णन को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मदुरई नारायण कृष्णन · और देखें »

मद्पति हनुमंत राव

मद्पति हनुमंत राव को समाज सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मद्पति हनुमंत राव · और देखें »

मनमोहन शर्मा

मनमोहन शर्मा को १९८६ में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मनमोहन शर्मा · और देखें »

मनसुखलाल आत्माराम मास्टर

मनसुखलाल आत्माराम मास्टर को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मनसुखलाल आत्माराम मास्टर · और देखें »

मनाली वैनू बापू

मनाली वैनू बापू को भारत सरकार द्वारा १९८१ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मनाली वैनू बापू · और देखें »

मनुभाई राजाराम पंचोली

मनुभाई राजाराम पंचोली को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये गुजरात से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मनुभाई राजाराम पंचोली · और देखें »

मन्नतु पद्मनाभन

मन्नतु पद्मनाभन को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९६६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मन्नतु पद्मनाभन · और देखें »

मन्ना डे

मन्ना डे (1 मई 1919 - 24 अक्टूबर 2013), जिन्हें प्यार से मन्ना दा के नाम से भी जाना जाता है, फिल्म जगत के एक सुप्रसिद्ध भारतीय पार्श्व गायक थे। उनका वास्तविक नाम प्रबोध चन्द्र डे था। मन्ना दा ने सन् 1942 में फ़िल्म तमन्ना से अपने फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत की और 1942 से 2013 तक लगभग 3000 से अधिक गानों को अपनी आवाज दी। मुख्यतः हिन्दी एवं बंगाली फिल्मी गानों के अलावा उन्होंने अन्य भारतीय भाषाओं में भी अपने कुछ गीत रिकॉर्ड करवाये। भारत सरकार ने उन्हें 1971 में पद्म श्री, 2005 में पद्म भूषण एवं 2007 में दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और मन्ना डे · और देखें »

मनोहर लाल छिब्बर

मनोहर लाल छिब्बर को भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मनोहर लाल छिब्बर · और देखें »

ममिदिपुडी वेंकटाअरंगया

ममिदिपुडी वेंकटाअरंगया को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और ममिदिपुडी वेंकटाअरंगया · और देखें »

मल्लिकार्जुन बी मंसूर

मल्लिकार्जुन भीमारयप्पा मंसूर (कन्नड़:ಮಲ್ಲಿಕಾರ್ಜುನ ಮನ್ಸೂರ್) (१९१०-१९९२) हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में जयपुर-अतरौली घराने के खयाल शैली के गायक थे। इनको भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और मल्लिकार्जुन बी मंसूर · और देखें »

मलूर रामास्वामी श्रीनिवासन

मलूर रामास्वामी श्रीनिवासन को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मलूर रामास्वामी श्रीनिवासन · और देखें »

महादेव अइयर गणपति

महादेव अइयर गणपति को प्रशासकीय सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महादेव अइयर गणपति · और देखें »

महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है। कवि निराला ने उन्हें “हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती” भी कहा है। महादेवी ने स्वतंत्रता के पहले का भारत भी देखा और उसके बाद का भी। वे उन कवियों में से एक हैं जिन्होंने व्यापक समाज में काम करते हुए भारत के भीतर विद्यमान हाहाकार, रुदन को देखा, परखा और करुण होकर अन्धकार को दूर करने वाली दृष्टि देने की कोशिश की। न केवल उनका काव्य बल्कि उनके सामाजसुधार के कार्य और महिलाओं के प्रति चेतना भावना भी इस दृष्टि से प्रभावित रहे। उन्होंने मन की पीड़ा को इतने स्नेह और शृंगार से सजाया कि दीपशिखा में वह जन-जन की पीड़ा के रूप में स्थापित हुई और उसने केवल पाठकों को ही नहीं समीक्षकों को भी गहराई तक प्रभावित किया। उन्होंने खड़ी बोली हिन्दी की कविता में उस कोमल शब्दावली का विकास किया जो अभी तक केवल बृजभाषा में ही संभव मानी जाती थी। इसके लिए उन्होंने अपने समय के अनुकूल संस्कृत और बांग्ला के कोमल शब्दों को चुनकर हिन्दी का जामा पहनाया। संगीत की जानकार होने के कारण उनके गीतों का नाद-सौंदर्य और पैनी उक्तियों की व्यंजना शैली अन्यत्र दुर्लभ है। उन्होंने अध्यापन से अपने कार्यजीवन की शुरूआत की और अंतिम समय तक वे प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रधानाचार्या बनी रहीं। उनका बाल-विवाह हुआ परंतु उन्होंने अविवाहित की भांति जीवन-यापन किया। प्रतिभावान कवयित्री और गद्य लेखिका महादेवी वर्मा साहित्य और संगीत में निपुण होने के साथ-साथ कुशल चित्रकार और सृजनात्मक अनुवादक भी थीं। उन्हें हिन्दी साहित्य के सभी महत्त्वपूर्ण पुरस्कार प्राप्त करने का गौरव प्राप्त है। भारत के साहित्य आकाश में महादेवी वर्मा का नाम ध्रुव तारे की भांति प्रकाशमान है। गत शताब्दी की सर्वाधिक लोकप्रिय महिला साहित्यकार के रूप में वे जीवन भर पूजनीय बनी रहीं। वर्ष २००७ उनकी जन्म शताब्दी के रूप में मनाया गया।२७ अप्रैल १९८२ को भारतीय साहित्य में अतुलनीय योगदान के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार से इन्हें सम्मानित किया गया था। गूगल ने इस दिवस की याद में वर्ष २०१८ में गूगल डूडल के माध्यम से मनाया । .

नई!!: पद्म भूषण और महादेवी वर्मा · और देखें »

महाराज कुमार पाल्देन टी नाम्ग्याल

महाराज कुमार पाल्देन टी नाम्ग्याल को सार्वजनिक उपक्रम क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महाराज कुमार पाल्देन टी नाम्ग्याल · और देखें »

महाराज कृष्ण रसगोत्रा

महाराज कृष्ण रसगोत्रा (जन्म: ११ सितम्बर १९२४) को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:1924 में जन्मे लोग श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महाराज कृष्ण रसगोत्रा · और देखें »

महाराजपुरम सीताराम कृष्णन

महाराजपुरम सीताराम कृष्णन को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महाराजपुरम सीताराम कृष्णन · और देखें »

महेश प्रसाद मैहरे

महेश प्रसाद मैहरे को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महेश प्रसाद मैहरे · और देखें »

महेश्वर दयाल

महेश्वर दयाल को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और महेश्वर दयाल · और देखें »

महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी अथवा मानद लेफ्टिनेंट कर्नल महेंद्र सिंह धोनी (एम एस धोनी भी) झारखंड, रांची के एक राजपूत परिवार में जन्मे पद्म भूषण, पद्म श्री और राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित भारतीय क्रिकेटर हैं। धोनी भारतीय क्रिकेटर तथा भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान हैं और भारत के सबसे सफल एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कप्तान हैं। शुरुआत में एक असाधारण उज्जवल व आक्रामक बल्लेबाज़ के नाम पर जाने गए। धोनी धीरे-धीरे भारतीय एक दिवसीय के सबसे शांतचित्त कप्तानों में से जाने जाते हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने २००७ आईसीसी विश्व ट्वेन्टी २०, २००७-०८ कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज २००७-२००८ के सीबी सीरीज़ और बॉर्डर-गावस्कर ट्राफी जीती जिसमें भारत ने ऑस्ट्रेलिया को २-० से हराया उन्होंने भारतीय टीम को श्रीलंका और न्यूजीलैंड में पहली अतिरिक्त वनडे सीरीज़ जीत दिलाई ०२ सितम्बर २०१४ को उन्होंने भारत को २४ साल बाद इंग्लैंड में वनडे सीरीज में जीत दिलाई। धोनी ने कई सम्मान भी प्राप्त किए हैं जैसे २००८ में आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ़ द इयर अवार्ड (प्रथम भारतीय खिलाड़ी जिन्हें ये सम्मान मिला), राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार और २००९ में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्म श्री पुरस्कार साथ ही २००९ में विस्डन के सर्वप्रथम ड्रीम टेस्ट ग्यारह टीम में धोनी को कप्तान का दर्जा दिया गया। उनकी कप्तानी में भारत ने २८ साल बाद एक दिवसीय क्रिकेट विश्व कप में दुबारा जीत हासिल की। सन् २०१३ में इनकी कप्तानी में भारत पहली बार चैम्पियंस ट्रॉफी का विजेता बना। धोनी दुनिया के पहले ऐसे कप्तान बन गये जिनके पास आईसीसी के सभी कप है। इन्होंने २०१४ में टेस्ट क्रिकेट को कप्तानी के साथ अलविदा कह दिया था। इनके इस फैसले से क्रिकेट जगत स्तब्ध रह गया। धोनी लगातार दूसरी बार क्रिकेट विश्व कप में २०१५ क्रिकेट विश्व कप में भारत का नेतृत्व किया और पहली बार भारत ने सभी ग्रुप मैच जीते साथ ही इन्होंने लगातार ११ विश्व कप में मैच जीतकर नया रिकार्ड भी बनाया ये भारत के पहले ऐसे कप्तान बने जिन्होंने १०० वनडे मैच जिताए हो। और उन्होनें कहा है कि जल्द ही वो एक ऐसा कदम उठाएंगे जो किसी कप्तान ने अपने कैरियर में नहीं उठाया वो टीम को २ हिस्सों में बाटेंगे जो खिलाड़ी अच्छा नहीं खेलेगा उसे वो दूसरी टीम में डाल देंगे और जो खिलाड़ी अच्छा खेलेगा वो उसे अपनी टीम में रख लेंगे इसमें कुछ नये खिलाड़ी भी आ सकते हैं। धोनी ने ४ जनवरी २०१७ को भारतीय एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय और ट्वेन्टी-ट्वेन्टी टीम की कप्तानी छोड़ी। .

नई!!: पद्म भूषण और महेंद्र सिंह धोनी · और देखें »

माणिक्यलाल वर्मा

माणिक्यलाल वर्मा को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और माणिक्यलाल वर्मा · और देखें »

माधव सदशिव गोरे

माधव सदशिव गोरे को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और माधव सदशिव गोरे · और देखें »

माधव विट्ठल कामत

माधव विट्ठल कामत माधव विट्ठल कामत (7 सितम्बर 1921 - 9 अक्टूबर 2014) भारत के पत्रकार थे। वे प्रसार भारती के पूर्व अध्यक्ष भी थे। १९६७-६९ के बीच वे सण्डे टाइम्स के सम्पादक भी रहे तथा १९६९-७८ के बीच टाइम्स ऑफ इण्डिया के वाशिंगटन सम्वाददाता रहे। वे इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इण्डिया के सम्पादक भी रहे। वे मणिपाल संचार संस्थान (Manipal Institute of Communication) के मानद निदेशक भी थे। उन्होने लगभग ५० पुस्तकों की रचना भी की है जिनमें 'रिपोर्ट एट लार्ज' और नरेन्द्र मोदी के ऊपर लिखी गई 'नरेंद्र मोदी-द आर्किटेक्ट ऑफ मॉडर्न स्टेट' काफी प्रसिद्ध रहीं। २००४ में उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और माधव विट्ठल कामत · और देखें »

माधव गाडगिल

माधव गाडगिल को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और माधव गाडगिल · और देखें »

माधवराव खंडाराव बागल

माधवराव खंडाराव बागल को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और माधवराव खंडाराव बागल · और देखें »

मानेकलाल सकलचंद ठाकर

मानेकलाल सकलचंद ठाकर को साहित्य एवं शिक्षा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मानेकलाल सकलचंद ठाकर · और देखें »

मारियादास रुथनास्वामी

मारियादास रुथनास्वामी को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मारियादास रुथनास्वामी · और देखें »

मारियो डे मिरांडा

मारियो डे मिरांडा को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गोआ से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मारियो डे मिरांडा · और देखें »

मारियो मिरांडा

१९९८ में पद्मश्री और २००२ में पद्मभूषण प्राप्त करने वाले मारियो डी मिरांडा का जन्म दमन में हुआ। मारियो मिरांडा के कार्टून वर्षों से द टाइम्स ऑफ़ इंडिया और इकोनोमिक टाइम्स में प्रकाशित होते आए हैं। मारियो को विशेष तौर पर इलेस्ट्रेटेड वीकली के लिए बनाये इनके कार्टून्स के लिए जाना जाता है। इन्होनें दो दशक तक गोआ के जीवन शैली को कैनवस पर हमारे लिये लाया। इनके कार्टून्स में विशेषकर मिस फोन्सेन्का को हमेशा मिस करेंगे। Category:व्यंग्यकार Category:कार्टूनिस्ट Category:कार्टून Category:भारतीय कार्टूनिस्ट Category:Indian editorial cartoonists.

नई!!: पद्म भूषण और मारियो मिरांडा · और देखें »

मार्तंड सिंह

मार्तंड सिंह को भारत सरकार ने सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मार्तंड सिंह · और देखें »

मार्तंड वर्मा शंकरन वलियानाथन

मार्तंड वर्मा शंकरन वलियानाथन को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:केरल के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और मार्तंड वर्मा शंकरन वलियानाथन · और देखें »

मार्क टली

सर विलियम "मार्क" टली, केबीई (जन्म 1936, कलकत्ता, भारत), बीबीसी के नई दिल्ली स्थित ब्यूरो के पूर्व अध्यक्ष हैं। जुलाई 1994 में इस्तीफे से पूर्व उन्होंने 30 वर्ष की अवधि तक बीबीसी के लिए कार्य किया। उन्होंने 20 वर्ष तक बीबीसी के दिल्ली स्थित ब्यूरो के अध्यक्ष पद को संभाला.

नई!!: पद्म भूषण और मार्क टली · और देखें »

मालुर श्रीनिवास तिरुमलै अयंगार

मालुर श्रीनिवास तिरुमलै अयंगार को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मालुर श्रीनिवास तिरुमलै अयंगार · और देखें »

माखनलाल चतुर्वेदी

माखनलाल चतुर्वेदी (४ अप्रैल १८८९-३० जनवरी १९६८) भारत के ख्यातिप्राप्त कवि, लेखक और पत्रकार थे जिनकी रचनाएँ अत्यंत लोकप्रिय हुईं। सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के वे अनूठे हिंदी रचनाकार थे। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जोरदार प्रचार किया और नई पीढी का आह्वान किया कि वह गुलामी की जंज़ीरों को तोड़ कर बाहर आए। इसके लिये उन्हें अनेक बार ब्रिटिश साम्राज्य का कोपभाजन बनना पड़ा। वे सच्चे देशप्रमी थे और १९२१-२२ के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुए जेल भी गए। आपकी कविताओं में देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का भी चित्रण हुआ है। .

नई!!: पद्म भूषण और माखनलाल चतुर्वेदी · और देखें »

माइकल फरेरा

माइकल फरेरा को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और माइकल फरेरा · और देखें »

मिठान जमशेद लाम

मिठान जमशेद लाम को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मिठान जमशेद लाम · और देखें »

मिनोरु हारा

मिनोरु हारा को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये विदेशी हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और मिनोरु हारा · और देखें »

मिहिर कुमार सेन

मिहिर कुमार सेन को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मिहिर कुमार सेन · और देखें »

मंबलिकलातिल शारदा मेनन

मंबलिकलातिल शारदा मेनन भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मंबलिकलातिल शारदा मेनन · और देखें »

मंगतुराम जयपुरिया

मंगतुराम जयपुरिया को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मंगतुराम जयपुरिया · और देखें »

मकबूल फ़िदा हुसैन

मक़बूल फ़िदा हुसैन (जन्म सितम्बर १७, १९१५, पंढरपुर), (मृत्यु जून 09, 2011, लंदन),एम एफ़ हुसैन के नाम से जाने जाने वाले भारतीय चित्रकार थे। एक कलाकार के तौर पर उन्हे सबसे पहले १९४० के दशक में ख्याति मिली। १९५२ में उनकी पहली एकल प्रदर्शनी ज़्युरिक में हुई। इसके बाद उनकी कलाकृतियों की अनेक प्रदर्शनियां यूरोप और अमेरिका में हुईं। १९६६ में भारत सरकार ने उन्हे पद्मश्री से सम्मानित किया। उसके एक साल बाद उन्होने अपनी पहली फ़िल्म बनायी: थ्रू द आइज़ ऑफ अ पेन्टर (चित्रकार की दृष्टि से)। यह फ़िल्म बर्लिन उत्सव में दिखायी गयी और उसे 'गोल्डेन बियर' से पुरस्कृत किया गया। .

नई!!: पद्म भूषण और मकबूल फ़िदा हुसैन · और देखें »

मुडुंबई शेषचालु नरसिंहन

मुडुंबई शेषचालु नरसिंहन को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुडुंबई शेषचालु नरसिंहन · और देखें »

मुत्तु कृष्ण मणि

मुत्तु कृष्ण मणि को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुत्तु कृष्ण मणि · और देखें »

मुत्तुलक्ष्मी रेड्डी

मुत्तुलक्ष्मी रेड्डी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुत्तुलक्ष्मी रेड्डी · और देखें »

मुरुगप्पा चेन्नवीरप्पा मोदी

मुरुगप्पा चेन्नवीरप्पा मोदी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण श्रेणी:1916 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और मुरुगप्पा चेन्नवीरप्पा मोदी · और देखें »

मुल्कराज चोपड़ा

मुल्कराज चोपड़ा को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तराखंड राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुल्कराज चोपड़ा · और देखें »

मुल्कराज आनंद

मुल्कराज आनंद भारत में अंग्रेज़ी साहित्य के क्षेत्र के प्रख्यात लेखक थे। मुल्कराज आनंद का जन्म १२ दिसम्बर १९०५ को पेशावर में हुआ था जो अब पाकिस्तान में है। उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ़ लंदन तथा केंब्रिज विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर पीएचडी की उपाधि हासिल की.

नई!!: पद्म भूषण और मुल्कराज आनंद · और देखें »

मुहम्मद मुजीब

मुहम्मद मुजीब को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मद मुजीब · और देखें »

मुहम्मद युसुफ खान

मुहम्मद युसुफ खान को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। मुहम्मद यूसुफ खान(१७२५ - १५ अक्टूबर १७६४)उर्फ मारुथानायम पिल्लई का जन्म १७२५ में भारत के तमिलनाडु के रामाननाथपुरम इलाके पानैयूर में हुआ था। विनम्र शुरुआत से, वह आरकोट सैनिकों में एक योद्धा बन गया, बाद में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के सैनिकों के लिए कमांडेंट। ब्रिटिश और आरकॉट नवाब ने तमिलनाडु के दक्षिण में पॉलीगर्स (पलायककर) को दबाने के लिए उसका इस्तेमाल किया। बाद में मदुरै नायकों का शासन समाप्त होने पर उन्हें मदुरई देश के प्रशासन के लिए सौंपा गया। बाद में ब्रिटिश और आरकोट नवाब के साथ एक विवाद पैदा हुआ, और उनके तीन सहयोगियों को यूसुफ खान को पकड़ने के लिए रिश्वत दी गई; १५ मई १७६४ को मदुरा में लटका दिया गया था। इस समय के आसपास, एक अंग्रेज कप्तान ब्रूनन ने यूसुफ खान को शिक्षित किया, जिससे वह कई भाषाओं में अच्छी तरह से जानी जाने वाली एक सीखा व्यक्ति बन गई। तंजौर से वह नेल्लोर(वर्तमान में आंध्र प्रदेश)में चले गए, सेना में अपने करियर के अलावा, मोहम्मद कमल के तहत एक देशी चिकित्सक के रूप में अपना हाथ आज़माने के लिए। वह थंडलगर (कर संग्राहक), हवलदार और अंततः एक सुबेदार के रूप में रैंकों में चले गए और इसी तरह उन्हें अंग्रेजी रिकॉर्ड('नेल्लोर सुबेदार' या सिर्फ 'नेल्लोर')में संदर्भित किया गया। बाद में उन्होंने चंदा साहिब के तहत भर्ती कराया जो तब आरकॉट के नवाब थे। आर्कोट में रहने के दौरान वह 'पुर्तगाली' ईसाई (मिश्रित इंडो-यूरोपीय वंश के व्यक्ति के लिए एक ढीला शब्द) मासा (मार्शा/मार्सिया) नामक लड़की के साथ प्यार में गिर गई और उससे शादी कर ली। .

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मद युसुफ खान · और देखें »

मुहम्मद हयात

मुहम्मद हयात को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:कर्नाटक के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मद हयात · और देखें »

मुहम्मद खलीलुल्लाह

मुहम्मद खलीलुल्लाह को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:दिल्ली के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मद खलीलुल्लाह · और देखें »

मुहम्मद अब्दुल हाय

मुहम्मद अब्दुल हाय को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये बिहार राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मद अब्दुल हाय · और देखें »

मुहम्मब युनुस

मुहम्मब युनुस को १९८६ में भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुहम्मब युनुस · और देखें »

मुकुट बिहारी माथुर

मुकुट बिहारी माथुर को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मुकुट बिहारी माथुर · और देखें »

मौलाना हुसैन अहमद मदनी

मौलाना हुसैन अहमद मदनी को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मौलाना हुसैन अहमद मदनी · और देखें »

मौलाना अब्दुल करीम पारेख

मौलाना अब्दुल करीम पारेख को सन २००१ में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मौलाना अब्दुल करीम पारेख · और देखें »

मृणाल मीरि

मृणाल मीरि को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये मेघालय राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मृणाल मीरि · और देखें »

मृणाल सेन

मृणाल सेन (बांग्ला: মৃণাল সেন मृणाल् शेन्) भारतीय फ़िल्मों के प्रसिद्ध निर्माता व निर्देशक हैं। इनकी अधिकतर फ़िल्में बांग्ला भाषा में हैं। उनका जन्म फरीदपुर नामक शहर में (जो अब बंगला देश में है) में १४ मई १९२३ में हुआ था। हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण करने बाद उन्होंने शहर छोड़ दिया और कोलकाता में पढ़ने के लिये आ गये। वह भौतिक शास्त्र के विद्यार्थी थे और उन्होंने अपनी शिक्षा स्कोटिश चर्च कॉलेज़ एवं कलकत्ता यूनिवर्सिटी से पूरी की। अपने विद्यार्थी जीवन में ही वे वह कम्युनिस्ट पार्टी के सांस्कृतिक विभाग से जुड़ गये। यद्यपि वे कभी इस पार्टी के सदस्य नहीं रहे पर इप्टा से जुड़े होने के कारण वे अनेक समान विचारों वाले सांस्कृतिक रुचि के लोगों के परिचय में आ गए | .

नई!!: पद्म भूषण और मृणाल सेन · और देखें »

मृणालदत्त चौधरी

मृणालदत्त चौधरी को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मृणालदत्त चौधरी · और देखें »

मृणालिनी साराभाई

मृणालिनी साराभाई भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये गुजरात से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मृणालिनी साराभाई · और देखें »

मैथिलीशरण गुप्त

राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त (३ अगस्त १८८६ – १२ दिसम्बर १९६४) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि थे। हिन्दी साहित्य के इतिहास में वे खड़ी बोली के प्रथम महत्त्वपूर्ण कवि हैं। उन्हें साहित्य जगत में 'दद्दा' नाम से सम्बोधित किया जाता था। उनकी कृति भारत-भारती (1912) भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय में काफी प्रभावशाली साबित हुई थी और इसी कारण महात्मा गांधी ने उन्हें 'राष्ट्रकवि' की पदवी भी दी थी। उनकी जयन्ती ३ अगस्त को हर वर्ष 'कवि दिवस' के रूप में मनाया जाता है। महावीर प्रसाद द्विवेदी जी की प्रेरणा से आपने खड़ी बोली को अपनी रचनाओं का माध्यम बनाया और अपनी कविता के द्वारा खड़ी बोली को एक काव्य-भाषा के रूप में निर्मित करने में अथक प्रयास किया। इस तरह ब्रजभाषा जैसी समृद्ध काव्य-भाषा को छोड़कर समय और संदर्भों के अनुकूल होने के कारण नये कवियों ने इसे ही अपनी काव्य-अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया। हिन्दी कविता के इतिहास में यह गुप्त जी का सबसे बड़ा योगदान है। पवित्रता, नैतिकता और परंपरागत मानवीय सम्बन्धों की रक्षा गुप्त जी के काव्य के प्रथम गुण हैं, जो 'पंचवटी' से लेकर जयद्रथ वध, यशोधरा और साकेत तक में प्रतिष्ठित एवं प्रतिफलित हुए हैं। साकेत उनकी रचना का सर्वोच्च शिखर है। .

नई!!: पद्म भूषण और मैथिलीशरण गुप्त · और देखें »

मैरी सेतों

मैरी सेतों को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मैरी सेतों · और देखें »

मैरी क्लबवाला जाधव

मैरी क्लबवाला जाधव को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मैरी क्लबवाला जाधव · और देखें »

मैल्कम सत्यनाथन आदिशेशैया

मैल्कम सत्यनाथन आदिशेशैया को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मैल्कम सत्यनाथन आदिशेशैया · और देखें »

मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास

मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास (1916-1999) भारत के सुप्रसिद्ध समाजशास्त्री थे। उन्होने दक्षिण भारत में जाति तथा जाति प्रथा, सामाजिक स्तरीकरण, सांस्कृतीकरण तथा पश्चिमीकरण पर कार्य किया। उन्होने 'प्रबल जाति' (Dominant Caste) की अवधारण प्रस्तुत की। 'मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास' को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और मैसूर नरसिंहाचार श्रीनिवास · और देखें »

मैसूर कन्कन्हहल्ली वासुदेवाचारी

मैसूर कन्कन्हहल्ली वासुदेवाचारी को कला के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मैसूर कन्कन्हहल्ली वासुदेवाचारी · और देखें »

मेखला झा

मेखला झा को भारत सरकार द्वारा १९८१ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मेखला झा · और देखें »

मोटूरि सत्यनारायण

200pxमोटूरि सत्‍यनारायण (२ फ़रवरी १९०२ - ६ मार्च १९९५) दक्षिण भारत में हिन्दी प्रचार आन्दोलन के संगठक, हिन्दी के प्रचार-प्रसार-विकास के युग-पुरुष, महात्मा गांधी से प्रभावित एवं गाँधी-दर्शन एवं जीवन मूल्यों के प्रतीक, हिन्दी को राजभाषा घोषित कराने तथा हिन्दी के राजभाषा के स्वरूप का निर्धारण कराने वाले सदस्यों में दक्षिण भारत के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक थे। वे दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा, राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा तथा केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के निर्माता भी हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और मोटूरि सत्यनारायण · और देखें »

मोती चंद्र

मोती चंद्र को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोती चंद्र · और देखें »

मोहन सिंह ओबराय

मोहन सिंह ओबराय को सन २००१ में भारत सरकार ने उद्योग एवं व्यापार क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोहन सिंह ओबराय · और देखें »

मोहन सिंह कोहली

मोहन सिंह कोहली को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोहन सिंह कोहली · और देखें »

मोहनलाल लालूभाई दांतवाला

मोहनलाल लालूभाई दांतवाला को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोहनलाल लालूभाई दांतवाला · और देखें »

मोहनलाल सोनी

मोहनलाल सोनी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोहनलाल सोनी · और देखें »

मोहिंदर सिंह रणधावा

मोहिंदर सिंह रणधावा को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब से थे। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:1909 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८८ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और मोहिंदर सिंह रणधावा · और देखें »

मोगुभाई कुर्दीकर

मोगुभाई कुर्दीकर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और मोगुभाई कुर्दीकर · और देखें »

यश चोपड़ा

यश चोपड़ा (अंग्रेजी: Yash Chopra जन्म: 27 सितम्बर 1932 – मृत्यु: 21 अक्टूबर 2012) हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध निर्देशक थे। बाद में उन्होंने कुछ अच्छी फिल्मों का निर्माण भी किया। उन्होंने अपने भाई बी० आर० चोपड़ा और आई० एस० जौहर के साथ बतौर सहायक निर्देशक फिल्म जगत में प्रवेश किया। 1959 में उन्होंने अपनी पहली फिल्म धूल का फूल बनायी थी। उसके बाद 1961 में धर्मपुत्र आयी। 1965 में बनी फिल्म वक़्त से उन्हें अपार शोहरत हासिल हुई। उन्हें फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कई पुरस्कार व सम्मान प्राप्त हुए। बालीवुड जगत से फिल्म फेयर पुरस्कार, राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के अतिरिक्त भारत सरकार ने उन्हें 2005 में भारतीय सिनेमा में उनके योगदान के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और यश चोपड़ा · और देखें »

यशपाल

---- यशपाल (३ दिसम्बर १९०३ - २६ दिसम्बर १९७६) का नाम आधुनिक हिन्दी साहित्य के कथाकारों में प्रमुख है। ये एक साथ ही क्रांतिकारी एवं लेखक दोनों रूपों में जाने जाते है। प्रेमचंद के बाद हिन्दी के सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कथाकारों में इनका नाम लिया जाता है। अपने विद्यार्थी जीवन से ही यशपाल क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़े, इसके परिणामस्वरुप लम्बी फरारी और जेल में व्यतीत करना पड़ा। इसके बाद इन्होने साहित्य को अपना जीवन बनाया, जो काम कभी इन्होने बंदूक के माध्यम से किया था, अब वही काम इन्होने बुलेटिन के माध्यम से जनजागरण का काम शुरु किया। यशपाल को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और यशपाल · और देखें »

यशपाल (वैज्ञानिक)

प्रोफेसर यशपाल (जन्म: २६ नवंबर १९२६, मृत्यु: २४ जुलाई २०१७) भारतीय शिक्षाविद व वैज्ञानिक थे। .

नई!!: पद्म भूषण और यशपाल (वैज्ञानिक) · और देखें »

यशवंत दिनकर पेंढरकर

यशवंत दिनकर पेंढरकर को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और यशवंत दिनकर पेंढरकर · और देखें »

यशोधरा दसप्पल

यशोधरा दसप्पल को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण श्रेणी:कर्नाटक के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और यशोधरा दसप्पल · और देखें »

यामिनी कृष्णमूर्ति

यामिनी कृष्णमूर्ति को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और यामिनी कृष्णमूर्ति · और देखें »

यवगेनी पेत्रोविच चेलीशेव

यवगेनी पेत्रोविच चेलीशेव को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये रूस से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और यवगेनी पेत्रोविच चेलीशेव · और देखें »

युसुफ हुसैन खान

युसुफ हुसैन खान को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और युसुफ हुसैन खान · और देखें »

युसुफ ख्वाजा हमीद

युसुफ ख्वाजा हमीद को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और युसुफ ख्वाजा हमीद · और देखें »

योशिरो मोरी

योशिरो मोरी को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये जापान से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और योशिरो मोरी · और देखें »

योशो सकुरांची

योशो सकुरांची को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और योशो सकुरांची · और देखें »

रतन नवल टाटा

रतन नवल टाटा (28 दिसंबर 1937, को मुम्बई, में जन्मे) टाटा समुह के वर्तमान अध्यक्ष, जो भारत की सबसे बड़ी व्यापारिक समूह है, जिसकी स्थापना जमशेदजी टाटा ने की और उनके परिवार की पीढियों ने इसका विस्तार किया और इसे दृढ़ बनाया। 1971 में रतन टाटा को राष्ट्रीय रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड (नेल्को) का डाईरेक्टर-इन-चार्ज नियुक्त किया गया, एक कंपनी जो कि सख्त वित्तीय कठिनाई की स्थिति में थी। रतन ने सुझाव दिया कि कम्पनी को उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स के बजाय उच्च-प्रौद्योगिकी उत्पादों के विकास में निवेश करना चाहिए जेआरडी नेल्को के ऐतिहासिक वित्तीय प्रदर्शन की वजह से अनिच्छुक थे, क्यों कि इसने पहले कभी नियमित रूप से लाभांश का भुगतान नहीं किया था। इसके अलावा, जब रतन ने कार्य भार संभाला, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स नेल्को की बाज़ार में हिस्सेदारी २% थी और घाटा बिक्री का ४०% था। फिर भी, जेआरडी ने रतन के सुझाव का अनुसरण किया। 1972 से 1975 तक, अंततः नेल्को ने अपनी बाज़ार में हिस्सेदारी २०% तक बढ़ा ली और अपना घाटा भी पूरा कर लिया। लेकिन 1975 में, भारत की प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने आपात स्थिति घोषित कर दी, जिसकी वजह से आर्थिक मंदी आ गई। इसके बाद 1977 में यूनियन की समस्यायें हुईं, इसलिए मांग के बढ़ जाने पर भी उत्पादन में सुधार नहीं हो पाया। अंततः, टाटा ने यूनियन की हड़ताल का सामना किया, सात माह के लिए तालाबंदी (lockout) कर दी गई। रतन ने हमेशा नेल्को की मौलिक दृढ़ता में विश्वास रखा, लेकिन उद्यम आगे और न रह सका। 1977 में रतन को Empress Mills सोंपा गया, यह टाटा नियंत्रित कपड़ा मिल थी। जब उन्होंने कम्पनी का कार्य भार संभाला, यह टाटा समुह की बीमार इकाइयों में से एक थी। रतन ने इसे संभाला और यहाँ तक की एक लाभांश की घोषणा कर दी। चूँकि कम श्रम गहन उद्यमों की प्रतियोगिता ने इम्प्रेस जैसी कई उन कंपनियों को अलाभकारी बना दिया, जिनकी श्रमिक संख्या बहुत ज्यादा थी और जिन्होंने आधुनिकीकरण पर बहुत कम खर्च किया था रतन के आग्रह पर, कुछ निवेश किया गया, लेकिन यह पर्याप्त नहीं था। चूंकि मोटे और मध्यम सूती कपड़े के लिए बाजार प्रतिकूल था (जो कि एम्प्रेस का कुल उत्पादन था), एम्प्रेस को भारी नुकसान होने लगा। बॉम्बे हाउस, टाटा मुख्यालय, अन्य ग्रुप कंपनिओं से फंड को हटाकर ऐसे उपक्रम में लगाने का इच्छुक नहीं था, जिसे लंबे समय तक देखभाल की आवश्यकता हो। इसलिए, कुछ टाटा निर्देशकों, मुख्यतः नानी पालखीवाला (Nani Palkhivala) ने ये फैसला लिया कि टाटा को मिल समाप्त कर देनी चाहिए, जिसे अंत में 1986 में बंद कर दिया गया। रतन इस फैसले से बेहद निराश थे और बाद में हिन्दुस्तान टाईम्स के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने दावा किया कि एम्प्रेस को मिल जारी रखने के लिए सिर्फ़ ५० लाख रुपये की जरुरत थी। वर्ष 1981 में, रतन टाटा इंडस्ट्री््ज और समूह की अन्य होल्डिंग कंपनियों के अध्यक्ष बनाए गए, जहाँ वे समूह के कार्यनीतिक विचार समूह को रूपांतरित करने के लिए उत्तरदायी तथा उच्च प्रौद्योगिकी व्यापारों में नए उद्यमों के प्रवर्तक थे। 1991 में उन्होंने जेआरडी से ग्रुप चेयर मेन का कार्य भार संभाला.

नई!!: पद्म भूषण और रतन नवल टाटा · और देखें »

रतन शास्त्री

रतन शास्त्री को समाज सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ मे पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रतन शास्त्री · और देखें »

रतनलाल जोशी

रतनलाल जोशी को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रतनलाल जोशी · और देखें »

रफीउद्दीन अहमद

रफीउद्दीन अहमद को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रफीउद्दीन अहमद · और देखें »

रमण महादेवन नायर

रमण महादेवन नायर को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रमण महादेवन नायर · और देखें »

रमणलाल गोकुलदास सरैया

रमणलाल गोकुलदास सरैया को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रमणलाल गोकुलदास सरैया · और देखें »

रमणकुट्टी नायर

रमणकुट्टी नायर को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रमणकुट्टी नायर · और देखें »

रमन विश्वनाथन

रमन विश्वनाथन को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रमन विश्वनाथन · और देखें »

रमनलाल सी मेहता

रमनलाल सी मेहता (३१ अक्टूबर १९१८ – १८ अक्टूबर २०१४) को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये गुजरात राज्य से हैं। १८ अक्टूबर २०१४ को उनका निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और रमनलाल सी मेहता · और देखें »

रमाकांत महेश्वर मजूमदार

रमाकांत महेश्वर मजूमदार को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रमाकांत महेश्वर मजूमदार · और देखें »

रमाकांत रथ

रमाकांत रथ (१३ दिसम्बर १९३४) उड़ीसा के कटक नगर में निवास करने वाले ओड़िया साहित्यकार हैं। केते दिनार, अनेक कोठरी, संदिग्ध मृगया, सप्तम ऋतु आदि उनके प्रमुख कविता संग्रह हैं। उन्हें सरला पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार, विषुव पुरस्कार, सरस्वती सम्मान तथा कबीर सम्मान से अलंकृत किया जा चुका है। रमाकांत रथ को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा के हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रमाकांत रथ · और देखें »

रमेश कुमार

रमेश कुमार को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रमेश कुमार · और देखें »

रशीद जहाँ

रशीद जहाँ (5 अगस्त 1905 – 29 जुलाई 1952, उर्दू:ڈاکٹر رشید جہاں), भारत से उर्दू की एक प्रगतिशील लेखिका, कथाकार और उपन्यासकार थीं, जिन्होंने महिलाओं द्वारा लिखित उर्दू साहित्य के एक नए युग की शुरुआत की। वे पेशे से एक चिकित्सक थीं। .

नई!!: पद्म भूषण और रशीद जहाँ · और देखें »

रस्किन बॉण्ड

रस्किन बॉण्ड (जन्म 19 मई 1934) अंग्रेजी भाषा के एक विश्वप्रसिद्ध भारतीय लेखक हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रस्किन बॉण्ड · और देखें »

रहीम-उद्दीन खान डागर

रहीम-उद्दीन खान डागर को कला क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रहीम-उद्दीन खान डागर · और देखें »

राधा रेड्डी

राधा रेड्डी को सन २००० में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राधा रेड्डी · और देखें »

राधा कमल मुखर्जी

राधा कमल मुखर्जी (7 दिसम्बर 1889 - 24 अगस्त 1968) आधुनिक भारत के प्रसिद्ध चिन्तक एवं समाजविज्ञानी थे। वे लखनऊ विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र एवं समाजशास्त्र के प्राध्यापक तथा उपकुलपति रहे। उन्होने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। प्रोफेसर मुकर्जी के ही नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में सर्वप्रथम लखनऊ विश्वविद्यालय में 1921 में समाजशास्त्र का अध्ययन प्रारम्भ हुआ इसलिए वे उत्तर प्रदेश में समाजशास्त्र के प्रणेता के रूप में भी विख्यात हैं। प्रोफेसर मुकर्जी वे इतिहास के अत्यन्त मौलिक दार्शनिक थे। वे 20वीं सदी के कतिपय बहुविज्ञानी सामाजिक वैज्ञानिकों में से एक थे जिन्होंने विभिन्न विषयों- अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, मानवशास्त्र, परिस्थितिविज्ञान, दर्शनशास्त्र, मनोविज्ञान, साहित्य, समाजकार्य, संस्कृति, सभ्यता, कला, रहस्यवाद, संगीत, धर्मशास्त्र, अध्यात्म, आचारशास्त्र, मूल्य आदि विभिन्न अनुशासनों को अपना बहुमूल्य योगदान प्रदान किया है। इन समस्त क्षेत्रों में प्रोफेसर मुकर्जी की अद्वितीय देन उनके द्वारा प्रणयित 50 अमर कृतियों में स्पष्टतः दृष्टिगोचर होती है। भारत सरकार द्वारा उन्हें सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और राधा कमल मुखर्जी · और देखें »

राधा कुमुद मुखर्जी

राधाकुमुद मुखर्जी (१८८४ - १९६४) भारतीय इतिहासकार तथा प्रसिद्ध राष्ट्रवादी थे। वे समाजशास्त्री राधाकमल मुखर्जी के भाई थे। भारत सरकार ने उन्हें सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राधा कुमुद मुखर्जी · और देखें »

राधा कृष्ण गुप्ता

राधा कृष्ण गुप्ता को प्रशासकीय सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राधा कृष्ण गुप्ता · और देखें »

राधानाथ रथ

राधानाथ रथ को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राधानाथ रथ · और देखें »

राधिका रमण प्रसाद सिन्हा

राधिका रमण प्रसाद सिन्हा को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राधिका रमण प्रसाद सिन्हा · और देखें »

रानी गाइदिन्ल्यू

रानी गिडालू रानी गिडालू या रानी गाइदिन्ल्यू (Gaidinliu; 1915–1993) भारत की नागा आध्यात्मिक एवं राजनीतिक नेत्री थीं जिन्होने भारत में ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह का नेतृत्व किया। उनको भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९८२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। http://pib.nic.in/newsite/hindifeature.aspx?relid.

नई!!: पद्म भूषण और रानी गाइदिन्ल्यू · और देखें »

राम नारायण चक्रवर्ती

राम नारायण चक्रवर्ती को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राम नारायण चक्रवर्ती · और देखें »

राम नारायण मल्होत्रा

राम नारायण मल्होत्रा को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:महाराष्ट्र के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और राम नारायण मल्होत्रा · और देखें »

राम मेहता

राम मेहता को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राम मेहता · और देखें »

राम कुमार वर्मा

डॉ राम कुमार वर्मा (15 सितंबर, 1905 - 1990) हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार, व्यंग्यकार और हास्य कवि के रूप में जाने जाते हैं। उन्हें हिन्दी एकांकी का जनक माना जाता है। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। इनके काव्य में 'रहस्यवाद' और 'छायावाद' की झलक है। .

नई!!: पद्म भूषण और राम कुमार वर्मा · और देखें »

राम कुमार कारोली

राम कुमार कारोली को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राम कुमार कारोली · और देखें »

रामचंद्र दत्तात्रेय प्रधान

रामचंद्र दत्तात्रेय प्रधान को १९८६ में भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामचंद्र दत्तात्रेय प्रधान · और देखें »

रामचंद्र दत्तात्रेय लेले

रामचंद्र दत्तात्रेय लेले भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामचंद्र दत्तात्रेय लेले · और देखें »

रामचंद्र नारायण दांडेकर

रामचन्द्र नारायण दांडेकर (मार्च १७, १९०९ - दिसम्बर ११, २००१) भारतीय भाषाशास्त्री एवं वैदिक संस्कृति के विद्वान थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और रामचंद्र नारायण दांडेकर · और देखें »

रामनाथन कृष्णन

रामनाथन कृष्णन को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामनाथन कृष्णन · और देखें »

रामनारायण अग्रवाल

रामनारायण अग्रवाल को सन २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रामनारायण अग्रवाल · और देखें »

रामप्रकाश बंबा

रामप्रकाश बंबा को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामप्रकाश बंबा · और देखें »

रामबदन सिंह

रामबदन सिंह को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामबदन सिंह · और देखें »

रामानुज वरदराज पेरुमल

रामानुज वरदराज पेरुमल को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामानुज वरदराज पेरुमल · और देखें »

रामाराव माधवराव देशमुख

रामाराव माधवराव देशमुख को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण श्रेणी:1892 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८१ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और रामाराव माधवराव देशमुख · और देखें »

रामकिंकर बैज

रामकिंकर बैज (बंगला: রামকিঙ্কর বেইজ) (20 मई 1910 – 2 अगस्त 1980) भारत के प्रसिद्ध मूर्तिकार थे। आधुनिक भारतीय मूर्तिकला के अग्रदूतों में उनकी गणना होती थी। रामकिंकर बैज का जन्म पश्चिम बंगाल के बांकुरा में एक आर्थिक और सामाजिक रूप से विपन्न परिवार में हुआ। अपने दृढ़ संकल्प से वह भारतीय कला के प्रतिष्ठित प्रारंभिक आधुनिक कलाकारों में से एक बने। भारतीय कला में उनके अतुल्य योगदान के लिए वर्ष 1970 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया। रामकिंकर जी की स्मारकीय शिल्पकृतियों ने सार्वजनिक कला में अपना एक अलग प्रतिमान स्थापित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और रामकिंकर बैज · और देखें »

रामकिंकर उपाध्याय

रामकिंकर उपाध्याय (जन्म ०१ नवम्बर, १९२४ - ०९ अफ्गस्त २००२) मानस मर्मज्ञ, कथावाचक एवं हिन्दी साहित्यकार थे। उन्हें सन १९९९ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। .

नई!!: पद्म भूषण और रामकिंकर उपाध्याय · और देखें »

रामकृष्ण त्रिवेदी

रामकृष्ण त्रिवेदी को भारत सरकार ने सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रामकृष्ण त्रिवेदी · और देखें »

रामेश्वरी नेहरू

रामेश्वरी नेहरू (1886-1966) को समाज सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। उनके पति जवाहरलाल नेहरू के चचेरे भाई थे। उनके पुत्र ब्रज कुमार नेहरू भारत के दूत कई देशों मे रहे। श्रेणी:कश्मीर के लोग श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण श्रेणी:भारतीय महिलाएँ.

नई!!: पद्म भूषण और रामेश्वरी नेहरू · और देखें »

रायबहादुर गूजर मल मोदी

गूजर मल मोदी (९ अगस्त, १९०२ - २२ जनवरी, १९७६) भारत के एक उद्योगपति थे। इन्होंने मोदी उद्योग गृह की स्थापना की। इन्होंने ही उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में बेगमाबाद गाँव को मोदीनगर नामक एक औद्योगिक टाउनशिप का रूप दिया। इनको उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। गूजरमल मोदी के नाम का शिलालेख, गूजरमल मोदी अस्पताल, साकेत, नई दिल्ली में स्थित .

नई!!: पद्म भूषण और रायबहादुर गूजर मल मोदी · और देखें »

राहुल बजाज

राहुल बजाज को सन २००१ में भारत सरकार ने उद्योग एवं व्यापार क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। वर्ष 1938 में जन्मे राहुल राज्य सभा के सदस्य और देश की दिग्गज दोपहिया कंपनी बजाज ऑटो के चेयरमैन हैं। राहुल बजाज को 'नाइट ऑफ द नेशनल ऑर्डर ऑफ द लीजन ऑफ ऑनर' नामक फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से भी नवाजा गया है। .

नई!!: पद्म भूषण और राहुल बजाज · और देखें »

राहुल सांकृत्यायन

राहुल सांकृत्यायन जिन्हें महापंडित की उपाधि दी जाती है हिन्दी के एक प्रमुख साहित्यकार थे। वे एक प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् थे और बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में उन्होंने यात्रा वृतांत/यात्रा साहित्य तथा विश्व-दर्शन के क्षेत्र में साहित्यिक योगदान किए। वह हिंदी यात्रासहित्य के पितामह कहे जाते हैं। बौद्ध धर्म पर उनका शोध हिन्दी साहित्य में युगान्तरकारी माना जाता है, जिसके लिए उन्होंने तिब्बत से लेकर श्रीलंका तक भ्रमण किया था। इसके अलावा उन्होंने मध्य-एशिया तथा कॉकेशस भ्रमण पर भी यात्रा वृतांत लिखे जो साहित्यिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं। २१वीं सदी के इस दौर में जब संचार-क्रान्ति के साधनों ने समग्र विश्व को एक ‘ग्लोबल विलेज’ में परिवर्तित कर दिया हो एवं इण्टरनेट द्वारा ज्ञान का समूचा संसार क्षण भर में एक क्लिक पर सामने उपलब्ध हो, ऐसे में यह अनुमान लगाना कि कोई व्यक्ति दुर्लभ ग्रन्थों की खोज में हजारों मील दूर पहाड़ों व नदियों के बीच भटकने के बाद, उन ग्रन्थों को खच्चरों पर लादकर अपने देश में लाए, रोमांचक लगता है। पर ऐसे ही थे भारतीय मनीषा के अग्रणी विचारक, साम्यवादी चिन्तक, सामाजिक क्रान्ति के अग्रदूत, सार्वदेशिक दृष्टि एवं घुमक्कड़ी प्रवृत्ति के महान पुरूष राहुल सांकृत्यायन। राहुल सांकृत्यायन के जीवन का मूलमंत्र ही घुमक्कड़ी यानी गतिशीलता रही है। घुमक्कड़ी उनके लिए वृत्ति नहीं वरन् धर्म था। आधुनिक हिन्दी साहित्य में राहुल सांकृत्यायन एक यात्राकार, इतिहासविद्, तत्वान्वेषी, युगपरिवर्तनकार साहित्यकार के रूप में जाने जाते है। .

नई!!: पद्म भूषण और राहुल सांकृत्यायन · और देखें »

राज रेड्डी

राज रेड्डी को सन २००१ में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राज रेड्डी · और देखें »

राज कपूर

राज कपूर (१९२४-१९८८) प्रसिद्ध अभिनेता, निर्माता एवं निर्देशक थे। नेहरूवादी समाजवाद से प्रेरित अपनी शुरूआती फ़िल्मों से लेकर प्रेम कहानियों को मादक अंदाज से परदे पर पेश करके उन्होंने हिंदी फ़िल्मों के लिए जो रास्ता तय किया, इस पर उनके बाद कई फ़िल्मकार चले। भारत में अपने समय के सबसे बड़े 'शोमैन' थे। सोवियत संघ और मध्य-पूर्व में राज कपूर की लोकप्रियता दंतकथा बन चुकी है। उनकी फ़िल्मों खासकर श्री ४२० में बंबई की जो मूल तस्वीर पेश की गई है, वह फ़िल्म निर्माताओं को अभी भी आकर्षित करती है। राज कपूर की फ़िल्मों की कहानियां आमतौर पर उनके जीवन से जुड़ी होती थीं और अपनी ज्यादातर फ़िल्मों के मुख्य नायक वे खुद होते थे। .

नई!!: पद्म भूषण और राज कपूर · और देखें »

राज कुमार खन्ना

राज कुमार खन्ना को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राज कुमार खन्ना · और देखें »

राजन एवं साजन मिश्र

राजन मिश्र एवं साजन मिश्र को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राजन एवं साजन मिश्र · और देखें »

राजराजेश्वर दत्त शास्त्री द्रविड़

राजराजेश्वर दत्त शास्त्री द्रविड़ को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से थे। श्रेणी:१९६० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राजराजेश्वर दत्त शास्त्री द्रविड़ · और देखें »

राजशेखर बोस

राजशेखर बोस को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राजशेखर बोस · और देखें »

राजा एम अन्नामलाई मुत्तैया चेट्टियार

राजा एम अन्नामलाई मुत्तैया चेट्टियार को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण श्रेणी:1905 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और राजा एम अन्नामलाई मुत्तैया चेट्टियार · और देखें »

राजा भालेंद्र सिंह

राजा भालेंद्र सिंह को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राजा भालेंद्र सिंह · और देखें »

राजा रमन्ना

राजा रामन्ना (कन्नड ರಾಜಾ ರಾಮಣ್ಣ) (२८ जनवरी १९२५ - २३ सितम्बर २००४) भारत के एक परमाणु वैज्ञानिक थे। श्री राजा रामन्ना का जन्म कर्नाटक के टुम्कुर में हुआ था। वह भारत के प्रथम परमाणु परीक्षण के सूत्रधार भी थे। 'राजा रमन्ना को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राजा रमन्ना · और देखें »

राजा राव

राजा राव को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण श्रेणी:साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप से सम्मानित‎.

नई!!: पद्म भूषण और राजा राव · और देखें »

राजा रेड्डी

राजा रेड्डी को सन २००० में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राजा रेड्डी · और देखें »

राजिन्दर कुमार

राजिन्दर कुमार को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राजिन्दर कुमार · और देखें »

राजेंद्र कुमार पचौरी

राजेंद्र कुमार पचौरी को सन २००१ में भारत सरकार ने अन्य क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और राजेंद्र कुमार पचौरी · और देखें »

राजीव सेठी

राजीव सेठी (जन्म २४ मई १९४९) को भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और राजीव सेठी · और देखें »

राव राजा हनुत सिंह

राव राजा हनुत सिंह को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान राज्य से हैं। श्रेणी:१९५८ पद्म भूषण श्रेणी:1900 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और राव राजा हनुत सिंह · और देखें »

रजत शर्मा

रजत शर्मा एक हिंदी समाचार चैनल इंडिया टीवी के मालिक व मुख्य संपादक है। वह भारत के प्रमुख पत्रकारों में से है।.

नई!!: पद्म भूषण और रजत शर्मा · और देखें »

रजनीकान्त

रजनीकान्त;(मराठी:शिवाजीराव गायकवाड) एक तमिल एवं हिन्दी फिल्म अभिनेता हैं। इन्‍हे दक्षिण भारत मे भगवान की तरह पूजा जाता है। उन्होने अभिनेता के रूप में अपनी शुरुआत राष्ट्रीय फ़िल्म अवार्ड विजेता फ़िल्म अपूर्व रागंगल (१९७५) से की, जिसके निर्देशक के.

नई!!: पद्म भूषण और रजनीकान्त · और देखें »

रजनीकांत शंकरराव अरोल

रजनीकांत शंकरराव अरोल को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रजनीकांत शंकरराव अरोल · और देखें »

रईस अहमद

रईस अहमद को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रईस अहमद · और देखें »

रघुनाथ मोहपात्रा

रघुनाथ मोहपात्रा (२४ मार्च १९४३-२० अप्रैल २०१४) को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण और २०१३ में ६४वें गणतंत्र के मौके पर पद्म विभूषण से सम्मानित किया था। ये उड़ीसा से थे। .

नई!!: पद्म भूषण और रघुनाथ मोहपात्रा · और देखें »

रघुनाथ शरन

रघुनाथ शरन को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रघुनाथ शरन · और देखें »

रघुनाथ अनंत माशेलकर

रघुनाथ अनंत माशेलकर रघुनाथ अनंत माशेलकर एक भारतीय वैज्ञानिक हैं जो कि दिल्ली राज्य से हैं। इन्हें सन् २००० में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी क्षेत्र में पद्म भूषण तथा 2014 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। इससे पहले वे विज्ञान के प्रतिष्ठित शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और रघुनाथ अनंत माशेलकर · और देखें »

रवि शंकर

पण्डित रवि शंकर (রবি শংকর; जन्म: रवीन्द्र शंकर चौधरी, ७ अप्रैल १९२०, बनारस - ११ दिसम्बर २०१२) एक सितार वादक और संगीतज्ञ थे। उन्होंने विश्व के कई मह्त्वपूर्ण संगीत उत्सवों में हिस्सा लिया है। उनके युवा वर्ष यूरोप और भारत में अपने भाई उदय शंकर के नृत्य समूह के साथ दौरा करते हुए बीते। .

नई!!: पद्म भूषण और रवि शंकर · और देखें »

रविंद्र नाथ चौधरी

रविंद्र नाथ चौधरी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से थे। श्रेणी:१९६० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रविंद्र नाथ चौधरी · और देखें »

रवीन्द्र केलकर

रवीन्द्र केलकर (7 मार्च 1925 – 27 अगस्त 2010) कोंकणी साहित्य के सबसे मजबूत स्तंभ थे। 85 वर्षीय इस महान हस्ती को वर्ष 2006 का ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान किया गया। उनकी प्रमुख रचनाओं में आमची भास कोंकणीच, 'बहुभाषिक भारतान्त भाषान्चे समाजशास्त्र' शामिल हैं। रवीन्द्र केलकर का जन्म ७ मार्च १९२५ में दक्षिण गोवा के कोकुलिम क्षेत्र में हुआ। कोंकणी, हिन्दी और मराठी में उनकी 32 से अधिक मौलिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। वह स्वतंत्रता संग्राम और गोवा के मुक्ति संग्राम से जुड़े रहे। वह आधुनिक कोंकणी आंदोलन के प्रणेता थे और कोंकणी भाषा मंडल की स्थापना में उनकी अहम भूमिका रही। केलकर को ज्ञानपीठ पुरस्कार के अलावा 1976 में साहित्य अकादमी पुरस्कार, 2008 में पद्मभूषण प्रदान किया गया था और 2007 में उन्हें साहित्य अकादमी का फैलो चुना गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और रवीन्द्र केलकर · और देखें »

रंजन रॉय डेनियल

रंजन रॉय डेनियल भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रंजन रॉय डेनियल · और देखें »

रुस्तम जाल वकील

रुस्तम जाल वकील को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रुस्तम जाल वकील · और देखें »

रुस्तमजी बोम्मनजी बिल्लीमोरिया

रुस्तमजी बोम्मनजी बिल्लीमोरिया को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रुस्तमजी बोम्मनजी बिल्लीमोरिया · और देखें »

रुस्तमजी होमसजी मोदी

रुस्तमजी होमसजी मोदी (संक्षिप्त: रूसी मोदी; १७ जनवरी १९१८ – १६ मई २०१४) टाटा समूह के अग्रणी सदस्य और टाटा इस्पात के पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक थे। .

नई!!: पद्म भूषण और रुस्तमजी होमसजी मोदी · और देखें »

रुक्मिणी देवी अरुंडेल

रुक्मिणी देवी अरुंडेल रुक्मिणी देवी अरुंडेल (२९ फरवरी १९०४- २४ फरवरी १९८६) प्रसिद्ध भारतीय नृत्यांगना थीं। इन्होंने भरतनाट्यम में भक्तिभाव भरा तथा नृत्य की एक अपनी परंपरा आरम्भ की। इनको कला के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 1920 के दशक में जब भरतनाट्यम को अच्छी नृत्य शैली नहीं माना जाता था और लोग इसका विरोध करते थे, तब भी उन्होंने न केवल इसका समर्थन किया बल्कि इस कला को अपनाया भी। नृत्य सीखने के साथ-साथ उन्होंने तमाम विरोधों के बावजूद इसे मंच पर प्रस्तुत भी किया। .

नई!!: पद्म भूषण और रुक्मिणी देवी अरुंडेल · और देखें »

रेणुका राय

रेणुका राय को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रेणुका राय · और देखें »

रोद्दम नरसिंहा

रोद्दम नरसिंहा को १९८६ में भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और रोद्दम नरसिंहा · और देखें »

ललित मोहन बैनर्जी

ललित मोहन बैनर्जी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५५ में सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म.

नई!!: पद्म भूषण और ललित मोहन बैनर्जी · और देखें »

लाला अमरनाथ

लाला अमरनाथ या नानिक अमरनाथ भारत के क्रिकेट के खिलाड़ी थे। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत की ओर से पहला शतक जमाया था। वे भारत के पहले आलराउंडर थे जिन्होंने बल्ले के अलावा गेंद से भी अपने विरोधियों की नाक में दम किया। उन्हें भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। वे दिल्ली के मूलनिवासी थे।लाला अमरनाथ का जन्म एक कायस्थ परिवार में हुआ। लाला अमरनाथ का पांच अगस्त 2000 को 88 बरस की उम्र में दिल्ली में निधन हुआ। तब भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने शोक संदेश में उन्हें भारतीय क्रिकेट का आइकन करार दिया था। .

नई!!: पद्म भूषण और लाला अमरनाथ · और देखें »

लालगुडी जयरामन

लालगुडी जयराम अय्यर (லால்குடி ஜயராம ஐயர்) (जन्म - 17 सितम्बर 1930, भारत) एक प्रसिद्ध कर्नाटिक वायलिनवादक, गायक और संगीतकार हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और लालगुडी जयरामन · और देखें »

लालगुडी गोपालइयर जयरमण

लालगुडी गोपालइयर जयरमण को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लालगुडी गोपालइयर जयरमण · और देखें »

लखनऊ विश्वविद्यालय

लखनऊ विश्वविद्यालय लखनऊ विश्वविद्यालय भारत के प्रमुख शैक्षिक-संस्थानों में से एक है। यह लखनऊ के समृद्ध इतिहास को तो प्रकट करता ही है नगर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से भी एक है। इसका प्राचीन भवन मध्यकालीन भारतीय स्थापत्य का सुंदर उदाहरण है। इसमें पढ़ने और पढाने वाले अनेक शिक्षक और विद्यार्थी देश और विदेश में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुके हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और लखनऊ विश्वविद्यालय · और देखें »

लक्षमणगुडि कृष्णमूर्ति दुरइस्वामी

लक्षमणगुडि कृष्णमूर्ति दुरइस्वामी को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लक्षमणगुडि कृष्णमूर्ति दुरइस्वामी · और देखें »

लक्ष्मण शास्त्री जोशी

लक्ष्मणशास्त्री बाळाजी जोशी (२७ जनवरी १९०१ - २७ मई १९९४) एक संस्कृतवादी, वैदिक विद्वान, विचारक और महाराष्ट्र राज्य से मराठी लेखक थे। उन्हे भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से और १९९२ में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। जोशी का जन्म २७ जनवरी १९०१ को पिम्पलनेर, महाराष्ट्र में हुआ। .

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मण शास्त्री जोशी · और देखें »

लक्ष्मण सिंह (स्काउटिंग)

लक्ष्मण सिंह को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण श्रेणी:1910 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मण सिंह (स्काउटिंग) · और देखें »

लक्ष्मी नंदन मेनन

लक्ष्मी नंदन मेनन को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये केरल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मी नंदन मेनन · और देखें »

लक्ष्मी प्रसाद सिहरे

लक्ष्मी प्रसाद सिहरे को १९८६ में भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मी प्रसाद सिहरे · और देखें »

लक्ष्मीनारायण सुब्रह्मण्यम

डॉ लक्ष्मीनारायण सुब्रह्मण्यम (जन्म: २३ जुलाई, १९४७) भारत के प्रसिद्ध वायलिनवादक हैं। उनको सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण श्रेणी:कर्नाटक के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मीनारायण सुब्रह्मण्यम · और देखें »

लक्ष्मीमल्ल सिंघवी

लक्ष्मीमल्ल सिंघवी - डाकटिकट लक्ष्मीमल्ल सिंघवी (या लक्ष्मीमल सिंघवी) (९ नवंबर १९३१- ६ अक्टूबर २००७) ख्यातिलब्ध न्यायविद, संविधान विशेषज्ञ, कवि, भाषाविद एवं लेखक थे। उनका जन्म भारत के राजस्थान प्रांत में स्थित जोधपुर नगर में हुआ। १९६२ से १९६७ तक तीसरी लोक सभा के सदस्य श्री सिंघवी ने १९७२ से ७७ तक राजस्थान के एडवोकेट जनरल तथा अनेक वर्षों तक यूके में भारत के राजदूत पद पर कार्य किया। उन्हें १९९८ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया तथा १९९९ में वे राज्य सभा के सदस्य भी चुने गए। डॉ॰ लक्ष्मीमल सिंघवी ने नेपाल, बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका के संविधान रचे। उन्हें भारत में अनेक लोकपाल, लोकायुक्त संस्थाओं का जनक माना जाता है। डॉ॰ सिंघवी संयुक्त राष्ट्र संघ मानवाधिकार अधिवेशन और राष्ट्रकुल (कॉमनवेल्थ) विधिक सहायता महासम्मेलन के अध्यक्ष, विशेषज्ञ रहे। वे ब्रिटेन के सफलतम उच्चायुक्त माने जाते हैं। वे सर्वोच्च न्यायालय बार एसोसिएशन के चार बार अध्यक्ष रहे। उन्होंने विधि दिवस का शुभारंभ किया। डॉ॰ लक्ष्मीमल्ल सिंघवी ने हिंदी के वैश्वीकरण और हिंदी के उन्नयन की दिशा में सजग, सक्रिय और ईमानदार प्रयास किए। भारतीय राजदूत के रूप में उन्होंने ब्रिटेन में भारतीयता को पुष्पित करने का प्रयास तो किया ही, अपने देश की भाषा के माध्यम से न केवल प्रवासियों अपितु विदेशियों को भी भारतीयता से जोड़ने की कोशिश की। वे संस्कृतियों के मध्य सेतु की तरह अडिग और सदा सक्रिय रहे। वे भारतीय संस्कृति के राजदूत, ब्रिटेन में हिन्दी के प्रणेता और हिंदी-भाषियों के लिए प्रेरणा स्रोत थे। विश्व भर में फैले भारत वंशियों के लिए प्रवासी भारतीय दिवस मनाने की संकल्पना डॉ॰ सिंघवी की ही थी। वे साहित्य अमृत के संपादक रहे और अपने संपादन काल में उन्होने श्री विद्यानिवास मिश्र की स्वस्थ साहित्यिक परंपरा को गति प्रदान की। भारतीय ज्ञानपीठ को भी श्री सिंघवी की सेवाएँ सदैव स्मरण रहेंगी। भारतीय डायसपोरा की अनेक संस्थाओं के अध्यक्ष श्री सिंघवी ने अनेक पुस्तकों की रचना भी की है। वे कई कला तथा सांस्कृतिक संगठनों के संरक्षक भी थे। जैन इतिहास और संस्कृति के जानकार के रूप में मशहूर श्री सिंघवी ने कई पुस्तकें लिखीं जिनमें से अनेक हिंदी में हैं। श्री सिंघवी प्रवासी भारतीयों की उच्च स्तरीय समिति के अध्यक्ष भी रहे। विधि और कूटनीति की कूट एवं कठिन भाषा को सरल हिन्दी में अभिव्यक्त करने में उनका कोई सानी नहीं था। विश्व हिन्दी सम्मेलन के आयोजनों में सदा उनकी अग्रणी भूमिका रहती थी। संध्या का सूरज: हिन्दी काव्य, पुनश्च (संस्मरणों का संग्रह), भारत हमारा समय, जैन मंदिर आदि उनकी प्रसिद्ध हिन्दी कृतियाँ हैं। अंग्रेज़ी में टुवर्डस ग्लोबल टुगैदरनेस (Towards Global Togetherness), डेमोक्रेसी एंड द रूल ऑफ़ द लॉ (Democracy and the Rule of the Law), फ्रीडम ऑन ट्रायल (Freedom on trial) आदि उनकी प्रसिद्ध अंग्रेज़ी पुस्तकें हैं। ८ दिसम्बर २००८ को भारतीय डाकतार विभाग ने उनके सम्मान में एक डाक-टिकट तथा प्रथम दिवस आवरण प्रकाशित किया है। .

नई!!: पद्म भूषण और लक्ष्मीमल्ल सिंघवी · और देखें »

लक्खुमल हीरानंद हीरानंदानी

लक्खुमल हीरानंद हीरानंदानी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लक्खुमल हीरानंद हीरानंदानी · और देखें »

लेज़ली डेनिस स्विंडेल

लेज़ली डेनिस स्विंडेल को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये न्यूज़ीलैंड से हैं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लेज़ली डेनिस स्विंडेल · और देखें »

लॉर्ड फेनर ब्रोकवे

लॉर्ड फेनर ब्रोकवे को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और लॉर्ड फेनर ब्रोकवे · और देखें »

लोकेश चंद्र

प्रो. लोकेश चन्द्र लोकेश चंद्र (जन्म: १९२७) वेद, बौद्ध धर्म तथा भारतीय कला के प्रमुख विद्वान हैं। सम्प्रति वे भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के अध्यक्ष हैं। वे भारतीय संस्कृति की अन्तरराष्ट्रीय अकादमी के भी निदेशक हैं। वे राज्य सभा के सदस्य रहे हैं तथा भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष भी रहे हैं। उन्हें भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। लोकेश चन्द्र, महान भाषाशास्त्री एवं कोशकार डॉ रघुवीर के सुपुत्र हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और लोकेश चंद्र · और देखें »

शन्नो खुराना

शन्नो खुराना को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शन्नो खुराना · और देखें »

शमशाद बेगम

शमशाद बेगम (अप्रैल १४, १९१९ – अप्रैल २३, २०१३India Post, South Asia Bureau, August 1998) एक भारतीय गायिका थीं, जो हिन्दी सिनेमा उद्योग में आरंभिक पार्श्वगायिका के रूप में आयी थीं। शमशाद बेगम एक बहुमुखी कलाकारा थीं, जिन्होंने हिन्दी के अलावा बंगाली, मराठी, गुजराती, तमिल एवं पंजाबी भाषाओं में लगभग ६००० से अधिक गाने गाये थे। इन्हें सन २००९ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शमशाद बेगम · और देखें »

शमाप्रसाद रूपशंकर वसवदा

शमाप्रसाद रूपशंकर वसवदा को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये गुजरात राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शमाप्रसाद रूपशंकर वसवदा · और देखें »

शरण रानी

शरण रानी (९ अप्रैल १९२९ - ८ अप्रैल २००८) हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की विद्वान और सुप्रसिद्ध सरोद वादक थीं। गुरु शरन रानी प्रथम महिला थीं जिन्होंने सरोद जैसे मर्दाना साज को संपूर्ण ऊँचाई दी। वे प्रथम महिला थीं जो संगीत को लेकर पूरे भूमंडल में घूमीं, विदेश गईं, जिन्हें सरोद के कारण विभिन्न‍ प्रकार के सम्मान मिले और सरोद पर डॉक्टलरेट की उपाधियों से नवाज़ा गया। वे प्रथम महिला थीं जिन्होंडने पंद्रहवीं शताब्दी के बाद बने हुए वाद्य यंत्रों को न केवल संग्रहीत किया बल्कि राष्ट्री य संग्रहालय को दान में दे दिया। उन्होंने यूनेस्को के लिए रिकार्डिग भी की। इसलिए पं॰ नेहरू ने उन्हें 'सांस्कृतिक राजदूत' और पं॰ ओंकार नाथ ठाकुर ने 'सरोद रानी' का खिताब दिया था। दिल्ली में पैदा हुई सरोद साम्राज्ञी ने उस्ताद अलाउद्दीन खां और उस्ताद अली अकबर खां जैसे गुरुओं से सरोद की शिक्षा ग्रहण की थी। वह मैहर सेनिया घराने से ताल्लुक रखती थीं। पद्मभूषण से अलंकृत शरण रानी ने कई रागों की रचना की थी। वाद्य संगीत तथा सरोद वादन के क्षेत्र में वह देश की पहली महिला कलाकार थीं, जिन्होंने अमेरिका तथा ब्रिटेन की संगीत कंपनियों के साथ रिकार्डिंग कीं। पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू उन्हें ‘भारत की सांस्कृतिक दूत’ कहा करते थे। शरण रानी ने "दि डिवाइन सरोद: इट्स आ॓रिजिन एंटिक्विटी एंड डेवलपमेंट इन इंडिया सिंस बीसी सेकेंड सेंचुरी" किताब लिखी थीं। वे दुर्लभ वाद्यों का संग्रह करती थीं। उन्होंने ‘शरण रानी बाकलीवाल वीथिका’ की स्थापना भी की जिसमें ४५० शास्त्रीय संगीत के वाद्यों को प्रदर्शित किया गया है। संगीत के प्रति समर्पण के कारण उन्हें १९६८ में पद्मश्री, १९७४ में साहित्य कला परिषद, १९८६ में संगीत नाटक अकादमी, २००० में पद्मभूषण व २००४ में राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया। १९९२ में उन्होंने सरोद के उद्भव, इतिहास व विकास पर किताब भी लिखी। उन्हें सरकार की ओर से ‘राष्ट्रीय कलाकार’, ‘साहित्य कला परिषद पुरस्कार’ और ‘राजीव गांधी राष्ट्रीय उत्कृष्टता पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था। उनकी वीथिका से चार वाद्य लेकर वर्ष १९९८ में डाक टिकट भी जारी किए गए थे। .

नई!!: पद्म भूषण और शरण रानी · और देखें »

शशि भूषण

शशि भूषण को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शशि भूषण · और देखें »

शशि कपूर

शशि कपूर (जन्म: 18 मार्च, 1938, निधन: 04 दिसम्बर 2017) हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता थे। शशि कपूर हिन्दी फ़िल्मों में लोकप्रिय कपूर परिवार के सदस्य थे। वर्ष २०११ में उनको भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया। वर्ष २०१५ में उनको २०१४ के दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया। इस तरह से वे अपने पिता पृथ्वीराज कपूर और बड़े भाई राजकपूर के बाद यह सम्मान पाने वाले कपूर परिवार के तीसरे सदस्य बन गये। .

नई!!: पद्म भूषण और शशि कपूर · और देखें »

शान्ताराम बलवन्त मजुमदार

कोई विवरण नहीं।

नई!!: पद्म भूषण और शान्ताराम बलवन्त मजुमदार · और देखें »

शान्ति स्वरूप भटनागर

सर शांति स्वरूप भटनागर, OBE, FRS (२१ फरवरी १८९४ – १ जनवरी १९५५) जाने माने भारतीय वैज्ञानिक थे। इनका जन्म शाहपुर (अब पाकिस्तान में) में हुआ था। इनके पिता परमेश्वरी सहाय भटनागर की मृत्यु तब हो गयी थी, जब ये केवल आठ महीने के ही थे। इनका बचपन अपने ननिहाल में ही बीता। इनके नाना एक इंजीनियर थे, जिनसे इन्हें विज्ञान और अभियांत्रिकी में रुचि जागी। इन्हें यांत्रिक खिलौने, इलेक्ट्रानिक बैटरियां और तारयुक्त टेलीफोन बनाने का शौक रहा। इन्हें अपने ननिहाल से कविता का शौक भी मिला और इनका उर्दु एकांकी करामाती प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पाया था। भारत में स्नातकोत्तर डिग्री पूर्ण करने के उपरांत, शोध फ़ैलोशिप पर, ये इंगलैंड गये। इन्होंने युनिवर्सिटी कालेज, लंदन से १९२१ में, रसायन शास्त्र के प्रोफ़ैसर फ़्रेड्रिक जी डोन्नान की देख रेख में, विज्ञान में डाक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। भारत लौटने के बाद, उन्हें बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से प्रोफ़ैसर पद हेतु आमंत्रण मिला। सन १९४१ में ब्रिटिश सरकार द्वारा इनकी शोध के लिये, इन्हें नाइटहुड से सम्मानित किया गया। १८ मार्च १९४३ को इन्हें फ़ैलो आफ़ रायल सोसायटी चुना गया। इनके शोध विषय में एमल्ज़न, कोलाय्ड्स और औद्योगिक रसायन शास्त्र थे। परन्तु इनके मूल योगदान चुम्बकीय-रासायनिकी के क्षेत्र में थे। इन्होंने चुम्बकत्व को रासायनिक क्रियाओं को अधिक जानने के लिये औजार के रूप में प्रयोग किया था। इन्होंने प्रो॰ आर.एन.माथुर के साथ भटनागर-माथुर इन्टरफ़ेयरेन्स संतुलन का प्रतिपादन किया था, जिसे बाद में एक ब्रिटिश कम्पनी द्वारा उत्पादन में प्रयोग भी किया गया। इन्होंने एक सुन्दर कुलगीत नामक विश्वविद्यालय गीत की रचना भी की थी। इसका प्रयोग विश्वविद्यालय में कार्यक्रमों के पहले होता आया है। भारत के प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू वैज्ञानिक प्रसार के प्रबल समर्थक थे। १९४७ में, भारतीय स्वतंत्रता के उपरांत, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की स्थापना, श्री भटनागर की अध्यक्षता में की गयी। इन्हें सी.एस.आई.आर का प्रथम महा-निदेशक बनाया गया। इन्हें शोध प्रयोगशालाओं का जनक कहा जाता है व भारत में अनेकों बड़ी रासायनिक प्रयोगशालाओं के स्थापन हेतु स्मरण किया जाता है। इन्होंने भारत में कुल बारह राष्ट्रीय प्रयोगशालाएं स्थापित कीं, जिनमें प्रमुख इस प्रकार से हैं.

नई!!: पद्म भूषण और शान्ति स्वरूप भटनागर · और देखें »

शामद यार खान निज़ामी सागर

शामद यार खान निज़ामी सागर को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शामद यार खान निज़ामी सागर · और देखें »

शारदा प्रसाद वर्मा

शारदा प्रसाद वर्मा को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शारदा प्रसाद वर्मा · और देखें »

शारदा सिन्हा

शारदा सिन्हा बिहार की एक लोकप्रिय गायिका हैं। इनका जन्म 1 अक्टुबर 1952 को हुआ। इन्होंने मैथिली, बज्जिका, भोजपुरी के अलावे हिन्दी गीत गाये हैं। मैंने प्यार किया तथा हम आपके हैं कौन जैसी फिल्मों में इनके द्वारा गाये गीत काफी प्रचलित हुए हैं। इनके गाये गीतों के कैसेट संगीत बाजार में सहजता से उपलब्ध है। दुल्हिन, पीरितिया, मेंहदी जैसे कैसेट्स काफी बिके हैं। बिहार एवं यहाँ से बाहर दुर्गा-पूजा, विवाह-समारोह या अन्य संगीत समारोहों में शारदा सिन्हा द्वारा गाये गीत अक्सर सुनाई देते हैं। लोकगीतों के लिए इन्हें 'बिहार-कोकिला', 'पद्म श्री' एवं 'पद्म भूषण' सम्मान से विभूषित किया गया है। .

नई!!: पद्म भूषण और शारदा सिन्हा · और देखें »

शांतनु लक्ष्मण किर्लोस्कर

शांतनु लक्ष्मण किर्लोस्कर को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शांतनु लक्ष्मण किर्लोस्कर · और देखें »

शांता धनंजय

शांता धनंजय को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शांता धनंजय · और देखें »

शांतिदेव घोष

शांतिदेव घोष को भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शांतिदेव घोष · और देखें »

शांतिलाल सी सेठ

शांतिलाल सी सेठ को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शांतिलाल सी सेठ · और देखें »

शांतिलाल जमनादास मेहता

शांतिलाल जमनादास मेहता को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शांतिलाल जमनादास मेहता · और देखें »

शांतु जवाहरमल साहनी

शांतु जवाहरमल साहनी को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शांतु जवाहरमल साहनी · और देखें »

शिशिर कुमार भादुड़ी

शिशिर कुमार भादुड़ी को कला के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिशिर कुमार भादुड़ी · और देखें »

शिशिर कुमार मित्रा

शिशिर कुमार मित्रा को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिशिर कुमार मित्रा · और देखें »

शिव नाडार

शिव नाडार भारत के प्रमुख उद्यमी एवं समाजसेवी हैं। वे एचसीएल टेक्नॉलोजीज के अध्यक्ष एवं प्रमुख रणनीति अधिकारी हैं। सन् २०१० में उनकी व्यक्तिगत सम्पत्ति ४.2 बिलियन अमेरिकी डालर के तुल्य है। उनको सन २००८ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया था। पाँच देशों में, 100 से ज्यादा कार्यालय, 30 हजार से ज्यादा कर्मचारी-अधिकारी और दुनिया भर के कंप्यूटर व्यवसायियों, उपभोक्ताओं का विश्वास - शिव नाडार अगर सबकी अपेक्षाओं पर खरे उतरते हैं, तो इसके केंद्र में उनकी मेहनत, योजना और सूझबूझ ही है। .

नई!!: पद्म भूषण और शिव नाडार · और देखें »

शिव राव बेनेगल

शिव राव बेनेगल को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिव राव बेनेगल · और देखें »

शिव शर्मा मलिक

शिव शर्मा मलिक को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिव शर्मा मलिक · और देखें »

शिव कुमार सरीन

शिव कुमार सरीन को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शिव कुमार सरीन · और देखें »

शिवप्रसाद चटर्जी

शिवप्रसाद चटर्जी को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिवप्रसाद चटर्जी · और देखें »

शिवपूजन सहाय

शिवपूजन सहाय (जन्म- 9 अगस्त 1893, शाहाबाद, बिहार; मृत्यु- 21 जनवरी 1963, पटना)| प्रारम्भिक शिक्षा आरा (बिहार) में | फिर १९२१ से कलकत्ता में पत्रकारिता |1924 में लखनऊ में प्रेमचंद के साथ 'माधुरी' का सम्पादन| 1926 से 1933 तक काशी में प्रवास और पत्रकारिता तथा लेखन | 1934 से 1939 तक पुस्तक भंडार, लहेरिया सराय में सम्पादन-कार्य | 1939 से 1949 तक राजेंद्र कॉलेज, छपरा में हिंदी के प्राध्यापक | 1950 से 1959 तक पटना में बिहार राष्ट्रभाषा परिषद् के निदेशक | तत्पश्चात पटना में | हिन्दी के प्रसिद्ध उपन्यासकार, कहानीकार, सम्पादक और पत्रकार के रूप में ख्याति । उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 1962 में भागलपुर विश्वविद्यालय द्वारा दी.

नई!!: पद्म भूषण और शिवपूजन सहाय · और देखें »

शिवमंगल सिंह 'सुमन'

शिवमंगल सिंह 'सुमन' (1 915-2002) एक प्रसिद्ध हिंदी कवि और शिक्षाविद् थे। उनकी मृत्यु के बाद, भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री ने कहा, "डॉ शिव मंगल सिंह 'सुमन' केवल हिंदी कविता के क्षेत्र में एक शक्तिशाली हस्ताक्षर ही नहीं थे, बल्कि वह अपने समय की सामूहिक चेतना के संरक्षक भी थे। न केवल अपनी भावनाओं का दर्द व्यक्त किया, बल्कि युग के मुद्दों पर भी निर्भीक रचनात्मक टिप्पणी भी थी। " .

नई!!: पद्म भूषण और शिवमंगल सिंह 'सुमन' · और देखें »

शिवरामकृष्ण अय्यर पद्मावती

शिवरामकृष्ण अय्यर पद्मावती प्रख्यात भारतीय हृदय रोग विशेषज्ञ है। वह राष्ट्रीय हार्ट संस्थान, दिल्ली के निदेशक हैं और ऑल इंडिया हार्ट फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष है। संस्थान विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ छात्रों को प्रशिक्षित करने में रोकथाम कार्डियोलॉजी के साथ सहयोग करता है। पद्मावती, नेशनल एकेडमी ऑफ मेडिकल साइंसेज की साथ काम किया और १९५४ में भारत की पहली महिला हृदय रोग विशेषज्ञ बनी। उत्तर भारत में पहले कार्डियक क्लिनिक और कार्डिएक कैथ लैब की स्थापना की। वह ५वीं विश्व कांग्रेस कार्डियोलॉजी, नई दिल्ली (१९६६) की अध्यक्ष थी। १९९२ में पद्म विभूषण का भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान सम्मानित किया गया। .

नई!!: पद्म भूषण और शिवरामकृष्ण अय्यर पद्मावती · और देखें »

शिवरामकॄष्णन चंद्रशेखर

शिवरामकॄष्णन चंद्रशेखर (6 अगस्त 1930 – 8 मार्च 2004) एक भारतीय भौतिक विज्ञानी थे जिनको 1994 में शाही मैडल मिला। इनको विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९९८ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। यह कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शिवरामकॄष्णन चंद्रशेखर · और देखें »

शिवराज रामाशीषन

शिवराज रामाशीषन को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८५ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। ये कर्नाटक से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण श्रेणी:कर्नाटक के लोग श्रेणी:भारतीय वैज्ञानिक.

नई!!: पद्म भूषण और शिवराज रामाशीषन · और देखें »

शिखन लाल अत्रेय

शिखन लाल अत्रेय को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शिखन लाल अत्रेय · और देखें »

शकुंतला परांजपे

शकुंतला परांजपे (१७ जनवरी १९०६ – ३ मई २०००) को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से थीं। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण श्रेणी:1906 में जन्मे लोग श्रेणी:२००० में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और शकुंतला परांजपे · और देखें »

शुभिंद्रनाथ मुखर्जी

शुभिंद्रनाथ मुखर्जी को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शुभिंद्रनाथ मुखर्जी · और देखें »

श्याम बेनेगल

श्याम बेनेगल (जन्म 14 दिसंबर, 1934) हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध निर्देशक हैं। अंकुर, निशांत, मंथन और भूमिका जैसी फिल्मों के लिये चर्चित बेनेगल समानांतर सिनेमा के अग्रणी निर्देशकों में शुमार किये जाते हैं। श्याम को 1976 में पद्मश्री और 1961 में पद्मभूषण सम्मान दिये गये। 2007 में वे अपने योगदान के लिये भारतीय सिनेमा के सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहब फाल्के पुरस्कार से नवाज़े गये। सर्वश्रेष्ठ हिन्दी फीचर फिल्म के लिये राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार पाँच बार जीतने वाले वे एकमात्र फिल्म निर्देशक हैं। श्याम बेनेगल को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और श्याम बेनेगल · और देखें »

श्यामनंदन सहाय

श्यामनंदन सहाय को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये बिहार राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्यामनंदन सहाय · और देखें »

श्रीनारायण चतुर्वेदी

पं॰ श्रीनारायण चतुर्वेदी (१८९५ -- १८ अगस्त १९९०) हिन्दी के साहित्यकार, प्रचारक, सर्जक तथा पत्रकार थे जो आजीवन हिन्दी के लिये समर्पित रहे। वे सरस्वती पत्रिका के सम्पादक रहे। उन्होने राष्ट्र को हिन्दीमय बनाने के लिये जनता में भाषा की जीवन्त चेतना को उकसाया। अपनी अमूल्य हिन्दी सेवा द्वारा उन्होने भारतरत्न मदन मोहन मालवीय तथा पुरुषोत्तम दास टंडन की योजनाओं और लक्ष्यों को आगे बढ़ाया। .

नई!!: पद्म भूषण और श्रीनारायण चतुर्वेदी · और देखें »

श्रीनिवास आनंदराम

श्रीनिवास आनंदराम को १९८६ में भारत सरकार ने प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९८६ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीनिवास आनंदराम · और देखें »

श्रीनिवास कृष्णन

भारतीय भौतिकविद् श्रीनिवास कृष्णन कार्यमाणिवकम् श्रीनिवास कृष्णन् (Sir Kariamanickam Srinivasa Krishnan, FRS; 4 दिसम्बर 1898 – 14 जून 1961) भारत के प्रख्यात भौतिक विज्ञानी थे। रमन प्रभाव की खोज में सी वी रमन के साथ वे भी सम्मिलित थे जिसके लिये सी वी रमन को १९३० में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और श्रीनिवास कृष्णन · और देखें »

श्रीनिवासन वरदराजन

श्रीनिवासन वरदराजन को भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीनिवासन वरदराजन · और देखें »

श्रीपाद दामोदर सतवलेकर

वेदमूर्ति श्रीपाद दामोदर सातवलेकर (19 सितंबर 1867 - 31 जुलाई 1968) वेदों का गहन अध्ययन करनेवाले शीर्षस्थ विद्वान् थे। उन्हें 'साहित्य एवं शिक्षा' के क्षेत्र में सन् 1968 में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। .

नई!!: पद्म भूषण और श्रीपाद दामोदर सतवलेकर · और देखें »

श्रीपाद पिनाकपाणि

श्रीपाद पिनाकपाणि को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण श्रेणी:1913 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीपाद पिनाकपाणि · और देखें »

श्रीलाल शुक्ल

श्रीलाल शुक्ल (31 दिसम्बर 1925 - 28 अक्टूबर 2011) हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार थे। वह समकालीन कथा-साहित्य में उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिये विख्यात थे। श्रीलाल शुक्ल (जन्म-31 दिसम्बर 1925 - निधन- 28 अक्टूबर 2011) को लखनऊ जनपद के समकालीन कथा-साहित्य में उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिये विख्यात साहित्यकार माने जाते थे। उन्होंने 1947 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास की। 1949 में राज्य सिविल सेवासे नौकरी शुरू की। 1983 में भारतीय प्रशासनिक सेवा से निवृत्त हुए। उनका विधिवत लेखन 1954 से शुरू होता है और इसी के साथ हिंदी गद्य का एक गौरवशाली अध्याय आकार लेने लगता है। उनका पहला प्रकाशित उपन्यास 'सूनी घाटी का सूरज' (1957) तथा पहला प्रकाशित व्यंग 'अंगद का पाँव' (1958) है। स्वतंत्रता के बाद के भारत के ग्रामीण जीवन की मूल्यहीनता को परत दर परत उघाड़ने वाले उपन्यास 'राग दरबारी' (1968) के लिये उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनके इस उपन्यास पर एक दूरदर्शन-धारावाहिक का निर्माण भी हुआ। श्री शुक्ल को भारत सरकार ने 2008 में पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है। .

नई!!: पद्म भूषण और श्रीलाल शुक्ल · और देखें »

श्रीलाल शुक्ला

श्रीलाल शुक्ला (जन्म १९२५) लब्धप्रतिष्ठ उपन्यासकार हैं, इनको २००८ में भारत सरकार ने साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। अपने व्यंग्य लेखन के लिए विशेष चर्चित श्रीलाल शुक्ला को साहित्य अकादेमी पुरस्कार, व्यास-सम्मान, मैथिलीशरण गुप्त सम्मान, लोहिया-सम्मान आदि से सम्मानित किया गया है। अज्ञेय:कुछ रंग, कुछ राग इनकी प्रमुख आलोचना पुस्तक है। श्रेणी:२००८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीलाल शुक्ला · और देखें »

श्रीजांस प्रसाद जैन

श्रीजांस प्रसाद जैन को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीजांस प्रसाद जैन · और देखें »

श्रीकृष्ण एन रतनजानकर

श्रीकृष्ण एन रतनजानकर को कला के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और श्रीकृष्ण एन रतनजानकर · और देखें »

शेख अबदुल्लाह

शेख अबदुल्लाह को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६४ में भारत सरकार द्वारा, पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९६४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और शेख अबदुल्लाह · और देखें »

शेखर गुप्ता

शेखर गुप्ता (जन्म 26 अगस्त 1957) एक भारतीय पत्रकार हैं, जो वर्तमान में द प्रिन्ट के अध्यक्ष और संपादक-इन-चीफ हैं, एक रोमांचक समाचार मीडिया की शुरूआत है। वे पहले इंडिया टुडे समूह के उपाध्यक्ष थे। जून 2014 तक, उन्होंने भारतीय एक्सप्रेस के संपादक-इन-चीफ के रूप में 1 9 वर्ष की सेवा की। शेखर एक साप्ताहिक "राष्ट्रीय ब्याज" नामक कॉलम लिखते हैं उनके "राष्ट्रीय ब्याज" कॉलम को उनकी 2014 किताब आक्षेप भारत में एकत्र किए गए थे। वह एक साक्षात्कार आधारित टेलीविजन शो वॉक द टॉक ऑन एनडीटीवी 24x7 भी आयोजित करता है। शेखर गुप्ता को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा पत्रकारिता के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और शेखर गुप्ता · और देखें »

शोभा गुर्टू

शोभा गुर्टू को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से थी। श्रेणी:पद्म भूषण श्रेणी:२००४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और शोभा गुर्टू · और देखें »

सत्तैयप्पा दंडपाणि देसीकर

सत्तैयप्पा दंडपाणि देसीकर को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सत्तैयप्पा दंडपाणि देसीकर · और देखें »

सत्यदेव दुबे

सत्यदेव दुबे (19 मार्च 1936 -25 दिसम्बर 2011), भारतीय रंगमंच निर्देशक, अभिनेता, नाटककार, पटकथा लेखक और चलचित्र अभिनेता तथा निर्देशक थे। रंगमंच और चलचित्र से जुड़े महती कार्यों के लिए उन्हें १९७१ ई. में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। १९७८ में उन्होंने श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित हिंदी चलचित्र भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ पटकथा का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त किया। १९८० ई. में उन्हें जुनून के लिए सर्वश्रेष्ठ संवाद का पुरस्कार मिला। २०११ में उन्हें भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। .

नई!!: पद्म भूषण और सत्यदेव दुबे · और देखें »

सत्यनारायण शास्त्री

सत्यनारायण शास्त्री (1887 -- 23 सितंबर 1969) आधुनिक आयुर्वेदजगत्‌ के प्रख्यात पंडित और चिकित्साशास्त्री थे। आयुर्वेद की धवल परंपरा को सजीव बनाए रखने के लिए आपने जीवन भर कार्य किया। उन्हें चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। .

नई!!: पद्म भूषण और सत्यनारायण शास्त्री · और देखें »

सत्यनारायण गोयनका

सत्यनारायण गोयनका (जनवरी 30, 1924 – सितम्बर 29, 2013) विपासना ध्यान के प्रसिद्ध बर्मी-भारतीय गुरु थे। उनका जन्म बर्मा में हुआ, उन्होंने सायागयी उ बा खिन का अनुसरण करते हुए १४ वर्षों तक प्रशिक्षण प्राप्त किया। १९६९ में वो भारत प्रतिस्थापित हो गये और ध्यान की शिक्षा देना आरम्भ कर दिया और इगतपुरी में, नासिक के पास १९७६ में एक ध्यान केन्द्र की स्थापना की। .

नई!!: पद्म भूषण और सत्यनारायण गोयनका · और देखें »

सत्यपाल वाही

कर्नल सत्यपाल वाही को सन १९८८ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से थे। श्रेणी:१९८८ पद्म भूषण श्रेणी:२०१७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और सत्यपाल वाही · और देखें »

सत्यजित राय

सत्यजित राय (बंगाली: शॉत्तोजित् राय्) (२ मई १९२१–२३ अप्रैल १९९२) एक भारतीय फ़िल्म निर्देशक थे, जिन्हें २०वीं शताब्दी के सर्वोत्तम फ़िल्म निर्देशकों में गिना जाता है। इनका जन्म कला और साहित्य के जगत में जाने-माने कोलकाता (तब कलकत्ता) के एक बंगाली परिवार में हुआ था। इनकी शिक्षा प्रेसिडेंसी कॉलेज और विश्व-भारती विश्वविद्यालय में हुई। इन्होने अपने कैरियर की शुरुआत पेशेवर चित्रकार की तरह की। फ़्रांसिसी फ़िल्म निर्देशक ज़ाँ रन्वार से मिलने पर और लंदन में इतालवी फ़िल्म लाद्री दी बिसिक्लेत (Ladri di biciclette, बाइसिकल चोर) देखने के बाद फ़िल्म निर्देशन की ओर इनका रुझान हुआ। राय ने अपने जीवन में ३७ फ़िल्मों का निर्देशन किया, जिनमें फ़ीचर फ़िल्में, वृत्त चित्र और लघु फ़िल्में शामिल हैं। इनकी पहली फ़िल्म पथेर पांचाली (পথের পাঁচালী, पथ का गीत) को कान फ़िल्मोत्सव में मिले “सर्वोत्तम मानवीय प्रलेख” पुरस्कार को मिलाकर कुल ग्यारह अन्तरराष्ट्रीय पुरस्कार मिले। यह फ़िल्म अपराजितो (অপরাজিত) और अपुर संसार (অপুর সংসার, अपु का संसार) के साथ इनकी प्रसिद्ध अपु त्रयी में शामिल है। राय फ़िल्म निर्माण से सम्बन्धित कई काम ख़ुद ही करते थे — पटकथा लिखना, अभिनेता ढूंढना, पार्श्व संगीत लिखना, चलचित्रण, कला निर्देशन, संपादन और प्रचार सामग्री की रचना करना। फ़िल्में बनाने के अतिरिक्त वे कहानीकार, प्रकाशक, चित्रकार और फ़िल्म आलोचक भी थे। राय को जीवन में कई पुरस्कार मिले जिनमें अकादमी मानद पुरस्कार और भारत रत्न शामिल हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सत्यजित राय · और देखें »

सत्यजित राय को मिले सम्मान

निम्नांकित सूची विख्यात भारतीय फ़िल्म निर्देशक सत्यजित राय को मिले सम्मानों को प्रदर्शित करती है। इससे उनके विश्वव्यापी ख्याति, उनकी दृष्टि एव्ं उनके कार्यों का परिचय मिलता है़। .

नई!!: पद्म भूषण और सत्यजित राय को मिले सम्मान · और देखें »

सतीश धवन

सतीश धवन (25 सितंबर 1920 – 3 जनवरी 2002) को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक राज्य में कई वर्ष रहे थे। ३ जनवरी २००२ को उनका निधन हो गया। इनकी प्रमुख देनों में से एक थी टर्ब्युलेंस में भारतीय शोध का विकास। ध्वनि के तेज रफ़्तार (सुपरसोनिक) विंड टनेल के विकास में इनका प्रयास निर्देशक रहा है। वे बंगलौर के भारतीय विज्ञान संस्थान से कोई २० साल जुड़े रहे। .

नई!!: पद्म भूषण और सतीश धवन · और देखें »

सतीश नाम्बियार

सतीश नाम्बियार को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सतीश नाम्बियार · और देखें »

समता प्रसाद

पंडित समता प्रसाद और शाहिद परवेज खान पण्डित समता प्रसाद (20 जुलाई 1921, – 1994) भारत के शास्त्रीय संगीतकार एवं तबलावादक थे। वे बनारस घराने के थे। उन्होने अनेकों हिन्दी फिल्मों में तबलावादन किया था। राहुल देव बर्मन उनके ही शिष्य थे। 'उनको भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में कला के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया था। श्रेणी:१९९१ पद्म भूषण श्रेणी:1921 में जन्मे लोग.

नई!!: पद्म भूषण और समता प्रसाद · और देखें »

सर रिचर्ड सैम्युअल एट्टेनबरो

सर रिचर्ड सैम्युअल एट्टेनबरो को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सर रिचर्ड सैम्युअल एट्टेनबरो · और देखें »

सरताज सिंह

सरताज सिंह को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब से थे। २४ अप्रैल १९९८ को उनका निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और सरताज सिंह · और देखें »

सरताज सिंह साही

सरताज सिंह साही को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सरताज सिंह साही · और देखें »

सरदार अंजुम

सरदार अंजुम भारत के एक प्रख्यात शायर एवं लेखक हैं। उन्हें भारत सरकार द्वारा सन २००५ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये हरियाणा राज्य के पंचकुला से हैं। इससे पहले १९९१ में उन्हें पद्म श्री से भी सम्मानित किया जा चुका है। .

नई!!: पद्म भूषण और सरदार अंजुम · और देखें »

सरदारा सिंह जोहल

सरदारा सिंह जोहल को भारत सरकार द्वारा सन २००४ में अर्थ शास्त्र के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:२००४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सरदारा सिंह जोहल · और देखें »

सर्वज्ञ सिंह कटियार

सर्वज्ञ सिंह कटियार को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सर्वज्ञ सिंह कटियार · और देखें »

सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक

सर्वोतम युद्ध सेवा पदक भारत का युद्धकाल में सबसे प्रतिष्ठित सैन्य सम्मान है। युद्ध के प्रसंग में,अथवा युद्ध, संघर्ष या शत्रुता के समय असाधारण शौर्य के लिए दिया जाता हैं। यह पुरस्कार,युद्धकाल में,शांतिकाल के सर्वोच्च सेवा सम्मान,- परम विशिष्ट सेवा पदक के समकक्ष है। मरणोपरांत भी सर्वोतम युद्ध सेवा पदक से सम्मानित किया जा सकता है.

नई!!: पद्म भूषण और सर्वोत्तम युद्ध सेवा पदक · और देखें »

सरोज घोष

सरोज घोष को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सरोज घोष · और देखें »

सरोजिनी वरदप्पन

सरोजिनी वरदप्पन(२१ सितम्बर १९२१ − १७ अक्टूबर २०१३) तमिलनाडु से एक भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता थी। वो मद्रास राज्य के मुख्यमंत्री एम भक्तवत्सलम की पुत्री और जयंती नटराजन की बड़ी बहन थी। सरोजिनी को वर्ष 1973 में पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था। उन्हें वर्ष 2004 और 2009 के लिए जानकी देवी बजाज पुरस्कार भी दिया गया था। सरोजिनी को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उनका १७ अक्टूबर २०१३ को भारतीय समयानुसार सुबह सात बजकर 50 मिनट पर निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और सरोजिनी वरदप्पन · और देखें »

साबरी खान

साबरी खान (उर्दू: استاد صابری خان‎; 21 मई 1927 – 1 दिसंबर 2015) एक भारतीय सारंगी वादक थे, जिन्होंने इस भारतीय वाद्य को संपूर्ण विश्व में लोकप्रिय बनाया। उनका जन्म 21 मई, 1927 में मुरादाबाद उत्तर प्रदेश में हुआ था। ये सैनिया घराना से संबंधित वादक थे। संगीत में उनके महत्त्वपूर्ण योगदान के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें वर्ष 1990 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार तथा भारत सरकार ने 1992 में पद्मश्री से सम्मानित किया था। भारत सरकार द्वारा सन २००६ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से थे।1 दिसंबर, 2015 को उनका निधन सांस की बीमारी के कारण हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और साबरी खान · और देखें »

सालिम अली

सालिम मुईनुद्दीन अब्दुल अली (12 नवम्बर 1896 - 27 जुलाई 1987) एक भारतीय पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी थे। उन्हें "भारत के बर्डमैन" के रूप में जाना जाता है, सालिम अली भारत के ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने भारत भर में व्यवस्थित रूप से पक्षी सर्वेक्षण का आयोजन किया और पक्षियों पर लिखी उनकी किताबों ने भारत में पक्षी-विज्ञान के विकास में काफी मदद की है। 1976 में भारत के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से उन्हें सम्मानित किया गया। 1947 के बाद वे बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के प्रमुख व्यक्ति बने और संस्था की खातिर सरकारी सहायता के लिए उन्होंने अपने प्रभावित किया और भरतपुर पक्षी अभयारण्य (केवलादेव नेशनल पार्क) के निर्माण और एक बाँध परियोजना को रुकवाने पर उन्होंने काफी जोर दिया जो कि साइलेंट वेली नेशनल पार्क के लिए एक खतरा थी। .

नई!!: पद्म भूषण और सालिम अली · और देखें »

सितारा देवी

मोटे अक्षर'तिरछे अक्षर सितारा देवी (8 नवम्बर, 1920 – 25 नवम्बर, 2014)) भारत की प्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना थीं। जब वे मात्र १६ वर्ष की थीं, तब उनके नृत्य को देखकर रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने उन्हें 'नृत्य सम्राज्ञी' कहकर सम्बोधित किया था। उन्होने भारत तथा विश्व के विभिन्न भागों में नृत्य का प्रदर्शन किया। इनका जन्म 1920 के दशक की एक दीपावली की पूर्वसंध्या पर कलकत्ता हुआ था। इनका मूल नाम धनलक्ष्मी और घर में धन्नो था। इनको बचपन में मां-बाप के लाड-दुलार से वंचित होना पड़ा था। मुंह टेढ़ा होने के कारण भयभीत मां-बाप ने उसे एक दाई को सौंप दिया जिसने आठ साल की उम्र तक उसका पालन-पोषण किया। इसके बाद ही सितारा देवी अपने मां बाप को देख पाईं। उस समय की परम्परा के अनुसार सितारा देवी का विवाह आठ वर्ष की उम्र में हो गया। उनके ससुराल वाले चाहते थे कि वह घरबार संभालें लेकिन वह स्कूल में पढना चाहती थीं।|हिन्दुस्तान लाईव स्कूल जाने के लिए जिद पकड लेने पर उनका विवाह टूट गया और उन्हें कामछगढ हाई स्कूल में दाखिल कराया गया। वहां उन्होंने मौके पर ही नृत्य का उत्कृष्ट प्रदर्शन करके सत्यवान और सावित्री की पौराणिक कहानी पर आधारित एक नृत्य नाटिका में भूमिका प्राप्त करने के साथ ही अपने साथी कलाकारों को नृत्य सिखाने का उत्तरदायित्व भी प्राप्त कर लिया। .

नई!!: पद्म भूषण और सितारा देवी · और देखें »

सिद्धेश्वर वर्मा

सिद्धेश्वर वर्मा को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये चंडीगढ़ राज्य से हैं। श्रेणी:१९५७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सिद्धेश्वर वर्मा · और देखें »

सिंगनल्लूर पुट्टस्वामैया मुत्तुराज राजकुमार

सिंगनल्लूर पुट्टस्वामैया मुत्तुराज राजकुमार को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सिंगनल्लूर पुट्टस्वामैया मुत्तुराज राजकुमार · और देखें »

सई परांजपे

सई परांजपे हिन्दी फ़िल्मों के एक निर्देशक हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सई परांजपे · और देखें »

सगत सिंह

पाकिस्तानी जनरल नियाजी, जगदीत सिंह अरोड़ा के सामने आत्मसमर्पण के प्रपत्र पर हस्ताक्षर करते हुए। इनके ठीक पीछे खड़े हैं (बायें से दायें) नीलकान्त कृष्णन, हरि चन्द दीवान, ले जनरल सगत सिंह, तथा जनरल जैकब लेफ्टिनेन्ट जनरल सगत सिंह (परम विशिष्ट सेवा मेडल) (14 जुलाई 1918 – 26 सितम्बर, 2001) भारतीय सेना के तीन-सितारा रैंक वाले जनरल थे। वे गोवा मुक्ति संग्राम और बांग्लादेश मुक्ति युद्ध में अपनी विशिष्ट भूमिका के लिये प्रसिद्ध हैं। अपने सैन्य जीवन में उन्होने अनेकों सम्मनिति पदों की शोभा बढ़ाई। सगत सिंह को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और सगत सिंह · और देखें »

संतोष कुमार मुखर्जी

संतोष कुमार मुखर्जी को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये मध्य प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और संतोष कुमार मुखर्जी · और देखें »

संतोष कुमार सेन

संतोष कुमार सेन को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और संतोष कुमार सेन · और देखें »

संस्कृत आयोग

कोई विवरण नहीं।

नई!!: पद्म भूषण और संस्कृत आयोग · और देखें »

सुदांशु शोभन मैत्रा

सुदांशु शोभन मैत्रा को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुदांशु शोभन मैत्रा · और देखें »

सुधीर रंजन सेनगुप्ता

सुधीर रंजन सेनगुप्ता को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुधीर रंजन सेनगुप्ता · और देखें »

सुधीर कृष्ण मुखर्जी

सुधीर कृष्ण मुखर्जी को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुधीर कृष्ण मुखर्जी · और देखें »

सुनीता विलियम्स

सुनीता विलियम्स (जन्म: १९ सितंबर, १९६५ यूक्लिड, ओहायो में) अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के माध्यम से अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की दूसरी महिला है। यह भारत के गुजरात के अहमदाबाद से ताल्लुक रखती है। इन्होंने एक महिला अंतरिक्ष यात्री के रूप में १९५ दिनों तक अंतरिक्ष में रहने का विश्व किर्तिमान स्थापित किया है। उनके पिता दीपक पाण्डया अमेरिका में एक डॉक्टर हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुनीता विलियम्स · और देखें »

सुनील भारती मित्तल

सुनील मित्तल भारतीय मूल के एक प्रमुख व्यवसायी हैं। भारत के दूरसचार उद्योग में श्री मित्तल का काफी दबदबा है। सुनील भारती मित्तल को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुनील भारती मित्तल · और देखें »

सुनील गावस्कर

सुनील गावस्कर भारत के क्रिकेट के पूर्व-खिलाड़ी हैं। सुनील गावस्कर वर्तमान युग में क्रिकेट के महान बल्लेबाजों में गिने जाते हैं। इन्होंने बल्लेबाजी से संबंधित कई कीर्तिमान स्थापित किए। सनी का जन्म 10 जुलाई 1949 को मुम्बई (महाराष्ट्र) में हुआ था। उनकी पत्नी का नाम मार्शनील है। इनके पुत्र रोहन गावस्कर भी भारतीय क्रिकेट टीम में खेल चुके हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुनील गावस्कर · और देखें »

सुब्रह्मण्यम वासन श्रीनिवासन

सुब्रह्मण्यम वासन श्रीनिवासन को कला क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुब्रह्मण्यम वासन श्रीनिवासन · और देखें »

सुबोधचंद्र सेनगुप्ता

सुबोधचंद्र सेनगुप्ता को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुबोधचंद्र सेनगुप्ता · और देखें »

सुभाष मुखोपाध्याय

सुभाष मुखोपाध्याय एक बांग्ला साहित्यकार हैं। इन्हें 1991 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। सुभाष मुखोपाध्यायको सन २००३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुभाष मुखोपाध्याय · और देखें »

सुमित्रानन्दन पन्त

सुमित्रानंदन पंत (२० मई १९०० - २९ दिसम्बर १९७७) हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' और रामकुमार वर्मा जैसे कवियों का युग कहा जाता है। उनका जन्म कौसानी बागेश्वर में हुआ था। झरना, बर्फ, पुष्प, लता, भ्रमर-गुंजन, उषा-किरण, शीतल पवन, तारों की चुनरी ओढ़े गगन से उतरती संध्या ये सब तो सहज रूप से काव्य का उपादान बने। निसर्ग के उपादानों का प्रतीक व बिम्ब के रूप में प्रयोग उनके काव्य की विशेषता रही। उनका व्यक्तित्व भी आकर्षण का केंद्र बिंदु था। गौर वर्ण, सुंदर सौम्य मुखाकृति, लंबे घुंघराले बाल, सुगठित शारीरिक सौष्ठव उन्हें सभी से अलग मुखरित करता था। .

नई!!: पद्म भूषण और सुमित्रानन्दन पन्त · और देखें »

सुमंत मूलगांवकर

सुमंत मूलगांवकर को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण श्रेणी:महाराष्ट्र के लोग.

नई!!: पद्म भूषण और सुमंत मूलगांवकर · और देखें »

सुरिंदर सिंह बेदी

सुरिंदर सिंह बेदी को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुरिंदर सिंह बेदी · और देखें »

सुरिंदर सिंह गिल

सुरिंदर सिंह गिल को भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९८५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुरिंदर सिंह गिल · और देखें »

सुरिंदर कुमार डे

सुरिंदर कुमार डे को प्रशासकीय सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये राज्य से हैं। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म.

नई!!: पद्म भूषण और सुरिंदर कुमार डे · और देखें »

सुरेश चंद्र रॉय

सुरेश चंद्र रॉय को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुरेश चंद्र रॉय · और देखें »

सुरेश शंकर नाडकर्णी

सुरेश शंकर नाडकर्णी को सन १९८९ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९८९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुरेश शंकर नाडकर्णी · और देखें »

सुशांतकुमार भट्टाचार्य

सुशांतकुमार भट्टाचार्य को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुशांतकुमार भट्टाचार्य · और देखें »

सुजय भूषण रॉय

सुजय भूषण रॉय को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुजय भूषण रॉय · और देखें »

सुख देव

सुख देव को सन २००८ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। 1964 में इन्हें शाँति स्वरूप भटनागर पुरस्कारसे सम्मानित किया गया था। श्रेणी:२००८ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुख देव · और देखें »

सुखलालजी सांघवी

पण्डित सुखलाल संघवी (1880–1978) जैन विद्वान एवं दार्शनिक थे। वे जैन धर्म के स्थानकवासी सम्प्रदाय से सम्बन्धित थे। Preface p. vi इनके द्वारा रचित एक दार्शनिक निबंध दर्शन अने चिंतन के लिये उन्हें सन् १९५८ में साहित्य अकादमी पुरस्कार (गुजराती) से सम्मानित किया गया। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। सोलह वर्ष की अल्पायु में ही चेचक के कारण सुखलालजी की आँखें चलीं गयीं। इसके बावजूद भी उन्होने अपने दृढ संकल्प और लगन से जैन न्याय में विद्वता प्राप्त की और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में प्रोफेसर नियुक्त हुए। पॉल दुंदास (Paul Dundas) उनको जैन दर्शन के सर्वश्रेष्ठ आधुनिक व्याख्याताओं में एक मानते हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुखलालजी सांघवी · और देखें »

सुंदर दास खुंगर

सुंदर दास खुंगर को प्रशासकीय सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुंदर दास खुंगर · और देखें »

सुंदरम रामकृष्ण

सुंदरम रामकृष्ण को सन २००१ में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सुंदरम रामकृष्ण · और देखें »

सुकुमार सेन

सुकुमार सेन को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुकुमार सेन · और देखें »

सुकुमार सेन (भारतीय मुख्य चुनाव आयुक्त)

सुकुमार सेन भारत के पहले मुख्य चुनाव आयुक्त थे जो 21 मार्च 1950 से लेकर 19 दिसम्बर 1958 तक इस पद पर रहे। इनकी सेवाओं के लिए सन् १९५४ में इन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सुकुमार सेन (भारतीय मुख्य चुनाव आयुक्त) · और देखें »

स्टैला क्रैमरिश

स्टैला क्रैमरिश को भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९८२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:१९८२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और स्टैला क्रैमरिश · और देखें »

स्व. गुंतर ग्रूजर

स्व.

नई!!: पद्म भूषण और स्व. गुंतर ग्रूजर · और देखें »

स्व.पी लीला

स्व॰ पी लीला को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और स्व.पी लीला · और देखें »

स्वदेश चटर्जी

स्वदेश चटर्जी को सन २००१ में भारत सरकार ने सार्वजनिक उपक्रम क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। श्रेणी:२००१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और स्वदेश चटर्जी · और देखें »

स्वप्नसुंदरी

स्वप्नसुंदरी को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और स्वप्नसुंदरी · और देखें »

स्वराज पाउल

स्वराज पाउल को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राजशाही से हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और स्वराज पाउल · और देखें »

स्वराज पॉल

स्वराज पॉल, बैरन पॉल, पीसी (18 फ़रवरी 1931 को जन्म) एक भारतीय मूल के, ब्रिटिश आधारित दिग्गज उद्योगपति, समाजसेवी और लेबर राजनीतिज्ञ हैं। 1996 में वे एक लाइफ पीयर बने, वे सिटी ऑफ़ वेस्टमिनिस्टर में बैरन पॉल की उपाधि के साथ मालेबन के हाउज़ ऑफ़ लॉर्ड्स में बैठे.

नई!!: पद्म भूषण और स्वराज पॉल · और देखें »

स्वामी कल्याणदेव

स्वामी कल्याणदेव को सन २००० में भारत सरकार ने समाज सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उत्तर प्रदेश राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और स्वामी कल्याणदेव · और देखें »

स्वेतोस्लैव रोएरिख

स्वेतोस्लैव रोएरिख को कला के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये से हैं। श्रेणी:१९६१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और स्वेतोस्लैव रोएरिख · और देखें »

सौमित्र चटर्जी

सौमित्र चटर्जी बांग्ला फ़िल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सौमित्र चटर्जी · और देखें »

सौंदरम रामचंद्रन

सौंदरम रामचंद्रन को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सौंदरम रामचंद्रन · और देखें »

सैम पित्रोडा

सैम पित्रोडा को सन २००९ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सैम पित्रोडा · और देखें »

सैम मानेकशॉ

सैम होर्मूसजी फ्रेमजी जमशेदजी मानेकशॉ (३ अप्रैल १९१४ - २७ जून २००८) भारतीय सेना के अध्यक्ष थे जिनके नेतृत्व में भारत ने सन् 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में विजय प्राप्त किया था जिसके परिणामस्वरूप बंगलादेश का जन्म हुआ था। .

नई!!: पद्म भूषण और सैम मानेकशॉ · और देखें »

सैयद मीर कासिम

सैयद मीर कासिम को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सैयद मीर कासिम · और देखें »

सैयद हुसैन ज़हीर

सैयद हुसैन ज़हीर को उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:१९७२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सैयद हुसैन ज़हीर · और देखें »

सैयद हैदर रज़ा

सैयद हैदर रज़ा को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये फ्रांस से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सैयद हैदर रज़ा · और देखें »

सैयद ज़हूर कासिम

सैयद ज़हूर कासिम को भारत सरकार द्वारा प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९८२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९८२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सैयद ज़हूर कासिम · और देखें »

सैयद अब्दुल मलिक

सैयद अब्दुल मलिक भारत सरकार ने १९९२ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये असम से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण श्रेणी:साहित्य अकादमी फ़ैलोशिप से सम्मानित‎ श्रेणी:साहित्य अकादमी द्वारा पुरस्कृत असमिया भाषा के साहित्यकार.

नई!!: पद्म भूषण और सैयद अब्दुल मलिक · और देखें »

सैयद अब्दुल लतीफ

सैयद अब्दुल लतीफ को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सैयद अब्दुल लतीफ · और देखें »

सूरज प्रकाश मल्होत्रा

सूरज प्रकाश मल्होत्रा को सन १९८३ में भारत सरकार द्वारा प्रशासनिक सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली के हैं। श्रेणी:१९८३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सूरज प्रकाश मल्होत्रा · और देखें »

सूरज भान

सूरज भान को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा, सन १९७१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ राज्य से हैं। श्रेणी:१९७१ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सूरज भान · और देखें »

सूर्य नारायण व्यास

पण्डित सूर्यनारायण व्यास (०२ मार्च १९०२ - २२ जून १९७६) हिन्दी के व्यंग्यकार, पत्रकार, स्वतंत्रता सेनानी एवं ज्योतिर्विद थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५८ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। पं॰ व्यास ने 1967 में अंग्रेजी को अनन्त काल तक जारी रखने के विधेयक के विरोध में अपना पद्मभूषण लौटा दिया था। वे बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे - वे इतिहासकार, पुरातत्त्ववेत्ता, क्रान्तिकारी, "विक्रम" पत्र के सम्पादक, संस्मरण लेखक, निबन्धकार, व्यंग्यकार, कवि; विक्रम विश्वविद्यालय, विक्रम कीर्ति मन्दिर, सिन्धिया शोध प्रतिष्ठान और कालिदास परिषद के संस्थापक, अखिल भारतीय कालिदास समारोह के जनक तथा ज्योतिष एवं खगोल के अपने युग के सर्वोच्च विद्वान थे। वे महर्षि सान्दीपनी की परम्परा के वाहक थे। खगोल और ज्योतिष के अपने समय के इस असाधारण व्यक्तित्व का सम्मान लोकमान्य तिलक एवं पं॰ मदनमोहन मालवीय भी करते थे। पं॰ नारायणजी के देश और विदेश में लगभग सात हजार से अधिक शिष्य फैले हुए थे जिन्हें वे वस्त्र, भोजन और आवास देकर निःशुल्क विद्या अध्ययन करवाते थे। अनेक इतिहासकारों ने यह भी खोज निकाला है कि पं॰ व्यास के उस गुरुकुल में स्वतन्त्रता संग्राम के अनेक क्रान्तिकारी वेश बदलकर रहते थे। .

नई!!: पद्म भूषण और सूर्य नारायण व्यास · और देखें »

सेठ गोविंद दास

सेठ गोविंददास (1896 – 1974) भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सांसद तथा हिन्दी के साहित्यकार थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। भारत की राजभाषा के रूप में हिन्दी के वे प्रबल समर्थक थे। सेठ गोविंददास हिन्दी के अनन्य साधक, भारतीय संस्कृति में अटल विश्वास रखने वाले, कला-मर्मज्ञ एवं विपुल मात्रा में साहित्य-रचना करने वाले, हिन्दी के उत्कृष्ट नाट्यकार ही नहीं थे, अपितु सार्वजनिक जीवन में अत्यंत स्वच्छ, नीति-व्यवहार में सुलझे हुए, सेवाभावी राजनीतिज्ञ भी थे। सन् १९४७ से १९७४ तक वे जबलपुर से सांसद रहे। वे महात्मा गांधी के निकट सहयोगी थे। उनको दमोह में आठ माह का कारावास झेलना पड़ा था जहाँ उन्होने चार नाटक लिखे- "प्रकाश" (सामाजिक), "कर्तव्य" (पौराणिक), "नवरस" (दार्शनिक) तथा "स्पर्धा" (एकांकी)। .

नई!!: पद्म भूषण और सेठ गोविंद दास · और देखें »

सेतु माधव राव पगड़ी

सेतु माधव राव पगड़ी भारत सरकार ने १९९२ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सेतु माधव राव पगड़ी · और देखें »

सेंगमेदु श्रीनिवास बद्रीनाथ

सेंगमेदु श्रीनिवास बद्रीनाथ को सन १९९९ में भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९९९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सेंगमेदु श्रीनिवास बद्रीनाथ · और देखें »

सोनम ग्यात्सो

सोनम ग्यात्सो को खेल के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये सिक्किम राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सोनम ग्यात्सो · और देखें »

सोनल मानसिंह

सोनल मानसिंह भारत सरकार ने १९९२ में कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। सोनल मानसिंह (जन्म ३० अप्रैल, १९४४) एक भारतीय शास्त्रीय नर्तक और गुरु भरतनाट्यम और ओडिसी नृत्य शैली हैं; जो अन्य भारतीय शास्त्रीय नृत्य शैली में भी कुशल है। सोनल मानसिंह का जन्म मुंबई में हुआ, तीन बच्चों में से तीन अरविंद और पूर्णिमा पाकवास, गुजरात के एक प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और २००४ में पद्म विभूषण विजेता थे। उनके दादा एक स्वतंत्रता सेनानी मंगल दास पाकवास थे, और भारत के पहले पांच गवर्नरों में से एक था।। उन्होंने चार साल की उम्र में मणिपुरी नृत्य, नागपुर के एक शिक्षक से अपनी बड़ी बहन के साथ सीखना शुरू कर दिया, फिर सात साल की उम्र में उन्होंने पांडानल्लुर स्कूल के विभिन्न गुरूओं से भरतनाट्यम सीखना शुरू किया, बॉम्बे में कुमार जयकर सहित। उन्होंने भारतीय विद्या भवन और बीए से संस्कृत में "प्रवीण" और "कोविद" डिग्री दी है। एलफिन्स्टन कॉलेज, बॉम्बे से जर्मन साहित्य में(ऑनर्स)डिग्री हालांकि, १८ साल की उम्र में, अपने परिवार के विरोध के बावजूद, वह १८ साल की उम्र में, प्रोफेसर अमेरिकी कृष्ण राव और चंद्रभागा देवी से भरतनाट्यम जानने के लिए, मैलेपुर गौरी अम्मल और बाद में १९६५ में गुरु केलूचरण महापात्रा से ओडिसी सीखना शुरू किया। .

नई!!: पद्म भूषण और सोनल मानसिंह · और देखें »

सोमनाथ होरे

सोमनाथ होरे को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सोमनाथ होरे · और देखें »

सोमांगुडी राधा के श्रीनिवास अइयर

सोमांगुडी राधा के श्रीनिवास अइयर को कला क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सोमांगुडी राधा के श्रीनिवास अइयर · और देखें »

सोहराब फिरोजशाह गोदरेज

सोहराब फिरोजशाह गोदरेज को सन १९९९ में भारत सरकार ने उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९९९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सोहराब फिरोजशाह गोदरेज · और देखें »

सोंभु मित्रा

सोंभु मित्रा को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से थे। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1915 में जन्मे लोग श्रेणी:१९९७ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और सोंभु मित्रा · और देखें »

सी वैद्यनाथ भगवतार

सी वैद्यनाथ भगवतार को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये केरल से हैं। श्रेणी:१९७३ पद्म भूषण श्रेणी:1896 में जन्मे लोग श्रेणी:१९७४ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और सी वैद्यनाथ भगवतार · और देखें »

सी वेंकटरमण सुंदरम

सी वेंकटरमण सुंदरम को भारत सरकार ने विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९८६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये तमिलनाडु से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सी वेंकटरमण सुंदरम · और देखें »

सी के प्रह्लाद

सी के प्रह्लाद कोयम्बटूर कृष्णराव प्रहलाद (जन्म: सन् १९४१ - १६ अप्रैल २०१०) भारत के उद्यमी, सलाहकार एवं प्रबन्धन विशेषज्ञ थे। वे पॉल ऐण्ड रूथ मैकक्रैकेन डिस्टिंग्विश्ड विश्वविद्यालय में 'कारपोरेट रणनीति' के प्रोफेसर थे। उन्हें सन २००९ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। इसके पहले उन्हें सन् २००९ का प्रवासी भारतीय सम्मान भी प्रदान किया गया था। मिशीगन विश्वविद्यालय में बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के प्रोफेसर सी.

नई!!: पद्म भूषण और सी के प्रह्लाद · और देखें »

सी कोटियथ लक्षमणन

सी कोटियथ लक्षमणन को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं। श्रेणी:१९६७ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और सी कोटियथ लक्षमणन · और देखें »

सीताराम सेकसरिया

सीताराम सेकसरिया को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम राज्य से हैं। सीताराम सेकसरिया एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता , गांधीवादी , समाजवादी और पश्चिम बंगाल के संस्था बिल्डर थे , जो मारवाड़ी समुदाय के उत्थान के लिए उनके योगदान के लिए जाने जाते थे । वह एक उच्च विद्यालय संस्थान,  मारवाड़ी बालिकिका विद्यालय,  समाज सुधार समिति , एक सामाजिक संगठन  और भारतीय भाषा परिषद , उच्च शिक्षा संस्थान, श्री शिक्षाशाटन सहित कई संस्थानों और संगठनों के संस्थापक थे। एक गैर सरकारी संगठन  भारत सरकार ने समाज में उनके योगदान के लिए उन्हें 1 9 62 में पद्म भूषण का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया।  उनके जीवन की कहानी एक किताब, पद्म भूषण सीताराम सेकसरिया अभिनंदन ग्रंथ में प्रकाशित की गई है , जिसे भावरमल सिंह द्वारा संपादित किया गया है और 1 9 74 में प्रकाशित किया गया था।  वह 1 9, 2017 को अपने घर में मृत पाया गया था, .

नई!!: पद्म भूषण और सीताराम सेकसरिया · और देखें »

सीताकांत महापात्र

ओड़िया के प्रसिद्ध कवि सीताकान्त महापात्र सीताकांत महापात्र (जन्म: १७ सितम्बर १९३७) उड़िया साहित्यकार हैं। इन्हें 1993 में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्हें सन २००३ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। सीताकान्त की कविता का काव्य संसार यथार्थ और अनुभूति के सोलेन सम्मिश्रम से निर्मित हुआ है। उनकी कविताओं का सांस्कृतिक धरातल उनके अनुभव की उपज है। अतीत के जिस झरोखे से वे गांव की पगडंडी, तालाब, नदी, घर मन्दिर, सूर्योदय, ढलती शाम व मानवीय संबंधों इत्यादि का अवलोकन करते हुए सहजता से अपनी कविता में अभिव्यक्ति करते हैं, वह अनायास ही पाठकों को अपने में बांध लेती हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और सीताकांत महापात्र · और देखें »

सी॰ के॰ नायडू

कोट्टेरी कनकैया नायडू ((३१ अक्टूबर १८९५- १४ नवम्बर १९६७) भारतीय क्रिकेट टीम के पहले टेस्ट क्रिकेट मैचों के कप्तान थे। इन्होंने लंबे समय तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला था। इन्होंने लगभग १९५८ तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला और अंतिम बार ६८ साल की उम्र में १९६३ में क्रिकेट खेला था। सन १९२३ में इंदौर के होल्कर के शासक ने होल्कर के कैप्टन बनने के लिए भी आमंत्रित किया था। आर्थर गल्लीगां के नेतृत्व में मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने भारत का दौरा किया था और मैच मुम्बई के बॉम्बे जिमखाना पर खेला गया था। जिसमें हिंदुओ की ओर से सी के नायडू ने ११६ मिनट में १५३ रनों की पारी भी खेली थी। उस मैच में इन्होंने ११ छक्के भी लगाए थे जिसमें एक छक्का बॉम्बे जिमखाना की छत पर जाकर गिरा था। इसके बाद एमसीसी ने इन्हें चांदी का एक बैट पुरस्कार में दिया था। नायडू को भारत सरकार ने १९५६ में भारत के द्वितीय सर्वोच्च पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया था। .

नई!!: पद्म भूषण और सी॰ के॰ नायडू · और देखें »

सी॰पी॰ कृष्णन नायर

चित्तरत पूवक्कट्ट कृष्णन नायर (९ फ़रवरी १९२२ – १७ मई २०१४) भारतीय कारोबारी थे। वो होटल लीलावेंचर के के संस्थापक थे। उन्हें २०१० में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया। १७ मई २०१४ को ९२ वर्ष की आयु में नायर का निधन हो गया। .

नई!!: पद्म भूषण और सी॰पी॰ कृष्णन नायर · और देखें »

हनुमंतप्पा नर्सिंहैया

हनुमंतप्पा नर्सिंहैया को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हनुमंतप्पा नर्सिंहैया · और देखें »

हबीब उर रहमान

हबीब उर रहमान को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हबीब उर रहमान · और देखें »

हरनारायण सिंह

हरनारायण सिंह को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पंजाब राज्य से हैं। श्रेणी:१९६३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरनारायण सिंह · और देखें »

हरबर्ट फिशर

हरबर्ट फिशर को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये जर्मनी से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरबर्ट फिशर · और देखें »

हरबख्श सिंह

हरबख्श सिंह को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९६५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरबख्श सिंह · और देखें »

हरबंस सिंह वज़ीर

हरबंस सिंह वज़ीर को सन २००० में भारत सरकार ने चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये हरियाणा राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और हरबंस सिंह वज़ीर · और देखें »

हरि मोहन

हरि मोहन को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००५ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरि मोहन · और देखें »

हरि शंकर सिंघानिया

हरि शंकर सिंहानिया को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरि शंकर सिंघानिया · और देखें »

हरिदास सिद्धांत वागीश

हरिदास सिद्धांत वागीश को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से थे। श्रेणी:१९६० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरिदास सिद्धांत वागीश · और देखें »

हरिदेव शौरी

हरिदेव शौरी को सन १९९९ में भारत सरकार ने समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। श्रेणी:१९९९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरिदेव शौरी · और देखें »

हरिपल सिंह अहलुवालिया

हरिपल सिंह अहलुवालिया को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हरिपल सिंह अहलुवालिया · और देखें »

हरिप्रसाद चौरसिया

thumb हरिप्रसाद चौरसिया (१९८८ में) हरिप्रसाद चौरसिया या पंडित हरिप्रसाद चौरसिया (जन्म: १ जुलाई १९३८इलाहाबाद) प्रसिद्ध बांसुरी वादक हैं। उन्हे भारत सरकार ने १९९२ में पद्म भूषण तथा सन २००० में पद्मविभूषण से सम्मानित किया था। .

नई!!: पद्म भूषण और हरिप्रसाद चौरसिया · और देखें »

हरिवंश राय बच्चन

हरिवंश राय श्रीवास्तव "बच्चन" (२७ नवम्बर १९०७ – १८ जनवरी २००३) हिन्दी भाषा के एक कवि और लेखक थे। इलाहाबाद के प्रवर्तक बच्चन हिन्दी कविता के उत्तर छायावाद काल के प्रमुख कवियों मे से एक हैं। उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति मधुशाला है। भारतीय फिल्म उद्योग के प्रख्यात अभिनेता अमिताभ बच्चन उनके सुपुत्र हैं। उन्होने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्यापन किया। बाद में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ रहे। अनन्तर राज्य सभा के मनोनीत सदस्य। बच्चन जी की गिनती हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में होती है। .

नई!!: पद्म भूषण और हरिवंश राय बच्चन · और देखें »

हर्बर्ट एलेक्जेंड्रोविच येफ्रेमोव

हर्बर्ट एलेक्जेंड्रोविच येफ्रेमोव को सन २००३ में भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये रूस से हैं। श्रेणी:२००३ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हर्बर्ट एलेक्जेंड्रोविच येफ्रेमोव · और देखें »

हरीश चंद्र

---- हरीश चंद्र महरोत्रा (११ अक्टूबर १९२३ - १६ अक्टूबर १९८३) भारत के महान गणितज्ञ थे। वह उन्नीसवीं शदाब्दी के प्रमुख गणितज्ञों में से एक थे। इलाहाबाद में गणित एवं भौतिक शास्त्र का प्रसिद्ध केन्द्र "मेहता रिसर्च इन्सटिट्यूट" का नाम बदलकर अब उनके नाम पर हरीशचंद्र अनुसंधान संस्थान कर दिया गया है। 'हरीश चंद्र महरोत्रा' को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और हरीश चंद्र · और देखें »

हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय

हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और हरींद्रनाथ चट्टोपाध्याय · और देखें »

हारुन खान शेरवानी

हारुन खान शेरवानी को साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये आंध्र प्रदेश से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हारुन खान शेरवानी · और देखें »

हजारी प्रसाद द्विवेदी

हजारी प्रसाद द्विवेदी (19 अगस्त 1907 - 19 मई 1979) हिन्दी के मौलिक निबन्धकार, उत्कृष्ट समालोचक एवं सांस्कृतिक विचारधारा के प्रमुख उपन्यासकार थे। .

नई!!: पद्म भूषण और हजारी प्रसाद द्विवेदी · और देखें »

हंस जीवराज मनुभाई मेहता

हंस जीवराज मनुभाई मेहता को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९५९ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से हैं। श्रेणी:१९५९ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हंस जीवराज मनुभाई मेहता · और देखें »

हंसमुख ठाकुरदास पारेख

हंसमुख ठाकुरदास पारेख भारत सरकार ने १९९२ में उद्योग के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हंसमुख ठाकुरदास पारेख · और देखें »

हंसमुख धीरजलाल सांकलिया

हंसमुख धीरजलाल सांकलिया (सन १९४०) हंसमुख धीरजलाल सांकलिया (दिसंबर १०, १९०८, मुंबई - जनवरी २८, १९८९, पुणे) को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७४ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:१९७४ पद्म भूषण श्रेणी:पुरातत्व वैज्ञानिक.

नई!!: पद्म भूषण और हंसमुख धीरजलाल सांकलिया · और देखें »

हंसराज गुप्ता

हंसराज गुप्ता को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये हरियाणा राज्य से हैं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हंसराज गुप्ता · और देखें »

हंसा मेहता

हंसा मेहता का जन्म ०३ जुलाई १८९७ ई॰ में हुआ। हंसा मेहता प्रसिद्ध समाजसेवी, स्वतंत्रता सेनानी तथा शिक्षाविद थीं। उनके पिता मनुभाई मेहता बड़ौदा और बीकानेर रियासतों के दीवान थे। पत्रकारिता और समाजशास्त्र की उच्च शिक्षा के लिए वे १९१९ ई॰ में इंग्लैंड चली गईं। १९४१ ई॰ से १९५८ ई॰ तक बड़ौदा विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर के रूप में हंसा मेहता ने शिक्षा जगत में अपनी छाप छोड़ी। १९५९ में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: पद्म भूषण और हंसा मेहता · और देखें »

हकीम सैयद मुहम्मद शर्फ़ुद्दीन कादरी

हकीम सैयद मुहम्मद शर्फ़ुद्दीन कादरी को सन २००७ में भारत सरकार द्वारा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और हकीम सैयद मुहम्मद शर्फ़ुद्दीन कादरी · और देखें »

हकीम अब्दुल हमीद

हकीम अब्दुल हमीद भारत सरकार ने १९९२ में के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली से हैं। श्रेणी:१९९२ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हकीम अब्दुल हमीद · और देखें »

हैनिंग होल्क लार्सन

हैनिंग होल्क लार्सन को सन २००२ में भारत सरकार द्वारा उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। श्रेणी:पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हैनिंग होल्क लार्सन · और देखें »

हेमलता गुप्ता

हेमलता गुप्ता (मृत्यु 2006) एक भारतीय चिकित्सक और लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज के चिकित्सा विभाग की प्रमुख चिकित्सक और निर्देशिका थीं। उन्होंने मेडिकल की पढ़ाई लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से की और बाद में वह उसकी निर्देशक बन गईं। भारत सरकार से उन्हें चिकित्सा विज्ञान में योगदान के लिए तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्म भूषण से 1998 में सम्मानित किया गया। वह अविवाहित थीं और नई दिल्ली में रहती थीं जहाँ पर 13 मई, 2006 को उन्हें, उनके निवास उत्तम नगर में मृत पाया गया था। कई वर्षों की जांच के बाद, जिस मामले ने मीडिया का ध्यान आकर्षित किया, वह मामला आज भी अनसुलझा है। .

नई!!: पद्म भूषण और हेमलता गुप्ता · और देखें »

हेस्नाम कन्हाईलाल

हेस्नाम कन्हाईलाल (17 जनवरी 1941 – 6 अक्तूबर 2016)मणिपुर से एक प्रसिद्ध भारतीय रंगमंच निर्देशक थे। वे ‘कलाक्षेत्र मणिपुर’ के संस्थापक-निदेशक थे। ‘मेमायर्स ऑफ अफ्रीका’, ‘कर्ण’, ‘पेबेट’ ‘डाकघर’, ‘अचिन गायनेर गाथा’ तथा ‘द्रोपदी’ आदि उनकी चर्चित नाट्य प्रस्तुतियां हैं। महाश्वेता देवी की कहानी पर आधारित उनकी प्रस्तुति द्रोपदी अत्यंत प्रशंसित और विवादित रही है। उन्हें वर्ष 1985 में संगीत नाटक अकादमी, वर्ष 2004 में पद्मश्री तथा वर्ष 2016 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। वे संगीत नाटक अकादमी के फेलो भी थे। उन्होंने अपने जीवनकाल में भारतीय रंगमंच की विविधिता को समृद्ध किया है। उनकी मृत्यु 6 अक्टूबर, 2016 को मणिपुर की राजधानी इम्फालमें हो गयी। .

नई!!: पद्म भूषण और हेस्नाम कन्हाईलाल · और देखें »

होरेस एलेक्ज़ेंडर

होरेस एलेक्ज़ेंडर को भारत सरकार द्वारा सन १९८४ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये संयुक्त राज्य अमेरिका राज्य से हैं। श्रेणी:१९८४ पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और होरेस एलेक्ज़ेंडर · और देखें »

होलेनर्सीपुर योगनरसिंहम प्रसाद शारदा

होलेनर्सीपुर योगनरसिंहम प्रसाद शारदा को सन २००० में भारत सरकार ने साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये दिल्ली राज्य से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और होलेनर्सीपुर योगनरसिंहम प्रसाद शारदा · और देखें »

हीरा लाल सिब्बल

हीरा लाल सिब्बल को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये चंडीगढ़ से हैं। .

नई!!: पद्म भूषण और हीरा लाल सिब्बल · और देखें »

हीराभाई बादोडेकर

हीराभाई बादोडेकर को कला के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से थीं। श्रेणी:१९७० पद्म भूषण श्रेणी:1905 में जन्मे लोग श्रेणी:१९८९ में निधन.

नई!!: पद्म भूषण और हीराभाई बादोडेकर · और देखें »

हीरेंद्रनाथ मुखर्जी

हीरेंद्रनाथ मुखर्जी को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: पद्म भूषण और हीरेंद्रनाथ मुखर्जी · और देखें »

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर

जबलपुर अभियांत्रिकी महाविद्यालय (जेईसी), जिसे पहले शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के नाम से जाना जाता था, जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत में स्थित एक संस्थान है। यह भारत में ब्रिटिश शासन के दौरान, शासकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय, जबलपुर के रूप में स्थापित किया गया था और यह भारत का १५ वां सबसे पुराना अभियांत्रिकी संस्थान है। यह भारत का पहला संस्थान है जिसने देश में इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचा