लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

नेटबीन्स

सूची नेटबीन्स

नेटबीन्स आईडीई ७.० नेटबीन्स (NetBeans) एक मुक्तस्रोत सॉफ्टवेयर है। एक तरफ यह जावा डेस्कटॉप अनुप्रयोगों के लिये प्लेटफॉर्म फ्रेमवर्क है और दूसरी तरफ जावा, जावास्क्रिप्ट, पीएचपी, पाइथन आदि प्रोग्रामन भाषाओं में प्रोग्राम विकसित करने के लिये आईडीई (IDE) भी है। नेटबीन्स को जावा में लिखा गया है अतः यह जहाँ भी जावा आभासी मशीन (JVM) हो वहाँ इसे चलाया जा सकता है। अतः यह विन्डोज, लिनक्स, मैक ओएस और सोलारिस के अलावा कई प्रचालन तंत्र पर चलता है। नेटबींस अनुप्रयोगों को मॉड्यूलर सॉफ़्टवेयर घटकों के सेट से विकसित करने की अनुमति देता है जिन्हें मॉड्यूल ‍‌(Module) कहते हैं। नेटबैंस टीम उत्पाद का समर्थन करती है और व्यापक समुदाय से सुविधा के सुझावों का प्रयास करती है। सामुदायिक परीक्षण और प्रतिक्रिया के लिए प्रत्येक रिलीज एक समय से पहले है। .

8 संबंधों: पाइथन, प्रचालन तन्त्र, पीएचपी, मुक्त स्रोत, लिनक्स, सॉफ्टवेयर, जावा, जावास्क्रिप्ट

पाइथन

पाइथन एक सामान्य उद्देश्य उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (General Purpose and High Level Programming language) है, इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को इस तरह से डिजाईन किया गया है ताकि इसमें लिखे गए कोड आसानी से पढ़े और समझे जा सकें। दुसरे प्रोग्रामिंग भाषाओं के विपरीत, जिनमें कोड ब्लॉक्स को दर्शाने के लिए Curly Braces() का इस्तेमाल किया जाता है, इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में कोड ब्लॉक्स को दर्शाने के लिए white space का प्रयोग किया जाता है। इस प्रोग्रामिंग भाषा को Guido van Rossum ने 1991 में बनाया था। यह वस्तुतः एक प्रोग्रामिंग लिपि है जिसमें प्रोग्राम चलाने के लिए कोड को कंपाईल, यानि पूर्व-संयोजित करने की जरूरत नहीं है। पायथन "वाक्य रचना के साथ बहुत स्पष्ट उल्लेखनीय शक्ति" का दावा करती है। और उसके मानक पुस्तकालय बड़े और व्यापक है। इस भाषा की डिजाइन दर्शन में कूट-पठनीयता (code readability) पर जोर दिया गया है। पाइथन का दावा है कि इसका सिन्टैक्स बहुत स्पष्ट है; इसकी मानक लाइब्रेरी विशाल और सर्वसमाहित (comprehensive) है। पाइथन कई लिनक्स सिस्टमों के साथ लग्न आता है। पायथन कई प्रोग्रामिंग मानदंड, मुख्य रूप से आब्जेक्ट उन्मुखी भाषा (object oriented language), अनिवार्य प्रणाली तक ही सीमित नहीं, कार्यात्मक प्रोग्रामिंग शैली को भी समर्थन करता है। यह एक पूरी तरह गतिशील प्रकार प्रणाली और स्वत: स्मृति Scheme, Ruby, Perl and Tcl बंधन और समान सुविधाएँ। अन्य गतिशील भाषाओं की तरह, पायथन अक्सर एक स्क्रिप्टिंग भाषा के रूप में प्रयोग किया जाता है, लेकिन कभी कभी गैर स्क्रीप्टिंग संदर्भों की एक विस्तृत श्रृंखला में भी प्रयोग किया जाता है। तीसरे पक्ष के उपकरणों का उपयोग करना, पायथन कोड स्वसंपूर्ण निष्पादन योग्य कार्यक्रम में पैक किया जा सकता है। पायथन दुभाषियों कई ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए उपलब्ध हैं। सी पायथन (CPython) के संदर्भ कार्यान्वयन स्वतंत्र और खुला स्रोत सॉफ्टवेयर और समुदाय आधारित विकास मॉडल है, के रूप में सभी या इसकी वैकल्पिक कार्यान्वयन की लगभग सभी करते हैं। CPython गैर लाभ अजगर सॉफ्टवेयर फाउंडेशन द्वारा किया जाता है। .

नई!!: नेटबीन्स और पाइथन · और देखें »

प्रचालन तन्त्र

प्रचालन तंत्र (अंग्रेज़ी:ऑपरेटिंग सिस्टम) साफ्टवेयर का समूह है जो कि आंकड़ों एवं निर्देश के संचरण को नियंत्रित करता है। यह हार्डवेयर एवं साफ्टवेयर के बीच सेतु का कार्य करता है और कंप्यूटर का सॉफ्टवेयर घटक होता है। इसी की सहायता से ही कंप्यूटर में स्थापित प्रोग्राम चलते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर का मेरुदंड होता है, जो इसके सॉफ्टवेयर व हार्डवेयर को नियंत्रण में रखता है। यह अनधिकृत व्यक्ति को कंप्यूटर के गलत प्रयोग करने से रोकता है।। हिन्दुस्तान लाइव।। प्रमोद पंत।२५ अक्टूबर, २००९ वह इसमें भी विभेद कर सकता हैं कि कौन सा निवेदन पूरा करना है और कौन सा नहीं, इसके साथ ही इनकी वरीयता भी ध्यान रखी जाती है। इसकी मदद से एक से ज्यादा सीपीयू में भी प्रोगाम चलाए जा सकते हैं। इसके अलावा संगणक संचिका को पुनः नाम देना, डायरेक्टरी की विषय सूची बदलना, डायरेक्टरी बदलना आदि कार्य भी प्रचालन तंत्र के द्वारा किए जाते है। डॉस (DOS), यूनिक्स, विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम (३.१, ९५, ९८, २०००, एक्स पी, विस्ता, विंडोज ७) और लिनक्स आदि कुछ प्रमुख प्रचालन तंत्र हैं।। तकनीक.कॉम।२ जुलाई, २००८।। कमल विभिन्न प्रचालन तंत्रों में से कुछ हैं:लिनक्स, मैक ओएस एक्स, डॉस, आईबीएम ओएस/2 (IBM OS/2), यूनिक्स, विन्डोज सीई, विन्डोज 3.x, विन्डोज ९५, विन्डोज ९८, विन्डोज मिलेनियम, विन्डोज़ एनटी, विन्डोज २०००, विन्डोज़ एक्स पी, विन्डोज़ विस्टा, विन्डोज़ 7। उबंटु प्रचालन तंत्र कंप्यूटर से जुड़े कई मौलिक कार्यों को संभालता है, जैसे की-बोर्ड से इनपुट लेना, डिस्प्ले स्क्रीन को आउटपुट भेजना, डाइरेक्टरी और संगणक संचिका को डिस्क में ट्रेक करना, इत्यादि। बड़े कंप्यूटरों में इसका काम और अधिक होता है। वह इनमें लगातार यह जांच करता है कि एक ही समय पर कंप्यूटर में चलने वाले प्रोगामों, फाइलों और एक ही समय पर खुलने वाली साइटों में दोहराव न हो। आरंभिक दौर में यह मेनफ्रेम कंप्यूटरों पर बड़े कामों के लिए ही हुआ करता था। बाद में धीरे-धीरे माइक्रोकम्प्यूटर्स में भी मिलने लगा, लेकिन उस समय इसमें एक समय पर केवल एक ही प्रोगाम रन करा सकते थे। मेनफ्रेम कंप्यूटर में १९६० में पहली बार बहुकार्यिक (मल्टीटास्किंग) सिस्टम आया था। इससे एक समय में एक से ज्यादा उपयोक्ता काम कर सकते थे। १९७० लिनक्स ने पहली बार पीडीपी-७ में प्रचालन तंत्र निकाला, जो मुख्यतया मल्टीटास्किंग, स्मृति प्रबंधन (मेमोरी मैनेजमेंट), स्मृति संरक्षण (मेमोरी प्रोटेक्शन) जैसे कार्य करता था। .

नई!!: नेटबीन्स और प्रचालन तन्त्र · और देखें »

पीएचपी

पीएचपी (PHP) नेट पर वेब साईट बनाने की एक भाषा है। इस को आसानी से HTML के साथ जोड़ किसी भी पेज़ को डायनामिक बनाया जा सकता है। यह एक सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग भाषा है। .

नई!!: नेटबीन्स और पीएचपी · और देखें »

मुक्त स्रोत

फ्री एवं मुक्त स्रोत सॉफ्टवेयर का सैद्धांतिक आरेख मुक्त स्रोत (अंग्रेज़ी:ओपन सोर्स) किसी भी सामग्री के उत्पादन, विस्तार एवं विकास की वह प्रक्रिया है जिसमें उत्पादन की प्रक्रिया पूरी तरह से खुली व्यवस्था होती है। इसमें स्रोत को प्रकाशित किया एवं बढ़ावा दिया जाता है। इस विचारधारा के आरंभ के समय यह केवल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर तक ही सीमित थी, जिसके अंतरगत विभिन्न सॉफ्टवेयर के सोर्स कोड को निःशुल्क वितरित किया जाता था और इस प्रकार उपयोक्ता की पहुंच सॉफ्टवेयर के सोर्स कोड तक होती थी। इसके अंतर्गत उपयोक्ताओं को किसी भी अनुप्रयोग के विकास की प्रक्रिया में भाग लेने, इसे बदलने व इसमें किसी भी प्रकार का सुधार कर फिर स्वयं वितरित करने का अधिकार भी मिलता था। इस प्रकार उसे कोई भी व्यक्ति अपनी सुविधानुसार नये और परिवर्तित सॉफ्टवेयर को बनाने के लिये प्रयोग करने हेतु मुक्त होता था। इसके किसी प्रकार के प्रयोग पर कोई निषेध नहीं होता है।।हिन्दुस्तान लाइव।५ नवंबर, २००९ इस तरह से ओपन सोर्स केवल सोफ्टवेयर तक सीमित न रहकर हर प्रकार की रचना तक पहुंच गया है, जैसे लेख, चित्र, संगीत और चलचित्र आदि।। सूचना एवं पुस्तकालय नेटवर्क केन्द्र। सॉफ्टवेयर उद्योग में मुक्त स्रोत का विचार सर्वप्रथम १९९० के दशक में आया था, जब कई कंपनियों ने अपने सॉफ्टवेयर, प्रचालन तंत्र आदि मुक्त स्रोत रूप में जारी किये थे। इसका आरंभ लाइनेक्स से हुआ था। पहली बार वृहत स्तर पर १९९८ में दिखा जब नेविगेटर (मोज़िला) का सोर्स कोड जारी किया। इसके कई स्तर होते हैं। कई कंपनियां मुक्त स्रोत को जारी करते समय उसके साथ कुछ कुछ प्रतिबंध या शर्तें आदि लगा देती हैं ताकि उसका दुरुपयोग न हो सके। मुक्त स्रोत का मुख्य लाभ होता है कि उपभोक्ता के पास इसका सोर्स कोर्ड उपलब्ध होने के कारण वह इसका प्रयोग अपनी इच्छा और आवश्यकतानुसार कर सकता है। एप्पल आदि कई कंपनियां अपनी तकनीकों को मुक्त स्रोत लाइसेंस के द्वारा जारी करती हैं जिसके ऐवज में उपभोक्ताओं से वो पैसे लेती हैं। लगभग एक वर्ष पूर्व बाजार में गूगल फोन आया था जिसमें एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग किया गया था। इसका प्रचालन तंत्र भी मुक्त स्रोत ही था और जिसमें डेवलपर परिवर्तन करके इसके प्रकार्यों और कुछ सुविधाओं को को बढ़ा और घटा भी सकते थे, जैसे फोन के मीडिया प्लेयर में इच्छानुसार परिवर्तन करना संभव था। मुक्त स्रोत के पीछे का उद्देश्य है, कि किसी भी उत्पाद के बारे में विकास और उसमें निहित त्रुटियां और कमियां जितनी अधिक और जल्दी उपयोक्ता बता सकते हैं, उतना अधिक उसके निर्माता नहीं कर सकते हैं। निर्मातागण मात्र सीमित दिशा में ही सोच सकते हैं, किन्तु बड़ी संख्या में उपयोक्ता असीमित आयामों सहित विकास कर सकते हैं, जिनको अध्ययन कर बाद में निर्माताओं का विकास अनुभाग नया और उत्कृष्ट वर्ज़न निकाल सकते हैं। लिनक्स, विकिपीडिया, फेडोरा, फ़ायरफ़ॉक्स आदि की सफलता ने मुक्त स्रोत की विचारधारा को मुख्यधारा में ला दिया है।। दैट्स हिन्दी।२६ मई, २००९। राजेश रंजन। वर्तमान युग में ये प्रणाली सॉफ्टवेयरों के अलावा बहुत जगह प्रयोग की जाने लगी है। इसका एक जीवंत उदाहरण है विकिपीडिया। इसे कोई भी कभी और कहीं भी संपादित कर सकता है। जिसका अध्ययन कर प्रबंधकवर्ग संशोधित संस्करण निकालते रहते हैं और ध्वंसकारी बदलाव वापस करते रहते हैं। .

नई!!: नेटबीन्स और मुक्त स्रोत · और देखें »

लिनक्स

लिनक्स यूनिक्स जैसा एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह ओपेन सोर्स सॉफ्टवेयर अथवा मुक्त स्रोत सॉफ्टवेयर का सबसे कामयाब तथा सबसे लोकप्रिय सॉफ्टवेयर है। यह जीपीएल v 2 लाइसेंस के अन्तर्गत सर्व साधारण के उपयोग हेतु उपलब्ध है और इसका कुछ भाग यूनिक्स से प्रेरित है।मूलतः यह मिनिक्स का विकास कर बनाया गया है। यूनिक्स का विकास, 1960 के दशक में ऐ.टी.&टी. की बेल प्रयोगशाला के द्वारा किया गया। उस समय ऐ.टी.&टी.

नई!!: नेटबीन्स और लिनक्स · और देखें »

सॉफ्टवेयर

कंप्यूटर विज्ञान में एक सॉफ्टवेयर सार्थक क्रमादेशों और ज़रूरी सूचनाओं का एक ऐसा तंत्र है जो कंप्यूटर के यन्त्रांश और दूसरे सॉफ्टवेयरों को आदेश देकर क्रमादेशक का मनचाहा काम करता है। व्यावहारिक तौर पर अगर कंप्यूटर को परिभाषित किया जाये तो हम हार्डवेयर को मनुष्य का शरीर और सॉफ्टवेर को उसकी आत्मा कह सकते हैं। हार्डवेयर कंप्यूटर के हिस्सों को कहते हैं, जिन्हें हम अपनी आँखों से देख सकते हैं, छू सकते हैं अथवा औजारों से उनपर कार्य कर सकते हैं। यह वास्तविक पदार्थ है। इसके विपरीत सॉफ्टवेयर कोई पदार्थ नहीं है। ये वे सूचनाएं, आदेश अथवा तरीके हैं जिनके आधार पर कंप्यूटर का हार्डवेयर कार्य करता है। कंप्यूटर हार्डवेयर सॉफ्टवेयर से परिचित होते हैं अथवा सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के हार्डवेयर से परिचित एवं उनपर आधारित होते हैं। .

नई!!: नेटबीन्स और सॉफ्टवेयर · और देखें »

जावा

कोई विवरण नहीं।

नई!!: नेटबीन्स और जावा · और देखें »

जावास्क्रिप्ट

जावास्क्रिप्ट एक कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा है। यह एक स्क्रिप्टिंग भाषा है और मुख्यतः क्लाएंट साइड में वेबपेज के निर्माण में प्रयुक्त होती है। .

नई!!: नेटबीन्स और जावास्क्रिप्ट · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »