लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

संकीर्णता (स्टेनोसिस)

सूची संकीर्णता (स्टेनोसिस)

संकीर्णता (बहुवचन: संकीर्णताएं; प्राचीन यूनानी शब्द στένωσις, अर्थात "संकुचन" से), रक्त वाहिका या अन्य नलीदार अंगों अथवा संरचनाओं के असामान्य संकुचन को कहते हैं। इसे कभी-कभार निकोचन (स्ट्रिकचर) (जैसे कि मूत्रमार्ग निकोचन) भी कहा जाता है। निकुंचन (कोआर्कटेशन) इसका पर्यायवाची शब्द है, लेकिन इसे सामान्यतः केवल महाधमनी से संबंधित निकुंचन (एओर्टिक कोआर्कटेशन) के सन्दर्भ में ही इस्तेमाल किया जाता है। .

9 संबंधों: पक्षाघात, प्राचीन यूनानी भाषा, फाइमोसिस, फुल्लन, बद्धान्त्र, रक्त वाहिका, संक्रमण, स्टेथोस्कोप, अंग (शारीरिकी)

पक्षाघात

पक्षाघात या लकवा मारना (Paralysis) एक या एकाधिक मांसपेशी समूह की मांसपेशियों के कार्य करने में पूर्णतः असमर्थ होने की स्थिति को कहते हैं। पक्षाघात से प्रभावी क्षेत्र की संवेदन-शक्ति समाप्त हो सकती है या उस भाग को चलना-फिरना या घुमाना असम्भव हो जाता है। यदि दुर्बलता आंशिक है तो उसे आंशिक पक्षाघात कहते हैं। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और पक्षाघात · और देखें »

प्राचीन यूनानी भाषा

प्राचीन यूनानी भाषा (अथवा प्राचीन ग्रीक, अंग्रेज़ी: Ancient Greek, यूनानी: हेल्लेनिकी) प्राचीन काल के यूनान देश और उसके आस-पास के क्षेत्रों की मुख्य भाषा थी। इसे संस्कृत की बहिन भाषा माना जा सकता है। ये हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार की यूनानी शाखा में आती है। इसे एक शास्त्रीय भाषा माना जाता है, जिसमें काफ़ी ज़्यादा और उच्च कोटि का साहित्य रचा गया था, जिसमें सबसे ख़ास होमर के दो महाकाव्य इलियाड और ओडेस्सी हैं। इसके व्याकरण, शब्दावली, ध्वनि-तन्त्र और संगीतमय बोली इसे संस्कृत के काफ़ी करीब रख देते हैं। इसकी बोलचाल की बोली कोइने में ही बाइबल का लगभग सारा नया नियम लिखा गया था। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और प्राचीन यूनानी भाषा · और देखें »

फाइमोसिस

शिश्न के आगे की त्वचा संकरी हो जाती है। फाइमोसिस से ग्रस्त शिश्न के खड़ा होने पर भी शिश्न मुण्ड से त्वचा पीछे नहीं आ पाती फाइमोसिस (phimosis) या निरुद्धप्रकाश शिश्न का एक विकार है। इस्से ग्रस्त शिश्न के मुण्ड की त्वचा पीछे नहीं खींची जा पाती जिससे शिश्नमुंड बाहर नहीं निकल पाता। बच्चे में फाइमोसिस होना सामान्य बात है। इसके लिए किसी उपाय की जरूरत नहीं होती। समय के साथ यह स्वयं समाप्त हो जाती है। किन्तु युवाओं में फाइमोसिस असामान्य होती है जो किसी संक्रमण या उत्तेजना अथवा सामने की चमड़ी के इन्फेक्शन से हो सकती है। इससे यह चमड़ी पीछे नहीं जाती। पैराफामोसिस जब शिश्न के शीर्ष से त्वचा सदा ही पीछे हटी रहती है तो उसे पैराफाइमोसिस कहते हैं। यह अपने स्थान पर नहीं आ पाती और शिश्न मुण्ड को नहीं ढक पाती। ऐसी स्थिति में शिश्न का शीर्ष फंस सकता है और रक्त संचार कम होने के कारण गंभीर समस्या हो सकती है। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और फाइमोसिस · और देखें »

फुल्लन

अंगुली में सूजन (अन्तर देखिये) शरीर के किसी भाग का अस्थायी रूप से (transient) बढ़ जाना आयुर्विज्ञान में फुल्लन (स्वेलिंग) कहा जाता है। हिन्दी में इसे उत्सेध, फूलना और सूजन भी कहते हैं। ट्यूमर भी इसमें सम्मिलित है। सूजन, प्रदाह के पाँच लक्षणों में से एक है। (प्रदाह के अन्य लक्षण हैं - दर्द, गर्मी, लालिमा, कार्य का ह्रास) यह पूरे शरीर में हो सकती है, या एक विशिष्ट भाग या अंग प्रभावित हो सकता है| एक शरीर का अंग चोट, संक्रमण, या रोग के जवाब में और साथ ही एक अंतर्निहित गांठ की वजह से, प्रफुल्लित हो सकता है| .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और फुल्लन · और देखें »

बद्धान्त्र

पेट के एक्स-रे में बद्धान्त्र स्पष्ट दिखायी पड़ रहा है। अन्नमार्ग लगभग 25 फुट लंबी एक नली है जिसका कार्य खाद्यपदार्थ को इकट्ठा करना, पचाना, सूक्ष्म रूपों में विभाजित कर रक्त तक पहुँचा देना एवं निरर्थक अंश को निष्कासित करना है। बद्धांत्र (Intestinal obstructions) वह दशा है जब किसी कारणवश आंत्रमार्ग में रुकावट आ जाती है। इससे उदर शूल, वमन तथा कब्ज आदि लक्षण प्रकट होते हैं। उचित चिकित्सा के अभाव में यह रोग घातक सिद्ध हो सकता है। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और बद्धान्त्र · और देखें »

रक्त वाहिका

रक्त वाहिकाएं शरीर में रक्त के परिसंचरण तंत्र का प्रमुख भाग होती हैं। इनके द्वारा शरीर में रक्त का परिवहन होता है। तीन मुख्य प्रका की रक्त वाहिकाएं होती हैं: धमनियां, जो हृदय से रक्त को शरीर में ले जाती हैं; वे रक्त वाःइकाएं, जिनके द्वारा कोशिकाओं एवं रक्त के बीच, जल एवं रसायनों का आदान-प्रदान होता है; व शिराएं, जो रक्त को वापस एकत्रित कर हृदय तक ले आती हैं। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और रक्त वाहिका · और देखें »

संक्रमण

रोगों में कुछ रोग तो ऐसे हैं जो पीड़ित व्यक्तियों के प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष संपर्क, या उनके रोगोत्पादक, विशिष्ट तत्वों से दूषित पदार्थों के सेवन एवं निकट संपर्क, से एक से दूसरे व्यक्तियों पर संक्रमित हो जाते हैं। इसी प्रक्रिया को संक्रमण (Infection) कहते हैं। सामान्य बोलचाल की भाषा में ऐसे रोगों को छुतहा रोग या छूआछूत के रोग कहते हैं। रोगग्रस्त या रोगवाहक पशु या मनुष्य संक्रमण के कारक होते हैं। संक्रामक रोग तथा इन रोग के संक्रमित होने की क्रिया समाज की दृष्टि से विशेष महत्व की है, क्योंकि विशिष्ट उपचार एवं अनागत बाधाप्रतिषेध की सुविधाओं के अभाव में इनसे महामारी (epidemic) फैल सकती है, जो कभी-कभी फैलकर सार्वदेशिक (pandemic) रूप भी धारण कर सकती है। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और संक्रमण · और देखें »

स्टेथोस्कोप

आधुनिक परिश्रावक स्टेथॉस्कोप (Stethoscope) या परिश्रावक रोगी के रक्तसंचार की दशा का परीक्षण करने का उपकरण है। फ्रांस के चिकित्सक रेते लैनेक ने 1816 ई. में उर-परीक्षण के लिए एक यंत्र की खोज की, जिसके आधार पर प्रचलित परिश्रावक का निर्माण हुआ है। आजकल प्राय: सभी चिकित्सक द्विकर्णीय यंत्र को ही उपयोग में लाते हैं। इसके दो भाग होते हैं, एक वक्षखंड जो घंटी या प्राचीर प्रकार का होता है तथा दूसरा कर्णखंड। ये दोनों रबर की नलिकाओं द्वारा जुड़े रहते हैं। हृदय, फेफड़े, आँत, नाड़ियाँ और वाहनियाँ आदि जब रोग से ग्रस्त हो जाती हैं तब चिकित्सक इसी यंत्र द्वारा उनसे निकली ध्वनि को सुनकर जानता है कि ध्वनि नियमित है या अनियमित। अनियमित ध्वनि रोग का संकेत करती है। इस यंत्र से ध्वनि तेज पड़ती है। रोगपरीक्षण में एक अच्छे परिश्रावक का होना अति आवश्यक है। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और स्टेथोस्कोप · और देखें »

अंग (शारीरिकी)

जीवविज्ञान (biology) की दृष्टि से एक विशिष्ट कार्य करने वाले उत्तकों के समूह को अंग (organ) कहते हैं। .

नई!!: संकीर्णता (स्टेनोसिस) और अंग (शारीरिकी) · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »