लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
इंस्टॉल करें
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी

सूची इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी

'''ट्रान्समिशन एलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी''' का आरेख इलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी एक विशेष प्रकार का सूक्ष्मदर्शी है जो नमूने (specimen) को देखने के लिये एलेक्ट्रॉन किरण पुंज का उपयोग करता है और उच्च प्रवर्धिक छबि प्राप्त कराता है। इसकी विभेदन क्षमता (resolving power) प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी से बहुत अच्छी होती है। .

4 संबंधों: प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी, सूक्ष्मदर्शी, विभेदन क्षमता, आवेशित कण-पुंज

प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी

प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी (optical microscope) वे सूक्ष्मदर्शी हैं जो दृष्य प्रकाश तथा लेंसों का उपयोग करके छोटी वस्तुओं का की बड़ी छबि बनाते हैं। सबसे पहले ये ही सूक्ष्मदर्शी विकसित किए गये। वर्तमान समय में प्रयुक्त संयुक्त सूक्ष्मदर्शी (कम्पाउण्ड माइक्रोस्कोप) का आविष्कार १७वीं शताब्दी में हुआ था। मूलभूत प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी बहुत ही सरल युक्ति है किन्तु बहुत सी जटिल डिजाइनों वाले प्रकाश-सूक्ष्मदर्शी भी हैं जो रिजोल्युशन या कांट्रास्ट बढ़ाने के उद्देश्य से बनाये गये हैं। प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी द्वारा निर्मित छबि को प्रकाश-संवेदी कैमरों द्वारा जतन किया जा सकता है। प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी से भिन्न सूक्ष्मदर्शी भी हैं जो दृष्य प्रकाश नहीं प्रयोग करते, जैसे स्कैनिंग इलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी, ट्रांसमिशन इलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी आदि। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी और प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी · और देखें »

सूक्ष्मदर्शी

सूक्ष्मदर्शी या सूक्ष्मबीन (माइक्रोस्कोप) वह यंत्र है जिसकी सहायता से आँख से न दिखने योग्य सूक्ष्म वस्तुओं को भी देखा जा सकता है। सूक्ष्मदर्शी की सहायता से चीजों का अवलोकन व जांच किया जाता है वह सूक्ष्मदर्शन कहलाता है। सूक्ष्मदर्शी का इतिहास लगभग ४०० वर्ष पुराना है। सबसे पहले नीदरलैण्ड में सन १६०० के आस-पास किसी काम के योग्य सूक्ष्मदर्शी का विकास हुआ। .

नई!!: इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी और सूक्ष्मदर्शी · और देखें »

विभेदन क्षमता

कोई विवरण नहीं।

नई!!: इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी और विभेदन क्षमता · और देखें »

आवेशित कण-पुंज

किसी अवकास (स्पेस) में गतिमान आवशों के समूह को आवेशित कण-पुंज (charged particle beam) कहते हैं। आवेशित कण-पुंज के सभी कणों की स्थिति, गतिज ऊर्जा एवं दिशा लगभग समान होती है। ध्यातव्य है कि इन कणों की गतिज ऊर्जा उनकी साधारण अवस्था की ऊर्जा की अपेक्षा बहुत अधिक होती है। अपनी उच्च ऊर्जा एवं अत्यधिक एकदिशता के कारण ये आवेशित कण-पुंज अनेक कार्यों के लिये बहुत उपयोगी सिद्ध होते हैं। (कण-पुंज के उपयोग (Particle Beam Usage), देखें) .

नई!!: इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी और आवेशित कण-पुंज · और देखें »

यहां पुनर्निर्देश करता है:

एलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी, इलैक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »