लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

ग्राहक संबंध प्रबंधन

सूची ग्राहक संबंध प्रबंधन

SHILENDRA cHAUDHARY ग्राहक संबंध प्रबंधन (CRM), कंपनियों द्वारा ग्राहकों के साथ बातचीत करने के लिए प्रयुक्त तरीक़े हैं। इन पद्धतियों में कर्मचारी प्रशिक्षण और विशेष उद्देश्य के CRM सॉफ्टवेयर शामिल हैं। इसमें ग्राहकों के फ़ोन कॉल और ई-मेल से निपटने पर बल दिया जाता है, हालांकि CRM सॉफ्टवेयर द्वारा एकत्रित जानकारी को बढ़ावा देने और ग्राहक संतुष्टि के लिए मतदान जैसे सर्वेक्षणों के लिए भी इसे इस्तेमाल कर सकते हैं। अक्सर पहल असफल होते हैं, क्योंकि कर्मचारियों को बिना कोई संदर्भ, सहायता और शिक्षा प्रदान किए, कार्यान्वयन केवल सॉफ्टवेयर अधिष्ठापन तक ही सीमित रह जाता है। ग्राहक संबंध प्रबंधन के लिए साधनों का कार्यान्वयन "केवल एक अच्छी तरह से तैयार रणनीति और संचालन की योजना के बाद" ही लागू किया जाना चाहिए.

10 संबंधों: ट्विटर, प्रबंधन सूचना प्रणाली, सामाजिक मीडिया, संप्राप्ति, वित्त, विनिर्माण, विपणन, विज्ञापन, विक्रय, ग्राहक सेवा

ट्विटर

कोई विवरण नहीं।

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और ट्विटर · और देखें »

प्रबंधन सूचना प्रणाली

प्रबन्धन सूचना प्रणाली (MIS) एक व्यवसाय जिसमें लोगों, दस्तावेज़ों और प्रौद्योगिकी के प्रक्रम के अनुप्रयोग शामिल हैं, के समग्र आंतरिक नियंत्रण का एक सबसेट है जो प्रबन्धन लेखाकारों द्वारा उत्पाद या सेवा की लागत तय करने या व्यापार की व्यापक रणनीति बनाने जैसी व्यापार समस्याएँ सुलझाने के लिए प्रयोग किया जाता है। प्रबन्धन सूचना प्रणाली आम सूचना प्रणाली से अलग है क्योंकि इसका प्रयोग संगठन में होने वाली परिचालन गतिविधियों पर लागू होने वाली अन्य सूचना प्रणालियों का विश्लेषण करने के लिए किया जाता है। शैक्षिक तौर पर, सामान्यतः मनुष्य द्वारा निर्णय लेने की प्रक्रिया की मदद या स्वचालन से जुड़ी सूचना प्रबन्धन विधियों के समूह के लिए ये शब्द प्रयोग किया जाता है जैसेकि निर्णय समर्थन प्रणाली,विशेषज्ञ प्रणाली और कार्यकारी सूचना प्रणाली। यह माना जाता है कि "MIS प्रौद्योगिकी और व्यापार को मिलाने वाले स्थान पर रहता है। लोगों को अपने काम को बेहतर ढंग से/ज्यादा तेज़ी से/ और ज्यादा चालाकी से करने के लिए तकनीकी और व्यापार के जिस मेल की ज़रुरत होती है वो MIS देता है। जानकारी सभी संगठनों को जिंदा रखने के लिए ज़रूरी खून की तरह है - और यह बात वर्तमान समय में पहले से भी ज्यादा सच है। MIS व्यवसायी प्रणाली विश्लेषक, परियोजना प्रबन्धक,प्रणाली प्रशासक आदि रूपों में कार्य करते हैं, इन रूपों में वो पूरे संगठन के कर्मचारियों और प्रबन्धन से सीधे बात करते हैं। " .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और प्रबंधन सूचना प्रणाली · और देखें »

सामाजिक मीडिया

सामाजिक मीडिया पारस्परिक संबंध के लिए अंतर्जाल या अन्य माध्यमों द्वारा निर्मित आभासी समूहों को संदर्भित करता है। यह व्यक्तियों और समुदायों के साझा, सहभागी बनाने का माध्यम है। इसका उपयोग सामाजिक संबंध के अलावा उपयोगकर्ता सामग्री के संशोधन के लिए उच्च पारस्परिक मंच बनाने के लिए मोबाइल और वेब आधारित प्रौद्योगिकियों के प्रयोग के रूप में भी देखा जा सकता है। .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और सामाजिक मीडिया · और देखें »

संप्राप्ति

किसी व्यापार से होने वाली आय को संप्राप्ति या राजस्व या विक्री या टर्नओवर (revenue या turnover या sales) कहते हैं। श्रेणी:वाणिज्य.

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और संप्राप्ति · और देखें »

वित्त

सरल रूप में वित्त (Finance) की परिभाषा 'धन या कोश (फण्ड) के प्रबन्धन' के रूप में की जाती है। किन्तु आधुनिक वित्त अनेकों वाणिज्यिक कार्यविधियों का एक समूह है। चूंकि व्यक्ति, व्यापार संस्थान तथा सरकार सभी के काम करने के लिये वित्त अत्यावश्यक है, इसलिये वित्त के क्षेत्र को भी तीन प्रकार से विभाजित किया जाता है-.

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और वित्त · और देखें »

विनिर्माण

उत्पाद का जीवनचक्र मशीनों, औजारों और श्रम का उपयोग करके सामान बनाने की क्रिया को विनिर्माण (Manufacturing) कहते हैं। विनिर्मित सामान स्वयं प्रयोग के लिये हो सकते हैं, या बेचने के लिये। विनिर्माण के अन्तर्गत हस्तकला से लेकर उच्च तकनीकी तक बहुत सी मानवी गतिविधियाँ आ जाती हैं किन्तु इस शब्द का उपयोग प्रायः औद्योगिक उत्पादन के अर्थ में किया जाता है जिसमें कच्चा माल बड़े पैमाने पर तैयार माल में बदला जाता है। विनिर्माण से तैयार माल उपभोक्ताओं द्वारा उपयोग किया जा सकता है या इसका प्रयोग अधिक जटिल वस्तुओं के विनिर्माण में किया जा सकता है। .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और विनिर्माण · और देखें »

विपणन

विपणन (marketing) एक सतत प्रक्रिया है जिसके अंतर्गत मार्केटिंग मिक्स (उत्पाद, मूल्य, स्थान, प्रोत्साहन जिन्हें प्रायः ४ Ps कहा जाता है) की योजना बनाई जाती है एवं कार्यान्वयन किया जाता है। यह प्रक्रिया व्यक्तियों और संगठनों के बीच उत्पादों, सेवाओं या विचारों के विनिमय हेतु की जाती है। विपणन को एक रचनात्मक उद्योग के रूप में देखा जाता है, जिसमें शामिल हैं विज्ञापन (advertising), वितरण (distribution) और बिक्री (selling) इसका सम्बन्ध ग्राहकों की भावी आवश्यकताओं और आकांक्षाओं का पूर्व विचार करने से भी है, जो प्रायः बाज़ार शोध के माध्यम से पता लगाई जाती हैं। मूलतः, विपणन किसी संगठन को बनाने या निर्देशित करने करने की प्रक्रिया है, ताकि लोगों को सफलतापूर्वक वह उत्पाद या सेवा बेची जा सके जिसकी न केवल उन्हें ज़रूरत है बल्कि वे उसे खरीदने के इच्छुक भी हैं। इसलिए अच्छा विपणन इस काबिल होना चाहिए कि वह उपभोक्ताओं हेतु एक "प्रस्ताव" या लाभों का सेट बना सके, ताकि उत्पादों या सेवाओं के माध्यम से ग्राहक को उसके पैसे का मूल्य अदा किया जा सके.

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और विपणन · और देखें »

विज्ञापन

400000000 ही विज्ञापन (टाइम्स स्क्वायर) किसी उत्पाद अथवा सेवा को बेचने अथवा प्रवर्तित करने के उद्देश्य से किया जाने वाला जनसंचार विज्ञापन (Advertising) कहलाता है। विज्ञापन विक्रय कला का एक नियंत्रित जनसंचार माध्यम है जिसके द्वारा उपभोक्ता को दृश्य एवं श्रव्य सूचना इस उद्देश्य से प्रदान की जाती है कि वह विज्ञापनकर्ता की इच्छा से विचार सहमति, कार्य अथवा व्यवहार करने लगे। औद्योगिकीकरण आज विकास का पर्याय बन गया है। उत्पादन बढ़ने के कारण यह आवश्यक हो गया है कि उत्पादित वस्तुआें को उपभोक्ता तक पहुँचाया ही नहीं जाय बल्कि उसे उस वस्तु की जानकारी की दी जाय। वस्तुतः मनुष्य को जिन वस्तुआें की आवश्यकता होती है व उन्हें तलाश ही लेता इसके ठीक विपरीत उसे जिसकी जरूरत नहीं होती वह उसके बारे में सुनकर अपना समय खराब नहीं करना चाहता। इस अर्थ में विज्ञापन वस्तुआें को ऐसे लोगों तक पहुँचाने का कार्य करता है जो यह मान चुके होते है कि उन वस्तुआें की उसे कोई जरूरत नहीं है। आशय यह कि उत्पादित वस्तु को लोकप्रिय बनाने तथा उसकी आवश्यकता महसूस कराने का कार्य विज्ञापन करता है। विज्ञापन अपने छोटे से संरचना में बहुत कुछ समाये होते है। वह बहुत कम बोलकर भी बहुत कुछ कह जाते है। आज विज्ञापन हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन चुका है। सुबह आंख खुलते ही चाय की चुस्की के साथ अखबार में सबसे पहले दृष्टि विज्ञापन पर ही जाती है। घर के बाहर पैर रखते ही हम विज्ञापन की दुनिया से घिर जाते है। चाय की दुकान से लेकर वाहनों और दिवारों तक हर जगह विज्ञापन ही विज्ञापन दिखाई देते हैं। किसी भी तथ्य को यदि बार-बार लगातार दोहराया जाये तो वह सत्य प्रतीत होने लगता है - यह विचार ही विज्ञापनों का आधारभूत तत्व है। विज्ञापन जानकारी भी प्रदान करते है। उदाहरण के लिए कोई भी वस्तु जब बाजार में आती है, उसके रूप - रंग - सरंचना व गुण की जानकारी विज्ञापनों के माध्यम से ही मिलती है। जिसके कारण ही उपभोक्ता को सही और गलत की पहचान होती है। इसलिए विज्ञापन हमारे लिए जरूरी है। जहाँ तक उपभोक्ता वस्तुओं का सवाल है, विज्ञापनों का मूल उद्देश्य ग्राहको के अवचेतन मन पर छाप छोड़ जाता है और विज्ञापन इसमें सफल भी होते है। यह 'कहीं पे निगाहें, कही पे निशाना' का सा अन्दाज है। विज्ञापन सन्देश आमतौर पर प्रायोजकों द्वारा भुगतान किया है और विभिन्न माध्यमों के द्वारा देखा जाता है जैसे समाचार पत्र, पत्रिकाओं, टीवी विज्ञापन, रेडियो विज्ञापन, आउटडोर विज्ञापन, ब्लॉग या वेब्साइट आदि। वाणिज्यिक विज्ञापनदाता अक्सर उपभोक्ताओं के मन में कुछ गुणों के साथ एक उत्पाद का नाम या छवि जोड़ जाते हैं जिसे हम "ब्रान्डिग" कहते है। ब्रान्डिग उत्पाद या सेवा की बिक्री बढाने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। गैर-वाणिज्यिक विज्ञापनों का उपयोग राजनीतिक दल, हित समूह, धार्मिक संगठन और सरकारी एजेंसियाँ करतीं हैं। 2015 में पूरे विश्व में विज्ञापन पर कोई 529 बिलियन अमेरिकी डॉलर खर्च किये जाने का अनुमान है। .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और विज्ञापन · और देखें »

विक्रय

विक्रय अथवा बिक्री विपणन की एक प्रक्रिया है जिसमें कोई उत्पाद अथवा सेवा को धन अथवा किसी अन्य वस्तु के प्रतिफल के रूप में दिया जाता है। इसका तुल्य अंग्रेज़ी शब्द सेल अथवा सेल्स (Sales) है। .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और विक्रय · और देखें »

ग्राहक सेवा

ग्राहक सेवा किसी सामान को खरीदने के बाद उसके उपयोग करने या उससे जुड़ी किसी भी परेशानी हेतु सहायता करने हेतु होता है। यह किसी भी प्रकार के समान से जुड़ी समस्या या प्रश्न हेतु होता है। जिसमें कोई भी व्यक्ति जो उस सामान को खरीदना चाहता है या खरीद चुका है, वह इस सेवा का उपयोग कर सामान से जुड़ा कोई प्रश्न पूछ सकता है या उससे जुड़ी समस्या बता कर सहायता प्राप्त कर सकता है। इसका एक अर्थ एक संगठन से भी होता है जो वस्तु के मूल्य निर्धारित करता है। इसके अलावा इसमें वे संगठन भी आते हैं, जो अपने कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने में अधिक पैसे खर्च करते हैं या ग्राहक द्वारा उत्पाद की प्रतिक्रिया लेते हैं। .

नई!!: ग्राहक संबंध प्रबंधन और ग्राहक सेवा · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »