लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

ञिङमा

सूची ञिङमा

ञिङमा (तिब्बती भाषा: རྙིང་མ་པ།, अंग्रेज़ी: Nyingma), तिब्बती बौद्ध धर्म की पांच प्रमुख शाखाओं में से एक हैं। तिब्बती भाषा में "ञिङमा" का अर्थ "प्राचीन" होता है। कभी-कभी इसे ङग्युर (སྔ་འགྱུར།, Ngagyur) भी कहा जाता है जिसका अर्थ "पूर्वानूदित" होता है, जो नाम इस सम्प्रदाय द्वारा सर्वप्रथम महायोग, अनुयोग, अतियोग और त्रिपिटक आदि बौद्ध ग्रंथों को संस्कृत इत्यादि भारतीय भाषों से तिब्बती में अनुवाद करने के कारण रखा गया। तिब्बती लिपि और तिब्बती भाषा के औपचारिक व्याकरण की आधारशिला भी इसी ध्येय से रखी गई थी। आधुनिक काल में ञिङमा संप्रदाय का धार्मिक संगठन तिब्बत के खम प्रदेश पर केन्द्रित है। .

20 संबंधों: ञिङमा ग्युद्बुम, तिब्बती बौद्ध धर्म, तकथोक मठ, नाम्ड्रोल्लिङ, पद्म नोर्बु रिन्पोछे, पद्मसम्भव, पल्युल संप्रदाय, बैलकुप्पे, महायोग, योल्मो लोग, लारूंग गार बौद्ध एकेडमी, लाल टोपी सम्प्रदाय, लोङछेनपा, शेर्पा, सक्या, जोनंग, खनपो जिगमेद फुनछोगस्, खम, कग्यु, अतियोग

ञिङमा ग्युद्बुम

ञिङमा ग्युद्बुम (རྙིང་མ་རྒྱུད་འབུམ, Wylie: rnying मा rgyud 'लूट) 'एकत्र तंत्र के पूर्वजों', यह है कि Mahayoga, Anuyoga और Atiyoga तंत्र के न्यिन्गमा.

नई!!: ञिङमा और ञिङमा ग्युद्बुम · और देखें »

तिब्बती बौद्ध धर्म

तिब्बती बौद्ध धर्म बौद्ध धर्म की महायान शाखा की एक उपशाखा है जो तिब्बत, मंगोलिया, भूटान, उत्तर नेपाल, उत्तर भारत के लद्दाख़, अरुणाचल प्रदेश, लाहौल व स्पीति ज़िले और सिक्किम क्षेत्रों, रूस के कालमिकिया, तूवा और बुर्यातिया क्षेत्रों और पूर्वोत्तरी चीन में प्रचलित है।An alternative term, "lamaism", and was used to distinguish Tibetan Buddhism from other buddhism.

नई!!: ञिङमा और तिब्बती बौद्ध धर्म · और देखें »

तकथोक मठ

तकथोक मठ (Takthok Monastery) या थगथोग मठ (Thag Thog) भारत के लद्दाख़ क्षेत्र के लेह ज़िले की लेह तहसील के सक्ती गाँव में स्थित एक तिब्बती बौद्ध मठ है। यह लेह से ४६ किमी पूर्व में है। इसके नाम का अर्थ "पत्थर की छत" है क्योंकि इसकी दीवारें और छत दोनों पत्थर के बने हैं। यह लद्दाख़ का इकलौता न्यिंगमा सम्प्रदाय का मठ है। यहाँ ५५ लामा रहते हैं। .

नई!!: ञिङमा और तकथोक मठ · और देखें »

नाम्ड्रोल्लिङ

नाम्ड्रोल्लिङ और पूरा नाम थेग्छोग नाम्ड्रोल शद्ड्रुब दरग्यास लिङ (तिब्बती: ཐེག་མཆོག་རྣམ་གྲོལ་བཤད་སྒྲུབ་དར་རྒྱས་གླིང་།, Wylie: theg-mchog-rnam-grol-bshad-sgrub-dar-rgyas-ling) पद्म नोर्बु रिन्पोछे द्वारा सन १९६३ में स्थापित किया गया एक बौद्ध सांप्रदायिक शिक्षा केंद्र है जो विश्व में तिब्बती बौद्ध धर्म की अन्तर्गत ञिङमा सम्प्रदाय का सबसे बड़ा शिक्षा संस्था में से एक है। इस शैक्षिक केंद्र दक्षिण भारत, कर्नाटक, मैसूर जिले की बैलकुप्पे में स्थित है। यह हजारों बौद्ध छात्रों के लिए छात्रावास, शिक्षा केन्द्र, पुस्तकालय, स्कूल, अस्पताल, ध्यान केंद्र इत्यादिका सुविधाओं है। .

नई!!: ञिङमा और नाम्ड्रोल्लिङ · और देखें »

पद्म नोर्बु रिन्पोछे

'''पद्म नोर्बु रिन्पोछे''' फोटो द्वारा: Chris Fynn, 1981 पद्म नोर्बु रिन्पोछे, पद्नोर रिन्पोछे या ड्रुब्वाङ पद्म नोर्बु रिन्पोछे (तिब्बती: པདྨ་ནོར་བུ་, Wylie: pad ma nor bu, 1932 - मार्च 27, 2009) ञिङमा पल्युल सांप्रदायिक मठ के ग्यारहवें सिंहासन-धारक और ञिङमा संप्रदाय के तीसरे परम प्रमुख गुरु हैं। उन्हें भारतीय बौद्ध धर्म के महापण्डित विमलमित्र के अवतार के रूप में भी माना जाता है। बौद्ध वज्रयान महासन्धि शिक्षण परंपरा का सुविज्ञ गुरु होने की कारण से तिब्बती बौद्ध की दुनिया में व्यापक रूप से प्रसिद्ध थे। .

नई!!: ञिङमा और पद्म नोर्बु रिन्पोछे · और देखें »

पद्मसम्भव

भारत के सिक्किम में गुरू रिन्पोचे की प्रतिमा पद्मसम्भव (तिब्बती: པདྨ་འབྱུང་གནས), (अर्थ: कमल से उत्पन्न) भारत के एक साधुपुरुष थे जिन्होने आठवीं शती में तांत्रिक बौद्ध धर्म को भूटान एवं तिब्बत में ले जाने एवं प्रसार करने में महती भूमिका निभायी। वहाँ उनको "गुरू रिन्पोछे" (बहुमूल्य गुरू) या "लोपों रिन्पोछे" के नाम से जाना जाता है। ञिङमा सम्प्रदाय के अनुयायी उन्हें द्वितीय बुद्ध मानते हैं। ऐसा माना जाता है कि मंडी के राजा अर्शधर को जब यह पता चला कि उनकी पुत्री ने गुरु पद्मसंभव से शिक्षा ली है तो उसने गुरु पद्मसंभव को आग में जला देने का आदेश दिया, क्योंकि उस समय बौद्ध धर्म अधिक प्रचलित नहीं था और इसे शंका की दृष्टि से देखा जाता था। बहुत बड़ी चिता बनाई गई जो सात दिन तक जलती रही। इससे वहाँ एक झील बन गई जिसमें से एक कमल के फूल में से गुरु पद्मसंभव एक षोडशवर्षीय किशोर के रूप में प्रकट हुए। यह झील आज के रिवालसर शहर में है जो हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्थित है। Shrine to Mandarava in cave above Lake Rewalsar.jpg| रिवालसर झील के समीप स्थित गुरु पद्मसमभव की विशाल मूर्ति Guru Rinpoche in mist 2.jpg|रिवालसर स्थित गुरु पद्मसमभव की विशाल मूर्ति का निकट से लिया गया चित्र .

नई!!: ञिङमा और पद्मसम्भव · और देखें »

पल्युल संप्रदाय

पल्युल सांप्रदायिक मूल मठ, तिब्बत चीन दक्षिण भारत, मैसूर, बैलाकुप्पे में मौजूदा पल्युल सांप्रदायिक मठ, नाम्ड्रोल्लिङ पद्म सम्भव बौद्ध विहार पल्युल संप्रदाय पल्युल मठ तिब्बती बौद्ध धर्म के ञिङमा पारम्परिक छ मूल मठ में से एक है। इस मठ को पल्युल संप्रदाय के प्रथम सिंहासन धारक विद्याधर कुन्जाङ शेसरब द्वारा 1665 में स्थापित किया गया था, जो आजकल चीन के सिचुआन प्रांत, बैयु काउंटी, गर्जे तिब्बती स्वायत्त प्रान्त के पूर्वी शहर में है। वास्तव में पल्युल एक जगह का नाम था और बाद में उस जगह पर स्थापित मठ और गोन्पा को पल्युल मठ या पल्युल गोन्पा कहा गया, और उसी मठ से सम्बंधित बौद्ध महासिद्ध और गुरु द्वारा दिएगए बौद्ध शिक्षण संप्रदाय का नाम भी पल्युल संप्रदाय रहा गया। .

नई!!: ञिङमा और पल्युल संप्रदाय · और देखें »

बैलकुप्पे

बैलकुप्पे, कर्नाटक के मैसूर जिले के पश्चिम में स्थित है जहाँ "लुगस्सम सुंड्रेल लिङ" (1961 में स्थापित) और "देक्यीद लार्सो" (1969 में स्थापित) नामक दो आसन्न तिब्बती शरणार्थी बस्तियाँ स्थित हैं, साथ ही यहां कई तिब्बती बौद्ध मठ हैं। जुड़वां शहर कुशलनगर, बैलकुप्पे से 6 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद है। .

नई!!: ञिङमा और बैलकुप्पे · और देखें »

महायोग

महायोग (तिब्बती: རྣལ་འབྱོར་ཆེན་པོ།, नाल्ज्योर छेन्पो, संस्कृत: महायोग) बज्रयान अन्तर्गत का एक तान्त्रिक संप्रदाय है। इस संप्रदाय ञिङमा संप्रदाय के नौ यान मध्ये सातवाँ यान है।.

नई!!: ञिङमा और महायोग · और देखें »

योल्मो लोग

योल्मो लोगों को कर रहे हैं एक स्वदेशी लोगों के पूर्वी हिमालय क्षेत्रहै। वे खुद को देखें के रूप में "Yolmowa" या "Hyolmopa", और natively में रहते हैं हेलम्बू और Melamchi घाटियों (पर स्थित 43.4 किलोमीटर/27 मील की दूरी पर और 44.1 किलोमीटर/27.4 मील के उत्तर के लिए काठमांडू क्रमशः) और आसपास के क्षेत्रों के पूर्वोत्तर नेपाल.

नई!!: ञिङमा और योल्मो लोग · और देखें »

लारूंग गार बौद्ध एकेडमी

लारूंग गार बौद्ध एकेडमी, चिनी: 喇荣五明佛学院) सन् १९८० में, तिब्बती बौद्ध विद्वान खनपो जिगमेद फुनछोगस् द्वारा स्थापित एक ञिङमा साम्प्रदायिक तिब्बती बौद्ध विद्यापीठ है। यह विद्यालय सेरता काउंटी, गरजे, सिचुआन प्रांत में स्थित है। इस शैक्षिक संस्थान उद्देश्य तिब्बती बौद्ध धर्म में एक दुनियावी प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए और, सन १९६६-७६ की चिनिया सांस्कृतिक क्रांति द्वारा किया गया विनाशकारी प्रभाव का ध्यान में लेकर तिब्बती बौद्ध छात्रवृत्ति नवीकरण के जरूरत को पूरा करने के लिए किया गया है। इसके दूरस्थ स्थान के बावजूद, यह दुनिया में तिब्बती बौद्ध अध्ययन के लिए सबसे बड़ा और सबसे प्रभावशाली केन्द्रों में से एक है, यह की छात्रों का संख्या में १०,००० से अधिक भिक्षुओं, भिक्षुणियों है। बीजिंग. चीन के चेंगदू से करीब 600 किमी दूर यह स्कूल 1980 में एक इमारत में शुरू हुआ था। अब फैलकर कस्बे में बदल गया है। कस्बे का निर्माण सिर्फ दान से हुआ है। नाम है लारुंग गार बुद्धिस्ट एकेडमी। यह दुनिया का सबसे बड़ा रिहायशी बौद्ध विद्यालय है। यहां पर तिब्बत के पारंपरिक बौद्ध शिक्षा का अध्ययन करने के लिए कई देशों से बच्चे आते हैं। यहां सभी घरों के रंग लाल और भूरे हैं। लड़के-लड़कियों के रहने वाले इलाकों को सड़कों से बांटा गया है। .

नई!!: ञिङमा और लारूंग गार बौद्ध एकेडमी · और देखें »

लाल टोपी सम्प्रदाय

लाल टोपी सम्प्रदाय (Red Hat sects) तिब्बती बौद्ध धर्म के वे सम्प्रदाय हैं जिनमें भिक्षु औपचारिक समारोहों में लाल रंग की टोपियाँ पहनते हैं। इस श्रेणी में तीन मुख्य सम्प्रदाय आते हैं.

नई!!: ञिङमा और लाल टोपी सम्प्रदाय · और देखें »

लोङछेनपा

लोङछेनपा लोङछेनपा, लोङछेन रबजमस्, ड्रीमेद वोदसेर (तिब्बती: ཀློང་ཆེན་རབ་འབྱམས། དྲི་མེད་འོད་ཟེར། Wylie: klong chen rab 'byams, dri med od zer), आमतौर पर संक्षिप्त नाम लोङछेनपा (1308-1364), एक प्रमुख ञिङमा सांप्रदायिक बौद्ध विद्वान शिक्षक था। सक्या पंडिता और जे चोङखापा के साथ, वह आम मान्यता के रूप में मंजुश्री के तीन मुख्य अभिव्यक्तियों में से एक है। .

नई!!: ञिङमा और लोङछेनपा · और देखें »

शेर्पा

शेर्पा एक मानव जाति है जिनका मुख्य निवास नेपाल और तिब्बत के हिमालयी क्षेत्रों तथा उसके आसपास के इलाकों में है। तिब्बती भाषा में शर का अर्थ होता है पूरब तथा पा प्रत्यय लोग के अर्थ को व्यक्त करता है; अतः शेर्पा का शाब्दिक अर्थ होता है पूरब के लोग। ये लोग पिछले २०० वर्षों में पूर्वी तिब्बत से आकर नेपाल के इन इलाकों में बस गए। नेपाल के पहाड़ी क्षेत्रों के लोग शेर्पा स्त्रियों को शेर्पानी कहते हैं। पर्वातारोहण में सिद्धहस्त होने की इनकी प्रतिभा के कारण नेपाल में पर्वतारोहियों के गाइड तथा सामान ढोने के कार्यों में इन शेर्पाओं की सेवा ली जाती है। इस कारण, आजकल नेपाली पर्वतारोही गाइड को सामान्य रूप से शेरपा कहा जाने लगा है भले ही वो शेरपा समुदाय के हों या ना हों। इन लोगों की भाषा शेर्पा भाषा है। यह भाषा तिब्बात की पुरानी और पारंपरिक भाषा से ६५% मिलती है ओर ये लोग बौद्ध धर्म मानते है। .

नई!!: ञिङमा और शेर्पा · और देखें »

सक्या

सक्या (Sakya, तिब्बती: ས་སྐྱ་) तिब्बती बौद्ध धर्म के छह मुख्य सम्प्रदायों में से एक है। अन्य पाँच न्यिंगमा, कग्यु, जोनंग, गेलुग और बोन हैं। इनमें से सक्या, गेलुग और कग्यु को वज्रयान का नवप्रसार (New Transmission) या सारमा (གསར་མ) कहा जाता है, क्योंकि यह तिब्बत में बौद्ध धर्म के फैलाव की द्वितीय शृंख्ला में उत्पन्न हुए। न्यिंगमा, सक्या और कग्यु लाल टोपी सम्प्रदाय हैं क्योंकि औपचारिक समारोहों पर इनके अनुयायी लाल रंग की टोपियाँ पहनते हैं। .

नई!!: ञिङमा और सक्या · और देखें »

जोनंग

जोनंग (Jonang, तिब्बती: ཇོ་ནང་) तिब्बती बौद्ध धर्म के छह मुख्य सम्प्रदायों में से एक है। अन्य पाँच न्यिंगमा, कग्यु, सक्या, गेलुग और बोन हैं। इसका आरम्भ तिब्बत में १२वीं शताब्दी में यूमो मिक्यो दोर्जे ने करा और सक्या सम्प्रदाय में शिक्षित दोल्पोपा शेरब ग्याल्त्सेन नामक भिक्षु ने इसका प्रसार करा। १७वीं शताब्दी के अन्तभाग में ५वें दलाई लामा ने इस सम्प्रदाय का विरोध करा था और माना जाता था कि यह विलुप्त हो चुका है। लेकिन यह तिब्बत के खम और अम्दो क्षेत्रों के गोलोक, नाशी और मंगोल समुदायों वाले इलाकों में जीवित रहा और वर्तमान में लगभग ५,००० भिक्षु-भिक्षिका जोनंग धर्मधारा से जुड़े हैं। .

नई!!: ञिङमा और जोनंग · और देखें »

खनपो जिगमेद फुनछोगस्

खनपो जिगमेद फुनछोगस् (तिब्बती: འཇིགས་མེད་ཕུན་ཚོགས་འབྱུང་གནས།, Wylie: 'jig med phun tshogs 'byung gnas; 1933-2004) एक ञिङमा लामा से Sertha के Amdo(dhomay)। उनके परिवार के थे खानाबदोशहै। दो साल की उम्र में उन्होंने पहचान की थी के रूप में पुनर्जन्म के Terton Sogyal, Lerab Lingpa (1852-1926)। उन्होंने अध्ययन Dzogchen पर Nubzor मठ, प्राप्त नौसिखिया समन्वय 14 पर और पूरा समन्वय पर 22 या (1955)। खेनपो जिग्मे Phuntsok था सबसे प्रभावशाली लामा की ञिङमा परंपरा के तिब्बती बौद्ध धर्म में समकालीन तिब्बत (अनुसार करने के लिए खेनपो Samdup था, जो अपने शिष्य)। एक तिब्बती बौद्ध ध्यान गुरु और प्रसिद्ध शिक्षक के महान पूर्णता (Dzogchen), वह की स्थापना की Sertha बौद्ध संस्थान, 1980 में स्थानीय रूप से जाना जाता है के रूप में Larung Gar, एक गैर सांप्रदायिक अध्ययन केंद्र के साथ लगभग 10,000 भिक्षुओं, नन, और रखना, छात्रों को अपने उच्चतम पर भरोसा है। वह खेला एक महत्वपूर्ण भूमिका में सशक्त शिक्षण तिब्बती बौद्ध धर्म के बाद के उदारीकरण के धार्मिक अभ्यास 1980 में.

नई!!: ञिङमा और खनपो जिगमेद फुनछोगस् · और देखें »

खम

खम (तिब्बती: ཁམས, अंग्रेज़ी: Kham) तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक है, जिन्हे तिब्बती भाषा में तिब्बत के तीन 'चोलका' कहा जाता है। अन्य दो प्रान्त अम्दो और इउ-त्संग हैं।, Ashild Kolas, Monika P Thowsen, pp.

नई!!: ञिङमा और खम · और देखें »

कग्यु

कग्यु (Kagyu) या कग्युद (तिब्बती: བཀའ་བརྒྱུད) तिब्बती बौद्ध धर्म के छह मुख्य सम्प्रदायों में से एक है। अन्य पाँच न्यिंगमा, सक्या, जोनंग, गेलुग और बोन हैं। इनमें से सक्या, गेलुग और कग्यु को वज्रयान का नवप्रसार (New Transmission) या सारमा (གསར་མ) कहा जाता है, क्योंकि यह तिब्बत में बौद्ध धर्म के फैलाव की द्वितीय शृंख्ला में उत्पन्न हुए। न्यिंगमा, सक्या और कग्यु लाल टोपी सम्प्रदाय हैं क्योंकि औपचारिक समारोहों पर इनके अनुयायी लाल रंग की टोपियाँ पहनते हैं। कग्यु को गुरु-शिष्य परम्परा और गुरु से शिष्य को व्यक्तिगत सीख देने के लिए जाना जाता है। बहुत से प्रभावशाली कग्यु गुरुओं और उनके द्वारा स्थापित शाखाओं के कारण इतिहास में कग्यु सम्प्रदाय के कई उपसम्प्रदाय बनते चले गए। .

नई!!: ञिङमा और कग्यु · और देखें »

अतियोग

अतियोग और (तिब्बती: རྫོགས་པ་ཆེན་པོ།, जोग्स्पछेन्पो, संस्कृत: अतियोग एवं महासन्धि) बज्रयान अन्तर्गत के सबसे सर्वोच्च तान्त्रिक संप्रदाय है। इस संप्रदाय ञिङमा संप्रदाय का नौ यान मध्ये नौवां यान है। श्रेणी:जाति श्रेणी:चित्र जोड़ें.

नई!!: ञिङमा और अतियोग · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

न्यिंगमा

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »