लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

रोगक्षमता की कृत्रिम प्रेरण

सूची रोगक्षमता की कृत्रिम प्रेरण

रोगक्षमता की प्रेरण कृत्रिम रोगक्षमता की (मानव एजेंसी, युक्ति और कौशल से) प्रेरण (उत्पादन और दीक्षा) कृत्रिम विशिष्ट रोगों के लिए (जो विशिष्ट रोगों के लिए अतिसंवेदनशील नहीं है) - लोगों को रोग पकड़ने के इंतजार के बजाय उन्हें प्रतिरक्ष बनाता है। इसका प्रयोजन मृत्यु और पीड़ित के जोखिम को कम करने के लिए है। गंभीर बीमारी प्रतिरक्षण के खिलाफ संक्रमण पैदा कर सकता है, जो आम तौर पर फायदेमंद है। पाश्चर के रोगाणु सिद्धांत के समर्थन के बाद, हमने जंगली संक्रमण से जुड़े जोखिम को रोकने के लिए तेजी से रोगक्षमता को प्रेरित किया है। आशा है कि उन्मुक्ति के आणविक आधार को समझने के आगे भविष्य में सुधार नैदानिक अभ्यास करने के लिए अनुवाद करेंगे.

2 संबंधों: एडवार्ड जेनर, रेबीज़

एडवार्ड जेनर

एडवार्ड जेनर एडवर्ड जेनर (सन्‌ 1749-1823) अंग्रेज कायचिकित्सक तथा चेचक के टीके के आविष्कारक थे। जेनर को अक्सर "इम्यूनोलॉजी का पिता" कहा जाता है, और उनके काम को "किसी अन्य मानव के काम से ज्यादा ज़िंदगी बचाने वाला" कहा जाता है। वह रॉयल सोसायटी के सदस्य थे। वह कोयल के बच्चों की परजीवीता (ब्रूड परजीवी) का वर्णन करने वाले पहले व्यक्ति थे। 2002 में, जेनेर को बीबीसी की 100 महानतम ब्रिटन्स की सूची में नामित किया गया था। इनका जन्म 17 मई सन्‌ 1749 को बर्कले में हुआ। उट्टन में प्रारंभिक शिक्षा समाप्त करने के उपरांत ये सन्‌ 1770 में लंदन गए और सन्‌ 1792 में ऐंड्रय्‌ज कालेज से एमo डीदृ की उपाधि प्राप्त की। अपने अध्ययन काल में ही इन्होंने कैप्टेन कुक की समुद्री यात्रा से प्राप्त प्राणिशास्त्रीय नमूनों को व्यवस्थित किया। सन्‌ 1775 में इन्होंने सिद्ध किया कि गोमसूरी (cowpox) में दो विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ सम्मिलित है, जिनमें से केवल एक चेचक से रक्षा करती है। इन्होंने यह भी निश्चित किया कि गोमसूरी, चेचक और घोड़े के पैर की ग्रीज़ (grease) नामक बीमारियाँ अनुषंगी हैं। सन्‌ 1798 में इन्होंने 'चेचक के टीके के कारणों और प्रभावों' पर एक निबंध प्रकाशित किया। सन्‌ 1803 में चेचक के टीके के प्रसार के लिये रॉयल जेनेरियन संस्था स्थापित हुई। इनके कार्यों के उलक्ष्य में आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने इन्हें एमo डीo की सम्मानित उपाधि से विभूषित किया। सन्‌ 1822 में 'कुछ रोगों में कृत्रिम विस्फोटन का प्रभाव' पर निबंध प्रकाशित किया और दूसरे वर्ष रॉयल सोसाइटी में 'पक्षी प्रव्राजन' पर निबंध लिखा। 26 जनवरी 1823 को बर्कले में इनका देहावसान हो गया। श्रेणी:वैज्ञानिक.

नई!!: रोगक्षमता की कृत्रिम प्रेरण और एडवार्ड जेनर · और देखें »

रेबीज़

रेबीज़ (अलर्क, जलांतक) एक विषाणु जनित बीमारी है जिस के कारण अत्यंत तेज इन्सेफेलाइटिस (मस्तिष्क का सूजन) इंसानों एवं अन्य गर्म रक्तयुक्त जानवरों में हो जाता है। प्रारंभिक लक्षणों में बुखार और एक्सपोजर के स्थल पर झुनझुनी शामिल हो सकते हैं। इन लक्षणों के बाद निम्नलिखित एक या कई लक्षण होते हैं: हिंसक गतिविधि, अनियंत्रित उत्तेजना, पानी से डर, शरीर के अंगों को हिलाने में असमर्थता, भ्रम, और होश खो देना। लक्षण प्रकट होने के बाद, रेबीज़ का परिणाम लगभग हमेशा मौत है। रोग संक्रमण और लक्षणों की शुरुआत के बीच की अवधि आमतौर पर एक से तीन महीने होती है। तथापि, यह समय अवधि एक सप्ताह से कम से लेकर एक वर्ष से अधिक तक में बदल सकती है। यह समय अवधि उस दूरी पर निर्भर करता है जिसे विषाणु के लिए केंद्रीय स्नायुतंत्र तक पहुँचने के लिए तय करना आवश्यक है। .

नई!!: रोगक्षमता की कृत्रिम प्रेरण और रेबीज़ · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »