लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

कोलकाता ध्वज

सूची कोलकाता ध्वज

कोलकाता ध्वज कलकत्ता ध्वज प्रथम भारतीय अनाधिकारिक ध्वज था। इसकी अभिकल्पना शचिन्द्र प्रसाद बोस ने की थी। इसे ७ अगस्त, १९०६ को पारसी बागान स्क्वेयर(ग्रीन पार्क), कोलकाता में फहराया गया था झंडे में बराबर चौड़ाई के की तीन क्षैतिज पट्टियां थीं। शीर्ष धारी नारंगी, केंद्र धारी पीला और नीचली पट्टी हरे रंग की थी। शिर्ष पट्टी पर ब्रिटिश-शासित भारत के आठ प्रांतों का प्रतिनिधित्व करते आठ आधे खुले कमल के फूल थे और निचली पट्टी पर बाईं तरफ सूर्य और दाईं तरफ़ एक वर्धमान चाँद की तसवीर अंकित थी। ध्वज के केंद्र में "वन्दे मातरम्" का नारा अंकित किया गया था। .

2 संबंधों: भारत के ध्वजों की सूची, शचिन्द्र प्रसाद बोस

भारत के ध्वजों की सूची

यह सूची भारत में प्रयोग हुए सभी ध्वजों की है.

नई!!: कोलकाता ध्वज और भारत के ध्वजों की सूची · और देखें »

शचिन्द्र प्रसाद बोस

सचिन्द्र प्रसाद बोस द्वारा बनाया कोलकाता ध्वज की तसवीर सचिन्द्र प्रसाद बोस (बांग्ला: শচীন্দ্র প্রসাদ বসু) (मृत्यू: फ़रवरी 1941) एक स्वतंत्रता सेनानी और श्री सुरेंद्रनाथ बैनर्जी के अनुयायी थे।वे ब्रह्म समाज के उदारवादी नेता, श्री कृष्ण कुमार मित्रा के दामाद थे। वह रिपन कॉलेज, कलकत्ता के चौथे वर्ष के छात्र थे जब 4 नवंबर 1905 को, उन्होंने आरडब्ल्यू बंगाल सरकार के तत्कालीन मुख्य सचिव, आरडबलू काईल द्वारा जारी किए गए परिपत्र के विरोध में परिपत्र-विरोधी सोसाइटी का गठन किया। काईल के उस परिपत्र में बंगाल सरकार के मजिस्ट्रेटों और कलेक्टरों को राजनीती में शामिल छात्रों के खिलाफ बहुत सख्त कदम उठाने के निर्देश दिये गए थे। उन्होंने कहा कि इसके सचिव बने और कृष्ण कुमार मित्रा इसके अध्यक्ष बने। उन्होंने कोलकाता ध्वज नाम से प्रसिद्ध ध्वज को बनाया था और 7 अगस्त 1906 को कलकत्ता के पारसी बागान चौक (ग्रीर पार्क) पर फहराया था। 1908 में, उन्हें गिरफ्तार किया गया और रावलपिंडी जेल भेज दिया गया। बाद में, उन्होंने "व्यवसा ओ वाणिज्य" नाम की एक पत्रिका के संपादक के रूप में काम किया। .

नई!!: कोलकाता ध्वज और शचिन्द्र प्रसाद बोस · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »