लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

इलेक्ट्रॉन विन्यास

सूची इलेक्ट्रॉन विन्यास

आण्विक और परमाणु कक्षीय में विद्युदणु विद्युदणु विन्यास सारणी आणविक भौतिकी एवं परिमाण रासायनिकी (प्रमात्रा रासायनिकी) में किसी अणु, परमाणु या किसी अन्य भौतिक संरचना में इलेक्ट्रॉनों की व्यवस्था को इलेक्ट्रॉन विन्यास (electron configuaration) कहते हैं। इलेक्ट्रॉन विन्यास में इलेक्ट्रॉन को किसी परमाणु या आण्विक प्रणाली में वितरित करने का तरीका दिया गया होता है। उदाहरण के लिए, नियान का इलेक्ट्र्रॉनिक विन्यास यह है- 1s2 2s2 2p6.

5 संबंधों: चुंबकत्व, रासायनिक आबंध, समूह ११ तत्व, समूह १२ तत्व, इलैक्ट्रॉन आवरण

चुंबकत्व

चुंबकत्व प्रायोगिक चुंबकीय क्षेत्र के परमाणु या उप-परमाणु स्तर पर प्रतिक्रिया करने वाले तत्वों का गुण है। उदाहरण के लिए, चुंबकत्व का ज्ञात रूप है जो की लौह चुंबकत्व है, जहां कुछ लौह-चुंबकीय तत्व स्वयं अपना निरंतर चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न करते रहते हैं। हालांकि, सभी तत्व चुंबकीय क्षेत्र की उपस्थिति से कम या अधिक स्तर तक प्रभावित होते हैं। कुछ चुंबकीय क्षेत्र (अणुचंबकत्व) के प्रति आकर्षित होते हैं; अन्य चुंबकीय क्षेत्र (प्रति-चुंबकत्व) से विकर्षित होते हैं; जब कि दूसरों का प्रायोगिक चुंबकीय क्षेत्र के साथ और अधिक जटिल संबंध होता है। पदार्थ है कि चुंबकीय क्षेत्रों द्वारा नगण्य रूप से प्रभावित पदार्थ ग़ैर-चुंबकीय पदार्थ के रूप में जाने जाते हैं। इनमें शामिल हैं तांबा, एल्यूमिनियम, गैस और प्लास्टिक.

नई!!: इलेक्ट्रॉन विन्यास और चुंबकत्व · और देखें »

रासायनिक आबंध

यह '''लेविस डॉट चित्र''' है जो कि रासायनिक आबंध दर्शाने में मददगार है किसी अणु में दो या दो से अधिक परमाणु जिस बल के द्वारा एक दूसरे से बंधे होते हैं उसे रासायनिक आबन्ध (केमिकल बॉण्ड) कहते हैं। ये आबन्ध रासायनिक संयोग के बाद बनते हैं तथा परमाणु अपने से सबसे पास वाली निष्क्रिय गैस का इलेक्ट्रान विन्यास प्राप्त कर लेते हैं। दूसरे शब्दों में, रासायनिक आबन्ध वह परिघटना है जिसमें दो या दो से अधिक अणु या परमाणु एक दूसरे से आकर्षित होकर और जुड़कर एक नया अणु या आयन बनाते हैं (एक विशेष प्रकार के बन्धन 'धात्विक बन्धन' में यह प्रक्रिया भिन्न होती है)। यह प्रक्रिया सूक्ष्म स्तर पर होती है, लेकिन इसके परिणाम का स्थूल रूप में अवलोकन किया जा सकता है, क्योंकि यही प्रक्रिया अनेकानेक अणुओं और परमाणुओं के साथ होती है। गैस में ये नये अणु स्वतन्त्र रूप से मौजू़द रहते हैं, द्रव में अणु या आयन ढीले तौर पर जुडे रहते हैं और ठोस में ये एक आवर्ती (दुहराव वाले) ढाँचे में एक दूसरे से स्थिरता से जुड़े रहते हैं। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन विन्यास और रासायनिक आबंध · और देखें »

समूह ११ तत्व

समूह ११ तत्व (Group 11 element) आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल) के रासायनिक तत्वों का एक समूह है। यह आवर्त सारणी के डी (d) खण्ड में आता है। इस समूह में ताम्र (Cu), चाँदी (Ag) और सोना (Au) तत्व शामिल हैं। इनके अलावा, अपने विद्युदणु विन्यास (इलेक्ट्रानों की संख्या व व्यवस्था) के आधार पर रॉन्टजैनियम (Rg) भी इसी समूह का सदस्य है हालाँकि यह केवल एक प्रयोगशाला में बनाया गया पारऐक्टिनाइड कृत्रिम तत्व है। रॉन्टजैनियम का नाभिक (न्यूक्लीयस) बहुत अस्थाई है जिसके कारणवश यह अत्यंत रेडियोधर्मी (रेडियोऐक्टिव) है और इसकी अर्धायु काल (हाफ़ लाइफ़) केवल २६ सैकिंड है। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन विन्यास और समूह ११ तत्व · और देखें »

समूह १२ तत्व

समूह १२ तत्व (Group 12 element) आवर्त सारणी (पीरियोडिक टेबल) के रासायनिक तत्वों का एक समूह है। यह आवर्त सारणी के डी (d) खण्ड में आता है। इस समूह में जस्ता (Zn), कैडमियम (Cd) और पारा (Hg) शामिल हैं। इनके अलावा, अपने विद्युदणु विन्यास (इलेक्ट्रानों की संख्या व व्यवस्था) के आधार पर कोपरनिसियम (Cn) भी इसी समूह का सदस्य है, हालाँकि यह केवल एक प्रयोगशाला में बनाया गया पारऐक्टिनाइड कृत्रिम तत्व है। रॉन्टजैनियम का नाभिक (न्यूक्लीयस) बहुत अस्थाई है जिसके कारणवश यह अत्यंत रेडियोधर्मी (रेडियोऐक्टिव) है और इसकी अर्धायु काल (हाफ़ लाइफ़) केवल २९ सैकिंड है। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन विन्यास और समूह १२ तत्व · और देखें »

इलैक्ट्रॉन आवरण

इलेक्ट्रॉन आवरण सहित आवर्त सारणी इलेक्ट्रॉन आवरण (अंग्रेज़ी:Electron Orbital) किसी परमाणु के नाभि की कक्षा में घूमते इलेक्ट्रॉन की कक्षा होती हैं। ये नाभि के किनारे स्थित एक के ऊपर एक चढ़े आवरणों की भांति सोचे जा सकते हैं। प्रत्येक आवरण में एक निश्चित संख्या में इलेक्ट्रॉन ही उपस्थित रह सकते हैं, अतः प्रत्येक आवरण एक विशिष्ट इलेक्ट्रॉन ऊर्जा से संबद्ध होते हैं। प्रत्येक आवरण को इलेक्ट्रॉनों से भरा होना चाहिये, इससे पहले कि उससे अगला आवरण भरना आरंभ हो। सबसे बाहरी आवरण में उपस्थित इलेक्ट्रॉन ही उस तत्त्व के गुण निश्चित करते हैं और वैलेन्स इलेक्ट्रॉन कहलाते हैं। इलेक्ट्रॉन आवरण में इलेक्ट्रॉन व्यवस्था देखने के लिये इलेक्ट्रॉन विन्यास देखें। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन विन्यास और इलैक्ट्रॉन आवरण · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

विद्युदणु विन्यास, इलेक्ट्रान विन्यास, इलेक्ट्रॉन कॉन्फिगरेशन, इलेक्ट्रॉनिक ढांचा

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »