लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

सावित्री

सूची सावित्री

कोई विवरण नहीं।

4 संबंधों: सावित्री (पुस्तक), सावित्री (सत्यवान की पत्नी), सावित्री (१९३७ फ़िल्म), सावित्री एवं सत्यवान

सावित्री (पुस्तक)

सावित्री (Savitri: A Legend and a Symbol) महर्षि अरविन्द द्वारा रचित अंग्रेजी महाकाव्य है। यह महाभारत की एक कथा पर आधारित है। यह महाकाव्य महर्षि अरविन्द के देहावसान के समय अपूर्ण था जिसमें कुल लगभग 24,000 पंक्तियाँ हैं। इस ग्रन्थ का अनुवाद विश्व की कई भाषाओ में हुआ है। इसको लिखने में श्रीअरविन्द को २४ वर्ष लगे। श्री नीरदवरण के अनुसार सावित्री को श्रीअरविन्द ने १२ बार लिखा था - इसलिए कि योगबल से श्रीअरविन्द चेतना के आकाश मे ज्यों-ज्यों ऊपर उठते गए सावित्री का संशोधन अनिवार्य होता गाया| श्री अरविंद के अनुसार सत्य तक जाने का सही मार्ग दर्शन नहीं, काव्य का मार्ग है| श्री रामधारी सिंह 'दिनकर' के अनुसार सावित्री मेधा का काव्य नहीं है, कोई भी विलक्षण काव्य केवल मेधा के बल पर नहीं लिखा जाता| वस्तुतः जिस लोक की छोटी सी प्रकाश कणिका महाकवियों के मन को उदभाषित करके उनसे अलौकिक काव्य का निर्माण करती है, सावित्री प्रणयन उसी लोक के सूर्य के साथ बैठ कर किया गया है या क्या पता, श्री अरविंद उस सूर्य के साथ एकाकार हो गए हों| .

नई!!: सावित्री और सावित्री (पुस्तक) · और देखें »

सावित्री (सत्यवान की पत्नी)

सावित्री राजर्षि अश्वपति की कन्या थी| उसने वनवासी राजा द्युमत्सेन के पुत्र सत्यवान् को पतिरूप में स्वीकार किया था। सावित्री के पति सत्यवान की मृत्यु के बाद, सावित्री ने अपनी तपस्या के बल पर सत्यवान को पुनर्जीवित कर लिया था। सावित्री की कहानी मृत्यु पर मनुष्य की विजय की कहानी है| .

नई!!: सावित्री और सावित्री (सत्यवान की पत्नी) · और देखें »

सावित्री (१९३७ फ़िल्म)

सावित्री 1937 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। .

नई!!: सावित्री और सावित्री (१९३७ फ़िल्म) · और देखें »

सावित्री एवं सत्यवान

सावित्री ने मृत्यु का देवता यम को हराई। सावित्री और सत्यवान की कथा सबसे पहले महाभारत के वनपर्व में मिलती है। जब युधिष्ठिर मारकण्डेय ऋषि से पूछ्ते हैं कि क्या कभी कोई और स्त्री थी जिसने द्रौपदी जितना भक्ति प्रदर्शित की? .

नई!!: सावित्री और सावित्री एवं सत्यवान · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »