लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

शुक्र का भूविज्ञान

सूची शुक्र का भूविज्ञान

शुक्र एक खरोचदार सतही लक्षणों वाला ग्रह है। इसकी अधिकांश सतह जिसके बारे में जानकारी हुई है रडार प्रेक्षणों की उपज है। इसकी ज्यादातर छवियां मैगलन यान द्वारा 16 अगस्त 1990 और अपने छठे कक्षीय चक्र के समाप्ति अर्थात सितम्बर,1994 के मध्य भेजी गई है। ग्रह की 98 % भूमि मापी जा चुकी है जिनमें से 22% त्रिविमीय स्टीरियोस्कोपी छवियां है। श्रेणी:खगोलशास्त्र श्रेणी:शुक्र ग्रह.

6 संबंधों: मैजलन (अंतरिक्ष यान), रडार, शुक्र, स्टीरियोस्कोपी, ग्रह, अंतरिक्ष शोध यान

मैजलन (अंतरिक्ष यान)

मैगलन अंतरिक्ष यान (Magellan spacecraft), एक 1035 किग्रा (2280 पौंड) वजन का रोबोटिक अंतरिक्ष यान था जिसे सिंथेटिक एपर्चर रडार का उपयोग करते हुए शुक्र की सतह के मानचित्रण और ग्रहीय गुरुत्वाकर्षण को मापने के लिए 4 मई 1989 को नासा द्वारा शुरू किया गया था। इसे वीनस राडार मैपर के रूप में भी जाना जाता है। Category:Missions to Venus Category:NASA space probes Category:Destroyed extraterrestrial probes Category:1989 in spaceflight Category:Space radars.

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और मैजलन (अंतरिक्ष यान) · और देखें »

रडार

रडार तंत्र के विभिन्न भाग रडार (Radar) वस्तुओं का पता लगाने वाली एक प्रणाली है जो सूक्ष्मतरंगों का उपयोग करती है। इसकी सहायता से गतिमान वस्तुओं जैसे वायुयान, जलयान, मोटरगाड़ियों आदि की दूरी (परास), ऊंचाई, दिशा, चाल आदि का दूर से ही पता चल जाता है। इसके अलावा मौसम में तेजी से आ रहे परिवर्तनों (weather formations) का भी पता चल जाता है। 'रडार' (RADAR) शब्द मूलतः एक संक्षिप्त रूप है जिसका प्रयोग अमेरिका की नौसेना ने १९४० में 'रेडियो डिटेक्शन ऐण्ड रेंजिंग' (radio detection and ranging) के लिये प्रयोग किया था। बाद में यह संक्षिप्त रूप इतना प्रचलित हो गया कि अंग्रेजी शब्दावली में आ गया और अब इसके लिये बड़े अक्षरों (कैपिटल) का इस्तेमाल नहीं किया जाता। .

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और रडार · और देखें »

शुक्र

शुक्र (Venus), सूर्य से दूसरा ग्रह है और प्रत्येक 224.7 पृथ्वी दिनों मे सूर्य परिक्रमा करता है। ग्रह का नामकरण प्रेम और सौंदर्य की रोमन देवी पर हुआ है। चंद्रमा के बाद यह रात्रि आकाश में सबसे चमकीली प्राकृतिक वस्तु है। इसका आभासी परिमाण -4.6 के स्तर तक पहुँच जाता है और यह छाया डालने के लिए पर्याप्त उज्जवलता है। चूँकि शुक्र एक अवर ग्रह है इसलिए पृथ्वी से देखने पर यह कभी सूर्य से दूर नज़र नहीं आता है: इसका प्रसरकोण 47.8 डिग्री के अधिकतम तक पहुँचता है। शुक्र सूर्योदय से पहले या सूर्यास्त के बाद केवल थोड़ी देर के लए ही अपनी अधिकतम चमक पर पहुँचता है। यहीं कारण है जिसके लिए यह प्राचीन संस्कृतियों के द्वारा सुबह का तारा या शाम का तारा के रूप में संदर्भित किया गया है। शुक्र एक स्थलीय ग्रह के रूप में वर्गीकृत है और समान आकार, गुरुत्वाकर्षण और संरचना के कारण कभी कभी उसे पृथ्वी का "बहन ग्रह" कहा गया है। शुक्र आकार और दूरी दोनों मे पृथ्वी के निकटतम है। हालांकि अन्य मामलों में यह पृथ्वी से एकदम अलग नज़र आता है। शुक्र सल्फ्यूरिक एसिड युक्त अत्यधिक परावर्तक बादलों की एक अपारदर्शी परत से ढँका हुआ है। जिसने इसकी सतह को दृश्य प्रकाश में अंतरिक्ष से निहारने से बचा रखा है। इसका वायुमंडल चार स्थलीय ग्रहों मे सघनतम है और अधिकाँशतः कार्बन डाईऑक्साइड से बना है। ग्रह की सतह पर वायुमंडलीय दबाव पृथ्वी की तुलना मे 92 गुना है। 735° K (462°C,863°F) के औसत सतही तापमान के साथ शुक्र सौर मंडल मे अब तक का सबसे तप्त ग्रह है। कार्बन को चट्टानों और सतही भूआकृतियों में वापस जकड़ने के लिए यहाँ कोई कार्बन चक्र मौजूद नही है और ना ही ज़ीवद्रव्य को इसमे अवशोषित करने के लिए कोई कार्बनिक जीवन यहाँ नज़र आता है। शुक्र पर अतीत में महासागर हो सकते हैलेकिन अनवरत ग्रीनहाउस प्रभाव के कारण बढ़ते तापमान के साथ वह वाष्पीकृत होते गये होंगे |B.M. Jakosky, "Atmospheres of the Terrestrial Planets", in Beatty, Petersen and Chaikin (eds), The New Solar System, 4th edition 1999, Sky Publishing Company (Boston) and Cambridge University Press (Cambridge), pp.

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और शुक्र · और देखें »

स्टीरियोस्कोपी

हवाई तस्वीरें. ''बोस्टन, का नजारा सन १८६० मे''; प्रकृति के एक दृश्य को देखने के लिए एक प्रारंभिक त्रिविम कार्ड स्टीरियोस्कोपी (Stereoscopy) (त्रिविम या 3 - डी इमेजिंग) गहराई का भ्रम पैदा करने या बढ़ाने के लिए की गयी एक तकनीक को संदर्भित करता (बाएँ और दाएँ आँख के लिए दो अलग समंजन छवियों पेश करके) है| फिर ये 2 डी ऑफसेट छविया मस्तिष्क में संयुक्त रूप से एक बनकर 3 डी की गहराई को धारणा कर लेती है|इसके अंतर्गत तीन ऋणनीतियाँ का प्रयोग किया गया है* दर्शक चश्मा पहने ताकि दो स्रोतों से आ रही अलग छवियों का गठबंधन हो सके* दर्शक चश्मा पहने ताकि एकल स्रोत की छवियों को छलनी कर सके अपनी प्रत्येक आँख के लिए*स्रोत विखंडन करे छवियों का ताकि छवियों सीधे दर्शक की आँख मे जाए| .

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और स्टीरियोस्कोपी · और देखें »

ग्रह

हमारे सौरमण्डल के ग्रह - दायें से बाएं - बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, युरेनस और नेप्चून सौर मंडल के ग्रहों, सूर्य और अन्य पिंडों के तुलनात्मक चित्र सूर्य या किसी अन्य तारे के चारों ओर परिक्रमा करने वाले खगोल पिण्डों को ग्रह कहते हैं। अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ के अनुसार हमारे सौर मंडल में आठ ग्रह हैं - बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, युरेनस और नेप्चून। इनके अतिरिक्त तीन बौने ग्रह और हैं - सीरीस, प्लूटो और एरीस। प्राचीन खगोलशास्त्रियों ने तारों और ग्रहों के बीच में अन्तर इस तरह किया- रात में आकाश में चमकने वाले अधिकतर पिण्ड हमेशा पूरब की दिशा से उठते हैं, एक निश्चित गति प्राप्त करते हैं और पश्चिम की दिशा में अस्त होते हैं। इन पिण्डों का आपस में एक दूसरे के सापेक्ष भी कोई परिवर्तन नहीं होता है। इन पिण्डों को तारा कहा गया। पर कुछ ऐसे भी पिण्ड हैं जो बाकी पिण्डों के सापेक्ष में कभी आगे जाते थे और कभी पीछे - यानी कि वे घुमक्कड़ थे। Planet एक लैटिन का शब्द है, जिसका अर्थ होता है इधर-उधर घूमने वाला। इसलिये इन पिण्डों का नाम Planet और हिन्दी में ग्रह रख दिया गया। शनि के परे के ग्रह दूरबीन के बिना नहीं दिखाई देते हैं, इसलिए प्राचीन वैज्ञानिकों को केवल पाँच ग्रहों का ज्ञान था, पृथ्वी को उस समय ग्रह नहीं माना जाता था। ज्योतिष के अनुसार ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, मंगल, गुरु, शनि, राहु और केतु। .

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और ग्रह · और देखें »

अंतरिक्ष शोध यान

अंतरिक्ष शोध यान (Space Probe), एक वैज्ञानिक अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन है जिसमें एक अंतरिक्ष यान पृथ्वी से छूटता है और अंतरिक्ष की पड़ताल करता है। यह रोबोटीय अंतरिक्ष यान का ही एक रूप है। वॉयजर 1 सबसे प्रसिद्ध अंतरिक्ष शोध यानों में से एक है। श्रेणी:अंतरिक्ष यान *.

नई!!: शुक्र का भूविज्ञान और अंतरिक्ष शोध यान · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »