लोगो
यूनियनपीडिया
संचार
Google Play पर पाएं
नई! अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर डाउनलोड यूनियनपीडिया!
डाउनलोड
ब्राउज़र की तुलना में तेजी से पहुँच!
 

! (बहुविकल्पी)

! एक विराम चिह्न है जिसे विस्मयादिबोधक चिह्न कहते हैं। ! निम्न उल्लेख कर सकता है: .

3 संबंधों: निषेध (तर्क), क्रमगुणित, अपविन्यास

निषेध (तर्क)

तर्क के रूप में निषेध (Negation) जिसे पूरक भी कहा जाता है एक संक्रिया है जो कथन को इसके विपरित अर्थ वाला बना देता है अर्थात मूल कथन p है तो निषेध p का अर्थ कथन p का नहीं होना होता है, अर्थात जब p सत्य है तब निषेध p असत्य होगा और जब कथन p असत्य है तब निषेध p सत्य होगा। अतः निषेध एकधारी (एकल-तर्क) तर्क संयोजक है। श्रेणी:व्याकरण श्रेणी:शब्दार्थविज्ञान श्रेणी:तर्क संयोजक.

नई!!: ! (बहुविकल्पी) और निषेध (तर्क) · और देखें »

क्रमगुणित

गणित में किसी अऋणात्मक पूर्णांक n का क्रमगुणित या 'फैक्टोरियल' (factorial) वह संख्या है जो उस पूर्णांक n तथा उससे छोटे सभी धनात्मक पूर्णांकों के गुननफल के बराबर होता है। इसे n!, से निरूपित किया जाता है। उदाहरण के लिये, 0! का मान is 1 होता है। गणित के अनेकों क्षेत्रों में क्रमगुणित का उपयोग करना पड़ता है, जिनमें से क्रमचय संचय (combinatorics), बीजगणित तथा गणितीय विश्लेषण (mathematical analysis) प्रमुख हैं। .

नई!!: ! (बहुविकल्पी) और क्रमगुणित · और देखें »

अपविन्यास

क्रमचय-संचय गणित में अपविन्यास (Derangement) समुच्चय के उस क्रमचय को कहते हैं जिसमें कोई भी अवयव अपनी मूल अवस्था में प्रदर्शित नहीं होता। इन संख्याओं को !n द्वारा लिखा जाता है। श्रेणी:क्रमचय.

नई!!: ! (बहुविकल्पी) और अपविन्यास · और देखें »

निवर्तमानआने वाली
अरे! अब हम फेसबुक पर हैं! »