लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

अम्दो

सूची अम्दो

अम्दो (तिब्बती: ཨ༌མདོ, अंग्रेज़ी: Amdo) तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक है, जिन्हे तिब्बती भाषा में तिब्बत के तीन 'चोलका' कहा जाता है। अन्य दो प्रान्त खम और इउ-त्संग हैं।, Ashild Kolas, Monika P Thowsen, pp.

4 संबंधों: जोनंग, खनपो जिगमेद फुनछोगस्, खम, इउ-त्संग

जोनंग

जोनंग (Jonang, तिब्बती: ཇོ་ནང་) तिब्बती बौद्ध धर्म के छह मुख्य सम्प्रदायों में से एक है। अन्य पाँच न्यिंगमा, कग्यु, सक्या, गेलुग और बोन हैं। इसका आरम्भ तिब्बत में १२वीं शताब्दी में यूमो मिक्यो दोर्जे ने करा और सक्या सम्प्रदाय में शिक्षित दोल्पोपा शेरब ग्याल्त्सेन नामक भिक्षु ने इसका प्रसार करा। १७वीं शताब्दी के अन्तभाग में ५वें दलाई लामा ने इस सम्प्रदाय का विरोध करा था और माना जाता था कि यह विलुप्त हो चुका है। लेकिन यह तिब्बत के खम और अम्दो क्षेत्रों के गोलोक, नाशी और मंगोल समुदायों वाले इलाकों में जीवित रहा और वर्तमान में लगभग ५,००० भिक्षु-भिक्षिका जोनंग धर्मधारा से जुड़े हैं। .

नई!!: अम्दो और जोनंग · और देखें »

खनपो जिगमेद फुनछोगस्

खनपो जिगमेद फुनछोगस् (तिब्बती: འཇིགས་མེད་ཕུན་ཚོགས་འབྱུང་གནས།, Wylie: 'jig med phun tshogs 'byung gnas; 1933-2004) एक ञिङमा लामा से Sertha के Amdo(dhomay)। उनके परिवार के थे खानाबदोशहै। दो साल की उम्र में उन्होंने पहचान की थी के रूप में पुनर्जन्म के Terton Sogyal, Lerab Lingpa (1852-1926)। उन्होंने अध्ययन Dzogchen पर Nubzor मठ, प्राप्त नौसिखिया समन्वय 14 पर और पूरा समन्वय पर 22 या (1955)। खेनपो जिग्मे Phuntsok था सबसे प्रभावशाली लामा की ञिङमा परंपरा के तिब्बती बौद्ध धर्म में समकालीन तिब्बत (अनुसार करने के लिए खेनपो Samdup था, जो अपने शिष्य)। एक तिब्बती बौद्ध ध्यान गुरु और प्रसिद्ध शिक्षक के महान पूर्णता (Dzogchen), वह की स्थापना की Sertha बौद्ध संस्थान, 1980 में स्थानीय रूप से जाना जाता है के रूप में Larung Gar, एक गैर सांप्रदायिक अध्ययन केंद्र के साथ लगभग 10,000 भिक्षुओं, नन, और रखना, छात्रों को अपने उच्चतम पर भरोसा है। वह खेला एक महत्वपूर्ण भूमिका में सशक्त शिक्षण तिब्बती बौद्ध धर्म के बाद के उदारीकरण के धार्मिक अभ्यास 1980 में.

नई!!: अम्दो और खनपो जिगमेद फुनछोगस् · और देखें »

खम

खम (तिब्बती: ཁམས, अंग्रेज़ी: Kham) तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक है, जिन्हे तिब्बती भाषा में तिब्बत के तीन 'चोलका' कहा जाता है। अन्य दो प्रान्त अम्दो और इउ-त्संग हैं।, Ashild Kolas, Monika P Thowsen, pp.

नई!!: अम्दो और खम · और देखें »

इउ-त्संग

इउ-त्संग (तिब्बती: དབུས་གཙང་, अंग्रेज़ी: Ü-Tsang) या त्संग-इउ तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक है, जिन्हे तिब्बती भाषा में तिब्बत के तीन 'चोलका' कहा जाता है। अन्य दो प्रान्त खम और अम्दो हैं।, Ashild Kolas, Monika P Thowsen, pp.

नई!!: अम्दो और इउ-त्संग · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »