लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

इम्यूनोफ्लोरेसेंस

सूची इम्यूनोफ्लोरेसेंस

मानव त्वचा के एक हिसटोलोजीकल खंड का माइक्रो फोटोग्राफ जो एक एंटी-IgA प्रतिरक्षी का उपयोग करके प्रत्यक्ष इम्यूनोफ्लोरेसेंस के लिए तैयार है। यह त्वचा हेनोच-शॉनलेन पुर्पुरा से ग्रसित एक रोगी का था: छोटे सतही कोशिका की दीवारों पर जमा IgA पाया जाता हैं। ऊपर पीला लहरदार हरा क्षेत्र अधिचर्म है, नीचे का रेशेदार क्षेत्र त्‍वचा है। मानव त्वचा के एक हिसटोलोजीकल खंड का माइक्रो फोटोग्राफ जो एक एंटी-IgG प्रतिरक्षी का उपयोग करके प्रत्यक्ष इम्यूनोफ्लोरेसेंस के लिए तैयार है। यह त्वचा सिस्टमिक ल्युपस एरिथेमाटोसस के रोगी का है और दो अलग-अलग स्थानों पर lgG का जमाव दिखाता है: पहला अधिचर्म भूतल झिल्ली के इर्द-गिर्द एक पट्टी जैसा जमाव ("ल्युपस बैंड परिक्षण" पोज़िटिव है).दूसरा अधिचर्म कोशिकाओं के न्युक्लिआइ के भीतर (एंटी-न्यूक्लियर प्रतिरक्षी). इम्यूनोफ्लोरेसेंस एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग प्रकाश सूक्ष्मदर्शी के लिए प्रतिदीप्ति सूक्ष्मदर्शी के साथ किया जाता है और इसका उपयोग प्रमुख रूप से जैविक नमूनों पर किया जाता है। यह तकनीक एक कोशिका के भीतर लक्षित विशेष बायोमोलिक्यूल को फ्लोरोसेंट रंजक को लक्षित करने के लिए अपने एंटीजेन के लिए प्रतिरक्षियों की विशिष्टता का उपयोग करता है और इसलिए नमूने के माध्यम से लक्ष्य अणु वितरण को देखना सम्भव बनाता है। एपिटॉप मैपिंग में भी प्रयास किए गए हैं क्योंकि कई एंटीबॉडी एक ही एपिटॉप से जुड़ सकते हैं और एक ही एपिटॉप पहचान सकने वाली एंटीबॉडी के बीच जुड़ाव के स्तर अलग-अलग हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, फ्लोरोफोर का एंटीबॉडी के साथ जुड़ना एंटीबॉडी की प्रतिरक्षा विशिष्टता या इसके एंटीजन से जुड़ने की क्षमता में हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। इम्यूनोफ्लोरेसेंस, इम्यूनोस्टेनिंग का व्यापक रूप से प्रयोग किया जाने वाला एक उदाहरण है और इम्युनोहिस्टोकेमिस्ट्री का एक विशिष्ट उदाहरण है जो प्रतिरक्षियों की स्थिति को देखने के लिए फ्लोरोफोरस का उपयोग करता है। इम्यूनोफ्लोरेसेंस को ऊतक वर्गों, कल्चर किए हुए कोशिका रेखाओं, या व्यक्तिगत कोशिकाओं पर उपयोग किया जाता है और इसका उपयोग प्रोटीन, ग्लाईकन और छोटे जैविक और गैर जैविक अणुओं के वितरण का विश्लेषण करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यदि कोशिका झिल्ली की टोपोलॉजी अभी तक निर्धारित नहीं की गई है, तो प्रोटीन में एपिटॉप सम्मिलन का उपयोग संरचनाओं को निर्धारित करने के लिए इम्यूनोफ्लोरेसेंस के संयोजन के साथ किया जा सकता है। इम्यूनोफ्लोरेसेंस का उपयोग डीएनए मिथाइलीकरण के स्तर और स्थानीयकरण पैटर्न में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए "अर्ध-मात्रात्मक" विधि के रूप में भी किया जा सकता है क्योंकि यह वास्तविक मात्रात्मक तरीकों से अधिक समय लेने वाली विधि है और मिथाइलीकरण के स्तर के विश्लेषण में कुछ व्यक्तिपरकता है। इम्यूनोफ्लोरेसेंस को फ्लोरोसेंट स्टेनिंग के अन्य गैर प्रतिरक्षी के साथ संयोजन करके उपयोग किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, डीएनए को लेबल करने के लिए DAPI का उपयोग करके.

4 संबंधों: डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल, प्रोटीन, जैवाणु, कोशिका झिल्ली

डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल

डीएनए के घुमावदार सीढ़ीनुमा संरचना के एक भाग की त्रिविम (3-D) रूप डी एन ए जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाले तंतुनुमा अणु को डी-ऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल या डी एन ए कहते हैं। इसमें अनुवांशिक कूट निबद्ध रहता है। डी एन ए अणु की संरचना घुमावदार सीढ़ी की तरह होती है। डीएनए की एक अणु चार अलग-अलग रास वस्तुओं से बना है जिन्हें न्यूक्लियोटाइड कहते है। हर न्यूक्लियोटाइड एक नाइट्रोजन युक्त वस्तु है। इन चार न्यूक्लियोटाइडोन को एडेनिन, ग्वानिन, थाइमिन और साइटोसिन कहा जाता है। इन न्यूक्लियोटाइडोन से युक्त डिऑक्सीराइबोस नाम का एक शक्कर भी पाया जाता है। इन न्यूक्लियोटाइडोन को एक फॉस्फेट की अणु जोड़ती है। न्यूक्लियोटाइडोन के सम्बन्ध के अनुसार एक कोशिका के लिए अवश्य प्रोटीनों की निर्माण होता है। अतः डी इन ए हर एक जीवित कोशिका के लिए अनिवार्य है। डीएनए आमतौर पर क्रोमोसोम के रूप में होता है। एक कोशिका में गुणसूत्रों के सेट अपने जीनोम का निर्माण करता है; मानव जीनोम 46 गुणसूत्रों की व्यवस्था में डीएनए के लगभग 3 अरब आधार जोड़े है। जीन में आनुवंशिक जानकारी के प्रसारण की पूरक आधार बाँधना के माध्यम से हासिल की है। उदाहरण के लिए, एक कोशिका एक जीन में जानकारी का उपयोग करता है जब प्रतिलेखन में, डीएनए अनुक्रम डीएनए और सही आरएनए न्यूक्लियोटाइडों के बीच आकर्षण के माध्यम से एक पूरक शाही सेना अनुक्रम में नकल है। आमतौर पर, यह आरएनए की नकल तो शाही सेना न्यूक्लियोटाइडों के बीच एक ही बातचीत पर निर्भर करता है जो अनुवाद नामक प्रक्रिया में एक मिलान प्रोटीन अनुक्रम बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। वैकल्पिक भानुमति में एक कोशिका बस एक प्रक्रिया बुलाया डीएनए प्रतिकृति में अपने आनुवंशिक जानकारी कॉपी कर सकते हैं। डी एन ए की रूपचित्र की खोज अंग्रेजी वैज्ञानिक जेम्स वॉटसन और के द्वारा सन १९५३ में किया गया था। इस खोज के लिए उन्हें सन १९६२ में नोबेल पुरस्कार सम्मानित किया गया। .

नई!!: इम्यूनोफ्लोरेसेंस और डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल · और देखें »

प्रोटीन

रुधिरवर्णिका(हीमोग्लोबिन) की संरचना- प्रोटीन की दोनो उपइकाईयों को लाल एंव नीले रंग से तथा लौह भाग को हरे रंग से दिखाया गया है। प्रोटीन या प्रोभूजिन एक जटिल भूयाति युक्त कार्बनिक पदार्थ है जिसका गठन कार्बन, हाइड्रोजन, आक्सीजन एवं नाइट्रोजन तत्वों के अणुओं से मिलकर होता है। कुछ प्रोटीन में इन तत्वों के अतिरिक्त आंशिक रूप से गंधक, जस्ता, ताँबा तथा फास्फोरस भी उपस्थित होता है। ये जीवद्रव्य (प्रोटोप्लाज्म) के मुख्य अवयव हैं एवं शारीरिक वृद्धि तथा विभिन्न जैविक क्रियाओं के लिए आवश्यक हैं। रासायनिक गठन के अनुसार प्रोटीन को सरल प्रोटीन, संयुक्त प्रोटीन तथा व्युत्पन्न प्रोटीन नामक तीन श्रेणियों में बांटा गया है। सरल प्रोटीन का गठन केवल अमीनो अम्ल द्वारा होता है एवं संयुक्त प्रोटीन के गठन में अमीनो अम्ल के साथ कुछ अन्य पदार्थों के अणु भी संयुक्त रहते हैं। व्युत्पन्न प्रोटीन वे प्रोटीन हैं जो सरल या संयुक्त प्रोटीन के विघटन से प्राप्त होते हैं। अमीनो अम्ल के पॉलीमराईजेशन से बनने वाले इस पदार्थ की अणु मात्रा १०,००० से अधिक होती है। प्राथमिक स्वरूप, द्वितीयक स्वरूप, तृतीयक स्वरूप और चतुष्क स्वरूप प्रोटीन के चार प्रमुख स्वरुप है। प्रोटीन त्वचा, रक्त, मांसपेशियों तथा हड्डियों की कोशिकाओं के विकास के लिए आवश्यक होते हैं। जन्तुओं के शरीर के लिए कुछ आवश्यक प्रोटीन एन्जाइम, हार्मोन, ढोने वाला प्रोटीन, सिकुड़ने वाला प्रोटीन, संरचनात्मक प्रोटीन एवं सुरक्षात्मक प्रोटीन हैं। प्रोटीन का मुख्य कार्य शरीर की आधारभूत संरचना की स्थापना एवं इन्जाइम के रूप में शरीर की जैवरसायनिक क्रियाओं का संचालन करना है। आवश्यकतानुसार इससे ऊर्जा भी मिलती है। एक ग्राम प्रोटीन के प्रजारण से शरीर को ४.१ कैलीरी ऊष्मा प्राप्त होती है। प्रोटीन द्वारा ही प्रतिजैविक (एन्टीबॉडीज़) का निर्माण होता है जिससे शरीर प्रतिरक्षा होती है। जे.

नई!!: इम्यूनोफ्लोरेसेंस और प्रोटीन · और देखें »

जैवाणु

मानव का हीमोग्लोबिन एक जैव अणु है। इसके प्रोटीन भाग के दोनो उप इकाईयों को लाल एंव नीले रंग से तथा लौह भाग को हरे रंग से दिखलाया गया है। उन सभी अणुओं को जैवाणु कहते है जो किसी भी जीव (living organisms) में पाये जाते हैं। ये जटिल कार्बनिक अणु होते हैं। इनका निर्माण सजीवों के शरीर में होता है। ये सजीवों के शरीर के विकास तथा रखरखाव के लिए आवश्यक होते हैं। कार्बोहाइड्रेट, अमीनो अम्ल, प्रोटीन, आरएनए तथा डीएनए प्रमुख जैवाणु हैं। कार्बनिक यौगिको की तरह इनका निर्माण कार्बन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन से होता है, कभी-कभी फॉस्फोरस तथा सल्फर आदि तत्व भी अल्प मात्रा में हो सकते हैं। .

नई!!: इम्यूनोफ्लोरेसेंस और जैवाणु · और देखें »

कोशिका झिल्ली

एक यूकैरियोटिक कोशिका की कोशिका झिल्ली का चित्रण कोशिका झिल्ली एक अर्ध पारगम्य सजीव झिल्ली है जो प्रत्येक सजीव कोशिका के जीव द्रव्य को घेर कर रखती है। कोशिका झिल्ली का निर्माण तीन परतों से मिलकर होता है, इसमें से बाहरी एवं भीतरी परतें प्रोटीन द्वारा तथा मध्य वाली परत का निर्माण लिपिड या वसा द्वारा होता है। यह कोशिका की आकृति का निर्माण करती है एवं जीव द्रव्य की रक्षा करती है। अन्तर कोशिकीय विसरण एवं परासरण की क्रिया को नियंत्रित करने के साथ-साथ यह विभिन्न रचनाओं के निर्माण में भी सहायता करती है। .

नई!!: इम्यूनोफ्लोरेसेंस और कोशिका झिल्ली · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »