लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

द्वारकानाथ ठाकुर

सूची द्वारकानाथ ठाकुर

Grave of Dwarkanath Tagore in London. Photo:Tony Mitra द्वारकानाथ ठाकुर (१७९४-१८४६) बंगाल प्रदेश में जन्मे। वह ठाकुर परिवार के पूर्वज थे। .

5 संबंधों: ठाकुर परिवार, देवेन्द्रनाथ ठाकुर, रबीन्द्रनाथ ठाकुर, गगनेन्द्रनाथ ठाकुर, अवनींद्र नाथ टैगोर

ठाकुर परिवार

ठाकुर परिवार इस परिवार से कई महान लेखक, नेता और चित्रकार उत्पन्न हुए। .

नई!!: द्वारकानाथ ठाकुर और ठाकुर परिवार · और देखें »

देवेन्द्रनाथ ठाकुर

देवेन्द्रनाथ ठाकुर शान्तिनिकेतन में देवेन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा १८६३ में निर्मित '''उपासना गृह''' देवेन्द्रनाथ ठाकुर (15 मई 1817 – 19 जनवरी 1905) हिन्दू दार्शनिक, ब्रह्मसमाजी तथा धर्मसुधारक थे। १८४८ में ब्रह्म समाज के संस्थापकों में से एक थे। .

नई!!: द्वारकानाथ ठाकुर और देवेन्द्रनाथ ठाकुर · और देखें »

रबीन्द्रनाथ ठाकुर

रवीन्द्रनाथ ठाकुर (बंगाली: রবীন্দ্রনাথ ঠাকুর रोबिन्द्रोनाथ ठाकुर) (७ मई, १८६१ – ७ अगस्त, १९४१) को गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है। वे विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबल पुरस्कार विजेता हैं। बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नयी जान फूँकने वाले युगदृष्टा थे। वे एशिया के प्रथम नोबेल पुरस्कार सम्मानित व्यक्ति हैं। वे एकमात्र कवि हैं जिसकी दो रचनाएँ दो देशों का राष्ट्रगान बनीं - भारत का राष्ट्र-गान जन गण मन और बाँग्लादेश का राष्ट्रीय गान आमार सोनार बाँग्ला गुरुदेव की ही रचनाएँ हैं। .

नई!!: द्वारकानाथ ठाकुर और रबीन्द्रनाथ ठाकुर · और देखें »

गगनेन्द्रनाथ ठाकुर

१९१५ में चित्रित ''प्रतिमा विसर्जन'' गगनेन्द्रनाथ ठाकुर (१७ सितम्बर, १८६७ - १९३८) भारत के बंगाल प्रदेश में जन्मे एक चित्रकार एवं कार्टूनकार थे। वह और उनके भाई अवनीन्द्रनाथ ठाकुर भारत के आधुनिक कलाकारों में अग्रणी थे।। वह ठाकुर परिवार के थे और चित्रकार थे। .

नई!!: द्वारकानाथ ठाकुर और गगनेन्द्रनाथ ठाकुर · और देखें »

अवनींद्र नाथ टैगोर

अवनीन्द्रनाथ ठाकुर की कृति "गणेश-जननी" अवनीन्द्रनाथ ठाकुर (१८७१-१९५१) भारत के बंगाल प्रदेश में जन्मे चित्रकार थे। .

नई!!: द्वारकानाथ ठाकुर और अवनींद्र नाथ टैगोर · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »