लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

ओडिशा

सूची ओडिशा

ओड़िशा, (ओड़िआ: ଓଡ଼ିଶା) जिसे पहले उड़ीसा के नाम से जाना जाता था, भारत के पूर्वी तट पर स्थित एक राज्य है। ओड़िशा उत्तर में झारखंड, उत्तर पूर्व में पश्चिम बंगाल दक्षिण में आंध्र प्रदेश और पश्चिम में छत्तीसगढ से घिरा है तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी है। यह उसी प्राचीन राष्ट्र कलिंग का आधुनिक नाम है जिसपर 261 ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक ने आक्रमण किया था और युद्ध में हुये भयानक रक्तपात से व्यथित हो अंतत: बौद्ध धर्म अंगीकार किया था। आधुनिक ओड़िशा राज्य की स्थापना 1 अप्रैल 1936 को कटक के कनिका पैलेस में भारत के एक राज्य के रूप में हुई थी और इस नये राज्य के अधिकांश नागरिक ओड़िआ भाषी थे। राज्य में 1 अप्रैल को उत्कल दिवस (ओड़िशा दिवस) के रूप में मनाया जाता है। क्षेत्रफल के अनुसार ओड़िशा भारत का नौवां और जनसंख्या के हिसाब से ग्यारहवां सबसे बड़ा राज्य है। ओड़िआ भाषा राज्य की अधिकारिक और सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। भाषाई सर्वेक्षण के अनुसार ओड़िशा की 93.33% जनसंख्या ओड़िआ भाषी है। पाराद्वीप को छोड़कर राज्य की अपेक्षाकृत सपाट तटरेखा (लगभग 480 किमी लंबी) के कारण अच्छे बंदरगाहों का अभाव है। संकीर्ण और अपेक्षाकृत समतल तटीय पट्टी जिसमें महानदी का डेल्टा क्षेत्र शामिल है, राज्य की अधिकांश जनसंख्या का घर है। भौगोलिक लिहाज से इसके उत्तर में छोटानागपुर का पठार है जो अपेक्षाकृत कम उपजाऊ है लेकिन दक्षिण में महानदी, ब्राह्मणी, सालंदी और बैतरणी नदियों का उपजाऊ मैदान है। यह पूरा क्षेत्र मुख्य रूप से चावल उत्पादक क्षेत्र है। राज्य के आंतरिक भाग और कम आबादी वाले पहाड़ी क्षेत्र हैं। 1672 मीटर ऊँचा देवमाली, राज्य का सबसे ऊँचा स्थान है। ओड़िशा में तीव्र चक्रवात आते रहते हैं और सबसे तीव्र चक्रवात उष्णकटिबंधीय चक्रवात 05बी, 1 अक्टूबर 1999 को आया था, जिसके कारण जानमाल का गंभीर नुकसान हुआ और लगभग 10000 लोग मृत्यु का शिकार बन गये। ओड़िशा के संबलपुर के पास स्थित हीराकुंड बांध विश्व का सबसे लंबा मिट्टी का बांध है। ओड़िशा में कई लोकप्रिय पर्यटक स्थल स्थित हैं जिनमें, पुरी, कोणार्क और भुवनेश्वर सबसे प्रमुख हैं और जिन्हें पूर्वी भारत का सुनहरा त्रिकोण पुकारा जाता है। पुरी के जगन्नाथ मंदिर जिसकी रथयात्रा विश्व प्रसिद्ध है और कोणार्क के सूर्य मंदिर को देखने प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक आते हैं। ब्रह्मपुर के पास जौगदा में स्थित अशोक का प्रसिद्ध शिलालेख और कटक का बारबाटी किला भारत के पुरातात्विक इतिहास में महत्वपूर्ण हैं। .

705 संबंधों: चम्पुआ, चाटीकोना जल प्रपात, चारबतीया एयर बेस, चांदीपुर, चांदीपुर तट, चिरौंजी, चिल्का झील, चंडवर्मन् शालंकायन, चंद्रभागा, चंद्रशेखरसिंह सामंत, चंगुनाट, चौदहवीं लोकसभा, चौसिंगा, चैतन्य महाप्रभु, टाटा पावर, टाटानगर जंक्शन रेलवे स्टेशन, टिटलागढ़, टीवी स्वामित्व के आधार पर भारत के राज्य, टीकाकरण कवरेज के आधार पर भारत के राज्य, एच॰आई॰वी जागरुकता के आधार पर भारत के राज्य, एम. बालामुरलीकृष्ण, एल्युमिनियम, एस सी जमीर, एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम, ऐसानेश्वर शिव मंदिर, भुवनेश्वर, उड़ीसा, झाड़सुगड़ा, झारसुगुड़ा जिला, झारसुगुडा, झारखण्ड, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड आंदोलन, झारखंड के पर्यटन स्थल, झिना हिकाका, डच इस्ट इंडिया कंपनी, डाक सूचक संख्या, डंगरिया कन्ध, डुडुमा जल प्रपात, डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड, ढेन्कानाल जिला, ढेंकनाल (उड़ीसा), ढेंकानाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, तथागत सत्पथी, तालचेर, तिरूपुर, तुलसी मुंडा, त्रिपुरसुन्दरी, त्रिलोचन प्रधान, तेन्दु, तेलुगू भाषा, दया नदी, ..., दशहरा, दास, दक्षिणी कोयल नदी, दुर्गा पूजा, दुर्गेशनन्दिनी, द्रुतमार्ग (भारत), दूती चन्द, देव राय द्वितीय, देव कुंड जल प्रपात, देवगड़ जिला, दीप ग्रेस एक्का, दीपावली, धर्मशाला (बहुविकल्पी), धौली, नट मंदिर, नदियों पर बसे भारतीय शहर, नबरंगपुर, नबरंगपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, नबरंगपुर जिला, नबकलेबर २०१५, नमिता टोप्पो, नयागड़ जिला, नयागढ़, नरभक्षण, नलबण पक्षी अभयारण्य, नाम की व्युत्पत्ति के आधार पर भारत के राज्य, नारायण दास ग्रोवर, नारियल, नागेन्द्र कुमार प्रधान, नाइट्रिक अम्ल, नियमगिरि, निर्धनता दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, नवीन पटनायक, नंदिनी सत्पथी, नक्सलवाद, नुआपड़ा जिला, नुआपाड़ा, नृसिम्हनाथ जल प्रपात, नृसिंहदेव, नोआमुंडी, नील माधव पंडा, नीलकांत दास, पटना, पटसन, पट्टचित्र, पञ्चाङ्गम्, पद्म श्री पुरस्कार (१९५४-५९), पद्म श्री पुरस्कार (१९६०-६९), पद्म श्री पुरस्कार (१९७०-७९), पद्म श्री पुरस्कार (१९८०–१९८९), पद्म श्री पुरस्कार (१९९०–१९९९), पद्म श्री पुरस्कार (२०००–२००९), पद्मिनी राउट, परिवार के आकार के आधार पर भारत के राज्य, परिकल्पना सम्मान, परवल, पश्चिम बंगाल, पश्चिम गंग वंश, पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची, पारादीप, पाषाण खान, पाइक विद्रोह, पाइक अखाड़ा, पिनाकी मिश्र, पुटुडी जल प्रपात, पुथंडु, पुरापाषाण काल, पुरुषोत्तम दास टंडन, पुरुषोत्तम अभियान्त्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, पुरुषोत्तमदेव, पुरी, पुरी तट, पुरी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, पुष्पगिरि (बहुविकल्पी), पुस्तक:भारत, पुस्तकालय का इतिहास, प्रणब, प्रतिभा राय, प्रतिमा पुहन, प्रतिलोम शब्दकोश, प्रत्युष प्रकाश, प्रधानपट जल प्रपात, प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना, प्रभास कुमार सिंह, प्रसन्न कुमार पटसानी, प्रस्तर मूर्तिकला, प्राण कृष्ण पारिजा, प्रिंस डांस समूह, प्रजनन दर के आधार पर भारत के राज्य, पैका, पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र, पूर्वी तटीय रेलवे, पूर्वी भारत, पूर्वी गंगवंश, पूर्वी आंचलिक परिषद, पेयजल उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, पोकिरी (2006 फ़िल्म), पीठा, फ़ज़ल अली, फ़ुरलीझरन जल प्रपात, फकीर मोहन सेनापति, फकीर मोहन विश्वविद्यालय, फुलबनी, फैलिन (चक्रवात), फूलबनी, फूलबाणी, बढ़घाघरा जल प्रपात, बरहमपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, बराक 8, बरगड़ जिला, बरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, बरेहीपानी जल प्रपात, बलभद्र माझी, बलांगिर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, बलांगिर जिला, बल्देव विद्याभूषण, बाराबती स्टेडियम, बाराबती किला, बारगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, बाल पोषाहार के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, बालरंग, भिलाई, बालासोर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, बालि यात्रा, बालिमेला जलाशय, बालेश्वर जिला, बाजि राउत, बागरा जल प्रपात, बाङ्ला भाषा, बिधु भूषण दास, बिन्दुसागर झील, बिरसा मुंडा, बंगाल, बंगाल प्रेसीडेंसी, बंगाल की खाड़ी, बक्सर का युद्ध, बुधिया सिंह, ब्रह्मपुर, ब्रिटिश राज, ब्रजबुलि, बौदा, बौध जिला, बैतरणी, बैरगढ, बैसाखी, बेरोज़गारी की दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, बीजू पटनायक विमानक्षेत्र, बीजू जनता दल, भद्रक, भद्रक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, भद्रक जिला, भर्तुहरी महताब, भारत, भारत में ऊष्मा लहर २०१५, भारत में धर्म, भारत में पर्यटन, भारत में मधुमक्खी पालन, भारत में महिलाएँ, भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की राजमार्ग संख्या अनुसार सूची, भारत में रेल दुर्घटना, भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची, भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची, भारत में सांस्कृतिक विविधता, भारत में संचार, भारत में हिन्दू धर्म, भारत में विमानक्षेत्रों की सूची, भारत में विश्वविद्यालयों की सूची, भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी, भारत में आतंकवाद, भारत में इस्लाम, भारत में कॉफी उत्पादन, भारत में कोयला-खनन, भारत में अकाल, भारत सरकार अधिनियम, १९३५, भारत का पुरापाषाण युग, भारत का भूगोल, भारत के चार धाम, भारत के तेल शोधनागारों की सूची, भारत के निजी विश्वविद्यालयों की सूची, भारत के प्रथम, भारत के प्रमुख सागर-तटों की सूची, भारत के प्रशासनिक विभाग, भारत के प्राचीन विश्वविद्यालय, भारत के बायोस्फीयर रिजर्व, भारत के बाघ संरक्षित क्षेत्र, भारत के भाषाई परिवार, भारत के मानित विश्वविद्यालय, भारत के राष्ट्रीय महत्व के स्मारकों की सूची, भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार, भारत के राष्ट्रीय उद्यान, भारत के राजनीतिक दलों की सूची, भारत के राज्य (सकल घरेलू उत्पाद के अनुसार), भारत के राज्य (कर राजस्व के अनुसार), भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश, भारत के राज्य और संघ क्षेत्र और उनके दो वर्ण वाले कोड, भारत के राज्यकीय पुष्पों की सूची, भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ, भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की स्थापना तिथि अनुसार सूची, भारत के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सूची जनसंख्या अनुसार, भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची, भारत के सात आश्चर्य, भारत के सामाजिक-आर्थिक मुद्दे, भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, भारत के हवाई अड्डे, भारत के जल प्रपात, भारत के ज़िले, भारत के विश्व धरोहर स्थल, भारत के क्षेत्र, भारत के अभयारण्य, भारत के उच्च न्यायालयों की सूची, भारत की नदियों की सूची, भारत की बोलियाँ, भारत की संस्कृति, भारत की स्वास्थ्य समस्याएँ (2009), भारत २०१०, भारती एयरटेल, भारतीय चित्रकला, भारतीय चुनाव, भारतीय थलसेना, भारतीय नाम, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय प्रबन्धन संस्थान, भारतीय प्राणि सर्वेक्षण, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर, भारतीय राष्ट्रवाद, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, भारतीय राज्य पशुओं की सूची, भारतीय राज्य पक्षियों की सूची, भारतीय राज्यों के राज्यपालों की सूची, भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची, भारतीय रुपया, भारतीय लोकसंगीत, भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष, भारतीय संविधान सभा, भारतीय जनता पार्टी, भारतीय वाहन पंजीकरण पट्ट, भारतीय विधायिकाओं के वर्तमान अध्यक्षों की सूची, भारतीय आम चुनाव, 2014, भारतीय आम चुनाव, 2014 के लिए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण, भारतीय आम चुनाव, २००९, भारतीय इस्पात प्राधिकरण, भारतीय कवियों की सूची, भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2008, भास्कर वर्मन, भागवत पुराण, भुवनेश्वर, भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस, भुवनेश्वर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, भीतरकनिका राष्ट्रीय उद्यान, मच्छकुंड जल प्रपात, मठ, मदल पंजी, मधुसूदन दास, मनीषा पन्ना, मयूरभंज लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, मयूरभंज जिला, महात्मा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय, महादेव अइयर गणपति, महानदी, महिला सुरक्षा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, मानसी प्रधान, मानव तस्करी की घटनाओं के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची, मानव बलि, मायाधर राउत, मालदीव, मालकानगिरि, मालकानगिरि जिला, माल्टो भाषा, माहली, मिरिगलोठाजल प्रपात, मकर संक्रान्ति, मुण्डा, मुर्शिद कुली खां, मृदा, मैथिली साहित्य, मूर्ति कला, मेघवाल, मीडिया की पहुँच के आधार पर भारत के राज्य, यमेश्वर मंदिर, यज्ञदत्त शर्मा, योगिनी, रत्नागिरि (ओडिशा), रत्नागिरि (उड़ीसा), रबिन्द्र कुमार जेना, रमाकांत रथ, रमेशचन्द्र दत्त, रसबाली, रसगुल्ला, राधानाथ रथ, राम चन्द्र हंसदा, राम नाथ कोविन्द, रामदेवी चौधरी, रामानन्द राय, रामेश्वर ठाकुर, रायपुर, रायगड़ा जिला, रायगढा, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला (प्रबंधन विद्यालय), राष्ट्रीय राजमार्ग २०१, राष्ट्रीय राजमार्ग २०३, राष्ट्रीय राजमार्ग २१५, राष्ट्रीय राजमार्ग २१७, राष्ट्रीय राजमार्ग २२४, राष्ट्रीय राजमार्ग २३, राष्ट्रीय राजमार्ग ५, राष्ट्रीय राजमार्ग ५ए, राष्ट्रीय राजमार्ग ६, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल, राजपाल यादव, राजभवन (ओडिशा), राजारानी मंदिर, राजेन्द्र प्रसाद मिश्र, राउरकेला, रघुनाथ मोहपात्रा, रघुराजपुर, रंगवती, रक्षाबन्धन, रोहू मछली, रोआनू चक्रवात, रीता तराई, लादू किशोर स्वाइन, लाल गलियारा, लाहौर संकल्पना, लिलिमा मिंज, लिंगराज मंदिर, लिंगानुपात के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, लंबी चोंच का गिद्ध, लक्ष्मण सेन, लक्ष्मणानन्द सरस्वती, लक्ष्मीनारायण साहू, लक्ष्मीकान्त महापात्र, लङ्कापोड़ि, लौह अयस्क, लैटेराइट मृदा, लूची, लोहा, लोक सभा, लोकसभा सीटों के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची, शन्शी, शरत पुजारी, शास्त्रीय नृत्य, शाहबाज नदीम, शकुंतला लागुरी, श्यामानन्द, श्री जगन्नाथ संस्कृत विश्वविद्यालय, श्रीनिवासचार्य, श्रीनिवासाचार्य, श्रीलंका का इतिहास, श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15, सच्चिदानंद राउतराय, सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा, सदाशिव त्रिपाठी, सम्पदानन्द मिश्र, सम्बलपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, सम्बलपुर जिला, सय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी, सरबनी नन्दा, सरसों, सरसों का तेल, सरह, सरहुल, साड़ी, सारस (पक्षी), सांथाल जनजाति, साक्षरता दर के आधार पर भारत के राज्य, सिद्ध (बौद्ध-धर्म), सिद्धांत महापात्रा, सिन्धु-गंगा के मैदान, सिमडेगा, सिमलिपाल राष्ट्रीय अभ्यारण्य, सिमलीपाल जल प्रपात, सिराजुद्दौला, सिलेरु नदी, सवारी, संचार (नृत्य), संतसाहित्य, संथाली भाषा, संबलपुर, संबित पात्रा, संस्थागत प्रसव के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, सुदर्शन पटनायक, सुधीरा दास, सुनादेब अभयारण्य, सुन्दरगड़ जिला, सुन्दरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, सुनीता लाकरा, सुभाष चन्द्र बोस, सुलुव राजवंश, सुंदरगढ, सुकमा, स्थापित ऊर्जा उत्पादन क्षमता के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र, स्नाघाघरा जल प्रपात, स्पिरिट एअर (भारत), स्वामी निगमानन्द परमहंस, सूती साड़ी, सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला, सेलिना जेटली, सोनपुर जल प्रपात, सोनपुर जिला, सोना मोहपात्रा, सीता अशोक, हँड़िया, हनुमत धाम, हरियाणा का केंद्रीय विश्वविद्यालय, हरिशंकर जल प्रपात, हलधर नाग, हाथी पत्थर जल प्रपात, हाथीगुम्फा शिलालेख, हिन्दू देवी-देवता, हिन्दी भाषियों की संख्या के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, हिन्दी या उर्दू मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची, हिंदु-जर्मन षडयंत्र, हंड़िया, हुत्काह, हुदहुद (चक्रवात), हेनान, हेमानन्द बिश्वाल, हेमेन्द्र चन्द्र सिंह, हो (जनजाति), हो भाषा, हीराखंड एक्सप्रेस, हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसा, हीराकुद, हीराकुद बाँध, जतीन दास, जदूर मुदारी, जनसंख्या के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र, जमशेदपुर, जय पांडा, जयदेव, जयंती पटनायक, ज़ाकिर हुसैन (संगीतकार), जानकी बल्लभ पटनायक, जाजपुर, जाजपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, जाजपुर जिला, जिआंगशी, जगतसिंहपुर, जगतसिंहपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, जगतसिंहपुर जिला, जगन्नाथ, जगन्नाथ प्रसाद दास, जगन्नाथ मन्दिर, पुरी, जगरनॉट, जुएल ओरांव, जुआंग भाषा, जेट कनेक्ट, जोरांडा जल प्रपात, जीवन प्रत्याशा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, जीवन विज्ञान संस्थान, भुवनेश्वर, घरों मे बिजली उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्य, घूमरा, वर्मा, वारंग क्षिति, वाहनों के घनत्व के आधार पर भारत के राज्य, विद्याधर (साहित्यशास्त्री), विधान परिषद, विमला शक्तिपीठ, विरुपाक्ष मंदिर, ओड़िशा, विश्वकर्मा जयन्ती, विजयनगरम जिला, विज्ञान एक्‍सप्रेस, विक्की विश्वकर्मा, व्हीलर द्वीप, वीसलदेव रास, वी॰ वी॰ गिरि, खड़िया भाषा, खड़िया आदिवासी, खण्डगिरि, खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग, खाप, खारवेल, खारे पानी के मगरमच्छ, खाजा, खांडाधारा जल प्रपात, खिचिंग, खंडायत, खंडुआला जल प्रपात, खुर्दा, खोर्धा जिला, खोंड, गणेशी लाल, गरूड़ वाहन, गाँधी कंप्यूटर एवं शोध संसथान, रायगढ़, गांडाहाथी जल प्रपात, गांधीधाम-पुरी एक्सप्रेस, गिरिधर गमांग, गजपति, गजपति जिला, गंजम, गंजाम जिला, गंग वंश, गंगा नारायण सिंह, गुंडिचा मंदिर, गृह स्वामित्व के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, गोडावण, गोपबंधु दास, गोपालचंद्र प्रहराज, गोपीनाथ मोहंती, गोंड (जनजाति), गीतगोविन्द, ओड़िया भाषा, ओड़िया लोग, ओड़िशा का इतिहास, ओड़िशा के जिले, ओड़िसी, ओड़िआ, ओडिशा विधान सभा, ओडिशा के मुख्यमंत्रियों की सूची, ओडिशा के राज्यपालों की सूची, ओडिसी (बहुविकल्पी), आदि शंकराचार्य, आदिवासी (भारतीय), आदिवासी भाषाएँ, आनंद विहार टर्मिनल रेलवे स्टेशन, आनंदपुर, केन्दुझर, आन्ध्र प्रदेश, आर्थिक मुक्ति के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, आस्का लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, आहार योजना, आंचलिक परिषद, आइएसओ 3166-2:आइएन, आकाश प्रक्षेपास्त्र, इरावदी डालफिन, इस्कंदर मिर्ज़ा, इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी पुरस्कार, इंद्रावती नदी, इंफोसिस, कटक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, कटक जिला, कनिष्क, कनकउआ, कन्धमाल जिला, कम्मा (जाति), कर राजस्व के आधार पर भारत के राज्य, कर्तार सिंह सराभा, कलाहान्डी, कलाहान्डी जिला, कलाहांडी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, कलिंग, कलिंग पुरस्कार, कलिकेश सिंह देव, काटी, कापू (जाति), कामेल्या सीनेन्सीस्, कायस्थ, काला पहाड़, कालिंदी चरण पाणिग्रही, काली पूजा, काशीपुर, काशीपुर, रायगड़ा, कंधमाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, कुड़ुख, कुरुविन्द, कुलमणि समल, क्यानाइट, क्योंझर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, क्षेत्रफल के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र, क्षेत्रीय शिक्षा संस्थान,भुवनेश्वर, कृष्ण, कृष्णदास (बहुविकल्पी), कृष्णदेवराय, कैथी, केन्दरपाड़ा, केन्दुझर, केन्दुझर जिला, केन्द्रपाड़ा लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, केन्द्रापड़ा जिला, केन्द्रापडा, केलुचरण महापात्र, केंदुझाड़गढ़, केंदुझार्गढ़ रेलवे स्टेशन, कॉर्नेलिया सोराबजी, कोणार्क, कोणार्क सूर्य मंदिर, कोयला, कोरापुट, कोरापुट लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र, कोरापुट जिला, कोहिनूर हीरा, कोंध, अच्युत सामंत, अच्युतानन्द, अण्डमानी लोग, अतुल्य भारत, अथरनाला ब्रिज, अदह, अनुराधा बिस्वाल, अनुगुल, अनुगुल जिला, अनूप झील, अपराध दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, अप्रैल 2015 नेपाल भूकम्प, अमरेन्द्रनाथ चट्टोपाध्याय, अम्माकुंड जल प्रपात, अरका केशरी देव, अरकु घाटी, अर्थव्यवस्था के आकार के आधार पर भारत के राज्य, अर्जुन चरण सेठी, अल्ताई क्राय, अल्पभार जनसंख्या के आधार पर भारत के राज्य, अशोक के अभिलेख, असुर (आदिवासी), अस्थिचिकित्सा, अजित जैन, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, अग्नि-4, अग्नि-१, अंबिकापुर, अंशुपा झील, अंजना मिश्रा बलात्कार मामला, अंगिका भाषा, अक्षय पात्र फाउण्डेशन, उच्चतम बिन्दु के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र, उड़िया भाषियों की संख्या के आधार पर भारत के राज्यों की सूची, उत्तरी हिंद महासागर के चक्रवाती तूफान, उत्कल विश्वविद्यालय, उदयगिरि और खंडगिरि, उमरकोट, नबरंगपुर, उरिया गोत्र, उषाकोठी अभयारण्य, उष्णकटिबन्धीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर, छऊ नृत्य, छडी पूजा, छत, छत्तीसगढ़, छेना झिल्ली, छोटा नागपुर पठार, १ई+११ मी॰², ११ जनवरी, १२ अक्तूबर, १५ दिसम्बर, १५वीं लोक सभा के सदस्यों की सूची, १६वीं लोक सभा के सदस्यों की सूची, १९१५, १९४३ का बंगाल का अकाल, १९५४ में पद्म भूषण धारक, १९५५ में पद्म भूषण धारक, १९६० में पद्म भूषण धारक, १९६८ में पद्म भूषण धारक, १९७१ में पद्म भूषण धारक, १९८१ में पद्म भूषण धारक, १९८८ में पद्म भूषण धारक, १९९० में पद्म भूषण धारक, १९९९, २००१ में पद्म भूषण धारक, २००३ में पद्म भूषण धारक, २००६ में पद्म भूषण धारक, २९ अक्टूबर, ९ सितम्बर, 1991 में भद्रक फसाद सूचकांक विस्तार (655 अधिक) »

चम्पुआ

चम्पुआ (ओड़िया:ଚମ୍ପୁଆ) यह उड़ीसा राज्य के क्योंझरगढ़ जिले में स्थित एक छोटा सा नगर है। यह उपविभाग है और इसी में चंपुआ तहसील भी है। यह छोटा नागपुर पठार के एक भाग पर पड़ता है। यह बैतरनी नदी के तट पर क्योंझरगढ़ से ५२.७ किलोमीटर उत्तर है। यहाँ की औसत ऊँचाई समुद्रतल से लगभग ६०० मीटर है। पहले चंपुआ को 'चंपेश्वर' कहा जाता था। यहाँ पर लाल मिट्टी पाई जाती है, जो अधिक उपजाऊ नहीं है। धान की खेती यहाँ सबसे अधिक होती है। चँपुआ के बहुत से भाग वनों से आच्छादित हैं। यहाँ के लाख और लकड़ी के उद्योग बहुत प्रसिद्ध हैं। .

नई!!: ओडिशा और चम्पुआ · और देखें »

चाटीकोना जल प्रपात

चाटीकोना जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और चाटीकोना जल प्रपात · और देखें »

चारबतीया एयर बेस

चारबतिया एयर बेस (Charbatia Air Base) एक भारतीय वायु सेना का एक विमानक्षेत्र है जो भारतीय राज्य उड़ीसा के कटक जिले में स्थित है। यह विमानक्षेत्र लगभग १० किलोमीटर तक फैला हुआ है। इस विमानक्षेत्र की सतह एस्फाल्ट से बनाई हुई है जबकि इनको एविएशन रिसर्च सेंटर ऑपरेट करता है। .

नई!!: ओडिशा और चारबतीया एयर बेस · और देखें »

चांदीपुर

ज्वार के दौरान चांदीपुर समुद्र तट चांदीपुर (ଚାଂଦିପୁର) जिसे चांदीपुर-ओन-सी के नाम से भी जाना जाता है बालासोर, उडीसा (भारत) में समुद्र के किनारे स्थित एक छोटा सा भ्रमण स्थल है। यह बंगाल की खाड़ी के तट पर बसा है और बालासोर से कोई १६ किलोमीटर दूर है। इसका समुद्र तट इस मामले में अद्वितीय है कि उच्च ज्वार और भाटे के दौरान पानी १ से ४ किलोमीटर तक पीछे हट जाता है। समुद्र तट, पर इस विशिष्टता के कारण, काफी जैव विविधता पाई जाती है। .

नई!!: ओडिशा और चांदीपुर · और देखें »

चांदीपुर तट

चांदीपुर तट उड़ीसा राज्य के बालेश्वर शहर से 16 किमी उत्तर पश्चिम में स्थित है। कसुआरिना के पेड़ों और रेत के टीलों का नजारा यहां देखते ही बनता है इस तट पर घूमने का रोमांच बेहद अलग है। लो-टाइड के समय पानी पांच किलोमीटर पीछे चला जाता है और हाई-टाइड के समय वापस आ जाता है। इससे दिन के समय सैलानियों के घूमने के लिए कम गहराई की एक जगह बन जाती है। यहां से दो किमी दूर बलरामगढ़ी है जहां पर बुधबलंग नदी सागर में मिलती है। यहां पर आकर मछुवारों की नाव में सैर करने का अपना अलग ही मजा है। श्रेणी:ओड़िशा में पर्यटन.

नई!!: ओडिशा और चांदीपुर तट · और देखें »

चिरौंजी

चिरौंजी चिरौंजी या चारोली पयार या पयाल नामक वृक्ष के फलों के बीज की गिरी है जो खाने में बहुत स्वादिष्ट होती है। इसका प्रयोग भारतीय पकवानों, मिठाइयों और खीर व सेंवई इत्यादि में किया जाता है। चारोली वर्षभर उपयोग में आने वाला पदार्थ है जिसे संवर्द्धक और पौष्टिक जानकर सूखे मेवों में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। चिरौंजी दो प्रकार की वस्तुओं को कहते हैं एक तो जो मंदिर में प्रसाद के रूप में चढ़ाई जाती है वह है चिरौंजी दाना। और दूसरी है वह मिलती है हमें एक वृक्ष के फलों की गुठली से। जो फलों की गुठली फोड़कर निकाली जाती है। जिसे बोलचाल की भाषा में पियाल, प्रियाल या फिर चारोली या चिरौंजी भी कहा जाता है। चारोली का वृक्ष अधिकतर सूखे पर्वतीय प्रदेशों में पाया जाता है। दक्षिण भारत, उड़ीसा, हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, छोटा नागपुर आदि स्थानों पर यह वृक्ष विशेष रूप से पैदा होता है। इस वृक्ष की लंबाई तकरीबन ५० से ६० फीट के आसपास की होती है। इस वृक्ष के फल से निकाली गई गुठली को मींगी कहते हैं। यह मधुर बल वीर्यवर्द्धक, हृदय के लिए उत्तम, स्निग्ध, विष्टंभी, वात पित्त शामक तथा आमवर्द्धक होती है। जिसका सेवन रूग्णावस्था और शारीरिक दुर्बलता में किया जाता है। चारोली का यह पका हुआ फल भारी होने के साथ-साथ मधुर, स्निग्ध, शीतवीर्य तथा दस्तावार और वात पित्त, जलन, प्यास और ज्वर का शमन करने वाला होता है। इस वृक्ष के फल की गुठली से निकली मींगी और छाल दोनों मानवीय उपयोगी होती है। चिरौंजी का उपयोग अधिकतर मिठाई में जैसे हलवा, लड्डू, खीर, पाक आदि में सूखे मेवों के रूप में किया जाता है। सौंदर्य प्रसाधनों में भी इसका उपयोग किया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और चिरौंजी · और देखें »

चिल्का झील

चिल्का झील चिल्का झील उड़ीसा प्रदेश के समुद्री अप्रवाही जल में बनी एक झील है। यह भारत की सबसे बड़ी एवं विश्व की दूसरी सबसे बड़ी समुद्री झील है। इसको चिलिका झील के नाम से भी जाना जाता है। यह एक अनूप है एवं उड़ीसा के तटीय भाग में नाशपाती की आकृति में पुरी जिले में स्थित है। यह 70 किलोमीटर लम्बी तथा 30 किलोमीटर चौड़ी है। यह समुद्र का ही एक भाग है जो महानदी द्वारा लायी गई मिट्टी के जमा हो जाने से समुद्र से अलग होकर एक छीछली झील के रूप में हो गया है। दिसम्बर से जून तक इस झील का जल खारा रहता है किन्तु वर्षा ऋतु में इसका जल मीठा हो जाता है। इसकी औसत गहराई 3 मीटर है। इस झील के पारिस्थितिक तंत्र में बेहद जैव विविधताएँ हैं। यह एक विशाल मछली पकड़ने की जगह है। यह झील 132 गाँवों में रह रहे 150,000 मछुआरों को आजीविका का साधन उपलब्ध कराती है। इस खाड़ी में लगभग 160 प्रजातियों के पछी पाए जाते हैं। कैस्पियन सागर, बैकाल झील, अरल सागर और रूस, मंगोलिया, लद्दाख, मध्य एशिया आदि विभिन्न दूर दराज़ के क्षेत्रों से यहाँ पछी उड़ कर आते हैं। ये पछी विशाल दूरियाँ तय करते हैं। प्रवासी पछी तो लगभग १२००० किमी से भी ज्यादा की दूरियाँ तय करके चिल्का झील पंहुचते हैं। 1981 में, चिल्का झील को रामसर घोषणापत्र के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय महत्व की आद्र भूमि के रूप में चुना गया। यह इस मह्त्व वाली पहली पहली भारतीय झील थी। एक सर्वेक्षण के मुताबिक यहाँ 45% पछी भूमि, 32% जलपक्षी और 23% बगुले हैं। यह झील 14 प्रकार के रैपटरों का भी निवास स्थान है। लगभग 152 संकटग्रस्त व रेयर इरावती डॉल्फ़िनों का भी ये घर है। इसके साथ ही यह झील 37 प्रकार के सरीसृपों और उभयचरों का भी निवास स्थान है। उच्च उत्पादकता वाली मत्स्य प्रणाली वाली चिल्का झील की पारिस्थिकी आसपास के लोगों व मछुआरों के लिये आजीविका उपलब्ध कराती है। मॉनसून व गर्मियों में झील में पानी का क्षेत्र क्रमश: 1165 से 906 किमी2 तक हो जाता है। एक 32 किमी लंबी, संकरी, बाहरी नहर इसे बंगाल की खाड़ी से जोड़ती है। सीडीए द्वारा हाल ही में एक नई नहर भी बनाई गयी है जिससे झील को एक और जीवनदान मिला है। लघु शैवाल, समुद्री घास, समुद्री बीज, मछलियाँ, झींगे, केकणे आदि चिल्का झील के खारे जल में फलते फूलते हैं। .

नई!!: ओडिशा और चिल्का झील · और देखें »

चंडवर्मन् शालंकायन

शालंकायन वंश की राजधानी वेंगी थी जिसका समीकरण आधुनिक गोदावरी जिले में पेड्डवेगि नामक स्थान से किया जाता है। चंडवर्मन् का पिता नंदिवर्मन् प्रथम था। चंडवर्मन् का राज्यकाल चौथी शताब्दी के अंत और पाँचवीं शताब्दी के प्रारंभ में रखा जा सकता है। उसका स्वयं का कोई अभिलेख नहीं प्राप्त है किंतु उसके ज्येष्ठ पुत्र और उत्तराधिकारी नंदिवर्मन् द्वितीय के कोल्लैर और पेड्डवेगि के अभिलेखों में उसका अभिलेख है। उसे प्रतापोपनत सामंत कहा गया है जिससे सूचित होता है कि संभवत: कुछ समीपवर्ती शासक उसकी अधीनता स्वीकार करते थे। उड़ीसा के गंजाम जिले के कोमर्ति नाम के स्थान से प्राप्त एक अभिलेख चंडवर्मन् नाम के महाराज का है जिसकी राजधानी सिंहपुर थी और जो अपने को कलिंगाधिपति बतलाता है। इसका राज्य भी पाँचवीं शताब्दी में रखा जा सकता है किंतु यह चंडवर्मन् शालंकायन से भिन्न था। श्रेणी:प्राचीन भारत श्रेणी:भारत के राजा.

नई!!: ओडिशा और चंडवर्मन् शालंकायन · और देखें »

चंद्रभागा

चंद्रभागा नाम से भारत में दो नदियां हैं:-.

नई!!: ओडिशा और चंद्रभागा · और देखें »

चंद्रशेखरसिंह सामंत

चंद्रशेखरसिंह सामंत चंद्रशेखरसिंह सामन्त (1835 - 1904) ओडिशा निवासी भारतीय ज्योतिषी थे। इन्होने 'सिद्धान्तदर्पण' नामक एक ज्योतिषग्रन्थ की रचना की जो संस्कृत भाषा तथा ओड़िया लिपि में है। .

नई!!: ओडिशा और चंद्रशेखरसिंह सामंत · और देखें »

चंगुनाट

चंगुनाट उड़ीसा का परिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और चंगुनाट · और देखें »

चौदहवीं लोकसभा

भारत में चौदहवीं लोकसभा का गठन अप्रैल-मई 2004 में होनेवाले आमचुनावोंके बाद हुआ था। .

नई!!: ओडिशा और चौदहवीं लोकसभा · और देखें »

चौसिंगा

चौसिंगा, जिसे अंग्रेज़ी में Four-horned Antelope कहते हैं, एक छोटा बहुसिंगा है। यह टॅट्रासॅरस प्रजाति में एकमात्र जीवित जाति है और भारत तथा नेपाल के खुले जंगलों में पाया जाता है। चौसिंगा एशिया के सबसे छोटे गोकुलीय प्राणियों में से हैं। .

नई!!: ओडिशा और चौसिंगा · और देखें »

चैतन्य महाप्रभु

चैतन्य महाप्रभु (१८ फरवरी, १४८६-१५३४) वैष्णव धर्म के भक्ति योग के परम प्रचारक एवं भक्तिकाल के प्रमुख कवियों में से एक हैं। इन्होंने वैष्णवों के गौड़ीय संप्रदाय की आधारशिला रखी, भजन गायकी की एक नयी शैली को जन्म दिया तथा राजनैतिक अस्थिरता के दिनों में हिंदू-मुस्लिम एकता की सद्भावना को बल दिया, जाति-पांत, ऊंच-नीच की भावना को दूर करने की शिक्षा दी तथा विलुप्त वृंदावन को फिर से बसाया और अपने जीवन का अंतिम भाग वहीं व्यतीत किया। उनके द्वारा प्रारंभ किए गए महामंत्र नाम संकीर्तन का अत्यंत व्यापक व सकारात्मक प्रभाव आज पश्चिमी जगत तक में है। यह भी कहा जाता है, कि यदि गौरांग ना होते तो वृंदावन आज तक एक मिथक ही होता। वैष्णव लोग तो इन्हें श्रीकृष्ण का राधा रानी के संयोग का अवतार मानते हैं। गौरांग के ऊपर बहुत से ग्रंथ लिखे गए हैं, जिनमें से प्रमुख है श्री कृष्णदास कविराज गोस्वामी विरचित चैतन्य चरितामृत। इसके अलावा श्री वृंदावन दास ठाकुर रचित चैतन्य भागवत तथा लोचनदास ठाकुर का चैतन्य मंगल भी हैं। .

नई!!: ओडिशा और चैतन्य महाप्रभु · और देखें »

टाटा पावर

टाटा पावर टाटा घराने की एक कम्पनी है जो निजी क्षेत्र में विद्युत का उत्पादन, संप्रेषण एवं वितरण का काम करती है। बिजली वितरण के क्षेत्र में तो यह पहले से कार्यरत थी लेकिन बिजली उत्पादने के क्षेत्र में इसकी विस्तार की महत्वाकांक्षी योजना है। जमशेदपुर के छोटागोविंदपुर से लगे जोजोबेड़ा में प्रायोगिक तौर पर बिजली के उत्पादन के बाद पहले चरण में धनबाद के मैथन, गुजरात के मुनरा व उड़ीसा के कटक (नारजमाथापुर) में नयी यूनिट लगा रही है। .

नई!!: ओडिशा और टाटा पावर · और देखें »

टाटानगर जंक्शन रेलवे स्टेशन

टाटानगर जमशेदपुर शहर के रेलवे-स्टेशन का नाम है जो झारखंड प्रांत में स्थित है। पहले यह बिहार का हिस्सा हुआ करता था। टाटानगर दक्षिणपूर्व रेलवे का एक प्रमुख एवं व्यस्त स्टेशन है जो हावडा मुंबई मुख्य लाईन पर स्थित है। .

नई!!: ओडिशा और टाटानगर जंक्शन रेलवे स्टेशन · और देखें »

टिटलागढ़

टिटलागढ़ (तितिलागढ़ भी कहते हैं) उड़ीसा के बोलांगिर जिला का एक शहर है, जो भुवनेश्वर विशाखापतनम और विशाखापतनम रायपुर रेलवे मार्ग से जुङा हैं। .

नई!!: ओडिशा और टिटलागढ़ · और देखें »

टीवी स्वामित्व के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची घरों में टीवी की उपलब्धता के आधार पर है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और टीवी स्वामित्व के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

टीकाकरण कवरेज के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची उस प्रतिशतानुसार जिसमें १२-२३ महीनों के बच्चों को सभी सुझावित टीके दिए गए। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और टीकाकरण कवरेज के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

एच॰आई॰वी जागरुकता के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची राज्यों में एच॰आई॰वी जागरुकता के आधार पर है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और एच॰आई॰वी जागरुकता के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

एम. बालामुरलीकृष्ण

मंगलमपल्ली बालामुरली कृष्णा (మంగళంపల్లి బాలమురళీకృష్ణ) (6 जुलाई 1930 को जन्मे 2016 22 november) एक कर्नाटक गायक, बहुवाद्ययंत्र-वादक और एक पार्श्वगायक हैं। एक कवि, संगीतकार के रूप में उनकी प्रशंसा की जाती है और कर्नाटक संगीत के ज्ञान के लिए उन्हें सम्मान दिया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और एम. बालामुरलीकृष्ण · और देखें »

एल्युमिनियम

एलुमिनियम एक रासायनिक तत्व है जो धातुरूप में पाया जाता है। यह भूपर्पटी में सबसे अधिक मात्रा में पाई जाने वाली धातु है। एलुमिनियम का एक प्रमुख अयस्क है - बॉक्साईट। यह मुख्य रूप से अलुमिनियम ऑक्साईड, आयरन आक्साईड तथा कुछ अन्य अशुद्धियों से मिलकर बना होता है। बेयर प्रक्रम द्वारा इन अशुद्धियों को दूर कर दिया जाता है जिससे सिर्फ़ अलुमिना (Al2O3) बच जाता है। एलुमिना से विद्युत अपघटन द्वारा शुद्ध एलुमिनियम प्राप्त होता है। एलुमिनियम धातु विद्युत तथा ऊष्मा का चालक तथा काफ़ी हल्की होती है। इसके कारण इसका उपयोग हवाई जहाज के पुर्जों को बनाने में किया जाता है। भारत में जम्मू कश्मीर, मुंबई, कोल्हापुर, जबलपुर, रांची, सोनभद्र, बालाघाट तथा कटनी में बॉक्साईट के विशाल भंडार पाए जाते है। उड़ीसा स्थित नाल्को (NALCO) दुनिया की सबसे सस्ती अलुमिनियम बनाने वाली कम्पनी है। .

नई!!: ओडिशा और एल्युमिनियम · और देखें »

एस सी जमीर

एस सी जमीर (जन्म: 17 अक्टूबर 1931) एक भारतीय राजनेता हैं, जो उड़ीसा के वर्तमान राज्यपाल हैं। इसके पूर्व वे नागालैंड के मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र, गुजरात और गोवा के राज्यपाल रह चुके हैं। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संलग्न हैं।, PTI (द हिन्दू), 19 जुलाई 2008.

नई!!: ओडिशा और एस सी जमीर · और देखें »

एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम

एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम (अंग्रेज़ी: Integrated Guided Missile Develoment Program-IGMDP; इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम) घोषित परमाणु राज्यों (चीन, ब्रिटेन, फ़्रांस, रूस, और संयुक्त राज्य अमेरिका) के बाद के मिसाइल कार्यक्रमों में से एक है। भारत अपने परिष्कृत मिसाइल और अंतरिक्ष कार्यक्रमों के साथ, देश में ही लंबी दूरी की परमाणु मिसाइलों के विकास में तकनीकी रूप से सक्षम है। बैलिस्टिक मिसाइलों में भारत का अनुसंधान 1960 के दशक में शुरू हुआ। जुलाई 1983 में भारत ने स्वदेशी मिसाइल के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के उद्देश्य के साथ समन्वित निर्देशित प्रक्षेपास्त्र विकास कार्यक्रम (इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम-IGMDP) की शुरुआत की। आईजीएमडीपी द्वारा देश में ही विकसित सबसे पहली मिसाइल पृथ्वी थी। भारत की दूसरी बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली अग्नि मिसाइलों की श्रृंखला है जिसकी मारक क्षमता पृथ्वी मिसाइलों से ज्यादा है। .

नई!!: ओडिशा और एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम · और देखें »

ऐसानेश्वर शिव मंदिर, भुवनेश्वर, उड़ीसा

ऐसानेश्वर शिव मंदिर भारतीय राज्य उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर में भगवान शिव को समर्पित १३ वीं शताब्दी में निर्मित एक हिन्दू मंदिर है। मंदिर भुवनेश्वर के पुराने शहर के श्रीराम नगर में एक अस्पताल के अंदर स्थित है। यह लिंगराज मंदिर के परिसर की पश्चिमी दीवार के समीप है। मंदिर का मुख पूर्व दिशा की ओर है। मंदिर के अंदर एक गोलाकार योनिपीठ (तहखाने) के भीतर एक शिवलिंग स्थापित है। विभिन्न अनुष्ठान, जैसे शिवरात्रि, जलाभिषेक, रुद्राभिषेक, तथा संक्रांति  इत्यादि यहाँ मनाये जाते हैं. शिवरात्रि के छठे दिन भगवान लिंगराज की मूर्ती को इसी मंदिर में लाया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और ऐसानेश्वर शिव मंदिर, भुवनेश्वर, उड़ीसा · और देखें »

झाड़सुगड़ा

कालाहांडी उड़ीसा प्रान्त का एक शहर है। श्रेणी:ओड़िशा के शहर.

नई!!: ओडिशा और झाड़सुगड़ा · और देखें »

झारसुगुड़ा जिला

झारसुगुडा भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय झारसुगुडा है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और झारसुगुड़ा जिला · और देखें »

झारसुगुडा

पश्चिमी उड़ीसा में स्थित झारसुगुडा प्रारंभ में संभलपुर जिला का हिस्सा था। वर्तमान में यह झारसुगुडा जिले में आता है। 1 अप्रैल 1994 को इसे नए जिले के रूप में गठित किया गया। प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध झारसुगुडा उड़ीसा के सबसे ज्‍यादा औद्योगिक शहरों में एक है। साथ ही पर्यटन की दृष्टि से भी इसका खासा महत्व है। ब्राह्मणीदीह, मानिकमोडा गुफाएं, रॉक पेंटिंग, बिक्रमखोल, उलपगढ़, पद्मासिनी मंदिर, रामचंदी, कोइलीघूघर जलप्रपात, श्री पहाडेश्वर, महादेबपल्ली, कोलाबीरा किला आदि प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं। .

नई!!: ओडिशा और झारसुगुडा · और देखें »

झारखण्ड

झारखण्ड यानी 'झार' या 'झाड़' जो स्थानीय रूप में वन का पर्याय है और 'खण्ड' यानी टुकड़े से मिलकर बना है। अपने नाम के अनुरुप यह मूलतः एक वन प्रदेश है जो झारखंड आंदोलन के फलस्वरूप सृजित हुआ। प्रचुर मात्रा में खनिज की उपलबध्ता के कारण इसे भारत का 'रूर' भी कहा जाता है जो जर्मनी में खनिज-प्रदेश के नाम से विख्यात है। 1930 के आसपास गठित आदिवासी महासभा ने जयपाल सिंह मुंडा की अगुआई में अलग ‘झारखंड’ का सपना देखा.

नई!!: ओडिशा और झारखण्ड · और देखें »

झारखंड मुक्ति मोर्चा

झारखंड मुक्ति मोर्चा जे एम एम या झामुमो भारत की एक क्षेत्रीय राजनैतिक दल है जिसका प्रभाव क्षेत्र नव-सृजित झारखंड एवं उड़ीसा, बंगाल तथा छत्तीसगढ के कुछ आदिवासी इलाकों में है। .

नई!!: ओडिशा और झारखंड मुक्ति मोर्चा · और देखें »

झारखंड आंदोलन

झारखंड का अर्थ है "वन क्षेत्र", झारखंड वनों से आच्छादित छोटानागपुर के पठार का हिस्सा है जो गंगा के मैदानी हिस्से के दक्षिण में स्थित है। झारखंड शब्द का प्रयोग कम से कम चार सौ साल पहले सोलहवीं शताब्दी में हुआ माना जाता है। अपने बृहत और मूल अर्थ में झारखंड क्षेत्र में पुराने बिहार के ज्यादतर दक्षिणी हिस्से और छत्तीसगढ, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के कुछ आदिवासी जिले शामिल है। देश की लगभग नब्बे प्रतिशत अनुसूचित जनजाति का यह निवास स्थल है। इस आबादी का बड़ा हिस्सा 'मुंडा', 'हो' और 'संथाल' आदि जनजातियों का है, लेकिन इनके अलावे भी बहुत सी दूसरी आदिवासी जातियां यहां मौजूद हैं जो इस झारखंड आंदोलन में काफी सक्रिय रही हैं। चूँकि झारखंड पठारी और वनों से आच्छादित क्षेत्र है इसलिये इसकी रक्षा करना तुलनात्मक रूप से आसान है। परिणामस्वरुप, पारंपरिक रूप से यह क्षेत्र सत्रहवीं शताब्दी के शुरुआत तक, जब तक मुगल शासक यहाँ नहीं पहुँचे, यह क्षेत्र स्वायत्त रहा है। मुगल प्रशासन ने धीरे धीरे इस क्षेत्र में अपना प्रभुत्व स्थापित करना शुरु किया और फलस्वरुप यहाँ की स्वायत्त भूमि व्यवस्था में आमूल चूल परिवर्तन हुआ, सारी व्यवस्था ज़मींदारी व्यवस्था में बदल गयी जबकि इससे पहले यहाँ भूमि सार्वजनिक संपत्ति के रूप में मानी जाती थी। यह ज़मींदारी प्रवृति ब्रिटिश शासन के दौरान और भी मज़बूत हुई और जमीने धीरे धीरे कुछ लोगों के हाथ में जाने लगीं जिससे यहाँ बँधुआ मज़दूर वर्ग का उदय होने लगा। ये मजदू‍र हमेशा कर्ज के बोझ तले दबे होते थे और परिणामस्वरुप बेगार करते थे। जब आदिवासियों के ब्रिटिश न्याय व्यवस्था से कोई उम्मीद किरण नहीं दिखी तो आदिवासी विद्रोह पर उतर आये। अठारहवीं शताब्दी में कोल्ह, भील और संथाल समुदायों द्वारा भीषण विद्रोह किया गया। अंग्रेजों ने बाद मेंउन्निसवीं शताब्दी और बीसवीं शताब्दी में कुछ सुधारवादी कानून बनाये। 1845 में पहली बार यहाँ ईसाई मिशनरियों के आगमन से इस क्षेत्र में एक बड़ा सांस्कृतिक परिवर्तन और उथल-पुथल शुरु हुआ। आदिवासी समुदाय का एक बड़ा और महत्वपूर्ण हिस्सा ईसाईयत की ओर आकृष्ट हुआ। क्षेत्र में ईसाई स्कूल और अस्पताल खुले। लेकिन ईसाई धर्म में बृहत धर्मांतरण के बावज़ूद आदिवासियों ने अपनी पारंपरिक धार्मिक आस्थाएँ भी कायम रखी और ये द्वंद कायम रहा। झारखंड के खनिज पदार्थों से संपन्न प्रदेश होने का खामियाजा भी इस क्षेत्र के आदिवासियों को चुकाते रहना पड़ा है। यह क्षेत्र भारत का सबसे बड़ा खनिज क्षेत्र है जहाँ कोयला, लोहा प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है और इसके अलावा बाक्साईट, ताँबा चूना-पत्थर इत्यादि जैसे खनिज भी बड़ी मात्रा में हैं। यहाँ कोयले की खुदाई पहली बार 1856 में शुरु हुआ और टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनीकी स्थापना 1907 में जमशेदपुर में की गई। इसके बावजूद कभी इस क्षेत्र की प्रगति पर ध्यान नहीं दिया गया। केंद्र में चाहे जिस पार्टी की सरकार रही हो, उसने हमेशा इस क्षेत्र के दोहन के विषय में ही सोचा था। .

नई!!: ओडिशा और झारखंड आंदोलन · और देखें »

झारखंड के पर्यटन स्थल

मैक्लुस्कीगंज, रांची: एंग्लो-इंडियन समुदाय के एकमात्र गांव को एक इंग्लिश अफसर मैक्लुस्की ने देश भर के एंग्लो-इंडियन को बुलाकर बसाया था हालाँकि पहले वाली बात नहीं रही और ना उस संख्या में एंग्लो इंडियन समुदाय, पर अब भी कई कॉटेज, हवेली यहां मौजूद हैं, जिसे देखने लोग आते हैं। टैगोर हिल, रांची: कवीन्द्र रविन्द्र नाथ टैगोर फुर्सत के पलों में अपने रांची प्रवास के दौरान यहां आया करते थे। मोरहाबादी इलाके की इस पहाड़ी का नामकरण उनकी याद में किया गया है। झारखण्ड वार मेमोरियल, रांची: यह सैनिकों की अदम्य वीरता की याद कायम करने के लिए दीपाटोली में स्थापित किया गया है। नक्षत्र वन.

नई!!: ओडिशा और झारखंड के पर्यटन स्थल · और देखें »

झिना हिकाका

झिना हिकाका भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की कोरापुट सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और झिना हिकाका · और देखें »

डच इस्ट इंडिया कंपनी

वेरऐनिख़्डे ऑव्स्टिडिस्ख़े कोम्पाख़्नी, वीओसी (डच: Verenigde Oostindische Compagnie, VOC) या अंग्रेज़ीकरण यूनाइटेड ईस्ट इंडिया कंपनी नीदरलैंड की एक व्यापारिक कंपनी है जिसकी स्थापना 1602 में की गई और इसे 21 वर्षों तक मनमाने रूप से व्यापार करने की छूट दी गई। भारत आने वाली यह सब से पहली यूरोपीय कंपनी थी। .

नई!!: ओडिशा और डच इस्ट इंडिया कंपनी · और देखें »

डाक सूचक संख्या

डाक सूचक संख्या या पोस्टल इंडेक्स नंबर (लघुरूप: पिन नंबर) एक ऐसी प्रणाली है जिसके माध्यम से किसी स्थान विशेष को एक विशिष्ट सांख्यिक पहचान प्रदान की जाती है। भारत में पिन कोड में ६ अंकों की संख्या होती है और इन्हें भारतीय डाक विभाग द्वारा छांटा जाता है। पिन प्रणाली को १५ अगस्त १९७२ को आरंभ किया गया था। .

नई!!: ओडिशा और डाक सूचक संख्या · और देखें »

डंगरिया कन्ध

डंगरिआ कन्ध नियमगिरि क्षेत्र की निवासी एक जनजाति है। नियमगिरि, ओड़ीसा के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित रायगढ़ जिले में स्थित है। डंगरिआ जनजाति अपनी सादगी एवं शांतिप्रियता के लिये प्रसिद्ध है। ये लोग उद्यानिकी एवं झूमकृषि करते हैं। श्रेणी:भारत की जनजातियाँ.

नई!!: ओडिशा और डंगरिया कन्ध · और देखें »

डुडुमा जल प्रपात

डुडुमा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और डुडुमा जल प्रपात · और देखें »

डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड

डीएलएफ सेंटर, डीएलएफ मुख्यालय, नई दिल्ली डीएलएफ लिमिटेड (DLF Limited) या डीएलएफ (मूल रूप से जिसका नाम दिल्ली लैंड एण्ड फाइनेंस था), भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित सबसे बड़ी भारतीय अचल संपत्ति विकासक (रीयल एस्टेट डेवेलपर) कंपनी है। डीएलएफ ग्रुप की स्थापना 1946 में रघुवेंद्र सिंह द्वारा की गई थी। डीएलएफ ने दिल्ली में शिवाजी पार्क (जो वास्तव में इसका पहला निर्माण था), राजौरी गार्डन, कृष्णा नगर, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, कैलाश कॉलोनी और हौज़ खास जैसी आवासीय कॉलोनियों का विकास किया। 1957 में दिल्ली विकास अधिनियम के पारित होने के साथ स्थानीय सरकार ने दिल्ली में अचल संपत्ति के विकास को अपने हाथ में ले लिया और निजी अचल संपत्ति विकासक कंपनियों को ऐसा करने से प्रतिबंधित कर दिया। परिणामस्वरूप डीएलएफ ने दिल्ली विकास प्राधिकरण के नियंत्रण क्षेत्र से बाहर और इससे सटे हरियाणा राज्य के गुड़गांव जिले में अपेक्षाकृत कम लागत वाली जमीन पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया। 1970 के दशक के मध्य में कंपनी ने गुड़गांव में डीएलएफ सिटी परियोजना को विकसित करना शुरू किया। इसकी आगामी योजनाओं में होटल, बुनियादी ढांचे और विशेष आर्थिक क्षेत्र संबंधी विकास परियोजनाएं शामिल हैं। फ़िलहाल इस कंपनी का नेतृत्व बुलंद शहर के एक जाट और भारतीय अरबपति कुशल पाल सिंह द्वारा किया जा रहा है। फोर्ब्स की 2009 की सबसे अमीर अरबपतियों की सूची के अनुसार कुशल पाल सिंह अब दुनिया के 98वें सबसे अमीर व्यक्ति और दुनिया के सबसे अमीर संपत्ति विकासक हैं। जुलाई 2007 में कंपनी का 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला आईपीओ भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ रहा है। जुलाई 2007 में डीएलएफ ने 30 जून 2007 को समाप्त होने वाले अपने पहले तिमाही परिणामों की घोषणा की। कंपनी ने 3,120.98 करोड़ रूपए के कारोबार और 1,515.48 करोड़ रूपए के पीएटी (PAT) की घोषणा की। .

नई!!: ओडिशा और डीएलएफ़ यूनिवर्सल लिमिटेड · और देखें »

ढेन्कानाल जिला

ढेंकानाल भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। यह भारत के अत्यंत पिछड़े जिलों में से एक है। यहाँ भारतीय जनसंचार संस्थान की एक शाखा है जिसकी वज़ह से इसे देश के अन्य स्थानों पर जाना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और ढेन्कानाल जिला · और देखें »

ढेंकनाल (उड़ीसा)

ढेंकनाल, भारत के राज्य उड़ीसा के ढेंकनाल जिले का मुख्यालय और एक नगरपालिका है। पहले यह उड़ीसा राज्य का करद राज्य था, जिसका क्षेत्रफल १,४६३ वर्ग मील था किंतु अब यह एक जिला है; जिसका क्षेत्रफल ४,१७७ वर्ग मील तथा जनसंख्या १०,२८,९३५ (१९६१) थी। देशी राज्यकाल में भी ढेंकनाल राज्य का प्रधान केंद्र था और नरेश यहीं रहते थे। ब्राह्मनी नदी पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है। इस नदी की घाटी उपजाऊ है तथा नदी नौगम्य है। यहाँ लोह खनिज पर्याप्त है, किंतु उत्खनन कम होता है। यहाँ इमारती लकड़ी, चावल और तिलहन का व्यापार होता है .

नई!!: ओडिशा और ढेंकनाल (उड़ीसा) · और देखें »

ढेंकानाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

ढेंकानाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के उड़ीसा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और ढेंकानाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

तथागत सत्पथी

तथागत सत्पथी भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की ढेंकानाल सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और तथागत सत्पथी · और देखें »

तालचेर

तालचेर महल का मुख्य द्वार तालचेर भारत के ओडिशा राज्य के अनुगुल जिला का एक नगर है। श्रेणी:ओडिशा का भूगोल.

नई!!: ओडिशा और तालचेर · और देखें »

तिरूपुर

तिरूपुर वस्त्रों का एक है जो नोय्याल नदी के किनारे स्थित है। यह तिरुपूर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है। यह दक्षिण भारत के प्राचीन कोंगु नाडू क्षेत्र के एक हिस्से का निर्माण करता है जहां की प्रजा ने सबसे पहले क्षेत्रीय राज्य की स्थापना की थी। तिरुपूर, वस्त्रों का एक केन्द्र है और अकुशल अस्थायी श्रमिकों के लिए भारी मात्रा में रोजगार के मौक़े पैदा करता है। यह भारत का एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र है। तिरुपूर ने होज़री, बुने वस्त्र, आरामदायक कपड़ों और खेल वस्त्रों के प्रमुख स्रोत के रूप में वैश्विक पहचान प्राप्त की है। तीन दशकों के दौरान तिरुपूर, देश में बुने हुए वस्त्रों की राजधानी के रूप में उभरा है। पांच लाख से भी अधिक लोगों को रोज़गार देने वाले तिरुपूर ने, पिछले साल 12,000 करोड़ रुपये से अधिक का निर्यात किया। .

नई!!: ओडिशा और तिरूपुर · और देखें »

तुलसी मुंडा

तुलसी मुण्डा  भारतीय राज्य उड़ीसा से एक प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता है जिसे पद्म श्री से 2001 में भारत सरकार द्वारा सम्मानित किया गया था। तुलसी मुण्डा ने आदिवासी लोगों के बीच साक्षरता के प्रसार के लिए बहुत काम किया। मुंडा ने उड़ीसा के खनन क्षेत्र में एक विद्यालय स्थापित करके भविष्य के सैकड़ों आदिवासी बच्चों को शोषित दैनिक श्रमिक बनने से बचाया है। एक लड़की के रूप में, उसने खुद इन खानों में एक मजदूर के रूप में काम किया था। यह एक दिलचस्प तथ्य है कि जब आदिवासी बच्चे अपने स्कूलों में जाते हैं, तो वे राज्य के अन्य हिस्सों में सामान्य विद्यालयों में भाग लेने वाले बहुत से बच्चों से आगे निकल जाते हैं। 2011 में तुलसी मुंडा ने ओडिशा लिविंग लीजेंड अवार्ड फॉर एक्सिलेंस इन सोशल सर्विस प्राप्त किया।  तुलसी मुंडा ने उड़ीसा में महिलाओं की बढ़ती ताकत की परिघटना को आगे बढ़ाया। साठ साल की उम्र को पार कर चुकी तुलसी मुंडा वंचितों के बीच साक्षरता फैलाने के लिए अपने मिशन के लिए जानी जाती हैं। विनोबा भावे ने जब 1963 में उड़ीसा में भूदान आंदोलन पदयात्रा के दौरान उड़ीसा का दौरा किया, तो उससे मुलाकात ने इसे उस रास्ते पर अग्रसर कर दिया जिससे उन्हें अपने लोगों की किस्मत को बदलना था। उस पदयात्रा पर तुलसी ने विनोबा से वादा किया कि वह जीवन भर उनके दिशानिर्देशों और सिद्धांतों का पालन करेगी। एक साल बाद 1964 में आचार्य के आदर्शों और लक्ष्यों से उत्साहित और उनकी सामाजिक सेवा प्रशिक्षण से लैस हो कर उसने सेरेन्डा में काम करना शुरू किया। विनोबा भावे के आदर्शों से प्रेरित होकर अशिक्षित तुलसी मुंडा ने आदिवासी खदान श्रमिकों के बच्चों के लिए एक महुआ वृक्ष के तले एक स्कूल खोला। चैरिटी घर से शुरू होती है, लेकिन तुलसी ने सेरेन्डा को भी चुना क्योंकि "यह बेहद पिछड़ा और गरीब था"। आज उनके प्रयासों से न केवल सेरेन्डा के ग्रामीणों को, जहां वह अपनी आदिवासी विकास समिति के साथ आधारित है, लेकिन इस आदिवासी बेल्ट के लगभग 100 किमी आसपास रहने वाले लोगों को भी फायदा हुआ है। लोकप्रिय तौर पर 'तुलसीपा' के रूप में जानी  जाती, उसने अपनी समिति के तत्वावधान में चलाए गए विद्यालय के माध्यम से क्षेत्र के पूरे शैक्षिक आंकड़ों और सामाजिक स्तर को बदल दिया है। जोडा से लगभग 7 किमी दूर (लौह अयस्क खानों के लिए प्रसिद्ध) 'सेरेन्डा में लगभग 500 आदिवासियों के घर हैं। पहले तुलसी के लिए शिक्षा की आवश्यकता के बारे में लोगों को समझना कठिन था। "मुझे हर घर जाना पड़ा।" वास्तव में 'क्योंकि इस इलाके के बच्चे दिन के दौरान खानों में काम करते थे ' तुलसी ने गांव मुखी की मदद से एक रात को चलने वाला विद्यालय शुरू किया। फिर उसने खदान श्रमिकों को अपने बच्चों को दिन के लिए उसकी देखभाल में छोड़ने का आश्वासन दिया। उसने उन्हें स्वतंत्रता आंदोलन और हमारे महान विद्वानों और राष्ट्रीय नेताओं के कामों के बारे में कहानियां सुनाने से शुरू किया। "मैं एक अशिक्षित थी और मुझे किताबी विद्या के बारे में कुछ नहीं पता था, लेकिन मुझे शिक्षा के महत्व के बारे में पता चल गया था और इसे प्रदान करने के लिए पर्याप्त व्यावहारिक ज्ञान मेरे पास था।" तुलसी ने अपना स्कूल एक महुआ वृक्ष के नीचे शुरू किया। धन जुटाने के लिए 'जो कम आपूर्ति में था' उसने सब्जियों और मूरी (फूफा हुआ चावल) को बेचने का काम किया। बाद में  जब 'उसने उनका विश्वास हासिल करना शुरू कर दिया', ग्रामीणों ने उन्हें भोजन और रहने के लिए जगह देना शुरू कर दिया। जल्द ही तुलसी ने ग्रामीणों को पहाड़ से पत्थरों को काटने और उन्हें स्कूल बनाने में मदद करने के लिए राजी किया। गांव के बाहर विद्यालय के बनने के लिए छह महीने लग गए। आज आदिवासी विकास समिति के पास दो ठोस भवन हैं। लंबे समय तक फंड एक समस्या बने रहे। तुलसी के पास शिक्षकों का भुगतान करने के लिए कोई पैसा नहीं था लेकिन उन्होंने गांव के युवाओं को इकट्ठा किया जिन्होंने प्राथमिक स्तर तक अध्ययन किया था। "वे सभी स्वेच्छा से आए थे। मेरे छात्रों ने फीस देने की पेशकश की तो चीजें हल होने लगी - यह मेरे मिशन में एक मील का पत्थर था। बड़े औद्योगिक घरानों और कुछ विदेशी एजेंसियों से भी दान शुरू हुआ।" अब वो छात्रावास के लिए प्रति माह 200 रुपये का शुल्क लेती हैं, लेकिन केवल उन लोगों के लिए जो उसे भुगतान कर सकते हैं आज स्कूल में सात शिक्षक हैं और 81 बच्चों के लिए छात्रावास की सुविधा वाले 354 छात्र हैं। "तुलसीदी हमारी मां की तरह है और वह जीवन में प्रेरणा का हमारा स्रोत रही है" श्रेणी चार को सिखाने वाले शरद कुमार पेरेई कहते हैं। उनके सहयोगी अभय कुमार मिश्रा सहमत हैं 'और वास्तव में सोचता है कि विद्यालय किसी भी सरकारी विद्यालय का मुकाबला करता है जहाँ तक शिक्षा के मानकों का संबंध है। "हम छात्रों को सब कुछ देने का प्रयास करते हैं" वे कहता है। शिक्षित करने के लिए अपने मिशन से आश्वस्त तुलसी को अपने आदिवासी विकास समिति के माध्यम से अन्य विकास कार्यक्रमों को करने की उम्मीद है। "पहली चीज जो मैं करना चाहती हूँ वह है आदिवासियों के बीच शराबनोशी की रोकथाम - वह नियमित रूप से हदीआ (स्थानीय काढ़ा) लेते हैं। मैं उनकी स्थिति में सुधार करने के बारे में चर्चा करने और तरीके खोजने के लिए ग्राम सभा और महिला संगठन भी बनाना चाहती हूँ" वे कहती हैं। वित्त के बारे में क्या? "निश्चित रूप से बहुत ज्यादा वित्तीय बाधाएं हैं, अब भी मैं अपने स्कूल शिक्षकों को उनके वेतन का समय पर भुगतान नहीं कर सकती, लेकिन मुझे समय-समय पर विदेशी एजेंसियों और व्यक्तियों से सहायता मिलती है। एसएसआरडी (टाटा स्टील ग्रामीण विकास समाज) का समर्थन और वित्तीय सहायता एक बड़ी मदद के रूप में है। " .

नई!!: ओडिशा और तुलसी मुंडा · और देखें »

त्रिपुरसुन्दरी

चतुर्भुजा ललिता रूप में पार्वती, साथ में पुत्र गणेश और स्कन्द हैं। ११वीं शताब्दी में ओड़िशा में निर्मित यह प्रतिमा वर्तमान समय में ब्रिटिश संग्रहालय लन्दन में स्थित है। त्रिपुरासुन्दरी दस महाविद्याओं (दस देवियों) में से एक हैं। इन्हें 'महात्रिपुरसुन्दरी', षोडशी, ललिता, लीलावती, लीलामती, ललिताम्बिका, लीलेशी, लीलेश्वरी, तथा राजराजेश्वरी भी कहते हैं। वे दस महाविद्याओं में सबसे प्रमुख देवी हैं। त्रिपुरसुन्दरी के चार कर दर्शाए गए हैं। चारों हाथों में पाश, अंकुश, धनुष और बाण सुशोभित हैं। देवीभागवत में ये कहा गया है वर देने के लिए सदा-सर्वदा तत्पर भगवती मां का श्रीविग्रह सौम्य और हृदय दया से पूर्ण है। जो इनका आश्रय लेते है, उन्हें इनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। इनकी महिमा अवर्णनीय है। संसार के समस्त तंत्र-मंत्र इनकी आराधना करते हैं। प्रसन्न होने पर ये भक्तों को अमूल्य निधियां प्रदान कर देती हैं। चार दिशाओं में चार और एक ऊपर की ओर मुख होने से इन्हें तंत्र शास्त्रों में ‘पंचवक्त्र’ अर्थात् पांच मुखों वाली कहा गया है। आप सोलह कलाओं से परिपूर्ण हैं, इसलिए इनका नाम ‘षोडशी’ भी है। एक बार पार्वती जी ने भगवान शिवजी से पूछा, ‘भगवन! आपके द्वारा वर्णित तंत्र शास्त्र की साधना से जीव के आधि-व्याधि, शोक संताप, दीनता-हीनता तो दूर हो जाएगी, किन्तु गर्भवास और मरण के असह्य दुख की निवृत्ति और मोक्ष पद की प्राप्ति का कोई सरल उपाय बताइये।’ तब पार्वती जी के अनुरोध पर भगवान शिव ने त्रिपुर सुन्दरी श्रीविद्या साधना-प्रणाली को प्रकट किया। भैरवयामल और शक्तिलहरी में त्रिपुर सुन्दरी उपासना का विस्तृत वर्णन मिलता है। ऋषि दुर्वासा आपके परम आराधक थे। इनकी उपासना श्री चक्र में होती है। आदिगुरू शंकरचार्य ने भी अपने ग्रन्थ सौन्दर्यलहरी में त्रिपुर सुन्दरी श्रीविद्या की बड़ी सरस स्तुति की है। कहा जाता है- भगवती त्रिपुर सुन्दरी के आशीर्वाद से साधक को भोग और मोक्ष दोनों सहज उपलब्ध हो जाते हैं। .

नई!!: ओडिशा और त्रिपुरसुन्दरी · और देखें »

त्रिलोचन प्रधान

त्रिलोचन प्रधान को भारत सरकार द्वारा सन १९९० में विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा से हैं। श्रेणी:१९९० पद्म भूषण.

नई!!: ओडिशा और त्रिलोचन प्रधान · और देखें »

तेन्दु

तेन्दु की छाल तेन्दु (वानस्पतिक नाम: Diospyros melanoxylon) एबिनासी (Ebenaceae) कुल का सपुष्पी पादप है। यह भारत और श्री लंका का देशज है। इसे मध्य प्रदेश में 'तेन्दु' तथा ओडिशा और झारखण्ड में 'केन्दु' कहते हैं। इसकी पत्तियाँ बीड़ी बनाने के काम आती हैं। इसकी छाल बहुत कठोर व सूखी होती है। इसे जलाने पर चिनगारी तथा आवाज निकलती हैं।.

नई!!: ओडिशा और तेन्दु · और देखें »

तेलुगू भाषा

तेलुगु भाषा (तेलुगू:తెలుగు భాష) भारत के आंध्र प्रदेश और तेलंगाना राज्यों की मुख्यभाषा और राजभाषा है। ये द्रविड़ भाषा-परिवार के अन्तर्गत आती है। यह भाषा आंध्र प्रदेश तथा तेलंगाना के अलावा तमिलनाडु, कर्णाटक, ओडिशा और छत्तीसगढ़ राज्यों में भी बोली जाती है। तेलुगु के तीन नाम प्रचलित हैं -- "तेलुगु", "तेनुगु" और "आंध्र"। .

नई!!: ओडिशा और तेलुगू भाषा · और देखें »

दया नदी

दया नदी का तट, जहाँ सम्भवतः कलिंग युद्ध लड़ा गया था। दया नदी या 'दइआ नदी' उड़ीसा की एक नदी है। यह बालकाटी के पास सरदेईपुर से निकलती है। गोलाबाई से आगे इसमें मालगुनी नदी मिल जाती है। इसके बाद यह नदी खोर्द्धा और पुरी जिलों से बहती हुई चिल्का झील के उत्तरी-पूर्वी कोने में मिल जाती है। इसकी कुल लम्बाई ३७ किमी है। ऐतिहासिक स्थल धउलिगिरि इस नदी के किनारे स्थित है जो भुवनेश्वर से ८ किमी दक्षिण में है। श्रेणी:भारत की नदियाँ श्रेणी:उड़ीसा की नदियाँ.

नई!!: ओडिशा और दया नदी · और देखें »

दशहरा

दशहरा (विजयादशमी या आयुध-पूजा) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को इसका आयोजन होता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त किया था। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिये इस दशमी को 'विजयादशमी' के नाम से जाना जाता है (दशहरा .

नई!!: ओडिशा और दशहरा · और देखें »

दास

एक भारतीय उपनाम जो बंगाल, बिहार और उड़ीसा के क्षेत्रों में हिन्दुओं द्वारा प्रयुक्त होता है। श्रेणी:भारतीय उपनाम.

नई!!: ओडिशा और दास · और देखें »

दक्षिणी कोयल नदी

दक्षिणी कोयल नदी (ओडिया: ଦକ୍ଷିଣ କୋଏଲ ନଦୀ) भारत की एक नदी है जो झारखण्ड और ओडीशा राज्यों से होकर बहती है। यह राँची कुछ किमी पूर्व में राँची पठार से निकलती है .

नई!!: ओडिशा और दक्षिणी कोयल नदी · और देखें »

दुर्गा पूजा

दूर्गा पूजा (দুর্গাপূজা अथवा দুৰ্গা পূজা अथवा ଦୁର୍ଗା ପୂଜା, सुनें:, "माँ दूर्गा की पूजा"), जिसे दुर्गोत्सव (দুর্গোৎসব अथवा ଦୁର୍ଗୋତ୍ସବ, सुनें:, "दुर्गा का उत्सव" के नाम से भी जाना जाता है) अथवा शरदोत्सव दक्षिण एशिया में मनाया जाने वाला एक वार्षिक हिन्दू पर्व है जिसमें हिन्दू देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। इसमें छः दिनों को महालय, षष्ठी, महा सप्तमी, महा अष्टमी, महा नवमी और विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है। दुर्गा पूजा को मनाये जाने की तिथियाँ पारम्परिक हिन्दू पंचांग के अनुसार आता है तथा इस पर्व से सम्बंधित पखवाड़े को देवी पक्ष, देवी पखवाड़ा के नाम से जाना जाता है। दुर्गा पूजा का पर्व हिन्दू देवी दुर्गा की बुराई के प्रतीक राक्षस महिषासुर पर विजय के रूप में मनाया जाता है। अतः दुर्गा पूजा का पर्व बुराई पर भलाई की विजय के रूप में भी माना जाता है। दुर्गा पूजा भारतीय राज्यों असम, बिहार, झारखण्ड, मणिपुर, ओडिशा, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में व्यापक रूप से मनाया जाता है जहाँ इस समय पांच-दिन की वार्षिक छुट्टी रहती है। बंगाली हिन्दू और आसामी हिन्दुओं का बाहुल्य वाले क्षेत्रों पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा में यह वर्ष का सबसे बड़ा उत्सव माना जाता है। यह न केवल सबसे बड़ा हिन्दू उत्सव है बल्कि यह बंगाली हिन्दू समाज में सामाजिक-सांस्कृतिक रूप से सबसे महत्त्वपूर्ण उत्सव भी है। पश्चिमी भारत के अतिरिक्त दुर्गा पूजा का उत्सव दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, कश्मीर, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल में भी मनाया जाता है। दुर्गा पूजा का उत्सव 91% हिन्दू आबादी वाले नेपाल और 8% हिन्दू आबादी वाले बांग्लादेश में भी बड़े त्यौंहार के रूप में मनाया जाता है। वर्तमान में विभिन्न प्रवासी आसामी और बंगाली सांस्कृतिक संगठन, संयुक्त राज्य अमेरीका, कनाडा, यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, फ्रांस, नीदरलैण्ड, सिंगापुर और कुवैत सहित विभिन्न देशों में आयोजित करवाते हैं। वर्ष 2006 में ब्रिटिश संग्रहालय में विश्वाल दुर्गापूजा का उत्सव आयोजित किया गया। दुर्गा पूजा की ख्याति ब्रिटिश राज में बंगाल और भूतपूर्व असम में धीरे-धीरे बढ़ी। हिन्दू सुधारकों ने दुर्गा को भारत में पहचान दिलाई और इसे भारतीय स्वतंत्रता आंदोलनों का प्रतीक भी बनाया। .

नई!!: ओडिशा और दुर्गा पूजा · और देखें »

दुर्गेशनन्दिनी

दुर्गेशनन्दिनी (शाब्दिक अर्थ: दुर्ग के स्वामी की बेटी) बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय द्वारा रचित प्रथम बांग्ला उपन्यास था। सन १८६५ के मार्च मास में यह उपन्यास प्रकाशित हुआ। दुर्गेशनन्दिनी बंकिमचन्द्र की चौबीस से लेकर २६ वर्ष के आयु में लिखित उपन्यास है। इस उपन्यास के प्रकाशित होने के बाद बांग्ला कथासाहित्य की धारा एक नये युग में प्रवेश कर गयी। १६वीं शताब्दी के उड़ीसा को केन्द्र में रखकर मुगलों और पठानों के आपसी संघर्ष की पृष्टभूमि में यह उपन्यास रचित है। फिर भी इसे सम्पूर्ण रूप से एक ऐतिहासिक उपन्यास नहीं माना जाता। .

नई!!: ओडिशा और दुर्गेशनन्दिनी · और देखें »

द्रुतमार्ग (भारत)

दिल्ली-गुड़गाँव द्रुतमार्ग का एक दृश्यभारत में कार्यरत कुल द्रुतमार्गों की लम्बाई लगभग १४५५ किलोमीटर है। द्रुतमार्ग, जिन्हे द्रुतगामी मार्ग या एक्सप्रेसवे भी कहा जाता है, भारतीय सड़क नेटवर्क में सबसे उच्च वर्ग की सड़कें होती है। वे छह या आठ लेन के नियंत्रित-प्रवेश राजमार्ग हैं जहां प्रवेश और निकास छोटी सड़कों के उपयोग द्वारा नियंत्रित किया जाता है। वर्तमान में, भारत में लगभग १,४५५.४ किमी द्रुतमार्ग परिचालन में हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना (भारत सरकार) का उद्देश्य इस द्रुतमार्ग नेटवर्क का विस्तार करके २०२२ तक अतिरिक्त १८,६३६ किलोमीटर (११,५८० मील) द्रुत्मार्ग जोड़ने का है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के तहत संचालित राष्ट्रीय एक्सप्रेसवे प्राधिकरण, द्रुतमार्गों के निर्माण और रखरखाव का प्रभारी होगा। दुनिया भर के मुकाबले भारत में द्रुतमार्गों का घनत्व बहुत ही कम है। .

नई!!: ओडिशा और द्रुतमार्ग (भारत) · और देखें »

दूती चन्द

दूती चन्द (अंग्रेजी:Dutee Chand)(जन्म;३ फ़रवरी १९९६) एक भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यक्तिगत स्प्रिंट और वर्तमान राष्ट्रीय १०० मीटर इवेंट की महिला खिलाड़ी है। ये भारत की तीसरी महिला खिलाड़ी है जिन्हें ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों के १०० मीटर की इवेंट में क़्वालीफाई किया गया है। .

नई!!: ओडिशा और दूती चन्द · और देखें »

देव राय द्वितीय

देव राया द्वितीय (शासनकाल 1424-1446 ई), संगमा राजवंश से विजयनगर साम्राज्य के एक सम्राट थे। वे संभवतः संगमा राजवंश के महानतम सम्राट थे और उन्होंने कुछ समकालीन प्रसिद्ध कन्नड़ तथा तेलुगु कवियों को संरक्षण प्रदान किया। लक्कना दंडेसा, चामासा, जक्कनार्या तथा कुमार व्यास जैसे कन्नड़ कवि और श्रीनाथ (जिन्हें स्वर्ण मुद्राओं अर्थात टंका से नहला दिया गया था) जैसे तेलुगु कवि इनमे सबसे अधिक प्रसिद्ध हैं। ऐसा कहा जाता है कि श्रीनाथ का दर्जा उनके दरबार में वरिष्ठ मंत्रियों के ही समान था और वे सम्राट के साथ स्वतंत्रता पूर्वक घूमते थे। राजा स्वयं एक विद्वान थे और उन्होंने कन्नड़ में सोबागिना सोने तथा संस्कृत में महानाटक सुधानिधि का लेखन किया था। .

नई!!: ओडिशा और देव राय द्वितीय · और देखें »

देव कुंड जल प्रपात

देव कुंड जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और देव कुंड जल प्रपात · और देखें »

देवगड़ जिला

देवगढ भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और देवगड़ जिला · और देखें »

दीप ग्रेस एक्का

दीप ग्रेस एक्का (Deep Grace Ekka) (जन्म ०३ जून १९९४) एक भारतीय उड़ीसा की महिला हॉकी खिलाड़ी है। ये उड़ीसा के सुंदरगढ़ ज़िले के लुलकीदिही गांव की निवासी है। .

नई!!: ओडिशा और दीप ग्रेस एक्का · और देखें »

दीपावली

दीपावली या दीवाली अर्थात "रोशनी का त्योहार" शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिंदू त्योहार है।The New Oxford Dictionary of English (1998) ISBN 0-19-861263-X – p.540 "Diwali /dɪwɑːli/ (also Divali) noun a Hindu festival with lights...". दीवाली भारत के सबसे बड़े और प्रतिभाशाली त्योहारों में से एक है। यह त्योहार आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है।Jean Mead, How and why Do Hindus Celebrate Divali?, ISBN 978-0-237-534-127 भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्थात् ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर जाइए’ यह उपनिषदों की आज्ञा है। इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है। माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर ग्रिगेरियन कैलन्डर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का त्योहार है। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय, तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा कर सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं। दीवाली नेपाल, भारत, श्रीलंका, म्यांमार, मारीशस, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, सूरीनाम, मलेशिया, सिंगापुर, फिजी, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की बाहरी सीमा पर क्रिसमस द्वीप पर एक सरकारी अवकाश है। .

नई!!: ओडिशा और दीपावली · और देखें »

धर्मशाला (बहुविकल्पी)

धर्मशाला के निम्नलिखित अर्थ हो सकते हैं.

नई!!: ओडिशा और धर्मशाला (बहुविकल्पी) · और देखें »

धौली

धौली शब्द के कई अर्थ हो सकते हैं:-.

नई!!: ओडिशा और धौली · और देखें »

नट मंदिर

नट मंदिर, उड़ीसा के कोणार्क के सूर्य मंदिर के प्रांगण में बना एक मंदिर है। .

नई!!: ओडिशा और नट मंदिर · और देखें »

नदियों पर बसे भारतीय शहर

नदियों के तट पर बसे भारतीय शहरों की सूची श्रेणी:भारत के नगर.

नई!!: ओडिशा और नदियों पर बसे भारतीय शहर · और देखें »

नबरंगपुर

नवरंगपुर भारत के उड़ीसा राज्य का एक शहर है। यह नबरंगपुर जिला मुख्यालय है। समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित नवरंगपुर पूर्व में कालाहांडी, दक्षिण में कोरापुट और पश्चिम व उत्तर दिशा में छत्तीसगढ़ से घिरा हुआ है। 5135 वर्ग किलोमीटर में फैला यह जिला 1992 में गठित हुआ था। यहां से बहने वाली इन्द्रवती नदी नवरंगपुर और कोरापुट जिले को अलग करती है। यह जिला भरपूर खनिजों के साथ-साथ वन्यजीवों के लिए भी प्रसिद्ध है। पेंथर, तेंदुए, टाईगर, हेना, भैंस, काला भालू, बिसन, सांभर और बार्किंग डीयर जैसे पशुओं को यहां देखा जा सकता है। यहां के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में मां पेन्द्रानी मंदिर, शहिद मीनार, खटिगुडा बांध, मां भंडाराघरानी मंदिर और भगवान जगन्नाथ मंदिर शामिल हैं। साथ ही यहां का रथयात्रा पर्व सैलानियों को खूब लुभाता है। .

नई!!: ओडिशा और नबरंगपुर · और देखें »

नबरंगपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

नबरंगपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में बीजू जनता दल के बलभद्र माझी यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और नबरंगपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

नबरंगपुर जिला

नबरंगपुर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। इसका मुख्यालय नवरंगपुर हैं। समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित नवरंगपुर पूर्व में कलाहांडी, दक्षिण में कोरापुट और पश्चिम व उत्तर दिशा में छत्तीसगढ़ से घिरा हुआ है। 5135 वर्ग किलोमीटर में फैला यह जिला 1992 में गठित हुआ था। यहां से बहने वाली इन्द्रवती नदी नवरंगपुर और कोरापुट जिले को अलग करती है। यह जिला भरपूर खनिजों के साथ-साथ वन्यजीवों के लिए भी प्रसिद्ध है। पेंथर, तेंदुए, टाईगर, हेना, भैंस, काला भालू, बिसन, सांभर और बार्किंग डीयर जैसे पशुओं को यहां देखा जा सकता है। यहां के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में मां पेन्द्रानी मंदिर, शहिद मीनार, खटिगुडा बांध, मां भंडाराघरानी मंदिर और भगवान जगन्नाथ मंदिर शामिल हैं। साथ ही यहां का रथयात्रा पर्व सैलानियों को खूब लुभाता है। .

नई!!: ओडिशा और नबरंगपुर जिला · और देखें »

नबकलेबर २०१५

नबकलेबर २०१५, नवकलेवर (ओडिया: ନବକଳେବର, संस्कृत: नवकलेवर) के प्राचीन अनुष्ठान का उत्सव है  यह अधिकांश जगन्नाथ मंदिर के  साथ जुड़ा हुआ है।  भगवान जगन्नाथ, बलभद्र, सुभद्रा और सुदर्शन की पुराने मूर्तियों की प्रतिमाओं का एक नया सेट द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है ; ऐसे अंतिम  त्योहार 1996 में आयोजित किया गया था।  यह त्योहार  की अवधि ज्योतिष ग्रहों की स्थिति के अनुरूप हिंदू कैलेंडर के अनुसार चुना जाता है।   त्योहार के दौरान क्ई अनुसूचियां शामिल है, और यह बनजाग यात्रा के साथ २३ मार्च से शुरू होता है (नीम के पेड़ को चुनने के लिए खोज की एक प्रक्रिया) और रथयात्रा के साथ समाप्त होगा।  ५० लाख से अधिक श्रद्धालुओं जगन्नाथ मंदिर, पुरी,उड़ीसा के मंदिर परिसर के आसपास आयोजित इन अनुष्ठानों में भाग लेने की उम्मीद। .

नई!!: ओडिशा और नबकलेबर २०१५ · और देखें »

नमिता टोप्पो

नमिता टोप्पो (जन्म: 4 जून 1995) भारतीय महिला हॉकी टीम खिलाड़ी हैं। यह जौरुमल गाँव, सुन्दरगढ़ जिला, ओड़िशा से हैं। इन्हें 19 अगस्त 2016 तक 106 अंतरराष्ट्रीय टोपी मिल चुका है और 4 अंतरराष्ट्रीय गोल भी दागने में सफल रहीं हैं। .

नई!!: ओडिशा और नमिता टोप्पो · और देखें »

नयागड़ जिला

नयागढ़ जिला नयागड़ भारत के ओड़िशा का एक जिला है। इसका मुख्यालय नयागड़ में है। पूर्वी उड़ीसा में 3954 वर्ग किलोमीटर में फैले नयागढ़ जिले का 40 प्रतिशत हिस्सा जंगलों से घिरा है। बुधबुधियानी का सिंचाई पावर प्रोजेक्ट और गर्म पानी का झरना यहां का मुख्य आकर्षण है। इसके साथ ही यह स्थान चमड़े की कारीगरी, पीतल आदि धातुओं के उपकरणों और चीनी मिल के लिए प्रसिद्ध है। बरतुंगा नदी यहां बहने वाली प्रमुख नदी हे। बारामुल, कंतिलो, ओदागांव, जामुपटना, सारनकुल, रानापुर और कुअनरिया आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। यहां से गुजरने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 5 इसे देश के अन्य हिस्सों से जोड़ता है। .

नई!!: ओडिशा और नयागड़ जिला · और देखें »

नयागढ़

नयागढ़ उड़ीसा के नयागढ़ जिला का मुख्यालय है। पूर्वी उड़ीसा में 3954 वर्ग किलोमीटर में फैले नयागढ़ जिले का 40 प्रतिशत हिस्सा जंगलों से घिरा है। बुधबुधियानी का सिंचाई पावर प्रोजेक्ट और गर्म पानी का झरना यहां का मुख्य आकर्षण है। इसके साथ ही यह स्थान चमड़े की कारीगरी, पीतल आदि धातुओं के उपकरणों और चीनी मिल के लिए प्रसिद्ध है। बरतुंगा नदी यहां बहने वाली प्रमुख नदी हे। बारामुल, कंतिलो, ओदागांव, जामुपटना, सारनकुल, रानापुर और कुअनरिया आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। यहां से गुजरने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 5 इसे देश के अन्य हिस्सों से जोड़ता है। .

नई!!: ओडिशा और नयागढ़ · और देखें »

नरभक्षण

हैंस स्टैडेन द्वारा कहा गया 1557 में नरभक्षण. लियोंहार्ड कर्ण द्वारा नरभक्षण, 1650 नरभक्षण (नरभक्षण) (नरभक्षण की आदत के लिए विख्यात वेस्ट इंडीज जनजाति कैरीब लोगों के लिए स्पेनिश नाम कैनिबलिस से) एक ऐसा कृत्य या अभ्यास है, जिसमें एक मनुष्य दूसरे मनुष्य का मांस खाया करता है। इसे आदमखोरी (anthropophagy) भी कहा जाता है। हालांकि "कैनिबलिज्म" (नरभक्षण) अभिव्यक्ति के मूल में मनुष्य द्वारा दूसरे मनुष्य के खाने का कृत्य है, लेकिन प्राणीशास्त्र में इसका विस्तार करते हुए किसी भी प्राणी द्वारा अपने वर्ग या प्रकार के सदस्यों के भक्षण के कृत्य को भी शामिल कर लिया गया है। इसमें अपने जोड़े का भक्षण भी शामिल है। एक संबंधित शब्द, "कैनिबलाइजेशन" (अंगोपयोग) के अनेक अर्थ हैं, जो लाक्षणिक रूप से कैनिबलिज्म से व्युत्पन्न हैं। विपणन में, एक उत्पाद के कारण उसी कंपनी के अन्य उत्पाद के बाजार के शेयर के नुकसान के सिलसिले में इसका उल्लेख किया जा सकता है। प्रकाशन में, इसका मतलब अन्य स्रोत से सामग्री लेना हो सकता है। विनिर्माण में, बचाए हुए माल के भागों के पुनःप्रयोग पर इसका उल्लेख हो सकता है। खासकर लाइबेरिया और कांगो में, अनेक युद्धों में हाल ही में नरभक्षण के अभ्यास और उसकी तीव्र निंदा दोनों ही देखी गयी। अतीत में दुनिया भर के मनुष्यों के बीच व्यापक रूप से नरभक्षण का प्रचलन रहा था, जो 19वीं शताब्दी तक कुछ अलग-थलग दक्षिण प्रशांत महासागरीय देशों की संस्कृति में जारी रहा; और, कुछ मामलों में द्वीपीय मेलेनेशिया में, जहां मूलरूप से मांस-बाजारों का अस्तित्व था। फिजी को कभी 'नरभक्षी द्वीप' ('Cannibal Isles') के नाम से जाना जाता था। माना जाता है कि निएंडरथल नरभक्षण किया करते थे, और हो सकता है कि आधुनिक मनुष्यों द्वारा उन्हें ही कैनिबलाइज्ड अर्थात् विलुप्त कर दिया गया हो। अकाल से पीड़ित लोगों के लिए कभी-कभी नरभक्षण अंतिम उपाय रहा है, जैसा कि अनुमान लगाया गया है कि ऐसा औपनिवेशिक रौनोक द्वीप में हुआ था। कभी-कभी यह आधुनिक समय में भी हुआ है। एक प्रसिद्ध उदाहरण है उरुग्वेयन एयर फ़ोर्स फ्लाइट 571 की दुर्घटना, जिसके बाद कुछ बचे हुए यात्रियों ने मृतकों को खाया.

नई!!: ओडिशा और नरभक्षण · और देखें »

नलबण पक्षी अभयारण्य

नलबाण पक्षी अभयारण्य उड़ीसा में चिल्का झील के पास स्थित है। श्रेणी:उड़ीसा के अभयारण्य श्रेणी:भारत के अभयारण्य.

नई!!: ओडिशा और नलबण पक्षी अभयारण्य · और देखें »

नाम की व्युत्पत्ति के आधार पर भारत के राज्य

भारतीय गणराज्य का १९४७ में राज्यों के संघ के रूप में गठन हुआ। राज्य पुनर्गठन अधिनियम, १९५६ के अनुसार राज्यीय सीमाओं को भाषाई आधार पर पुनर्व्यवस्थित किया गया, इसलिए कई राज्यों के नाम उनकी भाषाओं के अनुसार हैं और आमतौर पर तमिल नाडु (तमिल) और कर्णाटक (कन्नड़) को छोड़कर, इन नामों की उत्पत्ति संस्कृत से होती है। तथापि अन्य राज्यों के नाम उनकी भौगोलिक स्थिति, विशेष इतिहास या जनसंख्याओं और औपनिवेशिक प्रभावों पर पड़े हैं। .

नई!!: ओडिशा और नाम की व्युत्पत्ति के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

नारायण दास ग्रोवर

महात्मा नारायण दास ग्रोवर (15 नवम्बर 1923 - 6 फ़रवरी 2008) भारत के महान शिक्षाविद थे। वे आर्य समाज के कार्यकर्ता थो जिन्होने 'दयानन्द ऐंग्लो-वैदिक कालेज आन्दोलन' (डीएवी आंदोलन) के प्रमुख भूमिका निभायी। उन्होने अपना पूरा जीवन डीएवी पब्लिक स्कूलों के विकास में लगा दिया। उन्होंने इस संस्था की आजीवन अवैतनिक सेवा प्रदान की। वे डीएवी पब्लिक स्कूल पटना प्रक्षेत्र के क्षेत्रीय निदेशक के साथ-साथ डीएवी कालेज मैनेजिंग कमेटी नई दिल्ली के उपाध्यक्ष थे। .

नई!!: ओडिशा और नारायण दास ग्रोवर · और देखें »

नारियल

नारियल के पेड़ नारियल (Cocos nucifera, कोकोस् नूकीफ़ेरा) एक बहुवर्षी एवं एकबीजपत्री पौधा है। इसका तना लम्बा तथा शाखा रहित होता है। मुख्य तने के ऊपरी सिरे पर लम्बी पत्तियों का मुकुट होता है। ये वृक्ष समुद्र के किनारे या नमकीन जगह पर पाये जाते हैं। इसके फल हिन्दुओं के धार्मिक अनुष्ठानों में प्रयुक्त होता है। बांग्ला में इसे नारिकेल कहते हैं। नारियल के वृक्ष भारत में प्रमुख रूप से केरल, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में खूब उगते हैं। महाराष्ट्र में मुंबई तथा तटीय क्षेत्रों व गोआ में भी इसकी उपज होती है। नारियल एक बेहद उपयोगी फल है। नारियल देर से पचने वाला, मूत्राशय शोधक, ग्राही, पुष्टिकारक, बलवर्धक, रक्तविकार नाशक, दाहशामक तथा वात-पित्त नाशक है। .

नई!!: ओडिशा और नारियल · और देखें »

नागेन्द्र कुमार प्रधान

नागेन्द्र कुमार प्रधान भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की सम्बलपुर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और नागेन्द्र कुमार प्रधान · और देखें »

नाइट्रिक अम्ल

नाइट्रिक अम्ल (Nitric acid) (HNO3), एक अत्यन्त संक्षारक (कोरोसिव) खनिज अम्ल है। इसे एक्वा फ्रोटिस (aqua fortis) और 'स्पिरिट ऑफ नाइटर' भी कहते हैं। कीमियागरों को नाइट्रिक अम्ल का ज्ञान था, जिसे वे ऐक्वा फॉर्टिस के नाम से पुकारते थे। प्रसिद्ध कीमियागर जेबर ने नाइटर (niter) और ताम्र सल्फेट, (Cu SO4) तथा फिटकरी के साथ आसवन से प्राप्त कर इसका वर्णन किया है। भारत में शोरा तथा नाइट्रिक अम्ल का १६वीं शताब्दी में ज्ञान था। शुक्राचार्य के ग्रंथ शुक्रनीति में बारूद बनाने के लिए इसे उपयोग का वर्णन हुआ है। उड़ीसा के गजपति प्रतापरुद्रदेव द्वारा लिखित ग्रंथ 'कौतुकचिंतामणि' में यवक्षार (साल्टपीटर) का उल्लेख है। इसके अतिरिक्त सुवर्णतंत्र ग्रंथ (लगभग १७वीं शताब्दी में लिखा गया) में 'शंखद्राव' का वर्णन है, जो शोरे और नमक के अम्लों (HCl) का मिश्रण था। आईने अकबरी ग्रंथ में रासी (शोरे के अम्ल) का वर्णन है, जिसका चाँदी को स्वच्छ करने में उपयोग हो सकता था। वर्ष १६४८ ई. में ग्लॉबर (Glauber) ने नाइटर पर विट्रियल तेल (oil of vitreol) की अभिक्रिया द्वारा संद्र नाइट्रिक अम्ल का निर्माण किया। कैवेंडिश ने १७७६ ई में इसका संघटन ज्ञात किया। वायुमंडल में नाइट्रिक अम्ल विद्युत विसर्जन (electric discharge) द्वारा सूक्ष्म मात्रा में बनता रहता है, जो वर्षाजल में घुलकर पृथ्वी पर आता है। मिट्टी में उपस्थित कार्बनिक पदार्थों के ऑक्सीकरण द्वारा भी नाइट्रिक अम्ल बनता है। यह अम्ल अनेक नाइट्रेट पदार्थों के रूप में भूमि में संचित होकर पौधों के उपयोग में आता है। नाइट्रेट यौगिकों का प्रमुख स्रोत चिली देश है। भारत की साँभर झील में पोटासियम नाइट्रेट पाया जाता है। भारत के कुछ राज्यों में मिट्टी के साथ मिला हुआ पोटासियम नाइट्रेट पाया जाता है। इससे एक समय प्रचुर मात्रा में शोरा (व्यापारिक पोटासियम नाइट्रेट) तैयार होता था। .

नई!!: ओडिशा और नाइट्रिक अम्ल · और देखें »

नियमगिरि

नियमगिरि का परम्परागत चावल जो औषधीय गुणों से युक्त होता है नियमगिरि ओड़िशा के कालाहान्डी और रायगढ़ा जिलों में स्थित एक पर्वतशृंखला है। इन पहाड़ियों पर डोंगरिया कोंध नामक आदिवासी रहते हैं। इन पहाड़ियों पर भारत के सबसे पुराने वन अवस्थित हैं। .

नई!!: ओडिशा और नियमगिरि · और देखें »

निर्धनता दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों को 16 सितम्बर 2013 की स्थिति तक निर्धनता की दर के आधार पर क्रमित करती है। यह सूची भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा प्रकाशित 2013 के वार्षिक प्रतिवेदन से संकलित की गई है। क्रम-स्थान प्रतिशत में निर्धनता सीमा से नीचे रह रहे लोगों की गणना अनुसार दिया गया है और ऍम.आर.पी.

नई!!: ओडिशा और निर्धनता दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

नवीन पटनायक

नवीन पटनायक (जन्म 16 अक्टूबर 1946) भारतीय राज्य ओडिशा के १४वें और वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। वे बीजू जनता दल के संस्थापक मुखिया हैं और वे लेखक भी हैं। .

नई!!: ओडिशा और नवीन पटनायक · और देखें »

नंदिनी सत्पथी

नंदिनी सत्पथी (ନନ୍ଦିନୀ ଶତପଥୀ; 9 जून 1931;– 4 अगस्त 2006) एक भारतीय लेखिका और राजनीतिज्ञ थी। वे जून 1972 से दिसंबर 1976 तक ओडिशा की मुख्यमंत्री रहीं। .

नई!!: ओडिशा और नंदिनी सत्पथी · और देखें »

नक्सलवाद

नक्सलवाद कम्युनिस्ट क्रांतिकारियों के उस आंदोलन का अनौपचारिक नाम है जो भारतीय कम्युनिस्ट आंदोलन के फलस्वरूप उत्पन्न हुआ। नक्सल शब्द की उत्पत्ति पश्चिम बंगाल के छोटे से गाँव नक्सलबाड़ी से हुई है जहाँ भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के नेता चारू मजूमदार और कानू सान्याल ने 1967 मे सत्ता के खिलाफ़ एक सशस्त्र आंदोलन की शुरुआत की। मजूमदार चीन के कम्यूनिस्ट नेता माओत्से तुंग के बहुत बड़े प्रशंसकों में से थे और उनका मानना था कि भारतीय मज़दूरों और किसानों की दुर्दशा के लिये सरकारी नीतियाँ जिम्मेदार हैं जिसकी वजह से उच्च वर्गों का शासन तंत्र और फलस्वरुप कृषितंत्र पर वर्चस्व स्थापित हो गया है। इस न्यायहीन दमनकारी वर्चस्व को केवल सशस्त्र क्रांति से ही समाप्त किया जा सकता है। 1967 में "नक्सलवादियों" ने कम्युनिस्ट क्रांतिकारियों की एक अखिल भारतीय समन्वय समिति बनाई। इन विद्रोहियों ने औपचारिक तौर पर स्वयं को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से अलग कर लिया और सरकार के खिलाफ़ भूमिगत होकर सशस्त्र लड़ाई छेड़ दी। 1971 के आंतरिक विद्रोह (जिसके अगुआ सत्यनारायण सिंह थे) और मजूमदार की मृत्यु के बाद यह आंदोलन एकाधिक शाखाओं में विभक्त होकर कदाचित अपने लक्ष्य और विचारधारा से विचलित हो गया। आज कई नक्सली संगठन वैधानिक रूप से स्वीकृत राजनीतिक पार्टी बन गये हैं और संसदीय चुनावों में भाग भी लेते है। लेकिन बहुत से संगठन अब भी छद्म लड़ाई में लगे हुए हैं। नक्सलवाद के विचारधारात्मक विचलन की सबसे बड़ी मार आँध्र प्रदेश, छत्तीसगढ, उड़ीसा, झारखंड और बिहार को झेलनी पड़ रही है। .

नई!!: ओडिशा और नक्सलवाद · और देखें »

नुआपड़ा जिला

नुआपाड़ा भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय नुआपाड़ा में स्थित है। पश्चिमी उड़ीसा का नौपाडा जिला मध्य प्रदेश के रायपुर और उड़ीसा के बारगढ़, बालंगीर व कालाहांडी जिलों से घिरा हुआ है। 3407.05 वर्ग किलोमीटर में फैला यह जिला 1993 तक कालाहांडी का हिस्सा था, लेकिन प्रशासनिक सुविधा के लिहाज से इसे कालाहांडी से अलग एक नए जिले के रूप में गठित कर दिया गया। इस जिले का विस्तार 20° 0' उ० एवं 21° 5' उ० रेखांश तथा 82° 20' पू० एवं 82° 40' पू० अक्षांश के बीच है। पटोरा जोगेश्वर मंदिर, राजीव उद्यान, पातालगंगा, योगीमठ, बूढ़ीकोमना, खरियर, गोधू जलप्रताप आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। .

नई!!: ओडिशा और नुआपड़ा जिला · और देखें »

नुआपाड़ा

नुआपाड़ा भारत के ओड़ीसा प्रान्त का एक शहर है। यह नुआपाड़ा जिला मुख्यालय है। पश्चिमी ओड़ीसा का नुआपाडा जिला मध्य प्रदेश के रायपुर और ओड़ीसा के बरगढ़, बलंगीर व कालाहांडी जिलों से घिरा हुआ है। 3407.05 वर्ग किलोमीटर में फैला यह जिला 1993 तक कालाहांडी का हिस्सा था, लेकिन प्रशासनिक सुविधा के लिहाज से इसे कालाहांडी से अलग एक नए जिले के रूप में गठित कर दिया गया। पतोरा जोगेश्वर मंदिर, राजीव उद्यान, पातालगंगा, योगीमठ, बूढ़ीकोमना, खरीयार, गौधस जलप्रताप आदि यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। .

नई!!: ओडिशा और नुआपाड़ा · और देखें »

नृसिम्हनाथ जल प्रपात

नृसिम्हनाथ जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और नृसिम्हनाथ जल प्रपात · और देखें »

नृसिंहदेव

नृसिंहदेव उड़ीसा के गंग वंश के राजा थे। .

नई!!: ओडिशा और नृसिंहदेव · और देखें »

नोआमुंडी

नोआमुंडी झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिला में स्थित है। प्रशासनिक इकाई के रूप में यह एक प्रखंड है.

नई!!: ओडिशा और नोआमुंडी · और देखें »

नील माधव पंडा

नील माधव पंडा (जन्म: १८ अक्टोबर, १९७३) निर्माता-निर्देशक हैं। उनकी निर्देशित फ़िल्म 'आई एम कलाम' बहुत सारे राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी है।.

नई!!: ओडिशा और नील माधव पंडा · और देखें »

नीलकांत दास

नीलकांत दास को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा राज्य से थे। श्रेणी:१९६० पद्म भूषण.

नई!!: ओडिशा और नीलकांत दास · और देखें »

पटना

पटना (पटनम्) या पाटलिपुत्र भारत के बिहार राज्य की राजधानी एवं सबसे बड़ा नगर है। पटना का प्राचीन नाम पाटलिपुत्र था। आधुनिक पटना दुनिया के गिने-चुने उन विशेष प्राचीन नगरों में से एक है जो अति प्राचीन काल से आज तक आबाद है। अपने आप में इस शहर का ऐतिहासिक महत्व है। ईसा पूर्व मेगास्थनीज(350 ईपू-290 ईपू) ने अपने भारत भ्रमण के पश्चात लिखी अपनी पुस्तक इंडिका में इस नगर का उल्लेख किया है। पलिबोथ्रा (पाटलिपुत्र) जो गंगा और अरेन्नोवास (सोनभद्र-हिरण्यवाह) के संगम पर बसा था। उस पुस्तक के आकलनों के हिसाब से प्राचीन पटना (पलिबोथा) 9 मील (14.5 कि॰मी॰) लम्बा तथा 1.75 मील (2.8 कि॰मी॰) चौड़ा था। पटना बिहार राज्य की राजधानी है और गंगा नदी के दक्षिणी किनारे पर अवस्थित है। जहां पर गंगा घाघरा, सोन और गंडक जैसी सहायक नदियों से मिलती है। सोलह लाख (2011 की जनगणना के अनुसार 1,683,200) से भी अधिक आबादी वाला यह शहर, लगभग 15 कि॰मी॰ लम्बा और 7 कि॰मी॰ चौड़ा है। प्राचीन बौद्ध और जैन तीर्थस्थल वैशाली, राजगीर या राजगृह, नालन्दा, बोधगया और पावापुरी पटना शहर के आस पास ही अवस्थित हैं। पटना सिक्खों के लिये एक अत्यंत ही पवित्र स्थल है। सिक्खों के १०वें तथा अंतिम गुरु गुरू गोबिंद सिंह का जन्म पटना में हीं हुआ था। प्रति वर्ष देश-विदेश से लाखों सिक्ख श्रद्धालु पटना में हरमंदिर साहब के दर्शन करने आते हैं तथा मत्था टेकते हैं। पटना एवं इसके आसपास के प्राचीन भग्नावशेष/खंडहर नगर के ऐतिहासिक गौरव के मौन गवाह हैं तथा नगर की प्राचीन गरिमा को आज भी प्रदर्शित करते हैं। एतिहासिक और प्रशासनिक महत्व के अतिरिक्त, पटना शिक्षा और चिकित्सा का भी एक प्रमुख केंद्र है। दीवालों से घिरा नगर का पुराना क्षेत्र, जिसे पटना सिटी के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख वाणिज्यिक केन्द्र है। .

नई!!: ओडिशा और पटना · और देखें »

पटसन

जूट (पटसन) के पौधे (''कॉर्कोरस ओलिटोरिअस (Corchorus olitorius)'' तथा ''कॉर्कोरस कैप्सुलारिस (Corchorus capsularis)'') पटसन, पाट या पटुआ एक द्विबीजपत्री, रेशेदार पौधा है। इसका तना पतला और बेलनाकार होता है। इसके तने से पत्तियाँ अलग कर पानी में गट्ठर बाँधकर सड़ने के लिए डाल दिया जाता है। इसके बाद रेशे को पौधे से अलग किया जाता है। इसके रेशे बोरे, दरी, तम्बू, तिरपाल, टाट, रस्सियाँ, निम्नकोटि के कपड़े तथा कागज बनाने के काम आता है। 'जूट' शब्द संस्कृत के 'जटा' या 'जूट' से निकला समझा जाता है। यूरोप में 18वीं शताब्दी में पहले-पहल इस शब्द का प्रयोग मिलता है, यद्यपि वहाँ इस द्रव्य का आयात 18वीं शताब्दी के पूर्व से "पाट" के नाम से होता आ रहा था। .

नई!!: ओडिशा और पटसन · और देखें »

पट्टचित्र

पट्टचित्र में राधा-कृष्ण पट्टचित्र ओड़िशा की पारम्परिक चित्रकला है। इन चित्रों में हिन्दू देवीदेवताओं को दर्शाया जाता है। 'पट्ट' का अर्थ 'कपड़ा' होता है। .

नई!!: ओडिशा और पट्टचित्र · और देखें »

पञ्चाङ्गम्

वर्ष 1871-72 के हिन्दू पंचांग का एक पृष्ठ पञ्चाङ्गम् परम्परागत भारतीय कालदर्शक है जिसमें समय के हिन्दू ईकाइयों (वार, तिथि, नक्षत्र, करण, योग आदि) का उपयोग होता है। इसमें सारणी या तालिका के रूप में महत्वपूर्ण सूचनाएँ अंकित होतीं हैं जिनकी अपनी गणना पद्धति है। अपने भिन्न-भिन्न रूपों में यह लगभग पूरे नेपाल और भारत में माना जाता है। असम, बंगाल, उड़ीसा, में पञ्चाङ्गम् को 'पञ्जिका' कहते हैं। 'पञ्चाङ' का शाब्दिक अर्थ है, 'पाँच अङ्ग' (पञ्च + अङ्ग)। अर्थात पञ्चाङ्ग में वार, तिथि, नक्षत्र, करण, योग - इन पाँच चीजों का उल्लेख मुख्य रूप से होता है। इसके अलावा पञ्चाङ से प्रमुख त्यौहारों, घटनाओं (ग्रहण आदि) और शुभ मुहुर्त का भी जानकारी होती है। गणना के आधार पर हिंदू पंचांग की तीन धाराएँ हैं- पहली चंद्र आधारित, दूसरी नक्षत्र आधारित और तीसरी सूर्य आधारित कैलेंडर पद्धति। भिन्न-भिन्न रूप में यह पूरे भारत में माना जाता है। एक वर्ष में १२ महीने होते हैं। प्रत्येक महीने में १५ दिन के दो पक्ष होते हैं- शुक्ल और कृष्ण। प्रत्येक साल में दो अयन होते हैं। इन दो अयनों की राशियों में २७ नक्षत्र भ्रमण करते रहते हैं। १२ मास का एक वर्ष और ७ दिन का एक सप्ताह रखने का प्रचलन विक्रम संवत से शुरू हुआ। महीने का हिसाब सूर्य व चंद्रमा की गति पर रखा जाता है। यह १२ राशियाँ बारह सौर मास हैं। जिस दिन सूर्य जिस राशि में प्रवेश करता है उसी दिन की संक्रांति होती है। पूर्णिमा के दिन चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उसी आधार पर महीनों का नामकरण हुआ है। चंद्र वर्ष, सौर वर्ष से ११ दिन ३ घड़ी ४८ पल छोटा है। इसीलिए हर ३ वर्ष में इसमे एक महीना जोड़ दिया जाता है जिसे अधिक मास कहते हैं। इसके अनुसार एक साल को बारह महीनों में बांटा गया है और प्रत्येक महीने में तीस दिन होते हैं। महीने को चंद्रमा की कलाओं के घटने और बढ़ने के आधार पर दो पक्षों यानी शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में विभाजित किया गया है। एक पक्ष में लगभग पंद्रह दिन या दो सप्ताह होते हैं। एक सप्ताह में सात दिन होते हैं। एक दिन को तिथि कहा गया है जो पंचांग के आधार पर उन्नीस घंटे से लेकर चौबीस घंटे तक होती है। दिन को चौबीस घंटों के साथ-साथ आठ पहरों में भी बांटा गया है। एक प्रहर कोई तीन घंटे का होता है। एक घंटे में लगभग दो घड़ी होती हैं, एक पल लगभग आधा मिनट के बराबर होता है और एक पल में चौबीस क्षण होते हैं। पहर के अनुसार देखा जाए तो चार पहर का दिन और चार पहर की रात होती है। .

नई!!: ओडिशा और पञ्चाङ्गम् · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (१९५४-५९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान है। जिसके ई॰ सन् १९५४ से १९५९ के प्राप्त कर्ता निम्न हैं: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (१९५४-५९) · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (१९६०-६९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरीक सम्मान है। जिसके ई॰ सन् १९५४ से १९५९ के प्राप्त कर्ता निम्न हैं: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (१९६०-६९) · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (१९७०-७९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरीक सम्मान है। जिसके ई॰ सन् १९७४ से १९७९ के प्राप्त कर्ता निम्न हैं: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (१९७०-७९) · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (१९८०–१९८९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरीक सम्मान है। जिसके ई॰ सन् १९८४ से १९८९ के प्राप्त कर्ता निम्न हैं: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (१९८०–१९८९) · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (१९९०–१९९९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरीक सम्मान है। जिसके ई॰ सन् १९८४ से १९८९ के प्राप्त कर्ता निम्न हैं: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (१९९०–१९९९) · और देखें »

पद्म श्री पुरस्कार (२०००–२००९)

पद्म श्री पुरस्कार, भारत का चौथा सबसे बड़ा नागरीक सम्मान है। सन् २००० से २००९ तक विजेताओं की सूची निम्न है: .

नई!!: ओडिशा और पद्म श्री पुरस्कार (२०००–२००९) · और देखें »

पद्मिनी राउट

पद्मिनी राउट एक भारतीय शतरंज खिलाड़ी है जिन्होंने इंटरनेशनल मास्टर और वुमन ग्रैंडमास्टर का खिताब हासिल किया हुआ है। पद्मिनी का जन्म ५ जनुअरी १९९४ को हुआ था और उन्होंने २००८ में दो बार अंडर-१४ लड़कियों की विश्व चैम्पियनशिप और भारतीय महिला चैंपियनशिप की जीत हासिल की थी। उड़ीसा के बाराम्बाढ़ में पैदा हुई पद्मिनी राउत ने खेल के लिए अपने पिता के जुनून की वजह से नौ वर्ष उम्र में ही शतरंज खेलना शुरू कर दिया था। २००५ और २००६ में, वह दोनों भारतीय अंडर-१३ लड़कियों चैंपियन और एशियाई अंडर-१२ चैंपियन थी। पद्मिनी राउट ने २००८ में एशियाई और विश्व युवा चेस चैंपियनशिप दोनों के U-14 लड़कियों का खिताब जीता था। २०१०१ में पद्मिनी ने भारतीय जूनियर (U-119) लड़कियों की चैम्पियनशिप जीती और दोनों एशियाई और विश्व जूनियर गर्ल्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक भी जीता। २०१४ ०र २०१५ में पद्मिनी राउट ने भारतीय महिला चैम्पियनशिप जीती। २०१५ में, वह राष्ट्रमंडल महिला चैंपियन भी बन गईं। और पद्मिनी राउट ने ट्रॉम्सो, नॉर्वे में २०१४ महिला शतरंज ओलंपियाड में भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए आरक्षित बोर्ड पर एक व्यक्तिगत स्वर्ण पदक भी जीता। .

नई!!: ओडिशा और पद्मिनी राउट · और देखें »

परिवार के आकार के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची प्रत्येक राज्य में प्रति घर, सदस्य संख्या के आधार पर है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और परिवार के आकार के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

परिकल्पना सम्मान

परिकल्पना सम्मान हिन्दी ब्लॉगिंग का एक ऐसा वृहद सम्मान है, जिसे बहुचर्चित तकनीकी ब्लॉगर रवि रतलामी ने हिन्दी ब्लॉगिंग का ऑस्कर कहा है। यह सम्मान प्रत्येक वर्ष आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में देशविदेश से आए हिन्दी के चिरपरिचित ब्लॉगर्स की उपस्थिति में प्रदान किया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और परिकल्पना सम्मान · और देखें »

परवल

परवल या 'पटोल' एक प्रकार की सब्ज़ी है। इसकी लता जमीन पर पसरती है। इसकी खेती असम, बंगाल, ओड़िशा, बिहार एवं उत्तर प्रदेश में की जाती है। परवल को हिंदी में 'परवल', तमिल में 'कोवाककई' (Kovakkai), कन्नड़ में 'थोंड़े काई' (thonde kayi) और असमिया, संस्कृत, ओडिया और बंगाली में 'पोटोल' तथा भोजपुरी, उर्दू, और अवध भाषा में 'परोरा' के नाम से भी जाना जाता है। इनके आकर छोटे और बड़े से लेकर मोटे और लम्बे में - 2 से 6 इंच (5 से 15 सेंटीमीटर) तक भिन्न हो सकते हैं। यह अच्छी तरह से साधारणतया गर्म और आर्द्र जलवायु के अन्दर पनपती है। .

नई!!: ओडिशा और परवल · और देखें »

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल (भारतीय बंगाल) (बंगाली: পশ্চিমবঙ্গ) भारत के पूर्वी भाग में स्थित एक राज्य है। इसके पड़ोस में नेपाल, सिक्किम, भूटान, असम, बांग्लादेश, ओडिशा, झारखंड और बिहार हैं। इसकी राजधानी कोलकाता है। इस राज्य मे 23 ज़िले है। यहां की मुख्य भाषा बांग्ला है। .

नई!!: ओडिशा और पश्चिम बंगाल · और देखें »

पश्चिम गंग वंश

पश्चिम गंग वंश (३५०-१००० ई.) (ಪಶ್ಚಿಮ ಗಂಗ ಸಂಸ್ಥಾನ) प्राचीन कर्नाटक का एक राजवंश था। ये पूर्वी गंग वंश से अलग थे। पूर्वी गंग जिन्होंने बाद के वर्षों में ओडिशा पर राज्य किया। आम धारण के अनुसार पश्चिम गंग वंश ने शसन तब संभाला जब पल्लव वंश के पतन उपरांत बहुत से स्वतंत्र शासक उठ खड़े हुए थे। इसका एक कारण समुद्रगुप्त से युद्ध भी रहे थे। इस वंश ने ३५० ई से ५५० ई तक सार्वभौम राज किया था। इनकी राजधानी पहले कोलार रही जो समय के साथ बदल कर आधुनिक युग के मैसूर जिला में कावेरी नदी के तट पर तालकाड स्थानांतरित हो गयी थी। .

नई!!: ओडिशा और पश्चिम गंग वंश · और देखें »

पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची

यह भारतीय पाठक सर्वेक्षण (आई॰आर॰एस॰) पर आधारित पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की एक सूची है। .

नई!!: ओडिशा और पाठक संख्या के अनुसार भारत में समाचार पत्रों की सूची · और देखें »

पारादीप

पारादीप या पारदीप (ओडिशा: ପାରାଦୀପ) एक प्रमुख बंदरगाह शहर है जो ओडिशा, भारत के जगतसिंहपुर जिले में एक नगर पालिका है। .

नई!!: ओडिशा और पारादीप · और देखें »

पाषाण खान

एक परित्यक्त खादान इमारती पत्थरों को खोदकर निकालने की क्रिया को आखनन (quarrying) कहते हैं। इस स्थान को जहाँ से पत्थर निकाले जाते हैं, खादान या 'पाषाण खान' (quarry/क्वैरी) कहते हैं। पाषाण खान साधारणतया खुले स्थान में ही बनाई जाती है। .

नई!!: ओडिशा और पाषाण खान · और देखें »

पाइक विद्रोह

बक्शी जगबन्धु पाइक विद्रोह (१८१७) उड़ीसा में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के विरुद्ध एक सशस्त्र विद्रोह था। पाइक लोगों ने भगवान जगन्नाथ को उड़िया एकता का प्रतीक मानकर बक्सि जगबन्धु के नेतृत्व में १८१७ में यह विद्रोह शुरू किया था। शीघ्र ही यह आन्दोलन पूरे उड़ीसा में फैल गया किन्तु अंग्रेजों ने निर्दयतापूर्वक इस आन्दोलन को दबा दिया। बहुत से वीरों को पकड़ कर दूसरे द्वीपों पर भेज कर कारावास का दण्द दे दिया गया। बहुत दिनों तक वन में छिपकर बक्सि जगबन्धु ने संघर्ष किया किन्तु बाद में आत्मसमर्पण कर दिया। कुछ इतिसकार इसे 'भारत का प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम' की संज्ञा देते हैं। 1857 का स्वाधीनता संग्राम जिसे सामान्य तौर पर भारत का पहला स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है, उसे पाठ्यपुस्तकों में बदलने की तैयारी की जा रही है.

नई!!: ओडिशा और पाइक विद्रोह · और देखें »

पाइक अखाड़ा

पाइक अखाड़ा, ओड़ीसा के प्रसिद्ध अखाड़े हैं जो प्राचीन काल में किसानों को सैन्य प्रशिक्षण देने का काम करते थे। आजकल पाइक अखाड़ों में परम्परागत व्यायाम और पाइक नृत्य आदि किये जाते हैं। .

नई!!: ओडिशा और पाइक अखाड़ा · और देखें »

पिनाकी मिश्र

पिनाकी मिश्र भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की पुरी सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और पिनाकी मिश्र · और देखें »

पुटुडी जल प्रपात

पुटुडी जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और पुटुडी जल प्रपात · और देखें »

पुथंडु

पुथंडु (तमिल: புத்தாண்டு), जिसे पुथुरूषम या तमिल नव वर्ष भी कहा जाता है, तमिल कैलेंडर पर वर्ष का पहला दिन है। तमिल तारीख को तमिल महीने चिधिराई के पहले दिन के रूप में, लन्नीसरोल हिंदू कैलेंडर के सौर चक्र के साथ स्थापित किया गया है। इसलिए यह हर साल ग्रेगोरियन कैलेंडर के 14 अप्रैल या उसके आस पास ही मनाया जाता हैं। यह दिन हिंदुओं के द्वारा पारंपरिक तौर पर नए साल के रूप में मनाया जाता है, लेकिन इसके नाम अलग अलग होते हैं जिसे केरल में विशु एवं मध्य और उत्तर भारत में वैसाखी जैसे अन्य नामों से जाना जाता है। इस दिन, तमिल लोग "पुट्टू वतुत्काका!" कहकर एक-दूसरे को बधाई देते हैं जो हिंदी के "नया साल मुबारक हो" के बराबर है। इस दिन ज्यादातर लोग अपने परिवार के साथ समय बिताते हैं एवं लोग अपने घर-द्वार की साफ सफाई करते हैं। एक थाली भी सजाते हैं जिसमे फलों, फूलों और अन्य शुभ वस्तुएं राखी जाती हैं। पुथंडु तमिलनाडु और पोंडिचेरी के बाहर रहने वाले तमिल हिंदुओं के द्वारा भी मनाया जाता है, जैसे श्रीलंका, मलेशिया, सिंगापुर, रीयूनियन, मॉरीशस और अन्य देशों में भी जहाँ तमिल लोग प्रवासी के तौर पर रहते हैं। .

नई!!: ओडिशा और पुथंडु · और देखें »

पुरापाषाण काल

पुरापाषाण काल (अंग्रेजी Palaeolithic) प्रौगएतिहासिक युग का वह समय है जब मानव ने पत्थर के औजार बनाना सबसे पहले आरम्भ किया। यह काल आधुनिक काल से २५-२० लाख साल पूर्व से लेकर १२,००० साल पूर्व तक माना जाता है। इस दौरान मानव इतिहास का ९९% विकास हुआ। इस काल के बाद मध्यपाषाण युग का प्रारंभ हुआ जब मानव ने खेती करना शुरु किया था। भारत में पुरापाषाण काल के अवशेष तमिल नाडु के कुरनूल, कर्नाटक के हुँस्न्गी, ओडिशा के कुलिआना, राजस्थान के डीडवानाके श्रृंगी तालाब के निकट और मध्य प्रदेश के भीमबेटका में मिलते हैं। इन अवशेषो की संख्या मध्यपाषाण काल के प्राप्त अवशेषो से बहुत कम है। इस काल को जलवायु परिवर्तन तथा उस समय के पत्थर के हथियारो तथा औजारो के प्रकारों के आधार पर निम्न तीन भागों में विभाजित किया गया है:- .

नई!!: ओडिशा और पुरापाषाण काल · और देखें »

पुरुषोत्तम दास टंडन

पुरूषोत्तम दास टंडन (१ अगस्त १८८२ - १ जुलाई, १९६२) भारत के स्वतन्त्रता सेनानी थे। हिंदी को भारत की राष्ट्रभाषा के पद पर प्रतिष्ठित करवाने में उनका महत्त्वपूर्ण योगदान था। उनका जन्म उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में हुआ था। वे भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के अग्रणी पंक्ति के नेता तो थे ही, समर्पित राजनयिक, हिन्दी के अनन्य सेवक, कर्मठ पत्रकार, तेजस्वी वक्ता और समाज सुधारक भी थे। हिन्दी को भारत की राजभाषा का स्थान दिलवाने के लिए उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान किया। १९५० में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष बने। उन्हें भारत के राजनैतिक और सामाजिक जीवन में नयी चेतना, नयी लहर, नयी क्रान्ति पैदा करने वाला कर्मयोगी कहा गया। वे जन सामान्य में राजर्षि (संधि विच्छेदः राजा+ऋषि.

नई!!: ओडिशा और पुरुषोत्तम दास टंडन · और देखें »

पुरुषोत्तम अभियान्त्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान

पुरुषोत्तम अभियान्त्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, रौरकेला पुरुषोत्तम अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (पी.आई.ई.टी), राउरकेला की स्थापना सन १९९९-२००० में हुई। यह 'पुरुषोत्तम शिक्षा एवं कल्याण ट्रस्ट' के अधीन कार्य करता है। इसका मुख्य उद्देश्य पश्चिमी ओडिशा एवं आसपास के लोगों में प्रौद्योगिकी शिक्षा का प्रसार करना है। यह संस्थान बीजू पटनायक प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से प्रमाणित है। .

नई!!: ओडिशा और पुरुषोत्तम अभियान्त्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संस्थान · और देखें »

पुरुषोत्तमदेव

पुरुषोत्तमदेव उड़ीसा के एक राजा थे जो वंशपरंपरा के अनुसार जगन्नाथ जी के मंदिर में झाड़ू लगाया करते थे। कांची नरेश ने जब इनसे अपने कन्या का विवाह करना अस्वीकार कर दिया तो राजा ने इस अपमान से रुष्ट होकर कांची पर चढ़ाई कर दी और कांचीपति को पराजित कर बलपूर्वक उनकी कन्या से विवाह कर लिया। श्रेणी:ओड़िशा.

नई!!: ओडिशा और पुरुषोत्तमदेव · और देखें »

पुरी

पुरी भारत के ओड़िशा प्रान्त का एक जिला है। भारत के चार पवित्रतम स्थानों में से एक है पुरी, जहां समुद्र इस शहर के पांव धोता है। कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति यहां तीन दिन और तीन रात ठहर जाए तो वह जीवन-मरण के चक्कर से मुक्ति पा लेता है। पुरी, भगवान जगन्नाथ (संपूर्ण विश्व के भगवान), सुभद्रा और बलभद्र की पवित्र नगरी है, हिंदुओं के पवित्र चार धामों में से एक पुरी संभवत: एक ऐसा स्थान है जहां समुद्र के आनंद के साथ-साथ यहां के धार्मिक तटों और 'दर्शन' की धार्मिक भावना के साथ कुछ धार्मिक स्थलों का आनंद भी लिया जा सकता है। पुरी एक ऐसा स्थान है जिसे हजारों वर्षों से कई नामों - नीलगिरी, नीलाद्रि, नीलाचल, पुरुषोत्तम, शंखक्षेत्र, श्रीक्षेत्र, जगन्नाथ धाम, जगन्नाथ पुरी - से जाना जाता है। पुरी में दो महाशक्तियों का प्रभुत्व है, एक भगवान द्वारा सृजित है और दूसरी मनुष्य द्वारा सृजित है। .

नई!!: ओडिशा और पुरी · और देखें »

पुरी तट

पुरी तट उड़ीसा राज्य के पुरी शहर में स्थित है और बंगाल की खाड़ी के किनारे तक फैला हुआ है। पुरी तट को एक सर्वाधिक महत्‍वपूर्ण हिंदु तीर्थ स्‍थल भी माना जाता है। पुरी तट को भगवान जगन्नाथ का निवास स्थल भी माना जाता है और शायद इसी कारण यहाँ अनेक तीर्थयात्री समुद्र में स्नान करने के लिए आते हैं। पुरी तट की यात्रा वर्ष कभी भी की जा सकती है, लेकिन पुरी समुद्र तट पर जाने का आदर्श समय वार्षिक पुरी समुद्री तट के समारोह के दौरान है जिसका आयोजन नवंबर के माह में किया जाता है। पुरी तट पर सूर्यास्त के समय का नजारा बहुत आकर्षक होता है। श्रेणी:ओड़िशा में पर्यटन श्रेणी:भारत के सागरतट.

नई!!: ओडिशा और पुरी तट · और देखें »

पुरी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

पुरी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में बीजू जनता दल के पिनाकी मिश्र यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और पुरी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

पुष्पगिरि (बहुविकल्पी)

पुष्पगिरि से आशय भिन्न-भिन्न स्थानों एवं पर्वतों से है-.

नई!!: ओडिशा और पुष्पगिरि (बहुविकल्पी) · और देखें »

पुस्तक:भारत

;मुख्य लेख;नामोत्पत्ति;इतिहास;सरकार;भारत के राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश;भूगोल्;अर्थव्यवस्था श्रेणी:विकिपीडिया पुस्तकें श्रेणी:विकिपीडिया पुस्तकें (भारत).

नई!!: ओडिशा और पुस्तक:भारत · और देखें »

पुस्तकालय का इतिहास

आधुनिक भारत में पुस्तकालयों का विकास बड़ी धीमी गति से हुआ है। हमारा देश परतंत्र था और विदेशी शासन के कारण शिक्षा एवं पुस्तकालयों की ओर कोई ध्यान ही नहीं दिया गया। इसी से पुस्तकालय आंदोलन का स्वरूप राष्ट्रीय नहीं था और न इस आंदोलन को कोई कानूनी सहायता ही प्राप्त थीं। बड़ौदा राज्य का योगदान इस दिशा में प्रशंसनीय रहा है। यहाँ पर 1910 ई. में पुस्तकालय आंदोलन प्रारंभ किया गया। राज्य में एक पुस्तकालय विभाग खोला गया और पुस्तकालयों चार श्रेणियों में विभक्त किया गया- जिला पुस्तकालय, तहसील पुस्तकालय, नगर पुस्तकालय, एवं ग्राम पुस्तकालय आदि। पूरे राज्य में इनका जाल बिछा दिया गया था। भारत में सर्वप्रथम चल पुस्तकालय की स्थापना भी बड़ौदा राज्य में ही हुई। श्री डब्ल्यू.

नई!!: ओडिशा और पुस्तकालय का इतिहास · और देखें »

प्रणब

प्रणब एक भारतीय नाम है जो प्रणव का अपभ्रंश है। यह असमीया, बंगाली, ओड़िया और नेपाली में काफी प्रचलित है। दक्षिण ओडिशा में इसे भगवान का मिथक माना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और प्रणब · और देखें »

प्रतिभा राय

प्रतिभा राय (जन्म 21 जनवरी 1943) ओड़िया भाषा की लेखिका हैं जिन्हें वर्ष 2011 के लिए 47वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। प्रतिभा राय के अब तक 20 उपन्यास, 24 लघुकथा संग्रह, 10 यात्रा वृत्तांत, दो कविता संग्रह और कई निबंध प्रकाशित हो चुके हैं। उनकी प्रमुख रचनाओं का देश की प्रमुख भारतीय भाषाओं व अंग्रेजी समेत दूसरी विदेशी भाषाओं में अनुवाद हुआ है। उनके प्रसिद्द उपन्यास शिलापद्म का हिन्दी में कोणार्क के नाम से और याज्ञसेनी का द्रौपदी के नाम से अनुवाद हुआ है जो हिन्दी में काफ़ी पढ़े जाने वाले उपन्यासों में से हैं। .

नई!!: ओडिशा और प्रतिभा राय · और देखें »

प्रतिमा पुहन

प्रतिमा पुहन ओडिशा से एक भारतीय रोवर है, जिनका जन्म २७ अगस्त १९९१ को कटक में उड़ीसा में हुआ था। २०१० के एशियाई खेलों में ओडिशा के प्रमिला प्रावाना मिन्ज के साथ उन्होंने महिला कोक्सलेस जोड़ी में कांस्य पदक जीतकर उन्होंने पहली भारतीय महिला बनकर रोइंग इतिहास लिखा। उन्होंने प्रमिला प्रावाना मिनज के साथ १९ नवंबर, २०१० को गुआंगज़ौ में चीन के सात मिनट और ४७.५० सेकेंड के समय में एक कांस्य पदक जीता था। .

नई!!: ओडिशा और प्रतिमा पुहन · और देखें »

प्रतिलोम शब्दकोश

प्रतिलोम शब्दकोश (reverse dictionary) ऐसे शब्दकोश को कहते हैं जिसमें शब्दों का क्रम परम्परागत मानक क्रम नहीं बल्कि कोई अन्य क्रम होता है। ऐसे शब्दकोश कभी-कभी बहुत उपयोगी होते हैं और परम्परागत शब्दकोशों से जो सूचना बहुत कठिनाई से मिल पाती है वह इनसे मिल जाती है। उदाहरण के लिए 'तुकान्त शब्दकोश' एक प्रतिलोम शब्दकोश है जिसमें प्रविष्ट शब्दों का क्रम उनके अन्तिम अक्षर से शुरू करके आदि अक्षर की ओर लेते हुए तैयार किया जाता है। ऐसे शब्दकोश में 'आना' और 'लाना' पास-पास हो सकते हैं जबकि 'आना' और 'आम' दूर-दूर। .

नई!!: ओडिशा और प्रतिलोम शब्दकोश · और देखें »

प्रत्युष प्रकाश

प्रत्युष प्रकाश (जन्म: १४ दिसम्बर १९९१) बॉलीवुड में कार्यरत एक गीतकार, व कवि हैं। थ्री डी कामसूत्र (२०१४) फिल्म में इनके लिखे गए गीत ऑस्कर के लिए चुना गया था।, retrieved 2014-05-08 .

नई!!: ओडिशा और प्रत्युष प्रकाश · और देखें »

प्रधानपट जल प्रपात

प्रधानपट जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। .

नई!!: ओडिशा और प्रधानपट जल प्रपात · और देखें »

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना

'प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना एक योजना है इसका उद्देश्य देश के विभिन्न भागों में स्वास्थ्य सुविधाओं को सभी के लिए सामान रूप से उपलब्ध करवाना है ' इस योजना के अंतर्गत देश के पिछड़े राज्यों में चिकित्सा शिक्षा को बेहतर करने हेतु सुविधाएँ उपलब्ध करवाने का लक्ष्य निर्धारित है। इस योजना को मार्च 2006 में मंजूरी दी गई थी। .

नई!!: ओडिशा और प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना · और देखें »

प्रभास कुमार सिंह

प्रभास कुमार सिंह भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की बरगढ़ सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और प्रभास कुमार सिंह · और देखें »

प्रसन्न कुमार पटसानी

प्रसन्न कुमार पटसानी भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की भुवनेश्वर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और प्रसन्न कुमार पटसानी · और देखें »

प्रस्तर मूर्तिकला

पत्थर की मूर्तियाँ प्रागैतिहासिक काल से ही अनेक कारणों से बनाई जा रही हैं। पत्थर की मूर्तियाँ केवल सुंदरता का ही नहीं, बलकी और भी बहुत चीज़ों का प्रतीक है। इस बात को इस लेख में समझाया गया है। और यह भी दिखाया है कि सालों से विकास करती यह कला अत्यंत आकर्शक और महत्वपूर्ण है। पत्थर की मूर्तियाँ पत्थर को तीन आयमों में काटने से बनती हैं। इनकी आधारभूत संकलपना एक ही होने पर भी हमें लाखों तरह की रचनाएँ देखने को मिलती हैं। यह एक प्राचीन कला है जिसमें प्राकृतिक पत्थर को नियंत्रित रीति से काटा जाता हैं। कलाकार अपनी क्शमता को पथ्थर को काटने में दिखाता हैं, जैसे वह उसकी कुशलता का प्रतीक हो। सुबह शाम, दिन रात एक करके वे पत्थर को विभिन्न आकृतियों में काँट कर, उसको एक मूर्ती का रूप देता हैं। .

नई!!: ओडिशा और प्रस्तर मूर्तिकला · और देखें »

प्राण कृष्ण पारिजा

प्राण कृष्ण पारिजा को साहित्य एवं शिक्षा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९५५ पद्म भूषण.

नई!!: ओडिशा और प्राण कृष्ण पारिजा · और देखें »

प्रिंस डांस समूह

प्रिंस डांस ग्रुप भारत के उड़ीसा राज्य के बरहमपुर शहर के अम्बुपुआ गांव का एक सामूहिक नृत्यलीला करने वाला समूह है। इसे कलर्स टीवी चैनल के कार्यक्रम इंडियाज़ गॉट टैलेंट में एक प्रतियोगी रहा था और फाइनल के ११ प्रतियोगियों में विजेता चुना गया था। बीस सदस्यों के इस ग्रुप का नेतृत्व कृष्ण मोहन रेड्डी कर रहे थे, और अधिकतम सदस्य एक निर्माण साइट के मजदूर हैं और दो सदस्य पद्मनाभ साहू (२४) और तेलु तारिणी (१३) शारीरिक रूप से कुछ अक्षम भी थे। श्री रेड्डी ही इस ग्रुप के संस्थापक और नृत्य-निर्देशक हैं। ये श्री टी.गोपाल रेड्डी के छोटे भाई हैं, जो इंडिया रेअर अर्थ्स के कर्मचारी हैं। इस समूह ने इससे पहले सोनी टीवी के बूगी वूगी कार्यक्रम में भी भाग लिया था। इस कार्यक्रम की निर्णायक समिति में हिन्दी फिल्म निर्देशक शेखर कपूर, अभिनेत्री किरॉन खेर एवं सोनाली बेंद्रे थीं और शो के होस्ट निखिल चिन्नप्पा, आयुष्मान खुराना थे। फाइनल में इन्होंने भगवान विष्णु के दशावतार का चित्रण किया था। इस शो में सभी सदस्यों ने अपने पूरे शरीर पर चमकीला पेन्ट किया हुआ था। और श्री रेड्डी स्वयं विष्णु की भूमिका में थे। इस प्रतियोगिता कार्यक्रम में विजेता को ५० लाख रुपये और एक मारुति रिट्ज़ कार मिली थी। इसके अलावा उड़ीसा सरकार ने इन्हें १ करोड़ रुपये एवं गरीब बच्चों के लिए नृत्य अकादमी खोलने हेतु भूमि देने को भी कहा है। .

नई!!: ओडिशा और प्रिंस डांस समूह · और देखें »

प्रजनन दर के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची प्रति महिला पर होने बाले बच्चों के आधार पर है। इस अध्ययनानुसार सात भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश, गोआ, तमिल नाडु, हिमाचल प्रदेश, केरल, पंजाब और सिक्किम अब भारत के जनसंख्या विस्फोट में भागीदार नहीं हैं। वस्तुतः यदि जनसंख्या प्रजनन दर की यही प्रवृत्ति जारी रहती है तो आंध्र प्रदेश, गोआ, तमिल नाडु, हिमाचल प्रदेश और केरल की जनसंख्या में आने वाले दशकों में गिरावट आएगी। रोचक रूप से, दक्षिण भारत के चारों राज्यों, आंध्र प्रदेश, तमिल नाडु, केरल और कर्णाटक में जन्म दर निर्णायक २ बहुत कम है कर्णाटक को छोड़कर जहाँ भी यह दर २.१ ही है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और प्रजनन दर के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

पैका

पैका उड़ीसा का परिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और पैका · और देखें »

पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र

पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र दक्षिण भारत में पूर्वी घाट (कोरोमंडल तट) और बंगाल की खाड़ी के बीच फैले लंबे समतल क्षेत्र को कहाआ जाता है। यह तमिल नाडु से लेकर पश्चिम बंगाल तक १२० कि॰मी॰ की औसत चौड़ाई में फैला हुआ है। कई नदियों के मुहाने (डेल्टा) इस क्षेत्र में आते हैं। इनमें प्रमुख हैं महानदी, गोदावरी, कावेरी और कृष्णा। इस क्षेत्र में उत्तर-पूर्वी और दक्षिण-पश्चिमी मानसून वर्षाएं होती हैं, जो १००० मि.मी से ३००० मि.मी.

नई!!: ओडिशा और पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र · और देखें »

पूर्वी तटीय रेलवे

पूर्वी तटीय रेलवे (ईस्ट कोस्ट रेलवे), भारतीय रेलवे का एक ब्लू चिप रेलवे जोन है और अपने मौजूदा स्वरूप में 1 अप्रैल 2003 से अस्तित्व में है। तब से इस नई जोनल रेलवे का मुख्यालय भुवनेश्वर में कार्य कर रहा है। इस रेलवे के भौगोलिक अधिकार क्षेत्र का विस्तार तीन राज्यों, पूर्वोत्तर आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विशाखापत्तनम और विजयीनगरम तथा छत्तीसगढ़ राज्य के बस्तर और दंतेवाड़ा जिलों एवं उड़ीसा के लगभग सभी हिस्सों में फैला हुआ है। इस प्रकार, ये एक लंबी तटीय जोन होने के साथ-साथ, इन क्षेत्रों में खनिज और अन्य प्राकृतिक संसाधनों की समृद्धता है जिसके कारण इस क्षेत्र में भारी औद्योगिक विकास होने वाला है। इस क्षेत्र में कई खनिज आधारित उद्योगों के साथ, बड़ी इस्पात संयंत्र और रासायनिक उर्वरक संयंत्र आने वाले हैं और परिवहन की बढ़ती माँग को पूरा करने के लिए पूर्वी तट रेलवे एक मुख्य भूमिका निभाने के लिए तैयार है। पारादीप, विशाखापत्तनम और गोपालपुर जैसे प्रमुख बंदरगाहों में रेल की क्षमता में वृद्धि करने एवं माल निपटान की सुविधाएं बढ़ाने के लिए कई महत्वाकांक्षी योजनाओं की तैयारियां चल रही हैं। औद्योगिक गतिविधियों के प्रत्याशित विकास की मांग को पूरा करने के लिए, रेल की बुनियादी ढांचे में विकास हेतु वर्तमान विभिन्न परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है। .

नई!!: ओडिशा और पूर्वी तटीय रेलवे · और देखें »

पूर्वी भारत

पूर्वी भारत, में भारत के पूर्व के क्षेत्र आते हैं। इनमें पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, बिहार एवं झारखंड राज्य शामिल हैं। यहां बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में हिन्दी, बांग्ला, उड़िया, उर्दु तथा मैथिली आती हैं। यहां के बड़े शहरों में कोलकाता, भुवनेश्वर, पटना, कटाक, रांची, राउरकेला हैं। .

नई!!: ओडिशा और पूर्वी भारत · और देखें »

पूर्वी गंगवंश

पूर्वी गंगवंश (ओड़िया: ଗଙ୍ଗ ବଂଶ ଶାସନ/गंग बंश शासन) भारतीय उपमहाद्वीप का एक हिन्दू राजवंश था। उन्होने कलिंग को राजधानी बनाया। उनके राज्य के अन्तर्गत वर्तमान समय का सम्पूर्ण उड़ीसा तो था ही, इसके साथ ही पश्चिम बंगाल, आन्ध्र प्रदेश तथा छत्तीसगढ़ के भी कुछ भाग थे।इनका शासन ११वीं शताब्दी से १५वीं शताब्दी तक रहा। उनकी राजधानी का नाम 'कलिंगनगर' था जो वर्तमान समय में आन्ध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिला का श्रीमुखलिंगम है। पहले यह उड़ीसा के गंजम जिले में था। पूर्वी गंगवंश के शासक कोणार्क के सूर्य मन्दिर के निर्माण के लिये प्रसिद्ध हैं। .

नई!!: ओडिशा और पूर्वी गंगवंश · और देखें »

पूर्वी आंचलिक परिषद

जोनल परिषदों का भारत पूर्वी आंचलिक परिषद में एक आंचलिक परिषद। इस परिषद मे छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा, और पश्चिम बंगाल शामिल है। .

नई!!: ओडिशा और पूर्वी आंचलिक परिषद · और देखें »

पेयजल उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

इस सूची में भारत के राज्य और केन्द्र-शासित प्रदेश पीने योग्य जल की उपलब्धता के आधार पर क्रमबद्ध हैं। यह सूची भारत सरकार द्वारा प्रकाशित 2011 भारत की जनगणना प्रतिवेदन से ली गई है। इस सूची में क्रम-स्थिति प्रतिशत के आधार पर है। इस सूची में पंजाब 97.6% घरों तक पीने योग्य जल की उपलब्धता के साथ सबसे ऊपर है जबकि बिहार 33.5% के साथ सबसे नीचे। राष्ट्रीय औसत 85.5% है। .

नई!!: ओडिशा और पेयजल उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

पोकिरी (2006 फ़िल्म)

पोकिरी (तेलुगु: పోకిరి, Rogue/Goon) 2006 एक हिट तेलुगु फिल्म है जिसका निर्देशन, लेखन और निर्माण पुरी जगन्नाध ने किया है। महेश बाबू ने मुख्य भूमिका निभायी है और एलेना डि'क्रूज़, प्रकाश राज, सयाजी शिंदे एवं आशीष विद्यार्थी ने सहायक भूमिकाएं अदा की हैं। मणि शर्मा संगीत निर्देशक थे, श्याम के.

नई!!: ओडिशा और पोकिरी (2006 फ़िल्म) · और देखें »

पीठा

पीठा(बंगाली: পিঠে, ओडिया: ପିଠା, बंगाली-असमिया: পিঠা piṭha, संस्कृत: पिष्टा; अपूप) भारतीय उपमहाद्वीप के पूर्वी क्षेत्रों से चावल केक का एक प्रकार है, जिसमें बांग्लादेश है औरभारत में आम तौर पर ओडिशा, असम, पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार और पूर्वोत्तर क्षेत्र के पूर्वी राज्य भी शामिल है। पीठा आम तौर पर चावल के आटे से बने होते हैं, हालांकि गेहूं के आटे से भी पीठे बनाये जाते है। .

नई!!: ओडिशा और पीठा · और देखें »

फ़ज़ल अली

खान बहादुर सैयद सर फ़ज़ल अली (19 सितम्बर, 1886 – 22 अगस्त, 1959) असम और उड़ीसा के राज्यपाल तथा न्यायधीश थे। वे १९५३ में गठित राज्य पुनर्गठन आयोग के अध्यक्ष थे। श्रेणी:भारत के न्यायधीश श्रेणी:ओड़िशा के राज्यपाल.

नई!!: ओडिशा और फ़ज़ल अली · और देखें »

फ़ुरलीझरन जल प्रपात

फ़ुरलीझरन जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और फ़ुरलीझरन जल प्रपात · और देखें »

फकीर मोहन सेनापति

ओड़िआ साहित्य में फकीरमोहन सेनापति (१८४३- १९१८) ‘कथा-सम्राट्‍’ के रूप में प्रसिद्ध हैं। ओड़िआ कहानी एवं उपन्यास रचना में उनकी बिशिष्ट पहचान रही है। .

नई!!: ओडिशा और फकीर मोहन सेनापति · और देखें »

फकीर मोहन विश्वविद्यालय

फकीर मोहन विश्वविद्यालय (ओड़िया: ଫକିର ମୋହନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ) उड़ीसा के बालाशोर जिले के नुआपढ़ी में स्थित है। इसका नाम महान ओड़िया साहित्यकार फकीर मोहन सेनापति के नाम पर रखा गया है। यह ओड़िशा का ५वाँ विश्वविद्यालय है। श्रेणी:ओड़िसा के विश्वविद्यालय.

नई!!: ओडिशा और फकीर मोहन विश्वविद्यालय · और देखें »

फुलबनी

फुलबनी उडी़सा प्रान्त का एक शहर है। श्रेणी:ओड़िशा के शहर.

नई!!: ओडिशा और फुलबनी · और देखें »

फैलिन (चक्रवात)

फैलिन या पायलिन एक तीव्र उष्णकटिबंधीय चक्रवात है। अंडमान सागर में कम दबाव के क्षेत्र के रूप में उत्पन्न हुए फैलिन ने 9 अक्टूबर को उत्तरी अंडमान निकोबार द्वीप समूह पार करते ही एक चक्रवाती तूफान का रूप ले लिया।भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने भविष्यवाणी की थी कि यह तूफ़ान 12 अक्टूबर को शाम के लगभग साढ़े पांच बजे भारत के पूर्वी तटीय इलाकों तक पहुँच जायेगा। अंततः यह तूफ़ान 12 अक्टूबर 2013 को 8 बजे आन्ध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के तट पर टकराया। इस चक्रवात को फैलिन नाम (जिसका अर्थ होता है नीलम), थाईलैंड द्वारा दिया गया था। इस चक्रवात से 90 लाख लोग प्रभावित हुए हैं, 2.34 लाख घर क्षतिग्रस्त हो गए जबकि 2400 करोड़ रुपये की धान की फसल बर्बाद हो गई। .

नई!!: ओडिशा और फैलिन (चक्रवात) · और देखें »

फूलबनी

फूलबनी भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और फूलबनी · और देखें »

फूलबाणी

ओड़िशा के कन्धमाल जिला के मुख्यालय फूलबाणी है। श्रेणी:ओड़िशा के शहर.

नई!!: ओडिशा और फूलबाणी · और देखें »

बढ़घाघरा जल प्रपात

बढ़घाघरा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और बढ़घाघरा जल प्रपात · और देखें »

बरहमपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

बरहमपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और बरहमपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

बराक 8

बराक 8 (Barak 8) एक भारतीय-इजरायली लंबी दूरी वाली सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। बराक 8 को विमान, हेलीकाप्टर, एंटी शिप मिसाइल और यूएवी के साथ-साथ क्रूज़ मिसाइलों और लड़ाकू जेट विमानों के किसी भी प्रकार के हवाई खतरा से बचाव के लिए डिज़ाइन किया गया। इस प्रणाली के दोनों समुद्री और भूमि आधारित संस्करण मौजूद हैं। बराक 8 संयुक्त रूप से इजरायल की इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (आईएआई) और भारत की रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित किया गया था। हथियारों और तकनीकी अवसंरचना, एल्टा सिस्टम्स और अन्य चीजो के विकास के लिए इजरायल का प्रशासन जिम्मेदार होगा। जबकि भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (बीडीएल) मिसाइलों का उत्पादन करेगी। .

नई!!: ओडिशा और बराक 8 · और देखें »

बरगड़ जिला

बरगड़ भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और बरगड़ जिला · और देखें »

बरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

बरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में बीजू जनता दल के प्रभास कुमार सिंह यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और बरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

बरेहीपानी जल प्रपात

बरेहीपानी जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और बरेहीपानी जल प्रपात · और देखें »

बलभद्र माझी

बलभद्र माझी भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की नबरंगपुर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और बलभद्र माझी · और देखें »

बलांगिर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

बलांगिर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और बलांगिर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

बलांगिर जिला

बोलांगिर या बलांगीर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। बलांगीर ओड़िशा के पश्चिमी भाग के प्रमुख व्यापारिक नगरों में से एक है। यह शहर महाराजाओं के काल में सुन्दर रीति से बसाया गया था। बलांगीर सम्बलपुर से 141 किलोमीटर दूर है और यहाँ अभी भी पुराने फैशन के सुन्दर और शान्तिपूर्ण स्थल विद्यमान हैं। बलांगीर अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन का स्थल रहा है। सौन्दर्यपूर्ण और आकर्षक तत्वों में रत्न के समान जादू जैसे दृश्य के लिए गन्धमार्दन के पहाड़ी झरने और महानदी के पर्वतीय स्थलों गुजरने के स्थल प्रमुख हैं। यहाँ वर्ष के अधिकांश समय में गर्म और शुष्क जलवायु रहती है। यहाँ सर्दियाँ भी कठिन किन्तु सुखद होतीं हैं। इसलिए यहाँ सर्दियों में आना अच्छा होता है। .

नई!!: ओडिशा और बलांगिर जिला · और देखें »

बल्देव विद्याभूषण

बल्देव विद्याभूषण गौणीय वैष्णव सम्प्रदाय के प्रसिद्ध आचार्य थे। इनका समय सं.

नई!!: ओडिशा और बल्देव विद्याभूषण · और देखें »

बाराबती स्टेडियम

बाराबती स्टेडियम भारत के उड़ीसा राज्य में स्थित एक क्रिकेट और फुटबॉल का मैदान है। इस मैदान पर पहला टेस्ट क्रिकेट मैच ४ से ७ जनवरी १९८७ को भारतीय क्रिकेट टीम बनाम श्रीलंका के बीच खेला गया था जबकि पहला वनडे मैच २७ जनवरी १९८२ को भारत बनाम इंग्लैंड के बीच खेला गया था। .

नई!!: ओडिशा और बाराबती स्टेडियम · और देखें »

बाराबती किला

बाराबती क़िला ओडिशा में महानदी के किनारे बना हुआ है और ख़ूबसूरती से तराशे गए दरवाज़ों और नौ मंज़िला महल के लिए प्रसिद्ध है। .

नई!!: ओडिशा और बाराबती किला · और देखें »

बारगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

बारगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और बारगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

बाल पोषाहार के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

भारत के राज्यों यह सूची बाल पूरक पोषण कार्यक्रम के प्रभावी कवरेज की स्थिति के आधार पर है। इस सूची के आँकड़े योजना आयोग द्वारा प्रकाशित 2011 समेकित बाल विकास सेवा मूल्यांकन रिपोर्ट से लिए गए हैं। .

नई!!: ओडिशा और बाल पोषाहार के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

बालरंग, भिलाई

बालरंग भिलाई - छत्तीसगढ की बाल नाट्य संस्था बालरंग भिलाई का जन्म १४ नवंबर १९९७ को हुआ। रंग्कर्मी विभा‌ष उपाध्याय द्वारा स्थापित इस बाल नाट्य संस्था ने ४५ से अधिक नाट्य प्रशि़क्षण शिविरों से उपजे लगभग ५० नाटकों के साथ उड़ीसा, दिल्ली, केरल, कोलकाता, शिमला, झारखंड, उत्तर प्रदेश सहित अनेक स्थानों में आयोजित राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय समारोहों में शिरकत की हॅ। बाल नाट्य संस्था बालरंग भिलाई में नाटक लिखने का काम बच्चे (५-१२ वर्ष) ही करते हैं। अभिनय के अलावा बच्चों को कठपुतली व जादू का भी प्रशि़क्षण दिया जाता है, जिससे बच्चे व्यवसायिक कार्यक्रम कर के थियेटर चलाने के अलावा कुछ हद तक पढाई का खर्चा भी निकाल लेते हैं। श्रेणी:नाट्य संस्था.

नई!!: ओडिशा और बालरंग, भिलाई · और देखें »

बालासोर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

बालासोर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और बालासोर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

बालि यात्रा

बालियात्रा मेले का प्रवेशद्वार बालियात्रा (ओडिया: ବୋଇତ ବନ୍ଦାଣ/बोइत बन्दाण) ओडिशा में मनाया जाने वाला एक प्रमुख उत्सव है। यह उत्सव कटक नगर में महानदी के किनारे गडगडिया घाट पर मनाया जाता है। यह उत्सव उस दिन की स्मृति में मनाया जाता है जब प्राचीन काल में ओडिशा के नाविक बाली, जावा, सुमात्रा, बोर्नियो और श्री लंका आदि सुदूर प्रदेशों की यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे। 'बालियात्रा' का शाब्दिक अर्थ है 'बालि की यात्रा'। इन यात्राओं का उद्देश्य व्यापार तथा सांस्कृतिक प्रसार होता था। जिन नावों से वे यात्रा करते थे वे आकार में विशाल होतीं थी और उन्हें 'बोइत' कहते थे। यह यात्रा कार्तिक पूर्णिमा से शुरू होती है। बालियात्रा उत्कल के नौवाणिज्य का स्वर्णिम स्मारक है। .

नई!!: ओडिशा और बालि यात्रा · और देखें »

बालिमेला जलाशय

बालिमेला जलाशय भारत के ओडीसा राज्य के मालकानगिरि जिले में सिलेरु नदी पर स्थित है। सिलेरू नदी गोदावरी नदी की सहायक नदी है। इस जलाशय की कुल भण्डारण क्षमता ३६१० मिलियन घन मीटर है। श्रेणी:भारत के जलाशय.

नई!!: ओडिशा और बालिमेला जलाशय · और देखें »

बालेश्वर जिला

बालेश्वर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और बालेश्वर जिला · और देखें »

बाजि राउत

ओडिशा के इतिहास में कभी भी न भूलने वाली तारीख 11 अक्टूबर है। आज से करीब 79 वर्ष पहले 11 अक्टूबर 1938 को फिरंगी सैनिकों ने ढेंकानाल जिले में कहर बरपाया था, जिसमें नीलकंठपुर गांव के 12 साल के एक किशोर बाजी राउत पर गोली मारकर हत्या कर दी थी। आजादी की लड़ाई के इतिहास में बाजी राउत को देश का सबसे कम उम्र का शहीद बताया गया है। देश को हिला देने वाली इस घटना ने स्वतंत्रता आंदोलन की चिंगारी को ज्वाला में तब्दील कर दिया था। 10 अक्टूबर 1938 को ब्रिटिश पुलिस कुछ लोगों को गिरफ्तार कर भुवनेश्वर थाना ले आई थी। इनकी रिहाई की मांग जोर पकडऩे लगी। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोलियां चलाईं, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई। लोगों के बढ़ते आक्रोश को देख पुलिस ने ब्राह्मणी नदी के नीलकंठ घाट होते हुए ढेंकानाल की ओर भागने की कोशिश की। ये लोग 11 अक्टूबर को बारिश में भीगते हुए नदी किनारे पहुंचे। बाजी राउत नदी तट पर नाव के साथ थे। उन्हें पार कराने का हुक्म दिया गया। बाजी ने सेना के जुल्मों की कहानी सुन रखी थी। उन्होंने सेना को पार उतारने से साफ इंकार कर दिया। सैनिकों ने उन्हें मारने की धमकी दी। हुक्म न मानने पर एक सैनिक ने बंदूक की बट से उनके सिर पर प्रहार किया, वह लहूलुहान होकर गिर पड़े और फिर उठ खड़े हुए और अंग्रेजों को पार उतारने से मना कर दिया।12 साल का बाजी न तो उनसे डरा और न ही भागा, बल्कि दृढ़ता से उनका मुकाबला किया। अंग्रेज सिपाही उसकी वीरता और देशभक्ति का आकलन नहीं कर पा रहे थे। बाजी के मन में देशभक्ति की भावना कूटकर भरी थी जिसका परिणाम यह निकला उसने बलिदान देना स्वीकार किया पर अंग्रेजों के आगे झुकना स्वीकार नहीं किया। गुस्साए ब्रिटिश सैनिकों ने बाजी राउत को गोलियों से छलनी कर दिया। इस दौरान बाजी के साथ गांव के लक्ष्मण मलिक, फागू साहू, हर्षी प्रधान और नाता मलिक भी मारे गए। इन बच्चों के बलिदान की चर्चा पूरे देश में फैल गई। आंदोलनकारी आक्रोशित हो उठे। यहीं से स्वतंत्रता आंदोलन की क्रांतिकारी इबारत शुरू हो गई।कटक के खाननगर के श्मशान में इस वीर बालक को मुखानि दी गई.

नई!!: ओडिशा और बाजि राउत · और देखें »

बागरा जल प्रपात

बागरा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और बागरा जल प्रपात · और देखें »

बाङ्ला भाषा

बाङ्ला भाषा अथवा बंगाली भाषा (बाङ्ला लिपि में: বাংলা ভাষা / बाङ्ला), बांग्लादेश और भारत के पश्चिम बंगाल और उत्तर-पूर्वी भारत के त्रिपुरा तथा असम राज्यों के कुछ प्रान्तों में बोली जानेवाली एक प्रमुख भाषा है। भाषाई परिवार की दृष्टि से यह हिन्द यूरोपीय भाषा परिवार का सदस्य है। इस परिवार की अन्य प्रमुख भाषाओं में हिन्दी, नेपाली, पंजाबी, गुजराती, असमिया, ओड़िया, मैथिली इत्यादी भाषाएँ हैं। बंगाली बोलने वालों की सँख्या लगभग २३ करोड़ है और यह विश्व की छठी सबसे बड़ी भाषा है। इसके बोलने वाले बांग्लादेश और भारत के अलावा विश्व के बहुत से अन्य देशों में भी फ़ैले हैं। .

नई!!: ओडिशा और बाङ्ला भाषा · और देखें »

बिधु भूषण दास

प्रोफेसर बिधुभूषण दास (11 अप्रैल 1922 - 2 जून 1999) प्राध्यापक, विद्वान, तथा प्रशासक थे। .

नई!!: ओडिशा और बिधु भूषण दास · और देखें »

बिन्दुसागर झील

बिन्दुसागर झील उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है, यहाँ की अन्य झीलों से यह काफ़ी बड़ी और ख़ूबसूरत है। लिंगराज मन्दिर के उत्तर में स्थित चारों ओर पत्थरों के घेरे में 1,300 फुट लम्बी व 700 फुट चौड़ी यह झील भुवनेश्वर की सबसे बड़ी झील है। कहा जाता है कि इस झील के चारों ओर 7,000 मंदिर थे। 500 मंदिरों के अवशेष तो आज भी पाये जाते हैं। इन मंदिरों का निर्माण आठवीं शताब्दी से लेकर 13 वीं शताब्दी के दौरान हुआ था। लगभग बारह मंदिर जिनमें प्रमुख रूप से लिंगराज मन्दिर तो आज भी श्रद्धालुओं के बीच काफ़ी लोकप्रिय है। जनश्रुति है कि बिन्दु सागर झील में भारत की सभी पावन नदियों, झीलों, कुंडों और सरोवरों का पवित्र जल मिश्रित है। बिन्दुसागर झील के मध्य में एक द्वीप है जहाँ प्रतिवर्ष लिंगराज की प्रतिमा को मंदिर से लाकर यहाँ भव्य समारोह का आयोजन किया जाता है। श्रेणी:ओड़िशा में पर्यटन आकर्षण.

नई!!: ओडिशा और बिन्दुसागर झील · और देखें »

बिरसा मुंडा

बिरसा मुंडा 19वीं सदी के एक प्रमुख आदिवासी जननायक थे। उनके नेतृत्‍व में मुंडा आदिवासियों ने 19वीं सदी के आखिरी वर्षों में मुंडाओं के महान आन्दोलन उलगुलान को अंजाम दिया। बिरसा को मुंडा समाज के लोग भगवान के रूप में पूजते हैं। .

नई!!: ओडिशा और बिरसा मुंडा · और देखें »

बंगाल

बंगाल (बांग्ला: বঙ্গ बॉंगो, বাংলা बांला, বঙ্গদেশ बॉंगोदेश या বাংলাদেশ बांलादेश, संस्कृत: अंग, वंग) उत्तरपूर्वी दक्षिण एशिया में एक क्षेत्र है। आज बंगाल एक स्वाधीन राष्ट्र, बांग्लादेश (पूर्वी बंगाल) और भारतीय संघीय प्रजातन्त्र का अंगभूत राज्य पश्चिम बंगाल के बीच में सहभाजी है, यद्यपि पहले बंगाली राज्य (स्थानीय राज्य का ढंग और ब्रिटिश के समय में) के कुछ क्षेत्र अब पड़ोसी भारतीय राज्य बिहार, त्रिपुरा और उड़ीसा में है। बंगाल में बहुमत में बंगाली लोग रहते हैं। इनकी मातृभाषा बांग्ला है। .

नई!!: ओडिशा और बंगाल · और देखें »

बंगाल प्रेसीडेंसी

बंगाल प्रेसीडेंसी ब्रिटिश भारत का एक उपनिवेशित क्षेत्र था; यह क्षेत्र अविभाजित बंगाल से बना था। बंगाल के ये क्षेत्र आज बांग्लादेश और भारत के निम्न राज्यों में विभाजित हैं.

नई!!: ओडिशा और बंगाल प्रेसीडेंसी · और देखें »

बंगाल की खाड़ी

बंगाल की खाड़ी विश्व की सबसे बड़ी खाड़ी है और हिंद महासागर का पूर्वोत्तर भाग है। यह मोटे रूप में त्रिभुजाकार खाड़ी है जो पश्चिमी ओर से अधिकांशतः भारत एवं शेष श्रीलंका, उत्तर से बांग्लादेश एवं पूर्वी ओर से बर्मा (म्यांमार) तथा अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह से घिरी है। बंगाल की खाड़ी का क्षेत्रफल 2,172,000 किमी² है। प्राचीन हिन्दू ग्रन्थों के अन्सुआर इसे महोदधि कहा जाता था। बंगाल की खाड़ी 2,172,000 किमी² के क्षेत्रफ़ल में विस्तृत है, जिसमें सबसे बड़ी नदी गंगा तथा उसकी सहायक पद्मा एवं हुगली, ब्रह्मपुत्र एवं उसकी सहायक नदी जमुना एवं मेघना के अलावा अन्य नदियाँ जैसे इरावती, गोदावरी, महानदी, कृष्णा, कावेरी आदि नदियां सागर से संगम करती हैं। इसमें स्थित मुख्य बंदरगाहों में चेन्नई, चटगाँव, कोलकाता, मोंगला, पारादीप, तूतीकोरिन, विशाखापट्टनम एवं यानगॉन हैं। .

नई!!: ओडिशा और बंगाल की खाड़ी · और देखें »

बक्सर का युद्ध

बक्सर का युद्ध २२ अक्टूबर १७६४ में बक्सर नगर के आसपास ईस्ट इंडिया कंपनी के हैक्टर मुनरो और मुगल तथा नबाबों की सेनाओं के बीच लड़ा गया था। बंगाल के नबाब मीर कासिम, अवध के नबाब शुजाउद्दौला, तथा मुगल बादशाह शाह आलम द्वितीय की संयुक्त सेना अंग्रेज कंपनी से लड़ रही थी। लड़ाई में अंग्रेजों की जीत हुई और इसके परिणामस्वरूप पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, उड़ीसा और बांग्लादेश का दीवानी और राजस्व अधिकार अंग्रेज कंपनी के हाथ चला गया। .

नई!!: ओडिशा और बक्सर का युद्ध · और देखें »

बुधिया सिंह

बुधिया सिंह (जन्म 2002) भारत के ओड़िशा राज्य का एक शिशु मैराथन धावक है। लंबी दौड़ के लिए 'लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकाडर्स' में उसका नाम सम्मिलित हो गया है।उड़ीसा के साढ़े चार साल के मैराथन धावक बुधिया सिंह ने 65 किलोमीटर की दूरी सात घंटे और दो मिनट में तय करके नया रिकॉर्ड बनाया है.

नई!!: ओडिशा और बुधिया सिंह · और देखें »

ब्रह्मपुर

ब्रह्मपुर(ओड़िआ: ବ୍ରହ୍ମପୁର, जो रेशम नगरी के नाम से जाना जाता है, ओड़िशा राज्य का प्रमुख एबं पुरातन नगरों में से एक है। ब्रह्मपुर भारत के पूर्व तट से लगा है। यह नगर, रेशम के शाढी, मंदिर एवं इसकी संस्क्रूति के लिए प्रसिध है। ब्रह्मपुर की जनसंख्या 2009 (संभाभित) के अनुसार 4 लाख से ज्यादा है। .

नई!!: ओडिशा और ब्रह्मपुर · और देखें »

ब्रिटिश राज

ब्रिटिश राज 1858 और 1947 के बीच भारतीय उपमहाद्वीप पर ब्रिटिश द्वारा शासन था। क्षेत्र जो सीधे ब्रिटेन के नियंत्रण में था जिसे आम तौर पर समकालीन उपयोग में "इंडिया" कहा जाता था‌- उसमें वो क्षेत्र शामिल थे जिन पर ब्रिटेन का सीधा प्रशासन था (समकालीन, "ब्रिटिश इंडिया") और वो रियासतें जिन पर व्यक्तिगत शासक राज करते थे पर उन पर ब्रिटिश क्राउन की सर्वोपरिता थी। .

नई!!: ओडिशा और ब्रिटिश राज · और देखें »

ब्रजबुलि

ब्रजबुलि उस काव्यभाषा का नाम है जिसका उपयोग उत्तर भारत के पूर्वी प्रदेशों अर्थात् मिथिला, बंगाल, आसाम तथा उड़ीसा के भक्त कवि प्रधान रूप से कृष्ण की लीलाओं के वर्णन के लिए करते रहे हैं। नेपाल में भी ब्रजबुलि में लिखे कुछ काव्य तथा नाटकग्रंथ मिले हैं। इस काव्यभाषा का उपयोग शताब्दियों तक होता रहा है। ईसवी सन् की 15वीं शताब्दी से लेकर 19वीं शताब्दी तक इस काव्यभाषा में लिखे पद मिलते हैं। यद्यपि "ब्रजबुलि साहित्य" की लंबी परंपरा रही हैं, फिर भी "ब्रजबुलि" शब्द का प्रयोग ईसवी सन् की 19वीं शताब्दी में मिलता है। इस शब्द का प्रयोग अभी तक केवल बंगाली कवि ईश्वरचंद्र गुप्त की रचना में ही मिला है। .

नई!!: ओडिशा और ब्रजबुलि · और देखें »

बौदा

बौद भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और बौदा · और देखें »

बौध जिला

बौध या बौडा भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय बौढ है। क्षेत्रफल - 3,098 वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और बौध जिला · और देखें »

बैतरणी

बैतरणी ओडिशा का सबसे पुरातन नदी है। यह नदी केन्दुझर जिला के गोनासिका से उत्पन्न हुआ है। इसका दैर्घ्य ३६५ कि·मि· है। यह नदी ब्राह्मणी नदी के साथ मिलित हो कर बालेश्वर जिला के धामरा के पास बंगाल की खाडी में प्रबेश किया है। यह नदी ओडिशा का सबसे पबित्र नदी है और ओडिशा कि गंगा के रूप में जाना जाता है।.

नई!!: ओडिशा और बैतरणी · और देखें »

बैरगढ

बैरगढ भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और बैरगढ · और देखें »

बैसाखी

बैसाखी नाम वैशाख से बना है। पंजाब और हरियाणा के किसान सर्दियों की फसल काट लेने के बाद नए साल की खुशियाँ मनाते हैं। इसीलिए बैसाखी पंजाब और आसपास के प्रदेशों का सबसे बड़ा त्योहार है। यह रबी की फसल के पकने की खुशी का प्रतीक है। इसी दिन, 13 अप्रैल 1699 को दसवें गुरु गोविंद सिंहजी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। सिख इस त्योहार को सामूहिक जन्मदिवस के रूप में मनाते हैं। .

नई!!: ओडिशा और बैसाखी · और देखें »

बेरोज़गारी की दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

यह सूची भारत के प्रमुख राज्यों को बेरोज़गारी दर के आधार पर सूचीबद्ध करती है। यह सूची भारत सरकार के सांख्यिकी व कार्यक्रम कार्यान्वयन मन्त्रालय के राष्ट्रीय सेवा योजना (ऍन०ऍस०ऍस०) प्रतिवेदन से संकलित है। कुछ पूर्वोत्तर राज्यों और अन्य छोटे राज्यों के आँकड़े अनुपलब्ध हैं। .

नई!!: ओडिशा और बेरोज़गारी की दर के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

बीजू पटनायक विमानक्षेत्र

भुवनेश्वर विमानक्षेत्र भुवनेश्वर में स्थित है। इसका ICAO कोडहै VEBS और IATA कोड है BBI। यह एक नागरिक हवाई अड्डा है। यहां कस्टम्स विभाग उपस्थित नहीं है। इसका रनवे पेव्ड है। इसकी प्रणाली यांत्रिक है। इसकी उड़ान पट्टी की लंबाई 7300 फी.

नई!!: ओडिशा और बीजू पटनायक विमानक्षेत्र · और देखें »

बीजू जनता दल

बीजू जनता दल (बीजद) ('''ବିଜୁ ଜନତା ଦଳ'''.) भारतीय राज्य ओडिशा का एक राज्यस्तरीय राजनीतिक दल है जिसका नेतृत्व राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक के पुत्र नवीन पटनायक करते हैं। इसकी स्थापना २६ दिसम्बर १९९७ को हुई। .

नई!!: ओडिशा और बीजू जनता दल · और देखें »

भद्रक

भद्रक भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और भद्रक · और देखें »

भद्रक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

भद्रक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और भद्रक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

भद्रक जिला

भद्रक भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और भद्रक जिला · और देखें »

भर्तुहरी महताब

भर्तुहरी महताब भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की कटक सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और भर्तुहरी महताब · और देखें »

भारत

भारत (आधिकारिक नाम: भारत गणराज्य, Republic of India) दक्षिण एशिया में स्थित भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। पूर्ण रूप से उत्तरी गोलार्ध में स्थित भारत, भौगोलिक दृष्टि से विश्व में सातवाँ सबसे बड़ा और जनसंख्या के दृष्टिकोण से दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, उत्तर-पूर्व में चीन, नेपाल और भूटान, पूर्व में बांग्लादेश और म्यान्मार स्थित हैं। हिन्द महासागर में इसके दक्षिण पश्चिम में मालदीव, दक्षिण में श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व में इंडोनेशिया से भारत की सामुद्रिक सीमा लगती है। इसके उत्तर की भौतिक सीमा हिमालय पर्वत से और दक्षिण में हिन्द महासागर से लगी हुई है। पूर्व में बंगाल की खाड़ी है तथा पश्चिम में अरब सागर हैं। प्राचीन सिन्धु घाटी सभ्यता, व्यापार मार्गों और बड़े-बड़े साम्राज्यों का विकास-स्थान रहे भारतीय उपमहाद्वीप को इसके सांस्कृतिक और आर्थिक सफलता के लंबे इतिहास के लिये जाना जाता रहा है। चार प्रमुख संप्रदायों: हिंदू, बौद्ध, जैन और सिख धर्मों का यहां उदय हुआ, पारसी, यहूदी, ईसाई, और मुस्लिम धर्म प्रथम सहस्राब्दी में यहां पहुचे और यहां की विविध संस्कृति को नया रूप दिया। क्रमिक विजयों के परिणामस्वरूप ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कंपनी ने १८वीं और १९वीं सदी में भारत के ज़्यादतर हिस्सों को अपने राज्य में मिला लिया। १८५७ के विफल विद्रोह के बाद भारत के प्रशासन का भार ब्रिटिश सरकार ने अपने ऊपर ले लिया। ब्रिटिश भारत के रूप में ब्रिटिश साम्राज्य के प्रमुख अंग भारत ने महात्मा गांधी के नेतृत्व में एक लम्बे और मुख्य रूप से अहिंसक स्वतन्त्रता संग्राम के बाद १५ अगस्त १९४७ को आज़ादी पाई। १९५० में लागू हुए नये संविधान में इसे सार्वजनिक वयस्क मताधिकार के आधार पर स्थापित संवैधानिक लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित कर दिया गया और युनाईटेड किंगडम की तर्ज़ पर वेस्टमिंस्टर शैली की संसदीय सरकार स्थापित की गयी। एक संघीय राष्ट्र, भारत को २९ राज्यों और ७ संघ शासित प्रदेशों में गठित किया गया है। लम्बे समय तक समाजवादी आर्थिक नीतियों का पालन करने के बाद 1991 के पश्चात् भारत ने उदारीकरण और वैश्वीकरण की नयी नीतियों के आधार पर सार्थक आर्थिक और सामाजिक प्रगति की है। ३३ लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के साथ भारत भौगोलिक क्षेत्रफल के आधार पर विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा राष्ट्र है। वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था क्रय शक्ति समता के आधार पर विश्व की तीसरी और मानक मूल्यों के आधार पर विश्व की दसवीं सबसे बडी अर्थव्यवस्था है। १९९१ के बाज़ार-आधारित सुधारों के बाद भारत विश्व की सबसे तेज़ विकसित होती बड़ी अर्थ-व्यवस्थाओं में से एक हो गया है और इसे एक नव-औद्योगिकृत राष्ट्र माना जाता है। परंतु भारत के सामने अभी भी गरीबी, भ्रष्टाचार, कुपोषण, अपर्याप्त सार्वजनिक स्वास्थ्य-सेवा और आतंकवाद की चुनौतियां हैं। आज भारत एक विविध, बहुभाषी, और बहु-जातीय समाज है और भारतीय सेना एक क्षेत्रीय शक्ति है। .

नई!!: ओडिशा और भारत · और देखें »

भारत में ऊष्मा लहर २०१५

भारत में अप्रैल/मई २०१५ ऊष्मा लहर २६ मई तक १००० से अधिक लोगों की मृत्यु हो गयी और विभिन्न क्षेत्र इससे प्रभावित हुये। भारतीय शुष्क मौसम में ऊष्मीय लहरें चलती हैं जिन्हें लू भी कहा जाता है। ये मुख्यतः मार्च से आरम्भ होकर मई तक चलती हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत में ऊष्मा लहर २०१५ · और देखें »

भारत में धर्म

तवांग में गौतम बुद्ध की एक प्रतिमा. बैंगलोर में शिव की एक प्रतिमा. कर्नाटक में जैन ईश्वरदूत (या जिन) बाहुबली की एक प्रतिमा. 2 में स्थित, भारत, दिल्ली में एक लोकप्रिय पूजा के बहाई हॉउस. भारत एक ऐसा देश है जहां धार्मिक विविधता और धार्मिक सहिष्णुता को कानून तथा समाज, दोनों द्वारा मान्यता प्रदान की गयी है। भारत के पूर्ण इतिहास के दौरान धर्म का यहां की संस्कृति में एक महत्त्वपूर्ण स्थान रहा है। भारत विश्व की चार प्रमुख धार्मिक परम्पराओं का जन्मस्थान है - हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म तथा सिक्ख धर्म.

नई!!: ओडिशा और भारत में धर्म · और देखें »

भारत में पर्यटन

हर साल, 3 मिलियन से अधिक पर्यटक आगरा में ताज महल देखने आते हैं। भारत में पर्यटन सबसे बड़ा सेवा उद्योग है, जहां इसका राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 6.23% और भारत के कुल रोज़गार में 8.78% योगदान है। भारत में वार्षिक तौर पर 5 मिलियन विदेशी पर्यटकों का आगमन और 562 मिलियन घरेलू पर्यटकों द्वारा भ्रमण परिलक्षित होता है। 2008 में भारत के पर्यटन उद्योग ने लगभग US$100 बिलियन जनित किया और 2018 तक 9.4% की वार्षिक वृद्धि दर के साथ, इसके US$275.5 बिलियन तक बढ़ने की उम्मीद है। भारत में पर्यटन के विकास और उसे बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्रालय नोडल एजेंसी है और "अतुल्य भारत" अभियान की देख-रेख करता है। विश्व यात्रा और पर्यटन परिषद के अनुसार, भारत, सर्वाधिक 10 वर्षीय विकास क्षमता के साथ, 2009-2018 से पर्यटन का आकर्षण केंद्र बन जाएगा.

नई!!: ओडिशा और भारत में पर्यटन · और देखें »

भारत में मधुमक्खी पालन

भारत में मधुमक्खी पालन का प्राचीन वेद और बौद्ध ग्रंथों में उल्लेख किया गया हैं। मध्य प्रदेश में मध्यपाषाण काल की शिला चित्रकारी में मधु संग्रह गतिविधियों को दर्शाया गया हैं। हालांकि भारत में मधुमक्खी पालन की वैज्ञानिक पद्धतियां १९वीं सदी के अंत में ही शुरू हुईं, पर मधुमक्खियों को पालना और उनके युद्ध में इस्तेमाल करने के अभिलेख १९वीं शताब्दी की शुरुआत से देखे गए हैं। भारतीय स्वतंत्रता के बाद, विभिन्न ग्रामीण विकास कार्यक्रमों के माध्यम से मधुमक्खी पालन को प्रोत्साहित किया गया। मधुमक्खी की पाँच प्रजातियाँ भारत में पाई जाती हैं जो कि प्राकृतिक शहद और मोम उत्पादन के लिए व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत में मधुमक्खी पालन · और देखें »

भारत में महिलाएँ

ताज परिसर में भारतीय महिलाएँऐश्वर्या राय बच्चन की अक्सर उनकी सुंदरता के लिए मीडिया द्वारा प्रशंसा की जाती है।"विश्व की सर्वाधिक सुंदर महिला?"cbsnews.com. अभिगमन तिथि २७ अक्टूबर २००७01 भारत में महिलाओं की स्थिति ने पिछली कुछ सदियों में कई बड़े बदलावों का सामना किया है। प्राचीन काल में पुरुषों के साथ बराबरी की स्थिति से लेकर मध्ययुगीन काल के निम्न स्तरीय जीवन और साथ ही कई सुधारकों द्वारा समान अधिकारों को बढ़ावा दिए जाने तक, भारत में महिलाओं का इतिहास काफी गतिशील रहा है। आधुनिक भारत में महिलाएं राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, लोक सभा अध्यक्ष, प्रतिपक्ष की नेता आदि जैसे शीर्ष पदों पर आसीन हुई हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत में महिलाएँ · और देखें »

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की राजमार्ग संख्या अनुसार सूची

भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची इस प्रकार से है। इसे राज्य, राजमार्ग संख्या, कुल लंबाई इत्यादि किसी भी क्रम से चुना व छांटा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की राजमार्ग संख्या अनुसार सूची · और देखें »

भारत में रेल दुर्घटना

भारत का रेल तन्त्र दुनिया के सबसे बड़े तन्त्रों में से एक हैं। भारतीय रेलगाड़ियों में हर दिन सवा करोड़ से अधिक लोग यात्रा करते हैं। एक अनुमान के अनुसार देश में प्रति वर्ष औसतन ३०० छोटी-बड़ी रेल दुर्घटनाएँ होती हैं। भारत में वर्ष २००० से बाद घटित हुई रेल दुर्घटनाओं का घटनाक्रम इस प्रकार है:- .

नई!!: ओडिशा और भारत में रेल दुर्घटना · और देखें »

भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची

शिकोहाबाद तहसील के ग्राम नगला भाट में श्री मुकुट सिंह यादव जो ग्राम पंचायत रूपसपुर से प्रधान भी रहे हैं उनके तीन पुत्र हैं गजेंद्र यादव नगेन्द्र यादव पुष्पेंद्र यादव प्रधान जी का जन्म सन १९५० में हुआ था उन्होंने अपना सारा जीवन ग़रीबों के लिए क़ुर्बान कर दिया था और वो ५ भाईओ में सबसे छोटे थे और अपने परिवार को बाँधे रखा ११ मार्च २०१५ को उनका देहावसान हो गया ! वो आज भी हमारे दिलों में ज़िंदा हैं इस लेख में भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची है। भारत में रेलवे स्टेशनों की कुल संख्या 7,000 और 8,500 के बीच अनुमानित है। भारतीय रेलवे एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार देने के साथ दुनिया में चौथा सबसे बड़ा नियोक्ता है। सूची तस्वीर गैलरी निम्नानुसार है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में रेलवे स्टेशनों की सूची · और देखें »

भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची

इस लेख में भारत के सर्वोच्च सौ महानगरीय क्षेत्रों की सूची (२००८ अनुसार) है। इन सौ महानगरों की संयुक्त जनसंख्या राष्ट्र की कुल जनसंख्या का सातवां भाग बनाती है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में सर्वाधिक जनसंख्या वाले महानगरों की सूची · और देखें »

भारत में सांस्कृतिक विविधता

अंगूठाकार .

नई!!: ओडिशा और भारत में सांस्कृतिक विविधता · और देखें »

भारत में संचार

भारतीय दूरसंचार उद्योग दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता दूरसंचार उद्योग है, जिसके पास अगस्त 2010http://www.trai.gov.in/WriteReadData/trai/upload/PressReleases/767/August_Press_release.pdf तक 706.37 मिलियन टेलीफोन (लैंडलाइन्स और मोबाइल) ग्राहक तथा 670.60 मिलियन मोबाइल फोन कनेक्शन्स हैं। वायरलेस कनेक्शन्स की संख्या के आधार पर यह दूरसंचार नेटवर्क मुहैया करने वाले देशों में चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारतीय मोबाइल ग्राहक आधार आकार में कारक के रूप में एक सौ से अधिक बढ़ी है, 2001 में देश में ग्राहकों की संख्या लगभग 5 मिलियन थी, जो अगस्त 2010 में बढ़कर 670.60 मिलियन हो गयी है। चूंकि दूरसंचार उद्योग दुनिया में तेजी से बढ़ रहा है, इसलिए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि 2013 तक भारत में 1.159 बिलियन मोबाइल उपभोक्ता हो जायेंगे.

नई!!: ओडिशा और भारत में संचार · और देखें »

भारत में हिन्दू धर्म

हिन्दू धर्म भारत का सबसे बड़ा और मूल धार्मिक समूह है और भारत की 79.8% जनसंख्या (96.8 करोड़) इस धर्म की अनुयाई है। भारत में वैदिक संस्कृति का उद्गम २००० से १५०० ईसा पूर्व में हुआ था। जिसके फलस्वरूप हिन्दू धर्म को, वैदिक धर्म का क्रमानुयायी माना जाता है, जिसका भारतीय इतिहास पर गहन प्रभाव रहा है। स्वयं इण्डिया नाम भी यूनानी के Ἰνδία (इण्डस) से निकला है, जो स्वयं भी प्राचीन फ़ारसी शब्द हिन्दू से निकला, जो संस्कृत से सिन्धु से निकला, जो इस क्षेत्र में बहने वाली सिन्धु नदी के लिए प्रयुक्त किया गया था। भारत का एक अन्य प्रचलित नाम हिन्दुस्तान है, अर्थात "हिन्दुओं की भूमि"। .

नई!!: ओडिशा और भारत में हिन्दू धर्म · और देखें »

भारत में विमानक्षेत्रों की सूची

यह सूची भारत के विमानक्षेत्रों की है। भारत में विमानक्षेत्रों और बंदरगाहों को दर्शाता हुआ मानचित्र .

नई!!: ओडिशा और भारत में विमानक्षेत्रों की सूची · और देखें »

भारत में विश्वविद्यालयों की सूची

यहाँ भारत में विश्वविद्यालयों की सूची दी गई है। भारत में सार्वजनिक और निजी, दोनों विश्वविद्यालय हैं जिनमें से कई भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा समर्थित हैं। इनके अलावा निजी विश्वविद्यालय भी मौजूद हैं, जो विभिन्न निकायों और समितियों द्वारा समर्थित हैं। शीर्ष दक्षिण एशियाई विश्वविद्यालयों के तहत सूचीबद्ध विश्वविद्यालयों में से अधिकांश भारत में स्थित हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत में विश्वविद्यालयों की सूची · और देखें »

भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी

भारत के प्रथम रिएक्टर '''अप्सरा''' तथा प्लुटोनियम संस्करण सुविधा का अमेरिकी उपग्रह से लिया गया चित्र (१९ फरवरी १९६६) भारतीय विज्ञान की परंपरा विश्व की प्राचीनतम वैज्ञानिक परंपराओं में एक है। भारत में विज्ञान का उद्भव ईसा से 3000 वर्ष पूर्व हुआ है। हड़प्पा तथा मोहनजोदड़ो की खुदाई से प्राप्त सिंध घाटी के प्रमाणों से वहाँ के लोगों की वैज्ञानिक दृष्टि तथा वैज्ञानिक उपकरणों के प्रयोगों का पता चलता है। प्राचीन काल में चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में चरक और सुश्रुत, खगोल विज्ञान व गणित के क्षेत्र में आर्यभट्ट, ब्रह्मगुप्त और आर्यभट्ट द्वितीय और रसायन विज्ञान में नागार्जुन की खोजों का बहुत महत्त्वपूर्ण योगदान है। इनकी खोजों का प्रयोग आज भी किसी-न-किसी रूप में हो रहा है। आज विज्ञान का स्वरूप काफी विकसित हो चुका है। पूरी दुनिया में तेजी से वैज्ञानिक खोजें हो रही हैं। इन आधुनिक वैज्ञानिक खोजों की दौड़ में भारत के जगदीश चन्द्र बसु, प्रफुल्ल चन्द्र राय, सी वी रमण, सत्येन्द्रनाथ बोस, मेघनाद साहा, प्रशान्त चन्द्र महलनोबिस, श्रीनिवास रामानुजन्, हरगोविन्द खुराना आदि का वनस्पति, भौतिकी, गणित, रसायन, यांत्रिकी, चिकित्सा विज्ञान, खगोल विज्ञान आदि क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी · और देखें »

भारत में आतंकवाद

भारत बहुत समय से आतंकवाद का शिकार हो रहा है। भारत के काश्मीर, नागालैंड, पंजाब, असम, बिहार आदि विशेषरूप से आतंक से प्रभावित रहे हैं। यहाँ कई प्रकार के आतंकवादी जैसे पाकिस्तानी, इस्लामी, माओवादी, नक्सली, सिख, ईसाई आदि हैं। जो क्षेत्र आज आतंकवादी गतिविधियों से लम्बे समय से जुड़े हुए हैं उनमें जम्मू-कश्मीर, मुंबई, मध्य भारत (नक्सलवाद) और सात बहन राज्य (उत्तर पूर्व के सात राज्य) (स्वतंत्रता और स्वायत्तता के मामले में) शामिल हैं। अतीत में पंजाब में पनपे उग्रवाद में आंतकवादी गतिविधियां शामिल हो गयीं जो भारत देश के पंजाब राज्य और देश की राजधानी दिल्ली तक फैली हुई थीं। 2006 में देश के 608 जिलों में से कम से कम 232 जिले विभिन्न तीव्रता स्तर के विभिन्न विद्रोही और आतंकवादी गतिविधियों से पीड़ित थे। अगस्त 2008 में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम.के.

नई!!: ओडिशा और भारत में आतंकवाद · और देखें »

भारत में इस्लाम

भारतीय गणतंत्र में हिन्दू धर्म के बाद इस्लाम दूसरा सर्वाधिक प्रचलित धर्म है, जो देश की जनसंख्या का 14.2% है (2011 की जनगणना के अनुसार 17.2 करोड़)। भारत में इस्लाम का आगमन करीब 7वीं शताब्दी में अरब के व्यापारियों के आने से हुआ था (629 ईसवी सन्‌) और तब से यह भारत की सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत का एक अभिन्न अंग बन गया है। वर्षों से, सम्पूर्ण भारत में हिन्दू और मुस्लिम संस्कृतियों का एक अद्भुत मिलन होता आया है और भारत के आर्थिक उदय और सांस्कृतिक प्रभुत्व में मुसलमानों ने महती भूमिका निभाई है। हालांकि कुछ इतिहासकार ये दावा करते हैं कि मुसलमानों के शासनकाल में हिंदुओं पर क्रूरता किए गए। मंदिरों को तोड़ा गया। जबरन धर्मपरिवर्तन करा कर मुसलमान बनाया गया। ऐसा भी कहा जाता है कि एक मुसलमान शासक टीपू शुल्तान खुद ये दावा करता था कि उसने चार लाख हिंदुओं का धर्म परिवर्तन करवाया था। न्यूयॉर्क टाइम्स, प्रकाशित: 11 दिसम्बर 1992 विश्व में भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां सरकार हज यात्रा के लिए विमान के किराया में सब्सिडी देती थी और २००७ के अनुसार प्रति यात्री 47454 खर्च करती थी। हालांकि 2018 से रियायत हटा ली गयी है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में इस्लाम · और देखें »

भारत में कॉफी उत्पादन

भारत में कॉफी वन भारत में कॉफी बागान भारत में कॉफ़ी का उत्पादन मुख्य रूप से दक्षिण भारतीय राज्यों के पहाड़ी क्षेत्रों में होता है। यहां कुल 8200 टन कॉफ़ी का उत्पादन होता है जिसमें से कर्नाटक राज्य में अधिकतम 53 प्रतिशत, केरल में 28 प्रतिशत और तमिलनाडु में 11 प्रतिशत उत्पादन होता है। भारतीय कॉफी दुनिया भर की सबसे अच्छी गुणवत्ता की कॉफ़ी मानी जाती है, क्योंकि इसे छाया में उगाया जाता है, इसके बजाय दुनिया भर के अन्य स्थानों में कॉफ़ी को सीधे सूर्य के प्रकाश में उगाया जाता है। भारत में लगभग 250000 लोग कॉफ़ी उगाते हैं; इनमें से 98 प्रतिशत छोटे उत्पादक हैं। 2009 में, भारत का कॉफ़ी उत्पादन दुनिया के कुल उत्पादन का केवल 4.5% था। भारत में उत्पादन की जाने वाली कॉफ़ी का लगभग 80 प्रतिशत हिस्सा निर्यात कर दिया जाता है। निर्यात किये जाने वाले हिस्से का 70 प्रतिशत हिस्सा जर्मनी, रूस संघ, स्पेन, बेल्जियम, स्लोवेनिया, संयुक्त राज्य, जापान, ग्रीस, नीदरलैंड्स और फ्रांस को भेजा जाता है। इटली को कुल निर्यात का 29 प्रतिशत हिस्सा भेजा जाता है। अधिकांश निर्यात स्वेज़ नहर के माध्यम से किया जाता है। कॉफी भारत के तीन क्षेत्रों में उगाई जाती है। कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु दक्षिणी भारत के पारम्परिक कॉफ़ी उत्पादक क्षेत्र हैं। इसके बाद देश के पूर्वी तट में उड़ीसा और आंध्र प्रदेश के गैर पारम्परिक क्षेत्रों में नए कॉफ़ी उत्पादक क्षेत्रों का विकास हुआ है। तीसरे क्षेत्र में उत्तर पूर्वी भारत के अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, त्रिपुरा, मिजोरम, मेघालय, मणिपुर और आसाम के राज्य शामिल हैं, इन्हें भारत के "सात बन्धु राज्यों" के रूप में जाना जाता है। भारतीय कॉफी, जिसे अधिकतर दक्षिणी भारत में मानसूनी वर्षा में उगाया जाता है, को "भारतीय मानसून कॉफ़ी" भी कहा जाता है। इसके स्वाद "सर्वश्रेष्ठ भारतीय कॉफ़ी के रूप में परिभाषित किया जाता है, पेसिफिक हाउस का फ्लेवर इसकी विशेषता है, लेकिन यह एक साधारण और नीरस ब्रांड है।" कॉफ़ी की चार ज्ञात किस्में हैं अरेबिका, रोबस्टा, पहली किस्म जिसे 17 वीं शताब्दी में कर्नाटक के बाबा बुदान पहाड़ी क्षेत्र में शुरू किया गया, का विपणन कई सालों से केंट और S.795 ब्रांड नामों के तहत किया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत में कॉफी उत्पादन · और देखें »

भारत में कोयला-खनन

भारत में कोयले का उत्पादन भारत में कोयले के खनन का इतिहास बहुत पुराना है। ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने १७७४ में दामोदर नदी के पश्चिमी किनारे पर रानीगंज में कोयले का वाणिज्यिक खनन आरम्भ किया। इसके बाद लगभग एक शताब्दी तक खनन का कार्य अपेक्षाकृत धीमी गति से चलता रहा क्योंकि कोयले की मांग बहुत कम थी। किन्तु १८५३ में भाप से चलने वाली गाड़ियों के आरम्भ होने से कोयले की मांग बढ़ गयी और खनन को प्रोत्साहन मिला। इसके बाद कोयले का उत्पादन लगभग १ मिलियन मेट्रिक टन प्रति वर्ष हो गया। १९वीं शताब्दी के अन्त तक भारत में उत्पादन 6.12 मिलियन टन वार्षिक हो गया। और १९२० तक १८ मिलियन मेट्रिक टन वार्षिक। प्रथम विश्वयुद्ध के समय उत्पादन में सहसा वृद्धि हुई किन्तु १९३० के आरम्भिक दशक में फिर से उत्पादन में कमी आ गयी। १९४२ तक उत्पादन २९ मिलियन मेट्रिक टन प्रतिवर्ष तथा १९४६ तक ३० मिलियन मेट्रिक टन हो गया। .

नई!!: ओडिशा और भारत में कोयला-खनन · और देखें »

भारत में अकाल

भारत में अकाल का बहुत पुराना इतिहास रहा है। 1022-1033 के बीच कई बार अकाल पड़ा। सम्पूर्ण भारत में बड़ी संख्या में लोग मरे थे। 1700 के प्रारंभ में भी अकाल ने अपना भीषण रूप दिखाया था। 1860 के बाद 25 बड़े अकाल आए। इन अकालों की चपेट में तमिलनाडु, बिहार और बंगाल आए। 1876, 1899, 1943-44, 1957, 1966 में भी अकाल ने तबाही मचाई थी। उड़ीसा, बंगाल, बिहार आदि पिछड़े राज्यों में लोग कई-कई दिन भूखे रहते थे। लोग एक मुट्ठी अनाज के लिए तड़पते थे। .

नई!!: ओडिशा और भारत में अकाल · और देखें »

भारत सरकार अधिनियम, १९३५

इस अधिनियम को मूलतः अगस्त 1935 में पारित किया गया था (25 और 26 जियो. 5 C. 42) और इसे उस समय के अधिनियमित संसद का सबसे लंबा (ब्रिटिश) अधिनियम कहा जाता था। इसकी लंबाई की वजह से, प्रतिक्रिया स्वरूप भारत सरकार (पुनःमुद्रित) द्वारा अधिनियम 1935 को (26 जियो. 5 & 1 EDW. 8 C. 1) को दो अलग-अलग अधिनियमों में विभाजित किया गया.

नई!!: ओडिशा और भारत सरकार अधिनियम, १९३५ · और देखें »

भारत का पुरापाषाण युग

पुरापाषाण काल (अंग्रेजी Palaeolithic) प्रागैतिहासिक युग का वह समय है जब मानव ने पत्थर के औजार बनाना सबसे पहले आरम्भ किया। यह काल आधुनिक काल से २५-२० लाख साल पूर्व से लेकर १२,००० साल पूर्व तक माना जाता है। इस दौरान मानव इतिहास का ९९% विकास हुआ। इस काल के बाद मध्यपाषाण युग का प्रारंभ हुआ जब मानव ने खेती करना शुरु किया था। भारत में पुरापाषाण काल के अवशेष तमिल नाडु के कुरनूल, कर्नाटक के हुँस्न्गी, ओडिशा के कुलिआना, राजस्थान के डीडवानाके श्रृंगी तालाब के निकट और मध्य प्रदेश के भीमबेटका में मिलते हैं। इन अवशेषो की संख्या मध्यपाषाण काल के प्राप्त अवशेषो से बहुत कम है। .

नई!!: ओडिशा और भारत का पुरापाषाण युग · और देखें »

भारत का भूगोल

भारत का भूगोल या भारत का भौगोलिक स्वरूप से आशय भारत में भौगोलिक तत्वों के वितरण और इसके प्रतिरूप से है जो लगभग हर दृष्टि से काफ़ी विविधतापूर्ण है। दक्षिण एशिया के तीन प्रायद्वीपों में से मध्यवर्ती प्रायद्वीप पर स्थित यह देश अपने ३२,८७,२६३ वर्ग किमी क्षेत्रफल के साथ विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा देश है। साथ ही लगभग १.३ अरब जनसंख्या के साथ यह पूरे विश्व में चीन के बाद दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भी है। भारत की भौगोलिक संरचना में लगभग सभी प्रकार के स्थलरूप पाए जाते हैं। एक ओर इसके उत्तर में विशाल हिमालय की पर्वतमालायें हैं तो दूसरी ओर और दक्षिण में विस्तृत हिंद महासागर, एक ओर ऊँचा-नीचा और कटा-फटा दक्कन का पठार है तो वहीं विशाल और समतल सिन्धु-गंगा-ब्रह्मपुत्र का मैदान भी, थार के विस्तृत मरुस्थल में जहाँ विविध मरुस्थलीय स्थलरुप पाए जाते हैं तो दूसरी ओर समुद्र तटीय भाग भी हैं। कर्क रेखा इसके लगभग बीच से गुजरती है और यहाँ लगभग हर प्रकार की जलवायु भी पायी जाती है। मिट्टी, वनस्पति और प्राकृतिक संसाधनो की दृष्टि से भी भारत में काफ़ी भौगोलिक विविधता है। प्राकृतिक विविधता ने यहाँ की नृजातीय विविधता और जनसंख्या के असमान वितरण के साथ मिलकर इसे आर्थिक, सामजिक और सांस्कृतिक विविधता प्रदान की है। इन सबके बावजूद यहाँ की ऐतिहासिक-सांस्कृतिक एकता इसे एक राष्ट्र के रूप में परिभाषित करती है। हिमालय द्वारा उत्तर में सुरक्षित और लगभग ७ हज़ार किलोमीटर लम्बी समुद्री सीमा के साथ हिन्द महासागर के उत्तरी शीर्ष पर स्थित भारत का भू-राजनैतिक महत्व भी बहुत बढ़ जाता है और इसे एक प्रमुख क्षेत्रीय शक्ति के रूप में स्थापित करता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत का भूगोल · और देखें »

भारत के चार धाम

भारतीय धर्मग्रंथों में बद्रीनाथ, द्वारका, जगन्नाथ पुरी और रामेश्वरम की चर्चा चार धाम के रूप में की गई है।.

नई!!: ओडिशा और भारत के चार धाम · और देखें »

भारत के तेल शोधनागारों की सूची

भारत में कुल मिलाकर २३ तेल शोधनागार है। दिसंबर २०१७ के अनुसार इन सब की मिलाकर कुल क्षमता २४७.६ एमएमटीपीए (मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष) है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के तेल शोधनागारों की सूची · और देखें »

भारत के निजी विश्वविद्यालयों की सूची

भारत में उच्च शिक्षा प्रणाली के अन्तर्गत सार्वजनिक और निजी दोनों प्रकार के विश्वविद्यालय सम्मिलित हैं। सार्वजनिक विश्वविद्यालयों को भारत के केन्द्रीय सरकार तथा राज्य सरकारों से सहायता मिलती है जबकि निजी विश्वविद्यालय विभिन्न निजी संस्थाओं एवं सोसायटी के द्वारा संचालित होते हैं। भारत में विश्वविद्यालयों की मान्यता विश्वविद्यालय अनुदान आयोग देता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के निजी विश्वविद्यालयों की सूची · और देखें »

भारत के प्रथम

यहाँ पर भारत के उन व्यक्तियों, समूहों और संस्थाओं का संकलन है जो किसी श्रेणी में प्रथम हैं/थे।.

नई!!: ओडिशा और भारत के प्रथम · और देखें »

भारत के प्रमुख सागर-तटों की सूची

सेरेनिटी बीच पेरादाईस बीच कराईकल बीच माहे बीच श्रेणी:भारत.

नई!!: ओडिशा और भारत के प्रमुख सागर-तटों की सूची · और देखें »

भारत के प्रशासनिक विभाग

प्रशासनिक दृष्टि से भारत राज्यों या प्रान्तों में विभक्त है; राज्य, जनपदों (या जिलों) में विभक्त हैं, जिले तहसील (तालुक या मण्डल) में विभक्त हैं। यह विभाजन और नीचे तक गया है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के प्रशासनिक विभाग · और देखें »

भारत के प्राचीन विश्वविद्यालय

भारतीय उपमहाद्वीप में कई स्थान अत्यंत पुराने शिक्षण केन्द्र रहे हैं:-.

नई!!: ओडिशा और भारत के प्राचीन विश्वविद्यालय · और देखें »

भारत के बायोस्फीयर रिजर्व

भारत सरकार ने देश भर में १८ बायोस्फीयर भंडार स्थापित किए हैं। ये बायोस्फीयर भंडार भौगोलिक रूप से जीव जंतुओं के प्राकृतिक भू-भाग की रक्षा करते हैं और अकसर आर्थिक उपयोगों के लिए स्थापित बफर जोनों के साथ एक या ज्यादा राष्ट्रीय उद्यान और अभ्यारण्य को संरक्षित रखने का काम करते हैं। संरक्षण न केवल संरक्षित क्षेत्र के वनस्पतियों और जीवों के लिए दिया जाता है, बल्कि इन क्षेत्रों में रहने वाले मानव समुदायों को भी दिया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के बायोस्फीयर रिजर्व · और देखें »

भारत के बाघ संरक्षित क्षेत्र

भारत के बाघ संरक्षित क्षेत्र भारत में वह क्षेत्र हैं जिनको प्रोजेक्ट टाइगर के तहत अधिसूचना द्वारा संरक्षित किया गया है। इनकी संख्या अभी तक ३९ है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के बाघ संरक्षित क्षेत्र · और देखें »

भारत के भाषाई परिवार

वृहद भारत के भाषा परिवार भारत में विश्व के सबसे चार प्रमुख भाषा परिवारों की भाषाएँ बोली जाती है। सामान्यत: उत्तर भारत में बोली जाने वाली भारोपीय परि वार की भाषाओं को आर्य भाषा समूह, दक्षिण की भाषाओं को द्रविड़ भाषा समूह, ऑस्ट्रो-एशियाटिक परिवार की भाषाओं को भुंडारी भाषा समूह तथा पूर्वोत्तर में रहने वाले तिब्बती-बर्मी, नृजातीय भाषाओं को चीनी-तिब्बती (नाग भाषा समूह) के रूप में जाना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के भाषाई परिवार · और देखें »

भारत के मानित विश्वविद्यालय

भारत में उच्च शिक्षा संस्थान निजी व सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों में हैं। सार्वजनिक विश्वविद्यालयों को सरकार (केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारों द्वारा) द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त होती है जबकि निजी विश्वविद्यालय विभिन्न संस्थाओं या समितियों द्वारा संचालित होते हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत के मानित विश्वविद्यालय · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय महत्व के स्मारकों की सूची

भारत में, राष्ट्रीय महत्व के स्मारक, भारत में स्थित वे ऐतिहासिक, प्राचीन अथवा पुरातात्विक संरचनाएँ, स्थल या स्थान हैं, जोकि, प्राचीन संस्मारक तथा पुरातत्वीय स्थल और अवशेष अधिनियम, 1958 किए अधीन, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के माध्यम से भारत की संघीय सरकार या राज्य सरकारों द्वारा संरक्षिक होती हैं। ऐसे स्मारकों को "राष्ट्रीय महत्व का स्मारक" होने के मापदंड, प्राचीन संस्मारक तथा पुरातत्वीय स्थल और अवशेष अधिनियम, 1958 द्वारा परिभाषित किये गए हैं। ऐसे स्मारकों को इस अधिनियम के मापदंडों पर खरा उतरने पर, एक वैधिक प्रक्रिया के तहत पहले "राष्ट्रीय महत्व" का घोषित किया जाता है, और फिर भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण के संसाक्षणाधीन कर दिया जाता है, ताकि उनकी ऐतिहासिक महत्व क्व मद्देनज़र, उनकी उचित देखभाल की जा सके। वर्त्तमान समय में, राष्ट्रीय महत्व के कुल 3650 से अधिक प्राचीन स्मारक तथा पुरातत्वीय स्थल और अवशेष देश भर में विद्यमान हैं। ये स्मारक विभिन्न अवधियों से संबंधित है जो प्रागैतिहासिक अवधि से उपनिवेशी काल तक के हैं, जोकि विभिन्न भूगोलीय स्थितियों में स्थित हैं। इनमें मंदिर, मस्जिद, मकबरे, चर्च, कब्रिस्तान, किले, महल, सीढ़ीदार, कुएं, शैलकृत गुफाएं, दीर्घकालिक वास्तुकला तथा साथ ही प्राचीन टीले तथा प्राचीन आवास के अवशेषों का प्रतिनिधित्व करने वाले स्थल शामिल हैं। इन स्मारकों तथा स्थलों का रखरखाव तथा परिरक्षण भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के विभिन्न मंडलों द्वारा किया जाता है जो पूरे देश में फैले हुए हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राष्ट्रीय महत्व के स्मारकों की सूची · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार

भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची (संख्या के क्रम में) भारत के राजमार्गो की एक सूची है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार · और देखें »

भारत के राष्ट्रीय उद्यान

नीचे दी गयी सूची भारत के राष्ट्रीय उद्यानों की है। 1936 में भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान था- हेली नेशनल पार्क, जिसे अब जिम कोर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के रूप में जाना जाता है। १९७० तक भारत में केवल ५ राष्ट्रीय उद्यान थे। १९८० के दशक में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम और प्रोजेक्ट टाइगर योजना के अलावा वन्य जीवों की सुरक्षार्थ कई अन्य वैधानिक प्रावधान लागू हुए.

नई!!: ओडिशा और भारत के राष्ट्रीय उद्यान · और देखें »

भारत के राजनीतिक दलों की सूची

भारत में बहुदलीय प्रणाली बहु-दलीय पार्टी व्यवस्था है जिसमें छोटे क्षेत्रीय दल अधिक प्रबल हैं। राष्ट्रीय पार्टियां वे हैं जो चार या अधिक राज्यों में मान्यता प्राप्त हैं। उन्हें यह अधिकार भारत के चुनाव आयोग द्वारा दिया जाता है, जो विभिन्न राज्यों में समय समय पर चुनाव परिणामों की समीक्षा करता है। इस मान्यता की सहायता से राजनीतिक दल कुछ पहचानों पर अपनी स्थिति की अगली समीक्षा तक विशिष्ट स्वामित्व का दावा कर सकते हैं जैसे की पार्टी चिन्ह.

नई!!: ओडिशा और भारत के राजनीतिक दलों की सूची · और देखें »

भारत के राज्य (सकल घरेलू उत्पाद के अनुसार)

यह भारत के राज्यों और संघ शासित क्षेत्र की वित्तीय वर्ष 2010 मे सकल घरेलू उत्पाद के अनुसार एक सूची है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्य (सकल घरेलू उत्पाद के अनुसार) · और देखें »

भारत के राज्य (कर राजस्व के अनुसार)

यह भारत के राज्यों की उनकी कर राजस्व के अनुसार सूचि है। यह तेरहवें वित्त आयोग द्वारा किया गया है। श्रेणी:भारत के राज्य.

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्य (कर राजस्व के अनुसार) · और देखें »

भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश

भारत राज्यों का एक संघ है। इसमें उन्तीस राज्य और सात केन्द्र शासित प्रदेश हैं। ये राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश पुनः जिलों और अन्य क्षेत्रों में बांटे गए हैं।.

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्य तथा केन्द्र-शासित प्रदेश · और देखें »

भारत के राज्य और संघ क्षेत्र और उनके दो वर्ण वाले कोड

यह सूची भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों के संक्षिप्त नामानुसार (रोमन में) है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्य और संघ क्षेत्र और उनके दो वर्ण वाले कोड · और देखें »

भारत के राज्यकीय पुष्पों की सूची

कोई विवरण नहीं।

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्यकीय पुष्पों की सूची · और देखें »

भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की राजधानियों की है। भारत में कुल 29 राज्य और 7 केन्द्र-शासित प्रदेश हैं। सभी राज्यों और दो केन्द्र-शासित प्रदेशों, दिल्ली और पौण्डिचेरी, में चुनी हुई सरकारें और विधानसभाएँ होती हैं, जो वॅस्टमिन्स्टर प्रतिमान पर आधारित हैं। अन्य पाँच केन्द्र-शासित प्रदेशों पर देश की केन्द्र सरकार का शासन होता है। 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम के अन्तर्गत राज्यों का निर्माण भाषाई आधार पर किया गया था, और तबसे यह व्यवस्था लगभग अपरिवर्तित रही है। प्रत्येक राज्य और केन्द्र-शासित प्रदेश प्रशासनिक इकाईयों में बँटा होता है। नीचे दी गई सूची में राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों की विभिन्न प्रकार की राजधानियाँ सूचीबद्ध हैं। प्रशासनिक राजधानी वह होती है जहाँ कार्यकारी सरकार के कार्यालय स्थित होते हैं, वैधानिक राजधानी वह है जहाँ से राज्य विधानसभा संचालित होती है, और न्यायपालिका राजधानी वह है जहाँ उस राज्य या राज्यक्षेत्र का उच्च न्यायालय स्थित होता है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की राजधानियाँ · और देखें »

भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की स्थापना तिथि अनुसार सूची

भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की स्थापना तिथि अनुसार सूची में भारत के राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश अपनी स्थापना तिथि के साथ दिए गए हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की स्थापना तिथि अनुसार सूची · और देखें »

भारत के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सूची जनसंख्या अनुसार

भारत का जनसंख्या घनत्व मानचित्र पर भारत एक संघ है, जो २9 राज्यों एवं सात केन्द्र शासित प्रदेशों से बना है। यहां की २००८ की अनुमानित जनसंख्या 1 अरब 13 करोड़ के साथ भारत विश्व का दूसरा सर्वाधिक जनाकीर्ण देश बन गया है। इससे पहले इस सूछी में बस चीन ही आता है। भारत में विश्व की कुल भूमि का २.४% भाग ही आता है। किंतु इस २.४% भूमि में विश्व की जनसंख्या का १६.९% भाग रहता है। भारत के गांगेय-जमुनी मैदानी क्षेत्रों में विश्व का सबसे बड़ा ऐल्यूवियम बहुल उपत्यका क्षेत्र आता है। यही क्षेत्र विश्व के सबसे घने आवासित क्षेत्रों में से एक है। यहां के दक्खिन पठार के पूर्वी और पश्चिमी तटीय क्षेत्र भी भारत के सबसे घनी आबादी वाले क्षेत्रों में आते हैं। पश्चिमी राजस्थान में थार मरुस्थल विश्व का सबसे घनी आबादी वाला मरुस्थल है। हिमालय के साथ साथ उत्तरी और पूर्वोत्तरी राज्यों में शीत-शुष्क मरुस्थल हैं, जिनके साथ उपत्यका घाटियां हैं। इन राज्यों में अदम्य आवासीय स्थितियों के कारण अपेक्षाकृत कम घनत्व है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सूची जनसंख्या अनुसार · और देखें »

भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची

यह सूचियों भारत के सबसे बड़े शहरों पर है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के सर्वाधिक जनसंख्या वाले शहरों की सूची · और देखें »

भारत के सात आश्चर्य

विश्व की सबसे शानदार मानव-निर्मित और प्राकृतिक चीजों को सूचीबद्ध करने के लिए विश्व के सात आश्चर्य की कई सूचियां बनाई गयी हैं। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया (TOI) समाचार पत्र ने के पहचाने गए 20 प्राचीन तथा मध्यकालीन स्थलों में से सात महान आश्चर्यों के चुनाव के लिए 21 से 31 जुलाई 2007 के बीच एक Simple Mobile Massage मतदान करवाया.

नई!!: ओडिशा और भारत के सात आश्चर्य · और देखें »

भारत के सामाजिक-आर्थिक मुद्दे

भारत विश्व का क्षेत्रफल अनुसार सातवाँ सबसे बड़ा और जनसंख्या अनुसार दूसरा सबसे बड़ा एक दक्षिण एशियाई राष्ट्र है। इसकी विकासशील अर्थव्यवस्था वर्तमान समय में विश्व की दस सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। 1991 के बड़े आर्थिक सुधारों के पश्चात भारत सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक बन गया तथा इसे नव औद्योगीकृत देशों में से एक माना जाता है। आर्थिक सुधारों के पश्चात भी भारत के समक्ष अभी भी कई सामाजिक चुनौतियाँ है जिनमें से प्रमुख सामाजार्थिक मुद्दे हैं: गरीबी, भ्रष्टाचार, नक्सलवाद व आतंकवाद, कुपोषण और अपर्याप्त सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा। भारत में सामाजार्थिक मुद्दों से सम्बन्धित आँकड़ों का अभिलेख भारत सरकार का सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय रखता है। 1999 में स्थापित इस मंत्रालय का राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय हर वर्ष सामाजार्थिक सर्वेक्षण करता है जो कि दौरों के रूप में किया जाता है। इस सर्वेक्षण में थोड़े बहुत क्षेत्रों को छोड़ कर सम्पूर्ण भारत को शामिल किया जाता है। जिन क्षेत्रों को इस सर्वेक्षण से बहार रखा जाता है उनमें सम्मिलित हैं नागालैंड के वे आंतरिक गाँव जो बस मार्ग से पाँच किलोमीटर से अधिक दूरी पर स्‍थित हैं व अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह के वे गाँव जो पूर्ण रूप से अगम्‍य हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारत के सामाजिक-आर्थिक मुद्दे · और देखें »

भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम

कोई विवरण नहीं।

नई!!: ओडिशा और भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम · और देखें »

भारत के हवाई अड्डे

यह सूची भारत के हवाई यातायात है। .

नई!!: ओडिशा और भारत के हवाई अड्डे · और देखें »

भारत के जल प्रपात

कर्नाटक का जोग प्रपात भारत के जल प्रपातों की राज्यवार सूची .

नई!!: ओडिशा और भारत के जल प्रपात · और देखें »

भारत के ज़िले

तालुकों में बंटे हैं ज़िला भारतीय राज्य या केन्द्र शासित प्रदेश का प्रशासनिक हिस्सा होता है। जिले फिर उप-भागों में या सीधे तालुकों में बंटे होते हैं। जिले के अधिकारियों की गिनती में निम्न आते हैं.

नई!!: ओडिशा और भारत के ज़िले · और देखें »

भारत के विश्व धरोहर स्थल

यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत घोषित किए गए भारतीय सांस्‍कृतिक और प्राकृतिक स्‍थलों की सूची - .

नई!!: ओडिशा और भारत के विश्व धरोहर स्थल · और देखें »

भारत के क्षेत्र

भारत में सास्कृतिक, भौगोलिक तथा प्रशासनिक आधार कई प्रदेश हैं जिनकी अन्य क्षेत्रों से अलग पहचान है। इनमें से कई क्षेत्र भारत की प्रशासनिक सीमाओं के बाहर भी है - जैसे कश्मीर, पंजाब तथा बंगाल। .

नई!!: ओडिशा और भारत के क्षेत्र · और देखें »

भारत के अभयारण्य

भारत में 500 से अधिक प्राणी अभयारण्य हैं, जिन्हें वन्य जीवन अभयारण्य (IUCN श्रेणी IV सुरक्षित क्षेत्र) कहा जाता है। इनमें से 28 बाघ अभयारण्य बाघ परियोजना द्वारा संचालित हैं, जो बाघ-संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण हैं। कुछ वन्य अभयारण्यों को पक्षी-अभयारण्य कहा जाता रहा है, (जैसे केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान) जब तक कि उन्हें राष्ट्रीय उद्यान का दर्ज़ा नहीं मिल गया। कई राष्ट्रीय उद्यान पहले वन्य जीवन अभयारण्य ही थे। कुछ वन्य जीवन अभयारण्य संरक्षण हेतु राष्ट्रीय महत्व रखते हैं, अपनी कुछ मुख्य प्राणी प्रजातियों के कारण। अतः उन्हें राष्ट्रीय वन्य जीवन अभयारण्य कहा जाता है, जैसे.

नई!!: ओडिशा और भारत के अभयारण्य · और देखें »

भारत के उच्च न्यायालयों की सूची

भारतीय उच्च न्यायालय भारत के उच्च न्यायालय हैं। भारत में कुल २४ उच्च न्यायालय है जिनका अधिकार क्षेत्र कोई राज्य विशेष या राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के एक समूह होता हैं। उदाहरण के लिए, पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय, पंजाब और हरियाणा राज्यों के साथ केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ को भी अपने अधिकार क्षेत्र में रखता हैं। उच्च न्यायालय भारतीय संविधान के अनुच्छेद २१४, अध्याय ५ भाग ६ के अंतर्गत स्थापित किए गए हैं। न्यायिक प्रणाली के भाग के रूप में, उच्च न्यायालय राज्य विधायिकाओं और अधिकारी के संस्था से स्वतंत्र हैं .

नई!!: ओडिशा और भारत के उच्च न्यायालयों की सूची · और देखें »

भारत की नदियों की सूची

भारत में मुख्यतः चार नदी प्रणालियाँ है (अपवाह तंत्र) हैं। उत्तरी भारत में सिंधु, उत्तरी-मध्य भारत में गंगा, और उत्तर-पूर्व भारत में ब्रह्मपुत्र नदी प्रणाली है। प्रायद्वीपीय भारत में नर्मदा, कावेरी, महानदी, आदि नदियाँ विस्तृत नदी प्रणाली का निर्माण करती हैं। यहाँ भारत की नदियों की एक सूची दी जा रही है: .

नई!!: ओडिशा और भारत की नदियों की सूची · और देखें »

भारत की बोलियाँ

भारत में ‘भारतीय जनगणना 1961’ (संकेत चिह्न .

नई!!: ओडिशा और भारत की बोलियाँ · और देखें »

भारत की संस्कृति

कृष्णा के रूप में नृत्य करते है भारत उपमहाद्वीप की क्षेत्रीय सांस्कृतिक सीमाओं और क्षेत्रों की स्थिरता और ऐतिहासिक स्थायित्व को प्रदर्शित करता हुआ मानचित्र भारत की संस्कृति बहुआयामी है जिसमें भारत का महान इतिहास, विलक्षण भूगोल और सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान बनी और आगे चलकर वैदिक युग में विकसित हुई, बौद्ध धर्म एवं स्वर्ण युग की शुरुआत और उसके अस्तगमन के साथ फली-फूली अपनी खुद की प्राचीन विरासत शामिल हैं। इसके साथ ही पड़ोसी देशों के रिवाज़, परम्पराओं और विचारों का भी इसमें समावेश है। पिछली पाँच सहस्राब्दियों से अधिक समय से भारत के रीति-रिवाज़, भाषाएँ, प्रथाएँ और परंपराएँ इसके एक-दूसरे से परस्पर संबंधों में महान विविधताओं का एक अद्वितीय उदाहरण देती हैं। भारत कई धार्मिक प्रणालियों, जैसे कि हिन्दू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और सिख धर्म जैसे धर्मों का जनक है। इस मिश्रण से भारत में उत्पन्न हुए विभिन्न धर्म और परम्पराओं ने विश्व के अलग-अलग हिस्सों को भी बहुत प्रभावित किया है। .

नई!!: ओडिशा और भारत की संस्कृति · और देखें »

भारत की स्वास्थ्य समस्याएँ (2009)

वर्ष 2009 में भारत के लोगों को पोलियो, एचआईवी और मलेरिया जैसी चिरपरिचित बिमारियों के साथ ही स्वाइन फ्लू नामक नई बीमारी का भी सामना करना पडा। इस वर्ष की दस प्रमुख स्वास्थ्य समस्याएँ निम्नलिखित हैं- .

नई!!: ओडिशा और भारत की स्वास्थ्य समस्याएँ (2009) · और देखें »

भारत २०१०

इन्हें भी देखें 2014 भारत 2014 विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी 2014 साहित्य संगीत कला 2014 खेल जगत 2014 .

नई!!: ओडिशा और भारत २०१० · और देखें »

भारती एयरटेल

भारती एयरटेल, जिसे पहले भारती टेलीवंचर उद्यम लिमिटेड (BTVL) के नाम से जाना जाता था, अब भारत की दूरसंचार व्यवसाय आॅपरेटरों की सबसे बड़ी कंपनी है जिसके जुलाई २००८ तक ६९.४ करोड़ उपभोक्ता थे। यह फिक्स्ड लाइन सेवा तथा ब्रॉडबैंड सेवाएँ भी प्रदान करती हैं। यह अपनी दूरसंचार सेवाएँ एयरटेल के ब्रांड तले प्रदान करती है और इसका नेतृत्व सुनील मित्तल (Sunil Mittal) करते हैं। यह कंपनी १४ सर्किलों में डीएसएल पर टेलीफोन सेवा तथा इंटरनेट की पहुंच भी उपलब्ध कराती है। यह कंपनी लंबी दूरी वाली राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सेवाओं के साथ अपने मोबाइल, ब्रॉडबैंड तथा टेलीफोन सेवाओं की पूरक सेवाएँ का कार्य करती है। कंपनी के पास चैन्नई में पनडुब्बी केबल लैंडिंग स्टेशन भी है जो चेन्नई और सिंगापुर को जोड़ने वाली पनडुब्बी केबल को जोड़ता है। कंपनी अपने कॉरपोरेट ग्राहकों को देश में फाइबर आप्टिक बैकबोन द्वारा अंत:दर अंत: आंकड़े तथा उद्यम सेवाएं प्रदान कराती है, इसके अलावा फिक्स्ड लाइन एवं मोबाइल सर्किलों, वीसेट, आईएसपी तथा गेटवे एवं लैंडिंग स्टेशनों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय बैंडविड्थ की पहुँच हेतु अंतिम मील तक संबंध जोड़ने का कार्य करती है। एयरटेल भारत में भारती एयरटेल द्वारा संचालित दूरसंचार सेवाओं की एक ब्रांड है। भारत में ग्राहकों की संख्या की दृष्टि से एयरटेल सेल्यूलर सेवा की सबसे बड़ी कंपनी है। भारती एयरटेल के पास एयरटेल ब्रांड का स्वामित्व है और अपने ब्रांड नाम एयरटेल मोबाइल सर्विसेज के नाम से जीएसएम (GSM) प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए निम्नलिखित सेवाएं उपलब्ध कराती है: ब्राडबैंड तथा दूरसंचार सेवाएं, स्थिर लाइन इंटरनेट कनेक्टीविटी (डीएसएल तथा बंधक लाइन), लंबी दूरी की सेवाएं एवं उद्यम सेवाएं (कॉरपोरेट के दूरसंचार परामर्श).

नई!!: ओडिशा और भारती एयरटेल · और देखें »

भारतीय चित्रकला

'''भीमवेटका''': पुरापाषाण काल की भारतीय गुफा चित्रकला भारत मैं चित्रकला का इतिहास बहुत पुराना रहा हैं। पाषाण काल में ही मानव ने गुफा चित्रण करना शुरु कर दिया था। होशंगाबाद और भीमबेटका क्षेत्रों में कंदराओं और गुफाओं में मानव चित्रण के प्रमाण मिले हैं। इन चित्रों में शिकार, शिकार करते मानव समूहों, स्त्रियों तथा पशु-पक्षियों आदि के चित्र मिले हैं। अजंता की गुफाओं में की गई चित्रकारी कई शताब्दियों में तैय्यार हुई थी, इसकी सबसे प्राचिन चित्रकारी ई.पू.

नई!!: ओडिशा और भारतीय चित्रकला · और देखें »

भारतीय चुनाव

चुनाव लोकतंत्र का आधार स्तम्भ हैं। आजादी के बाद से भारत में चुनावों ने एक लंबा रास्ता तय किया है। 1951-52 को हुए आम चुनावों में मतदाताओं की संख्या 17,32,12,343 थी, जो 2014 में बढ़कर 81,45,91,184 हो गई है। 2004 में, भारतीय चुनावों में 670 मिलियन मतदाताओं ने भाग लिया (यह संख्या दूसरे सबसे बड़े यूरोपीय संसदीय चुनावों के दोगुने से अधिक थी) और इसका घोषित खर्च 1989 के मुकाबले तीन गुना बढ़कर $300 मिलियन हो गया। इन चुनावों में दस लाख से अधिक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों का इस्तेमाल किया गया। 2009 के चुनावों में 714 मिलियन मतदाताओं ने भाग लिया (अमेरिका और यूरोपीय संघ की संयुक्त संख्या से भी अधिक).

नई!!: ओडिशा और भारतीय चुनाव · और देखें »

भारतीय थलसेना

भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है। भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है, और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार-सितारा जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं। पांच-सितारा रैंक के साथ फील्ड मार्शल की रैंक भारतीय सेना में श्रेष्ठतम सम्मान की औपचारिक स्थिति है, आजतक मात्र दो अधिकारियों को इससे सम्मानित किया गया है। भारतीय सेना का उद्भव ईस्ट इण्डिया कम्पनी, जो कि ब्रिटिश भारतीय सेना के रूप में परिवर्तित हुई थी, और भारतीय राज्यों की सेना से हुआ, जो स्वतंत्रता के पश्चात राष्ट्रीय सेना के रूप में परिणत हुई। भारतीय सेना की टुकड़ी और रेजिमेंट का विविध इतिहास रहा हैं इसने दुनिया भर में कई लड़ाई और अभियानों में हिस्सा लिया है, तथा आजादी से पहले और बाद में बड़ी संख्या में युद्ध सम्मान अर्जित किये। भारतीय सेना का प्राथमिक उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रवाद की एकता सुनिश्चित करना, राष्ट्र को बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों से बचाव, और अपनी सीमाओं पर शांति और सुरक्षा को बनाए रखना हैं। यह प्राकृतिक आपदाओं और अन्य गड़बड़ी के दौरान मानवीय बचाव अभियान भी चलाते है, जैसे ऑपरेशन सूर्य आशा, और आंतरिक खतरों से निपटने के लिए सरकार द्वारा भी सहायता हेतु अनुरोध किया जा सकता है। यह भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना के साथ राष्ट्रीय शक्ति का एक प्रमुख अंग है। सेना अब तक पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ चार युद्धों तथा चीन के साथ एक युद्ध लड़ चुकी है। सेना द्वारा किए गए अन्य प्रमुख अभियानों में ऑपरेशन विजय, ऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन कैक्टस शामिल हैं। संघर्षों के अलावा, सेना ने शांति के समय कई बड़े अभियानों, जैसे ऑपरेशन ब्रासस्टैक्स और युद्ध-अभ्यास शूरवीर का संचालन किया है। सेना ने कई देशो में संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में एक सक्रिय प्रतिभागी भी रहा है जिनमे साइप्रस, लेबनान, कांगो, अंगोला, कंबोडिया, वियतनाम, नामीबिया, एल साल्वाडोर, लाइबेरिया, मोज़ाम्बिक और सोमालिया आदि सम्मलित हैं। भारतीय सेना में एक सैन्य-दल (रेजिमेंट) प्रणाली है, लेकिन यह बुनियादी क्षेत्र गठन विभाजन के साथ संचालन और भौगोलिक रूप से सात कमान में विभाजित है। यह एक सर्व-स्वयंसेवी बल है और इसमें देश के सक्रिय रक्षा कर्मियों का 80% से अधिक हिस्सा है। यह 1,200,255 सक्रिय सैनिकों और 909,60 आरक्षित सैनिकों के साथ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्थायी सेना है। सेना ने सैनिको के आधुनिकीकरण कार्यक्रम की शुरुआत की है, जिसे "फ्यूचरिस्टिक इन्फैंट्री सैनिक एक प्रणाली के रूप में" के नाम से जाना जाता है इसके साथ ही यह अपने बख़्तरबंद, तोपखाने और उड्डयन शाखाओं के लिए नए संसाधनों का संग्रह एवं सुधार भी कर रहा है।.

नई!!: ओडिशा और भारतीय थलसेना · और देखें »

भारतीय नाम

भारतीय पारिवारिक नाम अनेक प्रकार की प्रणालियों व नामकरण पद्धतियों पर आधारित होते हैं, जो एक से दूसरे क्षेत्र के अनुसार बदलतीं रहती हैं। नामों पर धर्म व जाति का प्रभाव भी होता है और वे धर्म या महाकाव्यों से लिये हुए हो सकते हैं। भारत के लोग विविध प्रकार की भाषाएं बोलते हैं और भारत में विश्व के लगभग प्रत्येक प्रमुख धर्म के अनुयायी मौजूद हैं। यह विविधता नामों व नामकरण की शैलियों में सूक्ष्म, अक्सर भ्रामक, अंतर उत्पन्न करती है। उदाहरण के लिये, पारिवारिक नाम की अवधारणा तमिलनाडु में व्यापक रूप से मौजूद नहीं थी। कई भारतीयों के लिये, उनके जन्म का नाम, उनके औपचारिक नाम से भिन्न होता है; जन्म का नाम किसी ऐसे वर्ण से प्रारंभ होता है, जो उस व्यक्ति की जन्म-कुंडली के आधार पर उसके लिये शुभ हो। कुछ बच्चों को एक नाम दिया जाता है (दिया गया नाम).

नई!!: ओडिशा और भारतीय नाम · और देखें »

भारतीय पुलिस सेवा

भारतीय पुलिस सेवा, जिसे आम बोलचाल में भारतीय पुलिस या आईपीएस, के नाम से भी जाना जाता है, भारत सरकार के अखिल भारतीय सेवा के एक अंग के रूप में कार्य करता है, जिसके अन्य दो अंग भारतीय प्रशासनिक सेवा या आईएएस और भारतीय वन सेवा या आईएफएस हैं जो ब्रिटिश प्रशासन के अंतर्गत इंपीरियल पुलिस के नाम से जाना जाता था। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय पुलिस सेवा · और देखें »

भारतीय प्रबन्धन संस्थान

भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आई आई एम) भारत के सर्वोत्तम प्रबंधन संस्थान हैं। प्रबन्धन की शिक्षा के अतिरिक्त ये अनुसंधान व सलाह (कांसल्टेंसी) का कार्य भी करते हैं। वर्तमान में ६ भारतीय प्रबन्धन संस्थान हैं जो बंगलुरू, अहमदाबाद, कोलकाता, लखनऊ, इन्दौर तथा कोझीकोड में स्थित हैं। ये प्रबन्धन में पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा की उपाधि प्रदान करते हैं जो एम बी ए के समतुल्य है। इन संस्थानों में प्रवेश अखिल भारतीय स्तर पर होने वाली प्रवेश परीक्षा कामन ऐडमिशन टेस्ट (सी ए टी) के आधार पर होता है। यह परीक्षा दुनिया की सर्वाधिक प्रतिस्पर्धी परिक्षाओं में से है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय प्रबन्धन संस्थान · और देखें »

भारतीय प्राणि सर्वेक्षण

भारतीय प्राणि सर्वेक्षण (जूलोजिकल सर्वे ऑफ इण्डिया / जेडएसआई) पर्यावरण और वन मंत्रालय का एक अधीनस्थ संगठन है। इसकी स्थापना १९१६ में की गयी थी ताकि पशुवर्ग संबंधी असाधारण विविधता के धनी भारतीय उपमहाद्वीप के प्राणियों के बारे में हमारा ज्ञानभण्डार बढ़ सके। इसका मुख्यालय कोलकाता में है और इसके 16 क्षेत्रीय स्टेशन देश के विभिन्न भौगोलिक स्थानों में स्थित है। सबसे पहले १८७५ में कोलकाता के भारतीय संग्रहालय में प्राणि प्रभाग स्थापित किया गया। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय प्राणि सर्वेक्षण · और देखें »

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना, बिहार का एकमात्र भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान है जो उन आठ भारतीय प्रौद्योगिक संस्थानों में से एक है, जिसे केंद्र सरकार ने वर्ष 2008- 2009 के मध्य स्थापित किया था। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान का परिसर पटना शहर से 25 किलोमीटर दूर स्थित बिहटा में स्थित है।भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना का परिसर राजधानी पटना से 25 किलोमीटर दूर बिहटा नामक स्थान पर लगभग 500 एकड़ भूमि पर निर्मित किया गया है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान पटना · और देखें »

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा स्थापित संस्थान है। संस्थान का पहला सत्र सन २००८ में शरू हुआ। संस्थान ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है। संस्थान अभी अस्थाई कैम्पस में चल रहा है। सन २०१२ तक संस्थान अपने स्थाई कैम्पस में स्थानांतरित हो जाएगा। इस संस्थान में बी टेक, एम टेक, तथा पी-एच डी के लिये छात्रों की भर्ती की जाती है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर · और देखें »

भारतीय राष्ट्रवाद

२६५ ईसापूर्व में मौर्य साम्राज्य भारतीय ध्वज (तिरंगा) मराठा साम्राज्य का ध्वज राष्ट्र की परिभाषा एक ऐसे जन समूह के रूप में की जा सकती है जो कि एक भौगोलिक सीमाओं में एक निश्चित देश में रहता हो, समान परम्परा, समान हितों तथा समान भावनाओं से बँधा हो और जिसमें एकता के सूत्र में बाँधने की उत्सुकता तथा समान राजनैतिक महत्त्वाकांक्षाएँ पाई जाती हों। राष्ट्रवाद के निर्णायक तत्वों मे राष्ट्रीयता की भावना सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है। राष्ट्रीयता की भावना किसी राष्ट्र के सदस्यों में पायी जानेवाली सामुदायिक भावना है जो उनका संगठन सुदृढ़ करती है। भारत में अंग्रेजों के शासनकाल मे राष्ट्रीयता की भावना का विशेषरूप से विकास हुआ, इस विकास में विशिष्ट बौद्धिक वर्ग का महत्त्वपूर्ण योगदान है। भारत में अंग्रेजी शिक्षा के प्रसार से एक ऐसे विशिष्ट वर्ग का निर्माण हुआ जो स्वतन्त्रता को मूल अधिकार समझता था और जिसमें अपने देश को अन्य पाश्चात्य देशों के समकक्ष लाने की प्रेरणा थी। पाश्चात्य देशों का इतिहास पढ़कर उसमें राष्ट्रवादी भावना का विकास हुआ। इसका तात्पर्य यह नहीं है कि भारत के प्राचीन इतिहास से नई पीढ़ी को राष्ट्रवादी प्रेरणा नहीं मिली है किन्तु आधुनिक काल में नवोदित राष्ट्रवाद अधिकतर अंग्रेजी शिक्षा का परिणाम है। देश में अंग्रेजी शिक्षा प्राप्त किए हुए नवोदित विशिष्ट वर्ग ने ही राष्ट्रीयता का झण्डा उठाया। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय राष्ट्रवाद · और देखें »

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, अधिकतर कांग्रेस के नाम से प्रख्यात, भारत के दो प्रमुख राजनैतिक दलों में से एक हैं, जिन में अन्य भारतीय जनता पार्टी हैं। कांग्रेस की स्थापना ब्रिटिश राज में २८ दिसंबर १८८५ में हुई थी; इसके संस्थापकों में ए ओ ह्यूम (थियिसोफिकल सोसाइटी के प्रमुख सदस्य), दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा शामिल थे। १९वी सदी के आखिर में और शुरूआती से लेकर मध्य २०वी सदी में, कांग्रेस भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम में, अपने १.५ करोड़ से अधिक सदस्यों और ७ करोड़ से अधिक प्रतिभागियों के साथ, ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के विरोध में एक केन्द्रीय भागीदार बनी। १९४७ में आजादी के बाद, कांग्रेस भारत की प्रमुख राजनीतिक पार्टी बन गई। आज़ादी से लेकर २०१६ तक, १६ आम चुनावों में से, कांग्रेस ने ६ में पूर्ण बहुमत जीता हैं और ४ में सत्तारूढ़ गठबंधन का नेतृत्व किया; अतः, कुल ४९ वर्षों तक वह केन्द्र सरकार का हिस्सा रही। भारत में, कांग्रेस के सात प्रधानमंत्री रह चुके हैं; पहले जवाहरलाल नेहरू (१९४७-१९६५) थे और हाल ही में मनमोहन सिंह (२००४-२०१४) थे। २०१४ के आम चुनाव में, कांग्रेस ने आज़ादी से अब तक का सबसे ख़राब आम चुनावी प्रदर्शन किया और ५४३ सदस्यीय लोक सभा में केवल ४४ सीट जीती। तब से लेकर अब तक कोंग्रेस कई विवादों में घिरी हुई है, कोंग्रेस द्वारा भारतीय आर्मी का मनोबल गिराने का देश में विरोध किया जा रहा है । http://www.allianceofdemocrats.org/index.php?option.

नई!!: ओडिशा और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस · और देखें »

भारतीय राज्य पशुओं की सूची

भारत, आधिकारिक भारत गणराज्य एक दक्षिण एशियाई देश है। यह २९ राज्यों और ७ केन्द्र शासित प्रदेशों से मिलकर बना है। सभी भारतीय अपनी स्वयं की सरकार रखते हैं और केन्द्रशासित प्रदेश केन्द्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आते हैं। अधिकतर अन्य देशों की तरह भारत में भी राष्ट्रीय प्रतीक पाये जाते हैं। राष्ट्रीय प्रतीकों के अतिरिक्त सभी भारतीय राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश अपनेखुद की राज्य मोहर और प्रतीक रखते हैं जिसमें राज्य पशु, पक्षी, पेड़, फूल आदि शामिल हैं। भारत के सभी राज्य पशुओं की सूची निचे दी गयी है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय राज्य पशुओं की सूची · और देखें »

भारतीय राज्य पक्षियों की सूची

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के आधिकारिक पक्षियों की है: .

नई!!: ओडिशा और भारतीय राज्य पक्षियों की सूची · और देखें »

भारतीय राज्यों के राज्यपालों की सूची

भारत गणराज्य में राज्यपाल २९ राज्यों में राज्य प्रमुख का संवैधानिक पद होता है। राज्यपाल की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति पाँच वर्ष के लिए करते हैं और वे राष्ट्रपति की मर्जी पर पद पर रहते हैं। राज्यपाल राज्य सरकार का विधित मुखिया होता है जिसकी कार्यकारी कार्रवाई राज्यपाल के नाम पर सम्पन्न होती है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय राज्यों के राज्यपालों की सूची · और देखें »

भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची

भारत गणराज्य में उन्तीस राज्यों और दो केन्द्र-शासित प्रदेशों (दिल्ली और पुद्दुचेरी) की प्रत्येक सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री कहलाता है। भारत के संविधान के अनुसार राज्य स्तर पर राज्यपाल क़ानूनन मुखिया होता है लेकिन वास्तव में कार्यकारी प्राधिकारी मुख्यमंत्री ही होता है। राज्य विधान सभा चुनावों के बाद राज्यपाल सामान्यतः सरकार बनाने के लिए बहुमत वाले दल (अथवा गठबंधन) को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करता है। राज्यपाल, मुख्यमंत्री को नियुक्त करता है जिसकी कैबिनेट विधानसभा के लिए सामूहिक रूप से जिम्मेदार होती है। यदि विधानसभा में विश्वासमत प्राप्त हो तो मुख्यमंत्री का कार्यकाल सामान्यतः अधिकतम पाँच वर्ष का होता है; इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री के कार्यकाल की संख्याओं की कोई सीमा नहीं होती। वर्तमान में पदस्थ इकत्तीस में से तीन, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी, जम्मू और कश्मीर में महबूबा मुफ़्ती और राजस्थान में वसुंधरा राजे महिला हैं। दिसम्बर 1994 से (समय के लिए), सिक्किम के पवन कुमार चामलिंग सबसे लम्बे समय से पदस्थ मुख्यमंत्री हैं। पंजाब के अमरिन्दर सिंह (जन्म 1942) सबसे वृद्ध मुख्यमंत्री हैं जबकि अरुणाचल प्रदेश के पेमा खांडू (जन्म 1979) सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं। भारतीय जनता पार्टी के चौदह पदस्थ, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पाँच पदस्थ तथा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के दो है; इसके अतिरिक्त किसी भी अन्य दल के पदस्थ मुख्यमंत्रियों की संख्या एक से अधिक नहीं है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची · और देखें »

भारतीय रुपया

भारतीय रुपया (प्रतीक-चिह्न: 8px; कोड: INR) भारत की राष्ट्रीय मुद्रा है। इसका बाज़ार नियामक और जारीकर्ता भारतीय रिज़र्व बैंक है। नये प्रतीक चिह्न के आने से पहले रुपये को हिन्दी में दर्शाने के लिए 'रु' और अंग्रेजी में Re.

नई!!: ओडिशा और भारतीय रुपया · और देखें »

भारतीय लोकसंगीत

भारतीय लोकसंगीत भी भारतीय संस्कृति की भांति अत्यन्त विविधतापूर्ण है। पूरे भारत में लोकसंगीत के अनेक रूप विद्यमान हैं, जैसे भांगड़ा, लावणी, डंडिया, राजस्थानी आदि। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय लोकसंगीत · और देखें »

भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष

3 मई 2013 (शुक्रवार) को भारतीय सिनेमा पूरे सौ साल का हो गया। किसी भी देश में बनने वाली फिल्में वहां के सामाजिक जीवन और रीति-रिवाज का दर्पण होती हैं। भारतीय सिनेमा के सौ वर्षों के इतिहास में हम भारतीय समाज के विभिन्न चरणों का अक्स देख सकते हैं।उल्लेखनीय है कि इसी तिथि को भारत की पहली फीचर फ़िल्म “राजा हरिश्चंद्र” का रुपहले परदे पर पदार्पण हुआ था। इस फ़िल्म के निर्माता भारतीय सिनेमा के जनक दादासाहब फालके थे। एक सौ वर्षों की लम्बी यात्रा में हिन्दी सिनेमा ने न केवल बेशुमार कला प्रतिभाएं दीं बल्कि भारतीय समाज और चरित्र को गढ़ने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष · और देखें »

भारतीय संविधान सभा

भारतीय संविधान सभा का पहला दिन (११ दिशम्बर १९४६)। बैठे हुए दाएं से: बी जी खेर, सरदार बल्लभ भाई पटेल, के एम मुंशी और डॉ. भीमराव आंबेडकर भारत की संविधान सभा का चुनाव भारतीय संविधान की रचना के लिए किया गया था। ग्रेट ब्रिटेन से स्वतंत्र होने के बाद संविधान सभा के सदस्य ही प्रथम संसद के सदस्य बने। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय संविधान सभा · और देखें »

भारतीय जनता पार्टी

भारतीय जनता पार्टी (संक्षेप में, भाजपा) भारत के दो प्रमुख राजनीतिक दलों में से एक हैं, जिसमें दूसरा दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस है। यह राष्ट्रीय संसद और राज्य विधानसभाओं में प्रतिनिधित्व के मामले में देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है और प्राथमिक सदस्यता के मामले में यह दुनिया का सबसे बड़ा दल है।.

नई!!: ओडिशा और भारतीय जनता पार्टी · और देखें »

भारतीय वाहन पंजीकरण पट्ट

भारत के द्वि-वर्ण राज्य कूट भारत में सभी मोटरचालित वाहनों को एक पंजीकरण संख्या (या लाइसेंस नम्बर) दिया जाता है। लाइसेंस पट्ट को नामपट्ट भी कहते हैं। यह संख्या सभी प्रदेशों में जिला स्तर के क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) द्वारा दिया जाता है। यह चालन अनुज्ञप्‍ति पट्ट वाहन के आगे और पश्च दिशा में लगाया जाता है। नियमानुसार सभी पट्टियाँ लातिन वर्णों सहित आधुनिक भारतीय अंक प्रणाली में होने चाहिए। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय वाहन पंजीकरण पट्ट · और देखें »

भारतीय विधायिकाओं के वर्तमान अध्यक्षों की सूची

भारत गणराज्य में भारतीय विधायिकाओँ का मुखिया अध्यक्ष होता है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय विधायिकाओं के वर्तमान अध्यक्षों की सूची · और देखें »

भारतीय आम चुनाव, 2014

भारत में सोलहवीं लोक सभा के लिए आम चुनाव ७ अप्रैल से १२ मई २०१४ तक ९ चरणों में हुए। मतगणना १६ मई को हुई। इसके लिए भारत की सभी संसदीय क्षेत्रों में वोट डाले गये। वर्तमान में पंद्रहवी लोक सभा का कार्यकाल ३१ मई २०१४ को ख़त्म हो रहा है। ये चुनाव अब तक के इतिहास में सबसे लंबा कार्यक्रम वाला चुनाव था। यह पहली बार होगा, जब देश में ९ चरणों में लोकसभा चुनाव हुए। निर्वाचन आयोग के अनुसार ८१.४५ करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। सभी नौ चरणों में औसत मतदान ६६.३८% के आसपास रहा जो भारतीय आम चुनाव के इतिहास में सबसे उच्चतम है। चुनाव के परिणाम १६ मई को घोषित किये गये। ३३६ सीटों के साथ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सबसे बड़ा दल और २८२ सीटों के साथ भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन ने ५९ सीटों पर और कांग्रेस ने ४४ सीटों पर जीत हासिल की।, Election Commission of India बीजेपी ने केवल 31.0% वोट जीते, जो आजादी के बाद से भारत में बहुमत वाली सरकार बनाने के लिए पार्टी का सबसे कम हिस्सा है, जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का संयुक्त वोट हिस्सा 38.5% था। 1984 के आम चुनाव के बाद बीजेपी और उसके सहयोगियों ने सबसे बड़ी बहुमत वाली सरकार बनाने का अधिकार जीता, और यह चुनाव पहली बार हुआ जब पार्टी ने अन्य पार्टियों के समर्थन के बिना शासन करने के लिए पर्याप्त सीटें जीती हैं। आम चुनाव में कांग्रेस पार्टी की सबसे खराब हार थी। भारत में आधिकारिक विपक्षी दल बनने के लिए, एक पार्टी को लोकसभा में 10% सीटें (54 सीटें) हासिल करनी होंगी; हालांकि, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इस नंबर को हासिल करने में असमर्थ थी। इस तथ्य के कारण, भारत एक आधिकारिक विपक्षी पार्टी के बिना बना हुआ है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय आम चुनाव, 2014 · और देखें »

भारतीय आम चुनाव, 2014 के लिए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण

भारतीय आम चुनाव, 2014 के लिए विभिन्न संस्थाओं द्वारा सर्वेक्षण कराए जा रहे हैं जिससे भारत के मतदान के मिजाज़ का पता चलता है। इन्ही चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों को इस लेख में शामिल किया जा रहा है। सभी चुनाव पूर्व सर्वेक्षण जनवरी 2013 से लेकर अब तक के हैं। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय आम चुनाव, 2014 के लिए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण · और देखें »

भारतीय आम चुनाव, २००९

२००९ के भारतीय आम चुनाव विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में पंद्रहवीं लोकसभा के लिए पांच चरणों में (१६ अप्रैल २२/२३ अप्रैल ३० अप्रैल ७ मई और १३ मई २००९) को संपन्न हुए। १६ मई को मतगणना व चुनाव परिणामों की घोषणा हुई। २००९ में लोकसभा के साथ-साथ आंध्रप्रदेश, उड़ीसा और सिक्किम विधानसभा के लिए भी चुनाव कराए गए। १६ मई को मतगणना हुई। शुरूआती रूझानों में कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने ढाई सौ से भी ज्यादा बढ़त हासिल कर ली जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने अपनी हार मान ली। भारत के संविधान के अनुसार, सामान्य स्थिति में प्रति पांच वर्ष में लोकसभा चुनाव होता है। १४वें लोकसभा का कार्यकाल १ जून २००९ को समाप्त हुआ। भारत में चुनाव चुनाव आयोग संपन्न कराता है। चुनाव आयोग के अनुसार, 2009 के लोकसभा चुनाव में 71.3 करोड़ लोग मतदान के लिए योग्य हैं। यह संख्या २००४ के लोकसभा की अपेक्षा ४ करोड़ ३० लाख ज्यादा है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय आम चुनाव, २००९ · और देखें »

भारतीय इस्पात प्राधिकरण

भारतीय इस्पात प्राधिकरण (अंग्रेज़ी:स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इण्डिया लिमिटेड (सेल)) भारत की सर्वाधिक इस्पात उत्पादन करने वाली कम्पनी है। यह पूर्णतः एकीकृत लोहे और इस्पात का सामान तैयार करती है। कम्पनी में घरेलू निर्माण, इंजीनियरी, बिजली, रेलवे, मोटरगाड़ी और सुरक्षा उद्योगों तथा निर्यात बाजार में बिक्री के लिए मूल तथा विशेष, दोनों तरह के इस्पात तैयार किए जाते हैं। यह भारत सरकार की पूर्ण-स्वामित्व प्राधिकरण है। यह व्यापार के हिसाब से देश में सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ी १० कम्पनियों में से एक है। सेल अनेक प्रकार के इस्पात के सामान का उत्पादन और उनकी बिक्री करती है। इनमें हॉट तथा कोल्ड रोल्ड शीटें और कॉयल, जस्ता चढ़ी शीट, वैद्युत शीट, संरचनाएँ, रेलवे उत्पाद, प्लेट बार और रॉड, स्टेनलेस स्टील तथा अन्य मिश्र धातु इस्पात शामिल हैं। सेल अपने पांच एकीकृत इस्पात कारखानों और तीन विशेष इस्पात कारखानों में लोहे और इस्पात का उत्पादन करती है। ये कारखाने देश के पूर्वी और केन्द्रीय क्षेत्र में स्थित हैं तथा इनके पास ही कच्चे माल के घरेलू स्रोत उपलब्ध हैं। इन स्रोतों में कंपनी की लौह अयस्क, चूना-पत्थर और डोलोमाइट खानें शामिल हैं। कंपनी को भारत का दूसरा सबसे बड़ा लौह अयस्क उत्पादक होने का श्रेय भी प्राप्त है। इसके पास देश में दूसरा सबसे बड़ा खानों का जाल है। कम्पनी के पास अपने लौह अयस्क, चूना-पत्थर और डोलोमाइट खानें हैं जो इस्पात निर्माण के लिए महत्वपूर्ण कच्चे माल हैं। इससे कम्पनी को प्रतियोगिता में लाभ मिल रहा है। सेल का अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार डिवीजन आईएसओ ९००१: २००० से प्रमाणित है। इसका कार्यालय नई दिल्ली में है और यह सेल के पांच एकीकृत इस्पात कारखानों से मृदुल इस्पात उत्पादों तथा कच्चे लोहे का निर्यात करता है। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय इस्पात प्राधिकरण · और देखें »

भारतीय कवियों की सूची

इस सूची में उन कवियों के नाम सम्मिलित किये गये हैं जो.

नई!!: ओडिशा और भारतीय कवियों की सूची · और देखें »

भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2008

14 नवम्बर 2008 को प्रगति मैदान, नई दिल्ली में 28वें भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले का उद्घाटन करते हुए भारत के उपराष्ट्रपति श्री मो. हामिद अंसारी। 14 नवम्बर 2008 को प्रगति मैदान, नई दिल्ली में 28वें भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले का उद्घाटन हुआ। .

नई!!: ओडिशा और भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2008 · और देखें »

भास्कर वर्मन

भास्कर वर्मन का निधानपुर शिलालेख कुमार भास्कर वर्मन (600 - 650) कामरूप के वर्मन राजवंश के शासकों में अन्तिम एवं अन्यतम राजा थे। अपने ज्येष्ठ भ्राता सुप्रतिश्थि वर्मन की मृत्यु के पश्चात उन्होने सत्ता सम्भाली। वे अविवाहित रहे तथा अनका कोई उत्तराधिकारी नहीं था। उनकी मृत्यु के बाद शालस्तम्भ ने कामरूप पर आक्रमण करके सत्ता पर अधिकार कर लिया और शालस्तम्भ राज्य अथवा म्लेच्छ राजवंश की स्थापना की। उत्तर भारत के राजा हर्षवर्धन (या शीलादित्य) कुमार भास्कर वर्मन के समकालीन थे। हर्षवर्धन के साथ उनकी मित्रता थी। उस समय गौड़ देश (या कर्णसुवर्ण, या बंगाल) में शशांक नामक राजा का शासन था। शशांक ने हर्षवर्धन के बड़े भाई राज्यवर्धन की हत्या कर दी। शशांक से अपने भाई की हत्या का प्रतिशोध लेने के लिये हर्षवर्धन ने शशांक के राज्य पर आक्रमण कर दिया। इस आक्रमण के समय कुमार भास्कर वर्मन ने हर्षवर्धन की सहायता की। गौड़ राजा शशांक पराजित हुआ। फलस्वरूप शशांक के राज्य कर्णसुबर्ण तथा गौड़ या पौण्ड्रबर्द्धन, भास्कर वर्मन के अधिकार में आ गये। इसके बाद भास्कर वर्मन विशाल राज्य का स्वामी बन गया। भास्कर वर्मन के समय में कामरूप राज्य की सीमा पश्चिम में बिहार तक और दक्षिण में ओडीसा तक विस्तृत थी। भास्कर वर्मन ने निधानपुर (सिलहट जिला, बांग्लादेश) में अपने शिविर से तांबे की छाप अनुदान जारी किए और इसे एक अवधि के लिए अपने नियंत्रण में रखा। चीनी यात्री युवान् च्वांग ने सातवीं शताब्दी में कामरुप का भ्रमण किया था। अपनी यात्रा के वर्णन में उसने लिखा है कि कामरूप राज्य का विस्तार १६७५ मील था और राजधानी प्राग्ज्योतिषपुर ६ मील विस्तृत थी। यद्यपि भास्कर वर्मन सनातन धर्म के अनुयायी थे किन्तु बौद्ध धर्म के अनुयायियों और बौद्ध भिक्षुओं का सम्मान करते थे। हर्षबर्द्धन, भास्कर वर्मन का यथेष्ट सम्मान करते थे। एक बार युवान् च्वांग के सम्मान के लिये राजा हर्षबर्धन ने प्रयाग में विशाल सभा का आयोजन किया था। जिसमें भारत के सभी विख्यात राजाओं को आमन्त्रित किया गया था। युवान् च्वांग ने यह भी लिखा है कि कामरुप में प्रवेश करने से पहले उसने एक महान नदी कर्तोय् को पार किया। कामरुप के पूर्व में चीनी सीमा के पास पहाड़ियों की एक पंक्ति थी। उन्होंने उल्लेख किया की फसलें नियमित हैं, लोग सत्यनिष्ट हैं और राजा ब्राह्मण हैं। .

नई!!: ओडिशा और भास्कर वर्मन · और देखें »

भागवत पुराण

सन १५०० में लिखित एक भागवत पुराण मे यशोदा कृष्ण को स्नान कराते हुए भागवत पुराण (Bhaagwat Puraana) हिन्दुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है। इसे श्रीमद्भागवतम् (Shrimadbhaagwatam) या केवल भागवतम् (Bhaagwatam) भी कहते हैं। इसका मुख्य वर्ण्य विषय भक्ति योग है, जिसमें कृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है। इसके अतिरिक्त इस पुराण में रस भाव की भक्ति का निरुपण भी किया गया है। परंपरागत तौर पर इस पुराण का रचयिता वेद व्यास को माना जाता है। श्रीमद्भागवत भारतीय वाङ्मय का मुकुटमणि है। भगवान शुकदेव द्वारा महाराज परीक्षित को सुनाया गया भक्तिमार्ग तो मानो सोपान ही है। इसके प्रत्येक श्लोक में श्रीकृष्ण-प्रेम की सुगन्धि है। इसमें साधन-ज्ञान, सिद्धज्ञान, साधन-भक्ति, सिद्धा-भक्ति, मर्यादा-मार्ग, अनुग्रह-मार्ग, द्वैत, अद्वैत समन्वय के साथ प्रेरणादायी विविध उपाख्यानों का अद्भुत संग्रह है। .

नई!!: ओडिशा और भागवत पुराण · और देखें »

भुवनेश्वर

भुवनेश्वर (भुबनेस्वर भी) ओडिशा की राजधानी है। यंहा के निकट कोणार्क में विश्व प्रसिद्ध सूर्य मंदिर स्थित है। भुवनेश्‍वर भारत के पूर्व में स्थित ओडिशा राज्‍य की राजधानी है। यह बहुत ही खूबसूरत और हरा-भरा प्रदेश है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता देखते ही बनती है। यह जगह इतिहास में भी अपना महत्‍वपूर्ण स्‍थान रखता है। तीसरी शताब्‍दी ईसा पूर्व में यहीं प्रसिद्ध कलिंग युद्ध हुआ था। इसी युद्ध के परिणामस्‍वरुप अशोक एक लड़ाकू योद्धा से प्रसिद्ध बौद्ध अनुयायी के रूप में परिणत हो गया था। भुवनेश्‍वर को पूर्व का काशी भी कहा जाता है। लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि यह एक प्रसिद्ध बौद्ध स्‍थल भी रहा है। प्राचीन काल में 1000 वर्षों तक बौद्ध धर्म यहां फलता-फूलता रहा है। बौद्ध धर्म की तरह जैनों के लिए भी यह जगह काफी महत्‍वपूर्ण है। प्रथम शताब्‍दी में यहां चेदी वंश का एक प्रसिद्ध जैन राजा खारवेल' हुए थे। इसी तरह सातवीं शताब्‍दी में यहां प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों का निर्माण हुआ था। इस प्रकार भुवनेश्‍वर वर्तमान में एक बहुसांस्‍कृतिक शहर है। ओडिशा की इस वर्तमान राजधानी का निमार्ण इंजीनियरों और वास्‍तुविदों ने उपयोगितावादी सिद्धांत के आधार पर किया है। इस कारण नया भुवनेश्‍वर प्राचीन भुवनेश्‍वर के समान बहुत सुंदर तथा भव्‍य नहीं है। यहां आश्‍चर्यजनक मंदिरों तथा गुफाओं के अलावा कोई अन्‍य सांस्‍कृतिक स्‍थान देखने योग्‍य नहीं है। .

नई!!: ओडिशा और भुवनेश्वर · और देखें »

भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस

भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस एक राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन है यह ट्रेन भुवनेश्वर,ओडिशा से शुरू है और नई दिल्ली तक चलती है। भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस आद्रा (22811/12) और बोकारो (22823/24) होते हुए नई दिल्ली चलती है?। इससे पहले यह ट्रेन हावड़ा होते हुए नई दिल्ली चलती थी। .

नई!!: ओडिशा और भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस · और देखें »

भुवनेश्वर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

भुवनेश्वर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओड़िशा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और भुवनेश्वर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

भीतरकनिका राष्ट्रीय उद्यान

भीतरकनिका राष्ट्रीय उद्यान भारत में उड़ीसा के केंद्रपाड़ा जिले में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है। इस उद्यान में भितरकनिका सदाबहार का 672 वर्ग किमी का क्षेत्र शामिल है, यह एक सदाबहार दलदल है जो कि ब्राह्मणी, बैतरनी और धामरा नदियों के मुहाने पर स्थित है। यह राष्ट्रीय पार्क, भितरकनिका वन्यजीव अभयारण्य से घिरा हुआ है। इसके पूर्व में गाहिरमथा बीच स्थित है और बंगाल की खाड़ी से वनस्पतियों को अलग करती है। पार्क में खारे पानी के मगरमच्छों (क्रोकोडिलस पोरोसस)) सफेद मगरमच्छ, भारतीय अजगर, एक प्रकार के कालेपक्षी और बानकरों की अधिकता है। गाहिरमथा और पास के अन्य समुद्र तटों के घोंसलो पर ओलिव रिडले समुद्री कछुए (लेपिडोचेलिस ओलिवासिया) हैं। राष्ट्रीय उद्यान को सितम्बर 1998 में भितरकनिका वन्यजीव अभयारण्य के कोर क्षेत्र से बनाया गया, जिसका निर्माण 1975 में किया गया था। .

नई!!: ओडिशा और भीतरकनिका राष्ट्रीय उद्यान · और देखें »

मच्छकुंड जल प्रपात

मच्छकुंड जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और मच्छकुंड जल प्रपात · और देखें »

मठ

मठ मठ का अर्थ ऐसे संस्थानो से है जहां इसके गुरू अपने शिष्यों को शिक्षा, उपदेश इत्यादि प्रदान करता है। ये गुरू प्रायः धर्म गुरु होते है ऐर दी गई शिक्षा मुख्यतः आध्यात्मिक होती है पर ऐसा हमेशा नही होता। एक मठ में इन कार्यो के अतिरिक्त सामाजिक सेवा, साहित्य इत्यादि से सम्बन्धित कार्य भी होते हैं। मठ एक ऐसा शब्द है जिसके बहुधार्मिक अर्थ हैं।बौद्ध मठों को विहार कहते है। ईसाई धर्म में इन्हें मॉनेट्री, प्रायरी, चार्टरहाउस, एब्बे इत्यादि नामों से जाना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और मठ · और देखें »

मदल पंजी

मदल पंजी (Palm-leaf Chronicles) ओडिशा के जगन्नाथ पुरी के जगन्नाथ का इतिहास है। इसमें भगवान जगन्नाथ और जगन्नाथ मन्दिर से सम्बन्धित घटनाओं का वर्णन है। इस पंजी के आरम्भ होने की वास्तविक तिथि ज्ञात नहीं है किन्तु ऐसा अनुमान किया जाता है कि यह १३वीं या १४वीं शती में आरम्भ हुई होगी। यह पुस्तक साहित्यिक दृष्टि से अनूठी है। इसकी तुलना श्रीलंका के राजवंशम् से, कश्मीर के राजतरंगिणी से और असम के बुरुंजी से की जा सकती है। इसमें गद्य का प्रयोग हुआ है। .

नई!!: ओडिशा और मदल पंजी · और देखें »

मधुसूदन दास

मधुसूदन दास की प्रतिमा मधुसूदन दास (२८ अप्रैल १८४८ - ४ फ़रवरी १९३४) ओड़िया साहित्यकार एवं ओडिया-आन्दोलन के जनक थे। उन्हें उत्कल-गौरव कहा जाता है। उन्होने ही सबसे पहले 'स्वतंत्र ओड़िशा' की संकल्पना की थी। वे 'मधुबाबु' नाम से सर्वत्र जाने जाते थे। .

नई!!: ओडिशा और मधुसूदन दास · और देखें »

मनीषा पन्ना

मनीषा पन्ना (जन्म 20 अप्रैल, 1991) एक भारतीय फुटबॉलर निभाता है, जो एक मिडफील्डर के रूप में भारत की महिलाओं की राष्ट्रीय फुटबॉल टीम के लिए खेलती है।  वह 2015-16 एएफसी महिला ओलंपिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में टीम का हिस्सा थी।   क्लब स्तर पर वह भारत में ओडिशा के लिए खेलती है। .

नई!!: ओडिशा और मनीषा पन्ना · और देखें »

मयूरभंज लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

मयूरभंज लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में बीजू जनता दल के राम चन्द्र हंसदा यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और मयूरभंज लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

मयूरभंज जिला

मयूरभंज ओड़िशा राज्य का एक अनुसूचित जिला है (पाँचवी अनुसूची के अन्तर्गत)। इसका मुख्यालय बारिपदा में है। यह अनुसूचित जनजाति बहुल जिला है। संथाल और हो यहाँ की मुख्य भाषाएँ हैं। शहरी इलाकों मे उड़िया भाषा का भी प्रयोग होता है। यहां का मुख्य आकर्षण है सिमलीपाल राष्ट्रीय उद्यान। यह जिला पूर्व में बालेश्वर, दक्षिण में केंदुझरगढ़ तथा उत्तर एवं परिश्चम में झारखण्ड के के सिंहभूम जिले से घिरा है। जिले के दक्षिण में मेघासनी पहाड़ी सागरतल से ३,८२४ फुट तक ऊँची है। यहाँ पर लोहा बड़ी मात्रा में निकाला जाता है। अभ्रक भी मिलता है। मयूरभंज एक समय में ओड़ीशा का एक महत्‍वपूर्ण साम्राज्‍य था। भारत की स्वतन्त्रता के बाद भी इस राज्‍य का अस्तित्‍व बरकरार था। लेकिन 1 जनवरी 1949 में इसे ओड़ीशा में शामिल किया था। प्रकृति की अनुपम सुंदरता यहां बिखरी पड़ी है। प्राकृतिक सुंदरता के अलावा इस स्थान को कला, जूट मिल्स, तुषार मिल, पत्थर की कारीगरी और चरखा मिल के लिए भी जाना जाता है। बुढाबलंग नदी इस क्षेत्र की सुंदरता में और वृद्धि करती है। बारीपदा, सिमलिपाल राष्ट्रीय उद्यान, खिचिं, किचकेश्वरी मंदिर, मानात्री आदि यहां के लोकप्रिय दर्शनीय स्थल हैं। .

नई!!: ओडिशा और मयूरभंज जिला · और देखें »

महात्मा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय

महात्मा गांधी मेडिकल कालेज ऐंड हास्पिटल झारखंड प्रांत के जमशेदपुर शहर के बाहरी छोर पर राष्ट्रीय राजमार्ग 33 पर स्थित है। राँची विश्वविद्यालय से संबद्ध यह संस्थान दक्षिणी झारखंड सहित पश्चिम बंगाल एवं उड़ीसा के निकटवर्ती क्षेत्र के छात्रों के लिए चिकित्सा संबंधी अध्यन का एक प्रमुख केन्द्र है। .

नई!!: ओडिशा और महात्मा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय · और देखें »

महादेव अइयर गणपति

महादेव अइयर गणपति को प्रशासकीय सेवा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९५४ पद्म भूषण.

नई!!: ओडिशा और महादेव अइयर गणपति · और देखें »

महानदी

छत्तीसगढ़ तथा उड़ीसा अंचल की सबसे बड़ी नदी है। प्राचीनकाल में महानदी का नाम चित्रोत्पला था। महानन्दा एवं नीलोत्पला भी महानदी के ही नाम हैं। महानदी का उद्गम रायपुर के समीप धमतरी जिले में स्थित सिहावा नामक पर्वत श्रेणी से हुआ है। महानदी का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की तरफ है। सिहावा से निकलकर राजिम में यह जब पैरी और सोढुल नदियों के जल को ग्रहण करती है तब तक विशाल रूप धारण कर चुकी होती है। ऐतिहासिक नगरी आरंग और उसके बाद सिरपुर में वह विकसित होकर शिवरीनारायण में अपने नाम के अनुरुप महानदी बन जाती है। महानदी की धारा इस धार्मिक स्थल से मुड़ जाती है और दक्षिण से उत्तर के बजाय यह पूर्व दिशा में बहने लगती है। संबलपुर में जिले में प्रवेश लेकर महानदी छ्त्तीसगढ़ से बिदा ले लेती है। अपनी पूरी यात्रा का आधे से अधिक भाग वह छत्तीसगढ़ में बिताती है। सिहावा से निकलकर बंगाल की खाड़ी में गिरने तक महानदी लगभग ८५५ कि॰मी॰ की दूरी तय करती है। छत्तीसगढ़ में महानदी के तट पर धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम, चम्पारण, आरंग, सिरपुर, शिवरी नारायण और उड़ीसा में सम्बलपुर, बलांगीर, कटक आदि स्थान हैं तथा पैरी, सोंढुर, शिवनाथ, हसदेव, अरपा, जोंक, तेल आदि महानदी की प्रमुख सहायक नदियाँ हैं। महानदी का डेल्टा कटक नगर से लगभग सात मील पहले से शुरू होता है। यहाँ से यह कई धाराओं में विभक्त हो जाती है तथा बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। इस पर बने प्रमुख बाँध हैं- रुद्री, गंगरेल तथा हीराकुंड। यह नदी पूर्वी मध्यप्रदेश और उड़ीसा की सीमाओं को भी निर्धारित करती है। .

नई!!: ओडिशा और महानदी · और देखें »

महिला सुरक्षा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को महिला सुरक्षा के मामले में 2012 की स्थिति अनुसार क्रमित करती है। यह सूची भारत सरकार के राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा 2012 में प्रकाशित भारत में अपराध प्रतिवेदन से संकलित की गई है। रैंक महिलाओं पर हुए प्रहार की दर के आधार पर दी गई है। प्रहार दर प्रति एक लाख महिलाओं पर महिला की लाजभंग करने के इरादे से (भारतीय दण्ड संहिता की धारा 314) उस पर किए गए आरोपित प्रहारों की घटनाओं का प्रतिनिधित्व करता है। कम प्रहार दर वाले राज्य या केन्द्र-शासित प्रदेश को महिलाओं के अधिक सुरक्षित समझा जाता है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आँकड़ो के अनुसार जम्मू और कश्मीर, केरल, और उड़ीसा महिलाओं पर हुए प्रहारों की दर के आधार पर सबसे ऊपर है और पाँच सर्वाधिक सुरक्षित राज्य हैं बिहार, नागालैण्ड, झारखण्ड, गुजरात और पंजाब। .

नई!!: ओडिशा और महिला सुरक्षा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

मानसी प्रधान

मानसी प्रधान (जन्म-४ अक्तूबर,९६२) एक भारतीय महिला कार्यकर्त्ता और लेखक हैं, जिन्हें २०१३ में "रानी लक्ष्मीबाई स्त्री शक्ति पुरस्कार" मिला था। वह महिला राष्ट्रीय अभियान के संस्थापक हैं, जो भारत में महिलाओं के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए एक राष्ट्रीय आंदोलन है। मिशनरी ऑफ़ चैरिटी के वैश्विक प्रमुख में, उन्होंने 'आउटस्टैंडिंग वुमन अवार्ड'"Rani Laxmibai Stree Shakti Puraskar for Manasi Pradhan".

नई!!: ओडिशा और मानसी प्रधान · और देखें »

मानव तस्करी की घटनाओं के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची

इस सूची में भारत के राज्य और केन्द्र-शासित प्रदेश 2012 में मानव तस्करी की घटनाओं के आधार पर क्रमित हैं, और अपराध-सिद्धि पर आधारित है। यह सूची भारत सरकार के राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो द्वारा प्रकाशित 2012 भारत में अपराध प्रतिवेदन से संकलित की गई है। इस प्रतिवेदन के अनुसार मानव तस्करी की घटनाओं के मामले में तीन अग्रणी राज्य हैं उत्तर प्रदेश, तमिल नाडु और केरल। .

नई!!: ओडिशा और मानव तस्करी की घटनाओं के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची · और देखें »

मानव बलि

एचिलिस के कब्र पर नीओप्टोलेमस के हाथ से पॉलीजिना मर गया" (एक प्राचीन कैमिया के बाद 1900 सदी का चित्र) किसी धार्मिक अनुष्ठान के भाग (अनुष्ठान हत्या) के रूप में किसी मानव की हत्या करने को मानव बलि कहते हैं। इसके अनेक प्रकार पशुओं को धार्मिक रीतियों में काटा जाना (पशु बलि) तथा आम धार्मिक बलियों जैसे ही थे। इतिहास में विभिन्न संस्कृतियों में मानव बलि की प्रथा रही है। इसके शिकार व्यक्ति को रीति-रिवाजों के अनुसार ऐसे मारा जाता था जिससे कि देवता प्रसन्न अथवा संतुष्ट हों, उदाहरण के तौर पर मृत व्यक्ति की आत्मा को देवता को संतुष्ट करने के लिए भेंट किया जाता था अथवा राजा के अनुचरों की बलि दी जाती थी ताकि वे अगले जन्म में भी अपने स्वामी की सेवा करते रह सकें.

नई!!: ओडिशा और मानव बलि · और देखें »

मायाधर राउत

गुरु मायाधर राउत (Guru Mayadhar Raut) (जन्म 6 जुलाई, 1930) एक भारतीय शास्त्रीय ओडिसी नर्तक, कोरियोग्राफर और गुरु हैं। .

नई!!: ओडिशा और मायाधर राउत · और देखें »

मालदीव

मालदीव या (Dhivehi: ދ ި ވ ެ ހ ި ރ ާ އ ް ޖ ެ Dhivehi Raa'je) या मालदीव द्वीप समूह, आधिकारिक तौर पर मालदीव गणराज्य, हिंद महासागर में स्थित एक द्वीप देश है, जो मिनिकॉय आईलेंड और चागोस अर्किपेलेगो के बीच 26 प्रवाल द्वीपों की एक दोहरी चेन, जिसका फेलाव भारत के लक्षद्वीप टापू की उत्तर-दक्षिण दिशा में है, से बना है। यह लक्षद्वीप सागर में स्थित है, श्री लंका की दक्षिण-पश्चिमी दिशा से करीब सात सौ किलोमीटर (435 mi) पर.

नई!!: ओडिशा और मालदीव · और देखें »

मालकानगिरि

मल्कानगिरि शहर दक्षिणी उड़ीसा के मलकनगिरी जिला का मुख्यालय है। यह जिला 6115 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। उड़ीसा का यह नवनिर्मित जिला 1992 में राज्य के पुनर्गठन के बाद अस्तित्व में आया। लगभग पूरा जिला घने जंगलों से घिरा हुआ है। पोटेरू, सबेरी, सिलेरू, कोलाब और मछकुंडा यहां से बहने वाली प्रमुख नदियां हैं। प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध यह जिला बालीमेला जलविद्युत परियोजना के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा बोंडा हिल्स, भैरवी मंदिर, अम्माकुंडा, मान्यमकोंडा, मोटू, सतीगुडा बांध आदि लोकप्रिय दर्शनीय स्थल हैं। .

नई!!: ओडिशा और मालकानगिरि · और देखें »

मालकानगिरि जिला

मालकानगिरि भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय मालकानगिरि है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और मालकानगिरि जिला · और देखें »

माल्टो भाषा

मालटो या पहाड़िया पूर्व भारत के बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल व उड़ीसा राज्यों और बंग्लादेश के कुछ छोटे क्षेत्रों में बोली जाने वाली एक उत्तरी द्रविड़ भाषा है। इसकी कुमारभाग पहाड़िया और सौरिया पहाड़िया नामक दो उपभाषाएँ हैं जिन्हें कुछ भाषावैज्ञानिक दो सम्बन्धित लेकिन स्वतंत्र भिन्न भाषाएँ समझते हैं। कुमारभाग पहाड़िया झारखंड और पश्चिम बंगाल तथा उड़ीसा के कुछ सीमित क्षेत्रों में, जबकि सौरिया पहाड़िया बिहार और पश्चिम बंगाल में तथा बंग्लादेश के सीमित इलाक़ों में बोली जाती हैं। इन दोनों के शब्दों में ८०% की सामानता मापी गई है। मालटो भारत की सबसे उत्तरी द्रविड़ भाषा है।, Sanford B. Steever, pp.

नई!!: ओडिशा और माल्टो भाषा · और देखें »

माहली

माहली जनजाति झारखंड के ज्यादातर हिस्सों तथा पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और असम के कुछ जिलों में रहने वाली भारत की प्राचीनतम जनजातियों में से एक है। ये भारत के प्रमुख आदिवासी समूह है। इनका निवास स्थान मुख्यतः झारखंड प्रदेश है। झारखंड से बाहर ये बंगाल, बिहार, उड़ीसा, मध्य प्रदेश, असम, मे रहते है। माहली प्रायः नाटे कद के होता है। इनकी नाक चौड़ी तथा चिपटी होती है। इनका संबंध प्रोटो आस्ट्रेलायड से है। माहली के समाज मे मुख्य व्यक्ति इनका मांझी होता है। मदिरापान तथा नृत्य इनके दैनिक जीवन का अंग है। अन्य आदिवासी समुहों की तरह इनमें भी जादू टोना प्रचलित है। ये बांस के कार्य करते हुए देखे जाते है। माहली की अन्य विषेशता इनके सुन्दर ढंग के मकान हैं जिनमें खिडकीयां नहीं होती हैं। माहली मारांग बुरु की उपासना करतें हैं ये पूर्वजो द्वारा जो परम्परा पीढ़ीयों से चली आ रही है उसको मानते है ये धर्म पूर्वी लोग होते है। इनकी भाषा संथाली और लिपि ओल चिकी है। इनके बारह मूल गोत्र हैं ; बास्के, मुर्मू, बेसरा, किस्कू, हेम्ब्रम, हासंदा, टुडू, करुणामय, मार्डी, सामन्त आदि। माहली समुदाय मुख्यतः बाहा, सोहराय, माग, ऐरोक, माक मोंड़े, जानथाड़, हरियाड़ सीम, आराक सीम, जातरा, पाता, बुरु मेरोम, गाडा पारोम तथा सकरात नामक पर्व / त्योहार मनाते हैं। इनके विवाह को 'बापला' कहा जता है। माहली समुदाय मे कुल 23 प्रकार की विवाह प्रथायें है, जो निम्न प्रकार है - 1.

नई!!: ओडिशा और माहली · और देखें »

मिरिगलोठाजल प्रपात

मिरिगलोठाजल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और मिरिगलोठाजल प्रपात · और देखें »

मकर संक्रान्ति

मकर संक्रान्ति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रान्ति पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। वर्तमान शताब्दी में यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है, इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। एक दिन का अंतर लौंद वर्ष के ३६६ दिन का होने ही वजह से होता है | मकर संक्रान्ति उत्तरायण से भिन्न है। मकर संक्रान्ति पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं, यह भ्रान्ति गलत है कि उत्तरायण भी इसी दिन होता है । उत्तरायण का प्रारंभ २१ या २२ दिसम्बर को होता है | लगभग १८०० वर्ष पूर्व यह स्थिति उत्तरायण की स्थिति के साथ ही होती थी, संभव है की इसी वजह से इसको व उत्तरायण को कुछ स्थानों पर एक ही समझा जाता है | तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं। .

नई!!: ओडिशा और मकर संक्रान्ति · और देखें »

मुण्डा

मुंडा एक भारतीय आदिवासी समुदाय है, जो मुख्य रूप से झारखण्ड के छोटा नागपुर क्षेत्र में निवास करता है| झारखण्ड के अलावा ये बिहार, पश्चिम बंगाल, ओड़िसा आदि भारतीय राज्यों में भी रहते हैं| इनकी भाषा मुंडारी आस्ट्रो-एशियाटिक भाषा परिवार की एक प्रमुख भाषा है| उनका भोजन मुख्य रूप से धान, मड़ूआ, मक्का, जंगल के फल-फूल और कंध-मूल हैं | वे सूत्ती वस्त्र पहनते हैं | महिलाओं के लिए विशेष प्रकार की साड़ी होती है, जिसे बारह हथिया (बारकी लिजा) कहते हैं | पुरुष साधारण-सा धोती का प्रयोग करते हैं, जिसे तोलोंग कहते हैं | मुण्डा, भारत की एक प्रमुख जनजाति हैं | २० वीं सदी के अनुसार उनकी संख्या लगभग ९,०००,००० थी |Munda http://global.britannica.com/EBchecked/topic/397427/Munda .

नई!!: ओडिशा और मुण्डा · और देखें »

मुर्शिद कुली खां

मुर्शिद कुली खां 1717 में मुगल शासक फरुख्शियर द्वारा बंगाल का सूबेदार बनाया गया। यह मुग़ल सम्राट द्वारा नियुक्त अंतिम सूबेदार था, इसी के साथ बंगाल में वंशानुगत सूबेदारी शासन की शुरुवात हुयी। यद्यपि वह १७00 से ही उसका वास्तविक शासक बन गया था। दीवान बनने के बाद उसने खुद को केंद्रीय नियंत्रण से मुक्त किया फिर भी बादशाह को नजराने के रूप में बड़ी रकम अदा करता रहा। .

नई!!: ओडिशा और मुर्शिद कुली खां · और देखें »

मृदा

पृथ्वी ऊपरी सतह पर मोटे, मध्यम और बारीक कार्बनिक तथा अकार्बनिक मिश्रित कणों को मृदा (मिट्टी / soil) कहते हैं। ऊपरी सतह पर से मिट्टी हटाने पर प्राय: चट्टान (शैल) पाई जाती है। कभी कभी थोड़ी गहराई पर ही चट्टान मिल जाती है। 'मृदा विज्ञान' (Pedology) भौतिक भूगोल की एक प्रमुख शाखा है जिसमें मृदा के निर्माण, उसकी विशेषताओं एवं धरातल पर उसके वितरण का वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता हैं। पृथऽवी की ऊपरी सतह के कणों को ही (छोटे या बडे) soil कहा जाता है .

नई!!: ओडिशा और मृदा · और देखें »

मैथिली साहित्य

मैथिली मुख्यतः भारत के उत्तर-पूर्व बिहार एवम् नेपाल के तराई क्षेत्र की भाषा है।Yadava, Y. P. (2013).

नई!!: ओडिशा और मैथिली साहित्य · और देखें »

मूर्ति कला

'''यक्षिणी''', पटना संग्रहालय में शिल्पकला (sculpture) कला का वह रूप है जो त्रिविमीय (three-dimensional) होती है। यह कठोर पदार्थ (जैसे पत्थर), मृदु पदार्थ (plastic material) एवं प्रकाश आदि से बनाये जा सकते हैं। मूर्तिकला एक अतिप्राचीन कला है। .

नई!!: ओडिशा और मूर्ति कला · और देखें »

मेघवाल

जम्मू, भारत में एक समारोह के दौरान मेघ बालिकाओं का एक समूह मेघ, मेघवाल, या मेघवार, (उर्दू:میگھواڑ, सिंधी:ميگھواڙ) लोग मुख्य रूप से उत्तर पश्चिम भारत में रहते हैं और कुछ आबादी पाकिस्तान में है। सन् 2008 में, उनकी कुल जनसंख्या अनुमानतः 2,807,000 थी, जिनमें से 2760000 भारत में रहते थे। इनमें से वे 659000 मारवाड़ी, 663000 हिंदी, 230000 डोगरी, 175000 पंजाबी और विभिन्न अन्य क्षेत्रीय भाषाएँ बोलते हैं। एक अनुसूचित जाति के रूप में इनका पारंपरिक व्यवसाय बुनाई रहा है। अधिकांश हिंदू धर्म से हैं, ऋषि मेघ, कबीर, रामदेवजी और बंकर माताजी उनके प्रमुख आराध्य हैं। मेघवंश को राजऋषि वृत्र या मेघ ऋषि से उत्पन्न जाना जाता है।सिंधु सभ्यता के अवशेष (मेघ ऋषि की मुर्ति मिली) भी मेघो से मिलते है। हडप्पा,मोहन-जोद़ङो,कालीबंगा (हनुमानगढ),राखीगङी,रोपङ,शक्खर(सिंध),नौसारो(बलुचिस्तान),मेघढ़(मेहरगढ़ बलुचिस्तान)आदि मेघवंशजो के प्राचीन नगर हुआ करते थे। 3300ई.पू.से 1700ई.पू.तक सिंध घाटी मे मेघो की ही आधिक्य था। 1700-1500ई.पू.मे आर्यो के आगमन से मेघ, अखंड भारत के अलग अलग भागो मे बिछुङ (चले) गये । ये लोग बहुत शांत स्वभाव व प्रवृति के थे। इनका मुख्य साधन ऊंठ-गाङा व बैल-गाङा हुआ करता। आज मेघवालो को बहुत सारी उपजातीयो बांट रखा है जिसमे सिहमार, भगत, बारुपाल, मिड़ल (मिरल),केम्मपाल, अहम्पा, पंवार,पङिहार,लिलङ,जयपाल,पंवार,चावणीया, तुर्किया,गाडी,देवपाल,जालानी गोयल-मंगी,पन्नु, गोगली,गंढेर,दहीया,पुनङ,मुंशी,कोली आदि प्रमुख है। मेघवंशो के कूलगुरु गर्गाचार्य गुरङा होते है। .

नई!!: ओडिशा और मेघवाल · और देखें »

मीडिया की पहुँच के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची लोगों तक मीडिया की पहुँच के आधार पर है। यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आई॰आई॰पी॰एस), मुंबई द्वारा कराया जाता है जो परिवार कल्याण और स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा निर्दिष्ट है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और मीडिया की पहुँच के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

यमेश्वर मंदिर

यमेश्वर या जमेश्वर मंदिर एक बहुत ही पुरानी मंदिर है जो शिव भगवान  को समर्पित  है। यह भुवनेश्वर में जमेश्वर पाटणा के पास भारती मठ निक्ट स्थित है।   .

नई!!: ओडिशा और यमेश्वर मंदिर · और देखें »

यज्ञदत्त शर्मा

वीर यज्ञदत्त शर्मा (२१ अक्टूबर १९२२ - ४ जुलाई १९९६), एक भारतीय राजनेता थे। वे दो बार सांसद रहे और उड़ीसा के राज्यपाल रहे। यज्ञदत्त शर्मा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े नेता भारतीय जनसंघ के संस्थापकों में से एक थे। उन्होने तत्कालीन पंजाब के कांगड़ा, उना, हमीरपुर और शिमला के ग्रामीण क्षेत्रों में जनसंघ का आधार मजबूत करने में महती भूमिका निभायी। १९९० से ९३ तक वे उड़ीसा के राज्यपाल थे। वे पेशे से आयुर्वेदिक चिकित्सक थे और उन्होने इसके उन्नयन के लिये कार्य किया। .

नई!!: ओडिशा और यज्ञदत्त शर्मा · और देखें »

योगिनी

योगाभ्यास करने वाली स्त्री को योगिनी या योगिन कहा जाता है। पुरुषों के लिए इसका समानांतर योगी है। .

नई!!: ओडिशा और योगिनी · और देखें »

रत्नागिरि (ओडिशा)

रत्नागिरि, ओडिशा के जाजपुर जिले में स्थित एक प्राचीन बौद्ध-स्थल है। यह भुवनेश्वर ने लगभग सौ किमी दूर है। .

नई!!: ओडिशा और रत्नागिरि (ओडिशा) · और देखें »

रत्नागिरि (उड़ीसा)

रत्नागिरि उड़ीसा में स्थित है जो प्राचीन काल में एक महाविहार (बौद्ध मठ) था। यह ओड़ीसा के जयपुर जिले के ब्राह्मणी और बिरूपा नदियों की घाटी में स्थित है। पुष्पगिरि, ललितगिरि और उदयगिरि आदि अन्य प्राचीन बौद्ध स्थल इसके पास ही हैं। श्रेणी:बौद्ध तीर्थ स्थल.

नई!!: ओडिशा और रत्नागिरि (उड़ीसा) · और देखें »

रबिन्द्र कुमार जेना

रबिन्द्र कुमार जेना भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की बालासोर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और रबिन्द्र कुमार जेना · और देखें »

रमाकांत रथ

रमाकांत रथ (१३ दिसम्बर १९३४) उड़ीसा के कटक नगर में निवास करने वाले ओड़िया साहित्यकार हैं। केते दिनार, अनेक कोठरी, संदिग्ध मृगया, सप्तम ऋतु आदि उनके प्रमुख कविता संग्रह हैं। उन्हें सरला पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार, विषुव पुरस्कार, सरस्वती सम्मान तथा कबीर सम्मान से अलंकृत किया जा चुका है। रमाकांत रथ को भारत सरकार द्वारा सन २००६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उड़ीसा के हैं। .

नई!!: ओडिशा और रमाकांत रथ · और देखें »

रमेशचन्द्र दत्त

रमेशचन्द्र दत्त रमेशचंद्र दत्त (13 अगस्त 1848 -- 30 नवम्बर 1909) भारत के प्रसिद्ध प्रशासक, आर्थिक इतिहासज्ञ तथा लेखक तथा रामायण व महाभारत के अनुवादक थे। भारतीय राष्ट्रवाद के पुरोधाओं में से एक रमेश चंद्र दत्त का आर्थिक विचारों के इतिहास में प्रमुख स्थान है। दादाभाई नौरोज़ी और मेजर बी. डी. बसु के साथ दत्त तीसरे आर्थिक चिंतक थे जिन्होंने औपनिवेशिक शासन के तहत भारतीय अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान के प्रामाणिक विवरण पेश किये और विख्यात ‘ड्रेन थियरी’ का प्रतिपादन किया। इसका मतलब यह था कि अंग्रेज अपने लाभ के लिए निरंतर निर्यात थोपने और अनावश्यक अधिभार वसूलने के जरिये भारतीय अर्थव्यवस्था को निचोड़ रहे हैं। .

नई!!: ओडिशा और रमेशचन्द्र दत्त · और देखें »

रसबाली

रसबाली (IAST: rasābaḷi) ओडिशा, भारत का एक मीठा व्यंजन है। रसबाली को बलराम को परसाद के रूप में चढ़ाया जाता है, और इसकी उत्पत्ति केन्द्रापडा के बलदेवजु मंदिर में हुई थी। यह जगन्नाथ मन्दिर, पुरी के चपाना भोग में से एक है। .

नई!!: ओडिशा और रसबाली · और देखें »

रसगुल्ला

रसगुल्ला एक भारतीय पकवान है, जो छेना तथा चीनी से बनाया जाता है। यह मुख्य रूप से ओड़िसा और पश्चिम बंगाल में लोकप्रिय है। आवश्यक सामग्री - .

नई!!: ओडिशा और रसगुल्ला · और देखें »

राधानाथ रथ

राधानाथ रथ को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६८ में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये उड़ीसा राज्य से हैं। श्रेणी:१९६८ पद्म भूषण.

नई!!: ओडिशा और राधानाथ रथ · और देखें »

राम चन्द्र हंसदा

राम चन्द्र हंसदा भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की मयूरभंज सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और राम चन्द्र हंसदा · और देखें »

राम नाथ कोविन्द

रामनाथ कोविन्द (जन्म: १ अक्टूबर १९४५) भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो २० जुलाई २०१७ को भारत के १४वें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए। २५ जुलाई २०१७ को उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर ने भारत के राष्ट्रपति के पद की शपथ दिलायी।https://plus.google.com/107807291734419802285/posts/Vkif7q6AG7r वे राज्यसभा सदस्य तथा बिहार राज्य के राज्यपाल रह चुके हैं। .

नई!!: ओडिशा और राम नाथ कोविन्द · और देखें »

रामदेवी चौधरी

रामदेवी चौधरी एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक थीं। उड़ीसा के लोगों उन्हें माँ कहते थे। वह गोपाल बल्लाव दास की बेटी थीं और १५ वर्ष की आयु में, उनकी गोपाबन्धु चौधरी से शादी हुई।.

नई!!: ओडिशा और रामदेवी चौधरी · और देखें »

रामानन्द राय

रामानंद राय उड़ीसा के राजा गजपति प्रतापरुद्रदेव के अधीनस्थ विद्यानगर के शासक थे। यह भक्त, सुकवि, विरक्त तथा कृष्ण तत्व के विशिष्ट ज्ञाता थे। इनके पिता का नाम भवानंद राय था तथा जन्म संभवत: कटक के पास सं.

नई!!: ओडिशा और रामानन्द राय · और देखें »

रामेश्वर ठाकुर

रामेश्वर ठाकुर कर्नाटक, ओड़िशा और आन्ध्र प्रदेश के पूर्व राज्यपाल थे। .

नई!!: ओडिशा और रामेश्वर ठाकुर · और देखें »

रायपुर

रायपुर छत्तीसगढ की राजधानी है। यह देश का २६ वां राज्य है। ०१ नवम्बर २००० को मध्यप्रदेश से विभाजित छत्तीसगढ़ का निर्माण किया गया। .

नई!!: ओडिशा और रायपुर · और देखें »

रायगड़ा जिला

रायगढा भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय रायगड़ा है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और रायगड़ा जिला · और देखें »

रायगढा

रायगढा भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और रायगढा · और देखें »

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला

राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, (एन.आई.टी) राउरकेला, भारत का प्रमुख राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान है। इसकी स्थापना १९६० में की गई थी तथा इसे २६ जून २००२ को राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के रूप में स्तरोन्नत किया गया था। संस्थान में १८ विभाग हैं तथा यह रसायन इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, विद्युत इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, धातुकर्मीय इंजीनियरिंग, खनन इंजीनियरिंग, एंप्‍लाइड इलैक्ट्रानिक्स तथा इस्ट्रूमेनटेशन इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर साइंस, सिरेमिक इंजीनियरिंग और प्रबंधन, विषयों में अवर स्नातक के पाठयक्रम संचालित करता है। अवर स्नातक स्तर पाठयक्रमों में दाखिला क्षमता ४२० है। संस्थान ६ स्नातकोत्तर पाठयक्रम तथा तीन वर्षीय एमसीए भी संचालित करता है। यहाँ पर लड़कों हेतु छह तथा लड़कियों हेतु एक छात्रावास है। राश्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला राष्‍ट्रीय तकनीकी जनशक्ति सूचना केन्द्र, उड़ीसा का नोडल केन्द्र है। संस्थान ने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान का दर्जा प्राप्त करने के बाद वर्ष २००४-०५ में दाखिल छात्रों के लिए प्रथम सेमिस्टर के लिए आईआईटी की तर्ज पर शैक्षिक एवं मूल्यांकन प्रक्रिया को अपनाया है। एन आई टी राउरकेला का मुख्य भवन .

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला · और देखें »

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला (प्रबंधन विद्यालय)

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला (प्रबंधन विद्यालय), इस प्रबंधन विद्यालय कि स्थापना २०१० में की गई थी। .

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, राउरकेला (प्रबंधन विद्यालय) · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २०१

३१० किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग उड़ीसा में बोरिगुमा को बारगढ़ से जोड़ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २०१ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २०३

५९ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग उड़ीसा में भुवनेश्वर को पुरी से जोड़ता है। है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २०३ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २१५

३४८ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग उड़ीसा में पानीकोली को राजामुंद्रा से जोड़ता है। इसका रूट पानीकोली - केवंज़र - राजामुंद्रा है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २१५ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २१७

५०८ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग रायपुर को गोपालपुर से जोड़ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २१७ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २२४

२९८ किलोमीटर यह राजमार्ग उड़ीसा में खोरधा को नयागढ़ और सोनापुरके रास्ते बालनगििर से जोड़ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २२४ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग २३

४५९ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग चस से निकल्कर तलचेर के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 42 में मिल जाता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग २३ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ५

१५३३ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग बहराघोड़ा में राष्ट्रीय राजमार्ग 6 के पास से निकलकर तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई तक जाता है। इसका रूट बहराघोड़ा – कटक - भुवनेश्वर – विशाखापटनम - विजयवाड़ा - चेन्नई है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग ५ · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ५ए

७७ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग उड़ीसा में हरिदासपुर से निकलकर पारादीप बंदरगाह तक जाता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग ५ए · और देखें »

राष्ट्रीय राजमार्ग ६

१९४९ किलोमीटर लंबा यह राजमार्ग हजीरा से निकलकर पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकत्ता तक जाता है। इसका रूट हजीरा - धुले - नागपुर - रायपुर - संबलपुर - बहाराघोड़ा - कोलकत्ता है। श्रेणी:भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय राजमार्ग ६ · और देखें »

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

यह लेख भारत के एक सांस्कृतिक संगठन आर एस एस के बारे में है। अन्य प्रयोग हेतु आर एस एस देखें। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारत का एक दक्षिणपंथी, हिन्दू राष्ट्रवादी, अर्धसैनिक, स्वयंसेवक संगठन हैं, जो व्यापक रूप से भारत के सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी का पैतृक संगठन माना जाता हैं। यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अपेक्षा संघ या आर.एस.एस. के नाम से अधिक प्रसिद्ध है। बीबीसी के अनुसार संघ विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संस्थान है। .

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ · और देखें »

राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान

राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान ('एनआईआईटी), (बीएसई: 500,304, एनएसई: एनआईआईटी) एक वैश्विक शिक्षा और प्रशिक्षण, भारत.

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान · और देखें »

राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान

राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान(NISER) भुवनेश्वर स्थित एक शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान है। इस संस्थान की स्थापना २८ अगस्त २००६ को हुई थी। इसी तरह के पाँच अन्य संस्थान मोहाली, भोपाल, पुणे, कोलकाता और तिरुअनन्तपुरम में स्थापित किए जा रहे हैं जिन्हें भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (IISER) नाम दिया गया है। राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा प्रायोजित है जबकि भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अन्तर्गत आते हैं। .

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान · और देखें »

राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल

भारत में एनडीआरएफ की उपस्थिति राष्ट्रीय आपदा मोचन बल और नागरिक सुरक्षा एक पुलिस बल है जिसका निर्माण डिज़ास्टर मैनेज़मेंट ऐक्ट २००५ के कानून के तहत किसी आपातकाल या आपदा के समय विशेषज्ञता और प्रतिबद्धता के साथ संगठित हो कर प्रभावितों और हताहतों के भले के लिए काम करना है।: खंड 44-45   भारत में आपदा प्रबंधन की शीर्ष संस्था एनडीएमए यानि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एथॉरिटी है जिसका मुखिया प्रधानमंत्री होता है।  भारत के संघीय ढाँचे में आपदा प्रबंधन का जिम्मा राज्य सरकार के कंधे पर होता है। केंद्र में गृह मंत्रालय, भारत सरकार सभी राज्य इकाईयों में समन्वय का काम करती है। बेहद गंभीर आपदाओं में केंद्र सरकार की जिम्मेदारी होती है कि वो प्रभावित राज्य के आग्रह पर सैन्य बल, एनडीआरएफ़, वैज्ञानिक उपकरण, आर्थिक मदद, केंद्रीय पैरामिलिट्री बल व अन्य तमाम तरह की विशाल स्तर की मदद राज्य में भेजे। .

नई!!: ओडिशा और राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल · और देखें »

राजपाल यादव

राजपाल यादव हिन्दी फिल्मों के एक हास्य अभिनेता हैं। .

नई!!: ओडिशा और राजपाल यादव · और देखें »

राजभवन (ओडिशा)

राजभवन भुवनेश्वर भारत के ओडिशा राज्य के राज्यपाल का आधिकारिक आवास है। यह राज्य की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है। मुरलीधर चन्द्रकान्त भण्डारे ओडिशा के वर्तमान राज्यपाल हैं। ओडिशा में एतिहासिक रूप से तीन राजभवन रहे हैं: पुरी में ग्रीष्मकालीन रेज़ॉर्ट, कटक का लाल बाग महल और भुवनेश्वर का मुख्य राजभवन। .

नई!!: ओडिशा और राजभवन (ओडिशा) · और देखें »

राजारानी मंदिर

राजारानी मंदिर एक ११ वीं शताब्दी के हिंदू मंदिर भारत के ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है। माना जाता है कि मंदिर को मूल रूप से इंद्रेस्वार के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर में महिलाओं और जोड़ों के कामुक नक्काशी की वजह से स्थानीय रूप से "प्रेम मंदिर" के रूप में जाना जाता है। राजारानी मंदिर, दो संरचनाओं के साथ एक मंच पर पंचाट शैली में बनाया गया है: एक केंद्रीय मंदिर को एक बड़ा (कणिक शिखर) के साथ एक विस्फोट कहा जाता है, इसकी छत १८ मीटर (५९ फीट) की ऊंचाई पर बढ़ रहा है, और एक दृश्य हॉल एक पिरामिड छत के साथ जागोमोहन बुलाया जाता है। मंदिर का निर्माण सुस्त लाल और पीले बलुआ पत्थर से किया गया था जिसे स्थानीय रूप से "राजरानी" कहा जाता है। पवित्र स्थान के अंदर कोई छवि नहीं है, और इसलिए यह हिंदू धर्म के एक विशिष्ट संप्रदाय के साथ नहीं जुड़ा है, लेकिन मोटे तौर पर निवासी के आधार पर शैव के रूप में वर्गीकृत किया गया है। विभिन्न इतिहासकारों ने ११ वीं और १२ वीं शताब्दियों के बीच मूल निर्माण तिथि रखी और पुरी में जगन्नाथ मंदिर के रूप में लगभग उसी अवधि से संबंधित हैं। माना जाता है कि मध्य भारत में अन्य मंदिरों की वास्तुशिल्प इस मंदिर से पैदा हुई है, उल्लेखनीय लोगों में खजुराहो मंदिर और कदवा के तोतस्वर महादेव मंदिर हैं। मंदिर के चारों ओर की दीवारों पर विभिन्न मूर्तियां और शिव, नटराज, पार्वती के विवाह के दृश्यों का चित्रण, और विभिन्न भूमिकाओं और मूड में लंबा, पतला, परिष्कृत नायिका शामिल हैं, जैसे कि उसके सिर को क्षीणित संन्यासी से बदलना, अपने बच्चे से प्यार करते हुए, पेड़ की एक शाखा पकड़कर, उसके शौचालय में भाग लेते हुए, एक दर्पण की तलाश में, अपने पायल को बंद करने, अपने पालतू पक्षी को निहारना और संगीत वाद्ययंत्र बजाना। राजाराणी मंदिर भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा टिकटयुक्त स्मारक के रूप में रखा जाता है। .

नई!!: ओडिशा और राजारानी मंदिर · और देखें »

राजेन्द्र प्रसाद मिश्र

राजेन्द्र प्रसाद मिश्र (६ अप्रैल १९५५) ओड़िया से हिन्दी अनुवाद के लिए जाने जाते हैं। उनका जन्म रायरंगपुर मयूरभंज उड़ीसा में हुआ था। वे अब तक लगभग ३० उड़िया किताबों का हिन्दी अनुवाद कर चुके हैं। उनका फणीश्वरनाथ रेणु तथा गोपीनाथ महंति पर किया गया शोधकार्य भी अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और राजेन्द्र प्रसाद मिश्र · और देखें »

राउरकेला

राउरकेला (ରାଉରେକଲା) भारत के ओडिशा राज्य के उत्तर-पश्चिमी किनारे पर स्थित एक शहर है। यह सुन्दरगढ़ जिला में आता है। यह एक उच्च खनिज क्षेत्र है। यह ओडिशा का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। इस शहर को नदियाँ और पर्वतमाला घेरे हुए हैं। भारत में स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सबसे बड़े इस्पात कारखानों में से एक कारखाना यहां भी स्थित है। यहां राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, राउरकेला, भी स्थित है, जो कि भारत के NIT'sमें से एक है। .

नई!!: ओडिशा और राउरकेला · और देखें »

रघुनाथ मोहपात्रा

रघुनाथ मोहपात्रा (२४ मार्च १९४३-२० अप्रैल २०१४) को सन २००१ में भारत सरकार ने कला क्षेत्र में पद्म भूषण और २०१३ में ६४वें गणतंत्र के मौके पर पद्म विभूषण से सम्मानित किया था। ये उड़ीसा से थे। .

नई!!: ओडिशा और रघुनाथ मोहपात्रा · और देखें »

रघुराजपुर

'''रघुराजपुर गाँव''' - विरासत हस्तशिल्प ग्राम रघुराजपुर' ओड़िसा के पुरी जिला का 'विरासत हस्तशिल्प ग्राम' है। यह अपने सुन्दर पट्टचित्रों के कारण प्रसिद्ध है। पट्टचित्र की कलाकारी का इतिहास ५वीं शती तक जाता है। इसके अलावा यह गोतिपुआ नृत्य के लिये भी प्रसिद्ध है जो ओड़िसी नृत्य का पूर्ववर्ती नृत्य है। ओड़िसी नृत्य के मह साधक एवं गुरू केलुचरण महापात्र की जन्मभूमि भी यही है। इनके अलावा यह गाँव तुसार चित्रकला, तालपत्रों पर चित्रकारी, पत्थर एवं काष्टकला, गोबर के खिलौने आदि के लिये भी प्रसिद्ध है। .

नई!!: ओडिशा और रघुराजपुर · और देखें »

रंगवती

रंगवती (ओडिया: रंगबती) ओडिशा का एक अत्यन्त लोकप्रिय रिकार्ड किया गया गाना है। यह गाना पहली बार १९७० के दशक के मध्य में आकाशवाणि से रेकॉर्ड किया गया था। यह संबलपुरी बोली में है। .

नई!!: ओडिशा और रंगवती · और देखें »

रक्षाबन्धन

रक्षाबन्धन एक हिन्दू व जैन त्योहार है जो प्रतिवर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण (सावन) में मनाये जाने के कारण इसे श्रावणी (सावनी) या सलूनो भी कहते हैं। रक्षाबन्धन में राखी या रक्षासूत्र का सबसे अधिक महत्त्व है। राखी कच्चे सूत जैसे सस्ती वस्तु से लेकर रंगीन कलावे, रेशमी धागे, तथा सोने या चाँदी जैसी मँहगी वस्तु तक की हो सकती है। राखी सामान्यतः बहनें भाई को ही बाँधती हैं परन्तु ब्राह्मणों, गुरुओं और परिवार में छोटी लड़कियों द्वारा सम्मानित सम्बंधियों (जैसे पुत्री द्वारा पिता को) भी बाँधी जाती है। कभी-कभी सार्वजनिक रूप से किसी नेता या प्रतिष्ठित व्यक्ति को भी राखी बाँधी जाती है। अब तो प्रकृति संरक्षण हेतु वृक्षों को राखी बाँधने की परम्परा भी प्रारम्भ हो गयी है। हिन्दुस्तान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पुरुष सदस्य परस्पर भाईचारे के लिये एक दूसरे को भगवा रंग की राखी बाँधते हैं। हिन्दू धर्म के सभी धार्मिक अनुष्ठानों में रक्षासूत्र बाँधते समय कर्मकाण्डी पण्डित या आचार्य संस्कृत में एक श्लोक का उच्चारण करते हैं, जिसमें रक्षाबन्धन का सम्बन्ध राजा बलि से स्पष्ट रूप से दृष्टिगोचर होता है। भविष्यपुराण के अनुसार इन्द्राणी द्वारा निर्मित रक्षासूत्र को देवगुरु बृहस्पति ने इन्द्र के हाथों बांधते हुए निम्नलिखित स्वस्तिवाचन किया (यह श्लोक रक्षाबन्धन का अभीष्ट मन्त्र है)- इस श्लोक का हिन्दी भावार्थ है- "जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली दानवेन्द्र राजा बलि को बाँधा गया था, उसी सूत्र से मैं तुझे बाँधता हूँ। हे रक्षे (राखी)! तुम अडिग रहना (तू अपने संकल्प से कभी भी विचलित न हो।)" .

नई!!: ओडिशा और रक्षाबन्धन · और देखें »

रोहू मछली

रोहू मछली रोहू (वैज्ञानिक नाम - Labeo rohita) पृष्ठवंशी हड्डीयुक्त मछली है जो ताजे मीठे जल में पाई जाती है। इसका शरीर नाव के आकार का होता है जिससे इसे जल में तैरने में आसानी होती है। इसके शरीर में दो तरह के मीन-पक्ष (फ़िन) पाये जाते हैं, जिसमें कुछ जोड़े में होते हैं तथा कुछ अकेले होते हैं। इनके मीन पक्षों के नाम पेक्टोरेल फिन, पेल्विक फिन, (जोड़े में), पृष्ठ फिन, एनलपख तथा पुच्छ पंख (एकल) हैं। इनका शरीर साइक्लोइड शल्कों से ढँका रहता है लेकिन सिर पर शल्क नहीं होते हैं। सिर के पिछले भाग के दोंनो तरफ गलफड़ होते हें जो ढक्कन या अपरकुलम द्वारा ढके रहते हैं। गलफड़ों में गिल्स स्थित होते हैं जो इसका श्वसन अंग हैं। ढक्कन के पीछे से पूँछ तक एक स्पष्ट पार्श्वीय रेखा होती है। पीठ के तरफ का हिस्सा काला या हरा होता है और पेट की तरफ का सफेद। इसका सिर तिकोना होता है तथा सिर के नीचे मुँह होता है। इसका अंतः कंकाल हड्डियों का बना होता है। आहारनाल के ऊपर वाताशय अवस्थित रहता है। यह तैरने तथा श्वसन में सहायता करता है। भोजन के रूप में इसका विशेष महत्व है। भारत में उड़ीसा, बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल तथा असम के अतिरिक्त थाइलैंड, पाकिस्तान और बांग्लादेश के निवासियों में यह सर्वाधिक स्वादिष्ट व्यंजनों में से एक समझी जाती है। उड़िया और बंगाली भोजन में इसके अंडों को तलकर भोजन के प्रारंभ में परोसा जाता है तथा परवल में भरकर स्वादिष्ट व्यंजन पोटोलेर दोलमा तैयार किया जाता है, जो अतिथिसत्कार का एक विशेष अंग हैं। बंगाल में इससे अनेक व्यंजन बनाए जाते हैं। इसे सरसों के तेल में तल कर परोसा जाता है, कलिया बनाया जाता है जिसमें इसे सुगंधित गाढ़े शोरबे में पकाते हैं तथा इमली और सरसों की चटपटी चटनी के साथ भी इसे पकाया जाता है। पंजाब के लाहौरी व्यंजनों में इसे पकौड़े की तरह तल कर विशेष रूप से तैयार किया जाता है। इसी प्रकार उड़ीसा के व्यंजन माचा-भाजी में रोहू मछली का विशेष महत्व है। ईराक में भी यह मछली भोजन के रूप में बहुत पसंद की जाती है। रोहू मछली शाकाहारी होती है तथा तेज़ी से बढ़ती है इस कारण इसे भारत में मत्स्य उत्पादन के लिए तीन सर्वश्रेष्ठ मछलियों में से एक माना गया है। .

नई!!: ओडिशा और रोहू मछली · और देखें »

रोआनू चक्रवात

रोआनू चक्रवात श्रीलंका और भारत से होते हुए 21 मई को दोपहर के समय बांग्लादेश में पहुँचा जिसके कारण बांग्लादेश के कई तटीय इलाकों में बाढ़ के हालात बन गए हैं तथा कई इलाकों में जमीनें धंस गयी हैं। विभिन्न समाचार पत्रों के अनुसार अब तक लगभग 24 लोगों के मारे जाने की ख़बर है तथा पाँच लाख लोगों को अपना घर बार छोड़ना पड़ा है। चक्रवात की वजह से पूरे बांग्लादेश में बिजली आपूर्ति बाधित है तथा कई बन्दरगाहों पर कार्य पर रोक लगा दी है। चक्रवात से श्रीलंका में लगभग ९२ तथा बांग्लादेश में २६ लोगों की जाने गयी। इनके अलावा भारतीय राज्यों तमिलनाडु,उड़ीसा, केरल तथा आंध्रप्रदेश में भारी मूसलाधार बारिश हुई। .

नई!!: ओडिशा और रोआनू चक्रवात · और देखें »

रीता तराई

रीता तराई भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की जाजपुर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और रीता तराई · और देखें »

लादू किशोर स्वाइन

लादू किशोर स्वाइन भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की आस्का सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और लादू किशोर स्वाइन · और देखें »

लाल गलियारा

लाल गलियारा लाल गलियारा (अंग्रेज़ी: Red corridor) भारत के पूर्वी भाग का एक क्षेत्र है जहाँ नक्सलवादी (साम्यवादी) उग्रवादी संगठन सक्रीय हैं।, Ajay Agarwal, The Hindustan Times, Accessed 27 अप्रैल 2012 आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, झारखंड, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश के कुछ भागों पर विस्तृत इस क्षेत्र में आधुनिक भारत के सबसे ऊँचे निरक्षरता, निर्धनता और अतिजनसंख्या के दर मिलते हैं।, Mondiaal Nieuws, Belgium, Accessed 2008-10-17, The Asian Pacific Post, Accessed 2008-10-17 भारतीय सरकारी स्रोतों के अनुसार जुलाई २०११ में ८३ ज़िले इस लाल गलियारे में आते थे। .

नई!!: ओडिशा और लाल गलियारा · और देखें »

लाहौर संकल्पना

लाहौर प्रस्तावना,(قرارداد لاہور, क़रारदाद-ए-लाहौर; बंगाली: লাহোর প্রস্তাব, लाहोर प्रोश्ताब), सन 1940 में अखिल भारतीय मुस्लिम लीग द्वारा प्रस्तावित एक आधिकारिक राजनैतिक संकल्पना थी जिसे मुस्लिम लीग के 22 से 24 मार्च 1940 में चले तीन दिवसीय लाहौर सत्र के दौरान पारित किया गया था। इस प्रस्ताव द्वारा ब्रिटिश भारत के उत्तर पश्चिमी पूर्वी क्षेत्रों में, तथाकथित तौर पर, मुसलमानों के लिए "स्वतंत्र रियासतों" की मांग की गई थी एवं उक्तकथित इकाइयों में शामिल प्रांतों को स्वायत्तता एवं संप्रभुता युक्त बनाने की भी बात की गई थी। तत्पश्चात, यह संकल्पना "भारत के मुसलमानों" के लिए पाकिस्तान नामक मैं एक अलग स्वतंत्र स्वायत्त मुल्क बनाने की मांग करने में परिवर्तित हो गया। हालांकि पाकिस्तान नाम को चौधरी चौधरी रहमत अली द्वारा पहले ही प्रस्तावित कर दिया गया था परंतु सन 1933 तक मजलूम हक मोहम्मद अली जिन्ना एवं अन्य मुसलमान नेता हिंदू मुस्लिम एकता के सिद्धांत पर दृढ़ थे, परंतु अंग्रेजों द्वारा लगातार प्रचारित किए जा रहे विभाजन प्रोत्साह गलतफहमियों मैं हिंदुओं में मुसलमानों के प्रति अविश्वास और द्वेष की भावना को जगा दिया था इन परिस्थितियों द्वारा खड़े हुए अतिसंवेदनशील राजनैतिक माहौल ने भी पाकिस्तान बनाने के उस प्रस्ताव को बढ़ावा दिया था इस प्रस्ताव की पेशी के उपलक्ष में प्रतीवर्ष 23 मार्च को पाकिस्तान में यौम-ए-पाकिस्तान(पाकिस्तान दिवस) के रूप में मनाया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और लाहौर संकल्पना · और देखें »

लिलिमा मिंज

लिलिमा मिंज (Lilima Minz) एक भारतीय महिला उड़ीसा से फ़ील्ड हॉकी की खिलाड़ी है। ये उड़ीसा के सुंदरगढ़ ज़िले के लालजीबरना ब्लॉक के बिहाबंद तान्तोली गाँव की रहवासी है। .

नई!!: ओडिशा और लिलिमा मिंज · और देखें »

लिंगराज मंदिर

लिंगराज मंदिर भारत के ओडिशा प्रांत की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है। यह भुवनेश्वर का मुख्य मन्दिर है तथा इस नगर के प्राचीनतम मंदिरों में से एक है। यह भगवान त्रिभुवनेश्वर को समर्पित है। इसे ललाटेडुकेशरी ने 617-657 ई. में बनवाया था। यद्यपि इस मंदिर का वर्तमान स्वरूप 1090-1104 में बना, किंतु इसके कुछ हिस्से 1400 वर्ष से भी अधिक पुराने हैं। इस मंदिर का वर्णन छठी शताब्दी के लेखों में भी आता है। .

नई!!: ओडिशा और लिंगराज मंदिर · और देखें »

लिंगानुपात के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

यह सूची में भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों को 2011 की जनगणना में लिगांनुपात के अनुसार क्रमवार करती है। इसके साथ ही 2001 की जनगणना के आँकड़े भी दिए गए है। इस सूची में लिंगानुपात का अर्थ है प्रति एक हज़ार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या। इस सूची में पूरी जनसंख्या के लिए लिंगानुपात दिया गया है। .

नई!!: ओडिशा और लिंगानुपात के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

लंबी चोंच का गिद्ध

लंबी चोंच का गिद्ध (Gyps tenuirostris) हाल ही में पहचानी गई जाति है। पहले इसे भारतीय गिद्ध की एक उपजाति समझा जाता था, लेकिन हाल के शोधों से पता चला है कि यह एक अलग जाति है। जहाँ भारतीय गिद्ध गंगा नदी के दक्षिण में पाया जाता है तथा खड़ी चट्टानों के उभार में अपना घोंसला बनाता है वहीं लंबी चोंच का गिद्ध तराई इलाके से लेकर दक्षिण-पूर्वी एशिया तक पाया जाता है और अपना घोंसला पेड़ों पर बनाता है। यह गिद्ध पुरानी दुनिया का गिद्ध है जो नई दुनिया के गिद्धों से अपनी सूंघने की शक्ति में भिन्न हैं। .

नई!!: ओडिशा और लंबी चोंच का गिद्ध · और देखें »

लक्ष्मण सेन

राजा लक्ष्मण सेन (बांग्ला: লক্ষ্মণ সেন) (1179 - 1206 ई) बंगाल के सेन राजवंश के चौथे शासक और एकीकृत बंगाल के आखिरी हिंदू शासक थे। अपने पूर्ववर्ती बल्लाल सेन से प्रभार लेने के बाद लक्ष्मण सेन ने सेना साम्राज्य का विस्तार असम, उड़ीसा, बिहार और शायद वाराणसी तक किया। उनकी राजधानी नवद्वीप थी। श्रेणी:बंगाल का इतिहास श्रेणी:सेन राजवंश के राजा.

नई!!: ओडिशा और लक्ष्मण सेन · और देखें »

लक्ष्मणानन्द सरस्वती

'''स्वामी लक्ष्मणानन्द सरस्वती''' स्वामी लक्ष्मणानंद सरस्वती (सन १९२४ - २३ अगस्त २००८) ओड़िशा के वनवासी बहुल फूलबाणी (कन्धमाल) जिले में इसाई बन गये वनवासियों को पुनः हिन्दू धर्म में संस्कारित करने के लिये प्रसिद्ध थे। अगस्त २००८ में कुछ हथियारबन्द लोगों ने उनकी हत्या कर दी। .

नई!!: ओडिशा और लक्ष्मणानन्द सरस्वती · और देखें »

लक्ष्मीनारायण साहू

डॉ लक्ष्मीनारायण साहू (३ अक्टूबर १८९० - १८ जनवरी १९६३) ओडिशा के एक प्रसिद्ध लेखक, कवि, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, सुधारक, इतिहासकार, और राजनीतिज्ञ थे। साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए १९५५ में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। .

नई!!: ओडिशा और लक्ष्मीनारायण साहू · और देखें »

लक्ष्मीकान्त महापात्र

कान्तकवि लक्ष्मीकान्त महापात्र (९ दिसम्बर १८८८ - २४ फ़रवरी १९५३) ओडिया के प्रसिद्ध कवि थे। उनका जन्म ओडिशा के भद्रक जिले में हुआ था। ओडिशा का राज्यगान 'बन्दे उत्कल जननी' उनकी कृति है। महाकवि लक्ष्मीकान्त महापात्र बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वे कवि होने के साथ ही स्वतन्त्रता सेनानी भी थे। उन्होंने ओड़िया साहित्य को नया आयाम प्रदान किया तथा हजारों लोगों को स्वतन्त्रता संग्राम से जोड़ा। इनका साहित्य हर आयु एवं वर्ग के लोगों के मन को झकझोर देता था। इसीलिए राज्य की जनता ने उन्हें ‘कान्तकवि’ की उपाधि देकर सम्मानित किया। श्रेणी:ऑडिया साहित्यकार.

नई!!: ओडिशा और लक्ष्मीकान्त महापात्र · और देखें »

लङ्कापोड़ि

लंका पोड़ि (लंका दहन) पश्चिमी ओडिशा के सोनपुर क्षेत्र में मनाया जाने वाला एक उत्सव है। बहुत से लोगों का विचार है कि इस उत्सव का इस क्षेत्र में मनाया जाना इस बात का प्रमाण है कि सोनपुर को 'पश्चिम लंका' भी कहते थे। श्रेणी:ओड़िशा.

नई!!: ओडिशा और लङ्कापोड़ि · और देखें »

लौह अयस्क

हैमेताईट: ब्राजील की खानों में मुख्य लौह अयस्क लौह अयस्क के छर्रों के इस ढेर का उपयोग इस्पात के उत्पादन में किया जाएगा। लौह अयस्क (Iron ores) वे चट्टानें और खनिज हैं जिनसे धात्विक लौह (iron) का आर्थिक निष्कर्षण किया जा सकता है। इन अयस्कों में आमतौर पर आयरन (लौह या iron) ऑक्साइडों की बहुत अधिक मात्रा होती है और इनका रंग गहरे धूसर से लेकर, चमकीला पीला, गहरा बैंगनी और जंग जैसा लाल तक हो सकता है। लौह आमतौर पर मेग्नेटाईट (magnetite), हैमेटाईट (hematite), जोईथाईट (goethite), लिमोनाईट (limonite), या सिडेराईट (siderite), के रूप में पाया जाता है। हैमेटाईट को "प्राकृतिक अयस्क" भी कहा जाता है। यह नाम खनन के प्रारम्भिक वर्षों से सम्बंधित है, जब हैमेटाईट के विशिष्ट अयस्कों में 66% लौह होता था और इन्हें सीधे लौह बनाने वाली ब्लास्ट फरनेंस (एक विशेष प्रकार की भट्टी जिसका उपयोग धातुओं के निष्कर्षण में किया जाता है) में डाल दिया जाता था। लौह अयस्क कच्चा माल है, जिसका उपयोग पिग आयरन (ढलवां लोहा) बनाने के लिए किया जाता है, जो इस्पात (स्टील) बनाने के लिए बनाने में काम आता है। वास्तव में, यह तर्क दिया गया है कि लौह अयस्क "संभवतया तेल को छोड़कर, किसी भी अन्य वस्तु की तुलना में वैश्विक अर्थव्यवस्था का अधिक अभिन्न अंग है।" .

नई!!: ओडिशा और लौह अयस्क · और देखें »

लैटेराइट मृदा

भारत के अंगदिपुरम में लैटेराइट की खुली खान लैटेराइट मृदा या 'लैटेराइट मिट्टी'(Laterite) का निर्माण ऐसे भागों में हुआ है, जहाँ शुष्क व तर मौसम बार-बारी से होता है। यह लेटेराइट चट्टानों की टूट-फूट से बनती है। यह मिट्टी चौरस उच्च भूमियों पर मिलती है। इस मिट्टी में लोहा, ऐल्युमिनियम और चूना अधिक होता है। गहरी लेटेराइट मिट्टी में लोहा ऑक्साइड और पोटाश की मात्रा अधिक होती है। लौह आक्साइड की उपस्थिति के कारण प्रायः सभी लैटराइट मृदाएँ जंग के रंग की या लालापन लिए हुए होती हैं। लैटराइट मिट्टी चावल, कपास, गेहूँ, दाल, मोटे अनाज, सिनकोना, चाय, कहवा आदि फसलों के लिए उपयोगी है। लैटराइट मिट्टी वाले क्षेत्र अधिकांशतः कर्क रेखा तथा मकर रेखा के बीच में स्थित हैं। भारत में लैटेराइट मिट्टी तमिलनाडु के पहाड़ी भागों और निचले क्षेत्रों, कर्नाटक के कुर्ग जिले, केरल राज्य के चौडे समुद्री तट, महाराष्ट्र के रत्नागिरि जिले, पश्चिमी बंगाल के बेसाइट और ग्रेनाइट पहाड़ियों के बीच तथा उड़ीसा के पठार के ऊपरी भागों में मिलती है। .

नई!!: ओडिशा और लैटेराइट मृदा · और देखें »

लूची

यदि पूड़ी आटे के स्थान पर मैदे से बनाई जाये तो यह लूची कहलाती है। लूची विशेष रूप से पूर्व में स्थित भारतीय राज्यों जैसे कि पश्चिम बंगाल, ओड़ीशा और ओसाम में प्रचलित है। इसे बनाने के लिए मैदे में घी का मोयन मिलाकर पानी अथवा दूध में गूंधा जाता है और फिर इसे घी या तेल में तल लिया जाता है। इसे अक्सर तरी वाली सब्जियों के साथ परोसा जाता है। .

नई!!: ओडिशा और लूची · और देखें »

लोहा

एलेक्ट्रोलाइटिक लोहा तथा उसका एक घन सेमी का टुकड़ा लोहा या लोह (Iron) आवर्त सारणी के आठवें समूह का पहला तत्व है। धरती के गर्भ में और बाहर मिलाकर यह सर्वाधिक प्राप्य तत्व है (भार के अनुसार)। धरती के गर्भ में यह चौथा सबसे अधिक पाया जाने वाला तत्व है। इसके चार स्थायी समस्थानिक मिलते हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्या 54, 56, 57 और 58 है। लोह के चार रेडियोऐक्टिव समस्थानिक (द्रव्यमान संख्या 52, 53, 55 और 59) भी ज्ञात हैं, जो कृत्रिम रीति से बनाए गए हैं। लोहे का लैटिन नाम:- फेरस .

नई!!: ओडिशा और लोहा · और देखें »

लोक सभा

लोक सभा, भारतीय संसद का निचला सदन है। भारतीय संसद का ऊपरी सदन राज्य सभा है। लोक सभा सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार के आधार पर लोगों द्वारा प्रत्यक्ष चुनाव द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों से गठित होती है। भारतीय संविधान के अनुसार सदन में सदस्यों की अधिकतम संख्या 552 तक हो सकती है, जिसमें से 530 सदस्य विभिन्न राज्यों का और 20 सदस्य तक केन्द्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। सदन में पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं होने की स्थिति में भारत का राष्ट्रपति यदि चाहे तो आंग्ल-भारतीय समुदाय के दो प्रतिनिधियों को लोकसभा के लिए मनोनीत कर सकता है। लोकसभा की कार्यावधि 5 वर्ष है परंतु इसे समय से पूर्व भंग किया जा सकता है .

नई!!: ओडिशा और लोक सभा · और देखें »

लोकसभा सीटों के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची

यह सूची भारत के राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों को लोकसभा सीटों के आधार पर क्रमित करती है। इस सूची में निर्वाचन क्षेत्रों के प्रकार परिसीमन आदेश 2008 के आधार पर विभाजित हैं। .

नई!!: ओडिशा और लोकसभा सीटों के आधार पर भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की सूची · और देखें »

शन्शी

चीन के नक़्शे में शन्शी प्रान्त (लाल रंग) (चीनी: 山西; पिनयिन लिप्यन्तरण: Shānxī; वेड-जाइल्ज़ लिप्यन्तरण: Shan-hsi; अंग्रेज़ी: Shansi) उत्तर चीन में स्थित एक प्रांत हैं। शन्शी का अर्थ चीनी भाषा में 'पश्चिम पर्वत' है। शन्शी की राजधानी ताइयुआन शहर है।, David Leffman, Martin Zatko, Penguin, 2011, ISBN 978-1-4053-8908-2 शन्शी प्रान्त का क्षेत्रफल १,५६,८०० वर्ग किमी है, यानी भारत के ओडिशा राज्य के लगभग बराबर। सन् २०१० की जनगणना में शन्शी की प्रांतीय आबादी ३,५७,१२,१११ थी। .

नई!!: ओडिशा और शन्शी · और देखें »

शरत पुजारी

शरत पुजारी (८ अगस्त १९३४ – १२ मई २०१४) ओडिया कथाचित्र जगत के भारतीय अभिनेता, निर्देशक और निर्माता थे। वो मूल रूप से जादुपडा, सम्भलपुर से थे। .

नई!!: ओडिशा और शरत पुजारी · और देखें »

शास्त्रीय नृत्य

भारत में नृत्‍य की जड़ें प्राचीन परंपराओं में है। इस विशाल उपमहाद्वीप में नृत्‍यों की विभिन्‍न विधाओं ने जन्‍म लिया है। प्रत्‍येक विधा ने विशिष्‍ट समय व वातावरण के प्रभाव से आकार लिया है। राष्‍ट्र शास्‍त्रीय नृत्‍य की कई विधाओं को पेश करता है, जिनमें से प्रत्‍येक का संबंध देश के विभिन्‍न भागों से है। प्रत्‍येक विधा किसी विशिष्‍ट क्षेत्र अथवा व्‍यक्तियों के समूह के लोकाचार का प्रतिनिधित्‍व करती है। भारत के कुछ प्रसिद्ध शास्‍त्रीय नृत्‍य हैं - .

नई!!: ओडिशा और शास्त्रीय नृत्य · और देखें »

शाहबाज नदीम

शाहबाज नदीम (जन्म १२ अगस्त १९८९)एक भारतीय धीमी गति के बाएं हाथ के ऑर्थोडॉक्स गेंदबाज हैं। इन्होंने बिहार अंडर-१४ टीम और भारतीय अंडर-१९ के लिए खेला है और वर्तमान में झारखंड और दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेलते हैं। शाहबाज नदीम मुख्य रूप से बाएं हाथ से गेंदबाजी ही करते है लेकिन वैकल्पिक बल्लेबाजी के लिए भी जाने जाते है इस कारण ये इंडियन प्रीमियर लीग में पिछले कई सालों से दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम में हरफनमौला खिलाड़ी की भूमिका निभा रहे है। .

नई!!: ओडिशा और शाहबाज नदीम · और देखें »

शकुंतला लागुरी

शकुंतला लागुरी भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की क्योंझर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और शकुंतला लागुरी · और देखें »

श्यामानन्द

श्यामानंद कृष्णभक्त सन्त थे। इनका जन्म चैत्र शु.

नई!!: ओडिशा और श्यामानन्द · और देखें »

श्री जगन्नाथ संस्कृत विश्वविद्यालय

श्री जगन्नाथ संस्कृत विश्वविद्यालय ओडिशा के जगन्नाथ पुरी में स्थित एक संस्कृत विश्वविद्यालय है। .

नई!!: ओडिशा और श्री जगन्नाथ संस्कृत विश्वविद्यालय · और देखें »

श्रीनिवासचार्य

श्रीनिवासचार्यके पिता का नाम गंगाधर भट्टाचार्य उपनाम चैतन्यदास था। सं.

नई!!: ओडिशा और श्रीनिवासचार्य · और देखें »

श्रीनिवासाचार्य

श्रीनिवासाचार्य ठाकुर (15 मई 1517 – मई 9, ?) प्रसिद्ध वैष्णव सन्त तथा जीव गोस्वामी के शिष्य थे। वे यदुनन्दनदास राधावल्लभ दास के गुरु थे। उनकी पुत्री हेमलता ठकुरानी भी एक प्रसिद्ध सन्त थीं। श्रीनिवासाचार्य ने राजा बिरहम्बीर को वैष्णव धर्म में दीक्षित किया था। इनके पिता का नाम गंगाधर भट्टाचार्य (उपनाम चैतन्यदास) था। संवत् १५७६ में वैशाखी पूर्णिमा को इनका जन्म हुआ था। श्री जीव गोस्वामी के यहाँ श्यामानंद जी तथा नरोत्तमदास ठाकुर के साथ भक्ति के ग्रंथों का बहुत दिनों तक अध्ययन किया। श्री जीव के आदेश से भक्तिग्रंथों का प्रतिलिपियाँ लेकर ये तीनों संवत् १६३९ में बंगाल तथा उत्कल में धर्मप्रचार करने चले। विष्णुपुर में डाकुओं ने धन समझकर ग्रंथों के संदूक लूट लिए। वहाँ का राजकुमार इनकी भक्ति तथा विद्वत्ता से प्रभावित होकर इनका शिष्य हो गया और उसने ग्रंथों को ढूँढ निकाला। उत्तर तथा पश्चिम बंगाल में इस धर्म के प्रचार का श्रेय इन्हें तथा नरोत्तमदास ठाकुर ही को है। इनकी मृत्यु संवत् १६६४ में हुई। श्रेणी:वैष्णव गुरु.

नई!!: ओडिशा और श्रीनिवासाचार्य · और देखें »

श्रीलंका का इतिहास

इतिहासकारों में इस बात की आम धारणा थी कि श्रीलंका के आदिम निवासी और दक्षिण भारत के आदिम मानव एक ही थे। पर अभी ताजा खुदाई से पता चला है कि श्रीलंका के शुरुआती मानव का सम्बंध उत्तर भारत के लोगों से था। भाषिक विश्लेषणों से पता चलता है कि सिंहली भाषा, गुजराती और सिंधी से जुड़ी है। प्राचीन काल से ही श्रीलंका पर शाही सिंहला वंश का शासन रहा है। समय समय पर दक्षिण भारतीय राजवंशों का भी आक्रमण भी इसपर होता रहा है। तीसरी सदी इसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक के पुत्र महेन्द्र के यहां आने पर बौद्ध धर्म का आगमन हुआ। इब्नबतूता ने चौदहवीं सदी में द्वीप का भ्रमण किया। .

नई!!: ओडिशा और श्रीलंका का इतिहास · और देखें »

श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15

वेतन विवाद के कारण वेस्ट इंडीज के भारत दौरे के परित्याग होने के बाद श्रीलंका क्रिकेट टीम ने भारत को 30 अक्टूबर से 16 नवंबर 2014 तक पांच वनडे के लिए खेले। भारत ने एकदिवसीय श्रृंखला में 5-0 से सीरीज जीती और अपने चौथे व्हॉइट वाश से हराया। यह श्रीलंका के पहले 0-5 से हार गया है। चौथे एकदिवसीय मैच में, भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा ने 264 रन बनाकर एक वनडे में सर्वाधिक स्कोर के लिए एक नया रिकॉर्ड बनाया। उन्होंने इस पारी में 33 चौके लगाए जो एक विश्व रिकॉर्ड भी है। .

नई!!: ओडिशा और श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा 2014-15 · और देखें »

सच्चिदानंद राउतराय

सच्चिदानंद राउतराय एक उड़िया साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कविता–1962 के लिये उन्हें सन् १९६३ में साहित्य अकादमी पुरस्कार (ओड़िया) से सम्मानित किया गया। इन्हें १९८६ में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। स्वाधीनता-संग्राम सहित अनेक आन्दोलनों में भाग लेने के कारण कई बार जेल-यात्रा। स्नातक करने के उपरान्त बीस वर्ष कोलकाता में नौकरी और फिर कटक-वास। .

नई!!: ओडिशा और सच्चिदानंद राउतराय · और देखें »

सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा

सत्येंद्रप्रसन्न सिन्हा बंगाल के एडवोकेट जनरल थे। वह पहले भारतीय थे जिन्होंने बाइसरॉय की काउंसिल में कानून सदस्य के रूप में प्रवेश करने का सम्मान प्राप्त किया। प्रथम महायुद्ध के पश्चात्‌ श्री सिन्हा को 'लॉर्ड' की उपाधि दी गई तथा वह 'अंडर सेक्रेटरी ऑव स्टेट फॉर इंडिया' के पद पर नियुक्त कर दिए गए। सन्‌ 1920 में लॉर्ड सिन्हा बिहार तथा उड़ीसा के गवर्नर नियुक्त हुए। .

नई!!: ओडिशा और सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा · और देखें »

सदाशिव त्रिपाठी

सदाशिव त्रिपाठी (२१ अप्रैल १९१० – ९ सितम्बर १९८०) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे। वो २१ फ़रवरी १९६५ से ८ मार्च १९६७ तक ओडिशा के मुख्यमंत्री रहे। .

नई!!: ओडिशा और सदाशिव त्रिपाठी · और देखें »

सम्पदानन्द मिश्र

सम्पदानन्द मिश्र (जन्म: 17 नवम्बर, 1971) भारत के एक संस्कृत-विद्वान हैं। वे मूलतः ओडिसा के निवासी हैं और सम्प्रति पुद्दुचेरी में रहते हैं जहाँ वे भारतीय सांस्कृतिक श्री अरविन्द फाउण्डेशन (Sri Aurobindo Foundation for Indian Culture) के निदेशक हैं। उनकी योजना 'वन्दे मातरम् पुस्तकालय' शुरू करने की है जो मुक्तस्रोत तथा स्वयंसेवकों द्वारा चालित परियोजना होगी और मूर्ति क्लासिकल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया से स्पर्धा करेगी। वर्ष २०१२ में भारत की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने उन्हें महर्षि वादरायण व्यास सम्मान से विभूषित किया। श्री मिश्र की विशेषज्ञता संस्कृत व्याकरण में है। .

नई!!: ओडिशा और सम्पदानन्द मिश्र · और देखें »

सम्बलपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

सम्बलपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में बीजू जनता दल के नागेन्द्र कुमार प्रधान यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और सम्बलपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

सम्बलपुर जिला

सम्बलपुर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय सम्बलपुर है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और सम्बलपुर जिला · और देखें »

सय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी

सय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी भारत में ट्वेंटी-20 क्रिकेट घरेलू चैंपियनशिप, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा आयोजित रणजी ट्रॉफी से टीमों के बीच था। 2008-09 सत्र में इस ट्रॉफी के लिए उद्घाटन सत्र था। यह एक प्रसिद्ध भारतीय क्रिकेटर के नाम पर है, सय्यद मुश्ताक अली। जून 2016 में बीसीसीआई ने घोषणा की है कि चैम्पियनशिप खत्म कर दिया है और एक जोनल आधारित प्रतियोगिता के साथ प्रतिस्थापित किया जाएगा। .

नई!!: ओडिशा और सय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी · और देखें »

सरबनी नन्दा

सरबनी नन्दा (अंग्रेजी:Srabani Nanda) (जो शरबनी नन्दा) के नाम से भी जानी जाती है एक भारतीय उड़ीसा की मूल लघुधावक महिला खिलाड़ी है। ये उड़ीसा के कांधमल ज़िले की निवासी है। .

नई!!: ओडिशा और सरबनी नन्दा · और देखें »

सरसों

भारतीय सरसों के पीले फूल सरसों क्रूसीफेरी (ब्रैसीकेसी) कुल का द्विबीजपत्री, एकवर्षीय शाक जातीय पौधा है। इसका वैज्ञानिक नाम ब्रेसिका कम्प्रेसटिस है। पौधे की ऊँचाई १ से ३ फुट होती है। इसके तने में शाखा-प्रशाखा होते हैं। प्रत्येक पर्व सन्धियों पर एक सामान्य पत्ती लगी रहती है। पत्तियाँ सरल, एकान्त आपाती, बीणकार होती हैं जिनके किनारे अनियमित, शीर्ष नुकीले, शिराविन्यास जालिकावत होते हैं। इसमें पीले रंग के सम्पूर्ण फूल लगते हैं जो तने और शाखाओं के ऊपरी भाग में स्थित होते हैं। फूलों में ओवरी सुपीरियर, लम्बी, चपटी और छोटी वर्तिकावाली होती है। फलियाँ पकने पर फट जाती हैं और बीज जमीन पर गिर जाते हैं। प्रत्येक फली में ८-१० बीज होते हैं। उपजाति के आधार पर बीज काले अथवा पीले रंग के होते हैं। इसकी उपज के लिए दोमट मिट्टी उपयुक्त है। सामान्यतः यह दिसम्बर में बोई जाती है और मार्च-अप्रैल में इसकी कटाई होती है। भारत में इसकी खेती पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और गुजरात में अधिक होती है। .

नई!!: ओडिशा और सरसों · और देखें »

सरसों का तेल

सरसों का तेल सरसों के तेल शब्द का इस्तेमाल तीन भिन्न प्रकार के तेलों के लिए किया जाता है जो सरसों के बीज से बने होते हैं।.

नई!!: ओडिशा और सरसों का तेल · और देखें »

सरह

सरह या सरहपा या सिद्ध सरहपा (आठवीं शती) हिन्दी के प्रथम कवि माने जाते हैं। उनको बौद्ध धर्म की वज्रयान और सहजयान शाखा का प्रवर्तक तथा आदि सिद्ध माना जाता है। उनका मूल नाम ‘राहुलभद्र’ था और उनके ‘सरोजवज्र’, ‘शरोरुहवज्र’, ‘पद्म‘ तथा ‘पद्मवज्र’ नाम भी मिलते हैं। वे पालशासक धर्मपाल (770-810 ई.) के समकालीन थे। उनके जन्म-स्थान को लेकर विवाद है। एक तिब्बती जनश्रुति के आधार पर उनका जन्म-स्थान उड़ीसा बताया गया है। एक जनश्रुति सहरसा जिले के पंचगछिया ग्राम को भी उनका जन्म-स्थान बताती है। .

नई!!: ओडिशा और सरह · और देखें »

सरहुल

सरहुल आदिवासियों का एक प्रमुख पर्व है जो झारखंड, उड़ीसा, बंगाल और मध्य भारत के आदिवासी क्षेत्रों में मनाया जाता है। यह उनके भव्य उत्सवों में से एक है। यह उत्सव चैत्र महीने के तीसरे दिन चैत्र शुक्ल तृतीया पर मनाया जाता है। आदिवासी लोग 'सरहुल' का जश्न मनाते हैं, जिसमें वृक्षों की पूजा की जाती है। यह पर्व नये साल की शुरुआत का प्रतीक है। यह वार्षिक महोत्सव वसंत ऋतु के दौरान मनाया जाता है एवम् पेड़ और प्रकृति के अन्य तत्वों की पूजा होती है। सरहुल का शाब्दिक अर्थ है 'साल की पूजा', सरहुल त्योहार धरती माता को समर्पित है - इस त्योहार के दौरान प्रकृति की पूजा की जाती है। सरहुल कई दिनों तक मनाया जाता है, जिसमें मुख्य पारंपरिक नृत्य सरहुल नृत्य किया जाता है। सरहुल वसंत ऋतु के दौरान मनाया जाता है और साल (शोरिया रोबस्टा) पेड़ों को अपनी शाखाओं पर नए फूल मिलते हैं। आदिवासियों का मानना ​​है कि वे इस त्योहार को मनाए जाने के बाद ही नई फसल का उपयोग मुख्य रूप से धान, पेड़ों के पत्ते, फूलों और फलों के फल का उपयोग कर सकते हैं। सरहुल महोत्सव कई किंवदंतियों के अनुसार महाभारत से जुडा हुआ है। जब महाभारत युद्ध चल रहा था तो मुंडा जनजातीय लोगों ने कौरव सेना की मदद की और उन्होंने इसके लिए भी अपना जीवन बलिदान किया। लड़ाई में कई मुंडा सेनानियों पांडवों से लड़ते हुए मर गए थे इसलिए, उनकी शवों को पहचानने के लिए, उनके शरीर को साल वृक्षों के पत्तों और शाखाओं से ढका गया था। निकायों जो पत्तियों और शाखाओं के पेड़ों से ढंके हुए थे, सुरक्षित नहीं थे, जबकि अन्य शव, जो कि साल के पेड़ से नहीं आते थे, विकृत हो गए थे और कम समय के भीतर सड़ गया थे। इससे साल के पेड़ पर उनका विश्वास दर्शाया गया है जो सरहुल त्योहार से काफी मजबूत है। त्योहार के दौरान फूलों के फूल सरना (पवित्र कब्र) पर लाए जाते हैं और पुजारी जनजातियों के सभी देवताओं का प्रायश्चित करता है। एक सरना वृक्ष का एक समूह है जहां आदिवासियों को विभिन्न अवसरों में पूजा होती है। कई अन्य लोगों के बीच इस तरह के एक ग्रोथ को कम से कम पांच सा वृक्षों को भी शोरज के रूप में जाना जाना चाहिए, जिन्हें आदिवासियों द्वारा बहुत ही पवित्र माना जाता है। यह गांव के देवता की पूजा है जिसे जनजाति के संरक्षक माना जाता है। नए फूल तब दिखाई देते हैं जब लोग गाते और नृत्य करते हैं। देवताओं की साला फूलों के साथ पूजा की जाती है पेड़ों की पूजा करने के बाद, गांव के पुजारी को स्थानीय रूप से जाने-पहल के रूप में जाना जाता है एक मुर्गी के सिर पर कुछ चावल अनाज डालता है स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि यदि मृगी भूमि पर गिरने के बाद चावल के अनाज खाते हैं, तो लोगों के लिए समृद्धि की भविष्यवाणी की जाती है, लेकिन अगर मुर्गी नहीं खाती, तो आपदा समुदाय की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इसके अलावा, आने वाले मौसम में पानी में टहनियाँ की एक जोड़ी देखते हुए वर्षा की भविष्यवाणी की जाती है। ये उम्र पुरानी परंपराएं हैं, जो पीढ़ियों से अनमोल समय से नीचे आ रही हैं। सभी झारखंड में जनजाति इस उत्सव को महान उत्साह और आनन्द के साथ मनाते हैं। जनजातीय पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को रंगीन और जातीय परिधानों में तैयार करना और पारंपरिक नृत्य करना। वे स्थानीय रूप से बनाये गये चावल-बीयर, हांडिया नाम से पीते हैं, चावल, पानी और कुछ पेड़ के पत्तों के कन्सेक्शन से पीसते हैं और फिर पेड़ के चारों ओर नृत्य करते हैं। हालांकि एक आदिवासी त्योहार होने के बावजूद, सरहुल भारतीय समाज के किसी विशेष भाग के लिए प्रतिबंधित नहीं है। अन्य विश्वास और समुदाय जैसे हिंदू, मुस्लिम, ईसाई लोग नृत्य करने वाले भीड़ को बधाई देने में भाग लेते हैं। सरहुल सामूहिक उत्सव का एक आदर्श उदाहरण प्रस्तुत करता है, जहां हर कोई प्रतिभागी है। इस दिन झारखंड में राजकीय अवकाश रहता है। .

नई!!: ओडिशा और सरहुल · और देखें »

साड़ी

साड़ी एक सबसे सुंदर पारंपरिक पोशाक है भारतीय। दैनिक दिनचर्या साड़ी में भारत के उत्तर से एक घरेलू भारतीय महिला, अच्छी तरह से बाँधी एवं पहनी हुई बाएँ साड़ी (कुछ इलाकों में सारी कहा जाता है) भारतीय स्त्री का मुख्य परिधान है। यह शायद विश्व की सबसे लंबी और पुराने परिधानों में से गिना जाता है। यह लगभग 5 से 6 गज लम्बी बिना सिली हुए कपड़े का टुकड़ा होता है जो ब्लाउज या चोली और साया के ऊपर लपेटकर पहना जाता है। .

नई!!: ओडिशा और साड़ी · और देखें »

सारस (पक्षी)

सारस विश्व का सबसे विशाल उड़ने वाला पक्षी है। इस पक्षी को क्रौंच के नाम से भी जानते हैं। पूरे विश्व में भारतवर्ष में इस पक्षी की सबसे अधिक संख्या पाई जाती है। सबसे बड़ा पक्षी होने के अतिरिक्त इस पक्षी की कुछ अन्य विशेषताएं इसे विशेष महत्व देती हैं। उत्तर प्रदेश के इस राजकीय पक्षी को मुख्यतः गंगा के मैदानी भागों और भारत के उत्तरी और उत्तर पूर्वी और इसी प्रकार के समान जलवायु वाले अन्य भागों में देखा जा सकता है। भारत में पाये जाने वाला सारस पक्षी यहां के स्थाई प्रवासी होते हैं और एक ही भौगोलिक क्षेत्र में रहना पसंद करते हैं। सारस पक्षी का अपना विशिष्ट सांस्कृतिक महत्व भी है। विश्व के प्रथम ग्रंथ रामायण की प्रथम कविता का श्रेय सारस पक्षी को जाता है। रामायण का आरंभ एक प्रणयरत सारस-युगल के वर्णन से होता है। प्रातःकाल की बेला में महर्षि वाल्मीकि इसके द्रष्टा हैं तभी एक आखेटक द्वारा इस जोड़े में से एक की हत्या कर दी जाती है। जोड़े का दूसरा पक्षी इसके वियोग में प्राण दे देता है। ऋषि उस आखेटक को श्राप देते हैं। अर्थात्, हे निषाद! तुझे निरंतर कभी शांति न मिले। तूने इस क्रौंच के जोड़े में से एक की जो काम से मोहित हो रहा था, बिना किसी अपराध के हत्या कर डाली। .

नई!!: ओडिशा और सारस (पक्षी) · और देखें »

सांथाल जनजाति

संथाल जनजाति झारखंड के ज्यादातर हिस्सों तथा पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और असम के कुछ जिलों में रहने वाली भारत की प्राचीनतम जनजातियों में से एक है। ये भारत के प्रमुख आदिवासी समूह है। इनका निवास स्थान मुख्यतः झारखंड प्रदेश है। झारखंड से बाहर ये बंगाल, बिहार, उड़ीसा, मध्य प्रदेश, असम, में रहते है। संथाल प्रायः नाटे कद के होता है। इनकी नाक चौड़ी तथा चिपटी होती है। इनका संबंध प्रोटो आस्ट्रेलायड से है। संथालों के समाज में मुख्य व्यक्ति इनका मांझी होता है। मदिरापान तथा नृत्य इनके दैनिक जीवन का अंग है। अन्य आदिवासी समुहों की तरह इनमें भी जादू टोना प्रचलित है। संथालो की अन्य विषेशता इनके सुन्दर ढंग के मकान हैं जिनमें खिडकीयां नहीं होती हैं। संथाल मारांग बुरु की उपासना करतें हैं साथ ही ये सरना धर्म का पालन करते हैं। इनकी भाषा संथाली और लिपि ओल चिकी है। इनके बारह मूल गोत्र हैं; मरांडी, सोरेन, हासंदा, किस्कू, टुडू, मुर्मू, हेम्ब्रम, बेसरा, बास्की, चौड़े, बेदिया, एवं पौरिया। संताल समुदाय मुख्यतः बाहा, सोहराय, माग, ऐरोक, माक मोंड़े, जानथाड़, हरियाड़ सीम, आराक सीम, जातरा, पाता, बुरु मेरोम, गाडा पारोम तथा सकरात नामक पर्व / त्योहार मनाते हैं। इनके विवाह को 'बापला' कहा जता है। संताल समुदाय में कुल 23 प्रकार की विवाह प्रथायें है, जो निम्न प्रकार है - उनकी अद्वितीय विरासत की परंपरा और आश्चर्यजनक परिष्कृत जीवन शैली है। सबसे उल्लेखनीय हैं उनके लोकसंगीत, गीत और नृत्य हैं। संथाली भाषा व्यापक रूप से बोली जाती है। दान करने की संरचना प्रचुर मात्रा में है। उनकी स्वयं की मान्यता प्राप्त लिपि 'ओल-चिकी' है, जो संताल समुदाय के लिये अद्वितीय है। संथाल के सांस्कृतिक शोध दैनिक कार्य में परिलक्षित होते है- जैसे डिजाइन, निर्माण, रंग संयोजन और अपने घर की सफाई व्यवस्था में है। दीवारों पर आरेखण, चित्र और अपने आंगन की स्वच्छता कई आधुनिक शहरी घर के लिए शर्म की बात होगी। संथाल के सहज परिष्कार भी स्पष्ट रूप से उनके परिवार के पैटर्न -- पितृसत्तात्मक, पति पत्नी के साथ मजबूत संबंधों को दर्शाता है। विवाह अनुष्ठानों में पूरा समुदाय आनन्द के साथ भाग लेते हैं। लड़का और लड़की का जन्म आनंद का अवसर हैं। संथाल मृत्यु के शोक अन्त्येष्टि संस्कार को अति गंभीरता से मनाया जाता है। संताल समुदाय का धार्मिक विश्वासों और अभ्यास किसी भी अन्य समुदाय या धर्म से मेल नहीं खाता है। इनमें प्रमुख देवता हैं- 'सिंग बोंगा', 'मारांग बुरु' और 'जाहेर एरा, गोसांय एरा, मांझी बाबा - गोगो, आदि। पूजा अनुष्ठान में बलिदानों का इस्तेमाल किया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और सांथाल जनजाति · और देखें »

साक्षरता दर के आधार पर भारत के राज्य

यह सूची भारत के राज्यों की साक्षरता दर के आधार पर है। यह सूची एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एन॰एफ॰एच॰एस-३) एक बड़े पैमाने का सर्वेक्षण है जो स्वास्थ्य और जन-कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा नामित अंतर्राष्ट्रीय जन-संख्य विज्ञान संस्थान, मुम्बई द्वारा किया जाता है। एन॰एफ॰एच॰एस-३ ११ अक्टूबर २००७ को जारी किया गया था और पूरा सर्वेक्षण इस वेबसाइट पर देखा जा सकता है। .

नई!!: ओडिशा और साक्षरता दर के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

सिद्ध (बौद्ध-धर्म)

सिद्ध बौद्ध धर्म की वज्रयान शाखा से सम्बंधित हैं। सिद्धों ने बौद्ध-धर्म के वज्रयान तत्व का प्रचार करने के लिए जन भाषा में जो साहित्य लिखा वह हिन्दी के सिद्ध साहित्य के अन्तर्गत आता है। राहुल सांकृत्यायन ने चौरासी सिद्धों के नामो का उल्लेख किया है। सिद्ध साहित्य का आरम्भ सिद्ध सरहपा से होता है। सरहपा को प्रथम सिद्ध माना जाता है। इन सिद्धों में सरहपा, शबरपा, लुइपा, डोम्भिपा, कण्हपा तथा कुक्कुरिपा हिन्दी के प्रमुख सिद्ध कवि हैं। .

नई!!: ओडिशा और सिद्ध (बौद्ध-धर्म) · और देखें »

सिद्धांत महापात्रा

सिद्धांत महापात्रा भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की बरहमपुर सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और सिद्धांत महापात्रा · और देखें »

सिन्धु-गंगा के मैदान

सिन्धु-गंगा मैदान का योजनामूलक मानचित्र सिन्धु-गंगा का मैदान, जिसे उत्तरी मैदानी क्षेत्र तथा उत्तर भारतीय नदी क्षेत्र भी कहा जाता है, एक विशाल एवं उपजाऊ मैदानी इलाका है। इसमें उत्तरी तथा पूर्वी भारत का अधिकांश भाग, पाकिस्तान के सर्वाधिक आबादी वाले भू-भाग, दक्षिणी नेपाल के कुछ भू-भाग तथा लगभग पूरा बांग्लादेश शामिल है। इस क्षेत्र का यह नाम इसे सींचने वाली सिन्धु तथा गंगा नामक दो नदियों के नाम पर पड़ा है। खेती के लिए उपजाऊ मिट्टी होने के कारण इस इलाके में जनसंख्या का घनत्व बहुत अधिक है। 7,00,000 वर्ग किमी (2,70,000 वर्ग मील) जगह पर लगभग 1 अरब लोगों (या लगभग पूरी दुनिया की आबादी का 1/7वां हिस्सा) का घर होने के कारण यह मैदानी इलाका धरती की सर्वाधिक जनसंख्या वाले क्षेत्रों में से एक है। सिन्धु-गंगा के मैदानों पर स्थित बड़े शहरों में अहमदाबाद, लुधियाना, अमृतसर, चंडीगढ़, दिल्ली, जयपुर, कानपुर, लखनऊ, इलाहाबाद, वाराणसी, पटना, कोलकाता, ढाका, लाहौर, फैसलाबाद, रावलपिंडी, इस्लामाबाद, मुल्तान, हैदराबाद और कराची शामिल है। इस क्षेत्र में, यह परिभाषित करना कठिन है कि एक महानगर कहां शुरू होता है और कहां समाप्त होता है। सिन्धु-गंगा के मैदान के उत्तरी छोर पर अचानक उठने वाले हिमालय के पर्वत हैं, जो इसकी कई नदियों को जल प्रदान करते हैं तथा दो नदियों के मिलन के कारण पूरे क्षेत्र में इकट्ठी होने वाली उपजाऊ जलोढ़ मिटटी के स्रोत हैं। इस मैदानी इलाके के दक्षिणी छोर पर विंध्य और सतपुड़ा पर्वत श्रृंखलाएं तथा छोटा नागपुर का पठार स्थित है। पश्चिम में ईरानी पठार स्थित है। .

नई!!: ओडिशा और सिन्धु-गंगा के मैदान · और देखें »

सिमडेगा

सिमडेगा भारत में झारखंड प्रान्त का एक जिला है। यह राज्य के दक्षिण पश्चिम हिस्से में स्थित है। भौगोलिक रूप से यह उत्तर में गुमला, पूर्व में राँची एवं पश्चिमी सिंहभूम, दक्षिण में उड़ीसा, एवं पश्चिम में छत्तीसगढ से घिरा है। जिले का कुल क्षेत्रफल लगभग 3768.13 वर्ग किमी है। यहाँ की ज्यादातर आबादी, लगभग 71 प्रतिशत अनुसूचित जनजातियों की है जो झारखंड में किसी भी जिले से ज्यादा है। सिमडेगा जिले में दस प्रखंड हैं जिनमें - सिमडेगा, कोलेबिरा, बांसजोर, कुरडेग, केरसई, बोलबा, पाकरटांड, ठेठईटांगर, बानो एवं जलडेगा शामिल हैं। वैसे तो पूरा सिमडेगा जिला ही प्राकृतिक दृष्टि से पर्यटन क्षेत्र की तरह है, क्योंकि यह पूरी तरह से प्राकृति की गोद में बसा है, फिर भी सिमडेगा जिले के प्रमुख स्थल हैं - केलाघाघ डैम, अनजान शाह पीर बाबा, रामरेखा धाम, केतुन्गा धाम। इसके अलवा यहाँ हरीयाली, नदी, डैम, झरने, के लिहाज से पूरा सिमडेगा ही पर्यटन स्थल है। मेहनती किसान, यहाँ के लोग, यहाँ की संस्कृति काफी अलग और सुंदर है। .

नई!!: ओडिशा और सिमडेगा · और देखें »

सिमलिपाल राष्ट्रीय अभ्यारण्य

सिमलिपाल राष्ट्रीय उद्यान भारत के ओडीशा राज्य के मयूरभंज अनुसूचित जिला में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है तथा एक हाथी अभयारण्य है। इस उद्यान का नाम सेमल या लाल कपास के पेड़ों की वजह से पड़ा है जो यहाँ बहुतायत में पाये जाते हैं। यह पार्क ८४५.७० वर्ग किलोमीटर (३२६.५३ वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें जोरांडा और बरेहीपानी जैसे खूबसूरत झरने हैं। इस उद्यान में ९९ बाघ, ४३२ हाथियों के अलावा गौर तथा चौसिंगे भी वास करते हैं। ओडिशा के मयूरभंज जिला मे अवस्थित मयूरभंज राज्य के पूर्ववर्ती शासकों का यह शिकार स्थल प्रोजेक्ट टाइगर के अन्तर्गत शामिल किया गया है। 1956 में इसका चयन आधिकारिक रूप से टाइगर रिजर्व के लिए किया गया था। बारीपदा से 60 किलोमीटर दूर स्थित इसको वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया जो 2277.07 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। घने जंगलों, झरनों और पहाड़ियों से समृद्ध इस पार्क में विविध वन्यजीवों को नजदीक से देखा जा सकता है। बाघ, हिरन, हाथी और अन्य बहुत से जीव इस पार्क में मूलत: पाए जाते हैं। .

नई!!: ओडिशा और सिमलिपाल राष्ट्रीय अभ्यारण्य · और देखें »

सिमलीपाल जल प्रपात

सिमलीपाल जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और सिमलीपाल जल प्रपात · और देखें »

सिराजुद्दौला

मिर्ज़ा मुहम्मद सिराज उद-दावला, (फारसी:مرزا محمد سراج الدولہ,बांग्ला: নবাব সিরাজদৌল্লা) प्रचलित नाम सिराज-उद्दौला (१७३३-२ जुलाई,१७५७) बंगाल, बिहार और उड़ीसा का संयुक्त नवाब था। उसके शासन का अंत ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का आरंभ माना जाता है। अंग्रेज़ उसे हिन्दुस्तानी सही ना बोल पाने के कारण सर रोजर डॉवलेट कहते थे। .

नई!!: ओडिशा और सिराजुद्दौला · और देखें »

सिलेरु नदी

सिलेरु नदी आन्ध्र प्रदेश और ओड़िशा में बहने वाली एक नदी है। यह साबरि नदी की एक शाखा है। सिलेरू नदी ओड़ीसा से प्रवाहित होते हुए सबारि नदी से मिल जाती है और फिर आन्ध्र प्रदेश में प्रवेश करती है। आगे चलकर यह गोदावरी नदी में मिल जाती है। श्रेणी:भारत की नदियाँ.

नई!!: ओडिशा और सिलेरु नदी · और देखें »

सवारी

सवारी उड़ीसा का परिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और सवारी · और देखें »

संचार (नृत्य)

संचार उड़ीसा का परिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और संचार (नृत्य) · और देखें »

संतसाहित्य

संतसाहित्य का इस लेख में अर्थ है- वह साहित्य जो निर्गुणिए भक्तों द्वारा रचा जाए। यह आवश्यक नहीं कि सन्त उसे ही कहा जाए जो निर्गुण ब्रह्म का उपासक हो। इसके अंतर्गत लोकमंगलविधायी सभी सत्पुरुष आ जाते हैं, किंतु आधुनिक कतिपय साहित्यकारों ने निर्गुणिए भक्तों को ही "संत" की अभिधा दे दी और अब यह शब्द उसी वर्ग में चल पड़ा है। "संत" शब्द संस्कृत "सत्" के प्रथमा का बहुवचनान्त रूप है, जिसका अर्थ होता है सज्जन और धार्मिक व्यक्ति। हिन्दी में साधु पुरुषों के लिए यह शब्द व्यवहार में आया। कबीर, सूरदास, गोस्वामी तुलसीदास आदि पुराने कवियों ने इस शब्द का व्यवहार साधु और परोपकारी, पुरुष के अर्थ में बहुलांश: किया है और उसके लक्षण भी दिए हैं। लोकोपकारी संत के लिए यह आवश्यक नहीं कि यह शास्त्रज्ञ तथा भाषाविद् हो। उसका लोकहितकर कार्य ही उसके संतत्व का मानदंड होता है। हिंदी साहित्यकारों में जो "निर्गुणिए संत" हुए उनमें अधिकांश अनपढ़ किंवा अल्पशिक्षित ही थे। शास्त्रीय ज्ञान का आधार न होने के कारण ऐसे लोग अपने अनुभव की ही बातें कहने को बाध्य थे। अत: इनके सीमित अनुभव में बहुत सी ऐसी बातें हो सकती हैं, जो शास्त्रों के प्रतिकूल ठहरें। अल्पशिक्षित होने के कारण इन संतों ने विषय को ही महत्व दिया है, भाषा को नहीं। इनकी भाषा प्राय: अनगढ़ और पंचरंगी हो गई है। काव्य में भावों की प्रधानता को यदि महत्व दिया जाए तो सच्ची और खरी अनुभूतियों की सहज एवं साधारणोकृत अभिव्यक्ति के कारण इन संतों में कइयों की बहुवेरी रचनाएँ उत्तम कोटि के काव्य में स्थान पाने की अधिकारिणी मानी जा सकती है। परंपरापोषित प्रत्येक दान का आँख मूँदकर वे समर्थन नहीं करते। इनके चिंतन का आकार सर्वमानववाद है। ये मानव मानव में किसी प्रकार का अंतर नहीं मानते। इनका कहना है कि कोई भी व्यक्ति अपने कुलविशेष के कारण किसी प्रकार वैशिष्ट्य लिए हुए उत्पन्न नहीं होता। इनकी दृष्टि में वैशिष्ट्य दो बातों को लेकर मानना चाहिए: अभिमानत्यागपूर्वक परोपकार या लोकसेवा तथा ईश्वरभक्ति। इस प्रकार स्वतंत्र चिंतन के क्षेत्र में इन संतों ने एक प्रकार की वैचारिक क्रांति को जन्म दिया। .

नई!!: ओडिशा और संतसाहित्य · और देखें »

संथाली भाषा

संताली मुंडा भाषा परिवार की प्रमुख भाषा है। यह असम, झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ, बिहार, त्रिपुरा तथा बंगाल में बोली जाती है। संथाली, हो और मुंडारी भाषाएँ आस्ट्रो-एशियाई भाषा परिवार में मुंडा शाखा में आती हैं। संताल भारत, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान में लगभग ६० लाख लोगों से बोली जाती है। उसकी अपनी पुरानी लिपि का नाम 'ओल चिकी' है। अंग्रेजी काल में संथाली रोमन में लिखी जाती थी। भारत के उत्तर झारखण्ड के कुछ हिस्सोँ मे संथाली लिखने के लिये देवनागरी लिपि का प्रयोग होता है। संतालों द्वारा बोली जानेवाली भाषा को संताली कहते हैं। .

नई!!: ओडिशा और संथाली भाषा · और देखें »

संबलपुर

संबलपुर भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। इसका नाम 'समलेश्वरी देवी' के नाम पर पड़ा है जो शक्तिरूपा हैं और इस क्षेत्र में पूज्य देवी हैं। संबलपुर, भुवनेश्वर से ३२१ किमी की दूरी पर है। इतिहास में इसे 'संबलक', 'हीराखण्ड', 'ओडियान' (उड्डियान), 'ओद्र देश', 'दक्षिण कोशल' और 'कोशल' आदि नामों से संबोधित किया गया है। महानदी इस जिले को विभक्त करती है। यह जिला तरंगित समतल है, जिसमें कई पहाड़ियाँ हैं। इनमें से सबसे बड़ी पहाड़ी ३०० वर्ग मील में फैली हुई है। जिले में महानदी के पश्चिमी भाग में सघन खेती होती है और पूर्वी भाग के अधिकांश में जंगल हैं। जिले में हीराकुड पर बाँध बनाकर सिंचाई के लिए जल एवं उद्योगों के लिए विद्युत् प्राप्त की जा रही है। महानदी और इब नदी के संगमस्थल के समीप हीराकुड में स्वर्णबालू एवं हीरा पाया गया है। संबलपुर, छत्तीसगढ़ और ओड़िशा राज्यों के बीच स्थित है और दोनों प्रान्तों को जोड़ता है। महानदी के बायें किनारे पर स्थित यह नगर कभी हीरों के व्यवसाय का केन्द्र था। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त सूती और रेशमी बुनावट (टशर रेशम) की वस्त्र-कारीगरी (इकत), आदिवासी समृद्ध विरासत और प्रचुर जंगल भूमि के लिए प्रसिद्ध है। नगर की पृष्ठभूमि में वनाच्छादित पहाड़ियाँ स्थित हैं, जिनके कारण नगर सुंदर लगता है। संबलपुर ओड़िशा के जादूई पश्चिमी भाग का प्रवेश द्वार के रूप में सेवारत है। यह राज्य के उत्तरी प्रशासकीय मंडल का मंडल मुख्यालय है - जो एक महत्वपूर्ण और व्यावसायिक और शिक्षा केन्द्र हैं। .

नई!!: ओडिशा और संबलपुर · और देखें »

संबित पात्रा

डॉ संबित पात्रा (जन्म 13 दिसंबर, 1974) एक भारतीय राजनेता एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। सन् 2006 में इन्होने एक एनजीओ स्वराज स्थापित किया, जिसका उद्देश्य पिछड़े समुदाय जैसे दलित वंचितों को स्वास्थ्य देखभाल की सुविधा और स्वछता में सहायता करना है। यह एनजीओ मुख्य रूप से डॉक्टरो, वकीलों और कुछ पुलिस अधिकारियों का समूह है। .

नई!!: ओडिशा और संबित पात्रा · और देखें »

संस्थागत प्रसव के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

इस सूची में भारत के राज्य प्रतिशत में अस्पताल में जन्में शिशुओं के आधार पर है। इस सूची के आँकड़े राष्ट्रीय पारिवारिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण-3 से लिए गए हैं। श्रेणी:भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से संबंधित सूचियाँ.

नई!!: ओडिशा और संस्थागत प्रसव के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

सुदर्शन पटनायक

सुदर्शन पटनायक सुदर्शन पटनायक द्वारा निर्मित बालू की एक मूर्ति सुदर्शन पटनायक (जन्म: १५ अप्रैल १९७७) भारत के ओडिशा के प्रसिद्ध रेत-कलाकार हैं। उनको कला के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए 2014 में भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया। वे ओडिशा राज्य से हैं। वे रेत से कलाकृतियाँ बनाते हैं। .

नई!!: ओडिशा और सुदर्शन पटनायक · और देखें »

सुधीरा दास

सुधीरा दास (८ मार्च १९३२ - ३० अक्टूबर २०१५) एक भारतीय महिला अभियंता थीं। वे उड़ीसा की पहली महिला अभियंता थीं। .

नई!!: ओडिशा और सुधीरा दास · और देखें »

सुनादेब अभयारण्य

सुनादेब अभयारण्य उड़ीसा के नुआपाड़ा के निकट स्थित है। 600 वर्ग किलोमीटर में फैला यह अभयारण्य छत्तीसगढ़ की सीमा के निकट स्थित है। इसे बारहसिंहा का आदर्श स्थान माना जाता है। साथ ही बाघ, तेंदुए, हेना, बार्किंग डीयर, चीतल, गौर, स्लोथ बीयर और पक्षियों की विविध प्रजातियां देखी जा सकती हैं। श्रेणी:उड़ीसा के अभयारण्य श्रेणी:अभयारण्य.

नई!!: ओडिशा और सुनादेब अभयारण्य · और देखें »

सुन्दरगड़ जिला

सुन्दरगड़ भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय सुन्दरगड़ है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और सुन्दरगड़ जिला · और देखें »

सुन्दरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

सुन्दरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के ओडिशा का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। 2014 चुनाव में सोलहवीं लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी के जुएल उरांव यहाँ के सांसद बने। .

नई!!: ओडिशा और सुन्दरगढ़ लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

सुनीता लाकरा

सुनीता लाकरा (Sunita Lakra) (जन्म ११ जून १९९१) एक भारतीय महिला हॉकी की खिलाड़ी है जिनका जन्म उड़ीसा में हुआ था। ये भारतीय महिला हॉकी टीम में खेलती है। इन्होंने २००९ में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया। .

नई!!: ओडिशा और सुनीता लाकरा · और देखें »

सुभाष चन्द्र बोस

सुभाष चन्द्र बोस (बांग्ला: সুভাষ চন্দ্র বসু उच्चारण: शुभाष चॉन्द्रो बोशु, जन्म: 23 जनवरी 1897, मृत्यु: 18 अगस्त 1945) जो नेता जी के नाम से भी जाने जाते हैं, भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी नेता थे। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके द्वारा दिया गया जय हिन्द का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा" का नारा भी उनका था जो उस समय अत्यधिक प्रचलन में आया। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि जब नेता जी ने जापान और जर्मनी से मदद लेने की कोशिश की थी तो ब्रिटिश सरकार ने अपने गुप्तचरों को 1941 में उन्हें ख़त्म करने का आदेश दिया था। नेता जी ने 5 जुलाई 1943 को सिंगापुर के टाउन हाल के सामने 'सुप्रीम कमाण्डर' के रूप में सेना को सम्बोधित करते हुए "दिल्ली चलो!" का नारा दिया और जापानी सेना के साथ मिलकर ब्रिटिश व कामनवेल्थ सेना से बर्मा सहित इम्फाल और कोहिमा में एक साथ जमकर मोर्चा लिया। 21 अक्टूबर 1943 को सुभाष बोस ने आजाद हिन्द फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से स्वतन्त्र भारत की अस्थायी सरकार बनायी जिसे जर्मनी, जापान, फिलीपींस, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड ने मान्यता दी। जापान ने अंडमान व निकोबार द्वीप इस अस्थायी सरकार को दे दिये। सुभाष उन द्वीपों में गये और उनका नया नामकरण किया। 1944 को आजाद हिन्द फौज ने अंग्रेजों पर दोबारा आक्रमण किया और कुछ भारतीय प्रदेशों को अंग्रेजों से मुक्त भी करा लिया। कोहिमा का युद्ध 4 अप्रैल 1944 से 22 जून 1944 तक लड़ा गया एक भयंकर युद्ध था। इस युद्ध में जापानी सेना को पीछे हटना पड़ा था और यही एक महत्वपूर्ण मोड़ सिद्ध हुआ। 6 जुलाई 1944 को उन्होंने रंगून रेडियो स्टेशन से महात्मा गांधी के नाम एक प्रसारण जारी किया जिसमें उन्होंने इस निर्णायक युद्ध में विजय के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनायें माँगीं। नेताजी की मृत्यु को लेकर आज भी विवाद है। जहाँ जापान में प्रतिवर्ष 18 अगस्त को उनका शहीद दिवस धूमधाम से मनाया जाता है वहीं भारत में रहने वाले उनके परिवार के लोगों का आज भी यह मानना है कि सुभाष की मौत 1945 में नहीं हुई। वे उसके बाद रूस में नज़रबन्द थे। यदि ऐसा नहीं है तो भारत सरकार ने उनकी मृत्यु से सम्बंधित दस्तावेज़ अब तक सार्वजनिक क्यों नहीं किये? 16 जनवरी 2014 (गुरुवार) को कलकत्ता हाई कोर्ट ने नेताजी के लापता होने के रहस्य से जुड़े खुफिया दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की माँग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई के लिये स्पेशल बेंच के गठन का आदेश दिया। .

नई!!: ओडिशा और सुभाष चन्द्र बोस · और देखें »

सुलुव राजवंश

सुलुव राजवंश इस राजवंश के निर्माता "सुलुवास" है इस राजवंश के राजाओं ने भारत के कर्नाटक राज्य के कल्याणी क्षेत्र में राज किया था। Durga Prasad, p219 सुलुव ("Saluva") शब्द का प्रयोग बाज का शिकार करने में किया जाता है वे बाद में शायद प्रवास से या 14 वीं सदी के दौरान विजयनगर साम्राज्य में फैल गए थे सलुवा नरसिंह सुलुव राजवंश के पहले राजा थे जिन्होंने १४८६ से १४९१ तक शासन किया। ये  वंश के सत्तारूढ़ राजा थे। नरसिंह राय ने उड़ीसा के राजा के अतिक्रमण को रोकने का प्रयास किया था। .

नई!!: ओडिशा और सुलुव राजवंश · और देखें »

सुंदरगढ

सुंदरगढ भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और सुंदरगढ · और देखें »

सुकमा

सुकमा भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ के दक्षिण पूर्व में उड़ीसा की सीमा से लगा एक जिला है। यह जिला नक्सलवाद की समस्या से जूझ रहा है। .

नई!!: ओडिशा और सुकमा · और देखें »

स्थापित ऊर्जा उत्पादन क्षमता के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र

भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों की यह सूची स्थापित ऊर्जा उत्पादन क्षमता के आधार पर है जो ऊर्जा मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आँकड़ों (३ अप्रैल २००६) के अनुसार है। सभी आँकड़े मेगावॉट (१० लाख वॉट) में हैं। नोट: निजी उत्पादको द्वारा संचालित संयंत्र उपयोगिता में पंजीकृत नहीं हैं इसलिए उनके द्वारा उत्पादित ऊर्जा इसमें सम्मिलित नहीं कि गई है। .

नई!!: ओडिशा और स्थापित ऊर्जा उत्पादन क्षमता के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र · और देखें »

स्नाघाघरा जल प्रपात

स्नाघाघरा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और स्नाघाघरा जल प्रपात · और देखें »

स्पिरिट एअर (भारत)

स्पिरिट एअर (भारत) एक चार्टर एयरलाइन है जो संचालन बेंगलुरु और कोलकाता से करती है। यह फिलहाल बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा मे सेवाएँ प्रदान करती है। यह दक्षिण भारत मे विस्तार करना चाहती है। यह संचालन के लिए सेसस्ना 172 विमान का उपयोग करती है। .

नई!!: ओडिशा और स्पिरिट एअर (भारत) · और देखें »

स्वामी निगमानन्द परमहंस

स्वामी निगमानन्द परमहंस (18 अगस्त 1880 - 29 नवम्बर 1935) भारत के एक महान सन्यासी ब सदगुरु थे। उनके शिश्य लोगं उन्हें आदरपूर्वक श्री श्री ठाकुर बुलाते हैं। ऐसा माना जाता है की स्वामी निगमानंद ने तंत्र, ज्ञान, योग और प्रेम(भक्ति) जैशे चतुर्विध साधना में सिद्धि प्राप्त की थी, साथ साथ में कठिन समाधी जैसे निर्विकल्प समाधी का भी अनुभूति लाभ किया था। उनके इन साधना अनुभूति से बे पांच प्रसिध ग्रन्थ यथा ब्रह्मचर्य साधन, योगिगुरु, ज्ञानीगुरु, तांत्रिकगुरु और प्रेमिकगुरु बंगला भाषा में प्रणयन किये थे। उन्होंने असाम बंगीय सारस्वत मठ जोरहट जिला और नीलाचल सारस्वत संघ पूरी जिला में स्थापना की थी जो आज भी अपना काम कर रहा है। उन्होने सारे साधना मात्र तिन साल में (1902-1905) समाप्त कर लिया था और परमहंस श्रीमद स्वामी निगमानंद सारस्वती देव के नाम से विख्यात हुए। .

नई!!: ओडिशा और स्वामी निगमानन्द परमहंस · और देखें »

सूती साड़ी

सूती साड़ी पतले सूती यार्न से बुनाई गई एक कपड़े का टुकड़ा है जिस्की लंबाई साडे-चार से आठ मीटर और चौड़ाई में एक मीटर तक होती है। यह कपड़ा भारतीय महिलाऍ अलग अलग तरीकों से शरीर के चारों ओर लपेटती है। साड़ी शरीर के एक ओर से लेकर कमर के चारों ओर लपेट कर, दूसरे ढीले ओर को कंधे पर आराम से छोड दिया जाता है या फिर कमरे के एक तरफ घुसाया जाता है। सूती साड़ी दुनिया भर में महिलाऍ इश्टता से उन्हें पहनती है क्योंकि ये उन्के खूबसूरती को बढाती हैं। .

नई!!: ओडिशा और सूती साड़ी · और देखें »

सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला

उत्तराखंड राज के थीम पर बना बद्रीनाथ मंदिर की तरह का मेले का प्रवेशद्वार सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला, भारत की एवं शिल्पियों की हस्तकला का १५ दिन चलने वाला मेला लोगों को ग्रामीण माहौल और ग्रामीण संस्कृति का परिचय देता है। यह मेला हरियाणा राज्य के फरीदाबाद शहर के दिल्ली के निकटवर्ती सीमा से लगे सूरजकुंड क्षेत्र में प्रतिवर्ष लगता है। यह मेला लगभग ढाई दशक से आयोजित होता आ रहा है। वर्तमान में इस मेले में हस्तशिल्पी और हथकरघा कारीगरों के अलावा विविध अंचलों की वस्त्र परंपरा, लोक कला, लोक व्यंजनों के अतिरिक्त लोक संगीत और लोक नृत्यों का भी संगम होता है।। हिन्दुस्तान लाइव। २८ जनवरी २०१० इस मेले में हर वर्ष किसी एक राज्य को थीम बना कर उसकी कला, संस्कृति, सामाजिक परिवेश और परंपराओं को प्रदर्शित किया जाता है। वर्ष २०१० में राजस्थान थीम राज्य है। इसे दूसरी बार यह गौरव प्राप्त हुआ है। मेले में लगे स्टॉल हर क्षेत्र की कला से परिचित कराते हैं। सार्क देशों एवं थाईलैंड, तजाकिस्तान और मिस्र के कलाशिल्पी भी यहां आते हैं। पश्चिम बंगाल और असम के बांस और बेंत की वस्तुएं, पूर्वोत्तर राज्यों के वस्त्र, छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश से लोहे व अन्य धातु की वस्तुएं, उड़ीसा एवं तमिलनाडु के अनोखे हस्तशिल्प, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब और कश्मीर के आकर्षक परिधान और शिल्प, सिक्किम की थंका चित्रकला, मुरादाबाद के पीतल के बर्तन और शो पीस, दक्षिण भारत के रोजवुड और चंदन की लकड़ी के हस्तशिल्प भी यहां प्रदर्शित हैं। यहां अनेक राज्यों के खास व्यंजनों के साथ ही विदेशी खानपान का स्वाद भी मिलता है। मेला परिसर में चौपाल और नाट्यशाला नामक खुले मंच पर सारे दिन विभिन्न राज्यों के लोक कलाकार अपनी अनूठी प्रस्तुतियों से समा बांधते हैं। शाम के समय विशेष सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। दर्शक भगोरिया डांस, बीन डांस, बिहू, भांगड़ा, चरकुला डांस, कालबेलिया नृत्य, पंथी नृत्य, संबलपुरी नृत्य और सिद्घी गोमा नृत्य आदि का आनंद लेते हैं। विदेशों की सांस्कृतिक मंडलियां भी प्रस्तुति देती हैं। .

नई!!: ओडिशा और सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला · और देखें »

सेलिना जेटली

सेलिना जेटली (जन्म २४ नवम्बर १९८१), एक भारतीय अभिनेत्री और पूर्व सुंदरी है। उन्हें २००१ में फेमिना मिस इंडिया का ताज पहनाया गया था। .

नई!!: ओडिशा और सेलिना जेटली · और देखें »

सोनपुर जल प्रपात

सोनपुर जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और सोनपुर जल प्रपात · और देखें »

सोनपुर जिला

सोनपुर या सुबर्णपुर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और सोनपुर जिला · और देखें »

सोना मोहपात्रा

सोना मोहापात्रा भारतीय गीतकार, संगीतकार और गायिका हैं। उनका जन्म कटक, उड़िसा में हुआ। सोना मोहपात्रा मुख्य रूप से भारत में चर्चित हैं। सोना मोहपात्रा ने दुनिया भर के अनेक संगीत समारोहों में प्रदर्शन किया गया है और एलबम, एकल, संगीत कार्यक्रम वेबकास्ट, संगीत विडियो बॉलीवुड फिल्मों और विज्ञापनों में चित्रित किया गया है। उनकी खुद की सामग्री के आलावा, सोना मोहपात्रा ने विशेष रूप से सफल साबित "उत्तरार्द्ध" के साथ "खौफ के साये" एवं "चलो नृत्य" और INXS, साथ, डेविड बॉवी जैसे गानों के रीमिक्स किया है। .

नई!!: ओडिशा और सोना मोहपात्रा · और देखें »

सीता अशोक

सीता अशोक सीता अशोक अशोक वृक्ष के पुष्प को कहते है। यह भारत के उड़ीसा प्रान्त का राजकिय पुष्प है। श्रेणी:पुष्प.

नई!!: ओडिशा और सीता अशोक · और देखें »

हँड़िया

हँड़िया को आदिवासियों का वोदका कहा जा सकता है, यह चावल की बनी शराब का नाम है जो आदिवासियों के जीवन का अटूट अंग है। यह झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, छत्तीसगढ और भारत के अन्य आदिवासी इलाकों में काफी लोकप्रिय है। आदिवासी आम तौर शाम घिरने के बाद गीत संगीत के बीच हँडिया पी कर दिन की बातों को भुला कर अगले दिन की तैयारी में जुट जाते हैं यह लोग, यह सोच कर कि शायद नया दिन उनके लिए कुछ नया लेकर आए.

नई!!: ओडिशा और हँड़िया · और देखें »

हनुमत धाम

हनुमत धाम हनुमत धाम भारत में उत्तरप्रदेश के ऐतिहासिक नगर शाहजहाँपुर में बिसरात घाट पर खन्नौत नदी के बीचोबीच स्थित एक पर्यटन स्थल है। यहाँ पर 104 फुट ऊँची हनुमान की विशालकाय मूर्ति स्थापित है। हनुमत धाम को बनाने का संकल्प शहर के विधायक सुरेश कुमार खन्ना ने उस समय लिया था जब वे पहली वार उत्तर प्रदेश सरकार में मन्त्री बने थे। ऐसा माना जाता है कि भारतवर्ष में हनुमानजी की यह सबसे बड़ी प्रतिमा है। .

नई!!: ओडिशा और हनुमत धाम · और देखें »

हरियाणा का केंद्रीय विश्वविद्यालय

केन्द्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा का गेट  हरियाणा का केन्द्रीय विश्वविद्यालय जनत पाली गांव, महेंद्रगढ़ जिले हरियाणा, भारत, में है, जो ५०० एकड़ (२.० कि.मी.२) में संसद के एक अधिनियम: "केन्द्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम, २००९" के माध्यम से भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया है। केन्द्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा का प्रादेशिक क्षेत्राधिकार पूरे हरियाणा के लिए है। १ मार्च, २०१४ को विश्वविद्यालय में पहला दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया था। विश्वविद्यालय को अब अपने स्थायी परिसर में स्थानांतरित कर दिया गया है जो कि महेन्द्रगढ़ से दूर, महेन्द्रगढ़-भिवानी सड़क पर जनत पाली गाँव महेन्द्रगढ़ में है। इससे पहले विश्वविद्यालय का कार्य अपने अस्थायी परिसर में राजकीय शिक्षा महाविद्यालय नारनौल से चल रहा था। इस विश्वविद्यालय को भगवान कृष्ण का नाम दिया जायेग। .

नई!!: ओडिशा और हरियाणा का केंद्रीय विश्वविद्यालय · और देखें »

हरिशंकर जल प्रपात

हरिशंकर जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और हरिशंकर जल प्रपात · और देखें »

हलधर नाग

हलधर नाग ओड़ीसा के कोसली भाषा के कवि एवम लेखक हैं। वे 'लोककवि रत्न' के नाम से प्रसिद्ध हैं। भारत सरकार द्वारा उन्हें २०१६ में पद्मश्री से सम्मानित किया गया। .

नई!!: ओडिशा और हलधर नाग · और देखें »

हाथी पत्थर जल प्रपात

हाथी पत्थर जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और हाथी पत्थर जल प्रपात · और देखें »

हाथीगुम्फा शिलालेख

हाथीगुफा हाथीगुफा में खाववेल का शिलालेख मौर्य वंश की शक्ति के शिथिल होने पर जब मगध साम्राज्य के अनेक सुदूरवर्ती प्रदेश मौर्य सम्राटों की अधीनता से मुक्त होने लगे, तो कलिंग भी स्वतंत्र हो गया। उड़ीसा के भुवनेश्वर नामक स्थान से तीन मील दूर उदयगिरि नाम की पहाड़ी है, जिसकी एक गुफ़ा में एक शिलालेख उपलब्ध हुआ है, जो 'हाथीगुम्फा शिलालेख' के नाम से प्रसिद्ध है। इसे कलिंगराज खारवेल ने उत्कीर्ण कराया था। यह लेख प्राकृत भाषा में है और प्राचीन भारतीय इतिहास के लिए इसका बहुत अधिक महत्त्व है। इसके अनुसार कलिंग के स्वतंत्र राज्य के राजा प्राचीन 'ऐल वंश' के चेति या चेदि क्षत्रिय थे। चेदि वंश में 'महामेधवाहन' नाम का प्रतापी राजा हुआ, जिसने मौर्यों की निर्बलता से लाभ उठाकर कलिंग में अपना स्वतंत्र शासन स्थापित किया। महामेधवाहन की तीसरी पीढ़ी में खारवेल हुआ, जिसका वृत्तान्त हाथीगुम्फा शिलालेख में विशद के रूप से उल्लिखित है। खारवेल जैन धर्म का अनुयायी था और सम्भवतः उसके समय में कलिंग की बहुसंख्यक जनता भी वर्धमान महावीर के धर्म को अपना चुकी थी। हाथीगुम्फा के शिलालेख (प्रशस्ति) के अनुसार खारवेल के जीवन के पहले पन्द्रह वर्ष विद्या के अध्ययन में व्यतीत हुए। इस काल में उसने धर्म, अर्थ, शासन, मुद्रापद्धति, क़ानून, शस्त्रसंचालन आदि की शिक्षा प्राप्त की। पन्द्रह साल की आयु में वह युवराज के पद पर नियुक्त हुआ और नौ वर्ष तक इस पद पर रहने के उपरान्त चौबीस वर्ष की आयु में वह कलिंग के राजसिंहासन पर आरूढ़ हुआ। राजा बनने पर उसने 'कलिंगाधिपति' और 'कलिंग चक्रवर्ती' की उपाधियाँ धारण कीं। राज्याभिषेक के दूसरे वर्ष उसने पश्चिम की ओर आक्रमण किया और राजा सातकर्णि की उपेक्षा कर कंहवेना (कृष्णा नदी) के तट पर स्थित मूसिक नगर को उसने त्रस्त किया। सातकर्णि सातवाहन राजा था और आंध्र प्रदेश में उसका स्वतंत्र राज्य विद्यमान था। मौर्यों की अधीनता से मुक्त होकर जो प्रदेश स्वतंत्र हो गए थे, आंध्र भी उनमें से एक था। अपने शासनकाल के चौथे वर्ष में खारवेल ने एक बार फिर पश्चिम की ओर आक्रमण किया और भोजकों तथा रठिकों (राष्ट्रिकों) को अपने अधीन किया। भोजकों की स्थिति बरार के क्षेत्र में थी और रठिकों की पूर्वी ख़ानदेश व अहमदनगर में। रठिक-भोजक सम्भवतः ऐसे क्षत्रिय कुल थे, प्राचीन अन्धक-वृष्णियों के समान जिनके अपने गणराज्य थे। ये गणराज्य सम्भवतः सातवाहनों की अधीनता स्वीकृत करते थे। .

नई!!: ओडिशा और हाथीगुम्फा शिलालेख · और देखें »

हिन्दू देवी-देवता

हिंदू देववाद पर वैदिक, पौराणिक, तांत्रिक और लोकधर्म का प्रभाव है। वैदिक धर्म में देवताओं के मूर्त रूप की कल्पना मिलती है। वैदिक मान्यता के अनुसार देवता के रूप में मूलशक्ति सृष्टि के विविध उपादानों में संपृक्त रहती है। एक ही चेतना सभी उपादानों में है। यही चेतना या अग्नि अनेक स्फुर्लिंगों की तरह (नाना देवों के रूप में) एक ही परमात्मा की विभूतियाँ हैं। (एकोदेव: सर्वभूतेषु गूढ़)। .

नई!!: ओडिशा और हिन्दू देवी-देवता · और देखें »

हिन्दी भाषियों की संख्या के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

मानक हिंदी भारत में आधिकारिक राज्य भाषा है और जनसंख्या का बहुमत हिंदी की कुछ किस्म बोलते हैं।। हिन्दी भाषियों की संख्या के आधार पर भारत के राज्यों की सूची जनसंख्या और प्रतिशत दोनों आधारित है। इसका संदर्भ भारत की २००१ के आधार पर है। इस सूची में भारत के सभी राज्य हैं। श्रेणी:हिन्दी श्रेणी:भारत की जनगणना.

नई!!: ओडिशा और हिन्दी भाषियों की संख्या के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

हिन्दी या उर्दू मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची

यह हिन्दी तथा उर्दू मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची है। कई हिन्दी तथा उर्दू समकक्ष शब्द संस्कृत से निकले हैं; देखें संस्कृत मूल के अंग्रेज़ी शब्दों की सूची। कई अन्य फारसी भाषा मूल के हैं। कुछ बाद वाले अरबी तथा तुर्की मूल के हैं। कई मामलों में शब्द अंग्रेजी भाषा में कई रास्तों से आये हैं जिससे अन्ततः विभिन्न अर्थ, वर्तनी तथा उच्चारण हो गये हैं जैसा कि यूरोपीय मूल के शब्दों के साथ हुआ है। कई शब्द अंग्रेजी में ब्रिटिश राज के दौरान आये जब कई लोग हिन्दी तथा उर्दू को हिन्दुस्तानी की किस्म मानते थे। इन उपनिवेशकाल के उधार आये हुये शब्दों को, प्रायः ऐंग्लो इंडियन कहा जाता है। .

नई!!: ओडिशा और हिन्दी या उर्दू मूल के अंग्रेजी शब्दों की सूची · और देखें »

हिंदु-जर्मन षडयंत्र

हिन्दु जर्मन षडयन्त्र(नाम), १९१४ से १९१७ के (प्रथम विश्व युद्ध) दौरान ब्रिटिश राज के विरुद्ध एक अखिल भारतीय विद्रोह का प्रारम्भ करने के लिये बनाई योजनायो से सम्बद्ध है। इस षडयन्त्र मे भारतीय राष्ट्वादी सन्गठन के भारत, अमेरिका और जर्मनी के सदस्य शामिल थे। Irish Republicans और जर्मन विदेश विभाग ने इस षड्यन्त्र में भारतीयो का सहयोग किया था। यह षडयन्त्र अमेरिका मे स्थित गदर पार्टी, जर्मनी मे स्थित बर्लिन कमिटी, भारत मे स्थित Indian revolutionary Underground और सान फ़्रांसिसको स्थित दूतावास के द्वारा जर्मन विदेश विभाग ने साथ मिलकर रचा था। सबसे महत्वपूर्ण योजना पंजाब से लेकर सिंगापुर तक सम्पूर्ण भारत में ब्रिटिश भारतीय सेना के अन्दर बगावत फैलाकर विद्रोह का प्रयास करने की थी। यह योजना फरवरी १९१५ मे क्रियान्वित करके, हिन्दुस्तान से ब्रिटिश साम्राज्य को नेस्तनाबूत करने का उद्देश्य लेकर बनाई गयी थी। अन्ततः यह योजना ब्रिटिश गुप्तचर सेवा ने, गदर आन्दोलन मे सेंध लगाकर और कुछ महत्वपूर्ण लोगो को गिरफ्तार करके विफल कर दी थी। उसी तरह भारत की छोटी इकाइयों मे और बटालियनो मे भी विद्रोह को दबा दिया गया था। युगांतर जर्मन साजिश, अन्य संबंधित घटनाओं 1915 सिंगापुर विद्रोह, एनी लार्सन हथियार साजिश एनी लार्सन चक्कर शामिल हैंकाबुल, के विद्रोह.

नई!!: ओडिशा और हिंदु-जर्मन षडयंत्र · और देखें »

हंड़िया

हंड़िया हंड़िया या हड़िया एक प्रकार की बीयर है जो चावल (भात) से बनती है। यह बिहार, झारखण्ड, ओड़ीसा, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में प्रसिद्ध है। .

नई!!: ओडिशा और हंड़िया · और देखें »

हुत्काह

हुत्काह (Painted spurfowl) (Galloperdix lunulata) तीतर कुल का एक पक्षी है जो कि मध्य भारत से लेकर दक्षिण भारत के झाड़ियों या पथरीले इलाकों में आवास करता है। .

नई!!: ओडिशा और हुत्काह · और देखें »

हुदहुद (चक्रवात)

हुदहुद एक उष्णकटिबंधीय चक्रवाती तूफान है। यह उत्तरी हिंद महासागर में बना २०१४ का अब तक का सबसे ताकतवर तूफान है। इसका नाम हुदहुद नामक एक पक्षी के नाम से लिया गया है। इसके नाम का सुझाव ओमान ने दिया। .

नई!!: ओडिशा और हुदहुद (चक्रवात) · और देखें »

हेनान

हेनान (河南, Henan) जनवादी गणराज्य चीन के केन्द्रीय भाग में स्थित एक प्रांत है। हान राजवंश के ज़माने में इस क्षेत्र में एक युझोऊ (豫州, Yuzhou) नामक राज्य हुआ करता था इसलिए चीनी भावचित्रों में हेनान प्रांत को संक्षिप्त रूप में '豫' (उच्चारण: यु) लिखते हैं। 'हेनान' नाम दो शब्दों को जोड़कर बना है: 'हे' यानि 'नदी' और 'नान' यानि 'दक्षिण'। हेनान पीली नदी (ह्वांग हे) के दक्षिण में है, इसलिए इसका नाम यह पड़ा। हेनान को चीनी सभ्यता की जन्मभूमि माना जाता है क्योंकि चीन का एक अति-प्राचीन राजवंश, शांग राजवंश, यहीं केन्द्रित था।, Long River Press, 2008, ISBN 978-1-59265-060-6,...

नई!!: ओडिशा और हेनान · और देखें »

हेमानन्द बिश्वाल

हेमानन्द बिश्वाल (जन्म १ दिसम्बर १९३९) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता हैं। वो ७ दिसम्बर १९८९ से ५ मार्च १९९० और पुनः ६ दिसम्बर १९९९ से ५ मार्च २००० तक ओडिशा के मुख्यमंत्री रहे। .

नई!!: ओडिशा और हेमानन्द बिश्वाल · और देखें »

हेमेन्द्र चन्द्र सिंह

हेमेन्द्र चन्द्र सिंह भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की कंधमाल सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और हेमेन्द्र चन्द्र सिंह · और देखें »

हो (जनजाति)

हो (जनजाति), भारत की एक प्रमुख जनजाति हैं। 'हो' एक आदिवासी समुदाय है जो भारत के झारखंड राज्य के सिंहभूम जिले तथा पड़ोसी राज्य उड़ीसा के क्योंझर, मयूरभंज, जाजपुर जिलों में निवास करती है। ‘हो’ समुदाय की अपनी संस्कृति और रीति-रिवाज हैं। ये प्रकृति के उपासक होते हैं। इनके अपने-अपने गोत्र के कुल-देवता होते हैं। 'हो' लोग मंदिर मे स्थापित देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना नहीं करते बल्कि अपने ग्राम देवता ‘देशाउलि’ को अपना सर्वेसर्वा मानते हैं। अन्य अवसरों के अलावा प्रति वर्ष मागे परब के अवसर पर बलि चढ़ा कर ग्राम पुजारी “दिउरी” के द्वारा इसकी पूजा-पाठ की जाती है तथा गाँव के सभी लोग पूजा स्थान पर एकत्रित हो कर ग्राम देवता से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। .

नई!!: ओडिशा और हो (जनजाति) · और देखें »

हो भाषा

हो आस्ट्रो-एशियाई भाषा परिवार की मुंडा शाखा में एक भाषा है जो झारखंड, पश्चिम बंगाल एवं उड़ीसा के आदिवासी क्षेत्रों में लगभग १०,७७,००० जनों द्वारा बोली जाती है। .

नई!!: ओडिशा और हो भाषा · और देखें »

हीराखंड एक्सप्रेस

हीराखंड एक्सप्रेस एक डेली एक्सप्रेस ट्रेन है जो जगदलपुर और भूनेश्वर के बीच चलती है। हिरणकंद एक्सप्रेस एक दैनिक एक्सप्रेस ट्रेन है जो जगदलपुर और भुवनेश्वर के बीच चलती है। यह शुरू में संबलपुर और बालनगीर के बीच शुरू किया गया था। बाद में भुवनेश्वर को विस्तारित किया गया अब यह प्रारंभिक एक की तुलना में पूरी तरह अलग मार्ग में सेवा कर रहा है। यह भारतीय रेल के पूर्वी तट रेलवे क्षेत्र द्वारा संचालित है। हिरणखंड का मतलब पश्चिमी ओडिशा में बोली जाने वाली संबलपुरी भाषा में डायमंड का एक टुकड़ा है। मध्ययुगीन काल के बाद इसका नाम हिराखण्ड का राज्य है जिसे अन्यथा संबलपुर राज्य के रूप में जाना जाता है, वर्तमान पश्चिमी ओडिशा और छत्तीसगढ़ राज्य के कुछ हिस्सों में फैला हुआ है। ट्रेन में कोरापुट, रायगडा, विजयनगरम, बोब्बिली, श्रीकाकुलम, इचचपुरम, ब्रह्मपुर और खोरड़ में रोकथाम है। .

नई!!: ओडिशा और हीराखंड एक्सप्रेस · और देखें »

हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसा

21 जनवरी 2017 को जगदलपुर-भुवनेश्वर हीराखंड एक्सप्रेस के नौ डिब्बे देर रात आंध्र प्रदेश के विजयनगरम के कुनेरू स्टेशन के पास पटरी से उतर गए। इसमें अब तक 36 लोगों की मौत हुई है और 54 लोग घायल हैं। हादसे की जांच शुरू हो गई है, लेकिन रेलवे सूत्रों ने हादसे के लिए किसी साजिश की आशंका से इनकार नहीं किया है। - अमर उजाला - 22 जनवरी 2017 .

नई!!: ओडिशा और हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसा · और देखें »

हीराकुद

हीराकुड भारत के ओडिशा राज्य के संबलपुर जिले का एक कस्बा है। .

नई!!: ओडिशा और हीराकुद · और देखें »

हीराकुद बाँध

हीराकुद बाँध ओडीसा में महानदी पर निर्मित एक बाँध है। यह सम्बलपुर से 19 किमी दूर है। इस बाँध के पीछे विशाल जलाशय है। यह परियोजना भारत में शुरू की गयी कुछ आरम्भिक परियोजनाओं में से एक है। 1957 में महानदी पर निर्मित यह बाँध संसार के सबसे लंबे बांधों में से एक है। इसकी कुल लम्बाई 26 किमी है। बाईं ओर लामडूंगरी पहाड़ी से लेकर 4.

नई!!: ओडिशा और हीराकुद बाँध · और देखें »

जतीन दास

जतीन दास (ओरिया: ଯତୀନ ଦାସ) भारतीय चित्रकार व मूर्तिकार हैं। .

नई!!: ओडिशा और जतीन दास · और देखें »

जदूर मुदारी

जदूर मुदारी उड़ीसा का प्रसिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और जदूर मुदारी · और देखें »

जनसंख्या के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र

भारत उनतीस राज्यों और सात केन्द्र शासित प्रदेशों का एक संघ है। सन् 2009 में, लगभग 1.15 अरब की जनसंख्या के साथ भारत विश्व का दूसरा सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश है। भारत के पास विश्व की कुल भूक्षेत्र का 2.4% भाग है, लेकिन यह विश्व की 17% जनसंख्या का निवास स्थान है। गंगा के मैदानी क्षेत्र विश्व के सबसे विशाल उपजाऊ फैलावों में से एक हैं और यह विश्व के सबसे सघन बसे क्षेत्रों में से एक है। दक्कन के पठार के पूर्वी और पश्चिमी तटीय क्षेत्र भी विश्व के सबसे सघन क्षेत्रों में हैं। पश्चिमी राजस्थान में स्थित थार मरुस्थल विश्व के सबसे सघन मरुस्थलों में से एक है। उत्तर और उत्तर-पूर्व में हिमालय पर्वत श्रृंखलाओं में बसे राज्यों में ठंडे शुष्क मरुस्थल और उपजाऊ घाटियां हैं। कठिन संरचना के कारण इन राज्यों में देश के अन्य भागों की तुलना में जनसंख्या घनत्व कम है। .

नई!!: ओडिशा और जनसंख्या के आधार पर भारत के राज्य और संघ क्षेत्र · और देखें »

जमशेदपुर

जमशेदपुर जिसका दूसरा नाम टाटानगर भी है, भारत के झारखंड राज्य का एक शहर है। यह झारखंड के दक्षिणी हिस्से में स्थित पूर्वी सिंहभूम जिले का हिस्सा है। जमशेदपुर की स्थापना को पारसी व्यवसायी जमशेदजी नौशरवान जी टाटा के नाम से जोड़ा जाता है। १९०७ में टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना से इस शहर की बुनियाद पड़ी। इससे पहले यह साकची नामक एक आदिवासी गाँव हुआ करता था। यहाँ की मिट्टी काली होने के कारण यहाँ पहला रेलवे-स्टेशन कालीमाटी के नाम से बना जिसे बाद में बदलकर टाटानगर कर दिया गया। खनिज पदार्थों की प्रचुर मात्रा में उपलब्धता और खड़कई तथा सुवर्णरेखा नदी के आसानी से उपलब्ध पानी, तथा कोलकाता से नजदीकी के कारण यहाँ आज के आधुनिक शहर का पहला बीज बोया गया। जमशेदपुर आज भारत के सबसे प्रगतिशील औद्योगिक नगरों में से एक है। टाटा घराने की कई कंपनियों के उत्पादन इकाई जैसे टिस्को, टाटा मोटर्स, टिस्कॉन, टिन्पलेट, टिमकन, ट्यूब डिवीजन, इत्यादि यहाँ कार्यरत है। .

नई!!: ओडिशा और जमशेदपुर · और देखें »

जय पांडा

जय पांडा भारत की सोलहवीं लोकसभा में सांसद हैं। 2014 के चुनावों में इन्होंने ओडिशा की केन्द्रपाड़ा सीट से बीजू जनता दल की ओर से भाग लिया। .

नई!!: ओडिशा और जय पांडा · और देखें »

जयदेव

भारत के प्रसिद्ध गणितज्ञ जयदेव के लिए देखें, जयदेव (गणितज्ञ) ---- बसोहली चित्र (1730 ई) गीत गोविन्द जयदेव (१२०० ईस्वी के आसपास) संस्कृत के महाकवि हैं जिन्होंने गीत गोविंद और रतिमंजरी की रचना की। जयदेव, उत्कल राज्य यानि ओडिशा के गजपति राजाओं के समकालीन थे। जयदेव एक वैष्णव भक्त और संत के रूप में सम्मानित थे। उनकी कृति ‘गीत गोविन्द’ को श्रीमद्‌भागवत के बाद राधाकृष्ण की लीला की अनुपम साहित्य-अभिव्यक्ति माना गया है। संस्कृत कवियों की परंपरा में भी वह अंतिम कवि थे, जिन्होंने ‘गीत गोविन्द’ के रूप में संस्कृत भाषा के मधुरतम गीतों की रचना की। कहा गया है कि जयदेव ने दिव्य रस के स्वरूप राधाकृष्ण की रमणलीला का स्तवन कर आत्मशांति की सिद्धि की। भक्ति विजय के रचयिता संत महीपति ने जयदेव को श्रीमद्‌भागवतकार व्यास का अवतार माना है। .

नई!!: ओडिशा और जयदेव · और देखें »

जयंती पटनायक

जयंती पटनायक (जन्म 1932) एक भारतीय सांसद और राष्ट्रीय महिला आयोग से जुड़ी सामाजिक कार्यकर्ता है। (भारतीय संसद) वे राष्ट्रीय महिला आयोग की पहली अध्यक्ष रह चुकी हैं। उनका कार्यकाल 3 फरवरी 1992 से 30 जनवरी 1995 तक रहा है। .

नई!!: ओडिशा और जयंती पटनायक · और देखें »

ज़ाकिर हुसैन (संगीतकार)

उस्ताद ज़ाकिर हुसैन (जन्म 9 मार्च 1951) भारत के सबसे प्रसिद्ध तबला वादक हैं। ज़ाकिर हुसैन तबला वादक उस्ताद अल्ला रखा के बेटे हैं। Zakir Hussain, 2001 ज़ाकिर हुसैन को सन २००२ (2002) में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र से हैं। .

नई!!: ओडिशा और ज़ाकिर हुसैन (संगीतकार) · और देखें »

जानकी बल्लभ पटनायक

जानकी बल्लभ पटनायक (ଜାନକୀ ବଲ୍ଲଭ ପଟ୍ଟନାୟକ (३ जनवरी १९२७ - २१ अप्रैल २०१५) भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो २००९ से असम के राज्यपाल थे। वो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेता के रूप में १९८० से १९८९ और पुनः १९९५ से १९९९ तक ओडिशा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। वो नवीन पटनायक से पहले सबसे लम्बे समय तक ओडिशा के मुख्यमंत्री रहे। .

नई!!: ओडिशा और जानकी बल्लभ पटनायक · और देखें »

जाजपुर

जाजपुर भारत के उड़ीसा प्रान्त का एक जिला है। श्रेणी:शहर.

नई!!: ओडिशा और जाजपुर · और देखें »

जाजपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

जाजपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के उड़ीसा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और जाजपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

जाजपुर जिला

जाजपुर भारतीय राज्य ओड़िशा का एक जिला है। जिले का मुख्यालय जाजपुर है। क्षेत्रफल - वर्ग कि.मी.

नई!!: ओडिशा और जाजपुर जिला · और देखें »

जिआंगशी

चीन में जिआंगशी प्रांत (लाल रंग में) जिआंगशी (江西, Jiangxi) जनवादी गणराज्य चीन के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित एक प्रांत है। इसका विस्तार उत्तर में यांग्त्से नदी के मैदानी इलाक़ों से लेकर दक्षिण में पहाड़ी क्षेत्र तक है। जिआंगशी की राजधानी नानचांग शहर है। इस प्रान्त का क्षेत्रफल १,६६,९०० वर्ग किमी है, यानि भारत के उड़ीसा राज्य से ज़रा ज़्यादा। सन् २०१० की जनगणना में इसकी आबादी ४,४५,६७,४७५ थी और यह भी भारत के उड़ीसा राज्य से ज़रा ज़्यादा थी। जिआंगशी का नाम तंग राजवंश के काल से है जब इसे 'जिआंगनानशीदाओ' (江南西道, Jiangnanxidao) कहा जाता था, जिसका मतलब 'पश्चिमी जियांगनान प्रांत' है (जियांगनान एक भौगोलिक क्षेत्र का नाम है)। इस प्रांत से गान नदी निकलती है इसलिए इसका चीनी भावचित्रों में संक्षिप्त नामांकन '赣' है (गान, Gan)। इस प्रांत में प्रसिद्ध पोयांग झील भी है, इसलिए इसे कभी-कभी 'गोमपोताइति' (贛鄱大地, Gompotaiti) भी कहते हैं, जिसका अर्थ है 'गान (उर्फ़ गोम) नदी और पो (उर्फ़ पोयांग) झील की महान भूमि'। जिआंगशी अपने पड़ोसी प्रान्तों से पिछड़ा हुआ है। यहाँ चावल की खेती पर ज़ोर है और इसे कभी-कभी 'चावल और मछली का देश' भी कहा जाता है। चीन में जिआंगशी के लोगों को कम महनती और आराम-पसंद भी समझा जाता है।, Khoon Choy Lee, World Scientific, 2005, ISBN 978-981-256-618-8,...

नई!!: ओडिशा और जिआंगशी · और देखें »

जगतसिंहपुर

जगतसिंहपुर भारत के ओड़िशा प्रान्त का एक नगर एवं जगतसिंहपुर जिले का मुख्यालय है। श्रेणी:ओड़िशा के शहर‎.

नई!!: ओडिशा और जगतसिंहपुर · और देखें »

जगतसिंहपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र

जगतसिंहपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के उड़ीसा राज्य का एक लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र है। श्रेणी:ओड़िशा के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र.

नई!!: ओडिशा और जगतसिंहपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र · और देखें »

जगतसिंहपुर जिला

जगतसिंहपुर भारतीय राज्य उड़ीसा का एक जिला है। .

नई!!: ओडिशा और जगतसिंहपुर जिला · और देखें »

जगन्नाथ

'''जगन्नाथ''' (सबसे दाएं) अपने भ्राता बलभद्र (सबसे बाएं) एवं बहन सुभद्रा (बीच में) के संग, राधादेश, बेल्जियम में जगन्नाथ (जगन्नाथ ଜଗନ୍ନାଥ) हिन्दू भगवान विष्णु के पूर्ण कला अवतार श्रीकृष्ण का ही एक रूप हैं। इनका एक बहुत बड़ा मन्दिर ओडिशा राज्य के पुरी शहर में स्थित है। इस शहर का नाम जगन्नाथ पुरी से निकल कर पुरी बना है। यहाँ वार्षिक रूप से रथ यात्रा उत्सव भी आयोजित किया जाता है। पुरी की गिनती हिन्दू धर्म के चार धाम में होती है। Image:Lord_Jagannath.jpg|जगन्नाथ (दायें) बलभद्र (बायें) तथा सुभद्रा (मध्य में) Image:Lord_Jagannath_Statue.jpg|एक छोटे आकार का altar, जगन्नाथ, बलभद्र तथा देवी सुभद्रा के साथ Image:Car_Festival.jpg|भुवनेश्वर में रथ यात्रा महोत्सव Image:Rath_Yatra.jpg| न्यूयॉर्क शहर में इस्कॉन द्वारा आयोजित रथ यात्रा उत्सव .

नई!!: ओडिशा और जगन्नाथ · और देखें »

जगन्नाथ प्रसाद दास

जगन्नाथ प्रसाद दास (१९३६) ओड़िया के प्रसिद्ध कवि व नाटककार हैं। उनका पहला कविता संग्रह प्रथम पुरुष १९७१ में प्रकाशित हुआ था। उन्होंने ओड़िया चित्रकला पर शोध किया है। उनके अन्य सबु मृत्यु जे जाहार, निर्जनता, सबा शेष लोक और असंगत नाटक प्रकाशित हुए हैं। १९१९ में आह्निक कविता संग्रह पर उन्हें साहित्य अकादमी द्वारा सम्मानित किया गया है। .

नई!!: ओडिशा और जगन्नाथ प्रसाद दास · और देखें »

जगन्नाथ मन्दिर, पुरी

पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर एक हिन्दू मंदिर है, जो भगवान जगन्नाथ (श्रीकृष्ण) को समर्पित है। यह भारत के ओडिशा राज्य के तटवर्ती शहर पुरी में स्थित है। जगन्नाथ शब्द का अर्थ जगत के स्वामी होता है। इनकी नगरी ही जगन्नाथपुरी या पुरी कहलाती है। इस मंदिर को हिन्दुओं के चार धाम में से एक गिना जाता है। यह वैष्णव सम्प्रदाय का मंदिर है, जो भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण को समर्पित है। इस मंदिर का वार्षिक रथ यात्रा उत्सव प्रसिद्ध है। इसमें मंदिर के तीनों मुख्य देवता, भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भ्राता बलभद्र और भगिनी सुभद्रा तीनों, तीन अलग-अलग भव्य और सुसज्जित रथों में विराजमान होकर नगर की यात्रा को निकलते हैं। मध्य-काल से ही यह उत्सव अतीव हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इसके साथ ही यह उत्सव भारत के ढेरों वैष्णव कृष्ण मंदिरों में मनाया जाता है, एवं यात्रा निकाली जाती है। यह मंदिर वैष्णव परंपराओं और संत रामानंद से जुड़ा हुआ है। यह गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय के लिये खास महत्व रखता है। इस पंथ के संस्थापक श्री चैतन्य महाप्रभु भगवान की ओर आकर्षित हुए थे और कई वर्षों तक पुरी में रहे भी थे। .

नई!!: ओडिशा और जगन्नाथ मन्दिर, पुरी · और देखें »

जगरनॉट

१८५१ में ''Illustrated London Reading Book'' में चित्रित जगरनॉट का रथ २००७ का आधुनिक उत्सव जगरनॉट अंग्रेजी भाषा में प्रयुक्त होने वाला एक शब्द है जिसका प्रयोग अजेय के रूप में सन्दर्भित शाब्दिक या रुपक शक्ति की व्याख्या के लिये होता है। यह प्रायः किसी बड़ी मशीन या किसी टीम या इकट्ठे कार्य करने वाले लोगों के समूह के लिये या किसी करिश्माई नेता द्वारा चलाये जा रहे उभर रहे राजनीतिक आन्दोलन के लिये प्रयुक्त होता है। इसका सम्बन्ध प्रायः कुचले जाने अथवा भौतिक हानि से जोड़ा जाता है। .

नई!!: ओडिशा और जगरनॉट · और देखें »

जुएल ओरांव

जुएल उरांव भारत के वर्तमान जनजातीय मामले के केन्द्रीय मंत्री हैं। जुएल उरांव का जन्म 22 मार्च 1961 को ओडिशा के सुंदरगढ़ में हुआ था। जुएल ने 16वीं लोकसभा में सुंदरगढ़ संसदीय क्षेत्र से बीजू जनता दल (बीजद) के दिलीप तिर्की को कड़ी शिकस्त दी। सुंदरगढ़ संसदीय क्षेत्र से लगातार तीन बार 12वीं, 13वीं और 14वीं लोकसभा में चुनाव जीतने वाले जुएल पिछले चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी व पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद से पराजित हो गए थे। जुएल भारत सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं। वह भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष हैं। वह ओड़िशा में भाजपा के अनुभवी नेताओं में से एक है। वह ओड़िशा में भाजपा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। .

नई!!: ओडिशा और जुएल ओरांव · और देखें »

जुआंग भाषा

जुआंग (Juang) एक भारतीय भाषा है जो ऑस्ट्रो-एशियाई भाषाओं की मुण्डा शाखा की सदस्य है। यह उड़ीसा राज्य के जुआंग समुदाय द्वारा बोली जाती है और इसका सम्बन्ध खड़िया भाषा से बहुत समीपी है। .

नई!!: ओडिशा और जुआंग भाषा · और देखें »

जेट कनेक्ट

जेट कनेक्ट के रूप में संचालित जेटलाइट (पूर्व नाम: एयर सहारा) मुंबई, भारत में आधारित एक वायुसेवा थी। रीडिफ.कॉम, 16 अप्रैल 2007 इसे पहले जेट एयर वेज़ कनेक्ट के नाम से जाना जाता था, जेट लाईट इंडिया लिमिटेड का एक व्यावसायिक नाम है। यह मुंबई में स्थित एक विमानन सेवा है जिस पर की जेट एयरवेज का मालिकाना हक़ है। यह विमान सेवा भारत के सभी मेट्रोपोल शहरों को जोड़ने के लिए नियमित उड़ान सेवाएँ प्रदान करती है। .

नई!!: ओडिशा और जेट कनेक्ट · और देखें »

जोरांडा जल प्रपात

जोरांडा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और जोरांडा जल प्रपात · और देखें »

जीवन प्रत्याशा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची

भारत का जीवन प्रत्याशा मानचित्र यह सूची जन्म के समय जीवन प्रत्याशा के आधार पर क्रमित है। इस सूची के आँकड़े 2011 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम भारत द्वारा प्रकाशित मानव विकास सूचकांक प्रतिवेदन से लिए गए हैं। इस प्रतिवेदन के आँकड़े वर्ष 2002 से 2006 के लिए हैं। 2004 में केरल की जन्म के समय जीवन प्रत्याशा सर्वाधिक थी। पूर्वोत्तर राज्यों के लिए आँकड़े अनुपलब्ध थे। .

नई!!: ओडिशा और जीवन प्रत्याशा के आधार पर भारत के राज्यों की सूची · और देखें »

जीवन विज्ञान संस्थान, भुवनेश्वर

जीवन विज्ञान संस्थान जीव विज्ञान संस्थान,भुवनेश्वर जीव विज्ञान संस्थान (The Institute of Life Sciences (ILS)), भुवनेश्वर की शुरूआत ए॰ दशक पहले हो गई थी। यह अवश्य ही उड़ीसा सरकार के विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी विभाग की दूरदर्शी पहल थी। जीव विज्ञान ने विज्ञान की विभिन्न विधाओं में से शोध के ए॰ प्रमुख क्षेत्र के रूप में इक्कीसवीं शताब्दी में कदम रखने के लिए॰पर्याप्त क्षमता पहले ही प्राप्त कर ली थी। वास्तव में, यह उचित समय था कि जैव विज्ञान के उन्नत क्षेत्रों में अध्ययन चलाने वाले ए॰ केन्द्र की स्थापना उड़ीसा में की जाए। यह संस्थान अपनी समस्त आशाओं ए॰ं प्रत्याशाओं, चुनौतियों ए॰ं अवसरों के साथ नई सहस्राब्दि का समाना करने को तैयार है। नई सहस्राब्दि में जीवविज्ञान से यह आशा की जाती है कि वह मानवीय यातनारओं ओर मानव जीवन के स्तर को सुधारने के दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देगा। जीवविज्ञान संस्थान ने, सही अर्थ में, इन चुनौतियों को अपने लक्ष्यों तथा अवसरों के रूप में स्वीकार कर लिया है। संस्थान ने कृषि, श्वास्थ्य तथा पर्यावरण से संबंधित आण्विक जीवविज्ञान और जैवप्रौद्योगिकीय अनुसंधान आरम्भ कर दिया है। .

नई!!: ओडिशा और जीवन विज्ञान संस्थान, भुवनेश्वर · और देखें »

घरों मे बिजली उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची उस क्रम में है जितने घरों में बिजली बिजली उपलब्ध है (प्रतिशत में)। निम्नलिखिन जानकारी वर्ष 2001 और 2011 के डेटा पर आधारित जो कि 2011 भारतीय जनगणना के दौरान प्रकाशित की गयी थी। .

नई!!: ओडिशा और घरों मे बिजली उपलब्धता के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

घूमरा

घूमरा उड़ीसा का प्रसिद्ध लोक नृत्य है। श्रेणी:उड़ीसा के लोक नृत्य.

नई!!: ओडिशा और घूमरा · और देखें »

वर्मा

वर्मा (अंग्रेजी: Varma, (अन्य नाम) वर्मन या बर्मन) हिन्दू धर्म का एक जाति सूचक उपनाम है जिसे वर्तमान भारतवर्ष एवं दक्षिण पूर्व एशिया में निवास करने वाले सभी हिन्दू अपने नाम के आगे गर्व से लिखते हैं। मुख्यत: क्षत्रिय वर्ण से उत्पन्न जाति के लोग ही वर्मा लिखते हैं परन्तु आधुनिकता के इस दौर में अन्य जातियों के लोग भी इस उपनाम को अपने नाम के आगे लगाने लगे हैं। .

नई!!: ओडिशा और वर्मा · और देखें »

वारंग क्षिति

वारंग क्षिति (Varang Kshiti) एक आबूगीदा लिपि है जिसका प्रयोग भारत के झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, बिहार, छत्तीसगढ़ और असम राज्यों में बोली जाने वाली हो भाषा को लिखने के लिए किया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और वारंग क्षिति · और देखें »

वाहनों के घनत्व के आधार पर भारत के राज्य

यह सूची भारत के राज्यों और संघ क्षेत्रों में वर्ष 2011-2012 में प्रति 1,000 लोगों पर पंजीकृत वाहनों की है। यह सूची सड़क परिवहन और राजमार्ग मन्त्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रकाशित सड़क परिवहन वार्षिकी 2011-2012 से ली गई है। .

नई!!: ओडिशा और वाहनों के घनत्व के आधार पर भारत के राज्य · और देखें »

विद्याधर (साहित्यशास्त्री)

विद्याधर 'एकावली' नामक ग्रंथ के रचयिता थे। एकावली साहित्यशास्त्र का महत्वपूर्ण एवं विवेचनात्मक ग्रंथ है। एकावली की कारिकाएँ उनपर वृत्ति और प्रयुक्त उदाहरण ग्रंथकार द्वारा निर्मित हैं। एकावली के आठ उन्मेष हैं। प्रथम उन्मेष में काव्यहेतु, काव्यलक्षण और भामह आदि पूर्ववर्ती आचार्यों के मत का विवेचन है। द्वितीय में शब्द, अर्थ और अभिधा, लक्षणा एवं व्यंजना, तृतीय में ध्वनि एवं उसके भेद, चतुर्थ में गुणीभूत व्यंग्य, पंचम में तीन गुण और रीति, षष्ठ उन्मेष में दोष, सप्तम में शब्दालंकार और अष्टम उन्मेष में अर्थालंकारों का निरूपण किया गया है। विद्याधर ने रुय्यक द्वारा नवाविष्कृत परिणाम, विकल्प और विचित्र नाम के अलंकारों को भी स्वीकार किया है। विद्याधर ने एकावली में प्रयुक्त स्वनिर्मित उदाहरणों में उड़ीसा के नरेश नरसिंह का वर्णन एवं प्रशस्तिगान किया है। इसका राज्यकाल ई. १२८०-१३३४ माना जाता है। विद्याधर ने रुय्यक और नैषधकार का भी उल्लेख किया है जो १२वीं सदी के हैं। सिंहभूपाल (ई. १३३०) ने अपने ग्रंथ 'रसार्णव' में एकावली का उल्लेख किया है। अत: विद्याधर का समय संभवत: १२७५-१३२५ ई. के लगभग स्वीकार्य होता है। विद्याधर की एकावली पर तरला नाम की टीका प्रकाशित है। इसके टीककार कोलाचल मल्लिनाथ सूरि हैं, जिन्होंने, कालिदास, माघ, भारवि, श्रीहर्ष आदि के महाकाव्यों पर टीका की है। मल्लिनाथ का समय ईसा की १४वीं सदी का अंतिम चरण मान्य है। इन्होंने अपनी अन्य टीकाओं में भी एकावली के उद्धरण दिए हैं। .

नई!!: ओडिशा और विद्याधर (साहित्यशास्त्री) · और देखें »

विधान परिषद

विधान परिषद कुछ भारतीय राज्यों में लोकतंत्र की ऊपरी प्रतिनिधि सभा है। इसके सदस्य अप्रत्यक्ष चुनाव के द्वारा चुने जाते हैं। कुछ सदस्य राज्यपाल के द्वारा मनोनित किए जाते हैं। विधान परिषद विधानमंडल का अंग है। आंध्र प्रदेश, बिहार, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश के रूप में, (उन्तीस में से) सात राज्यों में विधान परिषद है। इसके अलावा, राजस्थान और असम को भारत की संसद ने अपने स्वयं के विधान परिषद बनाने की मंजूरी दे दी है। .

नई!!: ओडिशा और विधान परिषद · और देखें »

विमला शक्तिपीठ

विमला देवी विमला शक्तिपीठ ओडिशा राज्य के पुरी शहर के जगन्नाथ मन्दिर मे मोह्जुद है। यह शक्तिपीठ बहुत प्राचीन मनि जाति है। देवी विमला शक्ति स्वरुपिणि है जो जगन्नाथ जी को निवेदन किया गया नैवेद्य सब्से पहले ग्रहण करती है। उस्के वाद हि सब लोगोमे प्रसाद महाप्रसाद के रूप मैं बंट जाता है। देवी के मन्दिर मे शरद ऋतु मे दुर्गा पुजन का त्योहार मनया जाता है जो कि महालया के ७ दिन पहलेवालि अष्टमी से गुप्त नवरत्रि के रूप मैं होके महालया के बाद प्रकट नवरत्रि के रूप नवमी तक होति है। इसको षोडश दिनात्मक या १६ दिन चलनेवाली शारदिय उत्सव कह्ते है जो कि पुरे भारत मे विरल है। देवी विमला और याजपुर नगर में स्थित विरजा एक हि शक्ति मानि जाति है। विरजा देवी के मन्दिर से विमला देवी के मन्दिर तक का पुरा स्थान विरजमण्डल के रूप मैं मानि जाति है। .

नई!!: ओडिशा और विमला शक्तिपीठ · और देखें »

विरुपाक्ष मंदिर, ओड़िशा

विरुपाक्ष मंदिर ओड़िशा के कंधमाल जिला के मुख्यालय फूलबाणी से 60 किलोमीटर दूर चाकपाड़ा में स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर की मुख्य विशेषता यहां का शिवलिंग है जो दक्षिण की ओर झुका हुआ है। इसी प्रकार यहां के पेड़ों की प्रकृति भी दक्षिण की ओर झुकने की है। .

नई!!: ओडिशा और विरुपाक्ष मंदिर, ओड़िशा · और देखें »

विश्वकर्मा जयन्ती

विश्वकर्मा जयन्ती भारत के कर्नाटक, असम, पश्चिमी बंगाल, बिहार, झारखण्ड, ओडिशा और त्रिपुरा आदि प्रदेशों में १७ सितम्बर को मनायी जाती है। यह उत्सव प्रायः कारखानों एवं औद्योगिक क्षेत्रों में (प्रायः शॉप फ्लोर पर) मनाया जाता है। विश्वकर्मा को विश्व का निर्माता तथा देवताओं का वास्तुकार माना गया है। .

नई!!: ओडिशा और विश्वकर्मा जयन्ती · और देखें »

विजयनगरम जिला

विजयनगरम भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश का एक समुद्रतटीय जिला है। विजयनगरम इसका मुख्यालय है। इस जिले के पूरब में श्रीकाकुलम जिला, दक्षिण-पश्चिम में विशाखापट्नम जिला, दक्षिण-प्पोर्व में बंगाल की खाड़ी तथा उत्तर-पश्चिम में ओड़ीसा राज्य हैं। श्रेणी:आंध्र प्रदेश के जिले.

नई!!: ओडिशा और विजयनगरम जिला · और देखें »

विज्ञान एक्‍सप्रेस

विज्ञान एक्‍सप्रेस (Science Express) एक रेल पर सवार बच्चों के लिए एक गतिशील वैज्ञानिक प्रदर्शनी है जो पूरे भारत में यात्रा करती है। यह परियोजना ३० अक्टूबर २००७ को सफदरजंग रेलवे स्टेशन, दिल्ली में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा शुरू की गई थी। हालांकि ये सभी के लिए खुला है, ये प्रदर्शनी मुख्य रूप से छात्रों और शिक्षकों को लक्षित करती हैं। ट्रेन के नौ चरण हो चुके हैं और तीन विषयों पर प्रदर्शन किया गया है। २००७ से २०११ के पहले चार चरणों को साइंस एक्सप्रेस कहा जाता था और ये माइक्रो और मैक्रो कॉस्मॉस पर केंद्रित था। २०१२ से २०१४ के अगले तीन चरणों में जैव विविधता विशेष के रूप में प्रदर्शन को फिर से तैयार किया गया। २०१५ से २०१७ के आठवें और नौवें चरण को जलवायु परिवर्तन पर ध्यान केंद्रित करने के लिए बदल दिया गया था। .

नई!!: ओडिशा और विज्ञान एक्‍सप्रेस · और देखें »

विक्की विश्वकर्मा

विक्की विश्वकर्मा केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सिआरपिएफ) के एक जवान हैं। कश्मीर में हो रही पथ्थरबाजी के विरुद्ध उन्होंने धैर्य और सहनशीलता दिखाई इसके लिये उनकी भारत में प्रशंसा की गई। जम्मू कश्मीर में पिछले दिनों केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ के जवानों पर पत्थरबाजों के हमले और बदसलूकी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। उस वीडियो सामने आने के बाद भारत में लोगों ने जवानों के साथ इस प्रकार के व्यवहार की भर्त्सना की थी। .

नई!!: ओडिशा और विक्की विश्वकर्मा · और देखें »

व्हीलर द्वीप

व्हीलर द्वीप से उन्नत वायु सुरक्षा (AAD) प्रक्षेपास्त्र का प्रक्षेपण व्हीलर द्वीप, भारतीय राज्य ओडिशा के सागर तट से परे और राज्य की राजधानी भुवनेश्वर से लगभग की दूरी पर स्थित एक द्वीप है, जिसका प्रयोग भारत अपने प्रक्षेपास्त्र कार्यक्रम के परीक्षण केन्द्र के रूप में करता है। व्हीलर द्वीप भारत के पूर्वी तट से लगभग की दूरी पर बंगाल की खाड़ी में और चाँदीपुर के दक्षिण में लगभग की दूरी पर स्थित है। द्वीप की लम्बाई और क्षेत्रफल है। निकटतम पत्तन धमर है।.

नई!!: ओडिशा और व्हीलर द्वीप · और देखें »

वीसलदेव रास

बीसलदेव रासो पुरानी पश्चमी राजस्थानी की एक सुप्रसिद्ध रचना है। इसके रचनाकार नरपति नाल्ह हैं। इस रचना में उन्होंने कहीं पर स्वयं को "नरपति" कहा है और कहीं पर "नाल्ह"। सम्भव है कि नरपति उनकी उपाधि रही हो और "नाल्ह" उनका नाम हो। बीसलदेव रासो" की रचना चौदहवीं शती विक्रमी की मानी जाती है। बीसलदेव एक प्रतापशाली राजा एवं संस्कृत के अच्छे कवि थे। उन्होंने अपना ‘हरकेलिविजय’ नाटक शिलापट्टों पर खुदवाया तथा राजकवि सोमदेव ने ललित विग्रह नामक नाटक भी लिखा। बीसलदेव रासो के चार खण्ड है-.

नई!!: ओडिशा और वीसलदेव रास · और देखें »

वी॰ वी॰ गिरि

वराहगिरी वेंकट गिरी या वी वी गिरी (10 अगस्त 1894 - 23 जून 1980) भारत के चौथे राष्ट्रपति थे। उनका जन्म ब्रह्मपुर, ओड़िशा में हुआ था। .

नई!!: ओडिशा और वी॰ वी॰ गिरि · और देखें »

खड़िया भाषा

खड़िया (Kharia) एक भारतीय भाषा है जो ऑस्ट्रो-एशियाई भाषाओं की मुण्डा शाखा की सदस्य है। भारत के पूर्वी क्षेत्रों के अलावा यह नेपाल में भी कहीं-कहीं बोली जाती है। इसका सम्बन्ध जुआंग भाषा से बहुत समीपी है। .

नई!!: ओडिशा और खड़िया भाषा · और देखें »

खड़िया आदिवासी

खड़िया महिला खड़िया, मध्य भारत की एक जनजाति है। यह जनजाति आस्ट्रालॉयड मानव-समूह का अंग है और इनकी भाषा आस्ट्रिक भाषा परिवार की आस्ट्रोएशियाटिक शाखा के मुंडा समूह में आती है। जनसंख्या की दृष्टि से मुंडा समूह में संताली, मुंडारी और हो के बाद खड़िया का स्थान है। खड़िया आदिवासियों का निवास मध्य भारत के पठारी भाग में है, जहाँ ऊँची पहाड़ियाँ, घने जंगल और पहाड़ी नदियाँ तथा झरने हैं। इन पहाड़ों की तराइयों में, जंगलों के बीच समतल भागों और ढलानों में इनकी घनी आबादी है। इनके साथ आदिवासियों के अतिरिक्त कुछ दूसरी सदान जातियाँ तुरी, चीक बड़ाईक, लोहरा, कुम्हार, घाँसी, गोंड, भोगता आदि भी बसी हुई हैं। खड़िया समुदाय मुख्यतः एक ग्रामीण खेतिहर समुदाय है। इसका एक हिस्सा आहार-संग्रह अवस्था में है। शिकार, मधु, रेशम के कोये, रस्सी और फल तथा जंगली कन्दों पर इनकी जीविका आधारित है। जंगल साफ करके खेती द्वारा गांदेली, मडुवा, उरद, धन आदि पैदा कर लेते हैं। .

नई!!: ओडिशा और खड़िया आदिवासी · और देखें »

खण्डगिरि

खंडगिरि का गुफा मठ उड़ीसा में भुवनेश्वर से सात मील दूर पश्चिमोत्तर में उदयगिरि के निकट की पहाड़ी खण्डगिरि कहलाती है। खण्डगिरि का शिखर 123 फुट उँचा है, जो आस-पास की पहाड़ियों में सबसे ऊँचा है। कलिंग नरेश खारवेल का प्रसिद्ध हाथी गुम्फा अभिलेख खण्डगिरि से कुछ ही दूरी पर है। खण्डगिरि की गुफाएँ जैन सम्प्रदाय से सम्बन्धित हैं। ये गुफाएँ लगभग प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व में निर्मित की गई मालूम पड़ती हैं। खण्डगिरि और इससे संबद्ध उदयगिरि में उत्खनित जैन लयण (गुफाएँ) हैं। खंडगिरि स्थित लयणों की संख्या १९ है। इसी प्रकार उदयगिरि में ४४ और नीलगिरि में ३ गुफाएँ हैं। ये सभी ईसापूर्व दूसरी-पहली शती की अनुमान की जाती है। उनके अनेक भागों में मूर्तियों का उच्चित्रण हुआ है। इन गुफाओं में सबसे प्रख्यात हाथी गुंफा है जिसके ऊपर महामेघवाहन खारवेल की प्रशस्ति अंकित है जो ऐतिहासिक दृष्टि से बड़े महत्व का है।; खण्डगिरि की गुफाएँ.

नई!!: ओडिशा और खण्डगिरि · और देखें »

खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग

खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी)(Khadi and Village Industries Commission), संसद के 'खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग अधिनियम 1956' के तहत भारत सरकार द्वारा निर्मित एक वैधानिक निकाय है। यह भारत में खादी और ग्रामोद्योग से संबंधित सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय (भारत सरकार) के अन्दर आने वाली एक शीर्ष संस्था है, जिसका मुख्य उद्देश्य है - "ग्रामीण इलाकों में खादी एवं ग्रामोद्योगों की स्थापना और विकास करने के लिए योजना बनाना, प्रचार करना, सुविधाएं और सहायता प्रदान करना है, जिसमें वह आवश्यकतानुसार ग्रामीण विकास के क्षेत्र में कार्यरत अन्य एजेंसियों की सहायता भी ले सकती है।".

नई!!: ओडिशा और खादी विकास और ग्रामोद्योग आयोग · और देखें »

खाप

खाप या सर्वखाप एक सामाजिक प्रशासन की पद्धति है जो भारत के उत्तर पश्चिमी प्रदेशों यथा राजस्थान, हरियाणा, पंजाब एवं उत्तर प्रदेश में अति प्राचीन काल से प्रचलित है। इसके अनुरूप अन्य प्रचलित संस्थाएं हैं पाल, गण, गणसंघ, सभा, समिति, जनपद अथवा गणतंत्र। समाज में सामाजिक व्यवस्थाओं को बनाये रखने के लिए मनमर्जी से काम करने वालों अथवा असामाजिक कार्य करने वालों को नियंत्रित किये जाने की आवश्यकता होती है, यदि ऐसा न किया जावे तो स्थापित मान्यताये, विश्वास, परम्पराए और मर्यादाएं ख़त्म हो जावेंगी और जंगल राज स्थापित हो जायेगा। मनु ने समाज पर नियंत्रण के लिए एक व्यवस्था दी। इस व्यवस्था में परिवार के मुखिया को सर्वोच्च न्यायाधीश के रूप में स्वीकार किया गया है। जिसकी सहायता से प्रबुद्ध व्यक्तियों की एक पंचायत होती थी। जाट समाज में यह न्याय व्यवस्था आज भी प्रचलन में है। इसी अधार पर बाद में ग्राम पंचायत का जन्म हुआ।डॉ ओमपाल सिंह तुगानिया: जाट समुदाय के प्रमुख आधार बिंदु, आगरा, 2004, पृ.

नई!!: ओडिशा और खाप · और देखें »

खारवेल

खारवेल (193 ईसापूर्व) कलिंग (वर्तमान ओडिशा) में राज करने वाले महामेघवाहन वंश का तृतीय एवं सबसे महान तथा प्रख्यात सम्राट था। खारवेल के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारी हाथीगुम्फा में चट्टान पर खुदी हुई सत्रह पंक्तियों वाला प्रसिद्ध शिलालेख है। हाथीगुम्फा, भुवनेश्वर के निकट उदयगिरि पहाड़ियों में है। इस शिलालेख के अनुसार यह जैन धर्म का अनुयायी था। उसने पंडितों की एक विराट् सभा का भी आयोजन किया था, ऐसा उक्त प्रशस्ति से प्रकट होता है। इसके समय के संबंध में मतभेद है। उसकी प्रशस्ति शिलालेख में जो संकेत उपलब्ध हैं उनके आधार पर कुछ विद्वान् उसका समय ईसा पूर्व दूसरी शती में मानते हैं और कुछ उसे ईसा पूर्व की प्रथम शती में रखते हैं। किंतु खारवेल को ईसा पूर्व पहली शताब्दी के उत्तरार्ध में रखनेवाले विद्वानों की संख्या बढ़ रहीं है। .

नई!!: ओडिशा और खारवेल · और देखें »

खारे पानी के मगरमच्छ

कायर्न्स, क्वींसलैंड के बाहर खारे पानी के मगरमच्छ खारे पानी का मगरमच्छ या एस्टूएराइन क्रोकोडाइल (estuarine crocodile) (क्रोकोडिलस पोरोसस) सबसे बड़े आकार का जीवित सरीसृप है। यह उत्तरी ऑस्ट्रेलिया, भारत के पूर्वी तट और दक्षिण-पूर्वी एशिया के उपयुक्त आवास स्थानों में पाया जाता है। .

नई!!: ओडिशा और खारे पानी के मगरमच्छ · और देखें »

खाजा

खाजा एक प्रकार का पकवान है जो मुख्यतः मैदा, चीनी, घी या डालडा से बनाया जाता है। यह पूर्वी भारत के बिहार, उड़ीसा तथा पश्चिम बंगाल में बहुत लोकप्रिय है। ये सभी क्षेत्र एक समय मौर्य साम्राज्य के अंग थे। कहा जाता है कि दो हजार वर्ष पूर्व भी इन क्षेत्रों के उपजाऊ इलाकों में खाजा बनाया जाता था। सिलाव तथा राजगीर दो ऐसे स्थान है, जहां का खाजा अन्य के मुकाबले बेहतर समझा जाता है। बिहार तथा पड़ोसी राज्यों से होते हुए खाजा अब अन्य राज्यों में भी लोकप्रिय हो गया है। आंध्र प्रदेश के काकिनाड़ा का खाजा, स्तानीय रूप से प्रसिद्ध है। .

नई!!: ओडिशा और खाजा · और देखें »

खांडाधारा जल प्रपात

खांडाधारा जल प्रपात उड़ीसा में स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और खांडाधारा जल प्रपात · और देखें »

खिचिंग

खिचिंग ओडिशा के मयूरभंज जिले में स्थित एक प्राचीन ऐतिहासिक गाँव है। यह भंज वंश की प्राचीन राजधानी है। भंज का राजवंश चित्तौड़ के राजपूतों की एक शाखा थी। इस राज्य के दो खंड थे जो क्रमश: खिचिंग और खिंजली कहे जाता थे। इस राजवंश के संस्थापक वीरभद्र थे। उन्हें 'आदि भंज' कहा जाता है। उनके संबंध में जनुश्रुति है कि उनका जन्म किसी पक्षी के अंडे से हुआ था और वशिष्ठ ऋषि ने उनका पालन पोषण किया। खिचिंग में दो दुर्गो के अवशेष हैं जो विराटगढ़ और कीचक गढ़ कहे जाते हैं। भंज राजघराने की देवी चकेश्वरी कही जाती है। वहाँ उनकी एक दर्शनीय मूर्ति है। वहाँ नीलकंठेश्वर महादेव का मंदिर है जो वास्तुकला की दृष्टि से उल्लेखनीय है। वह भुवनेश्वर के मंदिरों की परंपरा में बना है और कदाचित् ११वीं या १२वीं शती का है। श्रेणी:ओड़िशा.

नई!!: ओडिशा और खिचिंग · और देखें »

खंडायत

खंडायत (संस्कृत खंडा-आयत, "तलवार पे महारत हासिल करना ") ओडिशा भारत की एक जाति है। उन की जनसंख्या ओड़िशा की कुल जनसंख्या का 22% है। वे मुख्य रूप से प्राचीन से लेकर मध्यकालीन युग तक ‌ओडिशा राज्य का सत्ताधारी में शामिल थे.

नई!!: ओडिशा और खंडायत · और देखें »

खंडुआला जल प्रपात

खंडुआला जल प्रपात उड़ीसा मे स्थित एक जलप्रपात है। श्रेणी:भारत के जल प्रपात श्रेणी:ओड़िशा के जलप्रपात.

नई!!: ओडिशा और खंडुआला जल प्रपात · और देखें »