लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
मुक्त
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

भीमदेव प्रथम

सूची भीमदेव प्रथम

भीम मैं (आर। सी। 1022-1064 सीई) एक भारतीय राजा जो आज के गुजरात के कुछ हिस्सों पर शासन किया था। उन्होंने Chaulukya (भी चालुक्य या सोलंकी कहा जाता है) वंश के एक सदस्य था। भीम मैं गुर्जर शासनकाल ग के राजा। 1022-1064 सीई पूर्ववर्ती Durlabharaja उत्तराधिकारी कर्ण पति Udayamati अंक Mularaja, क्षहेमराजा और कर्ण राजवंश Chaulukya (सोलंकी) पिता नागराज भीम मैं भारत भीम IBhima IBhima में स्थित है मैं भीम के शासनकाल के दौरान जारी किए गए शिलालेख के धब्बे का पता लगाएं प्रारंभिक वर्षों भीम के शासनकाल के ग़ज़नवी साम्राज्य के शासक महमूद ने सोमनाथ मंदिर को बर्खास्त कर दिया से एक आक्रमण को देखा। भीम ने अपनी राजधानी को छोड़ दिया और इस आक्रमण के दौरान Kanthkot में शरण ले ली। महमूद के चले जाने के बाद, वह अपनी शक्ति बरामद किए गए और सभी प्रदेशों वह विरासत में मिला था बनाए रखा। उन्होंने Arbuda में अपने जागीरदार द्वारा एक ने विद्रोह को कुचलने, और असफल Naddula Chahamana राज्य पर आक्रमण करने की कोशिश की। उनके शासनकाल के अंत में, वह कलचुरी राजा लक्ष्मी-कर्ण के साथ गठबंधन किया है, और परमार राजा भोज के पतन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। दिलवाड़ा मंदिर और Modhera सूर्य मंदिर का जल्द से जल्द भीम के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। रानी की वाव का निर्माण कार्य भी अपनी रानी Udayamati को जिम्मेदार ठहराया है। .

1 संबंध: रानी की वाव

रानी की वाव

'''रानी की वाव''' का ऊपर से लिया गया चित्र रानी की वाव भारत के गुजरात राज्य के पाटण में स्थित प्रसिद्ध बावड़ी (सीढ़ीदार कुआँ) है। 22 जून 2014 को इसे यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल में सम्मिलित किया गया। पाटण को पहले 'अन्हिलपुर' के नाम से जाना जाता था, जो गुजरात की पूर्व राजधानी थी। कहते हैं कि रानी की वाव (बावड़ी) वर्ष 1063 में सोलंकी शासन के राजा भीमदेव प्रथम की प्रेमिल स्‍मृति में उनकी पत्नी रानी उदयामति ने बनवाया था। रानी उदयमति जूनागढ़ के चूड़ासमा शासक रा' खेंगार की पुत्री थीं। सोलंकी राजवंश के संस्‍थापक मूलराज थे। सीढ़ी युक्‍त बावड़ी में कभी सरस्वती नदी के जल के कारण गाद भर गया था। यह वाव 64 मीटर लंबा, 20 मीटर चौड़ा तथा 27 मीटर गहरा है। यह भारत में अपनी तरह का अनूठा वाव है। वाव के खंभे सोलंकी वंश और उनके वास्तुकला के चमत्कार के समय में ले जाते हैं। वाव की दीवारों और स्तंभों पर अधिकांश नक्काशियां, राम, वामन, महिषासुरमर्दिनी, कल्कि, आदि जैसे अवतारों के विभिन्न रूपों में भगवान विष्णु को समर्पित हैं। 'रानी की वाव' को विश्व विरासत की नई सूची में शामिल किए जाने का औपचारिक ऐलान कर दिया गया है। 11वीं सदी में निर्मित इस वाव को यूनेस्को की विश्व विरासत समिति ने भारत में स्थित सभी बावड़ी या वाव (स्टेपवेल) की रानी का भी खिताब दिया है। इसे जल प्रबंधन प्रणाली में भूजल संसाधनों के उपयोग की तकनीक का बेहतरीन उदाहरण माना है। 11वीं सदी का भारतीय भूमिगत वास्तु संरचना का अनूठे प्रकार का सबसे विकसित एवं व्यापक उदाहरण है यह, जो भारत में वाव निर्माण के विकास की गाथा दर्शाता है। सात मंजिला यह वाव मारू-गुर्जर शैली का साक्ष्य है। ये करीब सात शताब्दी तक सरस्वती नदी के लापता होने के बाद गाद में दबी हुई थी। इसे भारतीय पुरातत्व सर्वे ने वापस खोजा। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने सायआर्क और स्कॉटिस टेन के सहयोग से वाव के दस्तावेजों का डिजिटलाइजेशन भी कर लिया है। .

नई!!: भीमदेव प्रथम और रानी की वाव · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »